छत्तीसगढ़ » बिलासपुर

Previous123456Next
Posted Date : 19-Sep-2018
  • 7 नेताओं का इलाज जारी, 52 पर बलवे का केस 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 19 सितंबर। कांग्रेस भवन में घुसकर कांग्रेसियों पर लाठी चार्ज करने की घटना ने तूल पकड़ लिया है। आज कांग्रेसी सिविल लाइन थाना घेरने निकले और सड़क धरने पर बैठ गए हैं। समाचार लिखे जाने तक प्रदर्शन जारी था। वहीं जिले के कई इलाकों से  प्रशासन क पुतला फूंके जाने के समाचार हैं। कल की घटना में पुलिस ने कांग्रेस के 52 पर बलवा और सरकारी काम में बाधा डालने का अपराध दर्ज किया है। इधर  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह इस घटना की  दंडाधिकारी जांच के आदेश दिए है। इससे असंतुष्ट कांग्रेसी न्यायिक जांच की मांग कर रहे हैं। इसके पहले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल कल रात यहां पहुंचे थे जो आज कांग्रेस हाईकमान को जानकारी देने के लिए दिल्ली रवाना हो गए हैं। पुलिस की लाठियों से घायल प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव सहित 8 कांग्रेस नेताओं का सिम्स में इलाज चल रहा है। 
    आज दोपहर 12 बजे कांग्रेस भवन में  जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी सहित जिले के सभी वरिष्ठ कांग्रेसजन पहुंचे और एक घंटे की बैठक लेकर सिविल लाइन थाना घेरने निकल गए। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता शैलेष पांडेय ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा की गई घटना की दंडाधिकारी जांच से हम संतुष्ट नहीं है। इसकी जांच हाईकोर्ट के मौजूदा जज से कराई जाने की मांग पर हम कायम है। वीडियो फुटेज में साफ है कि कांग्रेस भवन के भीतर घुसकर पुलिस ने चुन-चुनकर कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को दौड़ाया, घसीटा और लाठियां बरसाई। 
    मालूम हो कि घटना की शुरूआत बुधवार से हुई थी। कथित रूप से मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा था कि वे कांग्रेसियों द्वारा 30 साल से फैलाए गए कचरे को साफ कर रहे हैं। 
    इसके विरोध में मंत्री के घर के सामने प्रदर्शन करने का कांग्रेस ने कार्यक्रम बनाया था। कल ही कोटा में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का कार्यक्रम था, जिसके चलते मंत्री अमर अग्रवाल के बंगले पर ज्यादा फोर्स तैनात नहीं की गई थी। 
    हालांकि मुख्य मार्ग पर दोनों ओर बेरिकेड्स लगाए गए थे। लेकिन पुलिस को चकमा देते हुए कई कांग्रेसी एक गली से मंत्री के बंगले के दरवाजे पर पहुंच गए और गेट से भीतर की ओर कचरा फेंकने लगे। पुलिस के साथ यहां प्रदर्शनकारियों में धक्का-मुक्की हुई। 
    पुलिस यहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार नहीं कर पाई, क्योंकि उन्हें ले जाने के लिए उनके पास कोई वाहन भी नहीं था। कांग्रेस कार्यकर्ता कांग्रेस भवन पहुंचे तब तक कोटा से लौट रही पुलिस फोर्स को कांग्रेसियों के पीछे लगाया गया। पुलिस ने कांग्रेस भवन पहुंचकर कांग्रेसियों को गिरफ्तारी देने के लिए कहा। लेकिन कांग्रेसियों ने खुद को ग्रिल में बंद कर लिया। पुलिस ने करीब एक घंटे तक कांग्रेसियों को निकलकर गिरफ्तारी देने कहा। 
    बाद में वहां मौजूद एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर के निर्देश पर पुलिस ने बलात् कांग्रेस भवन में प्रवेश किया और कांग्रेसियों को बाहर निकालते हुए लाठियों से पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान जो कांग्रेसी विरोध नहीं कर रहे थे, उनको भी पीटा गया। कुछ वीडियो ऐसे भी सामने आए हैं, जिसमें कई पुलिस कर्मी एक कार्यकर्ता को पूरे कांग्रेस भवन में दौड़ा-दौड़ा कर पीट रहे हैं। महामंत्री अटल श्रीवास्तव पर जमीन पर गिर जाने के बाद भी लगातार लाठियों से प्रहार किया गया। पिटाई के कारण उनके ऊपर कार्यकर्ता गिर पड़े। पुलिस वैन में सबको भरकर कोनी थाना ले जाया गया। 
    कोनी से करीब दो दर्जन कांग्रेसियों को सिम्स चिकित्सालय लाकर मुलाहिजा कराया गया। इनमें से अटल श्रीवास्तव एक महिला कांग्रेस नेत्री आशा पांडे सहित सात लोगों को ज्यादा चोट आई है। इनका सिम्स में इलाज चल रहा है। 
    रात में ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल बिलासपुर पहुंचे। उन्होंने सिम्स में घायलों से मुलाकात के बाद पत्रकारों से कहा कि एक पुलिस अधिकारी में इतनी हिम्मत नहीं कि कांग्रेस भवन में घुसकर चुन-चुनकर पदाधिकारियों पर लाठी चार्ज करे। यह मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और मंत्री अमर अग्रवाल की साजिश है। यहां झीरम जैसी घटना को अंजाम देने की तैयारी थी। बघेल ने लाठियां चलाने का निर्देश देने वाले अधिकारी पर हत्या का प्रयास का मुकदमा दर्ज करने, दोषी पुलिस कर्मियों और अधिकारियों को बर्खास्त करने तथा हाईकोर्ट जज से न्यायिक जांच कराने की मांग की। बाद में बघेल कोनी थाने में जाकर भी कांग्रेस जनों से मिले। 
    एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर और सिविल लाइन टीआई जगदीश मिश्रा का कहना है कि महिला कांस्टेबल सहित पुलिस जवानों के साथ धक्का-मुक्की और उन पर पत्थरबाजी के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर बलवा का अपराध दर्ज किया गया है। इनमें अटल श्रीवास्तव, शैलेष पांडेय, अरुण तिवारी, जावेद मेमन, शिवा नायडू कृष्णा यादव, रविन्द्र सिंह, प्रकाश सोनी आदि शामिल हैं। 
    मंत्री अमर अग्रवाल के बयान मीडिया में आए हैं जिसमें उन्होंने इस बात को नकारा है कि पुलिस ने कांग्रेस भवन में प्रवेश किया। उन्होंने कहा है कि सभी को भवन के बाहर से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा है कि निजी आवास पर कचरा फेंकना कौन सा लोकतांत्रिक तरीका है। पुलिस ने लाठियां क्यों चलाई यह जांच का विषय है। 

     

  •  

Posted Date : 18-Sep-2018
  • महामंत्री अटल श्रीवास्तव सहित कई को चोटें,  गिरफ्तार  
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 18 सितंबर। नगरीय प्रशासन मंत्री एवं शहर विधायक अमर अग्रवाल के घर पर कचरा फेंके जाने के बाद पुलिस ने आज कांग्रेस भवन में घुसकर कांग्रेस नेताओं को निकाला और उन पर जमकर लाठी बरसाई। इसमें प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री अटल श्रीवास्तव सहित कई लोगों को चोट आई है। पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया है। 
    कांग्रेसियों का कहना था कि कुछ दिन पहले मंत्री अमर अग्रवाल ने अपने एक वक्तव्य में कांग्रेसियों को कचरा कह दिया था। इसके विरोध में आज कांग्रेस ने एक प्रदर्शन करने और मंत्री अग्रवाल के घर पर कचरा फेंकने का कार्यक्रम बनाया। पुलिस ने इसकी भनक मिलते ही कांग्रेसियों पर नजर रखनी शुरू कर दी। उन्होंने मंत्री के बंगले के इर्द-गिर्द बेरिकेड्स लगा दिया। 
    कांग्रेस भवन से अपराह्न 3 बजे कांग्रेसी जुलूस की शक्ल में मंत्री अमर अग्रवाल के घर की ओर निकले। रास्ते में योजना बनाकर कांग्रेसियों का एक दल जुलूस से अलग होगया। इनमें से कुछ लोग तिवारी चाल के रास्ते से तथा कुछ लोग घसियापारा की भीतर वाली गली से मंत्री के बंगले तक पहुंच गए। इन लोगों ने मंत्री के  घर में कचरा फेंक दिया। 
    इधर पुलिस जुलूस को संभालने में लगी हुई थी। कचरा फेंकने की जानकारी मिलने के बाद हरकत में आई पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की। कांग्रेसियों ने कहा कि वे कांग्रेस भवन में गिरफ्तारी देने की पेशकश की। पुलिस ने उनकी बात मान ली। लेकिन कांग्रेस भवन पहुंचने के बाद कांग्रेस भवन के भीतर जाकर धरने में बैठ गए और रघुपति राघव राजा राम भजन गाने लगे। कांग्रेसियों ने अमर अग्रवाल, भाजपा और प्रधानमंत्री के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। उन्होंने गिरफ्तारी देने से मना कर दिया। कांग्रेसियों ने ग्रिल को बंद कर लिया।
     इसके बाद पुलिस बौखला गई और वह बल प्रयोग के साथ कांग्रेस भवन के भीतर घुस गई। वहां बैठे कांग्रेसियों को उन्होंने घसीट-घसीटकर निकाला और पुलिस वैन में सबको ठूंस दिया। इस दौरान ही  एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर का इशारा मिलते ही पुलिस ने ताबड़तोड़ लाठियां चला दी। प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव लाठियां खाकर जमीन पर गिर गए, उसके बाद भी पुलिस का लाठी प्रहार नहीं रुका। इसी तरह शहर कांग्रेस अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर, जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी व कई पदाधिकारियों को लाठियों से पीट-पीटकर वैन में भरा गया। 
    इस कार्रवाई की कांग्रेसियों में तीव्र प्रतिक्रिया देखी जा रही है। पुलिस के रवैये को लेकर मीडिया का एक बड़ा वर्ग भी नाराज है। एडिशनल एसपी नीरज चंद्राकर पर आरोप है कि उन्होंने घटना को कवर करने गए पत्रकारों से दुव्र्यवहार किया और धमकी दी, जो छापना है छाप लो। 

    एएसपी नीरज चंद्राकर ने बताया कि 'कांग्रेसियों ने आज आंदोलन का कार्यक्रम बनाया था। उन्होंने मंत्री के निवास पर प्रदर्शन करने की बात की थी। लेकिन छिपते हुए ये गलियों से होते हुए मंत्री के घर कचरा फेंकने लगे। इस पर पुलिस सिपाहियों ने उन्हें रोका। जब रोका गया तो उन्होंने महिला कांस्टेबल सहित दूसरे जवानों से धक्का मुक्की की। चूंकि महिला कांस्टेबल और पुलिस जवानों के साथ धक्का-मुक्की की गई हमने अपराध पंजीबद्ध कर लिया। इसके बाद भी कांग्रेसी धमकाने लगे कि हिम्मत है तो गिरफ्तार करके बताओ। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस भवन में गिरफ्तारी देने की बात कही। जब कांग्रेस भवन पुलिस पहुंची तो उन्होंने वहां नारेबाजी शुरू कर दी। काफी देर तक हम बाहर खड़े रहे, उन्होंने गिरफ्तारी देने से मना कर दिया। ऐसी स्थिति में हमें कार्रवाई करनी पड़ी।   

  •  

Posted Date : 18-Sep-2018
  • विकास यात्रा कोटा पहुंची, 131 करोड़ की योजनाएं

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 18 सितम्बर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांग्रेसियों को आज चुनौती देते हुए कहा कि यदि वे विकास ढूंढने निकले हैं तो कोटा आकर देख लें और समझ लें कि विकास किसे कहते हैं। मुख्यमंत्री ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि आजादी के बाद से आज तक कोटा से भाजपा को सफलता नहीं मिली, लोगों से भाजपा की जीत के लिए समर्थन मांगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आदिवासियों के मुंह पर कालिख पोतती है और सत्ता पाने के बाद आदिवासियों और किसानों को भूल जाती है। 
    अटल विकास यात्रा के तहत मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज बिलासपुर जिले के कोटा विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे थे। यहां शासकीय डीकेपी शाला मैदान में विशाल आमसभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस को छत्तीसगढ़ में सरकार चलाने के लिए सन् 2000 से 2003 तक मौका मिला था इसके पहले उसे 50 साल शासन का मौका मिला लेकिन वह सिर्फ गरीबी हटाओ का नारा लगाती  रही। कोटा का गरीब मरता रहा, पलायन करता रहा। गरीबों के जीवन में परिवर्तन लाने का काम भाजपा की सरकार ने लाया है। 
    हमने सड़कों का जाल बिछाया, कोई  मंजरा टोला नहीं जहां बिजली नहीं पहुंचाई, स्वास्थ्य बीमा का लाभ दिया, गरीबों को पक्के मकान दिए, किसानों का पूरा धान खरीद रहे हैं और इस बार से प्रति क्विंटल 2050 रुपये कीमत दे रहे हैं। कांग्रेस चिल्ला रही थी, 2100 रुपये दो, हम वादे के अनुरूप दे रहे हैं। 
    मुख्यमंत्री ने उपस्थित जन समूह से तीन चार बार लगातार सवाल कर पूछा कि क्या कांग्रेस ने 50-60 साल में गरीबों को एक रुपए किलो में चावल दिया, दो चार हजार रुपए गरीबों के स्वास्थ्य पर खर्च किया, पक्का मकान और गैस सिलेन्डर दिया? जवाब नहीं में मिलने के बाद डॉ. सिंह ने कहा कि यह ताकत भाजपा में ही है वह गरीबों के लिए बनाई गई योजनाओं का क्रियान्वयन कर सके और विकास के नए रास्ते खोल सके। कांग्रेसी नारे लगाने के अलावा कुछ नही कर सकते। 
    कोटा और आसपास का इलाका आदिवासी बाहुल्य है। डॉ. सिंह ने अपने भाषण में इस बात का ध्यान रखा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों और आदिवासियों के हित की बात करने के लिए नारे लगाती है। आदिवासियों के मुंह पर कालिख पोतने वाले कांग्रेसी सरकार बनाने का सपना देख रहे हैं। उन्होंने बताया कि आदिवासियों  को कोटा क्षेत्र में 750 करोड़ रुपये तेंदूपत्ता का बोनस दिया गया है। हमने तेंदूपत्ता की खरीदी की दर 450 रुपये से बढ़ाकर 2500 रुपये की है। 
    उन्होंने कहा कि उज्ज्वला, प्रमं आवास योजना, उजाला, सौर सुजला आदि योजनाएं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की देन है वे देश और दुनिया में भारत का गौरव बढ़ा रहे हैं। छत्तीसगढ़ में हम 11 लाख पक्के मकान बनाकर गरीबों को दे चुके हैं। सन् 2022 तक कोई आदमी ऐसा नहीं रहेगा, जिसका मकान कच्चा हो, हम सबको पक्के मकान दे देंगे। 
    उन्होंने अटल दृष्टि पत्र का उल्लेख करते हुए कहा कि हम किसानों की आय दुगनी करेंगे, प्रदेश की जीडीपी दुगनी करेंगे, सबके लिए घर और शिक्षा की व्यवस्था हो यह सुनिश्चित करेंगे। धान के अलावा मक्का, तिलहन, दलहन आदि की गांव-गांव में खरीदी की व्यवस्था समर्थन मूल्य पर करेंगे।  
    जब में इसे अटल विकास यात्रा कहता हूं तो कांग्रेस के मित्रों को तकलीफ होती है। जो कुछ छत्तीसगढ़ में विकास दिख रहा है वह छत्तीसगढ़ के निर्माता अटल बिहारी बाजपेयी की वजह से है। उनकी समृतियों को संयोये रखने के लिए अटल दूत गांव-गांव जाकर सरकार की योजनाओं की जानकारी देंगे, अटल दृष्टि पत्र पर सुझाव लेंगे, साथ ही आपके घरों के तुलसी चौरा या पवित्र किसी भी जगह से थोड़ी सी मिट्टी अपने कलश में लेंगे। इसी मिट्टी से अटल जी का भव्य स्मारक अटल नगर, नया रापयुपर में बनाया जाएगा। 
    उन्होंने कहा कि सांसद लखन लाल साहू ने कहा कि आजादी के बाद से आज तक यहां से भाजपा को मौका नहीं मिला। मैं माता का आशीर्वाद लेकर दंतेवाड़ा से विकास यात्रा पर निकला था। हर बार मुझे माता का आशीर्वाद मिल जाता है, पर जनता जनार्दन का आशीर्वाद जब मिलता है तो यह विश्वास यात्रा और तीर्थ यात्रा बन जाती है। हम कुछ वोटों से यहां जीत में पीछे रह जाते हैं, पर विकास में कोटा कभी पीछे नहीं रहेगा। आप लोगों का उत्साह देखकर समझ में आता है कि विकास को लेकर आप मे ललक है। 2018 का चुनाव आने वाला है। अटल की 1980 में कही हुई बात आप लोगों के सामने दोहराता हूं, अंधेरा छटेगा, सूरज निकलेगा और कमल खिलेगा। कोटा के तालाब में बहुत कमल खिलता है, इस बार मजबूत सरकार बनाने के लिए आपका आशीर्वाद मिले।

     

  •  

Posted Date : 16-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर , 16 सितंबर।  आज सुबह  रेलवे स्टेशन से बस स्टैंड जा रही एक किशोरी को ऑटो चालक और उसके दोस्त द्वारा अगवा करने का मामला सामने आया है।  क्राइम ब्रांच के डीएसपी पी सी राय का कहना है कि अभी आरोपी ऑटो चालक ऑटो रिक्शा या लड़की का सुराग नहीं मिला है।
    तारबाहर पुलिस  के अनुसार  आज सुबह करीब 5 बजे अमरकंटक एक्सप्रेस से किशोरी अपने भाई के साथ रेलवे स्टेशन पहुंची। वे लोग कटघोरा जाने के लिए आटो पर सवार होकर बस स्टैंड जा रहे थे। ऑटो में दोनों भाई-बहन, ऑटो चालक और उसका एक दोस्त सवार था। स्टेशन से 1 किमी आगे गिरिजा चौक के पास  ऑटो चालक ने रिक्शा रोका और पीछे बैठे उसके साथी ने किशोरी के भाई को धक्का देकर ऑटो रिक्शा से नीचे गिराने की कोशिश की। झूमाझटकी  पर उन्होंने  मारपीट भी की और उसे  लात-घूंसों से पीटकर नीचे उतार दिया।
    ज़ब ऑटो चालक तेजी से गाड़ी आगे बढ़ाने लगा तो उसने ऑटो रिक्शा का पीछा कर उन्हें पकडऩे की कोशिश की और काफी देर तक ऑटो रिक्शा के पीछे घसीटता रहा।
     घटना के बाद आकर उसने तारबाहर पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई। तारबाहर पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच और जिले की पुलिस की टीम अपहृत लड़की वह आरोपी ऑटो चालकों की तलाश में जुटी हुई है। रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड में भी पूछताछ की जा रही है।

  •  

Posted Date : 15-Sep-2018
  • सत्यप्रकाश पाण्डेय

    एक वन अफसर जिसके शरीर पर गुदा है सेविंग वाइल्ड टाइगर्स 
    ये वही जंगल है जहां मैं पैदा हुआ, पला-बढ़ा। इसकी उबड़-खाबड़ देह पर दौड़ता रहा, सैकड़ों बार गिरा पर इसने हमेशा संभाला-दुलार किया। इस मिट्टी, इसकी कोख में पनप रही वनस्पतियों और पेड़-पौधों ने मुझसे कभी कुछ माँगा नहीं सिर्फ दिया ही है। इसके अनंत आँचल में समाए असंख्य जीव-जंतु मेरे सच्चे मित्र हैं। उनकी रक्षा के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ, शरीर पर खाकी रहे ना रहे लेकिन मैं जंगल और जंगल के जीव-जंतुओं को बचाने के लिए अपने प्राण भी दे दूँ तो शायद जंगल के ममत्व का कर्ज अदा नहीं कर सकूंगा।
    इस दौर में ये पढ़कर आपको थोड़ा अटपटा लग रहा होगा, भ्रष्टाचार-बेईमानी और फरेब के लिए बदनाम सरकारी अमले में एक शख्स ऐसा भी है जिसे जंगल को माँ कहते हुए फख्र होता है। संदीप सिंह ये नाम है उस वन अफसर का। 
    संदीप सिंह अचानकमार टाइगर रिजर्व के सुरही रेंज के अफसर हैं, जंगल और जंगल के जानवरों के प्रति इनकी दीवानगी कहूं तो शायद अतिश्योक्ति नहीं होगी क्यूंकि इन्होंने अपने दिमाग में लिखी बात को हाथ पर सेविंग वाईल्ड टाइगर्स के रूप में गुदवा रखा है। पूछने पर संदीप बताते हैं की पिता स्वर्गीय बैजनाथ सिंह जंगल विभाग के ही मुलाजिम थे, ये नौकरी उन्हें उनकी मृत्यु के बाद मिली है। चूंकि पिताजी वन महकमे का हिस्सा थे लिहाजा पैदा होने से लेकर आज तलक जंगल से बिछड़कर बाहर कहीं जाने का मौका ही नहीं मिला। वो बताते हैं एक बार कोशिश की और मिलिट्री की सेवा ज्वाइन भी कर ली लेकिन जिंदगी को जंगल की कमी खलने लगी, कुछ महीनों के बाद मिलिट्री की सेवा छोड़कर घर लौट आए। संदीप सिंह के पिता राज्य के बस्तर इलाके में पदस्थ रहे, संदीप ने उस जंगल में बचपन और जवानी बिताई है जो आज लाल आतंक का गढ़ माना जाता है। 
    इन्होंने 2004 में वन सेवा की शासकीय नौकरी ज्वाइन की, अपनी चौदह साल की सेवा में इस वन अफसर ने कई उतार-चढ़ाव भी देखे हैं। 
    कांकेर में रहने वाले संदीप सिंह कहते हैं कि जंगल के सिस्टम को समझना बेहद जरूरी है। वन के दुश्मन दशकों से पर्यावरण और पूरे ईको-सिस्टम को बिगाडऩे में लगे हुए हैं लेकिन आज वन सेवा और उससे बाहर के असंख्य ऐसे वन योद्धा हैं जो प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से कर्तव्य पथ पर अपने प्राणों की परवाह किए बगैर वन की रक्षा में मुस्तैद हैं। हाथ पर गुदे, सेविंग वाइल्ड टाईगर्स, के सवाल पर संदीप मुस्कुराकर कहते हैं आज देश भर में बाघ संरक्षण के लिए प्रयास जारी हैं, उनकी लगातार कम होती संख्या निश्चित रूप से चिंता का विषय बनी हुई है। उन्होंने बताया कि जंगल में रहने वाली आदिवासियों की विभिन्न जनजातियां शरीर पर अपनी-अपनी मान्यता और सभ्यता के अनुरूप गोदना गुदवाती है चूंकि मेरा जीवन भी जंगल की गोद में पला-बढ़ा है और परिवार ने जंगल के हर मिजाज को करीब से देखा समझा है लिहाजा मैंने हाथ पर उस बाघ को बचाने की अपील गुदवा रखी है।

  •  

Posted Date : 06-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 6 सितंबर। आज सुबह छत्तीसगढ़ भवन में आयोजित प्रेस-कांफ्रेंस में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस बात से इंकार किया कि उन्होंने बिलासपुर, बिल्हा, तखतपुर की टिकटें तय कर दी है। 
    कल हुए स्वागत और सम्मान समारोहों में अटल विकास यात्रा पर निकले मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने तखतपुर विधायक राजू सिंह क्षत्री, बिल्हा के पूर्व विधायक व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरम लाल कौशिक और बिलासपुर के विधायक और मंत्री अमर अग्रवाल की तारीफ की थी और जनता से उनके लिए समर्थन और सहयोग मांगा था। इस पर आज सुबह प्रेस-कांफ्रेंस में सवाल किया गया कि क्या आपने इन तीनों की टिकट फाइनल कर दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस विधायक या जन-प्रतिनिधि ने अच्छे काम किए हैं, उनकी तारीफ करना मेरा काम है। मैं कौन होता हूं, टिकट तय करने वाला, यह राष्ट्रीय व प्रदेश की टिकट चयन समितियां तय करती हैं। 
    मुख्यमंत्री से पूछा गया कि कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल कहते हैं कि उन्हें विकास दिखाई नहीं देता, आप कहते हैं छत्तीसगढ़ का चारों तरफ विकास हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि देखने का अलग-अलग नजरिया होता है। कांग्रेस को बताना चाहिए कि क्या उन्होंने धान पर बोनस कभी दिया? भाजपा सरकार ने गांव-गांव में बिजली पहुंचाई, प्रति व्यक्ति आमदनी बढ़ी, शिक्षा का स्तर ऊंचा हुआ,  लोगों के रहन-सहन में बदलाव लाया। उज्ज्वला, आवास जैसी योजनाओं से समाज के अंतिम छोर के लाखों लोगों को फायदा मिला, क्या यह विकास नहीं है? 
    प्रदेश में एमओयू तो बहुत हुए पर औद्योगिक विकास दिखाई नहीं देने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा नहीं है, बहुत से सेक्टर पर काम हो रहे हैं। फूड प्रोसेसिंग की नई यूनिट्स नई टेक्नालॉजी के साथ लगने वाले हैं। औद्योगिक विकास अपनी सही दिशा में है और यह सही गति से आगे बढ़ रहा है। 
    नवा छत्तीसगढ़ 2025 के बारे में किए गए सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि सन् 2000 में जब छत्तीसगढ़ राज्य बना, तब से लेकर अब तक विकास के लिए कोई रोड मैप नहीं बना है। अब हमें इस पर काम करना चाहिए। जब तक हम एक विजन लेकर नहीं चलेंगे परिवर्तन नहीं आएगा। इसलिए 2025 तक हमें छत्तीसगढ़ में क्या चाहिए, इसके लिए नवा छत्तीसगढ़ 2025 के लिए सुझाव मांगे गए हैं। 
     प्रदेश में 23 लाख से अधिक पंजीकृत बेरोजगार हैं, आप उन्हें कैसे रोजगार से जोड़ेंगे? के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी के लिए कौशल उन्नयन योजना चलाई जा रही है। इस पर 160 करोड़ रुपए खर्च भी किए जा रहे हैं। नए निवेशक आ रहे हैं, जिनमें इन्हें रोजगार मिलेगा। हमने हजारों शिक्षकों की भर्तियां भी की है। 
    मुख्यमंत्री ने बिलासपुर के विकास को लेकर किए गए सवालों के जवाब में कहा कि अरपा-भैंसाझार परियोजना अंतिम चरण में है। सीवरेज परियोजना में विलंब जरूर हुआ पर जब यह पूरा हो जाएगा तो बिलासपुर प्रदेश का पहला ऐसा शहर हो जाएगा, जहां भूमिगत नाली होगी। उन्होंने यह भी कहा कि बिलासपुर से मुंगेली होते हुए डोंगरगढ़ जाने वाली रेल परियोजना का काम भी अतिशीघ्र शुरू होगा। 

  •  

Posted Date : 25-Aug-2018
  • बिलासपुर, 25 अगस्त। देश के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा ने आज हाईकोर्ट परिसर में नए राज्य न्यायिक अकादमी भवन का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि यह बिल्डिंग बहुत अच्छी बनी है और इसका लाभ न्यायिक क्षेत्र में नए प्रतिमान स्थापित करने के लिए किया जाना चाहिए। कार्यक्रम में  मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह, छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अजय कुमार त्रिपाठी, सभी जज, वन मंत्री महेश गागड़ा, मंत्री अमर अग्रवाल,  भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक, न्यायिक अधिकारी उपस्थित थे।

  •  

Posted Date : 10-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 10 अगस्त। शहर के चकरभाठा इलाके में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर दी। आरोपी फरार है।  
    एडिशनल एस पी नीरज चन्द्राकर ने बताया कि शुक्रवार सुबह सुबह चकरभाठा पुलिस को जानकारी मिली कि वार्ड नम्बर सात स्थित एक घर में तीन लोगों की हत्या की गयी है। सूचना मिलते ही वे   टीम के साथ मौके पर पहुंचे।  ज्ञात हुआ कि घर का मालिक अमजद फरार है और उसी ने अपनी पत्नी सरीका बेगम  और अपने दो बच्चों अंजुम निशा और आफ़ताब की धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या की है।  
    जानकारी के मुताबिक  परिवार मनिहारी  समान बेचता था।  पड़ोसियों के मुताबिक परिवार के बीच विवाद भी नहीं था, लेकिन सुबह ऐसी वारदात कैसे हुई, ये किसी को जानकारी नहीं हुई। 

  •  

Posted Date : 01-Aug-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 1 अगस्त। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि  स्काई योजना छत्तीसगढ़ के लोगों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव लाने जा रहा है। उन्होंने घोषणा की कि प्रदेश के हर जिले में बिलासपुर की तरह  मातृ-शिशु चिकित्सालय की स्थापना की जाएगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नारे ही लगाते रह गए, उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि धान की कीमत 2100 रुपये तक पहुंच पाएगी, लेकिन मोदी सरकार ने यह कर दिखाया है। 
    पुलिस ग्राउंड में आयोजित 'मोबाइल तिहारÓ कार्यक्रम में डॉ. सिंह ने कहा कि प्रदेश में 50 लाख लोगों को, जिनमें 40 लाख लोगों के पास आने वाले तीन-चार माह के बाद 4 जी नेटवर्क के साथ स्मार्ट फोन उपलब्ध होगा। 1467 करोड़ की यह योजना पूरी होगी तो प्रदेश के 100 प्रतिशत लोगों के हाथ में मोबाइल फोन होगा, जो अभी सिर्फ 29 प्रतिशत है। प्रस्तावित 1600 टॉवर लगने के बाद प्रदेश की कनेक्टिविटी 66 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत हो जाएगी। यह योजना प्रदेश के लोगों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव लाएगी, क्योंकि अब सारे काम मोबाइल फोन पर हो रहे हैं। चाहे वह ट्रेन की टिकट बुक करना हो, टैक्स रिटर्न भरना हो, ऑनलाइन फॉर्म जमा करना हो, मौसम की किसानों को जानकारी लेनी हो, शॉपिंग करनी हो या पैसे का ट्रांसफर करना हो। इसमें मोदी एप भी रहेगा, जिसमें शासन की योजनाओं की जानकारी मिलेगी। लोग मोबाइल फोन को लग्जरी आइटम कहते थे, जिसे हमने समानता के अधिकार के अंतर्गत सबके लिए ला दिया है। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की नौ नगरपालिका सहित बिलासपुर में अमृत मिशन योजना शुरू की जा रही है, जिससे आने वाले 50 साल तक शहर के लिए पेयजल की व्यवस्था  होगी। इसमें खूंटाघाट से पानी लाया जाएगा।
    मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम से पहले जिला अस्पताल परिसर में 100 बिस्तर वाले मातृ-शिशु चिकित्सालय का उद्घाटन किया। कार्यक्रम में इसका जिक्र करते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि इस तरह के अस्पताल की योजना अलग हटकर है। यहां बच्चों और उनकी माताओं की अच्छे से देखभाल होगी, जिससे कुपोषण और मृत्यु-दर में कमी आएगी। आंकड़ों के साथ मुख्यमंत्री ने बताया कि छत्तीसगढ़ को कुपोषण और मातृ-शिशु मृत्यु दर कम करने में अभूतपूर्व सफलता मिली है। प्रदेश के हर जिले में इस तरह का अस्पताल खोलने की योजना है। 
    किसानों के मुद्दे पर अपने भाषण में मुख्यमंत्री ने कहा कि 14 साल में किसानों के जीवन में खुशहाली आई  है। सूखा पडऩे पर उन्हें बीमा और राहत राशि का लाभ मिल रहा है। कांग्रेसी नारे लगाते रहे और हमने धान की कीमत 2100 रुपये के पास ला दी। केन्द्र की मोदी सरकार की घोषणा के बाद धान का समर्थन मूल्य 1750 रुपये हो चुका है, जिसमें प्रदेश सरकार का 300 रुपये जोडऩे से उन्हें एक क्विंटल धान का 2015 रुपये भुगतान होगा। 
    मंत्रिमंडल में लिए गए फैसलों की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अब कृषि पंप के लिए एक लाख रुपए का अनुदान फिर शुरू कर दिया गया है। बिजली बिल पर चाहे जितनी खपत हो, एक फ्लैट रेट कर दिया गया है। एक से अधिक पंप होने पर भी यह लाभ मिलेगा। कर्मचारियों की बहुत पुरानी मांग चार स्तरीय वेतनमान को भी मंजूर कर लिया गया है। 30 वर्ष की सेवा पूरी करने वालों को इसका लाभ मिलेगा। 
    कार्यक्रम की अध्यक्ष नगरीय निकाय एवं वाणिज्यिक कर मंत्री अमर अग्रवाल ने की। उन्होंने आज हुए लोकार्पण और शिलान्यास कार्यक्रम को शहर के विकास की दिशा में महत्वपूर्ण कदम बताया। मंच पर विधानसभा उपाध्यक्ष बद्रीधर दीवान, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक,  छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष भूपेन्द्र  सवन्नी,  राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पांडेय, सांसद लखन लाल साहू, जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक साहू, महापौर किशोर राय सहित अनेक भाजपा नेता उपस्थित थे। 

  •  

Posted Date : 27-Jul-2018
  • बिलासपुर, 27 जुलाई। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने छग वन सेवा द्वारा आयोजित वनसंरक्षक और वनक्षेत्रपाल परीक्षा के नतीजों पर लगाई रोक हटा दी है। और नतीजे जारी करने के आदेश दिए हैं। एक याचिका पर यह रोक लगाई थी। 25 मार्च 2018 को 59 पदों के लिए व्यापमं के जरिये यह परीक्षा आयोजित की गई थी।

  •  

Posted Date : 24-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर,24 जुलाई।  तंबाखू, गुटखा, पान मसाला पर प्रतिबंध के बाद भी खुलेआम बिक्री पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से जवाब मांगा है। 
    प्रदेश सरकार ने 2012 में तंबाखू, गुटखा, पान मसाला के निर्माण और बिक्री पर पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया था, लेकिन इसके बाद भी खुलेआम सार्वजनिक जगहों पर इसकी बिक्री की जा रही है और प्रतिदिन करोड़ों का कारोबार हो रहा है। फूड सेफ्टी एंड स्टेंडर्ड एक्ट 2006 में खाद्य पदार्थों की जांच और मिलावट को लेकर प्रावधान तय किया गया था, लेकिन इसका पालन नहीं होने से प्रदेश में कैंसर के मरीज बढ़ रहे हैं। कैंसर पीडि़त दुर्गेश कछवाहा और नशामुक्ति अभियान चलाने वाले प्रतीक शर्मा ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई है जिसमें उन्होंने कहा, फूड एक्ट के तहत हर जिले में अधिकारी की नियुक्ति होनी चाहिए लेकिन पूरे प्रदेश में केवल दो फूड कंट्रोलर अधिकारी हैं। जनहित याचिका पर  सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को विस्तृत जवाब पेश करने कहा है। इसके अलावा पिछली सुनवाई में अधिनियम के पालन को लेकर फूड कंट्रोलर को जानकारी देने के निर्देश दिए थे।  

  •  

Posted Date : 21-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 21 जुलाई। दाधापारा-उरकुरा सेक्शन के बीच अपग्रेडेशन कार्य की वजह से रविवार को 3 ट्रेन प्रभावित रहेगी, यात्रियों की सुविधा के लिए छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस को रायपुर-बिलासपुर के बीच पैसेंजर बनाकर चलाया जाएगा।
    रायपुर रेल मंडल के दाधापारा-उरकुरा सेक्शन के बीच 22 एवं 29 जुलाई तथा 05, 12, 19 एवं 26 अगस्त, रविवार को अप लाइन, मिडिल लाइन एवं डाउन लाइन में अपग्रेडेशन किया जाएगा। इसके कारण 22 एवं 29 जुलाई तथा 05, 12, 19 एवं 26 अगस्तको कुछ सवारी गाडिय़ों का परिचालन प्रभावित रहेगा। 
    29 जुलाई तथा 05, 12, 19 एवं 26 अगस्त को झारसुगुड़ा-गोन्दिया-झारसुगुड़ा पैसेंजर बिलासपुर-रायपुर-बिलासपुर के बीच रद्द रहेगी। 22 जुलाई को झारसुगुड़ा-गोन्दिया-झारसुगुड़ा पैसेंजर झारसुगुड़ा-रायपुर-झारसुगुडा के बीच रद्द रहेगी। 22 जुलाई तथा  19 अगस्त को रायपुर-गेवरा रोड मेमू लोकल रायपुर-बिलासपुर के बीच रद्द रहेगी। 29 जुलाई तथा 05, 12 एवं 26 अगस्त  को रायपुर-इतवारी पैसेंजर रद्द रहेगी। अगले दिन सोमवार को  इतवारी-रायपुर पैसेजर रद्द रहेगी। 22 जुलाईतथा  19 अगस्त को  बिलासपुर-रायपुर मेमू रद्द रहेगी। 22 एवं 29 जुलाई तथा  05, 12, 19 एवं 26 अगस्त को छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस को रायपुर बिलासपुर के बीच पैसेंजर बनाकर चलाई जाएगी। रेलवे ने कहा है कि यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए इस शेड्यूल में परिवर्तन भी किया जा सकता है, जिसकी समय पर सूचना दी जाएगी।

  •  

Posted Date : 16-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 16 जुलाई। पेन्ड्रा में एक महिला की उसके प्रेमी ने बस से उतारकर सरे राह हत्या कर दी और उसकी लाश घर के पास फेंक दी।  
    घटना आज सुबह 8.30 बजे की  है। कोटमी के पास ग्राम सकोला की रहने वाली राजकुमारी (30 वर्ष) अपने एक रिश्तेदार फूलमती (19) के साथ कोरबा जाने के लिए बस पर सवार हुई थी। तभी आरोपी भुवनेश्वर ने पहुंचकर उसे बस से उतार लिया। वह उसके साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर आगे बढ़ गई। कुछ देर बाद उसकी खून से लथपथ लाश उसके घर के सामने मिली। 
    प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि आरोपी भुवनेश्वर का बस से उतार कर बाइक पर चढ़ाने के दौरान राजकुमारी से विवाद हुआ था। महिला के घर के पास ही आरोपी ने उसे धारदार हथियार से हमला किया। राजकुमारी चीख पुकार मचा रही थी और आरोपी बाइक में फरार हो गया। 
    मृतका की दस साल पहले रूप सिंह गोंड से हुई थी लेकिन पति ने उसे छोड़ दिया था। वह अपने पिता के पास रहती थी। आरोपी भुवनेश्वर उसके घर आता-जाता था। पिता रामाधीन आर्मो के अनुसार आरोपी उसकी बेटी से शादी करने की बात करता था लेकिन वह प्रताडि़त भी करता रहता था। मृतका के दो बच्चे हैं। बेटी अपनी मां के साथ तो बेटा पिता के साथ रहता है। 

  •  

Posted Date : 16-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बिलासपुर, 16 जुलाई। कल शाम के बाद आज सुबह से फिर हो रही बारिश ने एक तरफ किसानों को राहत दी तो दूसरी ओर शहर में जगह-जगह जमा पानी से आवागमन में भारी दिक्कत हो रही है। सीवरेज और मरम्मत के नाम पर सड़कों में हुई जगह-जगह खुदाई ने दिक्कत और बढ़ा दी है। 
    आज सुबह शहर में करीब एक घंटे तक मूसलाधार पानी गिरा। कल शाम को भी करीब एक घंटे तक बारिश हुई थी। यह बारिश पूरे जिले में दर्ज की गई। किसान पिछले कई दिनों से ऐसी वर्षा की प्रतीक्षा कर रहे थे। जिन किसानों ने धान की बुआई कर दी है उन्हें भी इससे फायदा है और रोपा पद्धति से थरहा लगाना चाहते हैं उनको भी लाभ हुआ है। अरपा में पिछले एक हफ्ते से पानी बह रहा है। पेन्ड्रा क्षेत्र में हुई बारिश के चलते सोमवार को बारिश की धार और तैज हो गई है और पानी शनिचरी पुल को छूने लगा है। लोग काफी दिनों बाद अरपा में आए तेज बहाव को देखने के लिए पहुंच भी रहे हैं। 
    दूसरी ओर शहर के भीतर हालत खराब है। हर बार की तरह शहर की नालियों की सफाई के दावे खोखले साबित हुए हैं। पुराना बस स्टैंड, सदर बाजार, श्रीकांत वर्मा मार्ग, लखीराम ऑडिटोरियम के बाहर दो फीट तक पानी भर गया है। लोगों को आने-जाने में भारी मशक्कत का सामना करना पड़ रहा है। 
    महासमुन्द से मिली जानकारी के अनुसार में आज प्रात: 8 बजे से ही महासमुन्द में धुंआधार बारिश हो रही है। खेत-खलिहानों में लबालब पानी भर गया है। तालाबों पोखरों में पानी भर गया है। निचली बस्तियोंं में जनजीवन प्रभावित है। कई स्थानों पर पेड़ जड़ से उखड़कर जमीन पर आ गया है। महासमुन्द जिले के कई स्थानों पर रपटों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है। मुख्य मार्गों पर पडऩे वाले नालों में भी  पानी भर गया है। कई इलाकों में बिजली आपूर्ति बंद है। पेड़ गिरने के कारण कुछ समय तक मुख्य मार्ग में अवाजाही बंद रही।  
    धमतरी से मिली जानकारी के अनुसार लगातार रूक-रूककर हो रही वर्षा से मौसम ठंडा हो गया और वातावरण में नमी बढ़ गई। नगरी और मगरलोड ब्लाक के वनांचल क्षेत्र में झमाझम तेज बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। जिला मुख्यालय धमतरी में भी रविवार से रूक-रूककर हो रही बारिश से लोग प्रभावित रहे। आज सुबह से तेज बारिश का सिलसिला जारी है। कई निचली बस्तियों में पानी लबालब भर गया है। 
    पहली बार जिले के वनांचल क्षेत्र मगरलोड ब्लाक के सिंगपुर क्षेत्र व नगरी ब्लाक के केरेगांव, दुगली, कुकरेल क्षेत्र में झमाझम बारिश हुई। बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गए। लंबे समय तक हुई बारिश से गांवों के सड़कों, मैदानों, गलियों तथा खेत-खलिहानों में पानी भर गया है। 
    राजनांदगांव से मिली जानकारी के अनुसार बीते दो दिन से रूक-रूककर हो रही बारिश से किसानों के चेहरे खिल गए हैं।   इधर शहरी क्षेत्रों में भी झड़ी का असर लोगों के दिनचर्या पर भी पड़ा। शहर के निचली बस्तियों में बरसात का पानी घुस गया है। निचली बस्तियों में पानी का जमावड़ा होने से खतरा भी बढ़ा है। शहर के बसंतपुर के राजीव नगर, चिखली, शांति नगर, नंदई, लखोली समेत अन्य श्रमिक बाहुल्य इलाका पानी में घिर गया है। 
     नांदगांव में गाज  से 77 बकरियों की मौत
    राजनांदगांव, 16 जुलाई। जिले के गंडई क्षेत्र के गर्रा-पटपर गांव में दो किसानों की करीब 77 बकरियोंं पर गाज गिरने से  मौत हो गई। थाना प्रभारी श्री चुरेन्द्र ने बताया कि दो चरवाहे दयालु व जगदीश करीब 150 से अधिक बकरियों को लेकर जंगल की ओर निकले थे। इस दौरान गाज गिरने से दयालु की 55 और जगदीश की 22 बकरियां मर गर्इं। प्राकृतिक आपदा के तहत जांच के बाद पीडि़त चरवाहों को आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाएगी। घटनास्थल जाकर पुलिस मामले की जांच कर रही है।
    मोंगरा में 60 तो खातूटोला में 30 फीसदी पानी भरा
    नांदगांव के आधा दर्जन जलाशय आधे से अधिक भरे

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    राजनांदगांव, 16 जुलाई। जिले के आधा दर्जन बड़े बैराज लगातार हो रही बारिश से आहिस्ता-आहिस्ता भरने लगे हैं। जिले के सबसे बड़े मोंगरा बैराज की स्थिति सबसे बेहतर हुई है। जुलाई के पहले सप्ताह तक मात्र मोंगरा बैराज में 25 फीसदी पानी जमा था। अब यह आंकड़ा 60 फीसदी को छू गया है। इसी तरह सूखानाला बैराज में 40, खातूटोला में 30 फीसदी पानी जमा हुआ है। झड़ी लगने से बांध-बैराज की स्थिति में काफी सुधार हुआ है। 
    इधर खैरागढ़ ब्लॉक के प्रधानपाठ बैराज के सभी गेट को खोल दिया गया है। बताया जाता है कि छोटा बैराज होने की वजह से मामूली बरसात से ही वहां क्षमता से अधिक पानी का जमा हो जाता है। जिससे 25 फीसदी पानी को छोड़कर बाकी जल को छोड़ा जा रहा है। 
    प्रधानपाठ बैराज में पानी जमा होने से आसपास के इलाकों में अच्छी खेती के आसार बढ़े हैं। इधर मोंगरा, खातूटोला, सूखानाला, रूसे तथा रानीरश्मि देवी जलाशय में भी पानी की अच्छी आवक बढ़ी है। इन बांधों के अधूरे होने से किसानों को काफी चिंता हो रही थी।
    बेमेतरा में गाज से दो मौतें, 7 मजदूर झुलसे
    बेमेतरा, 16 जुलाई।  बेरला ब्लॉक के ग्राम घटियाकला व बहेरा में गाज गिरने से दो लोगों की मौत हो गई, वहीं 6 महिला समेत 7 लोग झुलस गए। उनका बेरला स्वास्थ्य केन्द्र में इलाज जारी है। 
    थाना प्रभारी विपिन रंगारी ने बताया कि बेरला समेत आसपास के गांव में दोपहर करीब 2:30 बजे आंधी तूफान के साथ बारिश होने लगी। इस दौरान ग्राम बहेरा में नेमलाल साहू के खेत में काम कर खेतिहर मजदूर गाज की चपेट में आ गए। इस घटना में अमरिका बाई, संध्या वर्मा, रामेश्वरी साहू, गुलाबा साहू, शगुन साहू, पूर्णिमा धीवर, परमेश्वरी साहू, देवलाल साहू झुलस गए। यहां सभी घायलों की उम्र तकरीबन 30-40 साल है। घायलों को संजीवनी एम्बुलेंस से बेरला स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया।  चिकित्सक कुंजाम ने अमरिका बाई को मृत घोषित कर दिया। शेष घायलों का बेरला में इलाज जारी है। 
    दूसरी घटना ग्राम घटियाकला की है, जहां तालाब में नहाने पहुंचा रवेन्द्र  निषाद  गाज गिरने से गंभीर रूप से झुलस गया। उसे बेरला स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया। जहां  उसे मृत घोषित कर दिया गया।  

  •  

Posted Date : 11-Jul-2018
  • पीडि़ता की याचिका पर हाईकोर्ट की नोटिस 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 11 जुलाई। महिला कांस्टेबल से यौन प्रताडऩा के आरोप में फंसे एडीजी पवन देव की मुसीबतें बढ़ गई हंै। आज हाईकोर्ट ने पीडि़ता की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए शासन को एक सप्ताह के भीतर जवाब देने के लिए कहा है। 
    बिलासपुर में आईजी रहने के दौरान आईजी पवन देव पर संभाग की एक महिला कांस्टेबल ने यौन दुव्र्यवहार का आरोप लगाया था। इस मामले की जांच गृह विभाग द्वारा गठित आंतरिक जांच समिति ने विशाखा गाइडलाइन के प्रावधानों के अनुरूप की थी। आईएएस रेणु पिल्ले की अध्यक्षता वाली इस समिति ने इसे गंभीर किस्म का अपराध बताते हुए अपनी रिपोर्ट शासन को सौंप दी थी। इसके बावजूद पवन देव के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। 
    डेढ़ साल बाद तक कार्रवाई नहीं होने पर पीडि़ता ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर दी। पीडि़ता का कहना था कि शासन को विशाखा गाइडलाइन के अंतर्गत की गई जांच रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई करनी है, लेकिन उन्हें एक और शो-कॉज नोटिस जारी कर बचाया गया है। यही नहीं बल्कि उन्हें पदोन्नति भी दे दी गई।
    मालूम हो कि इस शो-कॉज नोटिस पर पवन देव ने कैट से स्थगन हासिल कर लिया था, जिसे लेकर हाईकोर्ट में एक अन्य याचिका दायर की गई है। कैट के स्थगन पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी थी। आज चीफ जस्टिस अजय कुमार त्रिपाठी और जस्टिस प्रीतिंकर दिवाकर की डबल बेंच ने राज्य सरकार और गृह विभाग को नोटिस जारी कर एक सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने कहा है। 

  •  

Posted Date : 11-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 11 जुलाई। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के करीबी माने जाने वाले मुम्बई के प्रोफेसर अशोक गजानन मोदक को गुरु घासीदास केन्द्रीय विश्वविद्यालय का कुलाधिपति नियुक्त किया गया है। मोदक उन तीन प्रोफेसरों में शामिल रहे हैं जिन्हें उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रमों पर शोध करने के लिए केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने नियुक्त किया था। प्रो. मोदक भाजपा की ओर से 12 साल तक महाराष्ट्र विधानपरिषद् के सदस्य भी रहे हैं। 
    प्रो. मोदक ने सन् 1980 में जेएनयू से अर्थशास्त्र में पी-एच.डी. उपाधि प्राप्त की। उन्होंने ''सोवियत इकॉनामी एड टू इंडिया'' में शोध किया। उन्हें 06 जनवरी, 2015 को राष्ट्रीय अनुसंधान प्राध्यापक नामित किया। 21 जनवरी, 2016 को उन्हें भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् की सामान्य सभा का सदस्य नियुक्त किया गया।
    उन्होंने पुणे विश्वविद्यालय से एम.ए. अर्थशास्त्र (1963) एवं एम.ए. राजनीति विज्ञान (1967) की पढ़ाई की। सन् 1963 में कला, विज्ञान एवं वाणिज्य महाविद्यालय चालीसगांव (जलगांव, महाराष्ट्र) में अर्थशास्त्र के व्याख्याता के रूप में उन्होंने अपना शैक्षणिक कैरियर प्रारंभ किया। बाद में वे मुंबई विश्वविद्यालय ने सोवियत अध्ययन केन्द्र में रीडर बने। सन् 2006 में मुंबई विश्वविद्यालय के केन्द्रीय यूरेशियन अध्ययन केन्द्र में एडजंक्ट प्रोफेसर नियुक्त कर उन्हें सम्मानित किया गया। 1986 में अमेरिकी सरकार ने उन्हें महाशक्ति संबंधों पर बोलने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कई विदेश यात्राएं भी की। वे 30 किताबों के रचयिता हैं। वहीं उनके 104 अधिक शोध पत्र राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त विभिन्न समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके है। डॉ. मोदक का जन्म सन् 1940 में हुआ। 
    इंटरनेशनल स्टडीज, जर्नल ऑफ इंडियन काउंसिल ऑफ वल्र्ड अफेयर्स नई दिल्ली एवं एटर्नल इंडिया जैसी पत्रिकाओं में वे नियमित रूप से लिख रहे है। 1994 एवं 2000 में वे महाराष्ट्र में विधान परिषद के सदस्य निर्वाचित हुए। वर्तमान में वे महाराष्ट्र की दो शैक्षणिक संस्थाओं के अध्यक्ष हैं। 1997 में मुंबई विधान परिषद ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ संसदीय अवार्ड से सम्मानित किया।  सीयू की विद्या परिषद् की कल आयोजित बैठक में इसकी सूचना कुलपति प्रो. अजिला गुप्ता ने सदस्यों को दी।  

  •  

Posted Date : 07-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 7 जुलाई। महारानी लक्ष्मीबाई की स्मृति में छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ वीरांगना मार्च का आयोजन किया गया, जो बहतराई स्टेडियम में सम्पन्न हुआ।
    बेटी-बचाओ बेटी-पढ़ाओ  कार्यक्रम में मुख्य आयोजिका राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पाण्डेय के नेतृत्व रैली निकाली गई। पूरा शहर खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी के नारों से गूंज उठा। वीरांगना मार्च में विभिन्न स्कूल, कॉलेज, एनसीसी, एनएसएस, स्काउट-गाइड की छात्राएं महारानी लक्ष्मी बाई की परंपरागत वेशभूषा में दिखे। वीरांगना बालिकाएं घोड़े पर, बग्गी पर वाहनों में व शेष सफेद पोषाक में पैदल मार्च व विभिन्न विधाओं और शौर्य का प्रदर्शन करते दिखे। रैली एसईसीएल ग्राउंड, इंदिरा विहार बिलासपुर से प्रारंभ होकर नूतन चौक, सीएमएचओ कार्यालय, अशोक नगर चौक, साइंस कॉलेज, सरकंडा थाना बहतराई रोड़ होते हुए बहतराई स्टेडियम में इस रैली का समापन किया गया।
    दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया, अध्यक्षता विधानसभा उपाध्यक्ष बद्रीधर दीवान ने किया मुख्य अतिथि के रूप में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक और  विशिष्ट अतिथि भाजपा सांसद लखनलाल साहू, बेटी-बचाओ, बेटी-पढ़ाओ अभियान के राष्ट्रीय संयोजक राजेन्द्र फड़के, छग राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पाण्डेय, छग गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष भूपेन्द्र सवन्नी, महापौर किशोर राय, दीपक साहू, सुधा वर्मा, पी. दयानंद, दीपांशु काबरा, पुलिस महानिरीक्षक, बिलासपुर रेंज आरिफ एच. शेख उपस्थित रहे। कार्यक्रम में मंत्री अमर अग्रवाल कार्यक्रम में नहीं पहुंचे। छात्राओं ने दी रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति कार्यक्रम में विभिन्न स्कूलों के छात्राओं ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की थीम पर देशभक्ति गानों पर रंगारंग प्रस्तुति दी। पंथी नृत्य, भांगड़ा नृत्य प्रस्तुत किया गया। जिससे पूरा स्टेडियम देशभक्ति गानों पर झूम उठा बच्चों का उत्साह देखते ही बन रहा था।
    बालिकाओं ने ली आत्मरक्षा की ट्रेनिंग 
    कार्यक्रम में बालिकाओं को कानूनी अधिकार, आत्मसुरक्षा की ट्रेनिंग दी गई जिससे समय आने पर बालिकाएं अपनी रक्षा स्वयं कर सके।

  •  

Posted Date : 03-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 3 जुलाई। शराब पिलाकर गैर इरादतन हत्या और छेडख़ानी के मामले में साक्ष्य को छुपाने के आरोप में सीवी रमन विवि  के अस्टिटेंट रजिस्ट्रार नीरज कश्यप को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। 
    बीते 12 मई को लोरमी निवासी संजय साहू की लाश एक कार में शारदा विहार कॉलोनी की लाश मिली थी। पुलिस की जांच से सामने आया कि संजय साहू को उसका साथी चंदन गोंड उसके तोरवा स्थित घर से रात को 10 बजे से ले गया था। रात को करीब 1.30 बजे वह संजय साहू को लेकर उसके घर गया। कार में उसके अन्य साथी योगेश जायसवाल, दिनेश देवांगन  भी थे। 
    इस बीच संजय साहू के पिता शिवकुमार साहू ने तोरवा थाने में अपने बेटे को जबरन घर से लेकर जाने की रिपोर्ट लिखा दी थी। चंदन गोंड ने घर के भीतर घुसकर संजय की पत्नी से छेडख़ानी की कोशिश की। उसकी पत्नी ने शोर मचा दिया तो संजय को घर में छोड़े बिना ही सभी वापस लौट गए। 
    अगले दिन सुबह कार सकरी के पास मिली। यह कार नीरज कश्यप की थी। चंदन गोंड इस कार का ड्राइवर था। पुलिस ने जांच के बाद पाया कि कश्यप ने इस घटना को छुपाया है। उसने अपनी कार में युवक की लाश होने की जानकारी पुलिस को नहीं दी और अपने पास ड्राइवर के मोबाइल फोन को रख लिया। पुलिस ने कश्यप को कोर्ट में पेश किया, जहां से न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। 

  •  

Posted Date : 26-Jun-2018
  • मोबाइल पर बात कर रहा था ट्रैक्टर चालक

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 26 जून। पेन्ड्रारोड के समीप आमाडांड में आज सुबह  ट्रैक्टर ने एक स्कूल वैन को टक्कर मार दी। जिससे वैन का चालक घायल हो गया, जबकि बच्चों को कोई चोट नहीं आई। ट्रैक्टर चालक मोबाइल फोन पर बात करते  वाहन चला रहा था। 
    पुलिस के अनुसार पेन्ड्रारोड के समीप आमाडांड के बच्चों को  लेकर ग्लोरियस पब्लिक स्कूल का वैन स्कूल जा रहा था। इसी दौरान एक ट्रैक्टर ने तेजी से आकर वैन को टक्कर मार दी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक ट्रैक्टर चालक मोबाइल फोन पर बात भी कर रहा था। टक्कर के बाद वैन पलट गई, लेकिन उसमें सवार सभी छह बच्चे सकुशल हैं। टक्कर से वैन का चालक राहुल बघेल घायल हो गया है, जिसकी हालत गंभीर देखते हुए उसे सिम्स बिलासपुर रेफर किया गया है। ट्रैक्टर चालक दुर्घटना स्थल पर ट्रैक्टर छोड़कर फरार हो गया। 

  •  

Posted Date : 22-Jun-2018
  • बर्खास्त सिपाही यादव की गिरफ्तारी का विरोध
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 22 जून। पुलिस कर्मियों को आंदोलन के लिए भड़काने के आरोपी बर्खास्त आरक्षक राकेश यादव की गिरफ्तारी से नाराज होकर प्रदर्शन और ज्ञापन सौंपने की तैयारी कर रही तीन महिलाओं को आज पुलिस ने नेहरू चौक के पास से गिरफ्तार कर लिया। 
    ज्ञात हो कि बर्खास्त आरक्षक राकेश यादव को कल देर रात सूरजपुर के एक फॉर्म हाउस से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधिकारी पिछले कई दिनों से उसका लोकेशन लेने की कोशिश कर रहे थे। इसके लिए उसकी नर्स पत्नी को भी दो दिन तक महिला थाने में लाकर बिठा लिया गया था। कल नर्सों द्वारा इसके खिलाफ आवाज उठाए जाने के बाद उन्हें छोड़ा गया था। पुलिस ने क्राइम ब्रांच की टीम को राकेश यादव की गिरफ्तारी की जवाबदारी दी थी। 
    पुलिस अधिकारियों के मुताबिक राकेश यादव की सूचना जैसे ही इस टीम के पहुंचती थी उसका लोकेशन बदल जाता था। इससे ऐसा प्रतीत हुआ कि राकेश यादव तक पुलिस के ही लोग सूचना दे रहे हैं। इस सिलसिले में क्राइम ब्रांच के दो कांस्टेबलों को कल लाइन हाजिर भी कर दिया गया था। राकेश यादव को बिलासपुर लाया गया है, पर उसे कहां रखा गया है, इस बारे में जानकारी नहीं दी जा रही है। सूत्रों के अनुसार उन्हें सीपत थाने में रखा गया है। 
    दूसरी तरफ यादव की गिरफ्तारी के विरोध में पुलिस लाइन स्थित आवास से पुलिस परिवार की महिलाओं और अन्य परिजन कोन्हेर गार्डन में एकत्र होने लगे। उन्होंने नेहरू चौक में प्रदर्शन करने की योजना बनाई, पर वहां बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया। इसके बाद महिलाओं ने कलेक्टर, आई जी को ज्ञापन सौंपने का निर्णय लिया। इसी दौरान उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक गिरफ्तार महिलाओं की संख्या तीन है और सभी पुलिस के परिवारों से हैं। 

  •  



Previous123456Next