छत्तीसगढ़ » दुर्ग

27-May-2020

शिव मानवाधिकार प्रदेशाध्यक्ष, तरुण कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भिलाई नगर, 27 मई।
हिन्द सेना समाजसेवी संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष मंगेश वैद्य साहू ने मुख्य संस्थापक सदस्य राजेश मिश्रा को युवा ब्रिगेड राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रभारी मध्यप्रदेश और राजस्थान, आदिवासी समाज के नेता विष्णु देव सिंह को आदिवासी सेना का प्रदेश अध्यक्ष, अधिवक्ता शिवकुमार बघेल को मानवाधिकार सेल का प्रदेश अध्यक्ष, तरुण नाथ योगी को कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष, पूर्व पार्षद लक्ष्मी चौहान को प्रदेश प्रतिनिधि, रूपेंद्र कोर्राम एवं इंद्रेश घनघोरकर को प्रदेश महामंत्री, जगन्नाथ राव, उमेश देवांगन, इंद्रजीत यादव को दुर्ग जिला महामंत्री पद पर नियुक्त किया है। 

श्री वैद्य ने पदाधिकारियों को देशहित में समाजसेवा के क्षेत्र में अग्रसर रहने के निर्देश दिए। पदाधिकारियों ने नियुक्ति के लिए अध्यक्ष मंगेश वैद्य साहू, राष्ट्रीय संयोजक अधिवक्ता उच्च न्यायालय ज्ञान प्रकाश दांडेकर, राष्ट्रीय संयोजक पूर्व न्यायाधीश रविशंकर साय का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हिन्द सेना सामाजिक क्रांति की मशाल से मानव एकता की मिसाल कायम कर देश के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचने कटिबद्ध है। 

नवनियुक्त पदाधिकारियों को राष्ट्रीय पदाधिकारी लक्ष्मण सिंह, योगेश वैद्य, गुरदीप सिंह भाटिया, प्रीतम सिंह, मनीष सेन, भास्कर येवले, डॉ.एसके साहू, डॉ. सुनील जैन, डॉ.राहुल पांडेय, संतोष महानंद, दिनेश राय, ए खान, उषा विश्वकर्मा, प्रदेशाध्यक्ष अधिवक्ता नितिन ठक्कर, कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष तरुण योगी, अधिवक्ता रूबी नाज़ खान, महिला ब्रिगेड प्रदेशाध्यक्ष अधिवक्ता आयशा कुरैशी, युवा ब्रिगेड प्रदेशाध्यक्ष वीर बहादुर थापा, कार्यकारी  प्रदेशाध्यक्ष हर्ष रामटेके, छात्र ब्रिगेड प्रदेशाध्यक्ष दक्ष वैद्य साहू, प्रदेश उपाध्यक्ष गोविन्द  यादव, महेश वर्मा, लक्ष्मीनारायण जैन, प्रदेश महामंत्री जसप्रीत कौर,  सहित हिन्द सेना के कार्यकर्ताओ ने बधाई दी है।
 


27-May-2020

दुर्ग, नांदगांव, कवर्धा, बेमेतरा, बालोद के मजदूर पहुंचे
क्वॉरंटीन सेंटरों में बस से पहुंचाया 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
दुर्ग, 27 मई।
प्रवासी मजदूरों को लेकर प्रतिदिन श्रमिक स्पेशल ट्रेनें दुर्ग पहुंच रही हंै। कुछ ही ट्रेनों को छोडक़र ज्यादातर ट्रेनें घंटों देरी से चल रही हैं। मंगलवार को त्रिवेन्द्रम से बिलासपुर जाने वाली तथा दरभंगा से दुर्ग आने वाली ट्रेनें स्टेशन पर पहुंची। इन दोनों स्पेशल ट्रेन से कुल 153 श्रमिक व अन्य लोग दुर्ग पहुंचे। ये सभी लोग दुर्ग सहित अन्य जिलों के ग्रामवासी होने के कारण गृहग्राम में बनाए गए क्वॉरंटीन सेंटरों में बस द्वारा पहुंचाया गया। सुबह से ही जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग की टीम, आरपीएफ  व जीआरपी के जवान स्टेशन पर मौजूद थे।

प्रवासी श्रमिकों को दूसरे प्रदेश से लेकर छत्तीसगढ़ में लाने का कार्य तेजी  से हो रहा है। स्पेशल ट्रेनों में फंसे श्रमिकों व अन्य लोगों की वापसी हो रही है। मंगलवार को सुबह 4.50 बजे त्रिवेन्द्रम से बिलासपुर जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन दुर्ग पहुंची। इस ट्रेन से उतरने वाले लोगों को डिस्टेंसिंग रखकर एवं हाथ साफ  करवाकर उनकी स्वास्थ्य विभाग द्वारा मुख्य गेट पर प्रभारी डॉ. अनिल शुक्ला के नेतृत्व में तैनात टीम द्वारा थर्मल स्क्रीनिंग की गई।

इस ट्रेन से कुल 83 लोग पहुंचे। इसमें दुर्ग जिले के 2 श्रमिक व 15 अन्य लोग, बालोद के 5 श्रमिक व 3 अन्य, कवर्धा जिले के 5 श्रमिक, राजनांदगांव के 50 श्रमिक व 1 अन्य, बेमेतरा के 1 श्रमिक व 1 अन्य लोग आए थे। इसी तरह ट्रेन क्रमांक 05514 दरभंगा से दुर्ग आने वाली श्रमिक दुर्ग सुबह 7.10 बजे स्टेशन पर पहुंची. इसमें दुर्ग जिले के 22 श्रमिक, 19 अन्य लोग, बालोद के 10 श्रमिक 4 अन्य, कवर्धा जिला के 3 श्रमिक 3 अन्य, राजनांदगांव के 7 श्रमिक व 2 अन्य लोग पहुंचे। 

डॉ. अनिल शुक्ला ने बताया कि ट्रेन से आए सभी लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया है और कोई भी संभावित मरीज नहीं मिला है। सभी लोगों के लिए जिला प्रशासन द्वारा बसों एवं भोजन की व्यवस्था की गई थी। जांच के बाद बस द्वारा उनके गृहग्राम में बने क्वॉरंटीन  सेंटरों में भेज दिया गया है।
 


27-May-2020

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भिलाई नगर, 27 मई।
नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र अंतर्गत स्व सहायता समूह की महिलाएं जरूरतमंदों की मदद के लिए हर कार्य में बढ़-चढक़र हिस्सा ले रही हैं और प्रवासी मजदूरों तक खाना व सूखा नाश्ता पहुंचाने का कार्य कर रही है। 

निगम के सहायक परियोजना अधिकारी फणींद्र बोस ने बताया कि ओम साईं राम एरिया लेवल फेडरेशन खुर्सीपार की महिलाएं आपस में पैसा एकत्रित कर उन पैसों से खाद्य सामग्री खरीद कर मजदूरों के लिए भोजन/सूखा नाश्ता तैयार कर रही हैं और स्वयं पहुंचकर ऐसे लोगों को भोजन व नाश्ता का पैकेट वितरण कर रही हैं। इस कार्य में ओम साईं राम की महिला सदस्य जानकी, सत्यवती, गौरी, कलावती, यशोदा, सरोजिनी, मंजू, सावित्री एवं पार्वती अपनी जिम्मेदारी निभा रही हैं। 

समूह की महिलाओं ने बताया कि लगातार तीन-चार दिनों से प्रवासी मजदूरों को भोजन पैकेट वितरण करने का वो कार्य कर रही हैं। इस संगठन में खुर्सीपार की 15 महिलाएं सम्मिलित हैं, इनमें 2 हजार महिला सदस्य हैं, जिनके द्वारा आपस में पैसा एकत्रित कर भोजन व नाश्ता तैयार किया जाता है। संगठन की ललिता सिंह ने प्रवासी मजदूरों को नेहरू नगर क्षेत्र में आज फल वितरित किया। 

गौरतलब है कि आश्रय स्थल एवं राहत शिविर में ठहरे हुए लोगों के लिए भी स्व सहायता समूह की महिलाओं ने नाश्ता सहित दो समय के लिए भोजन की बेहतर व्यवस्था महापौर एवं निगम आयुक्त के मार्गदर्शन में की थी तथा कुछ महिलाओं ने अपने घर में रहकर मास्क बनाने का भी कार्य किया है। निगम की स्व सहायता समूह की महिलाएं लॉक डाउन में भी जरूरतमंद लोगों की मदद करने पर बढ़-चढक़र हिस्सा ले रही हैं।
 


27-May-2020

रोजगार सहायकों का नहीं हुआ बीमा, नाराजगी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
दुर्ग, 27 मई।
कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच रोजगार सहायकों ने पहले आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिकाओं के साथ घर-घर जाकर सर्वे किया। अब रोजगार सहायक मनरेगा के कार्यों का जमीनी स्तर पर बखूबी संचालन कर रहे हैं, जहां उन्हें मजदूरों के संपर्क में आना पड़ता है। इसके बावजूद भी इन रोजगार सहायकों का बीमा नहीं किया गया है और न ही उनके मानदेय में कोई वृद्धि की गई है। इसे लेकर रोजगार सहायकों में नाराजगी है। उन्होंने बीमा किए जाने की मांग की है।

रोजगार सहायक संघ के प्रांत अध्यक्ष संतोष सोनवानी का कहना है कि मनरेगा योजना लगभग विगत 10-12 साल से चल रही हैं। वर्तमान में अधिकांश काम बंद है, ऐसे समय में लाखों मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराता मनरेगा सभी वर्गों के लिए वरदान साबित हुआ। कोविड-19 (कोरोना) महामारी अभी पूरे विश्व में फैली हुई है। इसके बीच आज रोजगार सहायक पूरी जिम्मेदारी से शासन की इस महत्वकांक्षी योजना का संचालन कर रहे हैं और भविष्य में भी करते रहेंगे, मगर आज विषम परिस्थितियों में भी रोजगार सहायकों की तरफ  शासन ध्यान नहीं दे रही है, न ही उनकी पीड़ा को समझ रहे हैं।  उन्होंने कहा कि ऐसे में हम सब कहां और किसके पास अपनी समस्या को रखें। आज रोजगार सहायक सुरक्षित नहीं है। आये दिन हजारों मजदूरों के सम्पर्क में आने के बाद भी अभी तक उनका न तो बीमा हुआ है और न ही मानदेय की राशि बढ़ाई गई है।  श्री सोनवानी ने बताया कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और मितानिनों के साथ मिलकर हमारे सभी रोजगार सहायक साथियों ने घर-घर जाकर सर्वे कार्य किया था। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और मितानिनों का बीमा हो गया है, सिर्फ  रोजगार सहायकों का बीमा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि शासन के सभी योजनाओं को संचालित करने व मजदूरों को रोजगार प्रदान कर अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे रोजगार सहायकों की जिन्दगी आज दांव पर लगी हुई है, परन्तु अपनी जान की भी परवाह न करते हुए शासन के हर आदेशों का वे पालन कर रहे हैं।

 


27-May-2020

चार साथियों का लिया सैंपल, सभी क्वॉरंटीन
मुंबई से पश्चिम बंगाल जा रहा था

छत्तीसगढ़ संवाददाता
भिलाई नगर, 27 मई।
मृत प्रवासी मजदूर की कल देर रात प्राप्त कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई है। रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही स्वास्थ्य अमला हरकत में आया, उसके चार अन्य साथियों का भी सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है। चारों साथियों को क्वॉरंटीन भी कर दिया गया है।

गौरतलब हो कि ट्रक में लिफ्ट लेकर प्रवासी मजदूर मुंबई से पश्चिम बंगाल जा रहा था। गत 25 मई की शाम को दुर्ग जिले से गुजरते हुए कुम्हारी टोल प्लाजा के पास ट्रक में ही उसकी तबीयत खराब हो गई थी जिसे शासकीय अस्पताल  लाल बहादुर शास्त्री सुपेला लाया गया था, जहां उसकी मौत हो गई थी। दुर्ग में उनका कोरोना सैंपल लिया गया था। कल देर रात प्राप्त रिपोर्ट में पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया। 

जिला स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर ने बताया कि मजदूर के चार अन्य साथियों का भी कोरोना वायरस टेस्ट के लिए सैंपल लिया गया और चारों को ही क्वॉरंटीन में रख दिया गया है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की ओर से अन्य संपर्क में आने वाले कर्मचारियों का भी कोरोना टेस्ट किया जाएगा।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रोहित झा ने बताया कि पुलिस विभाग की ओर से कोई भी कर्मचारी द्वारा मृत मजदूर के साथ किसी भी प्रकार का संपर्क नहीं बना था, इसलिए पुलिस कर्मचारियों का टेस्ट नहीं कराया जा रहा है। मृत मजदूर का अंतिम संस्कार आज किया जाएगा।
 


27-May-2020

दुर्ग, 27 मई। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण दुर्ग द्वारा जिला न्यायालय परिसर में प्रवेश द्वार पर ऑटोमेटिक सेनिटाइजर टर्नल मशीन लगाई गई। इसका उद्घाटन जिला एवं सत्र न्यायाधीश गोविंद कुमार मिश्रा द्वारा किया गया। आटोमेटिक सेनिटाइजर मशीन को मुख्य गेट पर लगाया गया है। जिससे गुजरने वाले न्यायाधीशगण, अधिवक्तागण, कर्मचारी एवं पक्षकारों के सारे अंग पर सेनिटाइजर का छिडक़ाव हो सके। न्यायालय में प्रवेश से पहले ही मशीन से वह व्यक्ति सैनिटाइज हो जाएगा। इस मशीन के उद्घाटन अवसर पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, समस्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश दुर्ग, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण राहुल शर्मा, पैरा मेडिकल वालेंटियर्स, जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष गुलाब सिंह पटेल आदि मौजूद थे।
 


27-May-2020

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
दुर्ग, 27 मई।
महापौर धीरज बकलीवाल द्वारा आज जलगृह विभाग और अमृत मिशन योजना की बैठक लेकर मिशन के सभी कार्यो ंको जल्द पूरा करने कड़े निर्देश दिये। उन्होंने अमृत मिशन के कार्यो में हो रहे विलंब के लिए नाराजगी व्यक्त कर कहा लेबर की कमी और सामान की आपूर्ति एडवांस में रखें । यदि कोई समस्या हो तो मुझे सीधे बतायें। आपकी लापरवाही का खामियाजा आम जनता नहीं भुगतेगी। बैठक में निगम आयुक्त इंद्रजीत बर्मन, संजय कोहले, सुशील बाबर कार्यपालन अभियंता, उपअभिंयंता भीमराव, जलकार्य निरीक्षक नारायण ठाकुर, एवं अमृत मिशन के मनोज सिंग, एवं कपिश व अन्य उपस्थित थे।  

शहर में अमृत मिशन योजना के अंतर्गत पाइप लाइन विस्तार एवं कनेक्शन जोडऩे का कार्य निरंतर किया जा रहा है। परन्तु कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए जारी लॉकडाउन के कारण लेबर नहीं आ पा रहे हैं, जिससे कार्य की प्रगति धीमी हो गई है। इससे आम जनता को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में महापौर श्री बाकलीवाल ने विभागीय अधिकारियों की बैठक लेकर अमृत मिशन के कार्यो की जानकारी ली। उन्होनें खोदे गये गड्डों को जल्द से जल्द समतलीकरण करने तथा लीकेज आदि के कार्य को तत्काल करने निर्देश दिये। उन्होनें जलगृह विभाग और मिशन के अधिकारियों से कार्यो की समस्या की जानकारी ली। विभाग और मिशन के अध्किारियों ने महापौर को बताया कि कोरोना काल के कारण लेबर क्वारेंटाइन में रुके हुये हैं । उन्हें आने की इजाजत नहीं मिल रहा है कार्य को जल्द पूरा करने 100 अधिक लेबर की आवश्यकता है, ताकि कार्य प्रभावित ना हो। उन्होनें बताये अमृत मिशन कार्य के साथ ही पुराना पाइप लाईन लीकेज के कार्य का सामान ना होने से कार्य करने में विलंब हो रहा है। महापौर ने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कार्य ना रुके आने वाले समय में बारिश चालू हो जाएगा काम करने में काफी परेशानी होगी। अत: मिशन का कार्य करने लेबर की आपूर्ति जल्द किया जावे और वे सामान की भी व्यवस्था बना कर रखें। उन्होनें कहा सबसे पहले जहॉ खुदाई की गई है वहॉ पानी डालकर जल्द समतलीकरण करें। इंदिरा मार्केट,हटरी बाजार आदि क्षेत्रों में पाइप लाइन डालकर खुदाई कर छोड़ दिया गया है जिससे आम जनता काफी परेशान है। उन्होनें कहा लेबरों की व्यवस्था जल्द कर पहले बाजार क्षेत्र के गड्डों को भर कर कार्य पूरा करें । उन्होनें कहा अमृत मिशन के कार्यो को पूरा करने जलगृह विभाग और मिशन के अधिकारी आपस में सामान्यजस्य बनाकर रखें । उन्होनें कहा कनेक्शन टूटने पर और लीकेज होने पर तत्काल उसका मरम्मत अवश्य किया जावें। उन्होने कहा जिस वार्ड में कार्य किया जाता है वहॉ के पार्षद और आम नागरिकों से संपर्क बनाकर रखें। 


27-May-2020

ज्ञापन सौंप लगाई गुहार, प्रदर्शन की चेतावनी 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
भिलाई नगर, 27 मई।
रसमड़ा स्थित टॉप वर्थ कम्पनी के मुख्य द्वार पर कल शाम सैकड़ों मजदूरों ने जमकर हंगामा किया। इनका आरोप है कि कम्पनी प्रबंधन ने मार्च में लॉकडाउन के समय प्लांट बंद किया और फरवरी से किसी श्रमिक को वेतन भुगतान नहीं किया। कटौती के बावजूद इनके पीएफ के रूपये जमा नहीं किए गए हैं। अब तक प्लांट बंद रखने और पुराना भुगतान न दिए जाने की वजह से श्रमिकों को भारी आर्थिक दिक्कतों से जूझना पड़ रहा है। आज सुबह श्रमिकों के एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री, गृह मंत्री तथा कलेक्टर को ज्ञापन सौंप जल्द उन्हें राहत दिलाने की गुहार लगाते हुए 1 जून को पुन: प्रदर्शन की चेतावनी दी है। मजदूरों का आरोप है कि बकाया वेतन का लगभग डेढ़ करोड़ रूपये मैनेजमेंट नहीं दे रहा और न ही प्लांट शुरू किया जा रहा है।

गौरतलब हो कि पिछले वित्तीय वर्ष में टॉप वर्थ का काफी बकाया होने की वजह से एक बड़े हिस्से को बैंक द्वारा सील कर दिया गया था। इसके बाद प्रबंधन ने कम्पनी कैम्पस में ही स्पार्टक्स नाम से गुपचुप तरीके से काम चालू रखा। तीन महीने पहले अचानक कैम्पस में जब सीजीएसटी का छापा पड़ा तो स्पार्टक्स का पूरा काम पकड़ में आया था। कम्पनी के एकाउंट हेड गुंजन पोद्दार से टीम ने समस्त दस्तावेज जब्त किए और अग्रिम कार्रवाई लंबित है। 

मजदूरों का नेतृत्व कर रहे कमलेश्वर वर्मा, तेजस्वी सिंह, हरीश राव, रामदास बोपचे, रंजीत सिंह, राकेश गुप्ता, अरुण सिंह, मनोज यादव, जीवन वर्मा ने 'छत्तीसगढ़’ को बताया कि टॉप वर्थ स्टील एंड पॉवर प्राइवेट लिमिटेड और स्पार्टक्स कंपनी के नाम पर काम लेकर मैनेजमेंट ने लगभग ढाई हजार कर्मचारियों के साथ छल किया है। काम कराने के बाद फरवरी से आज तक का वेतन उन्हें नहीं मिला है। जनवरी से रकम की कटौती पश्चात भी पीएफ की राशि जमा नहीं की गई। वेतन मांगने पर प्रबंधन सीधे तौर पर कह रहा कि स्पार्टक्स का काम पकड़े जाने से सारी कमाई बैंक को चली जाएगी, ऐसेे मेंं कोई भुगतान वो नहीं करेंगे। कंपनी को जल्द से जल्द चालू कराने और बकाया भुगतान की मांग को लेकर कल दिन भर टापवर्थ के हजारों मजदूरों ने कंपनी के मुख्य द्वार पर जमकर प्रदर्शन किया। 

प्रदर्शनकारी मजदूरों ने बताया कि टॉप वर्थ स्टील एंड पॉवर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में कार्यरत वे सभी नियमित कर्मचारी हैं, जो लगभग 15 वर्षों से कंपनी में कार्य कर रहे हैं। कंपनी प्रबंधन द्वारा उनसे कार्य करवा लेने के बाद वित्तीय अनियमितता बरतते हुए कभी भी समय पर वेतन का भुगतान नहीं किया गया। वर्तमान परिवेश में भी उनके द्वारा कंपनी में 23 मार्च 2020 तक पूरा कार्य किया गया तथा प्रबंधन द्वारा निर्देशित करने पर अन्य आवश्यक सभी कार्य मजदूरों ने पूरे किए। प्रबंधन ने फरवरी से आज तक का कोई भी वेतन कर्मचारियों को नहीं दिया है। कंपनी को 23 मार्च से बंद रखा गया है तथा शासन द्वारा आदेशित किए जाने पर रसमड़ा के सभी अन्य प्लांट एवं कंपनी में काम चालू किया जा चुका है लेकिन टॉप वर्थ अभी भी कर्मचारियों का न तो बकाया वेतन दे पाई है और न ही पुन: प्लांट में काम चालू करवाया है। 

मजदूरों ने बताया कि 22 मई को 200 से 300 कर्मचारी प्लांट में उपस्थित हुए, वहां उनकी कार्मिक एवं प्रशासनिक अधिकारी कमलेश पवार से चर्चा हुई। श्री पवार ने आईआरपी अधिकारी दुष्यंत दवे एवं प्लांट हेड जय थॉमस व गुंजन पोद्दार से बातचीत कर कंपनी कब चालू करेंगे एवं पूर्व बकाया वेतन कर्मचारियों को कब दिया जाएगा, इस संबंध में जानकारी मांगी तो कंपनी प्रबंधन ने कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं दिया, जिससे कर्मचारियों का आक्रोश बढ़ा और वे उग्र आंदोलन की रणनीति बनाने विवश हैं। 

प्रदर्शनकारियों ने बताया कि कटौती के बावजूद राशि पीएफ ऑफिस रायपुर में जमा नहीं करवाई गई है। कंपनी के कारखाना प्रबंधक जय थॉमस से जानकारी लेने पर उनके द्वारा कर्मचारियों से दुव्र्यवहार किया गया। वर्तमान परिस्थिति में सभी कर्मचारी बेहद आर्थिक परेशानी से जूझ रहे हैं।

श्रमिकों ने आज बकाया भुगतान और काम प्रारंभ कराने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कलेक्टर, लेबर कमिश्नर को ज्ञापन सौंपा है। प्रदर्शनकारी श्रमिकों ने बताया कि चार दिन में शासन-प्रशासन कोई पहल नहीं करता तो भूखमरी के हालात से जूझ रहे श्रमिक 1 जून को कंपनी के मुख्य द्वार पर हड़ताल करने विवश होंगे।


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
भिलाई नगर, 26 मई।
लॉक डाउन में घरों में होम कंपोस्टिंग अपनाकर कई महिलाएं घर पर ही गीले कचरे से बेहतर खाद तैयार कर इसे अपने बगीचे में पौधों की बढ़वार के लिए उपयोग कर रही हैं। निगम भिलाई द्वारा बताया जा रहा है कि सूखा कचरा नीले डिब्बे में एवं गीला कचरा हरे डिब्बे में रखकर डोर टू डोर कचरा कलेक्शन वाले को प्रदाय किया जाना है ताकि सूखा कचरा को पृथक-पृथक करके अन्य माध्यम से निष्पादन किया जा सके तथा गीले कचरे से खाद तैयार कर इसका बेहतर उपयोग किया जा सके। 

निगम के विभिन्न एसएलआरएम सेंटर में यह कार्य किया जा रहा है परंतु यदि गीले कचरे से घर पर ही खाद तैयार होने लगे तो घर के बगीचे आदि के लिए खाद लेने की आवश्यकता ही नहीं पड़ेगी। बहुत से लोगों द्वारा होम कंपोस्टिंग को अपनाया जा रहा है और घर पर ही कंपोस्ट तैयार किया जा रहा है। 

गौरतलब हो कि घरेलू कचरे का निपटान करने के लिए होम कंपोस्ट एक अच्छा माध्यम है, गीले कचरे को कंपोस्ट रूप में परिवर्तित करने के बाद इसका उपयोग  फूल, पौधों, सब्जियों, गमलों मे लगे पौधों आदि के बढ़वार के लिए किया जा सकता है जो कि बहुउपयोगी माध्यम है। होम कंपोस्टिंग घर पर ही किया जा सकता है जिसके लिए विशेष तकनीक की आवश्यकता भी नहीं है। निगम द्वारा होम कंपोस्टिंग को बढ़ावा देने का कार्य किया जा रहा है। 

निगम क्षेत्र के विभिन्न प्रतिष्ठान किचन कंपोस्ट अपनाकर अपने प्रतिष्ठानों में ही खाद तैयार कर रहे हैं। शासकीय कन्या हॉस्टल नेहरू नगर, होटल अल लजीज राधिका नगर, होटल शिवप्रसाद सुपेला चैक, अर्जुन दा ढाबा फरीद नगर, सेंट्रल पार्क होटल, फ्लोरेट होटल, गुल्ली होटल, महालक्ष्मी स्वीट्स, लवली पैलेस, आशीष इंटरनेशनल आदि ने किचन कंपोस्ट अपनाया है। निगम के प्रत्येक जोन में किचन कंपोस्ट की उपलब्धता है। इसके साथ ही भिलाई निगम द्वारा 800 से अधिक घरों में होम कंपोस्ट का पात्र वितरित किया गया है।

 

 


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
भिलाई नगर, 26 मई।
लॉकडाउन में प्रवासी मजदूर जो अपने गांव-घरों की ओर बस, ट्रक या अन्य साधन से रवाना हो रहे हैं, ऐसे मजदूरों को रास्ते में नाश्ता प्रदान कर उन्हें मदद की जा रही है। हाथों को सेनेटाइज करने निगम की ओर से सहायता केन्द्र में आज आधुनिक सैनिटाइजर सिस्टम भी लगाया गया है, ताकि हाथों को स्वच्छ एवं संक्रमण मुक्त रखा जा सके। अपने घरों के लिए निकले प्रवासी मजदूरों के लिए नगर पालिक निगम भिलाई द्वारा श्रमिक सहायता केंद्र बनाया गया है जहां पर ऐसे मजदूर और श्रमिकों के लिए चना, मुर्रा, गुड़ और सूखा नाश्ता, पेयजल व्यवस्था, सत्तु एवं फल आदि का नाश्ता देने के पश्चात ऐसे प्रवासी मजदूरों को थोड़ी देर आराम करने व छांव देने टेंट, कुर्सी की व्यवस्था की गई है ताकि वे कुछ देर विश्राम करके अपने गंतव्य की ओर पुन: रवाना हो सके। 

नेहरू नगर चौक गुरूद्वारा के पास श्रमिक सहायता केंद्र की स्थापना प्रवासी मजदूरों के आवागमन के साथ ही 12 मई से कर दी गई है ताकि अपने घरों की ओर रवाना होने वाले श्रमिकों व मजदूरों को सफर के दौरान राहत प्रदान किया जा सके। सहायता केन्द्र में जरूरतमंदों के लिए बिस्किट, फल, गुड़, पानी बॉटल एवं मिक्सचर इत्यादि खाद्य सामग्रियो को शहर के नागरिक एवं सामाजिक संस्थाए खुलकर दान कर रहे हैं। सहायता केन्द्र के सामने से होकर गुजरने वाले प्रवासी मजदूरों को बुलाकर उनके हाथों को सैनिटाइज कर सूखा नाश्ता चना, मुर्रा, मिक्सचर, फल, सत्तु का पैकेट और पानी पिलाया जा रहा है तथा जिनके पास मास्क नहीं रहता है उन्हें मास्क भी दिया जा रहा है। मजदूरों के बैठने के लिए पर्याप्त मात्रा में कुर्सियों की व्यवस्था की गई है। सहायता केंद्र हाईवे के किनारे बनाया गया है ताकि प्रवासी मजदूरों को राहत दी जा सके।

दानवीर कर रहे हैं मदद ऐसे लोगों की मदद करने दानदाता भी आ रहे हैं। आज सिकोला बस्ती वार्ड 15 के मितानीन महिला एवं आरोग्य समिति के योगेश्वरी देशमुख, लक्ष्मी साहू, रंजीता कुर्रे, पूनम सिरमौर सहित पांच महिलाओं ने सहायता केन्द्र में 100 पैकेट बिस्किट और केला दान किए तथा मजदूरों को नाश्ता प्रदान करने में अपनी सेवाएं भी दिए। सहायता केंद्र की स्थापना होने से प्रवासी मजदूरों को इस केंद्र में राहत मिल रही है।

 

 

 

 

 


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
दुर्ग, 26 मई।
छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड, दुर्ग क्षेत्र के अंतर्गत पाटन सबडिविजन के तहत जांमगांव (टी) वितरण केंद्र के तीन ग्रामों में चार ट्रांसफार्मरों की क्षमता बढ़ाई गई है। लगभग 6 लाख की लागत से संपन्न हुए इस कार्य से किसानों को पर्याप्त वोल्टेज एवं निर्बाध बिजली आपूर्ति की सुविधा के साथ कृषि कार्य करने में आसानी होगी।

 पाटन सबडिविजन के सहायक अभियंता मोहम्मद जलालुद्दीन ने बताया कि ग्राम खुड़मुडी के कन्हैया बाड़ी एवं सावनी रोड में 63-63 केव्हीए के दो ट्रांसफार्मरों की क्षमता बढ़ाकर 100-100 केव्हीए किया गया है। उन्होंने बताया कि कन्हैया बाड़ी में स्थापित ट्रांसफार्मर से 25 एवं सावनी रोड स्थित ट्रांसफार्मर से 23 किसानों के पंप कनेक्शन जोड़े गए हैं। सहायक अभियंता ने बताया कि ग्राम आमापेन्ड्री एवं करगा में 25-25 केव्हीए के दो ट्रांसफार्मरों की क्षमता बढ़ाकर 63-63 केव्हीए किया गया है। जिसमें ग्राम आमापेंड्री में स्थापित ट्रांसफार्मर से 12 एवं ग्राम करगा में स्थापित ट्रांसफार्मर से 9 किसानों के पंप कनेक्शन जोड़े गए हैं। उक्त कार्य संपन्न होने से किसानों में भी हर्ष का माहौल है। उन्होंने राज्य शासन एवं विद्युत विभाग का आभार व्यक्त किया।

 

 

 

 


26-May-2020

दुर्ग, 26 मई। ईद-उल-फितर का त्योहार सोमवार को सादगी और उत्साह के साथ मनाया गया। कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन की स्थिति में ईदगाह में सिर्फ  5 लोगों ने नमाज अदा की। बाकी लोगों ने अपने घरों में नमाज अदा करते हुए राज्य की खुशहाली के लिए अमन चैन की दुआ मांगी। नमाज के बाद लोगों ने एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी।

शहर विधायक अरुण वोरा ने मुसलमान भाइयों समेत सभी शहर वासियों को ईद उल फि तर की मुबारकबाद दी। श्री वोरा केलाबाड़ी व तकियापारा में भी पहुंचे व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए प्रेम व सौहाद्र्र का यह त्यौहार मनाते लोगों से मुलाकात की। रूमी बाबा दरबार मे बाबा का आशीर्वाद ले उन्होंने कांग्रेस नेता अल्ताफ अहमद, हामिद खोखर, अब्दुल गनी को भी घर जाकर ईद की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आपसी प्रेम और भाईचारा दुर्ग शहर की गौरवशाली परंपरा है, जिसे हमें सदैव आगे बढ़ाना है। इस दौरान अजहर जमील, पप्पू श्रीवास्तव मौजूद थे।

 


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

दुर्ग, 26 मई। जिला कांग्रेस कमेटी दुर्ग शहर, ग्रामीण एवं भिलाईनगर द्वारा संयुक्त रूप से कांग्रेस भवन दुर्ग में झीरम श्रद्धांजलि दिवस पर नक्सल हिंसा के शिकार हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं, सुरक्षा बलों के जवानों एवं विगत वर्षों में नक्सल हिंसा के शिकार हुए सभी लोगों को मास्क पहनकर फिजिकल डिस्टेंस का पालन करते हुए दो मिनट की मौन श्रद्धांजलि दी गई। अब हर वर्ष छत्तीसगढ़ सरकार इस दिन को झीरम श्रद्धांजलि दिवस के रूप में मनाएगी।

 शहर विधायक अरुण वोरा ने कहा कि  शहीद विद्याचरण शुक्ल,  नंदकुमार पटेल, महेंद्र कर्मा एवं अन्य सभी नेताओं व सुरक्षा बलों की कुर्बानी व्यर्थ नहीं जाएगी। जिस बहादुरी से उन्होंने नक्सलियों से सामना किया ऐसे शहादत को हम नमन करते है प्रणाम करते है। उनके आदर्शों, विचारों, सिद्धान्तों व संकल्पों के अनुरूप हम शांति, विश्वास व विकास की त्रिवेणी से नवा छत्तीसगढ़ का निर्माण करेंगे। हम उनके शहादत को व्यर्थ नहीं जाने देंगे।

 इस अवसर पर जिला अध्यक्ष तुलसी साहू, गया पटेल, निर्मल कोसरे, पूर्व अध्यक्ष आरएन वर्मा, पूर्व विधायक भजन सिंह निरंकारी, महापौर धीरज बाकलीवाल, सभापति राजेश यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष शालिनी यादव,  प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री राजेन्द्र साहू, रउफ कुरैशी ने अपने शब्दों से शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित किए। कार्यक्रम का संचालन अल्ताफ अहमद और आभार प्रदर्शन नीलेश चौबे ने किया। 

श्रद्धांजलि देने वालों में महिला कांग्रेस ग्रामीण जिला अध्यक्ष  हेमलता साहू, रत्ना नारमदेव, नासिर खोखर, संदीप श्रीवास्तव, वाई के सिंह, पाशी अली, मुकेश चंद्राकर, रिवेंद्र यादव, नंदकुमार सेन, अजय मिश्रा, शिवकांत तिवारी, निखिल खिचरिया, अशोक मेहरा, दान बाई तामस्कर, कृष्णा देवांगन, कुणाल तिवारी, सदा बहार, बृजलाल पटेल, अलख नवरंग, अरुण सिंह, विशाल देशमुख, मोतीलाल वर्मा, अजय शर्मा, सुशील भारद्वाज, विमल यादव आदि शामिल थे।

झीरम के शहीदों को श्रद्धांजलि
 झण्डा चौक बुनकर संघ परिसर संतराबाड़ी में सोशल डिस्टेसिंग को ध्यान में रखते हुए पूर्व महापौर व जिला कांग्रेस कमेटी दुर्ग के पूर्व अध्यक्ष आरएन वर्मा व नगर निगम की पर्यावरण व उद्यानिकी प्रभारी सत्यवती वर्मा सहित कांग्रेसजनों ने झीरम के शहीदों के तैलीय चित्रों पर फूल माला चढ़ाकर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। श्रद्धाजंलि देनेवालों में मुख्य रूप से जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता संदीप श्रीवास्तव, निखिल खिचरिया, राम जोशी, सत्यनारायण सेंगर, विमल यादव, शंकर बंछोर, शंभु यादव, पंचू , शंकर गिरि गोस्वामी, राजू दुबे, संजय यादव, ऐनु नायडू, नीतू बाई, गंगा, नागेश, अन्नू, आशीष, संतोषी, उमेश, मुकेश, संतोष, जयचंद, अंबिका, संजय, नीरू बाई सहित कांग्रेसजन मौजूद थे।

 


26-May-2020

दुर्ग, 26 मई। नगर निगम के पूर्व एल्डरमैन डॉ. प्रतीक उमरे ने प्रदेश के परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर से यात्री बसों का परिचालन शुरू करने की मांग की है। पूर्व एल्डरमैन डॉ. प्रतीक उमरे ने उन्हें बताया कि बहुत से सरकारी कर्मचारी अपने शहर एवं गांवों से दूर अन्य जगहों पर पदस्थ है। यात्री बसों का परिचालन नहीं होने की वजह से उन्हें रोज अपने साधन से आना जाना पड़ रहा है, जिनमें महिला कर्मचारी भी है। इस वजह से दुर्घटनाओं का खतरा बना रहता है तथा बस संचालन व्यवसाय से जुड़े लोग ड्राइवर, कंडक्टर, हेल्पर, मेकैनिक, मुंशी, क्लीनर, प्यून, ऑफिस स्टाफ के पास बसों का परिचालन बंद होने की वजह से कोई काम नहीं है। जिस वजह से इनकी आर्थिक स्थिति भी बेहद कमजोर हो गई है। इन परिवारों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। इसलिए आम जनता एवं बस संचालन से जुड़े परिवारों को राहत देने तत्काल बसों का परिचालन शुरू करने की मांग परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर से की है।

 

 


26-May-2020

दुर्ग, 26 मई। धमधा ब्लॉक के बसनी गांव के क्वॉरंटीन सेंटर की देखभाल करने वाले कर्मचारी के आरटीपीसीआर टेस्ट निगेटिव आने से राहत मिली है। एक दिन पहले उसका ट्रू नॉट टेस्ट पॉजिटिव आया था। फिर आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए सैंपल लिया गया, जिसकी रिपोर्ट सोमवार को मिली। रिपोर्ट में आरटीपीसीआर टेस्ट निगेटिव पाई गई, जिसकी पुष्टि जिले के सीएमएचओ द्वारा की गई। 


26-May-2020

भिलाई नगर, 26 मई। आज दुर्ग सांसद विजय बघेल अपने सेक्टर 5 भिलाई स्थित निवास में बोरिया मार्केट भिलाई के व्यापारियों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं से अवगत हुए। ज्ञात  हो कि सांसद कोरोना वायरस के संकट से निपटने लोगों को लगातार जागरूक कर रहे हैं, साथ ही वे जरूरतमंदों को सूखा अनाज सैनिटाइजर तथा मास्क भी लगातार उपलब्ध करवा रहे हैं। अपने निवास पर समस्या लेकर मुलाकात पर आए लोगों को भी सैनिटाइजर तथा मास्क वितरण कर घर पर स्वस्थ और सुरक्षित रहने की सलाह दे रहे हैं।

 

 

 


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

भिलाई नगर, 26 मई। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते फैली महामारी की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन की स्थिति में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर इस बीमारी को फैलने से रोकने जब देश के समस्त शैक्षणिक, प्रशिक्षण तथा कोचिंग संस्थान बंद हैं, ऐसी परिस्थिति में भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट द्वारा भिलाई के हॉस्पिटल सेक्टर में संचालित भिलाई महिला महाविद्यालय की छात्राएं अपने टीचर्स से ऑनलाइन जुड़कर शिक्षा का लाभ ले रही हैं।

भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिंसिपल डॉ. संध्या मदन मोहन के अनुसार कॉलेज में संचालित यूजी तथा पीजी के साइंस, कॉमर्स तथा होमसाइंस कोर्सेस के स्टूडेंट्स तथा प्रोफेशनल कोर्स बी.एड. की छात्राओं के लिए प्राध्यापकों द्वारा विषयों से संबंधित ई-टीचिंग कराई जा रही है तथा कोर्स सिलेबस पूर्ण कराया जा रहा है। कॉलेज स्टूडेंट्स के अलग-अलग ग्रुप बनाये गये हैं तथा संबंधित विषयों के प्राध्यापकों द्वारा सोशल मीडिया का उपयोग करते हुए अध्ययन सामग्री को अपलोड कर दिया जाता है। उसके पश्चात स्टूडेंट्स की ऑनलाइन क्लासेस लेकर विषय संबंधित ज्ञान प्रदान किया जाता है तथा साथ ही उनके प्रश्नों का समाधान किया जाता है। इसके अलावा इनके मूल्यांकन हेतु नियमित रूप से ऑनलाइन टेस्ट भी आयोजित की जा रही है।

भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट के सचिव सुरेन्द्र गुप्ता ने बताया कि देशव्यापी लॉकडाउन के मद्देनजर यूनिवर्सिटी सिलेबस पूर्ण करने तथा इस अवधि में महाविद्यालय के विभिन्न संकाय के स्टूडेंट्स की पढ़ाई का नुकसान न हो, इसलिए कॉलेज स्तर पर ई-टीचिंग की यह व्यवस्था उपलब्ध कराई गई है जिसका स्टूडेंट को भरपूर लाभ मिल रहा है और कोरोना वायरस संक्रमण से उपजी विपरित परिस्थितियों में यह प्रणाली कारगर साबित हो रही है। महाविद्यालय की छात्राएं भी इस ऑनलाइन प्रणाली को आत्मसात कर उत्साहपूर्वक वर्चुअल क्लासेस में भाग ले लाभान्वित हो रही हैं।

 

 


26-May-2020

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

भिलाई नगर, 26 मई। जिले में ट्रू  नॉट किट की कमी के कारण कोरोना टेस्ट के लिए जिला स्वास्थ्य विभाग अब केवल आरटीपीसीआर टेस्ट पर ही निर्भर है। परंतु आरटी पीसीआर से करीब 1 सप्ताह बाद ही परिणाम मिल रहा है। प्रतीक्षा सूची बढक़र 350 के करीब पहुंच चुकी है। आज रात तक करीब 150 और सैंपल भेज जाने के बाद प्रतीक्षा सूची की संख्या में और भी बढ़ोतरी हो जाएगी।

सिविल सर्जन डॉ. पुनीत बाल किशोर ने बताया कि कोरोना टेस्ट के लिए पूर्व में आरडी किट पद्धति का इस्तेमाल किया जा रहा था। परंतु आरडी किट के परिणाम संदेहास्पद होने के कारण जिला स्वास्थ्य विभाग के द्वारा ट्रू नॉट कीट प्रणाली को अपनाया गया था। बाहर से आने वाले प्रवासी श्रमिकों का टेस्ट ट्रू नॉट प्रणाली से ही किया जा रहा था। इस पद्धति से परिणाम पॉजिटिव होने के बाद ही पुष्टि के लिए आरटी पीसीआर टेस्ट के लिए सैंपल भेजे जा रहे थे। परंतु ट्रू  नॉट किट की सप्लाई नहीं मिलने के कारण इस पद्धति से प्रवासी मजदूरों का टेस्ट त्वरित नहीं कर पा रहे हैं । अब जिला स्वास्थ्य विभाग की निर्भरता कोरोना वायरस टेस्ट के लिए केवल आरटी पीसीआर टेस्ट पर ही सिमट कर रह गई है

 डॉ. बाल किशोर ने बताया कि आरटी पीसीआर टेस्ट से परिणाम जानने के लिए करीब 1 सप्ताह का समय लग जा रहा है। सोमवार 25 मई तक आरटी पीसीआर टेस्ट की प्रतीक्षा सूची करीब 350 के लगभग हो चुकी थी। आज भी करीब 150 से ज्यादा सैंपल आरटी पीसीआर टेस्ट के लिए रात तक भेजे जाने की संभावनाएं बनी हुई है। ऐसे में आरटी पीसीआर टेस्ट की प्रतीक्षा सूची बढक़र करीब 500 तक पहुंच जाएगी।

लंबी प्रतीक्षा सूची होने के कारण परिणाम भी अधिक विलंब से मिल पाएगा। यदि ट्रू नॉट किट की सप्लाई पूर्व की भांति सामान्य हो जाए तो आर्टिफिशियल के लिए भेजे जाने वाले संख्या में भी काफी कमी आएगी और परिणाम भी जल्द ही प्राप्त होने लगेंगे।


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

भिलाईनगर, 26 मई। सोमवार को भिलाई की अग्रसेन जन कल्याण समिति ने सराहनीय पहल की है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भिलाई वासियों की मदद के साथ ही प्रवासी मजदूरों के लिए भी सार्थक प्रयास कर रहे हैं। इसी कड़ी में अग्रसेन जन कल्याण सेवा समिति ने महापौर व भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव को 2000 चरण पादुकाओं का दान किया है, ताकि महापौर इन चरण पादुकाओं को जरूरतमंद लोगों को उपलब्ध करा सकें। 

दीगर प्रांत से लौट रहे कई मजदूर पैदल ही अपने घर की ओर निकल पड़े हंै। ऐसे जरूरमंद लोगों की महापौर देवेंद्र यादव और उनकी टीम व शहर के सभी समाज सेवी संस्थाएं अपने-अपने स्तर पर मदद कर रहे हैं। ऐसे में जो पैदल आ रहे है, उन लोगों के पैर पर छाले न पड़े। इसके लिए अग्रसेन जन कल्याण समिति ने उनको चरणपादुका उपलब्ध कराने दान किया है। जिसकी महापौर देवेंद्र यादव ने जमकर सराहना की और कहा कि कोरोना वायरस जैसी कितनी भी बड़ी समस्या आ आए। हम सब इसी तरह मिलकर एक दूसरे की मदद करके सभी समस्याओं को हराएंगे और हम सब जरूर जीतेंगे।


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
दुर्ग/भिलाई नगर, 26 मई।
झीरम श्रद्धांजलि दिवस पर जिले में संभागायुक्त कार्यालय एवं कलेक्टोरेट के अधिकारियों व कर्मचारियों ने दो मिनट का मौन धारण कर झीरम के शहीदों को श्रद्धांजलि दी। छत्तीसगढ़ राज्य की एकता अखंडता शांति व सामाजिक सद्भाव को बनाये रखने की शपथ ली।  उल्लेखनीय है कि 25 मई 2013 को झीरम में हुए नक्सली हमले में कई जन नेता व पुलिस के जवान शहीद हो गए थे। इस हमले में हुए शहीदों की शहादत को अविस्मरणीय बनाये रखने के लिए राज्य में प्रति वर्ष 25 मई को झीरम श्रद्धांजलि दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है।