छत्तीसगढ़ » सूरजपुर

Date : 19-Oct-2019

ग्राम पंचायत रेसरा के राशन दुकान संचालक पर मनमानी का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने एसडीएम से शिकायत की, राशन दुकान सील

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
भैयाथान, 19 अक्टूबर।
ग्राम पंचायत रेसरा के राशन दुकान संचालक पर मनमानी का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने एसडीएम से शिकायत की थी। जिस पर कल भैयाथान एसडीएम और खाद्य अधिकारियों ने गांव में पहुुंच दबिश दी तो दुकान में ताला बंद था। विक्रेता बुलवाने पर भी अधिकारी के समक्ष नहीं आया। इसके बाद राशन दुकान का ताला तोड़ कर भौतिक सत्यापन के बाद दुकान को सील कर दिया।

शिकायत में भैयाथान एसडीएम प्रकाश सिंह राजपूत व सहायक खाद्य अधिकारी तथा खाद निरीक्षक ओडग़ी द्वारा मौके पर दबिश दी तो दुकान में ताला बंद था। विक्रेता राजेश कुमार पैकरा बुलवाने पर भी अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत नहीं हुआ। तत प्रश्चात राशन दुकान का ताला तोड़ कर भौतिक सत्यापन के बाद दुकान को सील कर दिया।

 उपस्थित ग्रामीणों ने बताया कि विक्रेता द्वारा कम राशन देने व इससे छ: महीने से मिट्टी तेल नहीं देने की बात कही वहीं हीरा सिंह ,राजेश के द्वारा बताया गया कि राशन कार्ड बनवाने को लेकर भी दुकान संचालक के द्वारा दो दो हजार रुपए देना बताया वही कुछ लोगों ने चावल 7 व 14 किलो देने की बात कही जबकि ऑनलाइन में चावल की मात्रा 35 किलो दर्शाया गया है।

इस संबंध में भैयाथान एसडीएम प्रकाश सिंह राजपूत ने बताया कि  ग्रामीणों के शिकायत पर ग्राम रेसरा में स्थित उचित मूल्य दुकान में पहुंच कर दुकान को सील किया गया व अग्रिम कार्यवाई हेतु खाद्य विभाग को सौंपा गया है।


Date : 19-Oct-2019

अफसर बना रहे वीडियो, जांच, जांच के बाद होगी कार्रवाई- कलेक्टर
कोण्डागांव, 19 अक्टूबर। कोण्डागांव जिले में खुलेआम शासकीय सेवा के तहत अनुशासन में रहने के लिए बनाए गए सिविल सेवा आचरण अधिनियम 1965 का उल्लंघन करने का मामला प्रकाश में आया है। मामला कोण्डागांव के कृषि विभाग में पदस्थ ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी से जुड़ा हुआ है।

जानकारी अनुसार, इन दिनों सोशल मीडिया में अकाउंट बनाकर मोटिवेशनल वीडियो बनाने का एक ट्रेंड सा चल चुका है। कुछ इसी तरह के ढेरों मोटिवेशनल वीडियो यूट्यूब पर दिखाई भी देते हैं। कोण्डागांव के कृषि विभाग में कार्यरत ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी दुष्यंत नाग भी इसी तरह के मोटिवेशनल वीडियो बनाते-बनाते कमर्शियल वीडियो बनाना शुरू कर चुके हैं। 

विभागीय जानकारों की बात करें तो, यदि कोई व्यक्ति शासकीय सेवा में रहते हुए यदि कोई कमर्शियल या अपने मूल शासकीय सेवा के अतिरिक्त कोई अन्य कार्य करता है तो उसे विभागीय स्वीकृति लेनी आवश्यक होती है। यदि संबंधित कर्मचारी या अधिकारी विभागीय स्वीकृति नहीं लेता, तो वह छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण 1965 के नियम 3 के उपनियम 1, 2 और 3 का उल्लंघन माना जाता है। लेकिन दुष्यंत नाग ने किसी भी सक्षम अधिकारी से किसी भी तरह की लिखित अनुमति नहीं ली है। 

खुलेआम व्यापारिक प्रतिष्ठानों का यूट्यूब में प्रचार
यूट्यूब में संचालित दुष्यंत के चैनल के बारे में बात की जाए तो, दुष्यंत नाग ने सीजी मास्टर के नाम से अपना एक निजी चैनल बना रखा है। इस चैनल वे कई शॉर्ट फिल्में और एड मूवी अपलोड करते रहते हैं। जिसे कभी भी यूट्यूब में देखा जा सकता है। दुष्यंत नाग के माध्यम से 26  सितंबर को एक एड मूवी एडवर्टाइजमेंट वीडियो ऑफ फैशन हाउस बाय सीजी मास्टर अपलोड किया गया है। इस वीडियो के डिस्क्रिप्शन में बकायदा लिखा गया है कि, यह एक व्यापारिक विज्ञापन है कृपया ज्यादा विचार ना करें। एडवर्टाइजमेंट वीडियो ऑफ फैशन हाउस के नाम से अपलोड किए गए एड में दुष्यंत नाग बकायदा एक डॉक्टर के किरदार में नजर आ रहे हैं, जो केशकाल के एक निजी दुकान का प्रचार भी कर रहे हैं। इसी तरह का कुछ और वीडियो भी उनके सीजी मास्टर यूट्यूब चैनल में दिखाई देता है।

इस मामले में कृषि विभाग के प्रभारी सहायक संचालक बाल सिंह बघेल से ‘छत्तीसगढ़’ ने फोन पर चर्चा की तो उन्होंने बताया कि, दुष्यंत नाग के द्वारा वीडियो बनाए जाते की जानकारी है, लेकिन कृषि विभाग से इसके लिए कभी भी कोई स्वीकृति नहीं दी गई है। उसके लिए जिला स्तर के अधिकारियों से स्वीकृति लिया गया होगा। जबकि दुष्यंत नाग के ही अनुसार उन्होंने किसी भी अधिकारी से लिखित या मौखिक में इसके लिए स्वीकृति नहीं लिया है।

नहीं लिया स्वीकृति - दुष्यंत नाग
इस बारे में जब दुष्यंत नाग से चर्चा किया गया तो उन्होंने बताया कि, इस तरह के कार्य करने के लिए अधिकारियों से स्वीकृति की आवश्यकता होती है। लेकिन उन्होंने बिना किसी स्वीकृति के इस कार्य को शुरू किया है। जरूरत पडऩे पर ही वे किसी से स्वीकृति लेंगे। जबकि नियमित शासकीय कर्मचारी होने के चलते वे विज्ञापन यह कमर्शियल ऐड में कार्य नहीं कर सकते हैं।

जांच के बाद होगी कार्रवाई- कलेक्टर
इस पूरे मामले पर कोण्डागांव कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने कहा कि, मामले के बारे में उन्हें ‘छत्तीसगढ़’ अखबार के माध्यम से जानकारी मिली है। मामले पर जांच किया जाएगा, और यदि आरोप सहीं पाया गया तो संबंधित कर्मचारी के विरुद्ध कार्रवाई भी किया जाएगा।

 


Date : 16-Oct-2019

महिला ने कीटनाशक का सेवन कर आत्महत्या कर ली

लखनपुर, 16 अक्टूबर। गत 15 अक्टूबर को एक महिला ने फोरेट कीटनाशक का सेवन कर आत्महत्या कर ली। पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार कुन्नी चौकी अंतर्गत जमदरा निवासी चम्पा यादव पति सुखदेव यादव ने अज्ञात कारणों से कीटनाशक सेवन कर आत्महत्या कर लिया। मृतका अपनी बेटी दामाद के पास लखनपुर आयी थी, जहां देवी मंदिर के समीप गंभीर हालत में महिला को नगरवासियों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया जिसके बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अभी तक मृत्यु के कारणों का पता नही चल पाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।


Date : 14-Oct-2019

कहीं वन अधिकार तो कहीं तस्करों के इशारे पर कटाई

राज शार्दूल

विश्रामपुरी, 13 अक्टूबर(छत्तीसगढ़)। हरे-भरे साल एवं सागौन के पेड़ों की अवैध कटाई का मामला सामने आया है। कहीं वन अधिकार के लिए पेड़ काटे जा रहे हैं तो कहीं तस्करों एवं वनमाफिया के इशारे पर जंगलों की कटाई हो रही है। इस संबंध में वनपरिक्षेत्राधिकारी अमरावती केजूराम पोयाम ने बताया कि अवैध कटाई के मामले में कार्रवाई की गई है तथा लकड़ी जब्त किया गया है।

बताया जाता है कि विश्रामपुरी क्षेत्र के कोसमी क्षेत्र एवं पिटचुआ क्षेत्र के चनाभरी, धौराभाठा, भालूपानी, टापरापानी एवं पेंगपानी में सैकड़ों एकड़ वन भूमि पर अतिक्रमणकारियों ने कब्जा कर लिया है। यह क्रम अब भी लगातार जारी है। यहां अतिक्रमणकारियों के द्वारा वन भूमि पर वनों को काटकर कब्जा करने का सिलसिला 7-8 वर्षों से चल रहा है। क्षेत्र के ग्रामीणों ने इसका विरोध भी किया था, जिसके चलते यहां दो गुटों में तनाव की स्थिति निर्मित हो गई थी। तत्पश्चात प्रशासन के उच्चाधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद काफी मशक्कत करने से मामला शांत हुआ था। 

ग्रामीण मालोराम नेताम, दशरथ नेताम दलसाय परस्ते आदि ने बताया कि वे जंगल को बचाने के लिए लंबे समय से प्रयासरत हैं। वन विभाग एवं पुलिस-प्रशासन का उचित सहयोग नहीं मिलने के कारण वनों के अस्तित्व को ही खतरा है। इन ग्रामीणों ने बताया कि वे जंगल को बचाने की गुहार पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह से मिलकर कर चुके हैं।

बस्तर महाराजा की देवी स्थापित है जंगल में

ग्रामीणों ने बताया कि चनाभरी के जंगल में बरसों पूर्व बस्तर महाराजा भंजदेव के द्वारा ब्राह्मणी देवी की स्थापना की गई थी। उन्होंने उस समय कहा था कि इस जंगल में वृक्षों की कटाई नहीं होने दी जाएगी, तब जंगल सुरक्षित था किंतु अब यहां अतिक्रमणकारी हावी हो गए हैं तथा जंगल को लगभग सफाचट ही कर दिया है। इसी बात को लेकर ग्रामीणों ने विगत वर्ष महाराजा कमल चंद्र भंजदेव से मुलाकात कर जंगल को बचाने के लिए सरकार से दखल देने कहा था। उन्होंने आश्वासन दिया था कि 500 एकड़ तक के जंगल पर किसी प्रकार की कटाई नहीं होने दी जाएगी। उनके आश्वासन के कुछ माह पश्चात पुन: अवैध कटाई शुरू हो गई। जिसके चलते जंगल विनाश के कगार पर है।

बताया जाता है कि माकड़ी वन परिक्षेत्र के गमरी, बागबेड़ा भतवा के आसपास के साल एवं सागौन के कीमती पेड़ काटे जा रहे हैं। माकड़ी के आसपास के जंगल में बड़ी तादाद में सागौन के पेड़ हैं, जहां लंबे समय से अवैध कटाई एवं तस्करी जोरों पर चल रहा है। तस्करों के द्वारा सागौन एवं साल के पेड़ों को काटकर चिरान तैयार किया जाता है तथा उसे बाहर भेजा जाता है। वहीं सागौन के पलंग सोफा फर्नीचर बनाकर लंबे समय से तस्करी में कई लोग संलिप्त हैं। साल के पेड़ों की कटाई के पश्चात वहां वन भूमि पर वन अधिकार पट्टा के बहाने कब्जा के लिए अतिक्रमणकारी सक्रिय रहते हैं। धीरे-धीरे जंगल का रकबा घटता जा रहा है। वन विभाग के मिलीभगत से ही वन भूमि पर अतिक्रमणकारियों के द्वारा कब्जा किए जाने की शिकायतें लगातार मिल रही है।

कुछ आरटीआई कार्यकर्ताओं ने सूचना के अधिकार के तहत माकड़ी वन परिक्षेत्र में जानकारी चाही तो उन्हें महीनों तक लगातार परेशान किया गया। क्षेत्र के एक आरटीआई कार्यकर्ता ने बताया कि वनपरिक्षेत्राधिकारियों के द्वारा सूचना के अधिकार अधिनियम का कतई पालन नहीं किया जाता। वन अधिकारी का भी इनको संरक्षण प्राप्त है। आरटीआई कार्यकर्ता ने बताया कि ऐसा कई आरटीआई कार्यकर्ताओं के साथ हुआ है।


Date : 12-Oct-2019

अधूरे आवासों को पूर्ण कराने पर जोर

छत्तीसगढ़ संवाददाता
भैयाथान, 12 अक्टूबर।
विकासखण्ड के अंतर्गत विभिन ग्राम पंचायत में जनपद सीईओ के निर्देश में स्वीकृति वर्ष 2016 -17 से 2019-20 तक के आवासों को पूण करने को लेकर क्लस्टर तैयार किया गया है और प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत हितग्राहियों का उन्मुखीकरण किया जा रहा है और हितग्राहियों की बैठक लेकर उनको प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। 

गौरतलब है कि भैयाथान विकासखण्ड में 6 5 ग्राम पंचायत में 14 क्लस्टर तैयार किया गया है जिसमें शुक्रवार को प्रत्येक क्लस्टर में 5 ग्राम पंचायत को एक क्लस्टर में शामिल किया गया है। क्लस्टर सुदामानगर, सलका, शिवप्रसादनगर में हितग्राहियों के उन्मुखीकरण को लेकर चौपाल के माध्यम से बैठक कर उनको समय में अधूरे आवासों को पूर्ण कराने को लेकर जोर दिया गया। वहीं क्लस्टर के अंतर्गत सुदामानगर में नोडल अधिकारी के रूप में विकासखण्ड समन्वयक मयंक गुप्ता व प्रभारी अधिकारी दुर्गेश कुशवाहा सलका क्लस्टर में नवीन जायसवाल, महंतेश्वरी सिंह, शिवप्रसादनगर क्लस्टर कुबेर उरेती, पंकज कुशवाहा, पंकज गुर्जर शामिल हैं। वहीं इन तीन क्लस्टर में 100 हितग्राहियों ने भाग लिया। 

इस अवसर पर पूर्व वर्षो में स्वीकृत आवासों में जिन हितग्राहियों को आवास निर्माण हेतु पैसा दिया गया था, उनके द्वारा आवास को पूर्ण नहीं किया गया, उन्हें भी समय सीमा में पूर्ण करने को लेकर दिशा निर्देश दिया गया। वहीं 2019-20 में नवीन स्वीकृत आवासों को लेकर भी हितग्राहियों को जल्द पूर्ण करने को लेकर समझाइश दी गई।


Date : 11-Oct-2019

विधायक संतराम ने किया क्षेत्र का दौरा, समस्याएं जानी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
विश्रामपुरी, 11 अक्टूबर।
क्षेत्रीय विधायक एवं बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष संतराम नेताम ने क्षेत्र का दौरा किया। इस अवसर पर उन्होंने माल गांव में एक रंगमंच का उद्घाटन किया। तत्पश्चात उन्होंने ग्रामीणों से समस्याओं के बारे में जानकारी ली तत्पश्चात उन्होंने ग्राम पलना जो कि उनका ग्रह ग्राम है, पहुंच कर गांव वालों से मुलाकात कर कुशलक्षेम पूछा। 
उसके बाद विधायक के द्वारा प्राथमिक चिकित्सा केंद्र सलना का निरीक्षण किया गया उन्होंने अस्पताल से जुड़ी समस्याओं के बारे में ग्रामीण चिकित्सा अधिकारी एवं मरीजों से पूछताछ की। ग्रामीणों ने अस्पताल में सुविधाओं को बढ़ाने की मांग की। बताया गया कि यहां अलग से एक्सरे रूम की व्यवस्था की जाए एवं अस्पताल में एक स्टाफ नर्स की कमी होने की शिकायत की गई। इस पर विधायक ने उचित निराकरण करने का आश्वासन दिया है। उनके साथ ब्लॉक कांग्रेस कमेटी केसकाल के अध्यक्ष गिरधारी सिन्हा मनोज तिवारी, महेंद्र सिन्हा, सरस्वती आदि कार्यकर्ता सम्मिलित थे।

 


Date : 11-Oct-2019

क्षत्रिय बंधु शिक्षित व स्वावलंबी बने- डॉ. विवेकानंद

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
बिश्रामपुर, 11 अक्टूबर ।
इस वर्ष भी क्षत्रिय समाज का शस्त्र पूजन विधि विधान से सम्पन्न हुआ। जानकारी के अनुसार स्थानीय क्षत्रिय महासभा ने वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच शस्त्र पूजन का कार्यक्रम सम्पन्न कराया। 

इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केंद्रीय चिकित्सालय के वरिष्ठ चिकित्साधिकारी डॉ. विवेकानंद सिंह ने कहा कि अपनी संस्कृति संस्कार परंपरा को बचाते हुए समाज व राष्ट्र की भी चिंता करनी है। आज हम सबको सबसे बड़ी लड़ाई बेरोजग़ारी से लडऩी है, इसके लिए हमें शिक्षित व स्वरोजगार पर ध्यान देना पड़ेगा। 

 इस अवसर पर रामशंकर सिंह, विकास सिंह, चंदन सिंह, अंशुल सिंह बजेठा ने भी समाज के युवाओं को संबोधित किया तथा राज पूताना इतिहास पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर मुख्य अतिथि डॉ. विवेकानंद सिंह सहित वरिष्ठ विनय सिंह राणा, रामशंकर सिंह, उदय सिह, के के सिंह,  राजू  ,कृष्णा सिंह  सहित चंदन सिंह, विकास सिंह दीपेंद्र सिह चौहान ,टुनटुन सिह,  विनय सिह ,अंकित सिंह को सम्मानित किया गया गया। कार्यक्रम के मुख्य यजमान उदय सिंह  रहे, संचालन गोपाल सिंह विद्रोही रहे। 

कार्यक्रम को सफलतापूर्वक निर्वहन व्यवस्था में  विनय सिंह ,के वी ,अंशुल बजेठा ,अविनाश सिंह , अविनिश सिंह, राहुल सिह, अमन सिंह, आदित्य सिह, ओम सिंह, संस्कार सिंह ,रौशन सिंह, आशुतोष सिंह आदि ने ठाकुर विजय सिंह के मार्गदर्शन में पूर्ण किया। 


Date : 09-Oct-2019

हर्षोल्लास से मना दशहरा, नवनिर्मित रावण की मूर्ति से बढ़ा उत्साह

छत्तीसगढ़ संवाददाता
विश्रामपुरी, 9 अक्टूबर।
ग्राम पलना में विजयदशमी पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। रामलीला के रंगमंच पर श्रीराम-रावण युद्ध की लीला का मंचन किया गया।

रामलीला मैदान में श्री रामलीला मंडल की ओर से चल रही रामलीला के रंगमंच पर शाम को श्रीराम और रावण युद्ध की लीला का बेहद सुंदर तरीके से मंचन किया गया। युद्ध के दौरान भगवान श्रीराम ने रावण का वध कर दिया। इसके पूर्व रामलीला के दौरान श्री राम एवं वानर सेना की रावण, मेघनाद और कुंभकरण के साथ युद्ध का मंचन किया गया। रावण होते ही रामलीला मैदान में जय श्रीराम का जयघोष गूंजने लगा। 

दशहरा मनाने यहां आसपास के गांव के लोग तो आते ही हैं उसके अलावा दूर-दूर से भी लोग पहुंचते हैं। यहां रावण की मूर्ति बनाकर रावण वध किया जाता है। यहां पहले भी रावण की मूर्ति थी किन्तु वह पुरानी एवं खंडित हो चुकी थी अब यहां सीमेंट कंक्रीट से पक्की मूर्ति बनाई गई है। दशहरा एक दिन बाद एकादशी को मनाया गया।

विधायक के प्रयास से बढ़ी रौनक
ग्राम पलना विधायक एवं केशकाल विधानसभा क्षेत्र के विधायक एवं बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष संतराम नेताम का यह गृह ग्राम है जिसके चलते स्वयं विधायक भी दशहरा को जोर-शोर से मनाने की तैयारी में जुटे रहे। विधायक के दिशा निर्देश पर ग्रामीणों द्वारा जोरशोर से दशहरा मनाने की तैयारी चल रही थी। उनके प्रयास से पक्की मूर्ति बन रही है जिससे ग्रामीणों में उत्साह अधिक दिखाई दिया।

ग्राम पटेल मोतीराम सिन्हा एवं पुरोहित लतेल प्रसाद तिवारी ने बताया कि यहां लगभग 8 0 साल से दशहरा का कार्यक्रम चलते आ रहा है। उस समय बस्तर के तत्कालीन महाराजा भंजदेव से मार्गदर्शन मिला था तब से यह परंपरा चली आ रही है।

विश्रामपुरी में पुतला दहन
विश्रामपुरी एवं मारंगपुरी में पुतला दहन किया गया। वहीं ग्राम पलना में पुतला दहन नहीं किया जाता। यहां प्रतीकात्मक वध किया जाता है।