छत्तीसगढ़ » बिलासपुर

Previous123Next
09-Aug-2020 12:55 PM

उच्च-शिक्षा में सर्वोत्तम दर्जे वाला राज्य का पहला निजी विवि

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 9 अगस्त।
प्रतिष्ठित इंडिया टुडे मीडिया गु्रप ने बिलासपुर कोटा में संचालित डॉ. सी.वी. रामन निजी विश्वविद्यालय को निजी विश्वविद्यालयों की रैकिंग में प्रथम स्थान पर रखा है। रैंकिंग के लिए 10 बिंदुओं पर सर्वे किया गया था, जिसमें कि सीवीआरयून ने सभी मापदंडों को पूरा किया। 

विश्वविद्यालय के कुलसचिव गौरव शुक्ला ने यह जानकारी देते हुए बताया कि बहुत ही हर्ष की बात है, कि इंडिया टुडे जैसे प्रतिष्ठित मीडिया गु्रप ने सीवीआरयू को उच्च शिक्षा की गुणवत्ता में पहले नंबर में स्थान दिया है। रैंकिंग के 10 से अधिक बिंदु तय किए गए थे। इनमें गुणवत्ता युक्त शिक्षा, अधोसंरचना, विद्यार्थियों को दी जाने वाली सुविधाएं, पाठ्यक्रम,  सहित अनेक विषय शामिल किए गए थे। 

इसमें देश के लगभग सभी क्षेत्रों के विश्वविद्यालय शामिल किए गए थे। कुलसचिव शुक्ला ने बताया कि प्रदेश का यह प्रथम निजी विश्वविद्यालय है, जिसे नैक से बी प्लस ग्रेडिंग प्राप्त है। इस कोरोना वायरस संक्रमण के समय में डॉ. सी वी रामन विश्वविद्यालय तकनीकी रूप से अपडेट रहा है। विद्यार्थियों की पढ़ाई सहित सभी कार्य ऑनलाइन ही हो रहे हैं। यह विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ राज्य का प्रथम निजी विश्वविद्यालय है, जो आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में उच्चशिक्षा देने का कार्य कर रहा है। 

अपनी स्थापना के मूल उद्देश्यों की पूर्ति के लिए न्यूनतम अधोसंरचना से उच्च शिक्षा के क्षेत्र में सीवीआरयू ने अपना कार्य प्रारंभ किया था और स्वस्थ अकादमिक वातावरण एवं विद्यार्थियों के सर्वागीण विकास के लिए मूलभूत सुविधाओं को साल दर साल विकसित करते हुए प्रादेशिक, राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय उपलब्धियां हासिल की और प्रदेश का सबसे बड़ा तकनीकी संपन्न, आधुनिक अधोसंरचना एवं सूचना तकनीकी का उपयोग करने वाला विश्वविद्यालय बना। 
कुलपति प्रो. रवि प्रकाश दुबे ने इस बारे में कहा कि राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका निभाते हुए हम मूल्य आधारित शिक्षा दे रहे हैं। साथ ही विद्यार्थियों को कौशल में दक्ष किया जा रहा है। यह प्रयास समाज की समय सापेक्ष आवश्यकताओं को पूरा करेगा।
 
विश्वविद्यालय ने अपने उद्देश्यों के अनुरूप शोध के क्षेत्र में उच्च गुणवत्ता की प्रयोगशाला तथा पुस्कालय की स्थापना कर गुणवत्तापूर्ण शोध के लिए आवश्यक वातावरण तैयार किया। विश्वविद्यालय में उपकरणों से परिपूर्ण प्रयोगशालाएं, अत्याधुनिक कम्प्यूटर लैब, 50 हजार से अधिक पुस्तकों एवं राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय सामुदायिक रेडियो, रेडियो रामन् 90.4 स्थापित किया गया है, जो वनांचल लेकर ग्रामीण अंचल और शहर के घर-घर तक उच्च शिक्षा की अलख जगा रहा है। 


07-Aug-2020 4:12 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बिलासपुर 7 अगस्त। कोविड 19 महामारी के विरूद्ध लड़ाई में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निर्वहन करने वाले कोरोना वारियर्स को स्वतंत्रता दिवस समारोह  में सम्मानित किया जायेगा। कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने  आज स्वतंत्रता दिवस समारोह आयेाजन के लिए बैठक लेकर इस संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश दिये। 

मंथन सभा कक्ष में आयोजित बैठक में स्वतंत्रता दिवस समारोह आयोजन के लिए विभिन्न विभागों को दायित्व सौंपे गये। कलेक्टर ने बताया कि कोरोना के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए इस बार समारोह आयेाजन के दौरान विशेष सावधानी बरती जाएगी तथा भारत सरकार गृह मंत्रालय एवं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सभी दिशा निर्देशों का पालन किया जायेगा।
 
जिला स्तर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि ध्वजारोहण करेगें और पुलिस एवं नगर सैनिकों की टुकडिय़ों द्वारा सलामी दी जायेगी। मुख्य अतिथि द्वारा जनता के नाम संदेश का वाचन किया जायेगा। कार्यक्रम में कोरोना वारियर्स, डॉक्टरों, पुलिसकर्मियों, स्वास्थ्यकर्मियों, स्वच्छताकर्मियों को विशेष रूप से आमंत्रित कर उन्हें प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जायेगा।

मुख्य समारोह प्रात 9 बजे आरंभ होगा। जिसके पूर्व सभी  शासकीय कार्यालयों में प्रात 8 बजे ध्वजारोहण करने कहा गया है। सांस्कृतिक कार्यक्रम, परेड का निरीक्षण एवं अन्य कार्यक्रम नहीं होगें। जो कार्यक्रम होंगे उनकी व्यवस्था में कोई कमी नहीं रखी जाए। परेड की सलामी चार टुकडिय़ों द्वारा दी जायेगी जिसमें जिला पुलिस बल, होम गार्ड, सशस्त्र पुलिस बल के दल होंगे। 

कुर्सियों की व्यवस्था सोशल डिस्टेंसिंग के साथ की जायेगी और आमंत्रण पत्र सीमित संख्या में वितरित किये जाएंगे। कलेक्टर ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर रात्रि में सभी शासकीय एवं सार्वजनिक भवनों में रोशनी करने के भी निर्देश दिए। बैठक में पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल, अतिरिक्त कलेक्टर बी.एस.उइके सहित जिला एवं पुलिस प्रशासन के अन्य अधिकारी तथा संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


06-Aug-2020 10:22 PM

कारोबारियों ने किया सरकार के फैसले का स्वागत, प्रशासन व पुलिस ने आगाह किया

लॉकडाउन के दौरान चार मौतें भी हुईं 

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बिलासपुर, 6 अगस्त।
बीते एक पखवाड़े से बिलासपुर में जारी लॉकडाउन आज रात समाप्त होने के बाद कल से बाजार और दफ्तरों में सामान्य गतिविधियों को छूट मिल रही है। प्रशासन ने सावधानी के साथ इस छूट का इस्तेमाल करने की हिदायत दी है। यह पाया गया है कि लॉकडाउन के दौरान भी कोरोना संक्रमण के मामलों में कोई खास कमी भी नहीं आई। कल 5 अगस्त को भी 32 नये मरीज मिले थे और आज 6 अगस्त की शाम तक 36 मरीजों का पता चल चुका है। इन 15 दिनों में चार मौतें भी दर्ज की गई हैं। व्यापारिक तथा औद्योगिक क्षेत्रों से लगातार लॉकडाउन समाप्त करने की मांग भी की जा रही थी।

राज्य सरकार की ओर से कल शाम लॉकडाउन को आगे बढ़ाने को लेकर लिये गये नीतिगत निर्णय के बाद जिला कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने एक आदेश जारी कर 7 अगस्त से बाजार और दफ्तरों को खोलने की इजाजत दे दी है। इसके मुताबिक बिलासपुर नगर निगम, बोदरी तथा बिल्हा नगर पंचायत में 23 जुलाई से लागू लॉकडाउन को समाप्त करते हुए सभी दुकानों और व्यावसायिक संस्थाओं को सुबह 6 बजे से रात्रि 8 बजे तक संचालित करने की अनुमति दी है। रेस्टारेंट रात्रि 10 बजे तक संचालित किये जा सकेंगे। सभी सरकारी और निजी कार्यालयों में भी पूर्व की भांति कल से कामकाज शुरू हो सकेगा। आदेश में कहा गया है कि स्थानीय प्रशासन समय-समय पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, राज्य सरकार व स्थानीय प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन के पालन को सुनिश्चित करने के लिये कार्रवाई जारी रखेगी। एडवाइजरी के अनुरूप सार्वजनिक स्थल और व्यापारिक संस्थाओं में मास्क लगाने, शॉप की सैनेटाइजेशन, हैंड सैनेटाइजर्स, सोशल एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। सभी कार्यालयों में भी संक्रमण से बचाव के लिये जारी दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करना होगा। कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने पर कंटेन्मेंट जोन और हॉट स्पाट घोषित किये जायेंगे जिनमें पूर्व में दिये गये निर्देशों का पालन किया जायेगा। उपरोक्त गतिविधियों को संचालित करने की अनुमति इन क्षेत्रों में नहीं होगी। 

देखने में आया कि लॉकडाउन के दौरान कोरोना संक्रमण की रफ्तार नहीं थमी। जुलाई माह में नौ दिन तक लॉकडाउन रहा लेकिन इस माह 490 केस मिले जो मार्च से लेकर जून माह तक मिले कुल 181 मरीजों से दोगुना से भी अधिक है। इसी तरह अगस्त माह में अब तक 120 से अधिक केस मिल चुके हैं। जिले में आज 36 नये संक्रमितों का पता चला है जबकि कल 5 अगस्त को भी 32 मामले सामने आये। जबकि इस दौरान पूरे छह दिन लॉकडाउन था। बिलासपुर पुलिस की ओर से अपील की गई है कि व्यापार व कार्यालयों को खोलने के लिये मिली अनुमति का जिम्मेदारी से लोग इस्तेमाल करें और कोरोना से बचाव के लिये तय की गई एसओपी का पालन करें। 

चैम्बर ऑफ कामर्स ने किया स्वागत 
बिलासपुर के व्यापारियों ने लॉकडाउन समाप्त करने के राज्य सरकार व कलेक्टर के फैसले का स्वागत किया था। दो दिन पहले चैम्बर ऑफ कामर्स के प्रांतीय उपाध्यक्ष नवदीप सिंह अरोरा ने व्यापार, उद्योग जगत व निजी संस्थाओं में कार्यरत कर्मचारियों व मजदूरों को हो रही दिक्कत का हवाला दिया था और लॉकडाउन समाप्त करने की मांग की थी। अरोरा ने कहा कि व्यापार के लिये निर्धारित किया गया समय चैम्बर से सलाह लेकर निर्धारित किया गया है। संगठन को इससे खुशी है। इस फैसले से व्यापारियों के साथ-साथ नागरिकों को भी राहत मिली है। उन्होंने नागरिकों से समय सीमा व मास्क, सैनेटाइजर व सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखने की अपील की है। 

 


06-Aug-2020 2:06 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बिलासपुर, 6 अगस्त। जांजगीर जिले के कोविड सेंटर में उपचार के लिए लाए गए एक मरीज ने फांसी पर लटककर आत्महत्या कर ली।

मालखरौदा ब्लॉक के जगमहन गांव के निवासी एकमरीज को 4 अगस्त को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर कोविड सेंटर में भर्ती कराया गया था। अनुमान लगाया जा रहा है कि उसने देर रात खुदकुशी की है। 

सुबह जब 40 वर्षीय यह मरीज अपने बिस्तर पर नजर नहीं आया तो उसकी मां ने उसे खोजना शुरू किया। तब उसे अस्पताल के बाथरूम में खिडक़ी पर गमछे से फंदा बनाकर लटका हुआ पाया गया।

जानकारी मिली है कि यह युवक हाल ही में हरिद्वार से लौटा था। दो अगस्त को वह गांव पहुंचा। लोगों को इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने उसे कोरोना टेस्ट कराने के लिये कहा। टेस्ट के बाद युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली, जिसके बाद उसे कोविड सेंटर में भर्री करा दिया। सेंटर के प्रभारी डॉ. अनिल भगत ने बताया कि सुबह घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस को सूचित किया गया।

एसडीओपी जितेन्द्र चंद्राकर के अनुसार घटना की जांच कराई जा रही है। 

यह बताया जा रहा है कि युवक अपने इलाज के लिये कोविड सेंटर में भर्ती नहीं होना चाहता था। कोरोना की बात सुनकर वह अवसाद में चला गया था। 


05-Aug-2020 8:22 PM

विधायक ने हनुमान मंदिर में पूजा की

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 5 अगस्त।
अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिये आज हुए भूमिपूजन की कांग्रेस नेताओं ने भी खुशी मनाई। विधायक शैलेष पांडेय ने पुराने बस स्टैंड स्थित हनुमान मंदिर में कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचकर पूजा पाठ व आरती की। उन्होंने शहर, प्रदेश व देशवासियों की खुशहाली के लिये प्रार्थना की और राम मंदिर का निर्माण शुरू होने की बधाई दी। 

कांग्रेस के जिला अध्यक्ष विजय केशरवानी और भाजपा नेता पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल दोनों ने ही अपील जारी कर बुधवार की शाम को राममंदिर जन्मभूमि शिलान्यास के अवसर पर शाम के समय घरों में पांच-पांच दीये जलाने की अपील की है। केशरवानी ने लोगों में दीये भी बांटे हैं। 

दोपहर में मंदिर निर्माण के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भूमिपूजन किये जाने के बाद शहर में कई जगह पटाखे और आतिशबाजी के साथ हर्ष व्यक्त किया गया। 


05-Aug-2020 8:21 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 5 अगस्त।
विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महन्त और जिले के प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने नये एसडीएम कार्यालय का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने मरवाही में नया तहसील भवन तथा निमधा में उप-तहसील खोलने की घोषणा भी की। अतिथियों ने 1.67 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का भूमि पूजन भी किया।

कार्यक्रम में कोरबा सांसद ज्योत्सना महन्त, विधायक शैलेष पांडेय, सोनहत विधायक गुलाब कमरो, बिलासपुर जिला पंचायत के अध्यक्ष अरूण सिंह चौहान सहित अनेक जनप्रतिनिधि भी शामिल हुए।

मुख्य अतिथि डॉ. महन्त ने इस मौके पर कहा कि गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही को नया जिला बनाने की बहुप्रतीक्षित मांग को छत्तीसगढ़ सरकार ने पूरा किया और आज एसडीएम कार्यालय शुरू होने से मरवाही के निवासियों को नई सौगात मिली है। अब राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिये उन्हें दूर नही जाना पड़ेगा।

राजस्व एवं आपदा प्रबंधन तथा मरवाही के प्रभारी मंत्री अग्रवाल ने इस मौके पर निमधा में उप-तहसील शुरू करने और मरवाही में नये तहसील भवन के निर्माण की घोषणा की।
सांसद ज्योत्सना महंत ने कहा कि एसडीएम कार्यालय खुलने से क्षेत्र के विकास को नई गति मिलेगी।

कलेक्टर डोमन सिंह ने बताया कि मरवाही अनुविभाग में 4 राजस्व निरीक्षक मंडल, 34 पटवारी हल्के व 86 राजस्व ग्राम शामिल होंगे जिससे प्रशासनिक कार्यों में कसावट आयेगी।
इस अवसर पर एक करोड़ 67 लाख 78 हजार रुपए के निर्माण कार्यों का भूमिपूजन किया गया। इनमें 89 लाख 91 हजार रुपए की लागत से 9 ग्राम पंचायतों में उचित मूल्य की दुकान, 24 लाख 12 हजार रूपए की लागत से 4 ग्राम पंचायतों में 12 चबूतरा निर्माण, 32 लाख 25 हजार रुपए की लागत से 5 ग्राम पंचायतों में आंगनबाड़ी केन्द्र निर्माण, 21 लाख 50 हजार की लागत से 10 ग्राम पंचायतों में रंगमंच निर्माण शामिल हैं। इस अवसर पर ग्रामीणों को शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत हितग्राहीमूलक सामग्रियों का वितरण किया गया।

कार्यक्रम में कांग्रेस के अटल श्रीवास्तव, विजय केशवरवानी, प्रमोद नायक, आशीष सिंह, अभय नारायण, मनोज गुप्ता, राजेन्द्र शुक्ल, गुलाब राज, सुनील शुक्ला, प्रशांत श्रीवास, अमोल पाठक, अमित पाठक, अमन शर्मा, नारायण शर्मा आदि उपस्थित थे।
 


05-Aug-2020 8:20 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 5 अगस्त।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कोरोना को लेकर सोशल मीडिया फेसबुक में आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले शत्रु शकार नाम के व्यक्ति के खिलाफ अपराध दर्ज करने की मांग को लेकर प्रदेश विधि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने आज पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल को ज्ञापन सौंपा। 

विधि विभाग के प्रदेश अध्यक्ष संदीप दुबे, पदाधिकारी धीरेन्द्र पांडेय, अश्वनी जायसवाल, दल्लू सिंह ठाकुर व कमलकांत मिश्रा ने आज एसपी को सौंपे गये ज्ञापन में कहा कि रायपुर के शत्रु शकार नाम के एकाउन्ट से लगातार स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा कोरोना महामारी के बारे में झूठी और धार्मिक व जातीय घृणा फैलाने वाली पोस्ट डाला जा रहा है। तीन दिन पहले पोस्ट की गई वीडियो में लिखा है कि भूपेश बघेल सरकार का कोरोना के नाम पर नया व्यापार चालू हो गया है। एक कोरोना संक्रमित मरीज बताने पर केन्द्र से 1.60 हजार रुपये मिलते हैं। सोचिये प्रदेश में 40 हजार मरीज सामने लाये गये तो सरकार को कितना फायदा हो रहा है। केन्द्र से इतनी रकम लेकर सरकार बैठी है। कोरोना जांच बिल्कुल न करायें, कोरोना के नाम से गरीब आदमी डर रहा है, आदि।

दुबे ने ज्ञापन मे कहा है कि उक्त फेसबुक एकाउन्ट की पूरी जांच करके महामारी अधिनियम 1897, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 तथा आईपीसी की धारा 153, 153 ए, बी, 269 तथा 504 के तहत आरोपी के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करें। कार्रवाई उन पर भी करें जो इस पोस्ट को शेयर कर रहे हैं।  
 


05-Aug-2020 8:19 PM

गोधन न्याय योजना के तहत भुगतान शुरू 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 5 अगस्त।
मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप जिले में आज से गौपालकों को गोधन न्याय योजना के तहत खरीदे गये गोबर की राशि का भुगतान शुरू किया गया। जिले के 2012 गोबर विक्रेताओं से दो रुपये प्रति किलो के दर से खरीदे गये एक लाख 82 हजार 850.5 किलो गोबर की कीमत 3 लाख 65 हजार 701 रुपये का ऑनलाइन भुगतान सहकारी बैंक की 14 शाखाओं के माध्यम से उनके खाते में किया गया। 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज गोधन न्याय योजना के अंतर्गत गोबर खरीदी की राशि के भुगतान का शुभारंभ राजधानी रायपुर से किया। बिलासपुर स्थित मंथन सभा कक्ष में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गजेन्द्र सिंह ठाकुर, केन्द्रीय सहकारी बैंक के सीईओ श्रीकांत चंद्राकर सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी, कर्मचारी व गौ पालक इस कार्यक्रम में शामिल हुए। 

जिले की 82 सहकारी समितियों में 81 गौठान समितियां पंजीकृत हैं। जिले के 79 गौठानों में 5237 गौपालकों ने गोबर बेचने के लिये अपना पंजीयन कराया है। इनमें से एक अगस्त तक 2012 गौपालकों ने गोबर की बिक्री की है। सर्वाधिक खरीदी बिल्हा विकासखंड के 21 गौठानों से की गई है। यहां 64 हजार 514.5 किलो गोबर की खरीदी की गई और गौपालकों को 1 लाख 29 हजार 29 रुपये का भुगतान किया गया। इसके अलावा मस्तूरी के 19 गौठानों से खरीदे गये 22 हजार 218 किलो गोबर के 44 हजार 436 रुपये, कोटा के 15 गौठानों से खरीदे गए 16 हजार 345 किलो गोबर के 32 हजार 690 रुपये, तखतपुर के 17 गौठानों से खरीदे गये 30 हजार 81 किलो गोबर के 60 हजार 162 रुपये, नगर पंचायत कोटा के गौठान से खरीदे गए 110 किलो गोबर के 220 रुपये, नगर पंचायत रतनपुर के गौठान से खरीदे गए 491 किलो गोबर के 982 रुपये, नगर पंचायत तखतपुर के गौठान से खरीदे गए 120 किलो गोबर के 240 रुपये, नगर निगम बिलासपुर के गौठान से खरीदे गये 43 हजार 923 किलो गोबर के 87 हजार 846 रुपये, नगर पंचायत मल्हार के गौठान से खरीदे गए 112 किलो गोबर के 224 रुपये, नगर पंचायत बोदरी के गौठान से खरीदे गये 2144 किलो गोबर के 4288 रुपये तथा नगर पंचायत बिल्हा से खरीदे गए 2792 किलो गोबर के 5548 रुपयों का भुगतान गौपालकों को किया गया। 

मुख्यमंत्री बघेल ने आज प्रदेश के हितग्राहियों से गोबर खरीदकर एक करोड़ 65 लाख की राशि का पहला भुगतान किया। देश के किसी भी राज्य में छत्तीसगढ़ पहला प्रदेश है जो हितग्राहियों से गोबर खरीद रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विभिन्न जिलों के हितग्राहियों से चर्चा कर उनके खाते में राशि ट्रांसफर की और उन्हें ऑनलाइन चर्चा कर बधाई दी।  
 


05-Aug-2020 8:17 PM

जिले में मार्च से अब तक 21 हजार सैंपल्स की हुई जांच

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 5 अगस्त।
संभाग व जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए अलग-अलग जगहों पर रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलिमरेस चेन रिएक्शन (आरटीपीसीआर) टेस्ट की सुविधा शुरू की जा रही है। एक अगस्त से यह सुविधा बिलासपुर स्थित सिम्स मेडिकल कॉलेज में शुरू की गई है। बिलासपुर में एक मार्च से 3 अगस्त के बीच लगभग 21,000लोगों का टेस्ट किया गया। इसमें 461 पुरुष व 226 महिलाओं सहित कुल 687 लोगों की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

इसके बाद से यहां काफी संख्या में सैंपल पहुंच रहे थे। सैंपल का दबाव कम करने और अधिक तेजी से जांच को बढ़ाने के लिए तीन अगस्त को अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में यह सुविधा शुरू की गई। इससे पहले तक सरगुजा संभाग के सभी केस के टेस्ट सैंपल जांच के लिए बिलासपुर व रायपुर भेजे जा रहे थे। स्वास्थ्य विभाग ने लक्ष्य निर्धारित करने के लिए बिलासपुर सहित सभी जिलों में पर्याप्त बिस्तरों के इंतजाम के निर्देश भी दिए हैं। इसके लिए यहां आर-टीपीसीआर विधि से जांच के साथ ही सभी जिलों में रैपिड एंटीजन किट से भी जांच की जा रही है।

बिलासपुर में आर-टीपीसीआर जांच की सुविधा न मिलने से काफी परेशानी हो रही थी। सैंपल दूसरे जगहों पर भेजने पड़ते थे। इससे टेस्ट रिपोर्ट आने में थोड़ी देर होती थी। बिलासपुर के सिम्स मेडिकल कॉलेज में आरटीपीसीआर की सुविधा शुरू होने से न सर्फ सैंपल का दबाव कम हुआ है, बल्कि जिले में कोविड-19 टेस्टके लिए सैंपलिंग का कार्य तेजी से होगा। बिलासपुर के बाद अब इस जांच की सुविधा प्रदेश में सात जगहों पर मिल रही है। एम्स रायपुर, डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल तथा रायगढ़ और जगदलपुर मेडिकल कॉलेज में यह जांच पहले से होती रही है।

कोविड-19 की पहचान के लिए प्रदेश में अब तक लगभग3.25 लाख सैंपलों की जांच की जा चुकी है। आर-टीपीसीआर से शासकीय मेडिकल कॉलेजों में 2.58 लाख से अधिक और निजी लैबों के माध्यम से 1241 सैंपलों की जांच की गई है। शासकीय ट्रू-नाट लैबों में 25,148 और निजी क्षेत्र के ट्रू-नाट लैबों में 1905 सैंपलों की जांच हुई है। 

सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन ने कहा कि हमारा प्रयास है कि अधिक से अधिक लोगों की सैंपलिंग करके कोविड-19 टेस्ट किया जाए। कोरोना की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग का पूरा अमला जमीनी स्तर पर काम कर रहा है।
 


05-Aug-2020 3:29 PM

विधायक ने हनुमान मंदिर में पूजा की

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बिलासपुर, 5 अगस्त। अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिये आज हुए भूमिपूजन की कांग्रेस नेताओं ने भी खुशी मनाई। विधायक शैलेष पांडेय ने पुराने बस स्टैंड स्थित हनुमान मंदिर में कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचकर पूजा पाठ व आरती की। उन्होंने शहर, प्रदेश व देशवासियों की खुशहाली के लिये प्रार्थना की और राम मंदिर का निर्माण शुरू होने की बधाई दी। 

कांग्रेस के जिला अध्यक्ष विजय केशरवानी और भाजपा नेता पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल दोनों ने ही अपील जारी कर बुधवार की शाम को राममंदिर जन्मभूमि शिलान्यास के अवसर पर शाम के समय घरों में पांच-पांच दीये जलाने की अपील की है। केशरवानी ने लोगों में दीये भी बांटे हैं। 

दोपहर में मंदिर निर्माण के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भूमिपूजन किये जाने के बाद शहर में कई जगह पटाखे और आतिशबाजी के साथ हर्ष व्यक्त किया गया। 


05-Aug-2020 3:26 PM

कांग्रेस ने की एफआईआर की मांग 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बिलासपुर, 5 अगस्त। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कोरोना को लेकर सोशल मीडिया फेसबुक में आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले शत्रु शकार नाम के व्यक्ति के खिलाफ अपराध दर्ज करने की मांग को लेकर प्रदेश विधि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने आज पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल को ज्ञापन सौंपा। 

विधि विभाग के प्रदेश अध्यक्ष संदीप दुबे, पदाधिकारी धीरेन्द्र पांडेय, अश्वनी जायसवाल, दल्लू सिंह ठाकुर व कमलकांत मिश्रा ने आज एसपी को सौंपे गये ज्ञापन में कहा कि रायपुर के शत्रु शकार नाम के एकाउन्ट से लगातार स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा कोरोना महामारी के बारे में झूठी और धार्मिक व जातीय घृणा फैलाने वाली पोस्ट डाला जा रहा है। तीन दिन पहले पोस्ट की गई वीडियो में लिखा है कि भूपेश बघेल सरकार का कोरोना के नाम पर नया व्यापार चालू हो गया है। एक कोरोना संक्रमित मरीज बताने पर केन्द्र से 1.60 हजार रुपये मिलते हैं। सोचिये प्रदेश में 40 हजार मरीज सामने लाये गये तो सरकार को कितना फायदा हो रहा है। केन्द्र से इतनी रकम लेकर सरकार बैठी है। कोरोना जांच बिल्कुल न करायें, कोरोना के नाम से गरीब आदमी डर रहा है, आदि।

दुबे ने ज्ञापन मे कहा है कि उक्त फेसबुक एकाउन्ट की पूरी जांच करके महामारी अधिनियम 1897, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 तथा आईपीसी की धारा 153, 153 ए, बी, 269 तथा 504 के तहत आरोपी के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करें। कार्रवाई उन पर भी करें जो इस पोस्ट को शेयर कर रहे हैं।  


05-Aug-2020 3:26 PM

 प्रभारी मंत्री ने की निमधा उप-तहसील की घोषणा

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बिलासपुर, 5 अगस्त। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महन्त और जिले के प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने नये एसडीएम कार्यालय का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने मरवाही में नया तहसील भवन तथा निमधा में उप-तहसील खोलने की घोषणा भी की। अतिथियों ने 1.67 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का भूमि पूजन भी किया।

कार्यक्रम में कोरबा सांसद ज्योत्सना महन्त, विधायक शैलेष पांडेय, सोनहत विधायक गुलाब कमरो, बिलासपुर जिला पंचायत के अध्यक्ष अरूण सिंह चौहान सहित अनेक जनप्रतिनिधि भी शामिल हुए।

मुख्य अतिथि डॉ. महन्त ने इस मौके पर कहा कि गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही को नया जिला बनाने की बहुप्रतीक्षित मांग को छत्तीसगढ़ सरकार ने पूरा किया और आज एसडीएम कार्यालय शुरू होने से मरवाही के निवासियों को नई सौगात मिली है। अब राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिये उन्हें दूर नही जाना पड़ेगा।

राजस्व एवं आपदा प्रबंधन तथा मरवाही के प्रभारी मंत्री अग्रवाल ने इस मौके पर निमधा में उप-तहसील शुरू करने और मरवाही में नये तहसील भवन के निर्माण की घोषणा की।

सांसद ज्योत्सना महंत ने कहा कि एसडीएम कार्यालय खुलने से क्षेत्र के विकास को नई गति मिलेगी।

कलेक्टर डोमन सिंह ने बताया कि मरवाही अनुविभाग में 4 राजस्व निरीक्षक मंडल, 34 पटवारी हल्के व 86 राजस्व ग्राम शामिल होंगे जिससे प्रशासनिक कार्यों में कसावट आयेगी।

इस अवसर पर एक करोड़ 67 लाख 78 हजार रुपए के निर्माण कार्यों का भूमिपूजन किया गया। इनमें 89 लाख 91 हजार रुपए की लागत से 9 ग्राम पंचायतों में उचित मूल्य की दुकान, 24 लाख 12 हजार रूपए की लागत से 4 ग्राम पंचायतों में 12 चबूतरा निर्माण, 32 लाख 25 हजार रुपए की लागत से 5 ग्राम पंचायतों में आंगनबाड़ी केन्द्र निर्माण, 21 लाख 50 हजार की लागत से 10 ग्राम पंचायतों में रंगमंच निर्माण शामिल हैं।

इस अवसर पर ग्रामीणों को शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत हितग्राहीमूलक सामग्रियों का वितरण किया गया।

कार्यक्रम में कांग्रेस के अटल श्रीवास्तव, विजय केशवरवानी, प्रमोद नायक, आशीष सिंह, अभय नारायण, मनोज गुप्ता, राजेन्द्र शुक्ल, गुलाब राज, सुनील शुक्ला, प्रशांत श्रीवास, अमोल पाठक, अमित पाठक, अमन शर्मा, नारायण शर्मा आदि उपस्थित थे।


05-Aug-2020 3:24 PM

जिले में मार्च से अब तक 21 हजार सैंपल्स की हुई जांच

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 

बिलासपुर, 5 अगस्त। संभाग व जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए अलग-अलग जगहों पर रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलिमरेस चेन रिएक्शन (आरटीपीसीआर) टेस्ट की सुविधा शुरू की जा रही है। एक अगस्त से यह सुविधा बिलासपुर स्थित सिम्स मेडिकल कॉलेज में शुरू की गई है। बिलासपुर में एक मार्च से 3 अगस्त के बीच लगभग 21,000लोगों का टेस्ट किया गया। इसमें 461 पुरुष व 226 महिलाओं सहित कुल 687 लोगों की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

इसके बाद से यहां काफी संख्या में सैंपल पहुंच रहे थे। सैंपल का दबाव कम करने और अधिक तेजी से जांच को बढ़ाने के लिए तीन अगस्त को अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में यह सुविधा शुरू की गई। इससे पहले तक सरगुजा संभाग के सभी केस के टेस्ट सैंपल जांच के लिए बिलासपुर व रायपुर भेजे जा रहे थे। स्वास्थ्य विभाग ने लक्ष्य निर्धारित करने के लिए बिलासपुर सहित सभी जिलों में पर्याप्त बिस्तरों के इंतजाम के निर्देश भी दिए हैं। इसके लिए यहां आर-टीपीसीआर विधि से जांच के साथ ही सभी जिलों में रैपिड एंटीजन किट से भी जांच की जा रही है।

बिलासपुर में आर-टीपीसीआर जांच की सुविधा न मिलने से काफी परेशानी हो रही थी। सैंपल दूसरे जगहों पर भेजने पड़ते थे। इससे टेस्ट रिपोर्ट आने में थोड़ी देर होती थी। बिलासपुर के सिम्स मेडिकल कॉलेज में आरटीपीसीआर की सुविधा शुरू होने से न सर्फ सैंपल का दबाव कम हुआ है, बल्कि जिले में कोविड-19 टेस्टके लिए सैंपलिंग का कार्य तेजी से होगा। बिलासपुर के बाद अब इस जांच की सुविधा प्रदेश में सात जगहों पर मिल रही है। एम्स रायपुर, डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल तथा रायगढ़ और जगदलपुर मेडिकल कॉलेज में यह जांच पहले से होती रही है।

कोविड-19 की पहचान के लिए प्रदेश में अब तक लगभग3.25 लाख सैंपलों की जांच की जा चुकी है। आर-टीपीसीआर से शासकीय मेडिकल कॉलेजों में 2.58 लाख से अधिक और निजी लैबों के माध्यम से 1241 सैंपलों की जांच की गई है। शासकीय ट्रू-नाट लैबों में 25,148 और निजी क्षेत्र के ट्रू-नाट लैबों में 1905 सैंपलों की जांच हुई है।

सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन ने कहा कि हमारा प्रयास है कि अधिक से अधिक लोगों की सैंपलिंग करके कोविड-19 टेस्ट किया जाए। कोरोना की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग का पूरा अमला जमीनी स्तर पर काम कर रहा है।


04-Aug-2020 10:40 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 4 अगस्त।
सेंट्रल जेल में आज एक महिला कैदी की मौत के साथ ही आज शहर में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर तीन हो गई।

केन्द्रीय जेल में आज एक 90 वर्षीय महिला कैदी शौचालय के पानी में फिसलकर गिर पड़ी। सिर में चोट आने पर उसे तत्काल सिम्स चिकित्सालय ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। मौत के बाद उसका कोविड टेस्ट किया गया, तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई। 

आज ही अपोलो अस्पताल में दो लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है। 3 अगस्त क रात में भर्ती कराये गये मोपका निवासी एक आरपीएफ जवान एन आर पोर्ते (58 वर्ष) की अपोलो अस्पताल में मौत हो गई। अस्पताल प्रबंधन ने बताया कि जवान को गंभीर स्थिति में दाखिल कराया गया था। उसकी सुबह चार बजे इलाज के दौरान मौत हो गई। उसका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाया गया। बीते 18 जुलाई से भर्ती बिजली विभाग के रिटायर्ड मुख्य अभियंता व्ही. संतोष राव (70 वर्ष) को अपोलो अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया था। वे विजयवाड़ा से लौटने के बाद बीमार होने के बाद भर्ती कराये गये थे। उनकी भी आज सुबह मौत हो गई। अस्पताल प्रबंधन के अनुसार उसे कुछ अन्य बीमारियों के भी लक्षण थे।

जिले में आज कोरोना के तीन नये मामले भी सामने आये हैं। इन्हें मिलाकर अब तक जिले में 702 कोरोना संक्रमण के केस आ चुके हैं जिनमें से 117 अभी सक्रिय हैं। शेष उपचार के बाद ठीक हो चुके हैं। 


04-Aug-2020 5:25 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 4 अगस्त।
बेलगहना के समीप चाटापारा में अरपा नदी पर बनाया गया एनिकट एक बार फिर टूट गया है। जल संसाधन मंत्री तक पहुंची शिकायत के बाद विधायक शैलेष पांडेय आज इसका निरीक्षण के लिये इंजीनियरों के साथ वहां पहुंचे। उन्होंने मंत्री को रिपोर्ट सौंपने की बात कही है।

चाटापारा में अरपा नदी के ऊपर 8 करोड़ की लागत से तैयार किया गया यह एनिकट 2014 से लेकर अब तक तीन बार टूट चुका है। पहली बार जब टूटा तो इसे हुदहुद तूफान का असर बताया गया। उस समय इस एनिकट को बने एक साल ही हुआ था। जांच के दौरान तूफान के चलते अत्यधिक वर्षा होने और उससे एनिकट टूटने का तर्क गलत साबित हुआ और चार इंजीनियरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई और 6 सस्पेंड किये गये। इसकी मरम्मत पर एक करोड़ रुपये से अधिक खर्च किया गया। हालांकि बाद में सभी अधिकारी बहाल हो गये। एफआईआर दर्ज होने के बाद भी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई। बारिश के दौरान 24 जुलाई को फिर यह एनिकट ढह गया। इससे पूरा स्ट्रक्चर ढह गया है। 

इस बार भी अधिकारियों ने बारिश का बहाना बनाना शुरू किया है। सिंचाई विभाग के अधिकारी कई दिनों तक मौके पर ही नहीं पहुंचे। उनका तर्क था कि कंटेनमेन्ट जोन होने के कारण वे नदी तक नहीं जा पा रहे हैं। जबकि सचाई यह है कि इस इलाके में कंटेनमेन्ट जोन नहीं है। यह सिर्फ शहरी क्षेत्रों में लागू है। बताया जा रहा है कि सिंचाई विभाग फिर इसकी मरम्मत के लिये डेढ़ करोड़ रुपये की स्टिमेट बनाकर शासन को भेज रहा है। 

चाटापारा एनिकट निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की शिकायत कांग्रेस के स्थानीय नेताओं ने विपक्ष में रहते हुए की थी। इस बार एनिकट टूटने की शिकायत जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे को की गई। उन्होंने घटना की जांच का आदेश ईएनसी को दिया है।
 
विधायक शैलेष पांडेय ने आज जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे के निर्देश पर स्थल का निरीक्षण किया। उनके साथ विभाग के मुख्य अभियंता, ईई, एसडीओ आदि भी थे। कांग्रेस नेता इंजीनियर शैलेन्द्र जायसवाल, दीपांशु श्रीवास्तव, विनय शुक्ला आदि भी इस दौरान उनके साथ थे। निरीक्षण के बाद विधायक पांडेय ने कहा कि शासन की एक बड़ी संपत्ति भ्रष्टाचार की बलि चढ़ गई जिसके कारण किसानों को भी बड़ा नुकसान होगा। इस मामले की गंभीरता से जांच होनी चाहिये। इस रिपोर्ट वे मंत्री चौबे को सौंपेंगे।


04-Aug-2020 5:23 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 4 अगस्त।
अपोलो अस्पताल में आज कोविड-19 संक्रमित दो मरीजों की मौत हो गई। इनमें एक 58 साल का आरपीएफ का जवान तथा दूसरा 71 साल का वृद्ध है।
 
संभागीय कोविड अस्पताल के अलावा बिलासपुर के अपोलो अस्पताल में भी कोरोना संक्रमित उपचार के लिए भर्ती किए गए हैं। आज अस्पताल में सुबह करीब 4 बजे आरपीएफ के सिपाही 58 वर्षीय एनआर पोर्ते की मौत हो गई। उन्हें कल ही उपचार के लिये भर्ती कराया गया था। विजयवाड़ा से लौटने के बाद संक्रमित पाये जाने के कारण बीते 18 जुलाई से भर्ती व्ही, संतोष राव की भी आज सुबह ही अपोलो में मौत हो गई। 


02-Aug-2020 12:10 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 2 अगस्त।
गैलेक्सी अपार्टमेंट में रहने वाले रक्षा विभाग के 79 वर्षीय रिटायर्ड कर्मचारी से 14 लाख 26 हजार रुपये की ऑनलाइन धोखाधड़ी हो गई। कॉल करने वाले ने लॉटरी में महिन्द्रा एक्सयूवी जीतने का ऑफर देकर इंटरनेट बैंकिंग का आईडी पासवर्ड हासिल कर लिया और खाते से राशि निकाल ली। 
सकरी थाने में प्रार्थी छेदीलाल पटेल ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि बीते 27 जुलाई को उनके मोबाइल पर 9874334788 से एक फोन आया जिसने अपना नाम नितिन कुमार बताया और कहा कि उन्हें लकी ड्रा में पहला इनाम महिद्रा कार एक्सयूवी 500 मिला है।
 
पटेल ने कहा कि उसे इस उम्र में कार, जीप की जरूरत नहीं है तब फोन करने वाले ने कहा कि आप इसके बदले में कीमत 14 लाख 50 हजार रुपये ले सकते हैं। आपको 3500 रुपये रजिस्ट्रेशन चार्ज देना होगा। पटेल यह राशि जमा करने के लिये तैयार हो गये। उन्होंने पूछा कि किस खाते में राशि जमा करनी है तो उसने रॉकी कुमार नाम के व्यक्ति के दो मोबाइल नंबर और एक खाता नंबर एसबीआई का दिया। फोन पे के जरिये बताये गये खाते में पटेल ने रुपये ट्रांसफर कर दिए। 

नितिन कुमार ने इसके बाद फोन करके कहा कि इसके बाद उनके सीनियर राहुल कुमार सिंह आपको फोन करेंगे। राहुल कुमार ने फोन नंबर 9635403332 से बात की। राहुल कुमार ने इंटरनेट बैंकिंग का आईडी पासवर्ड मांगा। पटेल ने पहले तो यह सब देने से मना किया। पर उसकी गोल मोल बातों में आकर उसने आईडी पासवर्ड दे दिये। इसके कुछ घंटे बाद 8766260530 से पटेल को फोन किया। फोन करने वाले ने अपना नाम मनोज कुमार अग्रवाल बताया और कहा कि राहुल की तबियत खराब है इसलिये यह केस वह देख रहा है। इसके बाद पटेल ने चेक किया तो 5 लाख 500 रुपये उनके एकाउन्ट से पार हो गये थे। 

मनोज बताने वाले व्यक्ति को पटेल ने फोन किया और उसे बताया कि मेरे एकाउन्ट से पैसे निकल गये हैं। राहुल ने कहा कि गलती से आहरण हो गया है। कल तक पूरा 14.50 लाख रुपये आपके खाते में आयेगा। 29 जुलाई को राहुल ने फिर फोन किया और बताया कि उसके खाते में 12 लाख रुपये रिवर्स होकर आ गये हैं। इसके बाद पटेल ने अपना ई मेल चेक किया तो देखा कि उनके खाते से कुल 14 लाख 26 हजार 695 रुपये अब तक पार हो चुके हैं। इसके बाद फिर उनके पास आलोक कुमार सिंह नाम के व्यक्ति का फोन मोबाइल नंबर 7044414802 से आया उसने कहा कि चूंकि आपके खाते से पूरा पैसा निकल चुका है इसलिये पैसे वापस डालने के लिये 75 हजार रुपये और डालने पड़ेंगे। तब तक पटेल को अपने साथ ठगी होने का अंदाजा लग गया। आरोपियों ने लॉटरी लगने का झांसा देकर 14 लाख 26 हजार रुपये पार कर दिये। 

पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धारा 34 और 420 के तहत अपराध दर्ज किया है। हाल ही में जिले में लगातार ऑनलाइन ठगी की वारदातें हो रही हैं। शिकार लोगों में कई रिटायर्ड कर्मचारी हैं, जिनकी जमा पूंजी खाते से निकाली जा रही है। पुलिस और बैंकों द्वारा बार-बार अपने खाते नंबर, पासवर्ड और ओपीटी शेयर नहीं करने के लिये आगाह किये जाने के बाद लोग झांसे में आ रहे हैं। 


01-Aug-2020 5:44 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
करगी रोड (कोटा), 1 अगस्त।
कोटा नगर पंचायत में वार्ड -1 डिपरापारा में मुख्य अतिथि नगर पंचायत अध्यक्ष अमृता प्रदीप कौशिक और कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष आदित्य दिक्षित ने गोधन न्याय योजना का शुभारंभ किया।

आदित्य दीक्षित ने बताया कि मुख्यमंत्री की महत्वकांक्षी गोधन न्याय योजना के तहत  क्षेत्रों  में गोबर की खरीदी मणि कंचन केंद्र डीपरापारा वार्ड नंबर 1 में ड्रेस तथा चरण पादुका आदि वितरण करते हुए प्रारंभ की गई है। 

उन्होंने बताया कि  इस योजना से ग्रामीण एव शहरी क्षेत्रों में गौ पालन करने वाले किसानों को लाभ मिलेगा।  इसके साथ ही गायों को लावारिस छोड़े जाने से फसलों को होने वाले नुकसान और सडक़ों पर मवेशियों से टकराकर होने वाली दुर्घटनाएं भी कम होंगी।  श्री दीक्षित ने कहा कि इस योजना का सबसे बड़ा फायदा ये है कि किसानों को किसानी के लिए जैविक खाद उपलब्ध हो पाएगी। जिससे खेती की उर्वरा शक्ति में वृद्धि होगी। इससे किसानों को तो फायदा होगा साथ ही वातवरण भी स्वच्छ होगा और ग्रामीणों  को रोजगार के भी अवसर मिलेंगे। मुख्यमंत्री बघेल की ये योजना किसानों के लिए काफी लाभदायक होगी।  

इस अवसर पर पूर्व पार्षद नरेंद्र गोस्वामी, देवेंद्र कौशिक शैलेश गुप्ता, कमलु कश्यप, प्रदीप गुप्ता, मुख्य नगर पंचायत अधिकारी सागर राज आदि उपस्थित थे।
 


01-Aug-2020 5:38 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
करगी रोड (कोटा), 1 अगस्त।
कोटेश्वर महादेव की नगरी में कोट सागर तालाब के दुर्गा मंदिर में 14 वर्ष बाद ब्रह्म कमल फूल खिला। 

ज्ञात हो कि ब्रह्म कमल को हिमालयी फूलों का सम्राट कहा गया है। यह कमल आधी रात के बाद खिलता है। ब्रह्मकमल के पौधे में एक साल में केवल एक बार ही फूल आता है। दुर्लभता के इस गुण के कारण से ब्रह्म कमल को शुभ माना जाता है। ब्रह्म कमल एक ऐसा कमल है, जो हिमालय की चोटी में खिलता है। यह कमल 14 वर्ष में एक बार ही खिलता है। यह आधी रात को कुछ घंटों के लिए ही खिलता है। ब्रह्म कमल को ब्रह्मा जी का ही रूप माना जाता है। लोगों में ऐसी मान्यता है कि इस कमल को देखने से मांगी हुई इच्छा पूरी हो जाती है। 
 


01-Aug-2020 12:04 PM

हिंदी शिक्षण-प्रशिक्षण, भाषा विश्लेषण, भाषा के तुलनात्मक अध्ययन को संगठित और परिपक्व करने का कार्य होगा

बिलासपुर, 1 अगस्त। डॉ.सी.वी.रामन् विश्वविद्यालय के कुलाधिपति संतोष चौबे भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के केंद्रीय हिंदी संस्थान उच्चतर शैक्षिक और शोध संस्थान शिक्षण मंडल के सदस्य बनाए गए हैं। केंद्रीय शिक्षा मंत्री इसके पदेन अध्यक्ष हैं। संविधान के दिशा-निर्देशों के अनुसार हिंदी को समर्थ और सक्रिय बनाने के लिए अनेक शैक्षिक, सांस्कृतिक और व्यावहारिक अनुसंधानों के द्वारा हिंदी शिक्षण-प्रशिक्षण, हिंदी भाषा विश्लेषण, भाषा का तुलनात्मक अध्ययन तथा शिक्षण सामग्री आदि के निर्माण को संगठित और परिपक्व रूप देने के लिए सन् 1961 में भारत सरकार के तत्कालीन शिक्षा एवं समाज कल्याण मंत्रालय ने केंद्रीय हिंदी संस्थान की स्थापना उत्तर प्रदेश के आगरा में की थी। 

चौबे ने बताया कि हिंदी संस्थान का प्रमुख कार्य हिंदी भाषा से संबंधित शैक्षणिक कार्यक्रम आयोजित करना, शोध कार्य कराना और साथ ही हिंदी के प्रचार व प्रसार में अग्रणी भूमिका निभाना है। प्रारंभ में हिंदी संस्थान का प्रमुख कार्य अहिंदी भाषी क्षेत्रों के लिए योग्य, सक्षम और प्रभावकारी हिंदी अध्यापकों को ट्रेनिंग कॉलेज और स्कूली स्तरों पर शिक्षा देने के लिए प्रशिक्षित करना था, किंतु बाद में हिंदी के शैक्षिक प्रचार-प्रसार और विकास को ध्यान में रखते हुए संस्थान ने अपने दृष्टिकोण और कार्य क्षेत्र को विस्तार दिया। इसके अंतर्गत हिंदी शिक्षण-प्रशिक्षण, हिंदी भाषा-परक शोध, भाषा विज्ञान तथा तुलनात्मक साहित्य आदि विषयों से संबंधित मूलभूत वैज्ञानिक अनुसंधान कार्यक्रमों को संचालित किया गया। साथ ही विविध स्तरों के शैक्षिक पाठ्यक्रम, शैक्षिक सामग्री, अध्यापक निर्देशिकाएँ आदि तैयार करने का कार्य भी प्रारंभ किया गया। इस प्रकार के विस्तृत दृष्टिकोण और कार्यक्रमों के आयोजन से हिंदी संस्थान का कार्यक्षेत्र अत्यधिक विस्तृत और विशाल हो चुका है। इन कार्यक्रमों के कारण हिंदी संस्थान ने केवल भारत में ही नहीं वरन् अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी ख्याति और मान्यता प्राप्त की। भारत सरकार द्वारा केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल को अखिल भारतीय हिंदी प्रशिक्षण महाविद्यालय को संचालित करने का पूर्ण दायित्व सौंपा गया।

चौबे ने बताया कि केंद्रीय हिंदी संस्थान का मुख्यालय आगरा में है। इसके अतिरिक्त इसके 8 केंद्र भी हैं। हिन्दी शिक्षण मंडल हिंदी भाषा के शिक्षकों को प्रशिक्षित करना, हिंदीतर प्रदेशों के हिंदी अध्ययन कर्ताओं की समस्याओं को दूर करना, हिंदी शिक्षण में अनुसंधान के लिए अधिक सुविधाएं उपलब्ध करवाना, उच्चतर हिंदी भाषा, साहित्य और अन्य भारतीय भाषाओं के साथ हिंदी का तुलनात्मक भाषा शास्त्रीय अध्ययन और सुविधाओं को उपलब्ध कराना है। इसके साथ साथ ही भारतीय संविधान के अनुच्छेद 351 के दिशा-निर्देशों के अनुसार हिंदी भाषा के अखिल भारतीय स्वरूप का विकास कराना और दिशा-निर्देशों के अनुसार हिंदी को अखिल भारतीय भाषा के रूप में विकसित करने के लिए कार्य करना है।


Previous123Next