छत्तीसगढ़ » बालोद

Previous123Next
Date : 04-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बालोद, 4 अप्रैल।
शनिवार को बालोद नगर के जवाहर पारा के एक मकान से लगभग 11 लीटर कच्ची शराब व शहर से लगे ग्राम बघमारा में 14 लीटर कच्ची शराब जब्त की गई है।  दो उप निरीक्षकों द्वारा थाना प्रभारी के निर्देशन में यह कार्रवाई की गई है 

ज्ञात हो कि कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए सरकार द्वारा जिले सहित पूरे प्रदेश एवं देश में लॉक डाउन घोषित किया गया है और अभी शराब की दुकानें भी बंद है। ऐसे में कच्ची शराब खपाने शराब कारोबारी सक्रिय हैं। जिन पर लगाम कसते हुए बालोद थाना द्वारा लगातार कार्रवाई की जा रही है।

पांडे पारा में जिस घर से शराब की जब्ती हुई, उस घरवालों द्वारा पुलिस के साथ ही सहयोग नहीं किया जा रहा था, जहां दल बल के साथ उन्हें थाने लाया गया।

पांडे पारा में एक घर से ही यहां अवैध शराब का कारोबार चलाया जा रहा था तो ग्राम बाघमारा में मंदिर का आड़ लेकर वहां से कच्ची शराब का कारोबार चलाया जा रहा था। पुलिस द्वारा इसमें 34(2) के तहत कार्रवाई की जा रही है और दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिसमें जवाहर पारा से मेहरून निशा और बघमारा से अनीश कुमार ठाकुर शामिल हैं।


Date : 31-Mar-2020

हेल्पलाइन से पत्रकार ने की पहल तब धुर नक्सल क्षेत्र में फंसे मजदूरों को मिला राशन

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 31 मार्च। लॉकडाउन के चलते कोई भी व्यक्ति एक जगह से दूसरी जगह नहीं जा पा रहा है। सबसे ज्यादा परेशानी दिहाड़ी मजदूरों को हो गई है जो अपना घर छोडक़र अन्य जिलों में काम करते हैं। हेल्पलाइन के माध्यम से पत्रकार की पहल पर धुर नक्सल क्षेत्र में फंसे मजदूरों को राशन व दैनिक उपयोग का सामान मिला।

बालोद एवं राजनांदगांव जिले के श्रमिक मजदूरों का एक समूह कांकेर जिले के धुर नक्सल क्षेत्र ग्राम भैंस गांव में फंसे होने की जानकारी बालोद के वरिष्ठ पत्रकार सलीम चौहान को हुई। उन्होंने तत्काल समस्त मजदूरों की सूची प्राप्त कर राज्य के श्रम विभाग के श्रम सचिव द्वारा जारी जिले के लिए हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर में इसकी जानकारी दी। बालोद कलेक्टर रानू साहू के निर्देश पर बालोद के लेबर ऑफिसर द्वारा इसका तत्काल निराकरण कर अपने विभाग के अधिकारी कर्मचारियों की मदद से समस्त मजदूरों हेतु ग्राम भैंसगांव में राशन एवं दैनिक उपयोग की वस्तुएं पहुंचाई गई।

 मजदूरों के पास खाने को एक दाना भी नहीं था और कहीं बाहर भी नहीं जा सकते थे सबसे खास बात यह है कि जैसे ही शिकायत की गई इसकी कार्रवाई तत्काल प्रभाव से बालोद कलेक्टर रानू साहू के निर्देशन में लेबर ऑफिसर संजय सिंह के द्वारा त्वरित इस दिशा में अन्य जिले के कलेक्टर एवं श्रम विभाग के अधिकारियों से चर्चा कर महज 4 घंटे के भीतर धुर नक्सली क्षेत्र ग्राम भैंस गांव में मालवाहक से राशन पहुंचा दिया गया। इस महामारी की वजह से आपात स्थिति से निपटने श्रम विभाग द्वारा श्रमिक हितों के लिए तत्काल सहायता पहुंचाने को श्रम सचिव सोनमणि बोरा की निगरानी में कार्य किया जा रहा है। मजदूरों को जैसे ही राशन प्राप्त हुआ समस्त मजदूरों के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ गई एवं सभी ने इस सहायता से जुड़े लोगों का आभार व्यक्त किया।

श्रम पदाधिकारी संजय सिंह  का कहना है कि सलीम चौहान के माध्यम से यह जानकारी प्राप्त हुई जिसके बाद से कलेक्टर तक यह बात पहुंचाई गई दूसरे जिले के श्रम विभाग के अधिकारियों से संपर्क कर उन तक राशन पहुंचाया जा सका है।

वरिष्ठ पत्रकार सलीम चौहान का कहना है कि जैसे ही मुझे इस बात की जानकारी मिली सबसे पहले सूची के सहित सभी मजदूरों का नाम पता एकत्र किया, इसके बाद हेल्पलाइन के माध्यम से इसकी जानकारी दी गई। जिसके बाद जिला कलेक्टर एवं श्रम विभाग द्वारा त्वरित कार्रवाई की गई।


Date : 30-Mar-2020

बालोद कलेक्टर की पहल लॉक डाउन के दौरान जिले में खुला अनाज बैंक

बालोद, 30 मार्च।  कोविद 19 को लेकर पूरे प्रदेश में लॉक डाउन की स्थिति है और कई जरूरतमंदों के बीच जीवन यापन की समस्या आन पड़ी है ऐसे में बालोद कलेक्टर रानू साहू द्वारा एक अनोखी पहल करते हुए अनाज बैंक की शुरुआत की गई है इस बैंक से हर जरूरतमंद तक विशेष मॉनिटरिंग के साथ अनाज दैनिक उपयोगी वस्तुओं जिसमें साबुन, दाल, चावल, गेहूं निरमा आदि शामिल है इस शुरुआत के बाद से दानदाता भी भारी संख्या में दान कर रहे हैं एसडीएम श्री थामस और तहसीलदार रश्मि वर्मा स्वयं इस कार्य की निगरानी कर रहे हैं।

सोमवार से ही इस बैंक की शुरुआत हो गई है और भारी संख्या में लोग यहां दान करने पहुंच रहे हैं और 11 वस्तुओं की विशेष मॉनिटरिंग एसडीएम तहसीलदार नायब तहसीलदार के माध्यम से की जा रही है इस कड़ी में जैन श्री संघ एवं युवा जैन समाज द्वारा 100 पैकेट कीट बनाई गई है जिसमें एक किट में दैनिक उपयोग की सभी सामग्री शामिल है इससे लगभग तीन से चार दिन का जीवन यापन एक परिवार द्वारा आराम से किया जा सकता है साथ ही जिले के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार शिव जयसवाल दानवीर साहू एवं अनिश राजपूत ने भी अपने-अपने घरों से लाकर अनाज दान स्वरूप दिए।

 बालोद एसडीएम सिल्ली थॉमस ने बताया कि इस पहल का बेहतरीन प्रतिसाद मिल रहा है लोग बढ़-चढ़कर दान करने आ रहे हैं साथ ही अब ऐसे गरीब लोगों की सूची भी आ रही है जिन्हें लॉक डाउन के दौरान दिक्कतें हो रही है एसडीएम ने बताया कि सभी को बढ़-चढ़कर और आगे आना चाहिए साथ ही उन्होंने दावा भी किया कि लॉक डाउन के दौरान सभी समाज एक दूसरे के सहयोग के लिए तत्पर हैं और बालोद जिले में कहीं भी विकट स्थिति निर्मित नहीं होगी सभी के लिए लालन-पालन की व्यवस्था इस बैंक के माध्यम से हो रही है।

 केवल अनाज ही दैनिक उपयोगी सामान में नहीं आता इसके साथ ही साबुन निरमा तौलिए कपड़े भी इसमें शामिल है इसके तहत लोग अलग-अलग तरह से सामान लेकर पहुंच रहे हैं इसका केवल एक ही उद्देश्य है लॉक डाउन के दौरान किसी को यहां-वहां भटकना न पड़े सभी अपने घरों में रहे और सुरक्षित रहे शासन प्रशासन के इस अपील का पालन पूरा पूरा हो सके।

 


Date : 30-Mar-2020

8वीं की दो छात्राओं ने सडक़ पर तैनात जवान से कहा- पॉकेटमनी से बचाए हैं, मुख्यमंत्री को दे देना

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 30 मार्च। कोरोना से कहर से पूरे देश में जहां लॉक डाउन है। इस बीच 2 बालिकाओं ने कोरोना पीडि़तों के पॉकेटमनी देकर मिसाल पेश की है। कुछ जगहों से ऐसी बेहतरीन चीजें निकल कर आती है जो कि बताती है कि भारत एक ऐसा देश है जहां सभी एक दूसरे की मदद के लिए आगे आते हैं। बालोद नगर में भी कुछ ऐसा ही हुआ। सडक़ पर तैनात पुलिस के जवान जो कि कोरोना से बचाव को लेकर लॉकडाउन का पालन कराने लोगों से अपील करने खड़े हुए थे। ऐसे में दो बालिकाएं अपने घरों से उस जवान के पास आकर पहुंचीं और एक छोटा सा लिफाफा दिया और कहा- अंकल जी हमारे पॉकेटमनी में से बचाए हुए कुछ पैसे हैं, जिन्हें हम कोरोना पीडि़तों को देना चाहते हैं आप प्लीज इसे मुख्यमंत्री जी को दे देना। हम लोग काफी दिनों से स्कूल नहीं गए हैं यह बीमारी जल्दी ठीक होगी तो हम सब वापस स्कूल जा पाएंगे और हमारा शहर पहले जैसा हो पाएगा। इसे देख जवान काफी खुश हुए और बच्चियों की बुद्धिमता ने काफी प्रेरित किया। जवान ने बताया कि लिफाफे में क्या है मुझे तो नहीं पता पर मैं उनके समझदारी से काफी प्रेरित हुआ हूं। बच्चे मासूम है और उनके साफ दिल में केवल यही बात है कि हम सुरक्षित रहें हमारा देश सुरक्षित रहे और सभी की मदद हो।

आठवीं कक्षा की बच्चियों द्वारा दिए गए लिफाफे में बेस्ट विशेष के साथ पल्लवी और उपासना नाम लिखा हुआ है साथ ही नीचे लिखा गया है कि कोरोना पीडि़तों के लिए दान।


Date : 26-Mar-2020

झलमला गंगा मैया मंदिर के पट बंद, जली 1 जोत, दुकानें भी बंद, बिना लाउडस्पीकर के हो रही आरती

सरकार के अगले आदेश पर खुलने का लगाया बोर्ड 

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 26 मार्च। कोरोना के खौफ से चैत्र नवरात्रि की रौनक खत्म हो गई है। जिले का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल झलमला के गंगा मैय्या में केवल एक ही ज्योति कलश प्रज्जवलित किया गया है। मंदिरों से ना ही घंटों की आवाज सुनाई दी और ना ही भक्तों ने मंदिरों की चौखट पर माता के जयकारे लगाए। ऐसा ही कुछ नजारा बालोद शहर का देखने को मिला। जहां चैत्र नवरात्र के पहले दिन मंदिरों के कपाट बंद दिखे। इतिहास में पहली बार ऐसा है कि नवरात्रि में मंदिरों के कपाट पर ताला दिखा। जो भक्त माता के दर्शन के लिए वो भी बाहर से दर्शन वापस लौट आए।

कोरोना वायरस के खतरे के बीच नवरात्रि चल रही है।जिले के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब किसी भी मंदिर में सामूहिक जोत नहीं जली। ना ही जंवारा स्थापित होगा। एक पुजारी, एक जोत के भरोसे 9 दिन की नवरात्रि पूरी होगी। ना मंदिर में श्रद्धालु दर्शन करने आ सकेंगे, ना वहां सामूहिक पूजा पाठ कर सकेंगे। कोरोना को लेकर जारी अलर्ट व 31 मार्च तक कर्फ्यू के कारण यह व्यवस्था जिले के सभी मंदिरों में लागू कर दी गई है। जिसका पालन करना भी अनिवार्य होगा।

जिले के बड़े मंदिरों में इस पर एक दिन पहले से ही सख्ती शुरू हो चुकी है। झलमला के गंगा मैया मंदिर को एक दिन पहले ही बंद कर दिया गया है। बोर्ड लगा दिया गया है कि यह मंदिर अब सरकार के अगले आदेश पर ही खुलेगा। लोग नवरात्रि के किसी भी दिन मंदिर के अंदर नहीं जा सकेंगे। ना ही वहां कोई दुकानें लगी है। सबको पहले से ही खाली करवा दिया गया है। अगर भक्तों को दर्शन करने आना है तो वे दर्शन नहीं कर सकेंगे। अगर उन्हें माता को कोई भेंट चढ़ाना है तो भी उन्हें मंदिर में प्रवेश नहीं मिलेगा। उन्हें कहा गया है कि गेट के बाहर ही जो भी चढ़ावा हो, छोडक़र चले जाए। भीतर आने की जरूरत नहीं है।

मंदिर प्रमुखों की बैठक लेकर एसडीएम ने धार्मिक व सांस्कृतिक आयोजनों को रद्द तो करवा ही दिया था लेकिन कर्फ्यू के चलते अब वहां किसी भी तरह की सामूहिक पूजा पाठ और आरती तक नहीं होगी। माता सेवा, जस गीत भी नहीं होंगे। पांच से ज्यादा श्रद्धालु मंदिर परिसर में इक_ा भी नहीं हो सकेंगे।

चंडी मंदिर में पहली बार नहीं हुआ जंवारा की स्थापना

शहर के पुराना बस स्टैंड स्थित चंडी मंदिर को हमाल संघ द्वारा संचालित किया जाता है। यहां दोनों नवरात्र महोत्सव पर कई आयोजन होते थे। जंवारा स्थापित किया जाता था। लेकिन पहली बार कोरोना के असर के कारण यहां जवारा स्थापना नहीं किया गया है। सिर्फ जोत जलेंगे। जिनकी देखरेख के लिए 2 सदस्य और पुजारी तैनात हैं। मंदिर के भीतर श्रद्धालुओं का प्रवेश भी प्रतिबंधित किया है। पहले से यहां भी बोर्ड लगा दिया गया है। बाहर से ही लोगों को दर्शन करने की इजाजत नहीं दी गई हैं। इसके लिए अलग से बेरिकेड्स बांध दिया गया है। ताकि लोग बाहर से ही दर्शन करके जाते रहे। समिति के घनश्याम कुमार ने बताया कि इस बार नवरात्रि में नौ दिनों तक लाउडस्पीकर भी नहीं बजाएंगे। आरती होगी तो सिर्फ पुजारी द्वारा। बाकी लोगों को आने की इजाजत नहीं रहेगी। लाउडस्पीकर बजने से कई लोग आरती के समय इक_ा हो जाते हैं। इसलिए इस बार बिना किसी ध्वनि विस्तारक यंत्र के पूजा अर्चना की जा रही हैं।

30 साल से 801 जोत, इस साल केवल एक ज्योति

जानकारी के अनुसार गंगा मैय्या में सन् 1977 से जोत जलाने की शुरुआत हुई थी। पहले कम जोत जलते थे। फिर श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ती गई और 30 साल से 8 01 जोत यहां जलाए जाते हैं। लेकिन ऐसा पहली बार होगा जब 8 01 जोत जलाने की तैयारी पूरी हो चुकी थी लेकिन कोरोना के खतरे को देखते हुए सिर्फ एक ही ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किया गया हैं।


Date : 26-Mar-2020

लॉकडाउन के बाद भी बुधवारी बाजार में लोगों की उमड़ी भीड़, चौक-चौराहों पर खड़े लोगों को भी पुलिस ने खदेड़ा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 26  मार्च। शहर को लॉकडाउन किए जाने के बाद भी कल शहर के प्रमुख बुधवारी बाजार में लोगों की भीड़ उमड़ गई थी।  लगातार लोग ऐसी जगहों पर आवाजाही कर रहे थे। इसके चलते इन क्षेत्रों में कोरोना के संक्रमण का खतरा बढ़ गया था। इसे देखते हुए एसडीएम थामस सिल्ली, तहसीलदार रश्मि वर्मा व नगर पालिका के कर्मचारी बुधवारी बाजार पहुंचकर लोगों से भीड़ कम करने की अपील करते हुए जल्द से जल्द समान खरीदने के बाद घर की ओर प्रस्थान करने की चेतावनी दे रहे थे।

लॉकडाउन की घोषणा के बाद बुधवार सुबह किराना दुकानों, डेलिनीड्स, सब्जी,फल की खरीददारी करने के लिए लोगों की भारी भीड़ देखी गई। वहीं राज्य शासन ने लोगों के खाने पीने का समान खरीदने के लिए सुबह 7 से दोपहर 2 बजे तक समय निर्धारित किया है। जिसके तहत लोग अपनी रोजमर्रा की वस्तुएं खरीदने के लिए बाजार पहुंचे थे।

जिले को लॉकडाउन करने के निर्देश जारी कर दिए थे। जिसका असर बुधवार को मुख्य बाजार में देखने को मिला। कलेक्टर ने सुबह 7 से लेकर दोपहर 2 बजे तक राशन दुकानें, सब्जी दुकानें खोलने के निर्देश दिए हैं। मुख्य बाजार में सुबह 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक सब्जी खरीदारी को लेकर लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। हालात यह थे कि पैर रखने की जगह नहीं थी। अचानक लोगों के आवागमन के बाद जाम जैसे हालात बन गए।

औने पौने दामों में बेची हरी सब्जी

सब्जी मार्केट में गांव से आए सब्जी विक्रेताओं में भी कोरोना का भय रहा। मार्केट बंद को लेकर वे सब्जी औने पौने दाम पर बेचते दिखाई दिए। सब्जी विक्रेताओं ने बताया कि प्रतिदिन बाहर से सब्जी आती थी लेकिन बसें बंद होने से माल नहीं आ पा रहा है। जिसके चलते अब क्षेत्र के आसपास इलाकों से आ रही हरी सब्जी खरीदकर ही काम चलना पड़ रहा है। अब टमाटर, आलू, प्याज, बैगन, गोभी, धनिया के दामों में बढ़ोत्तरी होना तय है।

पुलिस ने बंद करवाया मार्केट

नगर पालिका द्वारा सुबह शहर में ऐलान करते हुए सब्जी मार्केट एवं राशन दुकानें दोपहर 2 बजे तक ही खोलने कहा गया था लेकिन दोपहर 2 बजे के बाद मार्केट बंद होता दिखाई नहीं दिया तो स्थानीय प्रशासन शहर में भ्रमण के लिए निकल पड़ा। एसडीएम थामस सिल्ली ,तहसीलदार  व मुख्य नगर पालिका अधिकारी सोनी,  ने बाजार में खुली राशन दुकानें, सब्जी दुकाने बंद करवाई। इसके अलावा चौक-चौराहों पर खड़े लोगों को भी पुलिस ने खदेड़ा।

एसडीएम ने बताया कि प्रतिदिन राशन दुकान व सब्जी दुकानें 2 बजे तक खुलेंगी। इस दौरान यदि कोई दुकान खोलता है तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। वहीं नगर पालिका द्वारा सडक़ों पर दवा का छिडक़ाव किया जा रहा है। घरों व आसपास विशेष सफाई के निर्देश दिए जा रहे हैं।


Date : 26-Mar-2020

1-1 मीटर की दूरी पर चूने का ट्रक बनाने मेडिकल संचालकों को कलेक्टर ने दिया निर्देश

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 26  मार्च। कोरोना वायरस के प्रकोप के खिलाफ जंग में पीएम मोदी ने पूरे देश के 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान करने के बाद बालोद नया बस स्टैंड में स्थित गंगा मैय्या मेडिकल के संचालक ने दूरी बनाने के लिए मेडिकल के बाहर चूने से एक एक मीटर की दूरी पर ट्रैक बनाया है जिससे लोग दूर खड़े रहकर दवाई खरीद कर सकें। इसके साथ ही हर आने वाले ग्राहकों के लिए हाथ धोने के लिए डेटॉल साबुन व पानी की व्यवस्था की गईहै,  ग्राहक भी हाथ धोकर ही दवाई लेने काउंटर तक पहुंच रहे हैं। लेकर सोशल मीडिया पर ये तस्वीर काफी वायरल हुई।लोग भी सोशल मीडिया पर मेडिकल संचालक की सराहना करते हुए अन्य सभी मेडिकल स्टोर्स में ऐसी सुविधा देने की अपील कर रहे थे।

उक्त खबर सोशल मीडिया में पोस्ट होने के बाद कलेक्टर ने तत्काल संज्ञान लेते हुए जिले के सभी मेडिकल स्टोर्स के सामने एक एक मीटर की दूरी बनाए रखने के लिए चूने का टै्रक बनाने के लिए मेडिकल स्टोर्स के संचालकों को निर्देशित किया है।


Date : 26-Mar-2020

बालोद जिला मुख्यालय में अब नए बस स्टैंड पर भी लगेंगी सब्जी दुकान

बुधवारी बाजार में उमड़ी भीड़ को देखते हुए स्थानीय व पालिका प्रशासन ने लिया फैसला

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 26  मार्च। कोरोना कफ्र्यू के बावजूद बालोद बुधवारी बाजार में कल सुबह से ही लोगों की भारी भीड़ देखी गई जिसको हटाने में प्रशासन को भारी मशक्कत का सामना करना पड़ा। इसकी जानकारी बालोद कलेक्टर को दी भी गई थी। कलेक्टर ने सब्जी व्यवसायियों को मुख्यालय के अलग-अलग जगहों पर सुव्यवस्थित तरीके से बैठाने की व्यवस्था की पहल करने की बात कही थी।   जिसके बाद स्थानीय व पालिका प्रशासन ने नए बस स्टैंड में सब्जी दुकान लगवाने का फैसला लिया है।

कल सुबह से ही बुधवारी बाजार में लगी अव्यवस्थित दुकानों की चर्चा सोशल मीडिया पर भी चलती रही। इसकी जानकारी बालोद नगर पालिका अध्यक्ष को लगने के बाद उन्होंने सबसे पहले अपने विभागीय कर्मचारियों से बैठक कर वार्डों में रह रहे बुजुर्ग दंपत्तियों तक आसानी से राशन और जरूरत का समान पहुंचाने वॉलेंटियर की टीम बनाई। जिसके बाद बाजार में उमड़ी भीड़ को व्यवस्थित करने अब बाजार को शहर के अलग-अलग जगहों में लगाने की बातों को अमल में लाते हुए बुधवारी बाजार के अलावा अब नए बस स्टैंड में भी सब्जी व्यवसायियों को बैठाने की व्यवस्था की गई है। अब नए बस स्टैंड पर करीब 50 फुटकर सब्जी व्यवसायियों को बैठाने की व्यवस्था की गई।

बालोद नपाध्यक्ष ने छत्तीसगढ़ संवाददाता को बताया कि फुटकर सब्जी व्यवसायियों को नगर के अलग-अलग चौक-चौराहों पर सब्जी की अस्थाई दुकान लगाने की व्यवस्था भी की जा रही है ताकि शहर के भीतर कही भी भीड़ की स्थिति निर्मित न हो। यही नहीं इन दुकानों पर चूने लाइनिंग की जा रही है ताकि सब्जी लेने के दौरान लोग कम से कम एक दूसरे से एक मीटर की दूरी पर रहें। यही नहीं इस वायरस के लगातार बढऩे के बावजूद लोगों में कई तरह की लापरवाही भी देखने को मिली है। लोग बिना मास्क के ही एक दूसरे के संपर्क में आ रहे हैं। ऐसी स्थिति को देखते हुए यह भी तय किया जा रहा बिना मास्क लगाए बाजारों में पहुंचने वाले लोगों को किसी भी तरह का सामान उपलब्ध ना कराया जाए।


Date : 24-Mar-2020

जनप्रतिनिधियों व लोगों ने की जिला-पुलिस प्रशासन के कार्यों की प्रशंसा 
छत्तीसगढ़ संवाददाता
डौंडीलोहारा, 24 मार्च।
प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के आव्हान के बाद 22 मार्च को जनता कफ्र्यू को सफल बनाने जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन की मुस्तैदी के चलते नगर पंचायत डौंडीलोहारा में पूर्णत: बन्द देखने को मिला तथा लोग अपने घरों में रहे शासन के निर्देशों का पालन किया। इस दौरान सोमवार को बड़ी संख्या में लोगों ने प्रशासन के दिशानिर्देशों का पालन कर प्रशासन के सहयोग करने का भी संकल्प लिया। इस दौरान नगर व जिले के जनप्रतिनिधियों ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की तथा जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन  द्वारा इस महामारी के प्रकोप से निपटने किये जा रहे प्रयासों की थाली व ताली बजाकर जमकर सराहना की तथा जब तक इस बीमारी का खतरा पूरी तरह टल नहीं जाता प्रशासन का सहयोग करने का संकल्प लिया। वहीं सोमवार को भी जिला प्रशासन के आदेश पर कुछ जरूरी वस्तुओं की दुकानों को छोड़ अन्य सभी ने अपनी-अपनी दुकानें बंद रखी। जिला प्रशासन के आदेश का पालन किया। वहीं कुछ दुकानों को पुलिस द्वारा सख्ती करते हुए बन्द भी कराया गया।

जनप्रतिनिधियों व लोगों  ने दी प्रतिक्रियाएं 
नगर पंचायत अध्यक्ष डौंडीलोहारा लोकेश्वरी साहू ने कहा कि कलेक्टर रानू साहू, एसपी एम एल कोटवानी एवं स्वास्थ्य विभाग व मीडिया कर्मियों के प्रयासों से डौंडीलोहारा में बंद का शत प्रतिशत समर्थन देखने को मिला। सभी ने जनता कफ्र्यू का समर्थन करते हुए प्रशासन का सहयोग किया। जब तक इस माहामारी का खतरा पूरी तरह समाप्त नहीं हो जाता नगर पंचायत प्रशासन स्थानीय स्तर पर जिला प्रशासन व लोगो की हर संभव मदद करेगा।

बालोद जिला कांग्रेस अध्यक्ष चंद्रप्रभा सुधाकर ने कहा कि एक ओर जहां सभी लोग कोरोना वायरस के प्रकोप से बचने विशेष सावधानी बरत रहे हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन लोगों को सुरक्षित रखने एवं शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने में अहम भूमिका निभा रही है तथा मुस्तैदी से कार्य कर रहे हैं जिससे लोगों को कई प्रकार से सहयोग प्राप्त हो रहा है ।इसके लिए उन्हें सम्मानित किया जाना चाहिए। हम सभी प्रशासन की हर संभव मदद करने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं।

नगर पंचायत डौंडीलोहारा वार्ड क्रमांक 06  पार्षद माया ठाकुर ने बताया कि जिला व पुलिस प्रशासन के अलावा स्थानीय प्रशासन द्वारा भी मुस्तैदी दिखाते हुए लगातार लोगों को जागरूक करने का कार्य किया जा रहा है। नालियों में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कराया जा रहा है इसके अलावा आवश्यक वस्तुओं को छोड़कर अन्य व्यापारियों द्वारा भी मिलजुलकर इस संकट की स्थिति का सामना किया जा रहा है।

वरिष्ठ कांग्रेसी व व्यापारी अनिल लोढ़ा ने कहा कि जिला व पुलिस प्रशासन इस वैश्विक महामारी से निपटने व लोगों को जागरूक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। प्रदेश सरकार भी इस संकट की घड़ी से निपटने गंभीर प्रयास कर रही है। इसके लिए सभी का सम्मान किया जाना चाहिए। हर वर्ग को जिला व पुलिस प्रशासन के आदेश का पालन करना चाहिए। 

लॉ स्टूडेंट विकास ओटवानी ने कहा कि नोवल कोरोना वायरस जैसी महामारी से सामूहिक प्रयास से ही निपटा जा सकता है। बालोद जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन ने इस दिशा में सराहनीय प्रयाश किया है।आम लोगों व व्यापारियों को भी चाहिए कि इसमें प्रशासन का सहयोग करे। जनभागीदारी से ही इस समस्या पर जीत पाई जा सकती है।

 


Date : 23-Mar-2020

ताली, थाली और शंख बजा जताया आभार
छत्तीसगढ़ संवाददाता 
डौंडीलोहारा, 23 मार्च।
रविवार शाम को पांच बजते ही लोगों ने थाली, ताली व शंख बजाकर उन लोगों के प्रति धन्यवाद व साधुवाद जताया जो विषम परिस्थितियों में भी अपने-अपने कर्तव्यों के प्रति डटे हुए हैं। पुलिस कर्मी, स्वास्थ्य कर्मी, सैनिक व मेडिकल सेवा से जुड़े लोगों के प्रति धन्यवाद दिया। 

इस दौरान किसी के हाथ में शंख था तो किसी के हाथ में थाली तो किसी ने बजाई ताली, तो किसी ने घण्टी से तो कइयों ने मंदिर का घण्टा बजाया। सबने अपने-अपने स्तर पर कोरोना शांति के लिये विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान व साधना आराधना भी की। अनेकों ने अपने इष्टदेव को याद किया व अनेकों ने हनुमान चालीसा का पाठ किया।

जैन समुदाय ने किया नवकार जाप
नगर के जैन समुदाय ने अपने-अपने घरों में नवकार महामंत्र का सामूहिक जाप भी किया। अपने-अपने परिवार के साथ मिल बैठकर अपने-अपने धर्म गुरु व इष्टदेव को याद करते हुए कोरोना शांति की प्रार्थना भी की। हस्तीमल जी सांखला जसराज शर्मा विनोद राकेश सांखला सावित्री यादव सरोज जैन कुसुम शर्मा ललिता जैन ललिता यादव नीलम हनुमान दाऊ नितिन यादव चिंटू डोसी नेहा  राखी  मोनू आदि जन उपस्थित थे


Date : 23-Mar-2020

मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति पर सांसद मोहन को दी बधाई
छत्तीसगढ़ संवाददाता 
डौंडीलोहारा, 23 मार्च।
कांकेर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत वर्षों से लंबित मांग मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति पर जिला मंत्री महिला मोर्चा कुसुम शर्मा ने आभार जताते हुए बधाई दी।

ज्ञात हो कि हाल ही में सांसद मोहन मंडावी द्वारा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से मुलाकात कर मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति कराई गई है। सांसद की पहल पर स्वास्थ्य मंत्री ने मेडिकल कॉलेज इसी सत्र से प्रारंभ करने पर मुहर लगा दी इसके अलावा कांकेर जिला अस्पताल में प्रधानमंत्री डायलिसिस योजना शुरू हो चुकी है जहां पर नि:शुल्क डायलिसिस किया जाएगा। सांसद मोहन मंडावी ने इस हेतु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, का आभार जताया है।        

जिला मंत्री महिला मोर्चा बालोद कुसुम शर्मा ने छत्तीसगढ़ संवाददाता को बताया कि सांसद मोहन मंडावी द्वारा क्षेत्र में कई कार्य स्वीकृत कराये गए हैं। सांसद द्वारा लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत बालोद जिले में प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत कुल 249 किलोमीटर सड़क निर्माण तथा कांकेर जिले के लिए 200 किलोमीटर सड़क निर्माण की अनुशंसा की गई थी जिसके लिये करोड़ों रूपये की राशि स्वीकृत की गई है। जंसमपर्क राशि 4 लाख रुपये, 90 लाख टीन सेड निर्माण कार्य, बालोद जिला में 7 दिव्यांग यात्री प्रतीक्षालय, कांकेर में आकांक्षी प्रधानमंत्री सोलर योजना के तहत केंद्र से 75 परसेंट राशि पीएमओ से आएगा जिसमें 25 पच्चीस परसेंट राशि सांसद निधि से श्री मोहन ने दी है। इसके अलावा बस्तर विकास प्राधिकरण से 30 लाख रुपए मुख्यमंत्री समग्र योजना से 45 लाख रुपए इस तरह इस तरह सांसद निधि से कुल ढाई करोड़ रुपए खर्च किए  गए हैं काकेर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत सांसद द्वारा कुल 4 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं।

 


Date : 23-Mar-2020

विद्या शर्मा ने जताया कलेक्टर  व एसपी का अभार
डौंडीलोहारा, 23 मार्च।
प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के आव्हान के बाद 22 मार्च को जनता कफ्र्यू को सफल बनाने जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन की मुस्तैदी के चलते नगर पंचायत डौंडीलोहारा में पूर्णत: बन्द देखने को मिला तथा लोग अपने घरों में रहे। इस पर नगर पंचायत उपाध्यक्ष विद्या शर्मा ने कलेक्टर रानू साहू, एसपी एम एल कोटवानी  एवं स्वास्थ्य विभाग व जिला के मीडिया कर्मियों का आभार व्यक्त किया तथा सभी को अपने कार्यों के लिए धन्यवाद दिया। 

उपाध्यक्ष विद्या शर्मा ने कहा कि एक ओर जहां सभी लोग कोरोना वायरस के प्रकोप से बचने विशेष सावधानी बरत रहे हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन लोगों को सुरक्षित रखने एवं शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने मुस्तैदी से कार्य कर रही है जिससे लोगों को कई प्रकार से सहयोग प्राप्त हो रहा है। जिसमें मीडिया कर्मी विशेष भूमिका निभा रहे हैं। स्थानीय प्रशासन द्वारा भी मुस्तैदी दिखाते हुए लगातार लोगों को जागरूक करने का कार्य किया जा रहा है। नालियों में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कराया जा रहा है। खाद्य व्यापारी भी सहयोग कर अपनी भूमिका निभा रहे हैं।

 


Date : 21-Mar-2020

नवविवाहिता की हत्या में पति व सास-ससुर गिरफ्तार, पिता ने हत्या करने का संदेह कर आईजी-एसपी से की थी जांच की मांग

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बालोद, 21 मार्च।
बीते 30 अगस्त को एक नवविवाहिता की संदिग्ध अवस्था में मौत के मामले में पुलिस ने पति व सास-ससुर को गिरफ्तार कर लिया है। छ: माह पूर्व मृतका के पिता ने हत्या का संदेह कर आईजी व एसपी से जांच की मांग की थी।

ज्ञात हो कि 10 मई को मालेश्वरी की शादी डौंडीलोहारा निवासी कुलदीप मालेकर से हुई थी। उसकी अचानक मौत के बाद स्थानीय चिकित्सक ने उसकी मौत को सामान्य बता दिया था, लेकिन मृतका के मायके पक्ष के परिजनों को संदेह था कि कुछ दिन पूर्व मायके से ससुराल गई बेटी स्वस्थ थी तो उसकी मौत कैसी हो गई। इसके बाद परिजनों की शिकायत के बाद पुलिस ने फॉरेंसिक जांच करवाने सैंपल भेजा था। जहां से रिपोर्ट आने के बाद मामला संदिग्ध आने के बाद पुलिस अधीक्षक एम एल कोटवानी के  निर्देशन में  बालोद एसडीओपी अमर सिदार, सीएसपी दल्लीराजहरा अलीम खान व डौंडीलोहारा थाना प्राभारी राजेन्द्र प्रसाद यादव ने आरोपी पति कुलदीप मालेकर, ससुर अमोल सिंह मालेकर व सास उषा बाई के विरुद्ध धारा 302,304 बी(दहेज हत्या),34 के तहत अपराध दर्ज कर तीनों को गिरफ्तार कर लिया है।

एसडीओपी अमर सिदार ने बताया कि मामले में परिजनों द्वारा अपनी बेटी की हत्या करने की आशंका जताने पर विशेष टीम द्वारा पुन: बारीकी से जांच प्रारम्भ की गई। मेडिकोलीगल एक्सपर्ट की सहायता से घटना स्थल का निरीक्षण, गवाहों से पुन: पूछताछ की गई व सभी तथ्यों की बारीकी से जांच की गई। तकनीकी साक्ष्यों व परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर आरोपी पति  कुलदीप मालेकर (25 वर्ष), निवासी वार्ड 5 टिकरापारा से बारीकी से पूछताछ की गई। कड़ाई से पूछताछ पर उसने अपना अपराध कबूल किया।

बालोद एसडीओपी अमर सिदार ने 'छत्तीसगढ़Ó को बताया कि आरोपी एवं उसके परिवार द्वारा विवाह के पश्चात लगातार दहेज कम लाई हो कहकर मालेश्वरी को मानसिक व शारीरिक रूप से प्रताडि़त किया जाता था। बार-बार उसे घर से और दहेज, समान व पैसे लाने कहा जाता था। मना करने पर पति ने मालेश्वरी की हत्या की योजना बनाई तथा 30 व 31 अगस्त की रात्रि मालेश्वरी की गला दबाकर हत्या कर दी।

इसके बाद पति ने अपने माता पिता के साथ मिलकर अपनी पत्नी के बीमारी से मौत होने की कहानी गढ़ी। मालेश्वरी के मृत शरीर को शासकीय चिकित्सा लय डौंडीलोहारा लाया तथा बीमारी से मौत होने बताकर फिर से अपने घर ले गया। घर पर ही पंचनामा हुआ तथा पीएम करवाया गया। पुलिस व परिजनों को यह मामला पहले से ही संदेहास्पद लग रहा था। जिसके कारण बालोद एसडीओपी अमर सिदार के नेतृत्व में दुबारा पूरे मामले की बारीकी से जांच की गई। जिसके बात पति ने हत्या करना स्वीकार किया।

ज्ञात हो कि मामले का खुलासा करने में पिछले दो दिनों से बालोद एससीओपी अमर सिदार के नेतृत्व में पुलिस टीम ने मामले से जुड़े सभी बिंदुओं पर बारीकी से जांच की। इस दौरान सीएसपी राजहरा अलीम खान, निरीक्षक कुमार गौरव साहू, डौंडीलोहारा थाना प्रभारी राजेन्द्र प्रसाद यादव, प्रधान आरक्षक रूमलाल चुरेन्द्र, आरक्षक संदीप यादव व मिथलेश यादव का विशेष योगदान रहा।

एसडीओपी, बालोद विशेष जांच टीम अमर सिदार ने बताया कि शुरुवात से ही पूरा मामला संदेह के दायरे में था। फॉरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद पिछले दो दिनों से मामले से जुड़े सभी बिंदुओं पर पुन: बारीकी से जांच की गई। मालेश्वरी के पति से कड़ाई से पूछताछ करने पर उसने हत्या करना स्वीकार किया। पूरी कार्रवाई में पुलिस टीम का योगदान सराहनीय रहा।


Date : 21-Mar-2020

सभी संस्थान है बंद तो एफसीआई व खाद गोदाम भी हो बंद, मजदूरों व सरपंच ने कलेक्टर के नाम सौंपा ज्ञापन

बालोद, 21 मार्च। बालोद जिला मुख्यालय से 10 किमी की दूरी पर ग्राम जगतरा में धान संग्रहण केंद्र सहित अन्य ऐसे गोदाम स्थापित है जहां लगभग 800 मजदूर कार्य करते हैं, वहां के सरपंच एवं स्थानीय नागरिकों द्वारा कलेक्टर के नाम आज ज्ञापन सौंपा गया कि यहां 800 मजदूर कार्य करते हैं और ट्रकें बाहर से आना-जाना करती है जिसके चलते संक्रमण का खतरा है जिस कारण कार्य बंद करने की मांग की गई।

 ग्राम के सरपंच गजेंद्र कुमार यादव ने बताया कि गांव में कई सारे मजदूर कार्य करते हैं, जिसमें रेजा कुली हमाल आदि शामिल हैं। ट्रक ड्राइवर कंडक्टर सब बाहर से आना-जाना करते हैं। कोरोना के संक्रमण के कारण जहां सभी चीजें बंद है तो यहां भी कार्य बंद करने की आवश्यकता है।

ग्राम के ही एक मजदूर तुकाराम यादव ने बताया कि यहां सभी एक दूसरे के संपर्क में रहते हैं जिससे महामारी का संक्रमण का खतरा मजदूरों में व्याप्त है, जिसके चलते इसे बंद करने की आवश्यकता है।

इस संदर्भ में फूड कॉरपोरेशन के अधिकारियों ने मौखिक रूप से बताया कि जब तक जिला प्रशासन का आदेश नहीं होगा हम इसे बंद नहीं कर सकते। यह आपातकालीन सेवा के अंतर्गत आता है,  साथ ही उन्होंने कहा कि मजदूरों को कोई दिक्कत है तो वह हमें एक पत्र दें, जिसे हम शासन को भेजेंगे। उसके आधार पर निर्णय शासन-प्रशासन का होगा।

फूड कार्पोरेशन के अधिकारी आर एस नयन ने बताया कि हमारे पास अभी बंद करने का कोई भी आदेश प्राप्त नहीं हुआ है हमें भी मजदूरों की चिंता है। उन्होंने कहा कि मजदूरों को यदि दिक्कतें हैं तो वह हमें पत्र लिखकर दें, जिसे हम शासन व प्रशासन तक जिम्मेदारी से पहुंचाएंगे और जो भी निर्णय उनका होगा, उसका पालन किया जाएगा। ज्ञापन देते समय प्रमुख रूप से उदे राम यादव किशोर कुमार निषाद तमेश्वर तिवारी नंद किशोर साहू बाबूलाल निषाद देवेन्द्र धनकर सहित अन्य मौजूद रहे।


Date : 21-Mar-2020

सशिमं के शिक्षक घर-घर जाकर कर रहे थे सर्वे, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष ने किया वापस, फिर प्रबंधन ने दी छुट्टी

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 21 मार्च। बालोद सरस्वती स्कूल प्रबंधन द्वारा शासन के आदेश के बाद भी शिक्षकों से नए बच्चों के एडमिशन के लिए घर-घर जाकर सर्वे कार्य कराए जाने का मामला सामने आया है। एनएसयूआई जिलाध्यक्ष के कहने पर सभी शिक्षक वापस लौटे। जिसके बाद स्कूल प्रबंधन द्वारा स्कूल स्टाफ को छुट्टी दे दी गई।

कोरोना वायरस के चलते जहां राज्य और केंद्र सरकार ने सभी शासकीय व निजी स्कूलों की छुट्टियां घोषित कर दी है वहीं बालोद में सरस्वती शिशु मंदिर द्वारा अपने स्कूल के शिक्षकों को छुट्टी देने के बजाय उनसे नए छात्रों के एडमिशन को लेकर आज घर-घर पहुंच कर सर्वे कराया जा रहा था। जिसकी जानकारी मिलने के बाद बालोद एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष कुलदीप यादव को शिक्षकों ने बताया कि उनके स्कूल के प्रबंधन के कहने पर सर्वे कार्य किया जा रहा है। जिस पर एनएसयूआई जिलाध्यक्ष ने स्कूल प्रबंधन की लापरवाही की शिकायत बालोद शिक्षा विभाग से करने की बात कही है। मामले की जानकारी मीडिया तक पहुंचने और इसकी जानकारी स्कूल प्रबंधन को मिलते ही अपने कर्मचारियों को वापस बुलवाया गया और उन्हें छुट्टी दे दी गई।

स्कूल के प्राचार्य भीषण साहू ने बताया कि उनके स्कूल में 31 मार्च तक छुट्टी घोषित कर दी गई है। वहीं आज स्कूल के शिक्षकों से काम करवाने के विषय में भी पूछने पर बताया कि उनको भी अब वापस बुलवा लिया गया है और शासन के आदेशानुसार 31 मार्च तक छुट्टी देने की बात कही गई है।


Date : 20-Mar-2020

प्रोत्साहन राशि नहीं देने का आरोप, सीटू यूनियन का दफ्तर के सामने धरना-प्रदर्शन

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
दल्लीराजहरा, 20 मार्च।
नॉन फाइनेंशियल अवॉर्ड स्कीम के तहत खदान कर्मियों द्वारा उत्पादन लक्ष्य पूरा कर लिए जाने के बावजूद उन्हें प्रोत्साहन राशि नहीं देने का आरोप लगाते हुए सीटू यूनियन ने माइंस कार्यालय के समक्ष खदान कर्मियों के साथ धरना-प्रदर्शन किया। प्रबंधन के खिलाफ आक्रोशित श्रमिकों ने जमकर नारेबाजी करते हुए कहा कि ये धोखा धड़ी नहीं चलेगी और प्रबंधन को जल्द से जल्द इस मामले में निर्णय करना होगा।

ज्ञात हो कि भिलाई इस्पात संयंत्र में लम्पस आयरन ओर की जरूरत को ध्यान में रखते हुए तथा सीईओ भिलाई इस्पात संयंत्र के राजहरा प्रवास के दौरान सभी यूनियनों ने यह मांग की थी की खदानों में उत्पादन बढ़ाने के लिए खदान कर्मियों के लिए कोई अलग स्कीम लाई जाए। इस मांग पर अमल करते हुए प्रबंधन ने खदान कर्मियों के लिए एक नॉन फाइनैंशल अवॉर्ड स्कीम लागू की है। 31 जनवरी को मुख्य महाप्रबंधक खदान की अध्यक्षता में माइंस सभागार में सभी यूनियनों की उपस्थिति में प्रबंधन ने खदान कर्मियों के लिए एक नॉन फाइनेंसियल रीवार्ड स्कीम की घोषणा की थी। इस स्कीम के तहत खदान कर्मियों ने फरवरी माह में कड़ी मेहनत करते हुए उत्पादन लक्ष्य पूरा कर लिया,लेकिन उत्पादन पूरा करने के बाद भी खदान कर्मियों को आज तक रीवार्ड स्कीम की राशि नहीं दी गई।  प्रदर्शन को संबोधित करते हुए यूनियन के सचिव पुरुषोत्तम सिमैया ने कहा कि फरवरी माह में उत्पादन लक्ष्य पूरा करने के 17 दिन बाद भी खदान कर्मचारियों को रिवॉर्ड की राशि नहीं दी गई जिससे खदान के कर्मचारी आक्रोशित है।

यूनियन के अध्यक्ष प्रकाश क्षत्रिय ने कहा कि 31 जनवरी की बैठक में मुख्य महाप्रबंधक ने स्पष्ट रूप से कहा था कि नान फाइनेंसियल रीवार्ड स्कीम के तहत प्राप्त होने वाली राशि का वितरण किस तरह किया जाएगा यह तय करने के लिए सभी यूनियनों के प्रतिनिधियों के साथ एक कमेटी का गठन किया जाएगा ।लेकिन आज दिनांक तक प्रबंधन द्वारा ना तो कमेटी गठित की गई और ना ही इस संबंध में किसी प्रकार की कोई सूचना यूनियन और कर्मचारियों को दी गई है। इससे कर्मचारियों के मनोबल पर विपरीत असर पड़ रहा है। 

यूनियन के उपाध्यक्ष विनोद मिश्रा ने कहा कि प्रबंधन के समक्ष यह बात भी हमारी यूनियन द्वारा रखी गई थी कि  उत्पादन में ठेका श्रमिकों का बहुत बड़ा योगदान है इसलिए नॉन फाइनेंशियल रीवार्ड स्कीम में ठेका श्रमिकों को भी शामिल किया जाए ।बैठक के दरमियान ही  मुख्य महाप्रबंधक ने हमें आश्वस्त किया था कि योजना का लाभ किसी न किसी रूप में ठेका श्रमिकों को भी दिया  प्राप्त हो सके यह सुनिश्चित किया जाएगा। लेकिन इस संबंध में भी प्रबंधन द्वारा अभी तक यूनियन को किसी भी प्रकार की कोई सूचना नहीं दी गई है। 

यूनियन के कार्यकारी अध्यक्ष ज्ञानेंद्र सिंह ने कहा कि प्रबंधन के इस रवैया से खदान के समस्त कर्मचारी खफा है इसीलिए आज हमारी यूनियन के नेतृत्व में खदान कर्मी  प्रदर्शन करते हुए मुख्य महाप्रबंधक खदान को एक ज्ञापन सौंप रहे हैं। इस ज्ञापन में मांग की गई है कि 31 जनवरी को मुख्य महाप्रबंधक की अध्यक्षता में नॉन फाइनेंशियल स्कीम के संबंध में जो भी बिंदु तय किए गए थे उन बिंदुओं के आधार पर कमेटी का गठन किया जाए और जल्द से जल्द खदान कर्मियों को नॉन फाइनेंशियल रिवार्ड की राशि वितरित की जाए ।

यूनियन ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द से जल्द कर्मियों को या राशि नहीं दी गई तो यूनियन उग्र कदम उठाने के लिए बाध्य होगी जिसकी समस्त जिम्मेदारी प्रबंधन की होगी।  प्रदर्शन में यूनियन के पदाधिकारी गण शीत कुमार बघेल, संतोष बंजारे, एहसान अली मानसिंह कनवर, चार्ली वर्गीज सहित काफी संख्या में  सीटू यूनियन के कार्यकर्ता उपस्थित थे।


Date : 20-Mar-2020

माइंसों में ठेका श्रमिकों बांटे गए मास्क

छत्तीसगढ़ संवाददाता

दल्लीराजहरा, 20 मार्च। देश दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस से बचाव के लिए दल्लीराजहरा माइंस में बीइएम एल मेसर्स अर्पित एसोसिएट के ठेका श्रमिकों को राजहरा माइंस, ईएम एस गैरेज में बीआर वांट, एचएमई दल्ली, में मास्क का वितरण किया गया।

वहीं बीईएम एल के अधिकारियों ने सुरक्षा संबंधी बातें बताई और घर परिवार में सुरक्षा रखने अपने आस पास के लोगों को जागरुकता फैलानें व समझाने को कहा। इस बिमारी से लडऩे के लिए सभी फील्ड में नोटिस के माध्यम से मार्क इंचार्ज पांडूरंग कोरडे, निशांत कुमार बीएम एल के अधिकारियों ने मजदूरों को महामारी से बचने के उपाय बताए।


Date : 20-Mar-2020

प्रोत्साहन राशि नहीं देने का आरोप, सीटू यूनियन का दफ्तर के सामने धरना-प्रदर्शन

छत्तीसगढ़ संवाददाता

दल्लीराजहरा, 20 मार्च। नॉन फाइनेंशियल अवॉर्ड स्कीम के तहत खदान कर्मियों द्वारा उत्पादन लक्ष्य पूरा कर लिए जाने के बावजूद उन्हें प्रोत्साहन राशि नहीं देने का आरोप लगाते हुए सीटू यूनियन ने माइंस कार्यालय के समक्ष खदान कर्मियों के साथ धरना-प्रदर्शन किया। प्रबंधन के खिलाफ आक्रोशित श्रमिकों ने जमकर नारेबाजी करते हुए कहा कि ये धोखा धड़ी नहीं चलेगी और प्रबंधन को जल्द से जल्द इस मामले में निर्णय करना होगा।

ज्ञात हो कि भिलाई इस्पात संयंत्र में लम्पस आयरन ओर की जरूरत को ध्यान में रखते हुए तथा सीईओ भिलाई इस्पात संयंत्र के राजहरा प्रवास के दौरान सभी यूनियनों ने यह मांग की थी की खदानों में उत्पादन बढ़ाने के लिए खदान कर्मियों के लिए कोई अलग स्कीम लाई जाए। इस मांग पर अमल करते हुए प्रबंधन ने खदान कर्मियों के लिए एक नॉन फाइनैंशल अवॉर्ड स्कीम लागू की है। 31 जनवरी को मुख्य महाप्रबंधक खदान की अध्यक्षता में माइंस सभागार में सभी यूनियनों की उपस्थिति में प्रबंधन ने खदान कर्मियों के लिए एक नॉन फाइनेंसियल रीवार्ड स्कीम की घोषणा की थी। इस स्कीम के तहत खदान कर्मियों ने फरवरी माह में कड़ी मेहनत करते हुए उत्पादन लक्ष्य पूरा कर लिया,लेकिन उत्पादन पूरा करने के बाद भी खदान कर्मियों को आज तक रीवार्ड स्कीम की राशि नहीं दी गई।  प्रदर्शन को संबोधित करते हुए यूनियन के सचिव पुरुषोत्तम सिमैया ने कहा कि फरवरी माह में उत्पादन लक्ष्य पूरा करने के 17 दिन बाद भी खदान कर्मचारियों को रिवॉर्ड की राशि नहीं दी गई जिससे खदान के कर्मचारी आक्रोशित है।

यूनियन के अध्यक्ष प्रकाश क्षत्रिय ने कहा कि 31 जनवरी की बैठक में मुख्य महाप्रबंधक ने स्पष्ट रूप से कहा था कि नान फाइनेंसियल रीवार्ड स्कीम के तहत प्राप्त होने वाली राशि का वितरण किस तरह किया जाएगा यह तय करने के लिए सभी यूनियनों के प्रतिनिधियों के साथ एक कमेटी का गठन किया जाएगा ।लेकिन आज दिनांक तक प्रबंधन द्वारा ना तो कमेटी गठित की गई और ना ही इस संबंध में किसी प्रकार की कोई सूचना यूनियन और कर्मचारियों को दी गई है। इससे कर्मचारियों के मनोबल पर विपरीत असर पड़ रहा है।

यूनियन के उपाध्यक्ष विनोद मिश्रा ने कहा कि प्रबंधन के समक्ष यह बात भी हमारी यूनियन द्वारा रखी गई थी कि  उत्पादन में ठेका श्रमिकों का बहुत बड़ा योगदान है इसलिए नॉन फाइनेंशियल रीवार्ड स्कीम में ठेका श्रमिकों को भी शामिल किया जाए ।बैठक के दरमियान ही  मुख्य महाप्रबंधक ने हमें आश्वस्त किया था कि योजना का लाभ किसी न किसी रूप में ठेका श्रमिकों को भी दिया  प्राप्त हो सके यह सुनिश्चित किया जाएगा। लेकिन इस संबंध में भी प्रबंधन द्वारा अभी तक यूनियन को किसी भी प्रकार की कोई सूचना नहीं दी गई है।

यूनियन के कार्यकारी अध्यक्ष ज्ञानेंद्र सिंह ने कहा कि प्रबंधन के इस रवैया से खदान के समस्त कर्मचारी खफा है इसीलिए आज हमारी यूनियन के नेतृत्व में खदान कर्मी  प्रदर्शन करते हुए मुख्य महाप्रबंधक खदान को एक ज्ञापन सौंप रहे हैं। इस ज्ञापन में मांग की गई है कि 31 जनवरी को मुख्य महाप्रबंधक की अध्यक्षता में नॉन फाइनेंशियल स्कीम के संबंध में जो भी बिंदु तय किए गए थे उन बिंदुओं के आधार पर कमेटी का गठन किया जाए और जल्द से जल्द खदान कर्मियों को नॉन फाइनेंशियल रिवार्ड की राशि वितरित की जाए ।

यूनियन ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द से जल्द कर्मियों को या राशि नहीं दी गई तो यूनियन उग्र कदम उठाने के लिए बाध्य होगी जिसकी समस्त जिम्मेदारी प्रबंधन की होगी।  प्रदर्शन में यूनियन के पदाधिकारी गण शीत कुमार बघेल, संतोष बंजारे, एहसान अली मानसिंह कनवर, चार्ली वर्गीज सहित काफी संख्या में  सीटू यूनियन के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

 

 

 

 


Date : 20-Mar-2020

बालोद में धारा 144

बालोद, 20 मार्च। बालोद जिले में धारा-144 लागू कर दी गई है। इसके साथ ही जिले में सभा, धरना, रैली, जुलूस, धार्मिक सांस्कृतिक एवं राजनितिक कार्यक्रम के आयोजन पर प्रतिबंध लग गया है। यह आदेश बालोद जिले के साथ ही ग्राम झलमला और सिवनी के लिए तत्काल प्रभावशील होगा, जो 31 मार्च या अग्रिम आदेश तक प्रभावशील होगा। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रानू साहू द्वारा धारा-144 दण्ड प्रकिया संहिता में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिला बालोद में धरना प्रदर्शन, रैली प्रदर्शन, संभाए, जुलूस आंदोलन एवं अन्य प्रकार के प्रदर्शनों के लिये प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित किया गया है। परिस्थिति के कारण प्रभावितों को सम्यक समय में तामिली संभव नहीं होने के कारण यह आदेश एकपक्षीय रूप से पारित किया गया है। इस आदेश का उल्लंघन करने पर भारतीय दण्ड संहिता में निहित प्रावधानों के तहत दण्डनीय होगा। यह आदेश पुलिस, सी.आर.पी.एफ. तथा कानून व्यवस्था में लगे कर्मियों पर लागू नहीं होगा।

 

 


Date : 19-Mar-2020

जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष बनीं चंद्रप्रभा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बालोद, 19  मार्च। डौंडी लोहारा विकासखंड की दमदार आदिवासी महिला नेत्री चन्द्रप्रभा सुधाकर बालोद जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष चुनी गई हंै। कांग्रेस कमेटी की जिला अध्यक्ष बनने वाली वे पहली महिला हैं। प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा के साथ-साथ जिला अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें चन्द्रप्रभा सुधाकर ने बाजी जीत ली है।

खेरथा क्षेत्र के गांव राघोनवागांव पंचायत में तीन बार सरपंच व जनपद सदस्य फिर जनपद अध्यक्ष पद पर कार्य कर चुकीं श्रीमती सुधाकर वर्तमान में जिला पंचायत सदस्य हैं व क्षेत्र में काफी लोकप्रिय महिला हैं और लंबे समय से कांग्रेस पार्टी से जुड़ी हुई हैं। स्व. वासुदेव चन्द्राकर,प्यारेलाल बेलचंदन व पूर्व विधायक प्रतिमा चन्द्राकर के मार्गदर्शन में क्षेत्र में काम कर चुकी हैं व आदिवासी समाजिक संगठन में भी प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी रह चुकी श्रीमती सुधाकर को जिले में एक सर्वमान्य नेता माना जाता है।

समाज सेवा के साथ-साथ राजनीतिक क्षेत्र में काम करने वाली महिला नेत्री के रूप में क्षेत्र में इनकी पहचान है। मितानिनों के समूह के लिए भी लम्बे समय से काम कर रही हैं। आमजन को जोडऩे की इनमें अद्भुत क्षमता है जिसके फलस्वरूप आज उनको राजनीति के गढ़ बालोद जिले में कांग्रेस की कमान सौंपा गया है।

इनकी नियुक्ति पर प्रदेश के सभी नेताओं सहित बालोद के भी मंत्री अनिला भेडिय़ा, भैयाराम सिन्हा, संगीता सिन्हा व कुंवरसिंह निषाद का भी सहयोग मिला है।


Previous123Next