छत्तीसगढ़ » गरियाबंद

Posted Date : 12-Dec-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता  

    नवापारा-राजिम, 12 दिसंबर। पिछले दो दिनों में नवापारा सहित अंचल में अच्छी ठंड पडऩे लगी है। वैसे तीन नदियों के संगम क्षेत्र होने की वजह से नवापारा और राजिम दोनों शहर में ठंड कुछ ज्यादा ही पड़ती है। अभी दो-तीन दिनों से मौसम में भी बदलाव होने की वजह से ठंड अधिक बढ़ गई है। लिहाजा ठंड से निपटने के लिए लोग गर्म कपड़ों का उपयोग करने लगे हैं। शाम के बाद हर किसी को शाल, स्वेटर, कोट में देखा जा सकता है। 
    इधर कपड़ा दुकानों में कंबल की बिक्री बढ़ गई है। निम्न और मध्यम वर्ग के लोगों के लिए साधारण कंबल मार्केट के हर दुकानों में उपलब्ध है। मंगलवार और बुधवार का दिन तो ऐसा था कि दिन में भी ठंडी हवाओं के झोंके से बचने के लिए लोगों को गर्म कपड़े पहने हुए देखा गया है। 
    आज सुबह से ही शहर में कोहरे छाये रहे। ठंड का असर ही है कि लोग देर तक बिस्तर में दुबकने के लिए मजबूर हो गए हैं। परेशानी उन लोगों को ज्यादा होती है, जिन्हें सुबह से ही उठकर काम के निकलना पड़ता है। सुबह-सुबह और देर शाम को लोग इक_े होकर अलाव से ठंड दूर करते हुए दिखाई पड़ते हैं। 
    शाम 5 बजे के बाद से ठण्ड का अहसास धीरे-धीरे बढऩे लगता है। ठंड के कारण रात 8 बजे के कुछेक दुकानों को छोड़ व्यापारी भी अपने दुकानों का शटर गिराना शुरू कर देते हैं। इन दिनों क्षेत्र में सर्द हवाओं की झोंके सुबह से लेकर देर रात तक महसूस किया जा रहा है। यात्री गाडिय़ों में भी सुबह और शाम के ट्रिप में न के बराबर सवारियां रहती है। 
    लोगों से यह सुनने को मिल रहा है कि इस बार ठंड का जोर कुछ ज्यादा ही लग रहा है, अभी ये हाल है, तो आगे न जाने कितना ठंड रहेगा? ठंड को लेकर लोग अब काफी ऐहतियात बरत रहे हैं। सुबह लेट उठना एवं रात को जल्दी सोने के लिए लोग मजबूर हो गए हैं। पीने और नहाने के लिए गरम पानी का इस्तेमाल किया जा रहा है। ठंड के कारण अस्पताल एवं मेडिकल स्टोर्स में भी भीड़ बढ़ गई है। छोटे बच्चों में सर्दी-खांसी की शिकायत ज्यादा देखी जा रही है। 

  •  

Posted Date : 12-Dec-2018
  • 58 हजार से ज्यादा मतों से दी शिकस्त

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    राजिम, 12 दिसंबर। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का किला राजिम जिसे शुक्ल परिवार के गढ़ के रूप में जाना जाता था, अंतत: अमितेष शुक्ल ने वापिस ले आया। भाजपा प्रत्याशी संतोष उपाध्याय से अपने पिछले हार का बदला लेते हुए अमितेष ने भारी मतों विजयी हासिल की है।

    पूर्व मुख्यमंत्री स्व. पं. श्यामाचरण शुक्ल के बेटे अमितेष शुक्ल ने 58132 के रिकॉर्ड तोड़ मतों से जीत दर्ज कर न केवल राजिम विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस का परचम लहराया है बल्कि पूरे प्रदेश में दूसरे नंबर के सर्वाधिक मतों से जीतकर आने वाले उम्मीदवार साबित हुए हैं। उनके इस जीत राजिम विधानसभा क्षेत्र में जश्न का माहौल है। राजिम शहर सहित क्षेत्र के अनेकों गांवों में देर रात तक पटाके फूटते रहे। कांग्रेस कार्यकर्ता रंग-गुलाल से पूते नजर आए। वैसे भी राजिम को शुरू से ही शुक्ल बंधुओं का गढ़ समझा जाता है। पं. श्यामाचरण शुक्ल के बाद यहां की कमान अमितेष शुक्ल ने संभाला है। वे यहां से दो बार हारे और दो बार जीत दर्ज की थी। यह जीत उनकी तीसरी जीत है और इस जीत को ऐतिहासिक जीत मानी जा रही है। उनके इस ऐतिहासिक जीत को लोगों ने भाजपा के खिलाफ  जमकर आक्रोश और कांग्रेस के घोषणा पत्र में किसानों का कर्ज माफ, बिजली बिल हॉफ, धान का समर्थन मूल्य 25 सौ और दो साल के बोनस देने के किए गए वादा को बता रहे हैं।

    वोटों का हिसाब

    इस बार के चुनाव में कांग्रेस के अमितेष शुक्ल को 99041 वोट, निकटतम प्रतिद्धंदी भाजपा से संतोष उपाध्याय को      40909, छजकां के रोहित साहू 23776, विश्वनाथ निर्दलीय को 1474, भूषण साहू  भारतीय शक्ति चेतना पार्टी को 1136, तेजराम विद्रोही भाकपा को 934, गोगंपा परदेशीराम 769, देवराज ठाकुर निर्दलीय 662, राजा ठाकुर आप पार्टी 610, गणेश सोनी निर्दलीय 574, गोपाल जेठी निर्दलीय 420, फ लेन्द्र साहू पिछड़ा समाज पार्टी 404 और नोट में 4844 प्राप्त हुआ है। इस प्रकार अमितेष शुक्ल ने अपने निकटतम प्रतिद्धंदी भाजपा के संतोष उपाध्याय को 58132 के मतों से हराकर ऐतिहासिक जीत हासिल की है।

     

  •  

Posted Date : 12-Dec-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    नवापारा-राजिम, 12 दिसंबर। विधानसभा चुनाव में भाजपा के मिशन 65 प्लस का लक्ष्य को कांग्रेस ने उलट करते हुए बाजी मारी और प्रदेश में कांग्रेस को बहुमत के साथ जीत हासिल हुई। वहीं अभनुपर क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी से धनेन्द्र साहू की जीत पर कांग्रेसियों में उत्साह का माहौल है। धनेन्द्र साहू की जीत पर उत्साहित कार्यकर्ताओं ने देर रात पटाखे फ ोड़कर, मिठाईयां बांटते रहे। अभनपुर क्षेत्र कांग्रेसमय नजर आया। धनेन्द्र की जीत पर कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों ने फूलमाला और गुलाल लगाकर बधाई दी। 
    बधाई देने वालों में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता रतीराम साहू, बबला दम्मानी, संतोष विश्वास, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष धनराज मध्यानी, नपा उपाध्यक्ष जीतसिंग, रमेश तिवारी, जितेन्द्र शर्मा, आशीष दीवान, मेघनाथ साहू, राजा चांवला, मेघनाथ साहू, सौरभ शर्मा, यशवंत साहू, शशांक पाण्डेय, रामा यादव, निर्माण यादव, पूर्व पालिकाध्यक्ष देहुति साहू, अरूणा शुक्ला, संध्या राव, किरण साहू, धनेश्वरी डांडे, मेलाराम डांडे, चन्द्रहास साहू, प्रवीण साहू, प्रवीण कल्ला, बीरबल राजपूत, सुरेश साहू, किशोर सचदेव, शाहिद रजा, राकेश सोनकर सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता एवं समर्थक शामिल हंै।
     इस अवसर पर श्री साहू ने चुनाव में मिली सफलता को कांग्रेसजनों की मेहनत का परिणाम बताते हुए पूरे विधानसभा के मतदाताओं के प्रति आभार व्यक्त किया। कहा कि आपकी सेवा के लिए मैं हमेशा तत्पर रहूंगा।
    अभनुपर क्षेत्र में कांग्रेस के धनेन्द्र साहू को 76761 वोट, निकटतम प्रतिद्धंदी भाजपा से चंद्रशेखर साहू को 53290, छजकां के दयाराम निषाद को 21324, ब्रम्हानंद साहू निर्दलीय को 2249, श्वेता राकेश साहू निर्दलीय को 2040, टिकेन्द्र सिंह ठाकुर एनसीपी को 1242, शकुंतला मांडले निर्दलीय को 962, संजय राय आम आदमी पार्टी को 695, सावित्री पाल निर्दलीय 582, भुनेश्वर निर्दलीय को 479, टेकेश्वर चतुर्वेदी निर्दलीय को 244, दीपक कुमार नवरंगे निर्दलीय को निर्दलीय 182, और नोटा में 3005 प्राप्त हुआ है। इस प्रकार कांग्रेस के धनेन्द्र साहू ने अपने निकटतम प्रतिद्धंदी भाजपा के चंद्रशेखर साहू को 23471 के मतों से हराकर जीत हासिल की है। 

  •  

Posted Date : 11-Dec-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दल्लीराजहरा, 11 दिसंबर।  दूसरे के घर में मोबाइल चार्ज करने गई एक नाबालिग लकड़ी के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया है। वारदात के बाद गैंगरेप के आरोपी नंदू राम और भगवान गोड़ फरार है।
      जिले के दल्ली राजहरा थानाअंतर्गत शनिवार रात 9 बजे  नाबालिग पीडि़ता आरोपी नंदू राम के घर मोबाइल चार्ज करने गई थी। जहां आरोपी नंदू राम उसके साथ जबरदस्ती करने लगा और मना करने पर धमकी देने लग।  इतने में ही उसका दोस्त आरोपी भगवान गोड़ भी घर में पहुंच गया। फिर दोनों ने नाबालिग के साथ जबरदस्ती करते हुए उसके मुंह में कपड़ा बांध कर जंगल की ओर ले गए. दोनों आरोपियों ने मिलकर जंगल में नाबालिग के साथ बारी-बारी से गैंगरेप किया।  और वहां से फरार हो गए। दर्द से कराहती पीडि़ता चुपचाप अपने घर आ गई और रात को बिना किसी को बताए सो गई। रात भर दर्द से कराहती रही, लेकिन किसी को इसकी खबर नहीं दी, फिर सुबह दर्द ज्यादा बढऩे पर पीडि़ता ने इसकी जानकारी परिजनों को दे दी।
    पीडि़ता के परिजन घटना को सुनकर काफी दुखी हुए। रविवार को गांव में बैठक बुलाई गई और फिर कोटवार के माध्यम से दल्ली राजहरा थाने में आरोपियों की शिकायत करने पहुंच गए। राजहरा पुलिस को पूरी आप-बीती बताने के बाद दोनों आरोपी नंदू राम और भगवान गोड़ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा दी है। फिलहाल दोनों आरोपी फरार है जिनकी दल्ली राजहरा पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है।  

  •  

Posted Date : 07-Dec-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    नवापारा-राजिम, 7 दिसंबर। बजरंग दल एवं विश्व हिन्दू परिषद द्वारा गुरूवार को शौर्य दिवस मनाया गया। इस अवसर पर बाईक रैली शहर में निकाली गई। नरसिंगनाथ अखाड़ा शीतला पारा से निकली यह रैली सदर रोड, गंज मार्ग होते हुए दीनदयाल उपाध्याय चौक पहुंची। रैली में शामिल कार्यकर्ताओं ने ''राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे जैसे नारे लगा रहे थे। 
    इस अवसर पर परदेशीराम साहू, भूपेंद्र सोनी, मुकन्द मेश्राम, नागेन्द्र वर्मा, हिमांशु शर्मा, राजेश यादव, लल्ला महाराज, मोनू मेश्राम, बाबूलाल, विहिप सहसंयोजक सुमित सोनी, अभिषेक तिवारी, मोहन, कपिल, राजू रजक, रामखेलावन, वीरेंद्र साहू, मुकेश निषाद, चुम्मन, लोकेश, हितेश मंडाई, टीकेश, मोनू, अजय, प्रफुल्ल, निखिल राव, पवन, अरुण, धर्मेन्द्र, सागर, मुकेश निषाद सहित बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद के युवा शामिल थे। बजरंग दल और विश्व हिन्दु परिषद के प्रांत अधिकारी घनश्याम चौधरी ने इस अवसर पर श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए संकल्प दिलाया।

     

  •  

Posted Date : 05-Dec-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    मैनपुर, 4 दिसंबर। चार माह पूर्व हुई अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। एसडीओपी श्री शर्मा ने पत्रकारवार्ता में बताया कि हत्या के दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। तीन आरोपी फरार हैं।
     गरियाबंद जिले के मैनपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम तुपेंगा में 2 अगस्त को बलराम सोरी 53 वर्ष को उसके खेत में बने झोपड़ी में कुछ व्यक्तियों द्वारा हाथ-डण्डा से मारपीट करते घसीटते ले जाकर गला दबाकर एवं गला में कपड़े रस्सी का फ ंदा कसकर हत्या कर दिया गया था। पुलिस अधीक्षक गरियाबंद एम आर अहिरे, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गरियाबंद नेहा पाण्डेय के निर्देशन पर एसडीओपी पुलिस मैनपुर राहुल देव शर्मा के नेतृत्व में क्राइम स्क्वॉड व थाना मैनपुर स्टॉफ  की टीम बनाकर लगातार संदेहियों से पूछताछ की जा रही थी। 
     सोमवार को मैनपुर थाना में एसडीओपी राहुल देव शर्मा ने प्रेसवार्ता में बताया कि चार माह पूर्व हुई इस हत्या के आरोपियों की तलाश लगातार पुलिस द्वारा किया जा रहा था। जिसमें दो आरोपियों को पुलिस ने पूछताछ कर उनके द्वारा अपराध कबूल करने पर गिरफ्तार किया है। तीन आरोपी फरार है, जिसमें मुख्य आरोपी भी शामिल है जिसकी तलाश की जा रही है।
     श्री शर्मा ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर ग्राम तुपेंगा के पदुलोचन मरकाम से मृतक बलराम सोरी के संबंध में पूछताछ करने पर पहले तो बात को टालमटोल कर घुमाने लगा। कड़ाई से पूछताछ करने पर आरोपी पदुलोचन ने और चार अन्य साथियों के साथ हत्या करना स्वीकार किया। पदुलोचन ने बताया कि हत्या करने का कारण मुख्य आरोपी जो फरार है उसके पिता की हत्या बलराम सोरी ने की थी, इसी शंका के कारण आरोपियों ने प्लानिंग के साथ योजनाबद्ध तरीके से खेत की झोपड़ी में बलराम का गला दबाकर हत्या कर दी और उसे फंदे पर लटका दिया।
     आरोपी पदुलोचन 50 वर्ष ग्राम तुपेंगा के कथन के आधार पर एक अन्य सहयोगी तुलाराम उर्फ  भोला मरकाम 23 वर्ष ग्राम तुपेंगा को बुलाकर पूछताछ करने पर दोनो आरोपियों ने तीन और साथियों के साथ मिलकर अपराध करना स्वीकार किया है।
    आरोपियों को न्यायालय गरियाबंद पेश किया गया है, साथ ही मुख्य आरोपी सहित तीन आरोपी जो फरार है उसकी पुलिस तलाश कर रही है। इस कार्रवाई में क्राइम ब्रांच गरियाबंद के प्रभारी संजय मेरावी, प्रधान आरक्षक अंगद राव, दिप्तनाथ प्रधान, चुणामणी देवता, पुरूषोत्तम डहटे, थाना मैनपुर के उपनिरीक्षक प्रेमशंकर ठाकुर, सतउराम नेताम, डोमार राजपूत, तुलाराम साहु, मुरारी यादव, कन्हैया यादव, भोकचंद कश्यप की भूमिका सराहनीय रही।

     

  •  

Posted Date : 28-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नवापारा राजिम, 28 नवंबर। आज सुबह शहर से सात किमी दूर ग्राम जौंदा मोड़ पर हाईवा की चपेट में बाइक सवार एक शिक्षक की मौके पर मौत हो गई। हादसे के बाद वाहन छोड़कर हाईवा चालक फरार हो गया।
    मिली जानकारी के अनुसार शहर में शासकीय आदर्श हरिहर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नवापारा राजिम में पदस्थ व्याख्याता वी के तिवारी अपने गृहग्राम जौंदा से बाइक से नवापारा ड्यूटी जाने के लिए निकले थे। ग्राम के मोड़ पर ही पहुुंचे थे कि विपरित दिशा से आ रही हाईवा ने चपेट में ले लिया। हादसे में तिवारी के सिर में गंभीर चोट लगने से मौत हो गई। 
    घटना बुधवार सुबह लगभग 9.30 बजे की है। घटना की खबर लगते ही थाना प्रभारी रमेश मरकाम ने पुलिस बल के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर शव पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पुलिस जांच में जुटी है। 
    इधर, उक्त घटना से रफ्तार चल रही हाईवा गाडिय़ों के खिलाफ शहरवासियों में आक्रोश व्याप्त है। मालूम हो कि पिछले दिनों इसी क्षेत्र के ग्राम सुंदरकेरा के पास भी हाईवा की चपेट में आने से एक बाइक सवार ग्रामीण की मौत हो गई थी। लोगों ने तेज रफ्तार से चल रही हाईवा गाडिय़ों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। 

  •  

Posted Date : 24-Nov-2018
  • राजिम विस में मतदान 78,बिन्द्रानवागढ़ 83 फीसदी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    गरियाबंद, 24 नवंबर। लोकतंत्र के सबसे बड़े महापर्व के रूप में मनाये जाने वाले चुनाव के लिए आवश्यक प्रशासनिक व्यवस्थाओं के साथ-साथ जिला गरियाबंद जैसे नक्सल प्रभावित क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था भी एक महत्वपूर्ण चुनौती थी। जिसे पुलिस महानिरीक्षक रायपुर रेंज रायपुर दीपांशु काबरा (भा.पु.से) के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक एम.आर. आहिरे (भा.पु.से.) एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नेहा पाण्डेय के कुशल नेतृत्व क्षमता, रणनीति एवं मार्गदर्शन ने इस चुनौती को सहज बना दिया। जिससे जिले में पहली बार शांतिपूर्ण मतदान संभव हो सका।
    गरियाबंद जिले के 02 विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 54 राजिम एवं 55 बिन्द्रानवागढ़ के कुल 568 मतदान केन्द्रों जिसमें 134 घोर नक्सल प्रभावित एवं 127 राजनैतिक संवेदनशील मतदान केन्द्र थे, जहां पर शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न कराना एक चुनौती पूर्ण कार्य था। जिला गरियाबंद को चुनाव संपन्न कराने हेतु वर्ष 2013 की तुलना में लगभग 700 अद्र्धसैनिक बल कम प्राप्त हुए थे, जिससे नक्सल एवं राजनैतिक क्षेत्र में शांतिपूर्ण कार्य संपादित करना एक चुनौती पूर्ण कार्य था। किन्तु पुलिस अधीक्षक एम.आर. आहिरे के कुशल नेतृत्व क्षमता, रणनीति एवं मार्गदर्शन से संपूर्ण जिले में सुरक्षा बलों की उपस्थिति देखी गई। जिससे आम जनता में निडरता एवं निर्भिकता का भाव उत्पन्न हुआ। जिसका परिणाम मतदान दिवस को दिखा। विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 54 राजिम एवं विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 55 बिन्द्रानवागढ़ में मतदान प्रतिशत क्रमश: 78 प्रतिशत एवं 83 प्रतिशत रहा।
     पुलिस विभाग के समक्ष विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 55 बिन्द्रानवागढ़ के मतदान केन्द्र ओढ़ एवं आमामोरा जैसे घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में मतदान संपन्न कराना भी एक चुनौती पूर्ण कार्य था। जिसके लिए पुलिस अधीक्षक द्वारा पृथक से प्रभावशील एवं गोपनीय रणनीति बनायी गई थी। जिसके तहत मतदान कर्मियों को हेलीकाप्टर के माध्यम से सुरक्षित घोर नक्सल प्रभावित मतदान केन्द्रों तक पहुंचाया एवं जिला मुख्यालय तक लाया जा सका। उक्त क्षेत्रों में सुरक्षा बलों की निरंतर उपस्थिति से लोगों की निर्भिकता इस कदर रही कि घोर नक्सल प्रभावित मतदान केन्द्र ओढ़ एवं आमामोरा जैसे क्षेत्र में मतदान प्रतिशत 82 प्रतिशत से ऊपर रहा। अतिनक्सल संवेदनशील मतदान केन्द्रों में नक्सलियों की गतिविधियों पर कड़ी निगाह रखने हेतु जिले में पहली बार ड्रोन का इस्तमाल किया गया। 
    चुनाव दौरान चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों की, पोलिंग बुथों एवं निर्वाचन कार्य में लगे कर्मचारियों एवं अधिकारियों के साथ-साथ लगभग साढ़े चार लाख मतदाताओं को भी सुरक्षा देना चुनौती पूर्ण कार्य था, जो पुलिस कप्तान के कुशल नेतृत्व क्षमता से सभी वर्गो को पर्याप्त सुरक्षा उपलब्ध कराकर जिला गरियाबंद में शांतिपूर्ण मतदान कार्य संपादित किया जा सका। 
    पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा विधानसभा चुनाव 2018 के मद्देनजर मतदाताओं पर रौब जताने वाले निगरानी, गुण्डा बदमाशों एवं आपराधिक तत्वों पर थाना प्रभारियों को वैधानिक कार्यवाही करने हेतु निर्देश देकर पूर्व से ही लगाम कसी जा चूकी थी। साथ ही अवैध शराब कारोबारियों पर प्रभावशाली कार्यवाही करने निर्देशित किया गया था। जिसके तारतम्य में जिले में आबकारी एक्ट के तहत 244 प्रकरण दर्ज कर लगभग 1600 लीटर अवैध शराब की जप्ती एवं 10460 प्रकरण मोटर व्हीकल एक्ट के तहत दर्ज कर 2385800 शमन शुल्क प्राप्त किया गया। जिले में प्रतिबंधात्मक धाराओं के तहत 1588 प्रकरण  दर्ज करते हुए 3975 व्यक्तियों के विरूद्ध इस्तगाशा तैयार कर माननीय न्यायालय पेश किया गया है। वर्षो से फरार स्थाई वारंटियों की तामीली हेतु पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा विशेष टीम गठित की गई थी, जिससे जिले में 580 वारंटों की तामीली की गई। विधानसभा चुनाव 2018 के मद्देनजर सरहदी राज्य उड़ीसा के सीमावर्ती जिलों के पुलिस अधीक्षकों से लगातार समन्वय स्थापित कर माओवादी गतिविधियों पर रोकथाम हेतु विशेष कार्यवाहीयां की गई। शांतिपूर्ण निर्वाचन के निष्पादन हेतु जिले में 06 स्थैतिक निगरानी दल एवं 06 उडऩ दस्ता दल का गठन किया गया था। जिनके द्वारा निरंतर अवैध शराब, नगदी एवं अवांछित वस्तुओं के तस्करी पर निगाह रखते हुए प्रभावशील कार्यवाही की गई। चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा राजनैतिक संवेदनशील क्षेत्रों पर विशेष नजर रखने हेतु अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नेहा पाण्डेय को निर्देशित किया गया था। जिसका पालन करते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदया द्वारा लगातार क्षेत्रों में भ्रमण कर प्रभावशाली कार्यवाही की गई। जिससे शांतिपूर्ण चुनाव कार्य संपन्न कराने में उनकी विशेष भूमिका रही। साथ ही पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा संपूर्ण निर्वाचन क्षेत्रों की गतिविधियों पर निगाह रखते हुए नक्सल क्षेत्रों पर विशेष रणनीतियां तैयार की गई थी। जिसका असर चुनाव प्रचार से लेकर मतदान केन्द्रों तक दिखाई दिया। 
    बाहर से प्राप्त अद्र्धसैनिक बलों का जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों के रिहाईसी इलाकों में मार्च पास्ट निकाला गया। चुनाव प्रचार दौरान गरियाबंद जिले में विभिन्न राजनैतिक पार्टी के स्टार प्रचारकों का आगमन होते रहा, उनकी भी सुरक्षा व्यवस्था का कुशल प्रबंधन पुलिस विभाग द्वारा किया गया। पुलिस विभाग के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों के दिन-रात अथक मेहनत ने निर्वाचन प्रक्रिया को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने में अहम भूमिका निभाई है। पुलिस अधीक्षक एम.आर. आहिरे (भा.पु.से.) के निर्देशन में जिले की निर्वाचन एवं सुरक्षा संबंधी गतिविधियों का समावेश कर एक पुस्तिका का प्रकाशन किया गया। जिसमें बुथ स्तर पर सुरक्षा एवं बाहर से आये अद्र्धसैनिक बलों की प्रत्येक गतिविधियो का समावेश था। इनके अतिरिक्त एक पाकेट बुक का प्रकाशन किया गया था, जिसे बुथ स्तर पर प्रत्येक कर्मचारियों एवं अधिकारियों को वितरण किया गया। जिसमें प्रत्येक अधिकारी/कर्मचारियों की भूमिका स्पष्ट रूप से बतायी गई थी। 
    पुलिस अधीक्षक द्वारा जिले के पुलिस अनुविभागीय अधिकारी मैनपुर राहुल देव शर्मा, पुलिस अनुविभागीय अधिकारी गरियाबंद संजय धु्रव, उप पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) गरियाबंद सिद्धार्थ बघेल, प्रशिक्षु उप पुलिस अधीक्षक आशीष कुंजाम, रक्षित निरीक्षक उमेश राय, चुनाव सेल/ जिला विशेष शाखा प्रभारी निरीक्षक संतोष भुआर्य, नक्सल सेल प्रभारी उप निरीक्षक भापेन्द्र साहू एवं अन्य पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों को उनके कार्यों के लिए धन्यवाद दिया है। उन्होंने राष्ट्रीय महत्व के कार्य में सहयोग करने वाले अद्र्धसैनिक बलों, होमगार्ड, कोबरा बटालियन, एस.टी.एफ. के जवानों को व्यक्तिगत मिलकर उनके अच्छे कार्य एवं सहयोग के लिए सराहना करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया है। पुलिस अधीक्षक द्वारा इलेक्ट्रानिक एवं प्रिंट मीडिया के प्रतिनिधियों को भी जिले में चुनाव के दौरान कोई भी भ्रामक खबर या अफवाह को रोकने हेतु मीडिया का सहयोग मिलने पर उनके प्रति आभार व्यक्त किये है। जिले में पहली बार शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न होने की जितनी चर्चाएं प्रशासनिक विभागों, राजनैतिक गलियारों में है, उतनी सराहना आम नागरिकों द्वारा भी की जा रही है। 

  •  

Posted Date : 23-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    नवापारा-राजिम, 23 नवंबर। शुक्रवार को कार्तिक पूर्णिमा पर राजिम त्रिवेणी संगम में पुण्य स्नान करने सुबह 4 बजे से श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। स्नान पश्चात श्रद्धालुओं ने दीपदान कर रेत से शिवलिंग बनाकर पूजा की। इसके बाद संगम बीच स्थित भगवान कुलेश्वर नाथ महादेव और भगवान राजीव लोचन, मामा-भांजा, ब्रम्हचर्य आश्रम में स्थित महादेव के दर्शन के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। वहीं नदी में लगने वाले नदिया मड़ई में जनसैलाब उमड़ पड़ा। दोनों शहरों के बीच नदी में पूरा दिन लोगों का तांता लगा रहा। 
    राजिम क्षेत्र में मड़ई-मेले की शुरुआत नदिया मड़ई से ही होती है। पौराणिक मान्यतानुसार यहां पर भगवान राम के वनवास गमन के समय माता सीता ने कार्तिक पूर्णिमा के दिन रेत से शिवलिंग बनाकर पूजा-अर्चना की थी, तब से यह परम्परा चली आ रही है। इस परंपरा को श्रद्धालुजन एवं भोलेनाथ के भक्त बखूबी निभाते आ रहे हैं। पूरे कार्तिक माह भर तड़के 4 बजे नदी में डुबकी लगाने वाले श्रद्धालुजन कार्तिक पूर्णिमा के साथ ही इसकी पूर्णाहुति आंवला पेड़ के नीचे आंवला भात खाकर करते हैं। 
    पूर्णिमा के अवसर पर त्रिवेणी संगम की धार में तड़के नहाने वालों की भारी भीड़ बनी रही। भगवान भोलेनाथ की पूजा-अर्चना करने पूरा दिन बल्कि देर शाम तक भक्तों के मंदिर पहुंचने का सिलसिला जारी रहा। कार्तिक पूर्णिमा का यह दृश्य दशकों पहले लगते चले आ रहे माघी पुन्नी मेले की भांति नजर आ रहा था। 
    इस अवसर पर अवसर पर नदिया मड़ई में राजिम और नवापारा शहर के अलावा तीनों जिले गरियाबंद, धमतरी और रायपुर जिले के आसपास के पचासों गांव के लोग यहां आए हुए थे। शाम को नगर के यादव समाज व राजीव लोचन मंदिर ट्रस्ट के तत्वावधान में धूमधाम से मड़ई लेकर निकले नाचते-गाते यादव बंधुओं ने कुलेश्वरनाथ महादेव मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना करेंगे। 
    हर बार की तरह संगम के घाटों में पर्याप्त मात्रा में पानी की धार एवं साफ-सफाई के अभाव के चलते श्रद्धालुओं को निराशा का सामना करना पड़ा। गौरतलब है कि त्रिवेणी संगम पर लक्ष्मण झूला का निर्माण कार्य चल रहा है। इस वजह से जगह-जगह गड्ढे, मलमे से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन पौराणिक आस्था के चलते आज के दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु ग्रामीण अंचल एवं दूरदराज के अन्य जिलों से भी पुण्य स्नान के लिए पहुंचे हुए हंै। मड़ई मेला के चलते नदी के भीतर सुखी रेत में तरह-तरह की दुकाने जैसे फैंसी, पूजा पाठ के सामान, गन्ना की दुकान, उखरा, खिलौने, कपड़े, नाश्ता ठेला सहित अन्य छत्तीसगढ़ी व्यंजन से सराबोर दुकाने सजी हुई है, जहां ग्रामीण परिवार के साथ पहुंचकर जमकर मजा लिए। 

  •  

Posted Date : 23-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नवापारा-राजिम, 23 नवंबर। विधानसभा चुनाव के मतदान संपन्न होने के बाद शहर एवं ग्रामीण अंचलों में हार-जीत के कयासों के दौर चल पड़ा है। राष्ट्रीय दल भाजपा-कांग्रेस के अलावा निर्दलीय व अन्य पार्टी के प्रत्याशी के जीत के दावे अपने-अपने दल के कार्यकर्ताओं द्वारा किया जा रहा है। जबकि आम मतदाता रूझान को लेकर चुप्पी साधे हुए है। 
    'छत्तीसगढ़Ó प्रतिनिधि द्वारा अंचल के अनेक गांवों का दौरा कर रूझान के बारे में जानने का प्रसाय किया गया। लेकिन आम मतदाता के चुप्पी के चलते यह स्पष्ट नजर नहीं आ रहा है कि रूझान किस पार्टी की ओर है। हालांकि विभिन्न दलों के कार्यकर्ताओं द्वारा अपने प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित बता रहे हैं। इधर राजिम विधानसभा में भी चौक-चौराहों पर चुनावी चर्चा का बाजार गर्म है। पार्टी के पदाधिकारी टोह लेने में लगे हुए हैं कि इस बार की रूझान किस ओर है। जबकि पिछले चुनाव पर नजर डाले तो, इस बार मतदान का प्रतिशत बढ़ा हुआ है। मतदान के प्रतिशत बढऩे से किस दल को फायदा होगा? यह बता पाना अभी अतिशियोक्ति होगी। बहरहाल सभी प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला आगामी 11 दिसम्बर को मतगणना के बाद ही स्पष्ट होगा। 

  •