छत्तीसगढ़ » रायपुर

Posted Date : 16-May-2019
  • रायपुर, 16 मई। जामगांव एम (पाटन) के गुरुवार को ऐसा लग रहा था जैसे मवेशी वहां अलग-अलग बाइक से अपने लिए चारा-पानी का इंतजाम देखकर पहुंच रहे हैं। मैदान में मोटर साइकिलों के साथ वहां जानवरों की भीड़ शुरू हो गई थी। भूपेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरुवा, घुरुवा, बाड़ी  पर दुर्ग जिले के पाटन ब्लॉक में काम शुरू हो गया है। वहां के 62 गांवों के खाली मैदान में आकर्षक गौठान बनाए जा रहे हैं। जामगांव एम समेत 5 गांवों में यह गौठान मॉडल स्तर पर तैयार किया जा रहा है। सभी गौठानों में मवेशियों के लिए चारा-पानी का पर्याप्त इंतजाम किया जा रहा है। 

  •  

Posted Date : 16-May-2019
  • भू-जल स्तर और आसन्न जल संकट जैसे समस्याओं से निपटने वाटर हार्वेस्टिंग उपयोगी एवं सफल उपाय

    रायपुर, 16 मई। पूरे विश्व में तेजी से गिर रहे भू-जल स्तर और आसन्न जल संकट जैसी गंभीर समस्याओं से निपटने वाटर हार्वेस्टिंग जैसे उपाय काफी उपयोगी एवं सफल हो सकते है। राज्य शासन के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग और नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा वाटर हार्वेस्टिंग के प्रति जन जागरूकता बढ़ाकर ऐसे प्रयासों में जन-जन की भागीदारी बढाने का प्रयास किया जा रहा है। 

    नगरीय निकायों भूमिगत जल संरक्षण के लिए वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाये जाने के लिए वर्षा जल संचयन या रेनहार्वेस्टिंग सिस्टम के लिए जारी आदेश के तहत् वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम 150 वर्गमीटर से अधिक आकार के भू-खण्डों में वर्षा जल संरक्षण हेतु छत्तीसगढ़ भूमि विकास निगम 1984 के नियम में प्रावधानों के अनुसार रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम स्थापित किया जाना आवश्यक है। भूमि जल संरक्षण के संबंध में राज्य शासन द्वारा भवन अनुज्ञा हेतु ऑनलाइन व्यवस्था लागू की गई है। जिसमें आवेदक द्वारा समस्त अभिलेख एवं जमा की जाने वाली राशि ऑनलाइन प्रस्तुत की जाती है। 

    सुरक्षा राशि आयुक्त, मु.न.पा. अधिकारी के पक्ष में देय होती है। सुरक्षा राशि बैंक या डाकघर के माध्यम से जमा होती है। इसके अंतर्गत रेनवाटर हार्वेस्टिंग हेतु जमा की जाने वाली सुरक्षा राशि भी ऑनलाइन निकाय के पृथक से खाते में जमा की जाती है। भवन का निर्माण कार्यपूर्ण होने एवं रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के स्थापित किए जाने की निकाय द्वारा निरीक्षण एवं पुष्टि के उपरांत सुरक्षा राशि की सावधि जमा राशि निकाय द्वारा वापस की जाती है। भवन स्वामी द्वारा अनुज्ञा की अवधि में रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का निर्माण एवं रख-रखाव स्थापना प्रावधानित विधि से पूर्ण नहीं किए जाने की स्थिति में जमा कराई गई राशि राजसात कर ली जाती है।

    इसके प्रावधानों के तहत् एकल इकाई भवन हेतु सुरक्षा राशि की गणना संपूर्ण भूखण्ड क्षेत्र पर 55 रूपये प्रति वर्गमीटर की दर से की जाती है। किन्तु इस श्रेणी के भवनों के लिए सुरक्षा राशि की अधिकतम सीमा 15 हजार रूपये है। रो-हाऊसिंग योजना के अंतर्गत सुरक्षा राशि की गणना भूखण्ड क्षेत्रफल जिस पर भवनों का निर्माण प्रस्तावित है पर 55 रूपये प्रति वर्गमीटर की दर से तथा शेष क्षेत्र के क्षेत्रफल पर राशि एक लाख रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से गणना कर अधिरोपित की जाती है। रो-हाऊसिंग के सम्पूर्ण अभिन्यास के सुरक्षा राशि की अधिकतम सीमा 10 लाख रूपये हैं। ग्रुप हाऊसिंग के लिए सुरक्षा राशि की गणना एवं अधिकतम सीमा रो-हाऊसिंग के समान ही है। 

    बहुइकाई भवनों के लिए सुरक्षा राशि की गणना सपूर्ण भूखण्ड क्षेत्र का 55 रूपये प्रति वर्गमीटर की दर से की जाती है। किन्तु अधिकतम सीमा इकाईयों की संख्या ग 15 हजार रूपये के गुणनफल से प्राप्त होने वाली राशि से अधिक नहीं है। 

    कॉलोनी विकास के प्रकरणों में सुरक्षा राशि की गणना भूखण्ड एवं सडक़ की भूमि को छोडक़र शेष क्षेत्रफल पर 1 लाख रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से की जाती है। किन्तु सुरक्षा राशि की अधिकतम सीमा 10 लाख रूपये होगी। वाणिज्यिक, सार्वजनिक, अर्धसार्वजनिक, औद्योगिक भवनों-परिसरों के प्रकरणों में भी सुरक्षा राशि की गणना 55 रूपये के प्रति वर्गमीटर की दर से भूखण्ड के संपूर्ण क्षेत्रफल पर की जाती है। 

    किन्तु सुरक्षा राशि की अधिकतम सीमा राशि 10 लाख रूपये होगी। 
    नगरीय निकाय द्वारा भवन निर्माण, छत्तीसगढ़ नगर पालिका कॉलोनाइजर का रजिस्ट्रीकरण निर्बधन तथ शर्ते नियम 1998 के तहत यथा निर्माण-विकास की अनुज्ञा जारी करने के पूर्व अन्य देय कर-शुल्क की राशि जमा कराए जाने की साथ ही सुरक्षा राशि (एफ.डी.आर. के रूप में) जमा कराया जाना सुनिश्चित किया गया है।

     ऐसे भवन जो 150 वर्गमीटर से अधिक आकार के भूखण्ड पर पूर्व से निर्मित हैं तथा उनमें रेनवाटर हार्वेस्टिंग का प्रावधान अद्यतन नही किया गया है पर प्रतिवर्ष भूखण्ड क्षेत्रफल पर प्रति 100 वर्गमीटर पर एक हजार रूपये के मान से वार्षिक जुर्माना आरोपित की जाएगी। इस प्रकार का जुर्माना तब तक आरोपित की जाती है। जब तक की भवन स्वामी द्वारा निर्धारित मापदंड के अनुसार रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम स्थापित कर नगरीय निकाय को को इसकी लिखित सूचना नहीं दी जाती है। उक्त जुर्माना की राशि की वसूली, नगरीय निकाय द्वारा भवन स्वामी से सम्पत्ति कर के साथ की जाती है। किसी भी परिस्थिति में जुर्माना की राशि वापसी योग्य नहीं होगी। 

    शासकीय, समस्त सार्वजनिक भवन निर्माण इसकी अनिवार्यता का प्रावधान रखा गया है। अभिन्यास स्वीकृति में इसके लिए प्रावधानिक समय सीमा भवन अनुज्ञा एवं विकास अनुज्ञा के लिए समान ही रखी गई है। रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम की पूर्णता के पश्चात् ही नल संयोजन, भवन पूर्णता एवं विद्युत अनापत्ति दी जाती है। निकाय स्तर पर निकाय के अभियंता एवं सभी पंजीकृत अभियंताओं को इस संदर्भ में अनिवार्य प्रशिक्षण दिया जाता है। 

    18 मार्च 2019 की स्थिति में नगरीय निकायों में भवन अनुज्ञा किए जाने वाले 150 वर्गमीटर के क्षेत्रफल से अधिक आकार के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग अंतर्गत अभी तक 7365 कुल प्रकरणों के 1709.18 लाख रूपए जमा है। जिसमें से 2435 पूर्ण प्रकरणों के 445.85 लाख रूपए विमुक्त किए गए है तथा शेष 4930 प्रकरणों की 1263.33 लाख रूपए जमा है। जिसे पूर्ण होने पर प्रावधान के तहत राशि रिफंड की जानी है।

     

  •  

Posted Date : 16-May-2019
  • बाल नाट्य कार्यशाला में बच्चों ने मेकअप करना सीखा

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 16 मई।
    राजधानी में इन दिनों विभिन्न कलाविधाओं का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसी कड़ी में कच्ची माटी, बाल नाट्य  कार्यशाला में प्रशिक्षकों द्वारा बच्चों की अभिनय प्रतिभा को तलाश कर उसे तराशा जा रहा है। कार्यशाला में बच्चों को विगत दिवस मेकअप के महत्व की जानकारी देते हुए मेकअप करना सिखाया गया। मेकअप की ट्रेनिंग लेते हुए बच्चों ने एक-दूसरे का मेकअप किया और वर्कशॉप का भरपूर लुत्फ उठाया। 

    रंग निर्देशक रंजन मोडक़, अरूण भांगे, पल्लवी, शिल्पी ने प्रशिक्षुओं को नाटक विधा की रचनात्मकता की जानकारी दी गई। उन्हें बताया गया कि किस तरह नाटक सामाजिक समस्याओं सहित इतिहास से आम जन का रिश्ता कायम कर सकता है? प्रशिक्षकों ने बताया कि नाट्य विधा से जुडक़र किस तरह अपने भावनाओं को अभिव्यक्त कर सकता है, व्यक्तित्व का विकास कर सकता है। 

     

  •  

Posted Date : 16-May-2019
  • उच्च क्वालिटी के एरोमेटिक चावल के साथ फ्रेश स्नैक्स और हैंडीक्राफ्ट के आइटम भी उपलब्ध

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 16 मई। पहले ही दिन चावल खरीददारों का नई दिल्ली के छत्तीसगढ़ भवन में ताँता सा लग गया। लगभग 200 किलो चावल की बिक्री के साथ बड़ी मात्रा में छत्तीसगढ़ी स्नैक्स और हैंडीक्राफ्ट के विभिन्न उत्पाद छत्तीसगढ़ भवन में आने वाले ग्राहकों की पहली पसंद बने।

    नई दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित ‘छत्तीसगढ़ भवन’ में 15 से 20 मई तक चावल बिक्री मेले का आयोजन किया गया है। लोग इस मेले में निर्धारित दिन में यहाँ आकर मनपसंद छत्तीसगढ़ के एरोमेटिक चावल खरीद सकते है। यह चावल ऑर्गैनिक के साथ-साथ सेहत के लिए भी बेहद लाभकारी है। इस मेले में फ्रेश देशी छत्तीसगढ़ी स्नैक्स और हस्तशिल्प और हथकरघा के विभिन्न आइटम आम लोगों के लिए बिक्री हेतु उपलब्ध हैं। 

     छत्तीसगढ़ का सुगंधित धान पूरे देश में पहचान रखता है। जवा फूल, दुबराज, विष्णु भोग, एचएमटी, श्रीराम, लुचई जैसी सुगंधित धान की किस्में राज्य की पहचान है। चाहे बिलासपुर हो या मुंगेली, महासमुंद या धमतरी, सभी जिलों में सुगंधित धान की खेती हो रही है। हर क्षेत्र में अलग-अलग किस्में।

      ऑर्गेनिक और एरोमेटिक चावल के कई फायदे हैं। इसमें स्टार्च की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा बालियों में छोटा व पतला दाना है जो प्राकृतिक तत्वों से भरपूर होता है। इस विशेष चावल में एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा ज्यादा है। इसके अलावा इसमें विटामिन ई, फाइबर और प्रोटीन की प्रचुरता सामान्य चावलों से भी अधिक है। इनमें मौजूद विशेष एंटी ऑक्सीडेंट तत्व त्वचा व आंखों के लिए फायदेमंद होते हैं। इसमें मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को दुरुस्त करने के साथ आंत की बीमारी को भी दूर करते हैं। 

    ये चावल मोटापा कम करने के लिए भी बेहद लाभदायक हैं। दिल को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए भी ये सहायक है और इन सब खूबियों वाले खास चावल अब दिल्ली के छत्तीसगढ़ भवन आम लोगों के लिए उपलब्ध है।

     

     

  •  

Posted Date : 16-May-2019
  • मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में कार्यरत इंटर्नस से सुब्रत ने किया संवाद

    रायपुर, 16 मई। छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में कार्यरत इंटर्न्स से संवाद किया। इस दौरान सभी इंटर्न्स ने सीईओ कार्यालय में अपने पिछले दो महीने के कार्यानुभव साझा किए। इंटर्न्स ने कहा कि यहां काम करना उनके लिए एक यादगार और शानदार अनुभव रहा। आदर्श आचार संहिता के विभिन्न पहलुओं के साथ ही उन्हें आम निर्वाचन की बारीकियों को जानने-समझने का मौका मिला।

    उल्लेखनीय है कि मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय की अभिनव पहल से रायपुर के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के 23 विद्यार्थियों को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया मॉनिटरिंग सेल और सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल में इंटर्न्स के रूप में काम करने का मौका मिला था। लोकसभा आम निर्वाचन-2019 के तहत प्रदेश में आदर्श आचार संहिता प्रभावी रहने के दौरान पिछले दो महीनों में इन इंटर्न्स ने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की निगरानी के लिए गठित इलेक्ट्रॉनिक मीडिया मॉनिटरिंग सेल और सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सक्रियता से काम किया।

    श्री साहू ने इंटर्न्स को संबोधित करते हुए मीडिया के अनेक पहलुओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मीडिया संस्थानों से आदर्श आचार संहिता के दौरान निष्पक्ष रिपोर्टिंग की अपेक्षा रहती है। निर्वाचन व्यय, पेड न्यूज और चुनाव प्रचार को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के दायरे में रखने के लिए आदर्श आचार संहिता की अवधि में इसकी सतत निगरानी की जरूरत रहती है। उन्होंने इंटर्न्स को आम निर्वाचन के लिए की जाने वाली व्यापक व्यवस्था, सुनियोजित कार्यप्रणाली और प्रबंधन के बारे में भी बताया।

     मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में अपने कार्यानुभव के बारे में इंटर्न्स ने कहा कि लगातार दो महीनों तक विभिन्न चैनलों, वेब और सोशल मीडिया की निगरानी से वे इनकी विषयवस्तु  के ट्रेंड्स से वाकिफ हुए हैं। चुनाव प्रचार के दिनों में इससे संबंधित खबरों  के कवरेज और समाचार चैनलों में प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों के बारे में भी उनकी समझ बढ़ी है। उन्होंने कहा कि यहां का अनुभव भविष्य में मीडियापर्सन के रूप में काम के दौरान उनके लिए खासा मददगार होगा। 

    संवाद-कार्यक्रम में संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी समीर विश्नोई, सहायक मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी शारदा अग्रवाल, मीडिया सेल के नोडल अधिकारी आलोक देव, मतदाता जागरूकता फोरम के नोडल अधिकारी प्रशांत पाण्डेय, सोशल मीडिया प्रभारी विकास शर्मा और कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. शाहिद अली भी मौजूद थे।

  •  

Posted Date : 16-May-2019
  • डीकेएस घोटाले पर पुनीत गुप्ता की फिर चुप्पी, कहा-दस्तावेज देखने के बाद ही कुछ कह पाएंगे

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 16 मई। डीकेएस अस्पताल के पूर्व अधीक्षक डॉ. पुनीत गुप्ता गुरुवार दोपहर दूसरी ओर अपना बयान देने यहां गोलबाजार थाने पहुंचे और पुलिस ने उनसे करीब डेढ़ घंटे पूछताछ की। इस दौरान उन्होंने पुलिस के सवालों का जवाब देने के बजाए लुकआउट नोटिस रद्द करने की मांग की, लेकिन उनका यह नोटिस रद्द नहीं किया गया। सवालों के जवाब में डॉ. गुप्ता ने कहा कि दस्तावेज मिलने पर ही वे पुलिस के सवालों का जवाब दे पाएंगे।

    पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद डॉ. गुप्ता के खिलाफ डीकेएस अस्पताल में 50 करोड़ की गड़बड़ी का मामला गोलबाजार पुलिस में दर्ज है। अस्पताल अधीक्षक डॉ. केके सहारे ने उनके खिलाफ यह रिपोर्ट दर्ज कराई है। इस मामले में डॉ. गुप्ता अपने पिता व 3-4 वकीलों के साथ अपना बयान दर्ज कराने 5 मई को गोलबाजार थाने पहुंचे, लेकिन वे पुलिस के किसी भी सवाल का जवाब नहीं दे पाए। इस बार भी उन्होंने पुलिस के किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। डॉ. गुप्ता पुलिस से यह कहते रहे कि उनके पास कोई दस्तावेज नहीं है, ऐसे में वे तुरंत पुलिस के किसी सवाल का जवाब नहीं दे पाएंगे।

    पुलिस अफसरों ने उनके 50 से अधिक सवालों का जवाब देने पर जोर दिया, तब डॉ. गुप्ता ने उनसे कहा कि वे आरटीआई के तहत आवेदन लगाए हुए हैं। दस्तावेजों के साथ जानकारी मिलने पर वे उनके सभी सवालों का जवाब देने का प्रयास करेंगे। इसके पहले डॉ. गुप्ता ने कल लगाए अपने एक आवेदन का जिक्र करते हुए उनके खिलाफ जारी लुकआउट नोटिस को निरस्त करने की मांग की। इस दौरान पुलिस अफसरों ने उनसे कहा कि जब तक उनके खिलाफ गड़बड़ी की जांच चलती रहेगी, यह नोटिस निरस्त नहीं किया जाएगा। 

    डीकेएस अस्पताल गड़बड़ी की जांच में लगी पुलिस का कहना है कि डॉ. गुप्ता का लुकआउट नोटिस निरस्त न कर उनसे आज करीब डेढ़ घंटे तक पूछताछ की गई। पूछताछ में डॉ. गुप्ता ने उनसे एक भी सवालों का जवाब नहीं दिया। सवालों का जवाब देने के पहले वे दस्तावेज नहीं होने की बात कहते रहे। पुलिस आगामी कुछ दिनों में फिर से नोटिस जारी कर बयान दर्ज कराने के लिए बुलाएगी।

    उल्लेखनीय है कि एक-एक कर तीन नोटिस के बाद डॉ. गुप्ता थाने पहुंचने के बजाए हाईकोर्ट से अपनी अग्रिम जमानत लेकर आ गए। पुलिस उनकी यह जमानत निरस्त कराने सुप्रीम कोर्ट गई, तब जाकर डॉ. गुप्ता पहली बार अपना बयान दर्ज कराने थाने पहुंचे थे।

  •  

Posted Date : 16-May-2019
  • जिला स्तरीय स्पर्धा में आजमाए पैंतरे

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 15 मई। 
    रायपुर कराते डू एसोसिएशन की ओर से रोहिणीपुरम स्थित सरस्वती शिक्षण संस्थान में बुधवार को जिला स्तरीय सब जूनियर और सीनियर कैटेगिरी में कराते ट्रायल सेलेक्शन का आयोजन किया गया चयनित खिलाड़ी भिलाई में 16, 17 मई को आयोजित राज्य स्तरीय स्पर्धा में भाग लेंगे। इस स्पर्धा के माध्यम से छत्तीसगढ़ की टीम बनेगी जो 10 से 13 जून तक दिल्ली में आयोजित नेशनल चैंपियनशिप में भाग लेंगे।

    बुधवार को जिला स्तरीय ट्रायल काता, कुर्मीते में 8 से 14 वर्ष आयु वर्ग के लगभग 100 बालक बालिका खिलाड़ी शामिल रहे। 16 मई को भिलाई में आयोजित राज्य स्तरीय स्पर्धा के पहले दिन 8 से 14 वर्ष आयु वर्ग के खिलाड़ी भाग लेंगे। 17 मई को स्पर्धा ओपन होगी। 

    ग्यारह साल की उम्र में 17 मैडल
    जिला स्तरीय कराते ट्रायल में 11 वर्षीय आदित्य राठौर शामिल रहे। आदित्य अब तक 17 मैडल हासिल कर चुका है। आदित्य के पिता प्रशांत राठौर ने बताया कि आदित्य कार्टून देखकर बचपन से आजमाइश करता था। उसकी इस प्रतिभा को उसकी मां ने परखा और विरोध के बावजूद उसे कराते की ट्रेनिंग दिलवाई। 7 साल की उम्र से ट्रेनर हर्षा साहू के मार्गदर्शन में कराते सीखते हुए आदित्य नेशनल स्पर्धा में 3 स्वर्ण प्राप्त कर चुका है। इसके अलावा कोलकाता में आयोजित ओपन इंटरनेशनल स्पर्धा के 10 से 11 वर्ष आयु वर्ग में गोल्ड मैडल प्राप्त कर चुका है। अब तक उसने विविध स्पर्धाओं में भाग लेते हुए 17 मैडल हासिल कर चुके हैं। 

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 15 मई। सोशल मीडिया में दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की नकली-अभद्र फोटो पोस्ट करने के मामले में कांग्रेस की वरिष्ठ नेता डॉ. किरणमयी नायक ने पंडरी थाने में शिकायत की है। उन्होंने फोटो पोस्ट करने वाले भाजयुमो कार्यकर्ताओं के खिलाफ अपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग की है। 

    पंडरी थाने में लिखित शिकायत में डॉ. किरणमयी नायक ने बताया कि फेसबुक पर भाजपा के कुछ सदस्यों द्वारा दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के संबंध में अत्यंत अश्लील लेख और हरकत करते नकली फोटो बनाकर प्रचारित किया जा रहा है। 
    उन्होंने कहा कि यह पोस्ट दिवंगत प्रधानमंत्री का अपमान करती है और देश की महान नेता की मानहानि भी करती है। यह पोस्ट कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के परिवार को बदनाम करने की नियत से जारी की गई है। यह पोस्ट अमोल द्विवेदी, शिशिर गुप्ता और अन्य द्वारा सुनियोजित  षडय़ंत्र के तहत फेसबुक में आमजन को जानबूझकर परोसा गया है। 

    श्रीमती नायक ने यह भी कहा कि इससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं और देश के नागरिकों में आक्रोश है। इसकी गंभीर प्रतिक्रियाएं आमजन में हो रही है। कहीं न कहीं समस्त कार्रवाई जानबूझकर आमजनता और राजनीतिक दलों के बीच वैमनस्यपूर्ण तरीके से दंगा भड़काने और नागरिकों के प्रति अपमानजनक कार्य करने के लिए भाजपा के लोगों द्वारा किया गया है। उन्होंने इन तीनों के खिलाफ अपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग की है। शिकायतकर्ताओं में प्रवक्ता विकास तिवारी और आईटी सेल के प्रमुख जयवर्धन बिस्सा भी थे। 

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • हॉकी में महाराष्ट्र ने 5-1 से कर्नाटक को शिकस्त दी 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 15 मई।
    9वीं राष्ट्रीय हॉकी इंडिया सब जूनियर हॉकी चैंपियनशिप के तहत अंतरराष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम में बुधवार को खेले गए हॉकी मुकाबलों में नामधारी इलेवन ने 4-2 से तमिलनाडू को, महाराष्ट्र ने 5-1 से कर्नाटक को शिकस्त दी। अन्य मैच में साईने 3-2 से गंगपुर ओडिशा को पराजित किया। 

    9वीं राष्ट्रीय हॉकी इंडिया सब जूनियर हॉकी चैंपियनशिप के तहत अंतरराष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम में बुधवार को नामधारी इलेवन और तमिलनाडू के बीच पहला मुकाबला हुआ, जिसमें नामधारी इलेवन, 4-2 से विजेता रही। नामधारी इलेवन के हरदीप सिंह ने 5वें मिनट में पहला गोल दागा इसके बाद 40वें मिनट और 47वें मिनट पर अनिल ने तथा 58वें मिनट पर आकाश दीप सिंह ने चौथा गोल दाग कर टीम को विजयी बनाया। तमिलनाडू की ओर से 44वें मिनट पर सतीश बी ने तथा 54वें मिनट पर सुंदरम अलागु एम ने गोल दागा।

    दूसरा मैच कर्नाटक और महाराष्ट्र के बीच खेला गया, जिसमें महाराष्ट्र ने कर्नाटक को 5-1 से करारी शिकस्त दी। 
    महाराष्ट्र की ओर से जाधव धैर्यशील ने 9वें, 15वें, 20वें और 32वें मिनट पर शानदार गोल दाग कर टीम को बढ़त दिलाई। 53वें मिनट पर दुर्गा तुषार ने विजयी गोल दागा। प्रतिद्वंदी कर्नाटक टीम के गणेश ने 38वें मिनट पर इकलौता गोल दागा। 
    तीसरा मुकाबला गंगपुर ओडिशा और साई के बीच खेला गया। जिसमें साई 3-2 से प्रतिद्वंदी टीम को शिकस्त दी। स्पोर्टस ऑथौैरिटी ऑफ इंडिया की ओर से सौरेंग आकाश ने 13वें और 20वें मिनट पर  गोल दागा और महतो सुरेश ने 48वें मिनट पर मैदानी गोल दागा। गंगपुर ओडिशा की ओर से 26वें मिनट पर रंजीत लकड़ा और 28वें मिनट पर सुमित गोल दागने में सफल रहे। 

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • चित्रकला स्पर्धा विजेता पुरूस्कृत 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 15 मई।
    गुढिय़ारी स्थित डी पी आर्ट होम में विगत दिवस चित्रकला एवं रंग भरों प्रतियोगिता आयोजित की गई। तीन वर्गों में मां विषय पर केंद्रित प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने मां से जुड़ी अनुभूतियों को कैनवास पर उतारा। पेंटिंग के माध्यम से एक ओर जहां मां की महिमा को प्रतिभागियों ने उकेरा वहीं मां के रूप में प्रकृति का सुंदर चित्रण किया है। स्पर्धा के विजेताओं को पुरूस्कृत किया गया। अ वर्ग में आयोजित स्पर्धा में प्रीतम विश्वास प्रथम, श्यामल द्वितीय तथा भार्गवी पाध्ये तृतीय रहीं। ब वर्ग में अनबरशु प्रथम, स्निग्धा द्वितीय तथा अनन्या तृतीय रही। स वर्ग में स्वर्णा डीह गढ़पाल, साक्षी, स्वेच्छा क्रमश: प्रथम, द्वितीय तृतीय रहे। विशेष प्रोत्साहन पुरस्कार शौर्या, मयूरी, तपस्या, तन्मय, विवान, हेतल, प्रियांवदा आदि को दिया गया।   

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • आदिम जाति विकास विभाग के सचिव ने छात्रावासों का किया औचक निरीक्षण 

    रायपुर, 15 मई। आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास विभाग के सचिव डी.डी. सिंह ने गत दिवस विभाग द्वारा रायपुर में संचालित छात्रावासों का औचक निरीक्षण कर वहां की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। 

    श्री सिंह ने पेंशनबाड़ा में स्थित पोस्ट मैट्रिक अनुसूचित जाति बालक छात्रावास, प्री. मैट्रिक अनुसूचित जाति बालक छात्रावास, प्री मैट्रिक अनुसूचित जनजाति बालक छात्रावास, कालीबाड़ी में स्थित पोस्ट मैट्रिक अनुसूचित जाति-जनजाति कन्या छात्रावास, पं. रविशंकर विश्वविद्यालय परिसर डंगनिया स्थित नवीन पोस्ट मैट्रिक अनुसूचित जनजाति बालक छात्रावास, पोस्ट मैट्रिक अनुसूचित जनजाति बालक छात्रावास और युवा कैरियर छात्रावास का आकस्मिक निरीक्षण किया। 
    निरीक्षण के दौरान उन्होंने छात्र-छात्राओं से आवासीय सुविधा के संबंध में चर्चा की। उन्होंने छात्र-छात्राओं से संबंधित समस्याओं को समय-सीमा में पूर्ण करने के निर्देश छात्रावास के अधीक्षक और अधीक्षिकाओं को दिए साथ ही संस्था में निवास  नही करने वालों पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश सहायक आयुक्त के.आर. परस्ते को दिए। 
    सचिव श्री सिंह ने शहर में संचालित सभी छात्रावासों की व्यवस्था आगामी शिक्षा सत्र प्रारम्भ होने के पूर्व अनिवार्यत: पूर्ण करने के निर्र्देश संबंधित अधिकारियों को दिये है।

     

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • प्रदेश के 28 मॉडल शहर बनेंगे, अधोसंरचना पर्यावरण सुधार योजना 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 15 मई। प्रदेश की 28 शहरों मॉडल शहर के रूप में विकसित  करने की योजना है। इन शहरों में मॉडल शहरों के अनुरूप पर्यावरण संरक्षण के साथ-साथ अधोसंरचना विकसित करने के लिए दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। 

    प्रदेश के सभी संभागों में 15 हजार से अधिक आबादी वाले कस्बे अब शहर का रूप ले रहे हैं। यहां आबादी तेजी से बढ़ रही है। इन सबको देखकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के पारित आदेश पर राज्य स्तरीय माॉनिटरिंग कमेटी की बैठक में 28 शहर चिन्हित किए हैं और उन्हें मॉडल शहर के रूप में विकसित करने के लिए नगरीय प्रशासन विभाग को पत्र जारी किया गया है। 
    बताया गया कि इन शहरों में पर्यावरण के सुधार के लिए प्लांटेशन के साथ-साथ सडक़, बिजली, पानी और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं। इन शहरों में वर्तमान में ज्यादातर जगहों पर अधोसंरचना की दिशा में काम करने की काफी जरूरत बताई गई है। अभी भी यहां कस्बों के अनुरूप छोटी सडक़ें हैं, जबकि आबादी काफी बढ़ चुकी है और यातायात के दबाव को देखते हुए सडक़ चौड़ीकरण आदि का काम तेजी से करने की जरूरत है। 

    पर्यावरण सुधार के लिए भी इन शहरों में कोई काम नहीं हुआ है। जबकि आने वाले दिनों में आबादी बढऩे के साथ-साथ प्रदूषण की समस्या बढ़ सकती है। नगरीय प्रशासन संचानालाय को तत्काल पर्यावरण संरक्षण मंडल के साथ मिलकर यहां पर्यावरण सुधार के लिए कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। जिन शहरों को मॉडल शहर के रूप में विकसित करने की योजना बनाई गई है, उनमें गोबरा नवापारा, आरंग, धमतरी, कसडोल, बागबाहरा, छुरा, साजा, कवर्धा, दुर्ग, बालोद, राजनांदगांव, दीपका, सिरगिट्टी, किरोड़ीमलनगर, अकलतरा, मुंगेली, अंबिकापुर, राजपुर, जशपुरनगर, विश्रामपुर, चिरमिरी, नारायणपुर, बस्तर, कोंटा, बीजापुर, गिदम, चारामा और फरसगांव हैं। 

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • अवैध रूप से आने वाले तेन्दूपत्ता पर कड़ी निगरानी रखने के निर्देश  

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 15 मई। प्रदेश के वनांचल क्षेत्रों में तेन्दूपत्ता संग्रहण कार्य तेजी से चल रहा है। चालू सीजन में 16 लाख 71 हजार मानक बोरा संग्रहण के लक्ष्य के विरूद्ध अब तक 7 लाख 42 हजार मानक बोरा तेन्दूपत्तें का संग्रहण किया जा चुका है। अपर मुख्य सचिव वन, सी.के. खेतान ने संग्रहण कार्य की समीक्षा के दौरान वन अधिकारियों को संग्रहण कार्य की सतत् मॉनिटरिंग और पारिश्रमिक भुगतान समय पर करने के निर्देश दिए।          

    अपर मुख्य सचिव वन ने अधिकारियों से कहा कि पड़ोसी राज्यों से अवैध रूप से तेन्दूपत्ता आवक की संभावना को देखते हुए कड़ी निगरानी रखी जाए। बैठक में प्रधान मुख्य वन संरक्षक ने बताया कि तेन्दूपत्ता संग्र्रहण के चालू सीजन में संग्राहक परिवारों को कुल 700 करोड़ रूपए का पारिश्रमिक भुगतान किया जाना है। इसके लिए धनराशि की व्यवस्था कर ली गई है। 

    उन्होंने बताया कि तेन्दूपत्ता संग्राहक परिवारों को 375 करोड़ रूपए की राशि भुगतान के लिए जिला यूनियनों को भेजी गई है। यह राशि समितियों में भुगतान के लिए स्थानांतरित कर दी गई है। दंतेवाड़ा, दक्षिण कोण्डागांव, केशकाल एवं नारायणपुर जिला यूनियनों में शत्-प्रतिशत संगहण लक्ष्य पूर्ण कर लिया गया है। इसके अलावा बस्तर में लक्ष्य का 75 प्रतिशत, गरियाबंद 78 प्रतिशत और बीजापुर जिले में 70 प्रतिशत संग्रहण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। संग्रहण कार्य आगामी 15 से 20 दिनों के भीतर पूर्ण कर लिया जाएगा।

     

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • रबी धान की कटाई शुरू मंडियों में आवक भी 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

     रायपुर, 15 मई। प्रदेश में रबी धान की कटाई शुरू हो गई है और कई किसान मंडियों तक भी उसे बेचने के लिए पहुंच रहे हैं। रायपुर मंडी में करीब हफ्तेभर से रबी धान की आवक जारी है। इसी तरह भाटापारा, कुरूद, धमतरी, बालोद, दुर्ग समेत अन्य कृषि उपज मंडियों में भी धान की आवक शुरू हो गई है। कृषि व मंडी अधिकारियों का कहना है कि जहां-जहां बोर की सुविधा है, वहां-वहां से धान बिक्री के लिए मंडियों तक पहुंच रहा है। नहरों से सिंचाई वाले धान की आवक कुछ दिनों बाद शुरू होगी। 

    प्रदेश में करीब 18 लाख हेक्टेयर में रबी धान की बुवाई की गई है।  इसमें नदी, नालों या बंधान क्षेत्र के आसपास के खेतों में सिंचाई बोर से की गई थी। वहां कम अवधि वाले धान लगाए गए थे, जो अब पक कर तैयार है और कहीं-कहीं पर उसकी कटाई भी शुरू हो गई है। आने वाले पखवाड़े भर में नहर सिंचाई साधन वाले धान की कटाई भी शुरू हो जाएगी। दूसरी ओर जो किसान धान की कटाई कर रहे हैं, वे अपना कुछ धान बिक्री के लिए मंडियों तक भी ले जा रहे हैं। फिलहाल मंडियों में एक हजार दस, महामाया व कम अवधि वाले अन्य धान की आवक जारी है। 

    बताया गया कि रायपुर मंडी में कल करीब एक हजार क्विंटल नए धान की आवक रही। इसमें एक हजार दस, महामाया, सरना शामिल हैं। मंडी अधिकारियों के मुताबिक धान की आवक आने वाले दिनों में और बढ़ेगी। उनका यह भी कहना है कि नए धान को समर्थन मूल्य के बराबर कीमत नहीं मिल रहा है। किसान उसे 14 सौ से साढ़े 14 सौ क्विंटल की दर पर बेच रहे हैं। साथ ही पुराने धान की आवक भी जारी है। 

    कृषि अधिकारियों का कहना है कि अंधड़-बारिश के बाद भी रबी  धान फसल ठीक रही और उन्हें अच्छी पैदावार की उम्मीद है। 

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • सीसीटीएनएस योजना के तहत बेहतरीन कार्य करने वाले आरक्षक हुए सम्मानित

    रायपुर, 15 मई। पुलिस महानिदेशक डी.एम. अवस्थी ने पुलिस मुख्यालय में सीसीटीएनएस (क्राइम और क्रिमिनल ट्रेकिंग नेटवर्क और सिस्टम) योजना की समीक्षा की। उन्होंने बैठक कहा कि सीसीटीएनएस एक महत्वाकांक्षी एवं उपयोगी योजना हैं, जिसका उद्देश्य विभिन्न स्तर पर डाटा शेयर करना एवं पुलिस के कार्यो के प्रति पारदर्शिता रखा जाना है। इसके सफल क्रियान्वयन के लिए यह आवश्यक है कि जिलों के वरिष्ठ अधिकारी इस योजना से रूचि लेकर जुड़े एवं अपराध नियंत्रण के लिए इसका अधिकाधिक उपयोग करें। 

    बैठक में सीसीटीएनएस के बेहतर क्रियान्वयन एवं उपयोग करने के लिए जिला रायपुर के माना थाना आरक्षक सुरेन्द्र निषाद को दुर्ग से गुम बालिका को योजना के माध्यम से उसके परिजनों से मिलाने, अज्ञात शव का मिलान करने एवं अन्य अपराधों की निराकरण के लिए तथा जिला महासमुंद थाना बसना के आरक्षक हरिशंकर साहू को राजस्थान से गुम बालिका की सीसीटीएनएस की मदद से पतासाजी करने के लिए इन्द्रधनुष योजना के अन्तर्गत प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया। 

    विशेष महानिदेशक एवं नोडल अधिकारी सीसीटीएनएस आर. के. विज ने कहा कि इन मॉडयूल एवं मोबाइल एप्लीकेशन की जानकारी देते हुए इसका समुचित लाभ लिए जाने पर बल दिए एवं इन सुविधाओं की जानकारी से आम नागरिकों को अवगत कराने को कहा। एफआईआर से चार्जशीट तक की जानकारी प्रार्थी को अवगत करवाने के लिए पुलिस मुख्यालय द्वारा एसएमएस की सुविधा उपलब्ध करायी गई है, जिसका समुचित लाभ नागरिकों को मिलना चाहिए।

    बैठक में सहायक पुलिस महानिरीक्षक प्रशांत अग्रवाल द्वारा अपराधिक प्रकरणों के निराकरण, गुम इंसान एवं फरार आरोपियों की पतासाजी, गुम इंसान एवं अज्ञात मर्ग मिलान, गुम-जप्त व लावारिस वाहनों की पतासाजी आदि कार्यो के लिये सीसीटीएनएस डेटाबेस का एवं आईसीजेएस पोर्टल का अधिक से अधिक उपयोग करने के लिए निर्देशित किया। इस अवसर पर सत्यप्रकाश उपाध्याय, सिस्टम इंटीग्रेटर, टीसीएस टीम सहित समस्त जिलों के 60 से अधिक सीसीटीएनएस प्रभारी एवं शाखा प्रभारी उपस्थित थे।

     

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • मतगणना के संबंध में राजनीतिक दलों व अभ्यर्थियों की बैठक 16 को

    रायपुर, 15 मई। लोकसभा चुनाव के अंतर्गत लोकसभा क्षेत्र क्र. 08 रायपुर के विधानसभा क्षेत्र 47-धरसींवा, 48-रायपुर ग्रामीण, 49-रायपुर नगर पश्चिम, 50-रायपुर नगर उत्तर, 51-रायपुर नगर दक्षिण, 52-आरंग और 53-अभनपुर की मतगणना 23 मई को शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज, ई-ब्लॉक सेजबहार रायपुर में की जाएगी। 

    मतगणना व्यवस्था के संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. बसवराजु एस. द्वारा 16 मई को सायं 5 बजे सभी राजनीतिक दलों एवं अभ्यर्थियों हेतु कलेक्टोरेट परिसर स्थित रेडक्रास सभाकक्ष में बैठक आयोजित की गई है। बैठक में सर्वसंबंधितों से उपस्थित होने का आग्रह किया गया है। 

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • रोनु मजूमदार की राग वागेश्री की सुर लहरियों से दर्शक हुए सम्मोहित 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 15 मई। गुनरस पिया फाउंडेशन एवं पं. गुणवंत व्यास स्मृति संस्थान द्वारा विगत दिवस आयोजित वेणु विन्यास में प्रख्यात बांसुरीवादक रोनु मजूमदार द्वारा बांसुरीवादन की सुमधुर प्रस्तुति दी गई। इसके साथ आयोजित कार्यशाला में उन्होंने सुगम गायिकी और बांसुरीवादन की जानकारी दी। 

    शहीद स्मारक में विगत दिवस आयोजित वेणु विन्यास में पं. रोनु मजूमदार ने राग वागेश्री की सुरीली प्रस्तुति से दर्शकों को मंत्र मुग्ध कर दिया। इस अवसर पर उन्होंने गुणवंत व्यास की रची धुने भी बजाई। तबले पर उनके साथ प्रसिद्ध तबलावादक अजीत पाठक ने संगत की। कार्यक्रम में रोनु मजूमदार के सुपुत्र सिद्धांत एवं ऋषिकेश मजूमदार सहयोगी वादक के रूप में शामिल रहे। कार्यक्रम की अगली कड़ी में 12 मई को आनंद समाज वाचनालय सभागृह कंकालीपारा में आयोजित कार्यशाला में पं. रोनु मजूमदार ने शास्त्रीय, उपशास्त्रीय एवं सुगम गायकों एवं बांसुरीवादकों को बेहतर कलाकार बनने, मंच प्रदर्शन, बांसुरी का रियाज, माइक्रोफोन का उपयोग, बांसुरीवादन में श्वास की भूमिका, बांसुरी पर राग अभ्यास की विस्तृत जानकारी दी। 

    इस अवसर पर गुणवंत व्यास स्मृति संस्थान के सदस्यों द्वारा पं. व्यास द्वारा स्वरबद्ध बंदिशो की प्रस्तुति दी गई। प्रस्तुति में दीपक व्यास, प्रज्ञा त्रिवेदी के अलावा बाल कलाकार दिव्यांश व्यास, निरझर चांडक सहित अन्य कलाकार शामिल रहे। इस अवसर पर व्यास स्मृति संस्थान द्वारा छग की कल्पना मानोरकर को सम्मानित किया गया। 

     

  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • छोटे से गांव लोहदा की तस्वीरें करती है कहानी बयां 
     
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
     
    रायपुर, 15 मई। छत्तीसगढ़ के गांवों में ‘नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी’ के संरक्षण-संवर्धन के कार्यों ने अब मूर्त रूप लेना शुरू कर दिया है। मुंगेली जिले के पथरिया विकासखंड के सांवा ग्राम पंचायत के एक छोटे से आश्रित गांव लोहदा की तस्वीरें इसकी कहानी बयां करती है। 
     
    लोहदा गांव में पांच एकड़ के पुराने गौठान को ‘गरूवा’ कार्यक्रम के तहत नए ढंग से विकसित किया गया है। यहां बनाए गए नये गौठान में करीब पांच सौ गौवंशीय और भैंसवंशीय मवेशी रोज आ रहे हैं। पशुओं के ‘डे-केयर सेंटर’ के रूप में यहां तमाम व्यवस्थाएं तैयार कर ली गई हैं।
     
    फेंसिंग, चारा, पानी, पशुओं के आराम करने की जगह और छाया के इंतजाम के साथ ही पशुओं के टीकाकरण तथा अन्य स्वास्थ्यगत देखभाल भी की जा रही है। पशुओं के गोबर और चारे के अवशेष से कम्पोस्ट खाद बनाने का काम भी गौठान में किया जा रहा है। जलापूर्ति के लिए गोठान में सोलर पंप लगाया गया है। वर्तमान में गांव के तीन चरवाहे इस गौठान की व्यवस्था संभाल रहे हैं। इस गौठान के नजदीक ही 12 एकड़ में चारागाह विकास का काम भी जल्द ही शुरू हो गया है।
     
  •  

Posted Date : 15-May-2019
  • आरोपी हिरासत में, पूछताछ जारी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 15 मई।
    राजस्व विभाग में पटवारी व चपरासी की नौकरी दिलाने के नाम पर देवर तिल्दा(खरोरा)के 4 बेरोजगार युवाओं से करीब 10 लाख की ठगी कर ली गई। पुलिस ने आरोपी युवक को हिरासत में ले लिया है, पूछताछ जारी है। 

    पुलिस के मुताबिक देवर तिल्दा के 4 युवा योगेश साहू, उसकी बहन, हुलात साहू व उसका साथी 3 साल पहले पढ़-लिखकर गांव में बेरोजगार बैठे थे। तभी योगेश की मुलाकात तिल्दा नेवरा के कृष्णकुमार वर्मा(42)से हुई। कृष्णकुमार ने उसे और उसकी बहन को राजस्व विभाग में पटवारी की नौकरी दिलाने की बात कही। इतना ही नहीं, गांव के दो युवा हुलात  व उसके साथी को वहीं चपरासी की नौकरी लगाने पर भी जोर दिया। इसके बाद उन चारों से किस्तों में करीब 10 लाख रुपये वसूल लिया, लेकिन अंत तक उन सभी की नौकरी नहीं लगी।  

    पुलिस का कहना है कि शिकायत के मुताबिक 3 साल में योगेश से 5 लाख 90 हजार रुपये एवं हुलात व उसके साथी से क्रमश: 2 लाख व 2 लाख एक हजार रुपये वसूल किया गया था। अलग-अलग समय में रकम लेने के बाद आरोपी उन चारों को नौकरी लगाने का झांसा देता रहा। 3 साल बाद भी नौकरी न लगने पर उन चारों ने धोखाधड़ी की शिकायत नेवरा पुलिस में दर्ज करायी। पुलिस मामला दर्ज कर आरोपी से पूछताछ कर रही है। नौकरी के नाम पर वसूली की फिलहाल चार युवाओं की शिकायत है। और भी शिकायत आने पर आरोपी के खिलाफ आगे कार्रवाई की जाएगी। 

     

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • करीब 37 हजार परीक्षार्थी होंगे शामिल 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 मई।
    प्रदेश में स्थगित इंजीनियरिंग, फार्मेसी प्रवेश परीक्षा अब 16 मई को हो रही है, लेकिन एडमिट कार्ड डाउनलोड न होने की शिकायत बनी रही। ऐसे में व्यापमं ने एडमिट कार्ड डाउनलोड करने की तारीख दो दिन और बढ़ाते हुए 15 मई तक कर दी है। परीक्षार्थी परीक्षा के एक दिन पहले तक अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं। 

     छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मण्डल द्वारा 16 मई को दो पालियों में पीईटी एवं पीपीएचटी परीक्षाओं का आयोजन किया गया है। इन परीक्षाओं के लिए अभ्यर्थी अपने संशोधित प्रवेश पत्र 15 मई की सुबह 9 बजे तक व्यापमं की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं। दोनों परीक्षाओं में करीब 18-18 हजार परीक्षार्थी शामिल हो रहे हंै। पहले यह परीक्षा दो मई को रखी गई थी और एडमिट कार्ड डाउनलोड करने की अंतिम तारीख 30 अपै्रल तय की गई थी, लेकिन चिप्स का सर्वर खराब होने के कारण हजारों परीक्षार्थी अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड नहीं करा पाए थे। 

    परीक्षा तारीख आगे बढ़ाने के बाद एडमिट कार्ड 6 मई से 12 मई तक डाउनलोड करने की सुविधा दी गई थी, पर इस समय भी सर्वर डाउन की समस्या बनी रही और सैकड़ों परीक्षार्थी अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड नहीं कर पाए। कई परीक्षार्थियोंं द्वारा फोन से व्यापमं के हेल्पडेस्क पर एवं व्यक्तिगत रूप से जानकारी दी जाती रही थी वे अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड नहीं कर पाएं हैं। 

     

  •