छत्तीसगढ़ » कोरबा

Posted Date : 15-Jan-2019
  • कोरबा, 15 जनवरी। चार दिनों से लापता बुजुर्ग की लाश को भंैस चरा रहे स्थानीय चरवाहे ने देखा तो इसकी जानकारी लोगों को दी। खबर पाकर तत्काल लोगों ने गुम हुए बुजुर्ग के शक पर उनके परिजनों को इसकी सूचना दी। बुजुर्ग के पुत्र सूरज कुमार ने बताया कि उनके पिता को मिर्गी का दौरा पड़ता था।

    कुसमुंडा विकास नगर में निवासरत प्यारे लाल ठाकुर (65) चार दिन पहले 10 जनवरी को सुबह 10 बजे घर से ही गायब हो गए थे। गुमशुदगी से परेशान परिजन पिछले चार दिनों से उन्हें अपने क्षेत्र सहित आसपास के जिलों में ढूंढ रहे थे,चूंकि गेवरा स्टेशन होने के कारण उन्हें शक था कि ट्रेन में बैठ कर दूसरे जिले में न चले गए हो। चार दिनों बाद सोमवार को भंैस चरा रहे स्थानीय चरवाहे की नजर लाश पर पड़ी तो अपनी भैसों को छोड़कर वहां से भागकर कुछ लोगों को इसकी जानकारी दी। खबर पाकर तत्काल उन्होंने गुम हुए बुजुर्ग के शक पर उनके परिजनों को इसकी सूचना दी। परिजन व मुहल्ले वाले सूचना पाकर घटनास्थल पर पहुँचे तो उन्हें पहचाने में देर नहीं लगी। आमजनों से कुसमुंडा पुलिस को इसकी सूचना दी। थाना प्रभारी विजय चेलक भी फौरन थाना स्टाफ सहित घटना स्थल पर पहुँचे। मंगलवार को शव को पोस्टमाटर्म के लिए भेजा गया। 

  •  

Posted Date : 15-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    कोरबा, 15 जनवरी। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 111 पर पाली थाना क्षेत्र में ग्राम मुनगाडीह के पास ट्रक ने बाइक को ठोकर मार दिया। बाइक चालक की मौत हो गई। दो सगे भाइयों को गंभीर चोटें आई हैं। घायलों को प्राथमिक इलाज के बाद सिम्स रेफर किया गया है। घटना से आक्रोशित लोगों ने हाइवे को एक घंटा तक जाम किया।
    घटना सोमवार शाम करीब 4.15 बजे हुई। बाइक सीजी 12 एजे 0479 पर बैठकर तीन युवक घर लौट रहे थे। इसमें रमेश प्रजापति, रामलाल और रामनाथ शामिल थे। हाइवे पर ग्राम मुनगाडीह के पास बाइक को विपरित दिशा आ रहे ट्रक सीजी 15 डीबी 8999 ने ठोकर मार दिया। बाइक चालक रमेश प्रजापति और एक अन्य युवक सड़क पर गिरे। तीसरा सड़क से दूर फेंका गया। रमेश ट्रक के पहिया से दब गया। उसकी मौत हो गई। सगे भाई रामलाल और रामनाथ को गंभीर चोटें आई। घायलों को प्राथमिक इलाज के लिए पाली के सरकारी अस्पताल में भर्ती किया गया। उनकी गंभीर स्थिति को देखकर डॉक्टर ने बिलासपुर सिम्स रेफर किया। 
    मृतक रमेश बिलासपुर जिले के तखतपुर ग्राम अमोरा का निवासी था। अपने ससुराल मुनगाडीह में रहकर हाइवे पर स्थित शेर ए पंजाब ढाबा में काम करता था। रामनाथ और रामलाल भी पंजाब ढाबा में करते थे। सोमवार को काम खत्म होने के बाद बाइक से घर लौट रहे थे। घायल युवक ग्राम मुनगाडीह के पास स्थित खैराडूबान के निवासी हैं। 
    ग्रामीणों ने किया हाइवे जाम
    बाइक को ठोकर मारने के बाद चालक ट्रक छोड़कर मौके से फरार हो गया। सड़क हादसे में रमेश के मौत की खबर सुनकर ग्रामीण आक्रोशित हो गए। सोमवार शाम करीब 4.30 बजे घटना स्थल पहुंचकर हाइवे को जाम कर दिया।

     

     

     

  •  

Posted Date : 14-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बैकुंठपुर 14 जनवरी। सड़क पर मोटर व्हीकल एक्ट के नियमों का पालन न करते हुए कई लोगों के द्वारा सड़क पर वाहन चलाते है। समय समय पर यातायात पुलिस के द्वारा विभिन्न जगहों पर जांच अभियान चलाया जाता है तब नियम विरूद्ध चलने वाले लोगों के विरूद्ध यातायात पुलिस चालानी कार्यवाही करती है। जिसके बाद कई लोगों के द्वारा अपनी पहुंच का फायदा उठाकर पैरवी कराना शुरू कर देते है। नव निर्वाचित बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव ने युवाओं और बाइक चालकों से अपील की है कि आवश्यक कागजात और बिना हेलमेट वाहन ना चलाएं, ऐसे वाहन चालक जांच के दौरान पकड़े जाते है तो वो किसी की पैरवी नहीं करेगी। 
    जानकारी के अनुसार क्षेत्रीय विधायक अंबिका सिंहदेव ने आम लोगों से अपील की है कि सडक पर वाहन चलाते समय मोटर व्हीकल एक्ट तथा शासन के निर्देश का पालन करते हुए नियम पूर्वक वाहन सडक पर चलाये। उन्होने कहा कि इससे जांच के दौरान किसी प्रकार की परेशानी नही होगी। नियम विरूद्ध रूप से चलने पर पुलिस अपनी कार्यवाही करेगी लेकिन नियम तोडने के बाद पहुंच का फायदा उठाकर जांच व चालानी कार्यवाही से बचने से स्वयं को बचना चाहिए। उन्होनें कहा कि दो पहिया वाहन चालकों को सुरक्षा की दृष्टि से हेलमेट लगाकर ही वाहन सडक पर चलाना चाहिए जो सिर में लगने वाली गंभीर चोटों से हमारी रक्षा करता है। सडक दुर्घटना में मौत का कारण सिर में गंभीर चोट बनती है ऐसे में सभी को अपनी सुरक्षा के लिए दो पहिया वाहन चालन के दौरान हेमलेट अनिवार्य रूप से पहने साथ ही आवश्यक कागजात लेकर चले। वही चार पहिया वाहन चालकों को सुरक्षा के लिहाज से सीट बेल्ट लगाकर ही चलने की हिदायत क्षेत्रीय विधायक ने दी। गौरतलब है कि पकडे जाने पर ज्यादा मौकों पर यह देखा गया है कि हमेशा नेताओं के दबाव के चलते मजबूरी में पुलिस को बिना चालान किये ही वाहन को छोडना पडता है। इस घटना से सबक नही ली जाती बल्कि यह मानकर चला जाता है कि उनकी उपर तक पहुंच है उनकी गाडी का चालान नही कट सकता। इस तरह से अपनी पहुंच का फायदा उठाकर कई लोगों के द्वारा मोटर व्हीकल एक्ट का लगातार अवहेलना कर सड़कों पर वाहन दौडाते है जबकि नियमों का पालन करना सबके लिए अनिवार्य होता है।

  •  

Posted Date : 14-Jan-2019
  • डीएमएफ से सबसे ज्यादा काम कृषि विभाग को मिले  
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बैकुंठपुर, 14 जनवरी। कृषि विभाग द्वारा बिना किसी टेंडर के मनमर्जी किसानों के घर पहुंच नलकूप खनन मामले में राज्य स्तर की जांच टीम आई और कृषि विभाग में वर्षो से जमे बाबूओं से मिलकर बिना जांच लौट गयी। दूसरी ओर डीएमएफ की राशि देने के मामले में कृषि विभाग पर जिला प्रशासन काफी मेहरबान रहा है, आचार संहिता लगने के पहले तक विभाग को 745 कार्य स्वीकृत किए गए जिसमें 206 कार्य पूर्ण हुए जबकि इसके लिए 10 करोड़ से ज्यादा की राशि स्वीकृत की गई। अब विभाग के कार्यो की जांच की मांग उठने लगी है।
    इस संबंध में भरतपुर सोनहत विधायक गुलाब कमरो का कहना है कि मंैने तो विधानसभा में दिए अपने पहले उद्बोधन में ही कृषि विभाग में जारी भ्रष्टाचार को उल्लेख किया है। आचार संहिता के पहले स्वीकृत कार्यों की समीक्षा और किसानों को मिले लाभ का आंकलन किया जाएगा। भ्रष्टाचार के साथ कोई समझौता नहीं होगा। यदि किसी कार्य में जॉंच की मांॅग उठ रही है तो उसकी निष्पक्ष जॉंच कराई जायेगी तथा दोषियों के विरूद्ध नियमानुसार सख्त कार्यवाही भी की जायेगी।
     छत्तीसगढ की खबर के बाद रायपुर से कृषि विभाग की तीन सदस्यीय जांच दल बैकुंठपुर पहुंचा और बिना जांच सिर्फ कृषि विभाग के बाबूओं से मिलकर लौट गया, इधर,  जिला प्रशासन ने किसी भी तरह के जांच के आदेश अभी तक नहीं दिए है। बताया जाता है कि नि:शुल्क वितरण विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर किया गया था। दरअसल, जिला प्रशासन ने डीएमएफ की राशि कृषि विभाग को किसानों को फायदा पहुंचाने के लिए राशि दी उसका लाभ किसानों को बहुत कम और ठेकेदारों को ज्यादा हुआ। 
    वर्तमान प्रशासन ने सबसे ज्यादा कार्यो की स्वीकृति कृषि विभाग को प्रदान की है। सिर्फ 3 करोड 62 लाख रू सामूहिक नलकूप खनन के लिए डीएमएफ की राशि स्वीकृत की गई, इससे किसानों को कम पसंदीदा ठेकेदारों को सीधा लाभ पहुंचाया गया है, किसानों से नि:शुल्क के नाम पर 15 हजार रू की अलग वसूली की गई है। स्वीकृत नलकूप खनन में बैकुंठपुर के 43 किसानों के लिए 58 लाख, जिसमें 35 किसानों के नलकूप खनन का कार्य पूर्ण कर लिया गया, उसके बाद बैकुंठपुर के रटगा मेें 21 किसानों के लिए 26 लाख, खडगवां के 48 किसानों के लिए 62 लाख, वहीं विधायक आदर्श ग्राम में प्रगतिशील 58 किसानों के लिए सामूहिक नलकूप खनन के लिए 79 लाख रू, एफआरए देवखोल में 35 किसानों के लिए 35 लाख रू, एफआरए मदनपुर में 42 किसानों के लिए 42 लाख रू, एफआरए अंतर्गत 52 किसानों के लिए 52 लाख रू, बैकुंठपुर में तेंदुआ में 6 किसानों के लिए 8 लाख रू स्वीकृत किए गए। 
     7 करोड़ से ज्यादा बांटे
     किसानों के नाम नि:शुल्क वितरण में डीएमएफ की राशि की  धांधली सामने आई  है। करोड़ों के कार्य बिना टेंडर विभागीय करने की अनुमति प्रदान की गई। चहेते सप्लायर और ठेकेदारोंं को  काम बांटा गया। वर्तमान प्रशासन ने सबसे पहले 2017 में विभाग को रमतील बिज वितरण के लिए 26 लाख रू दिए गए, बीज सितंबर माह मे पहुंचे तब तक सीजन निकल चुका था कई किसानों ने बताया कि उन्हें किसी भी तरह का बीज नहीं मिला है। इसके बाद 1000 वन पट्टा धारियों को स्प्रिंकलर वितरण करने के नाम पर 2 करोड रू, लघु सीमांत 1477 कृषकों को स्प्रिंकलर के लिए 67 लाख, आदर्श ग्राम बुढार में वर्मी कम्पोस्ट टांका के लिए 84 लाख रू, हस्त चलिक उडावनी पंखा के लिए 32 लाख रू, हस्त चलित स्प्रिंकलर वितरण के लिए 12.50 लाख रू, वहीं मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला को दो बार राशि दी गई। इसके बाद तत्कालीन कलेक्टर एस प्रकाश ने 5 लाख 17  हजार दिए थे, वर्तमान प्रशासन ने फिर 5 लाख 85 हजार दे डाले, इसके लिए यहां जल आपूर्ति के लिए 1 लाख 51 हजार अलग दिए। इसके अलावा शाकंभरी योजना के नाम पर डीएमएफ से विद्युत और डीजल पंप के नाम पर 66 लाख रू और स्वीकृत,  रीपर, टिलर, थ्रेसर कई कृषि यंत्र के वितरण के लिए 31 लाख रू स्वीकृत, वहीं डीडी निर्माण विकास मनेन्द्रगढ़ में 48 नग आई डब्ल्यू एमपी के लिए 14 लाख 87 हजार रू स्वीकृत किए गए। अभी तक 7 करोड़ 5 लाख रू कृषि विभाग को दे दिए गए है। 
    डीएमएफ से धान प्रदर्शन
    केन्द्र सरकार द्वारा कृषि विभाग की आत्मा योजना के तहत किसानों को प्रदर्शन के लिए काफी राशि दी जाती है, बावजूद इसके डीएमएफ से बैगा जनजाति के किसानों के लिए हाईब्रीड धान प्रदर्शन के लिए 17 लाख रू से ज्यादा की स्वीकृति की गई। जिले के कृषि ही नहीं ज्यादातर विभाग विभागीय योजना पर कम डीएमएफ से मिल रही राशि पर काम कर रहे हैं।  

     

  •  

Posted Date : 14-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    कोरबा, 13 जनवरी। कल शाम करीब 7 बजे कुसमुंडा थाने के देसी शराब दूकान के पास तेज रफ़्तार ट्रेलर की चपेट में आकर हुई मौत के दूसरे दिन रविवार को मृतक के गांव के लोगों ने धरना-प्रदर्शन करते हुए सड़क जाम कर दिया। गुस्साए परिजनों  व ग्रामीणों की मांग थी कि मृतक की पत्नी को शासन की तरफ से एक लाख की सहायता राशि सौंपी जाये, साथ ही आरोपी ट्रेलर चालक की भी गिरफ्तारी हो। तहसीलदार के आश्वासन पर जाम खत्म किया गया।
      शनिवार को हुए हादसे से आक्रोशित सभी ग्रामीण खैरभवना के थे, जिन्होंने मुआवजे की मांग को लेकर चक्काजाम कर दिया। देखते ही देखते सड़क के दोनों ओर गाडिय़ों का पूरा काफिला नजर आने लगा। इसकी खबर मिलते ही दीपका और कुसमुंडा के प्रभारी सदल बल मौके के लिए रवाना हुए। इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी कटघोरा तहसीलदार को भी दी गई। लिहाजा वह भी हालात को काबू करने चक्काजाम वाली जगह पर पहुंचे।
    गुस्साए परिजन लगातार नारेबाजी कर रहे थे। उनकी मांग थी कि मृतक राधे लाल की पत्नी को शासन की तरफ से सहायता राशि सौंपी जाये। साथ ही आरोपी ट्रेलर चालक की भी गिरफ्तारी सुनिश्चित हो। कुसमुंडा के विकासनगर शिवमंदिर चौक के पास लगे इस जाम को खुलवाने परिजनों को लगातार समझाइश दी गई, लेकिन वे अपनी मांगों पर अड़े रहे। स्वयं तहसीलदार ने उन्हें आश्वस्त किया कि शासन की तरफ से उन्हें पूरा सहयोग हासिल होगा, लेकिन वे नहीं माने। 
    आखिर में दुर्घटनाकारित ट्रेलर के मालिक और शासन की तरफ से 25-25 हजार मुआवजा राशि देने की बात कही गई, लेकिन परिजन एक लाख की सहायता राशि की मांग पर अड़े रहे। आखिर में तहसीलदार ने उन्हें आश्वस्त किया। जिसके बाद परिजनों ने सड़क खाली किया। बताया गया कि कुल एक लाख की राशि मृतक की पत्नी छतबाई को सौंपी जाएगी।
    दरअसल शनिवार शाम पुरैना गाँव से बार कार्यक्रम से लौट रहे बाइक सवार दंपत्ति को एक तेज रफ़्तार ट्रेलर ने चपेट में ले लिया था। 
    इस हादसे में पत्नी और मासूम की जान बच गई, लेकिन बाइक चला रहे राधेलाल की जान चली गई। पुलिस ने क़ानून व्यवस्था की हालात को भांपते हुए तत्काल ही शव को बरामद कर स्थानीय अस्पताल भेज दिया। लेकिन रविवार सुबह खैरभावना के करीब सौ ग्रामीणों ने भारी भरकम मुआवजे की मांग करते हुए यातयात पूरी तरह ठप कर दिया।
     कुसमुंडा थाना प्रभारी विजय चेलक और दीपका के प्रभारी सनत सोनवानी के साथ ही कटघोरा तहसीलदार करीब 3 घंटे के इस जाम को खुलवाने में कामयाब रहे। इस दौरान मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई थी। चक्काजाम खत्म होने के बाद स्थानीय विधायक पुरषोत्तम कंवर भी घटनास्थल पर पहुंचे और मृतक के परिजनों से बातचीत करते हुए उन्हें हरसंभव मदद दिलाये जाने की बात कही।

     

     

  •  

Posted Date : 12-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    धमतरी, 12 जनवरी। समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के तहत जिले के सभी 84 धान उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी का कार्य अंतिम चरण की ओर अग्रसर है। धान उपार्जन व्यवस्था में कोचियों और बिचौलियों द्वारा अनुचित लाभ लिए जाने की संभावना को ध्यान में रख जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न स्तरों पर निगरानी कर कार्रवाई की है। 
    कलेक्टर डॉ. सीआर प्रसन्ना के निर्देश पर जिले के सभी कृषि उपज मंडी समितियों द्वारा खाद्य विभाग के अधिकारियों के साथ अलग-अलग स्थानों पर अवैध धान का व्यापार करने वालों के विरूद्ध 79 प्रकरण निर्मित कर कार्रवाई की गई है। खाद्य अधिकारी ने बताया कि विगत वर्षों की तुलना में अधिक खरीदी करने वाले केन्द्रों में नोडल अधिकारियों तथा जिले के सभी उपार्जन केन्द्रों में ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों एवं सहायक कृषि विस्तार अधिकारियों को संबंधित केन्द्रों द्वारा जारी टोकनों के रैण्डम भौतिक सत्यापन करने के लिए निर्देशित किया गया।
     इसी कड़ी में जिले के सिंगपुर उपार्जन केन्द्र में नोडल अधिकारी एवं खाद्य निरीक्षक मगरलोड द्वारा 6 किसानों को जारी टोकनों का भौतिक सत्यापन करने पर केवल एक किसान का टोकन अनुसार सही मात्रा में धान विक्रय के लिए संग्रहित पाया गया तथा शेष पांच किसानों के पास जारी टोकन की तुलना में धान की कम मात्रा पाई गई। जिले के सभी उपार्जन केन्द्रों के प्रभारियों को खरीदी की अंतिम तिथि तथा सभी निर्देशों का पालन करते हुए पूरी सजगता के साथ धान खरीदी करने के लिए कहा गया। बताया गया है कि किसी भी उपार्जन केन्द्र में नियम विरूद्ध खरीदी कार्य पाए जाने पर संबंधित के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

     

     

     

  •  

Posted Date : 10-Jan-2019
  • कोरबा, 10 जनवरी। दरी थाना क्षेत्र के श्याम नगर निवासी संजू कश्यप की मंगलवार की रात घर पर संदिग्ध मौत हो गई। बुधवार की दोपहर परिजन उसके अंतिम संस्कार की तैयारी में जुटे थे इस बीच पुलिस को मुखबिर से उसकी हत्या के जाने की सूचना मिली। दरी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर अंतिम संस्कार की कार्यवाही रुकवा दिया। लाश को देखने पर उसके शरीर पर चोट के निशान देखे जिस पर पुलिस को भी हत्या का संदेह हुआ। 

    पुलिस ने मृतक की पत्नी से पूछताछ किया तो उसने गोलमोल जानकारी दी। कई बार वहां अपने बयान से पलटती रही। जिस पर पुलिस को उस पर हत्या के जाने का शक हो गया पुलिस ने मामले में मर्ग काम करते हुए जांच पड़ताल शुरू कर दी है। मृतक की लाश का पोस्टमार्टम करा लिया गया है वहीं संदेही पत्नी को हिरासत में लेकर उससे इस संबंध में पूछताछ की जा रही है। 
    मृतक युवक 1 सप्ताह पूर्व अपनी पत्नी व मां से झगड़ा कर शराब के नशे में अपने आप को कमरे में बंद कर फांसी फंदे पर झूल था लेकिन जैसे इसकी भनक डायल 112 के कर्मियों को लगी तो मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने सूझबूझ का परिचय दिखाते हुए संजीव को बचाया था।

  •  

Posted Date : 10-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    कोरबा, 10 जनवरी। बारह दिन पहले शहर में घुसे चार हाथियों के दल से अलग हुए हाथी ने सरगुजा संभाग में 5 दिनों के भीतर 6 लोगों को मार दिया। इसके बाद वन विभाग ने सभी वन परिक्षेत्रों में अलर्ट जारी कर दिया है।
     वन परिक्षेत्र करतला व कुदमुरा में अभी दो हाथी घूम रहे हैं। इसके पीछे ट्रैकिंग दल को लगा दिया गया है। रात के समय गांव के आसपास आग जलाने के साथ ही ग्रामीणों को घर से बाहर नहीं निकलने मुनादी कराई जा रही है। वन अमले को सतर्क किया गया है। अभी वनमंडल में दो दंतैल हाथी हैं। एक हाथी करतला व दूसरा कुदमुरा परिक्षेत्र में घूम रहा है। इसकी ट्रैकिंग के लिए टीम को रवाना की गई है।
    सूरजपुर में चार लोगों को मारने वाला हाथी सरगुजा व कटघोरा वनमंडल के बार्डर में पहुंच गया है। आशंका जताई जा रही है कि दंतैल फिर से वापस आ सकता है। हाथी जिस रास्ते से जाते हैं, उसी रास्ते से वापस भी लौटते हैं। अभी कटघोरा में 35 हाथियों का दल है, जिसमें वह शामिल हो सकता है। साथ ही तीन हाथी धरमजयगढ़ की ओर चले गए हैं। उसमें भी मिलने के लिए आ सकता है। इसकी वजह से भी सतर्कता बढ़ा दी गई है। पहले इसी दल में हाथी शामिल था ।
    ट्रंकुलाइज टीम को लगाया
    सरगुजा से ही ट्रंकुलाइज टीम को भी दंतैल के पीछे लगा दिया गया है ताकि समय देखकर उसे बेहोश किया जा सके। हालांकि टीम दो दिनों से उसके पीछे घूम रही है लेकिन सफलता नहीं मिल रही है।
    वन अमला ने निगरानी बढ़ाई
    डीएफओ एस वेंकटाचलम ने बताया कि सूरजपुर में घटना के बाद दंतैल हाथी कटघोरा के बार्डर में पहुंच गया है। सभी परिक्षेत्रों के वन अमले को अलर्ट जारी कर दिया गया है कुदमुरा व करतला में भी ट्रैकिंग टीम रवाना की गई है।

  •  

Posted Date : 03-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    कोरबा, 3 जनवरी।  कुसमुंडा थाने से सम्बद्ध सर्वमंगला पुलिस सहायता केंद्र के पुलिसकर्मियों में उस वकति हड़कंप मच गया जब उन्हें चौकी भवन के ठीक पीछे एक नवजात के बोरे में बंद लाश की सूचना दी गयी । न  शव को बोरे में ढंककर रखा गया था। 
    आज दोपहर 12.30 बजे  पास ही मौजूद गार्डन का चौकीदार वहां लगे पानी टंकी के पास पहुंचा तो उसे एक बोरा नजर आया। पास जाकर उसने जब बोरे को खोला तो   बोरे के भीतर एक नवजार का शव रखा था।   शव की हालत देखकर कयास लगाया जा रहा है कि किसी ने नवजात को आज ही मौके पर छोड़ा है।

  •  

Posted Date : 03-Jan-2019
  • महिला नगरसैनिकों की राजस्व मंत्री से शिकायत
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    कोरबा, 3 जनवरी। बुधवार को जब छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व व आपदा प्रबंधन मंत्री जिले के सभी विभागों के आला अधिकारियो के साथ समीक्षा बैठक ले रहे थे. बैठक ख़त्म होने के बाद जैसे ही वह जिला पंचायत के सभागार से बाहर आये उन्हें बड़ी संख्या में वहां पहुंचे नगरसैनिक महिलाओ ने घेर लिया। उनकी शिकायत थी की उनसे उनका विभाग 24 घंटो की कड़ी ड्यूटी ले रहा है। ज्यादातर महिला नगरसैनिको की शिकायत थी कि नियुक्ति के कुछ वर्षो तक तो वह आठ घंटे तक ड्यूटी करते रहे लेकिन अब आलम ये है कि उन्हें अलग अलग छात्रावास और दूसरे आश्रमों में तैनात कर दिया गया है जहां उनसे पूरे 24 घंटे की ड्यूटी ले जा रही है। 
    पूरे दिन की इस ड्यूटी से उनका घर टूटने के कगार पर है. वह न ही अपने अपने बच्चो का पालन पोषण कर पा रहे है न ही परिवार में समय दे पा रहे है। कई होमगार्ड महिलाओ की शिकायत थी की उनके पति इन्ही वजहो से उनसे तलाक की भी मांग कर रहे हैं। होमगार्ड महिलाओं ने मंत्री से निवेदन किया कि उनके ड्यूटी टाइम को पहले की तरह ही आठ घंटे किया जाए. इस तरह वह अलग-अलग तीन पालियो में काम करने के लिए तैयार हैं।
     पूरे दिन की ड्यूटी से उन की पूरी दिनचर्या चरमरा चुकी है। उनके पास अपने निजी कामो के मलिए भी वक़्त नहीं बचता। इसके अलावा महिला सैनिकों ने मंत्री से खुद को नियमित किये जाने और वेतन में बढ़ोत्तरी जैसे मांगे भी रखी है। मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने उन्हें भरोसा दिया की वह सीएम के सामने इस मसले को रखेंगे और अधिकारियो से भी चर्चा करते हुए उनकी समस्याओ के निराकरण का प्रयास करेंगे।

  •  

Posted Date : 02-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    कोरबा, 1 जनवरी। एनटीपीसी निवासी अपने दोस्त के घर नए साल का जश्र मनाने गया युवक आधी रात को डांस करने के दौरान अचानक गिर पड़ा और उठ न सका। जिसकी हालत बिगड़ी समझकर उसके दोस्त जिला अस्पताल ले गए, वहां चिकित्सक ने उसे देखते ही मृत घोषित कर दिया।
    मिली जानकारी के अनुसार बालको नगर थाना अंतर्गत बेलगरी बस्ती निवासी अरुण कुमार यादव (24) पिता मनहरण यादव बालको प्लांट नियोजित ओल्टे कंपनी में काम करता था। उसी के साथ काम करने वाले सतीश कुमार राज निवासी एनटीपीसी के साथ उसकी दोस्ती थी। जिसके कारण दोनों दोस्तों का एक-दूसरे के घर हर तरह के होने वाले कार्यक्रमों में आना-जाना होते रहता था। कल 31 दिसंबर को सतीश कुमार के निवास स्थान पर एनटीपीसी में नए साल का जश्र मनाने के लिए पार्टी का विधिवत आयोजन किया गया था। जिसमें उसके द्वारा अरुण कुमार यादव को शामिल होने के लिए निमंत्रित किया गया था।
    बताया जाता है कि दोस्त द्वारा नए साल का जश्र मनाने के लिए आयोजित की गई पार्टी में निमंत्रण मिलने पर कल देर शाम अरुण भी वहां पहुंच गया था। नए साल के जश्र कार्यक्रम में खाने-पीने का दौर शुरू हुआ, इसी दौरान सभी दोस्त नए साल के आगमन के लिए और पुराने साल को विदा करने के लिए डीजे बजाए जाने पर डांस करने लगे। अरुण भी डांस करने लगा। अचानक डांस करने के दौरान रात्रि 12 बजे के लगभग अरुण गिर पड़ा। उसे उठाए जाने के लिए काफी प्रयास किया गया, लेकिन वह उठ न सका। जिसके कारण दोस्तों ने उसके परिजनों को सूचना देने के साथ ही उसे जिला अस्पताल पहुंचाया। यहां उसे देखते ही अपात कालीन ड्यूटी में पदस्थ चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया। अस्पताल के वार्ड ब्वाय से मिली सूचना पर अस्पताल चौकी पुलिस ने मर्ग कायम कर मृतक के शव को पीएम के लिए चीरघर भिजवा दिया।
     अस्पताल चौकी प्रभारी भेषदास महंत ने इस संबंध में जानकारी चाहने पर बताया कि मृतक की संदिग्ध मौत किन कारणों से हुई है इसका खुलासा विस्तृत पीएम रिपोर्ट मिलने पर ही हो सकेगा। फिलहाल इस मामले में विवेचना जारी है।

     

  •  

Posted Date : 31-Dec-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    कोरबा, 31 दिसंबर।  कलेक्टर जनदर्शन में आना  दिव्यांग मिलन, बजरंग और संतोष के लिये बहुत ही लाभदायक रहा। इन दिव्यांगो का अब तक का सफर भले ही सुख चैन से न गुजरा हो, लेकिन अब नये साल की शुरूआत के साथ ही घर से कही आने जाने की बनी परेशानी दूर हो जायेगी। अब इन्हें अपने आने जाने के लिये न ही किसी से मिन्नते करनी होगी, न ही किसी दूसरे पर निर्भर रहना पड़ेगा। कलेक्टर जनदर्शन में की गई फरियाद मिनटों में पूरा होने से इनके संघर्षों का सफर अब बहुत ही आसान हो जायेगा। आज जनदर्शन में आवेदन देने के बाद कुछ मिनट में ही प्रभारी कलेक्टर रणबीर शर्मा ने तीनों की मांग पूरी कर दी। 
    समाज कल्याण विभाग के माध्यम से जनदर्शन कक्ष के बाहर दिव्यांग मिलन कुमार, बजरंग दास और संतोष कुमार को लगभग 42 हजार रूपये कीमत वाली मोटराइज्ड ट्राईसिकल अपर कलेक्टर श्रीमती प्रियंका महोबिया, डिप्टी कलेक्टर कुमारी ममता यादव एवं उपसंचालक श्रीमती श्रद्धा मैथ्यू के हाथों नि:शुल्क प्रदान किया गया। मिनटों में ही अपनी फरियाद पूरी हो जाने से ये सभी दिव्यांग शासन का आभार मानते हुये हंसी खुशी के बीच अपने परिजनों के साथ घर लौटे। 
    अब स्कूल का सफर 
    होगा आसान- मिलन
    बचपन से ही दोनों पैरों से दिव्यांग मिलन कुमार के लिये आज का दिन बहुत ही शुभ और लाभदायक रहा। कल तक अपने घर से स्कूल जाने तक का सफर हो या कही घूमने फिरने की इच्छा, दिव्यांग मिलन को अपना हर फासला तय करने के लिये किसी दोस्त या परिचित का सहारा लेना पड़ता था। दोस्त या परिचित के आसपास नही होने पर मिलन के लिये हर छोटी सी दूरी लंबी हो जाती थी, क्योकि उसे अपने हाथों के बल जद्दोजेहद करते हुये हर सफर तय करना पड़ता था। आज साल के अंतिम दिन भले ही दिव्यांग मिलन को मोटराइज्ड ट्राइसिकल मिला हो, लेकिन उसके नये साल में खुशियों की शुरूआत हो गई है। उसने बताया कि उसके पिताजी मजदूरी करके घर परिवार का जीवन यापन चलाते है। इसलिये वह अपने आने जाने के लिये कोई साधन खरीद नही पा रहा था। जिससे उसे स्कूल, बाजार या दोस्तों के पास घूमने जाने में परेशानी होती थी। उसने बताया कि वह कक्षा 11 वी में पढ़ाई करता है। ग्राम चिकनीपाली से उसके स्कूल की दूरी चार किलोमीटर से अधिक है। ऐसे में नि:शुल्क मिली मोटराइज्ड ट्राईसिकल उसके लिये बहुत उपयोगी है। 
    बजरंग और संतोष के लिए भी 
    नया साल होगा खुशियों भरा
    कलेक्टर जनदर्शन में ग्राम पताढ़ी निवासी बजरंग दास और रजगामार निवासी संतोष कुमार की फरियाद भी पूरी हो गई। घर से लगभग दो किलोमीटर दूर फोटोकापी का काम करने वाला बजरंग दास एक पैर से दिव्यांग है। उसने बताया कि उसे उम्मीद नही थी कि आज ही मोटराइज्ड ट्राईसिकल मिल जायेगी। जनदर्शन में उसकी मांग पल भर में पूरा कर दिया गया यह बहुत ही खुशियां की बात है। दोनों पैर से  कुमार ने बताया कि उसके पास कोई भी ट्राईसिकल नही थी। इसलिये अपने भाई या किसी दूसरे के साथ आना जाना करता था। अब मोटराइज्ड ट्राईसिकल मिलने से उसका हर सफर आसान हो जायेगा।

     

     

     

  •  

Posted Date : 31-Dec-2018
  • पहाड़ी कोरवा पत्नी की मौत,पति घायल

    कोरबा, 31 दिसंबर। रूमगरा मार्ग पर एक लापरवाह ट्रेलर चालक ने वाहन चलाते हुए बाइक सवार पति पत्नी को अपनी चपेट में ले लिया।इस हादसे में महिला की मौके पर  मौत हो गयी। वही उसका पति घायल हो गया। बालको पुलिस ने आरोपी चालक को गिरफ्तार कर लिया है।
     सतरेंगा निवासी सुख सिंह पहाड़ी कोरवा और विनीता बाई पति पत्नी सोल्ड बाइक में बैंक के काम से कोरबा आये हुए थे।जहां से अपना काम निपटारा पश्चात शाम होने के चलते सतरेंगा न जा कर सुख राम के ससुराल फुटहामुडा जा रहै थे। इसी दौरान रास्ते मे रूमगड़ा मार्ग पर पीछे से आ रही बेकाबू एवं लापरवाह ट्रेलर ने पति पत्नी दोनों को अपनी चपेट में ले लिया। इस हादसे में बाइक के पीछे बैठी विनीता सीधे ट्रेलर के पहियो के नीचे आ गयी और उसकी मौके पर ही   मौत हो गई।इस दुर्घटना में मृतका का पति छिटककर दूर जा गिरा।जिससे वह बच गया।लेकिन उसे भी चोटे आई। इस दौरान दुर्घटना को अंजाम देकर भाग रहे ट्रेलर चालक को आसपास मौजूद लोगों ने दौड़ाकर धरदबोचा।और घटनाक्रम की सूचना बालको थाना को दी गई।जहां घटना की सूचना पर बालको पुलिस मौके पर पहुची और शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल रवाना कर दिया।तथा वाहन चालक को हिरासत में ले लिया।लगातार हो रहे दुर्घटना तथा इस घटना को लेकर स्थानीय लोगो मे काफी आक्रोश देखने को मिला।

  •  

Posted Date : 29-Dec-2018
  • सोशल पुलिसिंग पर दिया जोर

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    कोरबा, 29 दिसंबर। नए एसपी जितेन्द्र सिंह मीणा ने शुक्रवार को कार्यभार ग्रहण किया। कागजी प्रक्रिया पूरी करने के बाद एसपी मयंक श्रीवास्तव ने मीणा को कोरबा एसपी की कुर्सी सौंप दी। 
    एसपी दफ्तर के सभाकक्ष में मीडिया से चर्चा करते हुए जितेन्द्र सिंह मीणा ने अपनी प्राथमिकताएं बताई। सोशल पुलिसिंग पर जोर दिया। एक सवाल के जवाब मेंं मीणा ने कहा कि वे जनता से सीधा संवाद करेंगे। उन्होंने बिना संकोच किए जनता से शिकायत की अपील की। शिकायत पर कार्रवाई का भरोसा दिया। कहा कि शहरी या ग्रामीण क्षेत्र के लोग कार्यालय में मिल सकते हैं। जरूरत पडऩे पर एसपी के मोबाइल नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं।
    एसपी मीणा ने कबाड़ और कोयले के गोरखधंधे पर भी रोक लगाने की बात कही। कोरबा में सड़क दुर्घटना की समस्या को गंभीर बताते हुए सड़क पर सफर को सुरक्षित बनाने पर जोर किया। इसके लिए नगर निगम और लोक निर्माण विभाग के मिलकर काम करने की बात कही। नए एसपी ने सोशल पुलिसिंग पर जोर दिया। एक सवाल के जवाब मेंं मीणा ने कहा जनता से करेंगे सीधा संवाद।
    सिविल इंजीनियर हैं मीणा
    मूलत: राजस्थान के रहने वाले जितेन्द्र सिंह मीणा ने आईटीटी दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। 2007 बैच के आईपीएस अफसर हैं। कोरबा एसपी का पदभार ग्रहण करने से पहले मीणा पुलिस मुख्यालय में एआईजी टेक्निकल सर्विस ट्रैफिक शाखा मेें पदस्थत थे। मीणा ने बलरामपुर, जशपुर, कांकेर, गरियाबंद जिलेे में बतौर एसपी अपने दायित्वों का निर्वहन किया है।
    शाम को शहर का लिया जायजा
    एसपी मीणा ने शाम को शहर का जायजा लिया। निहारिका, रविशंकर नगर मानिकपुर चौकी के रास्ते बायपास रोड, ट्रांसपोर्ट नगर आदि क्षेत्रों का जायजा लिया।

     

  •  

Posted Date : 28-Dec-2018
  • वाहनों की दुर्दशा के साथ उड़ते धूल से दुर्घटना का अंदेशा
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    कोरबा, 28 दिसंबर। बिलासपुर से कटघोरा को जोडऩे वाली नेशनल हाइवे राष्ट्रीय राजमार्ग में चैतमा से माखनपुर तक की सड़क सुधार कार्य नही होने से इन दिनों जर्जर सड़क व उड़ते धूल के कारण आवागमन करने वाले वाहनों की दुर्दशा के साथ दुर्घटना का भय भी बना हुआ है। बीते जुलाई-अगस्त में बारिश के कारण पाली से कटघोरा के मध्य सड़क के परखच्चे उड़ गए थे और मार्ग पर बड़े-बड़े जानलेवा गड्ढे हो गए थे। जिसमें पैदल चलना भी मुश्किल हो गया था।
    इस दिशा पर ध्यान आकर्षित कर मरम्मत कार्य कराए जाने को लेकर कलेक्टर मो. केसर अब्दुल हक द्वारा कटघोरा से पाली तथा बगदेवा तक सड़क मरम्मत एवं सुधार कार्य व पेचवर्क के लिए 60 लाख और पाली व कटघोरा नगरीय सीमान्तर्गत डामरीकरण के लिए 10-10 लाख की राशि खनिज न्यास मद से लोक निर्माण विभाग को स्वीकृत किया गया था। जिसके तहत मरम्मत कार्य तो विभाग द्वारा कराया गया। लेकिन घटिया सामाग्री का उपयोग कर व आधे-अधूरे कार्य कराए गए।जिसके कारण कराए गए पेचवर्क कार्य कुछ ही दिनों में उखड़ गए। वहीं चैतमा से माखनपुर तक लगभग 10 किलोमीटर सड़क मार्ग का सुधार कार्य ही नही कराया गया।जिसके फलस्वरूप बड़े-बड़े और भारी वाहनों के दौडऩे से सड़क की हालत और भी बदतर हो गई है। ऐसे में चार पहिया व दुपहिया वाहनो की दुर्दशा होने के साथ गुजरने वाले राहगीर व वाहनों चालकों में दुर्घटना का भय बना हुआ है।  सड़क पर उड़ते धूल के गुब्बार से सांस लेना भी दूभर हो गया है।
    चैतमा से माखनपुर तक महज 10 किलोमीटर का फासला तय करने में घंटे भर का समय लग जाता है।लोक निर्माण विभाग के इस उपेक्षापूर्ण कार्यों का दंश उक्त मार्ग पर आवागमन करने वाले लोग भुगत रहे हंै। चैतमा से माखनपुर के मध्य गुजरने वाले चारपहिया,दुपहिया वाहनों की रफ्तार बैलगाड़ी से भी धीमी हो जाती है।और गतंव्य तक पहुँचने में घंटे भर का समय अधिक लग जाता है। 
    इस मार्ग पर चलने वाली कई सवारी गाडिय़ां जर्जर सड़क मार्ग की वजह से दुर्घटनाग्रस्त भी हो चुकी है। लेकिन गनीमत रही कि किसी प्रकार से जानमाल की कोई हानि नही हुई। फिर भी विभाग मरम्मत कराने की दिशा पर उदासीन रवैया अपनाया हुआ है। ज्ञात हो कि बिलासपुर से पाली,कटघोरा होते हुए कोरबा मार्ग फोरलेन हेतु प्रस्तावित है।किंतु वर्तमान में इस सड़क मार्ग का रखरखाव और सुधार कार्य ना किये जाने का खामियाजा वाहन चालक व राहगीर भुगत रहे है।
    स्वीकृत राशि 70 लाख और मरम्मत महज 5 किलोमीटर
    कलेक्टर मो. अब्दुल केसर हक द्वारा कटघोरा से पाली,बगदेवा तक सड़क के मरम्मत कार्य हेतु खनिज न्यास मद से 60 लाख और पाली नगर सीमा तक डामरीकरण के लिए 10 लाख की राशि स्वीकृत किया गया था। जिसके तहत मरम्मत कार्य कराया गया।लेकिन पाली नगर सीमा में महज कुछ-कुछ स्थानों पर पेचवर्क इसके अलावा से माखनपुर तक महज 5 किलोमीटर तक का मरम्मत कार्य कराया गया है। वह भी इतना घटिया की कुछ ही दिनों में फिर से सड़क के परखच्चे उड़ गए। एक बात सोचनीय है कि इतनी बड़ी स्वीकृत राशि से महज 5 किलोमीटर तक सड़क का मरम्मत कार्य कराया गया।तथा शेष राशि आखिर कहां गई?यह जांच का विषय है। 

     

  •