छत्तीसगढ़ » दुर्ग

Previous1234Next
Posted Date : 13-Nov-2018
  • कांग्रेस-भाजपा दोनों पार्टी वोटर्स को रिझाने कर रहे हर कोशिश
    जोगी कांग्रेस की दमदार उपस्थिति से बिगड़ा चुनावी समीकरण

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दुर्ग, 12 नवंबर। चुनाव की तारीख निकट है। 20 नवंबर को वोटिंग है, जिले में 9 विधानसभा की सीटे हैं। जिसमें दुर्ग का अपना अलग महत्व है। यहां कहने को तो 21 प्रत्याशी अपना भाग्य अजमा रहे हैं। मुख्य मुकाबला कांग्रेस और भाजपा के बीच है। जोगी कांग्रेस के प्रताप मध्यानी ने भी अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज की है।
    चुनाव की तारीख निकट आते ही कांग्रेस-भाजपा और छजपा तीनों ही पार्टियों में चुनावी गतिविधियां एकाएक बढ़ गई है। दुर्ग संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत दुर्ग विधानसभा सीट का अपना अलग महत्व है। खास कर पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद मोतीलाल वोरा दुर्ग गृह नगर है। वोरा ने अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत यहीं से की थी। आज वे कांग्रेस के दिग्गज नेता तथा केंद्र की राजनीति में उनकी अपनी एक अलग दखल मानी जाती है। वर्तमान में वोरा के उत्तराधिकारी के रूप में उनके छोटे बेटे अरूण वोरा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वैसे तो दुर्ग को कांग्रेस का किला माना जाता रहा है, लेकिन समय के साथ यहां की राजनीतिक हवा बदली है। पिछले चुनाव के पहले दो चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के किले को ढ़हा दिया था। क्षेत्र में भाजपा का जनाधार भी पहले की तुलना में काफी बढ़ा माना जाता है। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने इस सीट पर फिर से कब्जा कर लिया है। विधायक के रूप में अरूण वोरा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, लेकिन स्थानीय चुनाव में दुर्ग शहर से कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा है। क्षेत्र के प्रथम नागरिक का दायित्व चंद्रिका चंद्राकर संभाली हुईं हैं। 
    विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही इस सीट से अरूण वोरा की उम्मीदवारी कांग्रेस से तय मानी जा रही थी। इस सीट के लिए विधायक वोरा के अलावा किसी ने दावेदारी भी पेश नहीं की थी। कांग्रेस ने अरूण पर ही भरोसा जताते हुए इस बार भी चुनाव लडऩे मौका दिया है। प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के कारण दुर्ग का अपेक्षित विकास तो नहीं हो पाया है, लेकिन वोरा की सक्रियता पूरे 5 साल रही है। जिससे अब उनकी छवि एक जुझारु नेता की बन गई है। क्षेत्र की समस्याओं को लेकर वोरा पूरे अपने कार्यकाल के दौरान जूझते रहे हैं। प्रत्याशियों के पास चुनाव प्रचार के लिए समय बहुत कम है। इस बात को ध्यान में रखते हुए वोरा ने अब चुनावी जनसंपर्क तेज कर दिया है। वैसे वोरा की इस बार भी उम्मीदवारी को लेकर कांग्रेसियों में असंतोष जैसी स्थिति नहीं है। दुर्ग के कांग्रेसियों में एकजुटता भी दिखाई दे रही है। जिससे ऐसा माना जा रहा है कि दुर्ग की सीट पर फिर से भगवा झंडा फहराना भाजपा के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। 
    भाजपा ने टिकिट को लेकर विवाद की स्थिति से बचने के लिए महापौर चंद्रिका चंद्राकर को चुनाव मैदान में उतारा है। महापौर की उम्मीदवारी को लेकर भाजपा के विभिन्न राजनीतिक खेमों में इस बात की चर्चा है कि सांसद सरोज पाण्डेय के कृपा पात्र कोटे से उसे टिकिट तो मिल गई है पर भाजपा में गुटबाजी बहुत है। इस सीट के लिए क्षेत्र के प्रमुख भाजपा नेताओं ने भी अपनी दावेदारी पेश की थीए लेकिन महापौर को टिकिट मिले से उन नेताओं में अंदर ही अंदर असंतोष उभरने की आम चर्चा है। हालांकि असंतुष्ट नेताओं को मनाने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। पार्टी से जुड़े होने के कारण असंतुष्ट भाजपाई खुलकर कुछ बोल नहीं पा रहे हैं, लेकिन चुनाव में वोटर्स को रिझाने अब तक चुनाव प्रचार में भी जमकर भीड़े नहीं हैं। जिससे ऐसा माना जा रहा है कि भाजपा प्रत्याशी चंद्रिका की चुनावी राह आसान नहीं है। 
    इस चुनाव में जोगी कांग्रेस के प्रताप मध्यानी ने अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज की है, जिसके कारण चुनाव का पूरा समीकरण गड़बड़ा गया है। चुनाव प्रचारके मामले में भी जोगी कांग्रेस कहीं कोई कमजोर है। इसका मतदाताओं पर कितना असर पड़ेगा यह तो समय के गर्भ में है, लेकिन राजनीति विशेषज्ञ भी यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि पलड़ा किसका भारी है।
    कुल 21 प्रत्याशी
    कुल वोटर्स-200514, महिला-100645, पुरुष-99896
    प्रत्याशी अरुण वोरा  कांग्रेस, चंद्रिका चंद्राकर भाजपा, प्रताप मध्यानी छजकां। चुनाव-2013 में कुल वोटिंग-138480, कांग्रेस विजयी अरुण वोरा 58,654, भाजपा पराजित हेमचंद यादाव 53,024, वोरा अंतर 5621।

  •  

Posted Date : 11-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    भिलाई नगर, 11 नवंबर। कांगे्रस की मानसिकता ही विकृत है, कांग्रेस विकास में हमेशा से रोड़ा बनती रही है। भिलाई में सूर्यकुंड के लिए और अयोध्या में राम मंदिर के लिए कांग्रेस सबसे बड़ी बाधक है। उक्त बातें बैकुंठधाम मैदान में आमसभा को सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहीं। 
    योगी आदित्यनाथ कल से ही दुर्ग सम्भाग की विधानसभा सीटों पर भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में आमसभाएं ले रहे हैं। आज दोपहर लगभग 12 बजे उन्होंने बैकुंठधाम आमसभा में उपस्थितों को छठ पर्व की शुभाकमानाएं देते हुए कहा कि यह पर्व केवल धार्मिक एवं सांस्कृतिक आयोजन ही नहीं है बल्कि समाज को जोडऩे का भी कार्य करता है। न्यायालयीन बाधा को दूर करने एवं बैकुंठ धाम में सूर्य कुंड निर्माण के लिए वैशाली नगर विधानसभा के भाजपा प्रत्याशी विद्यारतन भसीन को विजयी बनाने का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि कांगे्रस की मानसिकता ही विकृत है, कांग्रेस विकास में हमेशा से रोड़ा बनती रही है। 
    उन्होंने कहा कि भिलाई में सूर्यकुंड के लिए और अयोध्या में राम मंदिर के लिए कांग्रेस सबसे बड़ी बाधक है। 1949 से लेकर अब तक अयोध्या में राम मंदिर के लिए कांग्रेस पार्टी बाधक बनी रही, सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस नेता और अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने ही मुख्य न्यायाधीश के समक्ष राम मंदिर की सुनवाई 2019 तक आगे बढ़ाने की अर्जी दी। कांग्रेस देश की शांति और सौहाद्र के लिए खतरा है, केवल वोट बैंक बढ़ाने का खेल खेलती है जो कि राष्ट्र सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा है। नक्सली देश के जवानों और नागरिकों पर हमला कर रहे हैं और कांग्रेस उन्हीं नक्सलियों को क्रांतिकारी बता रही है। कश्मीर जल रहा है, पूर्वोत्तर राज्य अलगाववाद और नक्सल चपेट में है। 
    योगी ने कहा कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार और प्रदेश की डॉ. रमन सरकार ने विकास के क्रांतिकारी कार्य करती रही है जबकि कांग्रेस के कार्यकाल में छत्तीसगढ़ बीमारू राज्य था। नक्सलवाद सबसे बड़ी समस्या थी, किसान आत्महत्या कर रहे थे, माफिया राज चल रहा था। पिछले 15 वर्षों में डॉ. रमन सरकार ने परिवर्तन लाया और किसानों, आदिवासियों, गरीब, सतनामी एवं नागरिकों को सुविधाएं दी हैं। तेंदू पत्ता संग्रहण में लगे आदिवासियों को चरण पादुकाएं, राज्य में इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज दिए, स्वास्थ्य के लिए बेहतर अस्पताल का निर्माण करवाया, लो वोल्टेज समस्या को दूर कर बिजली के मामले में सरप्लस राज्य बनाया। राजीव गांधी ने कहा था कि जब वे लोगों के लिए 1 रूपये केन्द्र से भेजते हैं तो बिचौलियों और दलालों की वजह से गरीबों तक केवल 10 पैसा ही पहुँचता है जबकि नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा गरीब व किसानों को भेजे गए पूरे रूपए उनके बैंक खातों में पहुँच रहा है। मोदी सरकार ने देश की 8 करोड़ महिलाओं को उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन, 4 करोड़ घरों में सौभाग्य बिजली योजना के तहत विद्युत कनेक्शन, करोड़ों आवासविहिनों के सर पर पक्का घर और छत दी है। 
     योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए कहा कि कांग्रेस की सरकार जब दिल्ली में थी तो सीएम डॉ. रमन को राज्य के विकास के लिए फंड जुटाने दिल्ली में धरना देना पड़ता था, लेकिन मोदी सरकार ने राज्यों के इस भेदभाव को समाप्त कर दिया है। वैशाली नगर के कांग्रेस प्रत्याशी बीडी कुरैशी को बताना होगा कि बैकुंठधाम का तालाब वो कहां बनवाएंगे? उन्होंने क्षेत्रवासियों से भाजपा प्रत्याशियों को भारी मतों से विजयी बनाने की अपील की। 

  •  

Posted Date : 10-Nov-2018
  • भिलाई नगर, 10 नवंबर। पुरानी भिलाई-3 थाना अंतर्गत बैंक के एटीएम को चोरी कर किसी अज्ञात ने 44 हजार रुपए निकाल लिए हैं। पुलिस ने अज्ञात आरोपी खिलाफ जुर्म दर्ज कर विवेचना प्रारंभ कर दी है। पुलिस ने बताया कि वार्ड-14 गांधी नगर भिलाई तीन निवासी अन्नपूर्णा ने लिखित शिकायत की है कि उनके पति संतोषकुमार के एसबीआई खाता 30170642609 का एटीएम अपने पास रखे हुए थीं। 18 अक्टूबर को उनका एटीएम चोरी हो गया और 19 अक्टूबर को खाते से 10 हजार रुपए बीएमवाई स्थित अस्पताल में लगे एटीएम से निकाल लिए गए। 
    दूसरी बार कृष्णा नर्सिंग होम के एटीएम से 10 हजार, विश्वास पेट्रोल पंप एटीएम से 400 और 20 अक्टूबर को बाजार चौक के एटीएम से 10 हजार रुपए निकाले गए। इस तरह पांच अलग-अलग जगहों से एटीएम से रुपए निकाले गए। घटना की जानकारी लगने पर एसबीआई एटीएम को परिजनों ने ब्लाक करा दिया है। खाते से अज्ञात व्यक्ति ने 44 हजार रुपए पार कर दिये हैं। साइबर क्राइम में घटना की शिकायत पर एटीएम से किसने रूपए निकाले इसकी जांच की जा रही है। 

  •  

Posted Date : 10-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    दुर्ग, 10 नवंबर। गर्लफें्रड को छेडऩे वाले को प्रेमी और उसके मामा द्वारा चाकू मारकर घायल करने का मामला सामने आया है। इस घटना में युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना के बाद उसका इलाज जिला अस्पताल में किया जा रहा है। सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस ने प्रेमी सहित तीन लोगों के खिलाफ धारा 307, 294, 25 व 27 के तहत अपराध दर्ज किया है। 
    जानकारी के मुताबिक गुरूवार रात 10.30 बजे बांधातालाब निवासी भूपेश साहू को क्षेत्र में ही रहने वाले अन्नू ने चाकू मारकर घायल कर दिया था। पुलिस के मुताबिक अन्नू की गर्लफें्रड को भूपेश ने छेड़ा था। इसके चलते अन्नू क्षेत्र में रहने वाले भूपेश से रंजिश रखता था। इसके चलते उसने उसे चाकू मारकर घायल कर दिया। यह बात अन्नू ने अपने भाई को बताई। अन्नू का भाई उसे लेकर घर की ओर जाने लगा। तभी पुलिया के पास भूपेश के साथी गोलू महार ने उसे रोक लिया। वह उसे लेकर अपने घर के पास पहुंचा। तभी अन्नु अपने मामा राजेश महार के साथ मौके पर पहुंच गया। राजेश ने भूपेश के पेट में चाकू मार दिया। इससे भूपेश जान बचाने के लिए भागने लगा तो गोलू महार ने उसे पकड़ लिया और पीठ पर वार किया। भूपेश के भाई ने जब बीच-बचाव किया तो उस पर भी आरोपियों ने चाकू से हमला कर दिया, जिससे उसके हाथ में चोट आई। 
    प्रवेश परीक्षा के संबंध में बैठक 15 को
    राजनांदगांव, 10 नवंबर। जवाहर नवोदय विद्यालय डोंगरगढ़ में सत्र 2019-20 में कक्षा 6वीं में प्रवेश हेतु प्रवेश परीक्षा के संबंध में 15 नवंबर को दोपहर 12 बजे डॉ. बल्देव प्रसाद मिश्र शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला बसंतपुर राजनांदगांव में बैठक आयोजित की गई है। 
    बैठक में जिले के समस्त विकासखंड शिक्षा अधिकारी, ब्लाक स्त्रोत समन्वयक (बीआरसी), संकुल समन्वयक (सीएसी) को उपस्थित होने के निर्देश दिए गये है। 

  •  

Posted Date : 09-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    भिलाई नगर, 9 नवंबर। दीपावली की रात्रि 10 बजे सोनिया गांधी नगर देना बैंके के पीछे जोन-1 सड़क नं. 7 में मामूली विवाद पर एन गोपाल उर्फ एन गोपालू (21 वर्ष) निवासी सड़क-8 स्वीपर मोहल्ला देना बैंक के पीछे ने सड़क-7 निवासी अमित चौरसिया (33 वर्ष) को पेट में चाकू मारकर हत्या कर दिया था तथा घटनास्थल से फरार हो गया था। आरोपी को छावनी पुलिस ने 12 घंटे के अंदर तलाश कर गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की। 
    आरोपी एन गोपाल के विरूद्ध थाना छावनी में आम्र्स एक्ट तथा मारपीट के 6 मामले दर्ज हैं। आचार संहिता लागू होने के बाद पिछले महीने ही उसे आम्र्स एक्ट में बंद किया था। कुछ दिन पूर्व ही जमानत पर रिहा होने के बाद उसने घटना को अंजाम दिया। 7 नवंबर की रात्रि लगभग 10 बजे हरेंद्र चौरसिया जो कि मृतक का चाचा है, घर में खाना खा रहा था उसी समय घर के बाहर से लड़ाई झगड़े की आवाज आने पर बाहर निकल कर देखा तो आरोपी एन गोपाल अमित के साथ गाली गलौज करते हुए हाथापाई कर रहा था। प्रार्थी बीच-बचाव करने गया तो आरोपी ने उत्तेजित होकर अपने पास रखे चाकू से अमित के पेट में वार कर दिया जिसे तत्काल अस्पताल ले गये किंतु उसने दम तोड़ दिया।

  •  

Posted Date : 05-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    भिलाई नगर, 5 नवंबर। दुर्ग ग्रामीण ब्लॉक अध्यक्ष नंदकुमार सेन एवं ब्लॉक 6 अध्यक्ष मुकुंद के संयुक्त तत्वाधान में कल दुर्ग ग्रामीण विधान सभा के ग्राम पाउवारा में बैठक सम्पन्न हुई जिसमें कांग्रेस प्रत्याशी ताम्रध्वज साहू ने कहा कि सभी आपसी भेदभाव को त्याग कर चुनावी समर में भीड़ जाएँ। 
    पार्टी की रीति नीति से जनता को अवगत कराएं और उनका समर्थन मांगे। इस अवसर पर दुर्ग ग्रामीण विधान सभा के अंतर्गत आने वाले भिलाई नगर निगम के पार्षद, पूर्व पार्षद, बूथ कमेटी के अध्यक्ष, समस्त सेक्टर प्रभारी, दुर्ग ग्रामीण ब्लॉक के सभी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी सदस्यगण, एनएसयूआई, यूवा कांग्रेस, महिला कांग्रेस, सेवा दल, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ,अनूसूचित जाति एवं जनजाति प्रकोष्ठ, असंगठित कामगार प्रकोष्ठ, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ, पंचायतीराज, किसान कांग्रेस, कोमी एकता प्रकोष्ठ सहित दुर्ग ग्रामीण विधान सभा के समस्त कार्यकर्ता तथा वरिष्ठ कांग्रेसजन उपस्थिति थे।

     

  •  

Posted Date : 05-Nov-2018
  • भिलाई नगर, 5 नवंबर। भिलाई नगर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने कल वार्ड 35 व 38 में जनसंपर्क किया। वार्ड के युवा व महिलाओं की टीम ने कहा कि पिछले 5 वर्षों में भिलाई में जो विकास हुआ वो कभी नहीं हुआ। क्षेत्र की महिलाओं ने श्री पाण्डेय को टीका लगा कर उन्हें जीत का आर्शीवाद दिया। वार्ड के हर मोहल्ले में लोगों का भाजपा के पक्ष में उत्साह देखते ही बन रहा था। श्री पाण्डेय ने कहा कि भाजपा आपके विकास के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। जब भी आपने हमें आर्शीवाद दिया, हमने क्षेत्र के विकास के लिए पूरा प्रयास किया है। पूरा भरोसा है कि इस बार आप सभी के सहयोग से भिलाई में कमल खिलेगा और तेज गति से विकास होगा। 

  •  

Posted Date : 05-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    भिलाई नगर, 5 नवंबर। मित्र के पिता के साथ धोखाधड़ी करते हुए जालसाजी से उनके खाता से 1 लाख 18 हजार भीम एप्स के द्वारा अपने एकाउंट में ट्रांसफार करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। 
    गौरतलब हो कि थाना छावनी में धारा 420 के तहत चिंताराम तारम पिता सीताराम ठाकुर निवासी बीआरपी कालोनी मरोदा, जो कि जेपी सीमेंट में कार्यरत है ने इस धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज करवाई थी। चिंताराम के पिता सीताराम ठाकुर नेशनल इन्श्योरेंस पावर हाउस में काम करते हैं। अप्रैल 2018 में सीताराम को पक्षाघात होने के कारण घर से बाहर जाकर कार्य करने में शारीरिक रूप से असमर्थ हो गये जिसके चलते चिंताराम ने पिता का मोबाइल और एटीएम डेबिट कार्ड तथा बैंक सम्बंधित कागजात अपने पास रखा था ताकि पिता के इलाज के लिए पैसे निकाल सके। जुलाई माह में पिता के आयकर रिटर्न भरने बैंक ऑफ  इंडिया शाखा पावर हाउस स्थित बैंक खाता का डिटेल चेक किया तो उसमें 1 लाख 18 हजार कम दिखा। अच्छे से चेक किया गया तो 5 जुलाई को 20-20 हजार, 6 जुलाई को 20 व 18 हजार और 23 जुलाई को 20-20 हजार सहित कुल 1 लाख 18 हजार भीम एप्प के माध्यम से किसी अन्य के एकाउंट में ट्रांसफर किया गया था। 
    िचंताराम ने भीम ऐप और पिता के मोबाइल के सम्बंध में विस्तृत जानकारी ली तो पता लगा कि जब पिता को पक्षाघात हुआ उसके कुछ समय बाद पिता के मोबाईल का सिम खराब हो गया था जिसे दुबारा लेने के लिये चिंता राम ने अपने दोस्त जेपी सीमेंट में कार्यरत अतुल परिहार से चर्चा की थी। अतुल परिहार इलेक्ट्रिशियन है, ने सीताराम का आधार कार्ड मंगवाया था। अतुल के साथ जाकर चिंताराम ने अपने पिता वाला पुराना सिम जमा करके नया सिम प्राप्त किया। जहां से सिम लिया गया वहां से सिम 24 घण्टे के अंदर चालू होने की सूचना मिली थी। अतुल परिहार ने नए सिम को अपने पास रख लिया और और कहा कि जब चालू होगा तब चेक करके दे दूंगा। दूसरे दिन सिम मांगने पर कहा कि गलती से धोने वाले कपड़े में ही छूट गया है, ढूंढ के देता हूँ। पुन: मांग करने पर ना नुकुर करते हुए दूसरे दिन सुबह अपने मोबाइल से सिम निकाल कर दिया और कहा कि मोबाइल लाओ सिम लगा कर देता हूँ। सीताराम के बैंक एकाउंट को आधार लिंक कर देने का महत्व बताते हुये अतुल ने बैंक खाता नम्बर, एटीएम नम्बर, पिन कोड, आधार नम्बर प्राप्त किया और दोस्ती में विश्वास के आड़ में धोखाधड़ी कर सीताराम के बैंक एकाउंट से 1 लाख 18 हजार अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर लिया। आरोपी अतुल सिंह परिहार (29 वर्ष) निवासी सेक्टर 6 बी मार्केट के पीछे सड़क 25 जेपी हास्टल थाना भिलाई नगर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 

  •  

Posted Date : 03-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    दुर्ग, 3 नवंबर। भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पाण्डेय की भाभी ने अंतत: वैशाली नगर विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल कर चुनाव मैदान में ताल ठोक दी। उन्होंने नामांकन पश्चात पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि वे अपने स्टैण्ड पर कायम रहेंगी। नामांकन फार्म वापस नहीं लेंगी। नामांकन फार्म दाखिल करने पहुंची चारूलता के साथ रैली में उनके पति राकेश पाण्डेय भी कलेक्टोरेट तक पहुंचे, मगर नामांकन कक्ष में साथ नहीं गए। चारूलता ने भिलाई नगर एवं वैशाली नगर दोनों जगह से नामांकन फार्म ली थी, मगर सिर्फ वैशाली नगर से नामांकन फार्म जमा की। 
    पत्रकारों से चर्चा करते हुआ कहा कि महिलाओं का भाजपा एवं कांग्रेस दोनों ही पार्टियों ने अपमान किया है। परिवार की सहमति पर कहा कि मेरे स्वतंत्र विचार है, 30 साल से उनके पति पार्टी के लिए काम कर रहे हैं। बगावत के प्रश्न पर कहा कि यह बगावत नहीं है। पारिवारिक तौर पर सब साथ है। सरोज पाण्डेय के समर्थन के प्रश्न पर कहा कि सरोज का समर्थन नहीं है वे पूरे समय देश में घूमती है। उनका पूरा परिवार भाजपा में है। उन्होंने कहा भिलाई नगर विधानसभा में भी उनकी रूचि है, मगर वैशाली नगर में समस्या अधिक होने की वजह से सिर्फ वैशाली नगर से नामांकन दाखिल कर रही है। 
    हाईकमान का निर्देश-साहू
    दुर्ग ग्रामीण विधानसभा से प्रतिमा चंद्राकर की जगह टिकट दिए जाने के प्रश्न पर सांसद ताम्रध्वज साहू ने कहा कि उन्होंने टिकट की मांग नहीं की थी। खुद पूरे प्रदेश में दौरा करना चाहते थे, मगर दिल्ली से हाईकमान के निर्देश का पालन करते हुए दुर्ग ग्रामीण से पार्टी के उम्मीदवार के रूप में चुनाव मैदान में है। उन्होंने कहा कि टिकट में किस कारण फेरबदल की गई, इसकी उन्हें जानकारी नहीं है। इस पर वे कुछ नहीं कह पाएंगे। उन्होंने जातिगत समीकरण के आधार पर टिकट दिए जाने की बात को नकार दिया। वहीं कांग्रेस में उन्हें सीएम घोषित करने के प्रश्न पर कहा कि जीवन में वे कभी कोई महत्वकांक्षा नहीं रखते। पार्टी जो जिम्मेदारी देती है उसका सम्मान करते हुए मन से वे पूरा करते हैं। 
    43 अभ्यर्थियों ने दाखिल 
    किया नाम निर्देशन पत्र
    विधानसभा निर्वाचन-2018 के अंतर्गत जिले के 6 विधानसभा क्षेत्रों के अंतर्गत आज 43 अभ्यर्थियों ने अपना नाम निर्र्देशन पत्र दाखिल किया। प्राप्त जानकारी के अनुसार आज आवेदन जमा करने वाले अभ्यर्थियों में पाटन विधानसभा से 5 अभ्यर्थियों ने नामांकन जमा किया। इसमें मनोज कुमार बघेल (निर्दलीय), रामपासद कोसले (राष्ट्रीय समाजवादी पार्टी), देव प्रसाद मार्कण्डेय (छत्तीसगढ़ स्वाभिमान पार्टी), दिनेश  कुमार कुर्रे (अम्बेडकर पार्टी) एवं राधिका प्रसाद वर्मा (निर्दलीय)। दुर्ग शहर से सुनील कुमार मार्कण्डेय (अम्बेडकर पार्टी), सुभाष कुमार पाल (इंडिया प्रजाबंधु पार्टी), सूर्य नारायण सोनवानी (पिछड़ा वर्ग पार्टी), भिलाई नगर से रामाधार कोरी (निर्दलीय), देवेन्द्र देवांगन (निर्दलीय), जानीसार अख्तर (राष्ट्रीय समाजवादी पार्टी), दीनानाथजी जैसवार (बसपा), विनोद कुमार वासनिक (बसपा), अर्पण तरूण (इंडियन प्रजाबंधु पार्टी), गीताजंली सिंह (बसपा), परसराम  (अम्बेडकर राईट पार्टी), असगर शेख (निर्दलीय), अनरूल हक (निर्दलीय), किशोर कुमार (निर्दलीय), शत्रुघन प्रसाद (निर्दलीय), जावेद खान (निर्दलीय). वैशाली नगर विधानसभा से हेमंत चैहान (निर्दलीय), बीडी कुरैशी (कांग्रेस), चंद्रशेखर साहू (आम आदमी पार्टी), लता लुनहारे (छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच), पंकज सिरसार (अम्बेडकर पार्टी), चारूलता पाण्डेय (निर्दलीय), जानीसार अख्तर (निर्दलीय), नजरूल ईस्लाम (निर्दलीय), अश्वनी कुमार शुक्ला (स्वाभिमान मंच पार्टी), संजय कुमार गेण्ड्रे (निर्दलीय), ई.मिल्टन लाल (इंडिया प्रजाबंधु पार्टी). अहिवारा विधानसभा से पद्मा पाटिल (एसयूसीआई), शैलेन्द्र बंजारे (शक्ति सेना), पारस राम राकेश (भाजपा), दुर्ग ग्रामीण से ताम्रध्वज साहू (कांग्रेस), बालमुकुंद देवांगन (निर्दलीय), सौरभ शर्मा (शिव सेना), प्रतिमा बाई डहारिया (जोगी कांग्रेस), राधेश्याम सोरी (अम्बेडकराईज्ड पार्टी), संतोष निषाद (निर्दलीय), रोहित कुमार देवांगन(निर्दलीय), जागेश्वर कुमार साहू (निर्दलीय) शामिल हैं।

  •  

Posted Date : 03-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    भिलाई नगर, 3 नवम्बर। अहिवारा विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस प्रत्याशी रूद्र कुमार गुरु ने प्रचार शुरू कर दिया है। पूरे क्षेत्र का एक बार वे जनसंपर्क पूरा कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि अहिवारा विधानसभा क्षेत्र बने 10 वर्ष हो चुके हैं, लेकिन यहां कि जनता मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। भिलाई में प्रस्तावित सरकारी अस्पताल अब तक नहीं बन पाया है, इसकी वजह से इलाज के लिए लोगों को दूर जाना पड़ता है। अहिवारा के विधायक सावलाराम डहारे की निष्क्रियता लगातार क्षेत्र को पीछे होता गया।  उन्होंने आरोप लगाया कि विधायक रहते सावलाराम ने सिर्फ अपने चहेतों को ठेका दिलवाया और वे परसेंटेज लेने वाले विधायक ही रहे। विधानसभा क्षेत्र में पार्टी के सभी वरिष्ठ नेताओं, पदाधिकारियों और समाज के लोगों के साथ बैठक हो चुकी है। बैठक में लोगो के विचार भी जानने को मिले हैं। अहिवारा विधानसभा क्षेत्र के दौरे में पता चला है कि भाजपा विधायक सांवलाराम कई क्षेत्र में चुनाव जीतने के बाद पहुंचे ही नहीं है। 
    रुद्र गुरु ने कहा कि अहिवारा विधानसभा क्षेत्र में एक बड़ा इलाका रेलवे का है, जहां हजारों की संख्या में लोग निवास करते हैं। यहां पर विकास कार्य नहीं हुआ है। यदि वे विधानसभा में जन प्रतिनिधि बनकर पहुंचते हैं तो रेलवे क्षेत्र के विकास के लिए विशेष पैकेज की मांग रखेंगे। शनिवार को उनके साथ जनसंपर्क में निकलने वालों में नगर निगम चरोदा भिलाई तीन के सभापति विजय जैन, विमल मानकर, बंटी पाल, मंगलू टंडन, दिलीप ध्रुव, शीतल यादव, विजय यादव, रेहाना परवीन, बृजेश सिंह, तरुण सैनी, अभिनव बघेल, संजय साहू, विजय राठौर, रिंकू शर्मा, चंचल विश्वास और भगत तिवारी शामिल थे।
     कांग्रेस के सिपाही रुद्र गुरु
     के लिए कर रहे 
    काम - जैन
    चरोदा भिलाई तीन के सभापति विजय जैन ने कहा कि अहिवारा विधानसभा क्षेत्र के  सभी कांग्रेस के सिपाही रुद्र गुरु के लिए काम कर रहे है। उन्हें  यहां लोगो का जबर्दस्त समर्थन मिल रहा है। यहाँ किसी तरह का कोई मतभेद नहीं है।

  •  

Posted Date : 02-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    दुर्ग, 2 नवंबर। दुर्ग शहर विधायक अरूण वोरा ने नामांकन दाखिले के अंतिम दिन से एक दिन पूर्व गुरुवार को ऐतिहासिक रैली के बीच अपना नामांकन-पत्र दाखिल किया। कलेक्ट्रेट में नामांकन दाखिल करने के पूर्व वोरा के समर्थन में भव्य रैली निकली, जिसमें पूरा शहर उमड़ पड़ा। मौजूदा विधायक अरुण वोरा की नामांकन रैली में स्वस्फूर्त उमड़ी भीड़ ने पिछले सारे रिकार्ड तोड़ दिए। 
    कांग्रेस भवन से जिला कार्यालय तक निकले इस जनसैलाब में हर चौक चौराहे में शहर के विभिन्न इलाकों से आने वाले वोरा समर्थक जुड़ते गए। रैली में स्थानीय कार्यकताओं के अलावा प्रदेश भर से आए कांग्रेसजन और वरिष्ठ नेता शामिल थे। दुर्ग शहर सीट से कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशी अरुण वोरा पूरे तामझाम के साथ नामांकन के लिए निकले। वोरा के इस जनआशीर्वाद रैली में राउत नाचा एवं पंथी नृत्य जैसे आकर्षण के साथ युवक कांग्रेस, एनएसयूआई, महिला कांग्रेस, सेवा दल  एवं कांग्रेस के सभी प्रकोष्ठों के पदाधिकारी एवं हजारों की संख्या में कार्यकर्ता थे। रैली शहर में जहां-जहां से गुजरी शहरवासी अपने विधायक का गर्मजोशी से स्वागत करते देखे गए। युवा, महिलाएं तथा बुजुर्गों ने रैली को रोककर वोरा को फूल-मालाओं से स्वागत कर जीत का आशीर्वाद दिया। रैली में भीड़ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि कलेक्ट्रेट पहुंचने में वोरा को घंटों लग गए। 
    रैली में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सुभाष शर्मा, प्रदेश महामंत्री सीजू एंथोनी, संयुक्त महामंत्री अब्दुल गनी, शंकरलाल ताम्रकार, शहर अध्यक्ष आरएन वर्मा एवं शहर जिला कांग्रेस के समस्त पदाधिकारियों समेत कार्यकर्ता एवं विभिन्न सामाजिक संगठन के पदाधिकारी व हजारों की तादात में आमजन मौजूद थे।

  •  

Posted Date : 02-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    दुर्ग, 2 नवंबर। भाजपा प्रत्याशी चंद्रिका चंद्राकर ने गुरुवार को रैली निकालकर नामांकन दाखिल किया। रैली दुर्ग जिला भाजपा कार्यालय से निकल कर शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए बैगापारा स्व. हेमचंद यादव के निवास पहुंची, जहां पूर्व मंत्री स्व. हेमचंद यादव की माताजी राजिम बाई से चंद्रिका चंद्राकर ने आशीर्वाद लिया और स्व. हेमचंद यादव की पत्नी लीलावती यादव से सहयोग और समर्थन मांगा। 
    चंद्रिका चंद्राकर की नामांकन रैली भाजपा कार्यालय से प्रारंभ होकर जवाहर चौक, गांधी चौक, गवलीपारा, शिवपारा, चंडी चौक, बनियापारा, होटल मान चौक, लुचकी तालाब, गुजराती धर्मशाला, फरिश्ता कॉम्लेक्स, इंदिरा मार्केट होते हुए पुराना बस स्टैंड में आम सभा परिणीत हुई। नामांकन रैली में चन्द्रिका चंद्राकर के साथ वाहन में पूर्व विधायक डोमन लाल कोर्सेवाड़ा, जिला अध्यक्ष उषा टावरी, पूर्व महापौर डॉ. शिव कुमार तमेर, गजेन्द्र यादव सवार थे। 
    दुर्ग शहर विधानसभा कि नामांकन रैली के पश्चात जिले की सभी विधानसभाओं के भाजपा प्रत्याशियों ने एक साथ राष्ट्रीय महासचिव डॉ. सरोज पाण्डेय की उपस्थिति में नामांकन दाखिल किया। चंद्रिका चंद्राकर ने अब तक कुल 4 सेटों में नामांकन दाखिल किया है। चंद्रिका चंद्राकर के प्रस्तावक के रूप में उषा टावरी, कांतिलाल बोथरा, राजेश ताम्रकार, गजेंद्र यादव ने हस्ताक्षर किये हैं। 
    नामांकन दाखिले के उपरांत प्रत्याशी चन्द्रिका चंद्राकर, जागेश्वर साहू, सांवला राम डाहरे, मोतीलाल साहू पुराना बस स्टैंड स्थित जनसभा में मंचासीन हुए। सभी भाजपा प्रत्याशियों ने जनसभा में अपनी अपनी बात रखी तत्पश्चात नामांकन हेतु आयोजित जनसभा की मुख्य वक्ता डॉ सुश्री सरोज पांडेय ने जनसभा को संबोधित किया। 
    छत्तीसगढ़ राज्य भाजपा की देन-सरोज पांडेय
    दुर्ग में पुराना बस स्टैंड की जनसभा को संबोधित करते हुए डॉ. सरोज पांडे ने कहा कि आज अगर हम अपने नाम और पते के सामने छत्तीसगढ़ लिखते हैं तो वह अटलजी की देन है। आज राज्य स्थापना दिवस है, स्मरण रहे कि भाजपा के शिखर पुरुष अटल बिहारी वाजपेयी ने जो वादा किया था उसे निभाया और छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण कर यहां के लोगों को सम्मान दिलाया। नामांकन रैली व जनसभा में प्रमुख रूप से चतुर्भुज राठी, पुरुषोत्तम तिवारी, जितेंद्र वर्मा, प्रीतपाल बेल चंदन, माया बेलचंदन, नजरुद्दीन खोखर, संतोष सोनी, सतीश समर्थ सहित जिले की सभी विधानसभाओं के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

  •  

Posted Date : 02-Nov-2018
  • दोनों पार्टियों में बागियों के तेवर से हलचल

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    दुर्ग, 2 नवंबर। विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरने की आज अंतिम तारीख है। कलेक्टोरेट में नामांकन पत्र जमा करने वालों का तांता दिन भर लगा रहा। कांग्रेस और भाजपा दोनों ही प्रमुख पार्टियों ने जिले की नौ विधानसभा क्षेत्र के लिए अपने अधिकृत प्रत्याशी की घोषणा कर दी है। प्राय: सभी सीटों पर कांग्रेस-भाजपा के मध्य ही सीधा मुकाबला है। दुर्ग सीट पर जोगी कांग्रेस का कुछ असर नजर आ रहा है। बाकी आठ सीटों पर इस पार्टी की मात्र उपस्थिति जैसी स्थिति ही अब तक नजर आ रही है। चुनाव प्रचार के लिए प्रत्याशी के पास बहुत कम समय है। घोषित चुनाव कार्यक्रम के अनुसार 20 तारीख को वोटिंग है। इससे 48 घंटे पहले चुनाव प्रचार का शोरगुल थम जाना है। ऐसे में हर वोटर्स के पास प्रत्याशियों का पहुंच पाना असंभव है। उस चुनाव दोनों ही पार्टियां मतदाताओं तक पहुंचे सोशल मीडिया को प्रमुख माध्यम बना रखा है। 
    जिले की दो सीटें वैशालीनगर और दुर्ग ग्रामीण से कांग्रेस ने अप्रत्याशित प्रत्याशी खड़ा कर जिले की राजनीति में एकाएक हलचल पैदा कर दी है। पहले दुर्ग ग्रामीण से पूर्व विधायक प्रतिमा चंद्राकर को चुनाव मैदान में उतारा था। जिले की नौ सीटों में से किसी में साहू समाज को प्रतिनिधित्व करने का मौका नहीं दिया था। जिसे इस समाज के लोगों में कांग्रेस के प्रति जमकर असंतोष उभरने लगा था। बहुत संभव है कि इसका असर चुनाव प्ररिणाम पर भी पड़ सकता था। लेकिन एकवक्त पर कांग्रेस ने घोषित प्रत्याशी प्रतिमा चंद्राकर की टिकिट काट कर अब सांसद ताम्रध्वज साहू को चुनाव मैदान  में उतार कर साहू समाज को संतुष्ट करने के साथ चुनाव में इस समाज के वोटों को साधने की कोशिश की है। इसका कितना असर चुनाव पर पड़ेगा, यह तो आने वाला समय ही बताएगा, लेकिन कांग्रेस और भाजपा दोनों ही राजनीतिक खेमों में कांग्रेस के इस फैसले से हलचल मच गई है। भाजपा ने दुर्ग ग्रामीण से जाति समीकरण को आधार मानते हुए पूर्व विधायक जागेश्वर साहू को चुनाव मैदान में उतारा है। जागेश्वर काफी दिनों तक कांग्रेस में रहे। उसने कांग्रेस से अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की थी। बाद में उनका कांग्रेस से मोह भंग हो गया। उसके बाद से श्री साहू भाजपा का दामन थामें हुए है। इसके पहले भाजपा ने जागेश्वर साहू को वैशालीनगर के उपचुनाव में खड़ा किया था, लेकिन वे हार गए थे। तब से वे ज्यादा सक्रिय नहीं रहे हैं।  इस चुनाव में भाजपा ने साहू को एक बार फिर मौका दिया है और दुर्ग ग्रामीण से अपना अधिकृत प्रत्याशी घोषित कर चुनाव मैदान में उतारा है। भाजपा प्रत्याशी साहू का नाम नया नहीं है, लेकिन क्षेत्र में उनकी राजनीतिक सक्रियता कभी नहीं रही है। जिसके कारण क्षेत्र में एक लंबे समय से भाजपा का झंडा थामें भाजपाइयों में असंतोष की स्थिति है। पार्टी से जुड़े होने के कारण उनका विरोध खुलकर नहीं हो रहा है, लेकिन चुनाव में भीतरधात होने की पूरी संभावना इस चुनाव में अभी से नजर आ रही है। वर्तमान में यह सीट भाजपा के कब्जे में है। पिछले चुनाव में रमशीला साहू चुनाव लड़ी थी। बाद में उसे मंत्री का दर्जा भी मिल गया था। प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के बाद भी क्षेत्र का अपेक्षित विकास नहीं हो पाया है। साथ ही मंत्री रमशीला की सक्रियता भी पूरे पांच साल क्षेत्र में नहीं के बराबर रही है। इस कारण इस चुनाव में भाजपा ने रमशीला को टिकिट से वंचित कर दिया है। 
    चुनाव के लिए नामांकन भरने की आज अंतिम तारीख है। कलेक्टोरेट में फार्म जमा करने वालों का दिनभर तांता लगा हुआ है, लेकिन फिलहाल किसी भी पार्टी ने इस दौरान शक्ति प्रदर्शन जैसी स्थिति निर्मित नहीं की है। दुर्ग ग्रामीण से पूर्व विधायक प्रतिमा की टिकट काटकर सांसद ताम्रध्वज साहू को चुनाव मैदान में उतारने से पूरा चुनावी समीकरण अब बदल गया है। मुकाबला दो साहू के बीच हो गया है। इसके विपरीत कांग्रेस ने सांसद ताम्रध्वज साहू जैसे मजबूत नेता को चुनाव मैदान में उतार कर इस चुनाव में अपनी राह आसान कर ली है। सांसद साहू की सहजता और एक लंबे समय तक समाज का प्रतिनिधित्व करने के साथ क्षेत्र में भी उनका सक्रियता किसी न किसी बहाने बनी रही है। इस कारण चुनाव में भाजपा को अपनी जीत को बरकरार रखना किसी चुनौती से कम नहीं है। भाजपा में जागेश्वर की उम्मीदवारी को लेकर अंदर ही अंदर उभरे असंतोष के कारण उनके लिए चुनावी राह में अभी से कांटे ही कांटे नजर आ रहे है। 
    कांग्रेस ने अंतिम समय में वैशालीनगर क्षेत्र में प्रत्याशी को लेकर बने सस्पेंस को भी अब खत्म कर दिया है। प्रत्याशी घोषित होने से पहले तक आधा दर्जन से अधिक नामों की चर्चा हवा में गेंद की तरह उछल रही थी। प्रत्याशी को लेकर काफी उठापटक का दौर चलता रहा है, लेकिन अंत में पूर्व विधायक बीडी कुरैशी को टिकिट देकर कांग्रेस ने मुस्लिम जमात के वोटों को साधने की पूरी कोशिश की है। यहां यह बताना जरूरी है कि भाजपा ने जिले की किसी भी सीट से किसी मुस्लिम को टिकिट नहीं दी है। जिससे यह माना जा रहा है कि कांग्रेस ने वैशालीनगर से कुरैशी को खड़ा कर पूरे जिले के मुस्लिम समाज को सोंचने को मजबूर कर दिया है। वैसे क्षेत्र में कुरैशी का नाम वोटर्स के लिए कोई नया नहीं है। उनके जूझारुपन नेता होने की एक छवि क्षेत्र में बनी हुई है। पिछले चुनाव में कांग्रेस ने कुरैशी को भिलाईनगर सीट से चुनाव मैदान में उतारा था और भाजपा ने मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय को मुकाबले में खड़ा किया था। कांग्रेस प्रत्याशी कुरैशी हार गए थे। इसके बाद से उनकी स्थिति एक तरह से वनवास काटने जैसी हो गई थी। इस चुनाव में कुरैशी वैशालीनगर से कांग्रेस की टिकिट हासिल करने में कामयाब हो गए हैं। उनके खिलाफ असंतुष्ट कांग्रेस नेताओं ने मोर्चा खोल दिया है। इससे परे भाजपा ने यहां से विधायक विद्यारतन भसीन पर एक बार फिर विश्वास जताया है। प्रत्याशी की घोषणा होने से पहले तक किसे चुनाव मैदान में उतारा जाए, इस बात को लेकर भाजपा में घमासान मचा हुआ थी। अब विधायक भसीन की उम्मीदवारी को लेकर भाजपाई बगावत पर उतर आए हैं। खास कर सांसद सरोज पाण्डेय के भाई और भाभी दोनों ने नामांकन जमा कर चुनाव में निर्दलीय चुनाव लडऩे की घोषणा कर दी है। इससे भाजपा में खुलकर बगावत जैसी स्थिति बन गई है। घोषित चुनाव कार्यक्रम के अनुसार 20 नवंबर को वोटिंग है। प्रत्याशियों के पास हर वोटर्स के पहुंचना अब संभव नहीं लग रहा है। फिर भी भाजपा और कांग्रेस दोनों ही प्रमुख पार्टी के प्रत्याशी वोटर्स को रिझाने हर हथकंडा अपने के फिराक में हैं। चुनाव में अब तक जो स्थिति नजर आ रही है, उससे यही माना जा रहा है कि मुकाबला तो कांग्रेस और भाजपा के मध्य है, लेकिन पिछले पांच साल तक विधायक भसीन की सक्रियता किसी से छुपी नहीं है। इसका इस चुनाव में कितना असर पड़ेगा, यह तो समय ही बताएगा। 

  •  

Posted Date : 31-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    दुर्ग, 31 अक्टूबर। शराब के लिए पैसे की मांग पूरी नहीं करने पर गुस्साये आरोपी ने जामुल निवासी रामकुमार पर चाकू से वार कर दिया। इलाज के दौरान रामकुमार की मौत हो गई थी। प्रथम अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अजीत कुमार राजभानू की कोर्ट ने आरोपी जसवंत सिंह उर्फ गंदा सरकार को धारा 302 के तहत आजन्म कारावास की सजा सुनाई है। अभियोजन पक्ष की ओर से अतिरिक्त लोक अभियोजक सुश्री फरिहा अमीन ने पैरवी की थी। 
    2 जुलाई 2017 की रात लगभग 9 बजे जवाहर नगर थाना जामुल में प्रगति नगर केम्प एक निवासी रामकुमार मद्रासी उर्फ  सोनू (25) अपने साथी जैकी सिंह, प्रेम सिंह के साथ शराब खरीदने पैदल जा रहा था। उसी दौरान मॉडल टाउन नेहरू नगर हाल मुकाम जवाहर नगर थाना जामुल निवासी आरोपी जसवंत सिंह उर्फ गंगा सरदार (24) पिता कश्मीरा सिंह रास्ते में रामकुमार को रोककर शराब पीने के लिए पैसा मांगने लगा। जब रामकुमार ने पैसा देने से इंकार कर दिया तो आरोपी जसवंत ने उस पर चाकू से वार कर दिया। मार लगते ही रामकुमार जमीन पर गिर पड़ा और उसके शरीर से काफी खून बह गया। उसे तुरंत सुपेला अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। 
    मृतक रामकुमार उर्फ सोनू की मां श्रीमती चितम्मा ने कहा कि आज फैसला आने के बाद उसको, उसके परिवार एवं मृतक की आत्मा को शांति मिली है। मेरे बेटे रामकुमार की शादी हो चुकी थी, उसका 4 वर्ष का एक बेटा भी है। मैंने सोचा कि मेरी बहू व पोते का मेरे मरने के बाद क्या होगा, वो अकेले कैसे जीवन काटेगी। ये सोच कर मैंने रायपुर में एक लड़का देखकर उसका दूसरा विवाह कर्जा लेकर करवा दिया है, ताकि वह अपना बाकी जीवन अच्छे से व्यतीत कर सके।

  •  

Posted Date : 31-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    भिलाई नगर, 31 अक्टूबर। भाजपा की राष्ट्रीय महासचिव सरोज पांडेय के भाई राकेश पांडेय के बगावत के बाद बाद उनकी भाभी चारूलता अब भिलाई नगर या वैशालीनगर से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगी। 
    श्रीमती चारूलता पाण्डेय ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में कहा कि भाजपा या किसी भी दल को लेकर उनकी नाराजगी नहीं है, चूंकि वे लाखों की सदस्यता वाली शाही दशहरा समिति की संरक्षक हैं इसलिए सदस्यों की मंशा का सम्मान करते हुए उन्होंने निर्दलीय चुनाव लडऩे का फैसला किया है और वे निश्चित रूप से चुनाव लड़ेंगी। किस जगह से लड़ेंगी, यह सदस्यों से चर्चा के बाद तय करेंगी, इसलिए नामांकन फार्म दोनों जगह का खरीदा है। वे जल्द ही नामांकन दाखिल करेंगी। 
    वैशाली नगर विधानसभा में भाजपा से मौजूदा विधायक विद्यारतन भसीन को टिकट दिए जाने की घोषणा के बाद से ही शक्ति प्रदर्शन और विरोध का स्वर मुखर हो चला है। भाजपा के असंतुष्ट नेता सरोज के भाई राकेश पाण्डेय के अलावा पार्षद रिकेश सेन और पूर्व जिला अध्यक्ष बृजेश बिजपुरिया आपस में चर्चाकर किसी एक को निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में उतरने की संभावना   जताई जा रही थी, लेकिन चारूलता पाण्डेय के तेवर से गुटबाजी तेज हो गई है। चारूलता पहले भी सरकार के मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय के खिलाफ आक्रामक  बयानबाजी कर चुकी हैं। 
    असंतुष्ट भाजपा नेता भिलाई के साथ-साथ वैशाली नगर में भी उम्मीदवार उतारने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि इन नेताओं को टिकट बदले जाने की भी उम्मीद है। मंगलवार को सरोज के भाई राकेश पाण्डेय और उनके समर्थकों ने महामंत्री (संगठन) पवन साय से चर्चा की थी। पवन साय ने उन्हें आश्वासन भी दिया था। ऐसे में वे पार्टी हाईकमान के रूख का इंतजार कर रहे हैं। दूसरी तरफ, प्रदेश के नेताओं ने प्रत्याशी बदले जाने की संभावना से इंकार किया है।
     उल्लेखनीय है कि सरोज के भाई ने पार्टी में परिवारवाद पर कहा था कि जब मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का पुत्र अभिषेक सिंह, बलीराम कश्यप के दोनों पुत्र दिनेश और केदार कश्यप, बंशी महतो के पुत्र विकास महतो, दिलीप सिंह जूदेव के भतीजे युद्धवीर सिंह, रणविजय सिंह और उनकी पत्नी चुनाव लड़ सकते हैं तो सरोज पाण्डेय के बड़े भाई राकेश पाण्डेय ने क्या गुनाह किया है? पूरा जिला संगठन मेरे साथ है और सबकी मंशा है कि मैं चुनाव लड़ूं। भाजपा के दोहरे मापदंड का ही मैं विरोध कर रहा हूं, जब बड़े नेताओं के परिवार को टिकट दी जा रही है तो मुझे क्यों नहीं? 

  •  

Posted Date : 30-Oct-2018
  • भाजपा में चल रहा दोहरा मापदंड-राकेश पाण्डेय
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    भिलाई नगर, 30 अक्टूबर। वैशाली नगर विधानसभा में टिकट को लेकर कांग्रेस और भाजपा में भारी खींचतान का दौर चल पड़ा है। भाजपा से मौजूदा विधायक विद्यारतन भसीन को टिकट दिए जाने की घोषणा के बाद से ही शक्ति प्रदर्शन और विरोध का स्वर मुखर हो चला है।
    भिलाई जिला के समस्त प्रकोष्ठ व दस मंडल के अध्यक्षों व जिला पदाधिकारियों ने जिला अध्यक्ष सांवला राम डाहरे को राकेश पाण्डेय को टिकट दिए जाने की मांग करते हुए इस्तीफा दे दिया है। सभी इस्तीफे की पुष्टि आज सुबह राकेश पाण्डेय ने स्वयं की है। दोपहर 12 बजे वैशाली नगर से राकेश पाण्डेय के समर्थक भारी संख्या में रायपुर निकले हैं। एक सोची समझी स्थानीय रणनीति के तहत भाजपा संगठन के स्थानीय पदाधिकारियों से विद्यारतन को टिकट दिए जाने के विरोध में इस्तीफा दिलवाने तक की रायशुमारी हो चुकी है। भाजपा संगठन से जुड़े राकेश पाण्डेय के समर्थकों को पूरा विश्वास है कि आज शक्ति प्रदर्शन कर के ही विद्यारतन भसीन को दी गई टिकट छीन कर राकेश को दिलाई जा सकती है जिसके लिए प्रदेश भाजपा कार्यालय के सामने शक्ति प्रदर्शन होगा। 
    दूसरी तरफ विद्यारतन भसीन को टिकट दिए जाने की घोषणा के बाद देर रात तक उनके समर्थक क्षेत्र में जनसम्पर्क करते हुए आमजनों को सूचना देते घूमते रहे। आज सुबह भी विद्यारतन के समर्थन में पटाखे फोड़ कर भाजपाइयों ने खुशी का इजहार किया। 
    पत्रकारों से अपने निवास में आज दोपहर 1 बजे चर्चा करते हुए राकेश पाण्डेय ने कहा कि वे तीस वर्षों से पार्टी के लिए काम करता रहा हूँ और पार्टी के समक्ष मैंने टिकट की मंशा जाहिर कर दी थी। बी फार्म आने तक वो इंतजार करेंगे उसके बाद ही आगे की रणनीति बनाई जायेगी। पूरे जिला संगठन ने उनके समर्थन में इस्तीफा दिया है फिलहाल इस्तीफा अध्यक्ष के पास विचारार्थ रखा हुआ है। उन्होंने परिवारवाद के संबंध में कहा कि जब मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का पुत्र अभिषेक सिंह, बलीराम कश्यप के दोनों पुत्र दिनेश और केदार कश्यप, बंशी महतो के पुत्र विकास महतो, दिलीप सिंह जूदेव के भतीजे युद्धवीर सिंह, रणविजय सिंह और उनकी पत्नी चुनाव लड़ सकते हैं तो सरोज पाण्डेय के बड़े भाई राकेश पाण्डेय ने क्या गुनाह किया है? पूरा जिला संगठन मेरे साथ है और सबकी मंशा है कि मैं चुनाव लड़ूं। भाजपा के दोहरे मापदंड का ही मैं विरोध कर रहा हूं, जब बड़े नेताओं के परिवार को टिकट दी जा रही है तो मुझे क्यों नहीं? 
    कांग्रेस में मुस्लिम प्रत्याशीके लिए दबाव
    कांग्रेस द्वारा अब तक वैशाली नगर विधानसभा सीट के लिए प्रत्याशी की घोषणा नहीं की जा सकी है। मिली जानकारी के अनुसार वैशाली नगर विधानसभा के लिए जिन भी स्थानीय प्रबल दावेदारों का नाम सूची में शामिल किया गया था उन सबको दरकिनार कर एक अलग रणनीति के तहत कुछ नामों पर विचार किया जा रहा है। कांग्रेस की सूची में इस विधानसभा के संभावित प्रत्याशियों की सूची में बृजमोहन सिंह, भजन सिंह निरंकारी, अतुल साहू, नीता लोधी, केके झा के नाम शीर्षस्थ थे लेकिन भिलाई नगर विधानसभा से बदरूद्दीन कुरैशी की बजाय महापौर देवेन्द्र यादव को टिकट दिए जाने के बाद भिलाई नगर विधानसभा के प्रबल दावेदारों की जिद अब वैशाली नगर की सूची में अंतत: दो दिन पहले शामिल कर ली गयी है। 
    जानकारी यह भी मिली है कि अब पूर्व के सभी नामों को दरकिनार कर दूसरे नाम पर सामंजस्य बिठाने की माथापच्ची अभा कांग्रेस कमेटी कर रही है। जहां बदरूद्दीन कुरैशी मुस्लिम तुष्टिकरण की वजह से वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा पर दबाव बनाए हुए हैं वहीं सांसद ताम्रध्वज साहू ने इमरान खान को टिकट देने की मांग कर दी है। प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल ने मोहम्मद गफ्फार खान का नाम आगे बढ़ाया है। मोतीलाल वोरा ने श्री कुरैशी के दुर्ग में व्यापक सामाजिक प्रभाव को देखते हुए संभावित नुकसान से बचने बदरूद्दीन को ही टिकट दिए जाने की सिफारिश की है जबकि ताम्रध्वज साहू की मंशा है कि यदि मुस्लिम उम्मीदवार को ही टिकट देना है तो इरफान खान बेहतर होंगे। 
    कुल मिला कर वैशाली नगर विधानसभा सीट पर कांग्रेस के जिन जमीनी सिपाहियों ने टिकट की आस लगा रखी थी उनका नाम चाय की मक्खी की तरह हटा दिया गया है जिससे टिकट घोषणा के बाद भारी मात्रा में कांग्रेसियों के बागी होने की संभावना बन गई है।   

  •  

Posted Date : 30-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    दुर्ग, 30 अक्टूबर। जिले के विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से दूसरे दिन 10 लोगों ने नामांकन फार्म जमा किए। दुर्ग शहर से सर्वाधिक 4 लोगों ने नामांकन दाखिल किए. इनमें कांग्रेस प्रत्याशी विधायक अरूण वोरा, भाजपा प्रत्याशी महापौर चंद्रिका चंद्राकर, छग जनता कांग्रेस जोगी प्रत्याशी प्रताप मध्यानी एवं निर्दलीय अनूप पाण्डेय शामिल हैं। नामांकन फार्म खरीदने वालों की काफी भीड़ रही। कुल 47 लोगों ने नामांकन फार्म खरीदे। नामांकन दाखिल करने वाले अन्य लोगों में भिलाई नगर से भाजपा प्रत्याशी मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, दुर्ग ग्रामीण विधानसभा से छग जनता कांग्रेस उम्मीदवार बालमुकुंद देवांगन, वैशाली नगर से मनोज पाण्डेय छग जनता कांग्रेस, एएच सिद्दकी आम आदमी पार्टी, अहिवारा राजन खुटेल कांग्रेस एवं पाटन विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी हरिशचंद्र शामिल हैं। पहले दिन एकमात्र दुर्ग शहर से बृजेश यादव ने नामांकन दाखिल किया था, जिन्हें मिलाकर जिले के विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से अब 11 लोग नामांकन दाखिल कर चुके हैं। वहीं 72 लोग नामांकन फार्म खरीद चुके हैं। नामांकन फार्म खरीदने वालों से सर्वाधिक 12 लोग भिलाई नगर विधानसभा क्षेत्र के है। दुर्ग ग्रामीण एवं वैशाली नगर से 8-8, पाटन 7, दुर्ग शहर एवं अहिवारा विधानसभा से 6-6 लोगों ने नामांकन फार्म लिया।
    कांग्रेस-भाजपा एवं विभिन्न राजनीतिक दलों ने अधिकृत प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। इसके बावजूद कुछ राजनीतिक दलों के अन्य कार्यकर्ता भी पार्टी के प्रत्याशी के रूप में नामांकन फार्म खरीद एवं जमा कर रहे हैं। अहिवारा विधानसभा से कांग्रेस ने रूद्र गुरु को अपना प्रत्याशी घोषित किया मगर अहिवारा से राजन खुटेल ने कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल किया, वहीं हेमंत बंजारे ने अहिवारा से नामांकन हेतु फार्म खरीदा। उन्होंने बताया कि वे पाटन विधानसभा से भी कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल करने वाले हैं।
    इस बार विधानसभा चुनाव नामांकन के दौरान विभिन्न प्रकार की नवीन व्यवस्था की गई है। इससे व्यवस्था बनने की बजाय लोगों को दिक्कत एवं अव्यवस्था की स्थिति निर्मित हो रही है। पूर्व में नामांकन फार्म रिटर्निंग अफसर के कक्ष में ही अभ्यर्थी को दिया जाता था। इस बार पूरे विधानसभा के अभ्यर्थी को सिर्फ खनिज कार्यालय से नामांकन फार्म का वितरण किया जा रहा है। इससे खनिज कार्यालय के सामने भीड़ से लोगों को पार्किंग व आने-जाने में दिक्कत हो रही है। कई बार जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है। प्रत्याशी के साथ उनके स्थानीय प्रस्तावक समर्थक के मतदाता सूची की फोटो प्रति मांगी जा रही थी, इसे बाद में बंद करना पड़ा। इसी प्रकार पहले दिन निर्दलीय नामांकन दाखिल करने वाले अभ्यर्थी अपने पूरे दस प्रस्तावक एवं समर्थक को साथ लेकर पहुंचे थे, मगर केवल चार को रिटर्निंग अफसर कक्ष तक जाने दिया गया मगर रिटर्निंग अफसर पूरे प्रस्तावक-समर्थक को सामने उपस्थित कराकर हस्ताक्षर कराने कीबात कहने लगे. तब काफी मशक्कत के बाद उक्त प्रत्याशी के प्रस्तावक समर्थक रिटर्निंग अफसर के कक्ष तक पहुंच पाए थे. वहीं मीडिया को भी नामांकन कक्ष से दूर देखा गया।

  •  

Posted Date : 27-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    दुर्ग, 27 अक्टूबर। शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में जिला संगठन दुर्ग अंतर्गत आने वाली सभी 4 विधानसभा सीटों के कार्यकर्ताओं की बैठक राष्ट्रीय महामंत्री सुश्री सरोज पांडेय ने ली। इस दौरान भाजपा प्रत्याशी दुर्ग से चंद्रिका चंद्राकर, दुर्ग ग्रामीण से जागेश्वर साहू, अहिवारा से सांवलाराम डहरे एवं पाटन से मोतीलाल साहू ने भी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।
     दुर्ग शहर, दुर्ग ग्रामीण, अहिवारा एवं पाटन के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय महासचिव सुश्री सरोज पांडेय ने कहा कि राजनीति में महत्वाकांक्षा होना अवश्यम्भावी हैं, लेकिन पूरे प्रदेश में सिर्फ 90 विधानसभा सीटें हैं, इससे अधिक एक भी टिकट दिया जाना संभव नहीं है। पार्टी अलग अलग मापदंडों और समीकरणों के हिसाब से प्रत्याशी का चयन करती हैए पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता श्रेष्ठ होता है और चुनाव लडऩे के लिए पूरी तरह काबिल भी होता है परंतु पार्टी को कई प्रकार के समीकरणों को देखते हुए नाम सुनिश्चित करना पड़ता है परंतु इसका यह अर्थ नहीं है कि जो कार्यकर्ता प्रत्याशी के रूप में नहीं चुने जा सके हैं वे काबिल नहीं है। जब तक प्रत्याशी का चयन ना हो तब तक सबको अपना विचार रखने का अधिकार है परंतु एक बार अंतिम रूप से जब पार्टी कोई निर्णय ले लेती है तो उस निर्णय से सभी लोग बंध जाते हैं और उसी निर्णय को शिरोधार्य कर कार्य करना यही श्रेष्ठ कार्यकर्ता की निशानी हैए भारतीय जनता पार्टी ने सभी प्रत्याशियों को गंभीरतापूर्वक तय किया है। 
    बैठक को संबोधित करते हुए डॉ. सुश्री सरोज पांडेय ने भाजपा प्रत्याशियों की उपलब्धियों और कार्यों के बारे में विस्तारपूर्वक कार्यकर्ताओं को समझाया और यह जानकारी दी की पूरे प्रदेश में 1 नवंबर को एक साथ सभी 90 विधानसभा सीटों पर नामांकन दाखिल किया जाएगा। इसके लिए सभी कार्यकर्ता वृहत रूप से तैयारी करें। उन्होंने बताया कि 1 नवंबर का दिन छत्तीसगढ़ के लिए ऐतिहासिक महत्व रखता है।
    इसी दिन भारतीय जनता पार्टी के पितृ पुरुष अटल बिहारी वाजपेयी ने छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना की थी और इसी कारण भारतीय जनता पार्टी ने 1 नवंबर को पूरे प्रदेश में एक साथ नामांकन दाखिल करने का कार्यक्रम सुनिश्चित किया है। 
     मंच का संचालन जिला महामंत्री देवेंद्र सिंह चंदेल ने किया और आभार डोमार सिंह वर्मा ने किया। भाजपा नेताओं में  भाजपा राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद डॉ.सरोज पाण्डेय, भाजपा जिला अध्यक्ष उषा टावरी,  जिला पंचायत अध्यक्ष माया बेलचंदन, पूर्व महापौर डॉ. शिवकुमार तमेर,  
    उपस्थितजनों मे प्रदेश कार्यसमिति सदस्य रविशंकर सिंह, रजा खोखर, संतोष सोनी, सतीश समर्थ, लुकेश बघेल, जितेंद्र वर्मा, नजरद्दीन खोखर, दिनेश पाटिल उपस्थित थे। 

  •  

Posted Date : 27-Oct-2018
  • एकमात्र उम्मीदवार ने भरा नामांकन

    छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    दुर्ग, 27 अक्टूबर। जिले में शुक्रवार से विधानसभा चुनाव 2018 के तहत 6 विधानसभा क्षेत्रों के लिए नामांकन फार्म वितरण एवं प्राप्त करने की प्रक्रिया शुरू हो गई। कलेक्टर उमेश कुमार अग्रवाल ने सभी रिटर्निंग आफिसरों की मौजूदगी में कलेक्टोरेट परिसर स्थित दुर्गा मंदिर प्रक्रिया प्रारंभ करने के पूर्व निर्विघ्न निर्वाचन के लिए पूजा-अर्चना की। नामांकन के पहले दिन एकमात्र उम्मीदवार बृजेश यादव ने दुर्ग शहर विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नाम निर्देशन पत्र दाखिल की। वहीं जिले के विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से कुल 35 लोगों ने नामांकन फार्म खरीदे। नामांकन दाखिल करने वाले बृजेश यादव ने कहा उन्हें नामांकन फार्म के लिए समाज के लोगों ने आपस में चंदा कर पैसा दिए हैं।
    नामांकन दाखिल करने वाले निर्दलीय प्रत्याशी के साथ उनके प्रस्तावक मंगल यादव, रामखिलावन, सूरजा वाबन खेड़े, सुभद्रा साहू, सरस्वती यादव, राधा यादव, कांता बावनखेड़े, मंजू ठाकुर, मंजूषा जयबंधु कलेक्टोरेट परिसर पहुंचे, मगर उनके चार समर्थकों को ही रिटर्निंग अफसर के कक्ष तक जाने दिया गया। पूर्व में हुए चुनावों के दौरान रिटर्निंग अफसर के कक्ष में ही नामांकन फार्म वितरण किया जाता था, मगर इस बार नामांकन फार्म का वितरण कलेक्टोरेट के पीछे स्थित खनिज शाखा से किया जा रहा है। आज पौने तीन बजे पाटन से भाजपा प्रत्याशी मोतीलाल साहू नामांकन फार्म लेने कलेक्टोरेट पहुंचे। वे सीधे कलेक्टोरेट के मुख्य द्वार तक पहुंच गए थे। उन्हें पहचानने वाले कुछ पुलिस कर्मियों ने बताया पीछे खनिज शाखा से फार्म वितरण किया जा रहा है, मगर उनके कार्यालय तक पहुंचने के पूर्व नामांकन फार्म वितरण का समय समाप्त हो चुका था।
    शुक्रवार को जिन लोगों ने नामांकन फार्म लिया इनमें पाटन विधानसभा से हरिशचंद्र साहू, शकुंतला साहू, हेमप्रसाद साहू, दुर्ग ग्रामीण से डॉ. बालमुकुंद देवांगन, चुम्मन लाल देशमुख, सतीश पारख, दुर्ग शहर विधानसभा से  रामरतन साहू, बृजेश कुमार यादव, अरूण कुमार जोशी, रास बिहारी बारी, अनूप कुमार पाण्डेय, तामेश्वर तिवारी, एसके अग्रवाल, ब्रम्हा तिवारी, प्रताप मध्यानी, भिलाई नगर विधानसभा से अशोक कुमार राजपूत, शत्रुघन प्रसाद, वैशाली नगर विधानसभा से एएच सिद्दिीकी, मनोज कुमार पाण्डेय, अहिवारा विधानसभा से भाई लाल, नन्द कुमार, राजन खुटेल, रामकुमार सूर्यवंशी, पद्मा पाटिल, रीति देशलहरा शामिल हैं।

  •  

Posted Date : 27-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दुर्ग, 27 अक्टूबर। विधानसभा क्षेत्र दुर्ग में भी अब चुनावी चर्चा होने लगी है। शुक्रवार से नामांकन भरने का दौर भी शुरू हो गया है। जिले की छह सीटों में दुर्ग का अपना अलग महत्व है। यह क्षेत्र एक लंबे समय तक कांग्रेस का गढ़ माना जाता रहा है। 
    कांग्रेस के दिग्गज नेता पूर्व मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा ने दुर्ग से ही अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की थी। वोरा आज भले ही केंद्र की राजनीति में है पर अपने उत्तराधिकारी के रूप में यहां अपने बेटे अरूण वोरा को क्षेत्र की बागडोर सौंप रखे हैं। पिछले चुनाव में यहां से अरूण को कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में उतारा गया था। इससे पहले के दो चुनाव में कांग्रेस को मात खानी पड़ी थी। विधायक निर्वाचित होकर अरूण ने कांग्रेस की हार का बदला पिछले चुनाव में ही ले लिया था। इस चुनाव में उसकी उम्मीदवारी तय मानी जा रही है।
     भाजपा ने दुर्ग सीट से महापौर चंद्रिका चंद्राकर को अपना अधिकृत प्रत्याशी घोषित किया है। स्थानीय राजनीति में श्रीमती चंद्राकर की दखल तो है, लेकिन क्षेत्र का अब तक अपेक्षित विकास नहीं हो पाया है। जिससे क्षेत्र में असंतोष की स्थिति है। भाजपा की टिकिट के लिए वैसे तो दावेदारों की लाइन लगी थी, लेकिन सांसद व भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पाण्डेय के कृपा पात्र कोटे से महापौर चंद्रिका टिकिट हासिल करने में कामयाब हो गई है, लेकिन इस सीट पर भगवा झंडा लहराना किसी चुनौती से कम नहीं है। 
    श्रीमती चंद्राकर की उम्मीदवारी को लेकर अंदर ही अंदर असंतोष भी उभरा है, लेकिन पार्टी से जुड़े रहने के कारण अन्य दावेदार खुलकर विरोध नहीं कर पा रहे हैं। पिछले चुनाव में दुर्ग से हेमचंद यादव को भाजपा प्रत्याशी बनाया गया था। श्री यादव ही इससे पहले के चुनाव में कांग्रेस के गढ़ को ढहाने में कामयाब हुए थे। पिछले दिनों उनका निधन हो गया। उसके बाद ऐसा माना जा रहा था कि भाजपा प्रत्याशी के रूप में दुर्ग की सक्रिय राजनीति में रहे दावेदारों में से किसी को प्रत्याशी बनाया जाएगा, लेकिन सांसद व भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सुश्री पाण्डेय की जिद्द के आगे किसी की नहीं चली और अंतत: महापौर चंद्रिका को ही भाजपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में उतारा गया है। दुर्ग से महापौर का नाम सामने आते ही भाजपा के विभिन्न राजनीतिक खेमों इस बात की खासी चर्चा है कि टिकिट वितरण के मामले में सावधानी नहीं बरती गई जिसका खामियाजा भाजपा को इस चुनाव में भी भुगतना पड़ सकता है। 
    दुर्ग सीट के लिए कांग्रेस ने अपने अधिकृत प्रत्याशी की घोषणा फिलहाल नहीं की है। इस सीट से एकमात्र दावेदार होने से विधायक अरूण वोरा की उम्मीदवारी तय मानी जा रही है और सिर्फ  मुहर लगना बाकी है। प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के कारण विधायक वोरा क्षेत्र की प्राथमिक एक मूलभूत समस्याओं को लेकर जूझते रहे हैं। क्षेत्र में पूरे पांच साल तक वोरा की सक्रियता बनी रही है। जिसके कारण इस चुनाव में भी लोग परिस्थितियां कांग्रेस के अनुकूल मान रहे हैं। हालाकि दुर्ग में जोगी कांग्रेस का उदय होने के बाद राजनीतिक हवा काफी कुछ बदली नजर आ रही है। चुनाव में जोगी कांग्रेस की दमदार उपस्थिति की पूरी तैयारी हो गई है। जोगी कांग्रेस से प्रताप मध्यानी चुनाव मैदान में अपना भाग्य अजमा रहे हैं। मध्यानी एक लंबे समय तक कांग्रेस की राजनीति करते रहे हैं। पिछले स्थानीय निकाय चुनाव में मध्यानी ने अपनी पत्नी दीपा मध्यानी को कांग्रेस की टिकिट पर चुनाव लड़ाना चाहते थे। टिकिट के लिए उसने दिल्ली तक दौड़ लगाई पर ऐनवक्त पर प्रत्याशी बदले जाने से प्रताप ने अपनी पत्नी दीपा को निर्दलीय खड़ा कर दिया था, जिससे कांग्रेस को भारी नुकसान हुआ और निगम में भाजपा का भगवा झंडा फहर गया। 
    जोगी कांग्रेस से प्रताप मध्यानी की दमदार उपस्थिति से इस बार चुनाव का नजारा कुछ अलग होने की आम चर्चा है। मध्यानी ने चुनाव की न केवल तैयारी बल्कि महीनेभर पहले से चुनाव प्रचार भी शुरू कर दिया है।
     क्षेत्र की राजनीति और व्यापार जगत से जुड़े होने के कारण क्षेत्र में उनका चेहरा नया नहीं है। साथ ही वे किसी परिचय के मोहताज भी नहीं है। दुर्ग के चुनाव में क्या स्थिति बनेगी, यह कहना तो अभी मुश्किल है, लेकिन इतना जरूर माना जा रहा है कि इस बार चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला होने की पूरी संभावना है। 

  •  



Previous1234Next