छत्तीसगढ़ » नारायणपुर

Posted Date : 13-Jun-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    नारायणपुर,13 जून।  जिले के  पुंगरपालतोयमेट, मुसनार और इरपानार से सुरक्षाबलों ने 16 नक्सल आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इन पर हत्या आगजनी, तोडफ़ोड़ की घटनाओं को अंजाम देने का आरोप है। सभी आरोपी दस सालों से इलाके में सक्रिय थे। 
    ज्ञात हो कि बस्तर में सुरक्षाबल ऑपरेशन प्रहार-3 के तहत नक्सलियों के कई ठिकानों में दबिश देकर उनके अ़ड्डों को तबाह करने में जुटे हंै।   
    थाना छोटेडोंगर से 12 जून की रात्रि उप निरीक्षक ओपी यादव थाना प्रभारी छोटेडोंगर के नेतृत्व में जिला बल एवं छसबल की संयुक्त पुलिस पार्टी नक्सल विरोधी अभियान पर ग्राम तोयामेटा, पुगंारपाल, इरपानार, मुसनार की ओर रवाना किया गया था। संयुक्त पुलिस पार्टी ग्राम मुसनार, तोयामेटा, पुगांरपाल, इरपानार में घेराबंदी कर नक्सल अपराध में वांछित 16 (1 महिला व 15 पुरूष) नक्सली आरोपियों को पकड़ा गया। पुछताछ करने पर उनके द्वारा पूर्व में नक्सल संगठन में सक्रिय सदस्य के रूप से कार्य करना तथा नक्सली घटनाओं में शामिल होना स्वीकार किए। 1 नक्सली सुखराम उसेण्डी उर्फ  दिलीप के विरूद्ध न्यायालय द्वारा वर्ष 2007 के अपराध में गिरफ्तारी वारड्डट जारी किया गया था। सभी नक्सल आरोपियों को बुधवार को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। 
    गिरफ्तार नक्सली का नाम संगठन में पद एवं संक्रियता घटना में संलिप्तता
    सुखराम उसेण्डी उर्फ  दिलीप मुसनार थाना ओरछा आदेरबेड़ा जनताना सरकार अध्यक्ष, वर्ष 2006 से नक्सली संगठन में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था,  राज्य शासन द्वारा 1 लाख रूपये ईनाम घोषित था,  रामू मण्डावी  मुसनार ओरछा आदेरबेड़ा मिलिशिया सदस्य, वर्ष 2012 से नक्सली संगठन में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। भदरूराम मण्डावी  मुसनार थाना ओरछा आदेरबेड़ा मिलिशिया सदस्य, वर्ष 2010 से नक्सली संगठन में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। जनिला मण्डावी 30 तोयामेटा छोटेडोंगर तोयामेटा डीएकेएमएस अध्यक्ष, वर्ष 2006 से नक्सली संगठन में सक्रिय रूप से कार्य कर थी। राज्य शासन द्वारा 1 लाख रूपये का ईनाम घोषित था।    रूपचंद मण्डावी उर्फ  शिवाजी   तोयामेटा नयापारा थाना छोटेडोंगर, वर्ष 2005 से 2007 तक आदेर बेड़ा मिलिशिया सदस्य।
     वर्ष 2007 से 2010 तक मैनपुर विस्तार प्लाटून सदस्य एवं 2010 से नक्सली कमाण्डर रामू का गार्ड रहा।  वर्तमान में आदेरबेड़ा मिलिशिया सदस्य के  सक्रिय रूप से कार्य करता था। रामसाय पदामी   इरपानार थाना ओरछा, वर्ष 2006 से 2007 तक आदेर बेड़ा मिलिशिया सदस्य। वर्तमान में नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था। सकरूराम नेताम  मुसनार थाना ओरछा, नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था।  फु लसिंग कोर्राम   मुसनार नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था। बुधुराम मण्डावी   मुसनार थाना ओरछा    नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था।  सुखधर मण्डावी  मुसनार थाना ओरछा नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था। बुधराम मण्डावी मुसनार थाना ओरछा नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था।  टोण्डाराम मण्डावी  मुसनार काकाबहार पारा थाना ओरछा नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था।  
    पण्डरू कश्यप  पुंगारपाल थाना छोटेडोंगर नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था।  लच्छुराम मण्डावी पुगंारपाल तोयामेटा पारा थाना छोटेडोंगर नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था। मासो राम मण्डावी तोयामेटा नयापारा थाना छोटेडोंगर नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था। सोनाराम मण्डावी  तोयामेटा थाना छोटेडोंगर  नक्सली सहयोगी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य करता था।  

  •  

Posted Date : 26-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    नारायणपुर, 26 अप्रैल। अबूझमाड़ में सक्रिय 60 नक्सलियों ने आज बस्तर आईजी विवेकानंद सिन्हा के सामने समर्पण किया। इनमें 20 महिला और 40 पुरुष हैं। सरेंडर करने वाले नक्सलियों ने पुलिस को सात भरमार बूंदक भी सौंपी है। 
    समर्पण करने वाले नक्सलियों ने कहा कि  रणनीति और नक्सली लीडरों से परेशान होकर वे आत्मसमर्पण कर रहे हैं। जिन नक्सलियों ने सरेंडर किया है उन्हें सरकार की राहत एवं पुनर्वास नीति का लाभ मिलेगा। ज्ञात हो कि तीन दिन पहले गढ़चिरौली में बड़ी संख्या में नक्सलियों को पुलिस ने मार गिराया था। जिसकी वजह से नक्सलियों में डर है। आने वाले समय में भी पुलिस के इस तरह के सर्चिंग ऑपरेशन से नक्सलियों पर गाज गिर सकती है। नक्सली वारदात की वजह से छत्तीसगढ़ में अलर्ट जारी है। पुलिस और केन्द्र की रिजर्व बल लगातार सर्चिंग ऑपरेशन चलाया जा रहा है। 

  •  

Posted Date : 29-Nov-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    नारायणपुर, 29 नवंबर। डीआरजी एवं एसटीएफ  की संयुक्त पुलिस टीम ने 7 नक्सल सहयोगियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से एक मिलिशिया एवं 6 जनताना सरकार नक्सल संगठन के लिए कार्य करते थे। इनके कब्जे से 2 नग भरमार बंदूक, 3  नक्सली पी_ू, नक्सली वर्दी आदि सामान बरामद किया गया है। 
    नक्सलियों के पूर्व बस्तर डिवीजन में उपस्थिति की सूचना पर थाना धनोरा से डीआरजी एवं एसटीएफ  की संयुक्त पुलिस पार्टी 25 नवंबर को रवाना किया गया था। 27 नवंबर को पुलिस पार्टी तोयामेटा एवं कावानार के बीच जंगल पहुंची तो नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने भी जवाबी फायर किया। फायरिंग रूकने के बाद घटनास्थल की तलाशी ली गई। इसी दौरान झाडिय़ों के अंदर छूपे हुए कुछ लोग दिखे, जिन्हें पकड़ कर पूछताछ करने पर अपना नाम बेन्जा कोर्राम  निवासी कोलोकाल कोलोकाल जनताना सरकार सदस्य, कुल्ले मण्डावी निवासी थुलथुली कोलोकाल जनताना सरकार सदस्य, मड्डा पोडियाम निवासी भट्टबेड़ा भट्टबेड़ा जनताना सरकार सदस्य, आसी उसेण्डी निवासी-टाहकावाड़ा काकावाड़ा जनताना सरकार सदस्य, सुक्को कश्यप निवासी-काकावाड़ा काकावाड़ा जनताना सरकार सदस्य, पण्डरू कुहरामी निवासी मरकाबेड़ा भट्टबेड़ा जनताना सरकार सदस्य एवं गुड्डी मण्डावी निवासी थुलथुली कोलोकाल जनताना सरकार सदस्य बताए। इनके कब्जे से 2 नग भरमार बंदूक, 1 बण्डल वायर स्विच सहित, 3 नग नक्सली पी_ू, 1 नग बेनर, 2 नक्सली वर्दी बरामद किया गया है। थाना छोटेडोंगर में अपराध दर्ज कर सभी को गिरफ्तार किया गया। 
     गिरफ्तार नक्सलियों को वर्ष 2010-2011 से नक्सली कमाण्डर- दीपक, सगनू, सुनीला, माहरू, अशोक, सपना द्वारा काकावाड़ा मिलिशिया सदस्य, कोलोकाल, भट्बेड़ा व काकावाड़ा जनताना सरकार सदस्य के रूप में शामिल किया था। वे गांव एवं आसपास क्षेत्र में नक्सलियों के आने पर उनकी मदद करना, मीटिंग के लिए गांव वालों को इक_ा करना, नक्सली संगठन का प्रचार-प्रसार करना, संत्री ड्यूटी करना, नक्सलियों को सामान पहुंचाना, गांव में पुलिस आने की सूचना देने का कार्य करते थे।  साथ ही कई नक्सली घटनाओं में भी शामिल रहे।

     

  •  

Posted Date : 08-Nov-2017
  • हथियार व गोला बारूद बरामद

    छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    नारायणपुर, 8 नवम्बर। ऑपरेशन प्रहार-2 के तहत अबूझमाड़ क्षेत्र में पुलिस ने मुठभेड़ में 6 नक्सलियों को मार गिराया है। घटना स्थल से भारी मात्रा में हथियार सहित विस्फोटक एवंं दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद किया गया है।    
    अबूझमाड़ क्षेत्र में शीर्ष नक्सलियों की उपस्थिति की सूचना पर अबुझमाड़ क्षेत्र में नक्सलियों के माड़ डिवीजन को टॉरगेट कर ऑपरेशन प्रहार-2 के तहत नक्सल विरोधी अभियान चलाया गया। नक्सल ऑपरेशन में कुल 435 सुरक्षा बल डीआरजी-240 एवं एसटीएफ -195 शामिल थे। 
    धुरबेड़ा मुठभेड़  5 नवम्बर को थाना ओरछा से डीआरजी एवं एसटीएफ  की संयुक्त पुलिस पार्टी धुरबेड़ा, कुतूल, केहनार, कोडेनार की ओर रवाना किया गया था। सर्चिंग के दौरान 6 नवम्बर को 8 बजे धुरबेड़ा में माओवादी द्वारा पुलिस पार्टी को देखते ही फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस पार्टी द्वारा तत्काल जवाबी फायरिंग किया। मुठभेड़ करीब 1 घण्टा तक चला। सर्चिंग के दौरान धुरबेड़ा मुठभेड़ में मृत एक महिला माओवादी नक्सली सहित  303 रायफल 1 नग, 12 बोर बदूंक 1 नग, प्रीटंर मशीन 1 नग एवं अन्य सामग्री को पुलिस ने बरामद किया है। 
    इरपानार मुठभेड़ 6 नवम्बर को कैम्प अमदईघाटी से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल सोनी के नेतृत्व में डीआरजी एवं एसटीएफ की संयुक्त पुलिस पार्टी ग्राम नेलनार, कटुलनार, इरपानार, पोकानार की ओर रवाना किया गया था। सर्चिंग के दौरान 7 नवम्बर को दोपहर करीबन 1:30 बजे इरपानार के जंगल में नक्सलियों द्वारा पुलिस पार्टी को देख फ ायरिंग किया। पुलिस पार्टी ने भी जवाबी फ ायरिंग की। मुठभेड़ करीबन 1 घण्टा तक चला। 
    सर्चिंग के दौरान इरपानार में 5 नक्सलियों का शव बरामद किया गया। जिसमें  4 महिला एवं 1 पुरूष के हैं। साथ ही 303 रायफ ल 1 नग, 315 बोर रायफ ल 1 नग,12 बोर बदूंक 4 नग, पिस्टल 1 नग, टिफ ीन बम 1 नग लगभग 40 किग्रा एवं विस्फ ोटक, डेटोनेटर, इलेक्ट्रानिक सामान, नक्सली वर्दी, पि_ु, दवाईयां एवं दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद किया गया है।   
    मृत नक्सलियों की पहचान
    इरपानार मुठभेड़ में मारे गये 3 नक्सलियों की संभावित पहचान की गई है। शेष 2 नक्सलियों एवं धुरबेड़ा में मृत 1 नक्सली की शिनाख्ती की कार्रवाई की जा रही है। इरपानार में मृत नक्सली रूकमी गावड़े  उर्फ  ज्योति (संगठन नाम) निवासी पिट्टेकाल थाना सीतागांव जिला  राजनांदगांव संगठन में डीके सीएनएम सदस्य के रूप में कार्यकर रही थी। उस पर 5 लाख ईनाम घोषित था। मिटकी निवासी भट्टबेड़ा थाना नारायणपुर संगठन में  नेलनार एलओएस सदस्य पीएम के पद पर था 1 लाख ईनाम घाषित था। मंगतु उर्फ  फ गनू निवासी वाला थाना नारायणपुर संगठन में पद नेलनार मिलिशिया कमाण्डर पीएम 1 लाख रूपये ईनाम घोषित था। 

  •  

Posted Date : 14-Oct-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    नारायणपुर, 14 अक्टूबर। नक्सल विरोधी अभियानों से बढ़ते दबाव, शासन के पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर एवं लगातार नक्सली लीडर, सदस्यो3, सहयोगियों के आत्मसर्मपण होने के कारण 14 अक्टूबर को थाना नारायणपुर क्षेत्र के 9 नक्सली सदस्यों द्वारा  पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेंज विवेकानंद सिन्हा, कलेक्टर जिला नारायणपुर टोपेश्वर वर्मा, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर संतोष सिंह, आरएन गंगोली, कमाण्डेंट 46वीं वाहिनी आईटीबीपी नारायणपुर के समक्ष हथियार सहित आत्मसमर्पण किया गया। 
    मंगतु राम नुरेटी 30 स्कूलपारा कोहकामेटा थाना नारायणपुर कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य भरमार बदूंक करीबन 10 वर्ष पूर्व नक्सली कमाण्डर डोसेल द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। घासीराम आंचला 35 डोदेरपारा कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य भरमार बदूंक करीबन 10 वर्ष पूर्व नक्सली कमाण्डर डोसेल द्वारा संगठन में शामिल किया गया। 
    तब से कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। फ गनू राम नुरेटी 30 कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य भरमार बदूंक करीबन 10 वर्ष पूर्व नक्सली कमाण्डर डोसेल द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। सोमा उसेण्डी 40 वर्ष निवासी कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य भरमार बदूंक करीबन 12 वर्ष पूर्व नक्सली कमाण्डर, रनिता, राजमन, सुखलाल द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। 
    मंगतु नुरेटी 35 वर्ष निवासी सरगीपारा कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य भरमार बदूंक करीबन 12 वर्ष पूर्व नक्सली कमाण्डर कसरू गोटा, लच्छु पोटाई द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। संतु नुरूटी 28 वर्ष निवासी घोटुलपारा कोहकामेटा    मिलिशिया सदस्य भर     मार बदूंक करीबन 12 वर्ष पूर्व नक्सली कमाण्डर डोसेल, सुखलाल, राजमन द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। 
    शम्भूनाथ कवाची 28 वर्ष निवासी स्कूलपारा कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य भरमार बदूंक करीबन 12 वर्ष पूर्व नक्सली कमाण्डर दिलीप द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा मिलिशिया सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। मुरा नुरेटी 20 वर्ष निवासी कोहकामेटा सीएनएम सदस्य भरमार बदूंक वर्ष 2014 में नक्सली कमाण्डर डोसेल, सुखलाल, बंसती, रीना, सुनील द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा सीएनएम सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। रैनू नुरेटी 20  कोहकामेटा सीएनएम सदस्य भरमार बदूंक    वर्ष 2014 में नक्सली कमाण्डर डोसेल, सुखलाल, बंसती, रीना, सुनील द्वारा संगठन में शामिल किया गया। तब से कोहकामेटा सीएनएम सदस्य के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था।       
    सक्रियता एवं कार्यक्षेत्र
    उक्त आत्मसमर्पित नक्सली सदस्य संगठन में मिलिशिया सदस्य, सीएनएम सदस्य पद पर सक्रिय नक्सली सहयोगी के रूप कार्य कर रहे थे। नक्सलियों के मीटिंग के लिए लोगों को एकत्रित करना, संत्री ड्यूटी करना, गांव की मीटिंग लेकर केन्द्र व राज्य सरकार के विरूद्ध आम जनता को उकसाना, आसपास क्षेत्र में पुलिस की गतिविधियों पर नजर रखना, पुलिस की आने की सूचना देना, नक्सलियों की भोजन व्यवस्था करने, सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने की योजना बनाना व कार्यन्वयन करना, नक्सली संगठन का प्रचार-प्रसार करते थे।  

     

  •  

Posted Date : 09-Oct-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    नारायणपुर, 9 अक्टूबर।  नारायणपुर जिला के बेचागांव टेकरी जंगल से पुलिस ने नक्सली कमाण्डर समेत 7 नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से भरमार बंदूक व आईईडी भी बरामद किया है।
     पुलिस अधीक्षक अनिल सोनी के मार्ग निर्देशन में लगातार नक्सल विरोधी अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में नक्सलियों की उपस्थिति की सूचना पर 7 अक्टूबर को डीआरजी की पुलिस पार्टी ग्राम बेचागांव की ओर रवाना किया गया था।  8 अक्टूबर को करीबन साढ़े 8 बजे पुलिस पार्टी को बेचागांव टेकरी जंगल में कुछ लोग दिखे, जिनकों घेराबंदी कर समर्पण करने कहने पर भरमार बदूंक से पुलिस पार्टी पर फ ायर किए, पुलिस पार्टी द्वारा तत्काल बचाव में पोजीशन लिया गया। तत्पश्चात घेराबंदी कर सात संदिग्ध व्यक्तियों को पकड़कर हिरासत में लिया गया, जिनसे पूछताछ करने पर कंपनी नम्बर 5 के नक्सली कमाण्डर जयलाल, मासे, कोसा, रनिता, पाकली एवं अन्य 20-25 नक्सली सदस्य का एरिया में उपस्थित होना तथा कुदंला के पास सड़क, पुल पर आईईडी लगाने के उद्देश्य से आना बताए। जिसे थाना नारायणपुर में रविवार को अपराध कायम किया गया। सोमवार को न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। 
    गिरफ्तार नक्सली व बरामद सामग्री
    गुड्डू राम हिचामी ब्रेहबेड़ा कदेर मिलिशिया सदस्य, 1 नग भरमार बदूंक व 100 ग्राम बारूद, देऊराम हिचामी ब्रेहबेड़ा कदेर मिलिशिया सदस्य, केमरा स्वीच 1 नग, लोहे का सब्बल 1 नग, फावड़ा 1 नग, जुरू मण्डावी ओरछापर बालेबेड़ा बालेबेड़ा मिलिशिया सदस्य, टिफिन बम 1 नग 4 किलो ग्राम, गुड्डू राम पोटाई होरआदी कदेर मिलिशिया सदस्य, बिजली वायर 50 मीटर, टू-पिन व बांस से बना आईईडी लगा, कटिया राम नुरेटी  कदेर कदेर मिलिशिया सदस्य, टिफिन बम 1 नग  6 किलो ग्राम, बुधुराम मण्डावी गारपा कदेर सीएनएम सदस्य, एक  बेनर, पोरेन्द्र मण्डावी  गारपा कदेर जनताना सरकार सदस्य, 1 नग गुण्डी बर्तन आईईडी 15 किलो ग्राम इसके कब्जे से बरामद किया गया। 
    संगठन में सक्रियता
    नक्सली कमाण्डर जयलाल एवं भीमन्ना द्वारा विगत 5-6 वर्ष संगठन में शामिल कर कदेर मिलिशिया सदस्य, कदेर सीएनएम सदस्य, कदेर जनताना सरकार, बालेबेड़ा मिलिशिया सदस्य बनाया गया था, जो नक्सलियों के मीटिंग के लिए ग्रामीणों को एकत्र करना, भोजन की व्यवस्था करना, नक्सलियों को पुलिस के आने की सूचना देना, नक्सली संगठन का प्रचार-प्रसार करने तथा नक्सलियों के निर्देशानुसार आईईडी लगाने जैसे काम करते थे।  

     

  •  

Posted Date : 04-Oct-2017
  • बोनस तिहार में किसानों को 3 करोड़ वितरित
    छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    नारायणपुर, 4 अक्टूबर। राज्य सरकार प्रदेश के किसानों के हितों की संरक्षण की दिशा में पूरी संवेदनशीलता के साथ कटिबद्ध है। सरकार जहां किसानों के आर्थिक विकास हेतु अनेक जनहितकारी योजनाएं संचालित कर रही है। वहीं किसानों की कड़ी मेहनत से उत्पादित धान का समुचित मूल्य देने सकारात्मक पहल कर रही है। इस दिषा में समर्थन मूल्य पर धान का एक-एक दाना खरीदने के लिए हरसंभव पहल किया जा रहा है। वहीं धान का बोनस राशि मेहनतकष किसानों को प्रदान करने के लिए सकारात्मक निर्णय लेकर अपना वादा पूरा कर रही है। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के नेतृत्व में प्रदेश सरकार राज्य के किसानों को बोनस तिहार के तहत धान बोनस राशि प्रदान कर किसानों को दीवावली पर्व के पहले खुषियां बांट रही है। यह बात प्रदेश के राजस्व एंव उच्च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने नारायणपुर में आयोजित वृहद किसान मेला एवं पंच-सरपंच सह कृषि प्रदर्शनी में किसानों और पंचायत पदाधिकारियों का संबोधित करते हुए कही। 
    इस अवसर पर उन्होंने जिले के अबूझमाड़ ब्लाक मुख्यालय ओरछा में आगामी वर्ष से औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था प्रारंभ करने की स्वीकृति दी। इस मौके पर महिला एवं बाल विकास मंत्री तथा प्रभारी मंत्री जिला नारायणपुर श्रीमती रमशीला साहू ने कहा कि राज्य सरकार किसानों की समृद्धि के लिए अनेक जनहितकारी योजनाएं संचालित कर रही है। इस दिशा में किसानों को कृषि तथा अन्य आनुशांगिक विभागों की जनकल्याणकारी योजनाओं-कार्यक्रमों से लाभान्वित होकर विकास की ओर अग्रसर होने के लिए आगे आना होगा।
     इस अवसर पर स्कूली शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने स्थानीय हल्बी बोली में किसानों और ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा किसानों के आर्थिक विकास से ही प्रदेश और देश का आर्थिक विकास संभव है। इसे ध्यान रखते हुए राज्य सरकार किसानों को ब्याजमुक्त कृषि ऋ ण, सिंचाई संसाधनों के विकास हेतु सहायता, खाद-बीज की सुलभता, रियायती दर पर बिजली की सुलभता के साथ ही विद्युत सुविधाविहीन ईलाके के किसानों को सोलर सिंचाई पंप के लिए सहायता सुलभ करा रही है। किसानों को इन योजनाओं से लाभान्वित होकर अपनी खुशहाली के लिए आगे आना होगा। इस दौरान संासद बस्तर दिनेश कश्यप ने स्थानीय हल्बी बोली में कहा कि मुख्यमंत्री ने किसानों को धान का बोनस देकर दीवाली का उपहार दिया है। अब किसान दीवाली का त्यौहार खुशीपूर्वक मनायेंगे। उन्होंने शासन की विभिन्न योजनाओं को रेखांकित करते हुए कहा कि राज्य सरकार किसानों की आर्थिक विकास के लिए पूरी संवेदनशीलता के साथ संकल्पित है। इस मौके कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने बताया कि जिले में वर्ष 2016-17 के तहत 2 हजार 315 किसानों ने समर्थन मूल्य पर 99 हजार 210 क्ंिवटल धान का विक्रय किया था, इन सभी किसानों को कुल 2 करोड़ 97 लाख 63 हजार 120 रूपये धान बोनस राशि प्रदान किया जा रहा है। यह बोनस राशि संबंधित किसानों के बैंक खाते में तत्काल जमा किया जायेगा।  इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती प्रमिला उईके सहित क्षेत्र के जनप्रतिनिधी, पंचायत पदाधिकारी और पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह, डीएफओ सुश्री स्टॉयलो मंडावी, सीईओ जिला पंचायत अशोक चौबे के अलावा जिला प्रशासन के अधिकारी तथा बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक और किसान तथा ग्रामीणजन मौजूद थे। 

  •  

Posted Date : 18-Sep-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    नारायणपुर, 18 सितम्बर।  सोमवार को थाना एड़का से सुरेश सोनी के नेतृत्व में जिला बल एवं छसबल की संयुक्त पुलिस पार्टी उच्चाकोट की ओर रवाना किया गया था। सोमवार को सुबह ग्राम उच्चाकोट में घेराबंदी कर सोमारू कावड़े उर्फ  रंजीत 25 उच्चाकोट किसकोड़ो एलओएस सदस्य एवं गंगाराम सलाम 39 उच्चाकोट उच्चाकोट रेंज कमेटी सदस्य को पकड़ा गया। दोनों के विरूद्ध न्यायालय द्वारा थाना नारायणपुर के पूर्व अपराधों में गिरफ्तारी वारण्ट जारी किया गया था। 18 सितम्बर को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। 
    संगठन में सक्रियता
    सोमारू कावड़े उर्फ रंजीत को वर्ष 2007 में नक्सली कमाण्डर सुभाष ने बल संगठन में सदस्य के रूप में शामिल किया। इस दौरान पुलिस के आने की सूचना नक्सलियों को देना, नक्सली संगठन का प्रचार-प्रसार, मीटिंग की जानकारी ग्रामीणों को देने का कार्य करता था। उसके बाद नक्सली कमाण्डर किशोर द्वारा किसकोड़ो एलओएस का सदस्य बनाकर, सिंगल शॉट हथियार दिया। वर्ष 2011 में मचानार मुठभेड़  घटना के बाद एलओएस छोड़कर वापस घर आकर जनताना सरकार सदस्य के रूप में संगठन में कार्य कर रहा था।
    गंगाराम सलाम को वर्ष 2001 में नक्सली किशोर, फूलसिंग द्वारा संगठन में शामिल कर संघम सदस्य बनाया। पुलिस के आने की सूचना देना, नक्सली संगठन का प्रचार-प्रसार करना, ग्रामीणों को मीटिंग के लिए एकत्र करने का कार्य करता था। नक्सली केशन्ना द्वारा संगठन में अपने साथ शामिल कर सिंगल शॉट दिया था। करीबन 1 वर्ष तक संगठन में घुमने के बाद अपने गांव वापस आ गया तब नक्सल कमाण्डर किशोर द्वारा उच्चाकोट रेंज कमेटी सदस्य की जिम्मेदारी दिया गया तब से रेंज कमेटी सदस्य के रूप में सक्रिय कार्य कर रहा था। 
    घटना में शामिल
    सोमारू कावड़ो उर्फ  रंजीत वर्ष 2008 में भरण्डा के पास बीएसएनएल वाहन को रोककर जलाने तथा मशीन व सामान लूट की घटना में शामिल रहा था। गंगाराम वर्ष 2006 में ग्राम एड़का में 1 ग्रामीण की हत्या, हत्या का प्रयास, छात्रावास भवन की तोडफ़ ोड़ की घटना में शामिल रहा था। सोमारू उर्फ  रंजीत कावड़े के विरूद्ध पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के द्वारा 3000 हजार रूपये का ईनाम घोषित किया गया था। 

     

  •  

Posted Date : 12-Sep-2017
  • नारायणपुर,12 सितम्बर। पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेेंज विवेकानंद सिन्हा, उप पुलिस महानिरीक्षक कांकेर रेंज  रतन लाल डांगी एवं पुलिस अधीक्षक नारायणपुर  संतोष सिंह के मार्गनिर्देशन में लगातार नक्सल उन्मूलन अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में 11 सितम्बर की रात्रि में थाना ओरछा से जिला बल, छसबल एवं एसटीएफ की संयुक्त पुलिस पार्टी नक्सल विरोधी अभियान पर आदेर, कुड़़मेल की ओर रवाना की गयी थी। नक्सली गश्त सर्चिंग के दौरान मंगलवार को ग्राम आदेर के पास जंगल में सुरक्षा बलों को देखकर छिप रहे एक संदिग्ध व्यक्ति को घेराबंदी कर पकड़ा गया। पुछताछ करने पर अपना नाम दोगे पोयाम पिता स्व. गोगा पोयाम उम्र 38 वर्ष जाति माडिय़ा निवासी मुरूमवाड़ा थाना ओरछा एवं नक्सली संगठन में मुरूमवाड़ा मिलिशिया कमाण्डर के पद पर सक्रिय रूप से कार्य करना बताया। जिसके निशानदेही पर आदेर जंगल से 01 नग भरमार बदूंक बरामद किया गया। थाना ओरछा क्षेत्रान्तर्गत वर्ष 2017 में बड़े टोण्डाबेड़ा नाला के पास सुरक्षा बलों पर हमला की घटना में संलिप्त पाये जाने पर 12 सितम्बर  को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। 
    गिरफ्तार नक्सली दोगे पोयाम पिछले 09-10 वर्षो से मुरूमवाड़ा मिलिशिया सदस्य के रूप में कार्य कर रहा था। वर्ष 2015 में नक्सली कमाण्डर अशोक द्वारा मुरूमवाड़ा मिलिशिया कमाण्डर बनाया गया। वर्ष 2017 में बड़े टोण्डाबेड़ा नाला के पास पुलिस पार्टी पर हमला की घटना शामिल रहा है। इसके अतिरिक्त गिरफ्तार नक्सली देशी जड़ी-बूटी से नक्सलियों का उपचार करना, नक्सलियों के मीटिंग के लिए ग्रामीणों को एकत्र करना, नक्सलियों को पुलिस के आने की सूचना देना, नक्सली संगठन का प्रचार-प्रसार करने का काम करता था। 

  •  

Posted Date : 26-Aug-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    नारायणपुर, 26 अगस्त। शुक्रवार को सात नक्सल सदस्यों ने आत्मसमर्पण किया। इनमें से एक पर राज्य शासन द्वारा 1 लाख रूपये का ईनाम घोषित था।
    शुक्रवार को मनीष सलाम अंतागढ़ एलओएस सदस्य-दण्डकारण्य स्टेक्टर प्रशिक्षक टीम सदस्य एसीएम, मंदर कोर्राम टेमरूगांव जनताना सरकार सदस्य कृषि शाखा अध्यक्ष, पीलसाय कोर्राम टेमरूगांव जनताना सरकार अध्यक्ष, रोशन पडि़हार सोनपुर मिलिशिया सदस्य, अनुलाल भण्डारी सोनपुर पंचायत मिलिशिया सदस्य, सम्पत राऊड सोनपुर पंचायत सीएनएम सदस्य व चुन्नीलाल भण्डारी सोनपुर पंचायत जनताना सरकार सदस्य ने माओवादी संगठन की खोखली विचारधारा  एवं गलत नीतियों से तंग आकर उप पुलिस महानिरीक्षक आईटीबीपी अवनीश, कलेक्टर जिला नारायणपुर टोपेश्वर वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह के समक्ष आत्मसमर्पण किए।
    मनीष सलाम उर्फ  मनेश उर्फ  बीजू उर्फ  फ ुलदेर 21 उच्चाकोट थाना रावघाट जिला कांकेर अंतागढ़ एलओएस सदस्य-डीके (दण्डकारण्य) इंस्ट्रक्टर प्रशिक्षक टीम सदस्य हंै, जिसके उपर राज्य शासन 1 लाख रूपये ईनाम घोषित था।
    वर्ष 2009 में गोंडरी उर्फ  सनाऊ कावड़ौ उच्चाकोट उच्चाकोट जनताना सरकार अध्यक्ष ने उच्चाकोट बाल सीएनएम में शामिल कर कमाण्डर बनाया। संगठन में रहने के दौरान कई पदों पर कार्य किया और कई नक्सल घटनाओं में शामिल रहे।

     

  •