छत्तीसगढ़ » रायपुर

28-Apr-2021 5:57 PM 27

26 कोरोना पॉजीटिव महिलाओं ने दिया स्वस्थ बच्चों को जन्म

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 28 अप्रैल। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, रायपुर में रोगियों को आत्महत्या की मानसिकता से बचाने के लिए कई उपाय अपनाए गए हैं। इसमें इस प्रकार के रोगियों को चिन्हित कर उनकी सतत् निगरानी करने, मनोवैज्ञानिक काउंसलिंग प्रदान करने, ऐसे रोगियों के लिए अतिरिक्त स्टॉफ की तैनाती और एम्स के विभिन्न स्थानों पर उपलब्ध खुली खिड़कियों को जाली से ढंकने और नुकीली वस्तुओं को रोगियों से दूर रखने के उपाय शामिल हैं। इसके साथ ही रोगियों को रचनात्मक कार्य करने और अपने परिजनों से वीडियो कॉल करने की सुविधा भी प्रदान की गई है। इन उपायों की मदद से पिछले तीन माह में छह आत्महत्या के प्रयासों को रोका जा चुका है।

रोगियों में तनाव और आत्महत्या की मानसिकता को दूर करने के लिए एम्स में 11 सदस्यीय कमेटी गठित की गई थी। कमेटी ने अपनी विस्तृत अनुशंसाएं निदेशक प्रो. (डॉ.) नितिन एम. नागरकर को प्रेषित कर दी हैं। इन उपायों में वार्ड, कॉरीडोर, बाथरूम आदि में उपलब्ध खिड़कियों को जाली से बंद करने की अनुशंसा की गई है। केवल आग लगने जैसी आपातकालीन परिस्थितियों के लिए कुछ खिड़कियों में व्यवस्थाएं की जाएंगी। इसके साथ ही मनोरोग चिकित्सा विभाग एक प्रश्नावली तैयार करेगा जो ऐसे रोगियों को उपचार के लिए भर्ती होते समय दी जाएगी। उसके उत्तरों के आधार पर उन्हें मनोवैज्ञानिक सलाह भी प्रदान की जाएंगी। कमेटी ने ऐसे रोगियों के अपने परिजनों के निरंतर संपर्क में बनाए रखने की अनुशंसा की है। इसके बाद एम्स की ओर से वीडियो कॉलिंग के लिए टेबलेट और मोबाइल फोन रोगियों को उपलब्ध कराए गए हैं। एम्स चिकित्सकों और नर्सिंग स्टॉफ को रोगियों को आत्महत्या से रोकने के उपायों के बारे में प्रशिक्षण भी प्रदान करेगा।

प्रो. नागरकर ने बताया कि इन उपायों में से अधिकांश को अपना लिया गया है जिसकी वजह से पिछले तीन माह में छह आत्महत्या को रोकने में मदद मिली। उन्होंने कहा कि यह एक चुनौतीपूर्ण लक्ष्य है मगर एम्स इस दिशा में निरंतर प्रयासरत है कि रोगी किसी भी हालत में आत्महत्या जैसा घातक कदम न उठाएं। प्रत्येक जीवन महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि एम्स की 700 खिड़कियों पर जाली लगाने का कार्य प्रगति पर है और शीघ्र ही इसे पूरा कर लिया जाएगा। मार्च 2020 से अब तक एम्स में 9003 रोगियों को कोविड-19 के उपचार के लिए एडमिट किया जा चुका है। इसमें से 7812 रोगी ठीक होकर घर जा चुके हैं। अभी लगभग 460 रोगी उपचाररत हैं। अप्रैल माह में 26 कोरोना पॉजीटिव महिलाओं ने स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया है।

वीआरडी लैब में अब तक 2.58 लाख सैंपल जांचे जा चुके हैं जिनमें 33886 सैंपल पॉजीटिव पाए गए। पिछले 24 घंटे में यहां 1374 सैंपल टेस्ट किए गए जिनमें से 438 पॉजीटिव मिले हैं।

बलौदा बाजार के रोगी ने की आत्महत्या

एम्स में 26 अप्रैल को कोविड-19 के लक्षणों वाले बलौदा बाजार के एक 26 वर्षीय पुरुष रोगी को एडमिट किया गया था। इसे 27 और 28 अप्रैल की रात्रि को एनआईवी पर रखा गया। इसकी पत्नी और अन्य स्टॉफ भी वहां उपस्थित था। 27 अप्रैल की मध्यरात्रि के बाद लगभग 2.30 इस रोगी ने डी ब्लॉक की दूसरी मंजिल से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। उसे तुरंत इमरजेंसी ले जाया गया परंतु रोगी की जान नहीं बच सकी। इस रोगी की पत्नी ने भी आत्महत्या का प्रयास किया मगर एम्स के स्टॉफ के प्रयासों से उसे रोक दिया गया। बाद में इस रोगी की कोविड-19 रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई। रोगी के शव को उसके परिजनों को सौंप दिया गया है।


28-Apr-2021 5:56 PM 29

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 28 अप्रैल। कोरोना महामारी संक्रमण से बचाव के लिए सरकार द्वारा टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के तहत जांजगीर की 92 वर्षीय श्रीमती रजवंती बाई अग्रवाल ने आज कोरोना का पहला टीका लगवाकर लोगों को प्रेरित किया। श्रीमती रजवंती बाई अग्रवाल की वृद्धावस्था को देखते हुए नैला स्थित कोविड वैक्सीनेशन सेंटर के स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा उनके वाहन के समीप ही पहुंचकर उन्हें टीका लगाया। वयोवृद्ध रजवंती बाई द्वारा कोरोना के प्रति सजगता का परिचय देने और टीका लगवाने पर उनकी प्रशंसा हो रही है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.सी. बंजारे ने कोरोना  संक्रमण से बचाव के लिए 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों से शीघ्र टीकाकरण कराने की अपील की है।


28-Apr-2021 5:55 PM 26

रायपुर, 28 अप्रैल। राज्य शासन 18 से 45 वर्ष के आयु वर्ग के समस्त नागरिकों का टीकाकरण करने के लिए दृढ़ संकल्पित है । इस हेतु प्रथम किश्त के रूप में राज्य शासन ने वैक्सीन के दोनों उत्पादकों (सीरम इंस्टीट्यूट एवं भारत बायोटेक) को 50 लाख डोज वैकसीन का आर्डर दिया है । वैक्सीन प्राप्त होते ही योजनाबद्ध तरीके से राज्य में 18 से 45 वर्ष के आयु वर्ग के हितग्राहियों का तत्परता से टीकाकरण किया जायेगा । इस हेतु राज्य के सभी जि़लों के वैक्सीनेटर का प्रशिक्षण भी किया जा रहा है । शासकीय केन्द्र में होने वाला टीकाकरण पूर्णत: नि:शुल्क होगा। केंद्र सरकार के निर्देशानुसार प्रारंभ में 18 से 45 वर्ष के आयु वर्ग के नागरिकों के टीकाकरण हेतु पंजीकरण के लिये हितग्राहियों को केवल कोविन एप एवं आरोग्य सेतु एप के माध्यम से ऑनलाइन पंजीकरण की ही सुविधा मिलेगी - सेशन साइट पर पहुँच कर वहीं ऑन साइट पंजीकरण कराए जाने का प्रावधान नही रहेगा ।

वर्तमान में राज्य को केंद्र से मिलने वाली वैक्सीन डोसेज में से कुछ वैक्सीन निजी संस्थानों की मांग अनुसार उन्हें भुगतान के आधार पर दी जा रही है । परन्तु केंद्र सरकार के निर्देशानुसार ये वैक्सीन डोसेज दिनांक 1 मई 2021 से निजी संस्थानों को नहीं दी जा सकेंगी । 1 मई 2021 से प्रारंभ होने वाले टीकाकरण के तीसरे चरण के लिए राज्य के निजी संस्थान भी वैक्सीन उत्पादकों से वैक्सीन स्वयं क्रय कर सकेंगे और सभी पात्र नागरिकों का टीकाकरण कर सकेंगे । किसी भी निजी संस्थान में कोविड वैक्सीनेशन सेंटर बनाने हेतु संस्था में कोल्ड चेन उपकरण तथा पर्याप्त संधारण क्षमता] प्रतीक्षालय] टीकाकरण एवं टीकाकरण पश्चात् निगरानी कक्ष हेतु पर्याप्त कक्ष/ स्थान की उपलब्धता] वैक्सीनेटर तथा वैरीफायर की पर्याप्त संख्या  उपलब्ध होनी चाहिये । टीकाकरण पश्चात् ए.ई.एफ.आई. के प्रबंधन हेतु भारत सरकार के दिशा-निर्देशानुसार अनिवार्य रूप से व्यवस्था होनी चाहिये । कोविन पोर्टल में कोविड वैक्सीनेशन सेंटर का पंजीकरण जिला टीकाकरण अधिकारी द्वारा किया जायेगा । ऐसे निजी स्वास्थ्य संस्था जो पूर्व में कोविन में पंजीकृत है उन्हें पुन: पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है ।

इसी प्रकार 1 मई 2021 से औद्योगिक संस्थान भी स्वयं वैक्सीन उत्पादकों से क्रय कर अपने कर्मचारियो एवं उनके परिजनों का टीकाकरण सुनिश्चित कर सकेंगे । ऐसे औद्योगिक संस्था जहां अस्पताल है उनका पंजीकरण कोविन में औद्योगिक संस्था कोविड वैक्सीनेशन सेण्टर के रूप में किया जा सकता है । ऐसे औद्योगिक संस्था जहां उपयुक्त अस्पताल नहीं है उन्हें वर्तमान में कार्यरत निजी कोविड वैक्सीनेशन सेण्टर से मैपिंग कर कोविड-19 टीकाकरण किया जा सकता है 


28-Apr-2021 5:54 PM 23

रायपुर, 28 अप्रैल। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि विपक्ष के विधायकों को कभी भी विश्वास में नही लिया गया है। जिस तरह से विकास निधि को लेकर जो आदेश जारी किया गया है।  विकास निधि की राशि  टीकाकरण के  नाम पर लिया जा  रहा है। इस सबंध मुख्यमंत्री या स्वास्थ्य मंत्री ने कभी भी विपक्ष के विधायकों से कोई चर्चा नहीं की है।

उन्होंने कहा कि इस पहले ही भाजपा के विधायकों ने कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई के लिये अपने विधानसभा  क्षेत्र में  जिला अस्पतालों,सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व अस्थाई कोविड केन्द्र के लिये राशि की अनुशंसा जिला कलेक्टरों को कर चुके हैं।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि सर्वदलीय बैठक में भी  कोरोना के लेकर अपनी योजना से प्रदेश सरकार को अवगत कर चुके हैं। इसके बाद इस तरह का  फैसला  लेना प्रदेश सरकार के स्वेच्छाचरिता को स्पष्ट करता है कि प्रदेश सरकार के पास सामूहिक प्रयास का अभाव है। जिसके कारण ही प्रदेश में लगातार कोरोना  का विस्तार हो रहा है। जिस पर अंकुश लगाने में प्रदेश सरकार हर मोर्चे पर नाकाम है।


28-Apr-2021 5:54 PM 35

रायपुर, 28 अप्रैल। चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ ओ पी सुंदरानी (एमबीबीएस एमडी ) ने कहा है कि दुनिया के किसी भी ट्रीटमेंट प्रोटोकाल में सिटी स्कैन के स्कोर के आधार पर ट्रीटमेंट नहीं है। सारे ट्रीटमेंट  की गाइडलाइंस सिर्फ और सिर्फ ऑक्सीजन सेचुरेशन लेबल्स है।

डॉ. सुंदरानी ने कहा कि लोगों में अभी एक कॉमनली चीज देखी जा रही है। मुझे भी दिन में कम से कम 50  ऐसे फोन आते है कि मुझे कोविड पॉजिटिव है और मेरा सिटी स्कोर 15 या 9 है आदि । जब मैं उनसे पूछता हूं कि ऑक्सीजन सेचुरेशन कितना है तो वे कहते हैं कि चेक करके बताता हूं।

 डॉ. सुंदरानी ने कहा जितने पैसों में आप सिटी स्केन कराते हैं, उससे अच्छा आप एक  पल्स ऑक्सीमीटर अपने पास लेकर रखिए। दिन में कम से कम चार बार ऑक्सीजन लेवल रीडिंग लें। 6 मिनट का वाक टेस्ट (पैदल चलना) करें। ये  दोनों ऐसे टेस्ट है जो घर बैठे हो जाते है, जिसके लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है ।

तो प्लीज वे सारे लोग जो पॉजिटिव है या जिनकी रिपोर्ट नहीं मिली है और सिस्टेमैटिक है, दिन में तीन से चार बार ऑक्सीजन लेवल की मॉनिटरिंग अवश्य करें।

ऑक्सीमीटर में ऑक्सीजन लेवल 94 प्रतिशत या उससे नीचे होने या वाक ( चलने) के बाद आक्सीजन लेवल से 3 प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट होने पर है, आपको तुरन्त मेडिकल अटेंशन की जरूरत है।


28-Apr-2021 5:53 PM 19

रायपुर, 28 अप्रैल। राज्य सरकार कोरोना संक्रमित होकर असामयिक मृत्यु के आंकड़े इक_ा कर रही है और इस पर अपनी प्रतिक्रिया में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिवंगत परिवार को अनुकम्पा नियुक्ति देने मामले पर गम्भीरता से विचार करने की बात कही है। पेन्शनर फेडरेशन ने मुख्यमंत्री मंत्री कथन का स्वागत करते हुए दिवंगत शासकीय सेवको के परिजनों को अनुकम्पा नियुक्ति देने के मामले में भेदभाव न बरतने की सलाह दी है और कोरोना संक्रमण के अलावा अन्य कारणों से मृत शासकीय सेवको को भी अनुकम्पा नियुक्ति देने के लिए कार्यवाही करने की मांग की है।

विज्ञप्ति में छत्तीसगढ़ राज्य संयुक्त पेंशनर्स फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव एवं फेडरेशन के घटक संघठन से पेन्शनर एसोसिएशन छत्तीसगढ़ के प्रांताध्यक्ष यशवन्त देवान, छत्तीसगढ़ प्रगतिशील पेन्शनर कल्याण संघ के प्रांताध्यक्ष आर पी शर्मा तथा भारतीय राज्य पेंशनर्स महासंघ छत्तीसगढ़ प्रदेश के प्रांताध्यक्ष जे पी मिश्रा ने आगे बताया है कोरोना संक्रमण के पहले भी प्रदेश में अनेकों शासकीय सेवक दिवंगत हुये है और उनके परिजन तृतीय वर्ग के 10फीसदी पदों के सीलिंग नियम के कारण अनुकम्पा नियुक्ति से वंचित सरकार के फैसले के इंतजार में कार्यालयों के लगातार चक्कर काट रहे हैं। वे सभी सरकार के कोविड-19 के संक्रमण से मृत कर्मचारियों के आंकड़े मांगे जाने से अब अपने अनुकम्पा नियुक्ति को लेकर चिंतित हैं।

पेन्शनर फेडरेशन ने सरकार से मांग की है कि वे  कोविड संक्रमण से मृत और अन्य कारणों से मृत शासकीय सेवको के परिजनों को अनुकम्पा नियुक्ति देने के मामले में भेदभाव न करते हुये अनुकम्पा नियुक्ति के लिये विशेष अभियान चलाकर  सभी जरूरत मन्द को लाभ देने हेतु तुरन्त समयसीमा का कार्यक्रम तय करे।


27-Apr-2021 6:10 PM 19

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 27 अप्रैल। खाद्य नियंत्रक, रायपुर ने शासकीय उचित मूल्य दुकान, स्टेशन वार्ड प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार, लोधीपारा रायपुर शहर के जांच किए जाने पर सार्वजनिक वितरण प्रणाली के खाद्यान्न का अनधिकृत भंडारण एवं व्यपर्वतन का प्रयास करने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

इस शासकीय उचित मूल्य दुकान को  केलकरपारा प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार आईडी कमांक-441001044 में आगामी आदेश पर्यन्त तक अस्थायी रूप से संलग्न किया गया है। केलकरपारा प्राथमिक  सहकारी उपभोक्ता भंडार द्वारा संबंधित वार्ड में ही उचित मूल्य दुकान खोलकर कार्डधारियों को राशन सामग्री का वितरण का कार्य किया जाएगा।


27-Apr-2021 6:10 PM 33

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 27 अप्रैल। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उईके ने छत्तीसगढ़ के पूर्व सांसद श्रीमती करूणा शुक्ला के कोरोना से निधन पर अपनी गहन संवेदनाएं प्रकट करते हुए उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की है। उन्होंने ईश्वर से प्रार्थना की है कि ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। साथ ही उनके परिजनों को इस दुखद घड़ी को सहन करने की क्षमता प्रदान करे। राज्यपाल ने अपने सन्देश में कहा कि उनके निधन का समाचार अत्यन्त ही दुखद है। श्रीमती करूणा शुक्ला एक उच्चकोटि की समाज सेवक, जनप्रतिनिधि और गरीबों के दुख दर्द को समझने वाली संवेदनशील महिला थीं। उनके दुखद निधन से प्रदेश ने अच्छा जन प्रतिनिधि खो दिया है जिसकी क्षतिपूर्ति संभव नहीं है।


27-Apr-2021 6:09 PM 49

स्त्री शक्ति की एक प्रखर प्रतीक थीं

रायपुर, 27 अप्रैल। भाजपा की प्रदेश इकाई ने पूर्व विधायक व पूर्व संसद सदस्य करुणा शुक्ला के देहावसान पर गहनशोक व्यक्त किया है। प्रदेश भाजपा-परिवार ने श्रीमती शुक्ला के निधन को अपूरणीय क्षति बताते हुए कहा कि प्रदेश की राजनीति में महिला सशक्तिकरण के लिए समर्पित एक मुखर नेत्री से जुड़ी संभावनाओं का अंत हो गया है। प्रदेश भाजपा-परिवार ने अपनी गहरी संवेदना व्यक्त कर उनकी आत्मा की चिरशांति की प्रार्थना कर परिजनों को चिर-विछोह की यह वेदना सहने की शक्ति देने की प्रार्थना परमपिता परमेश्वर से की है।

प्रदेश भाजपाध्यक्ष विष्णुदेव साय ने पूर्व सांसद एवं वरिष्ठ नेत्री करुणा शुक्ला के निधन पर गहरा शोक व्यक्त कर कहा कि अपने नाम के अनुरूप ही वे करुणा की मूर्ति थीं। राजनीति से अलग करुणा जी का स्नेह हम सबको प्राप्त था। करुणा दीदी के रूप में हमने आज एक एक मुखर आवाज, स्त्री शक्ति की एक प्रखर प्रतीक को खोया है। इस क्षति की भरपाई कठिन है। दीदी के आकस्मिक निधन से भाजपा-परिवार शोकाकुल है।

भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री व प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी ने श्रीमती शुक्ला के निधन पर गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर कहा कि राजनीति के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनाने वाली, कुशल संगठनात्मक क्षमता की धनी, बेबाक और निडर नेत्री, मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ ही नहीं, बल्कि देश में अपनी अलग पहचान बनाने वाली कुशल नेत्री अब हमारे बीच नहीं रहीं। यह हम सभी के लिए अपूरणीय क्षति है। उनकी कमी हमेशा महसूस होगी।

पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने कहा कि एक कुशल नेत्री, अद्भुत संगठनात्मक क्षमता की धनी विधायक व सांसद के रूप में जनता की सच्ची प्रतिनिधि करुणा जी हमेशा जनहित के लिए आवाज बुलंद करती रहीं। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल की भतीजी होने के बावजूद राजनीतिक, सामाजिक और संगठन के क्षेत्र में अपनी नेतृत्व क्षमता की अद्भुत राजनीतिक समझ व कुशलता के दम पर अपनी अलग छवि स्थापित करने वाली नेत्री का असमय निधन हम सभी के लिए अपूरणीय क्षति है।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सौदान सिंह ने भाजपा संगठन के विस्तार में स्व. श्रीमती करुणा शुक्ला के योगदान को याद करते हुए कहा कि अपनी राजनीतिक सूझबूझ और संगठन कौशल के बल पर मंडल इकाई के दायित्व से लेकर भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर उन्होंने जो मिसाल कायम की है, राजनीतिक मतभेदों के बावज़ूद आज भी वे भाजपा कार्यकर्ताओं का हर कदम पर मार्गदर्शन करेंगीं। प्रदेश और देश की राजनीति में उनकी मुखर राजनीतिक भूमिका सदैव याद रखी जाएगी।

भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय ने कहा कि अविभाजित मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राष्ट्रीय स्तर पर महिलाओं की राजनीतिक भूमिका को धारदार बनाने और नारी-शक्ति की भावनाओं को प्रखर अभिव्यक्ति देने में स्व. श्रीमती शुक्ला का पूरा जीवन समर्पित रहा। भारतीय राजनीति में महिलाओं के प्रभावी नेतृत्व की दृष्टि से तो उन्होंने काफी कार्य किया ही है, प्रादेशिक व राष्ट्रीय मुद्दों पर भी उनकी बेबाक राय हम सबके लिए मार्गदर्शक हुआ करती थी।

भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश, प्रदेश सह प्रभारी नितिन नबीन , केंद्रीय राज्यमंत्री रेणुका सिंह, प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, संसद सदस्य डॉ. सरोज पांडेय, रामविचार नेताम, सुनील सोनी, विजय बघेल, संतोष पांडेय, मोहन मंडावी, चुन्नीलाल साहू, गोमती साय, अरुण साव, गुहाराम अजगले, प्रदेश महामंत्री किरण देव, भूपेंद्र सवन्नी, भाजपा विधायक नारायण चंदेल (पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष), बृजमोहन अग्रवाल, शिवरतन शर्मा, डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, अजय चंद्राकर, पुन्नूलाल मोहले, ननकीराम कंवर, रंजना साहू, डमरूधर पुजारी, विद्यारतन भसीन, सौरभ सिंह, रजनीश सिंह,पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गौरी शंकर अग्रवाल , सुभाष राव ,भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी नलिनीश ठोकने, छगनलाल मूंदड़ा, सहित भाजपा व मोर्चा-प्रकोष्ठों की प्रदेश, जिला व मंडल के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने भी स्व. श्रीमती शुक्ला को अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है।


27-Apr-2021 6:08 PM 22

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 27 अप्रैल। कलेक्टर  व जिला दंडाधिकारी रायपुर डॉ भारतीदासन ने जिले के सभी अनुविभागीय अधिकारी ( राजस्व) सह अनुविगागीय दंडाधिकारी,  सभी जनपदों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों तथा सभी नगर पंचायत और नगर पालिका के मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को अपने- अपने क्षेत्र में कोविड-19 से बचाव, रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु हर संभव प्रयास करने के निर्देश दिए हैं।

कलेक्टर ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में विगत सप्ताह से कोविड-19 पॉजिटिव प्रकरणों में उल्लेखनीय वृद्धि देखी जा रही है।  कोविड-19 से बचाव, रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु हर संभव प्रयासो और पूर्व से किये जा रहें कार्यों को सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ सुनिश्चित करें।

कलेक्टर ने विकासखण्ड मुख्यालय में कोविड-19 संबंधी बचाव, रोकथाम एवं नियंत्रण कार्य हेतु आवश्यक संख्या में योग्य अधिकारियों -कर्मचारियों की ड्यूटी लगाते हुये तत्काल एक 24&7 कंट्रोल रुम स्थापित कर इसके दूरभाष नंबर का प्रचार-प्रसार सम्पूर्ण ग्रामीण क्षेत्र में व्यापक रूप से करने को कहा है। उन्होनें कंट्रोल रुम या अन्य किसी माध्यम से प्राप्त सूचना पर समुचित कार्यवाही अविलंब करने के निर्देश दिए हैं।

कलेक्टर ने विकासखण्ड केअन्तर्गत संचालित अस्पतालो और कोविड केयर सेंटर में बेड, ऑक्सीजन बेड,ऑक्सीजन सिलेन्डर की व्यवस्था एवं ऑक्सीजन की नियमित आपूर्ति की व्यवस्था अनुविभागीय दण्डाधिकारी से समन्वय से करने को कहा है। उन्होनें कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में कोविड-19 पॉजिटिव पाये गये लक्षण-रहित व्यक्तियों के निवास-गृह में आवश्यक व्यवस्था उपलब्ध होने की स्थिति में होम आईसोलेशन की अनुमति दिया जाना है। निवास गृह अपर्याप्त / आवश्यक व्यवस्था अनुपलब्ध होने दशा में उपयुक्त आईसोलेशन सेंटर/ कोविड-19 केयर सेंटर में रखा जाना है। होम आईसोलेशन में रखे गए पॉजिटिव व्यक्तियों को निर्धारित प्रोटोकॉल अनुसार दवा वितरण भी किया जाना है। समुचित कार्य-योजना बनाकर उपयुक्त अधिकारी / कर्मचारियों की ड्यूटी लगाते हुये इसकी कार्यवाही सुनिश्चित करे।  उन्होनें ब्लाक मेडिकल ऑफिसर से आवश्यक सहयोग प्राप्त करते हुये सभी विकासखण्ड मुख्यालय में ऑक्सीजन सेंटर स्थापित करने को कहा है, जिससे किसी भी आपात-स्थिति की दशा में प्रभावी सहायता एवं कार्यवाही की जा सकें।

उन्होनें नगरीय पालिका परिषद तिल्दा-नेवरा, गोबरा नवापारा तथा आरंग में न्यूनतम 30 बेड का ऑक्सीजन सुविधायुक्त कोविड-19 केयर सेंटर तत्काल स्थापित करने के निर्देश दिए है। इसके लिए नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के  निर्देशानुसार तथा अध्यक्ष/पार्षदगण से समन्वय करते हुए ार्षद निधि की राशि का उपयोग किया जा सकता है।

कलेक्टर ने  सभी ग्राम पंचायतों एवं उनमें सम्मिलित ग्रामों में समुचित संख्या में ऑक्सीमीटर की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है। उन्होनें ग्रामीण क्षेत्र के अन्तर्गत मितानिन/एमपीडब्ल्यू इत्यादि स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा क्षेत्र में भ्रमण कर लक्षण को-मॉर्बिटिटी वाले व्यक्तियों का ऑक्सीजन लेबल, ऑक्सीमीटर के माध्यम से लेने तथा ऑक्सीजन लेबल 94 से कम होने पर तत्काल कोविड-19 जांच कराते हुये निर्धारित प्रोटोकाल अनुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।


27-Apr-2021 6:07 PM 45

रायपुर, 27 अप्रैल। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख, मध्यप्रदेश पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष, पूर्व उपमहापौर तथा वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से निवेदन कर कहा है कि प्रदेश सरकार हर किसी को कोरोना का वैक्सीन लगवाने के प्रयास कर रही है जो सरकार का मानवीय कर्तव्य है। टीकाकरण कार्य में तेजी लाने के भरसक प्रयास किए जा रहे हैं।

यहां यह बताना मुनासिब होगा कि कुछ अशक्त, दिव्यांग एवं बढ़ती आयु रोग से ग्रसित असहाय वृद्धजन टीकाकरण सेन्टर तक पहुंचने में असमर्थ हो रहे हैं। उन वृद्धजन वर्ग के अत्यंत वरिष्ठ नागरिकों को घर पहुंच सेवा के अंतर्गत वैक्सीन लगाने का कार्य सरकार के मानवीय पहलू को उजागर करने वाला सिद्ध होगा तथा अन्य प्रदेश भी इस मानवीय पहल का अनुसरण अवश्य करेंगे। रिजवी ने कहा है कि सरकार द्वारा यह पुनीत कार्य शीघ्र प्रारंभ किया जाए तथा इससे उपरोक्त वर्गों के बुजुर्ग लाभान्वित हो सकेगे। इस अभिनव प्रयास से सरकार की संवेदनशीलता का अनुकरणीय पैगाम पूरे देश तथा प्रदेशवासियों में पहुंचेगा।


27-Apr-2021 1:46 PM 38

रायपुर, 27 अप्रैल। पंचशील नगर सिविल लाईन निवासी जयराम दास कुकरेजा (74 वर्ष) का 25 अप्रैल को निधन हो गया। कोविड नियमों के तहत उनका अंतिम संस्कार देवेंद्र नगर श्मशान घाट में किया गया। वे अरविंद कुकरेजा और महेश कुकरेजा के पिता, आदित्य और मनन कुकरेजा के दादा थे। 


27-Apr-2021 1:44 PM 23

रायपुर, 27 अप्रैल। फाफाडीह निवासी 78 वर्षीय सेवानिवृत आयकर अधिकारी हरिनाथ लक्ष्मीनारायण वड़ाडी का 26 अप्रैल को निधन हो गया है। इनका अंतिम संस्कार विशाखपतनम (आंध्रप्रदेश) में मंगलवार को किया गया। वे प्रभावती वड़ाडी के पति एवं माधवी पी मोहन, प्रशांत वड़ाडी, मंजुला आर श्रीनाथ, श्रीनिवास वड़ाडी के पिता एवं डॉ. जयप्रकाश वड़ाडी के चाचा थे।


27-Apr-2021 1:12 PM 89

रायपुर, 27 अप्रैल। चोपड़ा चश्मा घर के संचालक विशाल चोपड़ा का सोमवार को एम्स में ह्दयघात से निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार कोरोना प्रोटोकॉल के तहत मंगलवार को किया गया। वे चश्मा घर के संचालक गोपाल चोपड़ा के छोटे भाई थे। रायपुर ऑप्टिकल व्यापारी वेलफेयर एसोसिएशन के सदस्यों ने श्रद्धांजलि दी। 


26-Apr-2021 5:24 PM 28

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 26 अप्रैल। नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा श्रम मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया ने वर्ष 2021-22 हेतु आबंटित विधायक निधि की सम्पूर्ण राशि छत्तीसगढ़ राज्य में 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को होने वाले टीकाकरण के लिए देने का निर्णय लिया है। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा टीकाकरण के हेतु लिए गए निर्णय का स्वागत करते हुए  कलेक्टर रायपुर को प्रेषित पत्र में कहा है कि वर्ष 2021-22 हेतु आबंटित विधायक निधि की सम्पूर्ण राशि मुख्यमंत्री, सचिवालय, छत्तीसगढ़ शासन, महानदी भवन नवा रायपुर को कोविड टीकाकरण उपयोग हेतु उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।


26-Apr-2021 5:23 PM 18

रायपुर, 26 अप्रैल। छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर प्रदेशवासियों को दी बधाई शुभकामनाएं । डॉ महंत ने अपने बधाई संदेश में कहा कि, हनुमान जी संकट मोचन हैं इस जन्मोत्सव के अवसर पर मैं सकल मानव जगत की ओर से कोरोना नामक संकट से उबारने की बारंबार प्रार्थना आराधना करता हूं। डॉ. महंत ने कहा कि, कहते हैं यदि कलयुग में कोई ईश्वर इस धरती पर हैं, तो वो केवल परम राम भक्त श्री हनुमान जी ही हैं, श्री हनुमान को वायु पुत्र भी कहा जाता है। उनका वेग तो वायु से भी तेज माना जाता है। उनका जन्म ही राम काज को सिद्ध करने के लिए हुआ था। हनुमान जी श्री राम जी के अनन्य भक्त थे। वो हर समय अपने प्रभु श्री राम और माता जानकी की सेवा के लिए तत्पर रहते थे, कहते है, जो भी जन प्रभु राम का नाम जपता है, उसे हनुमान जी की कृपा स्वत: मिल जाती है।


26-Apr-2021 5:23 PM 82

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 26 अपै्रल। कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए बनाए गए चेंबर ऑफ कॉमर्स के हेल्प डेस्क को बंद कर दिया गया है। बताया गया कि डेस्क के प्रभारी राहुल महेश्वरी पुलिस ने रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी  करते गिरफ्तार किया था। हेल्प डेस्क करने का विरोध भी हो रहा है।

चेंबर के पूर्व पदाधिकारी दीपक बल्लेवार ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में साफ तौर पर कहा कि एक-दो व्यापारियों की वजह से हेल्प डेस्क को बंद किया जाना उचित नहीं है। जिन व्यापारियों पर रेमडेसिविर के कालाबाजारी के आरोप लगे हैं, उन्हें हेल्प डेस्क से अलग कर देना चाहिए था। उनकी जगह किसी दूसरे को प्रभार देना चाहिए।

बल्लेवार ने ये भी कहा कि हेल्प डेस्क बंद होने से जिन जरूरतमंदों को मदद मिल रही थी, वह नहीं मिल पा रही है।

बताया गया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के मुख्य सूत्रधार राहुल महेश्वरी हेल्प डेस्क प्रभारी थे। महेश्वरी के साथ पकड़े गए कमलेश भी चेंबर से जुड़े हैं। इन दोनों के खिलाफ पुलिसिया कार्रवाई के बाद चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष अमर पारवानी ने हेल्प डेस्क को ही भंग कर दिया है। पुलिस ने रविवार को कुछ 6 लोगों को रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते हुए पकड़ा था। उनसे बड़ी मात्रा में रेमडेसिविर और दो लाख रुपये बरामद किए थे।

उल्लेखनीय है कि कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए रेमडेसिविर की काफी डिमांड है। डेढ़ हजार का इंजेक्शन 20 से 25 हजार रुपये में बिक रहा है। प्रशासन ने कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त अभियान शुरू किया है और प्रदेश में कई जगहों पर छापेमारी की है। कई प्रभावशाली लोगों को कालाबाजारी करते हुए गिरफ्तार किया है।


26-Apr-2021 5:22 PM 45

नियमों को शिथिल करने की मांग

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 26 अपै्रल। राज्य शासन द्वारा कोरोना से मृत सरकारी कर्मचारियों का बार-बार ब्यौरा मांगे जाने पर कर्मचारी नेताओं ने आपत्ति जताई है। कर्मचारी नेताओं का कहना है कि सरकार को मृत अधिकारी-कर्मचारियों के परिजनों को हफ्तेभर में नियुक्ति आदेश जारी करना चाहिए।

साथ ही उन्होंने अनुकंपा नियुक्ति के लिए निर्धारित 10 फीसदी की सीमा को शिथिल करने की मांग की है। सामान्य प्रशासन विभाग ने सभी जिलों से मृत कर्मचारियों की जानकारी बुलाई है। इस आशय का पत्र पहले भी जारी हुआ था। प्रदेश में अलग-अलग विभागों के 100 से अधिक कर्मचारी कोरोना से मृत हुए हैं। मृतक सरकारी अधिकारी-कर्मचारियों के आश्रितों में से एक को अनुकंपा नियुक्ति देने का प्रावधान है। कर्मचारी नेता विजय कुमार झा ने राज्य शासन द्वारा कोरोना से मृत अधिकारी-कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति देने में विलंब पर गहरी नाराजगी जताई है।

उन्होंने कहा कि मृतक के आश्रितों को हफ्तेभर के भीतर अनुकंपा नियुक्ति देने का आदेश दिया जाए। साथ ही नियुक्ति के लिए 10 फीसदी सीमा को शिथिल किया जाए। ताकि मृतक के परिजनों को योग्यता अनुसार तृतीय अथवा चतुर्थ श्रेणी के पदों पर नियुक्ति दी जा सके।


26-Apr-2021 5:21 PM 36

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 26 अप्रैल। राज्यपाल अनुसुईया उईके ने राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार-2021 में छत्तीसगढ़ राज्य को 12 पुरस्कार मिलने पर  प्रदेश के मुख्यमंत्रीभूपेश बघेल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव सहित समस्त पंचायतों एवं पंचायत पदाधिकारियों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों के उत्कृष्ट कार्यप्रदर्शन से ही प्रदेश और देश का विकास होता है। हम सभी को समावेशी विकास को आगे बढ़ाने के लिए लगातार काम करना है। उन्होंने उम्मीद जताई की राज्य की पंचायतें भविष्य में भी बेहतर काम-काज का प्रदर्शन करते हुए  छत्तीसगढ़ को गौरवान्वित करेंगी।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश की पंचायतों द्वारा बेहतर प्रदर्शन के लिए छत्तीसगढ़ का चयन ई-पंचायत पुरस्कार के लिए किया गया है। कोंडागांव जिला पंचायत, गरियाबंद और तिल्दा जनपद पंचायत व सरगुजा जिले के अंबिकापुर विकासखंड के सरगवां और लुंड्रा विकासखंड के रिरी, बालोद जिले के गुंडरदेही विकासखंड के माहुद (अ), कबीरधाम जिले के सहसपुर लोहारा विकासखंड के महराटोला व रायपुर जिले के आरंग विकासखंड के बैहार ग्राम पंचायत का चयन दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार के लिए किया है।

राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार-2021 के अंतर्गत बीजापुर जिले के भोपालपटनम विकासखंड के दूरस्थ वनांचल गोटईगुड़ा ग्राम पंचायत को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा पुरस्कार, रायपुर जिले के अभनपुर विकासखंड के नवागांव (ल) को बाल हितैषी ग्राम पंचायत पुरस्कार और आरंग विकासखंड के बैहार को ग्राम पंचायत विकास योजना पुरस्कार दिया गया है।


26-Apr-2021 5:21 PM 32

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 26 अप्रैल। वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से कलेक्टर डॉ एस भारतीदासन, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड और रेमडीसिवर इंजेक्शन आपूर्ति के लिए राज्य नोडल अधिकारी  हिमशिखर गुप्ता ने रायपुर जिले के निजी हॉस्पिटल के संचालकों  से बातचीत की।

 बैठक में बताया गया कि रायपुर जिले में रेमडेसीविर और ऑक्सीजन की सप्लाई  बढ़ी है, इसमें  निरंतर सुधार आ रहा है और बहुत जल्द और अधिक सुधार आने की संभावना है । राज्य का कोटा 48 हजार से बढक़र 75 हजार हो गया है । इसी तरह मेडिकल ऑक्सीजन सप्लाई  में भी काफी सुधार आया है।

बैठक में निजी चिकित्सालयों के संचालकों से अनुरोध किया गया कि उनके चिकित्सालय में भर्ती कोरोना मरीजों तथा खाली बेड की जानकारी को पोर्टल के माध्यम से लगातार अपडेट करते रहे, अगर अनुमति से भी अधिक मरीज चिकित्सालय  में भर्ती है या भर्ती करने की जरूरत है , तो इसके लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को  तत्काल सूचित कर अनुमति ले, जिससे जरूरत के अनुसार उन्हें रेमडीसीवर और ऑक्सीजन की आपूर्ति व्यवस्थित रूप से हो सके।

बैठक के प्रारंभ में नीरज बंसोड ने कहा कि राज्य शासन द्वारा आयुष्मान कार्ड के साथ-साथ अन्य करोना मरीजों के लिए सामान्य  ऑक्सीजन बेड, ऑक्सीजन युक्त बेड और आईसीयू बैड के रेट निर्धारित किए  हैं। ये रेट सुटेबल है और आई एम ए जैसे संस्थाओं से विचार- विमर्श के बाद तय किये गये है लेकिन अभी भी कुछ चिकित्सालयों से मरीजों से अधिक रेट लिए जाने की शिकायतें प्राप्त हो रही है ।

इसी तरह एंबुलेंस के माध्यम से भी अधिक पैसों की मांग करने और बिल भुगतान नहीं होने की स्थिति में डेड बॉडी को रोकने जैसी  शिकायतें भी मिली  है । उन्होंने कहा कि शिकायतों की जांच के लिए राज्य में टीम भी बनाई गई है। वर्तमान समय में मोबाइल आदि के माध्यम से ऐसी शिकायतें वीडियो आदि के माध्यम से भी की जाती है।

उन्होंने बताया कि रेनडिसीवर इंजेक्शन का उपयोग डे केयर और ओपीडी  के मरीजों को नहीं करना है लेकिन इसके बावजूद कई डॉक्टर इसका प्रिसक्रिप्शन लिख रहे हैं।उन्होंने कहा मेडिकल कॉलेज रायपुर में इस संबंध में अच्छी व्यवस्था की गई है । सीनियर डाक्टर द्वारा मरीज के कंडीशन के अनुसार रेमडिसीविर इंजेक्शन की मांग का आकलन किया जाता है ,उसके बाद ही यह दवाई दी जाती है । ऐसी ही व्यवस्थाएं हर चिकित्सालय में की जानी चाहिए और इसके लिए नोडल पर्सन बनाना चाहिए ?।

डॉ. भारतीदासन ने कहा कि कोरोना के समय मे  चिकित्साकर्मी और चिकित्सक 24 घंटे की महत्वपूर्ण सेवाएं दे रहे लेकिन हमें यह भी देखने की जरूरत है कि कई बार कोरोना  के मरीज और उनके परिजन सदमे की स्थिति में रहते हैं । ऐसी समय मेडिकल प्रोफेशन से जुड़े  लोगों के लिए और  भी ज्यादा जरूरी हो जाता है कि वे क्राइसिस को समझ कर मेडिकल एथिक्स के अनुरूप कार्य करें। उन्होंने कहा कि मरीजों से अधिक रेट लेने जैसी शिकायतों से जनता के बीच गलत मैसेज जाता है। यह एक कठिन दौर है और इसमें सभी से पूरे सहयोग की अपेक्षा रहती है।  कंट्रोल रूम में कोरोना मरीजों से मिलने वाली शिकायतों को दर्ज करने के  लिए एक नंबर सुरक्षित रखा जाएगा।

कलेक्टर ने कहा कि जिले के कंट्रोल रूम में कोरोना मरीजों से मिलने वाली शिकायतों को दर्ज करने के  लिए एक नंबर सुरक्षित रखा जाएगा जिससे जरूरत पडऩे पर मरीज अपनी समस्या और शिकायत को दर्ज करा सकें।

कलेक्टर ने कहा कि पिछले 10 दिनों से चिकित्सालयों द्वारा चाहा गया रेमडीसीवर इंजेक्शन का पर्याप्त स्टाक दिया जा रहा है, ऐसे में डॉक्टरों द्वारा प्रिसक्रिप्शन लिख बाहर  से रेमरडिसीवर की मांग करने का क्या औचित्य है ? उन्होंने रेमडिसीवर इंजेक्शन के हर वाइल की मानिटरिग करने और उसे सुरक्षित रखने को कहा। उन्होंने  कहा कि रायपुर जिले में विगत दिनों  एक चिकित्सालय में हुए फायर एक्सीडेंट की जांच की जा रही है । इसी तरह अन्य चिकित्सालय में भी  फायर फाइटिंग व्यवस्था की जांच की जा रही है। उन्होंने चिकित्सालय के संचालकों से कहा कि वे अपने चिकित्सालय में ऐसे साधन और व्यवस्था बनाकर रखें  कि जिससे किसी भी अनहोनी होने पर वे दुर्घटना को अच्छे से मैनेज कर सकें।

कलेक्टर ने कहा कि रायपुर जिले में पिछले 15 दिनों में 4 हजार मेडिकल ऑक्सीजन  सिलेंडर को बढ़ाकर आठ हजार कर दिया गया है और जिले में ऑक्सीजन सप्लाई अब काफी बेहतर हो गई है । उन्होंने कहा कि चिकित्सालय अपने बेड और भर्ती मरीजों के आधार पर मेडिकल ऑक्सीजन की व्यवस्था और जरूरत की सही जानकारी दें, जिससे आक्सीजन सप्लाई व्यवस्था को और बेहतर बनाया जा सके ।

राज्य नोडल अधिकारी श्री हिमशिखर गुप्ता ने कहा कि रेमडेसीविर इंजेक्शन को पहले जिलावार फिर हॉस्पिटलवार वितरित किया जा रहा है। यह ध्यान रखा जा रहा है कि छोटे हॉस्पिटलों को भी इसकी आपूर्ति हो सके।  चिकित्सकों को ध्यान रखना होगा कि चिकित्सालय के बाहर इसका प्रिसक्रिप्शन  लिखकर मरीजों से यह दवाई नहीं मांगी जाए। सॉफ्टवेयर पोर्टल के माध्यम से भी इसका ऑनलाइन एंट्री करना  और रिकॉर्ड मेंटेन करना जरूरी है। जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा इसकी रेंडम जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य का कोटा बढ़ा है और दो-तीन दिन में रेमडीसीवर दवाई की सप्लाई और बेहतर होने की उम्मीद है।

श्री बंसोड ने यह भी कहा कि चिकित्सालय में ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था को दुरुस्त रखने की भी जरूरत है, जिससे यह लीक होने से बचे तथा इसके समुचित उपयोग के साथ  भविष्य के लिए इसे सुरक्षित रखा जा सके।

 डॉ खेमका ने कहा-  चिकित्सालय की ऑक्सीजन व्यवस्था अच्छे से मैनेज हो रही है*

वर्चुअल बैठक में निजी चिकित्सालय के संचालकों ने भी अपनी बात कही। डॉ खेमका ने बताया कि उनके चिकित्सालय को 800 से 900 सिलेंडर प्राप्त हो रहे हैं और इससे  चिकित्सालय की ऑक्सीजन व्यवस्था अच्छे से मैनेज हो पा रही हैं। उन्होंने बताया कि चिकित्सालय के वेंटिलेटर तथा आईसीयू के  मरीजों के लिए रेमडिसीविर दवाइयों की काफी आवश्यकता पडती है। रामकृष्ण चिकित्सालय के डॉ  संदीप दवे  ने बताया कि कई बार मरीजों द्वारा चिकित्सालय की अनावश्यक शिकायतें की जाती है । ऐसी शिकायतों की जांच के समय दोनों पक्षों की बातों को सुना जाना चाहिए, नहीं तो चिकित्साकर्मी हतोत्साहित होते हैं।

एम एम आई हॉस्पिटल के डॉ नवीन शर्मा ने कहा , चिकित्सालय की लिक्विड ऑक्सीजन सप्लाई व्यवस्था अच्छी है

एम एम आई हॉस्पिटल के डॉ नवीन शर्मा ने कहा कि चिकित्सालय की लिक्विड ऑक्सीजन सप्लाई व्यवस्था अच्छी है । इसी तरह भर्ती मरीजों की एक्सल शीट की माध्यम से सही और पूरा विवरण लिखने का प्रयास किया जा रहा है। डॉ आकाशदीप द्वारा एजेंसी द्वारा ऑक्सीजन सप्लाई से असमर्थता व्यक्त करने की शिकायत पर कलेक्टर ने कहा कि अनुविभागीय दंडाधिकारी के माध्यम से इस समस्या का समाधान किया जाएगा।