छत्तीसगढ़ » सुकमा

Previous12Next
Posted Date : 03-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 3 अक्टूबर।  सुकमा जिले में नक्सलियों द्वारा पीडीएस वाहन में आगजनी की कोशिश के बाद एक स्कूली छात्र को अगवा कर लिया गया है। बताया जा रहा है कि छात्र भेज्जी से कोंटा आ रहा था इस दौरान हथियारबंद नक्सलियों ने  अगवा कर लिया। घटना की पुष्टि करते सुकमा एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि छात्र की तलाश की जा रही है।  
    पुलिस ने बताया कि कल पीडीएस की राशन गाड़ी कोण्टा से भेज्जी गई  थी।  शाम को वापसी के दौरान नक्सलियों ने इस वाहन में आग लगाने की कोशिश की और फायरिंग भी की। इसी दौरान अपने निजी काम के लिए भेज्जी से कोंटा जा रहा  पोडियम मुकेश नामक छात्र गोलीबारी से डरकर अपनी बाइक वहीं छोड़ वहां से भाग रहा था जिसे नक्सली अपने साथ ले गए। यह छात्र मुरलीगुड़ा का निवासी  है और कोंटा में कक्षा 12 वीं का छात्र ही। सूचना मिलते ही सुरक्षा बल के जवान सर्चिंग के लिए निकल चुके हैं। 

     

  •  

Posted Date : 13-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 13 सितंबर। छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के शीर्ष नेतृत्व का सदस्य वेट्टी रामा ने आज समर्पण कर दिया। पुलिस  का दावा है कि नक्सलियों की लगभग सभी बड़ी हिंसाओं में वेट्टी रामा की भूमिका रही है। वह बीते 23 वर्षों से  संगठन में सक्रिय था। उस पर 8 लाख का इनाम था। नक्सल संगठन की नीतियों से परेशान होकर उसने समर्पण करने का निर्णय लिया।
    सुकमा पुलिस मुख्यालय में आज दोपहर  बस्तर आईजी विवेकानंद सिन्हा और एसपी अभिषेक मीणा के सामने वेट्टी रामा ने  समर्पण किया। उसने बताया कि मुठभेड़ों में नक्सलियों को काफी नुकसान पहुंचा है।  नुलक़ातोंग में मारे गए सभी नक्सली कैडर थे। एलओएस की स्थिति बुरी है जिसकी वजह से वे परेशान हंै । नक्सलियों के पास फंड की कमी है जिस वजह से नक्सली ग्रामीणों पर दबाव बना रहे थे जिसके कारण कई लोग नक्सली संगठन से अलग हुए।  इन नीतियों से प्रताडि़त होकर उसने समर्पण किया।
      पुलिस का दावा है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के संदेश से प्रभावित होकर वेट्टी रामा ने सरेंडर की इच्छा जताई थी। बता दें कि 3 दिसम्बर 2017 को सुकमा में सीएम डॉ. रमन सिंह ने हिंसा छोड़ समर्पण करने या फिर गोली के लिए तैयारी रहने कही था।
    आईजी सिन्हा के अनुसार सुकमा देश का सबसे प्रभावित इलाका रहा है मगर पुलिस व सीआरपीएफ के प्रयास से 7 8 माह में काफी दबाव नक्सलियों पर बना है और आगामी चुनाव तक किसी तरह की घटना न हो इसके लिए रणनीति तैयार की जा रही है।   चुनाव प्रभावित न हो इसके लिए भी तैयारी की गई है।   ज्ञात हो कि सुकमा जिले में नक्सली शुरू से ही चुनाव व मतदान का विरोध करते आये हैं क्योंकि वो लोकतंत्र का हिस्सा है जिस वजह से ज्यादत्तर इलाकों में मतदान का स्तर शून्य ही मिलता रहा है। पुलिस ने मुख्य रूप से नव युवकों से अपील की है कि समाज की मुख्य धारा से जुड़कर योजनाओं का लाभ ले और बेहतर जीवन की शुरुआत करें । गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ पुलिस प्रशासन ने साल 2022 तक प्रदेश को नक्सल समस्या से मुक्त करने का लक्ष्य रखा है।
    आईजी  ने बताया कि आत्मसमर्पण को लेकर नक्सली तरह तरह के भ्रम फैला रहे हैं कि पुलिस सरकार भेदभाव करती है जिससे लोगों में समर्पण को लेकर आत्मसमर्पण इछुक में डर और संदेह होता है। उनके लिए कहना चाहता हूं समर्पित नक्सलियों में काफी लोग इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर तक बने हैं। नक्सली भ्रम फैला रहे कि पुलिस अत्याचार करती है आत्मसमर्पितों को योजनाओं का,रोजगार आवास मिल भी मिल रहा हैं । वहीं एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि बहुत से संगठन का संचालन वेटटी रामा ने किया है और रामा के समर्पण को देखकर और भी कई नक्सली समर्पण करने सामने आएंगे और पुलिस से जुड़ेंगे।  

     

  •  

Posted Date : 09-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 9 सितंबर। सुकमा जिले के दोरनापाल से 3 किमी दूर राष्ट्रीय राजमार्ग 30 पर आज सुबह एक थैले में 5 किलो का बम बरामद किया गया।  सुरक्षाबलों के खोजी कुत्ते ने इसे  ढूंढ निकाला था। 
    आज सुबह आईईडी रखने की सूचना पर ही  सीआरपीएफ 150 वीं बटालियन के जवान मौके के लिए रवाना हुए। तलाशी के बाद झाडिय़ों के पीछे एक थैले में आईईडी,तार,कील,जिलेटिन जैसे आईईडी के सामान और आईईडी मिला।  जिसे सड़क से दूर ब्लास्ट कर निष्क्रिय कर लिया गया। ज्ञात हो कि आज नक्सलियों का एक दिवसीय बंद है। नक्सली शहीद दिवस मना रहे हंै। कार्यवाही के दौरान 150 वीं बटालियन डिप्टी कमांडेंट गुलशन तिर्की,सहायक कमांडेंट जितेंद्र शर्मा,एसडीओपी विवेक शुक्ला, थाना प्रभारी भारद्वाज समेत सीआरपीएफ व जिला बल के जवान मौजूद रहे।

     

  •  

Posted Date : 02-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 2 सितंबर। सुकमा जिले के राष्ट्रीय राजमार्ग 30 पर दुब्बाटोटा दोरनापाल के बीच देर शाम बाइक दुर्घटना में 3 लोग घायल हो गए । 
    सड़क पर ये दुर्घटना अधूरे सड़क निर्माण की वजह से हुआ। जिसके बाद काफी देर तक गंभीर रूप से घायल व्यक्ति व 3 साल का बच्चा मौके पर ही पड़े रहे दुर्घटना से व्यक्ति पुलिया के नीचे पाया गया वहीं बाइक  व बच्चा सड़क पर मिले। जिन्हें बाद में दोरनापाल के अस्पताल पहुंचाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद बच्चे की गंभीर हालत को देख जिला अस्पताल रेफर किया गया।
       ज्ञात हो कि दुब्बाटोटा दोरनापाल के बीच अधूरे सड़क निर्माण की वजह से मोटरसाइकिल दुर्घटना में 3 घायल हो गए। तीनों का उपचार अस्पताल में जारी है । 3 साल के बच्चे समेत 2 गंभीर सड़क पर ही पड़े रहे  इस दौरान कई गाडिय़ां ,यात्री बस, बाइक गुजरी पर किसी ने   मदद करना भी जरूरी नहीं समझा । बेहोश पड़े बच्चे के नाक का हिस्सा बुरी तरह कट जाने से तेजी से खून बहाव व सांस लेने में तकलीफ भी थी।
     छत्तीसगढ़ संवाददाता मौके पर पहुंच  बच्चे की गम्भीर हालत को देख  मोटरसाइकिल से ही अस्पताल पहुंचाया और 108 को सूचना किये जाने के बाद पुलिये के नीचे से गंभीर रूप से घायल व्यक्ति को भी संजीवनी में दोरनापाल अस्पताल लाया गया।

  •  

Posted Date : 12-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    दोरनापाल, 12 अगस्त। सुकमा जिले के जगरगुंडा मार्ग पर रविवार की शाम नक्सलियों ने कांकेरलंका व पुसवाड़ा के बीच दो पिकअप वाहन को आग के हवाले कर दिया। वाहन शाम के वक्त एक पिकअप दोरनापाल की ओर ओर एक पिकअप चिंतलनार की ओर जा रही थी इस दौरान बड़ी संख्या में मौजूद नक्सलियों ने वाहनो को  रोक कर आग के हवाले कर दिया पूरी घटना के बाद इलाके में दहशत बना हुआ है ।
     ज्ञात हो कि 13 अगस्त को नक्सलियों द्वारा बन्द का आह्वाहन किया गया है इसके एक दिन पहले ही नक्सलियों का उत्पात देखने को मिला जिसके बाद से सुरक्षा बल अलर्ट पर है एनएच 30 से गुजरने वाली गाडिय़ों की रजिस्टर पर एंट्री ली जा रही है । गौरतलब है कि यह बन्द 6 अगस्त को किये गए ऑपरेशन के विरोध में है जिसमे  15 नक्सली मारे गए थे व 16 हथियार भी मिले थे । खबर लिखे जाने तक वाहनों को रोकने की कोई जानकारी नही थी ।

  •  

Posted Date : 07-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 7 अगस्त। सुकमा जिले के चिंतलनार थाना क्षेत्र में नक्सल विस्फोट में कोबरा  के सहायक कमांडेंट एस एच एजग़ गंभीर रूप से घायल हो गए।  उन्हें  हेलिकॉप्टर से जगदलपुर भेजा जाना था लेकिन खराब मौसम के कारण उन्हें नहीं भेजा जा सका। उन्हें दोरनापाल लाया जा रहा है।
    एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि चिंतलनार के कोत्तगुड़ा के जंगलों में बीती रात कोबरा 201 बटालियन के जवान गश्त पर  निकले थे। आज सुबह लौटते समयनक्सलियों ने कोत्तगुड़ा के पास विस्फोट किया जिसकी चपेट में आने से  कोबरा के असिस्टेंट कमांडेंट घायल हो गए। विस्फोट के बाद  फायरिंग शुरू कर दी। लगभग 2 घंटे तक फायरिंग होती रही। इसी दौरान असिस्टेंट कमांडेंट को वहां से बाहर निकाला गया और चिंतागुफा कैंप लाया गया।
    जख्मी अधिकारी को जगदलपुर ले जाने के लिए  हेलीकॉप्टर तैयार है लेकिन सुबह से हो रही बारिश के चलते उड़ान नहीं भर सका और उन्हें चिंतागुफा कैंप लाए जाने के बाद दोरनापाल लाया जा रहा है।

  •  

Posted Date : 06-Aug-2018
  • 5 लाख का इनामी नक्सली जिंदा पकड़ा गया
    मुठभेड़ में घायल महिला नक्सली भी कब्जे में

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल/ जगदलपुर, 6 अगस्त।  सुकमा जिले के कोंटा केनुलुकातुंग में आज मुठभेड़ में 15 नक्सली मारे गए। सुरक्षाबलों ने  सभी के शव और भारी मात्रा में  हथियार बरामद किए हैं।  मारे  गए नक्सलियों में प्लाटून कमांडर शामिल है। वहीं 5 लाख के इनामी नक्सली देवा को जिंदा पकड़ा गया है। वहीं जख्मी एक महिला नक्सली को भी पकड़ा गया है। उसे इलाज के लिए भेज्जी लाया जा रहा है।  मृतकों की संख्या बढऩे की आशंका जताई गई है।  शहीदी सप्ताह्व में पुलिस को हाथ लगी ये बहुत बड़ी कामयाबी कही जा रही है।
    बस्तर आईजी विवेकानंद सिंहा एवं डीआईजी रतनलाल डांगी ने बताया कि सूचना मिली थी कि कोंटा थाना क्षेत्र में ग्राम बंडा के निकट नक्सलियों ने ठिकाना बना रखा है। फौरन ही पुलिस की संयुक्त टीम रवाना की गयी, जिसने योजनाबद्ध तरीके से इलाके की घेराबंदी शुरू कर दी। पुलिस की मौजूदगी भांपकर नक्सलियों ने गोलीबारी प्रारंभ कर दी। जवाबी कार्रवाई में पुलिस बल ने भी फौरन मोर्चा संभालते हुए फायरिंग की। पुलिस की सफलतम नीतियों और तगड़ी घेराबंदी के आगे नक्सलियों की एक न चली और लगभग 2 घंटे तक चली मुठभेड़ में अंतत: 15 नक्सली मारे गए। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ स्थल पर मौजूद परिस्थितिजन्य साक्ष्य, खून के धब्बे एवं घसीटे जाने के निशान से यह साबित होता है कि कम से कम 18-20 नक्सली मारे गए हैं और कई लहुलूहान हुए हैं, बाकी साथियों के शव नक्सली अपने साथ ले जाने में कामयाब हो गए। उन्होंने बताया कि मारे गए नक्सलियों की शिनाख्त की जा रही है।
    घटनास्थल से 10 भरमार बंदूक, एक 315, एक 12 बोर, एक पिस्टल, एक कट्टा, बैनर, पोस्टर, दवाईयां, गोला-बारूद, डेटोनेटर, बिजली के तार, बैटरी, पिऋ ड्ढू, दैनिक उपयोग की सामग्रियां तथा नक्सली साहित्य का जखीरा बरामद किया गया है।
    इसके पहले सुकमा एसपी अभिषेक मीणा ने मुठभेड़ की पुष्टि करते बताया था कि जवानों को 200 से ज्यादा नक्सलियों के जमावड़े की खबर मिली थी, जिसके बाद डीआरजी,और एसटीएफ  की टीमें मौके की तरफ भेजी गयी थी। इसौ दारान नुलकातुंग गांव के करीब नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी।  
    पूरी रात चलते रहे जवान
    सुरक्षा बल पूरी रात चलकर नक्सलियों के ठिकाने तक पहुंचे और सुबह होते ही नक्सलियों पर टूट पड़े। करीब आधे घंटे के भीतर ही जवानों ने 14 नक्सलियों को मार गिराया। ये आपरेशंस इतना खुफिया था, कि नक्सलियों को थोड़ी सी भी भनक नहीं लगी। 
    बताया गया यह अभियान कल दोपहर ही लांच किया गया था, जिसमें जवानों की अलग-अलग टीम को रवाना किया गया था। डीआरजी-एसटीएफ और सीआरपीएप की टीम भी आपरेशंस में शामिल थी। पूरी रात जंगलों में चलते हुए जब सुबह कोंटा के नुलकातुंग गांव पहुंचे जहां नक्सलियों ने जवानों को देखकर गोलियां बरसानी शुरू कर दी। करीब आधे घंटे तक दोनों तरफ से गोलीबारी हुई, जिसमें 15 नक्सलियों को जवानों ने मार गिराया।
    जानकारी के मुताबिक 200 से ज्यादा नक्सलियों की मौजूदगी एक कैंप में होने की पुलिस जवानों को मिली थी, इसी सूचना के आधार पुलिस पार्टी को आपरेशंस के लिए भेजा गया था।

    12 मृतकों की पहचान
    15 में से 12 मृतकों की पहचान कर ली गई है। जिसमें कमांडर वंजम हुंगा, मुचरी हिड़मा, मडकम गंगा, हुंगा, मुचाकी मुक्का, डाबो, मडकम टेंको, मुचाकी हिड़मा, मडकम सोसा, मडकम हुंगा, मुचाकी नंदा एवं सीता है।

  •  

Posted Date : 28-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
     दोरनापाल, 28 जुलाई। सुकमा जिले के पोलमपल्ली इलाके में गश्त पर निकली पुलिस ने नक्सलियों के लगाये आईईडी  को  बरामद किया है।  5 किलो के इस आईईडी को बैनर के नीचे झुपाकर लगाया गया था। पुलिस ने  उसे निष्क्रिय कर दिया है।  
     शहीदी सप्ताह के मद्देनजर सुरक्षा बल मुश्तैद हैं, हालांकि नक्सलियों खौफ की वजह से अंदरूनी इलाकों में सड़क यातायात प्रभावित हुआ है। गाडिय़ां ना के बराबर चल रही है। वहीं कुछ जगहों पर नक्सलियों की सुगबुगाहट भी देखने को मिल रही है। 
    जगह जगह बैनर-पोस्टर
    नक्सलियों ने जगरगुंडा मार्ग, गादीरास मार्ग, फुलबगड़ी थानाक्षेत्र अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग 30 के पास  बैनर पोस्टर लगाकर लगाए हैं।  केरलापाल में दर्जनों नक्सली पोस्टर  दक्षिण बस्तर डिवीजन के केरलापाल एरिया कमेटी ने जारी किया है।
     

    ओडिशा में बंद का असर
    जगदलपुर, 28 जुलाई। छत्तीसगढ़ के सीमा से सटे ओडिसा के मलकानगिरी जिले में  कालीमेला एरिया कमिटी ने  बैनर टांग कर जनता से आह्वान किया है कि वे शहीद सप्ताह में सहयोग दें और इसे सफल बनाए। इससे ग्रामीणों में दहशत है। सप्ताह के पहले दिन आज कालीमेला, चित्रकोंडा, पडिय़ा, मैथिली समेत अन्य गांवों में दुकानें पूरी तरह बंद है। वाहनों की आवाजाही भी बंद हैं। इधर नक्सलियों की सक्रियता को देखते हुए सुरक्षा बल भी सचेत हो गए हैं। क्षेत्र में सर्चिंग शुरू हो गई है।  

  •  

Posted Date : 11-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 11 जुलाई। जिले के चिंतागुफा इलाके में कल देर रात मुठभेड़ में पुलिस ने 2 वर्दीधारी नक्सलियों को मार गिराया। घटनास्थल से शव समेत हथियार-विस्फोटक बरामद किए गए हैं। मुठभेड़ में डीआरजी का मड़कम हूरा नामक एक जवान घायल हुआ है जिसका उपचार मेडिकल कॉलेज जगदलपुर में जारी है।
    पुलिस अधीक्षक सुकमा अभिषेक मीणा ने बताया कि डीआरजी की टीम कल चिंतागुफ ा क्षेत्र में सर्चिंग पर निकली हुई थी। मिनपा के जंगल में नक्सलियों ने सर्चिंग टीम पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। डीआरजी के जवानों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए दो नक्सलियों को मार गिराया। 
    श्री मीणा ने मारे गए नक्सलियों की शिनाख्ती 8 लाख के इनामी बटालियन मेंबर उईका सुक्का और एक लाख के इनामी मिलिशिया कमांडर नुप्पो मुत्ता के रूप में होने की जानकारी दी है। 
    नक्सल ऑपरेशन के डीआईजी पी सुंदरराज ने बताया कि मुठभेड़ के बाद सर्चिंग में दोनों नक्सलियों के शव मिले हैं और हथियार समेत विस्फोटक सामग्री भी बरामद हुई है।

  •  

Posted Date : 11-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सुकमा, 11 जुलाई। जिले के चिंतागुफा इलाके में कल देर रात मुठभेड़ में पुलिस ने 2 वर्दीधारी नक्सलियों को मार गिराया। घटनास्थल से शव समेत हथियार-विस्फोटक बरामद किए गए हैं। 
    मुठभेड़ में डीआरजी का मड़कम हूरा नामक एक जवान  घायल हुआ है जिसका उपचार मेडिकल कॉलेज जगदलपुर में जारी है।
    पुलिस के अनुसार चिंतागुफा से पाँच किमी दूर मिनपा इलाक़े में देर रात मुठभेड़ हुई। नक्सल ऑपरेशन के डीआईजी पी सुंदरराज ने  बताया कि   मुठभेड़ के बाद सर्चिंग में दो नक्सलियों के शव मिले हैं, और हथियार समेत विस्फोटक सामग्री भी बरामद हुई है।

  •  

Posted Date : 03-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सुकमा, 3 जुलाई। बीती रात नक्सलियों ने सुकमा के गोरगुंडा गांव में एक सड़क ठेकेदार की हत्या कर दी और लाश सड़क किनारे फेंक दिया।
    पुलिस के अनुसार एसपी अभिषेक मीणा ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि ठेकेदार कपूरचंद राजपूत किसी से मिलने अंदरूनी गांव के तराई गया था। वहीं से नक्सलियों ने उसे उठा लिया और 2 जून की रात उसे मारकर उसके शव को जगरगुंडा सड़क पर गोरगुंडा गांव के पास फेंक दिया। गौरतलब हो कि सुकमा सहित पूरे बस्तर में नक्सली सडक़ निर्माण का विरोध करते हैं। इसके तहत आए दिन निर्माण कार्य में लगे वाहनों में आगजनी व अन्य हिंसात्मक घटनाएं कर रहे हैं।   पुलिस के अनुसार शव के मुंह पर कपड़ा बंधा हुआ था। ऐसे में आशंका  है कि नक्सलियों ने ठेकेदार का अपहरण करने के बाद उसकी हत्या की है। 

  •  

Posted Date : 01-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सुकमा,1 जुलाई। पुलिस ने कल देर शाम तीन लाख के इनामी नक्सल कमांडर जग्गू को मार गिराया। मुठभेड़ मुलेर के गंधारपारा इलाक़े में हुई।
    सुकमा पुलिस के मुताबिक  डीआरजी की टीम सर्चिंग पर थी,  कल देर शाम गंधारपारा में नक्सल एक्शन टीम  से उनकी मुठभेड़ हुई जिसमें कमांडर जग्गू मारा गया है।
    डीआरजी की टीम को मुठभेड़ स्थल से 315 बोर हथियार और भरमार समेत नक्सली साहित्य और सामग्री बरामद हुई है। सुकमा पुलिस का दावा है कि जग्गू बड़ेसेट्टी सरपंच हत्याकांड में प्रमुख आरोपी था, और दर्जन भर से ज्यादा मामले उस पर दर्ज थे।
    सात माह में 45 नक्सली मारे गए-एसपी
    एसपी अभिषेक मीणा ने दावा किया है कि बीते 7 माह में   (नवंबर से अब तक) 45 नक्सली मारे गए, इनमें से 22 के शव पुलिस ने बरामद किए जबकि अन्य शव नक्लली ले गए। 
     ज्ञात हो कि हाल के दिनों में सुकमा में  कई जगहों पर नक्सलियों को मार गिराने में पुलिस को कामयाबी भी मिली है।  अभी तक सबसे ज्यादा एलाडमडगु में मारे गए थे, यहां 10 से 15 नक्सली मारे गए थे। इससे पहले शनिवार को भी भी पुलिस ने एक हार्डकोर नक्सली को पुलिस ने मार गिराया था। 
     एसपी अभिषेक मीणा के मुताबिक नक्सलियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है, चुनाव को देखते हुए नक्सलियों के खिलाफ अभियान को और तेज किया जायेगा।

  •  

Posted Date : 03-Jun-2018
  • कई नक्सलियों के मारे जाने का दावा, हथियार बरामद
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 3 जून । सुकमा जिले के साकलेर, सालकतोंग, तोंदामरका,  एंटापाड कोलाइगुड़ा  इलाक़े में कल सुबह आठ बजे से लेकर देर शाम तक मुठभेड़ होने का दावा पुलिस ने किया है। जिन इलाक़ों में यह मुठभेड़ हुई है वे किष्टाराम और चिंतागुफा के सरहदी इलाक़े हैं। मुठभेड़ में प्लाटून कमांडर और एक जवान जख्मी हो गया। मुठभेड़ स्थल से नक्सल सामग्री, राकेट लांचर  बरामद की गई है। नक्सल हलचल की सूचना पर कोबरा,डीआरजी व एसटीएफ ऑपरेशन पर थी। 
    पुलिस का दावा है कि यह मुठभेड़ नक्सलियों की बटालियन नंबर एक से हुई है जिसका लीडर मिलिट्री ऑपरेशन हेड हिड़मा है।  किष्टाराम के पास हुई मुठभेड़ में एसटीएफ के प्लाटून कमांडर मिलाप सोरी और जवान सोडी हिड़मा  घायल  हो गए। इन्हें रात दो बजे हेलीकॉप्टर के जरिए किस्टाराम लाया गया। हालत बिगड़ता देख उन्हें तत्काल हेलीकॉप्टर से रायपुर रवाना किया गया।
    चार से अधिक जगहों पर हुई मुठभेड़ में बड़ी संख्या में नक्सलियों के मारे जाने और घायल होने का दावा एसपी अभिषेक मीणा ने किया है। उन्होंने बताया कि सुबह आठ बजे से मुठभेड़ शुरु हुई जो अलग-अलग जगहों पर हुईं, हमने बड़ी मात्रा में नक्सल सामग्री समेत कई चीज़ें बरामद की हैं। हमारी सूचना है कि कई नक्सली मारे गए हंै और कही गंभीर रुप से आहत हुए हैं।
    इन दोनों जवानों को रामकृष्ण केयर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दोनों को सर्जिकल आईसीयू में रखा गया है। डॉक्टरों के मुताबिक दोनों की हालत स्थिर बनी हुई है। मिलाप सोरी के कंधे में गोली लगी है जबकि सोढ़ी हिड़मा का पैर में फ्रैक्चर हुआ है। 

    बीजापुर में जनअदालत में पूर्व सरपंच की हत्या
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बीजापुर, 3 जून। बीजापुर और तेलंगाना राज्य के बीच पडऩे वाले जिले के आखिरी थाना क्षेत्र उसूर में नक्सलियों ने जन अदालत लगाकर एक पूर्व सरपंच की हत्या कर दी। यह मामला 1 जून का है।
    बताया जा रहा है कि थाना उसूर से 3 किमी दूर गलगम से नक्सली पूर्व सरपंच कुट्टममुत्ता का अपहरण कर ले गए थे। इसके बाद वहां से 4 किमी दूर भुसापुर नामक जगह पर  जनअदालत लगाकर मुखबिरी के शक में पूर्व सरपंच को मौत की सजा सुना दी। नक्सलियों ने सजा के बाद शव को दफना दिया।

  •  

Posted Date : 27-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 27 मई। सुकमा जिले के दोरनापाल थाना क्षेत्र के पुनपल्ली गांव में रविवार को नक्सलियों ने एक ग्रामीण को पुलिस मुखबिरी के आरोप में मौत के घात उतार दिया। मृतक ग्रामीण वंजामी सुकड़ा पुनपल्ली का मूलनिवासी था। घटना के बाद नक्सलियों ने शव के पास पर्चा भी छोड़ा जिसमे ंकेरलापाल एरिया कमेटी ने घटना कि जिम्मेदारी लेते हुए ग्रामीण पर पुलिस मुखबिरी समेत आत्मसमर्पण करवाने आदिवासी युवतियों को बस्तर बटालियन में जबरन भर्ती कराने, 2006 में सलवा जुडूम में शामिल होकर गांव वालों को धमकी देने का आरोप लगाया है। 
    ज्ञात हो की रविवार को सुबह पुनपल्ली में अचानक बड़ी संख्या में नक्सली आए और ग्रामीण सुकड़ा को पकड़ लिया। नक्सलियों ने दिन दहाड़े पुनपल्ली में मुखबिरी के ग्रामीण की हत्या कर दी। साथ ही केरलापाल एरिया कमेटी ने पर्चे के माध्यम से गांव वालों को भी मुखबिरी करने की स्थिति में इसी तरह हत्या करने की चेताया है। ग्रामीण पुनपल्ली का निवासी है। देर शाम मृतक का शव दोरनापाल लाया गया जहां पोस्टमार्टम किया गया।
    वार्ड ब्वॉय के भरोसे पोस्टमार्टम
    विडम्बना है कि दोरनापाल जैसे संवेदनशील इलाके में जहां 2 एमबीबीएस डॉक्टर मौजूद है वहां शवों का पोस्टमार्टम वार्डब्वाय के भरोसे है। सालों से दोरनापाल में पोस्टमार्टम के लिए स्वीपर की नियुक्ति नहीं हुई। लगातार जहां दोरनापाल प्राथमिक चिकित्सा केंद्र में शवों के पीएम के मामले आते हंै वहां पुलिस समेत मृतक के परिवार को घंटों परेशान होना पड़ता है क्योंकि शव का पोस्टमार्टम करना वार्डब्वाय की जिम्मेदारी नहीं है और जिसकी जिम्मेदारी है उसकी नियुक्ति सालों से नहीं हुई। 
    वार्ड वॉय को भी पोस्टमार्टम के लिए बार-बार बुलाना पड़ता है तब जाकर पोस्टमार्टम हो पाता है। कुछ इसी तरह रविवार को हुआ जब सुकड़ा का पोस्टमार्टम होना था और मृतक का परिवार काफी देर तक पोस्टमार्टम का इन्तजार करता रहा। अंधेरा होने के दौरान ही पोस्टमार्टम हो पाया। 

  •  

Posted Date : 24-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सुकमा, 24 मई । सुकमा के कांकेरलंका इलाके में आज सुबह घात लगाकर नक्सल हमले में सीआरपीएफ का एक सब इंस्पेक्टर  शहीद हो गया।
    मिली जानकारी के अनुसार सर्चिंग पर निकली पुलिस पार्टी पर नक्सलियों ने घात लगाकर ये हमला दिया। दोरनापाल जगरगुंडा के बीच कोबरा बटालियन गश्त पर थी।  कोबरा बटालियन की यह टुकड़ी दोरनापाल की ओर आ रही थी। सुबह आठ बजे जब टुकड़ी कांकेरलंका के कऱीब पहुँची तब आईडी ब्लास्ट हुआ, जिसकी चपेट में सीआरपीएफ के सब इंस्पेक्टर राजेश कुमार आ गए। गंभीर रुप से आहत  इस जवान को रायपुर ले जाने की तैयारियाँ की जा रही थीं कि दम तोड़ दिया।  वह उत्तर प्रदेश के निवासी थे।

  •  

Posted Date : 20-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल, 20 मई। सुकमा जिले के केरलापाल कैम्प के पास आज ट्रैक्टर ट्राली पलटने से 1 बच्चे की मौत हो गई जबकि 4 जख्मी हो गए। 
    मिली जानकारी के अनुसार  ट्रैक्टर कुड़केल से दोरनापाल  जा रहा था और ट्रॉली में  7 लोग सवार थे।  राष्ट्रीय राजमार्ग पर केरलापाल चेकिंग नाका से  आगे ट्राली पलट गई जिसमेें  दबकर 5 वर्षीय  वंजम नामक बच्चे की मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही केरलापाल कैम्प  से सीआरपीएफ बी 2 वी वाहिनी के सहायक कमांडेंट कमलेश पांडेय व एसआई मनोज यादव ने जवानों के साथ वक्त पर पहुंच घायलों को मदद दी और केरलापल प्राथमिक चिकित्सा केंद्र में प्राथमिक उपचार कराकर  सुकमा भेजा जहां इलाज जारी है ।  
    घायलों में पोडियम सुला, पोडियामी हिड़मे, कवासी भीमा, माड़वी भीमे ,जयसूर्या शामिल हैं। चालक कमल मरकाम घटना के बाद से फरार है । बताया गया कि  ट्रैक्टर एक कम उम्र का युवक चला रहा था।

  •  

Posted Date : 03-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सुकमा, 3 मई। कोंटा क्षेत्र का नक्सल एरिया कमांडर सोयम कामा आज  मुठभेड़ में मारा गया। सोयम पर 5 लाख का इनाम था। उस पर 50 से ज्यादा वारदातों में शामिल होने का आरोप है।
    सूत्रों के मुताबिक कोंटा थाना क्षेत्र के कन्हाईगुड़ा में सोयम की मौजूदगी की जानकारी मिली थी, जिसके बाद सुबह डीआरजी और एसटीएफ की एक टीम को  भेजा गया था। टीम जैसे ही  पहुंची, नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जिसमें सोयम मारा गया। पुलिस इसे बड़ी कामयाबी के तौर पर देख रही है।  पुलिस के  मुताबिक  सोयम कामा कई बड़ी वारदात  के अलावा हाल ही  में कई बड़ी वारदातों में वो शामिल था। 


    आधा दर्जन गाडिय़ां फूंकीं
    बीजापुर, 3 मई। नक्सलियों ने बीती रात पुसगुड़ी में सड़क निर्माण में लगे आधा दर्जन वाहनों को आग लगा दी। 
    प्रधानमंत्री गराम सड़क योजना के तहत बीजापुर के एक ठेकेदार द्वारा सड़क निर्माण करवाया जा रहा है। रात  11 बजे मद्देड़ एरिया कमेठी के दो दर्जन से ज्यादा नक्सली पहुंचे और यह वारदात की।  वाहनों में एक जेसीबी, चार ट्रैक्टर, एक रोलर शामिल है। घटनास्थल पर नक्सलियों ने  पर्चे भी फेंके हैं।

  •  

Posted Date : 21-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दोरनापाल/सुकमा, 21 अप्रैल। सुकमा जिले के किस्टाराम थाना क्षेत्र में शुक्रवार-शनिवार की रात नक्सलियों से हुई मुठभेड़ में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया। सीआरपीएफ 212वीं बटालियन की टीम क्षेत्र में सर्चिंग पर थी। सुकमा पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने घटना की पुष्टि की है।
    सीआरपीएफ 212वीं बटालियन की एक टुकड़ी बीती देर रात पालोड़ी कैंप से क्षेत्र में सर्चिंग पर निकली थी। इसी दौरान घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने भी मोर्चा संभालते हुए जवाबी कार्रवाई की। इसी बीच सीआरपीएफ 212वीं बटालियन में एएसआई के पद पर पदस्थ अनिल कुमार मौर्य को गोली लग गई। घटना स्थल पर ही वे शहीद हो गए। शहीद जवान अमेठी जिला उत्तर प्रदेश के नरैनी ग्राम के निवासी थे। बताया गया कि सीआरपीएफ की टीम अब भी क्षेत्र में सर्चिंग में लगी हुई है। शहीद जवान के शव को हेलीकाप्टर से जिला मुख्यालय लाया गया जहां पोस्टमार्टम के बाद शव को गृह ग्राम भेजा जाएगा।
    गौरतलब हो कि बीते माह 13 मार्च को किस्टाराम थाने के पालोड़ी कैंप जा रहे एलएमपीवी व्हीकल को ब्लास्ट कर नक्सलियों ने उड़ा दिया था। इस घटना में सीआरपीएफ 212वीं बटालियन के 9 जवान शहीद हो गए थे।

  •  

Posted Date : 26-Mar-2018
  •  

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सुकमा, 26 मार्च। सुकमा के कोंडासावली में आज सुबह नक्सल विस्फोट में सीआरपीएफ का एक इंस्पेक्टर जख्मी हो गया। दंतेवाड़ा अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है।   
    पुलिस के मुताबिक आज सुबह सुकमा के कोंडासावली में चल रहे रोड निर्माण की सुरक्षा में सीआरपीएफ के जवान लगे हुए थे। सुबह 9.30 बजे नक्सलियों ने घात लगाकर हमला किया। बम विस्फोट के बाद फायरिंग शुरू कर दी। दोनों तरफ से करीब एक घंटे तक गोलीबारी भी हुई, जिसके बाद नक्सली मौके से फरार होने में कामयाब रहे।   विस्फोट में घायल इंस्पेक्टर एएम अयुप्पन सीआरपीएफ  231वीं बटालियन का है। 

    ओडिशा में 3 नक्सली ढेर
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 26 मार्च।  बस्तर से लगे ओडिशा के कोरापुट में  मुठभेड़ में 3 नक्सलियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया। घटनास्थल से बड़ी मात्रा में विस्फोटक और नक्सल सामान भी बरामद किया है।
    मिली जानकारी के अनुसार कोरापुट जिले के नारायनपटना के डोकरीघाट इलाके में सर्चिंग पर निकले सुरक्षाबलों पर घात लगाए बैठे नक्सलियों ने हमला कर दिया। सुरक्षाबलों के जवाबी कार्रवाई से नक्सली भाग निकले इस दौरान तीन नक्सली मारे गए।

  •  

Posted Date : 27-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    सुकमा, 27 जनवरी। जिले के डोरलापारा-मोरपल्ली के जंगल में शनिवार को सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में जवानों ने 2 हार्डकोर नक्सलियों को मार गिराया है। जवानों ने शव सहित हथियार बरामद किया है।
    शनिवार को पुलिस को सूचना मिली की काफी संख्या में नक्सली जंगल में बैठक कर रहे हैं। तत्काल चिन्तलनार व नरसापुरम से जिला पुलिस और कोबरा 201वीं वाहिनी की संयुक्त टीम चिन्नाबोडफ़ेल, रायगुड़ेम, जब्बागट्टा की ओर रवाना हुई। जवान डोरलापार-मोरपल्ली के जंगल पहुंचे थे कि नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। 
    जवानों ने भी मोर्चा संभालते हुए जवाबी कार्रवाई की। इस बीच नक्सली जवानों को भारी पड़ता देख भाग निकले। जवानों ने घटनास्थल की तलाशी ली तो वहां 2 हार्डकोर नक्सलियों के शव हथियार सहित बरामद किया। मारे गए नक्सलियों की शिनाख्ती अभी नहीं हो पाई है। पुलिस पार्टी घटना स्थल से वापस नहीं लौटी है। 

     

  •  



Previous12Next