छत्तीसगढ़ » सरगुजा

Previous123Next
Posted Date : 17-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 17 जुलाई। सरगुजा  के लुंड्रा  विधायक चिंतामणि महाराज ने लवईडीह ग्राम की एक महिला के घुनघुट्टा नदी में डूब जाने व ग्रामीणों के लिए पुल व नाव की मांग को लेकर मंगलवार को लवईडीह घुनघुट्टा नदी में जल सत्याग्रह शुरू कर दिया है। विधायक हर दो घंटे में पांच कदम गहरे पानी की ओर बढ़ रहे हैं। विधायक के जल सत्याग्रह ने प्रशासन को सख्ते में डाल दिया है। मौके पर प्रशासन की टीम विधायक की गतिविधियों पर नजर रखे हुये हैं, वहीं एनडीआरएफ की टीम नदी में डूबी महिला को खोजने के प्रयास में जुटी हुई थी। 
          जानकारी के मुताबिक लवईडीह ग्राम जो दो हिस्सों में बंटा हुआ है। बीच में घुनघुट्टा का डूबान का पानी है, जहां तीस से पच्चास फीट तक की गहराई है। इस पानी के एक ओर करीब तीन सौ लोगों की आबादी है तो दूसरी ओर करीब आठ सौ लोग रहते हैं। 
    ग्रामीणों को एक छोर से दूसरे छोर जाना होता है तो करीब पांच से सात किमी घुमकर उन्हें एक छोर से दूसरे छोर सफर करना पड़ता है। ग्रामीण इस डूबान को टायर ट्यूब से पार करते हैं, और हादसों का शिकार बनते हैं।
    हादसों की बढ़ती संख्या को देखते हुए और लगातार मांग के बाद नाव और बोट की व्यवस्था की गई थी लेकिन मैनपाट कार्निवाल के समय हटा ली गई और फिर शुरु नहीं हुई। इस बीच  लवईडीह ग्राम की एक महिला इस डूबान क्षेत्र को पार करते समय बह गई। उसकी मौत  के अंदेशा को लेकर आक्रोशित हो गए हैं और वे विधायक चिंतामणी महाराज के साथ मांगों को लेकर जल सत्याग्रह शुरू कर दिया। 
    विधायक व ग्रामीणों का कहना है कि जब तक मामले में उचित निर्णय व कार्यवाही नहीं होती वे हर दो घंटे में वे और गहरे पानी की ओर पांच कदम बढ़ते जायेंगे। विधायक चिंतामणी के साथ जनपद सदस्य राकेश गुप्ता व गांव के महिला व पुरूष दोनों जल सत्याग्रह में शामिल हैं।  

  •  

Posted Date : 09-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 9 जुलाई। सरकार ने सरगुजा कलेक्टर सुश्री किरण कौशल को यथावत पद पर रखने के लिए केन्द्रीय चुनाव आयोग से अनुमति मांगी है। बताया गया कि सुश्री कौशल पिछले चुनाव में सरगुजा जिला पंचायत सीईओ रह चुकी हैं और आयोग के नए निर्देश के चलते उनकी अन्यत्र पोस्टिंग करनी पड़ सकती है। 
    चुनाव आयोग ने साफ किया है कि पदोन्नत होने से पहले भी यदि कोई अफसर उसी स्थान या जिले में पदस्थ रहा है तो भी उसे हटना होगा। भाप्रसे की अफसर सुश्री किरण कौशल पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान सरगुजा में जिला पंचायत के पद पर थीं। साथ ही निर्वाचन कार्य से जुड़ी रही हैं, लेकिन सरगुजा में कलेक्टर पद पर काम करते उन्हें महज डेढ़ साल ही हुए हैं। 
    राज्य सरकार के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक पिछले चुनाव में सुश्री कौशल की जिम्मेदारी अलग थी। ऐसे में उन्हें यथावत पद पर रहने की अनुमति देने के लिए चुनाव आयोग से गुजारिश की गई है। आयोग ने तीन साल एक ही जिले में पदस्थ रहने वाले अथवा पिछले चुनाव में उसी जिले में निर्वाचन कार्य से जुड़े अफसरों को हटाने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए 30 अगस्त तक का समय दिया गया है।  
    बताया गया कि आयोग का रूख अभी साफ नहीं हुआ है। यदि आयोग इसकी अनुमति नहीं देता है, तो उन्हें किसी दूसरे जिले में पदस्थ किया जा सकता है। सुश्री किरण कौशल की गिनती काबिल अफसरों में होती है, इसलिए उन्हें दूसरे जिले में कलेक्टर बनाया जा सकता है। ऐसे में दो या तीन जिलों के कलेक्टरों को इधर से उधर किया जा सकता है। 
    दूसरी तरफ, नगरीय प्रशासन सचिव डॉ. रोहित यादव की पोस्टिंग केन्द्रीय मंत्री सुरेश प्रभु के सचिव के रूप में हो गई है। डॉ. यादव भी प्रतिनियुक्ति पर जाने के लिए तैयार हैं। उनकी पत्नी सुश्री रितु सैन छत्तीसगढ़ भवन दिल्ली में आवासीय आयुक्त के पद पर पदस्थ हैं। अभी तक सरकार ने उन्हें रिलीव नहीं किया है। माना जा रहा है कि हफ्तेभर के भीतर उन्हें रिलीव करने पर फैसला हो सकता है। ऐसे में मंत्रालय में सचिवों के प्रभार में भी छोटा सा फेरबदल हो सकता है।

  •  

Posted Date : 06-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    अंबिकापुर, 6 जुलाई। कैलाश मानसरोवर यात्रा में सरगुजा अम्बिकापुर के दो समाजसेवी सीताराम अग्रवाल एवं रामा प्रसाद अग्रवाल बारिश व भू-स्खलन के कारण तिब्बत में तीन दिनों तक फंसे रहे। इनके साथ करीब 200 श्रद्धालु भी फंसे रहे। शुक्रवार को मौसम साफ होने के बाद सभी श्रद्धालु कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए रवाना हुए। 
    अम्बिकापुर नगर के अग्रवाल सभा के पूर्व अध्यक्ष सीताराम अग्रवाल के पुत्र व कांग्रेस महामंत्री राजीव अग्रवाल ने बताया कि उनके पिताजी के साथ अम्बिकापुर के रामाप्रसाद अग्रवाल एवं छत्तीसगढ़ के लगभग 13 व अन्य श्रद्धालु 3 दिनों से नेपाल व तिब्बत के बीच हिल्सा सिनीकोट के पास भू-स्खलन व खराब मौसम के कारण फंस गये थे। 
    श्री अग्रवाल ने बताया कि उनके पिता के साथ छत्तीसगढ़ के 13 लोग 28 जून को छत्तीसगढ़ से निकले थे और 30 जून को लखनऊ से नेपाल, तिब्बत होते चीन कैलाश मानसरोवर जा रहे थे। 
    राजीव अग्रवाल ने बताया कि वे अपने पिताजी से लगातार सम्पर्क में थे, उनके पिता ने बताया कि नेपाल व तिब्बत के प्रशासन द्वारा उनका भरपूर ख्याल रखा गया। उन्हें किसी चीज की कमी नहीं होने दी गई। शुक्रवार को वहां फंसे सभी श्रद्धालु चीन स्थित कैलाश मानसरोवर की यात्रा के लिए रवाना हो गए हैं और देर शाम तक वहां पहुंचने की संभावना है। 

  •  

Posted Date : 22-Jun-2018
  • ग्रामीणों ने युवक को पीटकर मार डाला
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 22 जून।  सरगुजा में आज सुबह बच्चा चोर के शक में ग्रामीणों ने एक युवक को पीट-पीटकर मार डाला। घटना अंबिकापुर से सटे एक गांव की है। मृतक की पहचान अब तक नहीं हो सकी है। मौके पर मौजूद कुछ ग्रामीणों का कहना था कि उक्त युवक मानसिक रूप से विक्षिप्त लग रहा है। पुलिस  ग्रामीणों से पूछताछ  कर रही है, अभी तक मृतक की शिनाख्त तो नहीं हो सकी है।
    उल्लेखनीय है कि इन दिनों  सरगुजा  बच्चा चोरी करने वालों के घूमने और किडनी निकाल लेने वालों की अफवाह  है।  इस अफवाह ने आज खौफनाक रूप धारण कर लिया। मणीपुर चौकी क्षेत्र के ग्राम मेण्ड्राकला से लगे घुनघुट्टा नदी के किनारे ग्रामीणों ने आज सुबह दौड़ा-दौड़ाकर एक युवक की लाठी-डंडों से मार-मार कर उसकी हत्या कर दी। 
     पूरा गांव यह दृश्य देखता रहा। युवक की मौत के बाद सभी वहां से भाग खड़े हुये। मृतक की शिनाख्त अभी तक नहीं हो सकी है। न ही मामले में पुलिस ने किसी के खिलाफ अभी तक अपराध दर्ज किया है। 
     मौके पर पहुंचे पुलिस बल के साथ मौजूद ग्रामीणों में से कुछ ग्रामीणों ने बताया कि उक्त युवक बहुरूपिया बन के किसी महिला को दौड़ा रहा था। हालांकि वह महिला कौन है इसका पता नहीं चल सका है। हो सकता है क्षेत्र में जिस प्रकार की अफवाह चल रही है ग्रामीणों की यह बात भी किसी अफवाह से जुड़ी हो। 
    ज्ञात हो कि सप्ताह भर पूर्व सरगुजा के लखनपुर क्षेत्र में एक विक्षिप्त  को ग्रामीणों ने बच्चा चोरी के शक पर जमकर पिटाई की थी। दो दिन पूर्व मणीपुर चौकी क्षेत्र के ग्राम बकिरमा में भी ग्रामीणों ने एक युवक को पकड़कर पीटा था और पुलिस के हवाले कर दिया था। बाद में जब उसके परिजन सामने आये थे तो उक्त युवक भी मानसिक रूप से विक्षिप्त बताया गया था।
    अफवाहों पर  न जायें लोग-एएसपी 
    एएसपी रामकृष्ण साहू ने कहा है कि क्षेत्र में बच्चा चोरी व किडनी निकाल लेने की घटना अभी तक तो अफवाह ही है। यह अफवाह चिरमिरी की ओर से  फैलीा है। उन्होंने लोगों से अपील करते हुये कहा है कि ऐसी अफवाह पर न जायें। यदि कोई संदेही पकड़ा जाता है तो उसे पुलिस के हवाले करें। 
    चल रही जांच, होगा अपराध दर्ज-सीएसपी 
    सीएसपी आरएन यादव ने बताया कि घटना किन कारणों से हुई और इसके पीछे किन ग्रामीणों का हाथ है इसकी जांच चल रही है। साथ ही उक्त व्यक्ति की शिनाख्त कराने में पुलिस लगी हुई है। घटना के पीछे जिन ग्रामीणों का हाथ होगा वे जरूर पकड़ में आयेंगे। मामले में अपराध दर्ज किया जायेगा। 

  •  

Posted Date : 11-Jun-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 11 जून।  अविभाजित मप्र के समय कांगे्रस के कारण बीमारू राज्य का तमगा लगा हुआ था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के कारण छत्तीसगढ़  राज्य बना और भाजपा सरकार आने के बाद यह राज्य बीमारू राज्य की श्रेणी से विकसित राज्य बना। कई राज्य छत्तीसगढ़ से  सीख ले रहे हैं। अम्बिकापुर  में विकास यात्रा के तहत रोड शो व आमसभा के बाद आज सुबह पत्रकारों से चर्चा के दौरान उक्त बातें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहीं।   
    उन्होंने कहा छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार के 15 साल होने के बाद भी जिस तरह से लोगों ने पूरे मन से स्वागत किया उससे ऐसा प्रतीत होता है कि प्रदेश में चौथी बार भी लोग प्रचण्ड बहुमत से भाजपा की सरकार बनायेंगे। श्री शाह ने कहा कि छत्तीसगढ़ में नक्सलियों पर नकेल कसने, सड़क निर्माण, कृषि उत्पादन में वृद्धि हुई। हर गरीब के घर में, चावल, स्वास्थ्य, संचार पहुंचाने में सरकार सफल हुई। एक नए विजन के साथ नया रायपुर का निर्माण हुआ। देश की कई सरकार छत्तीसगढ़ राज्य से  सीख ले रहे हैं।
     यहां के विकास के लिए श्री शाह ने मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को धन्यवाद दिया और  कहा कि मंै पहले भी छत्तीसगढ़ आया हूं, लेकिन कल की सभा में जिस तरह से लोगों का  सैलाब व जोश दिखा उससे ये लगा कि मिशन 65 के साथ फिर से चौथी बार सरकार बनाएंगे।  
    श्री शाह ने कहा कि छत्तीसगढ़  सरकार ने नक्सलियों से सिर्फ  लड़ाई नहीं लड़ी विकास के माध्यम से उनको रॉ मेटेरियल ना मिले इसका भी प्रयास किया। छत्तीसगढ़ वर्तमान में पावर हब बन गया है। आगे  एजुकेशन हब बनेगा। मध्यम वर्गीय परिवारो के लिए बहुत सी योजना है। स्वास्थ्य शिक्षा में उनको लाभ मिलेगा। उन्हीं के कारण हमारी सरकार बनी है अगर वो ना होते तो सरकार नहीं बनती।
     पत्रकारों के सवाल पर  कि सबसे अधिक सैनिक आपके शासन में मारे गये? जवाब में श्री शाह ने कहा कि सबसे ज्यादा आतंकवादी भी हमारे शासन में ही मारे गए हैं। 
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कांग्रेस मुक्त भारत मतलब विपक्ष नहीं चाहते के जवाब में श्री शाह ने कहा कि विपक्ष को जिंदा रखने की जिम्मेदारी मेरी नहीं राहुलजी की है। वे कांग्रेस के अध्यक्ष है ं। उनके परिवार के लोगों ने क्या किया है उसका जवाब भी उन्हीं को देना पड़ेगा। पत्रकारों पेट्रोल के दरों में भारी इजाफा  पर कहा कि 12 दिनों में दाम कम हुए हंै और इस पर विचार-विमर्श जारी है। 
    अम्बिकापुर में रोड शो व आमसभा में स्वागत से अभिभूत मुख्यमंत्री डॉ रमन ङ्क्षसह ने कहा कि छत्तीसगढ़ के इतिहास में अब तक का ऐतिहासिक रोड शो व आमसभा हुई। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि अम्बिकापुर, जशपुर में युवा मोर्चा, महिला मोर्चा, किसान मोर्चा व सर्व आदिवासी समाज ने जिस तरह  पुष्प वर्षा कर स्वागत किया वह अभूतपूर्व है। 
    वार्ता के दौरान मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, भाजपा की राष्ट्रीय महासचिव सरोज पांडेय, प्रदेश प्रभारी अनिल जैन, राज्य सभा सांसद रामविचार नेताम, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष धरम लाल कौशिक, गृहमंत्री रामसेवक पैकरा, प्रदेश मंत्री अनुराग ङ्क्षसहदेव, भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी सहित प्रदेश भाजपा के आला नेता मौजूद थे। 

  •  

Posted Date : 10-Jun-2018
  • शिक्षाकर्मी संविलियन की घोषणा

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 10 जून। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के स्वागत से अभिभूत मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने कहा कि आपके प्रेम का तोल नहीं, मोल नहीं है। जीवनभर याद रखूंगा। सरगुजा छत्तीसगढ़ का मस्तक है और श्री शाह यहां आज तिलक लगाने आए हैं। उन्होंने मंच से शिक्षाकर्मियों के संविलियन की घोषणा की और कहा कि जल्द ही मंत्रिमंडल की बैठक लेंगे।
    अमित शाह ने कहा,  आज यहां उमड़ी भीड़ देखकर मैं कह सकता हूं- फिर एक बार रमन सरकार बनने जा रही है। भाजपा कार्यकर्ताओं को आह्वान किया कि विजय इस बार ऐसी प्राप्त करनी है  कि जीत देख  विरोधी दल की छाती फट जाए, कांग्रेस को समूल उखाड़ फेंकना है। 
    उन्होंने कहा कि यह रमन सरकार है कि जो चुनाव से पहले हर गांवों में जाकर हिसाब देती है। उन्होंने ऐसा कोई काम नहीं किया जिससे भाजपा को झुकना पड़े।
    भाजपा की सरकार चुनाव से पहले अपने कामों का हिसाब देने के लिए जनता के पास जा रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की तारीफ की और कहा कि इतने सालों में ऐसा कोई काम नहीं किया जिससे भाजपा कार्यकर्ताओं का सिर झुकाना पड़ा। श्री शाह ने कहा कि 14 तारीख को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी यहां आएंगे और विकास यात्रा के पहले चरण का समापन होगा। 
    उन्होंने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी जमकर हमला बोला और उनसे मोदी सरकार के चार साल के कार्यकाल का हिसाब पूछे जाने पर कहा कि भाजपा वोट लेते समय पल-पल का हिसाब देगी। श्री शाह ने देश की जनता को उन्हें चार पीढ़ी का हिसाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि 55 साल तक परिवार का शासन रहा है और देश का विकास क्यों नहीं हो पाया। मोदी सरकार ने चार साल में 3 लाख 80 हजार परिवारों को गैस कनेक्शन दिया है। अकेले अंबिकापुर में 1 लाख 40 हजार परिवारों को गैस कनेक्शन दिया गया है। पूरे देश में 10 करोड़ शौचालय का निर्माण किया गया। जहां बिजली नहीं थी ऐसे 19 हजार परिवारों में गैस कनेक्शन उपलब्ध कराया गया। 
    इसके पहले अंबिकापुर नगर के अग्रसेन चौक से पीजी कॉलेज मैदान तक रोड शो में लोगों ने घरों से  फूल बरसाए। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह का दरिमा एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत हुआ। श्री शाह के आज करीब दोपहर 12 बजे वायुयान से दरिमा हवाई अड्डा पहुंचने पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आत्मीय स्वागत किया। श्री शाह के साथ राज्य सभा सांसद सुश्री सरोज पाण्डेय भी आयीं। श्री शाह का दरिमा हवाई अड्डे पर विधानसभा अध्यक्ष गौरी शंकर अग्रवाल, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, आदिम जाति स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कष्यप, श्रम एवं खेल मंत्री भईयालाल राजवाड़े,  पूर्व विस अध्यक्ष   धरमलाल कौशिक और जनप्रतिनिधियों ने श्री शाह का भव्य स्वागत किया। इस अवसर पर सरगुजा संभाग के कमिश्नर  अविनाश चम्पावत, सरगुजा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक  हिमांशु गुप्ता, छŸत्तीसगढ़ सषस्त्र बल की  उप पुलिस महानिरीक्षक श्रीमती नेहा चम्पावत और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इस अवसर पर लोक नृतक दलों द्वारा  सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर श्री शाह का आत्मीय स्वागत किया। 

     

  •  

Posted Date : 09-Jun-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 9 जून। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह व छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह विकास यात्रा के तहत रविवार को सरगुजा के अम्बिकापुर में रोड शो व विशाल आमसभा को संबोधित करेंगे। सभा में   सरगुजा की लोक संस्कृति की झलक दिखाई देगी। मंच को हस्तशिल्प बोर्ड व अन्य विभागों के सहयोग से मंच को सजाया गया है। मंच के ठीक सामने लोगों के लिये छह लाईन में डोम लगाया गया है। 60 फीट लम्बा व 35 फीट चौड़ा भव्य मंच तैयार किया गया है। मंच के सामने डोम पंडाल में लोगों के लिये 80 हजार कुर्सियां हंै। 
    विकास रथ यात्रा के दौरान रिलायंस पेट्रोल पम्प से अम्बेडकर चौक तक कुल  51 प्रवेश द्वारा व 21 स्थानों पर मंच बनाया गया है। रथ यात्रा का स्वागत एवं कर्मा एवं शैला लोक नृत्य के 66 दलों द्वारा जगह-जगह इसकी आगवानी की जाएगी। नगर के महामाया चौक में छात्र-छात्राओं द्वारा  रिबन लहराकर स्वागत किया जायेगा। घड़ी चौक में स्वच्छ भारत मिशन के तहत ऑरेंज ब्रिग्रेड व ब्लू बिगे्रड द्वारा मानव तिरंगा का निर्माण कर स्वागत किया जायेगा। 
    भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह व मुख्यमंत्री डॉ रमन ङ्क्षसह के रोड शो का काफिला लगभग दो किमी होगा, जहां लाईफ प्रसारण के लिये शहर के अलग-अलग स्थानों में एलईडी स्क्रीन लगाई गई है। रोड शो के बाद अमित शाह व मुख्यमंत्री डॉ सिंह बनारस रोड से सभा स्थल तक पहुंचेंगे। डाइट के सामने वीआईपी के लिए प्रवेश द्वार बनाये गयेे हैं, जबकि मनेंद्रगढ़ रोड में कॉलेज के सामने से आम लोगों के लिये व्यवस्था की गई है। 
    165 करोड़ के कार्यो का लोकार्पण -शिलान्यास
    मुख्यमंत्री आमसभा में 165 करोड़ 26 लाख रूपये की लागत के 58 विभिन्न निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के साथ 35 हजार 290 हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं के तहत सामग्री और चेक वितरित करेंगे। इनमें 37 करोड़ 73 लाख रूपये की लागत से बने 17 विभिन्न निर्माण कार्यों का लोकार्पण करेंगे। इसके साथ ही 91 करोड़ 82 लाख रूपये की लागत से बनने वाले 41 विभिन्न निर्माण कार्यों का भूमिपूजन करेंगे।  

  •  

Posted Date : 22-May-2018
  • एवरेस्ट पहुँचने वाले पहले छत्तीसगढिय़ा 
    2018 के पहले भारतीय  भी

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 22 मई। शहर के युवा पर्वतारोही और दिल्ली में अध्ययनरत राहुल गुप्ता ने आखिरकार फतेह कर ली एवरेस्ट की चढ़ाई। छतीसगढ़ के पहले पर्वतारोही बने जिन्होंने एवरेस्ट की चढ़ाई पूरी की है। वर्ष 2018 में पहले भारतीय भी हैं  जिन्होंने एवरेस्ट की चढ़ाई की है। राहुल गुप्ता , छतीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक के शाखा प्रबंधक अशोक गुप्ता के सुपुत्र हैं। तीसरी बार में उन्होंने एवरेस्ट की चढ़ाई पूरी की है । पहली बार चीन की ओर से चढ़ाई के दौरान भूकम्प और नेपाल में मची तबाही के कारण एवरेस्ट पर चढ़ाई का कार्यक्रम स्थगित कर दिए जाने से उन्हें वापस लौटना पड़ा था। दूसरी बार चढ़ाई के दौरान स्नो ब्लाइंडनेस का शिकार होने के कारण लौटना पड़ा था।
    इस बार राहुल ने 8 अप्रैल से नेपाल की ओर से एवरेस्ट पर चढ़ाई की शुरुवात की थी। वे 22 अंतरराष्ट्रीय पर्वतारोही दल में शामिल थे। 14 मई की सुबह उसने एवरेस्ट फतह की। वे बफऱ्ीले तेज़ तूफ़ान की वजह से ब्लाईंडनेस और फ्रोस्ट बाईट के शिकार हो गए जिसके कारण कैंप 2 से हेलीकॉप्टर से लाया गया।  उनका नेपाल में इलाज चल रहा था। कल बुधवार सुबह वे दिल्ली लौटेंगे। राहुल की इस गौरवपूर्ण उपलब्धि से सरगुजा में उत्साह है।  
    अभियान के संबंध में राहुल गुप्ता ने बताया कि 8 अप्रैल को नेपाल होते हुए वे बेस कैंप पहुंचे जहाँ से 5 कैंप से होते हुए 22 दिन की कड़ी मशक्कत के बाद, समस्त प्राकृतिक आपदाओं को झेलते हुए 14 मई की सुबह एवरेस्ट की चोटी फतह की। जितना मुश्किल एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचना था, वापसी की यात्रा भी भीषण संकट से भरी रही। इस दौरान 12 से 16 घंटे तक करीब 120 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चलने वाले तूफान का सामना करना पड़ा। राहुल गुप्ता के लिए ये सबसे मुश्किल समय था। एवरेस्ट फ़तेह करने की ख़ुशी महसूस करने से ज्यादा ज़रूरी पूरे दल को सुरक्षित करना था। वे पूरी टीम की हौसला अफजाई और नेतृत्व करते रहे जिससे सभी साथी धैर्य और हिम्मत के साथ बंधे रहे। 
    भविष्य में राहुल गुप्ता का इरादा छत्तीसगढ़ में आउटडोर एडवेंचर की अंतरराष्ट्रीय अकादमीखोलने का है जिससे पर्वतारोहण के क्षेत्र में विश्वस्तरीय प्रतिभा छत्तीसगढ़ में तैयार किए जा सकें।

  •  

Posted Date : 21-May-2018
  • सीआरपीएफ बस्तरिया बटालियन दीक्षांत समारोह
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 21 मई। सरगुजा जिला के अम्बिकापुर मुख्यालय से लगे ग्राम परसा केपी में सोमवार को सीआरपीएफ के बस्तरिया बटालियन के दीक्षांत समारोह में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पहले बैच के पासिंग आउट कार्यक्रम में शामिल हुए। बस्तरिया बटालियन का परेड देख गद्गद् मुख्य अतिथि  केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि बस्तरिया बटालियन छत्तीसगढ़ के आदिवासियों में उत्साह भरेगा। कुछ समय में ही यह बटालियन बस्तर में माओवादियों का सफाया करने में अपनी अहम भूमिका निभायेगा। इसके बाद अपने शौर्य और पराक्रम से हिन्दुस्तान के कई हिस्सों में अपना परचम लहरायेगा। 
     श्री ङ्क्षसह ने कहा कि छत्तीसगढ़ मेें रमन सरकार दूरस्थ क्षेत्र में तेजी से विकास करना चाहती है, लेकिन माओवादी विकास नहीं करना देना चाहते। छत्तीसगढ़ में माओवादी विकास के सबसे बड़े दुश्मन हैं। माओवादी चाहते है कि गांवों में रहने वाले आदिवासी जनता गरीबी झेलती रहे और कभी आगे न बढ़ पाये। श्री ङ्क्षसह ने आगे कहा कि माओवादी संगठनों के नेताओं के पास कई शहरों में आलीशान बंगले हैं और सारी सुख-सुविधा उनके पास उपलब्ध है। नक्सलियों के बच्चे नामी विश्वविद्यालयों और स्कूलों में पढ़ाई कर रहे हैं। ऐसे माओवादी नेताओं के खिलाफ  सरकार सख्त कार्रवाई करेगी। उन्हें दुनिया की कोई ताकत नहीं बचा सकती। 
     श्री सिंह ने आगे कहा कि प्रदेश के जिस इलाके में बिजली, सड़क जैसी दूसरी सुविधाएं नहीं पहुंच पा रही है, उसके लिए राज्य सरकार नहीं, माओवादी जिम्मेदार है। बस्तरिया बटालियन के जवानों की हौसला अफजाई करते हुए उन्होंने कहा कि इन बेटे बेटियों ने यह साबित कर दिया है कि योग्यताएं सिर्फ  शहरों की अट्टालिकाओं से नहीं, बस्तर जैसे दूरस्थ इलाकों से भी निकलती है। 
    उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की दृढ़ इच्छाशक्ति और राज्य सरकारों के समन्वय, फोर्स की सक्रियता से नक्सलवाद, आतंकवाद, अलगाववाद से जवानों के शहीद होने की संख्या में 50 से 55 फीसदी में कमी आई है। भौगोलिक रूप से भी इनका दायरा कम हो गया है। उन्होंने कहा कि यदि कोई जवान शहीद होता है तो पैसों से उसकी भरपाई नहीं हो सकती, लेकिन उनके परिवार की जिम्मेदारी का दायित्व सरकार का है, इसलिए सरकार ने तय किया है कि जवान की शहादत पर कम से कम 1 करोड़ की सहायता राशि दी जाएगी।
    यह बटालियन इतिहास बनायेगा -रमन
    दीक्षांत समारोह को संबोधित करते मुख्यमंत्री रमन ङ्क्षसह ने कहा कि बस्तर की बेटे-बेटियों में चीते की तरह स्फूर्ति है। बस्तर में ये बटालियन माओवादियों से डटकर मुकाबला करेगी। आने वाले समय में यह बटालियन इतिहास बनायेगा और छत्तीसगढ़ का मान-सम्मान बढ़ायेगा। उन्होंने  कहा कि 2003 मेें नक्सल अभियान की शुरूआत हुई थी। नक्सलियों से सीआरपीएफ ने कड़ा लोहा लिया और अपने लहु से छत्तीसगढ़ की धरती को सींचा और प्रदेश में शांति लाई। सीआरपीएफ के जवानों ने पुल-पुलिया सड़क निर्माण में सुरक्षा के साथ-साथ अपनी दोहरी भूमिका निभाई है। आने वाले समय में बस्तरिया बटालियन बस्तर में शांति और माओवादियों को समाप्त करने में अपनी अहम भूमिका निभायेगी। 
    दीक्षांत समारोह के दौरान गृहमंत्री रामसेवक पैकरा, लोकसभा सांसद कमलभान ङ्क्षसह, राज्य सभा सांसद रामविचार नेताम, केंद्रीय पुलिस सुरक्षा बल के महानिदेशक राजीव राय भटनागर, छत्तीसगढ़ पुलिस महानिदेशक एनएन उपाध्याय, भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी, पूर्व महापौर प्रबोध मिंज, वरिष्ठ भाजपा नेता अनिल सिंह मेजर, विनोह हर्ष सहित भाजपा के अन्य पदाधिकारी व जनप्रतिनिधि थे।  

  •  

Posted Date : 27-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अंबिकापुर, 27 अप्रैल। अंबिकापुर नगर से  लगे   नान दमाली में बीती रात तेज रफ्तार बाईक  सड़क किनारे खड़ी ट्रैक्टर ट्राली से जा टकराई जिससे तीनों की मौके पर ही मौत हो गई।
    पुलिस के अनुसार दरिमा थाना के नान दमाली के तीन युवक राजकुमार, भारत यादव और गोपाल  एक मोटरसाइकिल से गांव के पास के  बगलपारा  शादी में शामिल होने जा रहे थे। बाइक तेज रफ्तार  थी और वे सड़क किनारे खड़ी ट्राली से जा टकराई।  और तीनों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

     

  •  

Posted Date : 18-Apr-2018
  • वन विभाग को ट्रैकुलाईज टीम का इंतजार
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 18 अप्रैल। आज सुबह अंबिकापुर के फुन्दुरडिहारी में भालू घुस जाने से पूरे इलाके में दहशत और हड़कंप मच गया है। वन विभाग घंटों तक दो केज लगाकर भालू को पकडऩा चाहा, लेकिन भालू के कोई हलचल नहीं होने पर अब बिलासपुर के ट्रैंकुलाईज एक्सपर्ट का इंतजार कर रहा है।  
     मिली जानकारी के मुताबिक गांधीनगर-फुन्दुरडिहारी क्षेत्र में आज तड़के एक भालू  लोगों को देख अनिमा प्रकाश केरकेट्टा नामक व्यक्ति के बाड़ी में जा घुसा। सूचना मिलते ही सबसे पहले मौके पर पुलिस कप्तान सदानंद कुमार पहुंचे। इसके पश्चात डीएफओ प्रियंका पांडेय के नेतृत्व में वन अमला पहुंचा। 
    सरगुजा वन मंडल की डीएफओ प्रियंका पांडेय ने बताया कि बाड़ी के चारों ओर बेरिकेट व प्लास्टिक से घेराव किया गया है। बाड़ी में दो केज रखे गये हैं। केज में भालू के खाने-पीने के लिये शहद व पानी की भी व्यवस्था की गई है। भालू  बाड़ी में ही बैठा हुआ है। उसका कोई मुमेंट नहीं दिख हो रहा है। भालू अगर स्वयं से पिंजरे में आ जाता है तो उसे वहां से सुरक्षित निकाल जंगल की ओर छोड़ दिया जायेगा। 
    उन्होंने बताया कि  कोई हलचल नहीं होने पर बिलासपुर की ट्रैंकुलाइज एक्सपर्ट टीम को बुलाया गया है। समाचार लिखे जाने तक ट्रैंकुलाईज टीम बिलासपुर से अम्बिकापुर आने रवाना हो गई है। शाम तक ट्रैंकुलाईज टीम के अम्बिकापुर पहुंचने की संभावना है।  बहरहाल वन अमला फुन्दुरडिहारी इलाके को घेर कर भालू को सुरक्षित निकालने की कोशिश कर रहा है। मौके से नागरिकों को हटा दिया गया है।

  •  

Posted Date : 22-Mar-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    अंबिकापुर, 22 मार्च।  एक करोड़  के इनामी शीर्ष नक्सली नेता देव कुमार सिंह उर्फ अरविन्द की कल सुबह ओडिशा और झारखंड की सीमा पर सरगुजा के बलरामपुर जिले में स्थित बूढ़ा पहाड़ जंगल में मौत होने की खबर है। खबरों के मुताबिक मौत दिल का दौरा पडऩे से  हुई। हालांकि इस खबर की पुष्टि नहीं हो पा रही है। छत्तीसगढ़ ने बलरामपुर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (नक्सल ऑपरेशन) डॉ. पंकज शुक्ला से फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन संपर्क नहीं हो सका। इधर झारखंड पुलिस प्रवक्ता सह आईजी ऑपरेशन आशीष बत्रा के मुताबिक अरविंद की मौत की खबर आई है, पुलिस इस सूचना को सत्यापित करने का प्रयास कर रही है। 
    अलग-अलग जगहों से आ रही खबरों के मुताबिकअरविंद बीते कई सालों से बीमार चल रहा था। मधुमेह  के कारण चलने-फिरने में असमर्थ हो गया था। वह अपने साथी सदस्यों के सहारे ही चल-फिर पाता था।  वह हमेशा दौ सौ हथियारबंद नक्सलियों से घिरा रहता था। अरविंद माओवादियों के पोलित ब्यूरो का मेंबर था जिस पर 1 करोड़ का इनाम था, वह पांच राज्यों का मोस्टवांटेड भी था। बीते करीब दो बरसों से उसकी भूमिका मार्ग दर्शक मंडल के सदस्य के रुप में सीमित हो गई थी।
    वर्ष 2010 के बाद झारखंड में संगठन को मजबूत बनाने की जिम्मेवारी पोलित ब्यूरो के सदस्यों ने अरविंद को दी गई। संगठन का बेस कैंप ओडिशा-झारखंड-छत्तीसगढ़ की सीमा पर सरगुजा के बलरामपुर जिले में स्थित एक ऊंचे बूढ़ा पहाड़ पर तैयार किया था।  वहाँ वह बीते डेड़ बरसों से मौजूद था, लेकिन विशेष सुरक्षा दस्ता और चारो ओर लैंड माइंस की मौजूदगी ने पुलिस और सुरक्षा बलों से उसे हमेशा सुरक्षित दूरी में रखा। उसे पकडऩे के लिए झारखंड और छत्तीसगढ़ की पुलिस ने कई बार बूढ़ापहाड़ के इलाके में अभियान चलाया, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। 
    अरविन्द के नेतृत्व में ही नक्सलियों 2006-07 में देश में पहली बार बिहार के जहानाबाद  में जेल ब्रेक किया था और 300 से अधिक कैदियों को छुड़ाया था। 2013 में कटिया हमले में 17 जवान शहीद हुए थे और अरविन्द के कहने पर ही शहीद जवान के पेट में बम लगाया गया था। अरविन्द माओवादियों का थिंक टैंक और मास्टर प्लानर था। 
    अरविंद की मौत के बाद अब कमान पूरी तरह प्रभाकर के हाथों में आ गई है जो कि दंडकारण्य कमेटी की ओर से तीन साल पहले बिहार झारखंड कमेटी में भेजा गया था। 

  •  

Posted Date : 27-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    उदयपुर, 27 जनवरी। सरगुजा  के उदयपुर वन परिक्षेत्र अंतर्गत घाटबर्रा के आश्रित ग्राम टिकरापारा में गत शुक्रवार  रात दो हाथियों ने हमला कर दिया और मकानों को ढहाने लगे। इस दौरान एक दम्पत्ति समेत 3 को   रौंद डाला। बताया जा रहा है कि हमले के वक्त  ग्रामीण  अंधेरे में इधर-उधर भाग रहे थे। ग्रामीणों के पास टार्च तक नहीं था, जिससे वह सुरक्षित स्थान की ओर जा सके। इस गांव में हाथियों ने एक दर्जन मकानों को तोड़ दिया है। 
     जानकारी के मुताबिक ग्राम घाटबर्रा के आश्रित पारा टिकरापारा में रात 9 बजे करीब 2 हाथियों ने हमला बोल दिया। जो ग्रामीण भाग सके वह सुरक्षित स्थानों पर जाकर रुके। जो नहीं भाग सके वह लोग हाथियों के चपेट में आ गए। इनमें   सुकुल राम  और उसकी पत्नी सुंदरी  तथा   कौशिल्या  नामक युवती शामिल है । शव  क्षत-विक्षत हो गए हैं। गांव वालों के पास न तो लाइट की व्यवस्था थी और ना ही और कोई साधन जिससे वो रात में भाग सकें।  वन विभाग द्वारा भी टार्च की व्यवस्था नहीं की गई है। 
    वन कर्मचारी मौके पर ग्रामीणों के साथ डटे हुए थे, परंतु जानमाल के नुकसान से लोगों को नहीं बचा सके। हाथियों ने लगभग एक दर्जन क  घरों को नुकसान पहुंचाया है। एक ग्रामीण का मकान पूरी तरह से टूट गया है उसके पास खाने और रहने की समस्या हो गई है। 
    आज  सुबह वन राजस्व और पुलिस अमला घटनास्थल पहुंचे नुकसान का जायजा लिया। लगभग 60 लाख के नुकसान  का अनुमान लगाया गया है। मौके पर थाना उदयपुर की टीम पहुंचकर शव का पंचनामा कराकर गांव में ही पोस्टमार्टम की व्यवस्था बनाई गई है।  तात्कालिक सहायता के रूप में वन विभाग की ओर से मृतक के परिजनों को 25-25 हजार सहायता राशि उपलब्ध कराई गई है। 
    वन परिक्षेत्र अधिकारी उदयपुर द्वारा प्रकरण बनाकर शेष मुआवजा राशि तत्काल प्रदान कराने की बात कही गई है। जनपद पंचायत की ओर से भी परिवार सहायता प्रकरण बनाकर मुआवजा देने की बात कही गई है।  कोल खनन कंपनी के प्रति गांव के लोगों में काफी आक्रोश देखा गया लोगों ने आरोप लगाया कि गोद लेने के बाद भी इस ग्राम में कोई व्यवस्था नहीं की गई है समय रहते अगर उचित संसाधन उपलब्ध हो गया रहता तो आज इतनी बड़ी जनहानि नहीं हुई होती।

  •  

Posted Date : 12-Jan-2018
  • बैकुंठपुर, 12 जनवरी। स्वामी विवेकानंद की जयंती पर आज सुबह जिला मुख्यालय के स्कूली छात्र-छात्राओं ने 500 मीटर तिरंगा लेकर रैली निकाली। तिरंगा यात्रा नामक यह आयोजन छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी ने किया था। इस दौरान पूरे दो घंटे यातायात पूरी तरह से बंद रहा, बड़ी संख्या में वाहन फंसे रहे।

  •  

Posted Date : 11-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 11 जनवरी। गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान से भटक कर सोनहत के रजौली धनपुर की बसाहट की तरफ आये बारहसिंघे को कुछ लोगों ने शिकार  के लिए दौड़ाया। जान बचाने वह तालाब में कूद गया।  शाम  5 बजे से रात  9 बजे तक पानी में रहने के कारण वह ठंड से बेहाल हो गया। सूचना मिलने पर वन अमला रात को पहुंच बारहसिंघे को बाहर निकाला।  उसका इलाज सोनहत नर्सरी में जारी है।

  •  

Posted Date : 06-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 8 जनवरी। उत्तर भारत की ओर से पहुंच रही ठंडी हवाओं के कारण एक बार फिर सरगुजा संभाग भर में ठंड बढऩे लगी है। क्षेत्र में शीत लहर जारी है। 
    शुक्रवार की शाम से लगातार मैनपाट में पारा गिरने के कारण लोग ठंड से ठिठुरने लगे हैं। मैनपाट का तापमान एक डिग्री तक पहुुंच गया है। इसके साथ ही यहां पेड़ पौधे पर आज सुबह पाला जमना शुरू हो गया। मौसम विभाग  के अनुसार अभी ठंड से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। एक-दो दिन तापमान में और कमी हो सकती है। 

  •  

Posted Date : 06-Jan-2018
  • लंबे अर्से बाद सरगुजा में नक्सल आमद
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर / कुसमी, 8 जनवरी।   झारखण्ड सीमा से लगे बलरामपुर जिले के कुकुद माइन्स में बीती रात नक्सलियों ने नौ वाहनों को आग लगा दी। कांटा घर भी फूंक दिया।  माइन्स मेें तैनात  कर्मचारियों को बंधक बनाकर बेदम पिटाई की।   
    बलरामपुर जिले के सामरी थाना क्षेत्र अंतर्गत कुकुद माइन्स में हुई इस नक्सल वारदात से एक बार फिर क्षेत्रवासी सहम गए हैं। छत्तीसगढ़ सीमा में लम्बे अरसे के बाद नक्सलियों ने अपनी आमद दर्ज कराई है। कुकुद माइन्स क्षेत्र छत्तीसगढ़ और झारखण्ड के इलाके में है। यहां से सामरी थाना महज छ: किमी की दूरी पर स्थित है।  
    जानकारी के अनुसार रात लगभग डेढ़ बजे 10 से 15 हथियारबंद नक्सली कुकुद माइन्स पहुंचे।  कर्मचारियों को बंधक बनाया,  और  पिटाई की और उन्हें काम न करने की धमकी दी है। इसके बाद दो पोकलेन मशीन, छ: ट्रक, 
    एक मोटरसायकल व दो कांटा घर को आग के हवाले कर दिया। इस आगजनी में उक्त मशीनें जलकर खाक हो गई। 
     घटना के बाद सुबह 11.30 बजे तक पुलिस का कोई अधिकारी और न ही नक्सल ऑपरेशन से जुड़े अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़-झारखण्ड का यह सरहदी इलाका लम्बे समय से शांत था। चुनावी वर्ष 2018 में नक्सलियों के दस्तक से सरकार व पुलिस के सामने एक बार फिर चुनौती खड़ी हो गई है। 
    शुक्रवार को   अम्बिकापुर पहुंचे मुख्यमंत्री व गृहमंत्री ने सरगुजा से नक्सलियों का सफाया होने की बात कही ही थी कि उनके जाने के बाद देर रात नक्सलियों की यह वारदात की।
    पुलिस टीम हुई है रवाना-एसपी 
        वारदात के संदर्भ में बलरामपुर एसपी डीआर आंचला ने बताया कि नक्सलियों ने कुकुद माईन्स में देर रात आगजनी की  है। वे स्वयं और पुलिस बल मौके के लिये रवाना हो गए हैं। श्री आंचला ने आगे बताया कि यह इलाका छत्तीसगढ़ और झारखण्ड की सीमा में आता है। स्थानीय पुलिस पहले ही मौके पर पहुंच गई है और जांच में जुटी हुई है। एसपी ने कहा कि उस इलाके में सर्चिंग बढ़ा दी गई है।

  •  

Posted Date : 02-Jan-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 2 जनवरी। स्थानीय पुराने बस स्टंैड पर आज सुबह यात्री बस और डम्पर की टक्कर हो गई। कुछ यात्रियों को चोटें आर्इं, जबकि डम्पर का चालक उसी में फंस गया था जिसे लोगों की मदद से बाहर निकाला गया। घायल यात्रियों और चालक का इलाज जिला अस्पताल में जारी है।  
      सुबह 9.30 बजे चिरमिरी से बैकुंठपुर पहुंचने वाली गुप्ता बस जैसे ही पुराने बस स्टैंड पहुंची विपरित  दिशा में चल रहे डम्पर से जा टकराई। बताया जाता है बस के आगे चल रहे वाहन को बचाने के फेर में यह हादसा हउआ।  
    बस में काफी यात्री सवार थे। आसपास के लोगों ने  बस से यात्रियों को उतारा और उन्हें अस्पताल भिजवाया, वहीं डम्पर का चालक उसी में फंसा रह गया।  काफी कोशिशों के बाद उसे निकाला जा सका। अस्पताल ने उसकी हालत खतरे से बाहर बताई है।  

     

  •  

Posted Date : 14-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजपुर, 14 दिसम्बर। सरगुजा राजपुर वन परिक्षेत्र में एक बार फिर हाथियों की धमक से लोगों में दहशत का माहौल है। दो दर्जन से अधिक हाथियों का दल नरसिंहपुर क्षेत्र में आतंक मचा रहा है। मंगलवार की रात प्रतापपुर की ओर से दुप्पी चौरा होते हुए ग्राम नरसिंहपुर में लगभग 23 हाथियों का दल पहुंचने के बाद ग्रामीणों में दहशत है। 
    हाथियों ने नरसिंहपुर में तीन मकानों को तोड़ा। गन्ना  फसल नष्ट करने के बाद खलिहान में रखा धान चट कर गये। चाची सर्किल के नरसिंहपुर बीट में रामलाल गोंड, हरिचरण एवं ईश्वर गोंड़ के  खलिहान में रखे हुए 15 क्विंटल धान को चट कर गए।  हाथियों के पहुंचने की सूचना के बाद वन अमला मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को हाथियों से सतर्क रहने के उपाय बताते हुए हाथियों की निगरानी कर रहे हैं। 

     

  •  

Posted Date : 11-Dec-2017
  • भयभीत छात्रा ने कहा, एक और बच्ची थी कार में 
    शरारती तत्व का हाथ-एएसपी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 11 दिसम्बर। अम्बिकापुर नगर से लगे विशुनपुर प्राथमिक स्कूल में आज सुबह कक्षा चौथी की एक छात्रा के अपहरण  की कोशिश की गई।  घटना से पुलिस में हड़कंप मच गया। नाकेबंदी कर वाहनों की सघन जांच जारी है।  अपहरणकर्ताओं का  पता नहीं चल सका है। डरी-सहमी छात्रा ने बताया कि कार में  चार युवक थे। दो युवक मुंह में साफा बांधे हुए थे और दो युवक एक बच्ची को पकड़कर बैठे हुये थे। हालंाकि अब तक पुलिस के पास किसी अन्य बच्ची के गुम होने की खबर नहीं आई है। 
    एएसपी रामकृष्ण साहू का कहना है कि मामले की जानकारी मिली है। बच्ची से बातचीत में प्रथम दृष्टया यह शरारती तत्व का हाथ लगता है न कि अपहरण जैसी कोई बात।
    छात्रा के परिजनों के हवाले से पुलिस ने बताया कि  छात्रा शासकीय प्राथमिक शाला विशुनपुर में कक्षा चौथी में पढ़ती है। छात्रा के पिता जशपुर जिले के रहने वाले हैं और विशुनपुर में रहकर  मिस्त्री का काम करते हैं।  स्कूल 9.30 से 2.30 बजे तक लगता है। इस कारण समय से आधा घंटा पहले पहुंची छात्रा जब स्कूल परिसर में पहुंची तो वहां कक्षा चौथी व पांचवी में पढऩे वाले दो छात्र मौजूद थे। जो उसके आने के बाद रसोईया के पास स्कूल की चाबी लेने गए हुए थे। 
    इसी दौरान काले रंग की कार  सवार कुछ युवक स्कूल परिसर मेंं  दाखिल हुए। इनमें से दो युवक जो चेहरे पर साफा बांधे हुये थे उसके पास आये। एक युवक ने पीछे की ओर से उसे पकड़ लिया और एक सामने की ओर से उसे घेरा हुआ था। 
    छात्रा को जैसी ही साफा बांधे युवक ने पकड़ा उसने उसके हाथ को दांत से काट लिया और उसके चंगुल से भागते हुये मुख्य सड़क की ओर पहुंची और मदद मांगते चिल्लाने लगी। जिससे अपहरणकर्ता घबरा गये और भाग निकले। बच्ची की आवाज सुनकर आसपास के लोग वहां पहुंचे और इसकी सूचना गांधीनगर पुलिस को दी। 
    सूचना पर क्राइम ब्रांच व गांधीनगर पुलिस मौके पर पहुंची व वायरलेस सेट पर अम्बिकापुर से लगे सभी थाना क्षेत्रों को अलर्ट कर दिया। इसके पश्चात पुलिस ने नगर सीमा को भी सील कर वाहनों की जांच की, लेकिन अपहरणकर्ताओं का कोई पता नहीं चला। 
    हालांकि जांच के दौरान पुलिस ने एक काले रंग की कार को पकड़ा। बच्ची से  शिनाख्त कराई तो उसने घटना में अन्य कार होना बताया। पुलिस   शहर व आसपास के क्षेत्रों में सघन जांच में जुटी हुई है। 

     

  •  



Previous123Next