छत्तीसगढ़ » रायगढ़

Previous123Next
Date : 21-Aug-2019

बप्पा को अंतिम स्वरुप देने में जुटे मूर्तिकार
छत्तीसगढ़ संवाददाता 
खरसिया, 21 अगस्त।
गणेश उत्सव नजदीक आते ही मूर्तिकार गणेश प्रतिमाओं को अंतिम रूप देने में जुटे हुए हैं। कई जगहों पर प्रतिमाएं लगभग तैयार कर ली गई हैं और उसे सुखाकर रंग रोगन चढ़ाए जा रहा है। दूसरी ओर गणेश उत्सव समितियों द्वारा चौक चौराहों पर पंडाल लगाने के साथ ही उसकी सजावट शुरू कर दी गई है।

इस वर्ष गणेश चतुर्थी 2 सितंबर को पड़ रही है। गणेश चतुर्थी पर, भगवान गणेश को ज्ञान, समृद्धि और सौभाग्य के देवता के रूप में पूजा जाता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान गणेश का जन्म भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष के दौरान हुआ था लोगों में गणेश उत्सव को लेकर अभी से उत्साह देखा जा रहा है। गणेश पूजा को लेकर बच्चों में विशेष उत्साह देखा जा रहा है। बच्चों की टोलियां को शहर में चंदा करते देखा जा रहा है। गणेश उत्सव में शहर और गांवों के चौक-चौराहों मोहल्ले सहित कई घरों में गणेश प्रतिमा स्थापित की जाती है। इस दौरान कई छोटे-बड़े आयोजन भी होते हैं। खासकर बच्चों के बीच डांस के साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम रखे जाते हैं। शहर एवं गांव में गणेश उत्सव की धूम रहती है। शुरू होने से पहले तैयारी जोरों के साथ चल रही है। मूर्तिकार प्रतिमाओं को अंतिम रूप देने में लगे हुए हैं। वहीं पूजा सामानों की दुकानों में रौनक देखी जा रही है। गणेश पूजन को लेकर लोगों में उत्साह देखा जा रहा है वहीं नगर में रौनक भी बढ़ गई है।

 


Date : 21-Aug-2019

भारतीय संस्कृति यात्रा 20वां ग्लोबल काम्पीटिशन एंड़ फेस्टीवल ऑफ इंडियन आर्ट एंड़ कल्चर कार्यक्रम डार्टलैण्ड इंटरनेशनल स्कूल दुबई यूएई में संपन्न, दीक्षा रथ ने जीता गोल्ड मैडल

सारंगढ़, 21 अगस्त। भारतीय संस्कृति यात्रा 20वां ग्लोबल काम्पीटिशन एंड़ फेस्टीवल ऑफ इंडियन आर्ट एंड़ कल्चर कार्यक्रम 15 अगस्त को डार्टलैण्ड इंटरनेशनल स्कूल दुबई यूएई में संपन्न हुआ। इस आयोजन में सारंगढ़ निवासी विजय रथ की पुत्री दीक्षा रथ ने ओडिसी एवं छत्तीसगढ़ फोक नृत्य में प्रथम स्थान प्राप्त किया।  दीक्षा रथ मोना माडर्न स्कूल सारंगढ़ मे कक्षा 6 वीं की छात्रा है। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपनी माता-पिता के साथ साथ अपने गुरू गजेन्द्र पंड़ा को प्रदान किया है। इसके पूर्व दीक्षा गुजरात पोरबंदर, उड़ीसा के भुवनेश्वर, छत्तीसगढ़ के कई शहरो में अपनी प्रस्तुति दे चुकी है।


Date : 21-Aug-2019

जिला निर्माण हेतु सर्वदलीय संघर्ष दल की बैठक संपन्न

सारंगढ़, 21 अगस्त। जिला निर्माण हेतु सर्वदलीय संघर्ष दल की बैठक संपन्न हुई। सारंगढ़ को जिला बनाने के लिए अधिवक्ता संघ द्वारा सर्वदलीय मंच की बैठक बुलाई गई।  जिसमें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस युवक, एनएसयूआई,  पत्रकार संघ, भाजपा युवा मोर्चा, अभाविप, बसपा, चेंबर ऑफ कॉमर्स, लायंस क्लब, शिवसेना, मारवाड़ी युवा मंच, अंतर्राष्ट्रीय ब्राह्मण समाज सहित सारंगढ़ क्षेत्र के विभिन्न सामाजिक संगठन तथा राजनीतिक संगठनों ने बैठक में उपस्थिति दर्ज कराई ।  अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष विजय तिवारी ने कहा कि सर्वदलीय मंच को अधिवक्ता संघ द्वारा एक मंच पर लाने का प्रयास किया गया। मंच के माध्यम से सारंगढ़ को जिला बनाने के लिए रणनीति तय की जाएगी और साहित्य के माध्यम से संघर्ष किया जाएगा। इस संबंध में आवश्यक विचार-विमर्श करने के लिए यह बैठक आहूत की गई।

 


Date : 20-Aug-2019

शिक्षकों की कमी से जूझ रहा नगर निगम स्कूल, छात्रों ने कलेक्टर से मिलकर उठाई मांग

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 20 अगस्त।
शिक्षा संचालनालय का शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए बनाया गया नारा स्कूल आ पढ़े बर, जिंदगी ला गढ़े बर कम से कम रायगढ़ जिले में पानी मांगता नजर आ रहा है। ग्रामीण क्षेत्र की बात तो दूर शहरी क्षेत्र के स्कूल भी शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं। ऐसे में नवनिहाल छात्रों का भविष्य अंधकार के गर्त में समाने लगा है। 

ताजा मामला शहरी क्षेत्र के नगर निगम स्कूल का है। जहां मात्र चार शिक्षक करीब 16 सौ छात्रों को न जाने कैसे पढ़ा रहे हैं। आज छात्रों ने इस मामले में निगम उपायुक्त और कलेक्टर से मिलकर स्कूल में शीघ्र शिक्षकों की नियुक्ति करने की मांग उठाई है। स्कूल से आए छात्रों की ओर से निगम उपायुक्त और कलेक्टर के नाम सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि सरदार बल्लभ भाई पटेल नगर निगम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में लगभग 16 सौ छात्र अध्ययनरत हैं। जिनके शिक्षण व्यवस्था के लिए गत वर्ष नियमित शिक्षकों के साथ-साथ निगम के द्वारा प्लेसमेंट शिक्षक के रूप में कुल मिलाकर दर्जन भर से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति की गई थी, लेकिन इस वर्ष स्कूल को शिक्षा विभाग के अधीन किए जाने के बाद इन शिक्षकों का हटा दिया गया है। जिसकी वजह से स्कूल खुलने के दो माह बाद भी स्कूल में नहीं के बराबर शिक्षक हैं। वर्तमान में यहां मात्र चार शिक्षक पदस्थ होनें के कारण उन्हें दिनभर में एक ही या दो कालखण्ड पढ़ाई के रूप में मिल रही है। इससे छात्रों की पढ़ाई पूरी तरह प्रभावित हो रही है। शासन के नियमानुसार उनकी तिमाही और छिमाही परीक्षा सिर पर है ऐसे में शिक्षक नहीं होनें की वजह से छात्रों का भविष्य अधंकारमय नजर आ रहा है। इन छात्रों ने कलेक्टर से अपने स्कूल में सीएसआर शिक्षक के रूप में जल्द से जल्द विशेष शिक्षकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने की मांग उठाई है ताकि उनकी पढ़ाई निर्बाध गति से चल सके।  

 


Date : 20-Aug-2019

गंगा अवतरण इस बार होगा जन्माष्टमी मेले का आकर्षण

गौरीशंकर मंदिर व श्याम मंडल जुटे तैयारियों में की नाराजगी जाहिर

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 20 अगस्त।
अविभाजित मध्यप्रदेश का सबसे प्रसिद्ध जन्माष्टमी मेले की तैयारी जोर शोर से शुरू हो गई है और इस बार छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में नई साज सज्जा और नई तैयारियों के साथ कृष्ण भक्तों को आकर्षित करने के लिए श्याम मंडल व गौरीशंकर मंदिर के सदस्य लग गए हैं चूंकि पूरे भारत में रायगढ़ का जन्माष्टमी मेला आजादी के बाद से अपनी अलग पहचान बना चुका है। पांच दिन तक चलने वाले इस जन्माष्टमी मेले को देखने के लिए ओडि़सा, झारखण्ड के अलावा छत्तीसगढ़ के कई जिलों के श्रद्धालु बडी संख्या में रायगढ़ पहुंचते हैं। 

कहने को तो बृज और मथुरा में जन्माष्टमी मेला अलग तरीके से मनाया जाता है, लेकिन भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव जन्माष्टमी के रूप में मनाने की परंपरा अलग है। यहां एक महीना पहले से ही तैयारियां शुरू कर दी जाती है चूंकि श्याम मंडल व गौरीशंकर मंदिर में जन्माष्टमी के अवसर पर पांच दिनों तक एक मेला लगता है जिसमें स्वचलित झांकियों का प्रदर्शन विशेष रूप से किया जाता है। इतना ही नहीं इस जन्माष्टमी मेले में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रायगढ़ पहुंचती है। इस पर्व को भव्यता का रूप देने के लिए स्व. सेठ किरोड़ीमल ट्रस्ट के ट्रस्टी और प्रसिद्ध श्याम मंदिर के पदाधिकारी अपनी तैयारियों के बारे में बताते हैं कि कैसे यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए तैयारियां की जाती है। इनका यह भी कहना है कि कई दिन पहले अलग-अलग ढंग से कृष्ण जन्म मनाने के अलावा भक्तों को आकर्षित करने के लिए स्वचलित झांकियों को लगाया जाता है। प्रसिद्ध जन्माष्टमी मेले के 15 दिन पहले शहर में इस रौनक को और दुगुना करने के लिए मीना बाजार भी सज जाता है। इतना ही नहीं इस मीना बाजार में वो श्रद्धालु पहुंचते हैं जो जन्माष्टमी मेले के लिए ग्रामीण तथा आसपास के प्रदेश से अपने परिवार के साथ रायगढ़ पहुंचते हैं। 

मीना बाजार भी इस बार लगा है नई सामग्री के साथ
मीना बाजार में भी दोनों मंदिरों से निकलने वाले हजारों श्रद्धालु अपना मनोंरजन के लिए पहुंचते हैं। इसके संचालक बताते हैं कि उन्हें भी रायगढ़ के जन्माष्टमी मेले का इंतजार रहता है और वे लोगों को आकर्षित करने के लिए नए-नए झुले और कई मनोरंजन की सामग्री लेकर मीना बाजार सजाते हैं और लोग अपने परिवार के साथ आकर लुत्फ उठाते हैं।  इस मेले की तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई है और कृष्ण जन्म के अवसर पर बृज व मथुरा की तर्ज पर यहां की रौनक बनी रहे इसको लेकर समाजसेवी संगठन भी जुट गए हैं।  

 


Date : 20-Aug-2019

ट्रेनों के ठहराव के लिए सांसद से की गई मांग, रेलवे के पूर्व जेडआययूसीसी के सदस्य ने आवेदन सौंप कर अन्य समस्यों से भी कराया गया अवगत

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 20 अगस्त।
रेलवे स्टेशन रायगढ़ को ए ग्रेड का दर्जा दे दिया गया, लेकिन अब भी कई बुनियादी सुविधाओं से रायगढ़ का रेलवे स्टेशन जूझ रहा है। इसके अलावा कई ट्रेनों का ठहराव भी यहां अब तक नहीं हो सकी है। ऐसे में कई समस्याओं को लेकर आज सांसद गोमती साय को रेलवे के पूर्व जेडआययूसीसी के सदस्य ने एक आवेदन सौंपा है और रायगढ़ के रेलवे यात्रियों के हित में अपनी मांग को रखते हुए समस्याओं को दूर करने की मांग की है। 

पूर्व जेडआरयूसीसी के सदस्य गोपाल अग्रवाल के द्वारा सौंपे गए ज्ञापन में उल्लेख है कि रायगढ़ रेल टर्मीनल का प्रस्ताव महाप्रबंधक द.पू.म.रे. कार्यालय से स्वीकृत है, वे बोर्ड में लंबित है। जिसे स्वीकृत कराने की पहल करने की मांग की गई है। इसके अलावा दुर्ग रायगढ़ दुर्ग टे्रन का परिचालन जो कुछ माह परिचालन के बाद ही बंद दिया गया। इस ट्रेन को पुन: संचालित करने की मांग की गई है। ताकि रायगढ़ से बिलासपुर, रायपुर व दुर्ग के यात्रियों को इसका लाभ मिल सके। साथ ही हावड़ा शिर्डी, पूरी बलसाड़ पुरी, हैदराबाद रक्सौल व सिंकदराबाद दरभंगा एक्सप्रेस के ठहराव के लिए दपूमरे के महाप्रबंधक के कार्यालय से स्वीकृत कर रेल बोर्ड को स्वीकृति के लिए पत्र भेजा गया है। जिसे इन टे्रनों के लिए ठहराव के लिए पहल करने की मांग की गई। उन्होंने अपने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि रायगढ़ रेलवे स्टेशन के मुख्य द्वार में यातायात का दबाव निरंतर बढ़ रहा है। उत्तर दिशा के साथ साथ दक्षिण दिशा की तरफ से भी रेलवे प्लेट फार्म में प्रवेश एवं टिकट खिड़की की व्यवस्था करने से पचास प्रतिशत दबाव में अंतर आ जाएगा एवं वर्तमान में आईओडब्लू कार्यालय व रेलवे के पुराने क्वाटर्स को स्थांतरित कर पार्किंग स्थल में विस्तार करने की मांग की है। आरक्षण काउंटर रायगढ़ में तीन है। जबकि एक ही पांच नंबर काउटंर पूर्णकालीन खुलता है। चार नंबर काउटंर वर्षों से बंद है एवं छह नंबंर काउटंर को वरिष्ठ, महिलाओं के लिए दिन में दो बार ही खोला जाता है। तीनों काउंटर सुबह आठ बजे से साढ़े दस बजे एवं शाम छह से दस बजे तक खुलवाने की मांग की गई है। इसके अलावा रायगढ़ रेलवे स्टेशन में अन्य स्टेशनों की तरह चलित सीड़ी को शुरू करवाने की मांग की गई है। बिलासपुर दिल्ली राजधानी 12441-12442 ट्रेन को रायगढ़ संचालित थी। इसे पुन: रायगढ़ से प्रस्थान करवाने, टे्रन नंबर 18247-18248 बिलासपुर रिवां एक्सप्रेस को रायगढ़ से संचालित करवााने एवं टे्रन नबंर 18243- 18244- 12845- 12846 बिलासपुर भगत की कोठी एक्सप्रेस को रायगढ़ से संचालित करवाने की मांग की गई है। 

इन ट्रेनों के ठहराव की मांग
ज्ञापन के माध्यम से बताया गया कि रायगढ़ में अब भी कई ट्रेनों का ठहराव नहीं है। इसमें ट्रेन नं. 12767-12768 संतरागाछी-नांदेड, टे्रन न. 22845-22846 हटिया पूणे, टे्रन नं. 12945-12950 संतरागाछी-पोरबंदर, ट्रेन नं. 13425-13426 सूरत-मालदा, टे्रन नं. 12869-12870 मुंबई हावड़ा, टे्रन नं. 12101-12102 मुबंई हावड़ा शामिल है। इन ट्रेनों के ठहराव की मांग की गई है।

पेन्ट्रीकार की सुविधा की मांग
पूर्व जेडआरयूसीसी गोपाल अग्रवाल ने अपने आवेदन के माध्यम से मांग की है कि टे्रन 12409-12410 रायगढ़ निजामुद्दीन गोडंवाना एक्सप्रेस में पेन्ट्रीकार की सुविधा उपलब्ध कराया जाए। इसके अलावा विशाखापटनम से अमृतसर सप्ताह में तीन दिन व्हाया कटनी सागर बीना होकर दिल्ली अमृतसर के परिचालित है। उक्त टे्रन को शेष चार दिन सबंलपुर से दिल्ली परिचालित करने की मांग के लिए निवेदन किया गया है। 


Date : 20-Aug-2019

मुआवजा वितरण के कार्य को गंभीरतापूर्वक करें सभी एसडीएम-कलेक्टर

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 20 अगस्त।
कलेक्टर ने कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक ली। कलेक्टर यशवंत कुमार ने सीएसआर शिक्षकों की भर्ती समय पर नहीं होने के कारण जिला शिक्षा अधिकारी मनीन्द्र श्रीवास्तव के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए न केवल उन्हें जमकर खरी खोटी सुनाई। बल्कि अपने मातहत अधिकारी को इस काम में तेजी लाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इस तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 

उन्होंने सहायक कलेक्टर संवित मिश्रा को शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी सौंपी और कहा कि कार्यों में प्रशासनिक दक्षता लाए। खरिसया के बीईओ के अवकाश पर चले जाने से शिक्षाकर्मियों के वेतन का भुगतान समय पर नहीं होने पर उन्होंने डीईओ को खरसिया के बीईओ को वित्तीय अधिकार देने के निर्देश दिए। ताकि समय पर शिक्षकों को वेतन मिल सके। उन्होंने सभी एसडीएम को मुआवजा व वितरण कार्य को गंभीरतापूर्वक करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आपसी विवाद और पारिवारिक विवाद जैसे मुद्दों को दूर कर मुआवजा का वितरण करवाए। उन्होंने कहा कि गिरदावरी का कार्य महत्वपूर्ण है, इसे समय पर पूर्ण करें।  

कलेक्टर यशवंत कुमार ने डेंगू से बचाव एवं रोकथाम के लिए सुरक्षा संबंधी उपाय करने के निर्देश सीएचएमओ एवं नगर निगम आयुक्त को दिए। उन्होंने कहा कि रूके हुए पानी में मच्छर के लारवा न पनपे इसके लिए टेमीफॉस, पेट्रोल डीजल एवं मोबिल का उपयोग करे। उन्होंने मोबिल के निशुल्क वितरण के लिए पर्यावरण अधिकारी को नोडल नियुक्त किया। उन्होंने डेंगू से बचाव के लिए सभी स्कूलों में जनजागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए। इसके लिए उन्होंने टीम की गठित करने के लिए कहा। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ ऋचा प्रकाश चौधरी, डीएफओ मनोज पांडेय, अपर कलेक्टर सुखनाथ अहिरवार एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 


Date : 20-Aug-2019

आवारा मवेशी बन रहे दुर्घटनाओं का कारण

रायगढ़, 20 अगस्त। शहरी क्षेत्र के साथ-साथ तहसील मुख्यालय पुसौर जहां नगरीय प्रशासन है वहीं मवेशियों का रात दिन हल्ला बोल है। इससे राहगीर काफी परेशान हंै कभी दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं तो कहीं बाल बाल बच रहे हैं। कहते हैं जहां मवेशी रोड में सोते हों, नालियां दुर्गंध देती हो तो उसे शहर की परिभाषा की दी जाती है। बहरहाल पुसौर के मुख्य रोड ही नहीं समुचे वार्डों में मवेशी टहलते देखे जा सकते हैं और इनके चपेट में आकर लोग आए दिन आहत होकर परेशानियों का सामना कर रहे हैं। 

बताया जा रहा है कि आवारा मवेशियों के कारण हर दिन लोग परेशान हैं और इस ओर किसी का ध्यान नहीं है। लोगों ने बताया कि रात के समय सबसे ज्यादा परेशानी तब होती है, जब तेज रफ्तार वाहने आती है और रोड पर बैठे मवेशी नहीं हटते, इससे कई दफा वाहन चालक बुरी तरह घायल हो जाते हैं, तो कहीं वाहनों की ठोकर से मवेशियों की ही मौत हो जाती है। एक तरफ प्रशासन व्यवस्था सुधारने की बात कहती है, लेकिन जमीनी स्तर पर इसकी हकीकत कुछ और ही है। बताया जा रहा है कि पुसौर में आम तौर पर पुल के ऊपर तथा व्यस्त सड़क पर इन आवारा मवेशियों को लड़ते या बैठे हुए देखा जा सकता है। इनको पकडऩे के लिए कोई माकूल व्यवस्था नहीं होनें के कारण ये एक तरफ जहां यातायात व्यवस्था को बाधित हो रहे हैं वहीं दूसरी ओर आए दिन होने वाली छोटी-मोटी दुर्घटनाओं का कारण भी बन रहे हैं। 

 


Date : 20-Aug-2019

खाद के लिए भटक रहे हैं पूर्वांचल के किसान

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 20 अगस्त।  
सेवा सहकारी समिति मर्यादित लोइंग में पिछले 20 दिनों से यूरिया, पोटाश, डीएपी, सुपरफास्फेट, एनपी के जैसे जरूरतमंद खाद का स्टॉक खत्म हो जाने से किसान काफी परेशान हैं। एक तो मानसून के दगा दे जाने काफी लेट से बारिश होने से भी किसान चिंतित हैं वहीं अब जब बारिश हुई खेत फसलें मरते मरते बची है तो किसानों के पास खाद नहीं है। छिड़काव कर हरा भरा कर सके। सेवा सहकारी समिति लोइंग के तहत आने वाले 14 गांव के किसान डीएपी, यूरिया ,पोटाश और सुपरफास्फेट खाद की मांग कर रहे हैं खेतों में छिड़काव के लिए अब कई किसान तो खुले बाजार में व्यापारियों से ऊंचे दामों में खरीदारी कर छिड़काव कर रहे हैं। ताकि समय रहते फसलों में बढ़ोतरी हो सके। सेवा सहकारी समिति लोइंग के लिपिक ने बताया कि लगभग 20 दिनों से खाद के स्टाक खत्म हो गया है। किसान आ रहे हैं खाद नहीं होने से वापस लौट रहे हैं। हमने बैंक सुपरवाइजर को यूरिया 600 बोरी, डीएपी 100 बोरी, सुपरफास्फेट 400 बोरी, पोटाश 100 बोरी की मांग पत्र दिया है, लेकिन खाद नही पहुंच पाया है। रायगढ़ कलेक्टोरेट पहाड़ मंदिर होते हुए लोइंग, जामगांव सड़क मार्ग पर भारी वाहनों के नो एंट्री रहने के कारण खाद नहीं पहुंचने की बात गोदम कीपर कर रहे हैं। वहीं इस मामले में कलेक्टर यशवंत कुमार का कहना है कि इस समस्या को लेकर अधिकारी से चर्चा कर रहा हूं, व्यवस्था की जाएगी।


Date : 20-Aug-2019

बहनों ने जवानों के हाथों में बांधी राखी, सहयोग टीम की हुई पहल

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 20 अगस्त।
सहयोग टीम की महिलाओं ने पुलिस जवानों को राखी बांधी। इन बहनों ने हर साल खुद उनके पास पहुंचकर राखी बांधने का भी संकल्प लिया।

सिटी कोतवाली में सहयोग टीम की प्रमुख मंजु अग्रवाल के नेतृत्व में साथी महिलाएं पहुंची और थाना प्रभारी एसएन सिंह सहित 30 पुलिस अधिकारी व जवानों को तिलक लगाकर राखी बांधी। अपनी बहनों से दूर रहने वाले थाना प्रभारी श्री सिंह ने भरी आंख से बताया कि वे इस क्षण को कभी भूल नहीं सकते। उन्होंने कहा ड्यूटी के दौरान हम अपनी बहन से दूर रहते हैं। उनकी सुनी कलई घर से दूर रहने का एहसास कराती आ रही थी लेकिन मंजू अग्रवाल व उनकी टीम ने उनकी बहन की कमी को न केवल दूर किया बल्कि यह भी जताया कि ड्यूटी में सजग रहने वाले पुलिस जवानों के प्रति सहयोग टीम की सोंच कितनी अच्छी है। 

थाना प्रभारी का यह भी कहना था कि उनके थाने में ऐसे कई सब इंस्पेक्टर व एएसआई, हवलदार व सिपाही हैं जो रक्षा बंधन के दिन भी अपनी सुनी आंखों से अपनी बहन का इंतजार करते थक गए थे। लेकिन आज इन बहनों ने आकर सभी की सुनी कलाईयों को राखी बांधकर बहन का जो फर्ज निभाया है वह हमेशा यादगार रहेगा। इस कार्यक्रम के आयोजन की प्रमुख मंजू अग्रवाल ने कहा कि हमेशा अपनी ड्यूटी में रहने वाले पुलिस जवान उनकी ही रक्षा के लिए तैनात रहते हैं और इसी के चलते ऐसे कई पुलिस भाई हैं जो छुट्टी नही मिलने से बहन तक नही पहुंच पाते और ऐसे में सहयोग टीम अब हर साल सिटी कोतवाली पहुंचकर पुलिस भाईयों की सूनी कलाई पर राखी बांधकर बहन होनें का फर्ज निभाएंगी। इतना ही नही यहां आने पर उन्हें घर जैसा माहौल मिला और पुलिस भाईयों के कलाई पर राखी बांधकर सभी बहने काफी खुशी महसूस कर रही थी। सहयोग टीम में मंजू अग्रवाल के साथ मीना अग्रवाल, पूनम, आरती अग्रवाल, श्वेता, बीना चौहथा भी शामिल हुए। 


Date : 19-Aug-2019

स्कूल परिसर में सफाई नहीं, जहरीले जीवों के डर के बीच पढ़ाई कर रहे छात्र

देवभोग, 19 अगस्त। मुख्यालय के हाई एवं हायर सेकेंडरी स्कूल परिसर में साफ-सफाई नहीं होने से बड़े-बड़े घास उग गए हैं।जिनके बीच कई बार सांप देखा जा चुका है।  जिससे बच्चों में दहशत है। देवभोग हाई स्कूल के आस-पास बड़े-बड़े घास उग आए हैं।यहां कई बार सांप देखा गया है। फिर भी स्कूल प्रबंधन इनकी सफाई को लेकर गंभीर नहीं है। बच्चों को भय वाले माहौल में पढ़ाई करनी पड़ रही है। बच्चों के मन में सांप बिच्छू आदि का डर बना रहता है। अभी फिलहाल परीक्षा चल रही है। साफ-सफाई की जाएगी।
रामराजेंद्र सिंह, प्राचार्य देवभोग

 


Date : 19-Aug-2019

रायगढ़ जिले में अगले 12 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी

मरीन ड्राईव रोड पर अब भी भरा हुआ है पानी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 19 अगस्त।
ओडिशा और पश्चिम बंगाल के ऊपर बने चक्रवात की वजह से अगले 12 घंटे में उत्तर छत्तीसगढ़ के रायगढ़, जशपुर और सरगुजा जिले में एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा हो सकती है। वहीं अन्य हिस्सों में हल्की से मध्यम वर्षा की संभावना है। मौसम वैज्ञानिक एसके अवस्थी के मुताबिक बारिश में अभी औसत से दो प्रतिशत की कमी है। सितंबर माह तक सिस्टम बनने की संभावना ज्यादा रहती है, तो सितंबर माह तक मानसून का सीजन है। तो आने वाले दिनों में भारी बारिश की आशंका है। अभी एक ही सिस्टम बना है, इसके अलावा कोई और प्रभावी सिस्टम नहीं है जिससे भारी बारिश हो। प्रभावी सिस्टम बनने के बाद ही भारी बारिश की आशंका है। बीते रात से जिले में हो रही अनवरत बारिश के कारण केलो बांध में जल स्तर पुन: बढ़ गया है। बांध में जलभराव की स्थिति को नियंत्रण में रखे जाने के लिए बांध प्रबंधन द्वारा केलो बांध के कुछ गेट खोले गए हैं। जिसको देखते हुए जिला प्रशासन सतर्क हो गया है और साथ ही एसडीएम रायगढ़ ने आम नागरिकों तथा केलो नदी के तटीय इलाकों में रहने वाले नागरिकों की सुरक्षा के लिहाज से सूचना जारी की है कि केलो बांध का गेट खोले जाने से नदी का जलस्तर लगभग डेढ़ मीटर तक बढ़ सकता है। इसलिए नदी में न जाए तथा तटीय इलाकों में रहने वाले नागरिक भी सतर्क रहें। अभी हाल ही में तीन चार दिन पहले जिले में हुई भारी बारिश के कारण बांध में जल स्तर बढ़ गया था। इससे बांध के सात गेट खोले गए थे जिसके कारण केलो नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया था तथा शहर के निचले इलाकों में जल भराव हो गया था, शहर के चक्रपथ तथा एसईसीएल को जाने वाली मरीन ड्राइव सडक़ में लगभग एक मीटर तक पानी चढ़ गया था। 

जिला प्रशासन अलर्ट 
केलो परियोजना के ईई शुक्ला ने बताया कि जिले में हो रही बारिश को देखते हुए जिला प्रशासन पूर्व से ही अलर्ट है तथा बांध प्रबंधन से जल भराव की स्थिति की सूचना लगभग हर आधे घंटे में प्रशासन को दी जा रही है साथ ही आम नागरिकों तथा नदी के तटीय इलाकों में रहने वाले नागरिकों की सुरक्षा के लिहाज से स्थिती को नियंत्रण में रखने के लिए बांध से थोड़ा -थोड़ा पानी लगातार छोड़ा जा रहा है साथ ही अभी जो बांध से पानी छोड़ा गया है इससे एसइसीएल को जाने वाली मरीन ड्राइव में लगभग सात से आठ इंच पानी चढ़ेगा। बाकि शहर में जो बारिश हो रही है उसका पानी भी बड़े नालों के माध्यम से नदी में मिलता है थोड़ा असर उससे भी हो सकता है। 


Date : 19-Aug-2019

धरमजयगढ़ के सिविल अस्पताल में अवकाश में भी खुलेगा ओपीडी

रायगढ़, 19 अगस्त। रायगढ़ जिले के सुदूर अनुसूचित जनजाति तथा विशेष संरक्षित अनुसूचित जनजाति बिरहोर, कोरवा पंडो निवासरत युक्त वनांचल तथा हाथी प्रभावित विकासखण्ड क्षेत्र धरमजयगढ़ मुख्यालय में संचालित सिविल अस्पताल में हर अवकाश के दिन सुबह 11 बजे से दोपहर दो बजे तक चिकित्सा सुविधाएं अब उपलब्ध रहेगी। 

उल्लेखनीय है कि छुट्टी के दिनों में ओपीडी योग्य मरीजों को स्वास्थ्य केन्द्र में उपचार के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ता था तथा दूसरे दिन ओपीडी खुलने का इंतजार करना पड़ता था। यदि एक से अधिक दिनों तक लगातार शासकीय अवकाश पड़ जाए तो मरीज गंभीर भी हो सकते हैं। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी व सेक्टर चिकित्सा अधिकारी डॉ.खुर्शीद खान ने बताया कि सुदूर अंचल के ऐसे ही मरीजों को ध्यान में रखते हुए अवकाश के दिनों में नि:शुल्क चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही है। उन्होंने बताया कि ब्लड एवं यूरिन टेस्ट भी निशुल्क किया जा रहा है। वहीं शासन की ओर से निशुल्क दवाईयां भी उपलब्ध करायी जा रही है।    

 

 


Date : 18-Aug-2019

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर तोड़ाराम जोगी चौक में तालिब अली ने फहराया झंडा

रायगढ़, 18 अगस्त। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय मजदूर नेता स्वाधनीता सेनानी तोड़ाराम जोगी प्रतिमा स्थल पर चश्मा व्यपारी तालिब अली ईरानी के मुख्य आतिथ्य में झंडा फहराया गया। यह सर्वविदित है कि सेनानी एवं श्रमिक नेता तोड़ाराम जोगी ने जनसेवा के क्षेत्र में पदार्पण से पहले अमीरी त्याग फकीरी अपनाते हुए एक साधारण आदमी बनकर अपने व्यक्तित्व को रायगढ़ की जनता में विलीन कर दिया था। इसी कारण उनकी पूछ परख अत्यन्त दीन हीन से लेकर रसूखदारों के मध्य भी समान रूप से हुआ करती थी। ध्वजारोहण कार्यक्रम में मुख्य रूप से तालिब अली ईरानी, एमएमएल जोगी, लक्की गहलोत के अलावा रेहड़ी वाले, फूूल पौधों के व्यपारी के साथ साथ आटो रिक्शे वाले उपस्थित रहे हैं।

 


Date : 18-Aug-2019

वनों की सुरक्षा में सभी योगदान दें- विधायक लालजीत

धरमजयगढ़ वन मंडल में लोकवन का लोकार्पण कर, रोपे गए पौधे
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 18 अगस्त।
वनों की सुरक्षा व लोगों को वनों के करीब लाने के लिए आए दिन वन मंडल धरमजयगढ़ के द्वारा कुछ न कुछ कार्यक्रम कर लोगों को जागरूक किया जाता है। इसी कड़ी में अब यहां एक लोकवन का लोकापर्ण किया गया। 

शनिवार को धरमजयगढ़ विधायक लालजीत विधायक की उपस्थिति में धरमयजगढ़ वन मंडल के द्वारा नदी तट पौधरोपण के अंतर्गत लोक वन का लोकापर्ण किया गया। लोकवन का उद्देश्य वनों से स्थानीय जनता एवं ग्रामीणों को एक अच्छा विचरण क्षेत्र एवं आय का साधन उपलब्ध करवाना है। पौधरोपण स्थल मां अंबे टिकरा मंदिर के समीप मांड नदी के तट पर है। इस क्षेत्र के अंतर्गत एक बाल वाटिका, औषधि रोपण क्षेत्र भी है। बाल वाटिका का संचालन वन प्रबंधन समिति उद्उदा द्वारा किया जाएगा। क्षेत्र में धरमजयगढ़ के शहीदों पर्यावरण वीरों को याद करने के लिए श्रद्धांजलि स्थल की स्थापना भी की गई है। विधायक द्वारा लोकार्पण के बाद वन महोत्सव के अंतर्गत पौधरोपण किया गया। पर्यावरण वीरों को श्रद्धांजलि देकर उन्होंने अपने उद्बोधन में लोगों से स्थल एवं वनों की सुरक्षा एवं विकास में योगदान देने की बात कही। इस अवसर पर डीएफओ प्रणय मिश्रा, जनपद अध्यक्ष कन्या कुमार राठिया, एसडीएम धरमजयगढ़ नंदकुमार चौबे, मंनदीप सिंह कोमल एवं धरमजयगढ़ वन मंडल के रेंजर, डिप्टी रेंजर व अन्य स्टाप सहित क्षेत्र के सभी गणमान्य लोग उपस्थित थे। 


Date : 18-Aug-2019

ऑडिटोरियम में ही संपन्न होगा 35वां चक्रधर समारोह, सीईओ ने लिया तैयारियों का जायजा 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 18 अगस्त।
सांस्कृतिक नगरी के रूप में अपनी पहचान बना चुके रायगढ़ में 35वें चक्रधर समारोह की तैयारियां जोर शोर से शुरू हो गई है। इस बार यह आयोजन नगर निगम द्वारा बनाए गए ऑडिटोरियम में होगा। 

लंबे समय से खुले मैदान में होने वाले चक्रधर समारोह के चलते ही करोड़ो रुपए की लागत से ऑडिटोरियम का निर्माण पूरा हुआ है। आगामी दो सितंबर से लेकर 11 सितंबर तक 35वें चक्रधर समारोह का आयोजन यहां होना है। 

तैयारियों को लेकर जिला पंचायत की सीईओ ने जायजा लिया तथा ऑडिटोरियम में दर्शकों की संख्या के अलावा बाहर से आने वाले कलाकारों के लिए व्यवस्था के मामले में भी निगम के अधिकारियों से बात की। रायगढ़ में आयोजित होने वाला चक्रधर समारोह भारत में नहीं बल्कि विदेशो में अपनी अलग पहचान बना चुका है। चूंकि रायगढ़ राजा स्व. चक्रधर सिंह का जन्म गणेश चतुर्थी के दिन हुआ था और उनकी स्मृति में ही बीते 35 सालों से 10 दिनों तक सांस्कृतिक महोत्सव के रूप में चक्रधर समारोह का आयोजन होते आ रहा है। तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे समिती के सदस्य ने बताया कि इस बार ऑडिटोरियम में ही कार्यक्रम संपन्न कराए जाएंगे और इसी के लिए सीईओ ने तैयारियों संबंधी जायजा लेकर निगम के अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। ताकि कलाकारों तथा दर्शकों को कोई दिक्कत न हो। 


Date : 18-Aug-2019

पानी पाऊच के लिए पंचायत से मांगी एनओसी फिर खोल दी कैमिकल फैक्ट्री- ग्रामीण

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 18 अगस्त।
देलारी में स्थापित गुरुश्री इंडस्ट्रीज सरकारी क़ायदे-कानूनों को दरकिनार कर संचालित की जा रही है। गांव के ग्रामीणों का सीधा आरोप है कि कंपनी के मालिक ने जब ग्राम पंचायत से एनओसी मांगा था तब पानी पाउच की फैक्ट्री खोलने की बात कही थी, लेकिन एनओसी मिल जाने के बाद केमिकल फैक्टरी खोले जाने से ग्रामवासियों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। 

कंपनी से निकलने वाले केमिकल और धुंए से कई प्रकार की गंभीर बीमारियां गांव में फैलने लगी है। ग्रामीणों ने बताया कि बच्चों को स्किन की बीमारी होने लगी है। साथ ही कंपनी द्वारा विषाक्त केमिकल छोड़ा जा रहा है। इससे कई एकड़ फसलें और सब्जियां नष्ट हो रही है। 

इधर पर्यावरण विभाग ने शिकायत के बाद जांच तो की है, लेकिन जांच प्रतिवेदन में सिर्फ फसल नुकसानी के मुआवजे की बात लिखी गई है। जबकि कागजों में गुरुश्री इंडस्ट्रीज चालू ही नहीं है, लेकिन कंपनी प्रबंधन द्वारा प्रोडक्शन किया जा रहा है। उसे लेकर जांच में आए अधिकारियों के द्वारा कुछ भी नहीं लिखे जाने की बात कही जा रही है। 

पर्यावरण विभाग की भूमिका है संदिग्ध  
बीते 12 जून को पर्यावरण विभाग ने कंपनी को बंद करने का आदेश दिया था। पर्यावरण विभाग के ही एक अधिकारी ने चर्चा के दौरान बताया कि इसके लिए बाकायदा पत्र लिखकर विद्युत मंडल को गुरुश्री इंडस्ट्रीज के विधुत कनेक्शन काटे जाने को कहा गया है, लेकिन आज पर्यन्त तक कंपनी में काम चल रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि जब पर्यावरण विभाग की टीम यहां जांच के लिए आई थी, तब भी काम यहां चालू था, लेकिन पर्यावरण विभाग की टीम ने जांच के दौरान महज खानापूर्ति की है। इस पूरे मसले पर जब पर्यावरण संरक्षण मंडल के आरके शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जो इंस्पेक्शन में गए थे उनसे बात कर लीजिए, मुझे इस मामले की ज्यादा जानकारी नहीं है।


Date : 18-Aug-2019

पेड़ों को राखी बांध पर्यावरण रक्षा का संकल्प 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 18 अगस्त।
जिले के तमनार ब्लॉक के मेहनत कश मजदूर किसान संगठन के तत्वावधान में हर साल की भांति इस वर्ष भी रक्षा बंधन मौके पर पेड़ों को रक्षा सूत्र बांध कर ग्रामीणों ने पर्यावरण बचाने का संकल्प लिया। 

देश मे यह अपने तरह का एक अलग कार्य है जिसे तमनार कोल् ब्लॉक प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों द्वारा किया जाता है। दरअसल कोल ब्लॉक और अन्य कल कारखानों के लिए बड़े पैमाने पर हरे भरे पेड़ों की कटाई की गई। नतीजा यह हुआ की क्षेत्र के पर्यावरण में तेजी से बदलाव हुआ। गारे पेलमा कोसमपाली सहित आस पास के ग्रामीण बड़ी संख्या में एकत्रित होकर हर साल पेड़ों को रक्षा सूत्र बांध कर उनकी रक्षा का संकल्प लेते हैं और पर्यावरण बचाने का संदेश देते हैं। 

इस दौरान कोयला सत्याग्रहियों ने पौधे भी रोपे। जिसमें हरिहर पटेल, देवमती राठिया, प्रफुल्ल पटनायक, सवितारथ, राजेश त्रिपाठी, सरस्वती पटनायक, गणेशवती, गुरुवारी राठिया, भगवती चौहान, गंगाबाई एंव मेहनतकश मजदूर किसान एकता संगठन गारे सभी साथियों ने हिस्सेदारी ली।


Date : 18-Aug-2019

स्वास्थ्य विभाग ने छापा मारकर पूंजीपथरा के निजी क्लीनिक में प्रतिबंधित की, दवाईयां जब्त 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 18 अगस्त।
पूंजीपथरा के एक क्लीनिक पर स्वास्थ्य विभाग ने छापा मारकर वहां से शासन द्वारा प्रतिबंधित दवाईयां जब्त की है। जिले के ग्रामीण अंचलों में चिकित्सा के नाम पर झोलाछाप डॉक्टर खुब फल फूल रहे हैं। शहरी क्षेत्र से बाहर होनें के कारण विभागीय अधिकारियों की इन पर नजर नहीं पड़ पाती जिसका ये लोग फायदा उठाते हैं, लेकिन अब स्वास्थ्य अमले ने ऐसे अवैध चिकित्सा सेवा का व्यवसाय करने वाले डॉक्टरों पर नकेल कसना शुरू कर दिया है। ताजा मामले में पूंजीपथरा के एक क्लीनिक पर स्वास्थ्य विभाग ने छापा मारकर वहां से शासन द्वारा प्रतिबंधित दवाईयां जब्त की है। 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रायगढ़ जिले के पूंजीपथरा थाने अंतर्गत पूंजीपथरा ग्राम के झोला छाप डॉ. अशोक गुप्ता के फर्जी क्लिनिक पर स्वास्थ्य अमले ने बड़ा छापा मारा है। छापे की कार्यवाही के बीच झोला छाप डाक्टर सेटिंग की जुगत में लगा है। गौरतलब हो कि पिछले कई वर्षों से यह व्यक्ति अवैध क्लिनिक का बेखौफ संचालन कर रहा था। इसके द्वारा क्षेत्र में प्रतिबंधित दवाओं और शासन के मुफ्त मिलने वाली दवाओं को ऊंची कीमत में बेचने की पूर्व में भी शिकायत हुई थी। जिसे वर्ष 2017 में जांच उपरांत सही पाए जाने के बाद तमनार बीएमओ डीएन पैंकरा व स्वास्थ्य अमले और पूंजीपथरा पुलिस ने कुछ दिनों के लिए बन्द करवा दिया था, लेकिन भ्रष्ट अमले से सेटिंग करके वापस अपनी अवैध क्लिनिक चालू कर ली। जिसकी लम्बे समय से शिकायत के बाद खबर है कि पुन: बीएमओ पैंकरा सहित स्वास्थ्य अमले ने छापामार कार्रवाही की है। 

 


Date : 18-Aug-2019
ईको फ्रेंडली एवं पर्यावरण प्रदूषण से मुक्त कागज से गणेश की प्रतिमा
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायगढ़, 18 अगस्त। रायगढ़ शहर के पैलेस रोड निवासी सीताराम देवांगन ईको फ्रेंडली एवं पर्यावरण प्रदूषण से मुक्त भगवान गणेश की मूर्ति बना रहे हैं। जो कि वजन में हल्का है और पानी में आसानी से घुल जाएगा। मूर्ति की मजबूती अन्य मूर्तियों से अधिक है तथा खंडित होने का डर नहीं है। साथ ही मूर्ति की खुबसूरती के लिए डॉयमंड वर्क किया गया है। इस मूर्ति को महिलाएं तथा बच्चे भी आसानी से उठा सकेंगे एवं विसर्जन कर सकेंगे।
 
गणेश चतुर्थी के अवसर पर शहर से लेकर गांव-कस्बों के मोहल्लों एवं घरों में जनसामान्य भगवान गणेश की स्थापना कर पूजा-अर्चना करते हैं। मूर्तिकार गणेश की मनमोहक मूर्ति बनाने के लिए रसायनिक रंगों और प्लास्टर ऑफ पेरिस का उपयोग करते थे। जिससे पर्यावरणीय खतरा बना रहता था और नदियों एवं तालाबों में विसर्जन होने के पश्चात पानी दूषित हो जाता था। जिसके कारण मछलियां भी मरती थी। राज्य सरकार द्वारा ऐसी मूर्तियों को रोक लगाने के लिए सख्त निर्देश दिए हंै। साथ ही पर्यावरण के अनुकूल तरीके से त्यौहार मनाने की आवश्यकता को बढ़ावा दे रहे हैं। सीताराम ने बताया कि कागज से बनायी गई गणपति जी की मूर्ति पहले पेपर को भीगा कर उसमें लगे स्याही को अलग किया गया तथा उसमें खाने का गोंद मिलाया गया। जिसे विजर्सन के पश्चात मछली उसे खा सकता है और कहीं भी किसी प्रकार से पर्यावरण प्रदूषण नहीं होगा।  
 
 

Previous123Next