छत्तीसगढ़ » बलोदा बाजार

Posted Date : 19-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    कसडोल, 19 जनवरी। साइबर सेल बलौदाबाजार द्वारा आनलाईन फ्राड से ठगी किये  18 हजार रकम को आज प्रार्थी के एकाउंट में वापस दिलाया गया। 
    साइबर सेल बलौदा बाजार द्वारा लोगों को सुरक्षित रखने के लिए एडवाइजरी भी जारी किया गया है। सायबर सेल ने जिले में हुई इस तरह की कई ठगी के मामलों को सुलझा कर प्रार्थी को रकम वापस दिलाई गई है।
    7 जनवरी 2019 को सोनाडीह सीमेंट सयंत्र का कर्मचारी हेमंत कुमार साहू पिता कांशीराम साहू ने शिकायत आवेदन देकर बताया कि इनका बैंक एकाउंट सुपेला भिलाई ब्रांच में है । जिसमे अज्ञात व्यक्ति द्वारा इनके मोबाइल में एक अज्ञात व्यक्ति के नंबर से फोन आया जिसने अपने आप को नॉकरी डॉट कॉम का अधिकारी का झांसा देकर इनके एटीएम कार्ड नंबर  और ओटीपी नंबर की जानकारी हासिल कर लिया और इनके खाते से ठग द्वारा आनलाइन माध्यम से 18 हजार रुपए आहरण कर लिया गया था।
    प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए एस पी ने इस शिकायत की जाँच का जिम्मा साइबर सेल बलौदा बाजार को दिया था जिस पर साइबर सेल बलौदाबाजार कुमार जायसवाल, मोहन मेश्राम की टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए प्रार्थी को उसके एकाउंट से हुये ठगी के रकम 18 हजार रूपये को वापस  दिलाया गया। जिस पर प्रार्थी ने आज पुलिस अधीक्षक  प्रशांत अग्रवाल से सौजन्य मुलाकात कर उन्हे गुलदस्ता भेंट कर आभार प्रकट की गयी ।
    साइबर सेल प्रभारी कुमार जायसवाल ने बताया कि सायबर सेल को समय पर जानकारी मिलने पर वह बैंक के माध्यम से रकम ट्रांजेक्शन के स्रोत की जानकारी निकालते हैं। इस कंपनी व एजेंसी से शापिंग की गई है, इसकी जानकारी जुटाई जाती है। फिर कंपनी को ठगी की जानकारी देकर ट्रांजेक्शन रोकने कहा जाता है क्योंकि ऑनलाइन शापिंग में 24 घंटे बाद रकम एजेंसी संबंधित को ट्रांजेक्शन करती है। पूरी कार्रवाई के बाद रकम वापस उसी खाते में डाल दी जाती है।

     

  •  

Posted Date : 17-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    सरसीवां, 17 जनवरी। छग सरकार द्वारा किसानों की कर्जमाफी एवं धान की खरीदी 25 सौ रुपए में किए जाने की घोषणा से जहां किसानों में खुशी की लहर है वहीं सरसींवा क्षेत्र के सैकड़ों किसानों में उदासी छाई हुई है। पटवारी की लापरवाही के चलते सैकड़ों किसानों का वास्तविक रकबा से कम रकबा का पंजीयन हो गया है। जिसके चलते किसान अपनी उपज को समर्थन मूल्य पर बेचने से वंचित हो रहे हैं। किसानों का वास्तविक कुल  रकबा को कम करके पंजीयन किये जाने से किसानों को न तो बढ़ा हुआ समर्थन मूल्य का लाभ मिल पा रहा है और न ही अपनी उपज को अपने ही पट्टे में बेच पा रहे हैं । 
    किसानों ने अनुविभागीय अधिकारी, तहसीलदार से लेकर सहकारी समिति के अधिकारियों तक शिकायत दर्ज करा चुके हैं मगर किसानों को न्याय नहीं मिल पा रहा है। पटवारी द्वारा सहकारी समिति को पंजीयन हेतु किसानों की जो सूची मुहैया कराया गया है उनमें कई किसानों के वास्तविक रकबे में कटौती कर दी गई है। अनुविभागीय अधिकारी बिलाईगढ़ ने किसानों की शिकायत पर तहसीलदार को विधिवत कार्रवाई करने के निर्देश दिए। मगर इसके बावजूद भी किसानों को न्याय नहीं मिल पा रहा है। किसान दर-दर की ठोकरें खाते फिर रहे हैं ।
    प्राप्त जानकारी के अनुसार प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति सरसींवा  पं क्र 1457 के अंतर्गत करीब 1442 कृषक सदस्य धान विक्रय हेतु पंजीयन कराया है। समिति में जब किसानों ने धान बेचने के लिए पहुंचे तो उन्हें मालूम चला कि समिति में उनके वास्तविक रकबे के अनुरूप पंजीयन नहीं हुआ है। 
    कंप्यूटर ऑपरेटर का साफ कहना है कि पटवारी ने जो सूची मुहैया कराया है उसी के अनुरूप पंजीयन किया गया है। अब बिना पंजीयन के किसान धान बेचने से वंचित हो गए हैं। पटवारी ने जो सूची समिति को दिया गया है उसमें कई किसानों का रकबा कम कर दिया गया है। रकबा घटने का कोई स्पष्ट कारण भी उल्लेख नहीं किया गया है। किसानों का कहना है कि वे न तो जमीन बेचे हैं और न ही जमीन को अधिया-रेगहा दिया गया है। फिर भी जमीन का कुल रकबा कैसे कम हुआ समझ से परे है। 
    लगता है पटवारी ने आंख बंद करके सूची तैयार कर दी गई है या फिर किसानों के साथ धोखाधड़ी की गई है। पटवारी की लापरवाही के चलते सैकड़ों किसान अपनी ही खेत में खून पसीना सींच उगाये फसल को बेच नहीं पा रहे हैं।
     कलेक्टर से करेंगे शिकायत
    ग्राम चकरदा निवासी अवध राम पिता दाऊराम जाति तेली प ह नं 35 के नाम पर 1.325 हे.(करीब सवा तीन एकड़) रकबा ऋण पुस्तिका में दर्ज है मगर पटवारी ने 16-8-2018 को सहकारी समिति सरसीवां को जो सूची दिया गया है उसमें रकबा मात्र 0.262 हेक्टेयर ही उल्लेखित किया गया है। जिसमें वह मात्र 9.2 च्ंिटल धान ही भेज पाया है । वास्तविक रखने का पंजीयन हुआ होता  तो वहां करीब 50 च्ंिटल धान बेच पाता। समर्थन मूल्य पर धान नहीं बेच पाने से उसे खुले बाजार में बेचने पर करीब 32000 रु का नुकसान हो रहा है जिसकी भरपाई कर पाना मुश्किल है। ऐसे ही कई किसान रकबे की कटौती की वजह से परेसान हैं। ग्राम झुमका निवासी उदेराम पिता महेत्तर ने बताया कि उनके नाम करीब 12.5 एकड़ कृषि भूमि दर्ज है मगर पंजीयन मात्र सवा एकड़ का हुआ है।  झूमका निवासी जगतराम पिता हीरालाल के खाते में डेढ़ एकड़ है मगर उनका पंजीकृत रकबा शुन्य है, जिसके चलते वह समर्थन मूल्य पर एक दाना भी धान नहीं बेच पाया है। सरसीवां निवासी कुंठू पिता डमरु के नाम पर 3 एकड़ है मगर पंजीयन 0.147 हेक्टेयर ही हुआ है। ऐसे ही सैकड़ों किसानों के कुल रकबे में कटौती की गई है ।यह तो जांच के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि आखिर कितने किसानों को रकबा घटा है और कितने किसान इस पीड़ा का दंश झेल रहे हैं। दर-दर की ठोकरें खाते फिर रहे किसानों ने इसकी शिकायत कलेक्टर जनदर्शन में एवं क्षेत्रीय विधायक चंद्रदेव राय से करने का भी निर्णय लिया है।
    एसडीएम के आदेश का भी नहीं हो रहा पालन
    ग्राम चकरदा निवासी अवधराम पिता दाऊराम ने कुल रकबे में कटौती कर पंजीयन किए जाने के मामले की शिकायत अनुविभागीय अधिकारी बिलाईगढ़ से दिनांक 8.1.2019 को की गई है थी।जिस पर एसडीएम ने तहसीलदार बिलाईगढ़ को विधिवत कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए थे मगर उनके आदेश का पालन करने के बजाय किसानों को ही  गुमराह किया जा रहा है। जब उच्च अधिकारी के आदेश का पालन अपने मातहत अधिकारी ही न करें तो फिर वहां किसानों को न्याय की उम्मीद करना बेमानी है। पंजीयन के दौरान कुल रकबा में अगर त्रुटि हुई है तो उसमें संशोधन की गुंजाइश होनी चाहिए ।तसीलदार चाहे तो संशोधन का आदेश दे सकते हैं । तसीलदार लापरवाही बरतने वाले पटवारी पर कार्रवाई करने की बजाय किसानों को ही गुमराह करने में तुले हैं ।किसानों ने बताया कि जब एसडीएम के आदेश को दिखाया गया तो कार्रवाई करने के बजाय आवेदन को ही वापस कर दिया गया । 
    पटवारी की भूमिका भी संदिग्ध
    इस पूरे मामले में पटवारी की घोर लापरवाही उजागर हुई है। पटवारी राजस्व विभाग का जमीनी स्तर का कर्मचारी है ।वह अपनी जिम्मेदारी का निर्वाहन इमानदारी पूर्वक नहीं किए जाने से किसानों की कुल रकबे में कटौती हुई है ।अक्सर देखा गया है कि पटवारी अपने कार्यालय में अपने काम के लिए अलग से कर्मचारी रखे हुए हैं उन्हीं के द्वारा ही महत्वपूर्ण शासकीय दस्तावेज तैयार किया जाता है और बिना पढ़े हस्ताक्षर कर आगे कार्रवाई के लिए भेज दिया जाता है इसके चलते ही ऐसी परेशानी किसानों को झेलनी पड़ती है। इसमें सहकारी समिति की भी बड़ी लापरवाही सामने आ रहा है। पंजीयन के दौरान ही अगर गौर किया जाता तो ये नोबत नहीं आती सहकारी समिति के कर्मचारी अधिकारी कुल रकबे में इस तादात में हो रही कटौती की वास्तविक कारण भी जानना नहीं चाहा जिसके चलते किसानों का इतना बड़ा अहित हो रहा है।

  •  

Posted Date : 16-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
     कसडोल, 16 जनवरी।  कसडोल चौकी लवन अंतर्गत ग्राम चितावर के 30 ग्रामीण जो बिहार के जिला गया, शेरघाटी में ईट भ_ा मालिक का बंधक बनकर प्रताडऩा का शिकार हो रहे थे  को वापस लाने में बलौदाबाजार पुलिस को सफलता मिली है।  उल्लेखनीय है कि 11 जनवरी को  चांदन के 19 मजदूरों को  जो  तेलंगाना के ग्राम पल्लाचिला में बंधक  थे पुलिस और प्रशासन की विशेष टीम  ने सकुशल घर वापसी कराया गया था। 
    पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि थाना कसडोल चौकी लवन अंतर्गत ग्राम चितावर के 30 ग्रामीणों को बिहार राज्य, जिला गया क्षेत्र अंतर्गत शेरघाटी में बंधक बनाकर कार्य कराने की जानकारी मिली थी जिस पर थाना कसडोल चौकी लवन में  अपराध पंजीबद्ध कर जिला पुलिस एवं प्रशासन की टीम बनाकर बिहार राज्य भेजा गया था। 14 जनवरी को टीम 11 पुरूष 09 महिला एवं 10 बच्चों को बिहार भेजा गया, शेरघाटी में ईट भ_ा मालिकों के ईट भ_े से छूड़ाकर देर रात जिला बलौदाबाजार लाया गया और सभी का बयान दर्ज किया जा रहा है आरोपियों के विरूद्ध उचित वैधानिक कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि जब टीम वहां गई तो आरोपीगण मौके से फरार हो चुके थे। छुड़ाये गये मजदूरों को शासन की पूनर्वास नीति के तहत उचित सहायता मिले इस हेतु प्रशासन से बात कर हर संभव मदद की जायेगी ।
     लेबर सरदार ओमप्रकाश कुर्रे  चितावर के 30 ग्रामीणों को अधिक मजदूरी का लालच देकर वहां ले  गया था। र्इंट भ_ा मालिकों द्वारा ग्रामीणों को बंधक बनाकर जबरदस्ती काम लिया जाता था।  कार्य के मुताबिक पारिश्रमिक नहीं दिया जाता था।  वे वहां से  आना चाहते थे परंतु मालिकों द्वारा इन्हें  नहीं आने दिया जा रहा था।  प्रार्थी गोपाल नारंगे साकिन चितावर की रिपोर्ट पर मामला दर्ज किया गया था।
     बंधक  कमल, कमलेश, कुतुल, संतराम, राधा, विद्या, अनिल, सुकृता, मनमोहन, सतरूपा, अशोक, पुन्नी बाई, हरिन बाई, सहित 30 ग्रामीणों को सकुशल बंधक मुक्त कराया गया। जिसे टीम द्वारा 14 जनवरी को देर रात वापस लाया गया और उनके गृह ग्राम चितावर पहुंचाया गया।
     बंधक मुक्त ग्रामीणों और उनके परिजनों में हर्ष का माहौल था एक दूसरे को गले मिलकर खुशियां जाहिर कर रहे थे। पुलिस और टीम को घर वापसी के लिये धन्यवाद देकर प्रसन्नता जाहिर करते हुए बताये कि वहां बंधक बनाकर इनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता था, गाली गलौच से बात किया जाकर प्रताडि़त किया जाता था, जो मजदूरी दर बताकर यहां से ले जाया गया था उससे बहुत ही कम मजदूरी दी जाती थी।

     

     

     

  •  

Posted Date : 13-Jan-2019

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    बलौदाबाजार, 13 जनवरी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तपोभूमि गिरौदपुरी धाम में बाबा गुरू घासीदास के नाम पर गुरूकुल शिक्षा केन्द्र खोलने की घोषणा की है। श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की नई सरकार ने गुरूबाबा के बताए मार्ग पर चलकर पूरी ताकत के साथ राज्य के विकास की कमान संभाल ली है।  मुख्यमंत्री शनिवार को गिरौदपुरी में छत्तीसगढ़ प्रगतिशील सतनामी समाज द्वारा अनुसूचित जाति के नवनिर्वाचित विधायकों के सम्मान समारोह को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रहे थे। श्री बघेल ने सतनाम पंथ के धर्मगुरूओं और राजमहंतों के साथ गुरू गद्दी पर मत्था टेका और और राज्य की समृद्धि और खुशहाली के लिए आशीर्वाद मांगा। इस मौके पर धर्मगुरू बालदास साहेब, लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्रकुमार, शहरी विकास एवं श्रम मंत्री शिव डहरिया, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल भी उपस्थित थे।
     श्री बघेल ने समारोह में कहा कि बाबा घासीदास के संदेश हमारी सरकार के लिए काम करने का मार्गदर्शी आधार होगा। उनके सत्य के रास्ते पर चलने के उपदेश को आधार मानकर ही झीरम घाटी नरसंहार की फिर से जांच करने का निर्णय लिया और इसके लिए एसआईटी गठित की गई। श्री बघेल ने कहा कि नई सरकार को लेकर जनता में काफी उत्साह है। यह राज्य की पहली ऐसी सरकार है, जिसमें छत्तीसगढ़ के सभी समूहों की भागीदारी है। राज्य सरकार ने अपने गठन के बाद पहला निर्णय किसानों के हित में लिया। उनके कर्ज माफ करने के साथ ही धान की खरीदी 2500 रूपए में होने लगी है। बाबा के बताए रास्ते पर चलकर ही गांवों का विकास करना है। गौसंवर्धन को बढ़ावा देना है। बाबाजी ने दोपहर की तपती गर्मी में बैलों से नांगर नहीं फांदने का उपदेश दिया। वे जीव-जन्तु को होने वाले कष्ट से वाकिफ थे और उनके प्रति प्रेम करते थे। राज्य सरकार भी गरूआ और घुरवा के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है। गांवों में चराने के लिए अलग से दैहान विकसित किया जाएगा ताकि गाय-गरू को भरपेट भोजन मिल सके।
    मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि राज्य सरकार शराबबंदी के लिए वचनबद्ध है। लेकिन इसे बंद करने के लिए जोर-जबरदस्ती से और अकस्मात तरीके से नहीं बल्कि समाज में जागरूकता फैलाकर इसके लिए उनकी सहमति बनाया जाएगा। समाज स्वयं होकर शराब की बुराईयों को समझेगा और रोकने के लिए सामने आएगा। उन्होंने कहा कि राज्य में दारू नहीं बल्कि दूध की नदियां बहेगी। उन्होंने कहा कि नौजवान पीढ़ी का भविष्य शराब सेवन से खराब होता है। श्री बघेल ने कहा कि राज्य के जनता की नई सरकार के प्रति काफी आशाएं है। घोषणा पत्र में हमने जो भी वादाएं हमने की हैं, वे सभ पूरी की जाएगी। गुरू बाबा घासीदास के आशीर्वाद से हम सभी घोषणाओं को पूर्ण करने में सक्षम होंगे।  समारोह को नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिव डहरिया ने भी सम्बोधित किया। स्थानीय विधायक श्री चंद्रदेव राय ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने बाबा की तपोभूमि में गरीब बच्चों की गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा के लिए गुरूकुल शिक्षा संस्थान खोलने की मांग की। उन्होंने किसानों की कर्जमाफी और 2500 रूपए में धान खरीदी निर्णय के लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के प्रति आभार प्रकट किया। 
    मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस मौके पर छत्तीसगढ़ प्रगतिशील सतनामी समाज की ओर से अनुसूचित जाति वर्ग के नवनिर्वाचित विधायकों और मंत्रियों का सम्मान किया। इनमें मंत्रीशिव कुमार डहरिया, मंत्री गुरू रूद्रकुमार, विधायक बिलाईगढ़  चंद्रदेव राय, विधायक डोंगरगढ़ भुनेश्वर बघेल, विधायक नवागढ़ गुरूदयाल बंजारे शामिल हैं। इस अवसर पर धर्मगुरू युवराज खुशवंत साहेब, कसडोल विधायक शकुन्तला साहू, जिला कलेक्टर जे.पी.पाठक, एसपी प्रशांत अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में प्रदेश भर से आए सतनामी समाज के राजमहंत, पदाधिकारी और समाज के लोग उपस्थित थे। प्रगतिशील छत्तीसगढ़ सतनामी समाज के अध्यक्ष एलएल कोसले ने अंत में आभार प्रकट किया। मुख्यमंत्री सहित अतिथियों के आगमन परम्परागत पंथी नृत्य दलों के माध्यम से शानदार स्वागत किया गया।

  •  

Posted Date : 12-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बलौदाबाजार, 12 जनवरी। तेलंगाना में बंधक बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के ग्राम चांदन (कसडोल) के 13 मजदूरों को  जिला और पुलिस प्रशासन के प्रयासों से मुक्त कराया वापस लाया गया है। तेलगांना के पिदापल्ली जिले की ईंट-भ_ों में वे पिछले चार महीने से बंधक बनाकर रखे गए थे। गांव चांदन रवाना होने के पहले इन लोगों ने अपने परिवारजनों के साथ जिला कलेक्टर जे.पी.पाठक से सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने कलेक्टर को अपनी आपबीती सुनाई। 
    कलेक्टर ने श्रमिकों के प्रति सहानूभूति प्रकट करते हुए उन्हें पुनर्वास नीति के अंतर्गत हरसंभव सहायता का भरोसा दिलाया। श्री पाठक ने कहा कि बलौदाबाजार-भाटापारा जिला सहित छत्तीसगढ़ में भी श्रममूलक रोजगार की काफी संभावनाएं हंै। बड़ी संख्या में यहां पर भी ईंट-भ_े संचालित हैं। संपूर्ण सुविधाओं के बीच स्थानीय स्तर पर काम उपलब्ध कराने के निर्देश उन्होंने अधिकारियों को दिए। 
    बंधन से मुक्त कराए गए लोगों में ग्राम चांदन के घुररूराम यादव, चिंतामणि चौहान, प्रमोद कुमार भोई और ग्राम लिमदरहा के बेदराम यादव और उनके बाल-बच्चे शामिल हैं। उन्होंने कलेक्टर को बताया कि ज्यादा कमाई के फेर में वे तेलंगाना चले गए थे। ओडिशा के कांटाभांजी निवासी मजदूर दलाल पुरंदर बाघ ने बहला फुसलाकर उन्हें वहां ले गए। थोड़े दिन काम के बाद स्थिति प्रतिकूल हो गई। जितने पैसे देने का वायदा किया गया था, उससे आधा भी नहीं दिए। एक हजार ईंट निर्माण के लिए 750 रूपए देने की बात हुई थी। लेकिन वे मुकर गए और प्रताडि़त करने लगे। गांव वापस जाने की बात पर वे बिफर जाते थे और गाली-गलौज करते थे। किसी तरह उन्होंने पुलिस और जिला प्रशासन बलौदाबाजार तक संदेश पहुंचाई। स्थानीय श्रम विभाग, आईसीपीएस और पुलिस द्वारा तेलगांना के पिदापल्ली जिले के कलेक्टर-एसपी से चर्चा की गई और उन्हें छुड़ाकर सकुशल वापस लाया गया है।

     

     

  •  

Posted Date : 11-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बलौदाबाजार, 11 जनवरी। माईक्रो, लघु और मध्यम उद्योगों (एमएसएमई) को बढ़ावा देने के लिए जिले का प्रथम 'सहयोग एवं सम्पर्क शिविरÓ कल भाटापारा के शिवलाल मेहता स्कूल परिसर में संपन्न हुआ। शिविर का आयोजन जिला प्रशासन के सहयोग से केन्द्रीय एमएसएमई विभाग और राज्य सरकार के उद्योग विभाग द्वारा किया गया। बड़ी संख्या में भाटापारा शहर सहित आस-पास गांवों के उद्यमियों ने शिविर का लाभ उठाया।
    कलेक्टर जे.पी.पाठक विशेष रूप से शिविर में मौजूद रहकर नये उद्यमियों का उत्साह वर्धन किया। उन्होंने राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत बैंकों की मदद से लगभग 22 लाख रूपए के ऋण स्वीकृति पत्र भी वितरित किए। अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति की ओर से तीन हितग्राहियों को 10-10 हजार रूपए की अनुदान राशि का चेक भी कलेक्टर ने प्रदान किए। 
    श्री पाठक ने कहा कि उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए राज्य के तीन जिलों में बलौदाबाजार-भाटापारा जिले का चयन जिले के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि भाटापारा इलाके में दाल मिल, राईस मिल और पोहा-मुरमुरा उद्योग की अच्छी संभावनाओं को देखते हुए इनका चयन किया गया है। कलेक्टर ने कहा कि उद्योगों को प्रोत्साहित करने और सहायता प्रदान करने के साथ-साथ इनमें काम करने वाले श्रमिकों और कर्मचारियों के हितों का भी ध्यान रखा गया है। उनके भविष्य निधि, बीमा का लाभ भी मिलेगा। इन उद्योगों द्वारा जो माल तैयार किया जाएगा, उनकी मार्केटिंग और पैकेजिंग में भी सहायता प्रदान की जाएगी। बैंकों का इसमें महत्वपूर्ण योगदान होगा। एक तरह से एमएसएमई उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सभी के समन्वय का एक बड़ा अभियान होगा। 
    जिला पंचायत के सीईओ एस. जयवर्धन ने योजना के विभिन्न घटकों पर प्रकाश डाला और इनका लाभ उठाने के लिए उपस्थित लोगों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि स्व सहायता समूहों के रूप में संगठित महिलाएं भी उद्योग लगा सकती हैं। उन्होंने देना बैंक द्वारा संचालित आरसेटी कार्यक्रम की जानकारी दी। लीड बैंक प्रबंधक गोविन्द राजन ने सभी बैंकों की ओर से इस सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्धता दोहराई। एमएसएमई सेक्टर को दी जा रही सुविधाएं और इनका लाभ लेने के तरीकों की उन्होंने जानकारी दी। नाबार्ड के अधिकारी ने खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों को दी जा रही सबसिडी और इसकी सीमा के बारे में बताया। 
    केन्द्रीय माईक्रो,लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) मंत्रालय के रायपुर से आए अधिकारियों ने भी शिविर के उद्देश्य पर प्रकाश डाला। उद्योग विभाग के महाप्रबंधक और शिविर के नोडल अफसर एस.के.बघेल ने ऐसे उद्योगों को दी जा रही सुविधाओं के बारे में बताया। 
    शिविर में पोहा-मुरमुरा मिल एसोसिएशन भाटापारा के अध्यक्ष राजेश थारानी, पोहा मुरमुरा कल्याण समिति के प्रदेश अध्यक्ष कमलेश कुकरेजा ने भी शिविर को काफी उपयोग बताया। इसके पहले उपस्थित सभी अधिकारियों और बैंक प्रबंधकों ने सरकार की विभिन्न रोजगार और उद्योग स्थापना संबंधी विभिन्न योजनाओं से उपस्थित जनता को अवगत कराया।

     

     

     

     

  •  

Posted Date : 07-Jan-2019
  • टुण्डरा, 6 जनवरी। विधानसभा कसडोल की नवनिर्वाचित विधायक शकुंतला साहू की ऐतिहासिक जीत के बाद पहली बार विधानसभा क्षेत्र ग्राम मरकडा, थरहिडीह, झगड़ी, खैरा एवं लखमाईशक्ति, पहुंचते ही बाजे-गाजे, फूल माला एवं रंग गुलाल लगाकर आतिशबाजी के साथ स्वागत किया और ग्रामीणों की अपार भीड़ के साथ आभार रैली निकाली। 

    शकुंतला साहू ने विनम्रता से अपने मतदाताओं का आभार व्यक्त किया और मरकडा  खैरा से महानदी सेतु निर्माण एवं बैराज जलाशय से सिंचाई व्यवस्था का आश्वासन दिया।
    विधायक बनने से पहले शकुंतला साहू जिला पंचायत सदस्य थीं, वही पल्लवी दुबे जिला पंचायत सभापित हैं। कार्यक्रम के दौरान मिलने पर एक-दूसरे को बधाई दी। इस रैली में पल्लवी हेमंत दुबे गिधौरी (सभापति जिला पंचायत बलौदाबाजार) , अशोक यादव (ब्लॉक अध्यक्ष करडोल) मनीष मिश्रा, सुमित्रा घृतलहरे (जिला पंचायत सदस्य) निलुचन्द साहू (पार्षद कसडोल) धनाराम साहू (पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष) रामगोपाल यादव (सरपंच मरकडा)गोरेलाल साहू (सरपंच खैरा)संतोष यादव (सरपंच झगड़ी)आई.पी.वर्मा कसडोल, निर्मला साहू, सूखी लाल साहू एवं समस्त ग्रामवासी उपस्थित थे।

     

     

     

  •  

Posted Date : 01-Jan-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    बलौदाबाजार, 1 जनवरी। खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा जिला स्तरीय युवा उत्सव का आयोजन गुरूकुल इंग्लिश मीडियम स्कूल बलौदाबाजार के प्रांगण में किया गया। प्रतियोगिता में छ: विकासखंड से 180 कलाकारों ने भाग लिया। उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि विधायक बलौदाबाजार प्रमोद कुमार शर्मा थे। अध्यक्षता गुरूकुल इंग्लिश मीडियम स्कूल प्राचार्य वन्दना तिवारी ने की। 
    मुख्य अतिथि ने द्वीप प्रज्जवलित कार्यक्रम का शुभारंभ किया। गुरूकुल इंग्लिश मीडियम स्कूल की बालिकाओं ने सरस्वती मां की वंदना प्रस्तुत की। वरिष्ठ खेल अधिकारी प्रीति बंछोर बिजौरा ने गुलदस्ता भेंट कर अतिथियों का स्वागत किया। 
    जिला स्तरीय युवा उत्सव में लोकनृत्य, लोकगीत, तात्कालिक भाषण, हारमोनियम, तबला, एकांकी नाटक, एकल शास्त्री गायन, शास्त्री नृत्य (कथक, मणीपुरी, ओड़ीसी, भारतनाट्यम एवं कुच्चीपुड़ी) एवं गिटार वादन प्रतियोगिता सम्पन्न हुआ। प्रतियोगिता में अधिवक्ता अजेश त्रिवेदी, अधिवक्ता सीमारानी करीम एवं डॉ. अनुराधा श्रीवास्तव प्राध्यापक बृजलाल वर्मा कालेज पलारी निर्णायक थे। 
    लोकनृत्य में अमरनाथ यादव व साथी विकासखण्ड बलौदाबाजार ने प्रथम स्थान, मिथलेश्वरी व साथी पलारी द्वितीय तथा प्रेरणा व साथी भाटापारा ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। लोकगीत में मिथलेश्वरी व साथी पलारी प्रथम, द्रोपती व साथी बिलाईगढ़ द्वितीय, लेखराम व साथी सिमगा तृतीय, हारमोनियम में सालिकराम बलौदाबाजार प्रथम, रविन्द्र कुमार बिलाईगढ द्वितीय, विजयशंकर पलारी तृतीय, एकल शास्त्री गायन में विजयशंकर पलारी प्रथम, अंकित टंडन कसडोल द्वितीय, हितेश वैष्णव बलौदाबाजार तृतीय स्थान प्राप्त किया।  शास्त्रीय नृत्य कत्थक, एकांकी नाटक एवं गिटार विधा से समस्त विकासखण्ड से एक ही प्रतिभागी ने अपने प्रतिभा का प्रदर्शन किया। जिसके तहत शास्त्रीनृत्य (कत्थक) में सिद्धी गोस्वामी बलौदाबाजार प्रथम, एकांकी नाटक में उगेश्वरी व साथी बलौदाबाजार प्रथम एवं गिटार में उपेन्द्र साहू बलौदाबाजार ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। 
    समापन समारोह के मुख्य अतिथि रामाधार पटेल भारत स्काऊट गाईड की जिला अध्यक्ष, वंदना तिवारी प्राचार्य गुरूकुल इंग्लिश मिडियम स्कूल व अतिथियों के द्वारा विजेताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। मंच संचालन गंगाराम वर्मा व्याख्याता शा.उ.मा.वि. रसेड़ा ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु खेल एवं युवा कल्याण विभाग नोडल अधिकारी अन्थ्रेन्स मिन्ज बिलाईगढ़, हरबंश निषाद सिमगा, ईश्वर लाल साहू पलारी, शिवकुमार बांधे बलौदाबाजार एवं जिला कार्यालय खेल एवं युवा कल्याण विभाग से देवेन्द्र सिंह अजमानी, हरिशचन्द्र वर्मा एवं गुरूकूल इग्लिश मिडियम के समस्त स्टाफ का विशेष सहयोग रहा। 

  •  

Posted Date : 31-Dec-2018
  • भाटापारा, 31 दिसंबर। छत्तीसगढ़ सरकार में नगरीय प्रशासन मंत्री बनने के बाद जिले में प्रथम नगर आगमन पर डॉ. शिव कुमार डहरिया का जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश यदु के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने स्वागत किया। इस दौरान मंत्री ने समस्त कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और कांग्रेस नेताओं ने उन्हें भाटापारा आने का निमंत्रण भी दिया और बलौदा भाटापारा के मध्य पुन: सिटी बस चलाने की मांग रखी।

     प्रदेश कांग्रेस सरकार के केबिनेट मंत्री के रूप में डॉ. शिव कुमार डहरिया का जिला मुख्यालय में प्रथम आगमन हुआ। नगर के कांग्रेसजनों में, प्रदेश सचिव गणेश सिंह धुव, जिला महामंत्री मनोज जैन ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष विनोद अग्रवाल, पार्षद नान्हू राम सोनी, पूर्व एल्डरमेन रसीद चौहान आदि कांगेसजनों ने बलौदा पहुँचकर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश यदु के नेतृत्व में डॉ. शिव कुमार डहरिया का स्वागत किया।
    भाटापारा के कांग्रेस जनो ने बलौदा बाजार भाटापारा के मध्य बन्द सिटी बस को पुन: चलाने की मांग उनके समक्ष रखी, जिस पर उन्होंने शीघ्र निर्णय लेने की बात कही। इस दौरान डॉ. डहरिया ने वहां उपस्थित कांगेसजनों से मुलाकत की, वहीं समस्त कांगेस जनों ने डॉ. शिव कुमार डहरिया को नगरीय प्रशासन मंत्री का पद मिलने पर बधाई दी। यहाँ से गए कांग्रेसजनों ने डॉ डहरिया को भाटापारा आगमन का निमंत्रण दिया, जिसे उन्होंने स्वीकारते हुए शीघ्र आने का भरोसा जताते हुए सभी कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया।

  •  

Posted Date : 31-Dec-2018
  • कहा-अखबारों के जरिये क्षेत्र की समस्याओं, लोगों की जरूरतों 

    के अलावा विधायक की गलतियां भी सामने लाएं
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    महासमुन्द, 31 दिसम्बर। नवनिर्वाचित विधायक विनोद चंद्राकर प्रेस से मिलिये कार्यक्रम में प्रेस क्लब महासमुंद पहुंचे। यहां मीडिया से विकास के मुद्दों पर खुलकर चर्चा की। उन्होंने क्षेत्र के विकास के लिए मीडिया से मार्गदर्शन भी मांगा। श्री चंद्राकर ने अपनी प्राथमिकता बताते हुए कहा झलप और पटेवा क्षेत्र सिंचाई के मामले में बहुत ज्यादा पिछड़ा है। यहां नदी, नालों में सिंचाई की योजनाएं तैयार कर कृषि को सिंचित किया जा सकता है। इस दिशा में वे सतत प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि वर्षों से लंबित घोड़ारी से राजिम रोड तक बनने वाले बायपास रोड निर्माण प्राथमिकता में रहेगा। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से चर्चा भी की है। इससे जिला मुख्यालय महासमुंद में यातायात के दबाव को कम किया जा सकेगा। इस दिशा में सरकार की ओर से सकारात्मक कार्रवाई बहुत जल्द नजर आएगी। एनएच.353 रोड शहर के मध्य से गुजरने के कारण ट्रैफिक का दबाव शहर पर लगातार बढ़ रहा है। जिसे देखते हुए बायपास रोड अति आवश्यक हो गया हे।
    जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए भी विधायक श्री चंद्राकर ने प्राथमिकता तय की है। जिला अस्पताल में संसाधन तो है लेकिन चिकित्सकों की कमी के कारण संसाधनों का लाभ क्षेत्रवासियों को नही मिल पा रहा है। इसको लेकर भी मुख्यमंत्री के समक्ष पहल की है। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अव्यवस्था का जिक्र भी किया व कहा बेहतर शिक्षा के लिए प्राथमिकता से काम किया जाएगा और अव्यवस्थाओं को दूर कर छात्र-छात्राओं को बेहतर शिक्षा दिलाने का प्रयास करेंगे। मालूम हो कि प्रेस क्लब के नवनिर्मित भवन में प्रेस से मिलिए कार्यक्रम का यह पहला आयोजन था। विधायक के साथ पहुंचे किसान कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष दाऊलाल चंद्राकर ने मीडिया की भूमिका को अहम बताते हुए कहा कि वे विधायक विनोद चंद्राकर को समय-समय पर मार्गदर्शन देकर आईना दिखाएं तो विकास में आने वाले अवरोध को दूर करने का कार्य विधायक करेंगे। 
    वार्ड के पार्षद संजय शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि पत्रकार सिर्फ  विधायक की अच्छाई को ही अखबारों में स्थान न दें बल्कि उनकी कमजोरियों को भी सामने लाएं। इससे विधायक कभी रास्ता नहीं भटकेंगे। प्रेस से मिलिए कार्यक्रम का संचालन करते हुए अध्यक्ष आनंद राम साहू ने प्रेस क्लब के 43 वर्षों के गौरवशाली इतिहास की जानकारी दी। आभार प्रदर्शन महासचिव रत्नेश सोनी ने किया। विधायक विनोद चंद्राकर के साथ अरूण चंद्राकर, यदुनाथ पांडे, दिलीप चंद्राकर आदि प्रेस क्लब पहुंचे थे।  
    ( प्रेस क्लब परिसर में लगाये गये पौधे और घेरा को नुकसान पहुंचाने पर उन्होंने गहरी नाराजगी जताई। उन्होंने यहां पहुंचने के दौरान असामाजिक तत्वों द्वारा पौधों और बारबेड वायर फेंसिंग को पहुंचाए गए नुकसान को देखा। इसके साथ ही सुरक्षा घेरा के लिए बाउंड्रीवाल की आवश्यकता महसूस करते हुए अविलंब धनराशि मुहैया कराने की बात भी कही। विकास के मसले पर पहली बार आयोजित प्रेस से मिलिए कार्यक्रम की सभी ने सराहना करते हुए निकट भविष्य में इस तरह के आयोजन समय-समय करते रहने भी प्रेरित किया।)

  •  

Posted Date : 29-Dec-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    भाटापारा, 29 दिसंबर। शराब और नशा ला छोड़ाए के संकल्प को लेकर पदयात्रा में निकले श्री मुरारी मिश्रा पूर्व जिला पंचायत सदस्य एवं सभापति ग्राम खड़वा धाम से लेकर गिरौदपुरी धाम तक निकले हैं और यह उनके अभियान का 9वां वर्ष है। पदयात्रा ग्राम पंचायत छरछेद पहुंचने पर सरपंच भरत दास मानिकपुरी एवं ग्रामीणों ने फूल माला एवं श्रीफल भेंट कर स्वागत किया और शराबबंदी एवं नशा मुक्ति को लेकर अभियान चलाने के लिए बधाई एवं धन्यवाद दिया।
    पदयात्रा मुरारी मिश्रा द्वारा तत्काल पूर्ण शराब बंदी को लेकर निकाला गया है। मुरारी मिश्रा द्वारा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से निवेदन कर अपने घोषणा पत्र अनुसार तत्काल गांव गरीब के भलाई के लिए शराबबंदी लागू करने मांग की है। पदयात्रा में रिखीराम वर्मा, हिरासिंग ध्रुव, विष्णु साहू, गोपाल ध्रुव, मालिकराम यादव, हेमंत वर्मा, ईश्वर पाल, महेश साहू, राजेश यादव, सुमन रजक, प्रदीप वैश्णव, कपिल सोनवानी, लाला कुर्रे, श्रवण ध्रुव आदि उपस्थित थे। 
    अवैध धान परिवहन पर होगी कार्रवाई
    गरियाबंद, 29 दिसंबर। छग में धान के समर्थित मूल्य 2500 रू. होने से जिले के सीमावर्ती राज्य ओडिशा से अधिक मात्रा में अवैध धान परिवहन कर खपाने की जानकारी प्राप्त हो रही है। पुलिस अधीक्षक एम आर आहिरे द्वारा इस संबंध में कलेक्टर गरियाबंद को एक संयुक्त समिति गठित करने हेतु पत्र भेजा गया है। जिसका कार्य सभी संभावित छोटे-बड़े रास्तों पर लगातर चेक करते हुये अवैध धान परिवहन को रोकना होगा।
     समस्त सीमावर्ती थाना प्रभारियों को इस संबंध में अत्यधिक सक्रियता से कार्यवाही हेतु भी पुलिस अधीक्षक द्वारा निर्देशित किया गया। 

  •