छत्तीसगढ़ » बीजापुर

Previous12Next
21-Nov-2020 9:24 PM 17

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 21 नवंबर। भाजपा जिला कार्यकारिणी की बैठक में शामिल होने अपने एक दिवसीय प्रवास पर बीजापुर पहुंचे प्रदेश भाजपा कार्यसमिति के सदस्य व पूर्व संसदीय सचिव डॉ. सुभाऊ कश्यप ने कार्यकर्ताओं को आगामी दिनों में होने वाली कार्यशाला के संबंध में विस्तार से समझाया व आवश्यक सुझाव दिए।

यहां भाजपा कार्यालय (अटल सदन) में भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक संपन्न हुई। आगामी दिनों में मंडल स्तर पर होनी वाली कार्यशाला को लेकर जिला कार्यकारिणी का बैठक आहूत की गई थी। जिसमें मुख्य रूप से पूर्व संसदीय सचिव डॉ. सुभाऊ कश्यप एवं भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार मुख्यरूप से उपस्थित थे।

इस बैठक में उन्होंने पदाधिकारियों को आगामी होने वाली कार्यशाला के संबंध में विस्तार से समझाया व प्रत्येक मंडल में सफलतापूर्वक कार्यशाला संपन्न कराने की बात कही। साथ ही इस दौरान कार्यशाला हेतु मंडल वर्ग प्रभारियों की नियुक्ति भी की गई।

इस अवसर पर मुख्य रूप से  जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार,  जिला उपाध्यक्ष घासी राम नाग, प्रदेश कार्य समिति सदस्य पार्वती साहनी, भैरमगढ़ नगर पंचायत अध्यक्ष दशरथ प्रभुलिया,जिला मंत्री हरीश निषाद, जिला राम राना, जिला मीडिया प्रभारी अरविंद पुजारी, मंडल अध्यक्ष बीजापुर  भुवन सिंह चौहान, मंडल अध्यक्ष आवापल्ली नीलकंठ ककेम, मंडल अध्यक्ष भोपालपटनम वेकटेश्वर यालाम, मंडल अध्यक्ष कुटरू कमलेश मंडावी, चमन ठाकुर, बलदेव उरसा, लालू पोडियामी, गोलू नाग, गणेश पात्रों, मैथ्यूज कुजूर, डोलेश्वर झाड़ी, शेखर झुमार सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


11-Nov-2020 8:49 PM 29

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

भोपालपटनम, 11 नवंबर। तेलंगाना के भूपालपल्ली जिला के महादेवपुर महामुत्तरम एवं पलीमेल मंडल के जीलापल्ली पेद्दामपेट के जंगलों में मंगलवार के सुबह लगभग 9 बजे तेलंगाना ग्रेहाउंड एवं सीआरपीएफ जवानों एवं माओवादियों के बीच मुठभेड़ हुई। जिसकी जानकारी कटारम डीएसपी बोनाला किशन पटेल ने दी है।

 बताया जाता है सूचना के आधार पर ग्रेहाउंड और सीआरपीएफ के दल गश्त के लिए निकले थे। उसी दरमियान गश्ती दल को देखकर माओवादियों ने फायरिंग शुरु कर दी। जिसके जवाब में पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की, जिसमें दोनों के बीच कुछ देर मुठभेड़ हुई। पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सली घने जंगलों का फायदा उठाकर भाग गए। पुलिस ने घटनास्थल पर 12 नग किटबैग, 9 नग जिंदा कारतूस, 1 नग रायफल और नक्सली सामग्री बरामद किया।

बताया जाता है कि ग्रेहाउंड एवं सीआरपीएफ के जवानों के द्वारा पलीमेला मंडल गोदावरी नदी किनारे स्थित छत्तीसगढ़ एवं महाराष्ट्र के सरहद में होने के कारण सीमा सरहद से घने जंगलों का फायदा उठाकर न जाए, इस हेतु 200 ग्रेहाउंड पुलिस के द्वारा सघन सर्चिंग जारी है, जिसमें ओएसडी  शोभन कुमार, महादेवपुर सीआई अंबाति नरसैया एवं पलीमेला एसआई श्याम राज पटेल सर्चिंग दल के साथ हैं।

भूपालपल्ली जिला के इंचार्ज एसपी संग्रामसिंह पटेल ने बताया कि तेलगांना में कुछ घटनाओं को अंजाम देने के हिसाब से और सत्ताधारी नेताओं को मारकर जिला एवं राज्य में दहशत का वातावरण पैदा करने एव व्यापारियों और ठेकेदारों को धमकाने का षडयन्त्र रचने की जानकारी मिली, जिसके लिए जिला से 20 ग्रेहाउंड पुलिस दल के साथ गोदावरी सरहद के घने जंगलों में पौनी नजर से सर्चिंग किया जा रहा है। उन्होंने माओवादियों को  हिंसा छोडक़र सामान्य जनजीवन में मिलने का आह्वान भी किया है।


08-Nov-2020 8:07 PM 34

   शव सहित गोला बारूद व 4 दर्जन पाइप बम बरामद   

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता  

 बीजापुर, 8 नवंबर। रविवार को बीजापुर जिले के पामेड़ थाना क्षेत्र में सुरक्षाबल व नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में पुलिस ने एक नक्सली को मार गिराया है। वहीं इस मुठभेड़ में दो जवान घायल हो गए हंै। घटनास्थल से जवानों ने चार हथियार, गोला बारूद और चार दर्जन पाइप बम बरामद किए हैं। मुठभेड़ की पुष्टि एसपी कमलोचन कश्यप ने की है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पामेड़ थाना से एसटीएफ, डीआरजी और कोबरा बटालियन की टीम सुबह सर्चिंग पर निकली थी। इसी बीच सुबह साढ़े दस बजे के करीब भट्टीगुड़ा के पास मुकराजगट्टा की पहाड़ी में नक्सलियों ने जवानों पर गोलीबारी शुरू कर दी।

सुरक्षाबलों ने भी मोर्चा संभालते हुए जवाबी हमला किया। करीब 1 घण्टे तक चली इस मुठभेड़ में जवानों ने 1 नक्सली को मार गिरा दिया। वहीं मौके से 4 राइफल, गोला बारूद, नक्सली साहित्य व 4 दर्जन पाइप बम बरामद की गई है।

इधर, मुठभेड़ के दौरान 2 जवान चंद्रु कडती और संदीप घोष घायल हुए। घायल जवानों को एयर लिफ्ट किया गया। जिला बल और कोबरा में दोनों जवान पदस्थ हैं।


06-Nov-2020 9:01 PM 15

 सीआरपीएफ 199 बटालियन का फुलगट्टा में सिविक एक्शन 

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 6 नवंबर। जिले के भैरमगढ़ ब्लाक के अतिसंवेदनशील गांव फुलगट्टा में आयोजित सिविक एक्शन कार्यक्रम में दंतेवाड़ा से बतौर अतिथि यहां पहुंचे सीआरपीएफ के उप पुलिस महानिरीक्षक विनय कुमार सिंह ने  महिला सशक्तिकरण पर जोर देते हुए उनके आत्मनिर्भर बनने पर अपनी प्रतिक्रियाएं व्यक्त की।

डीआईजी सीआरपीएफ विनय कुमार सिंह ने कार्यक्रम में मौजूद महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि ग्रामीण महिलाएं रोजगार के नए रास्ते बना कर खुद को आत्मनिर्भर बनाएं। उन्होंने कहा कि सीआरपीएफ 199 बटालियन ने सिविक एक्शन के जरिये महिलाओं के लिए स्पेशल टेलरिंग कोर्स प्रारंभ किया है। इस काम को अच्छे से सीखकर टेलरिंग में दक्षता हासिल कर खुद को आत्मनिर्भर बनाएं। वहीं सीआरपीएफ 199 बटालियन के कमांडेंट लालचंद यादव के मार्गदर्शन में आयोजित सिविक एक्शन कार्यक्रम में बड़ी संख्या ग्रामीण व महिलाएं शामिल हुर्इं।

इस दौरान कमांडेंट श्री यादव ने अपने संबोधन में कहा कि फुलगट्टा और इसके आसपास के इलाकों में पहले इस आयोजन का प्रचार प्रसार बड़े पैमाने पर किया गया। वहीं आमजनों को इस आयोजन के बारे में बताया गया। इसके परिणाम स्वरूप आसपास के गांव की महिलाओं ने भारी संख्या में अपनी हिस्सेदारी देकर इस कार्यक्रम में अपनी रुचि दिखाकर इस कार्यक्रम को सफल बनाया है।

उन्होंने आगे बताया इस कार्यक्रम मकसद गांव की जरूरतमंद महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना तथा उनकी आजीविका में सुधार लाना हैं। उल्लेखनीय है कि इस टेलरिंग कोर्स में हिस्सा लेने वाली महिलाओं को तीस दिनों का प्रक्षिक्षण दिया जाएगा। और इसके बाद प्रशिक्षित महिलाओं को 30 सिलाई मशीन सहित किट उपहार स्वरूप दी जाएगी। ज्ञात हो कि यह कार्यक्रम सीआरपीएफ 199 बटालियन की पातरपारा की जी कंपनी फुलगट्टा की देखरेख किया जा रहा है।


05-Nov-2020 7:22 AM 19

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 4 नवंबर। ब्लॉक मुख्यालय आवापल्ली में बुधवार को एक कार्यक्रम में जिला पंचायत उपाध्यक्ष कमलेश कारम ने ब्लॉक के 28 किसानों को स्प्रिंकलर सेट, डीजल इंजन व मिनी राइस मिल का वितरण किया।

जिला पंचायत उपाध्यक्ष कमलेश कारम ने बताया कि यह कार्यक्रम में सकंपल्ली के किसान बतकम्मा यालम, निलैया ध्रुवा, बाबूराव उइका, किस्ताबाई चापडी व डी पोंदी को मिनी राइस मिल का वितरण गया। वहीं काका अर्जुन, नरसा मोडियाम, आयाम सुकलु, मलैया पुनेम, बुरका किस्तैया, महेश ककेम, शंकर माड़वी, नरेंद्र झाड़ी को स्प्रिंकलर का वितरण किया गया। इसी तरह सुंदर आयाम, कारम देवेंद्र, नागुल चापडी समैया, दुल मोडियाम, चन्द्रया अंगनपल्ली, बचैया यालम को डीजल पम्प दिया गया है।

श्री कारम ने बताया कि यह सामानों का वितरण डीएमएफ मद से किया गया है। सामग्री मिलने पर कृषकों में खुशी हैं। इस अवसर पर उसूर जनपद पंचायत उपाध्यक्ष श्रीनिवास बिरबोइना, जनपद सदस्य बालकृष्ण मचा, आवापल्ली सरपंच मीनाक्षी नोली, कृषि अधिकारी एएल नेताम, संजय दुर्गम सहित अधिकारी कर्मचारी व बड़ी संख्या में किसान मौजूद रहे।


03-Nov-2020 7:23 PM 153

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर, 3 नवंबर।
आज दोपहर उसूर थाना क्षेत्र के मारुड़बाका व कमलापुर के बीच जंगल में पुलिस व नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में पुलिस ने एक नक्सली को मार गिराया है। घटनास्थल से हथियार सहित विस्फोटक बरामद किए गए हंै।

खबर की पुष्टि करते हुए एसपी कमलोचन कश्यप ने कहा कि नक्सली विरोधी अभियान जारी रहेगा।
  
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक मंगलवार की दोपहर उसूर थाना के मारुड़बाका व कमलापुर की ओर सुरक्षा बल के जवान नक्सली विरोधी अभियान के लिए निकले थे। इसी बीच जंगल में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ में पुलिस ने एक नक्सली को मार गिराया है। साथ ही मौके से 2 रायफल, 2 पि_ू, विस्फोटक, नक्सली साहित्य व दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद की गई है। इधर, मारे गए नक्सली की पहचान नहीं हुई है।


03-Nov-2020 7:22 PM 44

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर, 3 नवंबर।
जिले के गंगालूर थाना क्षेत्र के नैनपाल गांव में नक्सलियों द्वारा प्लांट विस्फोटक की जद में आने से एक ग्रामीण घायल हो गया। घायल ग्रामीण का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।
 
पुलिस के मुताबिक नैनपाल गांव से सुबह 8 बजे के दरमियान दो ग्रामीण बांस लेने जंगल जा रहे थे। इसी दौरान नक्सलियों द्वारा पूर्व में प्लांट किये गए प्रेशर बम की चपेट में आने से एक ग्रामीण रमेश हेमला घायल हो गया। हेमला के दाहिने हाथ में चोट लगी है। उसे गंगालूर में इलाज के बाद बेहतर इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। यहां उसका उपचार चल रहा है।


02-Nov-2020 9:27 PM 19

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 2 नवंबर। बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष व  बीजापुर विधायक विक्रम शाह मंडावी ने सोमवार को अपने एक दिवसीय भोपालपटनम ब्लॉक के दौरे के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने प्रमुख रूप से ग्राम मद्देड़ में नवीन अस्पताल भवन का भूमि पूजन,  विहान बाज़ार शुभारम्भ किया। वही नगर पंचायत भोपालपटनम में नवीन व्यायाम शाला एवं बैडमिंटन कोर्ट का शुभारंभ प्रमुख रूप से शामिल हैं।

ज्ञात हो कि ग्राम मद्देड़ के लोगों की बरसों पुरानी माँग थी कि मद्देड़ में एक नया अस्पताल हो। लोगों के माँग के अनुरूप नवीन अस्पताल की स्वीकृति होने के उपरांत सोमवार को नवीन भवन निर्माण का भूमिपूजन विधायक विक्रम शाह मंडावी ने किया।  यह अस्पताल सर्वसुविधा युक्त होगा। साथ ही मद्देड़ में ही बिहान बाज़ार का शुभारम्भ किया गया। जिसका संचालन मद्देड़ के ही एक स्वसहायता द्वारा किया जा रहा है।जिसका सम्बन्ध छत्तीसगढ़ राज्य आजीविका मिशन बीजापुर से है।

वहीं नगर पंचायत भोपालपटनम पहुँच विधायक विक्रम शाह मंडावी ने व्यायाम शाला (जिम) एवं बैडमिटन ग्राउंड का शुभारम्भ कर भोपालपटनम वासियों को नई सौग़ात दी है। इस अवसर पर जिला पंचायत बीजापुर के अध्यक्ष शंकर क़ुडिय़ाम, जिला कांग्रेस कमेटी बीजापुर के अध्यक्ष लालू राठौर, नगर पंचायत भोपालपटनम के अध्यक्ष कामेश्वर गौतम, जिला पंचायत सदस्य सरिता चापा, जनपद अध्यक्ष निर्मला मरपल्ली, उपाध्यक्ष मिच्छा मुतैया, जिला कांग्रेस कमेटी बीजापुर के प्रवक्ता ज्योति कुमार, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी भोपालपटनम के अध्यक्ष रमेश पामभोई, सुरेंद्र चापा, अश्वनी अल्लेम, कुशाल खान, केजी सत्यम के अलावा बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


01-Nov-2020 7:10 PM 27

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर, 1 नवंबर।
देश के लौह पुरुष व राष्ट्रीय एकता के प्रतीक माने जाने वाले स्व. सरदार वल्लभभाई पटेल की 145वीं जयंती सीआरपीएफ 199 बटालियन ने हर्षोल्लास के साथ मनाई।

भैरमगढ़ ब्लाक के पातरपारा में स्थित सीआरपीएफ 199 बटालियन के हेड क्वार्टर प्रांगण में देश के एकीकरण व राष्ट्रीय एकता के प्रतीक सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के अवसर पर यहां सीआरपीएफ के अधिकारी व जवानों ने जहां बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया वहीं अफसरों व जवानों ने राष्ट्रीय एकता की सामूहिक रूप से शपथ ली। इस दौरान सभी लोगों ने राष्ट्रगान गाया गया। 

बटालियन कमांडेंट लालचंद यादव की अगुवाई में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस मौके पर कमांडेंट श्री यादव ने स्व. सरदार वल्लभभाई पटेल की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए उनके द्वारा किये गए कार्यों का विस्तार से वर्णन करते हुए बताया कि देश में एकता के स्वर को सबसे ज्यादा बुलंद सरदार पटेल ने ही किया था। उनके कठिन परिश्रम व प्रयासों से सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त कई छोटे और विवादित रियायतों का एकीकरण करके अखंड भारत का निर्माण करने में सफलता मिली। 

ज्ञात हो कि वर्ष 2014 से प्रतिवर्ष उनके जन्म दिवस 31 अक्टूबर को श्रद्धांजलि स्वरूप राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।  इस वर्ष सीआरपीएफ 199 बटालियन के कमांडेंट श्री यादव द्वारा 21  से 31 अक्टूबर तक विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करवाया गया। जिसमें 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस का आयोजन, 29 अक्टूबर को वृत चित्र व सीआरपीएफ के बारे में गांव वालों को जानकारी तथा जनसंपर्क कार्यक्रम, 30 अक्टूबर को शपथ ग्रहण समारोह एवं मार्च पास्ट परेड का आयोजन, जिसमें वाहिनी के सभी अधिकारीगण अधीनस्थ अधिकारीगण व जवानों ने बढ़चढ़  कर हिस्सा लिया। इस अवसर पर सीआरपीएफ जवानों के साथ ग्रामीण भी बड़ी संख्या में उपस्थित हुए थे।
 


30-Oct-2020 9:50 PM 29

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 30 अक्टूबर। जश्ने ईद मिलादुन्नबी के मुबारक मौके पर जिला मुख्यालय में सादगी के साथ मुस्लिम समुदाय ने जुलूसे मोहम्मदी निकाली। कोविड 19 के नियमों के चलते इस जुलूस में बुजुर्ग व बच्चों को शामिल नहीं किया गया।

शुक्रवार की सुबह 9 बजे जामा मस्जिद से हाफिज़ फरीरुद्दीन साहब की अगुवाई में कोरोना महामारी के चलते सोशल डिस्टेंस  व मुंह में मास्क लगाकर मुस्लिम समुदाय ने जुलूसे मोहम्मदी सादगी के साथ निकाली। जुलूस मस्जिद से शुरू होकर अस्पताल चौक से होते हुए वापस मस्जिद पहुंचकर खत्म हुई।

इस बीच जुलूस में नाअत व सालम पढ़ते हुए लोगों ने नारे लगाए। जुलूस के वापस मस्जिद पहुंचने के बाद यहां परचम कुशाई की रस्म अदा की गई। इसके बाद फातिहा पढ़ी गई, जिसमें देश प्रदेश में शांति व खुशहाली के लिए दुआ मांगी गई। जुलूस प्रशासन की निगरानी में निकाली गई। जुलूस के दौरान मुस्लिम समुदाय ने कोरोना महामारी से बचाव के संदेश दिए। जुलूस को कामयाब बनाने में बीजापुर अंजुमन इस्लामियां कमेटी का विशेष योगदान रहा। कोविड 19 के चलते इस जुलूस में बुजुर्ग व बच्चे शामिल नहीं हो सके।

इधर, जुलूस से पहले मुस्लिम समाज के लोगों का स्वास्थ्य विभाग की ओर से बीएमओ आदित्य साहू ने थर्मल स्कैनर से स्क्रीनिंग की गई, व मास्क दिया गया। मुख्य नगर पालिका अधिकारी पवन मेरिया ने सेनिटाइजर उपलब्ध कराया था। वहीं सुरक्षा के इंतेजाम कोतवाली प्रभारी शशिकांत भारद्वाज ने किये थे। जुलूस खत्म होने के बाद अंजुमन इस्लामिया कमेटी के पदाधिकारियों व मुस्लिम समाज के लोगों ने प्रशासन का आभार व्यक्त किया है।


28-Oct-2020 9:40 PM 23

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 28 अक्टूबर। आमतौर पर दीया मिट्टी से बनाया जाता है। लेकिन इस बार राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत ग्रामीण गौठानों एवं नगर पालिका बीजापुर शहर के गौठानों में महिला स्व-सहायता समूह की महिलाएं गोबर से आकर्षक एवं सुन्दर दीये बना रही हैं। दीये के साथ-साथ विभिन्न आकर्षक होम डेकोरेशन, स्वास्तिक, शुभ-लाभ, धूपबत्ती, लक्ष्मी गणेश जी की मूर्ति एवं गमला गोबर से बनाया जा रहा है।

बाजार की उपलब्धता के अनुरुप विभिन्न गौठानों में दीये बनाये जा रहे हैं। जिससे स्व-सहायता की महिलाएं अतिरिक्त आय अर्जित कर पाएगी। दीया बनाने वाले समूह में भैरमगढ़ ब्लाक के ग्राम पंचायत पातर पारा, बीजापुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत धनोरा नगरपालिका क्षेत्र के गौठानों सहित विभिन्न गौठानों में महिला स्व-सहायता समूह दीया को रंग-रोगन कर आकर्षक कलाकृति उकेरती हुई अंतिम रूप दे रही हैं। जिसे स्थानीय बाजार के माध्यम से विक्रय किया जाएगा।

मणिकंचन स्व-सहायता समूह की सचिव ओमिन बाई साहू ने बताया कि बिक्री के लिए ग्राहकों द्वारा भी उत्सुकता दिखाई दे रहा है। इसे बनाकर हम लोगों को भी अच्छा महसूस हो रहा है, नये तरीके के कार्य करने से इसके लिये जिला प्रशासन द्वारा मार्गदर्शन एवं प्रोत्साहित किया गया। गोबर से बने दीया पूर्ण रुप से ईको फ्रेंडली है। इसे उपयोग के बाद खाद के रूप में गमलों या बाडिय़ों में उपयोग किया जा सकता है। स्व-सहायता समूह की सभी महिलाएं पूरे मन से इस कार्य को करने में जुटी हुई है यह हमारी अतिरिक्त आमदनी का स्त्रोत बना है, जिससे इस बार हम लोग भी दीपावली के अवसर पर अतिरिक्त लाभ अर्जित कर त्यौहार अच्छे से बनायेंगे।

मुख्य नगरपालिका अधिकारी पवन मेरिया ने बताया कि तीन महिला समूह की लगभग 30 महिलाएं दीया एवं विभिन्न कलाकृतियां गोबर से बना रही हैं विभिन्न सांचा एवं मशीन से आकर्षक ढंग से बने सामानों का बाजार में काफी अच्छा मांग है।

निश्चित रूप महिलाएं इस कार्य से अपनी आजीविका को बढ़ाएगी। 


27-Oct-2020 9:23 PM 22

'छत्तीसगढ़' संवाददात

भैरमगढ़, 27 अक्टूबर। दो दशकों उपेक्षित शिक्षक इस बार आर-पार की लड़ाई में आगे आ गए हैं। विभिन्न कर्मचारी संगठनों से मिल रहे समर्थन के बाद 28 अक्टूबर को रायपुर में प्रस्तावित मौन धरना व जुलूस को लेकर छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन बीजापुर इकाई की ओर से व्यापक रणनीति बनाई गई है।

फेडरेशन का कहना है कि प्रदेश की पूर्व सरकार हो या वर्तमान की भूपेश बघेल सरकार, सभी ने सहायक शिक्षकों की लगातार उपेक्षा की है। विगत 22 वर्षों से सहायक शिक्षक एलबी को ना क्रमोन्नति मिल रहा है ना ही पदोन्नत। यही नहीं सहायक शिक्षकों के वेतन निर्धारण में भी जानबूझकर नियमों की अनदेखी की गई है। सहायक शिक्षक और शिक्षक एलबी के वेतन में प्रति माह 10 से 12 हजार का अन्तर है। इस विसंगति को दूर करने कई बार शासन से अनुरोध किया गया लेकिन सत्ता में बैठे लोगों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है।

प्रदेश के सभी शिक्षक साथियों ने निर्णय लिया है कि हर हाल में अपना हक लेकर रहेंगे। इसी के मद्देनजर 28 को रायपुर बूढ़ातालाब में विशाल मौन धरना के बाद जुलूस निकाली जाएगी। इसमें प्रदेश भर से करीब 90 हजार सहायक शिक्षक एलबी शामिल होने की संभावना है। इस आन्दोलन को विभिन्न कर्मचारी संगठनों का समर्थन प्राप्त है। इसमें गवरमेन्ट एम्प्लॉइज वेलफेयर एसोसिएशन और छत्तीसगढ़ संयुक्त शिक्षक संघ का नाम प्रमुख है। छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन बीजापुर इकाई की और से जिले से अधिकाधिक शिक्षक साथियों को रायपुर के आन्दोलन में सहभागिता निभाने व्यापक तैयारी की गई है। चारों ब्लॉक के पदाधिकारियों से समन्वय स्थापित कर जिले के पदाधिकारियों ने आवश्यक निर्देश दिए गए। इसके मुताबिक सारी तैयारी पूरी कर ली गई है। कोरोना काल में सावधानी बरतते हुए मास्क, सेनिटाइजर का अनिवार्य रूप से उपयोग करने की समझाइश के साथ आन्दोलन की सफलता की अपील की गई है।

बीजापुर जिले से हजारों की संख्या में सहायक शिक्षक आंदोलन में शामिल होंगे। बीजापुर में आयोजित बैठक व प्रशासन को ज्ञापन सौंपते वक्त सभी ने आन्दोलन को सफल बनाने का संकल्प लिया है। छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन भैरमगढ़ ब्लाक के सक्रिय सदस्य थलेश ठाकुर व अनिल कुमार ने उक्त जानकारी दी है ।


23-Oct-2020 10:09 PM 41

भोपालपटनम, 23 अक्टूबर। बीजापुर जिला भाजपा अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने कहा कि बीजापुर जिले में इन दिनों क्षेत्रीय विधायक विक्रम शाह मंडावी क्षेत्र के किसानों को भ्रमित कर एक हस्ताक्षर अभियान चला रहें हैं, जो हास्यपद है। नये कृषि कानून के प्रावधानों का अध्ययन किये बिना विधायक द्वारा किसानों के समक्ष प्रावधानों के विपरीत तथ्यों को प्रस्तुत कर दिग्भर्मित किया जा रहा है एवं कांग्रेस सरकार के खिलाफ किसानों के विरोध स्वर को दबाने का एकमात्र कुत्सिक प्रयास है ।

उन्होंने जारी विज्ञप्ति में कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार अपने पहले कार्यकाल से किसानों के हितों के प्रति प्रतिबद्ध रही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी का विशेष फोकस कृषि क्षेत्र में किसानों को समृद्ध एवं सशक्त बनाने पर रहा। क्षेत्रीय विधायक जी का इन दिनों किसानों को नये कृषि सुधार कानून के वास्तविक उद्देश्य व तथ्यों को छिपाकर अपने राजनीतिक लाभ हेतु गलत तथ्यों को प्रस्तुत किया जा रहा है जिससे कानून को बदला नहीं जा सकता । किसानों को नये कृषि सुधार बिल का ज्ञान देने से पहले स्वयं भी बिल में उल्लेखित प्रावधानों का बारीकी से अध्ययन कर लेते तो शायद विरोध करने के लिए भी विरोध नहीं कर पाते क्योंकि जो कानून बना वह विशुद्ध रूप से किसानों के हितों को ध्यान में रखकर बनाया गया और सम्पूर्ण देश के किसानों ने हार्दिक रूप से स्वागत किया। जिन तीन कानूनों को बदलने विधायक द्वारा किसानों से भ्रमित कर हस्ताक्षर करवाया जा रहा है वही तीन कानून किसानों के जीवन में सुख समृद्धि और खुशहाली एवं किसानों को सशक्त बनाने तथा किसानों के हितों का संरक्षण करने वाली कानून है। राजनीतिक द्वेषता से यदि इस नए कानून का लाभ छत्तीसगढ़ एवं बीजापुर जिले के किसानों को नही मिल पाता है तो इसका जिम्मेवारी कांग्रेस सरकार एवं बीजापुर के क्षेत्रीय विधायक होंगे ।

उन्होंने आगे कहा कि देश में 7 दशकों के बाद इस नये कानून से अन्नदाताओं को बिचौलियों के चुंगल से मुक्ति मिलेगी. साथ ही अपनी उपज को इच्छानुसार मूल्य पर कंही भी बेचने की आज़ादी मिलेगी । पहले हमारे किसानों का बाजार सिर्फ स्थानीय मंडी तक सीमित तथा उनके खरीददार सीमित थे। मूल्यों में पारदर्शिता नहीं थी, इस कारण उन्हें अधिक परिवहन लागत , लम्बी क़तारें, एवं स्थानीय माफियाओं का मार झेलनी पड़ती थी। इस नये विधेयक से कृषि क्षेत्र में अभूतपूर्व परिवर्तन आएगा ।

विधायक जी का यह वक्तव्य बड़ा ही हास्यपद है कि, किसानों के लिए नये कानून में न्यूनतम समर्थन मूल्य एवं मंडियों का प्रावधान नहीं होना बताया गया, जबकि नये कानून के तहत न्यूनतम समर्थन मूल्य पर पहले की तरह खरीदी जारी रहेगा। किसान अपनी फसल का सौदा सिर्फ अपने ही नहीं बल्कि अन्य राज्यों के लाइसेंसी व्यापारियों के साथ भी कर सकते हैं।

मंडिया समाप्त नही ंहोगी पहले की तरह पूर्ववत व्यापार होगा और किसानों को मंडी के साथ साथ अन्य स्थानों पर अपनी उपज बेचने का विकल्प प्राप्त होगा। किसानों को अनुबन्ध में पूर्ण स्वतंत्रता होगी कि वह इच्छानुसार दाम तय कर उपज बेच सकेगा । देश में छोटे किसानों को ध्यान में रखते हुए कॉन्टेक्ट फॉर्मिंग लागू किया गया सिर्फ उत्पाद पर कॉन्टेक्ट लागू होगा जमीन पर नहीं । इस विधेयक से देश भर में किसानों को उपज बेचने के लिए एक देश-एक बाजारकी अवधारणा को बढ़ावा मिलेगा ।

मंडी अधिनियम के तहत पंजीकृत व्यापारी पूर्ववत से भी किसानों के उपज खरीद रहे थे पर गत वर्ष सरकार की हठधर्मिता के कारण बहुत से बीजापुर के किसान बिचौलियों को अपनी उपज कम दाम में बेचने को मजबूर हुए हैं। अब इस नये कानून से किसान अपनी उपज की सही मूल्य पर बेचने स्वतंत्र होंगे।

वहीं एक महत्वकांक्षी योजना आयुष्मान भारत का लाभ पूरे देश को मिल रहा है सिर्फ छत्तीसगढ़ को छोड़ कर। केंद्र की जनकल्याणकारी योजना को बंद कर छ ग एवं बीजापुर की जनता के साथ छलावा व अन्याय व शोषण किया जा रहा है, इस पर विधायक जवाब दें?

गिरदावरी के नाम पर रकबा कम किया गया जिससे किसान अपनी उपज धान कम बेच पाएंगे इस पर भी विधायक जवाब दें ?

कोरोना महामारी के बीच भी कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार ने आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत 1 लाख करोड़ रुपये का आबंटन किया जिससे देश के  किसानों को आर्थिक रूप से मज़बूती मिलेगी ।

जिस राजनीतिक दल ने दशकों तक देश में शासन किया। किसानों को अंधकार और गरीबी में रखने का काम किया। क्षेत्र के किसानों  के प्रति स्थानीय विधायक की भी मंशा यही है कि यहां के कृषकों में  समृद्धि और खुशहाली न आये। उन्हें केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ लेने से रोका जाय । ऐसे प्रयासों को भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता सफल होने नहीं देंगे और  किसानों के हक़ व हितों के संरक्षण के लिए लड़ते रहेंगे।


23-Oct-2020 10:07 PM 61

भोपालपटनम, 23 अक्टूबर। युवा जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) जिला संगठन द्वारा संविधान निर्माता डॉ.भीमराव अंबेडकर चौक में प्रदर्शन कर मरवाही उपचुनाव में जेसीसीजे प्रत्याशी अमित जोगी तथा ऋचा जोगी के नामांकन पत्र को सरकार के दबाव में अलोकतांत्रिक तरीके से निरस्त करने का विरोध किया व पुतला दहन किया।

पार्टी जिला अध्यक्ष चन्द्रैया सकनी ने कहा कि स्व.अजीत जोगी जब तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में थे, तब तक उन्हें कांग्रेस पार्टी आदिवासी विभाग के कई उच्च पदों में रखकर आदिवासियों को साधने का काम किया। जब राज्य अलग हुआ तब राज्य के आदिवासी मुख्यमंत्री के रूप में उन्हें जिम्मेदारी दी गई। स्व.जोगी जी को अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट मरवाही के लिए कांग्रेस द्वारा प्रत्याशी घोषित किया जाता रहा। दो हजार तेरह के विधानसभा चुनाव में स्व.अजीत जोगी पुत्र अमित जोगी को प्रत्याशी बनाया गया, जो रिकॉर्ड मतों से विजय हुए। अब जब मरवाही उपचुनाव होना है यही कांग्रेस की सरकार नये नये हथकंडे अपना कर जोगी परिवार को जाति प्रमाण पत्र के नाम पर मरवाही उपचुनाव लडऩे से रोका। यह प्रदेश के मुख्या भूपेश बघेल की तानाशाही रवैये को दर्शाता है। 

सरकार को आभास हो गया था कि अगर जोगी परिवार से कोई भी चुनाव मैदान में होगा तो उनका विजय सुनिश्चित है और गांव, गरीब,किसान,बेरोजगार, मजदूरों की सदन में आवाज बनेंगे। राज्य सरकार के कुशासन का पर्दाफाश होगा। यही कारण है कि सरकार 2013 के एसटी, एससी एक्ट में राज्य के संवैधानिक प्रमुख महामहिम राज्यपाल को बिना विश्वास लिए ही संशोधन कर दिया गया। सरकार द्वारा बनाई गई छानबीन समिति बिना पक्ष सुने ही एक पक्षीय कार्रवाई कर जाति प्रमाण पत्र निरस्त करता है और अमित जोगी को फार्म स्क्रूटनी में जानकारी मिलता है। आपत्ति करने वाले के पास पहले से ही जाति निरस्त का आदेश होता है इसी से अन्दाजा लगाया जा सकता है कि सरकार की मन्शा क्या थी? मुख्यमंत्री जी को अगर लोकतंत्र में विश्वास होता तो वे जनता अदालत के परिणाम पर भरोसा करते। राज्य में सुशासन के बजाय बदलापुर की राजनीति हावी होता जा रहा है। मरवाही उपचुनाव में सरकार ने विजय प्राप्त करने के लिए जो हथकंडे अपना रही है यह पूरा छत्तीसगढ़ देख रहा है वक्त और समय के साथ जनता जबाब भी देगी।

प्रदर्शन के दौरान सुधाकर के.जी.युवा जिला ध्यक्ष, रोशन झाड़ी युवा विधानसभा अध्यक्ष, जेसीसीजे नेत्री जमुना सकनी,  सलमैया अंगनपल्ली, रामचन्द्रम एरोला,सुनीता तिवारी, गुड्डू कोरसा, शेखर अंगनपल्ली, गुण्डी तेलम, बालकिशन बजाज,  अंजू कुडिय़म, गुड्डू मोडिय़ाम, चन्देश माडवी, दिनेश तेलाम,लालू, सोनू आदि उपस्थित थे।


23-Oct-2020 9:36 PM 19

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 23 अक्टूबर। छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन के प्रान्तीय आह्वान पर प्रदेश भर के हजारों सहायक शिक्षकों ने वेतन विसंगति व क्रमोन्नति की मांग को लेकर मोर्चा खोल दिया है।  इसी के चलते प्रदेश भर के सहायक शिक्षक 28 अक्टूबर को राजधानी रायपुर में मौन जुलूस निकालेंगे। इसी परिपेक्ष्य में वेतन विसंगति और क्रमोन्नति को लेकर 22 अक्टूबर को बीजापुर जिले के सहायक शिक्षकों द्वारा जिला कलेक्टर व जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया।

ज्ञापन के माध्यम से फेडरेशन के जिलाध्यक्ष पुरषोत्तम झाड़ी ने कहा कि 28 को रायपुर के(धरना स्थल) बूढ़ा तालाब से लेकर मुख्यमंत्री निवास तक मौन जुलूस निकाल मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को मांग पत्र सौंपा जाएगा व शासन को ध्यानाकर्षण कराया जाएगा कि किस तरह से सहायक शिक्षक पिछले 23 सालों से एक ही पद पर रहकर शिक्षकीय कार्य कर रहे हंै, पर आज तक न तो उन्हें पदोन्नति मिली और न क्रमोन्नति,और तो और उनके वेतन निर्धारण में भी भारी विसंगति है। इन्हीं मांगों को सरकार के समक्ष रखकर जल्द से जल्द पूरा करने आग्रह किया जाएगा, ताकि भविष्य में सहायक शिक्षकों को सड़क पर उतरने या स्कूलों में तालाबंदी करने की जरूरत न पड़े।                  

इसके साथ ही संघ द्वारा कलेक्टर से सहायक शिक्षकों की स्थानीय मांग पदोन्नति व समयमान एरियर्स व अन्य मांगों पर मौखिक चर्चा की गई। जिस पर कलेक्टर ने समस्याओं का निराकरण करने का आश्वासन दिया।              

ज्ञापन सौंपने के दौरान प्रमुख रूप से पुरषोत्तम झाडी (जिलाध्यक्ष), राजेश मिश्रा (जिला सचिव),गोपाल कृष्ण पांडे,कमलनारायण कुंजाम, संजय डोंगरे, मोहसिन खान, हरकेश परतागिरी, रेहान खान, नागेश गुरला,रमन झा, अमरदीप मिंज, दिलीप दुर्गम, देवेंद्र शाह, प्रदीप साहनी, दुर्गेश तोगर, नरेंद्र चंद्राकर, संजय नक्का, गौकरण ठाकुर व अन्य शिक्षक उपस्थित थे।


22-Oct-2020 8:05 PM 106

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 22 अक्टूबर। जिला मुख्यालय से 60 किलोमीटर दूर भोपालपटनम तहसील के मट्टीमरका मार्ग पर वरदली ग्राम के निकट तोडेंम पारा, माता मंदिर के पास खुदे बोरवेल में विगत तीन वर्षों से पानी की अविरल धारा निरन्तर बह रही है, जो जनमानस में चर्चा का विषय बनी हुई है।

ग्रामीणों के अनुसार केवल 10 फीट की खुदाई पर ही इस बोरवेल से पानी तीव्र गति से निरन्तर प्रवाह में निकलना शुरू हुआ। पानी की निरन्तर तीव्र प्रवाह के चलते बोरवेल की खुदाई ज्यादा नहीं हो सकी। काफी प्रयास के बाद लगभग 40 फीट की खुदाई कर बोर वेल निर्मित किया गया। तीन वर्ष पूर्व खुदे इस बोरवेल में निर्माण के समय से ही पानी दिन-रात तीव्र गति से निरन्तर प्रवाह में निकलने का जो सिलसिला शुरू हुआ वो आज पर्यंत निरन्तर जारी है जो थम नहीं रहा है। गर्मी के दिनों में अच्छे-अच्छे प्राकृतिक भूमिगत जल स्रोत सूख जाते हैं, लेकिन इस प्राकृतिक भूमिगत जल स्रोत पाताल तोड़ कुआं की धारा विगत तीन वर्षों से कभी कम नहीं हुई है।

क्षेत्रीय ग्रामीणों का कहना है कि यदि यहां सोर पैनल लगाकर नल-जल की सुविधा दी जाए तो इस प्राकृतिक भूमिगत जल स्रोत का पेय जल के उपयोग के साथ ही अन्य कृषि कार्यों में पूरे साल उपयोग किया जा सकता है। माता मन्दिर के दर्शनार्थियों के लिए भी पानी का समुचित उपयोग हो सकेगा। प्रदेश में इस प्राकृतिक भूमिगत जल स्रोत को बचाना जरूरी है। इस अमूल्य प्राकृतिक भूमिगत जल स्रोत से निरन्तर निकलकर व्यर्थ बहते हुए पानी के सदुपयोग किये जाने व पर्यटन के दृष्टिकोण से संरक्षित व विकसित किये जाने हेतु ग्रामीणों ने क्षेत्रीय विधायक व शासन-प्रशासन का ध्यान आकृष्ट किया है।

वैज्ञानिक दृष्टिकोंण से पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण इस तरह की घटनाएं होती हैं। पानी गुरुत्वाकर्षण के विपरीत प्रभाव के कारण ऊपर की ओर निरन्तर प्रवाहित हो रहा है। पानी चट्टान व बालू की वजह से छनकर आने के कारण पूरी तरह से शुद्ध है। इसे प्रवाहित जल भी कहा जाता है जो 24 घण्टे निरन्तर बहते रहती है। यह जल का वह भाग है जो पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण जमीन के क्षेत्रों से होता हुआ अंत में नीचे आकर ठोस चट्टानों के ऊपर इक_ा हो जाता है। पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति के प्रभाव के कारण वर्षा का पानी नीचे उतरते-उतरते अपारगम्य चट्टानों तक पहुंच जाता है। धीरे-धीरे चट्टान के ऊपर की मिट्टी की परतें पूरी तरह संतृप्त हो जाती है। इस प्रकार का एकत्र पानी भौम जल परिक्षेत्र की रचना करता है।


21-Oct-2020 9:10 PM 30

 

बीजापुर, 1 अक्टूबर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार बीजापुर जि़ले के विभिन्न पंचायतों में मोदी सरकार के तीन काले क़ानूनों को निरस्त करने हस्ताक्षर अभियान चल रहा है। 

इस तारतम्य में बुधवार को बीजापुर के विधायक विक्रम शाह मंडावी ने जांगला और माटवाडा के किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार के तीन क़ानून जिसमें किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक- 2020, किसान सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन कृषि सेवा विधेयक- 2020 व आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक- 2020 पूरी कृषि संरचना को नष्ट कर देगी। इन क़ानूनों में मोदी सरकार ने किसानों के लिए एमएसपी तक का प्रावधान नहीं कर किसानों के साथ एक बहुत बड़ा धोखा किया है। इसके लिए मोदी सरकार को किसानों से माफ़ी माँगते हुए इन क़ानूनों को निरस्त करना चाहिए। इन तीन काले क़ानूनों को लेकर देश के किसान, मज़दूर, मंडी दुकानदार, एपीएमसी कर्मचारी संगठन इन क़ानूनों को तत्काल वापस लेने मोदी सरकार से माँग कर रहे हैं। बीजापुर जि़ले के किसान अब इन काले क़ानूनों के विरोध में लामबंद हो रहे हैं।

आगे मंडावी ने किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में जब से मोदी सरकार आई है, तब से लेकर अब तक मोदी सरकार केवल उद्योगपतियों और सेठ साहूकारों के लाभ के लिए ही काम कर रही है और देश के आम लोगों से मोदी सरकार को कोई लेना देना ही नहीं है। मोदी सरकार किसी न किसी रूप से किसानों से ज़मीन लेने षड्यंत्रपूर्वक नित नए नए क़ानून ला रही है।

 


21-Oct-2020 5:03 PM 27

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर, 21 अक्टूबर।
जिले के धुर नक्सल प्रभावित पातरपारा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल 199 बटालियन के हेड क्वार्टर में बुधवार को पुलिस स्मृति दिवस के उपलक्ष्य में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये गए। इस कार्यक्रम में बटालियन के कमांडेंट लालचंद यादव, अधीनस्थ अधिकारी व सीआरपीएफ के जवान उपस्थित थे। परेड की सलामी के बाद अतिथियों ने शहीद स्मारक पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। 

ज्ञात हो कि लद्दाख में चीनी फौज के साथ 21 अक्टूबर 1959 को हुई मुठभेड़ को सुरक्षा बलों के शौर्य और पराक्रम के इतिहास में सबसे अहम माना गया है। उस मुठभेड़ में सुरक्षा बलों के वीर जवानों की शहादत की याद में हर साल 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस मनाया जाता है।

इसी परिपेक्ष्य में बुधवार को  सीआरपीएफ 199 बटालियन द्वारा भैरमगढ़ ब्लॉक के पातरपारा में पुलिस स्मृति दिवस मनाया गया। इस अवसर पर बटालियन के कमांडेंट लालचंद यादव द्वारा पुलिस स्मृति दिवस की महत्ता पर प्रकाश डाला गया तथा विगत 1 साल में शहीद हुए देश के विभिन्न राज्यों एवं केंद्रीय सुरक्षा बलों के अधिकारियों एवं जवानों के नाम पढ़ कर सुनाया। उन्होंने आगे कहा कि वर्तमान परिपेक्ष में चाहे कोरोना महामारी का संकट हो या आंतरिक एवं क्षेत्रीय सुरक्षा हमारे पुलिस बलों द्वारा आने वाली चुनौतियों का डटकर मुकाबला किया जाता रहा है जो कि देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने तथा संविधान को संरक्षित रखने में अग्रणी भूमिका निभाते रहे हैं। 

श्री यादव ने कहा कि चीन के साथ चल रही तनातनी के बीच हमारे पुलिस बल आज भी भारत तिब्बत सीमा पर अडिग होकर डटे हैं और किसी भी चुनौती का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तत्पर हैं । कमांडेंट यादव ने अंत में पुन: शहीदों का स्मरण करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है।


19-Oct-2020 10:22 PM 37

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

भोपालपटनम, 19 अक्टूबर। भोपालपटनम नगर पंचायत में इस वर्ष भी नवरात्र पर्व मनाया जा रहा है। भोपालपटनम के हृदय स्थल श्री कृष्णा पामभोई क्लब प्रांगण में विधि विधान से 17 अक्टूबर को मां दुर्गा की स्थापना की गई। इस वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कोविड 19 का प्रकोप रहने के कारण शासन के निर्देशों का पालन करते हुए माँ दुर्गा प्रतिमा की स्थापना की गई है। नगर पंचायत के शिव मंदिर प्रांगण में भी हर वर्ष की भांति नवरात्र का शुभारम्भ किया गया। यह नवरात्रि पर्व कोरोना के कारण सादगी के साथ मनाया जा रहा है।

भोपालपटनम ब्लाक महाराष्ट्र एवं तेलगांना राज्य के सरहद में होने के कारण उन राज्यों की संस्कृति का असर रहता है। नवरात्रि के साथ साथ माता गौरी की पूजा पाठ किया जाता है जिसे बतकम्मा के नाम से जाना जाता है यह नव दिनों तक नवरात्रि के साथ साथ चलता है जिस में सभी महिलाएं छोटे बड़े  हर्षोल्लास के साथ रोज शाम को अनेक प्रकार के फूलों से बने बतकम्मा को एक जगह स्थापित कर माता गौरी की पूजा कर उस बतकम्मा के चारों ओर बहुत ही सुंदर मधुर गीतों का गायन करते हुए बतकम्मा खेलते हैं। अंतिम दिन सभी महिलाएं अपने अपने घरों में अनेक रंगबिरंगे सुंदर विविध प्रकार के फूलों से एक से बढ़कर एक बतकम्मा बनाकर शाम से रात तक मनोरंजक गीतों एवं वाद्ययंत्रों के साथ मधुर गीतों के ताल से बतकम्मा खेलते हैं। इसे अन्तमेबाजा गाजा के साथ ले जाकर किसी नदी या तालाब में विसर्जन करते हंै और वह प्रसाद याने जो महिलाएं लाती है भक्तों को प्रसाद को एक दूसरे को बांटते हैं, सद्दुलाबतकम्म कहा जाता है.

यह महिलाओं के लिए एक विशेष एवं हर्षोल्लास का पर्व माना जाता है। यह त्यौहार तेलगांना का बहुत बड़ा त्योहार माना जाता है। इस पर्व को तेलगांना में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। हर वर्ष तेलंगाना शासन की ओर से राज्य की हर एक महिला को बतकम्मा के लिए साड़ी दिया जाता है।


16-Oct-2020 1:55 PM 8

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर, 16 अक्टूबर।
आज सुबह बीजापुर जिले के बासागुड़ा थाना क्षेत्र के कोरसागुड़ा और अउटपल्ली के जंगलों में पुलिस और नक्सलियों में मुठभेड़ हुई, जिसमें ईनामी नक्सली ढेर हो गया। बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप ने इसकी पुष्टि की है।

बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप ने बताया कि जिला बल और सीआरपीएफ के जवान एंटी नक्सल ऑपरेशन पर निकले थे। आज सुबह बासागुड़ा थाना क्षेत्र के कोरसागुड़ा और अउटपल्ली के जंगलों में पुलिस और नक्सलियों में मुठभेड़ हुई। जिसमें 1 लाख के ईनामी नक्सली को जवानों ने ढेर कर दिया। 


Previous12Next