छत्तीसगढ़ » कोरिया

Previous12Next
Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    मनेन्द्रगढ़/बरबसपुर, 25 अप्रैल।
    जंगल महुआ बीनने गई दो महिलाओं पर मादा भालू और उसके तीन शावकों ने हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। महिलाओं की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें जिला अस्पताल बैकुण्ठपुर रेफर किया गया है।

    प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरूवार की सुबह ग्राम पंचायत उजियारपुर के आश्रित ग्राम सोनवर्षा निवासी सोनकुंवर पति बालम राम एवं केलापति पति रामेश्वर अगरिया दोनों उजियारपुर जंगल में महुआ बीनने गई हुई थीं, तभी मादा भालू व तीन शावकों ने उन पर हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। केलापति अपने पास मोबाइल रखी हुई थीं। घायल अवस्था में उसने मोबाइल से अपने घर पर सूचना दी। परिजन तत्काल मौके पर पहुंचे और दोनों महिलाओं को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नागपुर पहुंचाया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    मनेन्द्रगढ़, 25 अप्रैल।
    शहर में चोरी की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। दो दिन पहले ही रेलवे अधिकारी के यहां लाखों के जेवरात उड़ाने के बाद चोरों ने अब रेलवे स्टेशन के बाहर स्थित किराना एवं जनरल स्टोर को अपना निशाना बनाया है।
    रेलवे स्टेशन के बाहर नंदलाल ने किराना एवं जनरल स्टोर खोल रखा है। बुधवार की रात 11 बजे दुकान बंद कर वे अपने घर चले गए और दूसरे दिन गुरूवार की सुबह 6 बजे जब दुकान खोलने पहुंचे तो लाइट जल रही थी और छज्जा की सीट टूटी हुई थी। चोरी की आशंका पर जब उन्होंने दुकान को खंगाला तो पाया कि गल्ले में रखे 5 से 6 हजार रूपए, तीन मोबाइल, एक सीसी टीव्ही कैमरा और लगभग दस हजार रूपए के किराना व मनिहारी सामान गायब थे। वहीं दुकान में लगे एक अन्य सीसीटीव्ही कैमरे में चोरी की वारदात को अंजाम देता चोर साफ नजर आ रहा है। चोर को बेनकाब करने पुलिस द्वारा फुटेज को खंगाला जा रहा है। 

    चोरी की एक अन्य घटना में ग्राम पंचायत मेरो निवासी तुलसीदास बुधवार की दोपहर 12 बजे होण्डा मोटरसाइकिल क्र. सीजी16सीडी-0773 को वार्ड क्र. 12 स्थित मस्जिद के पास खड़ी कर बाजार करने गया था। शाम चार बजे वह बाजार कर लौटा तब तक बाइक खड़ी थी। इसके बाद वह दोबारा बाजार गया और जब शाम 5 बजे लौटकर आया तो बाइक स्थल से गायब थी।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    मनेन्द्रगढ़, 25 अप्रैल। बलात्कार पीडि़ता पांच वर्ष की मासूम बच्ची अपोलो बिलासपुर में जिंदगी की जंग हार गई। वह पिछले पांच दिनों से जिंदगी और मौत के बीच झूल रही थी। उसे बचाने डॉक्टरों ने हरसंभव प्रयाए किए, लेकिन गुरूवार की सुबह 4 बजे बच्ची ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। बच्ची की मौत से शहर स्तब्ध है और घटना को लेकर लोगों में तीव्र आक्रोश भी है।

    उल्लेखनीय है कि मनेंद्रगढ़ थानांतर्गत घटना दिवस 20 अप्रैल की सुबह पीडि़ता की मां काम करने घर से बाहर गई हुई थी और आरोपी चचेरे भाई ने मासूम से रेप किया। बच्ची बेहद नाजुक हालत में पहले मनेंद्रगढ़ सरकारी अस्पताल लाया गया और यहां से उसी दिन उसे अपोलो बिलासपुर रेफर कर दिया गया। पिछले पांच दिनों से मासूम अपोलो में जिंदगी की जंग लड़ रही थी, इस बीच 25 मई की सुबह 4 बजे बच्ची की उपचार के दौरान मौत हो गई।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बैकुंठपुर, 25 अप्रैल। लोकसभा चुनाव में हुए मतदान के बाद परिणाम का काफी लंबे समय तक इंतजार करना होगा, ऐसे में जीत-हार के कयासों का बाजार गर्म है, मुख्य दल कांग्रेस और भाजपा ही एक दूसरे की हार जीत को लेकर आश्वस्त है, जबकि अन्य दलों को वोट किस ओर गए होंगे, इसको लेकर चर्चा आम है। क्योंकि इन दलों के वोट जीत हार को काफी हद तक प्रभावित करते है। 

    जानकारी के अनुसार विधानसभा चुनाव के ठीक 4 माह बाद हुए इस चुनाव में कांग्रेस सरकार की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। यदि विधानसभा चुनाव की जीत का अंतर भी कम होता है तो ये कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों के लिए चिंता का विषय होगा, कि आखिर बीते 4 माह में उन्होनें ऐसा क्या किया जिससे जनता उनके दूर हो चली और यदि जीत मिलती है तो वो अपने कार्य करने की शैली को इसी तरह और आगे बढ़ाएंगे। 

    ज्यादातर विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस में आए नेता 20 से 30 हजार वोटों की लीड बता रहे है। जबकि काम करने वाले पुराने कांग्रेसी शांत है, और वो यह कहने से पीछे नही है कि इस बार विधानसभा जैसा माहौल नहीं है। वो खुद चुनाव में पडे वोटो सें संतुष्ट नहीं है और कहते है कि जैसे-तैसे जीत उन्हें ही मिलेगी। दूसरी ओर लोकसभा मेंं पड़े वोटों से भाजपाईयों के चेहरे काफी खिले हुए हंै, भाजपा के लोग इस चुनाव को मोदी लहर बता रहे है। 

    दरअसल, लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रचार प्रसार में काफी पीछे रही, मैदान में भाजपा ने रणनीति के तहत सिर्फ डोर टू डोर ही काम किया, वहीं आरएसएस ने भी गांव गांव में टीमें उतार दी, जिससे ये पता ही नहीं चल पाया कि मैदान में भाजपा है या नहीं, ठीक इसके उलट कांग्रेस के पोस्टर बैनर, कटआउट हर कही नजर आए। सबसे ज्यादा कांग्रेस के दिग्गजों ने जनता को संबोधित करने पहुंचें, जिसमें दो बार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव सहित कई दिग्गजों ने जमकर प्रचार किया। 

    बसपा और गोंडवाना के वोटों का बंटवारा
    कांग्रेस और भाजपा इस चुनाव में बसपा और गोंडवाना के वोटों को उनके पक्ष में मिलने को लेकर आशान्वित है। दोनों का मानना है कि गोंडवाना का कैडर वोट छोड आधे से ज्यादा वोट उन्हें मिला है, जबकि गोंडवाना गणतंत्र पार्टी का कहना है कि उनका वोटर कही नहीं भटका है, वो उनके साथ है, इसके अलावा विधानसभा में बसपा ने चेरवा समाज से प्रत्याशी बनाया था, ऐसे में लोकसभा में बसपा के वोट भाजपा अपना मान नहीं है, जबकि कांग्रेस का कहना है कि चेरवा समाज का ज्यादा से ज्यादा वोट कांग्रेस को मिला है। हलांकि यह बस कयास मात्र है, परिणाम 23 मई को सामने आएगा तब पता चलेगा कौन जीता कौन हारा।

    मैं जयसिंह अग्रवाल बोल रहा हूं
    चुनाव के बीच मै जयसिंह अग्रवाल बोल रहा हूं कांग्रेसियों ने काफी चर्चा का विषय बना रहा, बताया जाता है कि किसी ने कोरिया जिले के प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल बनकर अंबिकापुर में बैठे एक अधिकारी को एक समिति भंग करने को कहा, जिस पर समिति को भंग कर दिया गया।

     मामला डॉ. महंत और बैकुंठपुर विधायक के पास पहुंचा, फिर बात प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल के पास पहुंच गई और जब प्रभारी मंत्री ने अधिकारी से पूछा तो अधिकारी ने कहा कि आपने ही फोन किया था और तब उन्होंने अपना नंबर सेव करने को कहा और तब यह बात सामने आई कि कोरिया जिले से ही किसी ने उनके नाम पर फोन कर अधिकारी को समिति भंग करने कही थी। वहीं इसे लेकर हर अधिकारी कर्मचारियों के बीच जमकर चर्चा हो रही है, कई तो प्रभारी मंत्री के साथ मंत्रियों और विधायकों के साथ उनके निजी सचिवों का ओरिजनल नंबर अपने मोबाइल में सेव करने में जुटे हंै ताकि वो किसी अंजान फोन का शिकार ना हो जाए। 

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 25 अप्रैल।
    लोकसभा चुनाव संपन्न कर वापस लौटे 3 दर्जन से ज्यादा पीठासीन अधिकारियों को बेवजह रोका गया, बिना किसी व्यवस्था के वे पूरी रात, दिन और फिर देर शाम तक उनके रोके जाने का कारण पूछते रहे, जब मीडिया हरकत में आया तो उन्हें उनके गंतव्य स्थान तक भेजा गया। 

    जानकारी के अनुसार 23 अप्रैल की रात 10.30 बजे सबसे दूरस्थ क्षेत्र भरतपुर, सोनहत और मनेन्द्रगढ़ के 3 दर्जन से ज्यादा पीठासीन अधिकारी मिनी स्टेडियम में चुनाव सामग्री जमा करवा दी। इसके उपरांत उद्घोषणा हुई कि इन पीठासीन अधिकारियों को अभी रूकना है, अभी वो नहीं जाएंगे, परन्तु कोई कारण नहीं बताया गया। 

    पूरी रात गुजारने के बाद 24 अप्रैल को सुबह से लेकर शाम हो गई, परन्तु किसी ने भी उन्हें रोके जाने का कारण नहीं बताया और ना ही उनके वापस जाने के लिए वाहन उपलब्ध कराया, इस तरह पूरा दिन गुजर गया, कुछ लोगों ने जनप्रतिनिधियों को भी फोन कर अपनी परेशानी बताई, तो कुछ ने जिला पंचायत सीईओ को फोन कर वाहन की व्यवस्था और रोके जाने का कारण पूछा, तो उन्होंने कह दिया कि वाहन की व्यवस्था नहीं होती है तो रात और रूको, 25 को सुबह चले जाना।

    इधर, पीठासीन अधिकारियों के रूकने की कोई व्यवस्था भी नहीं थी, ना तो खाने और ना ही पीने के पानी के लिए कोई प्रबंध किया गया था। दरअसल, इन अधिकारियों की तैनाती बैकुंठपुर क्षेत्र में की गई थी, ऐसे में उन्हें चुनाव कार्य संपन्न कराने के बाद वाहन उपलब्ध कराकर वापस सोनहत, भरतपुर और मनेन्द्रगढ़ भेजा जाना था।
     ऐसे में जब इस बात की भनक मीडिया को लगी तो प्रशासन हरकत में आया और उन्हें 24 अप्रैल की रात 8 बजे वाहन उपलब्ध करा भरतपुर के लिए रवाना किया।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 25 अप्रैल।
    कोरिया जिले के मनेन्द्रगढ़ वनमंडल के बहराशी, कुंवारपुर, बिहारपुर परिक्षेत्र में जंगल धूं-धंू कर जल रहे हैं। अब तक कई हेक्टेयर जंगल जलकर खाक हो गया है। 
    जानकारी के अनुसार मनेन्द्रगढ़ वनमंडल में इन दिनों कई वन क्षेत्रों में आग लगी हुई है। दैनिक ‘छत्तीसगढ़’ ने पाया कि भीषण आग से सबसे ज्यादा नुकसान बहराशी परिक्षेत्र में हुआ है। इस क्षेत्र में लगभग जंगल आग के हवाले रहा, वर्तमान में करवा बीट के तीन कम्पार्टपेंट में भीषण आग लगी हुई है। यहां के साल के पेड़ आग की चपेट में है, वहीं छोटे-छोटे हजारों साल के पेड़ आग की भेंट चढ़ चुके हंै। इसके अलावा 10 दिन पहले बहराशी परिक्षेत्र के बरैल बीट, देवगढ़ खोह बीट, दुधाई बीट, जोईली बीट, खमरौध बीट, नगरी बीट, रामगढ़ बीट, रांपा बीट के तीन-तीन कम्पार्टमेंट में भीषण आग लगी थी, इन बीटों के कम्पार्टमेंट का लगभग जंगल जल गया, आग अपने आप यहां बुझ चुकी है। इसी तरह मनेन्दगढ़ वनमंडल के ही बिहारपुर रेंज में चपलीपानी बीट, झामाडांड बीट, नवाडीह बीट, पडेवा बीट में भी आग ने पैर पसारे और यहां कई हेक्टेयर जंगल जलकर खाक हो चुके हंै।

    ग्रामीण बताते हंै कि तत्कालीन डीएफओ श्री नायक का पेड़ों के प्रति बेहद लगाव देखा गया था, आग की सूचना पर वे वन में कैम्प लगाया करते थे और खुद घंटों आग बुझते तक आसपास के क्षेत्रों में भ्रमण करते थे, जिससे उनके मातहत अधिकारियों और कर्मचारियों को काम करने में प्रोत्साहन मिलता था, वहीं वर्तमान अधिकारियों ने बीते एक माह से लगी आग की जानकारी भी लेना उचित नहीं समझा है। जिसके कारण वन संपदा जलकर नष्ट हो रही है और कोई देखने वाला नहीं है। 

     

     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    मनेन्द्रगढ़, 24 अप्रैल।
    बीती रात सपरिवार मतदान करने बिलासपुर गए एक रेलवे अधिकारी के सूने मकान में चोरों ने लाखों रूपए के जेवरात पार कर दिए।
    मनेंद्रगढ़ रेल विभाग में सीनियर सेक्शन इंजीनियर के पद पर पदस्थ चंद्रपाल अपने परिवार के साथ सोमवार की रात बिलासपुर मतदान करने गए हुए थे। घर की देखरेख की जिम्मेदारी वे रेल कर्मचारी सतीश कुमार को सौंप गए थे। मंगलवार की सुबह 6 बजे कर्मचारी सतीश ने उन्हें मोबाइल पर घर में चोरी होने की सूचना दी।  सूचना मिलते ही वे बिलासपुर से शाम 4 बजे घर लौटे तो पाया कि बरामदे के छत की सीट टूटी हुई थी और घर के बेडरूम के दरवाजे का कुंदा उखड़ा हुआ था। वहीं आलमारी और दीवान में रखे सामान कमरे के भीतर बिखरे पड़े थे। लकड़ी की आलमारी में रखा 4 तोला सोने का मंगलसूत्र, ढाई से तीन तोले के दो सोने के कंगन और एक जोड़ी चांदी की पायल करीब दो लाख रूपए के जेवरात तथा ब्रीफकेस गायब था। ब्रीफकेस में जमीनी व एजुकेशन से संबंधित दस्तावेज रखे हुए थे। 

     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    मनेन्द्रगढ़, 24 अप्रैल।
    भरतपुर-सोनहत विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक फूलचंद सिंह लोकसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में जनसंपर्क करने निकले तो ग्राम बड़वार के लोगों ने उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत कराया।
    ग्रामीणों ने बताया कि वन परिक्षेत्र कोटाडोल अंतर्गत ग्राम बड़वार में वन समिति की राशि से वन विभाग द्वारा एक सौर ऊर्जा पम्प लगवाया गया था। दो साल पहले पम्प में खराबी आने पर उसे सुधारने के लिए वन विभाग के कर्मचारी ले गए थे आज दो साल बाद भी पम्प सुधार कर नहीं लगाया गया है। यहां के लोग तीन किलोमीटर दूर झिरिया से पीने का पानी ले जाकर अपनी प्यास बुझा रहे हैं। इससे कोरिया जिले के वन विभाग की कार्यप्रणाली का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। वहीं ग्राम बड़वार के लोगों ने पूर्व विधायक को यह भी बताया कि पूर्व माध्यमिक शाला बड़वार में मात्र एक शिक्षक कमल बहादुर सिंह पदस्थ रहे हैं जो करीब डेढ़ साल पूर्व दिवंगत हो गए हैं। उनकी जगह किसी भी शिक्षक को पदस्थ नहीं किया गया है और विगत् डेढ़ साल से पूर्व माध्यमिक शाला बड़वार शिक्षक विहीन है। ग्रामवासियों ने बताया कि कि शिक्षक पदस्थ करने के लिए उनके द्वारा  सभी संंबंधित अधिकारियों से मांग की गई, लेकिन आज तक उनकी मांग पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। 

     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • पूर्व डीआरयूसीसी सदस्य ने रेल प्रबंधन को निर्णय वापस लेने आगाह किया

    छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    मनेन्द्रगढ़, 24 अप्रैल।
    रेलवे डिवीजन बिलासपुर के पूर्व डीआरयूसीसी सदस्य वरिष्ठ अधिवक्ता विजय प्रकाश पटेल ने रेलवे प्रशासन द्वारा चिरमिरी-दुर्ग की तीन बोगियां एवं चिरमिरी-भोपाल का एक स्लीपर कोच के संचालन को 30 अप्रैल से बंद कर देने के जनविरोधी निर्णय का प्रबल विरोध करते हुए उपरोक्त निर्णय अविलम्ब वापस लेने हेतु दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर जोन के महाप्रबंधक सुनील सिंह सोईन एवं डीआरएम आर. राजगोपाल को ज्ञापन प्रेषित किया है।
    प्रेषित ज्ञापन में उल्लेखित किया गया है कि दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के सीटीपीएम सी. वेणुगोपाल ने 15 अप्रैल को जारी अपने कार्यालयीन पत्र में यह सूचना प्रेषित की है कि रात्रिकालीन सेवा होने के कारण संभावित दुर्घटनाओं के मद्देनजर चिरमिरी-दुर्ग एवं चिरमिरी-भोपाल के लिए चलाई जा रही बोगियां 30 अप्रैल से बंद कर दी जाएंगी जिसकी जानकारी मिलने से कोयलांचल में तीव्र असंतोष एवं आक्रोश व्याप्त है, क्योंकि चिरमिरी-मनेन्द्रगढ़ रेल सेक्शन में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के लिए एकमात्र स्लीपर कोच बिना किसी जनशिकायत व हादसों के संचालित है। 
    दूसरी ओर पृथक छत्तीसगढ़ राज्य बनने के पूर्व से नई राजधानी रायपुर के लिए एक यात्री ट्रेन की सुविधा का क्षेत्रवासियों द्वारा अनवरत् मांग किए जाने पर तत्कालीन रेल प्रशासन द्वारा चिरमिरी से रायपुर के लिए नई यात्री ट्रेन देने का आश्वासन दिया गया था, किंतु प्रशासन द्वारा अम्बिकापुर-दुर्ग के मध्य संचालित यात्री ट्रेन में चिरमिरी से एक स्लीपर कोच सहित तीन बोगियां सम्बद्ध कर क्षेत्रवासियों के जनांदोलन को शांत कर दिया गया था, अर्थात् उपरोक्त बोगियां हमें नई ट्रेन के संचालन के एवज में दी गई थी, इसलिए ये बोगियां क्षेत्रवासियो के लिए मात्र बोगियां न होकर एक सम्पूर्ण यात्री ट्रेन की तरह चिरमिरी से संचालित हैं।
     यह रेल सेवा इतनी आवश्यक है कि टिकटों की बिक्री का सेंशस देखकर रेलवे प्रशासन भलीभांति इस सर्वाधिक पुराने रेलखण्ड में इन बोगियों की जरूरत को महसूस कर सकता है। 
    श्री पटेल ने रेलवे प्रबंधन को आगाह करते हुए उन्हें चेतावनी दी है कि लम्बित नई रेल सुविधाएं मुहैया कराए जाने के बजाय पुरानी सुविधाओं को छीना जाना कोयलांचलवासी कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे, क्योंकि आज तक इन यात्री ट्रेनों के संचालन को लेकर किसी भी यात्री द्वारा कभी भी न तो कोई शिकायत दर्ज कराई गई है और न ही अब तक कोई यात्री किसी हादसे का ही शिकार हुआ है।

     पूर्व डीआरयूसीसी सदस्य ने रेलवे प्रबंधन से आग्रह किया है कि यदि इन बोगियों का संचालन रेलवे प्रबंधन बंद करना चाहता है तो उसके पूर्व दुर्ग अथवा नागपुर (महाराष्ट्र) तक एक नई यात्री ट्रेन का संचालन चिरमिरी-मनेन्द्रगढ़ रेल सेक्शन से अविलम्ब प्रारंभ करे अथवा चिरमिरी-बिलासपुर के मध्य संचालित यात्री ट्रेन नं. 58219-58220 को आगे दुर्ग-नागपुर तक विस्तारित कर संचालित करे, अन्यथा ऐसेे जनविरोधी मनमाने ढंग से थोपे गए निर्णय यदि वापस नहीं लिए गए और कोई भी यात्री सुविधा बंद की गई तो रेलवे प्रशासन तीव्र जनान्दोलन का सामना करने को तैयार रहे, जिसके किसी भी परिणाम अथवा अप्रिय घटना के लिए रेलवे प्रबंधन ही जिम्मेदार होगा। 

  •  

Posted Date : 23-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    मनेन्द्रगढ़, 23 अप्रैल।
    लोकसभा चुनाव 2019 के तीसरे चरण में मंगलवार को कोरबा संसदीय सीट के मतदाताओं का उत्साह देखने लायक था। सुबह सात बजे मतदान प्रक्रिया प्रारंभ होने से पूर्व ही मतदान केंद्रों और बूथों पर लोग पहुंचने लगे। समूचे मनेंद्रगढ़ विधानसभा में अपरान्ह 3 बजे तक 41 फीसदी जबकि भरतपुर-सोनहत में 33 फीसदी मतदान हुआ।

    मतदाताओं के उत्साह का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि तबीयत खराब होने के बावजूद मनेन्द्रगढ़ निवासी व्यवसायी सुरेश अग्रवाल और उनकी धर्मपत्नी बिस्तर से उठकर मतदान करने पहुंचे। दंपति ने कहा कि रोज नहीं मिलता मतदान के महापर्व का अवसर। वहीं कतार में लगकर मतदान करने वाले राज्यमंत्री गुलाब कमरो ने मिसाल कायम की। अपने मताधिकार का प्रयोग कर मतदान केंद्र से बाहर निकले राज्यमंत्री कमरो ने कहा कि आपका वोट सिर्फ किसी को पराजित करने के लिए नहीं, अपितु भारत का भाग्य बदलने के लिए है। उन्होंने मतदाताओं से घरों से बाहर निकलकर वोट करने और एक सशक्त भारत बनाने में अपना योगदान देने की अपील की।

     

  •  

Posted Date : 23-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    मनेन्द्रगढ़, 22 अप्रैल।
     ग्राम पंचायत चैनपुर के आश्रित ग्राम चिमटीमार में ग्रामीणों के द्वारा जेसीबी से सडक़ की खुदाई करा दिए जाने के बाद रेत माफिया ग्राम पंचायत तेंदूडांड़ के तेंदूटिकरा में सक्रिय हो गए हैं।

    क्षेत्र में रेत का अवैध कारोबार लगातार जारी है। रेत का अवैध कारोबार करने वालों ने चिमटीमार के बाद अब तेंदूटिकरा को नया ठिकाना बना लिया है। तेंदूडांड़ स्थित हसदो नदी में दिन-रात रेत का उत्खनन कर ट्रेक्टर और डंफर से परिवहन किया जा रहा है।  ग्रामीण इसकी शिकायत भी करते हैं तो उनकी कोई सुनवाई नहीं होती। चिमटीमार की ही बात करें तो अवैध रेत खनन पर रोक लगाने ग्रामीणों ने जिले के आला-अधिकारियों से इसकी शिकायत की, लेकिन जब उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई तो चंदा कर जेसीबी की मदद से उस सडक़ को ही खोद डाला जिससे होकर ट्रेक्टर और डंफर के माध्यम से रेत का परिवहन किया जा रहा था। तेंदूटिकरा में भी हसदो नदी से लगातार रेत निकाले जाने से यहां के ग्रामीणों में रोष है।

    ग्रामीणों का कहना है कि लगातार रेत खनन से नदी का दम तो निकल ही रहा है वहीं सडक़ जो पहले से ही खस्ताहाल है दिन-रात ट्रेक्टर और डंफरों के दौडऩे से और भी जर्जर हो गई है। बहरहाल देखना यह है कि तेंदूटिकरा में रेत माफियाओं पर नकेल कसने प्रशासन की ओर से कोई कदम उठाए जाते हैं या फिर यहां के ग्रामीणों को ही स्वयं कोई पहल करनी होगी।

     

  •  

Posted Date : 23-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बैकुण्ठपुर, 23 अप्रैल। लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने वाले ग्रामीणों ने आखिर मतदान मेंहिस्सा लिया, इसका पूरा श्रेय गांव से जुड़े दो युवकों पर जाता है।
    जानकारी के अनुसार कोरिया जिले के सोनहत तहसील के ग्राम सोनारी, जाम पारा और बसवाहि के ग्रामीणों ने सडक़ की मांग को लेकर लोकसभा चुनाव का बहिष्कार कर दिया था, खबर के प्रकाशन के बाद मामले में जिला प्रशासन ने एसडीएम की टीम मौके पर भेजी, उन्हें समझाने का प्रयास किया, परंतु कोई हल नही निकला, ऐसे में चुनाव नजदीक आता गया, ग्रामीण चाहते थे कि उनके गांव तक बनी सडक़ में भारी भ्रष्टाचार हुआ है जिसकी जांच हो और नई सडक़ का निर्माण हो।

    जिसके बाद पंचायत के अनित दुबे और प्रेमसागर तिवारी ने तीनों गांव का दौरा कर उन्हें उनके अधिकार के बारे में बताया, उन्होंने कहा कि उनकी जायज मांग के लिए वे उनके साथ है, पर मतदान का बहिष्कार करने से उनके मत के अधिकार का महत्व नही रहेगा। आप अपने मताधिकार का प्रयोग करे। चुनाव के दिन दोनों युवक इन तीनों ग्राम के ग्रामीणों को एक बार फिर प्रोत्साहित किया और सोनारी में 460 वोटरों में 361 ग्रामीणों ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर दिया था। ग्रामीणों की मानें तो उन्हें प्रशासन ने भी भरोसा दिया था, और अनित दुबे और प्रेमसागर तिवारी की समझाइश ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। सिर्फ सोनारी ही नही बसवाहि और जामपारा में भी ग्रामीणों ने मतदान में बढचढकर हिस्सा लिया।

     

  •  

Posted Date : 23-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 23 अप्रैल।
    लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में कोरबा संसदीय सीट के लिए मतदान हुआ। कोरिया जिले की तीनों सीटों पर 11 बजे तक 33 प्रतिशत मतदान होना बताया जा रहा है। वहीं प्रमुख राजनैतिक दल कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे का मुकाबला देखा जा रहा है। जिले में इस बार 4 लाख 61 हजार 249 मतदाता अपना मत का उपयोग करेगें। 

    जानकारी के अनुसार लोकसभा चुनाव 2019 के तीसरे चरण में होने जा रही वोटिंग को लेकर मंगलवार की सुबह से ही मतदाताओं में काफी जोश दिख रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में सुबह 5 बजे से पोलिंग बूथ के पर लंबी लंबी लाइनें लगी रही। वे मतदान के इस महापर्व में हिस्सा लेने के लिए काफी उत्सुक नजर आ रहे हैं। लेकिन, इन वोटरों का उत्साह सुबह ही उस वक्त थोड़ा फीका पड़ गया जब तीनों विधानसभाओं में कई जगहों पर ईवीएम खराबी के चलते उन्हें वोटिंग के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा। कई जगहों पर ईवीएम खराबी और मतदान रुकने के चलते लोग निराश दिखे, कई लोग मतदान इसलिए नहीं कर पाए क्योंकि मतदान दल मशीन को शुरू करने मे काफी देर लगा दी, इसी तरह ड्यूटी में जाने वाले भी सुबह मतदान केन्द्र तक पहुंचें परन्तु मतदान दल की देरी के कारण उन्हें बिना मतदान किए लौटना पड गया। इसके अलावा ग्राम कदमनारा में मतदान दल को लेकर पहुंचे वाहन के हेल्पर ने केंद्र के बाहर काफी हंगामा मचाया और बस लेकर चलता बना, जिसके बाद कोरचाडांड के पास एक खेत में बस फंस गयी। जिससे वहां का रास्ता जाम हो गया। 

    महिलाओं मे जबरदस्त उत्साह
    जिले भर के मतदान केन्द्रों में महिलाओं को मतदान को लेकर उत्साह देखते ही बनता था, जिलामुख्यालय स्थित खरवत के मतदान केन्द्र मेंं काफी लंबी लाइन में लगी महिलाओं ने बैठकर अपनी बारी आने का इंतजार करते देखा गया। बैकुंठपुर शहर के कई मतदान केन्द्रों के अलावा ग्राम कसरा, बुढार, भरतपुर के घटई में भी काफी संख्या में महिलाएं पहुंची और अपने मत का उपयोग किया। वहीं ग्राम सोंस, गढतर, बंजारीडांड, जयपुर, गोल्हाघाट, कमदनारा में भी महिलाओं मे मतदान के लिए गजब का उत्साह देखा गया। जयपुर निवासी 85 वर्षीय सोनकुंवर ने डंडे के सहारे मतदान केन्द्र पहुंची और वोट डाला। 

    कई मतदान केन्द्र में ईवीएम में खराबी
    कोरिया जिले के के कई मतदान केन्द्रों में ईवीएम में खराबी की खबर सामने आयी है। ईवीएम में तकनीकी गड़बडिय़ों के चलते रटगा, कोचीला, बंजी, जगतपुर में मतदान केन्द्रों पर समय से वोटिंग शुरू नहीं हो पाई। ुकछ केन्द्रों पर काफी देर तक मतदान रूका रहा। बैकुंठपुर जनपद का सबसे दूरस्थ क्षेत्र का मतदान केन्द्र क्र 184 जयपुर में 10 बजे तक 50 प्रतिशत मतदान हो चुका था, गौरतलब है कि यहां वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में बूथ कैप्चिरिंग की घटना हुई थी, जिसके बाद दुबारा यहां चुनाव हुए थे। 

    जनप्रतिनिधियों अधिकारियों ने किया मत का प्रयोग
    तीसरे चरण के चुनाव में बैकुंठपुर विघायक अंबिका सिंहदेव ने बैकुंठपुर में, भरतपुर सोनहत विधायक गुलाब कमरों ने अपने गृह ग्राम साल्ही में तो जिला पंचायत सदस्य देवेन्द्र तिवारी ने ग्राम घुघरा स्थित संगवारी मतदान केन्द्र में वोट डाला, वहीं जिले के कलेक्टर विलास संदीपान भोसकर, एसपी विवेक शुक्ला ने भी मत का उपयोग किया।

     

  •  

Posted Date : 23-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता,

    मनेन्द्रगढ़, 23 अप्रैल। लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में मंगलवार को भरतपुर-सोनहत विधानसभा क्षेत्र के विधायक और सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष गुलाब कमरो ने आधा घंटे तक कतार में लगकर वोट डाला। वे सुबह 8 बजे अपने गृहग्राम साल्ही के बूथ क्रमांक 283 पर पहुंचे जहां लम्बी लाइन थी। राज्यमंत्री भी कतार में खड़े हो गए। इस दौरान मतदान के लिए उनसे आगे खड़े लोगों ने पहले आने का आग्रह किया, लेकिन वे कतार में अपनी बारी आने पर ही अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इसके बाद वे मतदान के प्रति लोगों में दिलचस्पी बढ़ाने के लिए बनाए गए सेल्फी जोन पर भी गए और अपने हाथ की तर्जनी ऊंगली में निशान लगे स्थिति में वोटर सेल्फी जोन के पोस्टर के साथ सेल्फी लेकर उसे संबंधित आईडी पर पोस्ट किया। 

     

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    बैकुंठपुर, 22 अप्रैल।
    लोकसभा चुनाव के मतदान के एक दिन पूर्व कांग्रेस के नेता लालमन नेताम ने भाजपा की सदस्यता ले ली, उनके साथ पंडो समाज के कुछ नवयुवकों ने भी भाजपा में प्रवेश किया। इधर, कांग्रेस के दोनों विधायक अंबिका सिंहदेव और गुलाब कमरो ने चुनाव में पूरा जोर लगा दिया है, क्योंकि उनकी प्रतिष्ठिा इन चुनाव में लगी हुई है।

    जानकारी के अनुसार 21 मार्च को भाजपा जिला अध्यक्ष तीरथ गुप्ता महामंत्री देवेन्द्र तिवारी के नेतृत्व में सोनहत के कांग्रेसी नेता लालमन नेताम के साथ पवन पंडो और कई नवयुवको ने भाजपा की सदस्यता ले ली। श्री नेताम का कहना है कि आदिवासियों के लिए जो मोदी सरकार ने किया वो जग जाहिर है, एक्ट्रोसिटी को मजबूती प्रदान करने के अलावा कई योजनाओ का लाभ लोगो को मिला है, इसलिए उन्होनें कांग्रेस छोड भाजपा का दामन थामा है। 

    इस मौके पर उपस्थित भाजपा महामंत्री देवेन्द्र तिवारी ने कहा कि भाजपा सरकार ने बीते 5 वर्षो में हर वर्ग का पूरा घ्यान रखा है, इसलिए मोदी जी का दुबारा सत्ता में लाने लोग खुद ब खुद भाजपा मे आ रहे है। इघर, बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव श्रीमति ज्योत्सना महंत को विजयी बनाने सुबह 8 बजे से लेकर रात 12 बजे तक गांव गांव का दौरा कर रही है। उनका कहना है कि कांग्रेस ही ऐसी पार्टी है तो गरीबों का सोचती है। इसलिए इस बार कांग्रेस को केन्द्र में जीत मिलना तय है। वहीं कांग्रेस संगठन पूरे लोकसभा चुनाव में वैसा ही नजर आ रहा है जैसा विधानसभा चुनाव में देखा गया था। ज्यादातर लोग बैठे बैठे रणनीति बनाकर जीत सुनिश्चित कर रहे है। जबकि भाजपा की रणनीति एकदम अलग है जिसे हर कोई पता भी नहीं लगा पा रहा है। इसके अलावा भरतपुर सोनहत विधायक गुलाब कमरो भी वनांचल क्षेत्रों से लेकर शहरी क्षेत्रों में कांग्रेस के प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है, वे बीते कई दिनों से अपने घर तक नहीं जा पाए है। 

    उनका कहना है कि कांग्रेस किसी का नमक चना बंद नहीं करने वाली, दुष्प्रचार फैलाया जा रहा है, हमारी सरकार हर किसी को 35 किलो चावल देने वाली है। वे कार्यकर्ताओं को चुनाव के लिए प्रोत्साहित करने में लगे हुए है।

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बैकुंठपुर, 22 अप्रैल। गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में बाघ की उपस्थिति की खबर के बाद कुछ शिकारियों के सक्रिय होने की जानकारी सामने आ रही है, जिसके बाद पार्क प्रबंधन ने अलग अलग दल गठित कर ऐसे शिकारियों की तलाश तेज कर दी है। बताया जाता है कि गर्मी के मौसम में पानी की तलाश में आने वाले वन्य जीवों को घात लगाकर और जहर देकर निशाना बनाया जाता है, ऐसे में पार्क प्रबंधन ऐसे स्थानों पर निगाह कर छापेमारी कर रहा है।

    इस संबंध में पार्क परिक्षेत्राधिकारी एमएस मार्सकोले का कहना है कि आपकी जानकारी सही है, हमे भी कुछ शिकारियों के सक्रिय होने की जानकारी मुखबिर के माध्यम से मिली है, टीमें बनाकर ऐसे शिकारियों की सघन तलाशी की जा रही है। 
    जानकारी के अनुसार गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में लगातार बाघों की संख्या मे इजाफा हो रहा है, इनमें एक बाघिन गर्भवती भी है, बाघिन गर्भवती होने के कारण नर बाघ का साथ छोड देती है, वो अपने बच्चों के जन्म के लिए पार्क में सुरक्षित स्थान की तलाश कर निवास कर रही है। दूसरी ओर बाघ इन समय जनकपुर के जंगलों में देखा गया है, अभी तक उसके द्वारा 8 जानवरों की मारकर खाने की खबर है। इधर, पार्क में बाघों की संख्या में इजाफा देखा जा रहा है। वहीं मुखबिर की सूचना पर पार्क रेंजर ने 4 दल बनाए है, इन्हे पैदल गश्ती दल का नाम दिया है, एक दल मे 7 से 10 की संख्या में सुरक्षा श्रमिक है, जिनके पास अपने वायरलेस सेट है। इसके अलावा फ्लाइंग स्कॉड की टीम को भी मुसैद कर दिया गया है। 

    बताया जा रहा है कि क्षेत्र में 15 से 20 शिकारियों का दल आ धमका है और बाघ की तलाश में वो पार्क क्षेत्र में घूम रहे है। ऐसा देखा गया है कि प्राय वो पानी में जहर डालकर या जाल बिछाकर वन्य जीवों का शिकार करते है। ऐसे में तीर धनुष, बंदूक लेकर चलने वालों के आने जाने पर निगाह रखी जा रही है। शाम होते ही वन्य जीव सडक पर आ जाते है, जिसके पार्क क्षेत्र में आने वाले मेंड्रा और रामगढ बेरियर पर शाम के बाद आने जाने पर राके लगाई गयी है। पार्क प्रबंधन भी मानता है बाघ रहवास क्षेत्र होने के कारण अहतियातन ऐसा किया जा रहा है। 

    आग पर   नियंत्रण
    गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में बीते दिनों लगी आग के बाद काफी हद तक नियंत्रण पाया गया है, इसके लिए पार्क प्रबंधन ने काफी संख्या में फायर वाचर की नियुक्ति भी की है, वहीं महुआ के फूल गिरने मे भी कमी आई है, ऐसे में ग्रामीणों को समझाईस दी जा रही है, कि महुआ के नीचे आग ना लगाए। सोनहत परिक्षेत्र में इस वर्ष जंगल में आग नहीं देखी गई, जबकि रामगढ परिक्षेत्र में लगी आग के बाद पार्क प्रबंधन ने कडा रूख अपनाया और आग पर काबू पाया है। दूसरी ओर पार्क क्षेत्र में तेंदूपत्ता संग्रहण पर भी रोक लगी हुई है, यहां के निवासियों को उसके एवज में नकद राशि प्रदान की जाती है। परन्तु कुछ क्षेत्र में फड लगाया जाता है, जिसे भी बंद करने की तैयारी है।

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददता

    बैकुंठपुर, 22 अप्रैल। कोरिया जिले में लोकसभा चुनाव में  प्रशासनिक अव्यवस्था की शिकायतें सामने आई हैं।  कसावट के नाम पर बीते 2 माह में कई छोटे कर्मचारियों पर कार्यवाही को लेकर उनमें असंतोष फैला हुआ है तो भेजे गए मतदान दलों के खाने पीने पर हो रहे खर्च का दबाव ग्राम पंचायतों पर है। दूसरी ओर सचिवों को मिलने वाला वाहन भत्ता आज तक नहीं मिलने की भी शिकायत  है।  वहीं मतदान के एक दिन पहले  शराब और साड़ी बांटने की खबरें  हैं। 
    इस संबंध में उप निर्वाचन अधिकारी श्री वर्मा का कहना है कि चुनाव में लगे अधिकारियों कर्मचारियों को मानदेय दिया जाता है उसी में अपने खाने की व्यवस्था करते है। भोजन के लिए अलग से व्यवस्था नहीं की जाती है। किसी भी ग्राम पंचायत पर कोई दबाव नही है। मतदान दल वहां पहुंच कर व्यवस्था करते हैं। पर उसके लिए चुनाव आयोग द्वारा दिया गया मानदेय खर्च करना चाहिए।

    जानकारी के अनुसार 21 अप्रैल को दूरस्थ क्षेत्र भरतपुर के 172 मतदान दलों को रवाना किया गया, इसके लिए सचिवों को 156 किमी 

    की दूरी से सुबह 7 बजे बैकुंठपुर पहुंचने के निर्देश दिए गए, किसी तरह वो समय पर पहुंच भी गए, अब उनके साथ मतदान दलोंं को भेजा गया, परन्तु उनके रूकने और खाने पीने की व्यवस्था का दबाव पंचायत पर बनाया गया है।
    कई सरपंच और सचिवों का कहना है कि एक दल के खाने पीने में 15 से 20 हजार का खर्च आ रहा है, उनके पास कोई ऐसा मद नहीं है, चुनाव आयोग ने उनके खाने पीने में खर्च राशि के लिए कोई बजट नहीं दिया है। जिससे वो खासे नाराज हंै। इधर, 21 अप्रैल की शाम से शराब पर प्रतिबंध लगा दिया गया, बावजूद इसके गांव-गांव में शराब और मुर्गा बांटने की दर्जनों खबरें सामने आईं हैं।

    इधर संगवारी वाहन को बढिय़ा ढंग से सजाना जाने के लिए चुनाव आयोग ने राशि जारी की है, परन्तु वाहन के सामने सिर्फ बैनर लगाकर साज सज्जा के नाम पर मिली राशि खर्च करना बताया जा रहा है। 

    आज तक नहीं मिला वाहन भत्ता
    सामग्री वितरण के समय ग्राम सचिवों को वाहन प्रभारी बनाया गया है, ऐेसे में उन्हें इसका 900 रू भत्ता भी दिया जाना है, ऐसा चुनाव आयोग ने तय कर रखा है, परन्तु कई सचिवों की मानें तो उन्हें आजतक वाहन भत्ता नहीं मिला है। ना तो बीते विधानसभा में मिला और ना उसके पहले लोकसभा 2014 और विधानसभा 2013 में उनको मिला था। 

    कर्मचारियों में नाराजगी
    बीते 2 माह से जिला प्रशासन ने कसावट के नाम पर कई छोटे कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है, जबकि अधिकारियों पर प्रशासन मेहरबान ह ै। छोटे कर्मचारियों का कहना है कि सरकार बदलने के बाद लगा था कि कुछ बदलाव आयेगा, यहां तो उन्हें ही टारगेट कर दहशत फैलाया जा रहा है।  

    कलेक्टर कार्यालय में दब गई फाइल
    चुनाव आयोग को जिला मिशन समन्ययक के खिलाफ मनेन्द्रगढ़ के एक नेता ने शिकायत की, जिसके बाद मामले की जांच के लिए जिला कलेक्टर को चुनाव आयोग ने निर्देश जारी किया। उक्त शिकायत पर अभिमत भी लिया गया, जिसमें बताया कि वे गणवेश और शौचालय मरम्मत घोटाले में उनकी भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता है, यह भी बताया गया था कि वे 2011 से यही पर पदस्थ है। बावजूद उन पर कार्यवाही नहीं हुई।

  •  

Posted Date : 21-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    मनेन्द्रगढ़, 21 अप्रैल।
    पांच साल की मासूम से दुष्कर्म के मामले में रविवार को पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेज दिया है। पीडि़ता की माँ के द्वारा मासूम के साथ अनाचार किए जाने की रिपोर्ट दर्ज कराए जाने पर प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पुलिस महानिरीक्षक केसी अग्रवाल एवं पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला के निर्देशानुसार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. पंकज शुक्ला के मार्गदर्शन एवं एसडीओपी अनुज कुमार के नेतृत्व में थाना प्रभारी कमलकांत शुक्ला की टीम द्वारा तत्परतापूर्वक प्रयास कर घटना से संबंधित महत्वपूर्ण साक्ष्य एकत्र किए गए तथा संदेह के आधार पर राहुल दास पनिका को घटना दिवस ही अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की।  राहुल दास ने नाबालिग पीडि़ता के साथ दुष्कर्म किए जाने की बात स्वीकार की, जिसके उपरांत मनेंद्रगढ़ पुलिस द्वारा आरोपी के बताए अनुसार घटना से संबंधित कई महत्वपूर्ण साक्ष्य एकत्र किए गए एवं आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया। 

    कार्रवाई में एसआई साकेत बंजारे, ममता केरकेट्टा, एएसआई ओपी दुबे, राकेश शर्मा, आरक्षक राजकुमार सेन, इस्तयाक खान, प्रमोद कुमार यादव, जितेंद्र ठाकुर, रवि शर्मा, जगन लाल अडमाचे, महिला आरक्षक ज्वाला साहू की सराहनीय भूमिका रही। बताया जाता है कि आरोपी पीडि़ता का चचेरा भाई है।

     

  •  

Posted Date : 21-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    बैकुंठपुर, 21 अप्रैल।​
    लोक सभा निर्वाचन 2019 के तीसरे चरण के मतदान के लिए चुनावी शोर रविवार को अपरान्ह थम जाने के बाद राजनीतिक दलों के लोग घर घर संपर्क करने के लिए जुट गये। इसके पूर्व प्रचार के अतिम दिवस भाजपा व कांग्रेस के पदाधिकारियो के द्वारा कई जगहों पर आम सभा आयोजित कर संबोधित किया वही बैठकों का दौर भी चला। प्रचार थमने के बाद से लोगों से संपर्क करने के लिए घर घर दस्तक दी जा रही है। जिसके लिए आज 22 अपै्रल केा केवल एक दिन का समय बचा हुआ है। इस दिन सघन रूप से संपर्क किय जायेगा वही रात्रि में भी राजनीतिक दलों के लोगों की सक्रियता बनी रहेगी। 

    चुनाव कि तिथि नजदीक आने के साथ ही प्रत्याशियों की धडकने तेज हो गयी है। सभी दलों के पदाधिकारी अपने पार्टी के प्रत्याशी के जीत के दावे किये जा रहे है लेकिन ताज किसके सिर पर होगा इसका फैसला कल 23 अपै्रल को जनता जनार्दन करेंगी। कल 5 बजे के बाद  ईव्हीएम में सभी प्रत्याशियों के भाग्य बंद हो जायेगा जिसके बाद अगामी माह मतगणना दिवस ही खुलेगी। राजनीतिक दलों में तो प्रचार करने के लिए घमासान मचा हुआ था लेकिन जनता में लोक सभा चुनाव केा लेकर ज्यादा उत्साह नही देखा जा रहा है। 

    इस समय महुआ का सीजन चल रहा है कई परिवार सुबह होने के साथ ही महुआ चुनने के लिए जंगलों व गॉवो में स्थित महुआ पेड के नीचे पहुॅच जाते है दोपहर में लौटते है। ऐसे में दोपहर बाद ही ज्यादा मतदाता वोटिंग के लिए पहुॅचेंगे। इससे पूर्व उत्साही मतदाता ही अपने मताधिकार का प्रयोग कर अपने काम में जुटेेगे। इस बात को लेकर भी राजनीतिक दलो मे चिंता है हालांकि राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों की सक्रियता मतदान दिवस बनी रहती है जिनके द्वारा एक एक मतदाता की खबर लेते रहते है। --

     

  •  

Posted Date : 21-Apr-2019
  • मनेन्द्रगढ़, 21 अप्रैल। रविवार की सुबह बिजली विभाग में कार्यरत् ठेका श्रमिक करंट की चपेट में आकर बुरी तरह झुलस गया। उसकी गंभीर हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने बिलासपुर रेफर कर दिया है।

    प्राप्त जानकारी के अनुसार बिजली विभाग में कार्यरत् ठेका श्रमिक 28 वर्षीय बिहारी सिंह रविवार की प्रात: 9 बजे केल्हारी के साहू पारा में बिजली पोल में जंफर जोडऩे के लिए चढ़ा हुआ था, तभी लाइनमेन अशोक कुर्रे के द्वारा लाइन चालू कर दी गई जिससे वह करंट से बुरी तरह झुलस गया। श्रमिक को इलाज के लिए शासकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेंद्रगढ़ लाया गया जहां उसकी गंभीर हालत को देखते हुए प्राथमिक उपचार के बाद डॉक्टरों ने बिलासपुर रेफर कर दिया। 

  •  



Previous12Next