छत्तीसगढ़ » राजनांदगांव

Previous12345Next
Posted Date : 22-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 22 मई। डीजल-पेट्रोल के  बढ़ते दाम के विरोध में आज जोगी कांग्रेस ने  ने विरोध प्रदर्शन करते  शहर अध्यक्ष मेहुल मारू के नेतृत्व में बाईक फूंकी।  कार्यकर्ताओं का आरोप है कि लगातार बढ़ रहे पेट्रोल और डीजल के दाम से दो पहिया वाहन समेत अन्य वाहने शो-पीस  बनकर रह गई है। केंद्र सरकार की खराब नीति के चलते आम लोग वाहन चलाने में सक्षम नहीं है।  रोजाना बढ़ रही कीमतें को रोकने में केंद्र सरकार नाकाम रही है। पुलिस ने मोटर साइकिल को किसी तरह से आग बचाया।  प्रदर्शन के दौरान कुबेर वैष्णव समेत बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।

  •  

Posted Date : 21-May-2018
  • डोंगरगढ़ वन परिक्षेत्र  
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 21 मई। डोंगरगढ़ क्षेत्र के मुढिय़ा मोहारा के कोटरी खार में आज सुबह डेढ़ दर्जन  बंदर मृत हालत में मिले। ग्रामीणों की सूचना पर वन महकमे ने मामले की जांच शुरू कर दी है। वहीं मोहारा पुलिस चौकी को भी घटना के संबंध में जानकारी दी गई है। मुढिय़ा मोहारा खैरागढ़ वन मंडल का भाग है। आशंका जताई जा रही है कि जहरीला पानी पीने से इनकी मौत हुई है।  
     वन रक्षक जितेन्द्र सिंह परिहार ने  बताया कि गांव के लोगों की सूचना के बाद घटनास्थल से वानरों के शव  को बरामद किया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत की वजह सामने आएगी। इधर ग्रामीणों ने संदेह जताया है कि घटनास्थल में बोर खनन किया गया है। जिसके चलते आसपास के जगहों पर पानी भरा हुआ है। 
    इधर आसपास के गांव में वानरों के बड़ी संख्या में मौत की घटना से ग्रामीण काफी गुस्साए हुए हैं। बताया जा रहा है कि  गांव के लोग मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग कर रहे हैं। घटना की सूचना के बाद डिप्टी रेंजर  गंगादास साहू भी मौके पर पहुंचे। उनके मुताबिक हैंडपंप के पास जानवरों के लिए पानी की व्यवस्था है। वहां का पानी पीने के बाद यह हादसा हुआ है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से वस्तुस्थिति का पता चलेगा।

  •  

Posted Date : 19-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 19 मई। नक्सलियों ने आज तड़के गढ़चिरौली में आलापल्ली के लाकूड डिपो को आग लगा दी। एक माह के भीतर इस  डिपो को फूंकने की दूसरी घटना है। वहीं आगजनी के बाद आलापल्ली रोड़ में नक्सल बैनर और पर्चे भी फेंके हैं। घटनास्थल आलापल्ली से करीब 12 किमी दूर है। 
      नक्सलियों ने  डिपो से करीब 2 किमी दूर एक मार्ग में पेड़ गिराकरआवाजाही  बंद कर दिया। गत् 12 मार्च को भी नक्सलियों ने  इसी डिपो को आग लगाई  थीा। घटनास्थल के करीब भाकपा (माओवादी) पेरमिली एरिया कमेटी ने बैनर लगाकर हाल ही में हुए पुलिस-नक्सल मुठभेड़ की आलोचना की है। 

  •  

Posted Date : 15-May-2018
  • मानपुर में गिरफ्तारी का विरोध, धरना दिया
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 15 मई। जिले के वनांचल मानपुर क्षेत्र में पत्थरगड़ी  को लेकर मंगलवार को सर्वआदिवासी समाज द्वारा आहुत आंदोलन को किसान संघ का समर्थन भी मिला। स्थानीय कलेक्टोरेट परिसर के सामने आयोजित धरना प्रदर्शन में सर्वआदिवासी समाज के विभिन्न वर्ग शामिल हुए। वहीं मानपुर क्षेत्र में सरजू टेकाम नामक आदिवासी की गिरफ्तारी का विरोध भी किया गया। 
    मानपुर इलाके में पिछले कुछ दिनों से पत्थरगड़ी  छाया हुआ है। आदिवासी समाज ने राज्य सरकार के पत्थरगड़ी आंदोलन को लेकर की जा रही कार्रवाई को लेकर नाराजगी जताई है। 
    आदिवासी समाज के नेताओं का कहना है कि भारतीय संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारों का सरकार खुद ही उल्लंघन कर रही है। जबकि प्रदत्त अधिकारों में जल, जंगल, जमीन को आदिवासियों की संपत्ति का अधिकार दिया गया है। मंगलवार दोपहर जिला कार्यालय के सामने ओवरब्रिज के नीचे सर्व आदिवासी व किसान संघ ने पत्थरगड़ी को लेकर अपनी आवाज बुलंद की।

  •  

Posted Date : 12-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 12 मई। डोंगरगढ़ क्षेत्र के पीटेपानी के एक ही परिवार के आधा दर्जन लोग विषाक्त भोजन से बीमार हो गए हैं। बीमार लोगों को राजनांदगांव सह-जिला अस्पताल मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। अस्पताल में दाखिल हुए लोगों में छह मासूम बच्चे समेत 2 महिलाएं शामिल हैं। सभी की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।
    बताया गया है कि शुक्रवार रात को भोजन करने के बाद सभी की तबियत बिगड़ गई। बीमार लोगों में मालती बाई 38 साल, पुष्पा बाई 28 साल, आरती 8 साल, हर्ष कुमार 6 साल, गीत कुमार 8 साल, दिलीप 7 साल, सुखउ 6 साल व प्रकाश लगभग 6 साल शामिल हैं। बताया जा रहा है कि भोजन में छिपकली गिर गई थी। विषाक्त भोजन के चलते सभी को उल्टियां शुरू हो गई। गंभीर हालत में सभी को देर रात राजनांदगांव के अस्पताल में भर्ती कराया गया।

  •  

Posted Date : 09-May-2018
  • नांदगांव के उत्तरी इलाके में माहभर में 5

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 09 मई। राजनांदगांव जिले में नक्सली निर्दोष ग्रामीणों का मौत के घाट उतार रहे हैं। बीती रात गंडई के सुकतारा गांव में  दो आदिवासी युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। 
    बताया जाता है कि गत् वर्ष 28 जून 2017 में गांव के बाहर हुए एक मुठभेड़ में पुलिस ने दो नक्सलियों को मार गिराया था। मारे गए नक्सलियों की शिनाख्ती बस्तर के नक्सली के रूप में हुई थी।  चर्चा है कि नक्सलियों ने  इस मुठभेड़ की जानकारी पुलिस को देने के आरोप में  दोनों को मार दिया।  नक्सल ऑपरेशन एएसपी वाईपी सिंह ने बताया कि कल रात 9 बजे गुमान सिंह 35 वर्ष और अशोक गोंड 36 वर्ष को गांव के चौक से उठाकर ले गए। उसके बाद दोनों की गोली मार दी।  गांव के बाहर आज सुबह दोनों  का शव मिला।  
      राजनांदगांव जिले के उत्तरी इलाके में नक्सली हर थोड़े दिन के अंतराल में ग्रामीणों को मार रहे हैं। करीब एक माह के भीतर पांच निर्दोष ग्रामीण नक्सलियों के शिकार बने हैं। गत् महीने दो अप्रैल को बोरला में दो, भावे में एक और बीती रात हुई घटना को मिलाकर पांच आदिवासी मारे जा चुके हैं। राजनांदगांव पुलिस ने निर्दोष आदिवासियों को मारे जाने की घटना को नक्सलियों की बौखलाहट करार दिया है। इधर नक्सलियों ने घटनास्थल पर पर्चे भी छोड़े हैं। जिसमें पुलिस मुखबिरों को चेतावनी दी है।  भारत कम्युनिष्ठ पार्टी माओवादी (पीपुल्स लिब्रेशन गोरिल्ला आर्मी) द्वारा पर्चे फेंके गए हैं। इसके अलावा  लाशों पर भी पर्चे लगाए गए हैं।

  •  

Posted Date : 08-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 8 मई। गढ़चिरौली गट्टा में बीती रात नक्सलियों ने वन महकमे में लगी दो ट्रकों को आग के हवाले कर दिया। वहीं नक्सलियों ने  10 मई को गढ़चिरौली बंद का ऐलान भी किया है। 
    मिली जानकारी के मुताबिक मूलचेरा पुलिस स्टेशन के गट्टा इलाके में नक्सलियों ने रात को दो ट्रक को आग के हवाले कर दिया। बताया गया है कि  बड़ी तादाद में हथियारबंद नक्सलियों ने वाहन चालक  को आधी रात को उठाया और उसे भगा दिया। थोड़ी देर में ही वन विभाग के कार्य में लगी ट्रक में आग लगा दी। इधर नक्सलियों ने आगामी 10 मई को गढ़चिरौली जिला बंद करने के लिए बैनर फेंके हैं। बैनर में सत्ताधारी भाजपा सरकार और मोदी समेत राज्य के मुख्यमंत्री की हरकतों को गैरवाजिब ठहराया है। 

  •  

Posted Date : 07-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 7 मई। डोंगरगढ़-मुरमुंदा मार्ग में आज सुबह पुलिस विभाग का  वाहन बेकाबू होकर पलट गया। हादसे में एक एएसआई समेत दो जवान जख्मी हुए हंै।  
    मिली जानकारी के अनुसार डोंगरगढ़ थाने में पदस्थ एएसआई बिनिया चालक शिव वर्मा समेत एक जवान के साथ मुरमुंदा की ओर जा रहे थे। इसी बीच सुमो सीधे डिवाईडर से टकराकर पलट गई। बताया जाता है कि एएसआई  और जवान वारंट तामिल करने के लिए सुबह पारागांव जा रहे थे। मुरमुंदा से कुृछ दूर पहले एकाएक वाहन लहराने लगी और सीधे डिवाइडर से टकराकर पलट गई।
     डोंगरगढ़ एसडीओपी एमएस चंद्रा ने बताया कि हादसे में घायल तीनों पुलिसकर्मी की स्थिति सामान्य है। बताया जाता है कि राज्य सरकार ने कुछ दिन पहले ही नई सुमो डोंगरगढ़ थाने को दी थीं। उक्त वाहन आज सुबह क्षतिग्रस्त हो गई। घायलों का डोंगरगढ़ में उपचार जारी है।

     

  •  

Posted Date : 06-May-2018
  • गोलीबारी में जोगी कांग्रेस नेता भी जख्मी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 6 मई। नेशनल हाईवे स्थित सड़क बंजारी में बीती रात नक्सलियों की स्माल एक्शन टीम के हमले में राजनांदगांव पुलिस का एक जवान शहीद हो गया। हमले में जोगी कांग्रेस के जिला महामंत्री बृजभान मंडावी भी जख्मी हुए हैं। शहीद जवान पूर्व में नक्सली रहा है। आत्मसमर्पण के बाद उसे सरकार ने आरक्षक पद पर करीब दो साल पहले पदस्थ किया था। रविवार दोपहर स्थानीय पुलिस लाइन में शहीद जवान के शव को राजकीय सम्मान के साथ सलामी दी गई। 
     जिला पुलिस बल का आरक्षक गणेश्वर उईके उर्फ गणेशु उर्फ रवि अपने चचेरे भाई की शादी समारोह में शामिल होने के लिए कल सड़क बंजारी गया था। रात लगभग 11.30 बजे ग्रामीण वेशभूषा में तीन नक्सली समारोह स्थल में पहुंचे और वहां फायरिंग कर दी। गणेश्वर को तीन गोली लगी थी। उसे छुरिया सामुदायिक अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 
    नक्सलियों द्वारा की गई फायरिंग में जोगी कांग्रेस के नेता बृजभान मंडावी भी जख्मी हो गए। उसे  हाथ में गोली लगी है। बताया गया कि गणेश्वर करीब 15 दिनों की छुट्टी में घर आया था। वह लंबे समय से नक्सलियों की हेट लिस्ट में था। गणेश्वर की मौजूदगी की भनक नक्सलियों तक पहुंच गई थी। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि नक्सलियों की स्माल एक्शन टीम विवाह स्थल के प्रत्येक गतिविधियों पर नजर रखी हुए थी और मौका मिलते ही घटना को अंजाम दे दिया। 
    बताया गया कि मई 2011 में दर्रेकसा दलम के कमांडर के रूप में गणेश्वर ने हथियार समेत आत्मसर्पण कर राजनांदगांव जिले में नक्सलियों के मुख्य धारा में लौटने का मार्ग प्रशस्त किया था। आत्मसर्पण करने के बाद से वह महकमे के आलाधिकारियों की निगाह में बेहतर कार्य कर रहा था। उससे मिली सूचनाओं के आधार पर पुलिस को कई अहम जानकारियां मिली थी। दो साल पहले उसके उत्कृष्ठ कार्य को देखते हुए महकमे में आरक्षक बना दिया गया था। उसके बाद से वह पूरे दमखम के साथ अफसरों को नक्सल गतिविधि की पुख्ता जानकारी दे रहा था। 
    छुरिया के बम्हनीचारभाठा का रहने वाला उक्त जवान 2006 में नक्सली बन गया था। बताया जाता है कि अवैध शराब के एक मामले से बचने के लिए वह नक्सली बन गया था। इस बीच नेशनल हाईवे में करीब दो साल बाद एक और पुलिस कर्मी को नक्सलियों ने निशाना बनाया है। 2016 के आखिरी में बाघनदी थाना के एएसआई नरबद बोगा को भी नक्सलियों ने हाईवे पर ही मार दिया था। इसी तरह 2016 के अगस्त महीने में नक्सलियों ने लालसू नामक आत्मसर्पित नक्सली को मानपुर क्षेत्र में मार दिया था। 
    रविवार दोपहर स्थानीय पुलिस लाइन में शहीद जवान के शव को राजकीय सम्मान के साथ सलामी दी गई। इस दौरान पूर्व मंत्री लीलाराम भोजवानी, बीस सूत्रीय क्रियान्वयन समिति उपाध्यक्ष खुबचंद पारख, महापौर मधुसूदन यादव, छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के जिलाध्यक्ष जरनैल सिंह भाटिया, शहर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश शर्मा व एसपी प्रशांत अग्रवाल समेत अन्य नेतागण तथा पुलिस महकमे के जवान शामिल थे।

  •  

Posted Date : 06-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 6 मई। छुरिया वन परिक्षेत्र के गोपालपुर जंगल में रविवार सुबह तेन्दूपत्ता तोड़ाई कर रहे मजदूरों पर एक जंगली सुअर ने हमला कर दिया। हमले में एक महिला की मौत हो गई, वहीं पांच जख्मी हो गए। घायल में एक 14 साल का बालक भी शामिल है। 
    मिली जानकारी के मुताबिक आज सुबह करीब 6 बजे बीट क्रमांक 650 में मजदूर तेन्दूपत्ता तोड़ रहे थे। इसी बीच एक जंगली सूअर ने उन पर हमला कर दिया। हादसे में राजबाई कंवर (54) की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पांच मजदूर बुरी तरह घायल हो गए। घायलों में दो को राजनांदगांव रिफर किया गया है, जबकि तीन श्रमिकों का छुरिया के सरकारी अस्पताल में उपचार चल रहा है। 
    मिली जानकारी के मुताबिक घायलों में 14 साल का तुलेश्वर लोहार, चित्रलेखा कंवर, महेश्वरी, कमला वर्मा और उमेदी राम नाम शामिल हैं।
    राजनांदगांव वन मंडल डीएफओ मो. शाहिद ने 'छत्तीसगढ़Ó को बताया कि घटना की जानकारी मिलने के बाद श्रमिकों को आर्थिक सहायता दी जाएगी। वहीं बेहतर उपचार कराने के निर्देश दिए गए हैं। डीएफओ के मुताबिक वाइल्ड लाईन अधिनियम के तहत मृतक को चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। साथ ही तेन्दूपत्ता तोड़ाई के दौरान बीमा का भी लाभ मिलेगा। घायलों को वन विभाग की ओर से तत्काल आर्थिक सहायता भी दी गई है।

  •  

Posted Date : 05-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 5 मई। गढ़चिरौली में नक्सलियों ने आदिवासी युवक की बीती रात गोली मारकर हत्या कर दी है। घटनास्थल राजनांदगांव जिले से सटे धनोरा इलाके की है। 
    मिली जानकारी के अनुसार चातगांव पुलिस चौकी के होरेकसा गांव के पांडुरंग गांडो को  बीती रात लगभग 12 बजे हथियारबंद नक्सली घर से उठाकर ले गए। गांव से कुछ दूर ले जाकर नक्सलियों ने उसे गोली मार दी।  
    नक्सलियों को उस पर पुलिस मुखबिर का शक था। इधर पुलिस ने मृतक से किसी भी तरह का संपर्क नहीं होने का दावा किया है। बताया जाता है कि घर से ले जाने के दौरान मृतक की पत्नी और बच्चे सो रहे थे। आज सुबह गांव के बाहर ग्रामीण का शव पाया गया।

  •  

Posted Date : 05-May-2018
  •  नांदगांव शहर अध्यक्ष पद यथावत
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 5 मई। जोगी कांग्रेस में मचे सांगठनिक घमासान के बीच पखवाड़े भर पहले पार्टी से बेदखल शहर अध्यक्ष मेहुल मारू की संगठन में वापसी हो गई है। महत्वपूर्ण बात यह है कि मेहुल की न सिर्फ पार्टी में वापसी हुई, बल्कि वह राजनांदगांव शहर अध्यक्ष के रूप में बने रहेंगे। बताया जाता है कि पूर्व मुख्यमंत्री व पार्टी प्रमुख अजीत जोगी ने मेहुल की वापसी के साथ शहर अध्यक्ष की कमान भी सौंपी है। श्री मारू के वापस पार्टी में आने से उनके समर्थकों में खुशी की लहर है। 
    बताया जाता है कि मारू की वापसी के लिए राजधानी रायपुर के कई दिग्गज भी जोर लगा रहे थे। गत् महीने 23 अप्रैल को मारू को एकाएक संगठन से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। बताया जाता है कि जिलाध्यक्ष जरनैल सिंह भाटिया के साथ अनबन होने तथा किसी मामले में तू-तू ,मैं-मैं होने के कारण संगठन से उनकी छुट्टी कर दी गई थी। चर्चा है कि दोनों ही संगठन में समानांतर राजनीति करने की फिराक में थे। इससे कार्यकर्ता पेशोपेश में थे।
     जिलाध्यक्ष भाटिया और मेहुल आपस में कभी भी सहज नहीं रहे। दोनों के बीच बढ़ते टकराव के चलते संगठन में  दो केंद्र बन गए थे। बताया जाता है कि शहर अध्यक्ष के रूप में मेहुल की कार्यशैली को लेकर भाटिया नाखुश थे। मेहुल समर्थक भाटिया के आदेशों को लेकर गंभीर नहीं थे। इस बीच मेहुल को भाटिया की शिकायत के बाद बाहर कर दिया गया था।  
    अपनी वापसी पर श्री मारू ने 'छत्तीसगढ़Ó को बताया कि मेरे मार्गदर्शक  अजीत जोगी एवं अमित जोगी सहित अनुशासन समिति, पार्टी कोर कमेटी के सभी सदस्यों और मुझे प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से संबल प्रदान कर, मेरा मनोबल बढ़ाने वाले जिले व प्रदेश के सभी सहयोगी दोस्तों का जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ में पुन: वापसी होने पर ह्रदय से आभारी हूं। 
    निर्णय शिरोधार्य -भाटिया
     जिलाध्यक्ष श्री भाटिया ने मारू की वापसी को पार्टी नेतृत्व का फैसला करार देते स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी के निर्णय का पालन किया जाएगा। श्री भाटिया ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निर्णय को शिरोधार्य बताते कहा कि संगठन को सशक्त बनाने के लिए यह निर्णय आलाकमान ने लिया है।
    वापसी के कारणों पर चर्चाएं चल रही हैं। सूत्रों के मुताबिक मेहुल राजनांदगांव में पार्टी का एक बड़ा चेहरा है। उनके ज्यादा समर्थकों के कारण फायदा पार्टी को मिलेगा। राजनांदगांव लोकसभा यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष रह चुके मेहुल को चुनावी अनुभव भी ज्यादा है। मेहल मारू जोगी के काफी करीबी माने जाते रहे हैं।  इनके संबंधों का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि  मारू के लिए अजीत जोगी ने सौ गाडिय़ों का काफिला लेकर आंदोलन भी किया था। ज्ञात हो कि पखवाड़े भर पहले  पहले जोगी कांग्रेस की कोर कमेटी की बैठक के बाद आधी रात मेहूल  को  हटा दिया गया था। उन पर कार्रवाई करते समय यह दलील दी जा रही थी कि  उनके खिलाफ लगातार शिकायतें मिल रही थीं कि पार्टी के पदाधिकारियों के साथ बदसलूकी से बात की जाती रही है। जिससे पार्टी को नुकसान हो रहा था।

  •  

Posted Date : 02-May-2018
  • 4 लाख की ईनामी महिला नक्सली तेलंगाना में रहते उप कमांडर रही
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 2 मई। बस्तर की एक महिला नक्सली ने बुधवार को गढ़चिरौली पुलिस के समक्ष आत्मसर्मपण किया है। एसपी डॉ. अभिनव देशमुख के सामने बीजापुर की रहने वाली ज्योति उर्फ रवीना जोगा ने मुख्यधारा में लौटने के लिए समर्पण किया है। हाल ही में तांडगांव जंगल में ऐतिहासिक मुठभेड़ में 39 नक्सलियों को ढेर करने के बाद गढ़चिरौली पुलिस को समर्पण का पहला मौका मिला है। मिली जानकारी के मुताबिक ज्योति ने माओवादियों के लिए लगभग 10 वर्ष तक काम किया है। वर्ष 2009 में भोपालपट्टम दलम में शामिल हुई 26 वर्षीय ज्योति ने तेलंगाना में भी कार्य किया। उसके बाद उसे मंगी दलम का उप कमांडर भी नियुक्त किया था। ज्योति पुराने नक्सल कैडर में से एक है। उसके मुख्यधारा में वापस आने से नक्सल अभियान में पुलिस को मदद भी मिलेगी। इधर साल 2018 में गढ़चिरौली के पास 9 नक्सलियों ने सर्मपण किया है। आला अफसरों का कहना है कि नक्सलियों की दोहरी नीति की वजह से सरेंडर हो रहे हैं।

    महिला नक्सली गिरफ्तार 

     छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बीजापुर, 2 मई। बीजापुर जिले के मिरतुर थाना क्षेत्र से आज पुलिस ने वारंटी महिला नक्सली कडय़ामी दसरी को गिरफ्तार किया है। सूचना पर जिला बल व सीआरपीएफ की संयुक्त टुकड़ी इस इलाके में निकली थी। 
    जैसे ही जवानों की टीम तालनार, कोडोली के आगे बढ़ी तो उन्हें देख एक महिला भागने की कोशिश करने लगी। जवानों ने भी घेराबंदी कर महिला को पकड़ा और पूछताछ की तो उसने नक्सलियों से संपर्क होने की बात मानी।

     

  •  

Posted Date : 27-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 27 अप्रैल। गोंदिया पुलिस के साथ मुठभेड़ में दो नक्सलियों के बुरी तरह जख्मी होने की खबर है।  उक्त घटना गढ़चिरौली-गोंदिया के सीमा पर हुई है। यह इलाका घनघोर नक्सल क्षेत्र माना जाता है। साथ ही राजनांदगांव के छुरिया थाना क्षेत्र से घटनास्थल सटा हुआ है। 
    केसूरी थाना के अंतर्गत महाल घाट में नक्सली-पुलिस के बीच 25 अप्रैल की शाम को मुठभेड़ हुई।  गोंदिया एसपी डॉ. प्रदीप भुजबल न बताया कि नक्सलियों की ओर से फायरिंग के जवाब में सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई की। एसपी के मुताबिक दो नक्सली बुरी तरह से जख्मी हुए हैं। 

  •  

Posted Date : 26-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 25 अप्रैल। गढ़चिरौली के ताडगांव जंगल में हुए मुठभेड़ में पुलिस के हाथों मारे गए दो नक्सलियों के शव पूर्वी इंद्रावती नदी में घटना के चार दिन बाद तैरती मिली।  दोनों शव वर्दीधारी नक्सलियों के हैं। गढ़चिरौली पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान कुछ नक्सलियों के इंद्रावती नदी में छलांग लगाने की आशंका जताई थी। फोर्स से बचने के लिए कुछ नक्सलियों ने नदी में कूदकर जान बचाने की कोशिश की थी।
     पुलिस पीआरओ प्रशांत दिवाते ने 'छत्तीसगढ़Ó को बताया कि  दोनों शवों में गोली के निशान मिले हंै। घायल होने के बाद दोनों नक्सली जान बचाने के लिए पानी में कूद गए।  इस बीच इस बीच ताडगांव मुठभेड़ में मार गए नक्सलियों की संख्या अब अधिकृत रूप से 39 तक पहुंच गई है। गढ़चिरौली पुलिस का आसपास के इलाके में अब भी सर्चिंग अभियान जारी है।  मुठभेड़ के दौरान नक्सलियों से लोहा लेने वाले जवानों को महाराष्ट्र सरकार जहां नगद इनाम  के साथ आऊट ऑफ टर्न प्रमोशन देकर पुुरस्कृत भी किया जाएगा। 
    उधर मुठभेड़ में कई कुछ बड़े नेताओं के मारे जाने की खबर की पुलिस पुख्ता तौर पर जानकारी बटोर रही है। बताया जाता है कि बस्तर के कई ईनामी नक्सलियों का भी मुठभेड़ में सफाया होने की गढ़चिरौली पुलिस का दावा है।  

    नांदगांव में युवक की नक्सल हत्या
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 26 अप्रैल। राजनांदगांव-बालाघाट सीमा पर बीती रात नक्सलियों ने मुखबिरी का आरोप लगाते हुए एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी।   
    पुलिस के मुताबिक ग्राम भावे का 35 वर्षीय  लामूराम सिरशाम को कल आधी रात  नक्सली अपने साथ उठा ले गए। उसके बाद गांव के बाहर उसे गोली मार दी। आज सुबह ग्रामीणों ने युवक के शव को गांव के बाहर देखा। 
    बताया गया है कि रात को ग्रामीणों को गोली चलने की आवाज आई थी। यह भी खबर है कि मृतक को नक्सली समर्थक माना जाता था। इस वजह से गांव की ओर से उसे ले जाने का विरोध नहीं हुआ।  

  •  

Posted Date : 24-Apr-2018
  • ताडग़ांव जंगल से 16 के बाद पुलिस को मिले 11 और नक्सल शव, कल शाम 6 और ढेर

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 24 अप्रैल। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले के भामरागढ़ के ताडग़ांव जंगल में तीन दिन पहले रविवार को पुलिस के हाथों ढेर हुए नक्सलियों की तादाद 16 से सीधे 27 पहुंच गई है। 
    पुलिस को मुठभेड़ स्थल में मंगलवार को 11 और नक्सल शव मिले हंै। इधर महाराष्ट्र पुलिस के जवानों ने नक्सल सफाए में एक दूसरी सफलता में सोमवार देर शाम को 6 और नक्सलियों को मार गिराया है। तीन दिन के भीतर सुरक्षाबलों ने 33 नक्सलियों को ढेर कर दिया है। 
    घटना की पुष्टि करते पुलिस पीआरओ प्रशांत दिवाते ने 'छत्तीसगढ़Ó को बताया कि ताडग़ांव के जंगल में मंगलवार सुबह 11 और नक्सल शव मिले हैं। यह आंकड़ा अब कुल 27 तक पहुंच गया है। बरामद शव की शिनाख्त की जा रही है। 
    इधर अहेरी पुलिस डिवीजन के राजाराम खदान में सी-60 फोर्स ने एक बार फिर कामयाबी हासिल करते कल देर शाम को 6 नक्सलियों को मार गिराया। मारे गए नक्सलियों में 4 महिला और 2 पुरूष शामिल हैं। बताया गया है कि पुलिस को अहेरी दलम कमांडर नंदू उर्फ वासुदेव, विक्रम आतराम और उसकी पत्नी लता वडेचा समेत 6 के शव मिले हंै।
     घटनास्थल से पुलिस को एक इंसास, एक एसएलआर समेत अन्य हथियार मिले हंै। इस बीच गढ़चिरौली पुलिस का छत्तीसगढ़-तेलंगाना के सरहद में नक्सल अभियान तेजी से चल रहा है। पुलिस पुख्ता सूचना के आधार पर नक्सलियों को घेरकर मार रही है। 

     

  •  

Posted Date : 23-Apr-2018
  • प्रदीप मेश्राम
    राजनांदगांव, 23 अप्रैल (छत्तीसगढ़ )। छत्तीसगढ़-तेलगांना की सीमा के करीब गढ़चिरोली में रविवार को मारे गए 16 नक्सलियों में से 13 की शिनाख्त हो गई है इनमें से 2 छत्तीसगढ़, 1 तेलंगाना और 10 गढ़चिरौली के हैं। मारे गए नक्सलियों में ज्यादातर पुराने कैडर के हंै।  इन 13 पर 76 लाख का इनाम था।
    गढ़चिरौली पुलिस के अनुसार मारे गए नक्सलियों में दो छत्तीसगढ़ के हैं। इनमें से एक को कांकेर जिले के बांदे निवासी श्रीकांत उर्फ दुलासा और दूसरे को बीजापुर जिले के गंगालूर निवासी शांता उर्फ मंगनी बताया गया है।
     गढ़चिरौली में इस साल पहली बार सुरक्षाबलों ने एक साथ 16 नक्सलियों को मारने का नया रिकार्ड बनाया है। पुलिस को मिले शवों  में 7 महिला नक्सली भी  हंै। सबसे पहले इनमें सिर्फ दो की शिनाख्ती हुई थी। जिसमें एक सीनू और सांईनाथ शामिल हैं। बताया जाता है कि गढ़चिरौली पुलिस शेष नक्सलियों के पृष्ठभूमि को लेकर पतासाजी में जुट गई थी।
     इस संबंध में पुलिस पीआरओ प्रशांत दिवाते ने 'छत्तीसगढ़Ó को बताया कि तीन की  पहचान की प्रक्रिया जारी है।  सीमावर्ती राज्यों के गांवों में मुनादी कराकर शिनाख्ती की जा रही है। 
    वहीं आधुनिक हथियारों का जखीरा बरामद किया गया है। मारे गए नक्सलियों से एके-47, इंसास और एसएलआर जैसे अत्याधुनिक हथियार में भी जब्त किए हंै। बताया गया है कि ज्यादातर हथियार पुलिस से लूटे गए हंै। करीब चार माह पहले भी गढ़चिरौली पुलिस ने पहली बार 7 नक्सलियों को निशाना बनाया था।

    सुकमा में आधा दर्जन नक्सली ढेर
     छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 23 अप्रैल। सुकमा जिले के चांदामेट में कल मुठभेड़ में करीब आधा दर्जन नक्सलियों को मार गिराने का दावा पुलिस ने किया है।   एसपी अभिषेक मीणा का दावा है कि लगभग घंटे भर तक मुठभेड़ चलती रही। इनमें 5-6 नक्सलियों को गोली लगी है और वे तेजी से ओडिशा मलकानगिरी की ओर भाग निकले। पुलिस पार्टी नक्सलियों का पीछा कर रही है। इसमें पुलिस को भारी तादाद में नक्सल साहित्य मिले हैं।

    कांकेर में बीएसएफ जवान जख्मी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    कांकेर, 23 अप्रैल। कांकेर जिले के प्रतापपुर थानाक्षेत्र में आज सुबह नक्सल मुठभेड़ में बीएसएफ का एक जवान जख्मी हो गया। बताया गया कि नियमित गश्त के दौरान प्रतापपुर-मोहलापारा के बीच आधे घंटे तक गोलीबारी होती रही। इस दौरान बीएसएफ के एक जवान को गोली लगी है। 

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 22 अप्रैल। गढ़चिरौली पुलिस को  नक्सल मोर्चे में लंबे समय बाद रविवार को बड़ी कामयाबी मिली है।  सुरक्षा बलों ने 14 नक्सलियों को मार गिराया है। सभी शवों को जिला मुख्यालय गढ़चिरौली लाया जा रहा है। मृतकों में नक्सल नेता साईनाथ और सिनू भी शामिल हैं।
    मिली जानकारी के मुताबिक आज सुबह लगभग 8 बजे भामरागढ़ पुलिस डिवीजन के तारगांव के जंगल में गढ़चिरौली पुलिस की सी-60 फोर्स गश्त करने निकली थी। इसी दौरान नक्सलियों से फोर्स का आमना-सामना हो गया। पुलिस का कहना है कि फोर्स को देखते नक्सलियों ने फायरिंग की। जवाबी कार्रवाई में जवानों ने मोर्चा सम्हालते गोली-बारी की। करीब दो घंटे की फायरिंग के बाद नक्सली भाग खड़े हुए। घटनास्थल का मुआयना करने के बाद कुल हथियार समेत 14 नक्सलियों के शव मिले हैं।  फिलहाल नक्सलियों के शव को बरामद करने के बाद पुलिस नक्सलियों की शिनाख्ती करने में जुटी है।

     

  •  

Posted Date : 20-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 20 अप्रैल। नांदगांव के पूर्व महापौर विजय पांडेय का गुरुवार शाम चेन्नई में निधन हो गया। वे लंबे समय से लीवर की बीमारी से पीडि़त थे। और उनका रायपुर रामकृष्ण अस्पताल में इलाज चल रहा था। उन्हें बेहतर उपचार के लिए चेन्नई भेजा गया था। अपरान्ह 4 बजे के पश्चात उनकी अंतिम यात्रा उनके निवास से निकाली जाएगी। 

    उनका पार्थिव शरीर आज सुबह चेन्नई से उनके निवास जूनीहटरी लाया गया। जहां अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है। उनके निवास में उनका श्री पांडेय के दर्शन के लिए परिजनों के अलावा शहर के गणमान्य नागरिकों समेत अन्य लोग पहुंच रहे हैं। अंत्येष्ठि  में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह समेत भाजपा व कांग्रेस नेताओं के अलावा जिलेभर के अन्य लोग भी शामिल होंगे।

  •  

Posted Date : 13-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 13 अप्रैल। राज्य वित्त आयोग के पूर्व अध्यक्ष विरेन्द्र पाण्डेय ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निर्वाचन क्षेत्र नांदगांव से चुनाव लडऩे का ऐलान किया गया है।  श्री पाण्डेय ने पत्रकारवार्ता में अपने चुनाव लडऩे के विषयों को लेकर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस-भाजपा से उनका कोई लेना-देना नहीं है। 
    उनका चुनाव लडऩा   मुख्यमंत्री को हराने पर केन्द्रित है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के 14 साल की सत्ता में भ्रष्टाचार, अफसरशाही पर आवाज उठाई है। 
    श्री पाण्डेय के नांदगांव से चुनाव लडऩे पर यहां त्रिकोणीय संघर्ष के आसार दिख रहे हैं। इससे पहले अजीत जोगी भी नांदगांव से चुनाव लडऩे की घोषणा कर चुके हैं। 

  •  



Previous12345Next