छत्तीसगढ़ » सरगुजा

Previous123Next
Posted Date : 18-Apr-2018
  • वन विभाग को ट्रैकुलाईज टीम का इंतजार
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 18 अप्रैल। आज सुबह अंबिकापुर के फुन्दुरडिहारी में भालू घुस जाने से पूरे इलाके में दहशत और हड़कंप मच गया है। वन विभाग घंटों तक दो केज लगाकर भालू को पकडऩा चाहा, लेकिन भालू के कोई हलचल नहीं होने पर अब बिलासपुर के ट्रैंकुलाईज एक्सपर्ट का इंतजार कर रहा है।  
     मिली जानकारी के मुताबिक गांधीनगर-फुन्दुरडिहारी क्षेत्र में आज तड़के एक भालू  लोगों को देख अनिमा प्रकाश केरकेट्टा नामक व्यक्ति के बाड़ी में जा घुसा। सूचना मिलते ही सबसे पहले मौके पर पुलिस कप्तान सदानंद कुमार पहुंचे। इसके पश्चात डीएफओ प्रियंका पांडेय के नेतृत्व में वन अमला पहुंचा। 
    सरगुजा वन मंडल की डीएफओ प्रियंका पांडेय ने बताया कि बाड़ी के चारों ओर बेरिकेट व प्लास्टिक से घेराव किया गया है। बाड़ी में दो केज रखे गये हैं। केज में भालू के खाने-पीने के लिये शहद व पानी की भी व्यवस्था की गई है। भालू  बाड़ी में ही बैठा हुआ है। उसका कोई मुमेंट नहीं दिख हो रहा है। भालू अगर स्वयं से पिंजरे में आ जाता है तो उसे वहां से सुरक्षित निकाल जंगल की ओर छोड़ दिया जायेगा। 
    उन्होंने बताया कि  कोई हलचल नहीं होने पर बिलासपुर की ट्रैंकुलाइज एक्सपर्ट टीम को बुलाया गया है। समाचार लिखे जाने तक ट्रैंकुलाईज टीम बिलासपुर से अम्बिकापुर आने रवाना हो गई है। शाम तक ट्रैंकुलाईज टीम के अम्बिकापुर पहुंचने की संभावना है।  बहरहाल वन अमला फुन्दुरडिहारी इलाके को घेर कर भालू को सुरक्षित निकालने की कोशिश कर रहा है। मौके से नागरिकों को हटा दिया गया है।

  •  

Posted Date : 22-Mar-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    अंबिकापुर, 22 मार्च।  एक करोड़  के इनामी शीर्ष नक्सली नेता देव कुमार सिंह उर्फ अरविन्द की कल सुबह ओडिशा और झारखंड की सीमा पर सरगुजा के बलरामपुर जिले में स्थित बूढ़ा पहाड़ जंगल में मौत होने की खबर है। खबरों के मुताबिक मौत दिल का दौरा पडऩे से  हुई। हालांकि इस खबर की पुष्टि नहीं हो पा रही है। छत्तीसगढ़ ने बलरामपुर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (नक्सल ऑपरेशन) डॉ. पंकज शुक्ला से फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन संपर्क नहीं हो सका। इधर झारखंड पुलिस प्रवक्ता सह आईजी ऑपरेशन आशीष बत्रा के मुताबिक अरविंद की मौत की खबर आई है, पुलिस इस सूचना को सत्यापित करने का प्रयास कर रही है। 
    अलग-अलग जगहों से आ रही खबरों के मुताबिकअरविंद बीते कई सालों से बीमार चल रहा था। मधुमेह  के कारण चलने-फिरने में असमर्थ हो गया था। वह अपने साथी सदस्यों के सहारे ही चल-फिर पाता था।  वह हमेशा दौ सौ हथियारबंद नक्सलियों से घिरा रहता था। अरविंद माओवादियों के पोलित ब्यूरो का मेंबर था जिस पर 1 करोड़ का इनाम था, वह पांच राज्यों का मोस्टवांटेड भी था। बीते करीब दो बरसों से उसकी भूमिका मार्ग दर्शक मंडल के सदस्य के रुप में सीमित हो गई थी।
    वर्ष 2010 के बाद झारखंड में संगठन को मजबूत बनाने की जिम्मेवारी पोलित ब्यूरो के सदस्यों ने अरविंद को दी गई। संगठन का बेस कैंप ओडिशा-झारखंड-छत्तीसगढ़ की सीमा पर सरगुजा के बलरामपुर जिले में स्थित एक ऊंचे बूढ़ा पहाड़ पर तैयार किया था।  वहाँ वह बीते डेड़ बरसों से मौजूद था, लेकिन विशेष सुरक्षा दस्ता और चारो ओर लैंड माइंस की मौजूदगी ने पुलिस और सुरक्षा बलों से उसे हमेशा सुरक्षित दूरी में रखा। उसे पकडऩे के लिए झारखंड और छत्तीसगढ़ की पुलिस ने कई बार बूढ़ापहाड़ के इलाके में अभियान चलाया, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। 
    अरविन्द के नेतृत्व में ही नक्सलियों 2006-07 में देश में पहली बार बिहार के जहानाबाद  में जेल ब्रेक किया था और 300 से अधिक कैदियों को छुड़ाया था। 2013 में कटिया हमले में 17 जवान शहीद हुए थे और अरविन्द के कहने पर ही शहीद जवान के पेट में बम लगाया गया था। अरविन्द माओवादियों का थिंक टैंक और मास्टर प्लानर था। 
    अरविंद की मौत के बाद अब कमान पूरी तरह प्रभाकर के हाथों में आ गई है जो कि दंडकारण्य कमेटी की ओर से तीन साल पहले बिहार झारखंड कमेटी में भेजा गया था। 

  •  

Posted Date : 27-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    उदयपुर, 27 जनवरी। सरगुजा  के उदयपुर वन परिक्षेत्र अंतर्गत घाटबर्रा के आश्रित ग्राम टिकरापारा में गत शुक्रवार  रात दो हाथियों ने हमला कर दिया और मकानों को ढहाने लगे। इस दौरान एक दम्पत्ति समेत 3 को   रौंद डाला। बताया जा रहा है कि हमले के वक्त  ग्रामीण  अंधेरे में इधर-उधर भाग रहे थे। ग्रामीणों के पास टार्च तक नहीं था, जिससे वह सुरक्षित स्थान की ओर जा सके। इस गांव में हाथियों ने एक दर्जन मकानों को तोड़ दिया है। 
     जानकारी के मुताबिक ग्राम घाटबर्रा के आश्रित पारा टिकरापारा में रात 9 बजे करीब 2 हाथियों ने हमला बोल दिया। जो ग्रामीण भाग सके वह सुरक्षित स्थानों पर जाकर रुके। जो नहीं भाग सके वह लोग हाथियों के चपेट में आ गए। इनमें   सुकुल राम  और उसकी पत्नी सुंदरी  तथा   कौशिल्या  नामक युवती शामिल है । शव  क्षत-विक्षत हो गए हैं। गांव वालों के पास न तो लाइट की व्यवस्था थी और ना ही और कोई साधन जिससे वो रात में भाग सकें।  वन विभाग द्वारा भी टार्च की व्यवस्था नहीं की गई है। 
    वन कर्मचारी मौके पर ग्रामीणों के साथ डटे हुए थे, परंतु जानमाल के नुकसान से लोगों को नहीं बचा सके। हाथियों ने लगभग एक दर्जन क  घरों को नुकसान पहुंचाया है। एक ग्रामीण का मकान पूरी तरह से टूट गया है उसके पास खाने और रहने की समस्या हो गई है। 
    आज  सुबह वन राजस्व और पुलिस अमला घटनास्थल पहुंचे नुकसान का जायजा लिया। लगभग 60 लाख के नुकसान  का अनुमान लगाया गया है। मौके पर थाना उदयपुर की टीम पहुंचकर शव का पंचनामा कराकर गांव में ही पोस्टमार्टम की व्यवस्था बनाई गई है।  तात्कालिक सहायता के रूप में वन विभाग की ओर से मृतक के परिजनों को 25-25 हजार सहायता राशि उपलब्ध कराई गई है। 
    वन परिक्षेत्र अधिकारी उदयपुर द्वारा प्रकरण बनाकर शेष मुआवजा राशि तत्काल प्रदान कराने की बात कही गई है। जनपद पंचायत की ओर से भी परिवार सहायता प्रकरण बनाकर मुआवजा देने की बात कही गई है।  कोल खनन कंपनी के प्रति गांव के लोगों में काफी आक्रोश देखा गया लोगों ने आरोप लगाया कि गोद लेने के बाद भी इस ग्राम में कोई व्यवस्था नहीं की गई है समय रहते अगर उचित संसाधन उपलब्ध हो गया रहता तो आज इतनी बड़ी जनहानि नहीं हुई होती।

  •  

Posted Date : 12-Jan-2018
  • बैकुंठपुर, 12 जनवरी। स्वामी विवेकानंद की जयंती पर आज सुबह जिला मुख्यालय के स्कूली छात्र-छात्राओं ने 500 मीटर तिरंगा लेकर रैली निकाली। तिरंगा यात्रा नामक यह आयोजन छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी ने किया था। इस दौरान पूरे दो घंटे यातायात पूरी तरह से बंद रहा, बड़ी संख्या में वाहन फंसे रहे।

  •  

Posted Date : 11-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 11 जनवरी। गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान से भटक कर सोनहत के रजौली धनपुर की बसाहट की तरफ आये बारहसिंघे को कुछ लोगों ने शिकार  के लिए दौड़ाया। जान बचाने वह तालाब में कूद गया।  शाम  5 बजे से रात  9 बजे तक पानी में रहने के कारण वह ठंड से बेहाल हो गया। सूचना मिलने पर वन अमला रात को पहुंच बारहसिंघे को बाहर निकाला।  उसका इलाज सोनहत नर्सरी में जारी है।

  •  

Posted Date : 06-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 8 जनवरी। उत्तर भारत की ओर से पहुंच रही ठंडी हवाओं के कारण एक बार फिर सरगुजा संभाग भर में ठंड बढऩे लगी है। क्षेत्र में शीत लहर जारी है। 
    शुक्रवार की शाम से लगातार मैनपाट में पारा गिरने के कारण लोग ठंड से ठिठुरने लगे हैं। मैनपाट का तापमान एक डिग्री तक पहुुंच गया है। इसके साथ ही यहां पेड़ पौधे पर आज सुबह पाला जमना शुरू हो गया। मौसम विभाग  के अनुसार अभी ठंड से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। एक-दो दिन तापमान में और कमी हो सकती है। 

  •  

Posted Date : 06-Jan-2018
  • लंबे अर्से बाद सरगुजा में नक्सल आमद
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर / कुसमी, 8 जनवरी।   झारखण्ड सीमा से लगे बलरामपुर जिले के कुकुद माइन्स में बीती रात नक्सलियों ने नौ वाहनों को आग लगा दी। कांटा घर भी फूंक दिया।  माइन्स मेें तैनात  कर्मचारियों को बंधक बनाकर बेदम पिटाई की।   
    बलरामपुर जिले के सामरी थाना क्षेत्र अंतर्गत कुकुद माइन्स में हुई इस नक्सल वारदात से एक बार फिर क्षेत्रवासी सहम गए हैं। छत्तीसगढ़ सीमा में लम्बे अरसे के बाद नक्सलियों ने अपनी आमद दर्ज कराई है। कुकुद माइन्स क्षेत्र छत्तीसगढ़ और झारखण्ड के इलाके में है। यहां से सामरी थाना महज छ: किमी की दूरी पर स्थित है।  
    जानकारी के अनुसार रात लगभग डेढ़ बजे 10 से 15 हथियारबंद नक्सली कुकुद माइन्स पहुंचे।  कर्मचारियों को बंधक बनाया,  और  पिटाई की और उन्हें काम न करने की धमकी दी है। इसके बाद दो पोकलेन मशीन, छ: ट्रक, 
    एक मोटरसायकल व दो कांटा घर को आग के हवाले कर दिया। इस आगजनी में उक्त मशीनें जलकर खाक हो गई। 
     घटना के बाद सुबह 11.30 बजे तक पुलिस का कोई अधिकारी और न ही नक्सल ऑपरेशन से जुड़े अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़-झारखण्ड का यह सरहदी इलाका लम्बे समय से शांत था। चुनावी वर्ष 2018 में नक्सलियों के दस्तक से सरकार व पुलिस के सामने एक बार फिर चुनौती खड़ी हो गई है। 
    शुक्रवार को   अम्बिकापुर पहुंचे मुख्यमंत्री व गृहमंत्री ने सरगुजा से नक्सलियों का सफाया होने की बात कही ही थी कि उनके जाने के बाद देर रात नक्सलियों की यह वारदात की।
    पुलिस टीम हुई है रवाना-एसपी 
        वारदात के संदर्भ में बलरामपुर एसपी डीआर आंचला ने बताया कि नक्सलियों ने कुकुद माईन्स में देर रात आगजनी की  है। वे स्वयं और पुलिस बल मौके के लिये रवाना हो गए हैं। श्री आंचला ने आगे बताया कि यह इलाका छत्तीसगढ़ और झारखण्ड की सीमा में आता है। स्थानीय पुलिस पहले ही मौके पर पहुंच गई है और जांच में जुटी हुई है। एसपी ने कहा कि उस इलाके में सर्चिंग बढ़ा दी गई है।

  •  

Posted Date : 02-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 2 जनवरी। स्थानीय पुराने बस स्टंैड पर आज सुबह यात्री बस और डम्पर की टक्कर हो गई। कुछ यात्रियों को चोटें आर्इं, जबकि डम्पर का चालक उसी में फंस गया था जिसे लोगों की मदद से बाहर निकाला गया। घायल यात्रियों और चालक का इलाज जिला अस्पताल में जारी है।  
      सुबह 9.30 बजे चिरमिरी से बैकुंठपुर पहुंचने वाली गुप्ता बस जैसे ही पुराने बस स्टैंड पहुंची विपरित  दिशा में चल रहे डम्पर से जा टकराई। बताया जाता है बस के आगे चल रहे वाहन को बचाने के फेर में यह हादसा हउआ।  
    बस में काफी यात्री सवार थे। आसपास के लोगों ने  बस से यात्रियों को उतारा और उन्हें अस्पताल भिजवाया, वहीं डम्पर का चालक उसी में फंसा रह गया।  काफी कोशिशों के बाद उसे निकाला जा सका। अस्पताल ने उसकी हालत खतरे से बाहर बताई है।  

     

  •  

Posted Date : 14-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजपुर, 14 दिसम्बर। सरगुजा राजपुर वन परिक्षेत्र में एक बार फिर हाथियों की धमक से लोगों में दहशत का माहौल है। दो दर्जन से अधिक हाथियों का दल नरसिंहपुर क्षेत्र में आतंक मचा रहा है। मंगलवार की रात प्रतापपुर की ओर से दुप्पी चौरा होते हुए ग्राम नरसिंहपुर में लगभग 23 हाथियों का दल पहुंचने के बाद ग्रामीणों में दहशत है। 
    हाथियों ने नरसिंहपुर में तीन मकानों को तोड़ा। गन्ना  फसल नष्ट करने के बाद खलिहान में रखा धान चट कर गये। चाची सर्किल के नरसिंहपुर बीट में रामलाल गोंड, हरिचरण एवं ईश्वर गोंड़ के  खलिहान में रखे हुए 15 क्विंटल धान को चट कर गए।  हाथियों के पहुंचने की सूचना के बाद वन अमला मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को हाथियों से सतर्क रहने के उपाय बताते हुए हाथियों की निगरानी कर रहे हैं। 

     

  •  

Posted Date : 11-Dec-2017
  • भयभीत छात्रा ने कहा, एक और बच्ची थी कार में 
    शरारती तत्व का हाथ-एएसपी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 11 दिसम्बर। अम्बिकापुर नगर से लगे विशुनपुर प्राथमिक स्कूल में आज सुबह कक्षा चौथी की एक छात्रा के अपहरण  की कोशिश की गई।  घटना से पुलिस में हड़कंप मच गया। नाकेबंदी कर वाहनों की सघन जांच जारी है।  अपहरणकर्ताओं का  पता नहीं चल सका है। डरी-सहमी छात्रा ने बताया कि कार में  चार युवक थे। दो युवक मुंह में साफा बांधे हुए थे और दो युवक एक बच्ची को पकड़कर बैठे हुये थे। हालंाकि अब तक पुलिस के पास किसी अन्य बच्ची के गुम होने की खबर नहीं आई है। 
    एएसपी रामकृष्ण साहू का कहना है कि मामले की जानकारी मिली है। बच्ची से बातचीत में प्रथम दृष्टया यह शरारती तत्व का हाथ लगता है न कि अपहरण जैसी कोई बात।
    छात्रा के परिजनों के हवाले से पुलिस ने बताया कि  छात्रा शासकीय प्राथमिक शाला विशुनपुर में कक्षा चौथी में पढ़ती है। छात्रा के पिता जशपुर जिले के रहने वाले हैं और विशुनपुर में रहकर  मिस्त्री का काम करते हैं।  स्कूल 9.30 से 2.30 बजे तक लगता है। इस कारण समय से आधा घंटा पहले पहुंची छात्रा जब स्कूल परिसर में पहुंची तो वहां कक्षा चौथी व पांचवी में पढऩे वाले दो छात्र मौजूद थे। जो उसके आने के बाद रसोईया के पास स्कूल की चाबी लेने गए हुए थे। 
    इसी दौरान काले रंग की कार  सवार कुछ युवक स्कूल परिसर मेंं  दाखिल हुए। इनमें से दो युवक जो चेहरे पर साफा बांधे हुये थे उसके पास आये। एक युवक ने पीछे की ओर से उसे पकड़ लिया और एक सामने की ओर से उसे घेरा हुआ था। 
    छात्रा को जैसी ही साफा बांधे युवक ने पकड़ा उसने उसके हाथ को दांत से काट लिया और उसके चंगुल से भागते हुये मुख्य सड़क की ओर पहुंची और मदद मांगते चिल्लाने लगी। जिससे अपहरणकर्ता घबरा गये और भाग निकले। बच्ची की आवाज सुनकर आसपास के लोग वहां पहुंचे और इसकी सूचना गांधीनगर पुलिस को दी। 
    सूचना पर क्राइम ब्रांच व गांधीनगर पुलिस मौके पर पहुंची व वायरलेस सेट पर अम्बिकापुर से लगे सभी थाना क्षेत्रों को अलर्ट कर दिया। इसके पश्चात पुलिस ने नगर सीमा को भी सील कर वाहनों की जांच की, लेकिन अपहरणकर्ताओं का कोई पता नहीं चला। 
    हालांकि जांच के दौरान पुलिस ने एक काले रंग की कार को पकड़ा। बच्ची से  शिनाख्त कराई तो उसने घटना में अन्य कार होना बताया। पुलिस   शहर व आसपास के क्षेत्रों में सघन जांच में जुटी हुई है। 

     

  •  

Posted Date : 10-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर
    , 10 दिसम्बर। अंबिकापुर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के द्वारा पूरे प्रदेश में शुरू की गई छत्तीसगढिय़ा अधिकार यात्रा में शामिल होने मरवाही विधयाक अमित जोगी आज अंबिकापुर पहुंचे। इस दौरान संघ द्वारा श्री जोगी का भव्य स्वागत किया गया। श्री जोगी अधिकार यात्रा में शामिल होते हुए पैदल शहर का भ्रमण किया। इस दौरान श्री जोगी ने रास्ते में एक-एक आदमी से जगह-जगह मुलाकात की व जनसम्पर्क किया।  
    गौरतलब है कि अंबिकापुर में छत्तीसगढिय़ा अधिकार यात्रा जिला अध्यक्ष दानिश रफीक के नेतृत्व संचालित की जा रही थी। यह अधिकार यात्रा जन-जन तक पार्टी के उद्देश्यों को पहुंचाने का काम कर रही थी और आज अमित जोगी के नेतृत्व में निकली यात्रा के लिए अंबिकापुर में दानिश रफीक ने जोरदार शक्ति प्रदर्शन किया। इस यात्रा में शैला नृत्य के साथ-साथ ऊंट व घोड़े भी शामिल रहे, जो यात्रा में विशेष आकर्षण का केंद्र रहे। यात्रा के दौरान अमित जोगी ने रास्ते में रूककर कहीं ठेले पर गुपचुप खाई तो कहीं तिलकुट खरीद कर खाया। बहरहाल मिलनसार व्यक्तित्व के लिए पहचाने जाने वाले अमित से लोग पूरी आत्मीयता के साथ मिल रहे थे। कार्यक्रम में जिला अध्यक्ष दानिश रफीक, गोपाल केसरवानी, अशफाक अली, सीपी सिंह, दिनेश सिंह, इरफान सिद्दीकी, पीएस कुमार, देवेश प्रताप सिंह, सुखु यादव, संतोष यादव, बेला  कुशवाहा, रोमी सिद्दीकी, जूही, सया, कमला टोप्पो, नियति पांडेय, नेहा सोनवानी, नितिन गुप्ता, मो. हसीब, निशांत सिंह, उपेन्द्र पांडेय, नीरज पांडेय, राहुल, आजादए सहित काफी संख्या में अन्य उपस्थित थे। 
    सिंहदेव के बयान पर पलटवार
    नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव के शेर पर प्रतिक्रिया देते हुए मरवाही विधायक अमित जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता देख और जान रही है कि कौन शेर पढ़ रहा है और कौन जनहित के लिए लड़ रहा है। कौन सीडी की राजनीति कर रहा है और कौन सीजी की राजनीति कर रहा है। कौन जाति की बात कर रहा है और कौन माटी की बात कर रहा है। श्री जोगी ने आगे कहा कि कुछ लोग शेरो शायरी न करें तो बेचारे क्या करें, उनके और उनकी पार्टी के नेताओं के पास करने को कुछ बचा ही नहीं है। न जन है, न मन है और न संगठन है, इसलिए वे गऱीब आदिवासियों की जमीनें और 53 एकड़ के तालाब को हड़पने के चक्कर में सरकार के साथ मिलकर नूराकुश्ती लड़कर केवल जनता की आंखो में धूल झोंकने का काम कर रहे हैं।  श्री जोगी ने आगे कहा कि प्रदेश की जनता को साफ-साफ दिख रहा है कि सदन से लेकर सड़क तक ढाई करोड़ छत्तीसगढ़वासियों के अधिकारों से जुड़े मुद्दों की लड़ाई केवल जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे लड़ रही है।

     

  •  

Posted Date : 09-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    राजपुर. 9 दिसम्बर। राजपुर एवं बरियों पुलिस ने वाहन में गांजा लेकर भाग रहे आरोपियों को ग्रामीणों की मदद से पकडऩे में बड़ी सफलता हासिल हुई है। जानकारी के अनुसार बरियों चौकी प्रभारी रूपेश नारंग किसी काम से अंबिकापुर गए थे। वापसी के दौरान लगभग 5 बजे अंबिकापुर बरियों के मध्य भकुरा के पास एक तेज गति कार ने उनकी वाहन को ओवरटेक करते हुए आगे निकला। संदेह के आधार पर बरियों चौकी प्रभारी रुपेश नारंग ने अपने बरियो चौकी स्टाफ  को वाहन चेकिंग के लिए निर्देश दिया, जिसके बाद बरियो पुलिस द्वारा बेरिकेट्स लगाकर वाहन को रोकने की कोशिश की, परंतु आरोपी पुलिस को चकमा देकर भाग निकले। इसके बाद बरियो चौकी प्रभारी ने राजपुर पुलिस को सूचना देते हुए वाहन का पीछा किया। आरोपियों ने राजपुर पहुंचने से 8 किलोमीटर पहले ही परसागुड़ी पहुंचकर अपने वाहन को खड़ी कर भागने लगे जिसे देखकर बरियों चौकी प्रभारी रूपेश नारंग ने ग्रामीणों को आवाज देकर भाग रहे आरोपियों को पकडऩे के लिए कहा, जिसके बाद वहां के लगभग दर्जनों ग्रामीणों ने पुलिस का सहयोग करते हुए आरोपियों को दौड़ाकर पकड़ा। पुलिस और ग्रामीणों के सहयोग से चारों आरोपियों को पकडऩे में सफलता पाई। पकड़े गए आरोपियो में नीरज गुप्ता पिता रमेश साव 32 वर्ष ग्राम मोहनपुर, पंकज साव पिता ददन साव 28 वर्ष ग्राम मखलिसा, विकास साव पिता मुक्तिसाव 23 वर्ष ग्राम सोनघट्टा एवं चंदन साव पिता मुक्तिसाव 23 वर्ष ग्राम सोनघट्टा सभी मूलत: जिला आरा निवासी हैं। पुलिस ने आरोपियों के पास से लगभग 50 किलो गांजा सहित टोयोटा करोला कार जप्त कर एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाई की है। 

  •  

Posted Date : 08-Dec-2017
  • अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल का हाल 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 8 दिसम्बर। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सिटी स्केन की व्यवस्था ठप्प पड़ जाने से गंभीर मरीजों को सड़क के रास्ते परिजन आज भी स्ट्रेचर खींच कर ले जाते दिखाई देते हैं। हालाकि प्रबंधन का कहना है कि ऐसे मरीजों के लिये वाहन की व्यवस्था अस्पताल द्वारा की गई है।  
    गौरतलब है कि मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सिटी स्केन की व्यवस्था कई दिनों से बंद पड़ी हुई है। मशीन खराब हो जाने के कारण अस्पताल से कुछ दूरी पर स्थित विद्या डायग्नोसिस सेंटर में मरीजों को ले जाया जाता है। प्रबंधन का कहना है कि ऐसे मरीजों के लिये एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है। बावजूद इसके शुक्रवार को ऐसे ही एक गंभीर मरीज को सड़क के रास्ते परिजन स्ट्रेचर  खींचकर ले जाते हुये दिखाई दिये। उक्त सड़क पर वाहनों की रेलमपेल लगी हुई थी। वाहनों की आवाजाही के बीच स्ट्रेचर  परिजन खींचकर ले जा रहे थे। ऐसे में कभी भी कोई बड़ा हादसा इस मार्ग पर हो सकता है।  स्ट्रेचर पर ले जाते परिजनों का यह दृश्य देखकर आसपास के लोग भी अस्पताल की व्यवस्था पर तंज कसते दिखाई दे रहे थे। 

  •  

Posted Date : 06-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 6 दिसम्बर। नगर के खरसिया चौक मिश्रा स्वीट्स के सामने खड़ी वाहन निशान टेरेनो से 15 लाख की उठाईगिरी के मामले में पुलिस ने सफलता हासिल कर ली है। मामले में पीडि़त के पास से ही पुलिस ने रूपये बरामद कर लिये हैं। 
    बताया गया कि पीडि़त कर्ज के तले दबा हुआ था और उसकी पत्नी को भी ब्लड कैंसर हो गया था, उसे पैसे की आवश्यकता थी। इस कारण से उसने यह कहानी बनाकर पुलिस को गुमराह किया। पुलिस की इस सफलता पर आईजी हिमांशु गुप्ता ने पुलिसकर्मियों को पांच हजार रूपये ईनाम राशि देकर सम्मानित किया है। 
    गौरतलब है कि गत 5 दिसम्बर को खरसिया चौक मिश्रा स्वीट्स के सामने से निशान टेरेनो वाहन में रखे 15 लाख रूपये की उठाईगिरी की सूचना कोतवाली पुलिस को प्राप्त हुई थी। सूचना पर वरिष्ठ अधिकारी के निर्देश पर पुलिस ने क्राइम ब्रांच व साइबर सेल की टीम को तत्काल मौके पर भेजकर तस्दीक करवाई। मामला प्रथम दृष्टया में संदिग्ध पाया गया। संदेह के आधार पर पीडि़त पक्ष वाराणसी उत्तरप्रदेश के ग्राम नंदेसर निवासी राजेश कुमार यादव पिता स्व. रामधनी यादव उम्र 40 वर्ष से कड़ाई से पूछताछ की गई। 
    घटना स्थल के आसपास सीसीटीव्ही फुटेज व घटना के समय आसपास लोगों से पूछताछ किया गया। संदिग्ध राजेश यादव से पुन: कड़ाई से पूछताछ करने पर बताया कि बनारस के व्यवसायी सूरज जायसवाल सरिया की खरीदी अम्बिकापुर-रायगढ़ व रायपुर के थोक छड़ उत्पादक कंपनियों से करता है। जिसका भुगतान सूरज पिछले करीब एक वर्ष से अपने अति विश्वासी एजेंट राजेश यादव को पैसे देकर भुगतान करने के लिये भेजता था। पैसा भुगतान की पद्धति हवाला के तर्ज पर नकल कर मोबाईल से एमएमएस एवं 10 रूपये नोट का नम्बर को विशेष पहचान कोडवर्ड के रूप में बनाकर एवं पैसा प्राप्त करने वाले द्वारा उसी नोट दिखाकर भुगतान किया जाता था। एसपी आरएस नायक ने बताया कि पीडि़त की पत्नी को ब्लड कैंसर हो गया है, उसे पैसे की बहुत आवश्यकता थी। दो ट्रक की किस्त भी नहीं पटा पा रहा था। वह जब भी अम्बिकापुर आता था तो अपने साथी संजय गुप्ता के घर रूकने लगा। इस बार व 25 लाख रूपये बनारस से लेकर संजय के घर आया था, वहीं 10 लाख रूपये व्यवसायी किशोर दास को देने के बाद 15 लाख रूपये उसने नियत खराब होने पर पैकेट से निकालकर संजय के बागवानी में रखे पुराने टायरों के बीच छुपा दिया था और बाद में यह पूरी उठाईगिरी की झूठी कहानी उसने सुनाई थी। पुलिस ने मामले में आरोपी को गिरफ्तार करते हुये धारा 407 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। उसके द्वारा छुपाये गये रूपये भी पुलिस ने बरामद कर लिये हैं। इस पूरे मामले के खुलासे में नगर निरीक्षक विनय ङ्क्षसह बघेल एवं साईबर सेल प्रभारी विनय ङ्क्षसह सहित आरक्षक प्रवीण सिंह की अहम भूमिका रही। 

  •  

Posted Date : 03-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 3 दिसम्बर। उत्तर दिशा की ओर से आ रही ठंडी हवा की वजह से सरगुजा का तापमान 8.5 पर पहुंच गया है। कड़कड़ाती ठंड से जन-जीवन प्रभावित हो गया है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार फिलहाल तापमान ऐसा ही बना रहेगा। 
    दो-तीन बाद हल्के बादल आने की संभावना जताई गई है। बादल छटने के बाद ठंड और बढऩे के आसार हैं।  ठंड के कारण दिन में भी लोग गर्म कपड़े पहन कर निकल रहे हैं।  शाम ढलते ही ठंड और ज्यादा बढऩे से जन-जीवन पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। 
    मौसम वैज्ञानिक अक्षय मोहन भटठ ने बताया कि उत्तर की ओर से ठंडी हवा आ रही है। इसलिये जो तापमान अभी है वह स्थिर बना रहेगा। दो-तीन दिन बाद आकाश में हल्के बादल आने की संभावना है। बादल छटने क बाद ठंड और बढ़ सकती है। सरगुजिहा ठंड ने लोगों को कंपकपाने पर विवश कर दिया है। 

     

  •  

Posted Date : 25-Nov-2017
  • तापमान 9 डिग्री,  29 वर्षों के रिकॉर्ड के करीब
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर,  25 नवम्बर। सरगुजा क्षेत्र में 20 नवम्बर से लगातार घट रहे तापमान ने जन जीवन को प्रभावित किया है। हिमालय क्षेत्र में बर्फबारी होने के साथ ही सरगुजा में ठंड के तेवर तीखे हो गये हैं। मौसम वैज्ञानिक आने वाले दो तीन दिनों में तापमान गिरने के संकेत दिये हैं, जिससे ठंड में भारी वृद्धि होने की संभावना है। 
    गुरूवार को तापमान जहां 11 डिग्री था तो वहीं शुक्रवार को अचानक ही पारा दो डिग्री लुढ़क कर 9 तक पहुंच गया। नवम्बर माह में पिछले 29 वर्षों के रिकार्ड के अनुसार वर्ष 1988 में इस महीनेे न्यूनतम तापमान 6.9 दर्ज किया गया था। वर्तमान में जिस तरह से वातावरण में शीत लहर चल रही है, उसे देखते हुये ठंड 29 वर्षों के रिकार्डों के करीब  आने की संभावना बनी हुई है। मौसम वैज्ञानिक के अनुसार वर्तमान में वातावरण में पर्याप्त नमी है, जिस एक दो दिनों मे पूरी तरह सूख जाने की संभावना है। इसके बाद कंपकपी युक्त ठंड अपना असर दिखाने लगेगी। मौसम वैज्ञानिक अक्षय मोहन भटठ के अनुसार निश्चित ही पारा तेजी से नीचे आया है और यह उत्तर में हुई बर्फबारी की वजह से हुआ है। पिछले दो दिन तक उत्तरी हवाओं के कारण सरगुजा काफी ठंडा रहा, लेकिन आज उत्तरी हवाओं के बंद होने की वजह से दिन की ठंड मेें काफी राहत है। शाम के बाद तापमान नीचे जाने की संभावना है। 

     

  •  

Posted Date : 23-Nov-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    अम्बिकापुर, 23 नवम्बर। शिक्षाकर्मियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल को देखते हुये इन दिनों सरगुजा कलेक्टर किरण कौशल जिले के विभिन्न विद्यालयों में औचक निरीक्षण कर बच्चों से रूबरू हो रही हैं। गुरुवार को श्रीमती कौशल अम्बिकापुर ब्लॉक के सोहगा पूर्व माध्यमिक शाला विद्यालय पहुंच कक्षा 7वीं में बच्चों को हिन्दी व अंग्रेजी विषय पढ़ाया। कलेक्टर ने बच्चों को पढ़ाने के साथ-साथ भाषा का सही तरह से उच्चारण करना भी सिखाया। 
    इसके पश्चात श्रीमती कौशल मैनपाट के समनिया विद्यालय पहुंच बच्चों की उपस्थिति कम होने पर वहां के प्रेरक  व नियमित शिक्षक को आवश्यक दिशा निर्देश दिये हैं। श्रीमती कौशल इसके पश्चात मैनपाट के ही एकलव्य विद्यालय पहुंच वहां हो रहे पढ़ाई का व शिक्षकों की उपस्थिति का जायजा लिया। ज्ञात हो कि इसके पूर्व श्रीमती कौशल ने बुधवार को  ग्राम पंचायत भि_ी कला के शासकीय प्राथमिक शाला का औचक निरीक्षण करते हुए छात्रों को गणित एवं अंग्रेजी पढ़ाया तथा प्रधानपाठक से स्कूली गतिविधियों की जानकारी ली। 
    कलेक्टर ने कक्षा पहली एवं दूसरी के बच्चों को अंग्रेजी के कैपीटल लेटर एवं कर्सिव लेटर को ब्लैक बोर्ड पर लिखकर बच्चों को पूछा अधिकांश बच्चों ने सही-सही जवाब दिया। इसी प्रकार उन्होंने दो एवं तीन का पहाड़ा पूछा जिसे कक्षा पहली के छात्र विवेक दास ने पहाड़ा सुनाया। कलेक्टर ने बच्चों के हाजिर जवाब की सराहना करते हुए मन लगाकर पढ़ाई करने की बात कही। कलेक्टर ने कक्षा पांचवी के छात्रों से गुणा एवं भाग की संख्यात्मक प्रश्न हल करने तथा 18 एवं 19 की पहाड़ा सुनाने कहा जिसपर कुमारी रेश्मी, कुमारी चन्द्रमुखी, समीर कुमार, राहुल कुमार, शुभम कुमार ने प्रश्न हल कर पहाड़ा सुनाया।
    भिटठीकला की प्रधान पाठक ऋतु श्रीवास्तव ने बताया कि स्कूल में प्रधान पाठक सहित 4 शिक्षक पदस्थ हैं जिसमें से 3 शिक्षक पंचायत हैं। तीनों शिक्षक पंचायत हड़ताल के कारण अनुपस्थित हैं। स्कूल में बच्चों की दर्ज संख्या 102 के विरूद्ध आज की उपस्थति 77 पाया गया। इस मौके पर जिला शिक्षा अधिकारी संजय कुमार गुप्ता, जिला समन्वयक सर्व शिक्षा अभियान केसी गुप्ता, एमआईएस प्रशासक डीके राय उपस्थित थे।    
      

  •  

Posted Date : 19-Nov-2017
  • महिला आरक्षक सहित तीन महिलाएं लूट की शिकार
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 19 नवम्बर। शहर में राह चलते लोगों से मोबाईल लूटने की वारदात बढ़ती ही जा रही है। सिलसिलेवार हो रही घटना में शनिवार की शाम लगातार महिला आरक्षक सहित तीन महिलाओं से बाइक सवार अज्ञात युवकों ने मोबाईल छीन लिया और फरार हो गये। लोगों का आरोप है कि यह कोई पहली घटना नहीं थी। 
    नगर के अंदर इससे पहले पिछले दो-तीन माह में एक दर्जन से अधिक लोगों का मोबाईल बाइक सवार गैंग द्वारा छीना जा चुका है। ऐसी कई शिकायतें कोतवाली व गांधीनगर क्षेत्र में दर्ज हैं, परंतु अभी तक ये बाइक सवार कौन है, इसका खुलासा नहीं हो सका है। लगातार मोबाईल लूटने की घटनाएं बढ़ते ही जा रही है। 
    जानकारी के अनुसार अजाक थाना में महिला आरक्षक के पद पर पदस्थ महुआपारा निवासी सुषमा कुजूर पिता तरसियुस कुजूर उम्र 24 वर्ष 18 नवम्बर को रात 8.30 बजे मेरिन ड्राईव के पास स्कूटी खड़ी कर मोबाईल से बात कर रही थी। इसी दौरान बाइक सवार दो लोग वहां पहुंचे और मोबाईल छीनते हुये फरार हो गये। इस घटना से पहले नगर के समलाया मंदिर के पास एक महिला उन्हीं बाइक सवार लोगों का शिकार हुई। उक्त महिला से भी बाइक सवार लोगों ने मोबाईल छीन लिया, इसके बाद नगर के गौरव पथ में एक महिला से मोबाईल छीनते हुये लुटेरे फरार हो गये। नगर में अब तक एक दर्जन लोगों का मोबाईल बाइक सवार अज्ञात युवकों ने छीना है। यह अज्ञात गैंग कहां से आया है और घटना को अंजाम देकर कहां चला जाता है यह पुलिस के लिये टेढ़ी खीर बना हुआ है। 
    कई लोग बच चुके हैं इन लूटेरों से
    सप्ताह भर पहले रिंग रोड केदारपुर में एक युवक सड़क पर मोबाईल पर बात करते हुये जा रहा था, उसी दौरान बाइक सवार युवकों ने मोबाईल छीनने की कोशिश की, परंतु असफल रहे। किसी तरह मोबाइल न छीन पाने के बाद वे वहां से भाग पाने में सफल रहे। इस प्रकार की घटना शहर में कई लोगो के साथ हो चुकी है। कई तो इन बाइक सवारों के शिकार हो चुके हैं और कई बाल-बाल बच चुके हैं। 
    पुलिस ने बनाई रणनीति-
    शहर में राह चलते लोगों से मोबाईल लूटने वाले गिरोह को पकडऩे के लिये पुलिस अब बिना नम्बर की बाइक की चेकिंग में जुट गई है। इसके साथ ही उक्त गिरोह को पकडऩे पुलिस चौक-चौराहों पर तैनाती बढ़ाने जैसी रणनीति बना रही है। 
    सीसीटीवी में आया संदिग्ध का चेहरा-
    महिला आरक्षक द्वारा बताये गये हुलिये के अनुसार शहर में लगी सीसीटीवी में एक संदिग्ध युवक का चेहरा सामने आया है, जिस बाइक के बारे में महिला आरक्षक ने जिक्र किया था वह बाइक भी सीसीटीवी में दिखाई दे रही है। बाइक काफी महंगी मॉडल की है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि तेज रफ्तार से चलने वाली इस बाइक का इस्तेमाल लूटेरे करते होंगे। 
    बालक कीे कनपटी पर बंदूक रख लूट
    राजपुर, 19 नवम्बर। बरियों मुख्य सड़क में तीन नाकाबपोश चोरों ने एक दुकान मालिक के घर धावा बोलकर लगभग पचास हजार रुपये की नकदी व सामान ले भागे।  घटना शनिवार की सुबह 3 बजे की है। चोरों ने बरियों स्थित गायत्री जनरल स्टोर्स के संचालक संजय अग्रवाल के दुकान के सामने लगे एक खंभे की मदद से चढ़कर छत के दरवाजे से दुकान के अंदर प्रवेश किया। 
    चोरों ने बड़ी शातिर तरीके से सबसे पहले दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे की दिशा दूसरी ओर कर दिया तथा डीवीआर को निकाल लिए, जिसके बाद उन्होंने दुकान में रखे चॉकलेट भी खाई। चोरों ने दुकान के काउंटर में पैसे नहीं मिलने पर घर में प्रवेश किया और कमरे में सो रहे संजय अग्रवाल के 5 वर्षीय पुत्र आशु को उठाकर उसके कनपटी पर बंदूक रख दूसरे कमरे में सो रहे उसके मां-बाप के कमरे में ले जाकर जान से मार देने की धमकी देते हुए घर में रखे सारे पैसे देने को कहा। डरे-सहमे संजय अग्रवाल ने अलमारी में रखे लगभग 50,000 रुपये उनको देने के बाद  वे भाग निकले। जाते-जाते  सीसीटीवी रिकॉर्डिंग वाले डीवीआर भी अपने साथ ले गए। घटना की जानकारी लगते ही सुबह 5 बजे राजपुर थाना प्रभारी किशोर केवट, बरियों चौकी प्रभारी रुपेश नारंग सहित अन्य पुलिस बल मौके पर पहुंचकर जांच प्रारंभ कर संदिग्धों से पूछताछ कर रही है।
    नहीं मिला कोई सुराग
    घटना के बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया। सुबह घटना की जानकारी लगते ही सरगुजा पुलिस अधीक्षक आरएस नायक, बलरामपुर पुलिस अधीक्षक डीआर आंचला, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पंकज शुक्ला, डीवाईएसपी अभिषेक झा, सीएसपी यादव, डीवाईएसपी मिश्रा, डीवाईएसपी अजाक फॉरेंसिक एक्सपर्ट किस्पोट्टा एवं डॉग स्क्वायड की मदद से जांच प्रारंभ कर दी गई। पुलिस द्वारा संदेहियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। राजपुर थाना प्रभारी किशोर केवट ने बताया कि चोरी में स्थानीय लोगों के हाथ होने की आशंका है, जल्द ही पकड़े जाएंगे।

  •  

Posted Date : 16-Nov-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 16 नवम्बर। लुण्ड्रा थाना क्षेत्र के ग्राम असकला बस्ती स्थित आंगनबाड़ी केंद्र की सीढिय़ों में गुरूवार की सुबह एक नवजात शिशु मिला। उसका उपचार मेडिकल कॉलेज अस्पताल में किया जा रहा है। इसे छोडऩे वाली  मां की पहचान नहीं हो सकी है। आशंका है कि अवैध संबंध को छिपाने  यह हरकत की गई होगी।  
     मिली जानकारी के अनुसार जन्म के चार-पांच घंटे भी नहीं गुजरे थे कि जन्म देने वाली ने उसे आंगनबाड़ी की सीढिय़ों में बेसहारा छोड़ दिया। ठंड के कारण  नवजात की हालत  गंभीर हो गई। 
    पुलिस के अनुसार आज  सुबह  कमलेश यादव व रामलाल नामक युवक टहलने के लिये निकले थे, उसी दौरान आंगनबाड़ी की सीढ़ी के पास से बच्चे की रोने की आवाज सुनवाई दी। दोनों ने जब पास जाकर देखा तो कपड़े से लिपटा हुआ  नवजात था।  ग्रामीणों ने इसकी सूचना पहले संजीवनी को दी। उसके बाद रघुनाथपुर पुलिस चौकी को इसकी खबर दी गई। मौके पर पुलिस पहुंची। उसके बाद बच्चे को संजीवनी की सहायता से मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एसएनसीयू में लाकर दाखिल कराया गया है।
     एसएनसीयू के इंजार्च डॉ हेमन्त कुमार ने बताया कि बच्चे का वजन एक किलो 80 ग्राम है। लगभग सात माह में ही प्रसव हो जाने के कारण बच्चा प्रीमेच्योर है। डॉ ने यह भी बताया कि उसके पैदा हुये छ: से आठ घंटे हो चुके हैं। उसकी हालत ठीक नहीं है। ठंड की वजह से बच्चे की सेहत पर भी काफी प्रभाव पड़ा है। 

  •  

Posted Date : 15-Nov-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंंठपुर, 15 नवंबर। सरगुजा संभाग के सभी धान खरीदी केन्द्र के कर्मचारी  नियमितीकरण की मांग को लेकर बेमुद्दत हड़ताल पर चले गए हंै। जिससे आज से शुरू होने वाली धान खरीदी नहीं हो रही है। कर्मचारियों के अनुसार काम प्रभावित होता देख प्रशासन ने उन्हें जेल भेजने की धमकी दी है।  
    कोरिया जिले मेंं अभी धान कटाई और मिंजाई का दौर चल रहा है, अभी किसान धान बेचने में कुछ दिन बाद ही केन्द्र तक पहुंचेंगे। वहीं राज्य सरकार ने आज से धान खरीदी की शुरूआत कर दी है।  वर्षों से धान खरीदी  कर रहे समिति के कर्मचारियों ने धान खरीदी का विरोध करते हुए  मंगलवार को कमिश्नर सरगुजा को अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा।
    कोरिया जिले में धान खरीदी के पहले दिन बुधवार को पटना को छोड़ सभी समितियों में ताला लटका देखा गया। संभागीय समिति के सदस्यों का कहना है कि प्रशासन  कई समिति प्रबंधकों को जेल भेजने की धमकी दे रहा है। 
    कटाई-मिंजाई जारी
    जिले में खरीफ के फसल के लिए हुई बारिश से काफी हद तक फसल ठीक हुई है। कुछ दूरस्थ क्षेत्र में धान की फसल को नुकसान हुआ है, ऐसे में ज्यादातर किसान इन दिनों खेतों में धान की कटाई में जुटे हुए हंै। वहीं अभी 50 प्रतिशत धान खेत में  है। ऐसे में धान खरीदी केन्द्रों तक धान को पहुंचने में एक सप्ताह से ज्यादा लगेगा ऐसा अनुमान है।

  •  



Previous123Next