छत्तीसगढ़ » कोरबा

Date : 19-Nov-2019

कोरबा कलेक्टर सफाई व्यवस्था देखने एक्टिवा पर निकलीं, लापरवाही पर होगी सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दिए 
छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 19 नवंबर।
मुख्य सचिव आर पी मंडल से प्रेरित कोरबा कलेक्टर ने आज अल सुबह एक्टिवा से कोरबा शहर के विभिन्न इलाक़ों में सफ़ाई व्यवस्था का जायजा लिया। 
कलेक्टर किरण कौशल ने निगम आयुक्त राहुल देव के साथ पुराने कोरबा से गीतांजलि भवन होकर पुराना बस स्टैंड के आस पास की घनी बस्ती में जाकर साफ़ सफ़ाई देखी। कलेक्टर ने इतवारी बाज़ार, रानी चौक गली, गांधी चौक रोड, पठान मोहल्ला, धुनकर पारा, मोती सागर पारा, सीतामणि के इलाक़ों में साफ़ सफ़ाई का निरीक्षण किया। इसके बाद कलेक्टर रेलवे स्टेशन नहर रोड से ठोस अपशिष्ट पृथक्करण सेंटर भी पहुंची और कचरे की छटाई के काम में लगी महिलाओं से बात कर जानकारी ली। 

निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने अधिकारियों को शहर की सफ़ाई व्यवस्था को दुरुस्त रखने के लिए सभी सम्भव प्रयास करने के निर्देश दिए। उन्होंने शहर की सफ़ाई के काम मे कोताही बरतने वाले लापरवाह अधिकारियों को सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी। 

इस दौरान कलेक्टर ने कहा कि प्रदेश के मुख्य सचिव ने राजधानी रायपुर की साफ़ सफ़ाई दुरुस्त करने के लिए सचिव, कलेक्टर जैसे बड़े अधिकारियों के साथ सुबह सुबह निकलकर पूरे प्रदेश में एक अनुकरणीय संदेश दिया है, और हम सभी को उनकी इस पहल को अपनाकर अपने अपने शहर की सफ़ाई के लिए काम करना है।

 


Date : 18-Nov-2019

महतारी का नहीं मिला साथ, संजीवनी में प्रसव, एंबुलेंस सेवाओं का बुरा हाल

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 18 नवंबर। 
शासन के अधीन संचालित आपात एबुंलेंस सेवाओं का बुरा हाल है। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में स्थिति खराब है । ऐसा ही मामला सामने आया है, जिसमें प्रसव पीड़ा उठने पर गर्भवती के परिजन महतारी एक्सप्रेस बुलाने कॉल पर कॉल करते रहे, पर एंबुलेंस नहीं आई। रात-भर दर्द से तड़पते इंतजार करने के बाद भी महतारी नहीं आई। अंतत: संजीवनी पर कॉल किया गया और भोर में एंबुलेंस गर्भवती को लेकर गांव से अस्पताल के लिए रवाना हुई। आखिर समय आ गया और जंगल से गुजरते वक्त एंबुलेंस में ही डिलिवरी हो गई। हालाँकि जच्चा -बच्चा ठीक हैं। 

पाली विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत ढुकुपथरा के आश्रित गांव कदमपारा में अनितराम रोहिदास व उसकी पत्नी सुनीता परिवार समेत निवास करते हैं। 20 वर्षीय सुनीता गर्भवती थी, जिसे शुक्रवार की देर रात करीब दो बजे प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। दर्द बढ़ते ही प्रसव का समय नजदीक आने की बात सोच परिवार ने महतारी एक्सप्रेस बुलाने 102 पर कॉल किया। काफी देर बाद बड़ी मुश्किल से कनेक्ट तो हो गया, लेकिन रात भर इंतजार करने के बाद भी महतारी एक्सप्रेस का पता नहीं था। कॉल सेंटर से कभी हरदीबाजार तो कभी कटघोरा सेंटर से संपर्क करने की बात कही जाती रही। थक-हार कर परिजनों ने संजीवनी 108  पर कॉल कर दिया, जिसके कुछ देर बाद ही एंबुलेंस गांव पहुंची। संजीवनी एक्सप्रेस को लेकर ऑपरेटर शिवकुमार व सहयोगी टिकेश्वर कुमार श्रीवास लेकर पहुंचे थे। सुनीता को लेकर वे पाली स्थित अस्पताल रवाना हो गए, लेकिन जचकी का समय आ गया और जंगल से गुजरते वक्त बीच रास्ते में ही बच्चे का जन्म हो गया। संजीवनी एक्सप्रेस में ही हुआ बच्चा व उसकी मां स्वस्थ्य बताए जा रहे हैं। सुनीता ने करीब तीन किलोग्राम वजन से पुत्र को जन्म दिया, जिन्हें पाली स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करा दिया गया है। 

महतारी की लापरवाही के कारण इस तरह के मामले सामने आते रहे हैं। ह्य


Date : 18-Nov-2019

बाइक चलाते नियम तोडऩे वाले 21 चालकों के घर पहुंचा चाला स्पीड राडार गन, कैमरे हुई थी कैद

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 18 नवंबर। 
लापरवाह वाहन चालकों को स्पीड राडार गन ने अपनी जद में लेना शुरू कर दिया है । स?क नियमों को ताक पर रखकर लापरवाही पूर्वक गाड़ी चलाना आपकी जिंदगी के लिए खतरा तो है ही, कार्रवाई का डंडा भी झेलना पड़ सकता है। हाल ही में स्पीड राडार गन से लैस हुई यातायात पुलिस चुन-चुन कर उन वाहन चालकों को ट्रेस कर रही, जो मोबाइल कान में चिपकाए अपनी बाइक या कार पर मजे से ड्राइविंग करते दिखाई देते हैं। ऐसे चालकों की तस्वीर राडार गन पर कैच कर उस डाटा के आधार पर कार्रवाई के लिए चालान उन चालकों के घर पहुंचाए जा रहे।जिससे लापरवाह चालकों में हडक़ंप मचा हुआ है ।जिले की स?कों पर अनियंत्रित रफ्तार, ट्रिपलिंग या नियमों को दरकिनार कर अनुचित ड्राइविंग ब?ते स?क हादसों के कुछ ब?े कारण हैं। खासकर बिलासपुर-कटघोरा व कटघोरा से अंबिकापुर मार्ग पर नेशनल हाईवे पर सबसे ज्यादा ऐसे हादसे दर्ज किए गए हैं, जहां कारण बेलगाम स्पीड से भागती गा?ियों की रफ्तार प्रमुख वजह बनकर उभरी। शहर की भीड़ में भी सामने देखकर ध्यान से वाहन चलाने की बजाय लोगों को सडक़ की स्थिति से बेखबर होकर मोबाइल पर बातें करते ड्राइविंग करते भी देखा जाता है। स्पीड राडार गन मशीन की हाईटेक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए नियम तोडऩे वाले इस तरह के वाहन चालकों पर कार्रवाई करने यातायात पुलिस अभियान चला रही है। ओवरस्पीड, ट्रिपल सवारी व मोबाइल पर बातें करते स्पीड राडार गन की रेंज में आए वाहन व चालकों पर मशीन में दर्ज डाटा के आधार पर कार्रवाई की जा रही। उन्हें उनकी तस्वीरों के साथ ट्रेस कर उनके घर के पते पर चालान के कागज भेजे जा रहे, ताकि वे यातायात पुलिस थाना आकर जुर्माने की रकम जमा कर सकते हैं। 
अब तक 21 चालकों पर कार्रवाई
यातायात पुलिस की टीम इन दिनों सडक़ नियम तोडऩे वालों को पकडऩे की बजाय सीधे चालान घर पहुंचा रही। स्पीड राडार गन में कैप्चर तस्वीरों के सबूत के साथ कार्रवाई के कागज घर पहुंचने से नियम तोडऩे वालों में हडक़ंप है। अब तक 21 पर कार्रवाई हुई है, जिनमें ट्रिपल सवारी के दो, जबकि शेष 19 मामले में बाइक-कार सवारों को मोबाइल पर बातें करते ड्राइविंग करते कैमरे में कैद किया गया है। 

वाहन चालकों को यह समझना जरूरी होगा कि मोबाइल पर बातें करते या ट्रिपल सवारी ड्राइविंग न केवल उनकी जिंदगी के लिए, बल्कि सडक़ के अन्य राहगीरों के लिए भी खतरे का कारण बन सकता है।

 


Date : 17-Nov-2019

कांग्रेस द्वारा प्रदेश की जनता से किए गए विभिन्न चुनावी वादों को पूरा नहीं करने व किसानों के धान को तय समय पर नहीं खरीदने के विरोध धरना प्रदर्शन आयोजित 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 17 नवंबर।
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश व्यापी धरना प्रदर्शन कार्यक्रम के तहत कोरबा व कोसाबाड़ी मंडल द्वारा संयुक्त रूप से विरोध प्रदर्शन टीपी नगर चौक में आयोजित हुआ।

विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस द्वारा किसानों व प्रदेश की जनता से किए गए विभिन्न चुनावी वादों को पूरा नहीं करने व किसानों के धान को तय समय पर नहीं खरीदने के कारण होने वाले आर्थिक नुकसान पर विरोध जताया गया। प्रदर्शन में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व महापौर जोगेश लांबा मुख्य वक्ता रहे। पूर्व महापौर सुश्री श्याम कंवर,  मनोज पराशर, दीपनारायण सिंह, योगेश जैन, श्रीमति ज्योति वर्मा श्रीमती संजू देवी राजपूत, सतविंदर पाल सिंह बग्गा, मुकेश कुमार बग्गा, प्रकाश अग्रवाल, अनूप अग्रवाल, रुकमणी नायर, सुनीता पाटले,मंजू सिंह, श्रीमती सुमन सोनी, निर्मला चक्रधारी, ललित दुबे, उदय सिंह, लक्ष्मण श्रीवास,  जयराम कुमार साहू ,तृप्ति सरकार,मनोज अग्रवाल, मुकेश कुमार, रमा मिरी, ज्योति पांडेय, चंदन सिंह, सुशील गर्ग,दमन साहू,राजेश सोनी,अरविंद अग्रवाल,उजियार सिंह, पंकज देवांगन, राजेश राठौर,अजय गोड़, सुरेश जायसवाल, सुरेंद्र गर्ग, परविंदर सिंह,अजय विश्वकर्मा सहित बड़ी संख्या में पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

कुदमुरा में भी हुआ प्रदर्शन, घोषणा पत्र जलाया   
प्रदेश भाजपा संगठन के निर्देश पर कुदमुरा मंडल के कोरकोमा में भी धरना प्रदर्शन कर कांग्रेस सरकार के द्वारा विधानसभा चुनाव के दौरान घोषणा पत्र में किये गये वादों को नहीं निभाने का आरोप लगाया गया। वक्ताओं ने कहा कि किसानों के हित व हक़ के लिए भाजपा हमेशा लड़ती रहेगी। 

इस दौरान कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र को जलाया गया तथा नारेबाजी की गई। धरना प्रदर्शन में भाजपा कुदमुरा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मी श्रीवास, टिकेश्वर राठिया,ईश्वर सिंह राठिया, बृजेश यादव, हेमलाल झरिया, राजू गुप्ता, प्रताप सोनी, विनोद वर्मा, माला गुप्ता, दिनेश प्रजापति, महेत्तर साहू, बंशी, शशांक वर्मा, श्यामलाल पटेल, सुरेंद्र चौहान, दयाराम कंवर, दुर्गेश ध्रुव, उचित लहरे आदि मौजूद थे।

 


Date : 16-Nov-2019

पुलिस की वर्दी पहने तीन लोगों ने बांगो थाना का सिपाही बताकर बांधापारा लेपरा के एक ग्रामीण से रुपए की ठगी, तीन पर एफआईआर

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 16 नवंबर।
पुलिस की वर्दी पहने तीन लोगों ने बांगो थाना का सिपाही बताकर बांधापारा लेपरा के एक ग्रामीण से रुपए की ठगी कर ली। आरोपियों ने घर घुसकर शराब बेचने की बात कहते हुए तलाशी भी ली थी। जब प्रार्थी ने तीनों के बारे में जानकारी जुटाई तो उनके पुलिस विभाग में नहीं होने की जानकारी  हुई और उससे धोखाधड़ी करने ही अपने आपको तीनों ने पुलिस वाला बताया था। इसकी शिकायत बांगो थाना में की गई। मामले में पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का जुर्म दर्ज कर पतासाजी शुरू कर दी है। 

ठगबाज गिरोह के सदस्य लोगों की गाढ़ी कमाई पर डाका डालने तरह-तरह के हथकंडे अपनाते हैं। मगर अपने आपको पुलिस वाला बताकर रुपए की ठगी करने की घटना अपने तरह का एक अलग मामला है। ठगबाजों को अब पुलिस का भी डर नहीं रहा और ठगी करने उनकी छवि धूमिल करने में  भी नहीं चूक रहे हैं। बांधापारा लेपरा में भुवन सिंह (40) रहता है। 9 नवंबर को दोपहर 3 बजे के करीब पुलिस की वर्दी पहने तीन लोग उसके घर पहुंचे और तीनों ने अपने आप को बांगो थाना का सिपाही बताया। इसमें से एक ने अपना नाम ज्वाला यादव बताया था। आरोपियों ने भुवन सिंह को अवैध ढंग से गांव में शराब बेचने की बात कही। जब उसने किसी ने गलत जानकारी देने की बात कही तो तीनों ने उसके घर की तलाशी ली। इसके बाद आधार कार्ड व 300 रुपए मांग लिए। आरोपियों ने जाने से पहले एक मोबाइल नंबर भी दिया। जिस पर दूसरे दिन संपर्क करने पर ग्रामीण को कटघोरा बुलाया। जहां फिर रुपए की ठगी की और आधार कार्ड बाद में ले जाने कहा। प्रार्थी को आरोपियों के पुलिस वाले नहीं होने पर संदेह हुआ तो उसने बांगो थाना पहुंचकर जानकारी ली तो पता चला कि ज्वाला यादव नाम का कोई सिपाही यहां पदस्थ नहीं है। तब जाकर उसे ठगी का अहसास हुआ। इसके बाद बांगो थाना में शिकायत दर्ज कराया।  

 


Date : 15-Nov-2019

गरीब किसान की फसल को ले गए दबंग, पुलिस से शिकायत पर जान से मारने की धमकी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 15 नवंबर।
दीपका-रंजना क्षेत्र में एक गरीब किसान ने कुछ दिन पूर्व धान फसल की कटाई की थी। गांव के दबंगों ने डंडे के जोर पर किसान द्वारा काटे गए फसल को हथिया लिया। पुलिस से शिकायत करने पर परिवार को जान से मारने की धमकी दी जा रही है। 

दीपका थाना अंतर्गत ग्राम रंजना के आश्रित ग्राम डिहभाठा में चैतराम सारथी के घर के बगल में अघहन सिंह खडिय़ा रहता है। अघहन सिंह खडिय़ा ने मकान निर्माण के दौरान आने-जाने हेतु चैतराम से उसकी जमीन का कुछ हिस्सा मांगा था, जिससे सहमत होकर चैतराम ने पंचायत प्रतिनिधियों की उपस्थिति में अपनी जमीन का एक बड़ा हिस्सा अघहन सिंह को दे दिया था। अघहन सिंह को दी गई जमीन से ही सटकर चैतराम की कृषि भूमि स्थित है, जिस पर वह खेती-किसानी करते आ रहा है। इस वर्ष भी चैतराम ने धान की खेती की है। फसल पककर तैयार हो गया तो उसने धान काटने के बाद एक रात के लिए उसे खेत पर ही छोड़ दिया। पड़ोसी अघन सिंह ने अपने परिजनों के साथ मिलकर किसान की कटी हुई फसल को हथिया लिया। खेत पर कब्जा भी कर लिया। 

चैतराम ने जब इसका विरोध किया तो दबंगों ने जान से मारने की धमकी दी। घटना की सूचना देने गत एक नवंबर को पीडि़त परिवार दीपका थाना पहुंचा, लेकिन पुलिस ने न्यायसंगत कार्रवाई करने के बजाए एक कागज के टुकड़े पर मोबाइल नंबर लिखकर थमा दिया और कहा नंबर रख लो, बाद में फोन करना। जब इस बात की भनक दबंगों को हुई तो उन्होंने पुन: उन्हें धमकाया, जिससे किसान का पूरा परिवार दहशत में हैं। 

अनहोनी की आशंका को लेकर पीडि़त परिवार जेब में पर्ची लेकर घर से निकल रहे हैं। इस संबंध में पीडि़त चैतराम का कहना है कि पुलिस से शिकायत के बाद भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। अघन सिंह व उसके परिवार के लोग गांव में लाठी-डंडा लेकर घूम रहे हैं तथा उसके परिवार को जान का खतरा है। उसने बताया कि आरोपी अघहन सिंह सहित उसके परिवार के पांच सदस्यों का नाम लिखा एक पर्ची जेब में लेकर घर से कहीं आना-जाना कर रहे हैं ताकि अनहोनी होने पर इसका जिम्मेदार उक्त लोगों को माना जाए। 

पटवारी व कोटवार पर भी आरोप
पीडि़त चैतराम ने ग्राम कोटवार एवं पटवारी पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं। उसका आरोप है कि दबंगों से मिलकर पटवारी व कोटवार उसके नाम की भूमि रिकॉर्ड पर कांट-छांट कर उसका नाम हटा चुके हैं। उसके नाम पर गांव में किसी भी प्रकार की कोई जमीन न होने का दावा किया जा रहा है। 

अब इस पूरे घटनाक्रम के बाद पीडि़त गरीब परिवार काफी डरा, सहमा हुआ है और न्याय की आस लगाए दिन व्यतीत कर रहा है। 


Date : 15-Nov-2019

कोरबा जिले के 76 गौठानों में पैरादान संकल्प बना अभियान, दस हजार से अधिक किसानों ने गौठानों में पैरादान करने ली शपथ

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 15 नवंबर।
कलेक्टर किरण कौशल द्वारा 76 गौठानों के संचालन के लिए पैरा की भरपूर व्यवस्था के लिए तैयार की गई कार्ययोजना अब एक अभियान बन चुकी है। जिले में धान फसल की कटाई के बाद गौठानों में पैरादान करने के लिये अब तक दस हजार से अधिक किसानां ने शपथ ले ली है और संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर भी कर दिये हैं। 

 श्रीमती कौशल ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के महत्वकांक्षी कार्यक्रम- नरवा, गरूआ, घुरवा, बाड़ी को सफल करने के लिये घटकवार योजना तैयार कर उस पर अमल शुरू किया है। योजना के तहत जिले में स्थापित 76 गौठानों में आने वाले दिनों में पशुओं को डे-केयर के रूप में भोजन उपलब्ध कराने के लिये चारे के साथ-साथ बड़ी मात्रा में पैरे की आवश्यकता की पूर्ति ग्रामीणों से ही की जानी है। 

फसल कटाई के बाद छत्तीसगढ़ सहित देश के अन्य राज्यों की तरह ही किसान खेतों में पैरा या फसल अवशेषों को जला देते हैं। कलेक्टर श्रीमती कौशल ने अपने क्षेत्रीय भ्रमण के दौरान ग्रामीणों से मुलाकात कर पैरा को खेतों में जलाने की बजाय गौठानों में दान करने की अपील की। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को भी अधिक से अधिक किसानों से मिलकर फसल कटाई के बाद पैरा को उनके ही पशुओं को खिलाने के लिये गौठानों में दान कराने के लिये जागरूक करने के निर्देश दिये। 
कलेक्टर की इस पहल का अब सकारात्मक परिणाम दिखाई देने लगा है। पिछले एक सप्ताह में ही सभी पांचों विकासखण्डों के लगभग 60 गावों में गौठानों में पैरादान के लिये प्रभातफेरियां, रैलियां, बैठकें आदि आयोजित की जा चुकी हैं। इनमें किसानों को खेतों में पैरावट नहीं जलाने और पैरा को गौठानों में दान करने की समझाइश दी गई है।

 जिले के सेमरकछार, पोड़ी, केराझरिया, सेन्द्रीपाली, वि.खं.-पाली, भंवर, कोरबी वि.खं.-पोड़ीउपरोड़ा, उमरेली, ढोंढ़ातराई, कनकी वि.खं.-करतला, कोरई, अमरपुर, धवईंपुर वि.खं.-कटघोरा, मदनपुर, जामबहार वि.खं.-कोरबा सहित 60 गांवों में खेतों में पैरा को जलाने से होने वाले प्रदूषण और जमीन का होने वाले नुकसान की जानकारी मिलने पर किसानों ने भी अब खेतों में पैरा जलाने से तौबा कर ली है। पैरादान के संकल्प अभियान में दीवार लेखन ने भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 

जिला पंचायत की एपीओ प्रीति पवार के सृजित नारे गांव-गांव में आसानी से दिखने वाली जगहों चौक-चैराहों, ग्राम पंचायतों और सड़कों के किनारे के घरों की दीवारों पर पैरादान के लिये आह्वान करते किसानों को प्रेरित कर रहे हैं।  फसल कटाई के बाद जनसहयोग से गौठान में पशुओं के लिए चारे की उपलब्धता बढ़ाने तथा धान कटाई और मिंजाई के बाद पैरे को बंडल बनाकर गौठानों तक पहुॅंचाने के लिये भी स्व-सहायता समूहों की मदद ली जाएगी।


Date : 14-Nov-2019

लगातार हुई बारिश का पानी दीपका खदान में लीलागर नदी के माध्यम से घुसा, जलभराव के कारण उत्पादन ठप, मेन्टेनेंस में 1 करोड़ कंपनी को उठानी पड़ेगी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 14 नवंबर।
लगातार हुई बारिश का पानी दीपका खदान में लीलागर नदी के माध्यम से घुस गया था। खदान में जलभराव के कारण उत्पादन ठप रहा था। लेकिन अब उत्पादन जोर पकडऩे लगा है। वहीं पानी में डूबे सावेल मशीनों को भी सुधारा जा रहा है। बताया जा रहा है कि मेन्टेनेंस के कार्य में 1 करोड़ की लागत कंपनी को उठानी पड़ेगी।

खदान में पानी भरने से डूबे 42 क्यूबिक मीटर सावेल का मेंटेनेंस का काम शुरू कर दिया गया है। लगभग एक करोड़ की लागत से सुधार कार्य किया जाएगा। इधर खदान में उत्पादन लगातार बढऩे लगा है और वर्तमान में 55 हजार टन से ज्यादा कोयला निकाला जा रहा है। सितंबर माह के अंतिम सप्ताह में तेज बारिश से लीलागर नदी का पानी दीपका खदान में भर गया था। इससे 42 क्यूबिक मीटर क्षमता की चार सावेल मशीन, ड्रील मशीन समेत अन्य उपकरण पानी में डूब गए थे। इसके साथ ही खदान से उत्पादन बंद हो गया। 

एक सप्ताह तक उत्पादन ठप रहा और प्रबंधन को काफी क्षति उठानी पड़ी। खदान में पंप लगाकर पानी निकासी का काम शुरू करने के साथ दीपका प्रबंधन ने अन्य स्थल से कोयला उत्खनन हेतु मिट्टी निकासी का काम आरंभ किया। बताया जा रहा है कि वर्तमान में खदान से काफी मात्रा में पानी निकाला जा चुका है। इसके साथ ही मशीनों का मेंटेनेंस का काम भी शुरू हो चुका है। पानी में डूबी 42 क्यूबिक मीटर सावेल का ऊपरी हिस्सा बाहर आने के बाद उपकरणों की साफ-सफाई का काम किया जा रहा है। चूंकि सावेल बिजली से चलती है, इसलिए तकनीकी कर्मी उपकरणों की टेस्टिंग कर रहे हैं। 

दीपका प्रबंधन समेत बिलासपुर मुख्यालय के वरिष्ठ अफसर मेंटेनेंस काम की सतत निगरानी कर रहे हैं, ताकि समय पर काम पूरा कर मशीन को चालू किया जा सके। जानकारों का कहना है कि सौ करोड़ की लागत वाली सावेल मशीन के मेंटेनेंस कार्य में लगभग एक करोड़ रुपये खर्च होने की उम्मीद है। 

नवंबर माह के अंतिम सप्ताह तक काम पूरा करने का टारगेट रखा गया है। इसके बाद मशीन को उत्खनन कार्य में लगाया जाएगा। प्रबंधन ने खदान से 70 हजार टन कोयला निकालने की कवायद आरंभ कर दी है। बताया जा रहा है कि आगामी रविवार तक खदान से निर्धारित टारगेट के मुताबिक कोयला निकलना आरंभ हो जाएगा। 

पानी निकासी में आई तेजी
खदान में पानी निकालने का काम तेज कर दिया गया है। जानकारों का कहना है कि खदान में आठ पंप लगाकर लगातार पानी निकाल कर लीलागर नदी में बहाया जा रहा है। इससे खदान में जल स्तर कम हो गया है। प्रबंधन को उम्मीद है कि किसी तरह की दिक्कत नहीं आती है तो एक माह के भीतर खदान से पानी पूरी कर निकाल लिया जाएगा। इसके बाद निचले फेस में काम शुरू करने की प्रक्रिया आरंभ की जाएगी।


Date : 14-Nov-2019

वनभूमि में काबिज आदिवासी परिवारों को पट्टा देने की बजाय गैरकानूनी ढंग से बेदखल करने की साजिश, माकपा का आरोप

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 14 नवंबर।
ग्राम पंचायत रैनपुर में वनभूमि में काबिज आदिवासी परिवारों को पट्टा देने की बजाय गैरकानूनी ढंग से बेदखली करने की साजिश रची जा रही है। गोठान योजना के नाम पर इन आदिवासियों को चिन्हांकित कर परेशान करने का आरोप माकपा ने लगाते हुए कहा कि आदिवासियों को पट्टा नहीं दिया जाता है तो आंदोलन का रास्ता अख्तियार किया जाएगा।


हरदीबाजार नायब तहसीलदार की कार्यप्रणाली की आलोचना करते हुए माक्र्सवादी कम्युनिष्ठ पार्टी के जिला सचिव प्रशांत झा ने कहा कि अपने अधिकार क्षेत्र के बाहर जाकर नायब तहसीलदार यह काम कर रहे हैं। वनभूमि पर काबिजों पर कार्रवाई करने का कोई अधिकार न तो तहसीलदार की होती है और न ही ग्राम पंचायत को। वनाधिकार कानून की धज्जियां उड़ाई जा रही है। 

माकपा नेता ने कहा कि वनाधिकार कानून के तहत काबिजों को पट्टा दिया जाना है, बेदखली की इजाजत नहीं है। गोठान के नाम पर वनभूमि से किसी कब्जाधारियों को बेदखल करने की इस साजिश पर सवाल उठाते हुआ झा ने कहा कि जब गांव की खाली पड़ी जमीन पर गोठान बनाने के बदले वनभूमि पर काबिजों की जमीन पर क्यों बनाया जा रहा है, जबकि पहले गोठान निर्माण का कार्य दूसरे स्थान पर शुरू भी किया गया था। 

उन्होंने कहा कि हरदीबाजार नायब तहसीलदार के साथ पार्टी प्रतिनिधिमंडल की इस संबंध में चर्चा हुई, लेकिन उनकी कार्य प्रणाली से लगता है कि उन्हें जमीन खाली कराने की जल्दबाजी है। पार्टी ने वनभूमि से कब्जाधारियों को बेदखल करने की तहसीलदार और ग्राम पंचायत की इस मिलीभगत के खिलाफ जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पाली एवं मुख्य सचिव छत्तीसगढ़ शासन को शिकायत की है। 

प्रशांत ने कहा कि आदिवासियों को पट्टा के लिए आवेदनों पर जल्द उचित कार्रवाई करने की जानी चाहिए, ताकि आदिवासियों को परेशानी का सामना करना न पड़े। यदि पट्टा देने की बजाय बेदखल किया जाता है तो पार्टी आंदोलन का रास्ता अख्तियार करेगी।

 


Date : 14-Nov-2019

अश्वमेध यज्ञ रजत जयंती महोत्सव में पधारे डॉ चिन्मय पंडया ने शैफाली जीजी के साथ नशा मुक्ति प्रदर्शनी में नैनो यज्ञ का सूक्ष्म प्रयोग किया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 14 नवंबर।
अश्वमेध यज्ञ रजत जयंती महोत्सव में पधारे डॉ चिन्मय पंडया ने शैफाली जीजी के साथ नशा मुक्ति प्रदर्शनी में नैनो यज्ञ का सूक्ष्म प्रयोग किया।वे इस सूक्ष्म यज्ञ से खासे प्रभावित हुए।उन्होंने इसे वैश्विक स्तर पर बढ़ाने की बातें कही। 

उल्लेखनीय है कि दैनिक जीवन में हर कोई व्यस्त है।जिसके कारण यज्ञीय जीवन अपनाने में लोगों को खासी परेशानी होती है।Ÿ ाी गायत्री स्वावलंबन केंद्र दुर्ग के युवाओं के द्वारा व्यस्तता के बीच यज्ञ हवन करने की नई विधा विकसित की गई है।जिसमें वैदिक पद्धति से नित्य अपने घर में ऑफिस में यज्ञ हवन किया जा सकता है।इस सूक्ष्म यज्ञ के लिए 10 से 15 मिनट का समय लगता है।

श्री गायत्री स्वावलंबन केंद्र दुर्ग के प्राणेश विश्वास व मीनाक्षी ने श्री पंडया दंपत्ति को सूक्ष्म यज्ञ कराया।जिससे वे खासे प्रभावित हुए।तांबे के छोटे हवन कुंड में गाय के गोबर से बने दिये जलाने के बाद उसमें हवन सामग्री के साथ हवन की जाती है।यह साइज में छोटा होने के कारण रखने में आसान है साथ ही हर कोई इसका प्रयोग कर सकता है। यज्ञमयी जीवन के लिए नित्य हवन आवश्यक है।भाग दौड़ की जिंदगी में यह सूक्ष्म यज्ञ बेहद प्रभावी साबित हो रहा है।श्री पंडया ने यज्ञ की इस नई विधा को खूब सराहा।उन्होंने स्वावलंबन केंद्र के युवाओं को इस कार्य के लिए बधाई दी।

अश्वमेध महायज्ञ रजत जयंती महोत्सव के चौथे दिवस यज्ञीय ऊर्जा से प्रदेश में नए रचनात्मक कार्यों का संकल्प परिजनों ने लिया।आगामी समय में प्रदेश के हर इलाके में लगभग 1 हजार बाल संस्कार शाला की स्थापना के साथ पूरे प्रदेश में वृहद स्तर पर नशा मुक्ति अभियान चलाए जाने का संकल्प उभर कर सामने आया। उल्लेखनीय है कि पिछले चार दिनों से उर्जानगरी में अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में अश्वमेध यज्ञ रजत जयंती महोत्सव चल रहा है।जिसमें बीते चार दिनों में एक लाख से अधिक लोगों ने भाग लिया और 251 कुंडीय यज्ञ में आहुति प्रदान की।बुधवार को उक्त कार्यक्रम का समापन किया गया।2 पालियों में हवन आहुति के बाद यज्ञ में आवाहित सभी देवशक्तियों को विदाई देते हुए कार्यक्रम का विसर्जन किया गया।

 


Date : 14-Nov-2019

आदिवासी परिवारों को वनभूमि से बेदखल करने की रची जा रही साजिश, माकपा ने लगाया आरोप, सौंपा ज्ञापन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 14 नवंबर।
ग्राम पंचायत रैनपुर में वनभूमि में काबिज आदिवासी परिवारों को पट्टा देने की बजाय गैरकानूनी ढंग से बेदखली करने की साजिश रची जा रही है। गोठान योजना के नाम पर इन आदिवासियों को चिन्हांकित कर परेशान करने का आरोप माकपा ने लगाते हुए कहा कि आदिवासियों को पट्टा नहीं दिया जाता है तो आंदोलन का रास्ता अख्तियार किया जाएगा।

हरदीबाजार नायब तहसीलदार की कार्यप्रणाली की आलोचना करते हुए माक्र्सवादी कम्युनिष्ठ पार्टी के जिला सचिव प्रशांत झा ने कहा कि अपने अधिकार क्षेत्र के बाहर जाकर नायब तहसीलदार यह काम कर रहे हैं। वनभूमि पर काबिजों पर कार्रवाई करने का कोई अधिकार न तो तहसीलदार की होती है और न ही ग्राम पंचायत को। वनाधिकार कानून की धज्जियां उड़ाई जा रही है। 

माकपा नेता ने कहा कि वनाधिकार कानून के तहत काबिजों को पट्टा दिया जाना है, बेदखली की इजाजत नहीं है। गोठान के नाम पर वनभूमि से किसी कब्जाधारियों को बेदखल करने की इस साजिश पर सवाल उठाते हुआ झा ने कहा कि जब गांव की खाली पड़ी जमीन पर गोठान बनाने के बदले वनभूमि पर काबिजों की जमीन पर क्यों बनाया जा रहा है, जबकि पहले गोठान निर्माण का कार्य दूसरे स्थान पर शुरू भी किया गया था। 

उन्होंने कहा कि हरदीबाजार नायब तहसीलदार के साथ पार्टी प्रतिनिधिमंडल की इस संबंध में चर्चा हुई, लेकिन उनकी कार्य प्रणाली से लगता है कि उन्हें जमीन खाली कराने की जल्दबाजी है। पार्टी ने वनभूमि से कब्जाधारियों को बेदखल करने की तहसीलदार और ग्राम पंचायत की इस मिलीभगत के खिलाफ जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पाली एवं मुख्य सचिव छत्तीसगढ़ शासन को शिकायत की है। प्रशांत ने कहा कि आदिवासियों को पट्टा के लिए आवेदनों पर जल्द उचित कार्रवाई करने की जानी चाहिए, ताकि आदिवासियों को परेशानी का सामना करना न पड़े। यदि पट्टा देने की बजाय बेदखल किया जाता है तो पार्टी आंदोलन का रास्ता अख्तियार करेगी।


Date : 13-Nov-2019

छत्तीसगढ़ बंद का कोरबा में नहीं दिखा असर पिछड़ा वर्ग आरक्षण के लिए किया गया था बंद का आह्वान

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 13 नवंबर।
प्रदेश में पिछड़ा वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग को लेकर आज बुधवार को संयुक्त समाज पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जनजाति व अल्प संख्यक समाज ने महाबंद का आह्वान किया था। जिले में छत्तीसगढ़ बंद का कोई खास असर नजर नहीं आया। हालांकि समाज से जुड़े पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने व्यवसायियों से बंद का आह्वान जरूर किया। बंद होने के लेकर कई संगठनों ने समर्थन दिया था। इसके बाद भी बंद का व्यापक असर न तो शहर में नजर आया और  ही ग्रामीण तथा उप नगरीय क्षेत्रों में देखने को मिला। बुधवार का दिन होने की वजह से वैसे भी क्षेत्र की अधिकांश दुकानें बंद थी। बुधवारी बाजार मंडी को भी बंद करने की अपील की गई लेकिन बंद का असर यहां भी नहीं रहा। इसके अलावा टीपी नगर, पावर हाऊस रोड, पुराना कोरबा सहित अन्य क्षेत्रों में दुकानें खुली रही। बंद कराने निकले सर्व समाज के पदाधिकारियों ने कहा कि सरकार ने आबादी के हिसाब से 54 प्रतिशत पिछड़़ा वर्ग को 14 प्रतिशत आरक्षण में वृद्धि कर 27 प्रतिशत करने का निर्णय लिया है। इसका लाभ पिछड़ा वर्ग के सभी वर्गों को मिलेगा। लेकिन कुछ समाज इसमें षडय़ंत्र कर इसे रोकने प्रयास कर रहे हैं। जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती, सर्व समाज द्वारा आंदोलन किया जाता रहेगा। सर्वसमाज द्वारा सुबह 7 बजे से दोपहर 2 बजे तक बंद का आह्वान किया गया था, लेकिन इस दौरान दु़कानों के पट खुले रहे। सर्व समाज में मुख्य रूप से डॉ. जयपाल, सिंह, गिरधारीलाल साहू सहित अन्य पदाधिकारी प्रतिष्ठानें बंद कराने में जुटे रहे।

 


Date : 12-Nov-2019

प्रकाश पर्व पर गूंजी गुरुवाणी, बांटी खुशियां हर्षोल्लास से मनी गुरुनानक देव जयंती

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 12 नवंबर।
 शहर में गुरुनानक देव की जयंती की धूम रही। दो दिन पहले से भव्य शोभायात्रा निकाल कर प्रकाश पर्व की खुशियां सिक्ख समाज में बिखर रही थी। आकर्षक ढंग से सजाए गए गुरुद्वारे में गुरुनानक देव की जयंती मंगलवार को मनाने सिक्ख समुदाय के लोग बड़ी सं या में पहुंचते रहे। गुरूद्वारों में अटूट लंगर का आयोजन किया गया। 

गुरुद्वारे में सुबह से ही रागी जत्था द्वारा गुरुवाणी की अनुगूंज होती रही, जिसमें बड़ी सं या में साधकों ने संगत की। सिक्ख समुदाय की इस खुशी के पर्व पर अन्य समाज के लोगों ने भी पहुंचकर मत्था टेकते हुए उनकी खुशी में शरीक हुए। शबद-कीर्तन गुरुवाणी में शामिल होने वाला प्रत्येक साधक गुरुद्वारे के मु य गेट पर पहुंचते ही मत्था टेकते हुए गुरुनानक देव के प्रति अपनी आस्था जताने से नहीं चूक रहा था। सिक्ख समाज द्वारा जयंती की खुशियां बांटने के लिए अटूट लंगर का भी आयोजन किया। जिसमें हर वर्ग के लोग शामिल होकर लंगर में प्रसाद ग्रहण किया। हिंदू धर्म में दीपावली, इस्लाम में ईद बकरीद की खुशी का जो उत्साह समुदाय विशेष में रहता है, ठीक वही उत्साह सिक्ख सिंधी समुदाय में प्रकाश पर्व पर रहता है। अपने अपने अंदाज में मनाए जाने वाले इन पर्वों की महत्ता सभी धर्म के लिए महत्व रखती है। मंगलवार की सुबह से देर शाम तक गुरुद्वारा में रौनक बनी रही। पूरे दिन समाज के लोगों ने अराध्य देव श्री गुरुनानक की पूजा में लीन रहे। उनकी खुशी में अन्य समाज के साधकों ने भी शामिल होकर खुशियां बांटते रहे। गुरुनानक देव के प्रति शाम की आराधना दीवान के साथ शुरु होकर मध्य रात को जन्मोत्सव तक चली। इस समय श्री गुरुनानक देव के जन्म का आगाज होते ही भव्य आतिशबाजी की गई। 

 


Date : 12-Nov-2019

प्रेशर मशीन की चपेट में बाइक चालक की मौत

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 12 नवंबर।
 आज सुबह लगभग 9 बजे कॉलेज चौक हरदीबाजार के समीप बाइक टीपर के पीछे लगे प्रेशर मशीन के पहियों के नीचे आ गई। हादसे में बाइक चालक की मौत हो गई। वहीं बाइक में सवार दो अन्य लोग घायल हो गए। जिन्हें स्थानीय अस्पताल लाया गया। 

जानकारी के अनुसार हरदीबाजार चौकी अंतर्गत ग्राम अंडीकछार के गौटिया बस्ती पारा निवासी बुधराम सिंह गोड़ पिता ठाकुर सिंह गोड़ 40 वर्ष स्व.माता मनमती के दशगात्र कार्यक्रम में शामिल होने सरगुजा कंचनपुर प्रेम नगर से आए परिजन धनसाय गोड़ व रामधन गोड़ को अपनी बाइक क्रमांक सीजी 12 एजेड 526 5 में बिठाकर हरदीबाजार बस स्टैण्ड बस चढ़ाने आ रहा था। कॉलेज चौक के पास सामने से आ रही टिपर क्रमांक सीजी 12 एटी 0332 प्रेशर मशीन को लेकर जा रही थी। चौक के पास मोड़ पर बाइक चालक बुधवार सिंह ने दांई तरफ वाहन घुमा दी। जिससे बाइक लहरा गई। जिससे बाइक में सवार धनसाय व रामधन सड़क पर गिर गए। वहीं बाइक चला रहा बुधवार सिंह प्रेशर मशीन के पहियों के नीचे आ गया। उसके सीने से पहिए गुजर गए। स्थानीय लोगों ने आवाज लगाकर टीपर चालक को वाहन रोकने कहा। दुर्घटना का अंदाजा होते ही टीपर चालक मौके पर वाहन छोड़कर फरार हो गया। तीनों को आनन फानन में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र हरदीबाजार लाया गया। जहां चिकित्सक डॉ. एएन कंवर ने परीक्षण उपरांत बुधवार सिंह को मृत घोषित कर दिया। वहीं दोनों को प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। 

मुआवजा की मांग को लेकर परिजन व ग्रामीण पहुंचे चौकी
हादसे के बाद अंड़ीकछार गांव के लेाग व परिजन हरदीबाजार चौकी पहुंच गए। चूंकि मृतक गरीब परिवार का है। परिवार के लिए मुआवजा की मांग को लेकर लोगों ने चौकी प्रभारी से चर्चा की जिनके प्रयास से टीपर मालिक द्वारा 20 हजार रूपए व शासन की ओर से हरदीबाजार तहसीलदार प्राजंल मिश्रा ने 25 हजार रूपए की आर्थिक सहायता मृतक के परिजनों को प्रदान की है। 

 


Date : 12-Nov-2019

तेज रफ्तार एंबुलेंस सड़क किनारे खड़े ट्रक से जा टकराई, हादसे में एंबुलेंस के परखच्चे उड़े, चालक की मौत, एक गंभीर

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 12 नवंबर।
सीपत मार्ग पर एक तेज रफ्तार एंबुलेंस सड़क किनारे खड़े ट्रक से जा टकराई। हादसे में एंबुलेंस के परखच्चे उड़ गए। केबिन में दब जाने से चालक की मौत हो गई। वहीं एंबुलेंस सवार एक अन्य की हालत गंभीर बनी हुई है। 
जानकारी के अनुसार सीएसईबी चौकी अंतर्गत बुधवारी शॉपिंग कॉम्पलेक्स बस्ती निवासी लालू पटेल उर्फ विश्वनाथ एंबुलेंस का परिचालन कर रहा था। कल कोरबा से मरीज लेकर सीपत बिलासपुर गया हुआ था। मरीज को अस्पताल छोड़कर वह वापस कोरबा लौट रहा था। देर रात्रि लगभग 1 बजे सीपत के समीप एंबुलेंस सड़क किनारे खड़ी ट्रक से जा टकराई। हादसा इतना भीषण था कि चालक लालू पटेल केबीन में दबकर गंभीर रूप से घायल हो गया। पुलिस द्वारा उसे तत्काल पीएचसी सीपत लाया गया। जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। वहीं एंबुलेंस में सवार एक अन्य की हालत गंभीर है। हादसे की सूचना मिलने पर आज सुबह परिजन सीपत के लिए रवाना हो गए ।