छत्तीसगढ़ » बिलासपुर

Previous1234Next
Posted Date : 16-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 16 नवम्बर। बिलासपुर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस टिकट के दावेदार प्रदेश कांग्रेस सचिव और निजी महाविद्यालय डीपी विप्र कॉलेज के सहायक अध्यापक तरु तिवारी सहित 19 अधिकारियों कर्मचारियों को कलेक्टर ने चुनाव ड्यूटी में लापरवाही के चलते निलंबित कर दिया है।
    तरु तिवारी सहित सभी 19 निलंबित कर्मचारियों अधिकारियों की ड्यूटी बेलतरा विधानसभा क्षेत्र में लगाई गई थी। इन्हें 9 नवंबर से लेकर 13 नवंबर के बीच बेलतरा विधानसभा क्षेत्र के लिए रखे गए दूसरे चरण के प्रशिक्षण में शामिल होना था, लेकिन वे बिना अनुमति अनुपस्थित रहे।
    मालूम हो कि तरु तिवारी कांग्रेसमें सकरी हैं और वे बिलासपुर सीट से टिकट के प्रबल दावेदार थे। इसके अतिरिक्त निलंबित किया गया है उनके नाम इस प्रकार हैं- विजय कुमार प्राचार्य वर्ग 2, रामसिंघ आर्मो प्रधान पाठक, चन्द्र कुमार आगरे मानचित्र कार लोक निर्माण विभाग,  राय सिंह पैकरा ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, अम्बुकेश प्रसाद राय सहायक प्राध्यापक, विवेक सिंह पोर्ते शिक्षक पंचायत ललित कुमार भास्कर शिक्षक पंचायत मनीष गुप्ता शिक्षक पंचायत पुन्नूलाल राठौर शिक्षक पंचायत अशोक कुमार शर्मा सहायक शिक्षक बृजेश कुमार पैकरा सहायक शिक्षक पंचायत  डलश कुमार यादव सहायक शिक्षक पंचायत कली सिंह मराई सहायक शिक्षक पंचायत एपी विश्वकर्मा सहायक ग्रेड 2 बलराम फील्ड मैन कृष्ण कुमार पांडे करारोपण अधिकारी, दीप कुमार शाह सहायक विकास अधिकारी  और माया वसनिक  सहायक शिक्षक पंचायत शामिल हैं।
    नवागढ़ में मायावती-जोगी की सभा 17 को
    बेमेतरा, 16 नवंबर। बसपा सुप्रीमो मायावती व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी 17 नवम्बर को नवागढ़ में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। दोनों के आगमन के मद्देनजर दो हैलीपेड तैयार किया गया है। सुरक्षा के मद्देनजर अधिकारियों ने मौके का जायजा लिया है। वर्ष 2004 के बाद मायावती का यह दूसरी बार नवागढ़ आगमन है। बसपा एवं छग जोगी कांग्रेस के कार्यकर्ता तैयारी में जुट गए हैं।
    धमतरी में अमित शाह 17 को 
    धमतरी, 16 नवंबर। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का नगर आगमन 17 नवंबर को हो रहा है। वे यहां दोपहर 12 बजे मिशन ग्राउंड में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। यह जानकारी भाजपा के जिला संवाद प्रमुख कवीन्द्र जैन ने दी है। 

  •  

Posted Date : 12-Nov-2018
  • 'महिला, पुरुष वोट डालने में एक-दूसरे से मुकाबला करें...'
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 12 नवंबर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज यहां आयोजित चुनावी सभा में सोनिया राहुल पर उनका नाम लिए बिना हमला बोलते हुए कहा कि नोटबंदी के कारण जिन्हें जमानत लेनी पड़ी वे मां बेटे मोदी से हिसाब मांग रहे हैं। कांग्रेस एक परिवार से शुरू होने वाली तथा वहीं समाप्त हो जाने वाली पार्टी है। उन्होंने कहा कि नक्सलवाद को पैदा करने और पालने-पोसने वाले उन्हें खत्म नहीं सकते, इसका उन्मूलन भाजपा ही करेगी। मोदी ने छत्तीसगढ़ के तेज विकास के लिए एक बार फिर भाजपा सरकार बनाने की लोगों से अपील की। 
    आज दोपहर 12 बजे साइंस कॉलेज मैदान में मोदी ने भाजपा की चुनावी सभा ली। उन्होंने भाषण के शुरूआत में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और बिल्हा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी धरम लाल कौशिक सहित मंच पर उपस्थित बिलासपुर, मुंगेली जिले की नौ सीटों के सभी प्रत्याशियों का परिचय कराया और लोगों से उन्हें वोट देकर जिताने की अपील की। मोदी ने कहा कि बिलासपुर से उनका बरसों पुराना नाता है। वे संगठन के काम से बिलासपुर आते रहे हैं, तब हमारे पास संसाधन बहुत कम थे, पर बिलासपुर के कार्यकर्ताओं में खास बात रही कि तब भी उनके उत्साह और संकल्प में कोई कमी नहीं होती थी। भाजपा को बार-बार जनता का आशीर्वाद इन्हीं समर्पित कार्यकर्ताओं के कारण मिलता है जो जनता और सरकार के बीच कड़ी बनकर समस्याओं का समाधान करते हैं। उन्होंने गुरु घासीदास, संत कबीर दास को याद किया और कहा कि यहां के दुबराज चावल को कोई भूल नहीं सकता।
    अपने भाषण में मोदी ने बस्तर में वोटिंग के मिजाज की तारीफ करते हुए कहा कि बुलेट का जवाब आज वहां बैलेट से दिया जा रहा है। मतदान लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव है, बंदूक वालों को इसका जवाब जरूर मिलेगा। उन्होंने लोगों से 20 नवंबर को भी बड़ी संख्या में मतदान की अपील की और कहा कि महिला तथा पुरुष मतदाताओं के बीच प्रतिस्पर्धा होनी चाहिए कि वे एक दूसरे से अधिक संख्या में मताधिकार का प्रयोग करें।  मोदी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी एक ही मंत्र लेकर राजनीति को नई दिशा देने में सफल हुई है। इससे पहले जाति-बिरादरी, परिवार, तेरे-मेरे, शहर-गांव,अमीर-गरीब के नाम पर खाई पैदा की जाती थी। महीने दो महीने ऐसा वातावरण तैयार किया जाता था कि अच्छे मन वाले भी प्रवाह में भटक जाते थे। 
    पर भाजपा ने विकास, तेज विकास और चारों तरफ सबका विकास के मंत्र को चुना। जातिवाद का जहर चाहे जितना बोया जाये गरीब जाग गए हैं। वह अपने अगली पीढ़ी को गरीब और झुग्गी झोपड़ी में देखना नहीं चाहता। आज छत्तीसगढ़ के किसी भी कोने में, किसी भी रास्ते पर निकल जाएं तेज विकास होता नजर आ जाएगा। हमारे पास विकास का मजबूत इतिहास है, जिसे किसी भी पैमाने पर नापा-तौला जा सकता है। हमने परिणाम देकर परिवर्तन हासिल किया है। 
    उन्होंने विरोधियों से सवाल किया कि क्या कारण था कि जब छत्तीसगढ़ से मध्यप्रदेश अलग नहीं हुआ था तो दोनों ही राज्य के हिस्से बीमारू थे। जिन्होंने 40-50 साल राज किया उन्होंने यह दुर्दशा की। यदि छत्तीसगढ़ इनके हाथ में होता तो बनने के बाद भी आज का मुकाम हासिल करने में राज्य को 50 साल लग जाते। 
    मोदी ने कहा कि आज उनकी राजनीति एक परिवार तक सिमट कर रह गई है। हमारी राजनीति गरीब की झोपड़ी से शुरू होती है। कौन गरीब नहीं चाहता कि वह फुटपाथ और झोपड़ी से उठकर पक्के मकान में रहे। कौन मां नहीं चाहती कि उसे चूल्हे के धुएं  से मुक्ति मिले। 
    मोदी ने प्रधानमंत्री आवास योजना, उज्ज्वला योजना के अलावा पांच लाख रुपए तक के इलाज के लिए चालू की गई आयुष्मान योजना पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि लोग कहते हैं कि इन योजनाओं के लिए मोदी के पास पैसे कहां से आए। ये नोटबंदी से आए। लोगों के पास दबे रुपयों को निकालने में सफलता मिली और ये विकास कार्यों में लगाए गए। 
    इसके बाद बिना नाम लिए सोनिया-राहुल पर निशाना साधते हुए कहा कि इन्होंने रुपयों की हेराफेरी की। नोटबंदी के कारण इन्हें जमानत लेनी पड़ी। जमानत पर छूटकर घूम रहे मां-बेटे आज मोदी से हिसाब मांग रहे हैं। 
    मोदी ने जनसमूह से कहा कि बिलासपुर को स्मार्ट सिटी बनाना है। उन्होंने कहा कि हमने प्रत्येक जिले के लिए पृथक-पृथक योजनाएं बनाकर 3000 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं। भाजपा ही वह पार्टी है जो छत्तीसगढ़ को नक्सलवाद से मुक्त कर सकती है। कांग्रेस पर इशारों में हमला करते हुए उन्होंने कहा कि जिन्होंने इसे जन्म दिया और पाला-पोसा वे इसे क्या खत्म करेंगे वे तो इन्हें क्रांतिकारी कहते हैं। 
    छत्तीसगढ़ के चुनावी घोषणा पत्र की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा कि इसमें हर जिले में मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल बनाने की योजना है। लघु सीमांत कृषकों के लिए पेंशन देने की नवीनतम योजना है। लघु उद्योगों की स्थापना के जरिये रोजगार पैदा किए जाएंगे। 
    उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ को बने अब 18 साल हो गए हैं। बेटा-बेटी 18 साल का हो तो परिवार की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। मां-बाप उसके बेहतर भविष्य के लिए नए संकल्प लेते हैं। आप छत्तीसगढ़ के मालिक हैं, निर्णय आपको लेना है। काम करने वाली रमन सरकार को आगे फिर काम करने की जिम्मेदारी सौंपे और प्रदेश में भाजपा की सरकार बनाएं। 

  •  

Posted Date : 05-Nov-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    टुण्डरा, 5 नवंबर। चुनाव प्रचार अभियान के तहत रविवार को टुण्डरा पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी सिर्फ नारे लगाते हैं। गरीबी हटाओ का नारा लगाकर 70 साल लगा दिया। गरीब और गरीब हो गया, गरीब पलायन कर गया, भूख से मौत हो गई।
    डॉ. सिंह ने कहा, मुझे ख्याल नहीं है कि गरीबी दूर करने के लिए कांग्रेस ने कोई योजना बनाई होगी। उन्होंने जनता से पूछा कि क्या कभी गरीबों के लिए चावल की योजना बनाई, नमक की योजना बनाई, आवास योजना बनाए, स्वास्थ्य के लिए स्मार्ट कार्ड दिया, बेटियों को कभी साइकिल दिया था, कभी गैस सिलेंडर दिया था जब नहीं दिया था तो यही बताने आया हूं।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस को गरीब के लिए चिंता हुई, जब 2003 में बीजेपी की सरकार बनी। डॉ. रमन सिंह को मुख्यमंत्री बनाया। उन्होंने कहा कि अभी चुनाव है, ऐसे में कांग्रेस मित्र अभी बड़े-बड़े वादा करेंगे, नारे लगाएंगे, लेकिन देश ने देख लिया, उनके नारे में कोई दम नहीं। देश के नक्शे में सफाया हो गया है, केवल छ: फीसदी हिस्से में  कांग्रेस है, 75 फीसदी हिस्से पर बीजेपी है। आखिर क्या कारण है कि कांग्रेस सिमट कर दो राज्यों में सीमित हो गया। कांग्रेस के नेताओं ने जनता की उपेक्षा की, काम नहीं किया, इसलिए सिमट कर यहां आ गए।
     सीडी कांड का जिक्र करते हुए रमन ने कहा कि राजनीति में गिरावट की यहां पराकाष्ठा है कि कांग्रेस का  प्रदेश अध्यक्ष सीडी के जरिए सत्ता में आने का सपना देख रहा है। ये लोग विकास के मुद्दे पर नहीं बल्कि सीडी के मुद्दे पर चुनाव जीतना चाहते हैं।
    डॉ.रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ को विकास की गति देने के लिए आपके सहयोग की जरूरत पड़ेगी। बीजेपी की सरकार यदि छत्तीसगढ़ में बन रही है तो यहां से भी बीजेपी का विधायक बनना चाहिए। उन्होंने कहा, सतनाम समाज के तमाम संत महात्माओं को याद करते हुए यहां की मिट्टी को मैं आज अपने माथे पर लगाता हूं।
    उन्होंने कहा कि यह चुनाव छत्तीसगढ़ का चुनाव नहीं है या आपके विधानसभा का चुनाव नहीं है। पूरा देश देख रहा है कि बीजेपी सरकार ने गांव गरीब और किसानों के लिए जो काम किया है जो योजनाएं बनाई, उन  योजनाओं का पांच साल में कितना असर हुआ है। वनवासी क्षेत्रों में रहने वाला वनवासी भाई बंधु के लिए जो योजनाए बनाई, उन योजनाओं का असर इस चुनाव में मिलेगा।
    भाजपा सरकार ने टुण्डरा में कोई 
    काम नहीं किया-कांगे्रस
     रविवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए कांग्रेस के नगर पंचायत टुण्डरा अध्यक्ष प्रतिनिधि दिनेश देवांगन ने कहा कि भाजपा सरकार ने टुण्डरा नगर में कोई काम नहीं किया है, जिसे हम बता सके। पिछले बार जब कसडोल में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी आये थे, तब हम नगर पंचायत प्रतिनिधि कुछ मांगों को ले कर गये थे-जैसे कॉलेज, स्वास्थ्य केंद्र। तब बिलाईगढ़ विधायक सनम जांगड़े वहीं पर मुख्यमंत्री के साथ बैठे थे, फिर भी आवेदन एवं टुण्डरा की समस्याओं के बारे में एक शब्द नहीं बोले और आज आचार संहिता लगने के बाद क्या करने आये हैं। टुण्डरा में कुछ देने नहीं मांगने आये हैं। जनता से वोट अपने बिलाईगढ़ विधानसभा भाजपा प्रत्याशी के लिये मांगने आये हैं।
    कांग्रेस सरकार आने पर किसानों का कर्ज माफ
    कांग्रेस नेता सतीश साहू अध्यक्ष टुण्डरा नगर साहू संघ ने कहा कि भाजपा सरकार किसानों से धान समर्थन मूल्य  2100 एवं 300 बोनस कुल 2400 रुपये और धान का एक-एक बीज को खरीदने के वादे को जीतने के बाद भूल गई। आज फिर भोली-भाली जनता को नये-नये वादे कर रहे हैं। एक बार धोखा खाये हैं, दूसरी बार नहीं खाएंगे और जो कांग्रेस बोलता है ओ करता है। इस बार कांग्रेस सरकार आने पर किसानों का कर्ज माफ हो जाएगा।

  •  

Posted Date : 28-Oct-2018
  • कल सुनवाई 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 28 अक्टूबर। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरम लाल कौशिक सहित अनेक नेताओं के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर याचिका दायर की गई है। इस याचिका की ग्राह्यता पर सोमवार को हाईकोर्ट में सुनवाई होगी।
    अधिवक्ता हिमांशु शर्मा की ओर से बिलासपुर से निर्दलीय उम्मीदवारी के लिए पर्चा खरीदने वाले पवन अवस्थी ने यह याचिका शनिवार को दायर की। इसे हाईकोर्ट में सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कर लिया गया है। याचिका में कहा गया है कि भाजपा अध्यक्ष शाह, सीएम डॉ. सिंह, प्रदेश अध्यक्ष कौशिक, राज्यसभा सदस्य सरोज पांडेय व प्रदेश के मंत्री अमर अग्रवाल ने आचार संहिता लागू होने के बाद बिलासपुर और बस्तर में सभाएं ली हैं। इसके अलावा प्रदेशभर में मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए 50 लाख स्मार्ट फोन वितरित किए गए हैं। इन मोबाइल फोन्स को चालू करने पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का संदेश सबसे पहले प्रदर्शित होता है। फोन के पीछे छत्तीसगढ़ शासन का लोगो भी लगा हुआ है। चुनाव प्रचार में मुख्यमंत्री का अनुचित तरीके से इस्तेमाल किया जा रहा है। प्रदेश के अन्य मंत्री भी चुनाव प्रचार में अपने पद का दुरुपयोग कर रहे हैं। याचिका में इस पर रोक लगाने की मांग की गई है। 

  •  

Posted Date : 27-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 27 अक्टूबर । आज हुए एक महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाक्रम में कांग्रेस विधायक डॉक्टर रेणु जोगी और जोगी कांग्रेस प्रमुख अजीत जोगी के लिए नामांकन फार्म खरीदा गया है। ये दोनों फार्म जोगी कांग्रेस के नेता विशंभर गुलहरे ने खरीदे हैं। रेणु जोगी के लिए कोटा सीट से और अजीत जोगी के लिए मरवाही सीट से यह नामांकन फार्म खरीदा गया है।
    इधर आज अपना जन्मदिन मना रही रेणु जोगी  का इस संबंध में कहना है कि यह फार्म मेरी सहमति से नहीं लिया गया है। कोई भी व्यक्ति किसी के भी नाम पर फॉर्म खरीद सकता है। उन्होंने किसी को अभी फार्म खरीदने के लिए नहीं कहा है। वे अभी कांग्रेस में ही है। वहीं जोगी कांग्रेस की ओर से इस संबंध में कोई अधिकृत बयान जारी नहीं किया गया है। 
    मालूम हो कि अपने पति व छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के प्रमुख अजीत जोगी तथा अपने विधायक बेटे अभी जोगी के साथ डॉक्टर रेणु जोगी उनकी पार्टी में नहीं गई और वे लगातार कांग्रेसी में बनी हुई हैं।
    उन्होंने कई मौकों पर कांग्रेस के प्रति अपनी निष्ठा तथा सोनिया गांधी परिवार से अपने संबंधों का हवाला दिया है।
    आज उनके नाम से नामांकन पत्र खरीदे जाने के बाद राजनीतिक गलियारे में यह चर्चा तेज हो गई है कि क्या वे अगला चुनाव छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस से लडऩे जा रही हैं। 
    डॉ रेणु जोगी ने कोटा से विधानसभा टिकट की मांग की थी। नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने भी उन्हें विधायक होने के नाते कोटा से टिकट का स्वाभाविक दावेदार बताया था। हालांकि कांग्रेस सूत्र बताते हैं कि पिछले 2 दिनों तक दिल्ली में हुई केंद्रीय चुनाव समिति की बैठकों में उनके नाम पर विचार नहीं किया गया।

  •  

Posted Date : 26-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 26 अक्टूबर। पेंड्रा से भाजपा नेता पूरन छाबरिया ने शहर विधायक व नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल के खिलाफ झूठे मामले में फंसाने व प्रताडि़त करने की शिकायत थाने में दर्ज कराते हुए सुरक्षा की मांग की है।
    पूरन छाबरिया पिता स्व. तोतलमल छबरिया उम्र 58 वर्ष ने अपनी शिकायत में बताया कि वे 30 से अधिक सालों से भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता हैं। उन्होंने भाजपा में रहते हुए वार्ड अध्यक्ष, नगर अध्यक्ष, युवा मोर्चा अध्यक्ष, मंडल अध्यक्ष, जिला मंत्री व प्रदेश कार्यपरिषद के पद पर कार्य किया है। उनका कहना है कि वर्ष 1998 से 2000 तक संगठन में मतभेदों के कारण मंत्री अमर अग्रवाल उनके परिवार के प्रति द्धेष का भाव रखते हैं। इसी वजह से अपने पद का दुरूपयोग कर उनको झूठे प्रकरण में फंसाया जा रहा है। मंत्रीजी के दबाव में उनके खिलाफ धारा 110 के तहत कार्रवाई की गई। उनके परिवार के व्यवसाय को लेकर आबकारी विभाग में झूठी शिकायत कर प्रकरण दर्ज कराए गए। 
    छाबरिया ने बताया कि वर्तमान में उनके बड़े भाई के पटियाला होटल में कार्रवाई की बात कही गई है। उन्होंने चुनाव के दौरान मंत्री अमर से अपने परिवार को खतरा बताते हुए आशंका जताई है कि किसी भी समय उनके परिवार को झूठे केस में फंसाया जा सकता है, इसलिए उन्होंने सुरक्षा की मांग की है।

  •  

Posted Date : 24-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

     बिलासपुर, 24 अक्टूबर। कर्ज से दबे बैगा आदिवासी  किसान ने कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली। मामला लोरमी थानाक्षेत्र के खुडिय़ा चौकी के टिंगीपुर गांव का है। बताया जा रहा है कि किसान ने किसी निजी  बैंक से 40 हजार रुपए का कर्ज ले रखा था।
    पुलिस के अनुसार मृतक का नाम श्याम सिंह बैगा  है। उसके परिजनों के अनुसार उसने किसी निजी बैंक से 40 हजार रुपए का कर्ज लिया था, कम बारिश के चलते  बड़ा नुकसान हुआ।  जिससे  चिंतित था। मामले की जांच खुडिय़ा चौकी प्रभारी एसआई राठौर कर रहे हैं। जांच में पता चला है कि किसान ने बैंक से कर्ज लिया था। कर्ज ना चुका पाने से उसने आत्महत्या जैसा कदम उठाया।
    ज्ञात हो कि विशेष संरक्षित बैगा आदिवासी को राष्ट्रपति का दत्तक पुत्र कहा जाता है। श्याम सिंह बैगा भी इसी आदिवासी जाति का था।
    लोरमी इलाके में इस साल औसत से भी कम बारिश हुई। पर्याप्त बारिश नहीं होने से ज्यादातर किसानों की फसल खराब हो गई है।

  •  

Posted Date : 13-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    बिलासपुर, 13 अक्टूबर। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने आज यहां एक विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस एवं भाजपा ने जब भी मौका मिला दलितों, आदिवासियों व पिछड़ों का जमकर शोषण किया और किसानों, मजदूरों, युवाओं तथा बेरोजगारों से किए गए चुनावी वायदे पूरे नहीं किए। अलग राज्य बनने के बाद भी छत्तीसगढ़ का पिछड़ापन दूर नहीं हुआ। गठबंधन की पूर्ण बहुमत की सरकार बनने पर ही प्रदेश में खुशहाली आ सकती है। 
    सरकंडा स्थित जिला खेल परिसर में आज छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी की संयुक्त चुनावी आम सभा रखी गई थी। खेल परिसर तो खचाखच भरा ही थी, उसके कहीं ज्यादा लोग सड़कों पर बैठकर अजीत जोगी और मायावती का भाषण सुन रहे थे। 
    मायावती ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आप लोग अपने छोटे-मोटे साधनों से मुझे सुनने के लिए यहां पहुंचे, इसके लिए आभारी हूं। छत्तीसगढ़ में दो चरणों में चुनाव की घोषणा हो चुकी है। हमने इस चुनाव में जनता कांग्रेस के संस्थापक अजीत जोगी को अपना मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित किया है। कोशिश यह होनी चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतें और अपने बलबूते पूर्ण बहुमत की सरकार हम बनाएं। गठबंधन की सरकार बनने पर ही दलित, आदिवासी, पिछड़ा, गरीब, मजदूर, किसान, व्यापारियों का सही विकास हो सकेगा, वे सम्मान के साथ जिंदगी बसर कर सकेंगे और गुरु घासीदास, बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर तथा कांशीराम का सपना साकार हो सकता है। मजबूरी में नक्सली बने युवा सही रास्ते पर आएंगे और नक्सलवाद खत्म हो सकता है। 
    मायावती ने कहा कि दूसरे राज्यों की तरह छत्तीसगढ़ में भी जाति, धर्म के आधार पर अल्पसंख्यक होने के कारण इसाई और मुस्लिम भाईयों की स्थिति खराब होती जा रही है। इनको सरकारी संरक्षण मिल रहा है। बाबा साहेब द्वारा संविधान में की गई व्यवस्था के मुताबिक आरक्षण का सही लाभ लोगों को नहीं मिल रहा है। इसके लिए कांग्रेस-भाजपा एंड कम्पनी जिम्मेदार है। यहां पूंजीवादी, जातिवादी और सम्प्रदायवादी सरकार चल रही है। 15 साल से तो यहां भाजपा की ही सरकार है। इस लम्बी अवधि में प्रदेश की जनता का उत्थान नहीं हुआ, पिछड़ापन दूर नहीं हुआ। जबकि जनता मान रही थी कि अलग राज्य बनने पर इसका युद्ध स्तर पर विकास होगा। सही पार्टी की सरकार नहीं होने के कारण यहां लोगों को निराशा ही मिली। बीजेपी के राज में दलित, आदिवासी व अन्य पिछड़ा वर्ग की उपेक्षा बढ़ी है, इन वर्गों को केन्द्र ने हर मामले में पीछे धकेल दिया है।  बसपा सुप्रीमो ने केन्द्र की सरकार को घेरते हुए कहा कि भाजपा ने जो चुनावी वायदे किए थे, उनमें से एक चौथाई भी पूरे नहीं हुए। उन्होंने लोगों से पूछा कि क्या चुनावी वायदों के अनुसार विदेशों से काला धन आ गया और उनके खातों में 15-20 लाख रुपए जमा हो गए। मायावती ने कहा कि किसी भी गरीब परिवार के खाते में कोई रकम नहीं आई। यही बात पूरे देश की जबान में है। 
    खाद्यान्न की कीमतें घटाने, किसानों की आय दुगुनी करने, गरीबी और बेरोजगारी दूर करने के उनके वायदे पूरे नहीं हुए। केन्द्र सरकार विश्वासघाती है और उसने वायदाखिलाफी की है। बिना तैयारी के नोटबंदी से आर्थिक इमरजेंसी के हालात बने। छोटे मंझोले व्यापारियों का शोषण, उत्पीडऩ हो रहा है। जीएसटी से अर्थव्यवस्था चरमरा गई। डीजल पेट्रोल और रसोई गैस की बढ़ती कीमत ने आम आदमी की मुश्किलें बढ़ा दी है। 
    मायावती ने कहा कि बोफोर्स की तरह राफेल सौदे में भी भारी घोटाला हुआ है। जनता को केन्द्र सरकार संतोषजनक जवाब नहीं दे पा रही है। रक्षा सौदों की खरीदी के मामले में न तो कांग्रेस का दामन साफ है न भाजपा का। बैंकों के हजारों करोड़ रुपए का गबन करने वाले मिलीभगत से विदेश फरार हो गए हैं। गौ हत्या के नाम पर भीड़ का हमला और हत्याएं लोकतंत्र को कलंकित कर रही है। बीजेपी की सरकारें इन मामलों में लापरवाह और उदासीन हैं। संविधान की मंशा के विरुद्ध दलितों और मुस्लिमों के विरुद्ध पक्षपात पूर्ण रवैया अपनाया जा रहा है। केन्द्र में भाजपा की सरकार आने के बाद से स्थिति अधिक खतरनाक हो गई है। लाखों पद खाली हैं, पर युवाओं की भर्ती नहीं हो रही है। 
    मायावती ने कहा कि दलितों, आदिवासियों के आक्रोश के कारण इन्हें इन वर्गों के संतों और महापुरुषों को मजबूरी में सांकेतिक रूप से याद करना पड़ रहा है लेकिन इससे शोषित समाज का भला नहीं होगा। दलित पिछड़ावर्ग समाज हर तरह के कठोर संघर्ष के लिए तैयार है और वे कोई भी कुर्वानी देने के लिए तैयार हैं। 
    मायावती बनेंगी देश की प्रधानमंत्री-जोगी 
    जनता कांग्रेस जोगी प्रमुख अजीत जोगी ने जनता से छत्तीसगढ़ी में भाषण की अनुमति मांगी। उन्होंने दाई, दीदी, भैया, नोनी, बहिनी, नौजवान मित्र से अपने भाषण की शुरूआत की इसके बाद तालियों और सीटियों की गूंज होने लगी। उन्होंने मायावती के लिए कहा कि आज आपने जिनको देखा, सुना वो केवल छत्तीसगढ़ की नेता या उत्तरप्रदेश की चार बार मुख्यमंत्री रहने वाली नहीं है वह भारत की प्रधानमंत्री बनेंगी, ऐसा हमारा और जनता का संकल्प है। उन्होंने मायावती से कहा अगर हमारी सरकार बनी तो हम पूरे ग्यारह सांसद आपके चरणों में समपर्पित कर देंगे। जोगी ने मुख्यमंत्री रमन सिंह को लबरा बताते हुए दोहे के माध्यम से निशाना साधा। 
    अनुमान, एक लाख लोग जुटे
    कार्यक्रम के लिए सरकंडा खेल परिसर मैदान छोटा पड़ गया। भीड़ इतनी अधिक थी कि कार्यक्रम स्थल तो पूरा भरा रहा साथ ही जगह ना मिलने की वजह से जोगी और मायावती को सुनने आए लोगों को बाहर ही रुकना पड़ा। कुछ लोगों दीवारों में छतों में चढ़कर कार्यक्रम को देख रहे थे तो हजारों की संख्या में लोग बाहर तेज धूप में सड़क पर खड़े होकर या इधर उधर बैठकर जोगी और मायावती जी को सुन रहे थे। अनुमान लगाया जा रहा है कि दोनों नेताओं को सुनने करीब एक लाख लोग पहुंचे थे। 

  •  

Posted Date : 09-Oct-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर/तखतपुर, 9 अक्टूबर। तखतपुर ब्लाक स्थित खपरी नर्मदा गांव के सरकारी रेस्ट हाउस में बीती रात पति-पत्नी की लाश मिलने से हड़कंप मच गया। जबकि तीसरी पीडि़ता को गंभीर हालत में सिम्स में भर्ती कराया गया है। महिला को घायल करने वाला उसका पति है, जिसने  महिला के माता-पिता की कुल्हाड़ी से हत्या कर दी थी। 
    पुलिस के अनुसार तखतपुर के खपरी नर्मदा गांव स्थित पीडब्लूडी गेस्ट हाउस में मुंगेली जिले का वीरगांव निवासी सियाराम धुरी चौकीदारी था। उसके साथ उसकी पत्नी शकुन  भी रहती थी। बेटी उमा की शादी  पास के ही गांव के अश्वनी धुरी नामक युवक से की थी।  उमा जब गर्भवती थी, तब अश्वनी ने उसे घर से निकाल दिया। कुछ दिनों के बाद  सामाजिक तलाक हो गया। इसके बाद से उमा ढाई सालों से खपरी ग्राम में अपने मां-बाप के साथ रह रही थी। 
     अश्वनी पिछले दो सालों से गेस्ट हाउस जाकर नशे में सास-ससुर और अपनी पत्नी के साथ मारपीट करता था। उमा को घर वापस ले जाने की बात कहता। उमा के मां-बाप ने मारपीट और जान लेवा हमले की शिकायत कई बार पुलिस थाने में की। बावजूद पुलिस ने अश्वनी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।
     उमा और उसके परिजनों के अनुसार बीती रात अश्वनी नशे में कुल्हाड़ी लेकर रेस्ट हाउस पहुंचा और उमा के माता-पिता  की हत्या कर दी।  उसने उमा पर भी कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला किया और  मरा समझ कर चला गया।
    इस बीच उमा अश्वनी से जान बचाकर रेस्ट हाउस के बाहर झाडिय़ों में छिप गई। घटना के समय उमा का ढाई साल का बेटा कमरे में सो रहा था। बच्चे को बचाते हुए उमा ने इमरजेंसी गाड़ी को कॉल किया। करीब एक घंटे बाद मौके पर गाड़ी पहुंची। सड़क पर पहुंचकर उमा ने गाड़ी को हाथ दिखाया। इसके बाद वह गिर गई। जब इस घटना की जानकारी पुलिस हुई, तब पुलिस ने तत्काल घायल उमा को सिम्स के हवाले कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है। 
    डॉक्टरों ने बताया कि उमा की हालत काफी नाजुक है। जगह-जगह कुल्हाड़ी से हमले के कारण गहरी चोटें आई है। खून चढ़ाने के साथ उसका इलाज गंभीरता से किया जा रहा है। पुलिस के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए परिजनों ने कहा यदि पुलिस समय पर अश्वनी के खिलाफ कार्रवाई करती तो शायद आज ऐसी स्थिती नहीं होती। परिजनों के अनुसार उनको घटनी की जानकारी सुबह 4 बजे तखतपुर पुलिस से मिली।

  •  

Posted Date : 29-Sep-2018
  • रिपोर्ट और तस्वीर - सत्यप्रकाश पाण्डेय 
    बिलासपुर, 29 सितंबर (छत्तीसगढ़)। देश के दूसरे नंबर की सबसे बड़ी दुर्गा प्रतिमा शहर में स्थापित होगी। मूर्ति बनाने का काम पूरा कर मूर्तिकार प्रतिमा को अंतिम रूप दे रहे हैं। उनके रंग-रोगन का काम बाकी है जिसे मूर्तिकार आने वाले दिनों में पूरा कर लेंगे। 
    माँ दुर्गा के विराजित होने का समय नजदीक आते ही प्रतिमाएं आकार ले चुकी हैं। 10 अक्टूबर से प्रारंभ होने वाली नत्ररात्रि की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है। नवरात्रि के महीनों पहले से ही मूर्तिकार मूर्ति बनाने की तैयारियां शुरू कर देते हैं। इस बार शहर में सबसे बड़ी दुर्गा प्रतिमा व्यापार विहार स्थित रामा पोर्ट के बगल में विराजित होगी। बंगाल से आए मूर्तिकारों ने अपनी कलाकुशलता से भव्य प्रतिमा को आकार दे दिया है, मूर्ति की ऊंचाई करीब 50 फीट बताई जा रही है।
    बंगाल के मूर्तिकारों की मानें तो देश में सबसे बड़ी दुर्गा प्रतिमा कोलकाता में बनाई जा रही है जिसकी ऊंचाई 105 फीट है। देश का दूसरा शहर छत्तीसगढ़ का बिलासपुर होगा जहां इतनी विशालकाय माँ की मूरत भक्तों के आकर्षण का केंद्र होगी। उन्होंने बताया कि यह दुर्गा प्रतिमा देश में दूसरे और छत्तीसगढ़ में पहले स्थान का दर्जा रखती है। इस मूर्ति की कीमत लाखों में बताई जा रही है, मूर्तिकारों की टीम ने पिछले साल कोलकाता में 112 फीट ऊंची दुर्गा प्रतिमा बनाई थी जिसकी कीमत 90 लाख रूपये थी।

  •  

Posted Date : 27-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 27 सितंबर। कटघोरा से डोंगरगढ़ के बीच प्रस्तावित 294.53 किलोमीटर की नई रेललाइन बिछाने को लेकर केन्द्रीय मंत्रीमंडल ने मंजूरी दे दी है। इसका फायदा अब छत्तीसगढ़ के पांच राज्यों कोरबा, बिलासपुर, मुंगेली, राजनांदगांव व कबीरधाम जिले के लोगों को भी मिलेगा।
    परियोजना की अनुमति मिलते ही दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे जीएम सुनील सिंह सोइन ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए इसकी जानकरी दी। उन्होंने बताया कि इससे अब औद्योगिक विकास का द्वार खुलेगा। 294.53 की रेल लाइन बिछने से विभिन्न रेल सुविधाएं मिलेंगी। इस परियोजना में 25 नए स्टेशन बनाए जाएंगे। इसमें कवर्धा, मुंगेली, तखतपुर, रतनपुर आदि शामिल है। कुछ साल पहले रेल मंत्रालय और राज्य सरकार ने यह 

    निर्णय लिया था कि ऐसे राज्य जहां रेल लाइन नहीं है उन स्थानों के लिए ज्वाइंट वेंचर बनाकर सुविधा उपलष्ध की जाए। 
    छत्तीसगढ़ पहला राज्य है जहां रेल कार्पोरेशन लिमिटेड की कंपनी रेल लाइन का काम करेगी। कटघोरा से मुंगेली होते हुए डोंगरगढ़ तक नई रेल लाइन बिछाने सर्वे किया गया था। 29 मई 2018 को इसके लिए स्पेशल प्रोजेक्ट बनाया गया था। इसके बाद 16 जुलाई को इसकी रिपोर्ट बनाकर रेल्वे बोर्ड को भेजा गया। रेल मंत्रालय और छत्तीसगढ़ सरकार की भागीदारी के साथ इस परियोजना में करीब 5 हजार 950 करोड़ खर्च होने वाले है।

  •  

Posted Date : 25-Sep-2018
  • बेलतरा विकास यात्रा में सीएम
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 25 सितंबर। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह  ने आज कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण अटलजी ने किया था और इसीलिए 15 साल से छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार अटल है और विकास की यह अटल यात्रा अगले पांच साल भी जारी रहेगी। उन्होंने बेलतरा को पूर्ण तहसील का दर्जा देने तथा यहां पुलिस चौकी खोलने की घोषणा की।
    अटल विकास यात्रा के तहत बेलतरा पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जनसभा में उपस्थित से अपील की, कि जिस तरह वे लगातार भाजपा को जीत दिलाते आए हैं उसी तरह अगले विधानसभा चुनाव में भी भाजपा को जीत दिलाएं ताकि पूर्व विकसित छत्तीसगढ़ के लक्ष्य को पूरा किया जा सके। 
    मुख्यमंत्री ने पं. दीनदयाल उपाध्याय को आज मनाए जा रहे जन्मदिन पर याद किया और कहा कि सरकार गरीब की सेवा के उनके लक्ष्य पर काम कर रही है। एक बार फिर मुख्यमंत्री ने कांग्रेस पर धान बोनस और समर्थन मूल्य पर निशाना साधा और कहा कि वे सिर्फ मांग करते रहे कि धान की कीमत 2100 रुपए दो, हम आज केन्द्र के बढ़े समर्थन मूल्य और राज्य सरकार के बोनस के साथ प्रति क्विंटल यह दाम देने जा रहे हैं, जो देश में सर्वाधिक कीमत है। 
    उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 50-60 साल के शासन में सिर्फ गरीबी हटाओ का नारा दिया गरीबों के लिए कुछ नहीं किया। उपस्थित जनसमूह से उन्होंने हामी भरवाई और कहा कि एक दो रुपए किलो चावल कांग्रेस ने कभी नहीं दिया, गरीबों के इलाज के लिए कोई राशि नहीं दी, धान की समर्थन मूल्य पर पांच क्विंटल की ढेरों शर्तें लादकर खरीदी का फैसला लिया। सबके लिए स्वास्थ्य बीमा, गरीबों के लिए आयुष्मान भारत योजना तथा उज्ज्वला गैस योजना का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा सड़क, भवन, पुल पुलिया तो बन जाते हैं पर ये दोनों योजनाएं ऐसी हैं जिससे हमारे-आपके बीच जीवन भर का अनुबंध हो गया है। 
    मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना, सौर सुजला, उजाला योजना, स्काई योजना, फ्लैट रेट बिजली आदि योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि एक-एक योजना का नाम लेंगे तो बेलतरा में ही शाम हो जाएगी, आपको गांवों में जाकर देखना होगा कि एक-एक योजना पर काम किस प्रकार हुआ है। इसी को विकास कहते हैं। मुख्यमंत्री ने उज्ज्वला गैस योजना में सर्वाधिक गैस कनेक्शन बांटे जाने पर लोगों को बधाई दी। उन्होंने बताया कि अकेले बेलतरा क्षेत्र में स्काई योजना के तहत 28 हजार मोबाइल फोन बांटे जा रहे हैं। 
    इससे पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष व क्षेत्रीय उपाध्यक्ष बद्रीधर दीवान तथा सांसद लखन लाल साहू ने अपने विचार रखे। दीवान की मांग पर उन्होंने बेलतरा उप-तहसील को पूर्ण तहसील का दर्जा देने और बेलतरा में पुलिस चौकी खोले जाने की घोषणा की। इसके पूर्व कलेक्टर पी. दयानंद ने बताया कि 64 करोड़ रुपए के विभिन्न कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया जा रहा है। 
    कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरम लाल कौशिक, नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल, गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष भूपेन्द्र सवन्नी, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पांडेय, जिला भाजपा अध्यक्ष रजनीश सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक साहू, द्वारिकेश पांडेय व बेलतरा क्षेत्र के अनेक जनप्रतिनिधि व आम जन उपस्थित थे। 

  •  

Posted Date : 24-Sep-2018
  • मरवाही-कोटमी को 132 करोड़ की सौगात
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 24 सिंतबर। चुनाव जीते बर अजीबो गरीब तालमेल होवत हे, हाथी ह नांगर मं फंदाए हे, हाथी और नागर के बेजोड़ जोड़ी देख लो।  किसान मन ला कहत हों तोर खेत ला हाथी नई जोतय, खेत ला रौंद डालही। बइला-भैंइसा हा जोतही तोर नागर ला।  प्रदेश में हुए चुनाव गठबंधन पर तंज कसते मुख्यमंत्री रमन सिंह  ने उक्त बातें बिलासपुर मरवाही के कोटमी में विकास यात्रा के दौरान आयोजित सभा में कही। इस मौके पर उन्होंने 132 करोड़ की कामों की सौगात थी। 49 कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। हितग्राहियों को योजनाओं की सौगात दी।
    सभा को संबंधित करते सीएम ने कहा कि यह विकास यात्रा नहीं विश्वास की यात्रा है। यह मेरे लिए तीर्थयात्रा के बराबर है। जनता का आशीर्वाद लेने आया हूं।मुख्यमंत्री ने कहा कि आप लोगों ने लगातार एक को इस आशा से चुना कि वह विकास लेकर आएंगे, लेकिन वास्तविकता यह है कि साफ नीयत और  अटल इरादे के साथ भाजपा की सरकार ही काम करती है। एक बार आप मरवाही से भाजपा का विधायक दें और देखें कि विकास की ऊंचाईयां क्या होती है। विकास तब होता है, जब कमल खिलाता है।  उन्होंने भाषण की शुरूआत ही भाजपा को वोट देकर मरवाही से पार्टी का विधायक चुनने की अपील से की। 
    कोटमी में मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने 132 करोड़ रुपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण व भूमिपूजन किया। इनमें पेंड्रा बाइपास सड़क तथा सिवनी से मरवाही मार्ग का चौड़ीकरण शामिल है। मुख्यमंत्री ने विभिन्न शासकीय योजनाओं से लाभान्वित हितग्राहियों को सामग्री व राशि का चेक वितरित किया। 
    मुख्यमंत्री ने आयुष्मान योजना, सौभाग्य योजना, सहज बिजली योजना, स्वास्थ्य बीमा योजना, एक रुपए-दो रुपए किलो चावल योजना, तेंदूपत्ता बोनस, धान समर्थन मूल्य तथा बोनस आदि का उल्लेख करते हुए कहा कि कांग्रेस ने हमेशा गरीबों की बात की लेकिन गरीबों के लिए काम नहीं किया। बीते 15 सालों से छत्तीसगढ़ के गरीबों ने देखा कि विकास क्या होता है। 
    कार्यक्रम में नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने अपने उद्बोधन में अटल दृष्टि पत्र के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि सन् 2025 तक मुख्यमंत्री ने प्रदेश का सकल घरेलू उत्पाद दोगुना करने का लक्ष्य रखा है। राज्य बनने के समय छत्तीसगढ़ का बजट दो हजार करोड़ का था जो बढ़कर अब 90 हजार करोड़ हो गया है। प्रति व्यक्ति आय भी आठ हजार रुपये से बढ़कर 90 हजार रुपये तक पहुंच चुकी है। 
    इससे पहले कलेक्टर पी. दयानंद ने मरवाही में हुए विकास कार्यों और विभिन्न योजनाओं की मरवाही क्षेत्र में हुई प्रगति का ब्योरा दिया। 

  •  

Posted Date : 22-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
     बिलासपुर , 22 सितंबर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जांजगीर दौरे  का विरोध करने के लिए निकले नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बिलासपुर की सीमा से बाहर निकलते ही गिरफ्तार कर लिया। उन्हें ढेका स्थित कैरियर पाइंट स्कूल के अस्थायी जेल में दाखिल कराया गया है।  आज सुबह करीब 10 बजे कांग्रेस भवन से पार्टी कार्यकर्ता गांधी चौक तक पहुंचे। गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद जांजगीर के लिए कार्यकर्ता गुरुनानक चौक से बाहर निकले। इस पूरे रास्ते पर पुलिस बल भारी संख्या में तैनात थी। ढेका के पास पहुंचे ही पुलिस ने कांग्रेसियों को रोकना शुरू किया। एक समय यह स्थिति बन गई कि पुलिस फोर्स को कांग्रेसियों की भीड़ ने धकेलना शुरू कर दिया, लेकिन पुलिस ने उन्हें ढेका में कैरियर पाइंट वर्ल्ड स्कूल को बनाए गए अस्थायी जेल से आगे नहीं बढऩे दिया। यहां लगातार नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह तथा अमर अग्रवाल के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ता नारे लगाते रहे। इस बीच सबसे पहले नेता प्रतिपक्ष सिंहदेव ने गिरफ्तारी दी। इसके बाद जिले व मुंगेली, तखतपुर आदि स्थानों से आए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी दी। पुलिस अधिकारियों ने गिरफ्तार लोगों का नाम-पता लिखने का काम इस समय जारी रखा है, जबकि इनकी संख्या 300 के आसपास हो सकती है।  
    गिरफ्तार नेताओं में जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी, शहर कांग्रेस अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर, प्रदेश प्रवक्ता शैलेष पांडेय, अभय नारायण राय, प्रदेश महामंत्री वाणी राव, प्रदेश सचिव विवेक बाजपेयी, पंकज सिंह, सीमा सोनी, सीमा पांडेय, अकबर खान आदि शामिल हैं। 
    जांजगीर जाने के लिए निकले कार्यकर्ताओं में से अनेक ने पूरी तरह काले कपड़े पहन रखे थे। कुछ ने काला साफा और पट्टियां लगा रखी थीं। तखतपुर, मुंगेली, लोरमी, कोटा आदि जगहों से भी गिरफ्तारियों की जानकारी मिल रही है। 

     प्रधानमंत्री को काला झंडा दिखाने रवाना हुए कांग्रेसजनों को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन ने तगड़ी मोर्चाबंदी कर रखी है। सूत्रों की माने तो पुलिस कांग्रेसजनों को बलौदाबाजार में ही रोक लेगी और आगे बढऩे नहीं देगी। भूपेश बघेल के नेतृत्व में रायपुर और आसपास के जिलों से जांजगीर निकले कार्यकर्ता व पदाधिकारियों को बलौदाबाजार से आगे बढऩे नहीं दिया जाएगा।
     वरिष्ठ नेता डा. चरणदास महंत इस समय चांपा में हैं, वे भी अपने समर्थकों और अन्य नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ जांजगीर रवाना होंगे, उन्हें चांपा में ही रोकने की तैयारी की गई है।
    रेलवे स्टेशनों में विशेष निगरानी
    आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जांजगीर में आयोजित कार्यक्रम में काला झंडा अलग-अलग स्थानों से निकले कांग्रेसजनों को रोकने पुलिस ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। बताया जाता है कि पुलिस के अधिकारी और जवानों को सिविल डे्रस में तिल्दा, भाटापारा, बिलासपुर, अकलतरा, जांजगीर-चांपा, कोरबा, खरसिया, रायगढ़ में तैनात किया गया है।
    इन टीमों को सख्त निर्देश दिया गया है कि किसी भी कीमत पर कांग्रेसजन जांजगीर में न पहुंचे। इसी बीच सूचना मिल रही है कि रायगढ़ से जांजगीर आ रहे कांग्रेस के 40 कार्यकर्ताओं को रेलवे स्टेशन में तथा भाटापारा से जांजगीर जा रहे कांग्रेस के 20 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है।

     

  •  

Posted Date : 20-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 20 सितंबर। कांग्रेस भवन में घुसकर कांग्रेसियों पर लाठी चलाने का आदेश देने और इस दौरान पत्रकारों से दुव्र्यवहार के आरोप से घिरे बिलासपुर के एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर को पुलिस मुख्यालय में अटैच कर दिया गया है। 
    मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज सूरजपुर में पत्रकार वार्ता में यह घोषणा की। मालूम हो कि बीते 18 सितंबर को हुई इस घटना के दौरान कांग्रेस भवन में पुलिस बल को लेकर एडिशनल चंद्राकर और सिविल लाइन थाने के प्रभारी जगदीश मिश्रा ही पहुंचे। कांग्रेस उनकी बर्खास्तगी की मांग पर अड़ी हुई है। हालाकि कल जिला पुलिस अधीक्षक आरिफ एच शेख ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा था कि फिलहाल चंद्राकर अपने पद पर बने रहेंगे। 
    चंद्राकर के खिलाफ पत्रकारों में भी रोष था। घटना कव्हर करने गए पत्रकारों के साथ चंद्राकर ने दुव्र्यवहार किया। उन्हें कांग्रेसी बताया और देख लेने की धमकी दी। इसे लेकर प्रेस क्लब अध्यक्ष तिलक राज सलूजा ने आईजी प्रदीप गुप्ता से मुलाकात की थी। बुधवार को प्रेस क्लब में एक बैठक हुई, जिसमें चंद्राकर पर कार्रवाई के लिए पुलिस प्रशासन को 48 घंटे की मोहलत दी गई थी। 

  •  

Posted Date : 19-Sep-2018
  • 7 नेताओं का इलाज जारी, 52 पर बलवे का केस 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 19 सितंबर। कांग्रेस भवन में घुसकर कांग्रेसियों पर लाठी चार्ज करने की घटना ने तूल पकड़ लिया है। आज कांग्रेसी सिविल लाइन थाना घेरने निकले और सड़क धरने पर बैठ गए हैं। समाचार लिखे जाने तक प्रदर्शन जारी था। वहीं जिले के कई इलाकों से  प्रशासन क पुतला फूंके जाने के समाचार हैं। कल की घटना में पुलिस ने कांग्रेस के 52 पर बलवा और सरकारी काम में बाधा डालने का अपराध दर्ज किया है। इधर  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह इस घटना की  दंडाधिकारी जांच के आदेश दिए है। इससे असंतुष्ट कांग्रेसी न्यायिक जांच की मांग कर रहे हैं। इसके पहले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल कल रात यहां पहुंचे थे जो आज कांग्रेस हाईकमान को जानकारी देने के लिए दिल्ली रवाना हो गए हैं। पुलिस की लाठियों से घायल प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव सहित 8 कांग्रेस नेताओं का सिम्स में इलाज चल रहा है। 
    आज दोपहर 12 बजे कांग्रेस भवन में  जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी सहित जिले के सभी वरिष्ठ कांग्रेसजन पहुंचे और एक घंटे की बैठक लेकर सिविल लाइन थाना घेरने निकल गए। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता शैलेष पांडेय ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा की गई घटना की दंडाधिकारी जांच से हम संतुष्ट नहीं है। इसकी जांच हाईकोर्ट के मौजूदा जज से कराई जाने की मांग पर हम कायम है। वीडियो फुटेज में साफ है कि कांग्रेस भवन के भीतर घुसकर पुलिस ने चुन-चुनकर कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को दौड़ाया, घसीटा और लाठियां बरसाई। 
    मालूम हो कि घटना की शुरूआत बुधवार से हुई थी। कथित रूप से मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा था कि वे कांग्रेसियों द्वारा 30 साल से फैलाए गए कचरे को साफ कर रहे हैं। 
    इसके विरोध में मंत्री के घर के सामने प्रदर्शन करने का कांग्रेस ने कार्यक्रम बनाया था। कल ही कोटा में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का कार्यक्रम था, जिसके चलते मंत्री अमर अग्रवाल के बंगले पर ज्यादा फोर्स तैनात नहीं की गई थी। 
    हालांकि मुख्य मार्ग पर दोनों ओर बेरिकेड्स लगाए गए थे। लेकिन पुलिस को चकमा देते हुए कई कांग्रेसी एक गली से मंत्री के बंगले के दरवाजे पर पहुंच गए और गेट से भीतर की ओर कचरा फेंकने लगे। पुलिस के साथ यहां प्रदर्शनकारियों में धक्का-मुक्की हुई। 
    पुलिस यहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार नहीं कर पाई, क्योंकि उन्हें ले जाने के लिए उनके पास कोई वाहन भी नहीं था। कांग्रेस कार्यकर्ता कांग्रेस भवन पहुंचे तब तक कोटा से लौट रही पुलिस फोर्स को कांग्रेसियों के पीछे लगाया गया। पुलिस ने कांग्रेस भवन पहुंचकर कांग्रेसियों को गिरफ्तारी देने के लिए कहा। लेकिन कांग्रेसियों ने खुद को ग्रिल में बंद कर लिया। पुलिस ने करीब एक घंटे तक कांग्रेसियों को निकलकर गिरफ्तारी देने कहा। 
    बाद में वहां मौजूद एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर के निर्देश पर पुलिस ने बलात् कांग्रेस भवन में प्रवेश किया और कांग्रेसियों को बाहर निकालते हुए लाठियों से पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान जो कांग्रेसी विरोध नहीं कर रहे थे, उनको भी पीटा गया। कुछ वीडियो ऐसे भी सामने आए हैं, जिसमें कई पुलिस कर्मी एक कार्यकर्ता को पूरे कांग्रेस भवन में दौड़ा-दौड़ा कर पीट रहे हैं। महामंत्री अटल श्रीवास्तव पर जमीन पर गिर जाने के बाद भी लगातार लाठियों से प्रहार किया गया। पिटाई के कारण उनके ऊपर कार्यकर्ता गिर पड़े। पुलिस वैन में सबको भरकर कोनी थाना ले जाया गया। 
    कोनी से करीब दो दर्जन कांग्रेसियों को सिम्स चिकित्सालय लाकर मुलाहिजा कराया गया। इनमें से अटल श्रीवास्तव एक महिला कांग्रेस नेत्री आशा पांडे सहित सात लोगों को ज्यादा चोट आई है। इनका सिम्स में इलाज चल रहा है। 
    रात में ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल बिलासपुर पहुंचे। उन्होंने सिम्स में घायलों से मुलाकात के बाद पत्रकारों से कहा कि एक पुलिस अधिकारी में इतनी हिम्मत नहीं कि कांग्रेस भवन में घुसकर चुन-चुनकर पदाधिकारियों पर लाठी चार्ज करे। यह मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और मंत्री अमर अग्रवाल की साजिश है। यहां झीरम जैसी घटना को अंजाम देने की तैयारी थी। बघेल ने लाठियां चलाने का निर्देश देने वाले अधिकारी पर हत्या का प्रयास का मुकदमा दर्ज करने, दोषी पुलिस कर्मियों और अधिकारियों को बर्खास्त करने तथा हाईकोर्ट जज से न्यायिक जांच कराने की मांग की। बाद में बघेल कोनी थाने में जाकर भी कांग्रेस जनों से मिले। 
    एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर और सिविल लाइन टीआई जगदीश मिश्रा का कहना है कि महिला कांस्टेबल सहित पुलिस जवानों के साथ धक्का-मुक्की और उन पर पत्थरबाजी के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर बलवा का अपराध दर्ज किया गया है। इनमें अटल श्रीवास्तव, शैलेष पांडेय, अरुण तिवारी, जावेद मेमन, शिवा नायडू कृष्णा यादव, रविन्द्र सिंह, प्रकाश सोनी आदि शामिल हैं। 
    मंत्री अमर अग्रवाल के बयान मीडिया में आए हैं जिसमें उन्होंने इस बात को नकारा है कि पुलिस ने कांग्रेस भवन में प्रवेश किया। उन्होंने कहा है कि सभी को भवन के बाहर से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा है कि निजी आवास पर कचरा फेंकना कौन सा लोकतांत्रिक तरीका है। पुलिस ने लाठियां क्यों चलाई यह जांच का विषय है। 

     

  •  

Posted Date : 18-Sep-2018
  • महामंत्री अटल श्रीवास्तव सहित कई को चोटें,  गिरफ्तार  
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 18 सितंबर। नगरीय प्रशासन मंत्री एवं शहर विधायक अमर अग्रवाल के घर पर कचरा फेंके जाने के बाद पुलिस ने आज कांग्रेस भवन में घुसकर कांग्रेस नेताओं को निकाला और उन पर जमकर लाठी बरसाई। इसमें प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री अटल श्रीवास्तव सहित कई लोगों को चोट आई है। पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया है। 
    कांग्रेसियों का कहना था कि कुछ दिन पहले मंत्री अमर अग्रवाल ने अपने एक वक्तव्य में कांग्रेसियों को कचरा कह दिया था। इसके विरोध में आज कांग्रेस ने एक प्रदर्शन करने और मंत्री अग्रवाल के घर पर कचरा फेंकने का कार्यक्रम बनाया। पुलिस ने इसकी भनक मिलते ही कांग्रेसियों पर नजर रखनी शुरू कर दी। उन्होंने मंत्री के बंगले के इर्द-गिर्द बेरिकेड्स लगा दिया। 
    कांग्रेस भवन से अपराह्न 3 बजे कांग्रेसी जुलूस की शक्ल में मंत्री अमर अग्रवाल के घर की ओर निकले। रास्ते में योजना बनाकर कांग्रेसियों का एक दल जुलूस से अलग होगया। इनमें से कुछ लोग तिवारी चाल के रास्ते से तथा कुछ लोग घसियापारा की भीतर वाली गली से मंत्री के बंगले तक पहुंच गए। इन लोगों ने मंत्री के  घर में कचरा फेंक दिया। 
    इधर पुलिस जुलूस को संभालने में लगी हुई थी। कचरा फेंकने की जानकारी मिलने के बाद हरकत में आई पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की। कांग्रेसियों ने कहा कि वे कांग्रेस भवन में गिरफ्तारी देने की पेशकश की। पुलिस ने उनकी बात मान ली। लेकिन कांग्रेस भवन पहुंचने के बाद कांग्रेस भवन के भीतर जाकर धरने में बैठ गए और रघुपति राघव राजा राम भजन गाने लगे। कांग्रेसियों ने अमर अग्रवाल, भाजपा और प्रधानमंत्री के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। उन्होंने गिरफ्तारी देने से मना कर दिया। कांग्रेसियों ने ग्रिल को बंद कर लिया।
     इसके बाद पुलिस बौखला गई और वह बल प्रयोग के साथ कांग्रेस भवन के भीतर घुस गई। वहां बैठे कांग्रेसियों को उन्होंने घसीट-घसीटकर निकाला और पुलिस वैन में सबको ठूंस दिया। इस दौरान ही  एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर का इशारा मिलते ही पुलिस ने ताबड़तोड़ लाठियां चला दी। प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव लाठियां खाकर जमीन पर गिर गए, उसके बाद भी पुलिस का लाठी प्रहार नहीं रुका। इसी तरह शहर कांग्रेस अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर, जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी व कई पदाधिकारियों को लाठियों से पीट-पीटकर वैन में भरा गया। 
    इस कार्रवाई की कांग्रेसियों में तीव्र प्रतिक्रिया देखी जा रही है। पुलिस के रवैये को लेकर मीडिया का एक बड़ा वर्ग भी नाराज है। एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर पर आरोप है कि उन्होंने घटना को कवर करने गए पत्रकारों से दुव्र्यवहार किया और धमकी दी, जो छापना है छाप लो। 

    एएसपी नीरज चंद्राकर ने बताया कि 'कांग्रेसियों ने आज आंदोलन का कार्यक्रम बनाया था। उन्होंने मंत्री के निवास पर प्रदर्शन करने की बात की थी। लेकिन छिपते हुए ये गलियों से होते हुए मंत्री के घर कचरा फेंकने लगे। इस पर पुलिस सिपाहियों ने उन्हें रोका। जब रोका गया तो उन्होंने महिला कांस्टेबल सहित दूसरे जवानों से धक्का मुक्की की। चूंकि महिला कांस्टेबल और पुलिस जवानों के साथ धक्का-मुक्की की गई हमने अपराध पंजीबद्ध कर लिया। इसके बाद भी कांग्रेसी धमकाने लगे कि हिम्मत है तो गिरफ्तार करके बताओ। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस भवन में गिरफ्तारी देने की बात कही। जब कांग्रेस भवन पुलिस पहुंची तो उन्होंने वहां नारेबाजी शुरू कर दी। काफी देर तक हम बाहर खड़े रहे, उन्होंने गिरफ्तारी देने से मना कर दिया। ऐसी स्थिति में हमें कार्रवाई करनी पड़ी।   

  •  

Posted Date : 18-Sep-2018
  • विकास यात्रा कोटा पहुंची, 131 करोड़ की योजनाएं

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 18 सितम्बर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांग्रेसियों को आज चुनौती देते हुए कहा कि यदि वे विकास ढूंढने निकले हैं तो कोटा आकर देख लें और समझ लें कि विकास किसे कहते हैं। मुख्यमंत्री ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि आजादी के बाद से आज तक कोटा से भाजपा को सफलता नहीं मिली, लोगों से भाजपा की जीत के लिए समर्थन मांगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आदिवासियों के मुंह पर कालिख पोतती है और सत्ता पाने के बाद आदिवासियों और किसानों को भूल जाती है। 
    अटल विकास यात्रा के तहत मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज बिलासपुर जिले के कोटा विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे थे। यहां शासकीय डीकेपी शाला मैदान में विशाल आमसभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस को छत्तीसगढ़ में सरकार चलाने के लिए सन् 2000 से 2003 तक मौका मिला था इसके पहले उसे 50 साल शासन का मौका मिला लेकिन वह सिर्फ गरीबी हटाओ का नारा लगाती  रही। कोटा का गरीब मरता रहा, पलायन करता रहा। गरीबों के जीवन में परिवर्तन लाने का काम भाजपा की सरकार ने लाया है। 
    हमने सड़कों का जाल बिछाया, कोई  मंजरा टोला नहीं जहां बिजली नहीं पहुंचाई, स्वास्थ्य बीमा का लाभ दिया, गरीबों को पक्के मकान दिए, किसानों का पूरा धान खरीद रहे हैं और इस बार से प्रति क्विंटल 2050 रुपये कीमत दे रहे हैं। कांग्रेस चिल्ला रही थी, 2100 रुपये दो, हम वादे के अनुरूप दे रहे हैं। 
    मुख्यमंत्री ने उपस्थित जन समूह से तीन चार बार लगातार सवाल कर पूछा कि क्या कांग्रेस ने 50-60 साल में गरीबों को एक रुपए किलो में चावल दिया, दो चार हजार रुपए गरीबों के स्वास्थ्य पर खर्च किया, पक्का मकान और गैस सिलेन्डर दिया? जवाब नहीं में मिलने के बाद डॉ. सिंह ने कहा कि यह ताकत भाजपा में ही है वह गरीबों के लिए बनाई गई योजनाओं का क्रियान्वयन कर सके और विकास के नए रास्ते खोल सके। कांग्रेसी नारे लगाने के अलावा कुछ नही कर सकते। 
    कोटा और आसपास का इलाका आदिवासी बाहुल्य है। डॉ. सिंह ने अपने भाषण में इस बात का ध्यान रखा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों और आदिवासियों के हित की बात करने के लिए नारे लगाती है। आदिवासियों के मुंह पर कालिख पोतने वाले कांग्रेसी सरकार बनाने का सपना देख रहे हैं। उन्होंने बताया कि आदिवासियों  को कोटा क्षेत्र में 750 करोड़ रुपये तेंदूपत्ता का बोनस दिया गया है। हमने तेंदूपत्ता की खरीदी की दर 450 रुपये से बढ़ाकर 2500 रुपये की है। 
    उन्होंने कहा कि उज्ज्वला, प्रमं आवास योजना, उजाला, सौर सुजला आदि योजनाएं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की देन है वे देश और दुनिया में भारत का गौरव बढ़ा रहे हैं। छत्तीसगढ़ में हम 11 लाख पक्के मकान बनाकर गरीबों को दे चुके हैं। सन् 2022 तक कोई आदमी ऐसा नहीं रहेगा, जिसका मकान कच्चा हो, हम सबको पक्के मकान दे देंगे। 
    उन्होंने अटल दृष्टि पत्र का उल्लेख करते हुए कहा कि हम किसानों की आय दुगनी करेंगे, प्रदेश की जीडीपी दुगनी करेंगे, सबके लिए घर और शिक्षा की व्यवस्था हो यह सुनिश्चित करेंगे। धान के अलावा मक्का, तिलहन, दलहन आदि की गांव-गांव में खरीदी की व्यवस्था समर्थन मूल्य पर करेंगे।  
    जब में इसे अटल विकास यात्रा कहता हूं तो कांग्रेस के मित्रों को तकलीफ होती है। जो कुछ छत्तीसगढ़ में विकास दिख रहा है वह छत्तीसगढ़ के निर्माता अटल बिहारी बाजपेयी की वजह से है। उनकी समृतियों को संयोये रखने के लिए अटल दूत गांव-गांव जाकर सरकार की योजनाओं की जानकारी देंगे, अटल दृष्टि पत्र पर सुझाव लेंगे, साथ ही आपके घरों के तुलसी चौरा या पवित्र किसी भी जगह से थोड़ी सी मिट्टी अपने कलश में लेंगे। इसी मिट्टी से अटल जी का भव्य स्मारक अटल नगर, नया रापयुपर में बनाया जाएगा। 
    उन्होंने कहा कि सांसद लखन लाल साहू ने कहा कि आजादी के बाद से आज तक यहां से भाजपा को मौका नहीं मिला। मैं माता का आशीर्वाद लेकर दंतेवाड़ा से विकास यात्रा पर निकला था। हर बार मुझे माता का आशीर्वाद मिल जाता है, पर जनता जनार्दन का आशीर्वाद जब मिलता है तो यह विश्वास यात्रा और तीर्थ यात्रा बन जाती है। हम कुछ वोटों से यहां जीत में पीछे रह जाते हैं, पर विकास में कोटा कभी पीछे नहीं रहेगा। आप लोगों का उत्साह देखकर समझ में आता है कि विकास को लेकर आप मे ललक है। 2018 का चुनाव आने वाला है। अटल की 1980 में कही हुई बात आप लोगों के सामने दोहराता हूं, अंधेरा छटेगा, सूरज निकलेगा और कमल खिलेगा। कोटा के तालाब में बहुत कमल खिलता है, इस बार मजबूत सरकार बनाने के लिए आपका आशीर्वाद मिले।

     

  •  

Posted Date : 16-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर , 16 सितंबर।  आज सुबह  रेलवे स्टेशन से बस स्टैंड जा रही एक किशोरी को ऑटो चालक और उसके दोस्त द्वारा अगवा करने का मामला सामने आया है।  क्राइम ब्रांच के डीएसपी पी सी राय का कहना है कि अभी आरोपी ऑटो चालक ऑटो रिक्शा या लड़की का सुराग नहीं मिला है।
    तारबाहर पुलिस  के अनुसार  आज सुबह करीब 5 बजे अमरकंटक एक्सप्रेस से किशोरी अपने भाई के साथ रेलवे स्टेशन पहुंची। वे लोग कटघोरा जाने के लिए आटो पर सवार होकर बस स्टैंड जा रहे थे। ऑटो में दोनों भाई-बहन, ऑटो चालक और उसका एक दोस्त सवार था। स्टेशन से 1 किमी आगे गिरिजा चौक के पास  ऑटो चालक ने रिक्शा रोका और पीछे बैठे उसके साथी ने किशोरी के भाई को धक्का देकर ऑटो रिक्शा से नीचे गिराने की कोशिश की। झूमाझटकी  पर उन्होंने  मारपीट भी की और उसे  लात-घूंसों से पीटकर नीचे उतार दिया।
    ज़ब ऑटो चालक तेजी से गाड़ी आगे बढ़ाने लगा तो उसने ऑटो रिक्शा का पीछा कर उन्हें पकडऩे की कोशिश की और काफी देर तक ऑटो रिक्शा के पीछे घसीटता रहा।
     घटना के बाद आकर उसने तारबाहर पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई। तारबाहर पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच और जिले की पुलिस की टीम अपहृत लड़की वह आरोपी ऑटो चालकों की तलाश में जुटी हुई है। रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड में भी पूछताछ की जा रही है।

  •  

Posted Date : 15-Sep-2018
  • सत्यप्रकाश पाण्डेय

    एक वन अफसर जिसके शरीर पर गुदा है सेविंग वाइल्ड टाइगर्स 
    ये वही जंगल है जहां मैं पैदा हुआ, पला-बढ़ा। इसकी उबड़-खाबड़ देह पर दौड़ता रहा, सैकड़ों बार गिरा पर इसने हमेशा संभाला-दुलार किया। इस मिट्टी, इसकी कोख में पनप रही वनस्पतियों और पेड़-पौधों ने मुझसे कभी कुछ माँगा नहीं सिर्फ दिया ही है। इसके अनंत आँचल में समाए असंख्य जीव-जंतु मेरे सच्चे मित्र हैं। उनकी रक्षा के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ, शरीर पर खाकी रहे ना रहे लेकिन मैं जंगल और जंगल के जीव-जंतुओं को बचाने के लिए अपने प्राण भी दे दूँ तो शायद जंगल के ममत्व का कर्ज अदा नहीं कर सकूंगा।
    इस दौर में ये पढ़कर आपको थोड़ा अटपटा लग रहा होगा, भ्रष्टाचार-बेईमानी और फरेब के लिए बदनाम सरकारी अमले में एक शख्स ऐसा भी है जिसे जंगल को माँ कहते हुए फख्र होता है। संदीप सिंह ये नाम है उस वन अफसर का। 
    संदीप सिंह अचानकमार टाइगर रिजर्व के सुरही रेंज के अफसर हैं, जंगल और जंगल के जानवरों के प्रति इनकी दीवानगी कहूं तो शायद अतिश्योक्ति नहीं होगी क्यूंकि इन्होंने अपने दिमाग में लिखी बात को हाथ पर सेविंग वाईल्ड टाइगर्स के रूप में गुदवा रखा है। पूछने पर संदीप बताते हैं की पिता स्वर्गीय बैजनाथ सिंह जंगल विभाग के ही मुलाजिम थे, ये नौकरी उन्हें उनकी मृत्यु के बाद मिली है। चूंकि पिताजी वन महकमे का हिस्सा थे लिहाजा पैदा होने से लेकर आज तलक जंगल से बिछड़कर बाहर कहीं जाने का मौका ही नहीं मिला। वो बताते हैं एक बार कोशिश की और मिलिट्री की सेवा ज्वाइन भी कर ली लेकिन जिंदगी को जंगल की कमी खलने लगी, कुछ महीनों के बाद मिलिट्री की सेवा छोड़कर घर लौट आए। संदीप सिंह के पिता राज्य के बस्तर इलाके में पदस्थ रहे, संदीप ने उस जंगल में बचपन और जवानी बिताई है जो आज लाल आतंक का गढ़ माना जाता है। 
    इन्होंने 2004 में वन सेवा की शासकीय नौकरी ज्वाइन की, अपनी चौदह साल की सेवा में इस वन अफसर ने कई उतार-चढ़ाव भी देखे हैं। 
    कांकेर में रहने वाले संदीप सिंह कहते हैं कि जंगल के सिस्टम को समझना बेहद जरूरी है। वन के दुश्मन दशकों से पर्यावरण और पूरे ईको-सिस्टम को बिगाडऩे में लगे हुए हैं लेकिन आज वन सेवा और उससे बाहर के असंख्य ऐसे वन योद्धा हैं जो प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से कर्तव्य पथ पर अपने प्राणों की परवाह किए बगैर वन की रक्षा में मुस्तैद हैं। हाथ पर गुदे, सेविंग वाइल्ड टाईगर्स, के सवाल पर संदीप मुस्कुराकर कहते हैं आज देश भर में बाघ संरक्षण के लिए प्रयास जारी हैं, उनकी लगातार कम होती संख्या निश्चित रूप से चिंता का विषय बनी हुई है। उन्होंने बताया कि जंगल में रहने वाली आदिवासियों की विभिन्न जनजातियां शरीर पर अपनी-अपनी मान्यता और सभ्यता के अनुरूप गोदना गुदवाती है चूंकि मेरा जीवन भी जंगल की गोद में पला-बढ़ा है और परिवार ने जंगल के हर मिजाज को करीब से देखा समझा है लिहाजा मैंने हाथ पर उस बाघ को बचाने की अपील गुदवा रखी है।

  •  



Previous1234Next