छत्तीसगढ़ » रायपुर

Date : 11-Oct-2019

रायपुर-आसपास अच्छी बारिश, प्रदेश से मानसून वापसी 15 से

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 अक्टूबर। मानसून वापसी के पहले स्थानीय प्रभाव के चलते शुक्रवार को धूप-छांव के बीच शहर-आसपास अच्छी बारिश हुई। मौसम विभाग का कहना है कि फिलहाल कहीं कोई सिस्टम नहीं है। स्थानीय प्रभाव  के चलते आने वाले दो-चार दिनों में इसी तरह छिटपुट बारिश हो सकती है।

प्रदेश में अभी तक सामान्य से 10 फीसदी अधिक बारिश दर्ज की गई है। वहीं रायपुर में सामान्य से 5 फीसदी कम बारिश हुई है। मौसम विभाग के मुताबिक राजस्थान से मानसून की वापसी शुरू हो गई है और  15 अक्टूबर से प्रदेश से भी मानसून की वापसी शुरू हो जाएगी। इसके पहले तक स्थानीय प्रभाव से कहीं-कहीं हल्की बारिश होती रहेगी।

उल्लेखनीय है कि जून से अभी तक प्रदेश के बीजापुर में सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई है। इसके अलावा 5 और जिले बस्तर, दंतेवाड़ा, कोंडागांव, नारायणपुर, सुकमा में भी सामान्य से अधिक बारिश हुई है। दूसरी ओर सरगुजा, मुंगेली, जशपुर जिले में सामान्य से कम बारिश रिकॉर्ड की गई है। बाकी सभी जिलों में सामान्य बारिश हुई है।


Date : 11-Oct-2019

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में मध्य क्षेत्रीय परिषद की स्थाई समिति की 13वीं बैठक

रायपुर, 11 अक्टूबर। मुख्य सचिव सुनील कुजूर की अध्यक्षता में शुक्रवार यहां नया रायपुर में मध्य क्षेत्रीय परिषद की स्थाई समिति की 13वीं बैठक आयोजित हुई। बैठक में छत्तीसगढ़ सहित मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड राज्य के महत्वपूर्ण और संवेदनशील विषयों पर चर्चा की गई। बैठक में उत्तरप्रदेश के मुख्य सचिव  राजेंद्र प्रसाद तिवारी, मध्यप्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव के के सिंह, अंतर्राज्यीय परिषद सचिवालय गृह मंत्रालय के विशेष सचिव संजीव गुप्ता, उत्तराखंड के सचिव पंकज पांडे सहित भारत सरकार के विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


Date : 11-Oct-2019

एमपी की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी महापौर-अध्यक्ष चुनेंगे पार्षद ? 

कैबिनेट उपसमिति के गठन की तैयारी

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 अक्टूबर। मध्यप्रदेश की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी नगरीय निकाय चुनाव में महापौर अथवा अध्यक्ष के प्रत्यक्ष निर्वाचन को बंद किया जा सकता है। खबर है कि इस सिलसिले में जल्द ही कैबिनेट उप समिति का गठन किया जाएगा। चर्चा है कि समिति की रिपोर्ट के आधार पर सरकार कोई फैसला ले सकती है।

बताया गया कि मध्यप्रदेश में महापौर या नगर पालिका अध्यक्ष के चुनाव सीधे जनता नहीं बल्कि पार्षद करेंगे। जनता केवल पार्षद का चुनाव करेगी। वहां इस सिलसिले में अध्यादेश लाया गया था और इसको राज्यपाल से मंजूरी मिल गई है। छत्तीसगढ़ में भी मध्यप्रदेश की तर्ज पर महापौर अथवा अध्यक्ष के सीधे चुनाव कराने के फैसले को सरकार बदल सकती है।

सूत्रों के मुताबिक सरकार में इस सिलसिले में प्रारंभिक चर्चा भी हुई है। खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खुले तौर पर महापौर अथवा अध्यक्ष के  सीधे निर्वाचन को बंद करने का संकेत दे चुके हैं। कहा जा रहा है कि सरकार एक-दो दिनों के भीतर कैबिनेट उप समिति का गठन कर सकती है। इस समिति की रिपोर्ट के आधार पर कैबिनेट कोई फैसला लेगी। इसकी प्रारंभिक तैयारी हो गई है। चर्चा है कि कैबिनेट की आगामी बैठक में इसको लेकर कोई नीतिगत निर्णय लिया जा सकता है।

बताया गया कि अलग-अलग राज्यों में महापौर-अध्यक्षों के चुनाव के लिए अलग-अलग व्यवस्था है। कार्यकाल भी तय नहीं है। अविभाजित  मध्यप्रदेश में वर्ष-94 में महापौर-अध्यक्षों का निर्वाचन पार्षदों के जरिए होता था। इसके बाद व्यवस्था बदली और फिर वर्ष-99 में महापौर और अध्यक्ष का सीधे चुनाव होने लगा। इसके बाद से सिलसिला जारी है। इस बार भी महापौर और अध्यक्ष का चुनाव सीधे होने की संभावना जताई जा रही थी क्योंकि दोनों पदों के लिए आरक्षण की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। वार्डों का भी आरक्षण हो चुका है।

मुख्यमंत्री महीनेभर पहले कह चुके थे कि प्रक्रिया में किसी तरह का बदलाव नहीं किया जाएगा, लेकिन मध्यप्रदेश में चुनाव प्रक्रिया में बदलाव के बाद यहां भी अनुशरण करने का फैसला हो सकता है। इसके लिए अध्यादेश लाना होगा। यह भी फैसला कैबिनेट की बैठक में लिया जा सकता है। जानकारों के मुताबिक जनवरी के पहले हफ्ते में नई सभा का गठन होना है, इसलिए समय पर्याप्त है। माना जा रहा है कि एक-दो दिनों में सारी स्थिति स्पष्ट हो सकती है। 


Date : 11-Oct-2019

एकलव्य राज्य स्तरीय स्पर्धा में छाई आंचलिक छटा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर 11 अक्टूबर। दीनदयाल उपाध्याय ऑडीटोरियम में शुक्रवार को विधायक विकास उपाध्याय के मुख्य आतिथ्य में एकलव्य विद्यालय द्वारा राज्य स्तरीय स्पर्धा आयोजित की गई। स्पर्धा में छात्र-छात्राओं ने गीत संगीत और लोकनृत्य से समां बांधा। स्पर्धा में रायपुर, कोरिया, सरगुजा, दुर्ग और बिलासपुर पांच संभागों के 20 विद्यालयों के विद्यार्थी शामिल रहे।

राज्य स्तरीय गीत, नृत्य स्पर्धा के तहत प्रतिभागियों ने आंचलिक सामूहिक नृत्य, समूह गीत की प्रस्तुति के अलावा एकल प्रस्तुति भी दी। उपायुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग संजय गोड़ ने बताया सांस्कृतिक महोत्सव में संगीत नृत्य विधा के तहत सामूहिक एवं एकल प्रतियोगिता रखी गई है। चयनित प्रतिभागी राष्ट्रीय स्पर्धा में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व करेंगे।


Date : 11-Oct-2019

मतदाता जागरूकता के लिए मीडिया समूह होंगे राष्ट्रीय मीडिया सम्मान- से सम्मानित

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर 11 अक्टूबर। भारत निर्वाचन आयोग मतदाता शिक्षा तथा जागरूकता के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले मीडिया संस्थानों को राष्ट्रीय मीडिया सम्मान-2019 से सम्मानित करेगा। वर्ष 2019 के लिए आयोग ने मीडिया संस्थानों से 31 अक्टूबर तक आवेदन आमंत्रित किया है।

आयोग द्वारा इस संबंध में जारी पत्र में बताया गया है कि मीडिया संस्थान चार अलग-अलग वर्गों में आवेदन कर सकते हैं। इसके तहत आम लोगों में मतदाता शिक्षा और जागरूकता तथा मतदान के महत्व और प्रासंगिकता को समझाने के लिए उनके संस्थान द्वारा किए गए प्रयासों तथा अभियानों का स्पष्ट तौर पर उल्लेख करते हुए नियत प्रारूप में आवेदन भेज सकते हैं। अंतिम तिथि तक प्राप्त आवेदनों तथा अनुशंसाओं को आयोग द्वारा गठित निर्णायक मण्डल के सामने प्रस्तुत किया जाएगा। निर्णायक मंडल द्वारा चयनित संस्थानों को अगले वर्ष 2020 में राष्ट्रीय मतदाता दिवस (25 जनवरी) को सम्मानित किया जाएगा।

चार वर्गों में होगा सम्मान

बताया गया है कि राष्ट्रीय मीडिया सम्मान 4 वर्गों में दिए जाएंगे। इसमें प्रिंट मीडिया, टेलीविजन (इलेक्ट्रानिक), रेडियो (इलेक्ट्रानिक) तथा ऑनलाइन (इंटरनेट)/सोशल मीडिया समूह शामिल हैं। प्रत्येक वर्ग में एक पुरस्कार दिए जाएंगे। जूरी द्वारा विजेताओं के चयन हेतु मापदण्ड भी निर्धारित किए गए हैं। इसके तहत मतदाता जागरूकता अभियान की गुणवत्ता, कव्हरेज की व्यापकता तथा विस्तार, आम लोगों में अभियान का प्रभाव तथा अन्य प्रासंगिक कारक शामिल होंगे।

यह होगा मापदंड

आवेदन तथा अनुशंसा के लिए निर्धारित मापदण्ड की विस्तृत जानकारी निर्वाचन आयोग की वेबसाइट में भी देखी जा सकती है। इसमें हिन्दी अथवा अंग्रेजी के अलावा अन्य भारतीय भाषा में भी आवेदन किया जा सकता है। अन्य भाषा की प्रविष्टि के लिए संबंधित सामग्री का अंग्रेजी रूपांतरण भी संलग्न करना होगा।

प्रविष्टि में यह आवश्यक है कि प्रकाशन तथा प्रसारण निर्धारित समय में किया गया हो। इसके अलावा यह भी उल्लेख किया जान आवश्यक होगा कि इस दौरान कितने समाचार अथवा लेख प्रकाशित किए गए। सभी की पीडीएफ फाइल अथवा लिंक या संबंधित लेख या समाचार की वेब लिंक भी संलग्न करना होगा। इसी प्रकार इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में चलाए गए अभियान की सॉफ्ट कॉपी, प्रसारणों, स्पॉट अथवा समाचार प्रसारणों की विस्तृत जानकारी समेत अन्य कोई विशेष जानकारी हो तो उसका भी उल्लेख किया जा सकता है। इसी तरह ऑनलाइन तथा सोशल मीडिया में चलाए गए अभियानों के प्रभाव तथा उसके विस्तार संबंधी जानकारी तैयार कर निर्धारित समय तक निर्वाचन आयोग को भेजा जाना होगा।

 

 


Date : 11-Oct-2019

3 बदमाशों ने राह चलते किन्नर को चाकू मारा, लूट का प्रयास भी, फरार

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 अक्टूबर। शहर के जवाहर नगर में बीती देर रात एक किन्नर पर बाइक सवार 3 बदमाशों ने हमला कर उसका हैंड बैग लूटने का प्रयास। विरोध करने पर उसके पेट व अन्य जगहों पर चाकू से 9 वार कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया। लहूलुहान किन्नर जैसे-तैसे मौदहापारा थाने तक पहुंचा, तब कहीं जाकर बदमाशों ने उसका पीछा छोड़ा। घायल किन्नर को अस्पताल में भर्ती किया गया है। आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं, पूछताछ जारी है।

पुलिस के मुताबिक खुर्सीपार (भिलाई) का एक किन्नर प्रमोद कौशल बीती देर रात रेलवे स्टेशन क्षेत्र में कहीं शादी कार्यक्रम से लौट रहा था।  पैदल चलते हुए वह एमजी रोड स्थित जवाहर नगर की गलियों के पास पहुंचा, तभी बाइक सवार 3 बदमाशों ने उसे रोक लिया और गाली-गलौज करते हुए उसका हैंड बैग छीनने का प्रयास करने लगे। किन्नर ने लूट के प्रयास का विरोध किया, तो बदमाशों ने उसे पकडक़र उसके पेट व अन्य जगहों पर चाकू से जानलेवा वार कर दिया। इतना ही नहीं, बदमाश उसका थाने तक पीछा करते हुए हमला करने का प्रयास करते रहे। इसके बाद वे तीनों आरोपी फरार हो गए।

घायल किन्नर के चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनकर वहां पहुंचे पास के एक चौकीदार ने उसे मौदहापारा थाने की जानकारी दी। किन्नर ने जैसे-तैसे थाने तक पहुंचकर घटना की जानकारी दी। पुलिस ने उसकी हालत देखते हुए उसे तुरंत अंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसकी हालत फिलहाल गंभीर बताई जा रही है। पुलिस का कहना है कि घटना के बाद से मामला दर्ज कर आरोपी बदमाशों की तलाश की जा रही है, लेकिन अभी तक वे तीनों पकड़ में नहीं आए हंै।


Date : 11-Oct-2019

मोबाइल लूटकर युवक के पेट पर चाकू मारा, गंभीर

धरसींवा क्षेत्र में भी लूट, आरोपी पकड़ाया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11 अक्टूबर।
खमतराई क्षेत्र में बीती रात मोबाइल लूट के बाद एक युवक के पेट पर चाकू मार दिया गया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। इसके अलावा धरसींवा क्षेत्र में भी मोबाइल लूट की एक घटना सामने आई है। दोनों घटनाओं के आरोपी पुलिस पकड़ से बाहर हैं, पूछताछ जारी है। 

पुलिस के मुताबिक भनपुरी खमतराई का एक युवक टिक्कू गुप्ता बीती देर रात कहीं से काम कर वापस अपने घर लौट रहा था, तभी सरदार टिम्बर मार्केट भनपुरी के पास बाइक सवार दो युवकों ने उसे रोक लिया। इसके बाद उससे पैसे की मांग करने लगे। पैसे न होने की बात कहने पर उसकी जेब में रखे 16 हजार कीमत का मोबाइल लूट कर भागने लगे। इसकी जानकारी मिलते ही घायल युवक का भाई बिट्टू गुप्ता वहां पहुंचा। उसने भाग रहे आरोपियों से लूट के बारे में पूछते हुए उसका विरोध किया तो आरोपियों ने उसके भाई टिक्कू के पेट पर चाकू से जानलेवा वार कर दिया। इसके बाद बाइक सवार दोनों आरोपी फरार हो गए। 

मोबाइल लूट की दूसरी घटना धरसींवा क्षेत्र के सिलतरा बिजली ऑफिस के पास की है। वहां मध्यप्रदेश के गांव भडसेरीटोला करवाही सरई (सिंगरौली)का एक ट्रक चालक इंद्र बहादुर अपनी ट्रक को सडक़ किनारे खड़ी कर अपने मोबाइल से बात कर रहा था तभी पीछे से  आए एक युवक ने उसका हाथ पकड़ लिया और कीमती मोबाइल लूटकर फरार हो गया। बाद में आरोपी युवक दयानंद वर्मा (19)राजेंद्र नगर उरला पकड़ा गया, पुलिस पूछताछ जारी है। उल्लेखनीय है कि शहर एवं आसपास के इलाकों में मोबाइल व अन्य सामानों की लूट की घटनाएं लगातार सामने आ रही है। हालांकि अधिकांश मामलों में आरोपी पकड़ लिए जा रहे हैं। 


Date : 11-Oct-2019

कर्जमाफी और 2500 रुपए में धान खरीदी आटोमोबाइल सेक्टर के लिए साबित हुई वरदान की तरह

रायपुर, 11 अक्टूबर। प्रदेश में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा पद ग्रहण करते ही कर्जमाफी और किसानों को 2500 रुपए में धान का बोनस देने की घोषणा कारोबारी जगत के लिए भी वरदान साबित हुई। आटोमोबाइल सेक्टर के लिए जो पूरे देश में बेहद मंदी का सामना कर रहा था, यह घोषणा संजीवनी की तरह साबित हुई। इसकी गवाही न केवल उस दौर में बाइक के पीछे लिखी कर्जमाफी से प्राप्त जैसे स्लोगन देते हैं अपितु आरटीओ, दुर्ग के आंकड़े भी इसकी गवाही देते हैं। वर्ष 2018 और वर्ष 2019 में आटोमोबाइल सेक्टर में खरीदी का अंतर देखे तो कर्जमाफी और 2500 रुपए में धान खरीदी से आया अंतर स्पष्ट नजर आता है। वर्ष 2018 में जनवरी से जून तक जिले में 18 हजार 272 वाहन बिके थे जबकि इसी अवधि में वर्ष 2019 में 21034 वाहन बिके। यह लगभग 15 प्रतिशत का फर्क है जो दुर्ग जिले में आटोमोबाइल सेक्टर में दर्ज किया गया जबकि देश के दूसरे राज्यों में बिक्री के आंकड़े सामान्यत: अच्छे नहीं थे। वर्ष 2018 में जनवरी से जून तक छह महीनों में 16 हजार 554 मोटरसाइकल-स्कूटर बिके जबकि वर्ष 2019 में लगभग 20 हजार 95 मोटरसाइकिल-स्कूटर बिके। ट्रैक्टर की बिक्री में भी यह अंतर लक्षित किया जा सकता है। वर्ष 2018 में जनवरी से जून तक की अवधि में 397 ट्रैक्टर बिके जबकि वर्ष 2019 में इस अवधि में 689 ट्रैक्टर बिके। ट्रेलर की बात करें तो 146 ट्रेलर वर्ष 2018 में जनवरी से जून माह की अवधि में बिके जबकि इसी अवधि में वर्ष 2019 में 169 ट्रेलर बिके।

जनवरी माह से इसकी शुरूआत करें। आरटीओ अधिकारी श्री अतुल विश्वकर्मा ने बताया कि वर्ष 2018 के जनवरी माह में जब मार्केट देश भर में अपेक्षाकृत अच्छी स्थिति में था तब दुर्ग जिले में 3050 मोटरसाइकल-स्कूटर बिके। वहीं इस साल जनवरी माह में 3884 मोटरसाइकिल बिके। जहां वर्ष 2018 में इस अवधि में 91 ट्रैक्टर बिके थे, वहीं वर्ष 2019 में 159 ट्रैक्टर बिके। फरवरी 2018 में जहां 72 ट्रैक्टर बिके थे, वहीं फरवरी 2019 में 122 ट्रैक्टर बिके। वर्ष 2018 में फरवरी में जहां 2592 मोटरसाइकल-स्कूटर बिके थे, वहीं वर्ष 2019 के फरवरी माह में यह संख्या 3685 हो गई। मार्च 2018 में 74 टैऊक्टर और 2805 मोटर साइकल-स्कूटर बिके। वहीं मार्च 2019 में 116 ट्रैक्टर और 3503 मोटर साइकल-स्कूटर बिके। इसी तरह अप्रैल 2018 में जहां केवल 35 ट्रैक्टर बिके थे, वहीं अप्रैल 2019 में 108 ट्रैक्टर बिके। अप्रैल 2018 में जहां 2667 मोटर साइकल-स्कूटर बिके थे, वहीं अप्रैल 2019 में 3373 मोटर साइकल-स्कूटर बिके। इसी तरह मई 2018 में जहां 49 ट्रैक्टर और 2695 मोटर साइकल-स्कूटर बिके, वहीं मई 2019 में 107 ट्रैक्टर और 2948 मोटर साइकल-स्कूटर बिके।

कर्जमाफी और धानखरीदी के 2500 रुपए देने से किसानों के पास पूंजी आई। अर्थव्यवस्था की गति तेजी से बढऩे के पीछे उत्पादकों को मिलने वाला संतोषजनक प्रतिफल बड़ा कारण होता है। इससे शहरी अर्थव्यवस्था भी मजबूत होती है और अर्थव्यवस्था में मंदी का चक्र पूरी तरह से टूट जाता है। छत्तीसगढ़ शासन की नीतियों ने ऐसे समय में आटोमोबाइल बाजार को संकट से बचाया जब देश भर में कमजोर मांग के चलते यह सेक्टर टूटन का शिकार हो रहा था।

इस साल ट्रैक्टर, ट्रेलर काफी संख्या में बिके। यह खेती-किसानी को आधुनिक दिशा में बढ़ाने के राज्य सरकार के संकल्प के अनुरूप है। ट्रैक्टर-ट्रेलर के साथ ही कृषि यंत्रों की खरीदारी की दिशा में बाजार गुलजार हुआ।

 

 


Date : 11-Oct-2019

राष्ट्रवाद को कोसने के बदलेे कांग्रेस अपने कर्मों पर मंथन करें-रमन, कहा कि श्रीराम को लेकर कांग्रेस मौकापरस्ती के अपने राजनीतिक चरित्र पर उतर आई है

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11  अक्टूबर। 
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि भाजपा किसी को राष्ट्रवाद का सर्टीफिकेट नहीं बांटती। अब अगर कांग्रेस की देशभक्ति पर देश संदेह कर रहा है तो कांग्रेस नेताओं को अपने कर्मों पर मंथन करने की आवश्यकता है। डॉ. सिंह प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के उस बयान पर हमलावर थे, जिसमें बघेल ने भाजपा के राष्ट्रवाद की आलोचना करते हुए राष्ट्रवाद का सर्टीफिकेट बांटने की बात कही थी। 

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि भाजपा ने कभी राष्ट्रवाद के नाम पर देश को बांटने का काम नहीं किया। अलबत्ता कांग्रेस ने सत्ता के लिए देश का साम्प्रदायिक आधार पर विभाजन मंजूर किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं के कर्म ही ऐसे रहे हैं कि अब देश को उस पर भरोसा नहीं रह गया है। जम्मू-कश्मीर में धारा 370 जारी रखने और अफ्स्पा को खत्म करने का वादा अपने चुनावी घोषणापत्र में करके कांग्रेस किनका हित साध रही थी? एक पार्टी के अध्यक्ष होकर भी राहुल गांधी टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ खड़े होकर क्या संदेश और संकेत दे रहे थे? भाजपा के राष्ट्रवाद को कोसने से पहले कांग्रेस के नेता अपने कर्मों पर मंथन करें और फिर राष्ट्रवाद की परिभाषा गढ़ें। इसके लिए कांग्रेस को तुष्टिकरण की राजनीति के दायरे से बाहर आना होगा।

श्रीराम को कांग्रेसियों के कण-कण में बताने पर भी मुख्यमंत्री बघेल पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने तीखा कटाक्ष किया। डॉ. सिंह ने कहा कि श्रीराम को लेकर कांग्रेस मौकापरस्ती के अपने राजनीतिक चरित्र पर उतर आई है। देश को याद है कि रामसेतु और भगवान राम के अस्तित्व को नकारते हुए कांग्रेस की केन्द्र सरकार ने कोर्ट में हलफनामा पेश किया था। भगवान श्रीराम को महज एक काल्पनिक पात्र बताने वाली कांग्रेस अब वोटों की लालच में भगवान राम को भारतीय सभ्यता और संस्कृति का प्रतीक बता रही है! मुख्यमंत्री बघेल से डॉ. सिंह ने पूछा कि वे बताएं कि भगवान राम के मंदिर के खिलाफ जिरह करने वाले वकीलों की राजनीतिक पृष्ठभूमि क्या कांग्रेस की नहीं है? भाजपा के लिए श्रीराम इस राष्ट्र-जीवन के आदर्श और पराक्रमी-पौरुष की पहचान हैं, आस्था के केन्द्र हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने यह भी कहा कि देश की आजादी की लड़ाई में पूरे देश की भागीदारी रही है। रास्वसं के संस्थापक सरसंघचालक डॉ. हेडगेवार स्वयं क्रांतिकारी आंदोलनों में बढ़-चढक़र भाग लेते रहे। कांग्रेस लगातार यह झूठ फैला रही है कि संघ-परिवार और उससे जुड़े संगठनों के लोगों का स्वाधीनता आंदोलन से कोई संबंध नहीं था। 

भाजपा पर असहिष्णुता का ठीकरा फोडऩे वाले कांग्रेस नेता यह झूठ फैलाकर अपनी असहिष्णुता का ही परिचय दे रहे हैं। डॉ. सिंह ने कहा कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके को छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने विवादग्रस्त बनाने में कोई कसर बाकी नहीं रखी। प्रदेश के मुख्यमंत्री कांग्रेस के अकेले ऐसे नेता हैं जो इस मौके पर गांधी के विचारों पर चर्चा करने के बजाय गोडसे-राग अलाप रहे हैं। जनसंघ-भाजपा ने कभी गोडसे का महिमामंडन नहीं किया लेकिन गांधी के नाम पर अपनी सियासत कर रहे कांग्रेस के लोगों ने गांधी के विचारों की चर्चा से अधिक रुचि गोडसे के जिन्न को बोतल से बाहर निकालने में दिखाई।

 

 


Date : 11-Oct-2019

शराबबंदी प्रशासनिक समिति की बैठक में कई महत्वपूर्ण सुझाव आए

रायपुर, 11 अक्टूबर।  प्रदेश में शराबबंदी के लिए गठित प्रशासनिक समिति की प्रथम बैठक 09 अक्टूबर को सचिव, छत्तीसगढ़ शासन, वाणिज्यिक कर (आबकारी) विभाग निरंजन दास की अध्यक्षता में वाणिज्यिक कर (जी.एस.टी) भवन, अटल नगर नवा रायपुर में आयोजित हुई। बैठक में राज्य शासन द्वारा मनोनीत समिति सदस्य एवं विभागीय वरिष्ठ अधिकारीगण भी उपस्थित थे। 

समिति के अध्यक्ष एवं सचिव, छत्तीसगढ़ शासन, वाणिज्यिक कर (आबकारी) विभाग निरंजन दास द्वारा समिति को शासन द्वारा निर्धारित किए गए बिन्दुओं की जानकारी दी गई। जिसमें शराबबंदी लागू करने पर सामाजिक क्षेत्र पर प्रभाव, शराबबंदी लागू करने में आने वाली कठिनाईयां, कानून व्यवस्था की स्थिति में परिवर्तन एवं बदलाव, मुख्य रूप से सम्मिलित थे। प्रशासनिक समिति की प्रथम बैठक में सभी सदस्यों द्वारा शराबबंदी के लिए अपने-अपने क्षेत्र के अनुभव के संबंध में समिति को अवगत कराया गया। समिति के सदस्य पी.के. शुक्ला द्वारा बैठक में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश में शराबबंदी लागू करने के पूर्व अन्य राज्यों में जहां शराबबंदी लागू है उन राज्यों की आर्थिक व सामाजिक स्थिति संबंधी आंकड़ों का संग्रहण किया जाकर समिति द्वारा उस पर विस्तृत चर्चा की जाए। पद्मश्री फुलबासन बाई द्वारा महिला स्व-सहायता समूह (गुलाबी गैंग) के माध्यम से आम जनमानस एवं समाज को नशामुक्त करने का कार्य किए जाने की बात कही गई। पद्मश्री शमशाद बेगम ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि महिला कमाण्डो (संगठन) द्वारा जनजागरण के कारण बालोद जिले के मदिरा की बिक्री में कमी आई है। साथ ही उनके संगठन द्वारा आम जनता को जागरूक करने पर व्यपाक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। उन्होंने यह भी अवगत कराया कि नशामुक्ति विषय को शिक्षण संस्थाओं के पाठ्यक्रम में सम्मिलित किया जाए। समिति के सदस्यों द्वारा यह भी सुझाव दिया गया कि शराबबंदी के पूर्व नशे से प्रभावित व्यक्तियों के उपचार हेतु व्यसनमुक्त केन्द्र स्थापित किए जाए ताकि नशे से होने वाली जनहानि से बचा जा सके। समिति के सदस्यों द्वारा शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, समाज कल्याण विभाग एवं पुलिस विभाग के प्रतिनिधियों को आगामी बैठक में चर्चा के लिए सम्मिलित किए जाने का विचार व्यक्त किया गया। 

 

 


Date : 10-Oct-2019

कोसे की साड़ी में दिख रहा ट्राइबल आर्ट-एप्लिक वर्क, छत्तीसगढ़ भवन में फेस्टिवल सेल के तहत हस्तशिल्प प्रदर्शनी का आयोजन

रायपुर, 10 अक्टूबर। नई दिल्ली स्थित छत्तीसगढ़ भवन में फेस्टिवल सेल के तहत हस्तशिल्प प्रदर्शनी और सेल लगाई गयी है, जिसमें छत्तीसगढ़ के बुनकर राज्य की खास पहचान कोसा सिल्क की साडिय़ाँ लेकर पहुंचे हैं। 7-14 अक्तूबर तक लगाई गयी प्रदर्शनी में टसर सिल्क में हैंड ब्लॉक वर्क, ट्राइबल आर्ट और एप्लिक वर्क आदि की कई वेराइटी की साडिय़ाँ उपलब्ध हैं। यहां कॉटन की चादर, नेचुरल डाई से तैयार कोसा सिल्क सहित अनेक वैराइटी मिल रहे हैं।

कारीगरों के द्वारा हाथों से बुने कपड़े अक्सर व्यक्तित्व की खूबसूरती बढ़ा देते हैं। यही वजह है कि हैंडलूम के आइटम्स की हमेशा डिमांड रहती है। छत्तीसगढ़ में हैंडलूम को लेकर विशेष तरह का काम हो रहा है। साड़ी से लेकर कई तरह के ड्रेस मटेरियल बन रहे हैं, जिसे लेकर राज्य के कारीगर प्रदर्शनी में पहुंचे हैं।

प्रदर्शनी में छत्तीसगढ़ के बस्तर के शिल्पी कोसा सिल्क साडिय़ां लेकर आए हैं। इन साडिय़ों की खासियत है कि साड़ी पर मुरिया आदिवासियों की संस्कृति, उनकी जीवन शैली, मान्यताएं आदि उकेरी गई हैं। वहीं रायगढ़ से आए कारीगर एप्लिक वर्क की साडिय़ाँ लेकर आयें हैं, जिसमें कपड़े को काटकर डिज़ाइन तैयार किया जाता है। चांपा से आए गजानन्द देवांगन 19 साल कारीगरी से जुड़े हैं। उन्होने बताया कि कोसा टसर की साडिय़ों पर लड़कियां बस्तर आर्ट बनाती हैं, कलर करने के लिए इसमें नैचुरल डाई का उपयोग किया जाता है। वहीं, बिलाईगढ़ से पहुंचे देवानन्द देवांगन ने कोसा तैयार करने की विधि बताते हुये कहा कि कोकून ( कोसा धागे का कोवा)  बस्तर और जगदलपुर के जंगलों में ज्यादा होता है। कोकून के अंदर स्थि त रेशम के कीड़े को मारकर सात दिनों तक धूप में सुखाया जाता है। उसके बाद उसे सोडा के साथ उबालकर फ़ाइन धागा तैयार किया जाता है।

 


Date : 10-Oct-2019

डीकेएस घोटाला, पुलिस ने कोर्ट मेें चालान पेश किया, पुनीत गुप्ता, पीएनबी के जीएम, डीजीएम हाजिर

रायपुर, 10 अक्टूबर। 50 करोड़ से अधिक के बहुचर्चित डीकेएस अस्पताल घोटाले में गोलबाजार पुलिस ने गुरूवार को एसीजीएम पंकज आलोक तिर्की की कोर्ट में चालान पेश किया। पुलिस ने वहां घोटाले से जुड़े डॉ. पुनीत गुप्ता, पीएनबी के जीएम राजीव खेड़ा और पीएनबी के डीजीएम सुनील अग्रवाल के खिलाफ पूरक चालान भी पेश किया। इस दौरान तीनों कोर्ट में हाजिर रहे। 

प्रदेश में रायपुर के डीकेएस सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में उपकरण खरीदी, भर्ती, निर्माण आदि में 50 करोड़ से अधिक का घोटाला सामने आया है। गोलबाजार पुलिस में मामला दर्ज होने के बाद उसकी लगातार जांच-पूछताछ चलती रही। पुलिस ने आज उसका चालान पेश किया। पहली बार चालान पेश करने के दौरान कोर्ट ने पुनीत गुप्ता समेत बैंक अधिकारियों को कोर्ट में हाजिर रहने का आदेश नहीं दिया था। कोर्ट में तीनों के हाजिर रहने के निर्देश को विधिवेत्ताओं द्वारा अलग-अलग मायने तलाशे जा रहे हैं।


Date : 10-Oct-2019

भुगतान के बाद भी फोल्डिंग पाइप सप्लाई नहीं, अहमदाबाद के कारोबारी पर जुर्म दर्ज, खाते में ऑनलाइन जमा किया है करीब 13 लाख

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 10 अक्टूबर।
शहर के एक व्यापारी ने अहमदाबाद गुजरात के एक कारोबारी से पुरानी फोल्डिंग पाइप का सौदा कर उसे करीब 13 लाख का ऑनलाइन एडवांस भुगतान कर दिया, लेकिन पाइप यहां तक नहीं पहुंची। लगातार संपर्क कर पाइप मंगाने का प्रयास भी किया गया, पर उसकी सप्लाई नहीं की गई। पुलिस ने अहमदाबाद के कारोबारी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर पूछताछ में लगी है। फिलहाल उसकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। 

पुलिस के मुताबिक आदर्श नगर मोवा के एक व्यापारी हेमंत कुर्रे(36) और गैलेक्सी बिजनेस पार्क सामने निकोल अहमदाबाद निवासी विकास कुमार पंचाल के बीच पिछले दिनों पुराने स्कार फोल्डिंग पाइप को लेकर सौदा हुआ। मोवा के व्यापारी ने सौदा तय होने के बाद गुजरात के व्यापारी के गुजरात यश बैंक खाते में ऑनलाइन 12 लाख 77 हजार 309 रुपये जमा कर दिया। यह सब कुछ 25 सितंबर से 1 अक्टूबर 2019 के बीच हुआ। इसके बाद यहां का व्यापारी फोल्डिंग पाइप आने का इंतजार करता रहा। लगातार 8-10 दिनों तक पाइप की सप्लाई न होने पर उसने अहमदाबाद के कारोबारी से संपर्क किया, लेकिन वहां से कोई ठोस जवाब नहीं मिला। 

बताया गया कि लगातार मांग के बाद भी फोल्डिंग पाइप की सप्लाई न करने पर बीती रात मोवा के व्यापारी ने इसकी लिखित शिकायत सिविल लाइन पुलिस में की। उसने बताया कि यह सौदा पीपल नौकरी एंड कंसलटेंसी विद्या किडनी अस्पताल के पास शंकर नगर में हुआ। पुलिस शिकायत पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर पूछताछ कर रही है। उनका कहना है कि जांच जारी है। आखिर में अहमदाबाद के कारोबारी को गिरफ्तार किया जाएगा। 

 


Date : 10-Oct-2019

23 लाख की मोबाइल चोरी, कंपनी कर्मी समेत 3 गिरफ्तार, दुकान तक पहुंचाने के बजाय पार्किंग से लेकर फरार थे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 10 अक्टूबर।
स्पाई जेट लिमिटेड कंपनी में अमानत में खयानत कर लाखों का मोबाइल पार करने वाले कंपनी कर्मी एवं उसके दो साथी पकड़े गए। पुलिस ने उनके कब्जे से करीब साढ़े 23 लाख का मोबाइल व बाइक जब्त की है, पूछताछ जारी है। 

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार आरोपियों में प्रदीप अधिकारी (28), शिव शंकर डे (21) व देवांश आर्या (18)शामिल हैं। माना कैंप रायपुर के रहने वाले तीनों आरोपियों ने मिलकर तेलीबांधा के मैग्नेटो मॉल की पार्किंग में कल चोरी की घटना को अंजाम दिया था। घटना की रिपोर्ट कंपनी के कार्गो एक्युकेटिव शुभम डोंहरे ने पुलिस में दर्ज करायी थी। उसने पुलिस को बताया था कि उसका काम माल को संंबंधित जगहों पर पहुंचाना रहता है। 9 अक्टूबर को सुबह 11 बजे उसने कंपनी में काम करने वाले प्रदीप अधिकारी को सोनी गोदाम-06 से माल सप्लाई का आदेश दिया। साथ में रेडीन टोन लिमिटेड प्रो. कनेक्ट सप्लाई चयन लिमिटेड प्लाट नंबर 06 कटोरा तालाब पहुंचाने कहा, लेकिन उसने टाटा एस वाहन में माल लोड कर चालक के साथ पार्किंग स्थल ले गया। वहां मैग्नेटो माल के सामान को दोनों शंकर और प्रदीप ने 06 फ्लोर में डिलेवरी किया। इस दौरान प्रदीप अधिकारी ने बताया कि प्रो. कनेक्ट का जो सामान है जिसे कटोरा तालाब में डिलेवरी करना था वह गाड़ी से पार हो गया है। 

कार्गो एक्युकेटिव ने अपने साथी कमल कुमार मिश्रा के साथ मैग्नेटो माल पहुंचकर पूछताछ की। मैग्नेटो माल का सीसीटीवी फुटेज देखा तो दोपहर में एक व्यक्ति सफेद बोरी में कार्टून भरकर एक बाइक में पीछे बैठकर बाहर निकलते दिख रहा है। घटना की जानकारी देर से देने के बारे में पूछने पर वह टालमटोल करता रहा। अज्ञात आरोपी बोरी में अलग-अलग कार्टून में लाखों का मोबाइल लेकर फरार हो गया। कार्गो एक्युकेटिव की रिपोर्ट पर तेलीबांधा पुलिस ने मामला दर्ज कर पूछताछ शुरू की, तो ये तीनों आरोपी पकड़े गए। उनसे चोरी के मोबाइल भी जब्त किए गए हैं। 

 


Date : 10-Oct-2019

प्रदेश भाजपा संगठन के चुनाव कार्यक्रमों में नहीं होगा बदलाव, रामप्रताप ने की समीक्षा
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 10 अक्टूबर। प्र
देश भाजपा संगठन के चुनाव नियत तिथि में  बदलाव नहीं होगा। प्रदेश के चुनाव प्रभारी रामप्रताप सिंह ने साफ कर दिया है कि नगरीय निकाय चुनाव के बावजूद चुनाव कार्यक्रमों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। 

प्रदेश के चुनाव प्रभारी रामप्रताप सिंह ने बूथ कमेटियों के चुनाव की समीक्षा की। इस बैठक में प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री विष्णुदेव साय और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक भी थे। सूत्रों के मुताबिक नगरीय निकाय चुनाव के चलते जिलाध्यक्षों के चुनाव टालने का भी आग्रह किया गया था, लेकिन इस पर असहमति जताई गई। 

जिलाध्यक्षों के चुनाव नवम्बर माह में होंगे और दिसंबर के पहले पखवाड़े में प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव होंगे। चुनाव प्रभारी रामप्रताप सिंह ने कह दिया है कि चुनाव कार्यक्रमों में किसी तरह का बदलाव नहीं होगा।  बैठक में गौरीशंकर अग्रवाल के अलावा अनुराग सिंहदेव, जिलाध्यक्ष, जिले के चुनाव अधिकारी, सह चुनाव अधिकारी और सदस्यता संयोजक भी थे। 

 


Date : 10-Oct-2019

औषधीय पौधों की खोजयात्रा 11 से, वैद्य, शिक्षक, विद्यार्थी एवं विज्ञान कार्यकर्ता की भागीदारी में औषधीय पौधों की होगी खोज 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 10 अक्टूबर।
छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा के तत्वावधान में पं. रविशंकर विश्वविद्यालय वनस्पतिविद एवं पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो. एम एल नायक के मार्गदर्शन में कांकेर जिले के कुम्हानखार के जंगलों में औषधीय पौधों की खोजयात्रा 11 से 13 अक्टूबर तक आयोजित की जा रही है। इसका बेस कैम्प कांकेर से 16 किलोमीटर दूर सरोना (दुधावा) मार्ग पर मुड़पार गांव में स्थित जन विज्ञान केन्द्र में लगाया जाएगा। इस अध्ययन यात्रा में स्थानीय वैद्य, शिक्षक, विद्यार्थी एवं विज्ञान कार्यकर्ता एवं औषधीय पौधों में रूचि रखने वाले ग्रामीण शामिल रहेंगे।

आरबीएस बघेल अध्यक्ष कांकेर इकाई ने उक्त जानकारी देते हुए बताया इस यात्रा में शामिल होने वाले प्रतिभागियों को 11 अक्टूबर को जन विज्ञान केंद्र पहुंचकर पंजीयन कराना होगा। यहां खोजयात्रा का अनौपचारिक उद्घाटन होगा, तथा महत्वपूर्ण निर्देश दिये जाएंगे। 12 अक्टूबर से औषधीय पौधों की खोजयात्रा आरम्भ होगी। खोज यात्रा के दौरान ग्रामीणों के साथ औषधीय पौधों के संरक्षण, संवर्धन और कारगर उपयोग पर विचार विमर्श होगा। 13 अक्टूबर को खोज यात्रा के अंतिम चरण में प्रतिभागी महानदी तट पर भ्रमण करेंगे तथा यात्रा के संस्मरण को साझा करेंगे। 


Date : 10-Oct-2019

माटी कला बोर्ड की ओर से प्रदेश के प्रशिक्षण प्राप्त कुम्हारों द्वारा बनाए गए दीयों की प्रदर्शनी दीयों की प्रदर्शनी एवं बिक्री 11 से 

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
रायपुर, 10 अक्टूबर।
माटी कला बोर्ड की ओर से 11 अक्टूबर से मरीन ड्राइव में प्रदेश के प्रशिक्षण प्राप्त कुम्हारों द्वारा बनाए गए दीयों की प्रदर्शनी एवं बिक्री की जाएगी।
छग माटी कला बोर्ड विकास एवं विपणन अधिकारी आई ए खान ने उक्त जानकारी देते हुए बताया माटी कला बोर्ड की ओर से बसना विकासखंड के गढफ़ुलझर में आवासीय प्रशिक्षण की व्यवस्था का प्रदेश के कुम्हार लाभ उठा रहे हैं। बेहतर बाजार के अवसर के लिए रोजगारोन्मुख यहां ट्रेनिंग दी जा रही है। 

दीपावली के मद्देनजर शिल्पियों द्वारा कलात्मक दीए बनाए गए हैं जिसकी प्रदशर्नी एवं बिक्री 11 अक्टूबर से मरीन ड्राइव में प्रारंभ होगी। प्रदर्शनी में माटी शिल्पियों द्वारा बनाए गए। कलात्मक दीए की खरीदी की जा सकेगी। 

 


Date : 10-Oct-2019

वीडियो कान्फ्रेंसिंग से राष्ट्रीय स्तर पर डॉ. गुप्ता का छात्रों, शोधार्थियों और प्राध्यापकों को मीडिया मैंनेजमेंट एंड कम्युनिकेशन स्ट्रेटजी पर व्याख्यान दिया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 10 अक्टूबर।
छत्तीसगढ़ महाविद्यालय के प्राध्यापक डॉ तपेश चन्द्र गुप्ता द्वारा गुरुवार को केरल, हरियाणा और गुजरात के छात्रों को संयुक्त रूप से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से छात्रों, शोधार्थियों और प्राध्यापकों को मीडिया मैंनेजमेंट एंड कम्युनिकेशन स्ट्रेटजी पर व्याख्यान दिया गया। यह कार्यक्रम कोच्चि से नियंत्रित व संचालित रहा। यह पहला अवसर रहा जब छत्तीसगढ़ के शासकीय महाविद्यालय के किसी प्राध्यापक द्वारा राष्ट्रीयस्तर पर ऑनलाइन व्याख्यान दिया गया है। 

वाणिज्य एवं प्रबंधन के छात्रों ने इस व्याख्यान को रूचिकर एवं रोजगार मूलक माना तथा उन्होंने व्याख्यान के माध्यम से इंटरनेट से व्यापार और विज्ञापन के महत्व को जाना। इस आयोजन के लिए नि:शुल्क सेवा दी गई।

 


Date : 10-Oct-2019

टेबल टेनिस संघ रायपुर द्वारा 13 से 16 अक्टूबर तक सप्रे शाला टेनिस हॉल में टेबल टेनिस प्रतियोगिता का आयोजन 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 10 अक्टूबर।
रायपुर टेबल टेनिस संघ रायपुर द्वारा 13 से 16 अक्टूबर तक सप्रे शाला टेनिस हॉल में रायपुर जिला टेबल टेनिस प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। प्रतियोगिता के तहत पुरूष महिला एकल, यूथ, बालक-बालिका एकल, जूनियर बालक-बालिका एकल, सब जूनियर बालक बालिका एकल सहित 10 वर्गों में स्पर्धा आयोजित की जाएगी। राजधानी टेबल टेनिस संघ सचिव विनय बैसवाड़े द्वारा प्राप्त जानकारी अनुसार प्रतियोगिता में भाग लेने के इच्छुक खिलाड़ी 12 अक्टूबर तक पंजीयन करा सकते हैं। 


Date : 10-Oct-2019

विद्या मितान शिक्षकों का धरना, करीब 8 सौ विद्या मितान शिक्षक नौकरी से हटा दिए गए हैं

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 10 अक्टूबर। नौकरी से हटाए गए सैकड़ों विद्या मितान शिक्षक यहां बेमियादी धरने पर बैठ गए हैं। उनका कहना है कि कांग्रेस ने सत्ता में आने के पहले उन सभी को नियमित करने का वादा किया था, लेकिन उनके सत्ता में आने के बाद वे सभी एक-एक कर नौकरी से बाहर किए जा रहे हैं, जिससे उनमें रोष है।

प्रदेश के आदिवासी-मैदानी क्षेत्र के स्कूलों में 2016 से सैकड़ों विद्या मितान शिक्षक नियुक्त किए गए। प्लेसमेंट एजेंसी के माध्यम से रखे गए इन शिक्षकों द्वारा समय-समय पर धरना-प्रदर्शन कर नियमित करने की मांग की जाती रही, तभी सरकार बदल गई। कांग्रेस सरकार अब उन सभी को रिक्त पदों पर नियमित करने के बजाय उन्हें बाहर का रास्ता दिखाने में लगी है। करीब 8 सौ विद्या मितान शिक्षक नौकरी से हटा दिए गए हैं। बाकी शिक्षकों की भी एक-एक कर छुट्टी की जा रही है।

विद्या मितान शिक्षक कल्याण संघ की प्रदेश अध्यक्ष अंजू वर्मा व अन्य पदाधिकारियों का कहना है कि कल उनकी सीएम भूपेश बघेल से जन चौपाल में चर्चा हुई। इस दौरान उन्हें याद दिलाया गया कि उन सभी को नियमित करना कांग्रेस के घोषणा पत्र में शामिल है। शिक्षकों की समस्याएं सुनने के बाद सीएम ने उनसे कहा कि उनके लिए जगह कम है। ऐसे में वे सभी नियमित भर्ती के लिए आवेदन कर सकते हैं। शिक्षकों ने चेतावनी दी है कि उनकी मांगों पर विचार न करने पर वे सभी बेमियादी हड़ताल जारी रखते हुए उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।