छत्तीसगढ़ » गरियाबंद

Previous1234Next
Date : 14-Dec-2019

कमिश्नर ने बेहराडीह में पहुंचकर चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्या सुन और तत्काल निराकरण करने निर्देश दिए

छत्तीसगढ़ संवाददाता
मैनपुर, 14 दिसंबर।
रायपुर संभाग के कमिश्नर जी.आर चुरेन्द्र शुक्रवार शाम तहसील मुख्यालय मैनपुर से 9 किमी दूर हीरा खदान के रूप में मशहूर एवं विशेष जनजाति कमार आदिवासी ग्राम बेहराडीह में पहुंचकर चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्या सुन और कई समस्याओं का तत्काल निराकरण करने निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने शासन द्वारा चलाए जा रहे योजनाओ के बारे में ग्रामीणों को बताया और मनरेगा योजना के तहत गांव के पगडंडी रास्तो में सडक निर्माण, तालाब निर्माण, भूमि सुधार के साथ पेजयल व्यवस्था को दुरूस्थ करने का निर्देश स्थानीय अधिकारियों को दिया। इस मौके पर ग्रामीणों ने कमिश्नर से मांग किया कि उनके पुस्तैनी व्यवसाय बांस बर्तन के लिए उन्हें शासन से योजनाओं का लाभ दिलाया जाए। साथ ही ग्रामीणों ने मांग किया कि आर्थिक उन्नती रोजगार साधन के लिए कुंआ निर्माण, खेतो में तार फैंसिग, सिंचाई के लिए ट्यूबवेल एवं ग्राम बेहराडीह को मॉडल ग्राम के रूप में विकसित करने की मांग ग्रामीणों ने की।

मौके पर प्रमुख रूप से मुख्यकार्यपालन अधिकारी नरसिंह धु्रव, गाडाराय सोरी, सोपसिंह नेताम, रामसिंह नेताम, बाहरूराम नेताम, ईश्वर नेताम, लखनसिंह नेताम, जगतुराम नेताम, सुकरूराम नेताम, लक्ष्छन नेताम, पिलाबाई रामसिंह मांझी सहित बडी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

 


Date : 14-Dec-2019

पुलिस सखी कार्यक्रम में एसपी ने किया 50 महिलाओं साडी, टार्च, कैप व जरूरत की सामग्री सम्मान स्वरूप भेंट किया
छत्तीसगढ़ संवाददाता
मैनपुर, 14 दिसंबर।
तहसील मुख्यालय मैनपुर थाना परिसर में शुक्रवार को पुलिस सखी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें विकासखण्ड से सैकड़ों की संख्या में महिला पुरूष वरिष्ठ नागरिक शामिल हुए। इस दौरान गरियाबंद जिला के पुलिस अधीक्षक एम. आर. अहिरे, डीएसपी गरियाबंद टी आर कंवर, एसडीओपी मैनपुर रूपेश डांडे, उमेश राजी, वेदमती दरिया, थाना प्रभारी संतोष भुआर्य, सर्व आदिवासी समाज के जिला अध्यक्ष भरत दिवान, ग्रा चा योगेश शर्मा, हसन खान वरिष्ठ नागरिक हेमसिंह नेगी विशेष रूप से उपस्थित थे।

पुलिस सखी कार्यक्रम में एसपी एम. आर. अहिरे ने कहा कि आज से कुछ माह पहले मैनपुर क्षेत्र से पांच महिलाए गरियाबंद पहुंचकर पुलिस सखी के रूप में कार्य करने की इच्छा जाहिर की थी। आज मैनपुर क्षेत्र के पांच ग्राम पंचायतो में महिलाए स्व स्फूर्त सामने आकर पुलिस सखी के रूप में कार्य कर रही हैं। पुलिस सखी की महिलांए समाज में व्याप्त बुराईयों जैसे शराब, जुआ, सटट अन्य नशा महिला अत्याचार को रोकने पुलिस के साथ मिलकर कार्य कर रही हैं, जिसके चलते गांवो में अब इन बुराईयों से लोग दूर होने लगे हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस सखी की महिलाए पुलिस के साथ मिलकर गांव में बेहतर कार्य कर रही हैं । पुलिस सखी की महिलाओं को यदि  किसी व्यक्ति द्वारा बेवजह परेशान किया जाएगा तो उनके खिलाफ कार्रवाईकी जाएगी।

श्री अहिरे ने महिलाओं को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आज शासन द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाए चलाई जा रही है। इन योजनाओं का लाभ महिलाओं को लेना चाहिए। महिला समूह में जुडक़र आत्मनिर्भर बनना होगा। महिला जब आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हो जाएगी तो उन्हें किसी के सामने झुकने की आवश्यकता नहीं है।

इस दौरान पुलिस सखी मैनपुर छुईहा, हरदीभाठा, मैनपुरकला, बोईरगांव के 50 महिलाओं को पुलिस अधिक्षक गरियाबंद एम आर.अहिरे ने साडी, टार्च, कैप व जरूरत की सामग्री सम्मान स्वरूप भेंट किया। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से पुनिया यादव, मुस्कान बेगम, शाहिना बेगम, भूमि पटेल, डोमेश्वरी धु्रव, जमुना बाई धु्रव, जानकी नागेश, बिराजो यादव, जिया सोनी, संतोषी पटेल, चैनसिंह नेताम, हनीफ मेमन,खाा हुलार ठाकुर, जाहीद रजा, डोमार पटेल, संतोष धु्रव, महेन्द्र फरस, सुकसाय नायक, भवन सिंह, रामनाथ, यातिराम पटेल, रमेश ठाकुर, राजाराम नेताम, बिसाहुराम नागेश, बंसत जगत, अमरसिंह कपील, टीकम पटेल, सरिता सेन, सरोज सेन, जमुना डोंगरे, मानबाई देंवंशी, पुस्पा बाई सोनवानी, गायत्री सोनवानी, सोनिका बाई, सविता बाई डोंगरे, कौशिल्या, नजमुन निशा, पदमा साहू, सुनिता निमर्लकर, मालती जगत, खिलेश्वरी नेताम, लता नेताम, गायत्री मरकाम, कमल नागेश, हेमलता नागेश, धनेश्वरी नागेश, जंयती बाई नेगी, देवकी नागेश, पार्वती बघेल  मोहन सिंह कुशवाहा सहित सैकडो की संख्या में पुलिस सखी एंव क्षेत्रभर के महिला पुरूष वरिष्ठ नागरिक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डोमार पटेल ने किया ।

 

 


Date : 14-Dec-2019

शिक्षक की मांग को लेकर छात्र-पालकों ने किया बीईओ कार्यालय का घेराव, स्कूल में तालाबंदी की चेतावनी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
मैनपुर, 14 दिसंबर।
तहसील मुख्यालय मैनपुर से 6  किलोमीटर दूर ग्राम कोनारी प्राथमिक शाला में शिक्षक की मांग को लेकर ग्रामीणों व स्कूल के छात्र-छात्राओं ने शुक्रवार को बीईओ का घेराव किया, बीईओ के आश्वासन के बाद  आंदोलन समाप्त हो गया।

जानकारी के अनुसार तहसील मुख्यालय मैनपुर से 6  किलोमीटर दूर ग्राम कोनारी प्राथमिक शाला में एक शिक्षक द्वारा पांच कक्षाओ का संचालन किया जा रहा है, जिसके चलते यहां बच्चों की पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हुई है। लगातार ग्रामीणों द्वारा शिक्षक की मांग स्थानीय अधिकारियों से करते थक चुके थे, जिसके बाद ग्रामीण व छात्र मैनपुर विकासखण्ड शिक्षा कार्यलय 6  किलोमीटर पैदल रैली निकालकर पहुंचे और विकासखण्ड शिक्षा कार्यलय का घेराव कर दिया। शिक्षा कार्यलय के मुख्य गेट के सामने बैठकर शिक्षक की मांग को लेकर ग्रामीणों ने जमकर नारेबाजी की तब कहीं जाकर विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी ने तत्काल एक शिक्षक की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया तो ग्रामीणों व छात्रों ने अपना आंदोलन समाप्त किया और वापस लौट गए।

ग्रामीणों ने बताया कि प्राथमिक शाला कोनारी में बच्चों की दर्ज संख्या 30 के आसपास है और एक मात्र शिक्षक 5 कक्षाओं को पढ़ा रहे हैं। यदि शासकीय कार्य से उन्हें मैनपुर आना पड़े तो स्कूल में ताला लग जाता है और बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। गुस्साये पालको ने बीईओ के सामने उग्र आंदोलन की चेतावनी देते हुए बताया कि एक सप्ताह के भीतर शिक्षक की व्यवस्था नहीं की जाती है तो अब स्कूल में तालाबंदी कर दी जाएगी।


Date : 14-Dec-2019

धान खरीदी में सरकार के नए-नए फरमान से किसान परेशान- चंद्राकर, कांग्रेस सरकार गंगा जल की कसम खाकर सत्ता में आई थी और किसानों का एक एक दाना धान खरीदने का वादा किया था

नवापारा-राजिम, 14 दिसंबर। भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष युधिष्ठिर चन्द्राकर ने छत्तीसगढ़ संवाददाता से चर्चा कर किसानों के धान खरीदी में सरकार के बार-बार नए फरमान, पंजीयन रकबा को कम करने को लेकर किसान काफी परेशान व चिंतित हैं। जबकि कंाग्रेस सरकार गंगा जल की कसम खाकर सत्ता में आई थी और किसानों का एक एक दाना धान खरीदने का वादा किया था।

वहीं किसानों का पंजीकृत रकबा कम कर दिया गया। जैसे कि 22 एकड़ किसान का रकबा 90 डिसमिल हो गया। सरकार के इस वादाखिलाफी रवैये से किसान काफी परेशान हैं। जबकि पिछले साल जब भाजपा की सरकार थी तो काफी व्यवस्थित तरीके से धान की खरीदी होती थी। किसानों को गंाव में कोठार एवं कोठी की व्यवस्था की जरूरत नहीं पड़ती थी। किसान हार्वेस्टर से मिंजाई कर सीधे सोसायटियों में ले जाकर अपना धान बेच देते थे।

श्री चन्द्राकर ने कहा कि पहले छग में यह भी व्यवस्था थी कि छोटे-छोटे गल्ला व किराने की दुकानों में गरीब जाकर अपना कुछ धान अपनी जरूरत के अनुसार बेचकर अपनी जरूरत के सामान खरीद लेते थे। मगर आज स्थिति यह है कि छोटे-छोटे किराना दुकानों में छापा मार रहे हैं कि कहीं किराना दुकानदार धान खरीदी तो नहीं कर रहे हैं। किसानों की यह स्थिति है कि वह दवा तक के लिए भी धान नहीं बेच पा रहे हैं। किसान अपने आपको इस सरकार के सामने भयभीत महसूस कर रही हैं । सरकार के इस कार्य से ऐसा लग रहा है मानों किसान गांजा, अफीम का धंधा कर रहे हों।

श्री चन्द्राकर ने कहा कि सहकारी समितियों के कर्मचारी भी सरकार के इस बेबुनियाद आदेश से परेशान हैं। किसानों की समस्याओं का सामना करने मुख्यमंत्री, मंत्री या कलेक्टर सामने नहीं आता बल्कि सहकारी समिति के छोटे कर्मचारी किसानों के सामने खड़े रहते हैं और लाचार किसानों के आक्रोश का सामना इन कर्मचारियों को करना पड़ता है।


Date : 14-Dec-2019

रोजगार कार्यालय ने शासकीय महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को व्यवसायिक मार्गदर्शन दिया

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
नवापारा-राजिम, 14 दिसंबर।
रोजगार कार्यालय ने शुक्रवार को शासकीय महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को व्यवसायिक मार्गदर्शन दिया। उपसंचालक डॉ. शशिकला अतुलकर ने विद्यार्थियों को कॉलेज की नियमित शिक्षा के अलावा रोजगार मूलक कार्यक्रमों की शिक्षा के साथ इसका अनुभव लेने को कहा। डिजिटल प्रोजेक्टर से उन्होंने अपने व्याख्यान के साथ विभिन्न संकायों के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को स्नातक के बाद उच्च शिक्षा के अवसर, विभिन्न सरकारी और निजी क्षेत्र में नौकरी के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की जानकारी देते हुए स्वरोजगार के संबंध में बताया। प्राचार्य डॉ. किरण गजपाल ने छात्र-छात्राओं को अपना लक्ष्य हमेशा ऊंचा रखने के लिए प्रोत्साहित किया। अनेक विद्यार्थियों ने अपनी शंकाओं और जिज्ञासा का समाधान भी पाया। कार्यक्रम का संचालन एसआर वड्डे और आभार डॉ. मधुरानी शुक्ला ने व्यक्त किया।

 

 


Date : 14-Dec-2019

स्वयंसेवकों ने प्रभातफेरी निकालकर ग्रामीणों को जागरूक किया, बौद्धिक परिचर्चा सत्र में ग्रामीणों और शिविरार्थियों ने युवाओं को इससे जुडऩे प्रेरित करने के लिए गांव के जनप्रतिनिधियों को प्रेरित किया

नवापारा-राजिम, 14 दिसंबर। पिपरौद में चल रहे फूलचंद अग्रवाल स्मृति कॉलेज के सात दिवसीय रासेयो शिविर के दूसरे दिन शुक्रवार को स्वयंसेवकों ने प्रभातफेरी निकालकर ग्रामीणों को जागरूक किया। बीएड विभाग से हेमलता साहू, लोमश साहू, तरुण साहू, विजय सिंह राजपूत के नेतृत्व में 30 बच्चों के दल ने होने वाले पंचायत चुनाव में ग्रामीणों जागरूक करने अभियान के लिए मंचीय कार्यक्रम आयोजित किया। 

बौद्धिक परिचर्चा सत्र में ग्रामीणों और शिविरार्थियों ने राजभाषा का जनमानस पर प्रभाव विशेषकर युवाओं को इससे जुडऩे प्रेरित करने के लिए गांव के जनप्रतिनिधियों को प्रेरित किया। इसमें विभागाध्यक्ष समाजशास्त्र डॉ. सीएल साहू, हिंदी विभाग के डॉ. आर श्रीवास, राजनीति विभागाध्यक्ष डॉ. पीबी निर्मलकर ने भाग लिया। 

संध्याकालीन कार्यक्रम में दीपेश यादव, प्रियंका, धनेश्वरी, तुकेश, भेषकुमार देवांगन, योगिता, होमेश्वरी, तारणी मलिना, किरण यादव, यामिनी, दिनेश, मीना, दिव्या, नंदकुमार, मुलचंद, शेषनारायण अभिजीत श्रीवास आदि ने मनोरंजक गीत-संगीत, नाटक, छत्तीसगढ़ी नृत्य कर ग्रामीणों का मनोरंजन किया। शिविर का संचालन कार्यक्रम अधिकारी आरके रजक, सूरज प्रकाश सिन्हा एवं देवव्रत की उपस्थिति में किया गया।

पानी निकासी के लिए नालियों की सफाई 
परियोजना कार्य के तहत उप स्वास्थ्य केंद्र से लेकर ग्राम पिपरौद के प्रमुख मंच को व्यवस्थित करते हुए उबड़-खाबड़ जमीन को समतल किया। जगह-जगह ठहरे हुए गंदे पानी की निकासी के लिए नालियों से सफाई शुरू की गई। अपशिष्ट एवं खरपतवार को एकत्र कर नष्ट किया गया।

 


Date : 14-Dec-2019

धान खरीदी में सरकार के नए-नए फरमान से किसान परेशान- चंद्राकर

नवापारा-राजिम, 14 दिसंबर। भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष युधिष्ठिर चन्द्राकर ने छत्तीसगढ़ संवाददाता से चर्चा कर किसानों के धान खरीदी में सरकार के बार-बार नए फरमान, पंजीयन रकबा को कम करने को लेकर किसान काफी परेशान व चिंतित हैं। जबकि कंाग्रेस सरकार गंगा जल की कसम खाकर सत्ता में आई थी और किसानों का एक एक दाना धान खरीदने का वादा किया था। 

वहीं किसानों का पंजीकृत रकबा कम कर दिया गया। जैसे कि 22 एकड़ किसान का रकबा 90 डिसमिल हो गया। सरकार के इस वादाखिलाफी रवैये से किसान काफी परेशान हैं। जबकि पिछले साल जब भाजपा की सरकार थी तो काफी व्यवस्थित तरीके से धान की खरीदी होती थी। किसानों को गंाव में कोठार एवं कोठी की व्यवस्था की जरूरत नहीं पड़ती थी। किसान हार्वेस्टर से मिंजाई कर सीधे सोसायटियों में ले जाकर अपना धान बेच देते थे। 

श्री चन्द्राकर ने कहा कि पहले छग में यह भी व्यवस्था थी कि छोटे-छोटे गल्ला व किराने की दुकानों में गरीब जाकर अपना कुछ धान अपनी जरूरत के अनुसार बेचकर अपनी जरूरत के सामान खरीद लेते थे। मगर आज स्थिति यह है कि छोटे-छोटे किराना दुकानों में छापा मार रहे हैं कि कहीं किराना दुकानदार धान खरीदी तो नहीं कर रहे हैं। किसानों की यह स्थिति है कि वह दवा तक के लिए भी धान नहीं बेच पा रहे हैं। किसान अपने आपको इस सरकार के सामने भयभीत महसूस कर रही हैं । सरकार के इस कार्य से ऐसा लग रहा है मानों किसान गांजा, अफीम का धंधा कर रहे हों। 

श्री चन्द्राकर ने कहा कि सहकारी समितियों के कर्मचारी भी सरकार के इस बेबुनियाद आदेश से परेशान हैं। किसानों की समस्याओं का सामना करने मुख्यमंत्री, मंत्री या कलेक्टर सामने नहीं आता बल्कि सहकारी समिति के छोटे कर्मचारी किसानों के सामने खड़े रहते हैं और लाचार किसानों के आक्रोश का सामना इन कर्मचारियों को करना पड़ता है। 


Date : 13-Dec-2019

रायपुर संभाग के कमिश्नर ने जिले के सात धान उपार्जन केन्द्रों का औचक निरीक्षण, 15 फरवरी तक सभी किसानों का धान खरीदने संकल्पित

छत्तीसगढ़ संवाददाता
मैनपुर, 13 दिसंबर।
रायपुर संभाग के कमिश्नर जी.आर चुरेन्द्र ने गुरुवार को जिले के सात धान उपार्जन केन्द्रों का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने ग्राम कोपरा, पाण्डुका, पोंड, गरियाबंद, बिन्द्रानवागढ़, धवलपुर, मैनपुर और जिडार उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी का जायजा लेते हुए धान स्टैगिंग और बारदानों में स्टैम्पिंग का अवलोकन कर किसानों से रू-ब-रू चर्चा कर खरीदी और भुगतान के संबंध में जानकारी ली। इस  दौरान कलेक्टर  श्याम धावड़े एवं एसडीएम जे.आर चौरसिया भी मौजूद थे। 

निरीक्षण करते हुए श्री चुरेन्द्र ने कहा कि उपार्जन केन्द्रों को साफ-सुथरा रखने के लिए सफाई आवश्यक है। इसके लिए समिति के सदस्य,अधिकारी-कर्मचारी मिलकर सप्ताह में एक दिन श्रमदान करें। इससे जमीन में हुंडी बनाते समय धूल और रेत से निजात मिलेगी। उन्होंने उपस्थित किसानों से भी श्रमदान करने अपील की। 

पाण्डुका में कमिश्नर एवं कलेक्टर द्वारा मॉस्चर मशीन से धान की नमी मापी गई। उन्होंने केन्द्र प्रभारी को शासन के निर्देशानुसार उपार्जन केन्द्रों में  15 ग् 12 के अनुपात में अथवा उपलब्ध स्थानों के आधार पर धान का स्टैगिंग कराने के निर्देश दिये। 

कमिश्नर श्री चुरेन्द्र ने पोंड में कहा कि नोडल अधिकारी उपार्जन केन्द्रों में सतत् निगरानी करे और किसानों की समस्या का समाधान करें। उन्होंने किसानों से अपील की कि वे किसी प्रकार की अफवाह में ध्यान न देवे। उपार्जन केन्द्रों में व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए राज्य शासन द्वारा 15 फरवरी तक सभी किसानों का धान खरीदा जाएगा। उन्होंने कहा कि समिति लक्ष्य के अनुरूप अपने खरीदी की लिमिट बढ़ा सकती है। किसानों को यह भी कहा कि वे अपने स्वयं की ऋण पुस्तिका धान बिक्री हेतु किसी अन्य अवांच्छित व्यक्ति को उपलब्ध न करावे। इस दौरान केन्द्र के नोडल अधिकारी जिला कोषालय अधिकारी के.के. दुबे मौजूद थे। 

श्री चुरेन्द्र ने एसडीएम जे.आर. चौरसिया एवं तहसीलदार को निर्देशित किया कि गांव में ऐसे किसानों की सूची बनाये जाये जो औसत से ज्यादा धान उपार्जन करते हैं। उन्हें जन चौपाल के माध्यम से समझाईश दी जाये कि प्रति एकड़ 15 क्विंटल से अधिक उत्पादन होने पर मंडी या राइस मिल में धान विक्रय किया जाये। 

गरियाबंद कृषि उपज मंडी में निरीक्षण के दौरान कहा कि अनुविभागीय अधिकारी संबंधित विभागों, व्यापारी, किसानों तथा समिति के सदस्यों के साथ बैठक कर छुरा एवं गरियाबंद कृषि उपज मंडी में आगामी शनिवार से धान खरीदी प्रारंभ करने के लिए सहमति बनाए। उन्होंने यह भी कहा कि व्यापारी सौदा प्रत्रक के माध्यम से मंडी या राइस मिल में धान बेचे। कमिश्नर द्वारा शाम को मैनपुर एवं जिडार केन्द्रों का भी निरीक्षण किया गया। इस दौरान कृषि विभाग के सयुक्त संचालक श्री गयाराम एवं सीएमएचओ डॉ. नवरत्न मौजूद थे।

उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदने की लिमिट को शिथिल करने के निर्णय से किसान खुश दिखाई दिये। ग्राम पोण्ड में धान विक्रय करने आये किसान नारद राम साहू और मनोहर साहू ने कहा कि अब इस निर्णय से किसानों में उहापोह की स्थिति समाप्त हो गई है और अब हम धान निश्चिंतता से विक्रय करेंगे।


Date : 13-Dec-2019

समाज लगातार विकास के पथ पर आगे है और आज राजनीति समाजिक सभी क्षेत्रों में इस समाज का विशेष योगदान देखने को मिल रहा है- शिशुपाल 

यादव समाज सम्मेलन में शामिल होने कांकेर विधायक मैनपुर पहुंचे
छत्तीसगढ़ संवाददाता
मैनपुर, 13 दिसंबर।
सर्व यादव समाज मैनपुर क्षेत्र के द्वारा गुरुवार को दीपावली मातर एवं वार्षिक मिलन समारोह का आयोजन वन विभाग मैदान मैनपुर में किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि कांकेर के विधायक शिशुपाल सोरी, अध्यक्षता सर्व यादव समाज के छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष रमेश यदु, विशेष अतिथि वरिष्ठ कांग्रेस नेता संजय नेताम, जिला पंचायत सभापति लोकेश्वरी नेताम, यशवंत यादव, ग्राम पंचायत मैनपुर सरपंच कस्तूरा बाई नायक, सुनील यादव, जयमल यादव, केनूराम यादव, भाजपा मंडल अध्यक्ष दुलार सिन्हा विशेष रूप से उपस्थित थे।
 कांकेर के विधायक एवं गोंड़ महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिशुपाल सोरी ने कहा कि यादव समाज लगातार विकास के पथ पर आगे है और आज राजनीति समाजिक सभी क्षेत्रों में इस समाज का विशेष योगदान देखने को मिल रहा है। 

उन्होंने आगे कहा कि इस तरह के सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रम के आयोजन से समाज में जहां एकता स्थापित होती है, वहीं समाज के लोगों को एक जगह एक दूसरे से मेल मुलाकात का अवसर मिलता है। श्री सोरी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भूपेश सरकार सभी वर्गों के विकास और उत्थान के लिये अनेक योजनाएं बनाकर कार्य कर रही है।
सर्व यादव समाज छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष रमेश यदु ने मंच के माध्यम से छत्तीसगढ़ सरकार से मांग की कि समाज के विधायकों को मंत्री मंडल व आयोग में स्थान दिया जाए, जिससे समाज तेजी से विकास की दिशा में अग्रसर हो सके। 

विशेष अतिथि वरिष्ठ कांग्रेस नेता संजय नेताम ने कहा कि यादव समाज की गौरवशाली परंपरा व इतिहास है। यादव समाज शुरू से गौरक्षा के क्षेत्र में जो उल्लेखनीय कार्य कर रही है उसकी जितनी भी प्रशंसा किया जाये कम है। राउत नाचा और शोभा यात्रा मुख्य आकर्षण का केन्द्र बने रहे।  इस मौके पर प्रमुख रूप से बनसिंह सोरी, हिमांशु रामटेके, गोवर्धन उत्सव समिति अध्यक्ष दीपक यादव, सुरेश यादव, कमल यादव, चेतन यादव, नरेश यादव, गयाराम यादव, घनश्याम यादव, सदाराम यादव, खामसिंह यादव, बिसाहू राम यादव, रघुवर यादव, मनराखन यादव, मनाराम यादव, सुकराम यादव, गजेन्द्र यादव, आशाराम यादव, मोहन यादव, लखन यादव, रामसिंह, टिकम सहित सैकड़ों की संख्या में पूरे गरियाबंद जिले से यादव समाज के लोग उपस्थित थे। 


Date : 13-Dec-2019

धान स्टैगिंग और बारदानों में स्टैम्पिंग कराने का जिम्मा अफसरों को, अधिकारी किसानों को यह भी अवगत कराये कि वे अपने स्वयं की ऋण पुस्तिका धान बिक्री हेतु किसी अन्य अवांच्छित व्यक्ति को उपलब्ध न करावे

छत्तीसगढ़ संवाददाता 

गरियाबंद, 13 दिसंबर। कलेक्टर श्याम धावड़े ने जिले के सभी धान उपार्जन केन्द्रों में धान स्टैगिंग और बारदानों में स्टैम्पिंग कराने की जिम्मेदारी जिला अधिकारियों को समय सीमा की बैठक में सौंपी। उन्होंने कहा कि बारदाना पंजी का अवलोकन व जांच भी किया जाए। उन्होंने उक्त कार्य आगामी तीन दिनों के भीतर करा लेने के निर्देश दिये हैं।

कलेक्टर ने कहा कि नोडल अधिकारी उपार्जन केन्द्रों में आने वाले किसानों को यह समझाईश देवे कि वे किसी प्रकार की अफवाह में ध्यान न देवे। उपार्जन केन्द्रों में व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार 15 फरवरी तक सभी किसानों का धान खरीदेगी। कलेक्टर श्री धावड़े अधिकारियों की समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में उक्त आशय के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अधिकारी किसानों को यह भी अवगत कराये कि वे अपने स्वयं की ऋण पुस्तिका धान बिक्री हेतु किसी अन्य अवांच्छित व्यक्ति को उपलब्ध न करावे। यदि किसान के ऋण पुस्तिका से कोई दूसरे व्यक्ति धान बिक्री करते पाये जाने पर संबंधित किसान आगामी वर्ष धान बिक्री के लिए अपात्र माने जा सकते हैं। कलेक्टर ने जन चौपाल से संबंधित लंबित आवेदनों को प्राथमिकता के साथ समयावधि में निराकृत करने कहा।

उन्होंने जनपद पंचायत के सीईओ को रोजगार गारंटी कार्यो में मजदूरों की संख्या बढ़ाने और सभी स्वीकृत कार्य शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिये। साथ ही गौठानों में पशुओं के लिए किसानों से पैरा दान कराने पर भी जोर देने कहा।

 

 

 

 

 

 


Date : 13-Dec-2019

कलेक्टर ने धान उपार्जन केन्द्रों में धान स्टैगिंग और बारदानों में स्टैम्पिंग कराने का जिम्मा अफसरों को सौंपा, उक्त कार्य आगामी तीन दिनों के भीतर करा लेने के निर्देश दिये

छत्तीसगढ़ संवाददाता  
गरियाबंद, 13 दिसंबर।
कलेक्टर श्याम धावड़े ने जिले के सभी धान उपार्जन केन्द्रों में धान स्टैगिंग और बारदानों में स्टैम्पिंग कराने की जिम्मेदारी जिला अधिकारियों को समय सीमा की बैठक में सौंपी। उन्होंने कहा कि बारदाना पंजी का अवलोकन व जांच भी किया जाए। उन्होंने उक्त कार्य आगामी तीन दिनों के भीतर करा लेने के निर्देश दिये हैं।

कलेक्टर ने कहा कि नोडल अधिकारी उपार्जन केन्द्रों में आने वाले किसानों को यह समझाईश देवे कि वे किसी प्रकार की अफवाह में ध्यान न देवे। उपार्जन केन्द्रों में व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार 15 फरवरी तक सभी किसानों का धान खरीदेगी। कलेक्टर श्री धावड़े अधिकारियों की समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में उक्त आशय के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अधिकारी किसानों को यह भी अवगत कराये कि वे अपने स्वयं की ऋण पुस्तिका धान बिक्री हेतु किसी अन्य अवांच्छित व्यक्ति को उपलब्ध न करावे। यदि किसान के ऋण पुस्तिका से कोई दूसरे व्यक्ति धान बिक्री करते पाये जाने पर संबंधित किसान आगामी वर्ष धान बिक्री के लिए अपात्र माने जा सकते हैं। कलेक्टर ने जन चौपाल से संबंधित लंबित आवेदनों को प्राथमिकता के साथ समयावधि में निराकृत करने कहा। 

उन्होंने जनपद पंचायत के सीईओ को रोजगार गारंटी कार्यो में मजदूरों की संख्या बढ़ाने और सभी स्वीकृत कार्य शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिये। साथ ही गौठानों में पशुओं के लिए किसानों से पैरा दान कराने पर भी जोर देने कहा। 

 


Date : 13-Dec-2019

कमिश्नर ने जिले के सात धान उपार्जन केन्द्रों का औचक निरीक्षण किया, उपार्जन केन्द्रों में  15 व 12 के अनुपात में अथवा स्थानों के आधार पर धान का स्टैगिंग कराने के निर्देश दिये

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
गरियाबंद, 13 दिसंबर।
रायपुर संभाग के कमिश्नर जी.आर चुरेन्द्र ने गुरुवार को जिले के सात धान उपार्जन केन्द्रों का औचक निरीक्षण किया। ग्राम कोपरा,पाण्डुका,पोंड,गरियाबंद, बिन्द्रानवागढ़, धवलपुर, मैनपुर और जिडार उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी का जायजा लेते हुए धान स्टैगिंग और बारदानों में स्टैम्पिंग का अवलोकन कर किसानों से रू-ब-रू चर्चा कर खरीदी और भुगतान के संबंध में जानकारी ली। इस  दौरान कलेक्टर  श्याम धावड़े एवं एसडीएम  जे.आर चैरसिया भी मौजूद थे। 

निरीक्षण करते हुए श्री चुरेन्द्र ने कहा कि उपार्जन केन्द्रों को साफ-सुथरा रखने के लिए सफाई आवश्यक है। इसके लिए समिति के सदस्य,अधिकारी-कर्मचारी मिलकर सप्ताह में एक दिन श्रमदान करें। इससे जमीन में हुंडी बनाते समय धूल और रेत से निजात मिलेगी। उन्होंने उपस्थित किसानों से भी श्रमदान करने अपील किया। 

पाण्डुका में कमिश्नर एवं कलेक्टर द्वारा मॉस्चर मशीन से धान की नमी मापी गई। उन्होंने केन्द्र प्रभारी को शासन के निर्देशानुसार उपार्जन केन्द्रों में  15 ग् 12 के अनुपात में अथवा उपलब्ध स्थानों के आधार पर धान का स्टैगिंग कराने के निर्देश दिये। 

कमिश्नर श्री चुरेन्द्र ने  पोंड में कहा कि नोडल अधिकारी उपार्जन केन्द्रों में सतत् निगरानी करे और किसानों की समस्या का समाधान करें। उन्होंने किसानों से अपील किया कि वे किसी प्रकार की अफवाह में ध्यान न देवे। 

उपार्जन केन्द्रों में व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए राज्य शासन द्वारा 15 फरवरी तक सभी किसानों का धान खरीदा जाएगा। उन्होंने कहा कि समिति लक्ष्य के अनुरूप अपने खरीदी की लिमिट बढ़ा सकती है। किसानों को यह भी कहा कि वे अपने स्वयं की ऋण पुस्तिका धान बिक्री हेतु किसी अन्य अवांच्छित व्यक्ति को उपलब्ध न करावे। इस दौरान केन्द्र के नोडल अधिकारी जिला कोषालय अधिकारी के.के. दूबे मौजूद थे। 

श्री चुरेन्द्र ने एसडीएम जे.आर. चैरसिया एवं तहसीलदार को निर्देशित किया कि गांव में  ऐसे  किसानों की सूची बनाये जाये जो औसत से ज्यादा धान उपार्जन करते है। उन्हें जन चैपाल के माध्यम से समझाईश दी जाये कि प्रति एकड़ 15 क्विंटल से अधिक उत्पादन होने पर मंडी या राइस मिल में धान विक्रय किया जाये। 

गरियाबंद कृषि उपज मंडी में निरीक्षण के दौरान कहा कि अनुविभागीय अधिकारी संबंधित विभागों, व्यापारी, किसानो तथा समिति के सदस्यों के साथ बैठक कर छुरा एवं गरियाबंद कृषि उपज मंडी में आगामी शनिवार से धान खरीदी प्रारंभ करने के लिए सहमति बनाए। उन्होंने यह भी कहा कि व्यापारी सौदा प्रत्रक के माध्यम से मंडी या राइस मिल में धान बेचे। कमिश्नर द्वारा शाम को मैनपुर एवं जिडार केन्द्रों का भी निरीक्षण किया गया। इस दौरान कृषि विभाग के सयुक्त संचालक श्री गयाराम एवं सी.एम.एच.ओ. डॉ नवरत्न मौजूद थे।


Date : 13-Dec-2019

दूसरी कक्षा में पढऩे वाली बालिका के साथ छेडख़ानी करने वाले आरोपी के विरुद्ध पुलिस ने अपराध दर्ज कर गिरफ्तार किया 

राजिम, 13 दिसंबर। दूसरी कक्षा में पढऩे वाली बालिका के साथ  छेडख़ानी करने वाले आरोपी के विरुद्ध राजिम पुलिस ने अपराध दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है।बालिका का पिता मंगलवार रात उसके भाई और उसे, परिचित के यहाँ छोडक़र नाईट ड्यूटी करने गया हुआ था। इसी बीच रात में आरोपी निर्मल टंडन घर में घुस गया और बालिका के साथ छेडख़ानी की। घटना से बेहद डरी बालिका ने बुधवार दिनभर इसकी जानकारी किसी को नहीं दी। स्कूल में भी वह काफी सहमी रही। शाम को उसकी स्थिति को देखकर जब पिता ने कारण पूछा तो रोते-रोते उसने आपबीती सुनाई। इसके बाद देर शाम बालिका का पिता, उसे और ग्रामवासियों के साथ थाना पहुंचा और आरोपी के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करवाई। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर गरियाबंद जेल भेज दिया है।

 

 

 


Date : 13-Dec-2019

दशनाम गोस्वामी समाज ने आराध्य देव भगवान दत्तात्रेय की जयंती मंदिर में मनाई, दत्तात्रेय जयंती पर प्रतिभाओं का सम्मान

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
राजिम, 13 दिसंबर।
दशनाम गोस्वामी समाज ने आराध्य देव भगवान दत्तात्रेय की जयंती बुधवार को दत्तात्रेय मंदिर में मनाई। इस अवसर पर सत्यनारायण की कथा हुई। भगवान दत्तात्रेय की प्रतिमा को वस्त्र, आभूषणों से सजाया गया था। दर्शन-पूजन करने दिनभर मंदिर में श्रद्धालुओं का ताता लगा रहा। दोपहर 12 बजे मंदिर से शोभायात्रा निकाली गई। समाज के लोग भगवा झंडा लिए भगवान दत्तात्रेय का जयकारा लगाते मंदिर से शोभायात्रा निकाली, जो बस स्टैंड से वापस मंदिर में समाप्त हुई। 

यहां समाज का प्रांतीय सम्मेलन हुआ। इसमें मानस मर्मज्ञ अर्जुन पुरी गोस्वामी ने भगवान दत्तात्रेय की जीवन गाथा का वर्णन करते कहा कि मानव जीवन की नींव चरित्र है। गुरु परंपरा के साधक हैं। उन्होंने कहा मानव को कर्मों के आधार पर उसी वर्ण में जीवन मिलता है। मानव को चरित्र बनाने की जरूरत है। यही मानव की नींव है। कार्यक्रम में प्रीतम गिरी, वीरेंद्र पुरी, रामकुमार पुरी, दिनेश पुरी, सुधीरबन, राजेंद्र पुरी, कुबेर गिरी, कृष्णा भारती, कामेश्वर पुरी, खुमान पुरी, मोहन पुरी, श्याम गिरी, वीरेंद्र पुरी, अशोक गिरी, दामोदर पुरी, ओंकार पुरी, दीनदयाल पुरी, रोशनी गोस्वामी, मोहिनी गोस्वामी, पुष्पा गोस्वामी, अर्चना गोस्वामी, सारिका गोस्वामी, मंजू गोस्वामी, मीना गोस्वामी, भूपेंद्र पुरी, संजय पुरी, लीलार पुरी सहित प्रदेशभर से समाज के लोग पहुंचे थे।

महंत हर भूषण गिरि ने कहा कि इस तरह के आयोजन से समाज संगठित होता है। स्वागत भाषण समाज के प्रदेश अध्यक्ष उमेश भारती ने दिया। इस अवसर पर पिपरह_ा की शिक्षिका मोहिनी गोस्वामी को शिक्षा दूत अलंकरण के लिए, चित्रकारी के लिए अंशुल पूरी को तथा दसवीं बोर्ड में मेरिट के लिए विनय पुरी को सम्मानित किया गया। गायन के क्षेत्र में सृष्टि गोस्वामी को प्रशस्तिपत्र देकर सम्मानित किया गया। 

 

 


Date : 12-Dec-2019

संयुक्त संचालक ने ली प्राचार्यों की बैठक, उन्होंने कहा शासन की योजना नरवा, गरवा, घुरवा, बारी योजना के तहत विद्यालय परिसर में बाड़ी लगाकर हरी सब्जी, धनिया, मेथी, मिर्च, मूली आदि लगाएं

राजिम/फिंगेश्वर, 12 दिसंबर। बीईओ कार्यालय फिंगेश्वर में संयुक्त संचालक एसके भारद्वाज ने फिंगेश्वर ब्लॉक के प्राचार्यों की बैठक ली। संयुक्त संचालक भारद्वाज ने 10वीं, 12वीं का परीक्षा परिणाम कैसे अच्छा आएगा, इसकी तैयारी में जुटने एवं बच्चों के भविष्य निर्माण पर जोर देने की बात कही। उन्होंने कहा शासन की योजना नरवा, गरवा, घुरवा, बारी योजना के तहत विद्यालय परिसर में बाड़ी लगाकर हरी सब्जी, धनिया, मेथी, मिर्च, मूली आदि लगाएं। अच्छी गार्डनिंग के लिए छात्र-छात्राओं का मनोबल बढ़ाने उन्हें पुरस्कृत करें। छात्रों की उपस्थिति टीम्स एप में जरूर करें। बीईओ एमएल कंवर ने बैठक के एजेंडों पर चर्चा करते हुए कहा कि सभी शालाओं के छात्रवृत्ति, जाति प्रमाणपत्र, अद्र्धवार्षिक परीक्षा, जनवरी 2020 में संविलियन, दिव्यांग छात्र-छात्राओं, क्रीड़ा, स्काउट, रेडक्रास की अंशदान राशि, के बारे में जानकारी दी।

इस अवसर पर सहायक विकासखंड शिक्षाधिकारी डीके बहल, विकासखंड स्रोत समन्वयक चंद्रशेखर मिश्रा, प्राचार्य एसएस कंवर, केएस कंवर, प्रफुल्ल दुबे, जीआर जेन्द्रे, वर्षा नेताम, रंभा धु्रव, एमआर रात्रे, कमल पांडे, डीएल धु्रव, पूरन लाल साहू, नारायण निषाद, डीएन नाग, चैतन्य यदु, नरेंद्र यदु, केएल कंवर, खुमान सिंह धु्रव, डीके सेवई, गुलाब देशमुख आदि उपस्थित थे।


Date : 12-Dec-2019

शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला बिजली में मानवाधिकार दिवस मनाया, शुभारंभ शिक्षकों द्वारा माँ सरस्वती के पूजा अर्चना के साथ किया

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
राजिम, 12 दिसंबर।
शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला बिजली में मानवाधिकार दिवस मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ शाला के शिक्षकों द्वारा माँ सरस्वती के पूजा अर्चना के साथ किया। पश्चात छात्र छात्राओं द्वारा राजकीय गीत अरपा पैरी के धार गाया गया। इस अवसर पर छात्र छात्राओं द्वारा मानव श्रृंखला बनाई गई जहाँ पर संस्था के प्राचार्य पूरन लाल साहू ने मानवाधिकार की शपथ दिलाते हुए कहा कि मानवाधिकार से तात्पर्य उन सभी अधिकारों से है जो व्यक्ति के जीवन में स्वतंत्रता, समानता एवं प्रतिष्ठा से जुड़े हुए है। मानव अधिकार ऐसे अधिकार है जिनका प्रत्येक व्यक्ति अपने जन्म और राष्ट्रीयता के आधार पर हकदार होता है। इन्हें नैतिक सिद्धांत भी कहा जाता है। इस अवसर पर दिनेश कुमार साहू, विनय कुमार साहू, गीतांजली नेताम, शशि ठाकुर व छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

 

 


Date : 12-Dec-2019

धान उपार्जन केन्द्रों के सतत निगरानी एवं मॉनिटरिंग करने जोनल अधिकारियों की नियुक्ति, अधिकारी टीम के साथ सुहागपुर खरीदी केंद्र पहुंच किसानों के धान व ऋण पुस्तिका की जांच

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
गरियाबन्द, 12 दिसंबर।
धान उपार्जन केन्द्रों के सतत निगरानी एवं मॉनिटरिंग करने के लिए जोनल अधिकारियों की नियुक्तियों के अनुसार गुरुवार को जोनल अधिकारी सहायक भू-अभिलेख अधिकारी ख्याति कवर टीम के साथ सुहागपुर धान उपार्जन केंद्र पहुँच किसानों द्वारा लाये गए धान व ऋण पुस्तिका चेक किया गया 

उन्होंने निर्देश दिया कि सभी धान उपार्जन केन्द्रों में बारदाना पंजी में बारदाना प्राप्ति एवं वितरण का मिलान करेंगे, साथ ही धान के भरे बोरा में प्रिंटेट साइड में स्टैसिंल लगाने तथा दूसरे साइड खाली रखने, उपार्जित धान को व्यवस्थित रूप से स्टैगिंग के अनुरूप स्टैक लगाये जाने तथा उपार्जन केन्द्र स्थल की भौगोलिक क्षेत्र के आधार पर विवेकपूर्ण एवं गणना योग्य धान को व्यवस्थित रखे जाने के लिए मंडी प्रभारी को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

 

 


Date : 12-Dec-2019

बुजुर्ग महिला को नहीं मिला पीएम आवास, जर्जर झोपड़ी में रहने मजबूर, कई बार दे चुकी हैं आवेदन, प्रस्ताव बनाकर भेजा जा चुका है- सचिव

छत्तीसगढ़ संवाददाता
मैनपुर, 12 दिसंबर।
विकासखंड मुख्यालय मैनपुर से लगभग 18  किमी की दूरी पर नेशनल हाईवे मुख्य मार्ग में बसा गांव तौरेगा में विशेष पिछड़ी जनजाति भुंजिया परिवार की 75 वर्षीय उम्र दराज बुजुर्ग महिला फिरन्तीन बाई भूंजिया पॉलीथीन से ढकी झोपड़ी में रहने मजबूर है।

प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ जरूरतमंदो को मिल सके इसके लिये लगातार दिशा निर्देश दिए जा रहे हैं। इसका लाभ जिन हितग्राहियों को मिलना चाहिए उन्हें नहीं मिल पा रहा है, फलस्वरूप हितग्राहियों को टूटी-फूटी जर्जर झोपड़ी में रहना पड़ रहा है।

आजीविका का कोई साधन नहीं होने के कारण बुजुर्ग महिला केवल पेंशन के सहारे ही जीवन यापन कर रही है। आर्थिक स्थिति इतना ज्यादा खराब है कि वह अपनी झोपड़ी की मरम्मत भी नहीं करा सकती। झोपड़ी के क्षतिग्रस्त होने से मुश्किलों के बीच कडक़ड़ती ठंड में रात गुजारने मजबूर है। 

बुजुर्ग महिला ने बताया की इस उम्र में सहारा देने वाले मेरे परिवार में कोई नहीं है। सरकार की तरफ से 350 रूपये पेंशन दिया जा रहा है लेकिन दीपावली के बाद से अभी तक पेंशन की राशि नहीं मिल पाई है। गुजर-बसर करने में बहुत परेशानी होने लगी है। महिला ने बताया कि कड़ाके की ठंड में बिना मकान के मजबूरी में झोपड़ी में रहती हूं, जहां विषैले कीट, सांप, बिच्छू का डर बना रहता है।

पक्का मकान बनाने के लिए ग्राम पंचायत से लेकर जनपद पंचायत तक के जिम्मेदारों को आवेदन और निवेदन करते हुए बरसों बीत गई लेकिन मकान नहीं मिल पाया है।
अपनी झोपड़ी को दिखाते हुए महिला ने बताया कि कई बार ग्राम पंचायत के सरपंच-सचिव से प्रधानमंत्री आवास की मांग कर चुकी हैं, लेकिन अब तक कोई ध्यान नहीं दिया गया है। पॉलिथीन के सहारे बरसात व धूप से बचती हूं। 

ग्राम पंचायत तौरेंगा के सचिव प्रेमलाल धु्रव ने बताया कि फिरन्तीन बाई के नाम पर जमीन होने के कारण उन्हें आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया है, लेकिन प्रस्ताव बनाकर भेजा जा चुका है। नवंबर माह तक पेंशन की राशि उनके बैंक खाता में जमा हो चुकी है।


Date : 11-Dec-2019

मैनपुर-देवभोग एनएच नेशनल हाइवे की हालत बेहद खराब, बढ़े हादसे, जनता चौड़ीकरण की मांग कर रहे 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
मैनपुर, 11 दिसंबर।
मैनपुर देवभोग मुख्य नेशनल हाइवे की हालत बेहद खराब होती जा रही है जिसके चलते यहां दुर्घटनाएं बढ़ गई है। क्षेत्र की जनता लंबे समय से इस सडक़ के चौड़ीकरण की मांग करते आ रही है।

ज्ञात हो कि मैनपुर देवभोग नेशनल हाइवे एक ऐसा मार्ग है जो ओडिशा राज्य को सीधे जोड़ता है और शासन ने इसे नेशनल हाइवे 130 सी भी घोषित किया है। नेशनल हाइवे घोषित होने के बाद इस सडक़ की सुध लेने वाला कोई भी नजर नहीं आता। और तो और उस विभाग के अधिकारी भी क्षेत्र में दिखाई नहीं देते, जिसके चलते सडक़ की हालत दिन ब दिन खराब होती जा रही है। सडक़ में बीचों बीच दरारें व गड्ढे होते जा रहे हैं, नेशनल हाईवे 130 सी मैनपुर देवभोग मार्ग में जगह जगह गड्ढे व सडक़ किनारे पटरिया गायब हो जाने से दुर्घटनाओं में इजाफा हुआ है ।

पिछले 35 महीनों में हुई 794 सडक़ दुर्घटना में 230 ने जान गवाई, 1102 घायल हुए। हर साल 30 से 40 फीसदी सडक़ दुर्घटना नेशनल हाइवे में हुई, पर एनएच के अफसर ने कहा कोई ब्लेक स्पॉट नहीं।

तीन दिन पूर्व नेशनल हाइवे में इंदागाव के पास हुई सडक़ दुर्घटना के साथ 2019 में नेशनल हाइवे पर मरने वालों की संख्या 25 हो गई है। पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक चालू वर्ष 2019 में अब तक 243 सडक़ दुर्घटनाएं हुई हैं, जिसमें 77 लोगों ने जान गवाई है। 2018  में 297 घटना में 78  की जान गई व 418  घायल हुए। इसी तरह 2017 में 254 दुर्घटना में 75 की जान गई है और 343 घायल हुए है। आंकड़ों के मुताबिक पिछले तीन वर्षों से लगातार नेशनल हाइवे में हादसे के 30 से 40 फीसदी है। मामले में जहां नेशनल हाइवे के रायपुर उपसंभाग-1 के एसडीओ ए के श्रीवास्तव ने मौतों के आंकड़े को नकारते हुए कहा कि नेशनल हाइवे में कोई भी ब्लेक स्पॉट चिन्हाकित नहीं है, जिसके लिए कोई सुधार की आवश्यकता हो।

एएसपी सुखनंदन राठौर ने कहा कि नेशनल हाइवे में 30 से 40 फीसदी दुर्घटना के अलावा अंदरूनी सडक़ों में भी घटना हुई है। सडक़ सुरक्षा समिति की बैठक के माध्यम से हादसे कमी के सुझाव लेने के अलावा जनजागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं। हादसे खराब सडक़ों के अलावा तेज रफ्तार से चलने के कारण भी होते हैं। दुर्घटना स्थल को चिन्हाकित कर आवश्यक सावधानियां बरतने के उपाय के लिये संबंधित विभागों को पत्राचार भी किया जाता है। 

एनएच के दोनों छोर बहाव के कारण गहरे 
2015 के बाद से देवभोग झरियबहारा मार्ग 75 किमी को लोक निर्माण विभाग ने नेशनल हाइवे अथार्टी को सडक़ सुपुर्द कर दिया है। तब से सडक़ मरम्मत के अलावा साइड सोल्डर के मेन्टेन्स नहीं हो रहा है। बारिश के दिनों में सडक़ों के दोनो छोर जिसे सोल्डर कहते है, बहाव के कारण गहरे हो गए हैं। सडक़ व सोल्डर में 1 से डेढ़ फीट का अंतर नजर आने लगा है। छोटे कार व दुपहिया, बड़े वाहनों को साइड देते वक्त इन सोल्डरों से उतरने चढऩे में अनियंत्रित हो कर दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं।  विभाग के एसडीओ ए के श्रीवास्तव ने कहा कि झरियाबहारा से देवभोग ओडिशा सीमा तक सोल्डर रिपेयर के लिए 50 लाख की मंजूरी मिली है। टेंडर प्रक्रिया चल रहा है जल्द ही मरम्मत किया जाएगा। 

किसे मानते है ब्लेक स्पॉट
नेशनल हाइवे के इंजीनियर एन एस कवर के मुताबिक एक साल में सडक़ की 250 मीटर के दायरे में 5 दुर्घटना या तीन मौत हुई तो ब्लेक स्पॉट कहलाता है। इस स्पॉट में बचाव व सुरक्षा के लिए उपाय किये जाते है। 

बता दें कि पिछले रविवार को करचिया के जिस स्पॉट में कार दुर्घटना ग्रस्त हुई है,उसके 250 मीटर के पहले सितम्बर में एम्बूलेंस दुर्घटना में दो जाने गई है। पर यह सीधा मार्ग है जिसमें दुर्घटना  की वजह सडक़ व सोल्डर के ऊँचाई में भारी अंतर।

सडक़ किनारे जगह-जगह जानलेवा गड्ढे
इस मैनपुर देवभोग नेशनल हाइवे मार्ग मे झरियाबाहरा से देवभोग तक 71 किलोमीटर सडक़ किनारे से पटरी पूरी तरह गायब हो चुकी है और सडक़ के दोनो तरफ बड़े- बड़े गड्ढे हो गये है जिसके कारण इस सिंगल सडक़ मे दो वाहनो को आपस मे साइड देने मे भारी परेशानी हो रही है, साइड देने के नाम पर वाहन चालको मे प्रतिदिन तू तू मै मै की नौबत तक आ चुकी है और वाहन चालको की मजबूरी है कि सडक़ किनारे गड्ढे होने के कारण वे साइड देने से घबराते है क्योकि साइड देते ही कई बार वाहने पलट चुकी है सडक़ किनारे पटरियो मे कही -कहीं पर तो 2-3 फीट तक गहरे गड्ढे हो गये हैं।


Date : 11-Dec-2019

मुख्य सचिव ने किया गरियाबंद के धान खरीदी केंद्र झाखरपारा का निरीक्षण, धान की स्टैगिंग और बारदाने में स्टेम्पिंग पर जताई नाराजगी 
छत्तीसगढ़ संवाददाता
गरियाबंद, 11 दिसंबर।
छत्तीसगढ़ शासन के मुख्य सचिव आर पी मंडल ने मंगलवार को गरियाबंद जिले के ओडिशा राज्य की सीमा से लगे देवभोग विकासखंड के धान उपार्जन केन्द्र  झाखरपारा का आकस्मिक निरीक्षण किया । खाद्य सचिव डॉ कमलप्रीत सिंह और राज्य सहकारी विपणन संघ के प्रबंध संचालक शम्मी आबिदी भी साथ थे।

मुख्य सचिव श्री मंडल ने उपार्जन केंद्र में खरीदे गये धान की स्टैगिंग देखकर नाराजगी जाहिर किया। मौके पर कलेक्टर, एसपी, एसडीएम और खाद्य अधिकारी को व्यवस्थित ढंग से स्टैगिंग कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि धान खरीदी कार्य राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता में है। लगभग 75 दिन तक चलने वाले राज्य सरकार का किसानों के हित में यह महत्वपूर्ण कार्य 1 दिसंबर से शुरू हो गई है जो आगामी 15 फरवरी तक चलेगा। मुख्य सचिव श्री मंडल ने अधिकारियों से कहा कि धान खरीदी बारदाने पर स्टेम्पिंग गलत ढंग से हो रहा है। खाद्य और राजस्व विभाग के अधिकारी उपार्जन केंद्रों में जाकर स्टेम्पिंग सही ढंग से कराए। उन्होंने कहा कि उपार्जन केंद्रों में किसानों को किसी भी प्रकार की तकलीफ न हो यह सुनिश्चित किया जाए। 

राज्य सहकारी विपणन संघ के प्रबंध संचालक शम्मी आबिदी ने उपार्जन केन्द्र के लिए बारदाना आबंटन, भंडारण और बारदाने की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली। मौके पर बारदाना पंजी उपलब्ध नहीं कराने पर खाद्य अधिकारी और समिति प्रबन्धक को कड़ी फटकार लगाई। खाद्य सचिव श्री सिंह ने अधिकारियों को अवगत कराया कि उपार्जन केंद्र में किसानों द्वारा रखे गए धान की ढेरी सही हो। गुणवत्तापूर्ण व शासन द्वारा निर्धारित मापदंड के आधार पर ही खरीदी किया जाय। प्रति बोरा तौल 40 किलोग्राम हो। उन्होंने स्टैगिंग और ड्रेनेज सिस्टम के सम्बंध में भी अवगत कराया। 

किसानों से चर्चा करते हुए मुख्य सचिव श्री मंडल ने किसानों को भरोसा दिलाया कि उपार्जन केन्द्र में व्यवस्था हेतु अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि किसान किसी भी प्रकार के अफवाहों पर ध्यान न देवें। आगामी 15  फरवरी तक क्षेत्र के सभी किसानों का धान शासन द्वारा निर्धारित मापदंड पर खरीदी की जायेगी। 

कलेक्टर श्री श्याम धावड़े ने बताया कि जिले के 38  सहकारी समितियों के 6 2 उपार्जन केन्द्रों के माध्यम से धान खरीदी किया जा रहा है। क्षेत्र के 9 उपार्जन केन्द्र सहीत सभी केन्द्रों में अवैध रूप से धान विक्रय करने वाले कोचियों और बिचैलियों पर निगरानी रखी जा रही है। इस अवसर पर कलेक्टर  श्याम धावड़े, पुलिस अधीक्षक  एम आर आहिरे, एसडीएम  भूपेंद्र साहू, खाद्य अधिकारी  एच. के. डड़सेना, समिति प्रबन्धक नरेन्द्र तांडी, उपार्जन केन्द्र प्रभारी  पी सी ध्रुव और धान विक्रय करने आये किसान मौजूद थे ।

 


Previous1234Next