छत्तीसगढ़ » दुर्ग

Previous1234Next
Posted Date : 19-Jan-2019
  • महापौर ने हितग्राहियों को दिए भवन बनाने अनुमति पत्र  

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दुर्ग, 19 जनवरी। मोर जमीन मोर मकान योजना अंतर्गत राजीव नगर वार्ड के हितग्राहियों के बाद निगम क्षेत्र के विभिन्न वार्ड के 80 हितग्राहियों ने जिनका मकान कच्चा है वे सभी अब अपना मकान स्वंय इस योजना के माध्यम से बनायेगें। महापौर चंद्रिका चंद्राकर विभाग प्रभारी दिनेश देवांगन एवं अन्य प्रभारियों की उपस्थिति में सभी 80 लोगों को मकान बनाने की अनुमति पत्र का वितरण आज निगम परिसर में किया गया। इस दौरान नगर निगम दुर्ग प्रधानमंत्री आवास योजना के नोडल अधिकारी राजेश पाण्डेय, सूडा के इंजीनियर अभिषेक मिश्रा व अधिक संख्या में हितग्राही उपस्थित थे। 
    राजीव नगर वार्ड में 100 से अधिक लोगोंं ने प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत मोर जमीन मोर मकान योजना में आवास निर्माण किया है इसके लिए भारत सरकार ने स्कॉच अवार्ड के लिए नगर निगम को नामांकित कर लिया है। इसके बाद अब उरला वार्ड के 12, गुरुघासीदास वार्ड से 7, कचहरी वार्ड से 8, मोहन नगर वार्ड के 12, बघेरा वार्ड में 4 गिरधारी नगर वार्ड के 5, शहीदभगत सिंह वार्ड 19 के 4, रामदेवमंदिर वार्ड के 5 हितग्राहियों सहित करीब 100 लोगों ने मोर जमीन मोर मकान योजना में आवास निर्माण के लिए आवेदन जमा किया था जिसमें से 80 लोगों को निगम परिसर में बुलाकर उन्हें मकान बनाने की अनुमति पत्र महापौर के द्वारा दिया गया। इस मौके पर महापौर ने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित कर कहा जल्द से जल्द सभी आवेदकों के आवास निर्माण कार्य प्रारंभ करायें। थोड़ा भी देर न करें। उन्होंने आवेदकों से कहा यह शासन की मंशा है कि कोई भी गरीब व्यक्ति का मकान कच्चा व अव्यवस्था पूर्वक न हो इस उद्देश्य से शासन के दिशा निर्देशों पर सभी मकान बना सके इसका भरपूर प्रयास किया जा रहा है। 
    जनसमस्या निवारण शिविर 30 को
    बेमेतरा, 19 जनवरी। आम जनता की समस्याओं का मौके पर ही निराकरण के उद्देश्य से जिला प्रशासन द्वारा बुधवार 30 जनवरी को नवागढ़ ब्लॉक के ग्राम मुरता में जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर का आयोजन किया जा रहा है। कलेक्टर महादेव कावरे ने ब्लॉक एवं जिला स्तर के अधिकारियों को शिविर में उपस्थित होकर ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण करने के निर्देश दिए है।

     

  •  

Posted Date : 19-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    दुर्ग, 19 जनवरी। कलेक्टर उमेश कुमार अग्रवाल ने धमधा क्षेत्र भ्रमण के दौरान फिश हेचरी, स्कूल और धान खरीदी केन्द्र का आकस्मिक निरीक्षण कर आवश्यक व्यवस्था के संबंध में अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। भ्रमण के दौरान एसडीएम एसपी वैद्य भी साथ मौजूद थे। कलेक्टर ने देवरी में फिश हेचरी का निरीक्षण कर मत्स्य उत्पादन के संबंध में जानकारी ली। वहीं रिक्त जमीन पर उद्यानिकी फसलों की पैदावारी लेने के सुझाव दिए। उन्होंने हेचरी के लिए पानी आपूर्ति हेतु ईपीएचई विभाग के दो नलकूप खनन निर्देश दिए। यहां पर किसानों ने रू-ब-रू चर्चा के दौरान आवारा पशुओं की समस्या बतायी। 
    कलेक्टर ने मौके पर उपस्थित एसडीओ राजस्व को पशुओं को सुरक्षित क्षेत्र में रखने व्यवस्था हेतु 5 एकड़ जमीन चिन्हांकन करने के निर्देश दिए। पूर्व माध्यमिक शाला अकोली के निरीक्षण के दौरान दो शिक्षक मौजूद पाए गए। वहीं बीआरसी महावीर वर्मा द्वारा स्कूल में अध्यापन नहीं कराने की शिकायत पर नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। स्कूल के बच्चों द्वारा जाति प्रमाण पत्र और सायकल नहीं मिलने की शिकायत पर एसडीओ राजस्व को छटवीं से बारहवीं तक के सभी बच्चों को जाति प्रमाण पत्र शीघ्र बनाने के निर्देश दिए। प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक शाला घोटा के निरीक्षण में प्राथमिक शाला में 6 शिक्षक पदस्थ पाए जाने पर कलेक्टर ने मौके पर उपस्थित सहायक विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने स्कूल में मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था सुधारने हेतु सीईओ जनपद को निर्देशित किया। यहां पर मतदाता सूची पुनरीक्षण के दौरान संचालित कार्यों के अवलोकन के दौरान अभिहित अधिकारी ने बताया कि 27 आवेदन नाम जोडऩे के प्राप्त हुए हैं। 
    सुपरवाईजर द्वारा काम पर रूचि नहीं लेने पर एसडीओ राजस्व को कार्यवाही करने के निर्देश दिए। घोटा को-ऑपरेटिव बैंक में किसानों को धान खरीदी के राशि भुगतान में विलंब के लिए समिति प्रबंधक पर नाराजगी व्यक्त कर एसडीओ राजस्व को कार्यवाही करने के निर्देश दिए। यहां पर धान खरीदी केन्द्र में व्यवस्था ठीक-ठाक पाया गया। 
    क्षेत्र भ्रमण के दौरान कलेक्टर ने उप तहसील कार्यालय बोरी में विकासखण्ड स्तरीय अधिकारियों की बैठक ली, जिसमें कृषि, पशुपालन, उद्यानिकी, शिक्षा, महिला एवं बाल विकास विभाग, जनपद व राजस्व विभाग के अधिकारी शामिल थे। अधिकारियों को छत्तीसगढ़ शासन के मंशा के अनुरूप जल संवर्धन, पशु नस्ल सुधार, जैविक खाद को बढ़ावा और उद्यानिकी फसलों के विस्तार हेतु कार्ययोजना तैयार कर कार्य प्रारंभ करने के निर्देश दिए। उन्होंने मनरेगा के तहत कार्य प्रारंभ कराने एसडीओ राजस्व को शासकीय भूमि चिन्हांकित करने के निर्देश दिए। वहीं स्कूलों में अव्यवस्था के लिए एबीईओ को कड़ी फटकार लगाई।   

     

     

     

     

  •  

Posted Date : 19-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    दुर्ग, 19 जनवरी। निगम के 42 एमएलडी फिल्टर प्लांट में कल हुई घटना को लेकर महापौर चंद्रिका चंद्राकर ने निगम के अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में औद्योगिक स्वास्थ्य सुरक्षा केन्द्र के उपसंचालक केके द्विवेदी जी को आमंत्रित किया गया था। श्री द्विवेदी द्वारा बैठक में 42 एमएलडी फिल्टर प्लांट और नया फिल्टर प्लांट की व्यवस्थाओं की जानकारी ली। प्लांट में क्लोरीन गैस का उपयोग किये जाने वाली सभी  सुविधा, व्यवस्थाओं, और सुरक्षा के इंतजाम की जानकारी लेकर महापौर, आयुक्त, और एमआईसी प्रभारियों से चर्चा किये।
     बैठक में आयुक्त लोकेश्वर साहू, जलकार्य प्रभारी देवनारायण चंद्राकर, कार्यपालन अभियंता एके दत्ता, अन्य विभागीय अधिकारी, व एमआईसी सदस्य तथा कार्य करने वाले ठेकेदार और कर्मचारी उपस्थित थे। 
    निगम के 42 एमएलडी फिल्टर प्लांट में संपूर्ण व्यवस्थाओं के लिए महापौर ने एमआईसी प्रभारियों, निगम अधिकारियों और ठेकेदार की बैठक लेकर प्लांट की पूरी व्यवस्थाओं की जानकारी ली। उन्होनें क्लोरीन गैस सप्लाई करने वाले ठेकेदार पर नाराजगी व्यक्त करते हुये अधिकारी को निर्देश दिये कि जितने गैस कन्टेनर की आवश्यकता है उतना ही यहॉ रखने निर्देश दिये। जितने भी खाली कन्टेनर यहॉ रखे गये हैं उसके लिए सप्लायर से जुर्माना वसूल करें। इसकी वजह से निगम की छबि धूमिल हो रही है और उपसंचालक के अनुसार आवश्यक कीट, व्यवस्थाएॅ और सुरक्षा के उपाय सहित सुविधा बनाने अधिकारियों को निर्देशित कर कहा प्लांट का संचालन और संधारण का कार्य के लिए निविदा बुलायें और एक्सपर्ट लोगों को काम पर लगायें। 
    इसके अलावा उन्होंने पुराना और नया फिल्टर प्लांट के पूरे क्षेत्र को प्रतिबंधित करें, कोई भी बाहरी व्यक्ति यहॉ न आये इसका पूरा इंतजाम करने कहा। 
    उन्होंने क्लोरीन गैस उपयोग की बारीकियों को एक-एक कर बताये। उन्होंने बताया किस प्रकार से टर्न ऑफ कंडिशन के तहत् साइंस जैसे बेसिक जानकारी वाले कर्मचारी रखें जाएॅ, तीन से चार इमरजेंसी किट रखा जाना आवश्यक है, क्लोरीन गैस हैवी होता है अत: आक्सीजन कीट, अमोनिया टार्च (वाटर) लकड़ी के 5-6 स्टीक हमेशा तैयार कर रखा जाना चाहिए। टोनर लगाते समय और रनिंग कंडिशन में चेक किया जाना चाहिए। टोनर फिटिंग और स्टोरेज का शेड बना हो, साथ ही फिडिंग के दौरान एक्झास फेन चालू किया जाना चाहिए। इसके अलावा सूचना पटल और फ्लैक्स के माध्यम से चारों ओर प्रतिबंधित क्षेत्र और उससे जुड़ी सभी जानकारी के साथ क्लोरीन गैस का उपयोग आदि की जानकारी बोर्ड लगाया जाना चाहिए।
     उन्होंने निरीक्षण के दौरान नये फिल्टर प्लांट की पूरी व्यवस्थाओं और सुविधाओं की तारीफ की। 
    —--

     

     

     

  •  

Posted Date : 19-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    भिलाई नगर, 19 जनवरी। औद्योगिक क्षेत्र छावनी स्थित कृष्णा टिम्बर में आज सुबह डीएफओ की टीम ने दबिश दी है। सुबह से जारी कार्रवाई के शाम तक पूरा होने की संभावना है। 
    टीम ने जानकारी दी कि खमार सहित कुछ अन्य लकडिय़ों को चोरी से यहां ला कर खपाने की शिकायत मिली है जिसकी जांच टिम्बर में की जा रही है। 
    जांच अधिकारियों ने फिलहाल कोई खुलासा करने से इंकार करते हुए बताया कि शाम तक कार्रवाई में क्या मिला, इसकी जानकारी दी जा सकेगी, फिलहाल जांच जारी है। 
    छावनी औद्योगिक क्षेत्र के प्लाट 22 स्थित कृष्णा टिम्बर में जांच टीम सुबह 10 बजे पहुंची और मिल में मौजूद लकडिय़ों के संबंध में जानकारी जुटाई जा रही है।

     

     

     

  •  

Posted Date : 19-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    भिलाई नगर, 19 जनवरी। पाटन स्थित कृष्णा ज्वेलर्स का मालिक शुक्रवार की रात से रहस्यमय ढंग से लापता हो गया है। देर रात तक घर न लौटने तथा मोबाइल लगातार बंद होने की स्थिति में परिजनों ने नेवई थाना में गुमशुदगी की रिपोर्ट देर रात दर्ज करवाई है। 
    परिजनों के मुताबिक मालिक हर रोज मरोदा में सायकल खड़ी कर बस से पाटन स्थित अपनी ज्वेलरी दुकान जाते तथा शाम को दुकान बंद कर बस से ही रिसाली लौट आते थे। शुक्रवार की देर रात तक न लौटने पर परिजनों ने मोबाइल में सम्पर्क का प्रयास किया जो कि बंद मिला। आस-पास व रिश्तेदारों से पतासाजी करने के बाद पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। परिजनों ने अपहरण की आशंका जताते हुए पुलिस अधिकारियों से भी जल्द पतासाजी की गुहार लगाई है। 
    मिली जानकारी के अनुसार पाटन स्थित कृष्णा ज्वेलर्स का मालिक हरि प्रसाद देवांगन (75 वर्ष) रिसाली निवासी हैं तथा रोज मरोदा की एक साइकिल दुकान तक अपनी साइकिल से जाते और वहां से बस में पाटन रवाना होते थे। रोजाना रात 8 बजे तक वे रिसाली स्थित अपने घर पहुंच जाते थे। शुक्रवार को आठ बजे के बाद भी जब वे नहीं पहुंचे तो परिजनों को चिंता हुई। हरिप्रसाद जिस साइकिल दुकान में साइकिल रखते थे वहां से पता चला कि वे रात को लगभग पौने 8 बजे साइकिल लेकर निकल गए हैं। 
    इसके बाद परिजनों की चिंता और बढ़ गई।
     लापता हरिप्रसाद के बेटे अनिल देवांगन ने रात लगभग 12 बजे नेवई थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। अनिल देवांगन ने बताया कि रात से उसके पिता लापता हैं और आज सुबह पाटन से सूचना मिली कि दुकान का शटर खुला हुआ है। पाटन पहुंचे तो पता चला कि किसी ने बकायदा ताला खोल कर दुकान में प्रवेश किया है। ज्वेलरी शॉप का शटर खुला होने की शिकायत पाटन थाने में दर्ज कराई गई है। अनिल ने शंका जाहिर की है कि किसी ने रात में उसके पिता का अपहरण कर उनसे दुकान की चाबी छीन पाटन में दुकान खोली है। 
    हो न हो यह मामला चोरी की नियत से अपहरण का है। 
    नेवई थाना प्रभारी अमित बेरिया ने बताया कि हरिप्रसाद देवांगन के लापता होने की शिकायत मिली है। गुम इंसान दर्ज कर पतासाजी की जा रही है। साइकिल दुकान वाले सीता राम से पूछताछ में पता चला कि शुक्रवार की रात वे अपनी साइकिल लेकर घर की ओर निकले थे। बीच में क्या हुआ कहां गए, इसकी जांच की जा रही है। 

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता  

    भिलाई नगर, 18 जनवरी। स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत नगर पालिक निगम के सभागार में निगम एवं बीएसपी की संयुक्त बैठक सम्पन्न हुई जिसमें डेंगू एवं स्वाईन फ्लू के नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य विभाग अमला के साथ चर्चा की गई। महापौर देवेन्द्र यादव, आयुक्त एसके सुंदरानी एवं एमआईसी मेम्बर लक्ष्मीपति राजू ने निर्देशित किया कि डेंगू एवं स्वाईन फ्लू के रोकथाम हेतु प्रत्येक वार्ड की नालियों, नाला तथा सड़क की सफाई कर ब्लिचिंग पावडर का छिड़काव, फागिंग मशीन से धुएं का छिड़काव एवं घर-घर का सर्वे कर प्रचार-प्रसार करें तथा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन अलग-अलग जगहों पर किया जाये ताकि डेंगू एवं स्वाईन फ्लू पर रोकथाम समय रहते की जा सके। श्री यादव ने कहा कि इस कार्य में संशाधनों की कोई कमी नहीं होनी चाहिए और गैर जिम्मेदाराना रवैया बर्दाश्त नहीं किया जावेगा क्योंकि पहले हुई घटना में शहर को बहुत से लोगों को खोना पड़ा है। बैठक में सीएमएचओ डॉ. एचके ठाकुर, सभी जोन के सहायक स्वास्थ्य निरीक्षक व स्वच्छता सुपरवाईजर उपस्थित रहे।

     

     

     

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता  

    उतई, 18 जनवरी। शिक्षा गुणवत्ता अभियान के बाद माता उन्मुखीकरण के तहत स्कूलों में कार्यक्रम कर माताओ को जोड़ा जा रहा है। स्कूलों में माताओं की भागीदारी बढऩे से बच्चों के स्तर में भी सुधार आया है। शासकीय प्राथमिक शाला घुघसीडीह में भी माताओं को स्कूल से जोडऩे के लिए माता उन्मुखीकरण का आयोजन बुधवार को किया गया। जिसमें शिक्षकों ने बच्चों से जुड़ी विभिन्न विषयों पर माताओं से चर्चा की। इस दौरान माता समिति का गठन भी किया गया। जिसमें दुलेश्वरी सागरवंशी को अध्यक्ष व संतोषी बघेल को उपाध्यक्ष चुना गया। 
    कार्यक्रम में शाला के प्रधान पाठक बंशीलाल नेताम ने कहा कि शिक्षा में गुणवत्ता लाने के लिए स्कूल स्तर पर माताओं को जागरूक किया जाना आवश्यक है। सभी स्कूलों में शिक्षकों के माध्यम से किसी एक दिन का निर्धारण कर शाला आने वाले सभी बच्चों की माताओं को बुलाकर उनका उन्मुखीकरण कार्यक्रम किया जा रहा है। बच्चों का ज्यादा समय माताओं के साथ बीतता है। इसलिए माताएं अपने बच्चों को पढ़ाई के प्रति जागरूक कर सकती है। माताओं की जागरुकता का लाभ बच्चों के साथ-साथ स्कूल को भी मिलेगा। 
    सहायक शिक्षक रेखराम कोठारी ने कहा कि  माताएं स्कूल की गतिविधियों के बारे में जानकारी लेकर शिक्षा गुणवत्ता में सुधार ला सकती है। उन्होंने कहा कि स्कूल की गतिविधियों को जानने के लिए माताएं अपने बच्चों से आज क्या पढ़ाई हुई है? शिक्षक रोज आ रहे हैं। गृहकार्य में क्या मिला, तुम बड़े होकर क्या बनना चाहते हो। माताएं कक्षा की पढ़ाई, बच्चे सीख रहें है या नहीं इसकी जानकारी ले सकती है। ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं दल बनाकर समय-समय पर स्कूल का अवलोकन कर सकती है। 
    शाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष बिसाहूदास मारकंडे ने कहा कि माताओं का बच्चों से भावनात्मक लगाव होता है। माताएं स्कूलों में होने वाली गतिविधियों की जानकारी ले सकती हैं। बच्चों से उनके दोस्तों के बारे में पूछताछ कर सकती है। बच्चों को प्रश्न पूछने के लिए प्रोत्साहित कर सकती है। बच्चे अपने मन की बात माताओं से ज्यादा करते है। इससे एक तरह से भावनात्मक लगाव होता है। जिससे वे स्कूल की गतिविधियों में भागीदारी निभा सकती हंै। 
    बैठक में दुलेश्वरी सागरवंशी, संतोषी बघेल, संतोषी रजक, करूणा चन्द्राकर, लता बघेल, कल्याणी कुर्रे, अनिता बघेल, झमिता ठाकुर, जानकी ठाकुर, हेमलता यादव, कमलेश्वरी मारकंडे, चंद्रकला कुर्रे, खिलेश्वरी लहरी, रंजना मारकंडे, धनेश्वरी गेड्रे, देवकुमारी, सविता सागरवंशी, झुनिया ठाकुर, सुरेखा ओझा आदि मौजूद थी।

     

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    भिलाई नगर, 18 जनवरी। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महामंत्री सीजू एंथोनी ने कहा कि कांग्रेस की राज्य में सरकार बनते ही किसानों ने राहत की सांस ली है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अल्प समय में ही जनता का विश्वास जीत कर विगत 15 वर्षों की मिथ्या धारणा को धराशाई कर दिया है। 
    श्री एंथोनी ने कहा कि राजिम कुम्भ मेले का नाम बदल कर छत्तीसगढ़ एवं छत्तीसगढ़ की संस्कृति को बचाने के लिए भी मुख्यमंत्री की पहल सराहनीय है। बस्तर में किसानों की अधिग्रहित भूमि को उन्हें वापस करना वास्तव में किसानों की पीड़ा समझ कर तत्काल उपचार करने की ओर सफल प्रयास है। 
    उन्होंने कहा कि कैग रिपोर्ट के अनुसार पूर्ववर्ती सरकार के समय हुई आर्थिक अनियमिताओं का खुलासा कांग्रेस द्वारा लगाए गए पुराने आरोप को मजबूती देता है जिसकी जांच होनी चाहिए। झीरम घाटी हत्याकांड की एसआईटी जांच कराने का निर्णय निश्चित रूप से शहीदों के साथ न्याय होगा। मुख्यमंत्री द्वारा 514 शिक्षित बेरोजगारों को मुख्यमंत्री युवा स्व रोजगार योजना अंतर्गत रोजगार उपलब्ध कराने की पहल भी सराही जा रही है। 

     

     

     

     

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    भिलाई नगर, 18 जनवरी। गुरुवार को एमजे कॉलेज जुनवानी की समस्याओं को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद दुर्ग के जिला संयोजक रितेश सिंह के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया।
     इस दौरान कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी भी की वहीं महाविद्यालय में व्याप्त समस्याओं को लेकर कॉलेज प्रबंधन को ज्ञापन भी सौंपा। उन्होंने बताया कि महाविद्यालय में वाहन स्टैंड की व्यवस्था नहीं है। वाईफाई सुविधा का लाभ छात्र-छात्राओं को नहीं मिल पाता, आई कार्ड भी उपलब्ध नहीं कराए गए है। कॉलेज में पेयजल की सुविधा भी नहीं है। कॉलेज में प्राध्यापकों की कभी है, कॉलेज में अतिरिक्त शुल्क लेकर अनुपस्थित छात्र-छात्राओं को उपस्थित दर्शाया जाता है। जो नियम विरूद्ध है। इसी तरह महाविद्यालय में विभिन्न कोर्स के लिए अलग-अलग भवन की व्यवस्था होनी चाहिए, जबकि एक ही भवन में सभी कोर्स संचालित किए जा रहे है। 
    इसी तरह बीएड छात्रों से शार्ट अटेंडेंस के नाम पर मोटी रकम वसूल की जाती है। जो नियम विरूद्ध है। महाविद्यालय में महिला सेल गठित करने, महाविद्यालय प्रवेश में बरती जाने वाली अनेक अनिमितताएं पर रोक लगाने की मांग की गई। विभाग संयोजक कमल शर्मा, प्रदेश प्रतिनिधि प्रमुख प्रतीक पांडेय,  निखिल राय, कबीर, पताश घोष, रोहण दास, देवांश पांडेय, गणनायक ठाकुर, मृत्युंजय पांडेय, आदित्य श्रीवास्तव, अर्जुन तिवारी, चित्रकांत उपस्थित थे।

     

     

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    दुर्ग, 18 जनवरी। नगर निगम दुर्ग के 24 एमएलडी क्षमता के फिल्टर प्लांट के वाल्व से क्लोरीन गैस लीकेज होने से इसके चपेट में 13 लोग आ गए।  इन्हें उल्टी होने तथा दम घुटने की शिकायत पर तत्काल उपचार के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया. जहां उन्हें ऑक्सीजन चढ़ाया गय। बहरहाल घायलों की स्थिति पहले से बेहतर है।  घटना की जानकारी मिलते ही कलेक्टर उमेश अग्रवाल अस्पताल पहुंचे, जहां घायलों से मुलाकात कर उनका हालचाल जाना और चिकित्सकों को बेहतर इलाज के निर्देश दिए. इधर मामले में जलगृह विभाग के सहायक अभियंता को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है।
    साइंस कॉलेज के सामने स्थापित 24 एमएलडी का फिल्टर प्लांट भगवान भरोसे संचालित है. इसके संचालन के लिए राजस्व व सफाई विभाग के कर्मचारियों को जिम्मेदारी दी गई है, जो तकनीकी रूप से अक्षम है. गुरुवार को सुबह 11  बजे 900 किलो क्षमता के क्लोरीन गैस सिलेण्डर के वाल्व में खराबी शुरू हुई. जहां से क्लोरीन गैस का रिसाव होने लगा। जिसे ठीक करने ये अक्षम कर्मचारी कोशिश किए. बावजूद स्थिति बिगड़ती गई और गैस का रिसाव तेजी से होने लगा. स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गया. तत्काल भिलाई इस्पात संयंत्र की सेफ्टी टीम को इसकी सूचना दी गई. टीम के सदस्यों ने 5 घंटे की मैराथन मेहनत के बाद स्थिति पर काबू पाया. तब जाकर निगम प्रशासन ने राहत की सांस ली।  
    भर्ती कर्मियों के नाम इस प्रकार है- पल्तु राम साहू , नीतू , अंजू , पूनम सेन , नीति शर्मा , ललित मानकर , अश्वनी कुमार , जीवन लाल ताम्रकार , पद्मिनी निर्मलकर , गणेश्वर, नागेश मारकंडेय , सैफुद्दीन  व सोमित शर्मा. वहीं प्रतिमा साहू , सोनम पालिया , गरिमा शर्मा  व रेशमा सिद्धिकी भी गैस रिसाव के चपेट में थे, इनकी जांच ओपीडी में की गई।। 
    कलेक्टर ने दिए जांच के निर्देश 
    गैस पीडि़तों का हालचाल जानने जिला अस्पताल पहुंचे कलेक्टर उमेश अग्रवाल ने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं. घटना के कारणों का पता लगाया जाएगा और इसमें जो दोषी होंगे उस पर कार्रवाई की जाएगी. साथ ही भविष्य में घटना की पुनरावृत्ति न हो इस पर विशेष प्रयास किए जाएंगे।

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    भिलाई नगर, 18 जनवरी। हिंदुस्तान स्टील एम्पलाइज यूनियन सीटू की सेफ्टी सब-कमेटी सदस्य सविता कुमारी ने बताया कि बिना डाला वाले ट्रक एवं ऐसे ट्रक जिनका डाला तो बना है किंतु पीछे का स्टॉपर नहीं है, संयंत्र में सुरक्षा के लिए मुसीबत बनते जा रहे हैं। ऐसे ट्रक विभिन्न मिल के स्क्रेप को लेकर बोरिया गेट वे-ब्रिज तक जाते हैं एवं वहां से वजन करने के बाद विभिन्न विभागों में स्क्रैप को पहुंचाते हैं। 
    ट्रकों डाला के पीछे का स्टॉपर नहीं होने के चलते स्क्रैप सड़कों पर गिरने का खतरा हमेशा बना रहता है। कल दोपहर के बीच मेन गेट पर सीटू ने ऐसे ट्रकों को रोकने का अभियान चलाया और 1 घंटे के अंदर 5 ट्रकों को रोका गया। सुरक्षा अधिकारी द्वारा ठेकेदार के सुपरवाइजर को बुलाया गया तब उन्होंने बताया कि केवल 4-5 ट्रक ही बिना डाला के हैं बाकी सभी में डाला लगा है। एक घंटे के भीतर  रेल मिल से रेल पीस को लेकर पहला ट्रक आया देखते ही देखते दूसरा ट्रक यूआरएम से, तीसरा ट्रक वायर रॉड मिल से वायर रॉड्स के स्क्रैप को लेकर, चौथा ट्रक मर्चेंट मिल से एंगल स्क्रैप एवं पांचवा ट्रक बीबीएम से बिलेट पीस लेकर  पहुंचा। ट्रकों को रोकने के बाद उसी जगह से डीजीएम (सेफ्टी) एवं जीएम (सेफ्टी) से फोन पर बात की गयी। 
    सुरक्षा अधिकारी ने 5 ट्रकों के चालान काटे एवं समझाइश दी कि बिना पीछे का डाला या स्टॉपर वाले ट्रकों को न चलाएं अन्यथा बड़ी कार्रवाई हो सकती है। 
    सीटू नेताओं ने कहा कि सेफ्टी के अधिकारी अक्सर शॉप फ्लोर एवं चौक पर खड़े होकर जूता एवं हेलमेट चेक करते हैं और जूता-हेलमेट नहीं होने पर उन कर्मियों को संयंत्र के अंदर प्रवेश नहीं दिया जाता। सेफ्टी का जूता और हेलमेट ही सुरक्षा नहीं होते हैं उनके साथ भी जो हमारे चारों और असुरक्षित कार्यपद्धति को अपनाते हुए कार्य किये जा रहे हैं, वह सब सुरक्षा के दायरे में आता है। 

     

     

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    भिलाई नगर, 18 जनवरी। बीएसपी में किसी प्रकार की गैस से संबंधित दुर्घटना न हो, इस उद्देश्य से भिलाई इस्पात संयंत्र अपने गैस सुरक्षा के नेटवर्क को और अधिक सुरक्षित करने बीएसपी में राष्ट्रीय स्तर पर दो दिवसीय लियो-कार्यशाला में अनुपस्थिति के बावजूद बीएसपी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एके रथ ने अपने विडियो संदेश के माध्यम से इस्पात उद्योग के इन विशेषज्ञों को सम्बोधित किया। कार्यशाला का समापन 17 जनवरी को भिलाई इस्पात संयंत्र के कार्यपालक निदेशक पीके दाश ने किया। समापन समारोह में मुख्य अतिथि श्री दाश ने इस आयोजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि कार्यशाला से इस्पात उद्योग में गैस सुरक्षा को बढ़ाने में मदद मिलेगी। 
    बीएसपी के सेफ्टी इंजीनियरिंग विभाग और ऊर्जा प्रबंधन विभाग द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित गैस सुरक्षा के राष्ट्रीय सेमिनार के दूसरे दिन देश भर से आये विशेषज्ञों ने इस्पात उद्योग में गैस सुरक्षा को सुदृढ़ व सुनिश्चित करने हेतु अपने अनुभव व ज्ञान को साझा करते हुए गहन विचार-मंथन किया। भिलाई इस्पात संयंत्र द्वारा आयोजित यह राष्ट्रीय सेमीनार इस्पात उद्योग में गैस सुरक्षा को और अधिक समृद्ध करने में मील का पत्थर साबित होगा। इसके अतिरिक्त गैस सुरक्षा से संबंधित विश्व स्तरीय तकनीक व प्रणाली मुहैया कराने वाले प्रतिष्ठित आपूर्तिकर्ताओं ने भी अपनी भागीदारी देते हुए सदन को विश्व स्तर पर उपलब्ध नई तकनीक से अवगत कराया। 
    मेसर्स टीडी विलियमसन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, मुंबई ने लाइव गैस लाइन में टैपिंग लेने व बिना गैस लाइन शटडाउन लिये कैसे सुरक्षित कार्य को नई तकनीक व पद्धति के साथ किया जा सकता है इस पर प्रकाश डाला। साथ ही उन्होंने बताया कि यह तकनीक आरआईएनएल में बेहतर ढंग से काम कर रही है। इसी क्रम में एक अन्य आपूर्तिकर्ता मेसर्स एमएसए एबीएन, ग्वालियर ने अपनी प्रस्तुति में कार्बन मोनोऑक्साइड गैस का सम्पूर्ण प्लांट में मॉनिटरिंग करने की आधुनिक प्रणाली के बारे में सदन को सारगर्भित जानकारी प्रस्तुत की। इसी क्रम में प्रतिष्ठित आपूर्तिकर्ता मेसर्स स्नाइडर इंडिया ने प्रोसेस सेफ्टी तथा सेफ्टी स्टैंडर्डस को प्राप्त करने वाली सुरक्षित प्रणाली की जानकारी दी साथ ही ऑइल व गैस लाइनों में अपनाई जाने वाली अत्याधुनिक तकनीक से अवगत कराया। साथ ही कम्पनी ने उनके द्वारा वैश्विक स्तर पर आपूर्ति किये गये इस तकनीक के विभिन्न पहलुओं व फायदों से रूबरू कराया।
    टाटा स्टील जमशेदपुर के सुशांत कुमार ने इस कार्यशाला को उपयोगी बताते हुए कहा कि यहाँ हुए नॉलेज शेयरिंग से इस्पात उद्योग के गैस सेफ्टी प्रबंधन को और भी बेहतर बनाया जा सकेगा। भिलाई इस्पात संयंत्र का यह प्रयास निश्चित ही प्रशंसनीय है। आरआईएनएल विशाखापट्टनम के ललन प्रसाद रजक ने सम्पूर्ण कार्यशाला की प्रशंसा करते हुए कहा कि भिलाई ने पूरे इस्पात उद्योग को एक ऐसा लर्निंग प्लेटफॉर्म दिया जिसके माध्यम से हम आपस में सेफ प्रैक्टिस डेवलप करने में कामयाब हुए हैं। 

     

     

  •  

Posted Date : 18-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    भिलाई नगर, 18 जनवरी। स्टेशन मरोदा क्षेत्र में अवैध रूप से बीएसपी की जमीन पर प्लाटिंग कर बेचने का मामला सामने आया है। इसकी जानकारी बीएसपी, नगर निगम को मिली गुरुवार को इस पर कार्रवाई करते हुए लगभग 76 से भी ज्यादा अवैध कब्जे को तोड़ा गया है। यह कार्रवाई शाम तक चलती रही है। इसमें सीमेंट से कॉलम खड़ी कर बनाए जा रहे मकान को भी बीएसपी में जेसीबी से तोड़ा है। 
    इस दौरान कई लोगों ने नगर निगम को संपत्ति देने की बात करते हुए निगम की पर्ची भी दिखाई है। इससे यह बात सामने आया कि बीएसपी की जमीन पर अतिक्रमण कराने के लिए नगर निगम के राजस्व विभाग के लोग भी शामिल है। हालांकि यह विषय जांच के बाद सामने आएगा, परंतु बीएसपी नगर निगम एवं पुलिस के संयुक्त टीम ने कल स्टेशन मरोदा, नेवई यादव मोहल्ला में अनेक मकान जो पक्के बनाए गए थे। उन्हें जेसीबी लगाकर तोडऩे की कार्रवाई की है। इस दौरान एक दो लोगों ने रोकने का प्रयास जरूर किया। परंतु पुलिस की मौजूदगी के चलते तथा बीएसपी की टीम मौके में किसी की चलने नहीं दी। हाल ही में बनाए गए सारे अवैध कब्जों को तोड़ा गया।  स्टेशन मरोदा के पीछे अवैध रूप से बीएसपी की जमीन को दलालों द्वारा प्लाटिंग कर 40 बाई 50 वर्गफीट की साइज में बेचा गया है। 33 से ज्यादा प्लाट को काटकर बेचने का सिलसिला लंबे समय से जारी है। कुछ लोग उक्त भूमि पर कॉलम देकर पक्का मकान बनाए जाने की तैयारी कर रहे थे। अभियान में नगर सेवा विभाग प्रमुख डीजीएम विजय शर्मा, प्रबंधक यशवंत साहू, कृष्णानंद राय, पी मनोज, जगतार जानकी रमैया, असलम, बनर्जी, तोडफ़ोड़ प्रभारी हरचरण सिंग अरोरा, अरविंद शर्मा, धनुष वर्मा, गोपाल सिन्हा शामिल थे। 
    वेतन न देना सांठगांठ का परिचायक-साहू 
    भिलाई नगर, 18 दिसंबर। सेंटर ऑफ स्टील वर्कर्स ऐक्टू के महासचिव श्याम लाल साहू ने संयंत्र में काम कर रहे ठेका श्रमिकों के पिछले माह का वेतन भुगतान अब तक नहीं जाने पर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि ठेका श्रमिकों को न्यूनतम वेतन की गारंटी करते हुए महीने की 10 तारीख तक वेतन भुगतान सुनिश्चित करना होगा। जिला प्रशासन और श्रमायुक्त को भी ठेका श्रमिकों की समस्याओं से कई बार अवगत कराया जा चुका है इसके बावजूद श्रमिक-समस्याओं का निराकरण नहीं हो पाना प्रबंधन, प्रशासन और ठेकेदारों में आपसी साँठगाँठ का परिचायक है। 
    ----

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    दुर्ग, 17 जनवरी। शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय में दुर्ग जिला पुलिस द्वारा 16 जनवरी को हमर दुआर हमर रखवार सुरक्षा संस्कार (यातायात जागरूकता) कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसमें मुख्य वक्ता एन.एस. चौबे, सीएसपी दुर्ग थे। जिन्होंने ट्रैफिक रूल दोपहिया वाहन एवं चार पहिया वाहन की क्षमता एवं कार्य प्रणाली गति नियंत्रण, हेमलेट का प्रयोग कार में सीट बैल्ट का प्रयोग, हार्न एवं हेड लाइट, लेन अनुशासन सड़क सुरक्षा संकेतों का पालन इत्यादि बातों की जानकारी एवं जागरूकता प्रदान की। दुर्ग पुलिस रेंज में दुर्घटना की वृद्धि हुई है.  सीएसपी ने कहा कि यातायात जागरूकता कार्यक्रम का महाविद्यालय में नियमित आयोजन होते रहना चाहिए।
    कार्यक्रम में प्रभारी प्राचार्य डॉ. ओ.पी. गुप्ता, डॉ. अनुपमा अस्थाना, डॉ. मीना मान, डॉ. राजेश्वरी जोशी एवं पुलिस विभाग से प्रकाश दास हेड कांस्टेबल अजय कुमार यदु, चन्द्रभान, सतीष सिंह कांस्टेबल उपस्थित थे। 
    दुर्ग पुलिस द्वारा 16 जनवरी से सड़क सुरक्षा सप्ताह का यह कार्यक्रम महाविद्यालय के एनसीसी इकाई द्वारा आयोजित किया गया, जिसमें एनसीसी छात्र एवं छात्रा इकाई के कैडेटों के साथ-साथ महाविद्यालय के 300 छात्र-छात्राएं इस कार्यक्रम में अपनी सहभागिता प्रदान की। कार्यक्रम में छात्र-छात्राओ ने सीएसपी से प्रश्न पूछे, जिसका उन्होंने रोचक तरीके से उत्तर दिया तथा सड़क सुरक्षा की शपथ दिलायी गयी। कार्यक्रम का संचालन कैप्टन सपना शर्मा सारस्वत ने किया।

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    भिलाई नगर, 17 जनवरी। पवार क्षत्रिय संघ भिलाई-दुर्ग द्वारा मकर संक्राति के अवसर पर राजाभोज मंगल भवन दीक्षित कॉलोनी नेहरु नगर पूर्व में 52वें वार्षिक स्नेह सम्मेलन का आयोजन किया गया। राष्ट्रीय अध्यक्ष मुरलीधर टेंभरे ने कहा कि मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्यों में पवार क्षत्रिय को ओबीसी वर्ग में रखा गया है किन्तु छत्तीसगढ़ में सामान्य वर्ग में हैं। उन्हें ओबीसी वर्ग में लाने प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। पवारी भाषा को जन-जन तक पहुंचाने साहित्य समिति गठित की जाएगी। पूर्व सांसद भण्डारा खुशाल बोपचे ने पवार क्षत्रियों को छत्तीसगढ़ में ओबीसी वर्ग में शामिल किए की मांग रखी। 
    स्वागत गीत ममता राहंगडाले एवं टीम तथा पवारी लोकगीत-भजन विद्या बिसेन और नारायण राणे ने प्रस्तुत किया। प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। स्मारिका पवार ज्योति का विमोचन किया गया। आयोजन में विधायक विद्यारतन भसीन, महापौर दुर्ग चंद्रिका चंद्राकर, विधायक अरुण वोरा, विधायक देवेंद्र यादव, देविका कटरे, किरणलता चोपड़े, सुनील बिहारी गौतम, देवकरण परमार, नरेन्द्र ठाकरे, संजीव राहगंडाले, शैलेन्द्र परमार, डॉ. योगराज कटरे, एआर राहगंडाले, आरएल गौतम, नंदलाल चौधरी, एचके बिसेन, लेख सिंह राणा, नीतिराज राहगंडाले, केसी ठाकरे, राजेन्द्र पवार सहित मध्यप्रदेश महाराष्ट्र के विभिन्न समितियों के पदाधिकारी मौजूद रहे। 

     

     

     

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  •  निराकरण नहीं होने पर मामला एनजेसीएस समिति में 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    भिलाई नगर, 17 जनवरी। पदनाम परिवर्तन को लेकर बनी एनजेसीएस उपसमिति की बैठक मंगलवार को नई दिल्ली स्थित सेल कारपोरेट कार्यालय में संपन्न हुई। सीटू से एसपी डे, विश्वरूप बनर्जी, इंटक से एसके बघेल, एटक से विनोद कुमार सोनी, आदिनारायण शामिल हुए। 
    सीटू नेता एसपी डे ने स्पष्ट कहा कि पदनाम एवं सेवा शर्तों में परिवर्तन के लिए प्रबंधन को कर्मचारियों से सहमति लेनी चाहिए। प्रबंधन द्वारा 2017 में शैक्षणिक योग्यता के आधार पर प्रशिक्षण काल को सेवाकाल में जोडऩे हेतु दिये गये प्रस्ताव में ऐसे कर्मी, जिनके पास डिप्लोमा इंजीनियरिंग की योग्यता है, को निम्नानुसार सम्मानजनक पदनाम दिए जाने की बात कही गयी है। पदनाम को लेकर इंजीनियरिंग डिग्रीधारियों, नए एसीटी कर्मियों के साथ-साथ ऐसे पुराने कर्मियों के भीतर भी असंतोष है जो लंबे समय से एक ही पदनाम पर कार्य कर रहे हैं इसलिए गैर कार्यपालकों की पदोन्नति नीति इस तरह बने कि सभी कर्मियों को अपग्रेडेशन के साथ साथ सम्मानजनक पदनाम भी मिले। प्रबंधन ने कहा कि संयंत्र के अन्दर अलग-अलग शैक्षणिक योग्यता वाले कर्मी प्रत्येक ग्रेड में कार्यरत हैं इसलिए शैक्षणिक योग्यता आधारित पदनाम संभव नहीं है। 
    सीटू नेताओं ने प्रबंधन से पूछा कि लगभग 2016 से पदनाम को लेकर सेल के विभिन्न संयंत्रों में कर्मी आंदोलनरत हैं एवं स्टील मिनिस्ट्री तथा स्टील सेक्रेटरी सहित अलग-अलग स्तरों से इस समस्या का समाधान निकालने के लिए आवश्यक पत्र सेल प्रबंधन को लिखे जाने के बावजूद सेल ने अभी तक इस मामले में लेटलतीफी क्यों की? जब एनजेसीएस के स्तर पर ही इसका समाधान निकाला जाना था, तो इतने दिनों तक सेल प्रबंधन ने आधिकारिक तौर पर इस मुद्दे से एनजेसीएस यूनियनों को क्यों नहीं अवगत कराया। प्रबंधन ने कहा कि 2017 में एक कमेटी बनाई गई थी जिसके चेयरमैन भिलाई के पूर्व अधिशासी निदेशक एमके बर्मन थे। यह मामला एनआरसी में भी गया था किंतु बोर्ड का मानना है कि इसमें इतनापेंच है कि इसे एनजेसीएस में पहले चर्चा किया जाना चाहिए था। इसलिए एनजेसीएस सब कमेटी गठन कर यह बैठक बुलाई गई।

     

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    भिलाई नगर, 17 जनवरी। बीती दोपहर एसबीआई के प्रभारी लेखा अधिकारी के रहस्यमय ढंग से गायब होने के बाद रात को उनकी गुमशुदगी रिपोर्ट बैंक प्रबंधक और उनके बेटे ने कोतवाली थाना में दर्ज कराई गयी है। ड्यूटी के दौरान ही लेखाधिकारी अचानक कब बैंक से निकले किसी को खबर ही नहीं ली। बैंक की टेबल पर ही उनके दोनों मोबाइल और आईडी मिले हैं। अधिकारी के अचानक लापता होने के बाद यह बात भी सामने आई है कि सोशल मीडिया पर उनके एकाउंट में उनकी पहचान कराने वाली सारी तस्वीरें भी हटा दी गई हैं।  
      सिविक सेंटर इंदिरा पैलेस स्थित भारतीय स्टेट बैंक के प्रभारी लेखाधिकारी सुमीत बैनर्जी कल दोपहर को रहस्यमय ढंग से लापता हो गए। इस दौरान कैश शाखा भी खुली रही और उनके दो मोबाइल भी टेबल पर पड़े रहे। अचानक बैनर्जी के न दिखाई पडऩे पर बैंक प्रबंधक और बाकी स्टाफ उन्हें तलाशने लगे। कुछ देर के लिए बैंक परिसर में हड़कम्प मचा रहा। तत्काल कैश केबिन में ताला लगा कर बैंक के आस-पास खोजबीन की गयी लेकिन कोई खबर नहीं मिली। परिजनों को सूचना देने के बाद परिजन भी बैंक शाखा पहुँच गए।
     कल रात बैंक प्रबंधक व परिजनों ने सेक्टर-6 कोतवाली थाना में सुमीत बैनर्जी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। रात भर तलाश के बाद सुबह तक पुलिस को लापता सुमीत बैनर्जी के संबंध में कोई ठोस सुराग नहीं मिला है। पुलिस टीम परिजनों और बैंक स्टाफ से बातचीत कर पूरे मामले को जानने के प्रयास में लगी है। फिलहाल बैंक और आस-पास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। कार्यस्थल पर ही मोबाइल और सभी आईडी मिलने तथा फेसबुक और अन्य सोशल साइट से सुमीत बैनर्जी की तस्वीरें डिलिट किये जाने को लेकर भी तरह तरह की चर्चाएं हो रही हैं।      

     

     

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बसना, 17 जनवरी।  तेजरफ्तार मेटाडोर बेकाबू होकर पलटने से सवार 3 महिलाओं की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि दो दर्जन जख्मी हो गए। इनमें से आधा दर्जन से ज्यादा को गंभीर चोटें आई हैं जिन्हें रायपुर मेकाहार भेजा गया है।  घटना कल शाम अखराभाठा गढफ़ुलझर के पास हुई। पिकअप में 42 महिलाएं सवार थीं जो आडिशा से दशगात्र में सामिल होने के बाद लौट रही थीं। चालक दुर्गा प्रसाद पांडे फरार है।
    पुलिस के अनुसार कल शाम 6 बजे ओडिशा से दशगात्र कार्यक्रम से ग्राम अकोरी टांडा के नायक बंजारा परिवार के महिला सदस्यों के साथ  मेटाडोर में सवार होकर लौट रही थीं। 
    वाहन में 42 लोग सवार  थे।  तेज रफ्तार मेटाडोर सड़क किनारे के खेत के कीचड़ में जाकर पलट गई। हादसे में मंगली बाई, पन्नीराजे और लालीबाई नामक महिला की मौेके पर ही मौत हो गई जबकि एकदर्जन से ज्यादा को चोटें आईं। 112 और लोगों की मद्द से घायलों को बसना  स्वास्थ्य केन्द्र एवं अग्रवाल नर्सिंग होम में भर्ती किया गया। घायलों में घसनीन नामक महिला की हालत गंभीर है। इसके अलावा आठ अन्य महिलाओं को भी गंभीर चोटें आई हैं इन सबको रायपुर भेजा गया है।

     

     

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • भिलाई नगर, 17 जनवरी। महापौर व विधायक देवेन्द्र यादव एवं आयुक्त एसके सुंदरानी के निर्देश पर कल रामनगर व छावनी मुक्तिधाम का जनसम्पर्क अधिकारी वाई राजेन्द्र कुमार राव द्वारा निरीक्षण किया गया। वहां की सभी स्थिति का जायजा लिया गया लकड़ी की उपलब्धता, साफ-सफाई, कार्यरत् मजदूर, निरीक्षण के प्रमुख बिन्दु रहें। दोनों में से किसी भी मुक्तिधाम में शवदाह के लिए निगम द्वारा दी जा रही लकडिय़ों की कोई कमी नहीं पाई गई। सभी को सतर्क रहने का निर्देश जारी किया गया और किसी भी प्रकार की कमी पाये जाने पर संबंधित के विरुद्ध कठोर कार्यवाही करने की बात कही गई। 

     

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    भिलाई नगर, 17 जनवरी। पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज दुर्ग रतन लाल डंागी के निर्देशन एवं पुलिस अधीक्षक दुर्ग प्रखर पाण्डेय के मार्गदर्शन मे जिला दुर्ग में चलाये गये कम्युनिटी पुलिसिंग के अंतर्गत हमर दुआर हमर रखवार अभियान संस्कार के तहत दुर्ग जिले में सुरक्षा संस्कार जिला स्तर पर एक साथ 100 शैक्षणिक संस्थाओं के छात्र छात्राओं को यातायात नियमों की जानकारी एवं पालन हेतु जागरुक किया गया। 
    छत्तीसगढ़ राज्य मे जिला दुर्ग जिला द्वारा किये जाने वाला पहल अपने आप में एक मिशाल है। जिसमें पहली बार पुलिस महानिरीक्षक एवं पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारी पहली बार ऐसे आयोजन में शामिल हुए साथ ही समस्त राजपत्रित अधिकारी विजय पाण्डेय अपुअ शहर, जीसी मेश्राम अपुअ.ग्रामीण, बलराम हिरवानी अपुअ यातायात, प्रज्ञा मेश्राम अपुअ आईसीयूडब्लू, एसएस शर्मा भिलाई नगर, त्रिलोक बंसल सीएसपी दुर्ग, प्रमोद गुप्ता डीएसपी मुख्यालय, एसआर पठारे डीएसपी आईयूसीडब्लू, दिलीप चंद्रकार आईयूसीडब्लू, नवीन शंकर चैबे डीएसपी एजेके, राजीव शर्मा एसडीओपी पाटन, प्रवीण चंद तिवारी डीएसपी क्राईम, गुरजीत सिह डीएसपी यातायात दुर्ग, आदित्य शर्मा उपुअ डीएसबी, निलेश द्विवेदी एवं समस्त थाना प्रभारी एवं यातायात के समस्त अधिकारीगण जिले के स्कूल कालेजों मे पहुॅचकर यातायात सुरक्षा संस्कार का आयोजन किया गया।
    कार्यक्रम मे यातायात नियमों, रोड संकेतों, इलेक्ट्रानिक सिग्नल, रोड सेफ्टी प्लान मे एजुकेशन, इंजीनियरिंग, इंफोर्समेंट, इमरजेंसी केयर व गुड व सेमेरिटन से संबंधित तथा दो पहिया एवं चार पहिया वाहन चालकों द्वारा यातायात नियमों का पालन संबंधी प्रश्नों के उत्तर देने वाले विद्यार्थी विशाल कुमार, प्रीतम सानी, यमुना वर्मा, शिल्पी तिवारी तथा सिमोट सोनी को आईजी द्वारा पुरस्कृत किया गया। इसी प्रकार सभी शैक्षिणक संस्थाओं में अधिकारी एवं कर्मचारी के द्वारा यातायात संबंधी जवाब पूछा गया जो सही उत्तर बताने पर छात्र-छात्राओं को पुरूस्कृत किया गया। पुलिस महानिरीक्षक रतन लाल डांगी द्वारा अंत में उपस्थित शिक्षकों व छात्र-छात्राओं को यातायात नियमों के पालन करने शपथ दिलाई गयी। दिल्ली पब्लिक स्कूल, रिसाली में पुलिस अधीक्षक प्रखर पाण्डेय ने आयोजन की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह आयोजन तभी सार्थक होगा जब विद्यार्थी यातायात नियमों का पूर्ण रूप से पालन करें। शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के कुल 100 स्कूलों एवं कॉलेजो में जाकर पुलिस अधिकारियों द्वारा छात्र-छात्राओं को यातायात संबंधित प्रशिक्षण दिया गया। 

     

     

     

     

  •  



Previous1234Next