छत्तीसगढ़ » नारायणपुर

Posted Date : 15-Feb-2019
  • सचिन जैन
    नारायणपुर,
    14 फरवरी (छत्तीसगढ़)। पुलिस और नक्सल हिंसा को लेकर कभी अशान्त रहे  नारायणपुर जिले के वनग्रामो में इन दिनों बड़ी तेजी से बदलाव की बयार बह रही है। जहां एक ओर राज्य सरकार की एजेंसिया स्थानीय लोगों की मूलभत जरूरतों को लेकर निरन्तर कार्यरत है,तो दूसरी तरफ शहर के युवाओं की एक टोली मातृभूमि रक्षक सेवा संस्थान के बैनर तले जिले के सुदूर पहुंचविहीन वनग्रामों में कैम्पिंग के जरिये स्थानीय ग्रामीणों से सतत सम्पर्क बना कर उन्हें शिक्षा,स्वाथ्य और स्वच्छता के प्रति जागरूक बनाने में लगी हुई है।
    इन युवाओं  ने बीते महीने नारायणपुर जि़ला मुख्यालय से करीब 30 किमी दूर पहुंचविहीन वनग्राम दण्डवन में सफल कैम्प का आयोजन किया था। इस बार इन युवा वालेन्टियरों ने मुख्यालय से करीब 10 से 15 किमी की दूरी पर स्थित वनग्राम करलख के डिबरीपारा में कैम्पिंग की।  स्थानीय पंचों और गांव के वरिष्ठजनों के सहयोग से पूरे गांव में ग्रामीण महिलाओं और बच्चों को साथ लेकर साफ-सफाई अभियान चलाया। इसके साथ ही ग्रामीण बच्चो को अपने साथ लाए बिस्किट्स,चाकलेट्स,कॉपी,पेन,पेंसिल्स,शिक्षा साधन और कपड़े वितरित किए। 
    कैम्पिंग के अंतिम चरणों मे ग्रामीणों को विशेष रुप आए स्वच्छता का महत्व समझाया। बच्चों की शिक्षा के महत्व को लेकर ग्रामीणों से खुलकर चर्चा की,यही नही किस तरह स्वस्थ रहा जाए,संक्रमित और मौसमी बीमारियों से बचाव के तरीकों पर बात की।
    ग्राम डिबरीपारा से लौटने के बाद युवाओं ने बताया कि इस तरह की कैम्पिंग वे नियमित करते रहेंगे,ताकि ग्रामीण जन जो खुद को मुख्यधारा से बिल्कुल अलग-थलग पाते थे,उनका आत्मविश्वास वापस ला जा सके।  इन युवाओं में शशांक तिवारी,अजय सरकार,विनय जैन,सुरेश गुप्ता,अर्जुन सुराना, सन्तोष सोनी,करन सुराना मुख्य थे।

  •  

Posted Date : 14-Feb-2019
  • दैनिक उपयोग और कृषि उपकरणों का किया वितरण 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नारायणपुर, 13 फ रवरी। भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल की 45वीं वाहिनी जिले में सुरक्षा व्यवस्था के साथ.साथ जनहित के कार्यों को भी बखूबी करती आ रही है। इसी सिलसिलें में भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल की 45 वीं वाहिनी द्वारा स्थानीय लोगों के मनोबल को बनाये रखने एवं सुरक्षा बल व प्रशासन के प्रति सहानुभूति तथा विश्वास बनाये रखने हेतु 45वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल द्वारा विनिंग हार्ड एंड माईंड थीम पर कड़ेनार और धनोरा में सिविक एक्शन कार्यक्रम का आयोजन किया। 
    इस कार्यक्रम में आईटीबीपी द्वारा कड़ेनार एवं धनोरा के आसपास से आये स्थानीय महिला व पुरूषों को दैनिक उपयोग में आने वाली सामग्री के अलावा वाटर टैंक, वाटर फि ल्टर एवं कृषकों को कृषि उपकरण का वितरण किया। वहीं स्वरोजगार करने वाले श्रमिकों को कारपेंटर, राजमिस्त्री आदि के औजार वितरित किये। इस दौरान पढऩे वाले बच्चों को कापी-किताब, पेन आदि साामग्री दी गयी। धनोरा सिविक एक्शन कार्यक्रम के साथ-साथ आईटीबीपी द्वारा चिकित्सा शिविर का भी आयोजन किया गया था। 
    जिसमें आसपास के ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें आवश्यकतानुसार दवाईयों का नि:शुल्क वितरण भी किया गया। वहीं ग्रामीणों को साफ.-सफ ाई, गरम एवं ताजा भोजन करने, शुद्ध पेयजल का उपयोग करने की समझाईशदी गयी। इस अवसर पर उप सेनानी बृजमोहन सिंह के अलावा आईटीबीपी के अन्य अधिकारी व जवान सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।

  •  

Posted Date : 11-Feb-2019
  • सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नारायणपुर, 10 फ रवरी। कार्यालय सेनानी सामरिक मुख्यालय 45वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल जेलबाड़ी कैम्प नारायणपुर द्वारा चांदमारी अभ्यास की मांग करने के फ लस्वरूप कार्यालय अनुविभागीय दण्डाधिकारी नारायणपुर द्वारा कार्यालय सेनानी सामरिक मुख्यालय 45वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल को कल 11 से 12 फ रवरी तक धौड़ाई फ ायरिंग रेंज, 13 एवं 14 फ रवरी को अमदई घाटी सीएएफ  फ ायरिंग रेंज, 16 और 17 फ रवरी को जमूरी नाला क्षेत्र धनोरा कैंप के पास, 19 और 20 फ रवरी को सीओबी के पास गहरा नाला तथा 22 और 23 फ रवरी को करे नाला के समीप चांदमारी अभ्यास की अनुमति प्रात: 7 बजे से अपरान्ह 4 बजे तक दी गयी है। चांदमारी अभ्यास के दौरान किसी व्यक्ति अथवा मवेशियों को प्रवेश न करने दिया जाये। इसके साथ ही अभ्यास स्थल के चारों ओर सुरक्षा व्यवस्था करने के निर्देश दिये गये हैं।

  •  

Posted Date : 11-Feb-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नारायणपुर, 10 फ रवरी। भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल की 53वीं वाहिनी जिले में सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ जनहित के कार्यों को भी बखूबी करती आ रही है। इसी सिलसिले में भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल की 53 वाहिनी द्वारा स्थानीय लोगों के मनोबल को बनाये रखने एवं सुरक्षा बल व प्रशासन के प्रति सहानुभूति तथा विश्वास बनाये रखने हेतु 53वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल ब.समवाय ने कुरूषनार में सिविक एक्शन कार्यक्रम का आयोजन किया।

    इस कार्यक्रम में आईटीबीपी द्वारा कुरूषनार, झारावाही, गुमियाबेड़ा, सरगीपाल, जिवलापदर ब्रेहबेड़ा के स्थानीय महिला व पुरूषों को दैनिक उपयोग में आने वाली सामग्री एवं युवाओं को खेल सामग्री का वितरण किया। वहीं पढ़ाई करने वाले बच्चों को कॉपी-किताब व लेखन सामग्री का वितरण किया।

    सिविक एक्शन कार्यक्रम के साथ-साथ आईटीबीपी द्वारा चिकित्सा शिविर का भी आयोजन किया गया था। जिसमें मंजमेटा, गरावंड, मेटावंड सहित बासिंग, कुंदला और हतलानार के ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें आवश्यकतानुसार दवाईयों का नि:शुल्क वितरण भी किया गया।

    वहीं ग्रामीणों को साफ.-सफ ाई, गरम एवं ताजा भोजन करने, शुद्ध पेयजल का उपयोग करने की समझाईशदी गयी। इस अवसर पर सेनानी पंकज कुमारए उप सेनानी महेश सिंह के अलावा आईटीबीपी के अन्य अधिकारी व जवान सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।

  •  

Posted Date : 07-Feb-2019
  • सरकार का पूरा फोकस किसान और कृषि सुधार पर-लखमा

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नारायणपुर, 6 फ रवरी। उद्योग एवं आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने आज यहां किसान मेला एवं कृषि प्रदर्शनी कार्यक्रम में किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री का पद संभालते ही कुछ घंटो के भीतर माटी पुत्र किसान भूपेश बघेल ने प्रदेश के किसानों का कृषि ऋण माफ  किया। राज्य के 16 लाख से अधिक किसानों के 6100 करोड़ रूपये की कृषि ऋ ण माफ ी की गई है। उन्होंने कहा कि राज्य में सडक़-पुल पुलिया तो बनेगी ही पर राज्य सरकार का पूरा फ ोकस कृषि सुधार पर है। आने वाले दिनों मे सरकार अपने हर वायदे को पूरा करेंगी। मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार गरीब, किसानों और मजदूरों के लिए पूरी निष्ठा के साथ काम कर रही है। नई सरकार ने प्रदेश के किसानो से 2500 रूपए प्रति क्विंटल में धान खरीद कर इतिहास रचा है। इससे राज्य के किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है। मंत्री श्री लखमा ने कृषि मेला एवं प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। कार्यक्रम नारायणपुर के रामकृष्ण मिशन आश्रम के खेल मैदान में आयोजित हुआ।

    मंत्री श्री कवासी लखमा ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों के हित में कई महत्वपूर्ण फैसले लिये गये है। छत्तीसगढ़ सरकार जनता की सरकार है। जनहित के काम सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने भी खेती-किसानी की है। वे किसानों का दुख दर्द समझते है। मंत्री श्री लखमा ने कहा कि अबूझमाडिय़ों का भूमि पट्टा भी मिलेगा। कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक चंदन कश्यप, कोण्डागांव विधायक मोहन मरकाम, बीजापुर विधायक विक्रम मंडावी विशिष्ट अतिथि थे। कार्यक्रम में इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति डॉ एसके पाटिल, नारायणपुर कलेक्टर पदुम सिंह एल्मा, रामकृष्ण मिशन आश्रम के सचिव स्वामी व्याप्तानंद, संगठन पदाधिकारी रजनू नेताम भी मौजूद थे।

    उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने रामकृष्ण मिशन द्वारा अबूझमाडिय़ों बच्चों के पढ़ाई लिखाई के साथ बच्चों के खेलकूद एवं कृषि आदि के किये जा रहे बेहतर कार्यों की जम कर तारीफ  की। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी भी पहली कक्षा से 10 कक्षा तक यहीं रहकर पड़ी है और आज दिल्ली में पढ़ रही है। कोण्डागांव के विधायक मोहन मरकाम ने छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा, नदी-नाला गरूवा पशुधन धुरूवा जैविक खाद, बायो कम्पोस्ट एवं बाड़ी घर के बाड़ी में साग-सब्जी एवं फ ल की विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि किसानों के विकास के लिए राज्य सरकार की यह महत्वपूर्ण योजना है। विधायक चंदन कश्यप और बीजापुर विधायक विक्रम मण्डावी ने सम्बोधित किया। कुलपति डॉ पाटिल ने भी किसानों को कृषि संबंधी महत्वपूर्ण बातें बताई। आभार प्रदर्शन स्वामी व्याप्तानंद ने किया।

  •  

Posted Date : 06-Feb-2019
  • जरूरी सुविधाओं से परिपूर्ण डेढ़ करोड़ की लागत से बन कर तैयार हुआ

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नारायणपुर, 5 फ रवरी। छत्तीसकढ़ सरकार के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे कल बुधवार 6 फ रवरी को दोपहर 12 बजे जिला मुख्यालय नारायणपुर स्थित केरलापाल में कृषि विज्ञान केन्द्र में प्रशासनिक भवन एवं गोदाम का लोकार्पण करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता आबकारी एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा करेंगे। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति डॉ एसके पाटिल, क्षेत्रीय विधायक चंदन कश्यप, अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती प्रमिला उइके विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे।

    कृषि विज्ञान केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एनके नागेश ने बताया कि यह प्रशासनिक भवन 1 करोड़ 50 लाख रूपये की लागत से बन कर तैयार हुआ है। इस भवन में किसान प्रशिक्षण कक्ष, प्रदर्शनी, सभाकक्ष, लैब के साथ ही अधिकारी कर्मचारियों के कक्ष भी है। यह भवन सभी जरूरी सुविधाओं से सुजज्जित है। वहीं 10 लाख रूपए की लागत से गोदाम का भी निर्माण किया गया है। उन्होंने कहा कि कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे परिसर में किसानों को भी सम्बोधित करेंगे। 

  •  

Posted Date : 06-Feb-2019
  • मलखंभ के नाम अबूझमाड़ को मिली नई पहचान-कलेक्टर

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नारायणपुर, 5 फ रवरी। पोटाकेबिन आवासीय विद्यालय के मलखंभ खिलाडिय़ों ने प्रशिक्षक मनोज प्रसाद के साथ कलेक्टर पीएस एल्मा से की सौजन्य मुलाकात। ये बच्चों गुजरात राज्य के अहमदाबाद में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के बाद वापस लौटे है। कलेक्टर ने कहा कि इन बच्चों के कारण अब अबूझमाड़ इलाके को मलखंभ के नाम से नई पहचान मिली है। राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक आरपी मिरे ने बताया कि दो वर्ष के अल्प अवधि में इन बच्चों ने राष्ट्रीय मलखंभ प्रतियोगिताओं भी शानदार प्रदर्शन किया है। छत्तीसगढ़ समेत छह राज्यों में तमिलनाडु, महाराष्ट्र, दिल्ली, गोवा और गुजरात के शहरों में अपनी प्रतिभा से जिले का नाम रोशन किया है। सभी लोगों ने इनके प्रदर्शन को जमकर सराहा है।

    अबूझमाड़ का इलाका घने जंगलों-पहाड़ों, अपनी परंपरिक वेशभूषा, लोककला एवं अनूठी संस्कृति के कारण विश्व का ध्यान अपनी ओर खीचता चलाया आया है लेकिन अब अबूझमाड़ को एक और काम के लिए जाना जाने लगा है। वह है माडिय़ा बच्चों का मलखंभ के प्रति रूझान। जिला मुख्यालय के नजदीक देवगांव स्थित पोटाकेबिन आवासीय विद्यालय के छोटे-छोटे बच्चों ने मलखंभ सीखकर अपने जिले का नाम रोशन किया है। यह बच्चों नक्सल हिंसा ग्रस्त इलाके के बच्चों यहां रहकर अपनी पढ़ाई के साथ ही मलखंभ का अभ्यास करते है।

     

  •  

Posted Date : 05-Feb-2019
  •  

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    नारायणपुर, 4 फ रवरी। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की हाईस्कूल और हायर सेकेण्डरी मुख्य परीक्षा 2 मार्च से शुरू होने जारी रही है। जो 23 मार्च तक चलेगी। परीक्षाओं को सुचारू रूप से आयोजित करने के लिए जिले में 14 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। जिसमें 2818 छात्र-छात्रायें शमिल होंगे। वहीं ओपन स्कूल की परीक्षा 23 मार्च से शुरू होगी। ये 14 अप्रैल तक चलेगी। इसमें 1421 परीक्षार्थी सम्मिलित हो रहे हैं।

    कलेक्टर पीएस एल्मा के निर्देशन में नकल प्रथा पर नजर रखने के लिए जिला स्तर और ब्लाक स्तर पर अलग-अलग उडऩदस्तों का गठन किया गया है। हाई स्कूल की परीक्षा में 1713 और हायर सेकेण्डरी की परीक्षा में 1105 विद्यार्थी परीक्षा देंगे। इसी प्रकार राज्य ओपन की परीक्षा में हाईस्कूल में 801 ओर हायर सेकेण्डरी में 620 परीक्षार्थी शामिल होंगे।

    जिला शिक्षा अधिकारी जीआर मण्डावी ने बताया कि राज्य ओपन के लिए जिले में तीन परीक्षा केन्द्र शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, शाासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नारायणपुर और शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय ओरछा बनाये गये है। हाई स्कूल और हायर सेकेण्डरी परीक्षा 14 केन्द्रों पर ली जायेगी। इनमें शासकीय बालक और कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नारायणपुर, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, बेनूर, छोटेडोंगर, ओरछा, बाकुलवाही, गढ़बेंगाल, सिंगोड़ीतराई, भाटपाल, एडक़ा, महावीर चौक नारायणपुर, फरसगांव, धौड़ाई और शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बिंजली है। 

  •