छत्तीसगढ़ » राजनांदगांव

Previous123456789...6162Next
12-Apr-2021 2:47 PM 14

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 12 अप्रैल।
छुरिया विकासखंड के अंतर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र गैंदाटोला में ग्राम सीताकसा की 98 वर्षीय बुजुर्ग सुरूजबाई साहू ने कोरोना वैक्सीन लगवाई। कोरोना से बचाव के लिए बड़ी संख्या में ग्रामवासी कोरोना वैक्सीनेशन करवा रहे हैं। बुजुर्गों में वेक्सीनेशन के प्रति जागरूकता बढ़ी है। शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना सुरक्षा के लिए नागरिक लगातार कोरोना वैक्सीन लगवा रहे हैं।


12-Apr-2021 1:44 PM 43

मानवता दिखाते महाराष्ट्र पुलिस ने घायल नक्सली का नागपुर में कराया इलाज, काटना पड़ा दाहिना पैर

प्रदीप मेश्राम
राजनांदगांव, 12 अप्रैल (‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता)।
महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में करीब पखवाड़ेभर पहले पुलिस के साथ हुए मुठभेड़ के बाद एक डीवीसी स्तर के मेम्बर को नक्सली जख्मी हालत में मरने छोड़ भाग खड़े हुए। दरअसल नक्सलियों का 29 मार्च को गढ़चिरौली के खोब्रामेढा जंगल में  पुलिस से मुठभेड़ हुआ था। इस मुठभेड़ में गढ़चिरौली के सी-60 फोर्स के जवानों ने 5 नक्सलियों को मार गिराया था। पुलिस के पास अंदरूनी सूचना थी कि मुठभेड़ में कुछ नक्सली घायल हुए हैं। खोब्रामेढ़ा के जंगल में हुई मुठभेड़ के बाद जख्मी नक्सलियों की पतासाजी के लिए पुलिस सूचनाओं के आधार पर आसपास के इलाकों में सर्चिंग अभियान चला रही थी। इसी बीच 6 अप्रैल को कटेझरी गांव के ग्रामीण गणेश कोले के घर पुलिस को टीपागढ़ दलम के डीवीसी मेम्बर किशोर कवड़ो उर्फ गोंगलू के घायल हालत में मौजूदगी की खबर मिली। 

बताया जाता है कि पुलिस ने ग्रामीण के घर धावा बोलकर डीवीसी मेम्बर किशोर को हिरासत में लिया।  उक्त ग्रामीण नक्सलियों का कट्टर समर्थक माना जाता है। पुलिस ने ग्रामीण के खिलाफ भी कार्रवाई की है। मुठभेड़ में डीवीसी मेम्बर के दाहिने पैर में गोली लगी थी। घायल हालत में वह चोरी-छुपे गांव में ही इलाज करा रहा था। समुचित इलाज नहीं होने के कारण उसके पैर में संक्रमण फैल गया। पुलिस ने हिरासत में लेने के बाद उसे नागपुर में उपचारार्थ भर्ती किया गया। संक्रमण होने के चलते चिकित्सकों को उसके पैर को काटना पड़ा। 

बताया जा रहा है कि किशोर गढ़चिरौली के ही एटापल्ली का रहने वाला है। नक्सल मामलों में वह काफी वांछित रहा है। उस पर 16 लाख रुपए का ईनाम घोषित था। इसके अलावा 22 मुठभेड़ में वह प्रत्यक्ष रुप से शामिल रहा है। साथ ही 8 लोगों की हत्या में भी वह शामिल रहा है। बताया जा रहा है कि गढ़चिरौली पुलिस ने मानवता का परिचय देते हुए उसकी जान बचाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी। इस बीच नक्सलियों द्वारा डीवीसी स्तर के साथी को घायल हालत में छोडक़र चले जाने से भी नक्सलियों की दोहरी नीति का पर्दाफाश हुआ है। 

इस संबंध में गढ़चिरौली डीआईजी संदीप पाटिल ने ‘छत्तीसगढ़’ से कहा कि पुलिस ने घायल नक्सली को नागपुर स्थित एक हायर मेडिकल सेंटर में भर्ती कराया है। उसकी हालत अब खतरे से बाहर है। डीआईजी पाटिल ने घायल साथी को छोडक़र भागने को नक्सलियों का असली चेहरा करार दिया है। उनका कहना है कि लोगों को यह बात समझनी होगी। नक्सली अपने ही साथियों को मरने के लिए छोड़ रहे हैं।


12-Apr-2021 12:45 PM 20

    निगम के 4 कर्मी दिन-रात जला रहे शव    
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 12 अप्रैल।
अप्रैल का गुजरा 10 दिन कोरोना मौतों के लिहाज से भयानक साबित हो रहा है। कोरोना के तांडव से मौत की संख्या में बेतहाशा इजाफा हो रहा है। राजनांदगांव शहर के इकलौते कोरोना शमशान घाट में बीते 10 दिनों के भीतर 62  लोगों कोरोना की चिताएं जली है। शमशाम घाट की स्थिति है कि चिता जलाने के लिए 24 घंटे का समय भी कम पड़ रहा है। नगर निगम के 4 कर्मचारी इन गुजरे दिनों में ढेरों शव को मुखाग्नि दे चुके हैं। 
अप्रैल के दूसरे सप्ताह का रविवार भयानक ही दर्दनाक गुजरा है। कल रविवार को एकमुश्त 17 शवों की अंत्येष्टि करनी पड़ी। वहीं 10 दिनों के भीतर 45 लोगों को चिता में लेटाकर मुखाग्नि दी गई। अप्रैल के 10 दिन के भीतर हर दिन 6 मौतें हुई है। बताया जा रहा है कि गोकुल नगर स्थित मुक्तिधाम में शवों को जलाने के लिए लंबी कतारें भी लग रही है। 4 कर्मचारी सुबह 10 बजे से रात तक चिताओं को जलाने के काम में जुटे हुए हैं। पिछले दो-तीन दिनों के भीतर रोजाना 10 से अधिक हुई मौत के कारण चिता को ठंडा होने का भी मौका नहीं मिल रहा है। चिताओं के ठंडा होने के इंतजार में दूसरे शवों को जलाने का मौका नहीं मिलता, इसलिए शमशान घाट में बने शेड में जगह की कमी होने के कारण चिताओं को बाहर जलाया जा रहा है। 

इधर मौतों के आंकडों को लेकर स्थिति भी दयनीय है। सरकारी और निजी अस्पताल आंकड़ों को छुपा रहे हैं। गोकुलनगर शमशान घाट में न सिर्फ नांदगांव शहर के बल्कि ग्रामीण इलाकों के शवों को भी जलाया जा रहा है। इससे स्पष्ट है कि शमशान घाट में काफी दबाव है। 

निगम कर्मियों के ड्यूटी में आने का वक्त तय है, लेकिन दर्जनों चिता जलाए जाने के कारण उनकी घर वापसी का समय तय नहीं है। इस संबंध में  ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा करते निगम कर्मी आशीष यादव ने बताया कि अप्रैल के हर दिन चिताओं की संख्या में आश्चर्यजनक रूप से बढ़ोत्तरी हो रही है। एक शव को जलाने के बाद चिता को ठंडा होने में कम से कम दो दिन का वक्त लगता है। समुचित दाहसंस्कार करने से ही शव राख में बदलती है। यहां स्थिति ऐसी है कि शवों को जलाने के लिए कतारें लगी हुई है। इस बीच  राजनांदगांव जिले में जिस तरह से कोरोना मौतें हो रही है उससे मृतकों की गिनती करना भी संभव नहीं दिख रहा है। 

बताया जा रहा है कि जिले में हालात बिगडऩे के पीछे तय समय पर जांच नहीं कराना भी है। जांच नहीं कराने से लोग अब हालात में सुधार नहीं आने के बाद लोग कोविड-19 अस्पताल में दाखिला के लिए चक्कर लगा रहे हैं। इसी दौरान कोरोना वायरस अपनी मारक क्षमता से लोगों की जान ले रहा है। राजनांदगांव के शमशान घाट की स्थिति को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह वैश्विक महामारी कोहराम मचा रही है। निगमकर्मी पीपी किट से लैस होकर अपने परिचत और गैर परिचित लोगों का दाह संस्कार कर रहे हैं। चिता जलाने वाले कर्मचारी भी अब कोरोना मौतों के सिलसिले को थमता देखना चाहते हैं।


11-Apr-2021 10:20 PM 12

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
शासकीय कमलादेवी राठी स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय राजनांदगांव में छात्राओं के लिए विवाह पूर्व परामर्श कार्यक्रम का आयोजन गत् दिनों को ऑनलाइन किया गया।

 कार्यक्रम का शुभारंभ करते प्राचार्य डॉ. सुमन सिंह बघेल ने विवाह पूर्व परामर्श के महत्व पर प्रकाश डालते कहा कि महिला महाविद्यालय में इस प्रकार के कार्यक्रम की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। छात्राओं को इस कार्यक्रम में बढ़-चढक़र भाग लेना चाहिए। कार्यक्रम में 22 छात्राओं ने भाग लिया और विवाह से संबंधित आशंकाओं का समाधान प्राप्त किया।  छात्राओं ने प्रश्न किया कि क्या बच्चे होने के बाद शादीशुदा जीवन में कोई अंतर आता है? प्रेम विवाह अधिक सफल होता है कि माता-पिता द्वारा तय किया गया विवाह? विवाह के पश्चात परिवार में कैसे समयोजन करें?

कार्यक्रम में विषय विशेषज्ञ के रूप में मनोविज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. बसंत कुमार सोनबेर ने छात्राओं को प्रेरित करते विवाहित जीवन को सफलतापूर्वक जीने में मनोविज्ञान की महत्ता को समझाया। 

परामर्शदाता के रूप में स्थानीय मनोवैज्ञानिक डॉ. मोना माखीजा ने आपसी सामंजस्य और बातचीत द्वारा समस्याओं को हल करने पर जोर देते कहा कि पति-पत्नी को एक-दूसरे की भावनाओं का निरंतर सम्मान करना चाहिए।  यही सफल वैवाहिक जीवन का आधार है। मनोविज्ञान विभाग भविष्य में ऐसे अन्य कार्यक्रम भी आयोजित करता रहेगा, ताकि छात्राओं को अधिक से अधिक लाभ हो।
 


11-Apr-2021 10:20 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
शासकीय कमलादेवी राठी स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय राजनांदगांव में छात्राओं के लिए विवाह पूर्व परामर्श कार्यक्रम का आयोजन गत् दिनों को ऑनलाइन किया गया।

 कार्यक्रम का शुभारंभ करते प्राचार्य डॉ. सुमन सिंह बघेल ने विवाह पूर्व परामर्श के महत्व पर प्रकाश डालते कहा कि महिला महाविद्यालय में इस प्रकार के कार्यक्रम की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। छात्राओं को इस कार्यक्रम में बढ़-चढक़र भाग लेना चाहिए। कार्यक्रम में 22 छात्राओं ने भाग लिया और विवाह से संबंधित आशंकाओं का समाधान प्राप्त किया।  छात्राओं ने प्रश्न किया कि क्या बच्चे होने के बाद शादीशुदा जीवन में कोई अंतर आता है? प्रेम विवाह अधिक सफल होता है कि माता-पिता द्वारा तय किया गया विवाह? विवाह के पश्चात परिवार में कैसे समयोजन करें?

कार्यक्रम में विषय विशेषज्ञ के रूप में मनोविज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. बसंत कुमार सोनबेर ने छात्राओं को प्रेरित करते विवाहित जीवन को सफलतापूर्वक जीने में मनोविज्ञान की महत्ता को समझाया। 

परामर्शदाता के रूप में स्थानीय मनोवैज्ञानिक डॉ. मोना माखीजा ने आपसी सामंजस्य और बातचीत द्वारा समस्याओं को हल करने पर जोर देते कहा कि पति-पत्नी को एक-दूसरे की भावनाओं का निरंतर सम्मान करना चाहिए।  यही सफल वैवाहिक जीवन का आधार है। मनोविज्ञान विभाग भविष्य में ऐसे अन्य कार्यक्रम भी आयोजित करता रहेगा, ताकि छात्राओं को अधिक से अधिक लाभ हो।
 


11-Apr-2021 10:17 PM 19

शादी आयोजन केवल घर में, अधिकतम 10 लोग रहेंगे उपस्थित

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
कलेक्टर टीके वर्मा ने शनिवार को दिग्विजय स्टेडियम स्थित सेंटर वार रूम (कंट्रोल रूम) में कोविड-19 लॉकडाउन के संबंध में समीक्षा की। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का पालन कड़ाई से होना चाहिए। शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बाहर से आने वाले लोगों की जानकारी रखें। ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत के माध्यम से मुनादी करवा दें। बाहर से आने वाले व्यक्ति का चौबीस घंटे के भीतर सेम्पल लिया जाए। शहरी क्षेत्रों में भी बाहर से आने वाले का चिन्हांकन करना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि कंट्रोल रूम में शिक्षा विभाग से ड्यूटी लगाए। होम आईसोलेशन के मरीजों के स्वास्थ्य एवं उपचार के संबंध में जानकारी लें। शिक्षा एवं महिला बाल विकास विभाग के कर्मचारी आईईसी गतिविधि के माध्यम से लोगों को जागरूक करें। उन्होंने कहा कि होम आईसोलेशन के मरीजों का दोबारा सैम्पल नहीं लेना है। सैम्पल लेने के बाद लक्षणविहीन मरीजों को 10 दिनों तक क्वॉरंटीन में रहना है। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को स्टॉफ नर्स एवं कर्मचारियों की भर्ती तत्काल करने के निर्देश दिए। आपातकालीन सेवाएं जारी रहेंगी। कलेक्टर ने रेमडीसिविर इंजेक्शन, ऑक्सीजन सीलेंडर, वैक्सीनेशन, कोविड केयर सेंटर, ई-पास स्टेट्स की जानकारी ली।

कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि शादी का आयोजन केवल घर में ही होगा। जिसमें अधिकतम 10 लोग ही उपस्थित हो सकेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने स्टाफ नर्स एवं कर्मचारियों की भर्ती के संबंध में जानकारी दी एवं कोविड-19 से संबंधित महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की। 

इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ अजीत वसंत, अपर कलेक्टर हरिकृष्ण शर्मा, अपर कलेक्टर सीएल मारकण्डेय, नगर निगम आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी, एसडीएम मुकेश रावटे, मेडिकल कालेज अधीक्षक डॉ. प्रदीप बेक, डिप्टी कलेक्टर विरेन्द्र सिंह, राहुल रजक, डीपीएम गिरीश कुर्रे, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग रेणु प्रकाश, टीकाकरण अधिकारी डॉ. बीएल कुमरे, मेडिकल कॉलेज के डॉ. अरविंद चौधरी, नगर निगम के सुदेश सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
 


11-Apr-2021 10:16 PM 17

दूसरी लहर में जिला प्रशासन करंे तत्काल व्यवस्था

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश सदस्य परवेज अहमद पप्पू ने कहा कि जिले के अस्पटताल में न वेंटिलेटर न इंजेक्शन, कैसे बचेगी लोगों की जान, जिला प्रशासन तत्काल व्यवस्था करें। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मरीजों के लिए स्वास्थ्य विभाग अहम फैसला ले, मरीज लाचारी में भटक रहे हैं। शासन के पास बेड व ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की व्यवस्था नहीं है। मरीज इलाज के लिए दिनभर भटकते हैं, फिर भी अस्पतालों में बेड नहीं मिलते, आखिर में त्रस्त होकर उन्हें जिंदगी जीने की उम्मीद खत्म दिखाई देती है।
श्री अहमद ने जारी विज्ञप्ति में कहा कि शासन प्रशासन चाहे तो 72 घंटों में सरकारी भवन जो खाली हैं, उसे कोविड-19 सेंटर के रूप में तब्दील कर दो हजार मरीजों के लिए बेड डलवाकर इलाज के लिए मेडिसिन, इंजेक्शन, ऑक्सीजन व वेंटिलेटर की व्यवस्था देकर इस विपरीत परिस्थिति में लोगों की मदद कर सकती है। जिससे लोगों को दिनभर इलाज के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। स्वास्थ्य विभाग तत्काल प्रभाव से प्राइवेट अस्पताल को आदेश करें कि इस विपरीत परिस्थिति में अपनी इंसानियत दिखाते लोगों की परिस्थिति को देखते दया भाव से इलाज करें,  न कि कालाबाजारी कर उन्हें लूटे।

श्री अहमद ने कहा कि बड़ी शर्म की बात है कि कोविड-19 के लिए लगने वाली मेडिसिन और इंजेक्शन का कोई इंतजाम नहीं, अपनी जान बचाने के लिए मरीजों को इंतजाम करना पड़ रहा है और इस समय अच्छी बात यह है कि इतनी विपरीत परिस्थिति में भी कुछ लोग अपनी इंसानियत को मार कर मेडिसिन और इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहे हैं।
 


11-Apr-2021 10:15 PM 13

राजनांदगांव, 11 अप्रैल। संपूर्ण राजनांदगांव जिले के कंटेनमेंट जोन घोषित करने के बाद 10 अप्रैल को डोंगरगांव के अनुविभागीय अधिकारी हितेष पिस्दा, राजस्व विभाग एवं पुलिस प्रशासन की टीम ने नगर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान दोपहर 12 बजे के बाद खुले दुकान पाए जाने पर अर्थदंड की कार्रवाई की गई। 

अधिकारियों ने आदेश का पालन नहीं करते पाए जाने पर विभिन्न दुकानदारों पर कार्रवाई करते 4 हजार रुपए का अर्थदंड लगाकर दुकानें बंद करवाई। साथ ही दुकानदारों, व्यवसायियों एवं आम नागरिकों से अपील की है कि सभी घर में रहे, सुरक्षित रहें, मास्क का उपयोग व समय-समय पर साबुन से हाथ धोते रहे तथा सेनेटाईजर का उपयोग करते रहे। लॉकडाउन में प्रशासन का सहयोग करें। इस दौरान मुख्य नगर पालिका अधिकारी आरबी तिवारी, थाना प्रभारी श्री मरकाम सहित पुलिस बल व नगर पंचायत कर्मचारी उपस्थित थे।
 


11-Apr-2021 10:14 PM 14

राजनांदगांव, 11 अप्रैल। सांसद संतोष पांडेय ने प्रसिद्ध लोक रंगकर्मी दीपक तिवारी के निधन पर दुख व्यक्त करते कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा लोक कलाकार दीपक तिवारी को संगीत नाटक अकादमी सम्मान प्रदाय किया गया था। स्व. तिवारी छत्तीसगढ़ के सांस्कृतिक राजदूत की तरह कार्य करते रहे हैं। उन्होंने लोकजीवन में कला के संवर्धन के लिए अनुकरणीय कार्य किया है। उनके निधन से जो सांस्कृतिक शून्यता आएगी उसकी पूर्ति संभव नहीं है। सांसद पांडेय ने विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते शोक व्यक्त किया है। शोकाकुल परिवार को इस दुख के क्षण में ईश्वर शक्ति प्रदान करे। जिसकी कामना की है।
 


11-Apr-2021 10:13 PM 14

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
भाजपा जिलाध्यक्ष मधुसूदन यादव ने जारी विज्ञप्ति में प्रख्यात रंगकर्मी दीपक विराट के निधन को अपूरणीय क्षति बताया। श्री यादव ने कहा कि दीपक विराट ने नौकरी छोडक़र कला को चुना और कला जगत में अपने परिवार सहित कई महत्वपूर्ण कलाकारों को स्थापित किया। उनके इस योगदान के चलते ही उन्हें संगीत नाटक एकेडमी तथा छत्तीसगढ़ अलंकरण से सम्मानित किया गया था। दीपक विराट वास्तव में कला जगत के विकराल प्रकाश थे।

श्री यादव ने कहा कि दीपक तिवारी जिन्हें हम दीपक विराट के नाम से जानते हैं, वो जनसंपर्क विभाग के नौकरी में थे, जब उन्होंने नाटक में काम किया तो सरकार ने उन्हें नाटक या नौकरी की नोटिस दे दी, जो कि कला के प्रति अनादर था। दीपक विराट ने कला को चुना और छत्तीसगढ़ सहित पूरे देश को अपनी कला कौशल के माध्यम से गौरवान्वित किया। उसके चलते उन्हें आर्थिक तंगी के साथ और भी दिक्कतों का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने कला को जीवंत रखा। यह उनकी कलानाट्य के प्रति समर्पण ही था।

उन्होंने कहा कि ऐसे कलाकार को खोकर आज हम सभी दुखी हैं। उन्होंने कला क्षेत्र में जो योगदान दिया है तथा कलाकारों का निर्माण किया वो सभी उनकी स्मृति को आगे बढ़ाएंगे तथा नाट्य जगत में उनके योगदान को कला जगत में जीवंत रखेंगे। उनके दामाद ने मुखाग्नि दी। मोतीपुर मुक्तिधाम में अंत्येष्टि के अवसर पर कला के अनेक कलाकार उपस्थित होकर उन्हें श्रद्धांजलि दी।
 


11-Apr-2021 10:12 PM 13

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
पूर्व मंत्री रजिंदरपाल सिंह भाटिया ने कहा कि आज जब पूरे प्रदेश में कोरोना महामारी का रूप ले चुका है और लोग बिना इलाज लगातार मौत के मुंह में समाते जा रहे हैं, ऐसे विकट समय में जनता को सहयोग और सुविधा दिलाने के बजाय खुज्जी विधायक छन्नी साहू अपना जन्मदिन मनाने में सत्ता के मद में मदमस्त है और जन्मदिन भी बहुत धूमधाम से मनाने के लिए लाखों रुपए का फिजूल खर्च कर जिले में फ्लैक्स और समाचार पत्रों में विज्ञापनों की बाढ़ लगाकर हजारों लोगों को अपने घर पर बुलाकर कोविड-19 गाईड लाइन की अवहेलना कर महाभोज और भीड़ को इक_ा कर कोरोना को और बढ़ाने का काम हुआ है। जनता सब समझ रही है कि इतनी बड़ी तामझाम और लंबे-चौड़े खर्च की व्यवस्था कैसे और कहां से की गई है ।

श्री भाटिया ने आरोप लगाते कहा कि समय की मांग तो यह थी कि उसी डोनेशन से 40-50 बिस्तर का कोविड सेंटर बनाकर लोगों को कोरोना का इलाज हेतु सुविधा उपलब्ध हो जाती। कार्यक्रम में करेले पर नीम चढ़ाने का काम मंत्री टीएस सिंहदेव ने कर दिया और हेलीकॉप्टर पर विधायक के घर पहुंच गए और इस प्रकार का तामझाम दिखाने के पीछे यह भी मंशा रहती है कि अधिकारियों-कर्मचारियों पर अपनी धौंस पट्टी दिखाई जाए। छग में इस विकट समय में इस प्रकार उत्सव की भत्र्सना ही की जा सकती है।
 


11-Apr-2021 10:07 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अंबागढ़ चौकी, 11 अप्रैल।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में गत् दिनों आतरगांव से गंभीर अवस्था में लाए गए एक कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत हो गई। 33 वर्षीय व्यक्ति को शुक्रवार की मध्य रात्रि इलाज के लिए अंबागढ़ चौकी ब्लॉक मुख्यालय लाया गया था। शनिवार सुबह मरीज की मृत्यु हो गई। बताया गया कि यह मरीज कोरोना संक्रमित था। शनिवार को ही दर्जनभर से अधिक कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए। नगर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों से भी संक्रमित मरीजों के मिलने का सिलसिला शुरू हो गया है, जबकि ब्लॉक का बांधाबाजार अभी भी कोरोना का हॉटस्पॉट बना हुआ है।

कोरोना की दूसरी लहर में विकासखंड में बीते एक सप्ताह में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या कुल 184 पर पहुंच गई। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार संक्रमित पाए गए मरीजों में कुल 103 मरीजों को ही आईसोलेशन में रखा गया है, जबकि 80 मरीजों नगर के वार्ड एक मेरेगांव में बनाए गए कोविड केयर सेंटर में रखा गया है। 

जानकारी के अनुसार ब्लॉक मुख्यालय में सीएचसी के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में अस्पताल पहुंचने वालों का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है और हर दिन संक्रमित मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही है। बताया जाता है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चौकी में कोरोना का दोनों टेस्ट एंटीजन व आरटीपीसीआर हो रहा है, जबकि ग्रामीण इलाकों में केवल एंटीजन टेस्ट किया जा रहा है।

नगर के कई वार्ड कोरोना का हॉटस्पॉट
कोरोना संक्रमण के दूसरे दौर ने नगरवासियों को भयभीत कर दिया है। नगर में हर दिन संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। बीते सप्ताहभर के अंदर नगर में दो दर्जन से अधिक संक्रमित मरीज निकल गए हैं। शुक्रवार की स्थिति में स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कराए गए टेस्ट के अनुसार नगर में कुल 26 पॉजिटिव आए हैं। बताया जाता है कि अभी नगर के 40 से अधिक लोगों को आरटीपीसीआर रिपोर्ट आना बचा हुआ है। माना जा रहा है कि यदि रिपोर्ट आई तो इसकी संख्या और भी बढ़ सकती है। जानकारी के अनुसार नगर के हर वार्ड में संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। इसमें पॉश कॉलोनी ही नहीं झुग्गी बस्तियों में भी कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं।

बच्चे भी मिले पॉजिटिव
कोरोना संक्रमण के दूसरे दौर में व्यस्क ही नहीं छोटे-छोटे बच्चे भी संक्रमित पाए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि ब्लॉक में कुल 184 संक्रमित मरीजों में बच्चों की संख्या भी कहीं कम नहीं है। शनिवार को नगर के वार्ड 7 से एक डेढ़ वर्षीय व 6 वर्षीय बच्चा भी कोरोना संक्रमित पाया गया। बच्चों में संक्रमण फैलने से नगरवासियों की चिंता बढ़ गई है, क्योंकि बच्चों के माध्यम से यह अन्य बच्चों व बड़ों में भी फैल सकता है।

बीएमओ डॉ. आरआर धुर्वे ने कहा कि बीती रात आतरगांव के एक युवक को गंभीर अवस्था में उपचार के लिए सीएचसी लाया गया था। शनिवार तडक़े उसकी मौत हो गई। युवक कोरोना संकमित पाया गया। बीएमओ धुर्वे ने बताया कि ब्लॉक में संक्रमितों की संख्या सप्ताहभर में दो सौ के करीब हो गई है। 
संक्रमण की रोकथाम के लिए लोगों को गाईड लाइन का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है।
 


11-Apr-2021 7:57 PM 13

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
वर्तमान में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या राजनांदगांव में बढ़ी है। कलेक्टर टीके के मार्गदर्शन में कोरोना संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने बताया कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते पात्रतानुसार कोरोना पॉजिटिव मरीजों को समस्त नियमों का पालन करते घर पर रहकर ईलाज करने हेतु होम आईसोलेशन की सुविधा प्रदाय की जा रही है।

डॉ. मिथलेश चौधरी ने नागरिकों से अपील की है कि होम आईसोलेशन में रहते संपूर्ण होम आईसोलेशन के प्रोटोकॉल का पालन करें। कोविड-19 पॉजिटिव मरीज जो कि बिना लक्षण या कम लक्षण वाले हो, उन्हें होम आईसोलेशन में रखकर ईलाज की अनुमति दी जाएगी। होम आईसोलेशन वाले मरीज को पल्स आक्सीमीटर एवं थर्मामीटर रखना होगा तथा प्रतिदिन नियमित स्वास्थ्य जांच आक्सीजन सैचुरेशन/तापमान जांच कर कंट्रोल रूम/चिकित्सक को बताना होगा। होम आईसोलेशन के दौरान आक्सीजन की कमी/सांस लेने में तकलीफ होने पर तत्काल नजदीकी कोविड केयर सेंटर अथवा कोविड हास्पिटल में भर्ती होकर उपचार लें। सामान्यत: शरीर का आक्सीजन सैचुरेशन 94 या उससे अधिक होना चाहिए तथा पल्स रेट 60 से 72 बिट्स प्रति मिनट एवं तापमान 97.7-99.5 फेरेंहाईट होता है। होम आईसोलेशन में रहते हुए आक्सीजन की कमी/सांस लेने में तकलीफ तापमान में वृद्धि होने पर तत्काल 108/खंड चिकित्सा अधिकारी से टेलीफोन/होम आईसोलेशन कंट्रोल रूम के नंबर 7440203333 से संपर्क कर कोविड केयर सेंटर /कोविड हॉस्पिटल में उपचार लें। घर पर अकेले रहने वाले मरीज को होम आईसोलेशन की पात्रता नहीं होगी। 

होम आईसोलेशन के दौरान निर्धारित सभी नियमों का पालन करना होगा। इसके अंतर्गत पूर्ण 17 दिवस की अवधि तक घर से मरीज/रिश्तेदार बाहर नहीं जा पाएंगे। 
अन्य बाहरी व्यक्ति घर में नहीं आ पाएंगे। मरीज को परिवार के अन्य सदस्यों से अलग हवादार अटैच बाथरूम वाले कमरे में रहना होगा। प्रतिदिन नियमित स्वास्थ्य जांच ऑक्सीजन सैचुरेशन /तापमान कर कंट्रोल रूम/चिकित्सक को बताना होगा। नियमानुसार दवाईयों का नियमित सेवन करना होगा। होम आईसोलेशन में रहते मरीजों को सावधानियां बरतनी चाहिए। मरीज होम आईसोलेशन के दौरान अपने कमरे में ही रहें, घर के अन्य कमरों में ना जाए। मरीज केवल अपने लिए चिन्हित शौचालय का ही प्रयोग करें। मरीज हर समय ट्रीपल लेयर मास्क पहनें तथा आठ घंटे उपयोग के बाद मॉस्क को फेंक दें। हाइपो सोडियम क्लोराईड में डुबाने के पश्चात इसे डिस्पोज कर दें। 20 ग्राम ब्लीचिंग पाउडर को (01 चम्मच/टेबल स्पून) को 01 लीटर पानी में घोल कर हाइपो सोडियम क्लोराईड घोल बनाया जा सकता है। मरीज तरल चीजें लेते रहें और हाईड्रेड रहें। मरीज समय-समय पर साबुन और पानी से कम से कम 40 सेकंड तक हाथ धोते रहें या एल्कोहॉलयुक्त सैनेटाईजर से साफ करें। मरीज की उपयोग की समस्त सामग्री अलग से मरीज के कक्ष में ही रखा जाए। घर के अन्य लोगों के साथ व्यक्तिगत वस्तु जैसे बर्तन, तौलिये आदि को साझा न करें। मरीज डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें एवं दवाईयां नियमित लेते रहें। कमरा तथा शौचालय साफ करें।
 


11-Apr-2021 3:37 PM 25

उडऩदस्ता सडक़ों में करती रही भ्रमण, बेवजह घूमने वालों पर कार्रवाई
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
लॉकडाउन के दूसरे दिन रविवार को शहर की गलियां और सडक़ों में सन्नाटा पसरा रहा। पुलिस की उडऩदस्ता टीम शहर के अलग-अलग इलाकों और गलियों में भ्रमण करते लोगों को लॉकडाउन का पालन करते हुए घरों में रहने की समझाईश दी जा रही है। वहीं पुलिस की टीम शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में प्वाईंट लगाकर सडक़ों में आवाजाही करने वालों से पूछताछ कर रही है। वहीं बेवजह घूमने वालों से लॉकडाउन का पालन करने, घरों में रहने और मास्क का उपयोग करने समेत समझाईश दी जा रही है। इसके अलावा समझाईश का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई भी कर रही है।
 
वैश्विक महामारी कोरोना से बेकाबू होते हालात पर काबू पाने के लिए शनिवार दोपहर से राजनांदगांव शहर समेत समूचे जिले को प्रशासन ने लॉक कर दिया है। इस लॉकडाउन के चलते शहर की सभी दुकानों के शटर बंद हो गए हैं। अप्रैल के पहले और दूसरे सप्ताह में कोरोना की बढ़ती रफ्तार को रोकने जिला प्रशासन ने जिले को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। वहीं प्रतिदिन संक्रमितों और कोरोना से मौतों के आंकड़े बढऩे से लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है।

लॉकडाउन के दौरान धारा 144 भी लागू है। लॉकडाउन के दूसरे दिन पुलिस टीम ईमाम चौक में प्वाईंट लगाकर लोगों से पूछताछ कर कार्रवाई भी कर रही है। इसके अलावा शहर के मानव मंदिर चौक, बसंतपुर चौक, नंदई चौक समेत अन्य चौक-चौराहों में पुलिस की टीम लॉकडाउन का पालन कराने निगरानी कर रही है। इधर शनिवार दोपहर 12 बजते ही लोगों ने कारोबार समेट लिया था। ऐसे में शहर के बाजार क्षेत्रों की दुकानों के शटर गिर गए हैं। बताया जा रहा है कि कोरोना की रफ्तार में गिरावट आने के बाद ही प्रशासन द्वारा वहीं आगामी 19 अप्रैल को ढ़ील दिए जाने की संभावना है। वहीं लोगों की लापरवाही और कोरोना की रफ्तार नहीं थमने की स्थिति में यह लॉकडाउन आगे बढऩे की भी संभावनाएं जताई जा रही है। इधर लॉकडाउन से पूर्व बाजार समेत दुकानों में लोगों की भीड़ बाजार क्षेत्र में देखने को मिली थी। वहीं जिला और पुलिस प्रशासन समेत पुलिस जवानों ने शनिवार को बाजार क्षेत्र के अलावा शहर के अलग-अलग हिस्सों में फ्लैग मार्च कर शहरवासियों को लॉकडाउन का पालन करते घरों में रहने की अपील की थी।


11-Apr-2021 3:25 PM 24

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
शारीरिक शोषण और गाली-गलौज करने वाले आरोपी को पुलिस ने शिकायत के बाद कार्रवाई करते जेल भेज दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार की रात पीडि़ता ने छुरिया थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई कि आरोपी खिलावन साहू द्वारा पीडि़ता को विगत 7 वर्ष से प्रेम प्रसंग के साथ लगातार शादी का प्रलोभन देकर शारीरिक संबंध बनाया जाता रहा है। 9 अप्रैल को रात्रि 9.30 बजे अपने मोबाइल से पीडि़ता को फोन कर छुरिया के दंतेश्वरी मंदिर के पास बुलाया। शराब के नशे में फोन क्यों नहीं उठाती कहकर अश्लील गाली-गलौज कर जान से मारने की धमकी दी और शारीरिक संबंध बनाने जबर्दस्ती करने लगा। विवेचना के दौरान आरोपी खिलावन के लगातार पता तलाश के दौरान चिचोला रोड पेट्रोल पंप के पास हिरासत में लेकर छुरिया थाना में पूछताछ किया गया।

मिली जानकारी के अनुसार आरोपी ने बताया कि  पीडि़ता के साथ प्रेम-प्रसंग था। जिसके चलते पीडि़ता को शादी करने का प्रलोभन देकर दबावपूर्वक शारीरिक संबंध बनाया था। किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी देना स्वीकार करने पर आरोपी खिलावन साहू (29 वर्ष)  को गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया।


11-Apr-2021 2:26 PM 18

10 दिन के लॉकडाउन में गरीबों की बढ़ी मुश्किलें
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
गंडई, 11 अप्रैल।
गंडई नगर के राशन दुकानों में स्टॉक समाप्त होने का हवाला देते हितग्राहियों को राशन नहीं मिलने से उनके सामने मुश्किलें खड़ी हो गई है। इधर लॉकडाउन लगने और रोजी-मजदूरी करने वाले हितग्राहियों के सामने भूखे मरने की नौबत आन पड़ी है। वहीं उचित मूल्य दुकान संचालकों का कहना है कि चावल का स्टॉक पहुंच चुका है। उन्होंने बताया कि हितग्राहियों को लॉकडाउन खुलने के बाद राशन वितरण किया जाएगा।

मिली जानकारी के अनुसार वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के चलते कलेक्टर ने 10 से 19 अप्रैल तक जिले में संपूर्ण लॉकडाउन का आदेश जारी कर दिया। इधर 10 अप्रैल  दोपहर 12 बजे तक मिली छूट के दौरान लोगों ने जरूरतों के अनुसार सामानों की खरीदी करने बाजारों तक पहुंचकर खरीददारी की। वहीं रोजी-मजदूरी करने वाले तबके के सामने लॉकडाउन के चलते भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं ऐसे तबके के लोगों को उचित मूल्य की दुकान से राशन नहीं मिलने से उनके सामने भूखे मरने जैसी स्थिति निर्मित हो सकती है। 

बताया जा रहा है कि राशन दुकानों में चावल का स्टॉक समाप्त होने के कारण इस माह राशन दुकानें नहीं खुल पाई है। इस वजह से किसी भी कार्ड धारी ने चावल या अन्य सामान राशन दुकान से नहीं लिया है। वर्तमान में नगर के सभी वार्डों में कुल राशन कार्डधारियों की संख्या लगभग 4 हजार से अधिक है। जिसमें बीपीएल कार्डधारी लगभग 4 हजार और एपीएल कार्डधारियों संख्या लगभग एक हजार के आसपास है। ऐसे में इस माह लॉकडाउन से पहले हितग्राहियों को उचित मूल्य की दुकान से राशन नहीं मिलने से उनके सामने विकट संकट पैदा हो सकता है। 

उचित मूल्य दुकान के संचालक सुभाष वर्मा ने बताया कि दुकान में 9 अप्रैल तक चावल नहीं था। 10 अप्रैल को चावल का स्टॉक आया है, जिसे खाली करवाया गया है। लॉकडाउन खुलने के बाद ही हितग्राहियों को राशन मिल पाएगा। वहीं कुछ हितग्राही नारायण साहू, कामिन यादव, मीरा नामदेव, बिमला साहू समेत दर्जनभर से अधिक हितग्राहियों का कहना है कि लॉकडाउन करना जरूरी था, परन्तु राशन का वितरण यदि कर दिया जाता तो हम सब जैसे-तैसे गुजारा कर लेते। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व गंडई लवकेश ध्रुव ने बताया कि जिसको ज्यादा आवश्यक हो, की पहचान कर उनको वितरण किया जाएगा।


11-Apr-2021 1:59 PM 155

युवा फ्लैक्स कारोबारी वैभव खोब्रागढ़े की मौत

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 11 अप्रैल।
कोरोना के भयानक रूप अख्तियार करते हुए इंसानी जीवन को मौत के मुंह में धकेल दिया है। राजनांदगांव जिले में प्रदेश के दूसरे जिलों की तरह कोरोना से मौतों का सिलसिला बढ़ रहा है। दिन-ब-दिन कोरोना के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी हो रही है। कोरोना की चपेट में आने से न सिर्फ कोरोना वारियर्स बल्कि गैर कोरोना वारियर्स की भी कोरेाना से मौतें हो रही है। राजनांदगांव शहर के युवा फ्लैक्स कारोबारी वैभव खोब्रागढ़े की मौत से यह भी पता चल रहा है कि वैश्विक महामारी कोरोना उम्रदराज लोगों को मौत की नींद सुलाने के बाद युवाओं पर भी कहर बरपा रहा है। वैभव खोब्रागढ़े कई मीडिया संस्थान में भी काम कर चुके हैं। 

बताया जा रहा है कि उनकी मौत वेंटिलेटर की कमी से हुई है। पिछले एक से 10 अप्रैल के बीच कोरोना के पहले संक्रमण से 47 लोगों की जान चली गई है। हर दिन औसतन 5 से 6 लोगों की अप्रैल की पहले और दूसरे सप्ताह में मौत हुई है।  बताया जा रहा है कि सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों में वेंटिलेटर की भारी किल्लत है। लिहाजा आक्सीजन लेवल गिरने से परेशान मरीजों को वेंटिलेटर उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। बताया जा रहा है कि राजनांदगांव में वेंटिलेटर के लिए साधन और संसाधन की कमी से प्रशासन की मुश्किलें बढ़ रही है। वहीं अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों को दाखिला भी नहीं मिल रहा है। ऐसे में संक्रमित मरीजों को घर में क्वारेंटाईन करने की प्रशासन के सामने मजबूरी भी है।
 
बताया जा रहा है कि हालात लगातार बेकाबू होते जा रहे हैं। चिकित्सकों पर मरीजों की देखभाल करने का मानसिक दबाव भी है। जिले के ज्यादातर अस्पतालों में मेडिकल और तकनीकी कर्मियों की कमी से तय समय पर जांच  नहीं हो पा रहा है। वहीं संक्रमित मरीजों में प्रशासन को लेकर नाराजगी बढ़ रही है। जांच कराने के दौरान मेडिकल स्टॉफ को लोगों के दुव्र्यवहार का भी सामना करना पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि फिलहाल स्थिति में सुधार आने की संभावना नहीं है। हर दिन मरीजों की संख्या 8 से 9 सौ तक पहुंच गई है। वहीं मौत की बढ़ती संख्या से दहशत का माहौल है। 

मिली जानकारी के अनुसार बीते 01 से 10 अप्रैल के बीच जिलेभर में 7651 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। जिसमें शहरी क्षेत्र से 2678 और ग्रामीण क्षेत्र से 4973 लोग शामिल हैं। वहीं इन 10 दिनों में 47 लोगों ने कोरोना के चलते अपनी जान गंवा दी है। जिलेभर में लगातार कोरोना के बढ़ते आंकड़ों को लेकर प्रशासन ने 19 अप्रैल सुबह तक जिलेभर को कंटेनमेंट घोषित करते लॉकडाउन कर दिया है। वहीं इस लॉकडाउन से पूर्व शहरी समेत ग्रामीण क्षेत्रों के बाजारों में लोगों की भीड़ खरीददारी करने उमड़ती दिखाई दी।


10-Apr-2021 5:05 PM 17

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 10 अप्रैल।
कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते जिला साहू संघ के निर्देश पर साहू समाज ने  कर्मा जयंती अपने-अपने घरों में परिवार के साथ पूजा-अर्चना व दीप जलाकर सादगीपूर्ण से मनाई। समाज के सभी ईकाई के प्रमुख पदाधिकारियों ने अपने-अपने मुख्यालय में विधिवत पूजा-अर्चना कर खिचड़ी का भोग लगाकर प्रसाद वितरण किया गया।

जिला साहू संघ राजनांदगांव द्वारा जिला अध्यक्ष कमल किशोर साहू की अगुवाई में जिला साहू सदन स्थित मां कर्मा के मंदिर में पूजा-अर्चना की। इस दौरान संरक्षक डॉ. निरेन्द्र साहू, महामंत्री अमरनाथ साहू, कोषाध्यक्ष विवेक साहू, उपाध्यक्ष डीडी साहू,  नीरा साहू, अंजू पुरन साहू, संगठन सचिव हेमंत साहू, उपकोषाध्यक्ष भुवाल साहू, अंकेक्षक अंजोर सिंह साहू, गीता साहू, मदन साहू नगर अध्यक्ष, हेमंत साहू, बीडी साहू, डिकेश साहू, नरेश गंजीर, भरत साहू आदि शामिल हुए। इसी तरह सभी तहसील स्तर पर भी मां कर्मा की जयंती मनाई गई। 
डोंगरगांव में अध्यक्ष अमरनाथ साहू, राजनांदगांव में भागवत साहू, खैरागढ़ में घम्मन साहू, छुईखदान में रामबिलास साहू, डोंगरगढ में हंसराज साहू, छुरिया में चंद्रकुमार साहू, चौकी में मधु साहू, मोहला में शिवकुमार साहू, मानपुर मे यशवंत साहू व नगर में मदन साहू के मार्गदर्शन में कर्मा जयंती सादगीपूर्ण मनाया गया।

जिला साहू संघ शीघ्र शुरू करेगा एम्बुलेंस सेवा
जिला महामंत्री अमरनाथ साहू ने बताया कि जिला साहू संघ राजनांदगांव द्वारा एम्बुलेंस सेवा प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया था, जिसे कर्मा जयंती पर क्रियान्वयन करते एम्बुलेंस हेतु नई वाहन क्रय की गई है। कमल किशोर साहू सहित जिला पदाधिकारियों ने नई वाहन को मारूति शो-रूम से पूजा-अर्चना कर चाबी कंपनी से प्राप्त किया। वाहन को एम्बुलेंस के रूप में सुविधाजक बनाए जाने की तैयारी की जा रही है।

 


10-Apr-2021 4:51 PM 21

राजनांदगांव, 10 अप्रैल। कोविड-19 की विपदा में मानव सेवा से बढक़र कोई सत्कार्य नहीं होता, इसे चरितार्थ करते श्री लोहाणा समाज राजनांदगांव द्वारा शहरी क्षेत्र के कोरोना संक्रमित मरीजों को नि:शुल्क दोपहर व रात्रि का शुद्ध सात्विक भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। यह सेवा 8 अप्रैल से प्रारंभ हो गई है। श्री लोहाणा सेवा मंडल के इस पुनीत कार्य में श्री लोहाणा महाजनवाड़ी के स्वयंसेवक पूरे शासकीय नियमों का पालन करते व्यवस्था को संभाल रहे हैं। पहले दिन लगभग 111 लोगों को भोजन भेजा गया। जबकि दूसरे दिन 216 से ज्यादा लोगों को भोजन भेजा जा चुका है। भोजन बनाते, पैक करते और इसे वितरण करते समय कोरोना से बचाव का सख्ती से पालन किया जा रहा है। कई लोगों ने लोहाणा समाज के पौष्टिक और स्वादिष्ट भोजन की बेहद प्रशंसा की है।
 


10-Apr-2021 4:50 PM 24

कोरोना मरीजों का प्रदेश में बुरा हाल, कांग्रेसियों को नहीं है ख्याल

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 10 अप्रैल।
राजनांदगांव सांसद संतोष पांडेय ने जारी बयान में कहा कि प्रदेश कोरोना के भीषण संकट के गंभीर दौर में गुजर रहा है। हर शख्स अपनी सुरक्षा को लेकर भयभीत है। अस्पतालों में दवा, बेड, एम्बुलेंस की मारामारी है। चारों ओर दुख का वातावरण है और रोज मौतों से मातम की स्थिति निर्मित है। आम लोगों को निजी अस्पताल वाले लूट मचाए हुए हैं। सरकारी अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में जगह नहीं है। अस्पताल में अव्यवस्था का आलम चरम सीमा पार कर चुका है। ऐसे वक्त में भूपेश सरकार के सबसे काबिल माने जाने वाले स्वास्थ मंत्री जो मीडिया में, पहले प्रदेश में करोना महामारी को लेकर लाकडाउन की बात करते हैं और उसी दिन राजनांदगांव जिले के खुज्जी विधायक छन्नी साहू के जन्मदिन में उनके ग्राम पैरी में कोरोना गाईड लाइन और महामारी आपदा में लगे धारा 144 की धज्जियां उड़ाते हैं। 

यह वही विधायक है, जिन्होंने पूर्व सरकार के कार्यकाल में जिला चिकित्सालय से स्टेडियम चौक तक एम्बुलेंस नहीं होने का भ्रामक प्रचार कर ठेले पर शव को खींचकर झूठा प्रचार लूटा था। आज उनकी संवेदनशीलता कहां चली गई, जहां राज्य के लोगों को एम्बुलेंस सेवाएं उपलब्ध न होने के कठिनाइयां से गुजर रहे हैं। वहीं जिले के लोगों को एक प्राईवेट हेलीकॉप्टर से पहुंच उन्हें चिढ़ाने में लगे हैं, जो शर्मनाक बात है।

उन्होंने आरोप लगाया कि उक्त जन्मदिन के कार्यक्रम में कांग्रेस कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी व अधिकारी-कर्मचारी स्वयं नियम और प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाते रहे। प्रशासन मूकदर्शक बनकर देखता रहा।उन्होंने कहा कि ये कांग्रेसी अवैध उत्खनन व शराब सट्टा के कारोबारियों से चंदा कर ऐसे आयोजन में पैसा उड़ाने की जितनी निंदा की जाए, कम है। 

श्री पांडे ने यह भी कहा कि प्रदेश में एक तरफ कोरोना की महामारी से लोगों में हाहाकार मचा हुआ है। प्रदेश इस वक्त संकट के दौर से गुजर रहा है। वहीं दूसरी ओर नक्सल हमले में 22 जवानों की शहादत हो जाती है और शहीदों में एक जवान इस जिले से है।
 


Previous123456789...6162Next