छत्तीसगढ़ » बालोद

Previous12Next
Posted Date : 19-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद,18 जनवरी। नगर पालिका द्वारा संचालित माध्यमिक शाला (बालमंदिर) भवन में   17 जनवरी को बाल संस्कार शाला के 42 बालक बालिका को संबोधित करते हुए   विकास चोपड़ा अध्यक्ष नगर पालिका परिषद  ने कहा कि आजकल के बच्चों एवं युवाओं में सम्मान सेवा और श्रम करने की भावना खत्म होते जा रही हैं हमारी संस्कृति हमारी धरोहर है परन्तु आज देश में विदेशी सभ्यता बड़ी तेजी से फैल रही हैं । ऐसी स्थिति में छोटे बच्चो को संस्कारवान बनाना एवं भारतीय संस्कृति को सुरक्षित आवश्यक हो गया हैं ।
    आर.पी. यादव ने अपनी जानकारी में बताया कि शांतिकुंज हरिद्वार के निर्देशानुसार इच्छुक बच्चों को बाल संस्कार शाला में भारतीय संस्कृति ज्ञान, प्रेरणाप्रद कहानियां, देशभक्ति, प्रज्ञागीत प्रेरक प्रसंग ध्यान एवं योग की शिक्षा दिया। वहीं विज्ञान एवं आकर्षक मनोरंजक जादू श्री नागवंशी ने सिखाया अंत में अध्यक्ष ने उत्कृष्ट बच्चों को प्रतीक चिन्ह भेंट देकर बिदाई दिया।

     

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 17 जनवरी। महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों ने ऐसी जमीन पर बने आंगनबाड़ी भवन का लोकार्पण मंत्री अनिला भेडिय़ा से करा लिया, जिस जमीन पर निर्माण के लिए न्यायालय से रोक लगी हुई है। 
    कार्यक्रम के दौरान मंत्री उस समय भौंचक रह गईं, जब भूतपूर्व सैनिक लक्ष्मण चक्रधारी ने उनसे शिकायत की कि भवन का निर्माण उनकी जमीन पर किया गया है और इस मामले को लेकर मंत्री के सामने भूतपूर्व सैनिक ने मंत्री से न्याय की गुहार लगाते नजर आये। शिकायत के बाद विभागीय अधिकारी बगले झांकते नजर आये। हालाँकि इस मामले में मंत्री के जांच के आश्वासन के बाद भूतपूर्व सैनिक शांत हुए।
     दरअसल विकासखंड के ग्राम सिवनी में छह लाख 45 हजार रुपये में आंगनबाड़ी केंद्र का निर्माण खसरा नंबर 193/2 पर किया गया है। आंगनबाड़ी केंद्र का उद्घाटन कर मंत्री जैसे ही बाहर आईं। भूतपूर्व सैनिक ने बताया कि जिस खसरा नंबर 193/2 पर भवन बना है, वह उनके स्वामित्व में है। ग्राम पंचायत द्वारा उनकी जमीन पर किस आधार पर निर्माण किया, यह उन्हें पता नहीं। जब निर्माण कार्य प्रारंभ किया जा रहा था, उस वक्त पंचायत से जब इस संदर्भ में जानकारी चाही गई तो कुछ नहीं बताया गया। इसके चलते न्यायालय का सहारा लेना पड़ा। 
    आंगनबाड़ी उद्घाटन के बाद जब मंत्री से इस बारे में पूछा गया तो पहले उनके द्वारा इसकी जानकारी नहीं होने की बात कही गई। साथ ही मंत्री ने इस मामले को लेकर जांच भी कराने का आश्वाशन दिया। वहीं इस संबंध में जब अधिकारी से जानकारी लेने का प्रयास किया गया तो अधिकारी मामले पर कुछ कहने से बचते नजर आये।

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • दल्लीराजहरा, 16 जनवरी। भारत स्काउट्स एवं गाइड्स जिला बालोद के आदिवासी विकासखण्ड के 60 बच्चे व 4 प्रभारी शिक्षक पर्वतारोहण,आपदा प्रबंधन एवं व्यक्तित्व विकास कार्यक्रम के तहत पंचमढ़ी मेें 10 दिनों तक आयोजित होने वाले राष्ट्रीय एडवेन्चर कैम्प में बालोद जिले का प्रतिनिधित्व करने के लिए ट्रेन से रवाना हुए हैं।

    लोक शिक्षण संचानालय रायपुर द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में सभी बच्चे आपदा के समय किस तरह स्वयं की रक्षा करते हुए दूसरों को सहायता देना है,इसका प्रशिक्षण प्राप्त करने के साथ ही पर्वतारोहण में राक क्लाइमिंग,रिवर क्रासिंग, घुड़सवारी,शुटिंग,पैरासीलिंग,जीप सीलिंग,एडवेन्चर बाइक,तैराकी व तीरंदाजी का गुर सीखेंगे। पंचमढ़ी में ये बच्चे 10 दिनों तक आयोजित राष्ट्रीय एडवेन्चर कैम्प में उक्त विभिन्न गतिविधियों को करने के साथ साथ वहां के सभी पर्यटक स्थल का भ्रमण कर सकेंगे। दल प्रभारी मोहन चौहान,लिकेश गंजीर,ललिता देवांगन व टेनु देवांगन सभी बच्चों को उक्त गतिविधियों में शामिल करायेंगे। 

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    दल्लीराजहरा, 16 जनवरी। जिला बालोद के प्रवास पर पहुंचे पूर्व केन्द्रीय मंत्री व छत्तीसगढ़ कांग्रेस कोर कमेटी के सदस्य एवं देश के वरिष्ठ आदिवासी नेता अरविंद नेताम का आगमन हुआ। इस दौरान बीएसपी गेस्ट हाऊस में पहुंचने पर कांग्रेसजनों ने उनका आत्मीय स्वागत किया।
    वहीं आयोजित बैठक मेंं पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम ने विधानसभा चुनाव 2018 में बालोद जिले के डौण्डीलोहारा,बालोद एवं गुण्डरदेही तीनों विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशियों को शानदार जीत दिलाकर पुन: तीनों विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस का परचम लहराने के लिए सभी कांग्रेसजनों को   बधाई व शुभकामनाएं दी। ज्ञात हो कि अरविंद नेताम छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के दौरान प्रदेश कांग्रेस के एकमात्र सबसे बड़े नेता थे जिन्होने डौण्डीलोहारा विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी अनिला भेडिय़ा के चुनाव प्रचार व रैली मेंं उपस्थित  थे।
     बैठक में डौण्डी ब्लाक से पहुंचे कांग्रेस नेता गोविंद भेडिय़ा एवं रेवाराम रावटे ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम के समक्ष शिकायत करते हुए बताया कि डौण्डी ब्लाक मेें पटवारियों के द्वारा विभिन्न ग्रामों के किसानों के घर के अंदर में जाकर उनके धान कोठी की जबरन तलाशी ली जा रही है। इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए अरविंद नेताम ने तत्काल जिले के कलेक्टर किरण कौशल से मोबाईल से चर्चा कर वस्तु स्थिति की जानकारी देते हुए उन्हें अवगत कराया।  स्थानीय कांग्रेसजनों द्वारा नगर में बीएसपी द्वारा राजस्व को हस्तांतरित 270 एकड़ जमीन में बसे लोगों तथा रेलवे क्षेत्र में विगत 6 दशक से बसे निवासियों को उनकी काबिज जमीन का मालिकाना हक पट्टा दिलाने के पहल संबंधी आग्रह पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने लौह अयस्क नगरी दल्लीराजहरा के बीएसपी से राजस्व को हस्तांतरित 270 एकड़ जमीन तथा रेलवे क्षेत्र में विगत 6 दशक से बसे निवासियों के लिए उनके काबिज जमीन पर मालिकाना हक पट्टा दिये जाने की बात को उचित बताते हुए दल्लीराजहरा में माइनिंग विद्यालय एवं महाविद्यालय खोलने के लिए प्रयास करने की बात कही।

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

     बालोद, 16 जनवरी। प्रदेश की महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री श्रीमती अनिला भेंडिय़ा आज बालोद विकासखण्ड के ग्राम सिवनी में 6.45 लाख रूपए लागत के नवनिर्मित आंगनबाड़ी केन्द्र भवन का लोकार्पण कर अपनी षुभकामनाएॅ दी। मंत्री श्रीमती भेंडिय़ा ने इस अवसर पर कहा कि नवीन आंगनबाड़ी केन्द्र भवन से बच्चों को सुविधा होगी। आंगनबाड़ी जाने योग्य बच्चों को प्रतिदिन आंगनबाड़ी भेजें। इस अवसर पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री संजय चन्द्राकर, जिला पंचायत सदस्य श्रीमती सविता कल्याणी, जनपद सदस्य श्री पुष्पेन्द्र तिवारी, सरपंच श्री सुखसागर निषाद सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। 

     

     

     

     

  •  

Posted Date : 16-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद , 15 जनवरी। जिला मुख्यालय के व्यस्तम मार्ग चौपाटी के सामने पीपल के सूखे पेड़ को आज पालिका ने कटवा दिया है। इस मार्ग पर लोगों का आना-जाना हमेशा लगा रहता है। सूखे पेड़ से हादसे की संभावना बनी रहती थी। नगर पालिका अध्यक्ष विकास चोपड़ा आज सुबह से ही खड़े होकर मजदूरों को निर्देश देते रहे। चौपाटी के सामने लगे पीपल की शाखा अलग-अलग फैली हुए थी। 
    मजदूरों ने शाखा के अलग-अलग हिस्से को काटा, वहीं मोटी शाखाओं को मशीन से आधा आधा काटकर जेसीबी से गिराया गया। इस दौरान चौपाटी के आस पास जगहों में पीपल की लकडिय़ा फैली हुई थी, जिसे नगर पालिका के कर्मचारियों ने तत्काल हटाकर मार्ग की साफ सफाई की।                   
    गंगासागर तालाब मार्ग के दोनों ओर स्टॉपर लगाकर सड़क को बंद कर दिया था, जिसके कारण दुपहिया व चारपहिया वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से बंद रही। मार्ग बंद होने से लोग गायत्री मंदिर के पीछे वाली गली से आ जा रहे थे जिसके कारण लोगों को आने जाने में कोई परेशानी नहीं हुई।

     

     

     

     

     

     

     

  •  

Posted Date : 16-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 15 जनवरी। कलेक्टर किरण कौशल ने आज जिला मुख्यालय बालोद में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों का निरीक्षण कर जायजा लिया। उन्होंने सभी निर्माण कार्यांे को पूर्ण गुणवत्ता के साथ शीघ्र पूरा कराने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने नया बस स्टैण्ड में 41.97 लाख की लागत से निर्माणाधीन आश्रय स्थल रैन बसेरा का निरीक्षण कर कार्य शीघ्र पूरा कराने के निर्देश मुख्य नगर पालिका अधिकारी को दिए। 
    श्रीमती कौशल ने 60 लाख रूपए की लागत से व्यवसायिक काम्पलेक्स निर्माण कार्य, 10 लाख रूपए की लागत से गंगासागर उद्यान में चौपाटी सेंटर निर्माण, 15.99 लाख रूपए की लागत से गंगासागर उद्यान में बाउण्ड्रीवॉल आदि निर्माण, 4.52 लाख रूपए की लागत से सियान सदन निर्माण, 15 लाख रूपए की लागत से घड़ी चौक निर्माण, 16.60 लाख रूपए की लागत से महिला शौचालय निर्माण आदि कार्यों का निरीक्षण कर जायजा लिया। 
    कलेक्टर श्रीमती कौशल ने गंगासागर तालाब मेंं बोटिंग की सुविधा, नगर में नियमित साफ-सफाई आदि की जानकारी ली। उन्होंने फौव्वारा चौक के आसपास को व्यवस्थित करने के निर्देष मुख्य नगर पालिका अधिकारी को दिए। कलेक्टर ने दषहरा तालाब पार में 23.63 लाख रूपए की लागत से निर्मित एस.एल.आर.एम.सेंटर निर्माण कार्य का भी अवलोकन किया। इस अवसर पर नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष विकास चोपड़ा, एस.डी.एम. हरेश मण्डावी और मुख्य नगर पालिका अधिकारी रोहित साहू मौजूद थे।  

     

     

  •  

Posted Date : 16-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 15 जनवरी। जिला मुख्यालय से 8 किमी पर स्थित गोंदली केनाल के सामने मंगलवार दोपहर 3 बजे एक अज्ञात वाहन ने राष्ट्रीय पक्षी मोर मादा को ठोकर मार दी, जिससे मोर की मौके  पर मौत हो गई। 
    बाते दें कि गोंदली केनाल के आगे घना जंगल है, जहां पर वन्य प्राणी का विचरण का क्षेत्र हैं। इन्हीं जगहों पर कई वन्य प्राणियों की सड़क पार करते हुए वाहनों की चपेट में आने से मौत हो चुकी हैं। जानकारी के अनुसार गोंदली केनाल के आगे मोरनी (1 वर्ष) जंगल से तांदुला जलाशय में पानी पीने के लिए आई, तभी नेशनल हाइवे 930 मार्ग में एक अज्ञात वाहन ने उसको ठोकर मार दी, जिससे मौके पर ही मौत हो गई। जानकारी मिलते ही वन विभाग की टीम घटना स्थल पर पहुंचकर उसको सड़क से उठाकर गाड़ी में रखी गई। वन विभाग की टीम ने शव को पशु चिकित्सालय में ले जाकर पीएम किया, उसके बाद जंगल में दाहसंस्कार किया गया।

  •  

Posted Date : 16-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 15 जनवरी। कलेक्टर किरण कौशल ने कहा कि जिला मुख्यालय बालोद में गणतंत्र दिवस समारोह आगामी 26 जनवरी को हर्ष उल्लास और गरिमामय ढंग से मनाया जाएगा। कलेक्टर आज स्व. सरयू प्रसाद अग्रवाल स्टेडियम में अधिकारियों की बैठक आयोजित कर गणतंत्र दिवस मुख्य समारोह आयोजन के संबंध में उन्हें दिशा निर्देश दिए। 
    श्रीमती कौशल ने कहा कि राष्ट्रीय पर्व 26 जनवरी गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन गरिमा के अनुकूल किया जाएगा। मुख्य समारोह स्व. सरयू प्रसाद अग्रवाल स्मृति स्टेडियम में होगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि देशभक्ति पूर्ण गीतों तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का चयन समारोह की गरिमा के अनुकूल किया जाए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को शासन की विकास कार्यों को रेखांकित करते हुए आकर्षक झांकी तैयार करने के निर्देश दिए। 
    बैठक में बताया गया कि शैक्षणिक संस्थाओं में प्रात: 7.30 बजे ध्वजारोहण होगा। तत्पश्चात छात्र-छात्राएं अनुशासित होकर मुख्य समारोह स्थल पर प्रात: 8.30 बजे तक पहुंचेंगे। जिला कार्यालय में प्रात: आठ बजे और मुख्य समारोह में प्रात: नौ बजे ध्वजारोहण होगा। कलेक्टर ने सभी विभागीय अधिकारियों को अपने अपने कार्यालय में भी गणतंत्र दिवस समारोह का गरिमामय आयोजन करने तथा प्रात: आठ बजे तक ध्वजारोहण कर मुख्य समारोह में मौजूद रहने के निर्देश दिए ।  
    कलेक्टर ने गणतंत्र दिवस समारोह के सफल आयोजन के लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी निर्धारित की। मुख्य समारोह स्थल पर मैदान का समतलीकरण, परेड मैदान में बेरिकेट कार्य, बांस बल्लियों की व्यवस्था, शामियाना और कुर्सियों की व्यवस्था, स्टेडियम की साफ सफाई, आमंत्रितों की बैठक व्यवस्था, ध्वनि विस्तारक यंत्र की व्यवस्था, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा षहीदों के परिवार को लाने ले जाने की व्यवस्था, गुब्बारा, आदि की व्यवस्था के लिए अलग-अलग विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारी निर्धारित की गई। बैठक में अपर कलेक्टर तनुजा सलाम, एस.डी.एम. बालोद हरेश मण्डावी, सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। 

  •  

Posted Date : 15-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 14 जनवरी। जिला प्रशासन द्वारा कलेक्टर जनदर्शन में आने वाले आमजनों की सुविधा के लिए नि:शुल्क बस सेवा शुरू की गई है। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने बताया कि यह बस प्रति सोमवार को प्रात: 11 बजे से दोपहर 03 बजे तक झलमला चौक से संयुक्त जिला कार्यालय भवन तक आमजनों को नि:शुल्क आवागमन की सुविधा प्रदान करेगी। नि:शुल्क बस सेवा शुरू होने से आज बस से आने व जाने वाले आमजनों ने जिला प्रशासन की इस पहल की सराहना की। 
    कलेक्टर ने आज 66 आमजनों की समस्याओं तथा मांगों को एक-एक कर सहानुभूतिपूर्वक सुनी। उन्होंने कई आवेदकों की समस्याओं का मौके पर ही निराकरण किया और शेष आवेदनों का नियमानुसार त्वरित निराकरण के निर्देष संबंधित विभाग के अधिकारियों को दिए।  

     

  •  

Posted Date : 11-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 10 जनवरी।  जिले के दन्तेश्वरी मैय्य सहकारी शक्कर कारखाना 6 जनवरी को गन्ना का पेराई शुरू करने का दावा जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा था लेकिन कारखाने  में अब तक गन्ना का पेराई आज तक प्रारभ नही हुआ हैं। जिले एक मात्र शक्कर कारखाने में गन्ना पेराई शुरू होने के पहले ही खराबी आ गई। ऐसे में अब फिर किसानों को गाड़ी से गन्ना खाली करने और इंतजार करना पड़ेगा। किसान अपने गन्ना को लेकर कारखाना पहुच रहे हैं। इधर समय में कारखाना शुरू नहीं होने के कारण कलेक्टर ने शक्कर कारखाने के प्रबंध संचालक मुकेश ध्रुव को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। इसका कारण कारखाना में गन्ना पेराई के लिए तारीख पे तारीख दी जा रही है। ऐसे में कारखाने में किए गए मेंटनेंस कार्यों पर भी सवाल उठ रहे हैं। आखिर कैसे इतनी लापरवाही प्रबंधक द्वारा की गई है, क्योंकि अभी कारखाना की पूरी मशीन शुरू नहीं हुई है और पहले ही चरण में मशीन में खराबी आ गई हैं।
    शक्कर कारखाने के जीएम पितांबर ठाकुर ने कहा कारखाना तैयार है। पर लगाए गए बॉयलर की पाइप जिससे स्टीम आती है और टरबाइन चलता है इस पाइप में मेटल के कण आ रहे थे जिसकी वजह से टरबाइन नहीं चल रहा था इससे कारखाने की सभी मशीनों को शुरू करने बिजली नहीं बन पा रही थी।
    पाइप में लीकेज की 
    भी जानकारी
    इधर इस पाइप में लीकेज होने की भी जानकारी मिल रही है, जिनका वेल्डिंग कारखाना के कर्मचारियों द्वारा किया गया। वहीं कारखाना प्रबंधन ने तो बॉयलर में लगाई आग को भी बुझाने कहा और सुबह आग बुझाकर बॉयलर को ठंडा किया गया। जिन जगहों पर लीकेज व कण थे उसे साफ कर मरम्मत की गई।
    कारखाने के बाहर गन्ने 
    से भरी 200 गाडिय़ां
    कारखाना शुरू नहीं होने से अब जिला प्रशासन भी चिंतित हो गया है। तत्काल कारखाना शुरू करने के निर्देश भी प्रबंधक को दिए हैं। कारखाने में जहां सैकड़ों गाड़ी गन्ना डंप हो गया है, तो वहीं कारखाने के बाहर लगभग 100 किसानों के 200 गन्ने से भरी गाडिय़ां खड़ी हुई हैं। अब तो अभी से कारखाने में आ रही खराबी की वजह से किसान चिंतित हो गए हैं।।                           
     अब नहीं आएगी खराबी
    एक ओर शक्कर कारखाने के अधिकारी तो कारखाने में आयी खराबी को बनाने में लगे थे, पर इधर कारखाना समय पर शुरू नहीं होने की वजह से कारखाने के मुख्य अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया है। जिला प्रशासन की कड़ाई के बाद अब कारखाने की खराबी की तेजी से मरम्मत चल रही है।
    तीन अधिकारियों को  नोटिस
    कलेक्टर किरण कौशल ने तीन अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर चौबीस घंटे के भीतर जवाब प्रस्तुत करने कहा है। कलक्टर ने एसके टीकम कार्यपालन अभियंता जलसंसाधन विभाग और आरके जामुलकर जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग को कारण बताओ सूचना जारी कर कहा है कि जिला पंचायत विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान आपके विभाग से संबंधित विषय पर चर्चा के लिए बुलाया गया, किन्तु आप समय पर उपस्थित नहीं हुए, जिससे आपके विभाग के विषय पर चर्चा नहीं हो पाई। कलक्टर ने दोनों अधिकारियों को पत्र प्राप्ति के 24 घंटे के अंदर जवाब प्रस्तुत करने कहा है। इसी प्रकार कलक्टर ने दंतेश्वरी मैय्या सहकारी शक्कर कारखाना करकाभाट में गन्ना पेराई सत्र 2018-19 निर्धारित समय में प्रारंभ नहीं होने पर प्रबंध संचालक मुकेश ध्रुव को भी कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर 24 घंटे के भीतर जवाब प्रस्तुत करने कहा है।

     

     

  •  

Posted Date : 10-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बालोद, 9 जनवरी। जिले के ग्राम मनौद में 164 ग्रामीणों की आखों में हैलोजन की निकलने वाली रौशनी से इंफेक्शन हो गया हैं। जिनका इलाज़ स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा शिविर लगाकर पंचायत भवन में किया जा रहा हैं। मिली जानकारी अनुसार बालोद विकासखंड के ग्राम मनौद में हर साल की भांति मंगलवार की रात को मोंगरा के फूल कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। उक्त रिकार्डिंग डांस के आयोजन का आठवां वर्ष था। जिसे गांव के महिला, पुरूष व बच्चे देख रहे थे।
    करीबन 12 बजे  डांस खत्म हुआ। तो सभी अपने-अपने घर चले गए। सुबह जब ग्रामीणों ने आँख खोली तो देखा कि किसी की आँखे लाल हो सूज गई हैं तो किसी की आँखों में जलन हो रही है। जिसके बाद तत्काल इसकी सूचना जिला स्वास्थ्य विभाग को दी गई। जिसके बाद जिला स्वास्थ्य की टीम ने पंचायत भवन में शिविर लगाकर सभी पीडि़त लोगों का इलाज किया। 
    मौजूद डॉक्टर ने बताया कि हैलोजन से निकलने वाली रौशनी की वजह से ही आँखों मे इंफेक्शन हुआ हैं। सबका इलाज़ कर दिया गया हैं और जिनको भी ज्यादा तकलीफ है वह दोबारा से आते जा रहे हैं। 
    बता दे कि मामले की जानकारी लगते ही पूर्व विधायक भैयाराम सिन्हा, कलेक्टर किरण कौशल, एएसपी जेआर ठाकुर, जिला स्वास्थ्य अधिकारी अरुण कुमार रात्रे गांव में पहुच ग्रामीणों का हालचाल जाना। कलेक्टर किरण कौशल ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को पीडि़तों का बेहतर इलाज करने स्वास्थ्य विभाग की टीम को निर्देशित किया।

     

  •  

Posted Date : 08-Jan-2019
  • नगर सेना लेकर आएगी-जाएगी, राहटा पहुंची कलेक्टर

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बालोद, 8 जनवरी।  जान जोखिम में डाल नाव से खरखरा जलाशय को पार करने वाले छात्र-छात्राओं के मामले में छत्तीसगढ़ में प्रकाशित  समाचार के बाद जिला प्रशासन इन बच्चों को राहत देने पूरी तरह मुस्तैद हो गया है। इसलिए किसी तरह की देरी किए बगैर ही समाचार प्रकाशन के दूसरे दिन ही संज्ञान में लिया। वहीं तीसरे दिन सोमवार को कलेक्टर किरण कौशल स्वयं अधिकारियों की टीम के साथ डौंडीलोहारा ब्लॉक के ग्राम राहटा पहुंची, तो ग्रामीणों के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा। कलेक्टर कौशल ने ग्रामीणों के साथ छात्र-छात्राओं व उनके पालक और शिक्षा विभाग के अधिकारियों से चर्चा की।
    नाव चलाकर नहीं भेजे स्कूल
    कलक्टर किरण कौशल ने सोमवार को जिला पंचायत सीईओ राजेन्द्र कटारा के साथ डौंडीलोहरा जनपद, आरईएस, वन विभाग सहित कृषि विभाग की टीम साथ लेकर पहुंची। जहां राहटा के ग्रामीणों से उनकी समस्याएं जानी। इस दौरान कलक्टर ने ग्रामीणों से साफ कहा कि किसी भी हाल में छात्राओं को जलाशय में नाव चलाकर स्कूल न भेजें।
    छात्राओं के चेहरे पर दिखी मुस्कान
    इस दौरान जिला प्रशासन ने तत्काल पहल करते हुए नगर सेना के आपातकालीन मोटर बोट को जलाशय में उतारा और जलाशय के उस पार से इस पार गांव राहटा लाया। इस पहल के बाद तो इन छात्र-छात्राओं में खुशी की मुस्कान दिखाई दी और बोले बहुत अच्छा लग रहा है। इधर ग्रामीणों ने छत्तीसगढ़ का माना आभार। बोले मीडिया अगर सहयोग नहीं करती तो यह मुसीबत भी दूर नहीं होती।
    अब नगर सेना की मोटर बोट बच्चों को पार कराएगा जलाशय
    इस दौरान कलक्टर ने पहले ग्रामीणों से पूछा कि पीपे की नाव से क्यों स्कूल भेजते हो, तो ग्रामीणों ने कहा और कोई साधन नहीं है। ग्रामीणों की स्थिति देखकर कलेक्टर भी आश्चर्य में पड़ गए, पर कलेक्टर ने ग्रामीणों को कहा नगर सेना की टीम यहां रहेगी और स्कूली छात्र-छात्राओं को सेना की टीम स्कूल ले जाएगी। स्कूल से छुट्टी होने के बाद वापस गांव तक लाएंगे। ऐसे में अब इन छात्र-छात्राओं को पीपे की नाव चला खतरा मोल लेकर स्कूल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
    छात्राओं ने कहा हमें नाव से पार 
    करने से नहीं लगता डर
    कलेक्टर के एक सवाल पर कि इतने गहरे पानी में नाव कैसे चला लेती हो, तो छात्राएं मुस्करा कर जवाब दीं। बोली मेम पढ़ाई के लिए हम ऐसा जोखिम उठाने हर पल तैयार रहते हैं। यह अब आदत सी हो गई है, तो कैसा डर? 
    इधर नगर सेना के जवान सोमवार को आपनी मोटर बोट के साथ पहुंचे थे। कलेक्टर ने ग्रामीणों के आग्रह पर नगर सेना के जवानों को 15 दिनों तक यहां सेवा देने के निर्देश दिए। कौशल ने कहा यहां नगर सेना के जवान इन छात्र-छात्राओंं को सुरक्षित घर से स्कूल और स्कूल से घर नाव से लाएंगे। उसके बाद ग्रामीणों को जिला प्रशासन से नाव दिया जाएगा, जिसे ग्रामीण इन छात्र-छात्राओंं को स्कूल से घर और घर से स्कूल लाने, ले जाने का काम करेंगे।
    ग्रामीणों ने माना छत्तीसगढ़ का आभार, बोले इससे हुई गांव की सबसे बड़ी समस्या दूर
    इधर ग्रामीण हेमराज निषाद, सोन्ति बाई, गुर सिंह सहित गांव के सभी ग्रामीणों ने छत्तीसगढ़ का आभार माना है। उन्होंने जिला प्रशासन की तत्काल पहल पर कहा कि छत्तीसगढ़ में खबर प्रकाशन व मीडिया के सहयोग से ही गांव की सबसे बड़ी समस्या आज दूर हो रही है। अब गांव की इन बेटियों को इतनी मुसीबत सहकर स्कूल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, बल्कि अब वे सुरक्षित व बेफिक्र स्कूल जाएंगीं।
     अधिकारी से मांगी गांव की जानकारी
     कि जिले के डौंडीलोहारा विकासखंड के वनांचल ग्राम पंचायत मडिय़ाकट्टा के आश्रित ग्राम राहटा की छात्राएं स्वयं पीपे की नाव चलाकर डूबान क्षेत्र से नाला पार कर पढऩे हायर सेकंडरी स्कूल अरजपुरी जाती हैं। तो व तत्काल ही संवेदनशीलता का परिचय देते हुए वहां मोटर बोट भिजवाकर प्रशासनिक अधिकारियों के साथ स्वयं दोपहर ग्राम राहटा पहुंची थी।

    पीपे की नाव के सहारे ही ग्रामीण भी जाते हैं राशन लेने
    ग्रामीणों ने कलक्टर से कहा कि उन्हें बाजार तथा किराना आदि का समान लेने ग्राम अरजपुरी पीपे की नाव से पार कर पहुंचना पड़ता है। इसलिए स्कूली छात्र-छात्राओं और ग्रामीणों के लिए पतवार वाली फाइवर बोट दी जाए। मांग पर कलक्टर ने कहा पंद्रह दिवस के भीतर पतवार वाला फाइवर बोट की व्यवस्था कर दी जाएगी। कलक्टर ने कहा तब तक दो नगर सैनिक प्रतिदिन छात्र-छात्राओं को लाइफ जैकेट सहित मोटर बोट से नाला पार कराएंगे।
    मांग पर तत्काल दी चार किलोमीटर सड़क निर्माण की स्वीकृति दी
    कलक्टर ने विभिन्न समस्याओं पर उपस्थित ग्रामीणों से चर्चा की। ग्रामीणों ने बताया कि उनका गांव खरखरा जलाशय के डुबान क्षेत्र में बसा है और गांव की जनसंख्या मात्र 118 है। ग्रामीणों की मांग पर कलक्टर ने राहटा से ग्राम रायगढ़ तक चार किलोमीटर सड़क निर्माण की स्वीकृति दी। इसके लिए उन्होंने पंचायत विभाग और वन विभाग के अधिकारियों को प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए। मंाग पर रेडी टू इट पोषण आहार गांव में ही पहुंचा कर वितरण कराने और बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण व टीकाकरण भी कराने के निर्देश महिला एवं बाल विकास विभाग के सुपरवाइजर को दिए। वहीं पेयजल के लिए सोलर हैंडपंप लगाने के निर्देश दिए।
    राशन सामग्री मडिय़ाकट्टा से मिलती है
    कलक्टर के पूछने पर ग्रामीणों ने बताया कि गांव के सभी परिवार का राशन कार्ड बना है, उन्हें शासकीय उचित मूल्य की दुकान मडिय़ाकट्टा से राशन सामग्री मिलती है। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राजेन्द्र कुमार कटारा, वनमंडल अधिकारी पैकरा, एसडीएम जीएल यादव, आदिवासी विकास विभाग की उपायुक्त माया वारियर सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

     

     

  •  

Posted Date : 08-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 7 जनवरी। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल द्वारा जिले के 110 धान खरीदी केन्द्रों में धान खरीदी कार्यों के निरीक्षण के लिए राजस्व विभाग और खाद्य विभाग के अधिकारियों की संयुक्त टीम गठित की गई है। कलेक्टर के निर्देष पर टीम द्वारा धान खरीदी केन्द्रों का आकस्मिक निरीक्षण की जा रही है और गडबड़ी पाए जाने पर कार्यवाही की जा रही है।
    डिप्टी कलेक्टर विनय कुमार पोयाम ने बताया कि निरीक्षण टीम द्वारा धान खरीदी केन्द्र तरौद, बरही, सांकरा(क), घोघोपुरी और कनेरी का आकस्मिक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान धान की मात्रा में गड़बड़ी पाई गई। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व बालोद द्वारा उक्त धान खरीदी केन्द्रों के समिति प्रबंधकों को नोटीस जारी की जा रही है। डिप्टी कलेक्टर ने बताया कि निरीक्षण टीम द्वारा धान खरीदी केन्द्र कचांदुर में निरीक्षण करने पर 128 क्विंटल धान अधिक खरीदी करना पाया गया। इस पर धान जब्ती की कार्यवाही और संबंधित के विरूद्ध कार्यवाही के निर्देष दिए गए। श्री पोयाम ने बताया कि निरीक्षण टीम द्वारा ग्राम पंचायत परसदा के व्यापारी अजीराम से 13 क्विंटल अवैध धान और ग्राम पंचायत तेलीटोला के व्यापारी ईष्वरलाल से 13.5 क्ंिवटल अवैध धान भी मंडी अधिनियम के तहत जब्त किया गया।  

     

     

  •  

Posted Date : 07-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 7 जनवरी। शिक्षा से ही जीवन का विकास होता है, इस उद्देश्य को पूरा करने, जीवन में कुछ कर गुजरने का जज्बा ली हुई जिले के डौंडीलोहारा ब्लॉक के ग्राम राहटा की बेटियां सुर्खियों में हैं। शिक्षा ग्रहण करने के लिए बेटियों के प्रतिदिन जान जोखिम में डाल कर लबालब भरे खरखरा जलाशय से 3 किमी नाव चलाकर स्कूल जाने की छत्तीसगढ़  अखबार खबर प्रकाशन के बाद जिला प्रशासन ने मामले को तत्काल संज्ञान में लिया है।
    कलैक्टर ने डीईओ से मोबाइल पर की चर्चा
    कलेक्टर व जिला पंचायत सीईओ ने मामले पर अवकाश के दिन रविवार को जिला शिक्षा अधिकारी आशुतोष चावरे से मोबाइल पर संपर्क किए और गंभीर मामले की पूरी जानकारी मांगी है। अधिकारियों ने साफ कहा है कि इन छात्राओं को अब जलाशय पार न करना पड़े, ऐसी व्यवस्था की जाए। ज्ञात रहे कि बच्चों के खतरा मोल लेने के मामले में स्कूल के प्राचार्य ने जानकारी दी थी कि खतरे को देखते हुए बच्चों के साथ उनके पालकों को भी ऐसे आने से मना किए थे, पर पढ़ाई के प्रति लगन और जुनून को देखते हुए आगे कुछ कहते नहीं बना और स्कूल आने की अनुमति दी थी।
     ब्लॉक शिक्षा अधिकारी  जाएंगे निरीक्षण में  
    इधर मामले में जिला शिक्षा अधिकारी आशुतोष चावरे ने जानकारी दी है कि इस मामले पर रिपोर्ट तैयार करने के लिए सोमवार को बीईओ को वहां जाने के आदेश दिए हैं। उसके बाद वे खुद गांव जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस मामले पर कलेक्टर व जिला पंचायत सीईओ ने फोन से चर्चा कर जानकारी मांगी है। सोमवार को ग्राम राहटा व शासकीय उच्च मध्यमिक शाला अरजपुरी जाकर स्कूल के प्राचार्य व ग्राम राहटा जाकर इन छात्राओं के पालकों से भी चर्चा करेंगे। पालकों को भी समझाएंगे कि अपनी बेटियों को जान जोखिम में डाल कर स्कूल न भेजें।
    छात्राओं के लिए करेंगे हॉस्टल में व्यवस्था
    जिला शिक्षा अधिकारी की मानें, तो अब इन बेटियों को इस स्कूल से लगे हॉस्टल या छात्रावास में रखने की तैयारी है ताकि इन छात्राओं को प्रतिदिन खतरा मोल लेकर नाव से जलाशय पार कर स्कूल न जाना पड़े, बल्कि सड़क मार्ग से स्कूल जाएं। अभी इसकी तैयारी चल रही है। बता दें कि जिले के ग्राम राहटा की तीन विद्यार्थी जलाशय में नाव चलाकर हाई व हायर सेकंडरी की पढ़ाई के लिए स्कूल जाते हैं। इनमें प्रीति व मनीष कुमार कक्षा दसवीं में व शांति कक्षा बारहवीं की छात्रा हैं।

     

  •  

Posted Date : 07-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    दल्लीराजहरा, 6 जनवरी। आगामी 8 जनवरी को देशव्यापी आम हड़ताल के संबंध में सीटू कार्यालय में संयुक्त ट्रेड यूनियन की बैठक संपन्न हुई। जिसमें सर्वसम्म्ति से संयुक्त ट्रेड यूनियन 8 जनवरी को एक दिवसीय हड़ताल करने का निर्णय लिया है।
    बैठक के दौरान संयुक्त ट्रेड यूनियन के नेताओं ने केन्द्र सरकार की जन विरोधी, मजदूर विरोधी, श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ एवं अपने हितोंं की रक्षा करने, अपने उद्योग की रक्षा करने एवं राष्ट्रीय संसाधनों को निजीे लूट से बचाने के लिए दल्लीराजहरा की समस्त खदानों में 8 जनवरी को एक दिवसीय हड़ताल का आव्हान करते हुए समस्त खदान कर्मचारियों को इस हड़ताल को सफल करने का आव्हान किया है।
    बैठक में एटक से राजेन्द्र बेहरा, मुकुल वर्मा, गौतम बेरा, मनोज परेरा, सीटू से पुरूषोत्तम सिमैया, प्रकाश क्षत्रिय, विनोद मिश्रा, सुजीत मुखर्जी, इंटक से अशोक बांबेश्वर, युवराज साहू, तिलक मानकर, तेजेन्द्र प्रसाद, छ.ग. माईंस श्रमिक संघ से दुर्गा प्रसाद, शैलेष एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
    ये है यूनियन की प्रमुख मांगें
    वेतन समझौता वार्ता तत्काल शरू किये जाने,सेल पेंशन योजना तत्काल लागू किये जाने एवं वेतन वार्ता पर लगी साम्यर्थता शर्त को वापस लिये जाने, खदान क्षेत्रों में कार्य करने की विशेष परिस्थिति के मद्देनजर भिलाई इस्पात संयंत्र के खदानों में भी आरएमडी की खदानों में लागू सुविधाएं प्रदान किये जाने, मंहगाई पर रोक लगाने एवं सार्वजनकि वितरण प्रणाली लागू किये जाने, केन्द्र सरकार,राज्य सरकार एवं सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों की बिक्री व विनिवेशीकरण पर रोक लगाये जाने, रोजगार उत्पन्न करने के लिए समुचित कदम उठाये जाने, कर्मचारियों के अधिकारों के लिए श्रम कानूनों का कड़ाई से पालन कराने तथा श्रम कानून का उल्लंघन करने वालों को कड़ी सजा दिलाने, सभी प्रकार के मजदूरों को सामाजिक सुरक्षा का लाभ दिये जाने, न्यूननतम वेतन 18 हजार रूपये प्रतिमाह किया जाये व इसे अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से जोड़े जाने तथा सभी को न्यूनतम पेंशन 6 हजार रूपये प्रतिमाह दिये जाने, समान कार्य के लिए समान वेतन तथा स्थायी कार्य के लिए स्थायी भर्ती नीति लागू किये जाने, संविदा भर्ती व ठेकाकरण पर रोक लगाये जाने, ईएसआई, भविष्य निधि, वार्षिक बोनस, ग्रेच्युटी पर सभी सीमाएं हटाये जाने, अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन 87 वें एवं 98 वें कन्वेंशन के अनुसार ट्रेड यूनियनों द्वारा आवेदन देने के 45 दिन के भीतर पंजीयन सुनिश्चित किये जाने, श्रमिकों व कर्मचारियों को गुलाम बनाने की दिशा में की जा रही श्रम कानून संशोधन वापस लिये जाने एवं बैंक बीमा एवं प्रतिरक्षा के क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश पर रोक लगाये जाने की मांगें यूनियन द्वारा की जा रही है।

  •  

Posted Date : 07-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 6 जनवरी। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का सरकारी नारा सुनने में अच्छा लगता है पर जमीनी हकीकत उल्टा है। जिले के डौंडीलोहारा विस क्षेत्र के राहटा गांव की बेटियां अरजपुरी स्कूल जाने के लिए खरखरा जलाशय में 3 किमी की दूरी नाव चलाकर पार करती हैं। वापसी में शाम को फिर तीन किलीमीटर नाव चलाकर घर लौटती हैं। 
    दंग रह गए डीईओ
    'छत्तीसगढ़' ने जिला शिक्षा अधिकारी आशुतोष चावरे से चर्चा की और तस्वीर दिखाई तो वे भी दंग रह गए। उन्होंने तत्काल अरजपूरी स्कूल के प्राचार्य से फोन पर चर्चा की और कहा कि यह क्या स्थिति है। उन्होंने तत्काल इसकी जानकारी मांगी।
    सोमवार को स्थिति 
    का लेंगे जायजा
    उन्होंने कहा कि बच्चे जान जोखिम में डालकर स्कूल जा रहे हैं ये अच्छी बात नहीं है। जिला शिक्षा अधिकारी सोमवार को स्थिति का जायजा लेने जाएंगे। जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा है कि अब बच्चों को पढ़ाई के लिए सड़क मार्ग से स्कूल जाने की व्यवस्था करेंगे। ग्राम राहटा की प्रीति व मनीष कुमार कक्षा दसवीं में पढ़ाई करते हैं। शांति कक्षा बारहवीं में पढ़ती हंै। ये तीनों रोज जलाशय को खुद पीपे की नाव चलाते पार कर स्कूल जाते हैं।
    सड़क मार्ग से 17 किमी 
    तो जलाशय पार करने 
    पर 3 किमी स्कूल
    अरजपूरी स्कूल के प्राचार्य नंदलाल ने बताया कि ग्राम राहटा से अरजपुरी स्कूल अगर सड़क से आएंगे तो 17 किमी दूर है। सड़क से होकर आने पर रायगढ़, माटरी, भंवरमरा, नंग्गूटोला गांव को पार कर आना पड़ेगा। जलाशय से पार करें तो इसकी दूरी मात्र 3 किमी है। पास में और हाई व हायर सेकंडरी स्कूल नहीं होने की वजह से ही ये स्कूली बच्चे नाव से जलाशय पार करके स्कूल आते हंै।
    पहले मना किया पर बच्चों 
    के पढऩे की ललक देखकर भर्ती किया-प्राचार्य
    प्राचार्य नंदलाल ने बताया कि जब इन विद्यार्थियों को भर्ती कराने स्कूल आए तो उनकी इस स्थिति को देखकर पहले मना भी किया गया था। विद्यार्थियों ने कहा कि उनके सामने जलाशय नाव से पार कर स्कूल आने की मज़बूरी है। हमें आगे पढ़ाई करना है। चाहे इसके लिए कोई भी मुसीबत का सामना करना पड़े। उनका हौसला और ललक देखकर भर्ती किया।

  •  

Posted Date : 05-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बालोद, 5 जनवरी।  बालोद जिला विपणन विभाग द्वारा धान परिवहन मामले को लेकर अब खुद के द्वारा किये गये गलतियों पर ही घिरते दिखाई दे रहे हंै।  विभाग द्वारा बनाये गए एल 1 एल 2 व एल 3 के नाम पर एक बड़ा  खेल किया गया जिसमे विभाग ने धान परिवहन कर रहे ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने कुछ खरीदी केन्द्रों नजदीक के संग्रहण केन्द्रों को विलोपित कर अपने जीपीएस सिस्टम में ज्यादा दुरी बताकर एल 1 की जगह एल 3 में डाल दिया गया। कुछ जगहों पर नजदीक के संग्रहण केंद्र का नाम ही  एल 1 एल 2 व एल 3 में भी नहीं रखा और दूर के संग्रहण केंद्र में धान को परिवहन कराया गया इस  मामले की जानकारी लेने जब बालोद जिला विपणन संघ कार्यालय पहुंचे तो जिला विपणन अधिकारी ने बताया कि पुरे संग्रहण केन्द्रों की मेपिंग जीपीएस सिस्टम से किया गया है
    जीपीएस सिस्टम में गलत जगह  मेपिंग  
    गौरतलब है कि इस धान परिवहन मामले जिले से लेकर प्रदेश के कुछ बड़े ट्रांसपोर्टरो द्वारा पिछले 3 वर्षो से जिले भर के खरीदी केन्द्रों से संग्रहण केन्द्रों तक धान को परिवहन किया जा रहा है और इस मामले को सबसे पहले छत्तीसगढ़ में खबर के माध्यम से उजागर भी किया था जिसके बाद प्रशासन ने मामले को लेकर जिला विपणन अधिकारी (डी एम ओ )से जानकारी मांगी थी।  लेकिन इसमें डी एम ओ द्वारा कुछ संग्रहण केंद्र खुले नहीं होने का हवाला  दिया गया।  
    मामले में जब  छत्तीसगढ़ ने आगे जांच किया तो एक चौकाने वाले तथ्य भी सामने आया कि पिछले दिनों कुरदी धान खरीदी केद्र से फुंडाभाटा 38 किमी धान परिवहन किया गया जबकि इसी केंद्र से जगतरा संग्रहण की दुरी सिर्फ 27 किमी है।  इस पर जब डी एम ओ से जानकारी लेने का प्रयास किया गया तो उन्होंने बताया कि उनके साफ्टवेयर में कुरदी से जगतरा की दुरी 61 किमी दिखा रहा है जिसके बाद जब इस पुरे मामले की पड़ताल की गई तो विभाग द्वारा गलत तरीके से रोड मेपिंग के साथ-साथ गलत जगह को सलेक्ट कर जगतरा को तीसरे स्थान पर रख दिया गया है।
     इसी तरह पिरीद सोसायटी से मालीघोरी (दुधली) धान संग्रहण केंद्र की दुरी सिर्फ 15 किमी है लेकिन डी एम ओ कार्यालय से मालीघोरी को बिना सर्वे किये सीधे फुंडाभाटा 40 किमी तक धान को परिवहन कराया  जा रहा है । सॉफ्टवेयर द्वारा तैयार रोड मेप में फार्मूला एल 1 एल 2 एल 3 में गलत जानकारी डालने से  हर रोज  लाखों  का नुकसान हो रहा है।
      मुख्यमंत्री से भी लिखित शिकायत
    गौरतलब है इस पुरे मामले को लेकर छत्तीसगढ़ में खबर प्रकाशित होने के बाद परिवहन में लगे ठेकेदारों के बीच हड़कंप मचा।  जिला विपणन विभाग ने करीब 100 से अधिक टी ओ (ट्रांसपोर्टिंग आर्डर ) निरस्त भी कर दिए थे। इस बीच हुए भ्रष्ट्राचार के जांच की कार्यवाही को लेकर बालोद जिले में पहुंचे मुख्यमंत्री के पास भी लिखित शिकायत की गई है।  अब मामले की आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो में भी शिकायत किये जाने की बात सामने आ रही है।

     

     

  •  

Posted Date : 05-Jan-2019
  • धान उपार्जन केन्द्रों का निरीक्षण करने टीम गठित

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बालोद, 4 जनवरी। कलेक्टर श्रीमती किरण कौषल ने धान उपार्जन केन्द्रों से धान के उठाव में तेजी लाने के निर्देष दिए। उन्होंने जिला विपणन अधिकारी को प्रतिदिन ज्यादा से ज्यादा वाहन लगाकर धान का परिवहन उपार्जन केन्द्रों से धान संग्रहण केन्द्रों में कराने के निर्देष दिए। उन्होंने नागरिक आपूर्ति निगम के जिला प्रबंधक को प्रतिदिन चावल एफसीआई के गोदाम में जमा कराने के निर्देष दिए। कलेक्टर श्रीमती कौषल कल संयुक्त जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में अधिकारियों को निर्देषित कर रही थी। 
    कलेक्टर ने कहा कि जिले के 110 धान उपार्जन केन्द्रों के निरीक्षण के लिए तहसीलवार खाद्य निरीक्षक, नायब तहसीलदार और पटवारियों की टीम गठित की गई है। गठित टीम जिस-जिस धान उपार्जन केन्द्रों में खरीफ विपणन वर्ष 2016-17 की तुलना में खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 में धान की आवक ज्यादा दर्ज हो रही है, उसका निरीक्षण करेगी। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री राजेन्द्र कुमार कटारा, अपर कलेक्टर श्रीमती तनुजा सलाम, संयुक्त कलेक्टर श्री बी.एल.गजपाल, एस.डी.एम. बालोद श्री हरेष मण्डावी, एस.डी.एम. डौण्डीलोहारा श्री जी.एल.यादव, एस.डी.एम. गुण्डरदेही श्री आर.एस.ठाकुर, सहित खाद्य विभाग, मार्कफेड और नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारी उपस्थित थे।
    कलेक्टर के मार्गदर्षन में संयुक्त कलेक्टर श्री बी.एल. गजपाल ने जिले के चारों धान संग्रहण केन्द्र जगतरा, धोबनपुरी, फूण्डाभाठा और मालीघोरी में सुगमतापर्वक और तेजी से धान के परिवहन के लिए राईस मिलर्स, परिवहनकर्ता एवं हमालों की संयुक्त बैठक ली। उन्होंने प्रतिदिन ज्यादा से ज्यादा गाडिय़ॉ लगाने और धान का परिवहन उपार्जन केन्द्रों से धान संग्रहण केन्द्रों में करने के निर्देष दिए। 

  •  

Posted Date : 03-Jan-2019
  • किसानों को कूपन वितरण 3 से

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बालोद, 2 जनवरी । दंतेश्वरी मैय्या सहकारी षक्कर कारखाना करकाभाट में पेराई सत्र 2018-19 के अंतर्गत गन्ना पेराई चार जनवरी 2018 से षुरू की जाएगी। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल की अध्यक्षता में आयोजित आज बैठक में यह जानकारी दी गई। 
    कलेक्टर ने गन्ना पेराई षुरू करने के पूर्व की गई तैयारियों की जानकारी ली। षक्कर कारखाना के प्रबंध संचालक ने बताया कि गन्ना उत्पादक किसानों को तीन जनवरी से कूपन वितरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिले के 1906 किसानों द्वारा 1803.02 हेक्टेयर में गन्ना लगाया गया है। कलेक्टर ने षक्कर कारखाना द्वारा निविदा में बुलाई गई 1462 सामग्रियों का सत्यापन डिप्टी कलेक्टर एवं दंतेष्वरी मैय्या सहकारी षक्कर कारखाना के प्रभारी अधिकारी   विनय कुमार पोयाम, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक और शासकीय पॉलीटेक्नीक महाविद्यालय के प्राचार्य की समिति बनाकर कराने के निर्देश दिए। 

  •  



Previous12Next