छत्तीसगढ़ » कोरिया

Previous1234Next
Posted Date : 19-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर,19 सितंबर। अटल विकास यात्रा में कोरिया पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कल बिलासपुर में कांग्रेसियों पर लाठी चार्ज के दंडाधिकारी जांच के आदेश दिए। जाँच में मंत्री के घर कचरा फेंके जाने का मसला भी शामिल है। आज सुबह शिवपुर चरचा में मुख्यमंत्री ने पे्रस से बात करते हुए कहा कि बिलासपुर की दोनों घटना की वो निंदा करते हंै। 
    छत्तीसगढ़ राज्य शान्ति प्रिय राज्य है यहां सभी राजनीतिक दलों का सम्मान है। मंत्री के घर कचरा फेंकने को भी वो सही नहीं मानते, जबकि कांग्रेस भवन में हुई लाठी चार्ज की वो निंदा करते हंै। उन्होंने मामले की दंडाधिकारी जांच की घोषणा करते कहा कि जाँच के बाद सारी सच्चाई सामने आएगी। जाँच में दोषी  के खिलाफ़ कार्यवाही होगी।
    उन्होंने राम मंदिर के निर्माण को लेकर एक सवाल के जवाब में कहा कि मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है। कोर्ट का निर्णय ही मान्य होगा। वहीं कल रोड शो के दौरान मंत्री राजवाड़े के बैकुंठपुर सीट से टिकट फाइनल करने की चर्चा पर कहा कि किसी का भी टिकट फाइनल नहीं हुआ है। मैं किसी का भी टिकट फाइनल नहीं करता, हमारी पार्टी तय करती है। प्रेस वार्ता में उन्होंने अपनी सरकार के 15 साल में किए गए विकास के बारे में जानकारी दी।

  •  

Posted Date : 07-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रामानुजगंज, 7 सितंबर। स्थानीय निवासी 8 वीं के छात्र इजहान अकरम की फिरौती नहीं मिलने से अपहरणकर्ताओं ने उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने आरोपी तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया है।  छात्र का 4 सितंबर को अपहरण किया गया था।
    पुलिस के अनुसार  रामानुजगंज वार्ड 2 निवासी अलीम मिस्त्री का बेटा इजहान 
    अकरम बालक माध्यमिक शाला रामानुजगंज में कक्षा 8वीं का छात्र था।  4 सितंबर को  छुट्टी  के बाद शाम साढ़े 4 बजे  घर आने निकला था। इसी दौरान उसका अपहरण कर लिया गया था।  उसके घर नहीं पहुंचने से  परिजनों ने काफी खोजबीन की, लेकिन पता नहीं चलने पर देर शाम थाने में इसकी सूचना दी। पुलिस मामले की तफ्तीश में लगी हुई थी।  शक के आधार पर पुलिस ने छात्र के ही पड़ोसी साहिल बारी उम्र 19 वर्ष तथा उसके 2 दोस्त समशेर आलम उम्र 18 वर्ष व मो. रजा उर्फ मो. इसरार  ्र 20 वर्ष को गिरफ्तार कर सख्ती से पूछताछ की तो युवकों ने बताया कि उन्होंने छात्र की गला दबाकर हत्या कर कनकपुर के जंगल में लाश फेंक दी है। 
    शुक्रवार की सुबह पुलिस तीनों आरोपियों को लेकर रामानुजगंज से करीब 6 किमी दूर वाड्रफनगर मार्ग पर स्थित कनकपुर जंगल पहुंची। यहां पुलिस ने छात्र की लाश बरामद की।  
     मुख्य आरोपी साहिल बारी ने बताया कि उसे रुपयों की जरूरत थी, इस कारण उन्होंने छात्र का अपहरण किया था। आरोपियों ने छात्र के परिजनों से 7 लाख की फिरौती मांगी थी। रुपये नहीं मिलने  और   बाद में पकड़े जाने तथा छात्र द्वारा उनकी पहचान कर लिए जाने के डर से उन्होंने उसकी हत्या कर जंगल में लाश फेंक दी थी।
    आरोपियों ने पुलिस को बताया कि स्कूल से लौटने के दौरान साहिल ने उसे अपनी बाइक में बैठाकर रामानुजगंज चौपाटी ले गए। यहां छात्र को नाश्ता करा कर उसे घूमने जाने की बात कहकर तीनों उसे कनकपुर के जंगल की ओर ले गए और यहां गला दबाकर हत्या कर दी। 

     

  •  

Posted Date : 02-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुण्ठपुर, 2 सितंबर। सरगुजा संभाग के कोरिया जिले में बीती रात 11.39 में भूकंप का हल्का झटका पड़ा। लोग अपने अपने घरों से बाहर आ गए । भूकंप की तीव्रता 4.7 थी।  भूगर्भ जानकारों के अनुसार बहुत ही मामूली झटका था इसलिए किसी भी तरह की हानि नहीं हुई। झटका केवल एक बार पड़ा। भूकंप का केंद्र  भूतल से 15.4 किमी गहराई में थी। बैकुंठपुर के अलावा सोनहत पटना में भी कंपन महसूस किए गए।

  •  

Posted Date : 01-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 1 सितंबर। कोरिया जिले के मनेन्द्रगढ़ वनमंडल में कल डिप्टी रेंजर की मौत का कारण गाड़ी में लगा सायरन बना। सायरन बजने से हाथी किस कदर उत्तेजित हो गए थे कि लाश के  टुकड़े-टकड़े कर दिए। आज सुबह शव पीएम के बाद उनके गृहग्राम रवाना कर दिया गया। घटना के बाद वनकर्मियों में काफी रोष देखा जा रहा है।
    इस संबंध में सीसीएफ केके बिसेन का है कि ये हमारे लिए बहुत बड़ा नुकसान है। हमारे परिवार के एक सदस्य की असमय मौत का उन्हें गहरा सदमा लगा है। मामले की जांच पर कहा कि पूरी तफ्तीश की गई है, जांच की कोई जरूरत नहीं है। 
     ज्ञात हो कि 31 सितंबर की शाम 4.30 बजे केल्हारी रेंजर अपने साथ डिप्टी रेंजर सीताराम तिवारी और एक बीट गार्ड को लेकर शिवपुर के घमाडांड पहुंचे, जहां 11 हाथियों का दल मौजूद था। सूत्र बताते हंै कि जब वेे गाड़ी से उतर पर जंगल की ओर गए इसी दौरान किसी ने गाड़ी में लगा सायरन बजा दिया। सायरन से हाथी  उतेतजित हो गए और  हाथियों के समूह में से एक  डिप्टी रेंजर और दो बीट गार्ड को दौड़ाने लगा।  इसी दौरान डिप्टी रेंजर के गिरते ही हाथी उन्हें कुचलने लगा, काफी देर तक वो उनके शव पर अपना गुस्सा निकलता रहा।  हाथी इस कदर उतेतजित था कि  शव  को  20 मिनट तक कुचलता रहा।  उधर, डिप्टी रेंजर की चीखें सुनने के बाद रेंजर ने इसकी जानकारी एसडीओ केएस कंवर को दी, और फिर सीसीएफ को इसके बारे में बताया गया। सीसीएफ फौरन अम्बिकापुर से केल्हारी के लिए निकल गए। रौशनी लेकर वन अमला घटना स्थल पहुंचा और बिखरे शव को एकत्रित कर केल्हारी के विश्राम भवन लाया गया।  सुबह होते ही शव का पीएम करवाया गया और शव मृतक के गृह जिले रीवा के लिए रवाना कर दिया गया।   
    कर्मचारियों में  रोष
    डिप्टी रेंजर की मौत के बाद वन कर्मचारियों में काफी रोष है। उच्चाघिकारियों से कर्मचारियों ने रेंजर को यहां से हटाए जाने की मांग की है। कर्मचारियों का कहना है कि हाथी से बचाव के लिए उनके पास किसी तरह के संसाधन नहीं है, और अधिकारियों के दबाव के कारण उन्हें हाथियों के करीब जाना पड़ता है और रेंज अफसर वाहवाही लूटते हंै।
    कांग्रेस ने की जांच की मांग
    इधर, कांग्रेस  नेता गुलाब कमरो ने केल्हारी रेंजर को हटाए जाने की मांग की है। उनका कहना था कि उक्त रेंजर बीते कई साल से मनेन्द्रगढ़ वनमंडल के अंतर्गत पदस्थ्य है।  इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए कि आखिर रेंजर कैसे डिप्टी रेंजर को जंगल में छोड़ आए। 

     

  •  

Posted Date : 30-Aug-2018
  • एक दर्जन से ज्यादा बीमार, अमला मौके पर
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 30 अगस्त। कोरिया जि़ले के बैकुंठपुर रटगा में एक महिला की उल्टी-दस्त से मौत हो गई, वही उसका पति  का इलाज जिला अस्पताल में जारी है। स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई है। एक दर्जनसे ज्यादा पीडि़तों का इलाज जारी है। 
      बैकुंठपुर के ग्राम पंचायत रटगा के आश्रित ग्राम डोंगरीपारा में 26 अगस्त की रात ननकी बाई नामक महिला को उल्टी शुरू हुई, सुबह होते होते उसकी मौत हो गई। उसी दिन उनके पति समेत 4 बच्चे  भी उल्टी-दस्त चपेट में आ गए।   मितानिन मानकुंवर की जानकारी पर  संजीवनी एक्सप्रेस को कॉल किया गया, परन्तु कोई जवाब नहीं मिला। फिर निजी वाहन से जिला अस्पताल भिजवाया, जिसके बाद अन्य लोगों की जान बच पाई। 
    29 अगस्त को मामले की जानकारी स्वास्थय विभाग को हुई, तब विभाग का अमला मौके पर पहुंचा, तब उल्टी दस्त के 5 अन्य मरीजों को  अस्पताल पहुंचाया।
    डोंगरी पारा के ग्रामीण ढोढ़ी का पानी पीने को मजबूर है। सरपंच बीरसिंह  ने बताया कि   6 हैंडपम्प में 4 खराब है। कई बार उन्होंने ग्रामीणों के साथ हैंडपम्प की मांग कर चुके हैं। परंतु आज तक हैंडपम्प नही लग सका है। मृतक के परिजन भी ढोढ़ी का ही पानी पी रहे थे। फिलहाल, अभी 4 मोहल्ले  के ग्रामीण ढोढ़ी का ही पानी पी रहे है।
    आज 30 अगस्त  को फिर गांव में सेक्टर सुपरवाइजर डीएस गौतम, आरएचओ एस एस केन, आरएचओ अनुराग गौतम ग्रामीणों को कुएं , घड़े में डालने का पाउडर, ओआरएस के साथ दवाइयों लोगो को देकर दिनभर समझाते रहे। इस दौरान उल्टी-दस्त से पीडि़त मानकुंवर नामक महिला को पीएचई विभाग के वाहन की मदद से अस्पताल भेजा गया। मौके पर 13  मरीजों का इलाज किया गया।  गांव में जांच के दौरान लगभग हर घर में उल्टी-दस्त के मरीज पाए गए।

     

  •  

Posted Date : 26-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 26 अगस्त। कोरिया जि़ले के सोनहत विकासखंड के ग्राम कुशहा में आज सुबह एक मादा भालू अपने दो शावकों के साथ एक घर में घुस गयी। सूचना पर पहुंचे वन अमले ने दोनों शावकों को सुरक्षित जंगल छोड़ा। 
    जानकारी के अनुसार आज सुबह 6 बजे सोनहत के ग्राम कुशहा के आगर साय के घर मादा भालू अपने दो शावकों के आ धमकी, घर में अफरातफरी मच गई, सब इधर उधर भाग खड़े हुए। गांव वालों ने खदेडऩे पटाखे चलाये , जिससे मादा भालू  दोनों शावकों को छोड़ जंगल में चली गई।  देवगढ़ रेंजर रेंजर को  इसकी सूचना मिली तो उन्होंने तत्काल वन विभाग की टीम मौके पर भेजी जिसके बाद एक एक कर दोनों शावक को पकड़ कर जंगल में छोड़ा गया।  
    रेंजर  प्रभनाथ राम ने बताया कि भालू शावकों को सुरक्षित जंगल में छोड़ दिया गया है। ग्रामीणों को सतर्क रहने की सलाह दी गयी है, वन विभाग भी नजऱ बनाये हुए है।

  •  

Posted Date : 26-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 26 अगस्त। कोरिया के सोनहत विकासखंड में एक महिला ने अपने पति को बचाने तीन भालुओं से भिड़ गई, जिससेे बाद भालुओं को भागना पड़ा।  हमले में महिला और उसका पति दोनों घायल हो गए, जिनका इलाज जारी है।
    जानकारी के अनुसार शनिवार शाम अपने खेत में काम कर रहे सोनहत  के घुघरा निवासी रामभजन राजवाड़े पर अचानक तीन भालुओं ने हमला कर दिया, वहीं कुछ दूरी पर काम में लगी उसकी पत्नी   मदद की आवाज सुनी  तो दौड़ कर अपने पति को बचाने तीनों भालुओं से भिड़ गयी,  तीनों भालू भागे। इस लड़ाई में पति-पत्नी दोनों घायल हो गए, दोनों का इलाज बैकुंठपुर के एक नर्सिंग होम में जारी है। दोनों खतरे से बाहर  हंै।

  •  

Posted Date : 25-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 25 अगस्त। जहां प्रदेश के कई इलाकों में मरीजों को एंबुलेंस की  सुविधा नहीं मिल पा रही है वहीं कोरिया में एंबुलेंस से लकड़ी तस्करी का मामला सामने आया है। देवगढ़ वन रेंजर ने सरई सिल्लियों से भरे एबुंलेंस को पकड़ा। चालक समेत तीन आरोपी गिरफ्तार किए हैं। एंबुलेंस एसईसीएल की सहयोगी संस्था एमआईसीएल की है।
     देवगढ़ रेंजर प्रभूनाथ राम ने बताया कि शुक्रवार की रात 10 बजे बैकुंठपुर रेंजर अखिलेश मिश्रा की सूचना पर सहयोगियों को लेकर मौके पर पहुंचे। एंबुलेंस में मरीज की बजाय बजाय सरई की सिल्ली भरी हुई थी। उन्होंने एंबुलेस की चाबी अपने कब्जे में की और चालक संतोष यादव समेत तीन आरोपियों को हिरासत में लिया। 
    तीनों आरोपियों को चरचा पुलिस के हवाले कर दिया गया है। जहां पूछताछ जारी है। एंबुलेंस को राजसात करने की कार्यवाही शुरू कर दी गई है।    

     

  •  

Posted Date : 24-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 24 फरवरी। कोरिया जिले के सोनहत तहसील में बीती रात से लगातार तेज बारिश जारी है, जिसके कारण कई नदियां उफान पर है, यहां से निकलने वाली हसदेव नदी में बाढ़ जैसे हालात हंै। वहीं कुछ  मवेशियों के बह जाने की खबर है। स्थानीय लोगों का कहना है कि पहली बार इस तरह के हालात  देखने को मिले है।  
    सोनहत विकासखंड में बीती रात से लगातार बारिश जारी है। सुबह से भी खबर लिखे जाने तक जोरदार बारिश हो रही है। पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण कई   नदियां उफान पर हंै, सबसे ज्यादा हसदेव  में बाढ़ जैसे  हालात हैं। सोनहत मनेन्द्रगढ़ मार्ग पर विक्रमपुर, खोडरी के पास पुलिया पर पानी बह रहा है, जिसके कारण यहां का आवागमन पूरी तरह से बंद कर दिया गया है।  इसके अलावा पानी के तेज बहाव से फसलों को नुकसान हुआ है। 
    इधर दर्जनों गांव में बीती रात से बिजली गुल है। लोगों का कहना है कि विभाग पूर्व से इसके लिए किसी भी प्रकार की तैयारी नहीं रखता है। इससे बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 

     

  •  

Posted Date : 22-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    मनेन्द्रगढ़, 22 अगस्त। कोरिया जिले के चिरिमिरी अनुपपुर रेल खंड के बीच पाराडोल रेल्वे स्टेशन के पास मालगाड़ी के 6 डिब्बे पटरी से उतर गये।  यातायात बहाल करने रेल अमला जुटा हुआ है।  इस मार्ग से गुजरने वाली कई ट्रेनें प्रभावित हुई हैं।
    मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह पाराडोल चिरमिरी स्टेशन के बीच हुई इस घटना में खाली मालगाड़ी के 6 डिब्बे पटरी से उतर गये। इस घटना के बाद बिलासपुर चिरमिरी ट्रेन को मनेन्द्रगढ़ में ही रोका गया है। जब तक रेल पात को सुधार नहीं लिया जाता तब तक यह ट्रेन चिरमिरी नहीं जाएगी। सिंगल लाइन होने की बजह से इस मार्ग से गुजरने वाली ट्रेनें प्रभावित हुई हैं।

  •  

Posted Date : 18-Aug-2018

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 18 अगस्त।  सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई जानकारियों की 13 मामलों की गुम फाइलों पर तत्कालीन अपर कलेक्टर एडमंड लकड़ा और  वाचक एम आर यादव के खिलाफ धारा 409, 477, 32 के तहत अपराध दर्ज किया गया है। कलेक्टर के आदेश के बाद सूचना शाखा के लिपिक ने रिपोर्ट दर्ज कराई।  यह कोरिया जिले का पहला मामला है जहां एक बड़े अधिकारी (अब सेवानिवृत्त) के खिलाफ एफआईआर का आदेश हुआ। चरचा थाना प्रभारी सुनील सिंह ने बताया कि मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गयी है, जांच जारी है।
    चिरमिरी निवासी आरटीआई कार्यकर्ता राजकुमार मिश्रा ने सूचना का अधिकार पर एक आवेदन कलेक्टर कोरिया के तत्कालीन लोक सूचना अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत कर, वर्ष 2013-14 में भूमि विक्रय अनुमति के 14 प्रकरणों की जानकारी मांगी गई थी। लोक सूचना अधिकारी के द्वारा चाही गई जानकारी प्रदान नहीं की गई।  इसके बाद आरटीआई कार्यकर्ता ने कलेक्टर कार्यालय कोरिया के प्रथम अपीलीय अधिकारी के समक्ष प्रथम अपील प्रस्तुत किया। कलेक्टर कार्यालय कोरिया के प्रथम अपीलीय अधिकारी अपर कलेक्टर आर ए कुरुवंशी द्वारा स्वयं जन सूचना अधिकारी की हैसियत से अपीलार्थी को जानकारी उपलब्ध कराए जाने के कारण प्रथम अपीलीय अधिकारी के रूप में प्रकरण की सुनवाई किया जाना न्यायसंगत ना होने से प्रथम अपील कलेक्टर नरेंद्र कुमार दुग्गा को भेजा गया था। 
    आरटीआई कार्यकर्ता के प्रथम अपील पर कलेक्टर कोरिया के द्वारा सुनवाई और जांच आरंभ की गई। तब कार्यालय कलेक्टर कोरिया के होलसाय सहायक ग्रेड 2 के द्वारा अपने शपथ पत्र में बताया गया कि अपर कलेक्टर बैकुंठपुर के कुल 13 प्रकरण तात्कालिक वाचक द्वारा उन्हें प्रभार में नहीं दिया गया और ना ही प्रकरण के संबंध में जानकारी उपलब्ध कराई गई।  वहीं पदस्थ ज्ञान प्रसाद सिंह ने अपने शपथ में न्यायालय अपर कलेक्टर बैकुंठपुर में उनके पद स्थापना के पश्चात अपर कलेक्टर बैकुंठपुर के राजस्व के कुल 13 प्रकरण राजस्व अभिलेखागार में जमा होना नहीं बताया गया।   
    वाचक एमआर यादव द्वारा शपथ पत्र के साथ बताया गया कि उपरोक्त 13 प्रकरणों के संबंध में ए लकड़ा अपर  कलेक्टर बैकुंठपुर वर्तमान में सेवानिवृत्त निवासी अंबिकापुर जिला सरगुजा को पत्र जारी कर नियत तिथि में जवाब मांगा गया था।  
    (बाकी पेजï 5 पर)
    वे सूचना पत्र तामीली के पश्चात भी न उपस्थित हुए, न ही अपना पक्ष रखा। यादव ने  बयान में  बताया कि 13 प्रकरणों को तत्कालीनअपर कलेक्टर ए. लकड़ा  के द्वारा मांग करने पर उन्हें दिया गया था। इसके पश्चात उनके द्वारा बार-बार मांग करने पर भी प्रकरण वापस नहीं किया गया। तामिल होने के पश्चात भी उपस्थित होकर जवाब नहीं देना यह प्रदर्शित करता है कि प्रकरण के गायब होने में उनकी संलिप्ता है। 
    जांच के उपरांत कलेक्टर कोरिया ने उक्त अधिकारी और वाचक के खिलाफ अपराध दर्ज करने के निर्देश दिए और इसकी सूचना एशपी कारिया को भी दी। सूचना शाखा के लिपिक ताकिर हुसैन अंसारी ने यह रिपोर्ट दर्ज कराई। 

  •  

Posted Date : 03-Aug-2018
  • अम्बिकापुर-रामानुजगंज मार्ग में हादसा 
    अंबिकापुर, 3 अगस्त। अम्बिकापुर-रामानुजगंज मार्ग में गुरूवार की रात हसुली मोड़ के पास एक तेज रफ्तार स्कार्पियों वाहन खड़े ट्रक में जा भिड़ी। टक्कर इतन जबरदस्त थी कि वाहन के परखच्चे उड़ गये और पलट गई।   हादसे में  सवार मां-बेटे की मौके पर ही  मौत हो गई। पति व छोटे बेटे की गंभीर स्थिति को देखते हुए परिजन रांची ले गये। 
    जानकारी के मुताबिक बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के कुसमी निवासी संध्या खातून 30 वर्ष 2 अगस्त को बीसीए की परीक्षा देने अंबिकापुर आई थी। साथ में उसके पति मो. खईम,12 वर्षीय बेटी सोमिया, 6 वर्षीय पुत्र मो. आदिल तथा 9 माह का बेटा बाबू भी आए थे। परीक्षा देने के बाद महिला के पति मो. खईम ने अम्बिकापुर नगर के पर्राडांड़ निवासी एक व्यक्ति की स्कॉर्पियो बुकिंग कर वापस कुसमी जा रहे थे। 
     रात्रि 10.30 बजे हसुली मोड़ के पास पहुंचे ही थी कि सामने से अचानक आए ट्रक को देखकर चालक नियंत्रण खो बैठा और स्कॉर्पियो सड़क किनारे खड़े ट्रक से जा टकराई। इस दुर्घटना में संध्या खातून व बड़े बेटे मो. आदिल की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि मां के सीने से चिपके होने के कारण नौ माह के मासूम बेटे  व बेटी को हल्की चोट आई। पति भी गंभीर रूप से घायल हो गया। महिला के पति व उसके छोटे पुत्र को परिजनों द्वारा उपचार हेत झारखण्ड के रांची ले जाया गया। 
    कांच तोड़कर निकाला बाहर
    रामानुजगंज से लौट रहे अधिवक्ता व भटगांव विधानसभा से आप प्रत्याशी डीके सोनी व उनके साथ रहे लोगों ने क्षतिग्रस्त वाहन को देखा तो अपनी वाहन रोककर तत्काल स्कार्पियो का शीशा तोड़कर अंदर फंसे लोगों को बाहर निकाला। बाद में इसकी सूचना पुलिस को दी गई। 

  •  

Posted Date : 02-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर,  2 अगस्त। कोरिया जिले के जनकपुर मेें बीती रात हाथियों ने 9 घरों को तोड़ डाला। वन विभाग का अमला पूरी रात हाथियों को खदेडऩे में जुटा रहा। ग्रामीणों को सामुदायिक भवन में रखा गया है। वहीं भरतपुर तहसील मुख्यालय में भी बीती रात हाथी वन विभाग के डिपो में घुस गए। यहां फंसी रह गईं दो महिलाओं को वन विभाग और स्थानीय युवाओं ने सुरक्षित बाहर निकाला।
    हाथियों का दल बुधवार रात भरतपुर जनपद मुख्यालय जनकपुर में पहुंच गया। हाथियों की आने की खबर से जनकपुर में लोग हाथियों को देखने जुट रहे थे। इसी बीच देर रात हाथी वन विभाग के लकड़ी डिपो में घुस गए जिससे वहां अफरा तफरी मच गई।  डिपो के अंदर दो महिलाएं रह गईं। महिलाओं को तीन हाथियों ने उन्हें घेर रखा था।  सुरक्षित बाहर निकालने वन विभाग एसडीओ सहित जनकपुर के कुछ युवा  डिपो के अंदर घुसे बाहर लोगों ने मशाल जलाये  जिससे हाथी पीछे हटने लगे फिर इन दोनों  को  सुरक्षित बाहर निकाला। ये हाथी आज सुबह पतवाही के जंगल की ओर चले गए।
    इधर जनकपुर में वन अमला हाथियों  को  दूर भगाने में सुबह तक जुटा रहा। हालांकि इस दौरान जनकपुर में मकान तोड़ऩे के अलावा किसी तरह की अन्य कोई जनहानि की शिकायत नहीं मिली है।  जनकपुर बैगापारा मोहल्ले को खाली करा लिया गया है और लोगों को सामुदायिक भवन में रखा गया है। 

  •  

Posted Date : 29-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 29 जुलाई। कोरिया जिले के बहरासी वनपरिक्षेत्र के बाहीडोल में एक हाथी अपने साथी के बीमार होने से उसके साथ डटा हुआ है। वन विभाग ने बिलासपुर और मनेन्द्रगढ़ से डॉक्टरों की टीम बुलाई है। आज सुबह यह टीम बहरासी रवाना हुई। वहीं इस इलाके में हाथियों के जमे होने से ग्रामीणों में दहशत है। 5 हाथियों ने बीती रात यहां के 5 घरों को तोड़ डाला और इसके आसपास ही जमे हुए हैं। 
    वन विभाग के अनुसार बीते एक माह से जिले में 2 दो हाथियों का दल विचरण कर रहा है। एक दल जिसमें 11 हाथी हैं वह अभी कोरिया जिले के बैकुण्ठपुर वन परिक्षेत्र में विचरण कर रहा है। जबकि दूसरा दल जिसमें 5 हाथी है वह जिला मुख्यालय से लगभग 150 किमी.दूर बहरासी रेंज में डेरा जमाए हुए है। बीते एक माह में ये हाथी 3 दर्जन से अधिक घरों को तोड़ चुके हैं और फसलों को नुकसान पहुंचा चुके हैं। वन विभाग इन हाथियों पर अब तक अंकुश नहीं लगा सका है। 

  •  

Posted Date : 20-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 20 जुलाई। कोरिया राज परिवार के सदस्य एवं छग के प्रथम वित्तमंत्री डॉ रामचंद्र सिंहदेव के निधन की खबर मिलते ही आज सुबह शहर की दुकानें स्वस्फूर्त बंद हैं। स्कूलों में शोकसभा के बाद छुट्टी दे दी गई। आज शाम तक उनका शव यहां लाया जाएगा। कल 21 जुलाई को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। जिला मुख्यालय स्थित पैलेस में डॉ सिंहदेव के अंतिम दर्शन करने के लिए भारी संख्या में लोगों के जुटने के मद्देनजर आवश्यक तैयारियॉं की जा रही हैं। अति विशिष्ट लोगों के आगमन को लेकर भी जिला प्रशासन के द्वारा तैयारियांॅ की जा रही हंै। राजमहल परिसर में ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। 
    कोरिया राज परिवार के डॉ. रामचंद्र सिंहदेव ने हमेशा ही कोरिया जिले विकास को लेकर सजग रहते थे साथ ही कोरिया के विकास को लेकर हमेशा ही चिंता करते थे।  गत 9 जुलाई को  उन्होंने छत्तीसगढ़ प्रतिनिधि से खास बातचीत में कोरिया जिले में कम बारिश को लेकर चिंता व्यक्त की थी।  सक्रिय राजनीति से एक दशक से दूर हो चुके डॉ. सिंहदेव   जिले के ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण करने दिन भर निकल जाते। ग्रामीणों  की समस्याओं को सुनते और जिला स्तर पर समस्याओं का हल निकलने की स्थिति में कलेक्टर से बात कर समस्या का निदान करवाते। राज्य स्तर पर की समस्या पर मुख्यमंत्री को पत्र लिखते थे। 
    डॉ. सिंहदेव लंबे समय से सक्रिय राजनीति में रहे और अपनी राजनीतिक जीवन की शुरूआत निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर बैकुण्ठपुर विधान सभा क्षेत्र से चुनाव वर्ष 1966 में प्रत्याशी बने तब रिकार्ड मतों से उन्होंने जीत हासिल कर बैकुण्ठपुर का विधायक बने इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा बाद में कांग्रेस पार्टी से जुड़ गये। 
    वे लगातार बैकुण्ठपुर विधान सभा क्षेत्र से छ: बार विधायक  रहे। तब मप्र सरकार में लंबे समय तक सिंचाई मंत्री के रूप में भी अपनी जिम्मेदारी डॉ. सिंहदेव के द्वारा बखूबी निभाई गयी। इनके कार्यकाल में मप्र व वर्तमान छग में कई छोटे व बड़े बांध बनाये गये। सिंचाई सुविधाओं का अपने कार्यकाल के द्वौरान डॉ सिंहदेव ने विस्तार किया। डॉ. सिंहदेव को जल संसाधन मामले का विशेषज्ञ माना जाता रहा है। इसके लिए उन्हे  उन्हें पी-एचडी की मानद उपाधि भी दी गयी थी।  

  •  

Posted Date : 20-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 20 जुलाई। कोरिया जिले में हाथियों को  रोकने करंट बैरिकेट के बाद अब मंत्री जी का पूजा-पाठ भी काम न आया। हाथियों को शांत करने दो दिन पहले जिस जगह श्रम मंत्री ने पूजा-पाठ किया, उसी इलाके में आज सुबह हाथियों ने एक महिला को कुचल मारा। 
    बैकुंंठपुर रेंजर अखिलेश मिश्रा ने बताया कि महिला की उम्र 60 से 65 वर्ष बताई जा रही है। शौच के लिए  गई थी जहां 5 हाथियों के दल  ने  उसे कुचल  मार। हाथियों के दल पर विभाग निगाह रखे हुए है, फिलहाल ग्रामीणों को जंगल में ना जाने की सलाह दी गई है। 
    कई दिन से बैकुंठपुर के माटीझरिया में डेरा डाले हाथियों का दल अमरपुर होते हुए चिरमिरी के गेल्हापानी पहुंच गया, वहीं पोडीथाना अंर्तगत आने वाले ग्राम पलथाजाम में अलसुबह शौच करने गई महिला कुंति बाई को कुचल कर मार डाला। सूचना मिलते की कोरिया वनमंडल के डीएफओ, बैकुंठपुर और चिरमिरी रेंजर के अलावा पुलिस कर्मी भी पहुंचे। शव को जंगल से निकलवाकर  पोस्टमार्टम के लिए भेजा। 

    वहीं इस दल से बिछड़ा  एक हाथी मनेन्द्रगढ़ के पाराडोल की ओर जाते देखा गया है। वहीं बैकुंठपुर के सलका में जमे 11 हाथियों का दल दो दिन पहले मनसुख में एक ग्रामीण का घर तोड़ा था। शुक्रवार को यह दल चिल्का पिपरहिया में पहुंच गया है।  ग्रामीण रतजगा कर रहे हंै। वन विभाग ग्रामीणों को हाथी के आने पर पटाखे ना फोडऩे की सलाह दे रहा है, बावजूद इसके   पटाखे फोड़े जा रहे है जिससे हाथी और गुस्से में आकर आतंक मचा रहे हंै। 

  •  

Posted Date : 18-Jul-2018
  • एक हाथी झटके से बेहोश
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 18 जुलाई। कोरिया जिले में जंगली हाथियों का आतंक कम होने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को हाथी कोरिया कॉलरी पहुंच गए और आधा दर्जन मकान तोड़ डाले, वहीं माटीझरिया में जिस ओर करंट बैरिकेट्स लगाए गए थे, उन्हें चकमा देकर एक हाथी एक घर में घुस तोडफ़ोड़ करने लगा कि घर की बिजली के करंट की चपेट में आ गया, आधे घंटे तक बेहोश रहने के बाद भाग खड़ा हुआ।  इधर करंट बैरिकेट्स से हाथियों के जिस दल ने झटके खाए,  उन्होंने गांव में घुसने का रास्ता बदल दिया।  
    हाथियों के कारण कोरिया कालरी क्षेत्र के लोगों की नींद उड़ी हुई है  रतजगा करने मजबूर हंै। एक ही क्षेत्र के कुछ किमी की दूरी पर दो हाथियों का दल विचरण कर रहा है।
    वन विभाग की टीम हाथियों पर नजर बनाये हुए है और कोशिश की जा रही है कि हाथियों के दल ग्रामीण आबादी वाले क्षेत्रों में न घुसे। इसके लिए  रविवार को सीसीएफ सरगुजा संभाग के के बिसेन जिले के हाथी प्रभावित क्षेत्रों में दौरा कर स्थिति का जायजा लिया था। जिसके बाद जिन क्षेत्रों में हाथी का दल मौजूद है, उसके निकट के गांव में करंट  बैरिकेट्स लगवाए गए थे जिससे   हाथी उसके आगे नहीं  बढ़ेंगे, पीछे ही हटेंगे। माटीझरिया में लगे करंट बैरिकेट्स से हाथियों के दल ने झटके खाए, परन्तु उन्होंने गांव में घुसने का रास्ता बदल दिया, वहीं दल से बिछड़कर एक हाथी बंजारीडांड की नर्सरी में डेरा डाल रखा है, तो सलका में 11 हाथियों के दल ने कल मनसुख और सलका में एक-एक ग्रामीण के घर तोड़ डाले। 
    मकान तोड़ते करंट 
    से  एक हाथी बेहोश

    जनपद पंचायत बैकुंठपुर अंतर्गत ग्राम माटीझरिया क्षेत्र के जंगलों में 7 हाथियों का 7  दल जमा हुआ है। जिस क्षेत्र में करंट बैरिकेट्स लगाए गए हैं उस क्षेत्र से हाथी करंट के झटके खाकर वापस पीछे लौट जा रहे थे। लेकिन इसी गांव में जिन क्षेत्रों में बैरिकेट्स नहीं लगाए गए  हैं  वहां कुछ हाथी पहुॅंच गए।  घर तोडऩे के दौरान एक हाथी घर की बिजली के करंट की चपेट में आकर  बेहोश हो गिर गया।  ग्रामीणों ने बिजली तार को निकाला जिससे उसकी जान बच गई। 15  मिनट बाद वह वहां से चला गया। 
    14 लाख से अधिक क्षतिपूर्ति  
    वन विभाग के द्वारा हाथी प्रभावित क्षेत्रों में ग्रामीणों के घरों को नुकसान पहुंचाने पर क्षतिपूर्ति का आंकलन तैयार कर मंगलवार को प्रभावित 18 गामीणों केा मुआवजा राशि का वितरण कर दिया। जानकारी के अनुसार वन विभाग के द्वारा ग्राम बंजारीडांड व माटीझरिया में जिन ग्रामीणों के घरो को हाथियों के दल के द्वारा नुकसान पहुंॅचाया गया था उन प्रभावित ग्रामीणों में से 18 ग्रामीणों केा 14 लाख रूपये से ज्यादा की मुआवजा राशि का वितरण गत दिवस किया गया।

  •  

Posted Date : 15-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 15 जुलाई। कोरिया जिले के बैकुंठपुर जनपद में बीते 8 दिनों से दो हाथियों ने डेरा डाला है।  बैकुंठपुर के माटीझरिया में अब तक 25 से ज्यादा मकान तोड़ दिए हंै। ग्रामीण रतजगा कर रहे हैं। इधर वन विभाग करंट बैरिकेट्स लगाकर ग्रामीणों के लिए सुरक्षा घेरा बनाने में जुटा हुआ है।
    सीसीएफ सरगुजा केके बिसेन का कहना है कि इस बैरिकेट्स के लगने से हाथियों को सिर्फ हल्का झटका लगेगा और दुबारा वे ग्रामीणों के घरों की ओर रूख नहीं करेंगे।
    वहीं बैरिकेट्गि कार्य में माटिझरिया पहुंचे डीएफओ श्री आओ ने बताया कि जिन लोगों के घर हाथियों ने तोड़ डाले हैं उनके मुआवजे के लिए आंकलन  जारी है। बैरिकेटिंग से ग्रामीणों को सुरक्षा मिलने की संभावना है।
    जानकारी के अनुसार बीते 8 दिनों से बैकुंठपुर के सलका और माटिझरिया में दो हाथियों के दल ने डेरा डाल रखा है, सलका में 11 तो माटीझरिया में 7 हाथियों का दल है। माटिझरिया में स्थित हाथियों को दल ग्रामीणों के मकानों को तोड़कर धान, चावल चट कर रहे हंै। ये दिनभर यहां पहाड़ों के बीच रहते हंै, रात को ये ग्रामीणों के बीच पहुंच जाते हैं। कल रात भी माटीझरिया में 5 लोगों के घरों का नुकसान पहुंचाया। वहीं ग्रामीण इससे बचने के लिए रात भर इधर उधर भागते रहे। 
    दूसरी ओर वन विभाग ग्रामीणों को हर हाल में हाथियों से दूर रहने की सलाह दे रहा है। वहीं ग्रामीण हाथियों को भगाने पटाखों का इस्तेमाल कर रहे हंै जिससे हाथी और गुस्सा कर उनके मकानों को तोड़ रहे हंै। 
    रविवार को  सीसीएफ केके बिसेन ने श्रीनगर से पाइप, बैटरी और तार के साथ कुछ जानकार भी भेजे। बैकुंठपुर रेंजर अखिलेश मिश्रा टीम को लेकर माटीझरिया पहुंचे जहां ग्रामीणों के बताए मार्ग जिस रास्ते हाथी गांव में आते हंै, वहां बैरिकेटिंग की गई। साथ ही इन्र्वटर और बैटरी की सुरक्षा का जिम्मा ग्रामीणों का सौंपा गया, ग्रामीणों को बैरिकेटिंग से दूर रहने की हिदायत दी गई। शाम  7 से सुबह 7 बजे तक बैरिकेटिंग में लगे तार में करंट प्रवाह किया जाएगा। जिससे गांव की ओर आने वाले हाथियों को रोका जा सके। इसी तरह ग्राम टेंगनी में भी ऐसी ही बैरिकेटिंग का कार्य शुरू किया गया है। 

     

  •  

Posted Date : 10-Jul-2018
  • कांग्रेस ने गुणवत्ता पर उठाए सवाल, जांच-कार्रवाई की मांग
    खडग़वां का चिरमी बंजारीडाड सड़क
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 10 जुलाई।  खडगवॉ विकासखंड अंतर्गत ग्राम चिरमी से बंजारीडॉड तक के जिस सड़क निर्माण के समय  छत्तीसगढ़ ने जो सवाल उठाए थे वो सच साबित हुए। 6 महीने के भीतर कई जगह से उखड़ी  सड़क में  बड़ी बड़ी दरारें आ गईं। वही इसके सपोर्ट बनाए लाखों के बीम वाल भी क्रेक हो गए। 
    वहीं इस संबंध में एक बार फिर लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन अधिकारी श्री मेशराम सड़क की स्थिति  देखने के बाद ही कुछ कहने की बात कर रहे है। वहीं कांग्रेस नेता गुलाब कमरो का कहना है निर्माण के समय ही इसकी गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो रहे थे, लोक निर्माण विभाग की इस सड़क और ओडगी से आमगांव की सरकार निष्पक्ष जांच कराए और दोषियों पर कार्यवही की जाए। छत्तीसगढ ने 20 नवंबर 2017 के अंक में लोनिवि के एक सड़क निर्माण कार्य को लेकर गुणवत्ता पर सवाल उठाया था और जानकारों के हवाले से बताया था कि ऐसे में तो सड़क निर्माण एक वर्ष भी टिकना मुश्किल है। लोनिवि के द्वारा जिले के खडगवॉ विकासखंड अंतर्गत ग्राम चिरमी से बंजारीडॉड तक सडक को नया रूप देकर चौड़ीकरण का कार्य कराया गया था जिसमें गुणवत्ता के अभाव के कारण आज एक वर्ष पूर्ण होने के पूर्व ही सड़क कई जगहों से धंसती जा रही है। यह हालत उस समय की है जब पहली बरसात हुई है अभी तो पूरी बरसात बाकी है। ऐसे में सडक के कई जगहों पर धंसने की संभावना है। जानकारी के अनुसार खडग़वां जनपद क्षेत्र में ग्राम चिरमी से बंजारीडॉड तक सडक का नये सिरे से मरम्मत एवं चौडीकरण का कार्य 200 करोड़ों रूपये खर्च कर शुरू किया गया था। जिसे लेकर उस दौरान ग्रामीणों में भी नाराजगी थी। 
    जब इसकी जानकारी निर्माण कार्य के दौरान दैनिक छत्तीसगढ ने लोनिवि के कार्यपालन अभियंता मेशराम को दिया तो उन्होंने कहा कि मैं स्वयं जाकर निर्माण कार्य देखता हूॅ यदि नियमों के अनुरूप कार्य नहीं हो रहा होगा तो ठेकेदार के विरूद्ध कार्यवाही होगी लेकिन यह सिर्फ थोथा बयान ही साबित हुआ। घटिया निर्माण कार्य काये जाने के कारण आज पहली बारिश में ही चिरमी बंजारीडांड सडक में जगह जगह पर दरार के अलावा कहीं कहीं पर सड़क धंसती जा रही है।
    पुलिया की बीम व फुटपाथ पर भी दरार
    चिरमी से बंजारीडांड तक करोड़ों रूपये की लागत से बनाये गये सड़क की हालत अब किसी से छिपी नही है। इस सड़क मार्ग पर बनाये गये एक स्थान के ह्यूम पाईप पुलिया की बीम में भी दरारे आ गयी है। इसके अलावा सड़क के दोनों ओर बनाये गये सीसी फुटपाथ पर भी जगह जगह पर दरार साफ दिखाई दे रही है। इस सडक के निर्माण कार्य में शुरू से ही लापरवाही बरती गयी। विभागीय जिम्मेदार अधिकारी को जानकारी होने के बावजूद किसी प्रकार की कार्यवाही नही की गयी और मनमाने पूर्वक कार्य करा दिया गया। 
    32 प्रतिशत कम दर पर लिया काम
    उक्त सड़क के निर्माण कार्य के लिए ठेकदार के द्वारा 32 प्रतिशत कम दर पर कार्य लिया। इसे लेकर सवाल उठते रहे है कि जब इतनी कम प्रतिशत में कार्य लिया गया तो फिर सड़क निर्माण कार्य में गुणवत्ता कितनी होगी यह बताने की जरूरत नही होगी। नियमानुसार पहले से पूरी तरह से सड़क की डामर उखाड़ कर जीएसबी बिछाया जाना था, परन्तु बिना उसे उखाड़े उस पर डब्युबीएम कर उस पर बीटी कर दिया गया था वही डब्ल्युबीएम भी काफी ढीला  बनायी गयी थी। यही कारण है कि ठेकेदार के द्वारा निर्माण कार्य के शुरूआत से लेकर अंत तक मनमानी पूर्वक गुणवत्ता को ताक में रखकर कार्य कराया गया जिसका नतीजा अब सबके सामने है। क्या अब भी संबंधित ठेकेदार के विरूद्ध विभागीय अधिकारी कार्यवाई करेंगे। 
    यह रही तकनीकी खामियां
    जानकारों के अनुसार चिरमी से बंजारीडॉड सडक निर्माण कार्य में उस दौरान सड़क में लगाई जा रही मिट्टी आसपास के खेतों से खोद कर लाई जा रही थी, जबकि मिट्टी की जांच और मुरूम लाकर सोल्डर बनाया जाना था, परन्तु वहां ऐसा नहीं किया गया। जीएसबी निम्न स्तर का किया गया है, जिसमें मात्र नदी के रेत निकाल कर सीधे डाल दिया गया जबकि नियमानुसार इसका मिक्सर बनाकर सडक में डाला जाना चाहिए था। डब्ल्यूबीएम कार्य बिना डब्ल्युबीएम प्लांट के जेसीबी से मिक्स कर बिछाया जा रहा है। इसकी मोटाई भी काफी कम है। पुल पुलिया, रिर्टनिंग वाल का निर्माण छोटी मिक्चर मशीन से किया गया। जिसके कारण एक वर्ष भी नव निर्मित सड़क टिक नहीं पाया। 

     

  •  

Posted Date : 09-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर 9 जुलाई। कोरिया जिले में हाथियों के दो दल खडगवांॅ व बैकुण्ठपुर जनपद क्षेत्र में विचरण कर रहे हंै।  आज हाथियों के एक दल ने बंजारीडांड  में   आधा दर्जन से ज्यादा घरों को तोड़ दिया।  प्रभावितों को सुरक्षित जगह भेज दिया गया है। हाथियों का यह दल कल 8 जुलाई को खडगवांॅ जनपद क्षेत्र के वन ग्राम बहालपुर क्षेत्र के जंगल में था। 
    ग्रामीणों ने बताया कि दहशत के कारण वे रतजगा कर रहे हैं। क्षेत्र में हाथियों ने सबसे ज्यादा नुकसान बंजारीडॉड में ही किया है। बताया गया कि इसके पूर्व खडगवांॅ जनपद क्षेत्र के ग्राम बारी व आस पास के क्षेत्र में हाथियों के दल ने नुकसान पहुंचाया था। इधर वन अमला हाथियों को जंगलों की ओर भगाने की कोशिश में जुटा है। समाचार लिखे जाने तक हाथियों का दल बंजारीडॉड क्षेत्र के जंगलों में ही विचरण कर रहा है। 
    वहीं दूसरा दल बैकुंठपुर जनपद क्षेत्र के सलका सलबा, रोबो बकिरा क्षेत्र में घुमने की जानकारी है। गौरतलब है कि इस क्षेत्र के कांदाबारी के जंगलों में प्रतिवर्ष हाथियों का आगमन होता रहता है। ये फसल के दिनों में जमकर नुकसान पहुॅंचाते हैं। 
    ज्ञात हो कि जिले के सोनहत जनपद क्षेत्र में भी हाथियों का कहर आये दिन बना रहता है। इसी जनपद क्षेत्र में गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान स्थित है जहांॅ हाथियों की संख्या काफी है। इस पार्क क्षेत्र से निकलकर हाथियों का दल पिछले महीने ग्रामीण क्षेत्रों में पहुॅंच गया था। उस दौरान सोनहत के ग्राम ओदारी में  नुकसान पहुॅंचाया  था। इसके बाद  केराझरिया, वन ग्राम आनंदपुर, केतकीझरिया के जंगलों से होते हुए नगर क्षेत्र के जंगलों में पहुॅंचा था। 

  •  



Previous1234Next