छत्तीसगढ़ » कोरिया

Previous123Next
Posted Date : 09-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुण्ठपुर, 9 मई। कोरिया के सोनहत इलाके में आज सुबह एक मिनी यात्री बस बेकाबू होकर पलट गई जिसमें  एक महिला की मौत हो गई जबकि तीन गंभीर रुप से घायल हैं।  25 सवारियों को मालूली चोटें आई हैं। घायलों को सोनहत अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बस में 60 यात्री सवार थे।
    जनपद मुख्यालय सोनहत में आज बाजार था।  क्ष़ेत्र के दूरस्थ ग्राम जोगिया से सोनहत आ रही बोल बम बस ग्राम कछाडी व छिंगुरा के बीच  एक पुलिया पर बेकाबू होकर पलट गयी। बताया जाता है कि इस मिनी बस की छत और  भीतर करीब 60 यात्री सवार थे। जिससे चालक नियंत्रण नहीं रख पाया।
    ज्ञात हो कि अभी विवाह का सीजन है।   प्रमुख बाजार में  लोग प्रतिदिन पहुॅंच रहे हैं। वनांचल क्षेत्रों में सीमित बस चलने के कारण इनमें यात्रियों की संख्या अधिक रहती है।  लोग बस की छत पर भी  बैठकर यात्रा करते हैं।  

  •  

Posted Date : 07-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 7 मई। कोरिया के मनेन्द्रगढ़ वनमंडल अंतर्गत जनकपुर रेंज में एक तेंदूए को मारकर जलाने का मामला सामने आया है। वन एसडीओ और रेंज अफसर जांच में जुटे हुए हैं। 
    वहीं इस संबंध में जनकपुर रेंजर रामसागर कुर्रे का कहना है कि 26 अप्रैल के बाद की घटना है, तेंदुए का शव पूरी तरह से जला हुआ पाया गया, जिसके बाद इस घटना में शामिल लोगों की तलाश की जा रही है, जल्द ही मामले का खुलासा किया जाएगा।  
    वहीं सर्किल प्रभारी डिप्टी रेंजर जगत सिंह का कहना है कि जब सूचना मिली तब तक सिर्फ तेंदूए की हड्डी ही बची मिली।  
    जनकपुर परिक्षेत्र के बडवाही सर्किल में एक तेंदुए को मारकर जलाए जाने का मामला तब सामने आया जब वहां पदस्थ एक वनकर्मी को तेंदुए का अधजला शव मिला।  जांच में यह बात सामने आई कि तेंदूए को मारकर  जलाया गया है।  रेंज अफसर और कर्मचारियों ने इसकी जानकारी एसडीओ को दी। अब मामले की जांच की जा रही है। 
    उल्लेखनीय है कि रेगूलर फारेस्ट रेंज जनकपुर और गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान का क्षेत्र आपस में लगा हुआ है, पार्क में काफी संख्या में तेंदुए हंै वहां इनकी गणना भी की जाती है, जबकि रेगूलर फारेस्ट में जानवरों की गणना पर कोई जानकारी देने को तैयार नहीं है। 

     

  •  

Posted Date : 07-May-2018
  • बैकुठपुर में सर्वआदिवासी समाज की रैली, प्रदर्शन
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 7 मई। जशपुर  बटुंगा में पत्थरगड़ी तोडऩे वाले आरोपियों के खिलाफ  कार्यवाही की मांग ओर गिरफ्तार नेताओं को रिहा करने की मांग के साथ सर्व आदिवासी समाज का धरना प्रदर्शन शुरू हो गया है। 
     आंदोलनकारियों का कहना है कि छग व केंद्र की भाजपा सरकार व उसके नेताओं के द्वारा संवैधानिक शिलालेख पत्थरगड़ी को असंवैधानिक बता रहे है जबकि ऐसा नहीं है।  जिले भर से आए आदिवासी समूह नगर पालिका के सामने बड़ी संख्या में इक_े हो चुके थे, और धरना-प्रदर्शन शुरू हो चुका था। आदिवासी नेताओं का संबोधन शुरू हो गया था और लोग जुटने भी शुरू हो गए थे। आज शाम पुतला दहन समेत कई कार्यक्रम रखे गए हैं। 
    राज्यपाल के नाम सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया कि प्रबल प्रताप सिंह जूदेव व उनके अन्य साथियों को गिरफ्तार किया जाए, और आदिवासी मुखियाओं पर फर्जी अपराध रद्द कर रिहा किया जाए।
    ज्ञापन के मुताबिक 5वीं अनुसूची और आदिवासी समुदाय के रूढ़ी प्रथा और प्रवृत्त निधि के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए रूढि़ प्रथा पारंपरिक पत्थलगड़ी को ग्राम के प्रमुख बैगा महतो पहान, पड़हा एवं आदिम जाति आदिवासियों की रूढ़ी प्रथा से शासित समुदाय के समक्ष सर्वसम्मति से रूढ़ी प्रथा पारंपरिक विधि से स्थापित किया जाए। उक्त आरोपियों द्वारा संविधान का उल्लंघन किया गया है। 
    सरगुजा पहुंची पत्थरगड़ी
    जशपुर से निकली पत्थरगड़ी अब जशपुर कोरिया के सरगुजा के बलरामपुर इलाके में पहुंच गई है। बलरामपुर  के घरघोड़ी में पत्थर गाड़े गए हैं। सामरी के कांग्रेस विधायक प्रीतम राम का कहना है कि  आदिवासी गांव में काम की कमी से उपजा असंतोष पत्थरगड़ी के रुप में उपजा है। 
    इधर आज भी जशपुर  बागीचा के कलिया गांव में पथरगड़ी को लेकर दो समुदायों में तनाव बरकारार है। यहां पत्थर हटाए जाने का मसीही समुदाया के लोगों ने विरोध किया। हिंदू समुदाय का कहना है कि मसीही समुदाय विरोध कर रहा है आदिवासी इसका विरोध नहीं कर रहे हैं। वहीं यहां के एक आदिवासी नेता का कहना था कि गांव में बाहर के लोग आ रहे थे इसे रोकने के लिए पत्थरगड़ी किया गया है। 
    ज्ञात हो कि कल रविवार को कलिया में पत्थलगड़ी समर्थक और विरोधी दोनों पक्ष अलग अलग स्थान पर बैठे हुए थे। वहीं बुटूंगा में पत्थलगड़ी समर्थक जुटने की कोशिश कर रहे थे।  कलिया में तनाव की जानकारी मिलते ही सुबह से भी भारी संख्या में जिले भर से पुलिस बल कलिया पहुंच गया। बगीचा की एसडीओपी पदमश्री तंवर के साथ डीएसपी और थाना प्रभारी रैंक के अधिकारी भी इस गांव में तैनात कर दिए गए। 

     

     

  •  

Posted Date : 02-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    मनेन्द्रगढ़, 2 मई। मनेन्द्रगढ़ के नदीपार इलाके में आज सुबह सड़क के किनारे खड़ी एक बोलेरो व दो  कार में आग लगने से दहशत का माहौल बन गया। काफी मशक्कत के बाद जब दमकल ने आग पर काबू पाया तब तक तीनों गाडिय़ां जलकर खाक हो चुकी थी। 
    प्राप्त जानकारी के अनुसार मनेन्द्रगढ़ के नदीपार ईलाके में यूसुफ मेमन की दुकान है जहां वे गाडिय़ों की खरीदी बिक्री करते है। आज बुधवार की सुबह  9 बजे दुकान का नौकर दुकान खोलने पहुंचा तो उसने देखा कि गाडिय़ों में आग लगी हुई है। उसने तत्काल इस घटना की जानकारी यूसुफ मेमन को दी जिसके बाद नगर पालिका को सूचना दी गई।   वाहनों में आग लगी देखकर लोग भी घबरा गए. क्योंकि पास ही पेट्रोल पंप था। आग के कारणों का पता नहीं चल सका है।

  •  

Posted Date : 27-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 27 अप्रैल। कोरिया के बैकुंठपुर जनपद के ग्राम पंचायत कूड़ेली में कल फंदे में मिली युवती की हत्या की गई थी। हत्या के पहले उसके साथ बलात्कार किया गया था। तीन आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है इसमें से एक नाबालिग है।
    मामले का खुलासा करते हुए एएसपी नवोदिता पॉल शर्मा ने बताया कि तीन आरोपियों ने मिलकर इस घटना को अंजाम दिया।  मुख्य आरोपी कृष्णा तिर्की (25)उर्फ दुर्गा और गोरेलाल खलखो (19) के साथ एक नाबालिक  ने 24 अप्रैल की रात 8 बजे युवती को खडग़वां शादी में ले गए। वहां  कृष्णा तिर्की ने  उसके साथ बलात्कार किया। युवती ने जब  उससे शादी करने की बात कही, तो वो गुस्से में आ गया। 
    उसके साथ   मारपीट की, विरोध करने पर  उसके दुपट्टे से गला घोंटकर मार डाला। फिर लाश को फंदे में डाल पेड़ पर लटका दिया।
    उल्लेखनीय है कि बैकुंठपुर कूड़ेली के हरिजनपारा की रहने वाली 17 वर्षीया किशोरी मंगलवार रात 9 बजे शादी देखने के लिए निकली थी, देर रात जब घर नहीं पहुंची तो घर वाले उसे ढूंढने निकले। उन्हें बुधवार दोपहर पता चला कि किसी लड़की का शव पेड़ पर फांसी पर लटका हुआ है।  किशोरी के परिजनों ने उसे पहचान लिया, फिर कोटवार की मदद से पुलिस को सूचना दी थी।

  •  

Posted Date : 26-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 26 अप्रैल। कोरिया जिला प्रशासन अब सरकारी भवनों को भगवा रंग देने में जुटा हुआ है, जिला अस्पताल और उससे लगे नए और पुराने भवनों को भगवामय कर दिया गया है।  इस संबंध में जिला अस्पताल के प्रभारी सीएस डॉ एस के गुप्ता का कहना है कि रंग का चयन हम सबने मिलकर तय किया था। 
    प्रशासन सरकारी भवनों को भगवामय करने में लगा है, इसकी शुरूआत जिला अस्पताल से की गई है। जिला अस्पताल के नए भवन को चारों ओर भगवामय कर दिया गया, वहीं इससे लगे नेत्र विभाग का भवन, पुराने अस्पताल भवन को भी भगवा रंग में रंगा गया है।  हालांकि अस्पताल प्रबंधन रंग के चयन को लेकर पीडब्ल्यूडी और सभी  अफसरों की राय बता रहा है।  जबकि बीते कुछ ही माह पहले कायाकल्प योजना के तहत जिला अस्पताल को सफेद रंग से रंगवाया गया था, उसके बाद फिर अचानक डीएमएफ से 25 लाख रू की राशि स्वीकृत कर जिला अस्पताल को भगवा रंग से रंग डाला गया।  
    जनकपुर में भी जारी है रंगाई-पुताई
    जानकारी के अनुसार भरतपुर के तहसील मुख्यालय जनकपुर के 100 बिस्तरीय अस्पताल में भी पुताई का काम जोरों पर है। सूत्रों के मुताबिक  डीएमएफ से यहां निचले तल की पुताई के लिए एक लाख जबकि ऊपरी तल के लिए 8 लाख रुपये की राशि जारी की गई है। दोनों काम बिना टेंडर जारी है। अभी अंदर की पुताई का काम चल रहा है।
    वेबसाईट पर अपलोड नहीं
    राज्य के खनिज सचिव के स्पष्ट निर्देश के बाद भी डीएमएफ की जानकारी वेबसाईट पर अपलोड नहीं की गई है।  कोरिया की वेबसाईट पर 3 जून 2017 का पत्र पोस्ट कर यह बताया गया है कि अप्रैल 2017 तक के स्वीकृत कार्यों की सूची उपलब्ध है, 
    परन्तु सूची में सिर्फ मार्च 2017 तक के ही स्वीकृत कार्यों की सूची है, वर्ष 2017-18 जिसमें अप्रैल 2017 से मार्च 2018 तक के स्वीकृत कार्यों की सूची अब तक वेबसाईड पर अपलोड नहीं  है।
    इधर सामाजिक कार्यकर्ता सुरेन्द्र सिंह छोटू ने प्रशासन पर भाजपा के लिए काम करने का आरोप लगाया है, उनका कहना है कि भाजपा के कार्यक्रम में भीड़ इक_ी करना हो या उनके कार्यकर्ताओं को उपकृत करने का काम हो,  हर तरह की मदद के लिए डीएमएफ का खजाना खोल रखा है। ना तो इसकी कोई जांच की जाती है। वे चुनाव आयोग को पत्र लिखेंगे, ताकि निष्पक्ष चुनाव कराए जा सके। 

  •  

Posted Date : 20-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    भैयाथान, 20 अप्रैल। अंबिकापुर - दतिमा मार्ग पर  आज सुबह कार बेकाबू होकर पेड़ से जा टकराई जिससे सवार 2 बच्चों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई जबकि 4 को गंभीर चोटें आई हैं। हादसे का कारण चालक को झपकी आना बताया जा रहा है।
    पुलिस के अनुसार सलका अधीना  के  वजय स्वीट्स के मालिक विजय गुप्ता  परिवार के साथ ग्राम बात बतौली अपने रिश्तेदार के यहां शादी  से लौट रहे थे।    तड़के चार बजे अंबिकापुर - दतिमा मार्ग के राई जंगल में  चालक अमित गुप्ता को  झपकी आ गई और कार का संतुलन बिगड़ गया और रोड से 15 फीट दूर  पेड़ से जा टकराई।  जिससे चालक के बगल में बैठे विजय गुप्ता के दोनों बेटे नमन गुप्ता 8 वर्ष व सोनू गुप्ता 5 वर्ष की मौके पर ही मौत हो गई। घायलों में अमित गुप्ता समेत उसकी मां पार्वती गुप्ता, विजय गुप्ता और 
    उनकी पत्नी शर्मिला गुप्ता को गंभीर चोटें आई हैं।  
    घायल विजय गुप्ता ने फोन पर घटना की जानकारी दी। परिजनों ने घायलों को अम्बिकापुर मेडिकल कालेज अस्पताल पहुंचाया। घटना के बाद सलका में शोक की लहर है।  

  •  

Posted Date : 16-Apr-2018
  • सीएम ने लूंड्रा से मांगा मजबूत भाजपा विधायक

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अंबिकापुर, 16 अप्रैल। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज सरगुजा लूंड्रा के बटवाही में प्रगति और आवास मेले में 110 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात दी। इस अवसर पर उन्होंने  लगभग 5 हजार लोगों को प्रधानमंत्री आवास की स्वीकृति पत्र हितग्राहियों को बांटा। इसके अलावा रूप सागर परियोजना एवं स्वाभिमान परियोजना का शुभारंभ किया। चार करोड़ 51 लाख के दो सड़कों का लोकार्पण एवं 41 करोड़ 25 लाख की लागत से 11 कार्यों का भूमि पूजन किया गया।
    इस अवसर  पर  मुख्यमंत्री ने कहा कि लंूड्रा ने जो भी मांगा डॉ. रमन ने दिया, अब 2018 के चुनाव में एक मजबूत विधायक चाहिए जो विधानसभा में अपनी बात सशक्त रुप से रख सके। आपने अब तक जो चुना उसे देख चुके हैं। उन्होंने सरकार के विभिन्न योजनाओं की भी जानकारी देते हुए सरकार के किए गए कार्यों की जानकारी दी।
    इस मौके पर  5 सौ हितग्राहियों को विद्युत कलेक्शन, प्रमाण पत्र, दो हितग्राहियों को टे्रेक्टर ट्राली, दो लोगों को मिट्टी परीक्षण प्रमाण पत्र, पांच लोगों को मोटराईड ट्राई सायकल, 25 लोगों को सोलर पम्प, चार सौ लोगों को गैस कनेक्शन व चूल्हा, 4792 लोगों को प्रधानमंत्री आवास स्वीकृति पत्र, 165 लोगों को राजमिस्त्री टूलकीट, एक हजार लोगों को स्मार्ट कार्ड वितरण, 274 लोगों को मच्छरदानी, चार सौ लोगों को सब्जी मिनीकीट एवं अन्य हितग्राहियों को सामाग्री वितरण किया।
    रूप सागर परियोजना में रघुनाथपुर, असकला, दोरना गांव महिला समूह का गठन हुआ है। यहां से लुण्ड्रा क्षेत्र के लोग दूध को विक्रय कर सकेंगे। फूड प्रोसेसिंग अंतर्गत खोवा-पनीर का उत्पादन किया जायेगा।
    स्वाभिमान परियोजना में  सीतापुर में दो लाख रूपये की लागत से यूनिट लगाया गया है। इस यूनिट में प्रतिदिन 200 नेफकीन पैड का निर्माण होगा। दो रूपये मेें एक नेफकीन पैड बनेगा और उसे तीन रूपये में सेल किया जायेगा। 

  •  

Posted Date : 10-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 10 अपै्रल। कोरिया जिले के सोनहत विकासखंड में कल शाम चार्ज हो रहे मोबाइल के फटने एक बालक गंभीर रूप से जख्मी हो गया। गंभीर हालत को देख उसे अंबिकापुर  अस्पताल भेजा गया है। 
     सोनहत जनपद मुख्यालय के खुटरापारा में कल शाम चार्जिंग के दौरान मोबाईल में धमाके के साथ फट गया।  धमाका इतना तेज  था कि पास खड़े रवि कुमार सोनवानी (13 वर्ष) की अंतडिय़ांॅ  बाहर निकल गईं।  सोनहत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्राथमिक इलाज के बाद उसे  कोरिया जिला अस्पताल भेजा गया।  एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल के कारण उसे जिला अस्पताल लाया गया। 

  •  

Posted Date : 07-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर,7 अप्रैल। मायके में रह रही बीमार पत्नी ने जब सेक्स से मना किया तो नाराज पति ने कुल्हाड़ी से वार कर दिया। चीख सुनकर आई सास ने तब उसे रोका तो उस पर भी हमला कर दिया। सास की मौके पर ही मौत हो गई जबकि महिला की हालत गंभीर बनी हुई है। आरापी फरार है। घटना बीती रात भैयाथान के पटना की है। 
    मिली जानकारी के अनुसार भैयाथान निवासी सनत कुमार पटवा  बीती रात अपने ससुराल पटना में था। पति द्वारा अक्सर मारपीट किए जाने से उसकी पत्नी सरिता पटवा कुछ दिनों से  मायके आकर रह रही थी। कल रात उसने पत्नी से देह संबंध बनाने कहा जिस पर पत्नी ने तबीयत खराब होने का हवाला देते इंकार दिया इससे नाराज सनत ने कुल्हाड़ी से उसे सिर और पैर पर वार कर दिया। चीख सुनकर जब उसकी बुजुर्ग सास हँसवती (पति स्व.जवाहर पटवा) वहां पहुंची और रोकने लगी तो उस पर वार कर दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इस दौरान शोरशराबा सुनकर गश्त पर निकली पुलिस पहुंची और घायल को अस्पताल पहुंचाया। पुलिस के अनुसार विवाह को बारह वर्ष हो गए थे, दंपत्ति के दो छोटे बच्चे हैं, पति हमेशा मारपीट करता था इसलिए पत्नी माँ के पास रह रही थी।  ेआरोपी मूलत: सतना के कोठी का था और अस्थायी तौर पर सूरजपुर के भैयाथान में रहता था। पंक्तियों के लिखे जाने तक आरोपी फरार था। 

    लापता नाबालिग बरामद, आरोपी बंदी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैंकुठपुर, 7 अप्रैल। कोतवाली पुलिस ने बीते 15 दिनों से लापता एक नाबालिग युवती को उत्तर प्रदेश के सोनभद्र से बरामद किया है। शनिवार को आरोपी को न्यायालय प्रस्तुत किया गया जहां से उसे जेल भेज दिया गया। थाना प्रभारी रविंद्र कुमार आनंद ने बताया कि बीते 18 मार्च को नाबालिग की मां ने कोतवाली पहुंचकर इस बात की जानकारी दी थी कि उसकी नाबालिग बेटी बीते 16 माह से लापता है।   पुलिस ने नाबालिग के अपहरण का मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू की। जानकारी मिली नाबालिग को उसके रिश्ते का मामा भगा कर अपने साथ सोनभद्र उत्तर प्रदेश ले गया है।   सूचना पर  टीम भेजी गई  जिसने आरोपी गुड्डू पठारी के घर से नबालिग को बरामद किया। 

  •  

Posted Date : 02-Apr-2018
  • मनेन्द्रगढ़ सरकारी अस्पताल
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    मनेन्द्रगढ़/ बैकुंठपुर, 2 अप्रैल।  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेंद्रगढ़ में भर्ती महिला को जब नर्सों ने बच्चा उल्टा होने और अन्य अस्पताल जाने की सलाह दी। महिला के परिजनों ने सरकारी एंबुलेंस को फोन किया न आने पर एक ऑटो से बैकुंठपुर जाने लगे। रास्ते में ही ऑटो में ही उसका प्रसव हो गया। वे फिर मनेन्द्रगढ़ लौटे जहां से बैंकुठपुर जिला अस्पताल भेजा गया। इधर बैकुंठपुर में बच्चे की नाजुक हालत को देख अंबिकापुर भेजा गया है। ज्ञात हो कि कल रविवार होने के कारण अस्पताल में कोई भी डॉक्टर मौजूद नहीं था।
    इस मामले में बीएमओ डॉ. सुरेश तिवारी का कहना है कि इसमें  हास्पिटल स्टाफ की कोई लापरवाही व गलती नहीं है। कल महिला प्रसव के लिए आयी थी तो ड्यूटी  नर्स ने चेककर बताया कि बच्चा उल्टा है।  नर्स ने मुझे जानकारी दी तो मैंने चेकअप के लिए घर बुलाया था।  परन्तु मरीज के परिजन मेरे पास न लाकर सीधे जिला चिकित्सालय बैकुंठपुर ले जा रहे थे कि रास्ते में प्रसव हो गया। 
    मिली जानकारी  के अनुसार रविावर को मनेंद्रगढ़ के ग्राम पंचायत पिपरिया निवासी सुनीता पति प्रदीप कुमार (25) को प्रसव पीड़ा होने पर मितानिन की मदद से संजीवनी एक्सप्रेस 108 के टोल फ्री नंबर पर फोन किया गया था। एंबुलेंस के न आने पर ऑटो से दोपहर 1 बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेंद्रगढ़ पहुंचे।
    प्रसूता की हालत को देखकर नर्सिंग स्टाफ ने बच्चा उल्टा होने के बात कहकर डॉ. तिवारी से मिलने को कहा। लेकिन महिला के परिजन ज्यादा फीस के डर से ऑटो से 52 किमी दूर जिला अस्पताल बैकुंठपुर रवाना हो गए। करीब 15 किमी  सफर के बाद बेलबहरा-नागपुर के बीच  प्रसव पीड़ा तेज हो गई और मितानिन ने सूझबूझ से ऑटो में ही प्रसव कराया। प्रसव  के बाद मनेंद्रगढ़ अस्पताल लौटकर भर्ती कराया गया। समय से पहले प्रसव  के कारण जच्चा-बच्चा को  एंबुलेंस से जिला अस्पताल बैकुंठपुर भेजा गया।   
    बैकुंठपुर संवाददाता के मुताबिक बच्चे को गहन चिकित्सा कक्ष में रखा गया, परंतु देर रात उसकी हालत बिगडऩे लगी और उसे  अम्बिकापुर भेजा गया है। जिला अस्पताल के एसएनसीयू से मिली जानकारी के अनुसार  महिला का समय से पहले सात महीने में ही प्रसव हो गया है। इससे बच्चा कमजोर है।  उसकी हालत नाजुक है।

  •  

Posted Date : 01-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 1 अप्रैल। जशपुर के कांसाबेल से आज सुबह अंबिकापुर जा रही बस बेकाबू होकर  पुलिया से  जा गिरी। हादसे में सवार एक दर्जन को चोटें आई हैं इनमें 1 की हालत गंभीर बताई गई है।
    मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह राजधानी बस सर्विस की बस कांसाबेल से 45 यात्रियों को लेकर अंबिकापुर के लिए निकली थी। कांसाबेल पुलिया के पास एक बाइक को बचाते बस बेकाबू हो गई और पुलिया से गिर गई।  आसपास के ग्रामीणों ने सवारियों को बाहर निकाला और सीतापुर अस्पताल भिजवाया। बताया जाता है कि सीतापुर के आसपास घुमावदार रोड के कारण अक्सर इस तरह के हादसे होते रहते हैं।

  •  

Posted Date : 26-Mar-2018

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 26 मार्च। नवरात्रि के अंतिम दिन जहां देश भर में कन्या पूजा की जा रही थी। उन्हें कन्याभोज दिया जा रहा था। कोरिया के खडग़वां महामाया मंदिर के पास एक  8 साल की कन्या से निर्भया सी दरिंदगी की घटना सामने आई। पुलिस का अनुमान है कि बलात्कार के बाद उसका सिर पत्थरों से कुचला गया। उसके नाजुक अंगों पर चोट के निशान हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मामले की जांच में जुट गए हंै।  समाचार लिखे जाने तक फोरेंसिक टीम मौके पर नहीं पहुंची थी। उनके आने के बाद पोस्टमार्टम किया जाएगा।  
    इसके पहले बच्ची की बलि की आशंका जताई जा रही थी लेकिन शव के पास मिले सबूतों से  पहली नजर में बलात्कार-हत्या का मामला लग रहा है। 
    पुलिस के अनुसार खडगवॉ थाना क्षेत्र के ग्राम चनवारीडॉड की एक 8 वर्षीया बालिका  शनिवार को अपने घर से पास के महामाया मंदिर देवी दर्शन के लिए निकली थी लेकिन इसके बाद वह घर नहीं लौटी।  परिजनों ने उसकी काफी तलाश की पर पता नहीं चला। रविवार  शाम  कुछ लोगों ने महामाया मंदिर के पास झाडिय़ों में एक बालिका की नग्न लाश देख इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने इसकी पहचान एक दिन पूर्व गुम हुई बालिका के रूप में की। 
    लाश  पत्थर से कुचला हुआ था,नाजुक अंगों पर भी चोट के निशान थे।  पुलिस के मुताबिक पहली नजर में बच्ची से बलात्कार और हत्या लग रहा है।  जांच के बाद ही इसके बारे में स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। फॉरेंसिक टीम को भी बुलाया गया है। घटना के संबंध में अब तक कोई सुराग नहीं मिल सका है।
    ज्ञात हो कि कोरिया में नवमीं के दिन तीन घटनाओं में 6 मौतें हुई हैं।  पहली घटना मनेंद्रगढ क्षेत्र में जहां मां व दो बच्चों की नहाने के दौरान डूबने से मौत हो गई। वहीं  अमृतधारा में डूबने से दो  की मौत हो गई।

  •  

Posted Date : 25-Mar-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    मनेन्द्रगढ़, 25 मार्च। कोरिया जिले के मनेन्द्रगढ़ थाने के चैनपुर में आज सुबह नाले में नहाने गए बेटी-बेटे और मां की डूबने से मौत हो गई। पुलिस के अनुसार चैनपुर की महिला अपने दो बच्चों के साथ नहाने गई थी। बहन को डूबता देख उसका भाई बचाने दौड़ा और इन दोनों को डूबता देख बचाने दौड़ी मां भी डूब गई। 
     ग्राम पंचायत चैनपुर निवासी विनोद बाघ  की पत्नी सुनीता अपने 12 वर्षीय बेटे विकास 9 वर्षीय बेटी बबीता व अपने परिजनों के साथ सेमरिया नाले में नहाने के लिए गई हुई थी। महिला इस दौरान कपड़े धो रही थी और बच्चे नहा रहे थे।  नहाने के लिए सीढिय़ां बनाई गई है। विकास व बबिता उन्ही सीढिय़ों से होते हुए पानी तक पहुंच गए और   नहाने लगे। अचानक दोनों बच्चे गहरे पानी में जाने लगे, बच्चों को पानी में डूबता देखकर उनकी मां भी दौडी़  बच्चों को खोजते गहरे पानी में डूबने लगी। वहां मौजूद एक अन्य महिला ने  सुनीता को बचाने का प्रयास किया लेकिन तब तक सुनीता भी डूब गई। 
    जैसे ही यह खबर गांव में पहुंची काफी लोग  वहां जमा हो गये। घटना की सूचना मिलने पर  पुलिस  मौके पर पहुंची और स्थानीय गोताखोरों की मदद से  शवों को बाहर निकाला।  

     

  •  

Posted Date : 01-Jan-2018
  • विधानसभा मनेन्द्रगढ़ सामान्य
    चंद्रकांत पारगीर/ रंजीत सिंह
    बैकुंठपुर/मनेन्द्रगढ़ ,1 जनवरी (छत्तीसगढ़)। कोरिया जिले में स्थित तीन विधानसभाओं में दूसरे नंबर की विधानसभा मनेन्द्रगढ़ में चुनाव हलचल तेज होते दिख रही है। भाजपा, कांग्रेस, जोगी कांग्रेस, गोंगपा में दावेदारों की फौज इन दिनों जनता के बीच पहुंच बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है। ऐसे में मनेन्द्रगढ़ सामान्य सीट पर आने वाले समय में चुनावी घमासान और रोचक होने की संभावना है।
    वर्ष 2008 में हुए परिसीमन के बाद कोरिया जिले की दो विधानसभा सीट को तीन विधानसभा बना दी गई, मनेन्द्रगढ विधानसभा में मनेन्द्रगढ़ जनपद की मात्र 3 ग्राम पंचायत के साथ भरतपुर विकासखंड अलग कर नई भरतपुर सोनहत विधानसभा सीट बनाई है, जो आरक्षित सीट है। ऐसे में मनेन्द्रगढ़ विधानसभा में चिरमिरी नगर निगम के साथ खडगवां विकासखंड के कई ग्राम पंचायत शामिल है। यहां से दो बार कांग्रेस विधायक रह चुके गुलाब सिंह अब छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस में है और उन्हें भरतपुर सोनहत से छजका ने अपना प्रत्याशी घोषित कर रखा है। 
    इधर, भाजपा के पास मनेन्द्रगढ़ विधानसभा सीट 2008 से कब्जे में है, परिसीमन के बाद वर्ष 2008 में हुए चुनाव में भाजपा के दीपक पटेल ने जीत दर्ज की, वर्ष 2013 के चुनाव भाजपा ने प्रत्याशी बदल युवा नेता श्याम बिहारी जायसवाल को टिकट दिया और उन्होनें भी भाजपा को निराश नहीं किया, और मनेन्द्रगढ़ सीट भाजपा के पास बरकरार रखी। इस बार भाजपा से श्याम बिहारी जायसवाल को टिकट के लिए टक्कर देने भाजपा से ही कई दावेदार मैदान में आ चुके हंै। हलांकि कोरिया में भाजपा के आंतरिक सर्वे में सिर्फ मनेन्द्रगढ़ विधानसभा सीट पर 80 प्रतिशत जीत के आसार है। 
    सर्वे में ज्यादातर लोग वर्तमान विधायक के कामकाज से संतुष्ट बताए जा रहे हंै। ऐसे में पूर्व विधायक व प्रदेश उपाध्यक्ष दीपक पटेल एक बार फिर दावेदारी ठोंक दी है, कुछ दिन पहले उनके द्वारा आयोजित भागवत में स्वयं मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह पहुंचे थे, जिससे उन्हें टिकट मिलने की कयास तेज हो गए। इससे पहले मुख्यमंत्री वर्तमान विधायक श्याम बिहारी जायसवाल द्वारा आयोजित भागवत में भी पहुंचे थे।
    वहीं पूर्व भाजपा अध्यक्ष लखन श्रीवास्तव एडी चोटी का जोर लगा दिया है, चिरमिरी सहित गांव गांव में लोगों के बीच जाकर अपनी उपस्थित बता रहे हंै, वहीं पूर्व नपा अध्यक्ष धमेन्द्र पटवा भी दावेदारी में पीछे नहीं है। इसके अलावा भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष संजय सिंह भी दावेदारी में शामिल है। 
    दूसरी ओर कांग्रेस बीते दो बार से मनेन्द्रगढ़ को वापस पाने के लिए बेचैन है। ऐसे में वर्तमान कांग्रेस जिला अध्यक्ष प्रभा पटेल के साथ विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष रमेश सिंह के बाद वर्तमान नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमार केशरवानी को नाम सबसे आगे देखा जा रहा है। कांग्रेस के जानकार चिरमिरी और खडगवां से भी कुछ दावेदारों के सामने आने की बात कह रहे है, परन्तु अभी कोई खुलकर समाने नहीं आ सका है। 
    तीेनों विधानसभा में तीसरे नंबर पर रहने वाली पार्टी गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के संभावित दावेदार जिलाध्यक्ष आदित्यराज डेविड इस बार मैदान में उतरने को बेताब है, वो छोटी छोटी बैठक लेकर लोगों के बीच अपनी पहचान बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हंै। वहीं जोगी कांग्रेस से अजीत जोगी परिवार से इस सीट पर उतरने की चर्चा भी आम है। यदि ऐसा हुआ तो मनेन्द्रगढ़ सीट प्रदेश में सबसे चर्चित चुनाव के लिए जाने जाएगी। कई जानकार बताते है मनेन्द्रगढ़ सीट मरवाही से लगी हुई है। बताया जाता है कि पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की चिरमिरी में लोगों की पैठ को कम नहीं आंका नहीं जा सकता है, ऐसे मे परिवार से किसी को भी टिकट देकर यहां से चुनाव लड़ाने की बात चर्चा में है। अब आने वाले समय ही बताएगा कि राजनीतिक दल किस प्रत्याशी का चयन करते है, यह तय है कि मनेन्द्रगढ़ विधानसभा पर चुनावी घमासान बेहद रोमांचक होने वाला है।

  •  

Posted Date : 16-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 16 दिसंबर। सूरजपुर के भैयाथान थाने में पदस्थ एएसआई और उनके ड्रायवर की कोरिया जिले के रनई में अज्ञात लोगों ने बेरहमी से पिटाई की। चालक किसी तरह जान बचाकर गाड़ी लेकर भागा और  इसकी सूचना दी। वहीं पटना पुलिस ने मौके पर पहुंच सड़क किनारे बेहोश पड़े एएसआई को बैकुंठपुर जिला अस्पताल में भर्ती कराया।  एएसआई को बेहतर उपचार के लिए बिलासपुर भेजा गया है। चिकित्सकों ने उसकी हालत बेहद गंभीर बताई है। घटना का कारण अज्ञात है।
    जानकारी के अनुसार सूरजपुर जिले के भैयाथान में पदस्थ एएसआई राजेश प्रताप सिंह बीती रात  गश्त पर निकले थे। 
    घायल  चालक ने प्रारंभिक पूछताछ में यह बताया है कि तड़के तीन बजे के लगभग वे वापस लौट रहे थे। रनई के ग्राम बांसपारा में  चार पाँच लोगों ने वाहन को रोका और एएसआई  से मारपीट करने लगे।  उसके सिर, पेट, हाथ में गंभीर चोटें आर्इं हैं। वह किसी तरह भाग खड़ा हुआ। 
    एएसआई की बेरहमी से पिटाई की गई और सड़क पर फेंक दिया गया। पटना पुलिस मौके पर पहुंची और एएसआई को जिला अस्पताल बैकुंठपुर पहुंचाया। इधर सुबह एसपी कोरिया कई थाना प्रभारियों के साथ जुटे रहे।  चिकित्सक डॉ. रामेश्वर शर्मा ने प्राथमिक उपचार कर  बिलासपुर के डॉक्टरों से पीडि़त के संबंध में जानकारी दी और बिलासपुर भेजा।
    दूसरी ओर पुलिस कप्तान ने गंभीर रूप से घायल ड्रायवर से पूछताछ की, जिसके बाद आरोपियों की तलाश में अलग अलग टीम बनाकर कार्यवाही करने की रणनीति बनाई गई है। पुलिस का कहना है फिलहाल मारपीट की स्पष्ट वजह सामने नहीं आ पाई है, आरोपियों की धरपकड़ के बाद ही मामले की सच्चाई सामने आएगी। 

  •  

Posted Date : 06-Dec-2017
  • कलेक्टर से शिकायत
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 6 दिसंबर। कोरिया जिले में धान खरीदी को लेकर नए खुलासे हुए है, ऐसा तब हो रहा है जब प्रशासन के मुखिया हर धान खरीदी केन्द्र का दौरा कर किसानों की सुविधा को लेकर जानकारी ले रहे है। 
    धान समितियां धान की पल्टी के नाम पर प्रति बोरा 12 रू वसूल रही है, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि किसानों से कितनी राशि की वसूली हो रही है, जबकि हम्माली का खर्च प्रति बोरा के हिसाब से सरकार द्वारा दिया जाता है। वहीं युवक कांग्रेस के अध्यक्ष संजीव सिंह की शिकायत पर कलेक्टर ने जांच के आदेश दिए है।
    मिली जानकारी के अनुसार युवक कांग्रेस के जिलाध्यक्ष संजीव सिंह ने कलेक्टर से शिकायत में बताया कि पटना धान खरीदी केन्द्र में किसानों के बोरे में आए धान के बोरे का पल्टी करने के नाम पर 12 रू प्रति बोरा लिया जा रहा है। उन्होनें अपनी शिकायत में बताया कि रनई निवासी निलेश पांडेय जब अपना घान लेकर पटना धान खरीदी केन्द्र गया तो उसके 62 बोरे धान के पल्टी के एवज में 744 रू की मांग की गई। जो उन्होंने सोसायटी स्टाफ को दे दिया। 
    श्री सिंह ने बताया कि राज्य सरकार किसानों के धान खरीदी के लिए राशि मुहैया करा रही है, ऐसे में जिला प्रशासन ऐसे तत्वों पर किसी तरह की कार्यवाही नहीं कर रहा, बल्कि धान खरीदी केद्रों में किसानों को शोषण किया जा रहा है। ऐसे में उन्होंने धान खरीदी प्रबंधक के खिलाफ तत्काल कार्यवाही करने की मांग की है। 

  •  

Posted Date : 19-Nov-2017

  • चन्द्रकांत पारगीर

    बैकुंठपुर, 19 नवंबर (छत्तीसगढ़)। अर्धशताब्दी पूरी करने जा रहे कोरिया जिला मुख्यालय बैकुंठपुर में स्थापित केन्द्रीय विद्यालय  का बना लाइब्रेरी मैनेजमेंट सिस्टम आज भी वैसा ही काम कर रहा है। आज यहां 5159 पुस्तकें है। जिनमें हिन्दी, अंग्रजी, संस्कृत, संदर्भ ग्रंथ,   पत्रिकाएं, कॉमिक्स के साथ शैक्षणिक पुस्तकें शामिल है। वर्तमान में यहां के प्राचार्य एस आर कौशिक बताते हंै कि तब का बना लाइब्रेरी मैनेजमेेंट सिस्टम आज भी वैसा ही काम कर रहा है। नई किताबें आती गई। बच्चों को लाइब्रेरी से काफी मदद मिल रही है। 
    जानकारी के अनुसार 1977 में बैकुंठपुर में तब संचालित सेंट रॉक स्कूल को केन्द्रीय विद्यालय के रूप में स्थापित किया गया, इसका संचालन कोल इंडिया द्वारा किया जाता है। उस समय सरगुजा संभाग का एक मात्र केन्द्रीय विद्यालय हुआ करता था। उन दिनों इस विद्यालय में अध्ययन के लिए विश्रामपुर, भटगांव, पटना, कटकोना, पंडोपारा, चरचा और बैकुंठपुर से छात्र आते थे। केन्द्रीय विद्यालय बैकुंठपुर के प्रथम लाइब्रेरियन वी के गुप्ता थे, लाइब्रेरियन के रूप में उनका कार्यकाल सबसे लंबा रहा। आज वो दिल्ली में अपने पुत्र के साथ रहते हैं।
    जब उनसे डिजीटलाइजेशन के इस दौर में पुस्तकों की महत्ता के संबंध में पूछा तो उन्होंने बताया कि डिजीटलाइजेशन का असर विभिन्न क्षेत्रों में हो सकता है किन्तु अच्छी पुस्तकों और उनमें जो ज्ञान है वह सदा सदा अक्षुण्णा रहेगा। भौतिकता, कितना भी उछाल ले ले, किन्तु वह पुस्तकों की आध्यात्मिकता के आगे बौनी ही रहेगी, पुस्तकों में जीवन का निचोड़ संजोया गया है। वे बताते है पुस्तकों का महत्व कभी कम नहीं होगा, जिस तरह माता-पिता का महत्व परिवार में हमेशा बना रहता है ठीक उसी तरह पुस्तकों का प्रभार समाज की हर इकाई पर काम करता है। हमारे ग्रंथों, गीता, वेद, उपनिषदों में जो ज्ञान और मार्गदर्शन दिया वो आज भी मौजूद है। 
    दैनिक छत्तीसगढ़ ने केंद्रीय विद्यालय बैकुण्ठपुर  अध्ययनरत रहे स्कूल के शुरूआती कुछ छात्रों से यहां की लाइब्रेरी से उनके कैरियर में किस तरह ऊंचाई दी उसे लेकर बात की। 
    हांगकांग में शिक्षिका सीमिता तालुकदार जो वहां अंग्रेजी सिखाती हंै, उन्होंने क्रियेटिव राइटिंग में स्पेशलाइजेशन किया है, वे बताती है उन दिनों लाइब्रेरी का पीरियड नियमित कक्षाओं की सुस्त, उबाउ रूटिन से बच निकलने का एक नायाब जरिया हुआ करता था, किताबें हमें कल्पना और सपनों की दुनिया में सैर कराती, तो कभी चमत्कारी विश्व के अजूबे दर्शाने वाले झरोखा बन जाती और उस छोटी सी उम्र में हम सब बच्चों के मन में, किताबें पढऩे की इस चाह जगाने का श्रेय उस समय के लाइब्रेरियन श्री गुप्ता सर का जाता है। उनके इस योगदान की वजह है हम आज यहां कुछ बेहतर कर पा रहे है।
    मुम्बई स्थित इंटरनेशल कम्पनी आयरन माउंटेन के एचआर हेड रितू कुंडू बताती है उन्हें किताबों से बेहद प्यार है, दुनिया में जहां भी जाती वहां की लाइब्रेरी जरूर जाती है, हाल ही में वो  दे हैरी एल्किन्स मेमोरियल लाईब्रेरी हावर्ड, बॉसटन की पब्लिक लाइब्रेरी, स्टेनफोर्ड की लाइब्रेरी देख कर आई हैं, लाइब्रेरी को लेकर जो फीलिंगस् है, वो एक मेडिटेशन जैसी है। उन दिनों केन्द्रीय विद्यालय से अपने पसंद की किताबें इश्यू करवा कर लेना और लौटाते वक्त ये ध्यान रखना कि किताब कहीं से खराब तो नहीं हुई है, किताब पर नया कवर लगाकर वापस करना। सबसे बड़ी बात यह कि हमारे लाइब्रेरियन सर वापस लाई पुस्तक के एक एक पन्नों को देखते थे, हमसे ये पूछते थे किताब से क्या सीखा। ये एक संस्कार के रूप में साथ रहा, जिससे हमारे अंदर जिम्मेदारी लेने और सीखने की प्रतिबद्धता के लिए अच्छा मूल्य विकसित किया। 
    सिंगापुर में स्थित एक्सानमोबिल कम्पनी में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के पद पर कार्यरत अश्विनी वर्मा बताते हैं कि फिर से किताबों में खोने का मन करता है, उन दिनों लाइब्रेरी में दरी बिछी होती थी, एक बार उस पर लोटने का मन करता है। जीवन की आपाधापी में पुस्तकों से दूर हो गए, परन्तु आज भी जब भी समय मिलता है वो पुस्तकालय में जाना नहीं भूलते है। उन्होंने बताया कि पुस्तकें हमेशा उनकी मदद में और कैरियर की ऊंचाई में पहुंचाने में उनकी सबसे अच्छी साथी रही। 
    मुम्बई में इंडिको रिमीडिज लिमिटेड में डिप्टी जनरल मैनेजर के पद पर कार्यरत रितेश वर्मा, वे कम्पनी में लर्निग और डेवेहलपमेंट डिपार्टमेंट के हेड भी है वे बताते है कि लर्निंग और डेवेहलपमेंट डिपार्टमेंट प्रोफेशनल होने के नाते उनका किताबों से बेहद करीबी रिश्ता रहा है। किताबों के इस रिश्ते के बारे में सोचता हूं तो केन्द्रीय विद्यालय याद आता है, फिर उस महान शिक्षक को याद करता हूं, जिन्होंने हमारे अंदर किताबों के प्रति प्यार और दूसरों को किताबें पढऩे के लिए प्रेरित करना सिखाया। 
    बिलासपुर में शिक्षिका मौसमी बैनर्जी बताती है कि लाइब्रेरी से हमने अनुशासन सीखा, बेल बजने का इंतजार फिर लाइन में लग कर लाइब्रेरी जाना, शांति बनाए रखना, फिर अपनी मनपंसद की किताबें चुनना और इश्यु करा कर कुछ दिनों मे उसे वापस लौटाना, और सभी प्रक्रियाएं होती थी कोई इनको तोड़ता नहीं था, वो अब तक काम आया और जीवन भर काम आयेगा। किताबों के प्रति आदर का भाव भी वहीं से सीखा। 
    राजधानी रायपुर में डायबिटोलॉजिस्ट और कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. राका शिवहरे बताते हैं कि उन दिनों केन्द्रीय विद्यालय की लाइब्रेरी से किताबों को लेकर जो मन में भाव भरे वो आज भी वैसे के वैसे है। किताबों के प्रति सम्मान और प्रेम का भाव ने मन में पढऩे की हमेशा ललक बनाए रखी। आज वो हर समय साथ रहता है और हमेशा जीवन में भी काम आता है।

  •  

Posted Date : 08-Nov-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    अम्बिकापुर, 8 नवम्बर। रघुनाथनगर क्षेत्र के ग्राम गिरवानी में मंगलवार तड़के एक घर के अंदर भालू घुस जाने से अफरा-तफरी मच गई। लोग डरे सहमे इधर-उधर भागने लगे। भालू एक माह की मासूम बच्ची को नोचने बढ़ ही रहा था कि महिला ने आकर खुद को आगे कर दिया। महिला बच्ची को बचाते रही और भालू महिला को लहुलूहान कर दिया। आवाज सुनकर आस-पड़ोस के लोग भी पहुंच गये। अंतत: भालू वहां से निकल कर भाग गया। गंभीर स्थिति में महिला को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दाखिल कराया गया है। 
    जानकारी के अनुसार ग्राम गिरवानी निवासी सविता पति किस्पत घसिया (39) मंगलवार की तड़के जब सभी सोये हुये थे, तभी एक भालू उनके घर घुस गया। सविता के भाई की एक माह की बेटी भालू के निशाने पर थी, परंतु सविता ने खुद की जान की परवाह न करते हुये बच्ची को अपनी आगोश में ले लिया। भालू महिला को नोचता रहा, परंतु महिला ने बच्ची को नहीं छोड़ा। दूसरी तरफ महिला का पति डंडे से भालू को मारने लगा। हो-हल्ला सुनकर आस-पड़ोस के लोग भी पहुंच गये। तब जाकर भालू वहां से भाग खड़ा हो गया।  महिला की स्थिति गंभीर देखते हुये उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल में लाकर दाखिल कराया गया है, जहां उसका उपचार जारी है। बताया गया कि भालू ने घर की पांच-छ: बकरी को भी मार डाला था। 
    श्रीनगर थाना क्षेत्र के ग्राम महंगई के जंगल में भैंस चराने गई एक वृद्धा पर भालू ने हमला कर दिया। यह देखकर भैंसों की भीड़ वृद्धा को बचाने आगे आ गई। भैंसो की अफरा-तफरी देखकर भालू वहां से भाग खड़ा हुआ।  महिला को गंभीर स्थिति में मेडिकल कॉलेज अस्पताल दाखिल कराया गया है। 
    जानकारी के अनुसार ग्राम महंगई निवासी सोनकुंवर पति सुखई यादव (65) मंगलवार को घर के पास के जंगल की ओर भैंस चराने गई थी। उसी दौरान भालू ने उस पर हमला कर दिया। भालू को हमला करते देख भैंसों में अफरा-तफरी मच गई। भैंस भालू से भीड़ गये। यह देखकर भालू वहां से भाग खड़ा हुआ। वृद्धा का उपचार जारी है। 

  •  

Posted Date : 01-Nov-2017
  • जातबाहर शादी करने वाली महिला के पति का शव 6 दिन घर पड़ा था

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    मनेन्द्रगढ़, 1 नवंबर। दूसरी बिरादरी से प्रेम विवाह के कारण समाज से बहिष्कृत महिला ने पति का अंतिम संस्कार अपने हाथों किया। उसके खेत में ही शव को दफनाया गया। इस दौरान पुलिस ने मदद की।  इसके पहले गांव में ही पोस्टमार्टम किया गया। इस दौरान न गांव समाने आया, न समाज। एसडीएम के निर्देश के बाद भी पंचायत तक न हाथ खड़े कर दिए।  
    ज्ञात हो कि शहर से लगभग 12 किमी दूर ग्राम पंचायत परसगढ़ी में एक ग्रामीण का शव उसकी मौत के छ: दिनों तक बिना अंतिम संस्कार के ही घर में पड़ा रहा। मृतक की पत्नी  लोगों को पांचवें दिन इसकी जानकारी दी।  ग्रामीणों ने स्थानीय पुलिस को घटना से अवगत कराया। आज दोपहर पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद लाश महिला को सौंप दिया।

    इस संबंध में छत्तीसगढ़ ने जब एसडीएम प्रदीप साहू से बात की तो उन्होंने कहा कि सामाजिक बहिष्कार के मामले में जो उचित कार्यवाही होगी, वह की जाएगी। अंतिम संस्कार के लिए ग्राम पंचायत को निर्देशित किया गया है कि मृतक का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाए। वहीं सरपंच  हृदय का कहना था कि चूंकि वह हमारे समाज को छोड़कर दूसरे समाज में शादी की है इसलिए समाज उसके पति के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होगा। 
    इस संबंध में जब संसदीय सचिव चंपादेवी पावले से चर्चा की गई तो उनका कहना था कि आपके द्वारा मुझे घटना की जानकारी दी गई है। मैं भी उसी समाज से आती हूं। उनका बहिष्कार क्यों किया गया इसकी जानकारी लेती हूं। साथ ही साथ मेरे द्वारा जो भी सहयोग होगा मैं जरूर करूंगी। इस क्षेत्र की जनप्रतिनिधि होने के नाते मैं हरसंभव सहयोग करने का आश्वासन देती हूं। 
    एएसआई थाना मनेन्द्रगढ़ धर्मेन्द्र बनर्जी का कहना था कि थाने में घटना की सूचना मिलने के बाद वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर आज मैं यहां पहुंचा हूं। मृतक के शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव उसकी पत्नी के सुपुर्द कर अंतिम संस्कार किया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मृत्यु के संबंध में कोई जानकारी मिल पाएगी।  
    परसगढ़ी में रहने वाले शिवनाथ व मानमती ने 25 वर्ष पूर्व प्रेम विवाह किया था। इस दौरान उनकी कोई संतान नहीं हुई। 30 अक्टूबर सोमवार को  मानमती ने ग्राामीणों को बताया कि उसके पति की मौत बीते 26 अक्टूबर गुरूवार को हो गई है उसका अंतिम संस्कार करना है। तब ग्रामीणों ने यह कहते हुए मना कर दिया कि तुम लोग हमारी जात बिरादरी के नहीं हो, यहां के ग्रामीण  न अंतिम संस्कार करेंगे और न ही शामिल होंगे। इसके बाद ग्रामीणों ने घटना की जानकारी मनेन्द्रगढ़ थाने को दी। 
    संदेहास्पद मौत की जानकारी मिलने के बाद थाना मनेन्द्रगढ़ से पुलिस अधिकारी घटना स्थल पर पहुंचे और शव का पंचनामा कर अग्रिम कार्यवाही की।  आज  दोपहर लगभग 12 बजे मृतक का गांव में ही पोस्टमार्टम किया गया। इस दौरान ग्रामीणों का कहना था कि चूंकि महिला ने दूसरी बिरादरी में शादी कर ली है इसलिये गांव का कोई भी उसके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होगा। इसे देख पुलिस ने कफन-दफन में मदद की।  

  •  



Previous123Next