छत्तीसगढ़ » जान्जगीर-चाम्पा

23-Nov-2020 5:57 PM 19

कार्तिक शुक्ल नवमी को आंवला नवमी पूजन का कार्यक्रम संपन्न

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 23 नवंबर।
पूरा कार्तिक महीना भगवान विष्णु को समर्पित है हमारे यहां छत्तीसगढ़ में कार्तिक स्नान की परंपरा प्रत्येक गांव में प्रचलित है लोग पूरे माह भर कार्तिक स्नान करते हैं यह सिलसिला कार्तिक पूर्णिमा तक चलता है शुक्ल पक्ष नवमी को आंवला नवमी के रूप में मनाया जाता है इसे अक्षय नवमी के नाम से भी जाना जाता है इस दिन जप, तप, ध्यान और दान आदि का अत्यधिक महत्व है साधक को सैकड़ों गुना अधिक पुण्य की प्राप्ति होती है यह बातें श्री दूधाधारी मठ एवं श्री शिवरीनारायण मठ पीठाधीश्वर राजेश्री डॉक्टर महन्त रामसुन्दर दास महाराज ने आंवला नवमी के अवसर पर अभिव्यक्त की प्रात: कालीन बेला में मठ मंदिर में मंगल श्रृंगार आरती पूर्ण होने के पश्चात राजेश्री महन्त जी मठ मंदिर के पुजारियों, संत -महात्माओं एवं श्रद्धालुओं सहित मठ मंदिर के नर्सरी में स्थित है।

आंवला वृक्ष के पूजन के लिए उपस्थित हुए यहां हरि नाम संकीर्तन के साथ विधिवत पूजा-अर्चना संपन्न हुआ आंवला वृक्ष में जल, दूध, सिंदूर, चंदन अर्पित करके आरती की गई! भगवान श्री हरी बालाजी का जय बुला करके भोग अर्पित किया गया तत्पश्चात आंवला वृक्ष की श्री राम जय राम जय जय राम कीर्तन करते हुए सात परिक्रमा पूर्ण की गई और भोग लगने के पश्चात सभी श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरण किया गया इस संदर्भ में राजेश्री महन्त जी महाराज ने कहा कि कार्तिक पवित्र माह माना गया है। यह भगवान विष्णु को समर्पित है।

इस महीने में पूजा अर्चना जप तप करने से भगवान नारायण प्रसन्न होते हैं और जीव को मोक्ष की प्राप्ति होती है। आंवला नवमी के दिन आंवला वृक्ष के नीचे भजन पूजन के पश्चात भोजन प्रसाद ग्रहण करने पर घर में भंडार हमेशा भरा रहता है। आंवला नवमी पूजन के कार्यक्रम में विशेष रुप से श्री दूधाधारी मठ के मुख्तियार राम छवि दास, नागा महाराज, पुजारी राम तीरथ दास, राम प्रिय दास, राम अवतार दास, मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव, उमेश गिरी गोस्वामी, वीरेंद्र वैष्णव, नंदलाल  फेकर सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे।
 


22-Nov-2020 5:54 PM 18

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 22 नवंबर।
राजधानी रायपुर के हृदय स्थल में स्थित श्री दूधाधारी मठ में कार्तिक शुक्ल अष्टमी को परंपरागत रूप से मनाया जाने वाला सूर्योपासना का पर्व विधिवत रूप से संपन्न हुआ। 

राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष एवं श्री दूधाधारी मठ पीठाधीश्वर राजेश्री महन्त रामसुन्दर दास महाराज ने सुबह 8 बजे मठ मंदिर परिसर में निर्मित प्राचीन कालीन कुएं के पाठ पर विधिवत रूप से सूर्य देवता की पूजा अर्चना की। उन्हें पुष्प, जल, चंदन, धूप, दीप प्रदान करके उनकी स्तुति की गई एवं भोग लगा करके प्रसाद उपस्थित भक्तों को वितरित किया गया।

सूर्य उपासना के संदर्भ में राजेश्री महन्त महाराज ने बताया कि सूर्य को यश, कीर्ति और वैभव का द्योतक माना जाता है जो भी साधक या भक्त श्रद्धा भक्ति पूर्वक भगवान सूर्यनारायण की पूजा अर्चना करता है उस पर वह प्रसन्न होकर अपनी कृपा बनाए रखते हैं। साधक को यश, कीर्ति, वैभव के साथ आरोग्यता एवं दीर्घायु प्राप्त होती है। 

उन्होंने कहा कि अन्नकूट और गोवर्धन पूजा के पश्चात जो प्रथम रविवार आता है उसमें सूर्य देव की पूजा करने की परंपरा श्री दूधाधारी मठ की रही है जिसका निर्वाह हम सब मिलकर करते आ रहे हैं।

यहां यह उल्लेखनीय है कि भारतीय सनातन धर्म के सबसे प्राचीनतम ग्रंथ ऋग्वेद में भी सूर्य भगवान को जीवन,स्वास्थ्य एवं आरोग्यता का देवता माना गया है सूर्य की उपासना से अनेक प्रकार की बीमारियों से भी मुक्ति मिलती है ऐसी लोक मान्यता भी है।  इस कार्यक्रम में विशेष रुप से श्री दूधाधारी मठ के मुख्तियार राम छवि दास जी, श्री नागा जी महाराज, पुजारी राम प्रिय दास जी, राम अवतार दास जी, राम कीर्ति दास जी, मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव, उमेश गिरी गोस्वामी, जीवराखन वर्मा, कांशी राम साहू, हेमलाल सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे।
 


21-Nov-2020 6:49 PM 17

विगत 7 वर्षों से हो रहा है अनवरत आयोजन

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 21 नवंबर।
रामचरित्र मानस की यह विशेषता है कि इसके श्रोता और वक्ता दोनों ही विद्वान होते हैं गोस्वामी तुलसीदास जी महाराज ने लिखा है श्रोता वक्ता ज्ञान निधि। अर्थात यह दोनों ही ज्ञान के सागर होते हैं यह बातें महामंडलेश्वर के पद से विभूषित राजेश्री डॉक्टर महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज ने अभिव्यक्त की। वे शिवरीनारायण मठ में 29 नवंबर को आयोजित होने वाले एकदिवसीय मानस महोत्सव के संदर्भ में अपना विचार व्यक्त कर रहे थे। 
उल्लेखनीय है कि भूपेश बघेल एक दिवसीय मानस महोत्सव में शामिल होने के लिए 29 नवंबर को दोपहर 1 बजे शिवरीनारायण पधारेंगे।

उन्होंने कहा कि शिवरीनारायण मठ में एक दिवसीय मानस महोत्सव विगत 7 वर्षों से अनवरत आयोजित होते आ रहा है। यहां संगीतमय श्रीराम राम कथा एवं विराट संत सम्मेलन हर वर्ष धूमधाम से मनाया जाता है जिसमें राज्य सहित देश के कोने-कोने से विद्वत जन आकर शामिल होते हैं।  कोरोना महामारी के संक्रमण के चलते इस वर्ष वह आयोजन नहीं हो पाया है किंतु शिवरीनारायण मठ में एक दिवसीय मानस महोत्सव जो कि प्रत्येक माह के दूसरे रविवार को आयोजित होता है उसका पुन: सार्वजनिक आयोजन प्रारंभ होने जा रहा है। 
रामसुंदर दास ने कहा कि विगत 6 महीने से यह आयोजन प्रतीकात्मक स्वरूप हो रहा था अब जबकि राज्य के मुख्यमंत्री ने इसमें शामिल होने के लिए अपना समय प्रदान कर दिया है तो यह संपूर्ण शिवरीनारायण क्षेत्र वासियों के लिए हर्ष का विषय बना हुआ है।
लोग इस बात से काफी प्रसन्न चित्त हैं कि संगीतमय श्री राम कथा एवं विराट संत सम्मेलन से भले ही महामारी के चलते इस वर्ष हम लोग वंचित हो गए हैं किंतु एक दिवसीय ही सही महोत्सव तो महोत्सव है। भले ही आयोजन एक दिन का ही सही इसे हम सब मिलकर काफी भव्यता पूर्वक मनाएंगे। 

उन्होंने बताया कि भूपेश बघेल  शिवरीनारायण मठ के एक दिवसीय मानस महोत्सव में शामिल होने वाले छत्तीसगढ़ राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री होंगे। आयोजन विगत 7 वर्षों से हो रहा है लेकिन यह सौभाग्य किसी अन्य को प्राप्त नहीं हुआ। उनके आगमन की प्रतीक्षा क्षेत्रवासी बड़े ही उत्सुकता पूर्वक कर रहे हैं। उन्होंने आम जनता से मानस महोत्सव में अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर अपने जीवन को धन्य बनाने की अपील की है। 
 


16-Nov-2020 8:37 PM 23

कभी दीपक की बाती बरते नजर आए तो कभी दीपक सजाते हुए

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 16 नवंबर।
भारतीय सनातन धर्मावलंबियों में दीपावली का त्यौहार सबसे महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह हम सब के आराध्य देव भगवान श्री रामचंद्र जी की श्रीलंका में रावण के वध करके चौदह वर्षों के उपरांत अयोध्या वापस आने और संसार में रामराज्य स्थापित करने से संबंधित है। यह बातें श्री दूधाधारी मठ एवं शिवरीनारायण पीठाधीश्वर राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज ने व्यक्त की।

उन्होंने कहा कि हमें अपने प्रत्येक त्योहारों को विधि पूर्वक मनाना चाहिए, इससे देवताओं की कृपा प्राप्त होती है। रामचरितमानस में लिखा है कि कर नित करहिं राम पद पूजा। अर्थात ईश्वर की पूजा हमें स्वयं अपने हाथों से करनी चाहिए, यदि ऐसा कर सकें तो निश्चित रूप से ईश्वरीय कृपा हमें प्राप्त होगी। दीपावली में पांच दिन तक दीप प्रज्वलित करने की परंपरा है, धनतेरस से लेकर भाई दूज तक अपने -अपने घरों के सामने दीप प्रज्वलित की जाती है कुछ लोग आजकल दो या तीन दिनों में ही इतिश्री कर लिया करते हैं जो उचित नहीं है। हमें अपनी सनातन परंपरा का निर्वाह करना चाहिए।

गोवर्धन पूजा, गौ वंश एवं सांसारिक सुख समृद्धि की वृद्धि का प्रतीक है, वर्तमान युग में जगह-जगह गौठान का निर्माण हुआ है। किसानों को अपना पैरा व्यर्थ न करके उसे दान स्वरूप गौठान में पहुंचा देने से उन्हें पुण्य की प्राप्ति होगी। हमें अपने जीवन में अधिक से अधिक सत् मार्ग पर ही चलने का प्रयत्न करना चाहिए। 

मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव ने प्रेस को बताया कि दीपावली के अवसर पर राजेश्री महन्त जी महाराज अपने जीवन के प्रत्येक क्षण का विविध कर्मों में व्यतीत करते हुए नजर आए। राजनीतिक, सामाजिक, आध्यात्मिक अनेक विविध जिम्मेदारी होने के पश्चात भी प्रत्येक कार्यों में बड़ी तल्लीनता पूर्वक लगे रहे, यही उनकी विशेषता है। रघुनाथ जी की सेवा में वे कभी दीपक के लिए बाती बरते हुए नजर आए तो कभी दीपक सजाते हुए कभी रसोई में स्वयं पकवान बनाते रहे तो कभी राजनीतिक कार्यक्रमों में उपस्थित होकर जनता जनार्दन की सेवा की यही नहीं इतनी व्यस्तता के बीच सैकड़ों की तादाद में मिलने के लिए आने वाले आगंतुकों से भी वह निरंतर मिलते रहे। 
 


16-Nov-2020 8:34 PM 23

दीपावली पर शिवरीनारायण को प्रमुख धार्मिक तीर्थ के रूप में विकसित करने का संकल्प दोहराया सीएम ने

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 16 नवंबर।
महन्त जी मैं 29 तारीख के शिवरीनारायण आहूं, ओला प्रमुख तीरिथ के रूप म विकसित करना हे यह बातें छत्तीसगढ़ राज्य के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने श्री शिवरीनारायण मठ पीठाधीश्वर राजेश्री डॉक्टर महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज से कही।

विदित हो कि राजेश्री महन्त जी महाराज दीपावली के अवसर पर मुख्यमंत्री जी से सौजन्य मुलाकात करने के लिए मुख्यमंत्री निवास पहुंचे थे। यहां दीपोत्सव के अवसर पर मुख्यमंत्री जी के द्वारा गौ माता की गोबर से निर्मित 36 दीपक माता कौशल्या की जन्मभूमि चंद्रखुरी में प्रज्वलित करने हेतु भेंट किया गया, साथ ही 14 नवंबर को बाल दिवस होने के कारण भारत वर्ष के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू के तैल चित्र पर दीप प्रज्वलित कर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की गई।

इस अवसर पर विशेष रूप से उपस्थित राजेश्री महन्त जी महाराज से मिलते ही मुख्यमंत्री जी ने बड़े प्रसन्न होकर कहा कि महन्त जी मैं 29 तारीख के शिवरीनारायण आहूं, शिवरीनारायण ल प्रमुख तीरिथ के रूप म विकसित करना हे, इस पर राजेश्री महन्त जी ने उनके प्रति आभार व्यक्त किया और कहा कि शिवरीनारायण के लोग आपकी अभी से प्रतीक्षा करने लगे हैं, वहां के लोग आपके प्रति काफी श्रद्धा का भाव रखते हैं आपका स्वागत है, आप आइए हम सब आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। 

इस अवसर पर विशेष रूप से छत्तीसगढ़ कांग्रेस के राज्य प्रवक्ता आर पी सिंह, राजनांदगांव जिले के विधायक गण, मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे।
 


12-Nov-2020 5:53 PM 21

अधिकारियों को टीम की भावना से कार्य करने पर जोर

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 12 नवंबर।
छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री डॉ. महंत रामसुन्दर दास जी महाराज को राज्य शासन के द्वारा कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान किए जाने पर बधाई देने वालों का दिन भर श्री दूधाधारी मठ में तांता लगा रहा।

 विदित हो कि श्री दूधाधारी मठ पीठाधीश्वर राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज को छत्तीसगढ़ शासन ने कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान किया है, उनके साथ ही साथ राज्य के अन्य और चार लोगों को भी राज्य सरकार द्वारा कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान किया गया। इसकी जानकारी जैसे ही संचार के माध्यम से आम जनता को प्राप्त हुई सुबह से लेकर शाम तक राजेश्री महन्त जी महाराज को बधाई देने वालों का तांता लगा रहा।

 इस दौरान छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी गण ने श्री दूधाधारी मठ पहुंचकर राजेश्री महन्त जी महाराज को ना केवल शुभकामनाएं अर्पित की अपितु मठ में ही आयोग की सामान्य बैठक संपन्न हुई। जिसमें आयोग से संबंधित अनेक दस्तावेजों पर राजेश्री महन्त जी महाराज ने हस्ताक्षर कर कार्यों को गति प्रदान की। 

इस बीच अधिकारियों को प्रेरित करते हुए राजेश्री महन्त महाराज ने कहा कि हम सबको टीम की भावना से कार्य करना चाहिए। जिस टीम के खिलाडिय़ों के बीच अच्छा सामंजस्य होता है, वह टीम निश्चित रूप से विजय को प्राप्त करता है। उन्होंने गौ धन न्याय योजना, गौठान योजना और राज्य सरकार में विचाराधीन गौ अभयारण्य को मूर्त रूप प्रदान करने के संदर्भ में भी काफी गंभीर विचार मंत्रणा की। 

बधाई देने वालों में विशेष रूप से पूर्व विधायक जनक राम वर्मा, राजिम से ठाकुर भूषण सिंह, राघोबा महाडिक, चंद्रभान सिंह, शिव कुमार सिंह, ग्राम खटियापाटी से डॉ. राम चंद्र पटेल, पलारी से रज्जाक खान, राजा खान, राम चंद्र बर्मन, कमलेश वर्मा, देवसुंदरा से यश पांडे, लवन से अमर मिश्रा तथा राज्य गौ सेवा आयोग से सचिव डॉ. एमपी पासी, रजिस्टर डॉ. एनके शुक्ला, सुषमा मिश्रा, डॉ. अविनाश शुक्ला, डॉ. समीर शुक्ला, एम एल साहू, आरती वर्मा आदि हैं। 

इस अवसर पर विशेष रूप से मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव, मुख्तियार रामछवि दास, रामतीरथ दास, पर्वतारोही राहुल गुप्ता एवं राजेश्री महन्त महाराज के विशेष सुरक्षा अधिकारी श्री योगेश उपाध्याय उपस्थित थे।
 


11-Nov-2020 5:30 PM 15

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बलौदा, 11 नवंबर। 
छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन बलौदा ने मांगों को लेकर सीईओ व बीईओ को ज्ञापन सौंपा। 

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन बलौदा ने ब्लॉक अध्यक्ष नरेश गुरुद्वान के नेतृत्व में मुख्य कार्यपालन अधिकारी व विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी बलौदा को 01 नवम्बर 2020 को संविलियन हुए शिक्षकों का एल पी सी जारी करने, एम्प्लाई कोड जनरेट करने, प्रान शिफ्टिंग व कार्मिक संपदा को शीघ्र पूर्ण करने जिससे नवम्बर माह का वेतन भुगतान समय पर सुनिश्चित करने व सेवा पुस्तिका संबंधित डी डी ओ को भेजने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया।

 


02-Nov-2020 5:12 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 2 नवंबर।
छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज ने जांजगीर-चांपा जिले के जिलाधीश एवं पुलिस अधीक्षक को सपरिवार भगवान शिवरीनारायण का दर्शन कराया।

विदित हो कि राजेश्री महन्त जी महाराज छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना दिवस के अवसर पर शिवरीनारायण में राम वन गमन पथ के भूमि पूजन समारोह में शामिल होने के लिए यहां उपस्थित हुए थे। शिवरीनारायण के विशाल मेला ग्राउंड में श्री राम वन गमन पथ का भूमिपूजन के कार्यक्रम को संपन्न करने के पश्चात राजेश्री महन्त जी महाराज शिवरीनारायण मठ में आम जनता से भेंट मुलाकात कर रहे थे। इस बीच जांजगीर-चांपा जिले के कलेक्टर यशवंत कुमार एवं पुलिस अधीक्षक पारुल माथुर सपरिवार भगवान शिवरीनारायण के दर्शन के लिए पहुंचे।

राजेश्री महन्त जी महाराज ने उन्हें आदर पूर्वक भगवान शिवरीनारायण का दर्शन कराया। साथ ही शिवरीनारायण की ऐतिहासिक जानकारियों से उन्हें अवगत कराया। शिवरीनारायण मठ मंदिर के पूर्व आचार्यों के चरण पादुका स्थल का भी उन्हें दर्शन करा कर कृष्ण वट के बारे में उन्हें अवगत कराया। अंत में जिलाधीश एवं पुलिस अधीक्षक को शाल और भगवान शिवरीनारायण का तैल चित्र तथा श्री दूधाधारी मठ एक परिचय नामक पुस्तक भेंट करके ससम्मान विदा किया। 

इस अवसर पर विशेष रूप से जिपं जांजगीर चांपा के उपाध्यक्ष राघवेंद्र प्रताप सिंह, एल्डरमैन पूर्णेन्द्र तिवारी, मुख्तियार सुखराम दास जी, जनपद सदस्य कमलेश सिंह, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी पामगढ़ के अध्यक्ष हर प्रसाद साहू, मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव, ज्ञानेश शर्मा, संतोष साहू, नवागढ़ जनपद पंचायत के अध्यक्ष भुवनेश्वर केसरवानी, वाजिद खान, तेरस राम साहू, पुरेन्द्र सोनी सहित जांजगीर एसडीएम मेनका प्रधान शिवरीनारायण थाना के पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारी गण तथा अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे। 
 


02-Nov-2020 5:11 PM 17

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 2 नवंबर।
नगर के चौपाटी के पास सत्संग भवन सामने राम वन गमन पथ के लिए भूमिपूजन संपन्न हुआ। कार्यक्रम में राज्य गोसेवा आयोग के अध्यक्ष रामसुन्दर दास मुख्य रूप से उपस्थित हुए। विशिष्ट अतिथि के रूप में नगर पंचायत अध्यक्ष अंजनी मनोज तिवारी उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित सभी कैबिनेट मंत्री विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत एवं राज्यपाल वर्चुअल शामिल हुए।

इस अवसर पर राजेश्री महंत राम सुंदर दास ने सभा संबोधित करते हुए कहा कि वनवास के दौरान भगवान श्री रामचंद्र जी जिन-जिन स्थानों में गए, उन सभी स्थानों को चिन्हित करके राम वन गमनपथ के तहत विकसित करने का बीड़ा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व मंत्रिमंडल ने उठाया है। हमारे नगर शिवरीनारायण को राम वन गमन में महत्वपूर्ण स्थान मिलना सभी के लिए सौभाग्य की बात है। करोड़ों रुपए खर्च कर नगर को चारों दिशाओं का  सौन्दयीकरण किया जायेगा।  

उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से जल्द से जल्द कार्य पूरा करा के लोकार्पण में आने का निमंत्रण दिया।  कार्यक्रम को अध्यक्ष अंजनी मनोज तिवारी, कलेक्टर यशवंत कुमार, एसपी दिनेश शर्मा ने भी संबोधित किया। भूमिपूजन पं. नवीन शर्मा ने कराया एवं संचालन व्याख्याता कोमल प्रसाद ने किया। 

इस अवसर पर पार्षद मनोज तिवारी उपाध्यक्ष राजेंद्र यादव, निरंजन अग्रवाल  सुखराम दास , रीना तिवारी, देवेंद्र कश्यप, गुलजीत गांधी,  मुकेश केडिया, पत्रकार संतोष अग्रवाल सहित नगर के गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।


31-Oct-2020 3:05 PM 29

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण,  31 अक्टूबर।
शरद पूर्णिमा वर्षा ऋतु की समाप्ति और हेमंत ऋतु के प्रारंभ होने के मध्य की कड़ी है, जहां एक ओर वर्षा ऋतु अपनी जरावस्था को प्राप्त होता है वहीं दूसरी ओर हेमंत ऋतु सृष्टि के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करता है। शरद पूर्णिमा का चंद्रमा सोलह कलाओं से युक्त होता है। यह बातें राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास महाराज पीठाधीश्वर श्री दूधाधारी मठ रायपुर ने शरद पूर्णिमा के अवसर पर अभिव्यक्त की। 

उन्होंने कहा कि शरद पूर्णिमा की चंद्रमा अपने 16 कलाओं से युक्त होती है मध्य रात्रि को जब यह अपने पूर्ण कलाओं से युक्त होकर प्रकाशित होता है तो इससे संपूर्ण  जगत में सुख, शांति और समृद्धि की वृद्धि होती है इसलिए यह माना जाता है कि चंद्रमा अमृत की वर्षा करते हैं। चंद्रमा को नक्षत्र, वनस्पतियों, ब्राह्मण और तप का स्वामी माना गया है। इसलिए इस दिन जप, तप, स्नान, दान, और ध्यान का अत्यधिक महत्व है।  
 


31-Oct-2020 2:30 PM 26

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण,  31 अक्टूबर।
राम वनगमन पथ योजना के तहत होने वाले निर्माण कार्यों के भूमिपूजन की तैयारियों का एसडीएम ने जायजा लिया।

ज्ञात हो कि राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से राम वनगमन योजना के तहत होने वाले निर्माण कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास करेंगे। समारोह का मुख्य आयोजन भगवान राम की भक्त माता शबरी की जन्मभूमि और धार्मिक नगरी शिवरीनारायण में चित्रोपला महानदी के तट पर स्थित सत्संग भवन में चौपाटी के पास किया जाएगा। 

समारोह को लेकर नगर पंचायत तैयारी में जुट गया। शुक्रवार को एसडीएम मेनका प्रधान ने समारोह स्थल की निरीक्षण कर तैयारी का जायजा लिया और व्यवस्था को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इस अवसर पर नगर पंचायत अध्यक्ष अंजनी मनोज तिवारी उपाध्यक्ष राजेंद्र यादव पार्षद मनोज तिवारी सीएमओ हितेन्द्र यादव सहित नगर पंचायत के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे। 

नगर पंचायत अध्यक्ष अंजनी मनोज तिवारी ने बताया कि राम वन गमन पथ में राज्य सरकार द्वारा नगर को शामिल किए जाने से निश्चित रूप से नारायण का विकास होगा। श्री राम वन गमन पथ का मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 1 नवंबर को राज्य स्थापना दिवस पर दोपहर 12 बजे भूमि पूजन करेंगे। कार्यक्रम में प्रदेश के गृह एवं संस्कृति मंत्री ताम्रध्वज साहू प्रभारी मंत्री टी एस सिंह देव नगरी प्रशासन मंत्री शिव कुमार डेहरिया शामिल होंगे। योजना के तहत पर्यटन विभाग द्वारा शिवरीनारायण नगर को धार्मिक महत्व के अनुरूप के लिए कार्य योजना तैयार कर ली गई है। माता शबरी की जन्मभूमि और धार्मिक पर्यटन की दृष्टि से अपना अलग ही पहचान है। इसे देखते हुए राम के तहत नगर के चारों दिशाओं में विशाल और भव्य प्रदेश द्वारा बनाया जाएंगे श्री राम की भव्य और आदमकद प्रतिमा  लगाई जाएगी।

 


30-Oct-2020 5:49 PM 23

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 30 अक्टूबर।
राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेशश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास महाराज ने चांदी पहाड़ में संचालित गौशाला का निरीक्षण किया । इस दौरान उन्होंने कहा कि ेप्राचीन काल में जब लोग अपने सगे संबंधी या रिश्तेदारों के घर जाते थे विशेषकर जब दो परिवारों में वैवाहिक संबंध स्थापित होना होता था तब लोग उनके घरों के गौशाला का न केवल निरीक्षण करते थे बल्कि यहां तक की उनके बांधने की रस्सी जिसे गेंरुआ कहा जाता है तथा उनके चारा प्राप्त करने के पात्र अर्थात कोटना का भी निरीक्षण करते थे जिससे उनकी आर्थिक स्थिति का वे अनुमान लगा लिया करते थे।

राजेश्री महन्त महाराज जांजगीर-चांपा जिले के बलौदा विकासखंड के पहरिया में स्थित चांदी पहाड़ के गौशाला का निरीक्षण करने के लिए उपस्थित हुए थे उन्होंने गौशाला का भली-भांति निरीक्षण किया और पहाड़ के ऊपर बड़ी संख्या में निवासरत गौ माताओं के लिए चारा, पानी, बिजली की व्यवस्था का जायजा लिया।

विश्रामगृह बलौदा में उन्होंने जनप्रतिनिधियों, विशिष्ट जनों एवं अधिकारियों से भेंट मुलाकात कर चर्चाएं की। उनके साथ कार्यक्रम में विशेष रुप से क्षेत्र के कांग्रेस कार्यकर्ता एवं जनप्रतिनिधि कन्हैया राठौर, जनपद सदस्य कमलेश, त्यागी महाराज, रामनारायण मोदी, मनोज मित्तल , मणिकांत अग्रवाल, नगर पंचायत बलौदा के अध्यक्ष ललिता पाटले, बलौदा ब्लाक सरपंच संघ के अध्यक्ष रमाकांत साहू, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष गोविंद देवांगन, जनपद सदस्य नीलिमा साहू, नजीर खान, त्रुहन महंत, रंजन सिंह, अरविंद मिश्रा, कृष्णकांत अग्रवाल, गांव के सरपंच सुलीता  कुर्रे, तथा छत्तीसगढ़ प्रशासन के अधिकारी डिप्टी कलेक्टर करुन डहरिया, उप संचालक पशु चिकित्सा डॉक्टर पटेल, तहसीलदार मिश्रा , स्थानीय पटवारी तथा डॉ चंदन सहित अनेक गणमान्य जन एवं पुलिस प्रशासन के लोग उपस्थित थे।
 


27-Oct-2020 5:28 PM 26

हनुमान और शमी वृक्ष की हुई विशेष पूजा 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 27 अक्टूबर।
चित्रोत्पला गंगा के तट पर स्थित भगवान शिवरीनारायण की पावन धरा में गद्दी महोत्सव का पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। महामंडलेश्वर राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास महाराज अध्यक्ष राज्य गौ सेवा आयोग भी शिवरीनारायण पहुंचे।  भव्य शोभायात्रा के साथ जनकपुर के लिए रवाना हुआ जिसमें बीरदावली बाजे के साथ मठ मंदिर के शौर्य प्रदर्शक अपने पुरुषार्थ का प्रदर्शन करते हुए शोभा यात्रा मेला ग्राउंड होते हुए जनकपुर पहुंचा। यहां सबसे पहले शमी वृक्ष की पूजा अर्चना की गई। जनकपुर में विराजित भगवान हनुमान जी की विशेष पूजा अर्चना की गई। लोगों ने एक दूसरे को सोन पत्ती भेंट करके दशहरे की शुभकामनाएं दी। शोभायात्रा वापस मठ मंदिर पहुंचा, शिवरीनारायण मठ के राजपुरोहि राजू शर्मा ने मंत्रोच्चार के साथ राजेश्री महन्त महाराज को गद्दी महोत्सव स्थल तक लाया, यहां वैदिक रीति से मंत्रोच्चार के साथ हवन का कार्यक्रम संपन्न हुआ तत्पश्चात गद्दी स्थल की सात परिक्रमा की गई भगवान शिवरीनारायण को नमन एवं उनका स्मरण करते हुए राजेश्री महन्त महाराज पीठाधीश्वर श्री शिवरीनारायण मठ गद्दी पर विराजित हुए। 
गद्दी महोत्सव कार्यक्रम में विशेष रुप से ज्ञान दास नागा, कमलेश सिह, निरंजन लाल अग्रवाल, पत्रकार संतोष अग्रवाल, राधेश्याम शर्मा, देवा लाल सोनी, एल्डरमैन राम चरण कर्ष, उदय राम केवट, पार्षद पिंटू भट्ट, प्रमोद सिंह, पुरेंद्र सोनी, संदीप अग्रवाल, पुनी राम केसरवानी सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे।
 


23-Oct-2020 5:22 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 23 अक्टूबर।
शिवरीनारायण मठ में गद्दी महोत्सव का 25 अक्टूबर को होगा। 

शिवरीनारायण मठ मंदिर में प्रतिवर्ष विजयादशमी के अवसर पर आयोजित होने वाला गद्दी महोत्सव 25 अक्टूबर दिन रविवार को सांध्य कालीन बेला में संपन्न होगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार गद्दी महोत्सव की तैयारी प्रारंभ हो गई है। राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास महाराज पीठाधीश्वर श्री शिवरीनारायण मठ, विजयदशमी पर रायपुर से अपरान्ह 3 बजे प्रस्थान करके शाम 5 बजे शिवरीनारायण पहुंचेंगे यहां शिवरीनारायण मठ से शाम 5.30 बजे भव्य शोभायात्रा मेला ग्राउंड स्थित जोगीडीपा जिसे जनकपुरी के नाम से भी जाना जाता है के लिए निकाली जावेगी, यहां पहुंचकर अध्यात्मिक कार्यक्रम संपन्न होने के पश्चात यह शोभायात्रा पुन: शिवरीनारायण मठ वापस होगा। यहां पर विधि पूर्वक गद्दी महोत्सव का कार्यक्रम संपन्न होगा। 

उल्लेखनीय है कि शिवरीनारायण मठ मंदिर में वर्ष में दो बार गद्दी महोत्सव का आयोजन परंपरागत रूप से होता है। एक माघ शुक्ल पक्ष त्रयोदशी को तथा दूसरा दशहरा के उपलक्ष में विजयादशमी को। इस वर्ष विजयदशमी के उपलक्ष में आयोजित होने वाला गद्दी महोत्सव 25 अक्टूबर दिन रविवार को संपन्न होगा। गद्दी महोत्सव को सफल बनाने के तैयारी में शिवरीनारायण मठ मंदिर के मुख्तियार सुखराम दास, जगदीश मंदिर के पुजारी त्यागी महाराज सहित मठ मंदिर के सभी ट्रस्टी एवं अधिकारी, कर्मचारी, विद्यार्थी गण लगे हुए हैं।
 


16-Oct-2020 5:13 PM 7

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण/खरसिया, 16 अक्टूबर।
गौ माता की सेवा तो श्री शिवरीनारायण मठ और श्री दूधाधारी मठ में पहले भी कर रहा था, जहां प्राचीन से अति प्राचीन गौशालायें संचालित है जिसका हमने जीर्णोद्धार करके विधिवत रूप से संचालित किया है।। वहां एक-दो नहीं बल्कि 18 से अधिक गौशालायें हैं। जिसका संचालन हम परंपरागत रूप से करते आरहे हैं यह बातें राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री श्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास महाराज ने जिला रायगढ़ के गौशाला निरीक्षण के प्रवास के दौरान अभिव्यक्त की।

विदित हो कि राजेश्री महन्त महाराज 15 अक्टूबर को रायगढ़ जिला के विकासखंड बरमकेला एवं खरसिया अंतर्गत स्थित क्रमश: स्वामी शिवानंद गौ सेवा शिक्षण समिति भीखमपुरा एवं आचार्य श्री गौशाला जीव रक्षा संस्थान बैसपाली में संचालित गौशालाओं के निरीक्षण के लिए उपस्थित हुए। इस दौरान महन्त महाराज ने कहा कि श्री दूधाधारी मठ एवं शिवरीनारायण मठ में परंपरागत रूप से गौशाला संचालित हैं यहां प्रत्येक गौशाला में दो सौ से लेकर ढाई हजार तक गौमातायें निवासरत हैं, जिनकी सेवा हम परंपरागत रूप से करते आ रहे हैं। राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के पश्चात मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गौ माता की सेवा के क्षेत्र में विस्तार करने को कहा और मुझे राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी प्रदान की। पहले मठ मंदिरों के गौशालाओं की जिम्मेदारी का निर्वाह कर रहा था किंतु अब छत्तीसगढ़ राज्य के कोने-कोने में संचालित गौशालाओं, गौ माताओं एवं गौ वंशीयों  की सेवा की जिम्मेदारी का निर्वाह कर रहा हूं। 

रायगढ़ प्रवास के दौरान जिला महासमुंद से पार होते हुए बसना सर्किट हाउस में कुछ समय के लिए राजेश्री महन्त रुके थे जहां स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने उनसे भेंट मुलाकात कर चर्चाएं की। इन कार्यक्रमों में विशेष रुप से महन्त रामप्रिय दास, जगन्नाथ पाणिग्रही, घनश्याम मनहर, नीरज पटेल, राधे लाल राठिया, नंदकिशोर राठौर, किशन राठौर, कन्हैया पटेल, महादेव अग्रवाल, बृजेश तिवारी, नरेश पटेल, इश्तियाक खैरानी अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी बसना, मनजीत सिंह सलूजा विधायक प्रतिनिधि, दुकली बाई तांडी प्रदेश उपाध्यक्ष महिला कांग्रेस, तौकीर दानी, तनवीर सइस, खालिद दानी, गौतम बंजारा, रज्जू छाबड़ा, सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे। इस दौरे में राजेश्री महन्त महाराज के साथ एल्डरमैन पूर्णेन्द तिवारी, जनपद सदस्य कमलेश सिंह, राम तीरथ दास विशेष रूप से उपस्थित थे।
 


15-Oct-2020 5:31 PM 7

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 15 अक्टूबर।
राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास महाराज पीठाधीश्वर श्री दूधाधारी मठ रायपुर ने 14 अक्टूबर को बालोद जिले में गौशाला का निरीक्षण किया। इस दौरान वे पाटेश्वर धाम जामडी धाम में आयोजित मानस यज्ञ में सम्मिलित हुए। महनत महाराज अपने निर्धारित कार्यक्रम के तहत पाटेश्वर धाम विकास खंड डौंडीलोहारा जिला बालोद पहुंचे थे। यहां पर पुरुषोत्तम मास में 1 महीने से निरंतर चल रहे मानस यज्ञ में भी वह शामिल हुए। आयोजन समिति ने उनका अभिनंदन किया। 

महन्त महाराज ने कहा कि जीव चाहे तो जितना भी प्रयत्न कर ले किंतु भव सागर से पार जाने के लिए उसे राम के नाम का सहारा लेना ही पड़ेगा, इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता है ही नहीं। उन्होंने पाटेश्वर धाम में संचालित गौशाला का निरीक्षण किया। महन्त महाराज राज्य की मंत्री महिला एवं बाल विकास विभाग के यहां शोक संतप्त परिवार को सांत्वना प्रदान करने के लिए भी उपस्थित हुए। कार्यक्रम में तहसीलदार टीडी देवांगन, पाटेश्वर धाम से महन्त रामजानकी दास महत्यागी, संचालक बाल योगी रामबालक दास महाराज, कथाकार पूर्णेन्दु शास्त्री, जयेत सिंह, प्रवक्ता यज्ञ देव, प्रेमचंद छीर सागर, शंभू साहू, धीरज उपाध्याय तथा गौ सेवा आयोग व पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।
 


14-Oct-2020 5:52 PM 6

राज्य गौ सेवा आयोग अध्यक्ष ने किया गौशालाओं का निरीक्षण

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
शिवरीनारायण, 14 अक्टूबर।
प्रत्येक परिवार में पहले जितने लोग होते थे प्राय: उससे ज्यादा उनके पास गौ माताएं और उसके वंशज हुआ करते थे लोग स्वस्थ और दीर्घायु होते थे। गौमाता का शुद्ध दूध,घी, दही, मक्खन उन्हें प्राप्त होता था किंतु अब इसमें कमी आई है यह बातें राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री डॉ. महन्त रामसुन्दर दास महाराज पीठाधीश्वर श्री दूधाधारी मठ रायपुर ने गौशाला निरीक्षण के दौरान अभिव्यक्त की।

विदित हो कि महन्त महाराज 13 अक्टूबर को जिला बिलासपुर एवं मुंगेली के गौशालाओं के निरीक्षण के लिए पहुंचे थे। सबसे पहले रायपुर से रवाना होकर जिला बिलासपुर के विकासखंड मस्तूरी के अंतर्गत स्थित ग्राम गतौरा के मां भुवनेश्वरी देवी गौशाला समिति द्वारा संचालित गौशाला का तथा उसके पश्चात जिला मुंगेली के विकासखंड लोरमी के अंतर्गत स्थित ग्राम मलकछरी में स्थित राम तुलसी राधे गौशाला का निरीक्षण किया।

राजेश्री महन्त महाराज ने कहा कि समय के साथ-साथ लोगों के विचार में भी परिवर्तन आया है लोग अपने लिए दो- तीन मंजिल का भवन बना लेते हैं लेकिन गौ माता के लिए एक कमरे का गौशाला नहीं बना पाते। हम सबको अपने प्राचीन परंपरा की ओर आगे जाना है।  

राजेश्री महन्त जी महाराज ने बिलासपुर स्थित ब्रह्म बाबा मंदिर लाल खदान में दर्शन पूजन किया तथा मुंगेली के विश्राम गृह में जनप्रतिनिधियों एवं विशिष्ट जनों से भेंट मुलाकात की। कार्यक्रमों में सरपंच सुरेश कुमार राठौर, जनपद पंचायत मस्तूरी के अध्यक्ष प्रतिनिधि राम नारायण राठौर, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी मस्तूरी के अध्यक्ष विनोद शर्मा, मनोहर कुर्रे,  अयोध्या पांडे, देव चंद्राकर,  उमेंद्र कुर्रे, संतोष भोई, संयुक्त संचालक सोनवाने जी, रमाकांत पांडे, दुर्गा तिवारी, देव सिंह पोर्ते, जनपद सदस्य कमलेश सिंह, राम तीरथ दास, सागर सिंह बैस जिला अध्यक्ष कांग्रेस कमेटी मुंगेली, मीना नरेश पाटले जनपद अध्यक्ष लोरमी, माया रानी सिंह, लखन कश्यप, शोभा कश्यप, विद्यानंद चंद्रा, जाकिर खान, पुरुषोत्तम मार्को, सुरेश दास, लखन कश्यप, मनमोहन दास वैष्णव, प्रकाश वैष्णव तथा गौ सेवा आयोग, पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारी कर्मचारी एवं पुलिस प्रशासन के लोग बड़ी संख्या में उपस्थित थे। महन्त महाराज ब्लॉक कांग्रेस कमेटी लोरमी द्वारा आयोजित किसान मजदूर न्याय पद यात्रा कार्यक्रम में भी सम्मिलित हुए।