छत्तीसगढ़ » बीजापुर

Date : 31-Mar-2020

लॉकडाउन में खाद्य सामानों की कीमत हुई तय, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 31 मार्च।
कोरोना वायरस से रोकथाम के लिए जिले में लगाए गए कर्फ्यू के दौरान आम नागरिकों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो इसके लिए खाद्य सामग्रियों की कीमत निर्धारित कर दी गई है। तय कीमत से ज्यादा पर सामान बेचने पर संबंधित पर कार्रवाई की जाएगी।

बता दें बीजापुर में खाद्य सामग्रियों की बिक्री तय कीमत से  ज्यादा पर की जा रही थी। इसकी खबर लगातार सोशल मीडिया में चल रही थी। इसके बाद जिला प्रशासन ने किराना, सब्जी व फलों की कीमत तय कर दिए है। जिला प्रशासन द्वारा तय किये गए दर के मुताबिक चावल(मध्यम) 30से 38 प्रति किलो, चावल(उत्तम)40 से 60 प्रति किलो, अरहर दाल 80 से 100 प्रति किलो, मसूर दाल 62 से 70 प्रति किलो, उड़द दाल 80 से 110 प्रति किलो, मूंग दाल 90 से 100 प्रति किलो, चना दाल 65 से 70 प्रति किलो, शक्कर 38 से 40 प्रति किलो, चायपत्ती एमआरपी प्रति पाव, आटा एमआरपी 35 से 40 प्रति किलो, मैदा 35 से 40 प्रति किलो, सूजी 35 से 40 प्रति किलो, तेल 90 से 120 प्रति किलो, पोहा 35 से 45 प्रति किलो, देशी चना 56 से 60 प्रति किलो, बेसन 60 से 80 प्रति किलो, नमक 15 से 20 प्रति किलो, आलू 25 से 35 प्रति किलो, प्याज 35 से 40 प्रति किलो, इसी तरह सब्जियों में टमाटर 20 से 30 प्रति किलो, भिंडी 40 से 60 प्रति किलो, कटहल 60 से 80 प्रति किलो, मूंगा 80 से 90 प्रति किलो, पत्ता गोभी 15 से 30 प्रति किलो, लौकी 15 से 30 प्रति किलो, बरबट्टी 60 से 80 प्रति किलो, गोभी 40 से 60 प्रति किलो, कददू 15 से 20 प्रति किलो, गवारफल्ली 40 से 60 प्रति किलो, मिर्ची हरा 60 से 80 प्रति किलो, हरा धनिया 80 से 100 प्रति किलो, भट्टा 15 से 40 प्रति किलो, करेला 50 से 60 प्रति किलो, अदरक 110 से 140 प्रति किलो की गई है। वही फल में अंगूर 80 से 100 प्रति किलो, अंगूर कैप्सूल वाला 120 से 140 प्रति किलो, सेब 130 से 140 प्रति किलो, मुसम्बी 60 से 80 प्रति किलो, संतरा 60 से 70 प्रति किलो, अनार 90 से 100 व केला 40 से 50 रुपये प्रति दर्जन निर्धारित की गई है। साथ ही ककेक्टर ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि सामान खरीदते समय कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाते हुए दुकान में 3 व्यक्ति से ज्यादा खड़े होकर सामान क्रय न करें।
 

 


Date : 31-Mar-2020

महाराष्ट्र-तेलंगाना रूट को किया बंद, कोरोना के संक्रमण से बचने तिमेड़ के ग्रामीणों ने बैठक में लिया निर्णय

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 31 मार्च।
इन दिनों कोरोना वायरस ने देश में तबाही मचाई हुई है। इस महामारी से देश के सभी राज्य प्रभावित हो गए है। सरकार ने इससे बचने देश के शहर से लेकर गांव तक में लॉकडाउन घोषित किया हुआ है। इसी बीच तिमेड़ के ग्रामीणों ने जागरूकता दिखाता हुए इस महामारी से बचने महाराष्ट्र व तेलंगाना के रूट को बंद कर दिया है।

ज्ञात हो कि प्रदेश के बीजापुर जिले के अंतिम छोर पर बसे भोपालपटनम की सीमा तेलंगाना व महाराष्ट्र से लगी हुई है और इन दोनों ही राज्यों में कोरोना वायरस के संक्रमण से ज्यादा लोग प्रभावित हैं। इसे देखते हुए ब्लॉक के तिमेड़ के ग्रामीणों ने गांव में  बैठक कर निर्णय लिया कि,तिमेड़ में दोनों राज्यों को जोडऩे वाले तिमेड़ पुल के ऊपर से आवागमन को बन्द किया जाए, ताकि महाराष्ट्र से हमारे प्रदेश में उक्त महामारी न फैले। 

बताया जा रहा है कि इस नाकेबंदी को लेकर रविवार को तिमेड़ में ग्रामीणों ने बैठक बुलाई थी। जिसमें गांव के प्रमुख लोगों के साथ सभी ग्रामीण मौजूद रहे।  लॉकडाउन के चलते बसों व अन्य परिवहन करने वाले वाहनों के परिचालन पर रोक लगी हुई है। उसके बावजूद भी इस पुल से आवागमन लगातार जारी था। महाराष्ट्र में महामारी से संक्रमण ज्यादा है, जो कि हमारे क्षेत्र में भी हो सकता है, उसके रोकथाम के लिए ये कदम उठाया गया है। 

सोमवार की सुबह टी गोवर्धन, रामचंद्रम, पी वी किस्टेया के साथ ग्रामीणों ने पुल पर पहुंच कर बेरिकेटिंग कर आवागमन पूरी तरह से बंद कर दिया है। सीईओ एसबी गौतम ने बताया कि उन्हें भी ग्रामीणों द्वारा तिमेड़ पुल पर बेरिकेटिंग करने की  जानकारी मिली है, लेकिन वे जाकर देखे नहीं है।

 


Date : 31-Mar-2020

एजुकेशन सिटी में तैयार हो रहा सौ बिस्तर का अस्पताल

बीजापुर, 31 मार्च। कोरोना वायरस से लड़ाई में एक और कड़ी जुड़ गई है। यहां एजुकेशन सिटी के एक हिस्से में प्रशासन 100 बिस्तर का नया अस्पताल बना रहा है। सब कुछ ठीक रहा तो दो दिन में इसे आइसोलेट के लिए खोल दिया जाएगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीआर पुजारी ने बताया कि एजुकेशन सिटी के एक हिस्से में कोरोना संक्रमण से प्रभावित व इसके संदिग्धों को आइसोलेट करने के लिए 100 बिस्तर का नया अस्पताल बनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि हालांकि जिले में अभी तक कोई भी इस संक्रमण से प्रभावित केस सामने नहीं आया है। उन्होंने आगे बताया कि इसके लिए डॉक्टरों की 12- 12 घण्टे की ड्यूटी लगाई जा जाएगी। 

डॉ. पुजारी के मुताबिक काम अंतिम चरण में चल रहा है। सब कुछ ठीक रहा तो दो दिन में इसे आइसोलेट के लिए खोल दिया जाएगा। वहीं उन्होंने बताया कि अभी तक जिले में 23 सौ से ज्यादा लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। इनमें छह डॉक्टर भी शामिल है।

 दूसरी ओर भोपालपटनम के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एसबी गौतम ने बताया कि महाराष्ट्र व तेलंगाना की ओर से अब तक 470 लोग जिले में आये हंै। इन सभी का स्क्रीनिंग कर उन्हें 14 दिनों तक आइसोलेशन में रहने की हिदायत दी गई है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य अमला लगातार इनकी मॉनिटरिंग भी कर रहा है।
 


Date : 29-Mar-2020


होम आइसोलेशन से बाहर आई युवती पर एफआईआर
भैरमगढ़ थाना क्षेत्र का मामला

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 29 मार्च।
होम आइसोलेशन में रखी गई एक युवती को सरकारी निर्देशों का पालन नहीं करना भारी पड़ गया है। स्वास्थ्य विभाग ने होम आइसोलेशन से बाहर आई युवती के विरुद्ध भैरमगढ़ थाने में एफआईआर दर्ज कराया है।  

जिले में कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन अलर्ट है। यहां बाहर से आने वालों की स्क्रीनिंग कर उन्हें होम आइसोलेशन में रहने की हिदायत दी जा रही है। सीएमएचओ डॉ. बीआर पुजारी और बीएमओ अभय तोमर ने बताया कि एक ही परिवार के तीन-भाई बहन यहां आए है। इनमें से एक राजस्थान के कोटा और दो छत्तीसगढ़ के बिलासपुर और रायपुर में रहते थे। गत 19 मार्च को तीनों एक साथ सफर कर भैरमगढ़ पहुंचे थे। 

जैसा कि शासन का निर्देश है कि जो भी अन्य राज्य से आये है और उनके साथ संपर्क में आने वाले लोगो को क्वारंटाइन या होम आइसोलेशन में रहने के सख्त निर्देश है। ऐसे में तीनों की जांच करने के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा क्वारंटाइन में रहने के लिए  कहा गया था। इसके बाद तीनों भाई बहन क्वारंटाइन में रह रहे थे। 

डॉक्टरों ने बताया कि स्वास्थ्य अमला प्रतिदिन ऐसे  संदिग्ध मरीजों की मॉनिटरिंग करता है। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा जब पूछताछ की गई तो तीनों भाई बहन में दो भाई बहन घर में क्वारंटाइन पर थे, लेकिन एक युवती होम आइसोलेशन में बिना रहे बाहर घूम रही थी। इस सूचना के बाद हमने इस पर तुरंत कार्रवाई करते हुए भैरमगढ़ थाने में युवती के खिलाफ रविवार को एफआईआर दर्ज  करवाया दिया है।


सीएमएचओ ने सोशल मीडिया पर लोगों से की अपील 
सीएमएचओ डॉ. बी आर पुजारी ने सोशल मीडिया पर लोगो से अपील की है कि कोरोना आज एक खतरनाक जानलेवा बीमारी बनकर सामने आ रहा है। इसे हल्के में बिल्कुल नहीं लेना चाहिए। इसलिए जो भी अन्य राज्यों से जिले में आ रहे है वे कृपया हमें इसकी पूरी जानकारी दे ऐसे लोगों का स्वास्थ्य विभाग पूरी मदद करेगा। क्योंकि हमारा जिला महाराष्ट्र और तेलंगाना से जुड़ा हुआ है और दोनों ही जगह कोरोना के मरीज ज्यादा संख्या में मिले हंै, इसलिए जो भी इन राज्यों से आये है हमसे आकर मिले और 14 दिनों तक होम आइसोलेशन में रहे। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर हमें बताएं हम पूरी मदद करेंगे जिससे कि कोरोना की इस महामारी को खत्म किया जा सके।

 


Date : 25-Mar-2020

पेटी कांट्रेक्टर की नक्सल हत्या, जलाई गाडिय़ां, चेरकडोडी से भण्डारपाल तक चल रहा था पीएमजीएसवाय का काम

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 25 मार्च।
माओवादियों ने पीएमजीएसवाय के सड़क निर्माण को निशाना बनाते हुए पेटी कांट्रेक्टर की हत्या कर दी। साथ ही सड़क निर्माण में लगे 3 गाडिय़ों को भी जला दिया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक उसूर ब्लॉक इलमिडी थाना क्षेत्र के चेरकडोडी से भण्डारपाल तक पीएमजीएसवाय का काम चल रहा था। बताया गया कि इस काम का ठेका केशकाल निवासी मेसर्स धर्मेंद्र मिश्रा को मिला है। उन्होंने पेटी में यह काम तेलंगाना के रहने वाले शेखर शेरू को दिया था। मंगलवार को शेरू घटना स्थल में काम करा रहे थे। इसी बीच कुछ माओवादी वहां आ धमके और काम बंद करने को कहा। इसके बाद माओवादी धारदार हथियार से पेटी कांट्रेक्टर शेरू की हत्या कर दी और वहां खड़ी 1 जेसीबी और 2 ट्रैक्टरों को आग के हवाले कर दिया। शाम को हुई इस वारदात के बाद माओवादी वहां से चले गए। 

दूसरी तरफ पीएमजीएसवाय के सीईओ का स्पष्ट आदेश है कि कोई भी ठेकेदार अपना काम पेटी में न दें। अगर पेटी में देना प्रमाणित होता है तो उसके काम को निरस्त किया जाएगा। इस आदेश के बावजूद विभागीय अधिकारी पेटी प्रथा पर नकेल कसने के बजाय मौन है।

 


Date : 23-Mar-2020

तेलंगाना में बीजापुर के मजदूर की मौत, तबियत बिगडऩे पर वेंकटापुरम में किया गया था भर्ती

बीजापुर, 23 मार्च। पड़ोसी राज्य तेलंगाना के वेंकटापुरम में मजदूरी करने गए एक मजदूर की मौत गई। उसका पार्थिव शरीर रविवार को गांव लाया गया है।

बताया गया है कि बीजापुर के आसपास गांव से कुछ मजदूर मिर्ची तोडऩे वेंकटापुरम गए थे। इसी में कडेनार के तारमपारा निवासी सोनू ताती(45) भी था। बीते दिनों अचानक सोनू की तबियत बिगड़ गई और उसे वेंकटापुरम के अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां सोनू की शनिवार को मौत हो गई। गांव वालों ने रविवार को उसका शव गृह ग्राम लाया। सीएमएचओ डॉ. बीआर पुजारी ने बताया कि ग्रामीण की मौत की वजह स्पष्ट नहीं हो पाई है। 

इधर जिले में कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य महकमा अलर्ट मोड पर है। जिले के सरहदी इलाके तिमेड तारलागुड़ा भैरमगढ़ सरीखे जगहों पर आने जाने वाले लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। श्री पुजारी ने बताया कि बीजापुर से आज एक ब्लड सेम्पल भेजा जा रहा है।


Date : 23-Mar-2020

जनता कफ्र्यू को नागरिकों का पूर्ण समर्थन, साप्ताहिक बाजार भी रहे बंद, धारा 144 लागू, ग्रामीण क्षेत्रों में भी लॉकडाउन, हाट बाजार, मेला-मड़ई स्थगित

31 मार्च तक बंद रहेंगे सरकारी कार्यालय, बसों के पहिये भी थमे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 23 मार्च।
पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना (कोविड 19) से लडऩे के लिए  जनता से अपील की थी कि रविवार को सुबह 7 से रात  9 बजे तक जनता कफ्र्यू में समर्थन दे। जिसका पूर्ण समर्थन जिले में भी जनता कफ्र्यू को मिला। सुबह से रात तक  लोग अपने घरों में अपने परिवार के साथ रहे। पूरी सड़क-गलियों में सन्नाटा पसरा रहा। एनएच 63 पर भी एक भी बस या छोटी गाडिय़ां  देखने को नहीं मिली। सारे प्रतिष्ठान स्वस्फूर्त बंद रहे।

शाम को 5 बजे कोरोना से निपटने के लिए जो स्वास्थ्य कर्मचारी, पुलिस के जवान, मीडियाकर्मी,ऑटो चालकों और सरकारी कर्मचारी अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं। उन्हें जनता ने अपने घरों के छतों, दरवाजों और खिड़कियों पर खड़े होकर घंटी, शंख और वाद्य यंत्र बजाकर धन्यवाद प्रेषित किया।

कलेक्टर केडी कुंजाम ने बताया कि धारा 144 का आदेश निकाला जा रहा है। सोमवार से इस आदेश के अनुसार 31 मार्च तक शहरी क्षेत्रों के साथ साथ ग्रामीण क्षेत्र में भी लॉकडाउन होगा। अब ग्रामीण क्षेत्रों में मेला-मढ़ई, हाट बाजार को भी स्थगित किया जाएगा। शादी ब्याह और कोई भी आयोजन को कुछ दिनों के लिए आगे बढ़ाने के लिए भी लोगों से अपील की जा रही है। कलेक्टर ने आगे कहा कि 31 मार्च तक सरकारी कार्यालयों में भी अवकाश रहेगा। कुछ आवश्यक कार्यालय खुलेंगे, लेकिन शिफ्ट के हिसाब से कार्य किया जाएगा।  बस संचालकों से भी कहा गया है कि छोटी -बड़ी बसों का संचालन भी कुछ दिनों तक बंद रखे। 

कोरोना के कारण रविवार को लगने वाला साप्ताहिक बाजार भी बंद - हर रविवार को लगने वाला साप्ताहिक बाजार भी कोरोना की दहशत के कारण बंद रहा। राशन दुकान, मेडिकल स्टोर, पेट्रोल पंप और गैस एजेंसियों के दुकान खुले रहेंगे।


Date : 21-Mar-2020

केरल से छुट्टी मनाकर लौटा जवान होम आइसोलेशन पर

बीजापुर, 21 मार्च। छुट्टी मनाकर केरल से लौटे सीआरपीएफ के जवान में सर्दी-खांसी के लक्षण को देखते हुए उसे होम आइसोलेशन पर रखा गया है। हालांकि जवान के सेम्पल अभी भेजे नहीं गए है। 

सीएमएचओ डॉ. बीआर पुजारी ने बताया कि सीआरपीएफ का एक जवान 4 दिन पहले केरल से छुट्टी मनाकर लौटा है। उसे सर्दी-खांसी की शिकायत है। ऐहतियात के तौर पर उसे होम आइसोलेशन पर रखा गया है। डॉ. पुजारी ने बताया कि उनका सेम्पल अभी नहीं भेजा गया है। जरूरत पडऩे पर कल सेम्पल भेजा जाएगा। 

ज्ञात हो कि कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में हड़कंप मचा हुआ है। इससे पूर्व भी बीजापुर में 8 संदिग्ध लोगों को होम आइसोलेशन पर रखा गया है। कोरोना वायरस को लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य महकमा लगातार नजरें बनाये हुए है। तिमेड तारलागुड़ा जैसे सरहदी इलाकों पर स्वास्थ्य विभाग का अमला कैम्प कर हर आने जाने वालों लोगों का परीक्षण कर रहा है। साथ ही बस स्टेंड में भी स्वास्थ्य विभाग ने कैम्प लगाया हुआ है।


Date : 20-Mar-2020

बीजापुर में 8 लोग होम आइसोलेशन पर तिमेड़ पुल पर महाराष्ट्र से आने वाले नागरिकों पर रोक, मेला- मड़ई भी स्थगित

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 20 मार्च।
कोरोना ने पूरे विश्व में तबाही मचाई हुई है। छत्तीसगढ़ में कोरोना की धमक के बाद अब जिले में भी इसकी दशहत अब साफ साफ दिखाई देने लगी है। जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग कोरोना को लेकर हाई अलर्ट हो गई है। 
कलेक्टर केडी कुंजाम और सीएमएचओ डॉ. बी आर पुजारी ने बताया कि जिले में सभी बस स्टैंडों पर चिकित्सा विभाग के टीम कर्मचारी तैनात है और सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है। कुछ दिनों के लिए आयोजित होने वाले मेले-मड़ई पर भी पाबंदी लगाई गई है। मुख्यालय में अलग-अलग आइसोलेशन वार्ड भी बनाये गए है। वहीं भोपालपट्टनम, उसूर, भैरमगढ़ में भी आइसोलेशन बेड बनाने की तैयारी जोरों पर है।  गुपचुप के ठेले और भीड़भाड़ होने वाली जगहों पर भी लोगों को न जाने की सलाह दी जा रही है।

 डॉ. पुजारी ने बताया कि हवाई यात्रा और संपर्क में आने वाले 8 संदिग्ध लोगों को होम आइसोलेशन पर रखा गया है, वहीं दो संदिग्धों को 14 दिन के लिए आइसोलेशन सेंटर में रखा है है हालांकि इनकी जांच करने के बाद इनकी रिपोर्ट सामान्य आई थी। कोरोना से बचने के लिए प्रचार प्रसार भी जोरों से किया जा रहा है। क्योंकि ये शादियों का सीजन भी है इसलिए लोगों से अपील भी की जा रही है कि अगर हो सके तो शादियों के डेट को भी आगे बढ़ाने के लिए कहा जा रहा है या फिर कम भीड़ में ही शादी को सम्पन्न करने की सलाह दी जा रही है।

तिमेड पुल पर महाराष्ट्र से आने वाले नागरिकों को भी स्क्रीनिंग करके वापिस भेजा जा रहा है। जिले से भी बहुत ही इमरजेंसी होने पर ही बाहर जाने की सलाह दी जा रही है। 

छुट्टी से आने जाने वाले जवानों पर भी बड़ी सक्रियता से निगरानी रखी जा रही है जो जवान छुट्टी से आ रहे हैं, उन्हें आइसोलेशन पर रखा जा रहा है। जो जवान छुट्टी पर जाने वाले हैं उनको भी कुछ  दिनों के लिए छुट्टी पर जाने की सलाह दी जा रही है।


Date : 19-Mar-2020

पीएमजीएसवाई की खराब सड़कों को लेकर भाजपा सख्त, अध्यक्ष ने अफ सर व ठेकेदार पर की कार्रवाई की मांग 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 19 मार्च।
पीएमजीएसवाई योजना अंतर्गत तारलागुड़ा एनएच से अटुकपल्ली तक घटिया सीसी रोड निर्माण को लेकर भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने ग्रामीणों के साथ कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। साथ ही संबंधित अधिकारी व ठेकेदार पर कार्रवाई की मांग की गई।

ज्ञात हो कि केंद्र सरकार द्वारा छोटे-छोटे गांवों को मुख्य मार्गों से जोडऩे के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना बनाकर इसका क्रियान्वयन किया जा रहा हैं, लेकिन बीजापुर में इस योजना के काम में अनियमितता के आरोप लग रहे हैं। 

भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने कहा कि बीजापुर जिले में भी प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का लाभ दिया जा रहा है। केंद्र की इस महत्वाकांक्षी योजना को छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा सड़क निर्माण कराया भी रहा है। लेकिन केंद्र सरकार को बदनाम करने के उद्देश्य से पीएमजीएसवाई सड़क के गुणवत्ता पर ध्यान नहीं देना एक विडंबना है। 

उन्होंने कहा कि इन दिनों अखबार और मीडिया में पीएमजीएसवाई सड़क के गुणवत्ता को लेकर सुर्खियां बनी हुई है। इसमें प्रशासन भी कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। उन्होंने बताया कि अटुकपल्ली गांव के ग्रामीण जागरूकता दिखाते हुए आज यहां पहुंच कर भाजपा से शिकायत कर और सड़क के काम को लेकर कई सवाल खड़े किये। 

भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने प्रधानमंत्री सड़क निर्माण से जुड़े शिकायत को गंभीरता से लेते हुए बीजापुर कलेक्टर केडी कुंजाम को सही सड़क बनाने के साथ संबंधित अधिकारी व ठेकेदार पर कार्रवाई करने का ज्ञापन सौंपा। 


Date : 17-Mar-2020

पेट्रोल-डीजल में 3 रू. प्रति लीटर एक्साइज बढ़ाना गलत- मो.सिद्दीकी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 17 मार्च।
पेट्रोल-डीजल के दामों में सिर्फ 14 पैसे और 17 पैसे की कमी को अपर्याप्त और अन्यायपूर्ण निरूपित करते हुए जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष मो.एजाज सिद्दीकी ने कहा है कि भाजपा सरकार ने पिछले 6 सालों में आम आदमी की जेब से 15 लाख करोड़ निकाल लिये है। आज जब अर्थव्यवस्था का बुरा हाल है तो ईंधन के दामों में 3 रू. प्रति एक्साइज बढ़ाकर भाजपा सरकार ने आम आदमी के जख्मों पर नमक छिड़कने का काम किया है। पहले हर सप्ताह और बाद में हर दिन क्रूड आइल के दामों में वृद्धि का हवाला देकर पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाने और महंगाई बढ़ाने का जनविरोधी कृत्य करते रहे। अब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल क्रूड आईल का दाम घटकर 30 डालर प्रति बैरल हो जाने के बाद मोदी सरकार द्वारा इसका लाभ पेट्रोल-डीजल के उपभोक्ताओं तक पहुंचाने के बजाय एक्साइज ड्यूटी में 3 रू. प्रति लिटर की वृद्धि का गरीब विरोधी जनविरोधी फैसला मोदी सरकार ने लिया है। कच्चा तेल गिर कर 30-32 डॉलर प्रति बैरल हो गया, परंतु नवंबर 2004 में जब कच्चा तेल 38 डॉलर प्रति बैरल था, उसके बराबर कीमतें लाना तो दूर, मोदी सरकार पेट्रोल में 32 रुपया 45 पैसे और डीजल में 38 रूपया 69 पैसे प्रति लीटर खुद की जेब में डाल रही हैं। ये कहां का न्याय है?

मो. सिद्दीकी ने कहा है कि मोदी-शाह सरकार को अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल के मूल्यों में भारी कमी के अनुरूप पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस के मूल्यों को 35 से 40 प्रतिशत कम करके कच्चे तेल के अंतरराष्ट्रीय दामों में आई रिकार्ड गिरावट का लाभ देश की जनता को देना चाहिए। ताकि उन्हें स्टैगफ्लेशन (कमर तोड़ महंगाई एवं आर्थिक मंदी) तथा बढ़ती बेरोजगारी से कुछ राहत मिल सके। आज देश के अंदर नहीं पूरी दुनिया में कच्चे तेल की कीमत 30 डॉलर से 32 डॉलर प्रति बैरल हो गई है। 

2004, नवंबर में जब कच्चा तेल 38 डॉलर प्रति बैरल था, तो देश में पेट्रोल की कीमत 37 रुपया 84 पैसे थी, पर आज जब 35 डॉलर प्रति बैरल से कम है, तो देश में पेट्रोल की कीमत 70 रुपया 29 पैसे प्रति लीटर है यानी 32 रुपया 45 पैसे प्रति लीटर हर एक लीटर पेट्रोल के साथ मोदी सरकार जबरन अपनी जेब में डाल रही हैं और आम उपभोक्ता का नुकसान कर रहे हैं।

 


Date : 08-Mar-2020

ग्रामीण की हत्या कर फेंका शव, नक्सली वारदात की आशंका

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 8 मार्च।
भैरमगढ़ थाना क्षेत्र में एक ग्रामीण की धारदार हथियार से हत्या कर शव सडक़ पर फेंक दिया गया। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस ने शव बरामद किया और पीएम कराकर परिजनों को सौंप दिया है। ग्रामीण की हत्या को नक्सली वारदात से जोडक़र देखा जा रहा है।
भैरमगढ़ थाना प्रभारी चन्द्रदेव वर्मा ने बताया कि उन्हें आज सुबह कुछ ग्रामीणों ने यहां से करीब 4 किलोमीटर दूर बड़े बंडलापाल के पास सडक़ पर एक शव पड़े होने की सूचना दी थी। इसके बाद थाना से पुलिस पार्टी घटनास्थल की ओर रवाना हुई और वहां से शव बरामद कर भैरमगढ़ लाई।

 श्री वर्मा ने बताया कि मृतक की पहचान उसपरी निवासी बोड़ी कलार के रूप में हुई है। उसकी उम्र करीब 25 साल की है। थाना प्रभारी के मुताबिक ग्रामीण की हत्या धारदार हथियार से वार कर की गई है। उन्होंने बताया कि शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया गया है। 

दूसरी ओर ग्रामीण की हत्या की घटना को नक्सली वारदात से जोडक़र देखा जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक ग्रामीण की हत्या पुलिस मुखबिरी के आरोप में किये जाने की खबर है।


Date : 08-Mar-2020

देश को एनआरसी की नहीं एनआरयू की जरूरत- पाढ़ी

भोपालपटनम में युकां प्रदेशाध्यक्ष ने साधा केंद्र सरकार पर निशाना

बीजापुर, 8 मार्च। देश में बेरोजगारी के सारे रिकॉर्ड टूट गए है और हर एक युवा बेरोजगार है। मोदी सरकार देश में एनआरसी लाना चाहती है। लेकिन देश को आज एनआरसी की नहीं एनआरयू की जरूरत है। जिससे बेरोजगार युवाओं का रजिस्टर तैयार किया जा सके। यह बातें युकां के प्रदेश अध्यक्ष पूर्णचंद पाढ़ी ने भोपालपटनम की सभा में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही।

अपने पहले प्रवास पर यहां पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष पूर्णचंद पाढ़ी ने मोदी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि आज देश को बेरोजगार युवाओं का रजिस्टर तैयार करने की आवश्यकता है, लेकिन केंद्र में बैठी मोदी सरकार को बेरोजगार युवाओं की कोई परवाह नहीं है। प्रदेश अध्यक्ष पाढ़ी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार देश को अराजकता की ओर ले जा रही है। वहीं केंद्र सरकार आर्थिक मामलों में फिसड्डी साबित हो रही है। उन्होंने बताया कि देश भर में राष्ट्रीय युवा कांग्रेस एनआरयू (नेशनल रजिस्टर ऑफ अनइंप्लायमेंट)लांच कर रही है। 
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव दीपक कर्मा ने कहा कि मोदी सरकार युवाओं के साथ खिलवाड़ कर रही है। केंद्र सरकार युवाओं के हाथ से रोजगार खत्म करने का काम कर रही है। 
युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष एजाज सिद्दीकी ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार युवाओं की भलाई नहीं चाहती। वे युवाओं से रोजगार छीनने का काम लगातार कर रही है। सिद्दीकी ने कहा कि देश को सीएए, एनपीआर या एनआरसी की जरूरत नहीं है। बल्कि देश को आज युवाओं के लिए एनआरयू की जरूरत है। उन्होंने युवाओं से अपील करते हुए कहा कि वे एनआरयू मुहिम से जुड़े और सोई हुई केंद्र सरकार को जगाए। 

सभा को सुकमा जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव अजय सिंह, जिलापंचायत सदस्य बसंत ताटी, सुशील मौर्य, दुर्गेश राय ने भी संबोधित कर अपनी बात रखी। इससे पूर्व प्रदेश युकां अध्यक्ष पूर्णचंद पाढ़ी का युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष एजाज सिद्दीकी के नेतृत्व में प्रथम आगमन पर बाजे-गाजे के साथ जोशीला स्वागत कर नगर में विशाल रैली निकाली गई। 

इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष शंकर कुडिय़म, कामेश्वर गौतम, सालिक नागवंशी, केजी सत्यम, संतोष गुप्ता, अभिषेक सिंह, प्रशांत ताटी, अंजीव यादव, प्रेयश बैस, विनोद ताल्लुकदार, रत्न कश्यप सहित क्षेत्र के नवनिर्वाचित जनपद पंचायत सदस्य, सरपंच, पंच व नगर के पार्षद एवं बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे। अंत में कांग्रेस जिलाध्यक्ष लालू राठौर ने आभार व्यक्त किया।

 


Date : 07-Mar-2020

मिट्टी मुरुम के काम में बोल्डरों का उपयोग, ईई बोले-कर सकते हैं बोल्डर का उपयोग

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 7 मार्च।
ग्रामीण क्षेत्रों की सडक़ों को मुख्य सडक़ों से जोडऩे के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के तहत बनाई जा रही देपला से अटूकपल्ली तक की सडक़ में मिट्टी मुरुम के काम में बोल्डरों का उपयोग किया जा रहा है। वहीं अब विभाग के ईई का भी मानना है कि इसमें बोल्डरों का उपयोग किया जा सकता है। 

ज्ञात हो कि भोपालपटनम ब्लॉक के संवेदनशील गांव देपला से अटूकपल्ली तक 9 किमी सडक़ में वर्तमान में मिट्टी मुरुम का काम किया जा रहा है। इस सडक़ निर्माण में मिट्टी मुरुम के साथ ही ठेकेदार बिना किसी भय के इसमें बड़े-बड़े बोल्डरों का भी उपयोग कर रहा है। वहीं विभाग के ईई एसके साहू का कहना है कि डेढ़ फीट बोल्डर मिट्टी मुरुम के कार्य में उपयोग कर सकते हंै। 

ग्रामीणों का आरोप है कि चार करोड़ की लागत से बन रही इस सडक़ का निर्माण बेहद ही निम्नस्तर का किया जा रहा है। सडक़ पर बोल्डर की मात्रा अलग ही दिखाई पड़ रही है।  उल्लेखनीय है कि देपला से अटूकपल्ली तक कि 9 किमी की सडक़ का काम रायगढ़ की गुप्त कंस्ट्रक्शन कर रही है और विभाग ने ठेकेदार को डेढ़ करोड़ रुपये का भुगतान भी कर दिया है।   पीएमजीएसवाय की सडक़ों को लेकर लगातार खबर सामने आने के बाद कलेक्टर ने स्वयं मौका मुआयना कर कार्रवाई की बात कही है।


Date : 05-Mar-2020

भोपालपटनम के देपला-अटूकपल्ली के बीच बन रहे सडक़ में अनियमितता का आरोप, सडक़ अभी निर्माणाधीन, कमी होगी तो उसे दुरूस्त कर लिया जाएगा-ईई

बीजापुर, 5 मार्च। जिले में प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के तहत कराए जा रहे सडक़ निर्माण में गुणवत्ताविहीन काम किये जाने का मामला लगातार सामने आ रहा है। ग्रामीणों का आरोप है कि भोपालपटनम ब्लॉक में नेशनल हाईवे- 202 पर बसे देपला गांव से अटूकपल्ली गांव तक पीएमजीएसवाय द्वारा बनाए जा रहे 9 किमी लंबी सडक़ में तय मानकों और मापदण्डों का पालन नहीं किया जा रहा है।
इस संबंध में पीएमजीएसवाय के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर एस.के. साहू का कहना है कि सडक़ अभी निर्माणाधीन है। इसमें किसी भी तरह की कोई कमी होगी तो उसे दुरूस्त कर लिया जाएगा।

ज्ञात हो कि भोपालपटनम ब्लॉक में नेशनल हाईवे- 202 पर बसे देपला गांव से अटूकपल्ली गांव तक पीएमजीएसवाय द्वारा 9 किलोमीटर लंबी सडक़ का निर्माण कार्य करवाया जा रहा है।  ग्रामीणों का आरोप है कि इस सडक़ के निर्माण में तय मानकों और मापदण्डों का पालन नहीं किया जा रहा है। तय मापदण्ड के मुताबिक सडक़ की चौढ़ाई साढ़े सात मीटर होनी थी, पर कई जगह 4 से 5 मीटर में ही सिमटा दिया गया है।

 ग्रामीणों ने बताया कि सडक़ निर्माण के दौरान कभी भी रोड रोलर नहीं चलाया गया। जिस कारण बारिश के दिनों में सडक़ के बह जाने की संभावना बनी हुई है। वहीं कई जगह पर मिट्टी के साथ पेड़ के जड़ बिछाये गये हैं। इतना ही नहीं बल्कि सडक़ निर्माण के नाम पर बड़े-बड़े बोल्डर बिछा दिये गये हैं। एक से दो फीट के बोल्डर सडक़ पर फेंक दिये गए हैं, जो राहगीरों के लिए मुसीबत का सबब बने हुए हैं।

रामपेटा गांव के ग्रामीणों ने बताया कि सडक़ निर्माण कार्य शुरू होने से उन्हें काफी खुशी हुई थी। पर अब गुणवत्ताहीन निर्माण कार्य को देखकर वे काफी उदास और विभाग से नाराज हैं। ग्रामीण बताते हैं कि सडक़ निर्माण के दौरान आज तक कभी भी रोड रोलर नहीं चलाया गया है। बरसाती नदी नालों में पक्के पुल पुलियों का निर्माण किया जाना था। पर ह्यूम पाईप लगाकर खानापूर्ति की गई है। बारिश के दिनों में नदी नालों के तेज बहाव में सडक़ के साथ ही ह्यूम पाईप भी बहने की संभावना है। अटूकपल्ली गांव की सरपंच विनोदा कोमरम ने बताया कि सडक़ निर्माण में बरती जा रही लापरवाही और निर्माण के नाम पर हो रहे भ्रष्टाचार की शिकायत वे जल्द ही जिले के कलेक्टर और विधायक से करेंगी।
बतााय जाता है कि करीब 4 करोड़ की लागत से निर्माणाधीन इस घटिया सडक़ पर विभाग ने रायगढ़ के गुप्ता कंस्ट्रक्शन कंपनी को डेढ़ करोड़ का भुगतान भी कर डाला है। 
इधर भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार का आरोप है कि प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद जिले में विकास कार्यों के नाम पर बड़े भ्रष्टाचार को अंजाम दिया जा रहा है। भाजपा जिलाध्यक्ष ने कहा है कि जल्द ही वे एक जांच समिति बनाकर भाजपा प्रतिनिधिमंडल के साथ सडक़ की जांच करने पहुंचेंगे और सडक़ निर्माण के नाम पर की जा रही कमीशनखोरी की शिकायत कलेक्टर से करेंगे, साथ ही प्रशासन पर विभाग और कंस्ट्रक्शन कंपनी पर कार्रवाई की मांग भी करेंगे।