छत्तीसगढ़ » बलोदा बाजार

Posted Date : 17-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बलौदाबाजार, 17 नवम्बर। भारतीय स्टेट बैंक की भाटापारा शाखा में कुशल आटो के नाम से संचालित बैंक खाते में एक ही दिन में 56 लाख रुपए जमा हुए हैं। उनके खाते की जांच आयकर अधिकारी, रायपुर से कराने के लिए रिटर्निंग अफसर ने पत्र लिखे हैं। इसके साथ ही विलंब से सूचना देने के लिए संबंधित बैंक प्रबंधक से स्पष्टीकरण मांगा गया है। 
    भाटापारा के रिटर्निंग अफसर एवं अपर कलेक्टर श्री जोगेन्द्र नायक ने बताया कि चुनाव आयोग के नियमानुसार किसी के भी खाते में एक दिन में 10 लाख रूपए से अधिक के लेनदेन होने पर 24 घण्टे के भीतर इसकी सूचना देना अनिवार्य है ताकि आयकर अधिकारी द्वारा तत्काल इसकी जांच की जा सके। उन्होंने बताया कि भाटापारा के स्टेट बैंक शाखा में कुशल ऑटो के नाम से बैंक खाता क्रमांक 38032486659 संचालित है। 
    विगत 6 तारीख को एक ही दिन में दो किश्तों में 56 लाख रुपए इसमें जमा किए गए हैं। प्रथम किश्त के रूप में 26 लाख रुपए और दूसरे किश्त के रूप में में 30 लाख रुपए जमा हुए हैं। कायदा के अनुसार बैंक प्रबंधक को राशि जमा होने के 24 घण्टे के भीतर जिला निर्वाचन अधिकारी को इसकी सूचना देनी थी। लेकिन वे इस महत्वपूर्ण दायित्व में चूक करते हुए अत्यधिक विलंब से दस दिन बाद 16 नवम्बर को इसकी सूचना दिए हैं। आयकर अधिकारी को लिखे पत्र की प्रति मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, व्यय प्रेक्षक और जिला कोषालय अधिकारी को भी भेजी गई है। 

  •  

Posted Date : 16-Nov-2018
  • प्रत्याशियों ने दिया चुनाव खर्च का हिसाब

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बलौदाबाजार, 16 नवम्बर। जिले में विधानसभा चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशियों ने अब तक के चुनाव खर्च का हिसाब दिया है। उन्होंने जिला निर्वाचन कार्यालय में व्यय प्रेक्षक श्री टी.शंकर के समक्ष 14 नवम्बर तक हुए खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत किया है। 
    भाटापारा विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी शिवरतन शर्मा ने सर्वाधिक 8 लाख 40 हजार 192 रूपए खर्च किए हैं। वहीं चारों विधानसभा क्षेत्रों के 8 प्रत्याशियों ने 14 तारीख को अपने खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत नहीं किए हैं। उनके विरूद्ध कार्रवाई के निर्देश रिटर्निंग अफसरों को दिए गए हैं। जांच के दौरान जिला कोषालय अधिकारी एवं व्यय लेखा मानीटरिंग प्रभारी श्री दिलीप सिंह सहित व्यय लेखा टीम के सदस्य भी उपस्थित थे।
    जिला निर्वाचन कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार 14 नवम्बर तक विधानसभा वार सबसे ज्यादा खर्च करने वाले तीन प्रत्याशियों में बिलाईगढ़ विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी डॉ. सनम जांगड़े 6 लाख 61 हजार 830 रूपए, निर्दलीय प्रत्याशी  भोजराम अजगले 4 लाख 62 हजार 578 रूपए और बसपा प्रत्याशी श्याम टण्डन ने 3 लाख 1 हजार 225 रूपए शामिल हैं। कसडोल विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी गौरीशंकर अग्रवाल 5 लाख 45 हजार 757 रूपए, जनता कांगेस के परमेश्वर यदु 5 लाख 12 हजार 410 रुपए तथा कांगे्रस की शकुन्तला साहू द्वारा 4 लाख 48 हजार 238 रूपए खर्च किए गए हैं। बलौदाबाजार विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत जनता कंाग्रेस के प्रमोद शर्मा ने 4 लाख 43 हजार 661रूपए, कांगेस के जनकराम वर्मा ने 3 लाख 48 हजार 43 रूपए तथा भाजपा के टेसू लाल धुरन्धर ने 3 लाख 27 हजार 737 रुपए तथा भाटापारा विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी शिवरतन शर्मा ने 8 लाख 40 हजार 192 रूपए, राष्ट्रवादी कांगेस पार्टी के मुरारी मिश्रा ने 6 लाख 83 हजार 775 रूपए तथा कांगेस के सुनील माहेश्वरी ने 6 लाख 67 हजार 79 रूपए 14 नवम्बर तक खर्च किए जाने का ब्यौरा पेश किया है।
    जिला निर्वाचन कार्यालयों में 14 तारीख तक बिलाईगढ़ विधानसभा क्षेत्र के सभी 15 प्रत्याशियों ने हिसाब जमा कराए हैं। कसडोल विधानसभा क्षेत्र के 29 प्रत्याशियों में से 4 निर्दलीय प्रत्याशियों ने हिसाब नहीं दिए हैं, उनमें दसरूराम पैंकरा,  प्राणनाथ साहू, शंकरलाल टण्डन तथा प्रोफेसर शांतिकुमार कैवत्र्य शामिल हैं। बलौदाबाजार विधानसभा क्षेत्र के 15 प्रत्याशियेां में से एक प्रत्याशी छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच से महेन्द्र कुमार साहू ने हिसाब नहीं दिया है। 
    भाटापारा विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी अमरदास रात्रे, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ से चैतराम साहू तथा छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच के प्रवीण कुमार साहू ने 14 तारीख तक हिसाब प्रस्तुत नहीं किए हैं।

  •  

Posted Date : 16-Nov-2018
  •  निर्दलीय दावेदार बना भाजपा का सर का दर्द

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    सरसींवा, 16 नवंबर।  बिलाईगढ़ विधानसभा कि क्षेत्र में चुनाव इस बार भी त्रिकोणीय चुनाव रूप में सामने आ रहा है। सभी प्रत्याशी क्षेत्र में सघन रूप से दौर कर रहे हैं। भाजपा बसपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता अपने अपने पक्ष में माहौल बनाने के जद्दोजहद में लगे हंै ।
     चुनाव जैसे जैसे नजदीक आ रहा पार्टियों की सुगबुगाहट तेज होती नजर आ रही है वहीं पहले कयास लगाया जा रहा था कि इस बार चुनाव में टक्कर सीधे भाजपा और कांग्रेस के बीच होगा ,पर अब ऐसा नहीं चुनाव चतुष्कोणीय  होगा जिसमें निर्दलीय प्रत्याशी भोज राम अजगल्ले का भी क्षेत्र में अच्छी खासी पकड़ है।
    इस बार भाजपा को यहाँ से सीट निकालना आसान नहीं है। भाजपा एक तरफ कार्यकर्ताओं और जनता की नाराजगी तो झेल ही रही वहीँ दूसरी ओर भाजपा के सर दर्द का प्रमुख कारण निर्दलीय दावेदार भोजराम अजगलले बन गए हैं।  भोजराम अजगलले भाजपा से टिकट न मिलने के कारण निर्दलीय ही चुनाव मैदान में उतर गए जिससे भाजपा को हार का सामना करना पड़ सकता है । भाजपा कार्यकर्ताओं और आम जनता के नाराजगी के चलते अपने पक्ष में माहौल तैयार करने में अब तक असफल नजर आ रही है ,वहीं दूसरी ओर बसपा के कार्यकर्ता अपनी दावेदारी मजबूत करने में कोई कसर नही छोड़ रहे। श्याम टंडन बसपा से पूर्व प्रत्याशी थे जिन्हें पूर्व प्रत्याशी होने का लाभ भी मिलेगा। वहीं कांग्रेस से क्षेत्रीय प्रत्याशी होने के कारण कांग्रेस की भी दावेदारी मजबूत है। कांग्रेस ने क्षेत्रीय प्रत्याशी चंद्र देव राय पर अपना दाव लगाया है। वहीं बसपा ने पूर्व प्रत्याशी श्याम टंडन ,भाजपा ने पुन: डॉ सनम जांगड़े को  उतारा है।
        उल्लेखनीय है कि भाजपा बिलाईगढ़ विधानसभा में अब  तक कभी रिपीट नहीं हुई है ,वही अभी तक जनता का रुझान समझ पाना संभव नहीं हो पा रहा है। जनता इस समय कुछ अलग मूड में नजर रही है। 

  •  

Posted Date : 10-Nov-2018
  • भाटापारा, 10 नवंबर। मुंधड़ा हाउस में बीते 21 वर्षों से जारी रंगोली महोत्सव में इस वर्ष पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एवं सिने स्टार अक्षय कुमार की रंगोली बनाई गई। कलाकार प्रमोद साहू ने देश के कई स्थानों में भी रंगोली बनाकर सम्मान प्राप्त किया है।
     मुंधड़ा हाउस के श्यामरतन मुंधड़ा एवं कलाकार प्रमोद साहू ने बताया कि स्वच्छ छवि के राजनेता अटल बिहारी वाजपेयी लोगों को स्वच्छ राजनीति करने की प्रेरणा देते रहे। सिने स्टार अक्षय कुमार ने शहीद हुए सैनिकों के परिवार के लिए स्वयं सहयोग किया और लोगों को भी सहयोग के लिए प्रोत्साहित किया। महिलाओं के सम्मान के लिए टॉयलेट-एक प्रेम कथा एवं पैडमैन जैसी फिल्म बनाकर जन जागरूकता का संचार किया। इन्हीं प्रेरणा से रंगोली के माध्यम से उक्त विभूतियों को हमारा नमन है और अक्षय कुमार के अभियान में सब को सहयोग करना चाहिये। उक्त रंगोली उत्सव लगभग 7 दिनों तक जारी रहेगा। 

  •  

Posted Date : 05-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बलौदाबाजार, 5 नवम्बर। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी जे.पी.पाठक ने कल अधिकारियों की बैठक लेकर चुनावी तैयारियों में की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने आयोग की दिशा-निर्देशों के अनुरूप सारी तैयारियां समय-सीमा में करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रतीक चिन्ह आवंटन के बाद तत्काल मतपत्र छपाने के लिए अधिकारी राजनांदगांव शासकीय प्रेस रवाना होंगे। 
    कलेक्टर ने बैठक में कहा कि चुनाव में बैलट यूनिट में प्रदर्शन सहित अन्य उद्देश्य के लिए मतपत्र की जरूरत होती है। प्रतीक चिन्ह आवंटन और प्रत्याशियों की संख्या अंतिम होने के 48 घण्टे में इसकी छपाई का काम पूर्ण कर लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मतदान दलों की आगे की संपूर्ण प्रशिक्षण अब जिला मुख्यालयों में होंगे। संभवतया 11 से 14 नवम्बर तक सघन रूप से इनका प्रशिक्षण होगा।
     उन्होंने कहा कि मतदान केन्द्र के लिए नियुक्त बीएलओ द्वारा इस बार मतदाताओं को पर्ची बांटा जाएगा। बीएलओ गांव में घर-घर पहुंचकर इस पर्ची का वितरण करेगी। इस कार्य को करने के लिए बाकायदा उन्हें तहसील स्तर पर प्रशिक्षित किया जाएगा। कलेक्टर ने यातायात प्रभारी को चुनाव कार्य के लिए जरूरी वाहनों का आंकलन कर प्रस्ताव प्रस्तुत करने को कहा है। उन्होंने कहा कि अपने यहां उपलब्ध वाहनों के अलावा दूसरे जिलों से कितने वाहनों की जरूरत पड़ेगी। इस संबंध में रिपोर्ट दें ताकि चुनाव आयोग और कमिश्नर को अवगत कराकर इसे मंगाया जा सके।
     श्री पाठक ने सामग्री वितरण कार्य की भी समीक्षा की। स्थानीय जनपद पंचायत के सीईओ को इसकी जवाबदारी सौंपी गई है। मतदान दलों को दी जाने वाली सामग्री की सूची तैयार कर इसकी पैकिंग कर लिया जाए ताकि वितरण में सुविधा हो सके।
    बैठक में जिला पंचायत के सीईओ एवं रिटर्निंग अफसर एस. जयवर्धन, अपर कलेक्टर एवं रिटर्निंग अफसर जोगेन्द्र नायक, संयुक्त कलेक्टर एवं रिटर्निंग अफसर तीर्थराज अग्रवाल, उप जिला निर्वाचन अधिकारी सचिन भूतड़ा सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

     

  •  

Posted Date : 30-Oct-2018
  • विस चुनाव में महिला सशक्तिकरण के लिए चुनाव आयोग की पहल 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    बलौदाबाजार, 30 अक्टूबर। विधानसभा निर्वाचन-2018  के दौरान में जिले में इस बार चार ऐसे मतदान केंद्र बनाये जाएंगे, जहाँ पर मतदान करवाने की पूरी जिम्मेदारी महिलाओं पर होगी। इन मतदान केंद्रों में पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी-एक, दो एवं तीन, सुरक्षा गार्ड और माइक्रो आब्जर्वर के रूप में केवल महिलाओं की नियुक्ति की जाएगी। निर्वाचन आयोग द्वारा महिला सशक्तिकरण और विधानसभा निर्वाचन-2018 में अधिक से अधिक महिला मतदाताओं की सहभागिता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से यह पहल की गई है। 
    जिले के चार विधानसभा क्षेत्रों के मतदान केन्द्र जहां महिला मतदाताओं की संख्या अधिक है, वहां पर एक-एक पिंक बूथ(मतदान केन्द्र) बनाए जाएंगे। जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा मतदान के कुछ दिन पहले स्पष्ट किया जाएगा कि कौन-कौन  से मतदान केंद्रों को पिंक बूथ बनाया जायेगा।  इन पिंक मतदान केन्द्रों में महिला मतदाता बिना किसी झिझक के मतदान कर सकेंगी। 
     पिंक मतदान केन्द्रों के लिए महिला अधिकारी-कर्मचारियों का एकदिवसीय प्रशिक्षण आज स्थानीय पं.चक्रपाणि शुक्ल उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में संपन्न हुआ। जिसमें लगभग 60 प्रशिक्षणार्थी  शामिल हुए। प्रशिक्षण कार्यक्रम में महिला प्रशिक्षणार्थियों को आदर्श आचरण संहिता के बारे में विस्तार से बताया गया। सभी प्रशिक्षणार्थियों को पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी-एक, दो एवं तीन के दायित्वों के बारे में बारीकी से बताया गया। इस दौरान प्रशिक्षणार्थियों को ईव्हीएम और व्हीव्हीपेट का जीवंत अभ्यास कराकर इसकी कार्यविधि समझाई गई। 

  •  

Posted Date : 21-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    खरोरा, 21 अक्टूबर। बीती  रात ग्राम मांठ में पैसों को लेकर विवाद के बाद एक युवक ने अपने साथी की हत्या कर दी।पुलिस के अनुसार शनिवार रात करीब साढ़े 9 बजे मांठ पेट्रोल पंप के पास विमल यादव और जसवंत यादव मेंं दूध बिक्री के पैसों को लेकर विवाद हो गया। इसी दौरान विमल ने दूध डिब्बे से जसवंत के सिर पर कई वार किए, जिससे उसकी मौके पर मौत हो गई।  पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जाता है कि दोनों ने इसके पहले खूब शराब पी थी।

     

  •  

Posted Date : 18-Oct-2018

  • तस्वीर और जानकारी बिलासपुर के फोटोजर्नलिस्ट 
    सत्यप्रकाश पांडेय ने भेजी

    छत्तीसगढ़ की अनोखी संस्कृति हमेशा से लोगों को अचंभित करने के साथ-साथ आकर्षित करने वाली रही है। ऐसी ही एक अनोखी संस्कृति और परम्परा राज्य के बलौदा बाजार जिले में स्थित ग्राम बोरसी में देखने को मिलती है। यहां विजयादशमी यानी दशहरा देश के दूसरे प्रान्तों से एकदम अलग मनाया जाता है। यहां विजयादशमी पर रावण जलता नहीं बल्कि पूजा जाता है। छत्तीसगढ़ में और भी कई स्थान ऐसे हैं जहां ये उत्सव बेहद अलग अंदाज में मनाया जाता है। 
    भाटापारा विधानसभा का हिस्सा ग्राम बोरसी अपनी अनोखी परंपरा के लिए अलग पहचान रखता है। यहां विजयादशमी पर ग्रामीण रावण का दहन नहीं बल्कि उसकी पूजा करते हैं। गाँव में रावण की मूर्ति बनी हुई है जिसके समक्ष ग्रामीण बड़ी ही आस्था से शीश नवाकर सुख समृद्धि का आशीर्वाद मांगते हैं। 
    राजधानी रायपुर से लगे धरसींवा क्षेत्र के ग्राम मोहदी में रावण ग्रामीणों के लिए आस्था का प्रतीक बना हुआ है। जहाँ रावण की मूर्ति की विशेष पूजा-अर्चना कर गाँव में अमन-चैन की मन्नतें माँगी जाती है। करीब आठ दशक से ज्यादा का समय बीत गया, ग्रामीण सामूहिक रूप से रावण की पूजा करते आ रहे हैं। ग्राम मोहदी के 70 वर्षीय बुजुर्ग दुखुराम साहू ने कहा कि प्रतिवर्ष दशहरा पर्व पर रावण की सामूहिक पूजा की जाती है। उसने जब से होश संभाला है तब से अपने पूर्वजों को भी रावण महाराज की प्रतिमा का पूजन करते और मनौती माँगते ही देखा है। गाँव के अन्य बुजुर्ग सुनहरलाल वर्मा (68) बताते हैं कि रावण प्रतिमा की पूजन से अब तक गाँव में शांति है। संकट के समय गाँव लोग नारियल चढ़ाते हैं और मत्था टेककर मनौती माँगते हैं। रावण महाराज हर मनोकामना पूरी करते हैं। मोहदी में अकोली मार्ग तिराहे पर उत्तर दिशा मुखी रावण प्रतिमा को प्रति वर्ष पेंटिंग की जाती है। 
    एक और बुजुर्ग की माने तो रावण महाराज उनके हर संकट का निवारण करते हैं। गाँव की महिलाएँ गर्भवती होने पर अपने परिजनों के साथ यहाँ आकर रावण प्रतिमा की पूजा कर सब कुछ ठीक-ठाक होने की कामना करती हैं। यहाँ तक कि राजनीतिक लोग भी चुनाव के समय यहाँ आकर माथा टेकते हैं। नेताओं की मनोकामना पूर्ण होने का प्रमाण वह स्वयं है। इसलिए रावण महाराज की प्रतिमा अटूट श्रद्धा का केन्द्र का बना है।
    विजयादशमी के दिन अगर आप छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में दशहरा मना रहे हैं तो यहां आपको रावण जलता नहीं पिटता दिखेगा। यहां मिट्टी के रावण का पुतला बनाकर उसे पीट-पीटकर नष्ट किया जाता है। इस परंपरा के पीछे यहां के लोगों का तर्क ये है कि अहंकार को पीट-पीटकर ही नष्ट किया जाता है। दरअसल, मुंगेली के मालगुजार गोवर्धन परिवार के पूर्वजों के द्वारा कई बरसों से मिट्टी के रावण को पीटकर विजयादशमी मनाने की परंपरा रही है और आज भी मुंगेली में ये रिवाज जारी है। लोग जब रावण को नष्ट कर देते हैं तो रावण की मिट्टी अपने घर ले जाते हैं। मान्यता के अनुसार घर के पूजा स्थान, धान की कोठरी और घर की तिजोरी जैसे स्थानों में रावण की मिट्टी रखने से धन-धान्य में बढ़ोतरी होती है। 
    इसी तरह छत्तीसगढ़ के कोंडागांव में भी दशहरे के दिन मिट्टी का रावण बनाया जाता है। मिट्टी के बने रावण की नाभी में रंग डालकर रामलीला के मंचन के बाद मिट्टी के रावण को वहीं नष्ट किया जाता है। लेकिन इस अनूठी परंपरा के पीछे तर्क जानकर आप कहेंगे कि दशहरा मनाओ तो ऐसे। रावण दहन में विस्फोट होने से प्रकृति को नुकसान पहुंचता है साथ ही लकडिय़ों का भी बहुत इस्तेमाल होता है।

     

  •  

Posted Date : 30-Sep-2018
  • गोरेलाल तिवारी
    कसडोल, 30 सितंबर (छत्तीसगढ़ )। विधान सभा क्षेत्र के आर आई सर्कल कसडोल गिधौरी लवन क्षेत्र के ग्रामीण अंचलों के गांव गांव में गरीब कृषकों तथा मजदूर परिवारों से दलालों के सम्पर्क शुरू होने की जानकारी मिल रही है। दलालों मैनेजरों ठेकेदारों द्वारा गोपनीय रूप से सौदा कर तैयार किये जाने की खबर है, जिसमें दशहरा के बाद पहला खेप इलाके से काफी तादाद में अन्य प्रांत जाने की संभावना है। 
    गौरतलब हो कि कसडोल क्षेत्र से पिछले साल 25 हजार के करीब गरीब मजदूर परिवारों का अन्य प्रांतों में रोजी-रोटी की तलाश में जाना हुआ था, चूंकि गत वर्ष अकाल की वजह से संख्या अधिक होने की बात कही गई थी।
    कसडोल तहसील मैदानी क्षेत्र के करीब नगर के आसपास तथा बोरसी कोसमसरा परसदा आदि शामिल है, 50 गांव में अपुष्ट खबरों से गांव गांव दलालों को गोपनीय सम्पर्क करते देखा गया है, जो बेख़ौफ़ घूम रहे हैं । शहीद वीरनारारायन के इलाके सोनाखान नवागांव अर्जुनी महराजी 30 गांव ,राजा देवरी इलाके के 42 गांव तथा बार नवापारा इलाके के 22 गांव से गरीब मजदूर परिवारों का अन्य प्रांतों में जाना होता है। उक्त सभी इलाके में दशहरा के बाद अन्य प्रांत जाने का सिलसिला शुरू हो जाएगा, जो दीपावली के बाद हजारों की संख्या में होने की संभावना है। इस इलाके में पिछले एक माह से पचासों दलालों के घूमने की शिकायत मिल रही है।
         लोगों से नाम उजागर नहीं करने के शर्त पर बताया गया है कि आजकल लगातार खाने-कमाने अन्य प्रांत जाने वाले लोग ही दलाल बन गए हैं, जो आसपास के दो-चार गांव के परिवारों को अपने साथ ले जाने में सफल हो जाते हैं। इसके अलावा कसडोल पिथौरा पलारी लवन क्षेत्र के कुछ कारोबारी जो वर्षों से धन्धा में लगे हैं भरी तादाद में प्रति वर्ष हजारों की संख्या में अन्य प्रांत जाते हैं। पता तो यह भी चला है कि पिथौरा के लोग दुकान खोलकर बया बैठ गए है, जिनका मुख्य कारोबार क्षेत्र के मजदूरों को भारी तादाद में अन्य प्रांत मजदूरी कराने भेजना ही है।
    कसडोल क्षेत्र के ही आरआई सर्किल लवन इलाका जहां किसान अकाल से पिछले साल पीडि़त होने से हजारों की तादाद में अन्य प्रांत गए थे, इस साल भी फसल की स्थिति ठीक नहीं है। जिसका फायदा उठाने दलाल सक्रिय हो गए हैं। डोंगरा कोरदा मर्दा सुनसुनीया अहिल्सा तुरमा बगबुड़ा, धाराशिव मुंडा कोहरौद बगबुड़ा आदि 40-40 गांव में गरीब परिवारों के घर सम्पर्क करने की खबर है, जिन्हें चंद रुपये ऐडवान्स देकर तैयार कर लेते हैं। 
    ग्रामीणों का कहना है कि इतनी होशियारी और सुनियोजित ढंग से अन्य प्रांत भेजा जाता है कि जाने के बाद ही लोगों को पता चल पाता है। इसकी वजह बताया गया है कि दलाल घर पहुंच चार पहिया वाहन कराते हैं और रातों रात उठा कर स्टेशन पहुंचा दिया जाता है। जहां से ट्रेन बैठाकर अन्य प्रांतों को भेज दिया जाता है।
      भले ही राज्य सरकार आत्मनिर्भर होने स्थानीय स्तर पर पर्याप्त काम मिलने का ढिंढोरा पीटता रहे किन्तु यथार्थ से ग्रामीणों ने इंकार किया है। वास्तव में प्रदेश सरकार अथवा जनप्रतिनिधि छुटभैये नेता इसे आदतन कहकर मुंह मोंड़ लें, किन्तु क्षेत्र में ऐसी कोई योजना क्रियान्वित नहीं है जो गरीबों को रोजगार दिला सके। 
    शासकीय निर्माण कार्य चाहे मैदानी हो, वन विभाग, सिंचाई,  लोक निर्माण विभाग कोई भी विभग हो, ठेकेदारी पर काम होता है, जिसमें लेबर की जगह मशीनों का उपयोग होता है। यही वजह है कि मजदूरी करने परिवार सहित दिल्ली यूपी गुजरात राजस्थान हरियाणा पंजाब जम्मू आदि कई प्रान्तों को 4 से 6 माह के लिए जाते हैं। पिछले साल के करीब उक्त क्षेत्रों से करीब 25 हजार लोग गए हुए थे, किंतु विडम्बना यह रही है कि सरकार के पास इसका कोई रिकार्ड नहीं था। 
    ग्राम पंचायतों को जिन्हें जिम्मेदारी दी गई है वहां पंच-सरपंचों के पास पंचायत में रिकार्ड नहीं रखा जाता। हालांकि जनपद पंचायत कसडोल के 110 पंचायतों में 45 हजार पंजीकृत मजदूर हैं। इसी तरह बलौदाबाजार विकास खण्ड के लवन आर आई सर्किल के पंचायतों में 10 हजार से अधिक पंजीकृत मजदूर हैं । जिन्हें शासन द्वारा एक परिवार के एक सदस्य को 150 दिनों का रोजगार मुहैया नहीं करा पता। यही क्षेत्र के उन गरीब परिवारों को जिन्हें रोज कमाओ रोज खाओ के तर्ज पर अन्य प्रांतों को जाना पड़ता है ।

     

  •  

जीएमआर पर वादाखिलाफी का आरोप, धरने पर ग्रामीण छत्तीसगढ़ संवाददाता तिल्दा नेवरा, 28 सितंबर। ग्राम पंचायत रायखेड़ा स्थित जीएमआर पॉवर लिमिटेड पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कई गांवों के ग्रामीण कंपनी के मुख्य गेट के सामने धरना दे रहे हंै। समाचार लिखे जाने तक नेवरा व खरोरा पुलिस बातचीत का प्रयास कर रही है। ग्राम रायखेड़ा, गैतरा, चिचोली के सरपंचों व ग्रामीणों ने बताया कि जीएमआर पॉवर लिमिटेड प्रबंधन द्वारा उक्त गांवों के चहुंमुखी विकास व रोजगार अनुदान संबंधी किए गए मौखिक व लिखित अनुबंधों का उल्लंघन किया जा रहा है। अधोसंरचनात्मक, शैक्षणिक, आध्यात्मिक, सांस्कृतिक विकास एवं रोजगार संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं किये जाने के विरोध में 28 सितंबर से अनिश्चितकालीन धरनादिया जा रहा है। ग्रामीणों ने क्षेत्रिय जनप्रतिनिधियों, किसानों व शिक्षित-प्रशिक्षित बेरोजगारों की भावनाओं से खिलवाड़ का आरोप कंपनी प्रबंधन पर लगाया गया है। ग्रामीणों का कहना है कि स्थानीय मजदूरों को कंपनी से निकालकर बाहरी लोगों की भर्ती की जा रही है। जब तक हमारी मांगें पूरा नहीं होगी, तब तक धरना जारी रहेगा।

Posted Date : 28-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    तिल्दा नेवरा, 28 सितंबर। ग्राम पंचायत रायखेड़ा स्थित जीएमआर पॉवर लिमिटेड पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए  कई गांवों के ग्रामीण कंपनी के मुख्य गेट के सामने धरना दे रहे हंै। समाचार लिखे जाने तक नेवरा व खरोरा पुलिस  बातचीत का प्रयास कर रही है। 
     ग्राम रायखेड़ा, गैतरा, चिचोली के सरपंचों व ग्रामीणों ने बताया कि जीएमआर पॉवर लिमिटेड प्रबंधन द्वारा उक्त गांवों के चहुंमुखी विकास व रोजगार अनुदान संबंधी किए गए मौखिक व लिखित अनुबंधों का उल्लंघन किया जा रहा है।  अधोसंरचनात्मक, शैक्षणिक, आध्यात्मिक, सांस्कृतिक विकास एवं रोजगार संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं किये जाने के विरोध में 28 सितंबर से अनिश्चितकालीन धरनादिया जा रहा है। ग्रामीणों ने क्षेत्रिय जनप्रतिनिधियों, किसानों व शिक्षित-प्रशिक्षित बेरोजगारों की भावनाओं से खिलवाड़ का आरोप कंपनी प्रबंधन पर लगाया गया है। 
     ग्रामीणों का कहना है कि स्थानीय मजदूरों को कंपनी से निकालकर बाहरी लोगों की भर्ती की जा रही है। जब तक हमारी मांगें पूरा नहीं होगी, तब तक धरना जारी रहेगा।  

  •  

Posted Date : 13-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सरसींवा, 13 अगस्त। बलौदाबाजार जिले के भटगांव चौकी अंतर्गत सलिहाघाट के महानदी में जलाभिषेक के लिए गए सलौनीकला के दो कांवरिये बह गए जिसमें से एक को बचा लिया गया जबकि दूसरा लापता है।  उसकी तलाश जारी है।
    पुलिस के अनुसार आज सुबह सलौनीकला गांव के कुछ कांवरिये जल लेने महानदी सलिहाघाट पहुंचे थे। यहां  बैराज निर्माण करवाया गया है, जिसके नीचे से नदी पार कर रहे दो युवक तेज बहाव में बह गए। इनमें से एक नीलकमल साहू  किनारे में रहने के कारण बचा लिया गया जबकि दूसरा लखेश्वर साहू बीच धार में चला गया और बह गया। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने बैराज गेट को बंद कराया। उसकी तलाश में मछुवारों और गोताखोरों की मदद ली जा रही है। समाचार लिखे जाने तक उसका पता नहीं चल सका था। 

  •  

Posted Date : 05-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    कसडोल, 5 अगस्त। बलौदाबाजार जिले के पुलिस चौकी लवन के ग्राम डोंगरीडीह में बीती रात दो ट्रकों की टक्कर में दो की मौके पर ही मौत हो गई। गंभीर रुप से घायल एक को रायपुर भेजा गया है। पुलिस के अनुसार घटना बीती रात 2 से 3 बजे की है। एक ही कंपनी की दो ट्रकें आगे-पीछे चल रही थीं। सुनसान सड़क होने से तेज में थीं।  डोंगरीडीह के पास आगे का ट्रक धीमा हुआ कि पीछे की ट्रक उससे जा टकराई। टक्कर इतना जबरदस्त थी कि पीछे की गाड़ी का अगला भाग चकनाचूर हो गया। जिससे चालक प्रदीप कुमार साहू सिंगरौली मप्र तथा गार्ड  रामलू विजयनगरम आंध्र प्रदेश की वहीं मौत हो गई। चालक का सगा भाई रामरिक्ष गम्भीर रूप से घायल हो गया। आज सुबह ट्रक में फंसे मृतकों को काफी मशक्कत के बाद निकाला गया। 

  •  

Posted Date : 30-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बलौदाबाजार, 30 अप्रैल। बलौदाबाजार में करंट  से पति-पत्नी  की मौत हो गयी है। मृतक सनत लहसे पेशे से शिक्षक था।  घटना कल शाम की  है, जानकारी आज सुबह हुई।
    मिली जानकारी के मुताबिक कपड़े सुखाने वाले तार में अचानक करंट दौड़ गया, जिसकी वजह से ये हादसा हुआ है। हालांकि इस घटना का कोई चश्मदीद नहीं है, लिहाजा कयास लगाये जा रहे हैं कि पत्नी संतोषी नहाने के बाद कपड़ा सुखाने के लिए बाहर आयी, जैसे ही तार पर गीले कपड़े डाले, करंट की चपेट में वो आ गयी। इधर पत्नी को करंट से छटपटता देख पति सनत ने उसे बचाने की कोशिश की और इस दौरान वो भी इस करंट की चपेट में आ गया। हादसे में दोनों की मौके पर ही मौत हो गयी। पति-पत्नी ही सिर्फ घर पर रहते थे, लिहाजा बचाने के लिए भी कोई सामने नहीं आया। चौकाने वाली बात ये है कि घटना कल की है और जानकारी पड़ोसियों को आज लगी। वो भी उस वक्त जब एक व्यक्ति शादी का कार्ड देने शिक्षक के घर पहुंचा। शिक्षक प्रधान पाठक के रूप बिलाईगढ़ के भोथीडीह स्कूल में पदस्थ था। मूल रूप से सिमगा के रहने वाले सनत अपनी पत्नी के साथ किराये के मकान में पवनी गांव में रहते थे। पुलिस मौके पर पहुंचकर घटना की जांच कर रही है।

  •