छत्तीसगढ़ » सुकमा

Previous123Next
01-Jun-2020 8:29 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोंटा, 1 जून।
कोविड 19 कोरोना वायरस की संक्रमण को देखते हुए इलाके में स्वास्थ्य सेवाएं बढ़ा दी गई हैं। लगातार अधिकारी, कर्मचारी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मितानिन सभी ग्रामीणों को जागरूक करने में लगे हैं, कि बुखार य सांस लेने में तकलीफ होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में सम्पर्क करें। ऐसे महामारी कोरोना संक्रमण के दौर में सुकमा जिले के कोंटा ब्लॉक के किस्टारम में संचालित उप स्वास्थ्य केंद्र को बंद कर दिया गया। जिससे ग्रामीण फिर से झाड़-फूंक पर आश्रित होने मजबूर हो गए हैं।

किस्टारम में अस्पताल खुलने से ग्राम पंचायत गंगलेर, किस्टारम, पालाचलमा, कर्रीगुंडम के लोगों ने खुशियां मनाई कि अब उन्हें तुरंत इलाज की सुविधा होगी। उप स्वास्थ्य केंद्र किस्टारम पर आश्रित ग्राम पंचायत पालाचलमा, कर्रीगुंडम, गंगलेर  के वर्ष 2011 के जनगणना के तहत 3035 लोगों की सरकारी आंकड़ें बता रहे हैं। वर्तमान में 2011 के आंकड़ों से तीन गुना ज्यादा लोग यह अस्पताल पर आश्रित हैं। यहां देर रात को गर्भवती माताओं का प्रसव से लेकर अन्य बीमारियों का इलाज एवं स्नेक वैक्सीन तक लगाया जाता था जो कि इन इलाके के ग्रामीणों को एक किस्टारम अस्पताल एक वरदान साबित हो रहा था।

 किस्टारम की अस्पताल बंद हो जाने से आज पुन: सन 2006 सलवा जुडूम के दौर में ग्रामीणों ने जो परेशानियां झेल कर बहाल हुए हैं पुन: ग्रामीण उन्हीं हालातों से गुजरने को विवश हैं। किस्टारम की अस्पताल बंद हो जाने से ग्रामीण झाड़ फूंक व 50 से 60 किमी दूरी तय कर तेलंगाना के भद्राचलम निजी अस्पताल में इलाज करवाने मजबूर हो रहे हैं।

सड़क ठेकेदार ने खाली करवाया भवन 
किस्टारम स्वास्थ्य केंद्र सड़क ठेकेदार के भवन में संचालित हो रहा था। ठेकेदार के द्वारा 20 मई को भवन खाली करवा दिया गया, जिससे यहां के पदस्थ डॉक्टर व स्टाफ किस्टारम की स्वास्थ्य केंद्र को पुन: मराईगुडा वन में संचालित कर सप्ताह में दो दिन स्वास्थ्य शिविर लगा रहे हैं। 

28 मई को सर्पदंश से 13 साल की बच्ची की मौत
किस्टारम मंगलगुडा की पेड़कम कन्ना ने 'छत्तीसगढ़Ó से दूरभाष में बताया कि उनकी पुत्री पेडकम रामना मराईगुडा वन में कक्षा आठवीं कन्या आश्रम में अध्ययनरत थीं। कोरोना की वजह लगे लॉकडाउन से रामना अपने परिवार के साथ मंगलगुडा में ही रह रही थी, 28 मई देर रात को करीब 2 बजे रामना को सांप ने काटा, जिससे कन्ना ने ग्रामीणों की मदद से 12 किमी पैदल किस्टारम पहुंचे। यहां पहुंचने के बाद उन्हें पता चला कि पिछले आठ दिनों से अस्पताल बंद हो गया। इस स्थिति में पुन: गांव जाकर झाड़-फूक से रामना का इलाज करवाने का इरादा बनाया तो वहां किस्टारम में तैनात सीआरपीएफ ने रामना का जान बचाने की कोशिश की पर तब तक रामना की जान जा चुकी थी। 

 इस संबंध में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कोंटा हिमांचल साहू ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा के दौरान कहा कि इस सम्बन्ध में बीएमओ से चर्चा कर वहां के लोगों की समस्या को देखते हुए पुन: किस्टारम में अस्पताल प्रारंभ कर समस्या का निराकरण किया जाएगा। 

बीएमओ कपील देव कश्यप ने 'छत्तीसगढ़Ó से कहा कि अस्पताल संचालन करने के लिए भवन नहीं होने के कारण किस्टारम अस्पताल को बंद किया गया है। सप्ताह में दो दिन किस्टारम में स्वास्थ्य शिविर लगाया जा रहा है। इसकी जानकारी सीएमएचओ को लिखित रूप से दिया हूं, भवन की व्यवस्था होने पर अस्पताल पुन: संचालन किया जाएगा। 
किस्टारम स्वास्थ्य केन्द्र के ठेकेदार ने 'छत्तीसगढ़Ó से कहा कि भवन निर्माण कार्य  तेजी से जारी हैं, 80 फीसदी कार्य पूर्ण हो गया है। बीच में लगे लॉकडाउन की वजह दिक्कत हुई है। कोरोना के चलते बाहरी मजदूरों को वापस भेजने पर मजबूर होना पड़ा। निर्माण चालू है, जून माह तक भवन निर्माण कार्य पूर्ण कर दिया जाएगा।  

 

 

 


31-May-2020 7:42 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
सुकमा, 31 मई। 
कोरोना वायरस व लॉकडाउन के चलते माहेश्वरी समाज के द्वारा नियमों का पालन करते हुए महेश नवमी का आयोजन किया गया।  इस साल सोशल मीडिया के माध्यम से ही महेश नवमी मनाई गई। सफाई कर्मचारियों की आरती की गई और उनका सम्मान किया गया। जिले के अलावा छिन्दगढ़, तोंगपाल में भी महेश नवमी पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। 

रविवार को माहेश्वरी समाज के द्वारा उत्पति दिवस महेश नवमी मनाई गई। जिसमें सुबह-सुबह घरों में भगवान महेश की पूजा-अर्चना की। कुछ समाज के सदस्य नगर पालिका पहुंचे। जहां कोरोना काल में सबसे फ्रंट पर लड़ रहे सफाईकर्मचारियों की आरती उतारी गई। उसके बाद उनका सम्मान किया गया। वहीं सीएमओ आशीर्ष कोर्राम व नगर अध्यक्ष राजू साहू का भी सम्मान स्मृति चिन्ह देकर किया गया। 

समाज के सदस्यों ने सफाई कर्मचारियों की तारीफ करते हुए कहा कि आप लोग सफाई करने वाले हो और हम लोग कचरा वाले है। आगे भी इसी तरह काम करते रहे। वहीं सफाई कर्मचारियों ने भी महेश नवमी की बधाई और शुभकामनाएं दी। वहीं उसके बाद गौ-सेवा का भी कार्यक्रम किया गया। जिसमें युवाओं ने गाय माता को खाने व पीने की व्यवस्था की गई। 
माहेश्वरी समाज सुकमा के द्वारा डिजिटल प्लेटफार्म की मदद से कई कार्यक्रम का आयोजन किया गया। स्थानीय स्तर पर फैंसी ड्रेस, एकल गायन, सामूहिक गायन, एकल नृत्य, सामूहिक नृत्य, पोस्टकार्ड में भगवान का नाम, रंगोली जैसे कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। वही विजेताओं का चयन करने के बाद उन्हें सम्मान भी किया जाएगा। 

ग्रामीण इलाकों में भी मनी महेश नवमी 
जिला मुख्यालय के अलावा छिन्दगढ़ व तोंगपाल में भी माहेश्वरी समाज के द्वारा महेश नवमी मनाई गई। हालांकि सामूहिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया गया। लेकिन यहां पर भी कोरोना वारियर्स का सम्मान किया गया। साथ ही और भी कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। 

माहेश्वरी समाज के द्वारा कोरोना वायरस को लेकर जिले में हुए बेहतर कार्यों के लिए प्रशासन के अधिकारियों का भी सम्मान किया गया। जिसमें कलेक्टर चंदन कुमार, एसपी शलभ सिन्हा, एएसपी सिद्धार्थ तिवारी, डॉ. बंसोड़, यातायात डीएसपी अनिल विश्वकर्मा, एसडीओपी प्रतीक चतुर्वेदी, थाना प्रभारी एके नाग, तहसीलदार आरपी बघेल समेत सभी का सम्मान किया गया जो कोरोनो से सीधे तौर पर लड़े हंै। 

राजू साहू अध्यक्ष नगर पालिका सुकमा ने महेश नवमी की बधाई और शुभकामनाएं देते कहा कि मुझे सम्मानित किया इसके लिए आप का धन्यवाद। साथ ही में आप लोगों से यह सहयोग चाहूंगा कि अपने शहर को स्वच्छ रखना है जिसके लिए नगर पालिका के साथ आप सभी का सहयोग चाहिए।   

एसपी सुकमा शलभ सिन्हा ने माहेश्वरी समाज को महेश नवमी की बधाई और शुभकानाएं देते कहा कि लॉकडाउन में हमेशा आपके समाज ने बढ़-चढ़ कर समाजहित में कार्य किए गए। और आशा करता हूं कि आगे भी इसी तरह आप लोग समाज हित में बेहतर कार्य करें।

सुकमा के कलेक्टर  चंदन कुमार ने कहा कि माहेश्वरी समाज का आज उत्पति दिवस है मेरी ओर से जिले के समस्त माहेश्वरी समाज को महेश नवमी की बधाई और शुभकामनाएं। इस अवसर पर मेरा सम्मान किया जिसके लिए में धन्यवाद और हमेशा की तरह समाजहित में आप लोग बेहतर कार्य करते है आगे भी करते रहेंगे। 

सत्यनारायण राठी अध्यक्ष माहेश्वरी समाज सुकमा ने बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी महेश नवमी मनाई गई लेकिन कोरोना वायरस व लॉकडाउन के चलते सामूहिक कार्यक्रम ना करते हुए डिजिटल प्लेटफार्म पर महेश नवमी मनाई गई। साथ ही कोरोना योद्धाओं का सम्मान किया गया। इसके अलावा हमारे द्वारा गौ सेवा का भी कार्य किया गया है। 

 


30-May-2020 10:04 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
सुकमा, 30 मई।
नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत सुरक्षाबल के जवानों को बड़ी सफलता मिली है। पिछले 4-5 दिनों से गांव के आस-पास घूम रहे 5 लाख के ईनामी नक्सली माड़वी जोगा और सहयोगी जगन्नाथ बरनई को घेराबंदी कर गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से हथियार समेत बंदूक बनाने की मिनी फैक्ट्री के सामान जब्त किए गए हैं.

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक 40 वर्षीय माड़वी जोगा (कटेकल्याण एरिया कमेटी मेम्बर) सुकमा के गादीरास का रहने वाला है। पिछले 7-8 सालों से कटेकल्याण कमेटी का सक्रिय सदस्य रहकर कार्य कर रहा था। नक्सली संगठन में रहकर घर में ही भरमार बंदूक बनाता था।

 इसके साथ ही जगन्नाथ बरनई ओडिशा के मलकानगिरी का निवासी है, वहां की पुलिस के साथ समन्वय स्थापित कर घर में दबिश देकर पकड़ा गया है।
इसके पास से 2 नग भरमार बंदूक, 3 नग भरमार बंदूक लकड़ी का बट, 10 नग भरमार बंदूक का बैरल, 3 नग छोटा हथौड़ी, 1 नग लकड़ी का मुठ लगा, लोहे का धन, 3 नग कनासी, 1 नग प्लास, 1 नग लोहे का सरसी, 2 नग भरमार बंदूक का क्लीनिंग रॉड, 1 नग आरी ब्लेड, 1 नग लोहे का बना हुआ हाथ घुमाव पंखा, 2 नग लोहे का वाईस, 1 नग लोहे का छेद करने वाला औजार आदि बरामद किया गया।

 

 


30-May-2020 9:57 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
सुकमा, 30 मई।
जिले के करीब 119 मजदूर गोवा में फंसे हुए थे। ये सभी वहां मजदूरी करने गए हुए थे। लॉकडाउन में फंस गए। वहां से सोशल मीडिया के माध्यम से मदद की गुहार लगाई। जिसके बाद मंत्री कवासी लखमा ने पहल करते हुए रायपुर से 5 बसों को भेजा। जिसमें सवार होकर सभी मजदूर सुकमा पहुंचे, जहां उन्हें रोकेल में क्वॉरंटीन किया गया। 

ज्ञात हो कि पिछले 12 मई को गोवा में फंसे हुए मजदूरों ने 'छत्तीसगढ़Ó को दूरभाष पर संर्पक कर मदद मांगी थी। जिसके बाद 'छत्तीसगढ़Ó ने प्रमुखता से खबर प्रकाशित की और इस मामले को मंत्री कवासी लखमा को अवगत कराया। जिसके बाद मंत्री कवासी लखमा ने लगातार उन मजूदरों को लाने का प्रयास किया। शासन स्तर पर पत्र लिखकर उन मजूदरों को लाने के लिए 24 मई को रायपुर से 5 बसें भेजी गई। जिसके बाद मजदूर उन बसों में सवार होकर गोवा से रवाना हुए और आज सुबह जिले के रोकेल गांव में पहुंचे। जहां उन मजदूरों और कर्मचारियों को पोटाकेबिन रोकेल में क्वॉरंटीन किया गया। यहां सभी मजदूरों व कर्मचारियों का स्वास्थ्य जांच होगा उसके बाद क्वॉरंटीन अवधि के बाद ही घर भेजा जाएगा।

'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए मजदूर लक्ष्मीनाथ बघेल ने बताया कि वो गोवा के एक होटल में काम करते थे। वहां पर लाक डाउन के बाद स्थिति खराब हो गई थी। पैसे खत्म हो चुके थे और भूखे मरने की नौबत आ गई थी। लेकिन हमने मंत्री कवासी लखमा से संपर्क किया और आज हम सुरक्षित घर पहुंच गए हैं। जिसके लिए मंत्री कवासी लखमा का आभार जताया।

 


30-May-2020 6:27 PM

सीमा सील, साप्ताहिक बाजार बंद रहे, ग्रामीणों को नहीं आने दिया जा रहा

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
 सुकमा, 30 मई।
कोरोनो को लेकर लगातार जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। जब से सीमावर्ती प्रदेश में कोरोना ने दस्तक दी है, उसके बाद प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। साथ ही ग्रामीण भी जागरूकता दिखा रहे हंै। शुक्रवार को जिले में लगने वाली साप्ताहिक बाजार बंद रही। साथ ही सीमाओं पर पुलिस व डॉक्टर तैनात रहे।

शुक्रवार को जिले में दो बड़ी साप्ताहिक बाजार लगती है। एक ओडिशा की सीमा से लगा हुआ गांव बुड़दी व दूसरा केरलापाल जहां की बाजारों में सैकड़ों ग्रामीण दूर-दराज से आते हंै। लेकिन लगातार साप्ताहिक बाजार बंद होने के कारण शुक्रवार को भी साप्ताहिक बाजार बंद रही। हालांकि स्थानीय ग्रामीणों ने सब्जी दुकानें जरूर लगाई, लेकिन बाहरी व्यापारी या फिर ग्रामीणों के आने पर पूरी तरह रोक लगाई गई।

बुड़दी में ग्रामीणों ने जागरूकता दिखाते हुए साप्ताहिक बाजार बंद करा दी। क्योंकि ओडिशा के मलकानगिरी में कोरोना के मरीज मिलने के बाद यह फैसला लिया गया। हालांकि एक्का-दुक्का स्थानीय ग्रामीणों ने सब्जी की दुकान लगाई। जिसमें गांव के ही ग्रामीण सब्जी की खरीदारी करते हुए नजर आए। ग्रामीणों का कहाना कि गांव के ही ग्रामीण जो खेतों में सब्जी लगाई है उन्हें लगाने की अनुमति दी गई है बाहरी व्यापारियों और ग्रामीणों को नहीं आने दिया जा रहा है।

‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा करते हुए बुड़दी के जनप्रतिनिधि डमरू राम नाग ने बताया कि सीमावर्ती प्रदेश में कोरोना आ गया है, इसलिए हम गांव वालों ने सीमा को सील कर दिया है। ताकि यहां पर कोरोनो का प्रभाव ना सके। हमारे द्वारा बाजार भी बंद करवाई गई, ताकि कोरोना से बचाव हो सके। ग्रामीणों में काफी दहशत है, इसलिए बाहर के लोगों को आने से मना किया जा रहा है।
 


29-May-2020 10:09 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 29 मई। भारतीय जनता पार्टी जिला सुकमा के जिलाध्यक्ष  हूंगाराम मरकाम ने मंडल अध्यक्ष  विनोद सिंह बैस की अनुशंसा में मंडल कार्यकारिणी की इकाई का गठन किया है । गुरुवार को सुकमा भाजपा जिलाध्यक्ष व मण्डल अध्यक्ष ने कार्यकारणी की घोषणा की, जिसमें सुकमा मंडल कार्यकारिणी में मण्डल अध्यक्ष विनोद सिंह बैस, उपाध्यक्ष  डमरू राम नाग ,ऋषभ कुमार गुप्ता,  विमला मंडावी, भीमा कवासी को बनाया गया, साथ ही सुकमा मंडल में दो महामंत्री को दायित्व सौंपा गया है जिसमें गौरव सिंह राठौड़ व बुधराम मंडावी को यह जिम्मेदारी दी गई है।

इसी प्रकार मंडल मंत्री के रूप में  नंद किशोर, इस्माइल खान, लखमू राम बघेल, सोढ़ी राम, यशराज को जिम्मेदारी सौंपी गई है, साथ ही मण्डल कोषाध्यक्ष मुकेश जैन को बनाया गया है । इसी प्रकार तोंगपाल , छिंदगढ़ , व दोरनापाल मंडल की भी मण्डल इकाई का गठन कर पदाधिकारियों के नाम की घोषणा जिलाध्यक्ष हूँगाराम मरकाम ने की है। तोंगपाल मंडल से मण्डल उपाध्यक्ष - भानु भदौरिया, देवेन्द्र ध्रुव , मुन्ना राम, व रमेश नाग को चुना गया है साथ ही महामंत्री के रूप में विकास सिंह भदौरिया  और मंगल बघेल को चुना गया है। 

 छिंदगढ़ से उपाध्यक्ष -हडमा राम बारसे , मुकेश नाग,  कौशल्या दंडडे ,रामलाल ध्रुव  को चुना गया है, साथ ही महामंत्री -चन्नाराम मरकाम  व गंगा बघेल को चुना गया। इसी तरह दोरनापाल मण्डल से मण्डल अध्यक्ष -दुलाल शाह मण्डल उपाध्यक्ष -पुष्पलता भदौरिया,अमर बहादुर सिंह,अर्जित हलदर,पंडो भीमा मण्डल महामंत्री-प्रदीप शुक्ला,वेट्टी बल्लू- मण्डल मंत्री सरियम सुक्की,माया खि़लारे, अरुण सुनानी, सरियम देवा-कोषाध्यक्ष दुर्जन बघेल,- कार्यकारिणी सदस्य- मदवि नंगा,धर्मेन्द्र सिंह भदौरिया,गणेश देवनाथ,भंवरलाल चांडक को नियुक्त किया गया है ।

 


29-May-2020 10:01 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
सुकमा, 29 मई।
शुक्रवार को सीआरपीएफ के जवानों ने सुकमा जिले के केरलापाल थानान्तर्गत माझीपारा गांव में स्पेशल सिविक एक्शन प्रोग्राम के तहत लगभग 300 ग्रामीणों को कोविड-19 से सुरक्षा हेतु मास्क, सेनिटाइजर, एंटीसेप्टिक सोप (डिटोल), एवं हैण्डवॉश वितरित किए। जवानों द्वारा गांव के सार्वजनिक स्थलों को भी सैनिटाइज किया गया। इलाके को सैनिटाइज एवं सामान वितरित करते समय जवानों द्वारा कोविड-19 से संबंधित जारी दिशा-निर्देशों/ सोशल डिस्टेंटिंग आदि को ध्यान में रखते हुए सभी सुरक्षात्मक उपाय किए गए। 
कोविड-19 महामारी के बचाव हेतु प्रचार-प्रसार में योगेन्द्र कुमार यादव समवाय अधिकारी बी/02 वाहिनी केरिपुबल ने स्थानीय लोगों को हर प्रकार की संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया तथा ग्रामीणों को अवगत कराया कि इस विश्व व्यापी महामारी से घबराने की आवश्यकता नहीं है, लोगों को इस बीमारी से अपनी रक्षा कैसे करना है तथा साफ-सफाई के महत्व के बारे में बताया, साथ ही समझाया कि हमें बीमारी से लडऩा है न कि बीमार से। सरकार तथा प्रशासन के द्वारा दिये गये निर्देशों को अधिकतम स्तर पर पालन करते हुए ही इससे बचा जा सकता है।  

योगेन्द्र कुमार यादव समवाय अधिकारी बी/02 वाहिनी केरिपुबल ने यह भी बताया कि इस बीमारी का फैलाव काफी तेजी से लोंगों के बीच हो रहा है और इसका एक मात्र निदान अपने आस-पास के इलाकों की साफ-सफाई एवं विशेष सुरक्षात्मक उपाय ही बचाव है। इस स्पेशल सिविक एक्शन कार्यक्रम का संचालन 'बीÓ समवाय के समवाय अधिकारी योगेन्द्र कुमार यादव, सहा कमाण्डेन्ट के देख-रेख में सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर स्थानीय जन प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

 


29-May-2020 8:35 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 29 मई। छिंदगढ़ ब्लाक मुख्यालय के हाई स्कूल मैदान में तेंदूपत्ते के बोरों को डंप कर रखा गया है। शुक्रवार की सुबह इन बोरों में आग लगने से हड़कंप मच गया। आनन फानन में स्थानीय लोगों ने आग बुझाने की कोशिश की और फायर ब्रिगेड को बुलाया गया। खबर लिखे जाने तक मौके पर पहुंची दमकल की टीम द्वारा आग पर काबू पा लिया गया है। आगजनी की इस घटना में करीब 200 बोरा तेंदूपत्ता में आग लगने की जानकारी सामने आ रही है।

हालांकि, मैदान में रखे गए तेंदूपत्ता बोरों में आग कैसे लगी इसका कारण अज्ञात है। फिलहाल, डीएफओ, एसडीओ और रेंजर घटनास्थल पर पहुंचे हैं और हादसे की जानकारी ली जा रही है। इधर, पुलिस ने भी मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है। हादसे में बड़े नुकसान का अंदेशा जताया जा रहा है।

 


28-May-2020 8:00 PM

क्रेडा ने कई नक्सल प्रभावित गांवों में पहुंचाया सौभाग्य का उजाला
'छत्तीसगढ़' संवाददाता
सुकमा, 28 मई।
जिले के जगरगुण्डा क्षेत्र के धुर नक्सल प्रभावित गांवों के सैकड़ों घरों में सौभाग्य का उजाला पहुंचाकर ग्रामीणों के जीवन से अंधेरे को भय को दूर कर दिया गया है। 

जगरगुण्डा क्षेत्र के कई गांवों के ग्रामीण नक्सलियों के भय से अपने घरों में बिजली की रोशनी को तरस गए थे। रोशनी का इंतजार कर रहे इन ग्रामीणों की मनोकामना तब जाकर पूरी हुई, जब क्रेडा द्वारा इन पहुंचविहीन गांवों में सोलर होम लाईट की सुविधा दी गई। सौभाग्य योजना के तहत पहुंचाई गई यह रोशनी इन ग्रामीणों के सौभाग्य के उदय के समान है। जगरगुण्डा के अंदरुनी क्षेत्रों में सड़कों के अभाव में पहाड़ों और नालों को पार करते हुए आवागमन करना कोई आसान कार्य नहीं है, मगर जनता की जरुरतों को देखते हुए क्रेडा के लगातार इन क्षेत्रों में पहुंचकर घरों को रोशन कर रहे हैं और कई गांवों में लोगों ने पहली बार बिजली की रोशनी देखी है।

घने जंगलों और पहाड़ों के कारण जिन गांवों में परम्परागत बिजली पहुंचाने में बहुत अधिक कठिनाई आ रही है, वहां क्रेडा द्वारा घरों को रोशन करने का कार्य किया जा रहा है। क्रेडा द्वारा पिछले दो माह में दुर्गम क्षेत्रों में बसे 9 गांव के 1352 घरों को सोलर लाईट से रोशन किया जा चुका है। जगरगुण्डा से लगभग 30 किलोमीटर दूर सिलगेर पंचायत के ग्राम दूरनदरभा में 150, बेदरे में 204, कोत्ताचेरु पंचायत के भण्डारपदर में 90 और चिंतागुफा के 132, सुरपुनगुड़ा पंचायत में 68, तोलनई में 36, एलमपल्ली ग्राम पंचायत के चिमलीलावा में 114 ओर तारलागुड़ा के 158 घरों में क्रेडा द्वारा रोशनी पहुंचाई गई। सिरसट्टी गांव से 25 किलोमीटर के पहाड़ी और जंगल भरे रास्ते से गुजरकर गोगुण्डा के लगभग 400 परिवारों के यहां सोलर होम लाईट स्थापित कर गांव को जगमग करने का कार्य क्रेडा विभाग द्वारा लॉक डाउन के दौरान किया गया।

इन घरों में 200 वाट का सोलर होम लाईट सिस्टम दिया जा रहा है। इसमें 5 एलईडी बल्ब, 1 पंखा और मोबाईल चार्जिंग यूसीबी पोर्ट कनेक्शन दिया जा रहा है। इस योजना के तहत वर्तमान में तुमालपाड़, छोटेकेड़वाड, बड़ेकेड़वाड, एटराजपाड़, दंतेशपुरम, मैलासूर, गच्चनपल्ली, गोंदपल्ली, बुर्कलंका में कार्य प्रगति पर है और बरसात के पहले कार्य को पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है। क्रेडा द्वारा लगाए गए इस सोलर होम लाईट सिस्टम का संधारण भी क्रेडा द्वारा किया जाएगा। क्षेत्र के लोगों की पेयजल की जरुरत को देखते हुए कामाराम, राजपेंटा में सोलर पम्प भी स्थापित किया गया है।

 

 


28-May-2020 7:56 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 28 मई। कोरोना ने बच्चों को भले ही स्कूल से दूर कर दिया, लेकिन बच्चों को शिक्षा से दूर नहीं कर सकी। कोरोना के रोकथाम के लिए स्कूलों को बंद किए जाने के बाद बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी का सहारा लिया जा रहा है। सुकमा जिला प्रशासन द्वारा भी राज्य समग्र शिक्षा अभियान और यूनिसेफ के सहयोग से छिन्दगढ़ विकासखण्ड में सीख कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है।

प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों को इन्फॉमेशन टेक्नोलॉजी के माध्यम से शिक्षा दी जा रही है। इसमें बच्चों के साथ साथ उनके पालक, अभिभावक, आंगनबाड़ी के बच्चों और घर में रह रहे अन्य सदस्य भी पढ़ई तुहंर दुआर का लाभ ले रहे हैं। नेटवर्क की उपलब्धता वाले ग्राम के वे सभी स्कूलों के शिक्षक और बच्चों के पालकों को व्हाट्सअप ग्रुप के माध्यम से जोड़ा गया है। 

इस ग्रुप से प्रत्येक सप्ताह के सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को हिन्दी, गणित, विज्ञान संकाय से संबंधित ऑडियो, विडियो और चित्र संदेश पालकों तक पहुंचाया जाता है। बच्चों में मौखिक भाषा विकास, सुनकर समझना, कहानी, चित्र पर चर्चा और कहानी लिखो और कहानी पढ़ा जैसी अन्य गतिविधियों को शामिल किया गया है। इसी तरह आंगनबाड़ी से लेकर पांचवी कक्षा तक के बच्चों के लिए आकार से लेकर गिनती सिखाने जैसे गणित की गतिविधियां शामिल की गई है, जिससे बच्चे आसानी से गिनती सीख रहे हैं और विज्ञान संकाय से संबंधित भार, बल और खेल की रोचक गतिविधियां भी शामिल है।

 ये सभी गतिविधियां बच्चों के स्तर और उन्हें रोचक तरीके से शिक्षा देने के लिए निर्माण किया गया है। यह गतिविधियां यूनिसेफ रूम टू रीड प्रथम जैसे संख्या के सहयोग से बनाई जा रही है और जिसमें यूनिसेफ की महत्वपूर्ण है। शिक्षकों द्वारा पालकों के व्हाट्सअप ग्रुप में शिक्षण संबंधी गतिविधियां साझा कर फोन से जानकारी दी जाती है। इसके साथ ही कोरोना के प्रसार को विशेष ध्यान में रखकर सामाजिक दूरी का भी पालन करवाने की भी जानकारी दी जी रही है।

प्रथम संस्था के सहयोग से पालकों को मिस कॉल करो कहानी सुनो 08033094243 के नम्बर पर मिस कॉल देकर बच्चे दिन में 4 से 4 कहानी आसानी से सुन लेते हैं। बच्चे इस नम्बर को अपने घरों के दीवार पर भी अंकित कर रखा है जब भी उन्हें मोबाईल मिलता है तो वे मिसकॉल करके कहानी सुनते हैं। जिन स्कूलों या ग्राम में मोबाईल और मोबाईल नेटवर्क नहीं है ऐसे जगहों पर शिक्षक सामाजिक दूरी और सुरक्षा को विशेष ध्यान में रखकर सप्ताह में एक से दो बार पालकों और बच्चों से मिलकर गतिविधियों की जानकारी दी जा रही है। 

सीख कार्यक्रम के तहत् प्रत्येक सप्ताह में भेजी जा रही वीडियो को यू-ट्यूब पर भी उपलब्ध कराई गई है। इस कार्यक्रम के संचालन के लिए जिला प्रशासन के लोग लगातार शिक्षक, पालक और संकुल समन्वयकों से सतत् सम्पर्क बनाए रखते हैं और उन्हें उचित मार्गदर्शन भी दी जाती है।

 


27-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
सुकमा, 27 मई।
कोविड-19 की रोकथाम हेतु स्पेशल सिविक एक्शन प्रोग्राम के तहत जिले के केरलापाल थाना अन्तर्गत आने वाले गांव सामसेट्टी, को 02 वाहिनी के 'जी' समवाय के जवानों द्वारा सैनिटाइज किया गया तथा आस-पास के स्थानीय जरूरतमंद लोगों को मास्क,  सेनिटाइजर व डिटोल साबुन वितरित किया गया।
सुधीर कुमार सिंह समवाय अधिकारी जी/02 वाहिनी केरिपुबल ने कोविड-19 महामारी से बचाव हेतु स्थानीय लोगों को हर प्रकार की संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया तथा आम लोगों से अपील की कि इस विश्व व्यापी महामारी से घबराने की आवश्यकता नहीं है। सरकार तथा प्रशासन के द्वारा दिये गये निर्देशों को पालन करते हुए ही इससे बचा जा सकता है। 

इसके साथ ही  सुधीर कुमार सिंह समवाय अधिकारी जी/02 वाहिनी केरिपुबल ने यह भी बताया कि यह बीमारी तेजी से लोगों के बीच फैल रही है और इसका एक मात्र इलाज अपने आस-पास के इलाकों की साफ-सफाई एवं विशेष सुरक्षात्मक उपाय ही बचाव है। साथ ही समवाय के जवानों द्वारा ग्रामीणों को उनके उपयोग में आने वाली वस्तुयें जैसे- मच्छरदानी, वनियान, लुंगी, महिलाओं के लिए साड़ी व बच्चों के लिए स्कूल यूनिफार्म, छात्रों एवं युवाओं के लिए खेलकूद का सामान जैसे-कैरम वोर्ड, किकेट किट, वालीवाल एवं वालीवाल नेट तथा सोलर लाईटें आदि वितरित की गई। सामान को वितरित करते समय भी जवानों द्वारा सोशल डिस्टेंटिंग का पूरा ध्यान रखा गया। 

 


27-May-2020

कोंटा। आज किस्टाराम की स्वसहायता की महिलाएं महुआ खरीदी के बाद मराईगुड़ा तक के ट्रांसपोर्ट पॉइंट तक खुद ट्रैक्टर से आई। कुछ देर तक उन्होंने इंतज़ार किया और फिर खुद बन गई मालिक से मजदूर। (हालांकि कुछ देर बाद मजदूर आ गए)। जब इसकी जानकारी जिपं अध्यक्ष हरीश कवासी को मिली तो उन्होंने व्यक्तिगत रूप से नगद 3 हजार रुपये पुरस्कार की घोषणा की। इस पर नपा अध्यक्ष सुकमा ने कहा कि  तेंदूपत्ता और वनोपज खरीदी से मिली आय से जून के बस्तरिया साप्ताहिक बाजार गुलजार होंगे। ग्रामीण भारत के गांधी के सपनों को साकार करने भूपेश सरकार संकल्पित है।

 


27-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 27 मई। महेश्वरी बघेल ने कहा कि प्रदेश सरकार ने किसानों के हित में किसान न्याय योजना लागू की है। जिसमे किसानों को फायदा मिल रहा है लेकिन भाजपा नहीं चाहती कि किसानों का भला हो, उन्हें उनका हक मिले, किसानों की आय दुगुनी हो, यह भी नहीं चाहती। लेकिन इस योजना का लाभ भाजपा नेताओं को भी हो रहा है। अगर भाजपा के नेता लाभ लेना नहीं चाहते तो पैसे को मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करें। आज विश्वास का पर्याय बन चुकी है प्रदेश सरकार। 
आज प्रेस क्लब सुकमा में एक प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। जिसमें कांगे्रस जिला अध्यक्ष महेश्वरी बघेल ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने किसानों से किए वादों को पूरा किया, किसानों का कर्जा माफ किया, धान की कीमत 2500 रू. दिया। सिंचाई कर माफ सहित लगभग 11000 करोड़ रूपये का कर्ज माफी किया। अब भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक सहित भाजपा के नेता मोदी सरकार से भाजपा के वादा अनुसार स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिश के अनुसार लागत मूल्य का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य किसानों को दिलाएं? भाजपा के नेता बताएं कि मोदी सरकार के जुमलेबाजी से 2022 तक कैसे किसानों की आय दोगुनी होगी? रमन सिंह के कार्यकाल में किसानों के साथ हुई वादाखिलाफी का भाजपा प्रायश्चित करें।
आगे कहा  कि किसानों के साथ 15 साल से भाजपा शासन में लगातार धोखाधड़ी हुई है। कोरोना महामारी संकट काल में मोदी सरकार से स्पेशल पैकेज मांग कर किसानों का भाजपा शासनकाल का बकाया 2 साल का बोनस राशि दिलाएं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी कोरोना महामारी संकटकाल में मोदी सरकार से किसानों के खाते में किसान सम्मान निधि की राशि 6000 से बढ़ाकर 12000 एकमुश्त जमा कराने की मांग करें।  छत्तीसगढ़ के लाखों किसानों को अभी तक सम्मान निधि नहीं मिला है।  किसानों को सस्ते दरों में डीजल रसायनिक खाद उपलब्ध कराएं। 

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के जन कल्याणकारी कार्यों किसानों युवाओं मजदूरों महिलाओं के हित में लिए गए अनेक फैसले से छत्तीसगढ़ बीते 18 महीने से समृद्धि खुशहाल हुआ है । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की किसान हितैषी सरकार के खिलाफ निरंतर भाजपा तथ्यहीन मनगढं़त आरोप लगाकर किसानों के खिलाफ षड्यंत्र एवं बरगलाने में करने में लगी है।  इस दौरान नगर पालिका अध्यक्ष राजू साहू, उपाध्यक्ष आयशा बेगम, राजेश नारा मौजूद थे।

 

 


26-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 26 मई। सुकमा की 4 साल की मासूम बच्ची का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है, जिसमें वह कोविड 19 से बचाव के तरीके बताते हुए लोगों को सीख दे रही हैं। सोशल मीडिया में मासूम की इस पहल की तारीफ की जा रही है।  सुकमा पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा ने इस अपील की तारीफ करते हुए मासूम बच्ची को जिला पुलिस कार्यालय बुलाकर आराध्या चांडक के इस पहल की प्रशंसा की और इस पहल को लेकर प्रशंसा पत्र भी दिया और मासूम ने भी सुकमा एसपी को मास्क देकर आशीर्वाद लिया और उन्हें इस कोरोना की अपील के बारे में भी बताया।

यह बच्ची कक्षा एलकेजी में पढ़ती है। जिसका नाम आराध्या चांडक है। बच्ची सोशल मीडिया में सुरक्षाबल के जवानों का यूनिफॉर्म पहनकर कोरोना के प्रति जागरूक करने लोगों को संदेश दे रही है। इस वीडियो को सुकमा नगर के तमाम सोशल माध्यम में खूब सराया और अपील के नजरिये से इस वीडियो को देखा भी जा रहा है। इस वीडियो में बच्ची ने लॉकडाउन का पालन करने व सोशल डिस्टेंस को ध्यान में रखते हुए एहतियात बरतने को कह रही हैं। 

आराध्या के पिता गौरव, माता वर्षा चांडक ने बताया कि मासूम की अपील का पालन करें और वे बहुत खुश हैं कि बच्ची ने सोशल मीडिया में कोरोना को लेकर अपील की है। बहुत से रिश्तेदारों के यहां से फोन आने लगे हैं। सभी ने हमारी बच्ची का उत्साहवर्धन किया है। हम सुकमा एसपी के बहुत-बहुत आभारी है, जिन्होंने हमारी बच्ची को प्रोत्साहित करते हुए सम्मान किया, उज्जवल भविष्य की कामना की। 

 

 

 

 


25-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 25 मई। जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष  माहेश्वरी बघेल के नेतृत्व में आज जिला पंचायत सुकमा के अध्यक्ष हरीश कवासी के निवास में झीरम श्रद्धांजलि दिवस के अवसर पर नक्सल हिंसा के शिकार हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं, सुरक्षा बलों के जवानों एवं नक्सल हिंसा के शिकार अन्य व्यक्तियों को श्रद्धांजलि दी गई। लॉकडाउन के निर्देशों के तहत मास्क पहनकर फिजिकल डिस्टेंस का पालन करते हुए दो मिनट की मौन श्रद्धांजलि दी गई। 

इस अवसर पर सुकमा जिला पंचायत के अध्यक्ष हरीश कवासी ने कहा कि शहीद विद्याचरण शुक्ल, नंदकुमार पटेल, महेंद्र कर्मा एवं अन्य सभी नेताओं व सुरक्षा बलों की कुर्बानी व्यर्थ नहीं जाएगी। जिस बहादुरी से उन्होंने नक्सलियों से सामना किया, ऐसे शहादत को हम नमन करते है प्रणाम करते है। उनके आदर्शों, विचारों, सिद्धान्तों व संकल्पों के अनुरूप हम शांति, विश्वास व विकास की त्रिवेणी से नवा छत्तीसगढ़ का निर्माण करेंगे।

 इस अवसर पर सुकमा नगर पालिका के अध्यक्ष जगन्नाथ राजू साहू ने भी झीरम कांड में शहीद हुए नेताओं को नमन करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी बलिदानी पार्टी है जिन्होंने स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन से लेकर आज तक देश और समाज हित में अपने आप को बलिदान देते हुए आई है साहू ने झीरम के शहीदों की कुर्बानी को व्यर्थ नहीं जाने देने की बात कही।

  श्रद्धासुमन अर्पित करने वालों में जिला कांग्रेस कमेटी सुकमा के अध्यक्ष माहेश्वरी बघेल, जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी, सुकमा नगर पालिका के अध्यक्ष राजू जगन्नाथ साहू, ब्लाक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पोटला बोज्जीया,  मुकेश कश्यप ,राजेश नारा, मनोज चौरसिया, रोहित पांडे ,एल्डरमैन नागराज कर्मा, नीलम कश्यप,सत्येंद्र गुप्ता सहित अन्य कांग्रेसी शामिल थे।

 


25-May-2020

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

किरंदुल, 25 मई। सुकमा जिले के मिनपा के जंगल में हुई मुठभेड़ का वीडियो नक्सलियों ने जारी किया है। बस्तर में नक्सलियों द्वारा किए गए बड़े हमलों के बाद इस तरह के वीडियो फुटेज पहले भी जारी किए जा चुके हैं।

ज्ञात हो कि 21 मार्च 2020 को सुकमा के बुर्कापाल इलाके के मिनपा जंगल में मुठभेड़ हुई थी। मिनपा मुठभेड़ में 17 जवान शहीद हुए थे और हथियार भी लूट कर नक्सली ले गए थे। मुठभेड़ के दौरान बड़ी संख्या में नक्सली मौजूद थे। इस मुठभेड़ का नक्सलियों ने वीडियो जारी किया है।

बीजापुर में मुरकिनार हमला, सुकमा के बुरकापाल और ताड़मेटला हमला जिसमें 76 जवानों की शहादत हुई थी, इसके बाद मदनवाड़ा हमला जिसमें एसपी समेत कई जवान शहीद हुए थे, इनकी वीडियो फुटेज खुद नक्सली पहले ही जारी कर चुके हैं।

 

सुरक्षा जानकारों की मानें तो नक्सलियों द्वारा इस तरह के वीडियो फुटेज जारी करने के पीछे उनका मकसद अपनी ताकत संगठन और दहशत कायम करना होता है। वहीं बिहार में नक्सलियों द्वारा समय-समय पर आयोजित की जाने वाली समभाव रैलियों में इन वीडियो फुटेज का प्रदर्शन कर वहां के जनमानस में फोर्स के खिलाफ अपनी योजना तथा हमले की रणनीति से लाल लड़ाकों को वाकिफ कराते हैं और समय-समय पर उन्हें अपनी रणनीति में बदलाव के लिए विश्लेषण के तौर पर भी यह फुटेज काम आते हैं।


24-May-2020

सुकमा, 24 मई। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले से लगे हुए ओडिशा के मलकानगिरी जिले में लगातार करोना संक्रमित मिल रहे हैं। ऐसे में सुरक्षा के लिहाज से ओडिशा-छत्तीसगढ़ बॉर्डर सील कर दिया गया है। कुछ दिन पूर्व में मलकानगिरी में तमिलनाडु से लौटे 3 मज़दूरों के संक्रमित होने के बाद तीनों मरीजों को राजधानी भुनेश्वर शिफ्ट किया जा चुका है।

 


24-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 24 मई। बस्तर संभाग सहित जिले में भीषण गर्मी शुरू हो गई है और मैदानी क्षेत्रों में कई जगहों पर आज लू की स्थिति बनी हुई है। इस दौरान अधिकतम तापमान 46 डिग्री से अधिक दर्ज किया जा रहा है। दूसरी ओर सुबह से शाम-रात तक चलने वाली झुलसाने वाली गर्म हवा से सड़कों पर वीरानी सी छाने लगी है। 
मौसम विभाग का कहना है कि हवा की दिशा पिछले दो दिन से उत्तर-पश्चिम बनी हुई है और वहां से लगातार सूखी गर्म हवा आ रही है। आने वाले दो-तीन दिन में तापमान में और थोड़ी वृद्धि के साथ कहीं-कहीं पर लू के हालात बन सकते हैं।

चक्रवाती तूफान का असर खत्म होते ही संभाग एंव प्रदेश में भीषण गर्मी शुरू हो गई है। खासकर पिछले दो-तीन दिनों से भारी गर्मी पड़ रही है। इसकी वजह उत्तर-पश्चिम से आ रही सूखी गर्म हवा बताए जा रहे हैं। दूसरी तरफ लोग भीषण गर्मी से बचने घरों या दफ्तरों में पंखे- कूलर व एसी का सहारा लेने लगे हैं। सडक़ों पर बहुत कम लोग आते-जाते देखे जा रहे हैं। इतना ही नहीं, जो लोग सडक़ों पर चल रहे हैं वे गर्मी से बचाव में छतरी या गमछा का सहारा ले रहे हैं। कहा जा रहा है कि पजिले में इस बार पिछले साल की तुलना में ज्यादा गर्मी पड़ेगी।

मौसम विभाग के मुताबिक बस्तर संभाग का अधिकतम तापमान, जगदलपुर-44.9, सुकमा-45.4 व दरभा-44.0 डिग्री रहा। यह तापमान फिलहाल सामान्य से दो-तीन डिग्री अधिक रहा। रायपुर मौसम वैज्ञानिक एचपी चंद्रा का कहना है कि प्रदेश में फिलहाल किसी सिस्टम का असर नहीं है, लेकिन ज्यादा गर्मी की वजह से कहीं-कहीं पर शाम को बूंदाबांदी हो सकती है। बाकी उत्तर-पश्चिम से आ रही गर्म हवा से यहां भारी गर्मी जारी रहेगी। कहीं-कहीं पर लू की स्थिति भी बनती रहेगी। हवा की दिशा बदलने पर ही गर्मी थोड़ी कम हो सकती है।

 


24-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 24 मई। आज गोवा में फंसे सुकमा के 169 लोगों को वापस लाने मंत्री कवासी लखमा ने बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। जिस पर मज़दूरों के परिजनों ने श्री लखमा का आभार प्रकट किया है।

ज्ञात हो कि जि़ले के 169 मज़दूरों के गोवा में फंसे हुए होने की जानकारी कैबिनेट मंत्री कवासी लखमा को हुई तो उन्होंने उनको वापस लाने पहल शुरू की और अब मंत्री लखमा की पहल रंग लाई है। स्वयं मंत्री कवासी लखमा ने सभी बसों को हरी झंडी दिखाकर गोवा के लिए रवाना किया। सभी बसों में एक एक कर्मचारियों को भी गोवा भेजा गया है ताकि मज़दूरों को वापस लाने किसी तरह की दिक्क़त ना हो। 

 


23-May-2020

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 23 मई। टशी ज्ञालिक कमाण्डेन्ट 02 वाहिनी सी.आर.पी.एफ 02 वाहिनी के दिशा निर्देशन में 02 वाहिनी की 'ई'  समवाय के जवानों द्वारा कोविड-19 की रोकथाम हेतु स्पेशल सिविक एक्शन प्रोग्राम के तहत सुकमा जिले के कोर्रा गांव में लगभग 400 ग्रामीणों को मास्क, सेनिटाइजर, साबुन एवं हैण्डवॉश वितरित किया गया। इसके अतिरिक्त जवानों द्वारा उक्त गांव के सार्वजनिक स्थलों को भी सैनिटाइज किया गया। 

इलाके को सैनिटाइज एवं सामान वितरित करते समय जवानों द्वारा कोविड-19 से संबंधित उच्च कार्यालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों/ सोशल डिस्टेंडिंग आदि को ध्यान में रखते हुए सभी सुरक्षात्मक उपाय किये गये। कोविड-19 महामारी के बचाव हेतु प्रचार-प्रसार में  ईमनातेमसु अय्यर समवाय अधिकारी ई/02 वाहिनी केरिपुबल ने स्थानीय लोगों को हर प्रकार की संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया तथा आम लोगों से अपील की कि इस विश्व व्यापी महामारी से घबराने की आवश्यकता नहीं है, लोगों को इस बीमारी से अपनी रक्षा कैसे करना है तथा साफ-सफाई के महत्व के बारे में बताया साथ ही समझाया कि हमें बीमारी से लडऩा है न कि बीमार से। सरकार तथा प्रशासन के द्वारा दिये गये निर्देशों को अधिकतम स्तर पर पालन करते हुए ही इससे बचा जा सकता है। 

 स्पेशल सिविक एक्शन कार्यक्रम का संचालन  'ई' समवाय के समवाय अधिकारी  ईमनातेमसु अय्यर, सहा कमाण्डेन्ट के देखरेख में सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर स्थानीय जन प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

 


Previous123Next