छत्तीसगढ़ » बलरामपुर

Posted Date : 19-May-2018
  •  छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजपुर , 19 मई।  आज शाम सीएम की सभा से पहले सभास्थल से भाजपाई झंडे हटाने को लेकर भाजपा कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए। प्रशासन का कहना है कि कार्यक्रम शासकीय है और दलगत झंडे लगने से प्रश्न खड़े होते इसलिए झंडे जब्त किए गए हैं। सीएम डॉ रमन सिंह विकास यात्रा के दूसरे चरण में आज शाम यहां आमसभा को संबोधित करेंगे। 
    कार्यकर्ताओं का कहना है कि भाजपा की ओर से दलील है कि, यह कार्यवाही ही गलत है, और प्रशासन झंडे वापस लगाए। उनके द्वारा कार्यक्रम स्थल के बाहर के एरिया में झंडा लगाया गया था। प्रशासन द्वारा सुबह बिना किसी सूचना के झंडे को निकलवा दिया गया। इस पर प्रशासन का कहना है कि कार्यक्रम सरकारी है, इसलिए कार्यक्रम स्थल पर से झंडे को हटवा दिया गया है। पदाधिकारियों द्वारा जो बाहर के इलाके में झंडा लगाया गया है वह यथावत है। दूसरे पार्टी के द्वारा कोई आपत्ति न हो इस दृष्टि से ऐसा किया गया है।
    धरना प्रदर्शन करने वालों में भाजपा जिला मंत्री प्रवीण अग्रवाल, उधेश्वरी पैकरा जनपद अध्यक्ष शंकरगढ़, संजय सिंह मंडल अध्यक्ष, शशिकला भगत जिला पंचायत सदस्य, अनिल तिवारी मीडिया प्रभारी, शिवनाथ जायसवाल जनपद उपाध्यक्ष, महेंद्र गुप्ता पार्षद, सतीश सिंह मंडल महामंत्री, उदय यादव, विनय भगत सहित दर्जनों की संख्या में पार्टी के कार्यकर्ता धरना स्थल पर बैठे रहे। 
    प्रशासन की ओर से एसडीएम भाजपाईयों तक पहुँचे भी, पर सभा स्थल पर झंडी लगाए जाने के मसले पर कोई राहत देने से इंकार कर चलते बने।

  •  

Posted Date : 29-Apr-2018
  • बलरामपुर में कल नक्सलियों ने 5 गाडिय़ां फूंकी थीं और 3 को अगवा किया था

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    कुसमी, 29 अप्रैल। बलरामपुर जिले के ग्राम पंचायत सबाग में चुनचुना-पुंदाग-सबाग मार्ग पर सड़क निर्माण में लगे 5 वाहनों को नक्सलियों ने शनिवार को आग के हवाले कर दिया था। आगजनी के बाद नक्सली पीएमजीएसवाई के सब इंजीनियर व सड़क ठेकेदार के मुंशी सहित एक कर्मचारी को अगवा कर अपने साथ ले गए थे। इनमें मुंशी देर रात वापस लौट आया। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। वहीं इजीनियर व एक अन्य कर्मचारी अभी भी नक्सलियों के कब्जे में है। उनके परिजन काफी चिंतित हैं।
    नक्सलियों के चंगुल से ठेकेदार का मुंशी राजू गुप्ता देर रात वापस लौट आया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राजू को जंगल के रास्ते चलने में काफी परेशानी हो रही थी जिस वजह से नक्सलियों ने उसे छोड़ दिया। इंजीनियर पैत्रिश डुंगडुंग व शंकर बिहारी को लेकर आगे बढ़ गए। पुलिस राजू से पूछताछ कर रही है। मीडिया से उन्हें अभी दूर रखा गया है। 
    कुसमी एसडीओपी मनोज तिर्की से बाताया कि सब इंजीनियर और एक अन्य मुंशी वापस नहीं लौटा है। पुलिस टीम ने रात भर गश्त की लेकिन उनका कुछ पता नहीं चला। 
    बताया गया कि घटना को अंजाम देने पहुंचे नक्सलियों की संख्या 15 से 20 के बीच थी। इसके अलावा सैकड़ों की संख्या में माओवादी पहाड़ों पर ही तैनात थे। नक्सलियों ने सड़क निर्माण में मौजूद जेसीबी आपरेटर, हाइवा चालक, व्हाभरेटरोलर के ऑपरेटर सहित सड़क मुंशी व कार्य की रूपरेखा देखने पहुंचे पीएमजीएसवाई विभाग के सब इंजीनियर सहित कुल 9 लोगों को बंधक बना दो हाइवा, एक जेसीबी मशीन, एक व्हाभरेटरोलर मशीन सहित 5 वाहनों को आग के हवाले कर दिया। इसके बाद नक्सलियों ने सड़क ठेकेदार के 6 लोगों को मारपीट कर छोड़ दिया। सब इंजीनियर पैत्रिश डुंगडुंग, सड़क ठेकेदार के मुंशी राजू गुप्ता व शंकर बिहारी को अगुवा कर अपने साथ ले गए। सब इंजीनियर पड़ोसी जिला जशपुर का निवासी है। 

    वारदात की सूचना मिलते ही कल पुलिस के आला अधिकारी घटना स्थल पहुंच गए थे। रेंज के आईजी हिमांशु गुप्ता, बलरामपुर एसपी टीआर कोशिमा, एएसपी नक्सल ऑपरेशन पंकज शुक्ला, मयंक तिवारी, सीआरपीएफ 62वीं बटालियन कमांडेंट मनीष कुमार मीणा, एसडीओपी कुसमी मनोज तिर्की सहित सामरी पुलिस की संयुक्त टीम भारी संख्या पहुंचे थे।
    बताया गया कि सड़क निर्माण के दौरान हमेशा पुलिस टीम साथ रहती है लेकिन पुलिस बल शनिवार को मौजूद नहीं थी। जिससे एक बड़ा मौका माओवादियों को मिल गया। पुलिस की गैरमौजूदगी में ठेकेदार कार्य करवा रहा था।  बताया गया कि माओवादी ने वारदात को अंजाम दिया वहां से महज 5 किलोमीटर में ही सबाग चौकी है जहां 62वीं सीआरपीएफ  की बटालियन तैनात है। 

  •  

Posted Date : 06-Dec-2017
  • कहा- दूसरे जगह किया जाये विस्थापित, नक्सल सुगबुगाहट तेज
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बलरामपुर, 6 दिसम्बर। छत्तीसगढ़-झारखण्ड सीमा पर बसे छत्तीसगढ़ का घोर नक्लस प्रभावित ग्राम चुनचुना पुंदाग के ग्रामीण बुधवार को  क्षेत्रीय विधायक प्रीतम राम के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचे। विधायक के साथ पहुंचे ग्रामीणों ने कलेक्टर से कहा कि एक तरफ नक्सली उन्हें मारते-पीटते हैं तो दूसरी तरफ झारखण्ड एवं छत्तीसगढ़ पुलिस उन्हें काफी प्रताडि़त कर रही है। ग्रामीणों ने कलेक्टर से गुहार लगाई कि वे उन लोगों किसी अन्यंत्र जगह विस्थापित कर दें। कलेक्ट्रेट में ग्रामीणों के आने की खबर पर बलरामपुर एसपी डीआर आंचला, एडीशनल एसपी पंकज शुक्ला भी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों की बात सुुनी।
     ग्रामीणों ने आगे बताया कि ग्राम चुनचुना पुंदाग में आये दिन नक्सली गतिविधियों के सक्रिय होने से वे हमेशा डर के साये में जीवन यापन करने को मजबूर हैं। नक्सलियों के क्षेत्र में सक्रिय होने पर पुलिस उन्हें परेशान करती है और पुलिस के गैर मौजूदगी में नक्सली। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि क्षेत्र में पुलिस सहित नक्सलियों के आवाजाही से ग्रामीणों को सही समय में उनके लिये राशन भी नहीं मिल पाता, जिसके कारण ग्रामीण काफी परेशान रहते हैं। ग्रामीणों की मांग की है कि उन्हें विस्थापित कर किसी सुरक्षित स्थानों पर जगह दी जाये। चर्चा के दौरान नक्सल आपरेशन के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक का कहना है कि छत्तीसगढ़ पुलिस कभी भी ग्रामीणों को परेशान नही करती है। इसके साथ ही उन्होंने माना की चुनचुना पुंदाग के बीहड़ और सुदूर वनांचल से घिरे बूढ़ा पहाड़ पर नक्सलियों की आमद रफ्त होती है और समय-समय पर आपरेशन लांच किए जाते है।
    चार साल में मुझे कभी 
    क्षेत्र में जाने की नहीं मिली अनुमति-विधायक
    इस संंबंध में क्षेत्रीय विधायक डॉ प्रीतम राम ने छत्तीसगढ़ से चर्चा करते हुये बताया कि चुनचुना पुंदाग के ग्रामीण गत 5 दिसम्बर को मुख्यमंत्री कार्यक्रम में आये हुये थे। वहां से वे उनके पास पहुंचे और उन्हें अपनी समस्या बताई, जिसके बाद वे कलेक्टर से मुलाकात कर उनकी समस्याओं को रखा।
     विधायक का कहना था कि चुनचुना पुंदाग सहित एक अन्य ग्राम उनके विधानसभा क्षेत्र में आता है। इस नाते वे इस क्षेत्र में कई बार जाने के लिये जिला प्रशासन को पत्र लिखा, लेकिन उन्हें क्षेत्र में जाने की अनुमति नहीं दी गई, जिसके चलते वे ग्रामीणों की समस्या से अब तक मुखातिब नहीं थे।  

    एसपी से मंगाई है रिपोर्ट-कलेक्टर 
    चुनचुना पुंदाग के ग्रामीणों पर नक्सली व पुलिस की प्रताडऩा  की बात सामने आने के मामले में बलरामपुर कलेक्टर अवनीश शरण ङ्क्षसह ने कहा कि वे इस मामले की रिपोर्ट बलरामपुर पुलिस अधीक्षक से मंगाये हैं। कलेक्टर ने कहा कि विस्थापन जैसी कोई बात नहीं है। सड़क बनने के बाद वहां के ग्रामीण मुख्य धारा में जुड़ जायेंगे। 

  •