छत्तीसगढ़ » बिलासपुर

Previous12345678Next
13-Apr-2021 4:01 PM 17

200 नये बेड आज और तैयार, ऑक्सीजन की भारी कमी
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 13 अप्रैल।
कोविड संक्रमण से हो रही मौतों के चलते स्थिति इतनी बिगड़ चुकी है कि सरकंडा स्थित मुक्तिधाम में शवों को जलाने के लिए लोगों को चार चार घंटे तक प्रतीक्षा करनी पड़ रही है। बीते 24 घंटे के दौरान 21 लोगों की मौत हुई। कल नये केस 700 से कम आए थे लेकिन यह आंकड़ा बढ़कर बढ़कर फिर 833 पहुंच गया। कल देर रात तक  मुक्तिधाम में 15 शवों का दाह संस्कार किया गया। आज दोपहर 2 बजे तक 5 100 जलाए चुके थे और तीन कतार में थे। आज दोपहर 200 बिस्तरों का नया आइसोलेशन सेंटर तैयार किया गया।

स्थिति इतनी बिगड़ी हुई है कि परिजनों को शवों को मुक्तिधाम तक पहुंचाने के लिए भी वाहनों का घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। सिम्स चिकित्सालय में दो शव वाहन हैं जो बारी-बारी दाह संस्कार के लिए सरकंडा मुक्तिधाम, तोरवा, मधुबन और भारतीय नगर शमशान गृह में शवों को पहुंचा रहे हैं।

एक के बाद एक हो रही कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत से जिले में हाहाकार मचा हुआ है। बीते 24 घंटे के भीतर कोरोना संक्रमित 21 मरीजों ने दम तोड़ा है। इनमें से 9 दूसरे जिलों के थे से थे तो 12 बिलासपुर जिले के निवासी हैं। मृतकों में 40 साल के प्रौढ़ से लेकर 85 साल तक के बुजुर्ग शामिल हैं।

शहर के किसी न किसी इलाके में हर रोज नया हॉटस्पॉट बन रहा है। कल सर्वाधिक मरीज नेहरू नगर इलाके से 11 और क्रांति नगर से 10 मिले। इसके अलावा भारतीय नगर, देवनंदन नगर, हेमू नगर, देवरी खुर्द, मसान गंज, गोंडपारा, जूनी लाइन, सागर होम्स, शांति नगर, गंगानगर, कोनी, गीतांजलि विहार, सिंधी कॉलोनी, सरजू बगीचा, कुदुदंड, उसलापुर, गांधी चौक, विनोबा नगर और जूना बिलासपुर से नए मरीज मिले।

निजी अस्पताल में इस तरह हो रही लूट
पहले से ही अनेक अनेक अनैतिक गतिविधियों के लिए चर्चा में रहे अमेरी रोड नेहरू नगर स्थित श्री राम केयर हॉस्पिटल में एक मरीज से आरटी पीसीआर टेस्ट के लिए शासन द्वारा तय दर ₹200 की जगह 14 सो रुपए लिए गए। एंटिजन जांच के लिये भी अस्पताल में 400 रुपये लिए जा रहे हैं। इस अस्पताल के दो वार्ड व्वाय कुछ माह पहले से वहां भर्ती की गई एक मरीज युवती से बलात्कार करने के आरोप में जेल में हैं। इन्हें बचाने के लिये अस्पताल प्रबंधन ने प्रेस कांफ्रेंस भी ली थी।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ प्रमोद महाजन से कई गुना अधिक बिल बनाने की शिकायत की गई है। डॉ. महाजन ने इस मामले की तहकीकात करने का भरोसा दिलाया है और कहा कि यदि शासन द्वारा तय किए गए दर से अधिक राशि ली गई तो अस्पताल प्रबंधक के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

ऑक्सीजन सिलेंडर की भारी कमी
सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर की भारी कमी हो रही है। नये वेरियेंट के कोरोना मरीजों में श्वास का लेवल गिर रहा है। महादेव हॉस्पिटल के प्रबंधक डॉ. आशुतोष तिवारी ने बताया कि उनके यहां भर्ती होने वाले 10 में से 9 मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत पड़ रही है। हम इसकी लगातार आपूर्ति मांग रहे हैं।  10 में 1 मरीज ही ऐसा है जिसे जनरल बेड में जगह दी जा सकती है।  डॉक्टर ने बताया कि 31 मार्च से अगर तुलना करें तो 12 अप्रैल के बीच इसकी आवश्यकता 7 गुना बढ़ चुकी है।

जिले के प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों से बात की। उन्होंने यथाशीघ्र कोविड अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाने तथा अधिक से अधिक वैक्सीनेशन करने का निर्देश दिया। उन्होंने विकासखंड स्तर पर कोविड केयर सेंटर स्थापित करने का भी निर्देश दिया है। बैठक में जिला कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर ने बताया कि 14 अप्रैल से 21 अप्रैल तक जिले में पूरी तरह लॉकडाउन रखा गया है जिसे सख्ती से लागू किया जायेगा।

कांग्रेस भवन को बनायेंगे केयर सेंटर  
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्रदेश, कांग्रेस महासचिव पी एल पुनिया, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम और स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव ने कल प्रदेश भर के कांग्रेस पदाधिकारियों से कोरोना महामारी से निपटने के लिए सुझाव मांगे। वीडियो कांफ्रेंस के जरिए हुई इस चर्चा में जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी ने कहा है कि वे कांग्रेस भवन को कोविड केयर सेंटर के रूप में बदलने के लिए तैयार हैं।

नगर निगम कर्मचारियों की उदारता
नियमित रूप से वेतन पाने के लिए जूझ रहे निगम के कर्मचारियों ने भी कोविड संक्रमण से निपटने के लिए सहृदयता दिखाई है। उन्होंने अपने एक दिन का वेतन कोरोना संकट से निपटने के लिए दान देने का निर्णय लिया है। इसके लिए नगर निगम कर्मचारियों ने कोरोना सहायता कोष की स्थापना की है। एचडीएफसी बैंक में इसका एक अकाउंट भी खोल दिया गया है। लोगों से उन्होंने इस अकाउंट में राशि जमा करने और सहयोग करने की अपील की है।

5 हजार टेस्ट की रिपोर्ट रुकी
एक और निजी अस्पतालों में कहा जा रहा है की आरपीसीआर टेस्ट के बगैर उन्हें कोरोना मरीज नहीं माना जाएगा क्योंकि इसको न तो बीमा कंपनी मानती है न ही सरकार। दूसरी ओर सिम्स में लिए जाने वाले आरटीपीसीआर लैब में आज की स्थिति में करीब 5000 सैंपल की रिपोर्ट रुकी हुई है। इसके चलते नए आरटीपीसीआर जांच में भी आनाकानी की जा रही है ताकि पुरानी रिपोर्ट दी जा सके। लैब में इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए सिर्फ संविदा कर्मचारियों की भर्ती की गई है। इनमें से दो लोगों ने हाल ही में नौकरी छोड़ दी है। काम का बोझ दो साइंटिस्ट और तीन लैब अटेंडेंट के ऊपर है।

ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता बढ़ायें
केन्द्र सरकार ओर से एक टीम ने बिलासपुर, मुंगेली, जांजगीर-चांपा और गौरेला पेंड्रा मरवाही जिले में दौरा करके कोविड संक्रमण से पीड़ित मरीजों के उपचार की व्यवस्था की जानकारी ली है। इस टीम ने ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता बढ़ाने का सुझाव दिया है। टीम में भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव जिग्नेश तमका, रीजनल डायरेक्टर डॉक्टर के एम कामले, डॉ कुमार मीणा और डॉक्टर आरती शामिल थे। 


12-Apr-2021 7:34 PM 16

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
करगीरोड (कोटा ), 12 अप्रैल।
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई कोटा जिला पेंड्रा के द्वारा  कोरोना के बढ़ते प्रकोप को कम करने एवं आम नागरिक को जागरूक करने के लिए कोटा नगर में जागरूकता अभियान चलाया गया इस जागरूकता अभियान में 45 वर्ष से पूर्ण आयु के व्यक्तियों को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित किया गया।

यमराज एवं मैं हूं को रोना जैसी  झांकी के माध्यम से पोस्टर बैनर के माध्यम से आम जनता को जागरूक किया गया एवं सोशल डिस्टेंसिंग मास्क और सैनिटाइजर का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया गया इस जागरूकता अभियान में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद बिलासपुर विभाग के विभाग सयोंजक योगानन्द साहू  प्रदेश कार्यकारणी सदस्य सुहानी जायसवाल इकाई कोटा की नगर मंत्री  प्रियंक अग्रहरि, अमन अग्रहरि, मनोज प्रजापति मोहन वैष्णव , रोहित साहू नवीन साहू  धनंजय साहू  प्रवीण ,  गणेश जयसवाल, प्रकाश तिवारी,  मनीषा गंधर्व एवं अखिल  भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

 


12-Apr-2021 6:31 PM 56

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 12 अप्रैल।
सरकंडा पुलिस ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की शाखा चलाने वाले सरस्वती शिशु मंदिर के पूर्व प्राचार्य 65 वर्षीय गोपी चंद चंद्रा को 13 वर्षीय बालक के साथ डरा-धमकाकर अप्राकृतिक कृत्य करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

सरकंडा पुलिस से मिली जानाकारी के अनुसार बंधवापारा निवासी गोपी चंद चंद्रा नूतन कॉलोनी स्थित कन्या शाला में वर्षों से आरएसएस की शाखा का संचालन करता है। वह संगठन में संभागीय मार्ग प्रमुख का दायित्व भी देख रहा है। सरकंडा स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में वह प्राचार्य भी रहा है।

पीडि़त की ओर से दर्ज कराये गये बयान के अनुसार 13 वर्षीय बालक उसकी शाखा में व्यायाम के लिये जाता था। छात्र से उसने नजदीकी बढ़ाई और सूनी जगह पर उसे ले जाकर उसके साथ अप्राकृतिक कृत्य करने लगा। बालक द्वारा विरोध करने पर उसे जान से मारने की धमकी दी गई। करीब 4 माह तक से यह करतूत की जा रही थी। इसके बाद वह बालक को यह कहकर डराने लगा कि मैं तुम्हारे पेट में अपना बच्चा डालना चाहता हूं। भयभीत बालक ने इसकी जानकारी अपनी मां को दी। तब माता-पिता ने थाने पहुंचकर इसकी शिकायत की। पुलिस ने बालक को अलग बिठाकर काउन्सलिंग की तब आरोपी के कुकृत्य की पुष्टि हो गई। पुलिस ने आरोपी पर आईपीसी की धारा 377, 506 तथा पॉक्सो एक्ट की धारा 4 व 6 के तहत अपराध दर्ज किया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

बताया जाता है कि आरोपी से सेवानिवृत्ति के बाद भी विभिन्न शालाओं में स्वैच्छिक सेवायें ली जा रही थी।


12-Apr-2021 5:15 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

 करगीरोड (कोटा), 12 अप्रैल। कोटा ब्लॉक के ग्राम पंचायत अमाली में कोरोना वैक्सीन लगवाने से  वचिंत हो रहे हैं ग्रामीण  पांच साल पूर्व में बने अधार  कार्ड में वर्तमान45वर्ष की आयु हो चुका है लेकिन अधार कार्ड 45 साल का डाटा एंट्री नहीं होने से ग्रामीणों को कोरोना वैक्सीन लगवाने से मना किया जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों का कहना है कि डाटा एंट्री में आधार कार्ड का जन्म तारीख कम होने पर एंट्री नहीं हो पाता और यह कोरोना वैक्सीन टेबलेट से ऑनलाइन एंट्री होता है , इसी कारण टीका लगवाने से 45वर्ष होने बाद भी सही समय में नहीं लग पा रहा हैं।

गौरतलब है की सभी ग्राम पंचायतों में करोना टीका लगाने सभी को अधार कार्ड महिला और पुरूषों को कहा जा रहा है वहीं  स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने बताया और भी जरूरी राष्ट्रीय कृत पहचान पत्र,  मतदाता फोटो परिचय पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस,पेन कार्ड से भी दिखाकर  कोरोना टीका लगा सकते हैं ,लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में जन जगरूता कमी होने के कारण एक बार टीकाकरण से आधार कार्ड पूर्व में बने हैं कोरोना वैक्सीन टेबलेट से ऑनलाइन एंट्री नहीं लेने से दोबारा आने से कतराते हैं।

कोरोना वैक्सीन लगवाने वाले आनलाईन टेबलेट में सरलीकरण करना चाहिए सरकार को ताकि 45 वर्ष पूरे चुके सभी महिला और पुरुषों को भी अधिक संख्या टीका सही समय में लग जाना चाहिए हैं, नहीं तो अधिकांश लोगों को पांच साल पूर्व में अधार कार्ड उम्र नहीं दिखाने कारण टीका नहीं लग रहा है और टीकाकरण कराये बिना लौट रहे हैं ऐसे में शत प्रतिशत करोना टीकाकरण नहीं लग पायेगा । केंद्र सरकार और राज्य सरकार को सरलीकरण करना चाहिए। ताकी कोई भी महिला और पुरूष लौटे नहीं इसका ध्यान रखना चाहिए होगा।

प्रेम बिंझवार महिला ने  अमाली ग्राम पंचायत में कोरोना वैक्सीन लगवाने गये तो उनका  अधार कार्ड में 45 वर्ष कम बताने से टीकाकरण नहीं लग पाया हैं। गायत्री बाई महिला ये भी करोना टीकाकरण लगवाने अपने साथ अधार कार्ड लेकर गयीं लेकिन पूर्व में बने अधार 45 वर्ष वर्तमान स्थिति में नहीं बता पाने के कारण बिना टीका लगवाये ही लौटना पडा़।

ग्राम पंचायत अमाली सचिव लक्ष्मी क्षत्रिय ने बताया की हमारे यहाँ ग्राम जोगीपुर, अमाली, बिल्ली बंद,ग्रामीणों ने टीकाकरण के लिए यहाँ रहें लेकिन ऐसे कई महिला ,पुरूष, जिनकी आयु 45वर्ष होने बाद  अब आधर एंट्री नहीं के करण टीकाकरण से कई लोगों टीकाकरण से वचिंत हो रहे हैं।

कोटा  स्वास्थ्य विभाग कोरोना वैक्सीन टीकाकरण प्रभारी  श्वेता सिंह ने बताया कि पोर्टल में  45वर्ष दिखाना जरूरी हैं आनलाईन टीकाकरण लग रहा हैं।

बिलासपुर कलेक्टर सांराश मित्तर ने कहा कि उच्च अधिकारियों से बातचीत कर  जल्द निराकरण किया जायेगा। जिला चिकित्सा अधिकारी प्रमोद महाजन ने  कहा यह सब आनलाईन टीकाकरण हो रहा जल्द ही आधार कार्ड की समस्या को निराकरण किया जायेगा।


12-Apr-2021 1:11 PM 19

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 12 अप्रैल।
कोरोना संक्रमण से पीडि़त नये मरीजों की संख्या बीते 24 घंटों में 889 से 629 रही लेकिन इस दौरान 19 लोगों की मौत हो गई, जो अब तक सर्वाधिक है। इनमें से 11 बिलासपुर जिले के मरीज तो 8 अन्य जिलों से हैं जो यहां के अस्पतालों में इलाज करा रहे थे। मृतकों में सबसे कम की उम्र 30 वर्ष और सबसे अधिक उम्र 93 वर्ष है।

कोरोना संक्रमण शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी से फैल रहा है। मस्तूरी तहसील के एरमसाही गांव में 13 नये मरीजों के मिलने के बाद यहां संक्रमितों की संख्या 125 से अधिक  हो गई है। इसी इलाके के मल्हार नगर पंचायत में अब तक 140 संक्रमित मिल चुके हैं।  

शहर के तालापारा, सिरगिट्टी, विनोबा नगर, राजेंद्र नगर, सरकंडा, उसलापुर, हेमू नगर, सिम्स आवासीय परिसर, नेहरू नगर, मंगला, गोंड पारा, भारतीय नगर, जूना बिलासपुर, अशोक नगर, चांटीडीह, कुदुदंड, तालापारा, सीआरपीएफ कैंप भरनी, इमली पारा, कुम्हारपारा, जरहाभाटा, करबला रोड, रेलवे परिक्षेत्र, मसानगंज, तेलीपारा, गंगानगर, राजकिशोर नगर और शांति नगर में नए मरीज मिले हैं। इस तरह से शहर का कोई भी इलाका अब संक्रमितों से अछूता नहीं रह गया है।

रतनपुर महामाया में दर्शन पर रोक
रतनपुर स्थित सिद्ध शक्तिपीठ महामाया देवी मंदिर में भक्तों के प्रवेश पर आज से रोक लगा दी गई है। 13 अप्रैल से शुरू हो रहे नवरात्रि पर्व पर पूर्व में भक्तों को सीमित संख्या में प्रवेश की अनुमति देने का निर्णय लिया गया था लेकिन कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए और जिला प्रशासन द्वारा सभी धार्मिक स्थलों को बंद रखने का निर्देश दिए जाने के बाद इस पूरी नवरात्रि के दौरान भक्तों का प्रवेश मंदिर में वर्जित रहेगा। मंदिर में प्रतिदिन पुजारियों द्वारा पूजा पाठ, आरती और भोग तथा ज्योति की पूजा की जाएगी, जिसका ऑनलाइन यूट्यूब चैनल और दूसरे सोशल मीडिया पर सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक प्रसारण किया जाएगा। जिन श्रद्धालुओं ने ज्योति कलश की राशि जमा की है उन्हें उनके कलश का दर्शन भी ऑनलाइन दिखाया जाएगा। जिले के अन्य देवी मंदिरों में भी श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद किया गया है। इनमें जिनमें नगोई, तिफरा, जरहाभाटा काली मंदिर, बघवा मंदिर सरकंडा आदि शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि चैत्र नववर्ष पर अन्य उत्सव भी होते हैं। इन्हें लॉकडाउन के चलते स्थगित कर दिया गया है। आंध्र समाज का उगादी पर्व, महाराष्ट्रीयन गुड़ी पड़वा, व सिंधी समाज चेटीचंड उत्सव का सार्वजनिक आयोजन स्थगित कर दिया गया है। मंदिरों एवं सामाजिक भवनों में सीमित उपस्थिति के साथ पूजन पाठ का आयोजन किया जाएगा, जिसमें आम लोगों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

कोरोना संक्रमित रोज सैकड़ों मरीजों के सामने आने के कारण इलाज की व्यवस्था चरमरा गई है। जिले के 16 निजी अस्पतालों में 635 बेड हैं, जिनमें से कोई खाली नहीं है। सरकारी अस्पताल में 275 बेड हैं जिनमें से सिर्फ 18 खाली हैं। नए मरीजों की भर्ती के लिए किसी भी अस्पताल में जगह नहीं है। नई व्यवस्था करने में भी विलंब हो रहा है। स्थिति यह है कि गरीब एवं मध्यम वर्गीय लोग तो परेशान है ही संपन्न परिवारों के लोग भी जो किसी भी हद तक खर्च करने के लिए तैयार हैं लेकिन उन्हें बिस्तर मिल नहीं रहा है। संक्रमण की यही गति रही तो दो चार दिन में हालत पूरी तरह बेकाबू हो जायेंगे। जिला प्रशासन ने युद्धस्तर पर संभागीय कोविड अस्पताल में अतिरिक्त 120 बेड की व्यवस्था करने की बात कही है।

वैक्सीनेशन ने गति पकड़ी
इधर टीकाकरण की गति भी वैक्सीन की नियमित आपूर्ति के चलते बनी हुई है। जिले के 156 कोविड टीकाकरण केंद्रों में 13 हजार 137 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। हालांकि यह लक्ष्य 22500 से कम था। वैक्सीन लगवाने वालों में 12 हजार 880 ने पहली तथा 257 ने दूसरी डोज लगवाई। फ्रंटलाइन वारियर्स में 28 ने दूसरी डोज तथा एक ने पहली डोज लगवाई। 45 साल से 60 साल के भीतर उम्र के 9 हजार 56 लोगों ने पहली तथा 72 लोगों ने दूसरी डोज लगवाई। 60 वर्ष से अधिक उम्र के 3793 बुजुर्गों ने पहली और 135 ने दूसरी डोज लगवाई। सोमवार को फिर वैक्सीन की नई खेप फिर आ रही है। 


11-Apr-2021 3:10 PM 20

  24 घंटे के दौरान कोरोना संक्रमण के 900 केस आने पर जारी किया गया आदेश  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर 11 अप्रैल।
कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए जिले में 14 अप्रैल की सुबह 6 बजे से लेकर 21 अप्रैल की रात्रि 12 बजे तक लॉकडाउन लगा दिया गया है। इस दौरान केवल मेडिकल दुकान, दूध पार्लर और चारा दुकानों व अन्य जरूरी सेवाओं को सीमित समय के लिये जारी रखने का आदेश दिया गया है। शादियों और दूसरे समारोह के लिए दी गई मंजूरी रद्द कर दी गई है हालांकि घरों में कार्यक्रम की अनुमति 20 लोगों के लिये दी जायेगी।

जिला दंडाधिकारी एवं कलेक्टर द्वारा जारी आज दोपहर आदेश में संपूर्ण जिले को कंटेनमेंट जोन में रखा जाना घोषित किया गया है।  इस अवधि में जिले की सभी सीमाएं सील रहेंगी। मेडिकल दुकानों को निर्धारित समय में खोलने की अनुमति रहेगी। मेडिकल दुकान संचालक मरीजों को दवाई होम डिलीवरी देने को प्राथमिकता देंगे। पेट्रोल पंप संचालकों को केवल शासकीय वाहन में पेट्रोल भरवाने की अनुमति होगी। इसके मेडिकल इमरजेंसी वैन, केस वैन और इससे संबंधित निजी वाहन, रेलवे स्टेशन, बस-स्टैंड के लिये टैक्सी व निजी वाहन परिचय पत्र दिखाकर आना-जाना कर सकेंगे। एडमिट कार्ड व परिचय पत्र दिखाकर परीक्षार्थी शासन की अनुमोदित परीक्षाओं में भाग लेने के लिये जा सकते हैं, जिन्हें पेट्रोल दिया जायेगा। परिचय पत्र दिखाने पर मीडिया कर्मी, न्यूज़पेपर हॉकर, दुग्ध वाहन तथा छत्तीसगढ़ में नहीं रुकते हुए कहीं भी एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने वालों को पेट्रोल प्रदान किया जाएगा।

अत्यावश्यक परिवहन से संबंधित नगर निकाय सीमा के बाहर स्थित ऑटोमोबाइल शॉप एसडीएम की अनुमति से खोली जा सकेगी। सुबह 6 से 8 बजे तक एवं शाम 5 बजे से 6.30 बजे तक दूध पार्लर के सामने केवल दूध बेचेंगे। पेट शॉप में केवल पशुओं को चारा देने के लिए भी इसी अवधि में खोलने की अनुमति रहेगी। एलपीजी सिलेंडर कि सिर्फ होम डिलीवरी की जाएगी और टेलीफोन से ऑर्डर लिए जाएंगे। उद्योगों में कैम्पस के भीतर आवश्यक व्यवस्था करते हुए संचालन एवं निर्माण की अनुमति कैंपस के भीतर दी गई है।

राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा किए जा रहे सडक़ निर्माण एवं रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण इस प्रतिबंध से मुक्त रहेगा। ब्रायलर व ब्लास्ट फर्नेस के साथ उत्पादन करने वाले औद्योगिक संस्थान जैसे सीमेंट, स्टील, शक्कर, फर्टिलाइजर, खनन आदि संयंत्र कोरोना निर्देशों का पालन करते हुए संचालित किये जाएंगे।

इस अवधि में जिले की सभी शराब दुकानें बंद रहेंगी। सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूरी तरह से बंद रहेंगे। विवाह के लिए पूर्व में 50 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति दी गई थी। कोरोना प्रकोप को देखते हुए सभी अनुमति निरस्त की गई है। घरों में विवाह कार्यक्रम आयोजित किया जा सकता है जिसमें अधिकतम 20 लोग शामिल हो सकते हैं। पूर्व में जो लोग होटल में रुके हैं उनके लिए भोजन की सेवा केवल रूम में हो सकेगी। सभी प्रकार की सभा, जुलूस, सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक आयोजन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। अपरिहार्य कारणों से शहर से जिले से बाहर जाने वालों को ई पास के जरिए अनुमति दी जाएगी।

इस दौरान जिले के सभी केंद्रीय शासकीय कर्मचारी कार्यालय, बैंक बंद रहेंगे। टेलीकॉम, रेलवे एयरपोर्ट से जुड़े कार्यालय में उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए उचित मूल्य दुकान की दुकानें निर्धारित सीमित अवधि में खुली रहेंगी।

कोविड संक्रमण की रोकथाम हेतु जिले में सभी सेवाएं जारी रहेगी।  इनमें कांटेक्ट ट्रेसिंग, एक्टिव सर्विलांस, होम आइसोलेशन, दवाई वितरण शामिल हैं। इस कार्य में संलग्न सरकारी कर्मचारियों की उपस्थिति पहले के अनुसार अनिवार्य रहेगी। कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्व अनुसार संचालित रहेंगे।

टीकाकरण की समस्त गतिविधियां पंजीयन, परिवहन एवं टीकाकरण लॉकडाउन से मुक्त रहेंगे। कोविड-19 टीकाकरण जांच हेतु मेडिकल दस्तावेज या आधार कार्ड या परिचय पत्र दिखाने पर अस्पताल पैथोलॉजी लैब और टीकाकरण के लिये आने-जाने की अनुमति होगी, किंतु अनावश्यक भ्रमण प्रतिबंधित रहेगा। आपात स्थिति में यात्रा के दौरान चार पहिया वाहनों में ड्राइवर सहित अधिकतम चार व्यक्तियों, ऑटो में तीन तथा दुपहिया में ड्राइवर सहित अधिकतम अधिकतम दो व्यक्ति की यात्रा की अनुमति होग।  इन निर्देशों का उल्लंघन करने के लिए 15 दिन के लिए वाहन जप्त करने के अलावा अन्य कार्रवाई की जाएगी।

मीडिया कर्मियों को यथासंभव वर्क फ्रॉम होम कार्य करने कहा गया है। अत्यावश्यक स्थिति में बाहर निकलने पर अपना परिचय पत्र साथ रखना पड़ेगा तथा उन्हें फिजिकल डिस्टेंस तथा मास्क संबंधी निर्देशों का कड़ाई से पालन करना होगा।

यह आदेश संभागायुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी तथा उनके कार्यालय, दंडाधिकारी कार्यालय, तहसील, थाना व पुलिस चौकी पर लागू नहीं होगा। स्वास्थ्य से संबंधित अधिकारी, विद्युत, पेयजल आपूर्ति, नगर पालिका की सेवाएं सफाई, कचरे का डिस्पोजल इत्यादि के संचालन की अनुमति होगी लेकिन उक्त अवधि में आम जनता का शासकीय कार्यालय में प्रवेश प्रतिबंध रहेगा।   


10-Apr-2021 5:17 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
करगीरोड  कोटा, 10 अप्रैल। 
समाज सेवी छत्तीसगढ़ शबरी सेवा संस्थान के तत्वावधान में बिलासपुर जिला,कोटा विकासखण्ड के ग्राम नवापारा में  नशा मुक्ति अभियान के तहत ग्रामीणों को जागरूक किया गया ।
जनपद पंचायत कोटा के ग्राम पंचायत  जोगीपुर नवापारा  के युवा कार्यकर्ता  गेदराम बिरको ने कहा कि नशा  मानव समाज के लिए घातक है इससे समाज में अनेकों अपराध पनपते हैं  । नशा चाहे वह शराब का हो तम्बाखू हो बीड़ी सिगरेट गांजा या गुड़ाखु सभी मानव शरीर के लिए हानिकारक है जिसके वजह से नशा करने वाला व्यक्ति जीवन में आगे नही बढ़ सकता इसके अलावा वह गरीबी लाचारी जैसे हालातो से जुझता रहता है।  जिससे कि वह वह अपने जीवन में विकास नही कर सकता नशा अपराध की जननी है नशेड़ी व्यक्ति अपने इच्छाओं को पूरी करने के लिए चोरी लूट जैसे आपराधिक कृत्य  करने लगता है जिससे कि समाज में भय का वातावरण निर्मित होने लगता है कैंसर, अस्थमा, टीबी, श्वास, डिप्रेसन आदि कई गम्भीर बीमारी होने का मूल कारण नशा ही है जो आदमी को समय से पहले मौत की ओर ले जाता है इसलिये हम सभी को अपने परिवार समाज गांव को नशा मुक्त बनाने का संकल्प करना चाहिये जिससे कि सभी का जीवन सुखमय हो सके किशोरावस्था के बालक बालिकाओं को भी नशा से होने वाले नुकसानों से अवगत कराना जरूरी है ।
क्योंकि आज के बच्चे कल के भविष्य होते हैंइसलिये हमे सभी की समान भागीदारी सुनिश्चित करते हुए नशा मुक्त समाज का निर्माण करना है।
उक्त कार्यक्रम में सरस्वती , रोशनी ,जागेश्वरी, दीपिका, सोनम ,अंजनी,  सीमा, सहित  ग्रामीण जन उपस्थित रहे।
 


10-Apr-2021 5:16 PM 21

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
करगीरोड( कोटा), 10 अप्रैल।
एनएसयूआई, विधानसभा उपाध्यक्ष प्रशांत अग्रहरि ने  विश्व स्वास्थ्य दिवस  के  अवसर  में कोटा नाका चौक, कोटा महाशक्ति चौक, कोटा बस स्टैंड, जिला सहकारी बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, तहसील एवम अन्य बहुत  जगह पर मास्क एवम सेनिटाइजर का वितरण किया।। उन्होंने लोगों से कोविड 19 से बचाव  के लिए वैक्सीन लगवाने की अपील की।

इस अवसर पर  विधानसभा उपाध्यक्ष प्रशांत अग्रहरि, कमलू कश्यप, हासिम अली, हरीश नामदेव, आनंद मिश्रा, प्रतीक त्रिवेदी, साकेत तिवारी, अंकुश सिंगरौल, नरेंद्र सिंगरौल, रिंकू सोनी, अमन चंद्राकर, राशिद खान, रोहन यादव, शुभम यादव, उदय नामदेव, आवेश जायसवाल, साकेत तिवारी, सत्यम सोनी, भोलू खान, राकेश नवरंग, शोएब खान, प्रेम कोल, एवम सभी एन एस यू आई कार्यकर्ता उपस्थित थे।
 


10-Apr-2021 11:59 AM 23

  कोचिंग सेंटर में 300 बच्चे सटकर कर रहे थे पढ़ाई-सील  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 10 अप्रैल।
जिले में एक कोरोना संक्रमण के मामलों ने लगातार तीसरे दिन रिकॉर्ड तोड़ा है। दो दिन तक छह सौ करीब नये मामले आ रहे थे अब यह 700 के करीब पहुंच गया है। इस बीच 7 मरीजों ने जान भी गंवाई है।

शहर के प्रायः सभी इलाकों में कोरोना के नए केस सामने आ रहे हैं। अनेक सरकारी दफ्तरों सहित हाईकोर्ट में भी नए मरीज मिले हैं। यूनिवर्सिटी कॉलेज और सिम्स हॉस्टल में भी कोरोना के नए मरीज मिले। लगभग सारे निजी और सरकारी अस्पतालों में मरीजों की भीड़ पहुंच रही है। लोग ऑक्सीजन बेड और वेंटिलेटर के लिए परेशान हो रहे हैं साथ ही इंजेक्शन रेमडेसिविर की कमी से भी जूझ रहे हैं।

नगर पंचायत मल्हार में बुधवार को 27, गुरुवार को 17 फिर शुक्रवार को भी 15 मरीज मिले हैं। नगर निगम सीमा के सिरगिट्टी इलाके में फिर 15 नए कोरोना संक्रमित मिले। यहां गुरुवार को 28 मरीज संक्रमित पाए गए थे। कोटा में 16 नए मरीज मिले हैं, वहीं रतनपुर में 13 संक्रमित पाए गए हैं। शहर के गंगानगर में 10 तथा 27 खोली में 55 मरीज पाये गये हैं। सीआरपीएफ भरनी, हेमू नगर तथा शुभम् विहार में चार-चार तथा नर्मदा नगर, मसानगंज, तेलीपारा और चांटीडीह में दो-दो नए मरीज मिले। सिम्स के गर्ल्स हॉस्टल में तीन और बॉयज हॉस्टल में दो कोरोना संक्रमित मिले हैं। हाईकोर्ट के 11 कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाये गये हैं।

कोरोना संक्रमित 7 लोगों की जान नहीं बचायी जा सकी है। इनमें तीन बिलासपुर के तथा चार अन्य जिलों के मरीज हैं, जिनका यहां उपचार चल रहा था। शहर के जबड़ापारा निवासी बालकृष्ण की उम्र 23 वर्ष और सरकंडा के दीपक श्रीवास की उम्र 30 वर्ष थी जिनकी कोरोना से मौत हुई। शेष सभी मृतकों की उम्र 55 से 85 साल थी।

डीएमओ ऑफिस व पीएनबी सील
जिला विपणन अधिकारी सहित डीएमओ ऑफिस के 6 कर्मचारी कोरोना संक्रमित हो गए हैं। इन सभी कर्मचारियों का होम आइसोलेशन किया गया है। पूरे कार्यालय को सैनिटाइज करने के बाद सील किया गया है। इधर जिला पंचायत में भी कोरोना ने दस्तक दी है। यहां पर 60 कर्मचारियों का रैपिड टेस्ट कराया गया, जिनमें से चार संक्रमित पाए गए हैं। सभी की आरटीपीसीआर कराई गई है, जिसकी रिपोर्ट की प्रतीक्षा की जा रही है। तब तक इन्हें होम आइसोलेशन पर रहने के लिए कहा गया है। पंजाब नेशनल बैंक की दयालबंद शाखा में पांच कर्मियों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। इसके चलते बैंक को सील कर दिया गया है।

शंकर नगर स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में एक व्याख्याता व उनके परिवार के 5 लोग कोरोना की चपेट में आ गये। इसके बाद स्कूल बंद कर दिया गया।

कोचिंग सेंटर में 300 बच्चे मिले, सील
इस समय कोरोना संक्रमण के फैलाव के कारण कोचिंग सेंटर्स को बंद करने का निर्देश जिला प्रशासन ने दिया है। इसके बावजूद दयालबंद स्थित दिल्ली आईएएस अकादमी में एक साथ तीन सौ से अधिक बच्चों को बुलाकर कोचिंग दी जा रही थी। नगर निगम की टीम ने यहां छापा मारा तो पाया कि सेंटर की तीसरी मंजिल पर 300 से अधिक बच्चे एक दूसरे से सटकर बैठे थे और अनेक ने मास्क भी नहीं पहना था। तत्काल एकेडमी को सील करा दिया गया। इसके बाद शहर के अन्य कोचिंग सेंटर्स में भी नगर निगम ने दबिश दी। तीन अन्य में भी सेंटर चलते हुए पाया गया लेकिन उनमें कम विद्यार्थी थे। उन्हें चेतावनी देकर छोड़ दिया गया, साथ ही फिलहाल कोचिंग सेंटर नहीं खोलने कहा।

लॉकडाउन से बचने की कोशिश   
जिला प्रशासन की ओर से प्रयास किया जा रहा है कि लॉक डाउन की स्थिति से बचा जाये और कम कंटेनमेंट जोन हों। लोगों से कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की उम्मीद की जा रही है पर बाजारों में रोजमर्रा के सामान के लिये लगातार भीड़ पहुंच रही है, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। फिलहाल शाम 7 बजे तक बाजार बंद करने का निर्देश जारी किया गया है, जिसे घटाया जा सकता है। इस समय  मस्तूरी में दो और बिल्हा, कोटा, मल्हार के अलावा शहर के हेमू नगर लगरा और महमद कंटेनमेंट जोन बनाया गया है।  

संभागीय अस्पताल में 100 कोविड बेड बढ़ेंगे
मरीजों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए संभागीय कोविड अस्पताल में 100 बिस्तर और बढ़ाए जाएंगे। इस समय वहां सौ बेड ही उपलब्ध हैं। इसके लिए एसईसीएल ने सीएसआर मदद से डेढ़ करोड़ रुपए देने का आश्वासन दिया है। विधायक शैलेष पांडे ने बताया की एसईसीएल ने उनके अनुरोध पर इसकी सहमति दी है। इसके पहले भी इस कोविड-19 हॉस्पिटल के लिए एसईसीएल ने दो करोड़ रुपये दिए थे।

इधर एनटीपीसी सीपत ने भी मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। कार्यकारी निदेशक पद्मकुमार राजशेखरन कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर को 30 लाख रुपए का चेक प्रदान किया। यह राशि पीपीई किट खरीदने और कोविड उपचार की अन्य सुविधाओं के लिये हैं। इस मौके पर मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ प्रमोद महाजन भी उपस्थित थे।

लक्ष्य से कम लगा टीका
स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार इस समय 171 सेंटर में वैक्सीन लगाने का काम चल रहा है। प्रतिदिन 22 हजार 500 टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया है। शुक्रवार को 18 हजार 456 लोगों ने टीका लगवाया इनमें से 18090 ने पहला और 366 ने दूसरा डोज लिया। सबसे ज्यादा 45 से 60 वर्ष के बीच वाले 12 हजार 484 लोगों ने पहला व 119 ने दूसरा टीका लगवाया। 60 वर्ष से अधिक उम्र के 5564 लोगों ने पहला और 178 लोगों ने दूसरा डोज लगवाया इसके अलावा कोरोना वारियर्स और फ्रंट लाइन वर्कर्स ने भी डोज लगवाये।

आयुर्वेदिक चिकित्सक देखेंगे आइसोलेशन
कोविड अस्पतालों में डॉक्टरों व अन्य स्टाफ पर बढ़ते बोझ को देखते हुए कलेक्टर ने कोरोना पॉजिटिव होम आइसोलेट मरीजों की देखरेख की जिम्मेदारी आयुर्वेदिक चिकित्सा विभाग को सौंप दी है। जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डॉ एनके दुबे को इसका नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। आयुर्वेद चिकित्सा विभाग होम आइसोलेट मरीजों के लगातार इलाज और उनकी दवाइयां सुनिश्चित करेंगे। साथ ही उन्हें डिस्चार्ज करने का भी निर्णय लेंगे। इसके लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा विभाग में टीम बनाई जा रही है।


08-Apr-2021 9:49 PM 22

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 8 अप्रैल।
नूतन चौक कोविड टीकाकरण सेंटर में आज बेलतरा के पूर्व विधायक बद्रीधर दीवान ने पहुंचकर कोविड 19 वैक्सीन लगवाया। इस उम्र में भी वे खुद अपने परिवार के साथ वैक्सीनेशन सेंटर पहुंचे। टीका लगवाने के बाद उन्होंने लोगों से अपील की कि महामारी को जड़ से उखाड़ने के लिये सभी उपयुक्त लोग टीकाकरण कराएं। दीवान भाजपा के वरिष्ठतम नेता हैं जो छत्तीसगढ़ विधानसभा के उपाध्यक्ष सहित मंत्री दर्जा प्राप्त अनेक पदों पर रह चुके हैं। 

राजकिशोर नगर के 81 वर्षीय चंदन भट्टाचार्य ने सपत्नीक आज कोविड वैक्सीन लगवाया। भट्टाचार्य ने कहा कि यह उनका पहला डोज है, समय पर दूसरा डोज भी सपत्नीक आकर लेंगे। उनकी पत्नी 77 वर्षीय अंजली भट्टाचार्य ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिये वैक्सीन का पहला डोज वह ले चुकीं, दूसरा डोज भी समय पर लेंगी। 


08-Apr-2021 5:27 PM 21

  रायपुर, दुर्ग की तरह बिलासपुर में भी संक्रमण तेजी से बढ़ने लगा, एक दिन में करीब 600 मरीज, 15 की मौत  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर 8 अप्रैल।
रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव के बाद बिलासपुर भी कोरोना के मामलों में खतरनाक पर पहुंच गया है। बीते 24 घंटों में यहां 594 नए मरीजों का पता चला हैं। इस दौरान 15 लोगों की मौत हो गई। एक तरफ शाम के बाद शहर में कर्फ्यू जैसा माहौल दिखाई दे रहा है वहीं दिन में लोगों की बाजार में भीड़ उमड़ रही है, जिससे संक्रमण लगातार बढ़ने की आशंका बनी हुई है। वेंटिलेंटर और ऑक्सीजन वाले बिस्तरों की निजी व सरकारी अस्पतालों में मारामारी मची हुई है। वैक्सीनेशन की रफ्तार आपूर्ति नहीं होने के कारण बार-बार प्रभावित हो रही है।

जिले में 594 नये संक्रमितों के मामले आने के बाद अब तक 26 हजार से अधिक पॉजिटिव सामने आ चुके हैं। एक सप्ताह के भीतर ही 2800 नये संक्रमित मिले हैं और इस दौरान 42 मरीजों की मौत हो गई है। यह पिछले साल के किसी भी आंकड़े से अधिक है। शहर के बसंत विहार, तोरवा, हेमूनगर, नेहरू नगर, नर्मदानगर, सरकंडा, जूना बिलासपुर, गोलबाजार इलाकों में नये मरीज मिले हैं। एनटीपीसी सीपत, एसईसीएल जैसे बाहरी इलाकों के अलावा मस्तूरी, बिल्हा, बेलगहना, सेंदरी, मल्हार आदि के ग्रामीण इलाकों से लगातार नये मरीजों के आने के कारण स्थिति बिगड़ती जा रही है।

सभी सरकारी व निजी अस्पतालों में लगातार संक्रमित मरीज पहुंच रहे हैं। जिन मरीजों को जनरल बेड में रखा जाना है उनके लिये किसी तरह की व्यवस्था हो भी रही है पर वेंटिलेटर व ऑक्सीजन यूनिट वाले बिस्तरों की कमी बनी हुई है। निजी अस्पतालों में इसकी अनाप-शनाप कीमत वसूल की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों को निर्देश दिया है कि ऑक्सीजन या वेंटिलेटर बेड केवल मरीजों की गंभीर स्थिति को देखकर ही दिया जाये इसके लिये सिफारिश या अन्य किसी प्रकार का प्रलोभन पर काम नहीं किया जाये। संभागीय कोविड अस्पताल, अपोलो अस्पताल, आरबी हॉस्पिटल, महादेव हॉस्पिटल आदि निजी अस्पतालो में ये बेड फुल चल रहे हैं। जैसे ही कोई एक बेड खाली होता है इंतजार में चार छह मरीज होते हैं कि वह उन्हें मिल जाये। संभागीय कोविड अस्पताल में केवल 20 जनरल बेड खाली बचे हैं। यहां 25 और बिस्तरों की व्यवस्था करने की तैयारी चल रही है। इसके अलावा जिले में एक हजार नये ऑक्सीजन बेड तैयार करने के लिये निर्देश स्वास्थ्य मंत्री ने दे रखा है, जिस पर काम अभी शुरू नहीं हुआ है।

वैक्सीन लगाने के बाद तबियत बिगड़ रही  
कोरोना संक्रमण के नये मामलों में कई ऐसे मरीज हैं जिन्होंने कोविड वैक्सीन का पहला डोज लिया है। वैक्सीन लगने के बाद बुखार आने पर लोगों ने इसे रियेक्शन माना और डॉक्टरों के पास नहीं पहुंचे। जब तीन—चार दिन बाद बुखार नहीं उतरा और ऑक्सीजन लेवल गिरने लग गया तो वे टेस्ट कराने लैब पहुंच रहे हैं। ऐसे मरीजों की तबियत ज्यादा खराब हो रही है और उन्हें तत्काल ऑक्सीजन अथवा वेंटिलेटर की जरूरत पड़ रही है।

रेमडेसिवर की शॉर्टेज, मुनाफाखोरी  
कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन लेबल घटने के साथ-साथ फेफड़ों में निमोनिया जमने की शिकायत आ रही है। ऐसे गंभीर मरीजों को तत्काल रेमडेसिवर इंजेक्शन की जरूरत पड़ती है। जिले में इसकी सप्लाई या तो सिर्फ सरकारी है या बड़े निजी अस्पतालों में। मेडिकल स्टोर्स में यह उपलब्ध नहीं है। आपूर्ति की कमी के कारण यह स्थिति बनने की बात कही गई है। रेमडेसिवर की जमाखोरी व मुनाफाखोरी रोकने के लिये प्रशासन ने इसे सिर्फ आधार कार्ड, कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट व डॉक्टर की सिफारिश के आधार पर वितरित करने का निर्देश दिया है। हालांकि इस इंजेक्शन की कीमत 900 रुपये है पर इसे 4 से 5 हजार रुपये में एमआरपी बदलकर बेचा जा रहा है।

वैक्सीनेशन पर बार-बार रुकावट
45 से अधिक उम्र के सभी लोगों को कोविड वैक्सीनेशन की मंजूरी मिलने के बाद वैक्सीनेशन सेंटर्स में भीड़ उमड़ी हुई है। पर वैक्सीन की कमी के कारण बार-बार इसमें रुकावट आ रही है। जिले में सोमवार को वैक्सीन खत्म होने के कगार पर पहुंचने के बाद 1 लाख डोज भेजने की मांग की गई थी लेकिन बुधवार को दोपहर 33 हजार डोज आये। बुधवार को 13 हजार व गुरुवार दोपहर दो बजे तक 7 हजार वैक्सीन लगाये जा चुके हैं। वैक्सीन की यह नई खेप कल तक चलने का अनुमान है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि वैक्सीन की कमी पूरे राज्य में बनी हुई है। आपूर्ति में संतुलन बनाने की वजह से मांग के अनुरूप पूरा वैक्सीन नहीं भेजा जा रहा है। बुधवार को लगाये गये 13 हजार डोज में 8 हजार 45 से 60 साल के बीच उम्र वाले ही अधिक हैं। 230 लोगों ने दूसरा डोज लिया है।  

एमपी-सीजी के बसों पर रोक
छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के बीच बस परिवहन पर रोक लगाने के कारण बिलासपुर से निकलने वाली तथा रायपुर से आने वाली 20 बसों का परिचालन बंद हो गया है। जो लोग व्यापार या रिश्तेदारी में आये हैं उन्हें अब अन्य साधनों की व्यवस्था करके लौटना और आना पड़ रहा है। इसके लिये उन्हें कोविड निगेटिव का रिपोर्ट रखना जरूरी किया गया है। गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही जिले की सीमा मध्यप्रदेश से जुड़ी हुई है। यहां की करीब एक दर्जन बस सेवायें प्रभावित हुई हैं। इसके चलते लोग टैक्सी, मिनी बस, जीप आदि में मुख्य मार्ग को छोड़कर गावों के रास्ते से मध्यप्रदेश की सीमा में प्रवेश कर रहे हैं। इन वाहनों में कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ रही हैं।

दिन में भीड़, रात में सड़कें सूनी
कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बिलासपुर में भी रायपुर और दुर्ग की तरह लॉकडाउन की आशंका जताई जा रही है। फिलहाल यहां शाम 7 बजे दुकानों को तथा 9 बजे होटलों को बंद करने का आदेश दिया गया है। इसके चलते शाम के बाद जहां सड़कें सूनी हो रही है वहीं लोग बाजार में अतिरिक्त खरीदी के लिये निकल रहे हैं। सब्जी बाजार में व शहर के प्रमुख बाजार गोलबाजार, सदरबाजार, शनिचरी, बृहस्पति में लोगों ने पुलिस के डर से मास्क जरूर पहना हुआ है पर सोशल डिस्टेंस की वे धज्जियां उड़ा रहे हैं। पुलिस लगातार गश्त कर रही है। दुकानदारों को सैनेटाइजर और मास्क रखने कहा गया है। मास्क के बगैर आने वाले ग्राहकों को सामान नहीं देने कहा गया है। बुधवार को करीब एक हजार लोगों पर मास्क नहीं पहनने के कारण जुर्माना लगाया गया।


07-Apr-2021 5:57 PM 29

बिलासपुर, 7 अप्रैल। राज्यसभा सदस्य विवेक के तन्खा ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के महाधिवक्ता और छत्तीसगढ़ बार कौंसिल के प्रभारी अध्यक्ष सतीश चंद्र वर्मा को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि कोरोना महामारी के चलते प्रदेश के जिन अधिवक्ताओं की मृत्यु हो गई है उनके परिवारों को कौंसिल की ओर से अविलम्ब आर्थिक सहायता पहुंचाई जाये।

तन्खा ने प्रदेश कांग्रेस विधि विभाग के अध्यक्ष संदीप दुबे के पत्र का हवाला देते हुए कहा है कि विगत एक वर्ष से अधिक समय से पूरा देश कोरोना संकट से जूझ रहा है। इस संकट में हमने अपने कई साथियों को खोया है। यह हमारे लिये अपूरणीय क्षति है। यह दर्द सबसे अधिक उन परिवारों पर है, जिन्होंने असमय अपने घर के मुखिया को खोया है। अतएव संकट की इस घड़ी में राज्य अधिवक्ता कल्याण कोष से इन अधिवक्ता परिवारों को अविलम्ब यथासंभव आर्थिक सहायता प्रदान करने का कष्ट करें ताकि इनके परिवारों को सहारा मिल सके।


07-Apr-2021 4:28 PM 16

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
करगीरोड (कोटा), 7 अप्रैल।
शासकीय प्राथमिक शाला बंधवा के नवाचारी शिक्षक महावीर सिंह राजपूत गांव में वॉल पेंटिंग कर बच्चों को पढ़ा रहे हंै। उनके इस कार्य में शाला प्रबंधन समिति की अध्यक्ष मानी बाई बंजारे, सरपंच प्रेम कुमार यादव, कोटवार किशोर कुमार यादव, सभी सदस्य और पंच सहयोग कर रहे हंै।

ग्राम बंधवा के पालकों का कहना है कि शिक्षक महावीर सिंह के लगातार प्रयास व दीवार लेखन से गांव में पढ़ाई का माहौल तैयार हो रहा है। सरपंच प्रेम कुमार यादव का कहना है कि शिक्षक महावीर सिंह के प्रयास से बच्चे आनंदित हैं और पढ़ाई का आनंद ले रहे हंै। शाला प्रबंधन समिति अध्यक्ष मानी बाई बंजारे का कहना है कि दीवार में लिखे शब्दों, वाक्यों, गिनती, पहाड़ा को बच्चे पढ़ते हैं और घर आकर लिखते हैं। 

गांव के कोटवार किशोर कुमार साकत का कहना है कि बच्चे दीवार में लिखे गणित के सवाल और रिक्त स्थान को भरो को एक-दूसरे से चर्चा करते हंै, पूछते हंै और सवाल को हल करते हैं। गांव वालों का कहना है जबसे शिक्षक  महावीर सिंह  की पदस्थापना बंधवा पंचायत में हुई है बच्चों की पढ़ाई के स्तर में सुधार हुआ है, वे पालकों से बच्चों के पढ़ाई-लिखाई के बारे में सतत संपर्क करते रहते हंै। कोरोनाकॉल में इनके द्वारा पढ़ाई तुहर मोहल्ला, ऑनलाइन कक्षाओं का सफल संचालन किए थे, इसके लिए उन्हें शिक्षक सम्मान भी मिला था। लगातार दो वर्षों से शिक्षक सम्मान मिला है।


06-Apr-2021 8:32 PM 272

कांग्रेस विधि विभाग के अध्यक्ष ने महाधिवक्ता व प्रभारी बार कौंसिल अध्यक्ष से की मांग, तन्खा ने जताया शोक  

बिलासपुर, 6 अप्रैल। प्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के बीच बीते 10 दिनों में 12 अधिवक्ताओं ने अपनी जान गंवा दी है। उनके पीड़ित परिवारों के लिये अधिवक्ताओं ने तुरंत सहायता राशि जारी करने की मांग की है।

प्रदेश विधि कांग्रेस विभाग के अध्यक्ष संदीप दुबे ने बार कौंसिल छत्तीसगढ़ के प्रभारी अध्यक्ष महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा को पत्र लिखकर मांग की है कि बीते 10 दिनों में कोरोना संक्रमण के चलते रायपुर में 10 व दुर्ग में 2 अधिवक्ताओं की मौत हो गई । यह वकील समुदाय के लिये अपूरणीय क्षति है। अधिवक्ताओं को इस विकट परिस्थिति में भी न्यायालय के कार्य करना आवश्यक है। महाधिवक्ता से उन्होंने आग्रह किया है कि उन वकीलों के परिवार को तत्कालिक सहायता राशि प्रदान की जाये, ताकि उनके परिवार के लोगों को सम्बल प्राप्त हो सके।

दुबे ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधि विभाग कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष विवेक तन्खा तथा छत्तीसगढ़ से कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य केटी तुलसी को भी ई मेल के जरिये पत्र भेजकर मांग की है कि मृत अधिवक्ताओं के परिजनों को उचित सहायता दी जाये।

विधि विभाग कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष तन्खा ने छत्तीसगढ़ में कुछ ही दिनों के भीतर हुई 12 अधिवक्ताओं की मौत पर शोक व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को इसकी जानकारी दी और उनके परिजनों को मदद करने का आग्रह किया है। तन्खा ने कहा कि इस विषम परिस्थिति में अधिवक्तागण पीड़ित परिवारों के साथ है।

दुबे ने बताया कि रायपुर के अधिवक्ता आर के जांगड़े, जमालुद्दीन, अजय कौल, नीरज श्रीवास्तव, आशीष गोस्वामी, रुपेश विश्वकर्मा व मुकेश वर्मा सहित 10 अधिवक्ताओं का पिछले कुछ ही दिन में निधन हो गया। इसके अलावा दुर्ग के अधिवक्ता शिव प्रसाद कापसे व एक अन्य अधिवक्ता का भी देहांत हुआ है। 


06-Apr-2021 7:54 PM 45

जिन्होंने की थी मदद, सबसे पहले उन्हें बता रहे जिनसे मिली थी घर वापसी में मदद

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 6 अप्रैल।
देश के कई राज्यों में कोरोना का दुबारा प्रकोप बढऩे के बावजूद छत्तीसगढ़ के मजदूर काम की तलाश में फिर वापस लौटने लगे हैं। उन्हें इस बात की परवाह नहीं है कि वे पिछले साल की तरह दुबारा बड़े संकट से घिर सकते हैं। लौटने के बाद वे उन लोगों का आभार जता रहे हैं जिन्होंने घर लौटने में मदद की थी। इन मजदूरों को भी आश्वासन मिला है कि अब भी कोई मुसीबत आती है तो वे उनकी मदद करने के लिये तैयार हैं।

कथाकार, कवि व सामाजिक कार्यकर्ता तेजी ग्रोवर ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर करते हुए बताया है कि पिछले साल भोपाल में किस तरह छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले का एक जोड़ा अपने विवाह के एक दिन बाद ही निकलकर काम की तलाश में यहां पहुंचा था और आते ही लॉकडाउन में फंस गया था। उनका काम भी शुरू नहीं हो पाया तो हाथ में पैसे भी नहीं थे। वे उनके घर के पास एक अधबनी इमारत में बदहवास फंसे हुए थे, जिस तरह अन्य लाखों मजदूर देशभर में। तब उस नवदम्पती तरुण व सोना (बदला हुआ नाम) ने बताया कि परिवार को किसी तरह गर्मी में निकल जाना पड़ता है क्योंकि अपना घर बारिश की मार से उन्हें नहीं बचा पाता। वे साथ आये 7 अन्य लोगों की तरह दौडक़र घर चले जाना चाहते हैं और नहीं भी, क्योंकि वहां भी रोजी-रोटी नहीं है।

तेजी ग्रोवर ने जब उनकी इस समस्या को फेसबुक पर शेयर किया तो सबसे पहली मदद जाने माने कवि अशोक वाजपेयी से मिली। तब उन्होंने उन 9 लोगों के लिये एक सम्मानजनक राशि उनके खाते पर ट्रांसफर किये, जिससे न केवल वे वापस लौट सकें बल्कि अपने घर की मरम्मत कर सकें और कम से कम दो माह के राशन की व्यवस्था कर सकें।

वही तरुण और सोना दम्पती अब फिर भोपाल पहुंच गया है। उन्हें इन खबरों की चिंता नहीं है कि फिर से कोरोना की रफ्तार बढ़ रही है। उन्हें लगता है कि लॉकडाउन यदि लगता भी है तो पिछली बार की तरह भयावह स्थिति पैदा नहीं होगी। इस बार ठेकेदार ने उसे अग्रिम राशि देकर बुलाया है साथ ही कोई अनहोनी हुई तो उन्हें भोपाल में सहारा देने वाले भले सामाजिक कार्यकर्ता मिल गये हैं।

तेजी ग्रोवर बताती हैं कि बीते साल अचानक हुए लॉकडाउन के बाद बनी परिस्थितियों से भोपाल व देश के अन्य भागों से जुड़े उनके साथी कार्यकर्ताओं ने सैकड़ों लोगों को घर वापस भेजने की व्यवस्था की थी। इनमें से बहुत से लोग अब वापस आ रहे हैं। आते ही हमसे फोन के जरिये सम्पर्क कर पिछले साल मिली मदद के लिये आभार जता रहे हैं। मुंगेली की सोना व तरुण जो अपने नवजात को लेकर वहां पहुंचा है, उसने तो भोपाल लौटने की खबर देते हुए यह खुशखबरी भी उन्हें दी।


06-Apr-2021 7:50 PM 26

उल्लंघन पर 15 दिन के लिये सील होंगे प्रतिष्ठान

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 6 अप्रैल।
कोविड पॉजिटिव केस की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिले में कल 7 अप्रैल से शाम 7 बजे तक ही दुकानों को खोला जा सकेगा। होटल रेस्टारेंट भी 9 बजे के पहले बंद कर दिये जायेंगे।

जिला प्रसासन ने आज एक आदेश जारी कर मेडिकल सेवाओं और पेट्रोल पम्प के अतिरिक्त सेवाओं के लिये किये जाने वाले परिवहन को इससे मुक्त रखा है। शहरी क्षेत्र के सभी साप्ताहिक बाजार जैसे बिलासपुर के सदर बाजार का संडे मार्केट भी बंद रहेगा। मॉल, डिपार्टमेंटल स्टोर्स व शराब दुकानें शाम 7 बजे तक ही खुली रहेंगीं।

दुकानों में खुलने व बंद करने का समय प्रदर्शित करना होगा। सभी व्यापारियों, कर्मचारियों व ग्राहकों को मास्क पहनना तथा सोशल डिस्टेंस का पालन करना जरूरी होगा। बिना मास्क पहने पहुंचे ग्राहकों को सबसे पहले मास्क का वितरण करना होगा। अन्यथा दुकान 15 दिन के लिये सील कर दी जायेगी। इस आदेश के उल्लंघन करने वालों पर आईपीसी 1860 की धारा 188 सहपठित आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 तक एवं महामारी नियंत्रण अधिनियम 1897 की धारा 3 के अंतर्गत दंडनीय कार्रवाई की जायेगी। आदेश 16 अप्रेल तक प्रभावी रहेगा। आदेश के पालन पर निगरानी के लिये पुलिस व मजिस्ट्रेट लगातार भ्रमण करेंगे। उल्लेखनीय है कि महामारी को देखते हुए जिले में पहले से  ही धारा 144 लागू है जिसके तहत चार से अधिक लोगों को एक जगह पर एकत्र होने से मनाही है।


06-Apr-2021 12:12 PM 21

अस्पतालों में बेड फुल की स्थिति, निजी में भी बिस्तरो के लिये मारामारी

दूसरे राज्यों से श्रमिकों के फिर लौटने के आसार, तैयारी रखने का निर्देश दिया सिंहदेव ने  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बिलासपुर, 6 अप्रैल। कोविड संक्रमण ने जिले में पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ दिये हैं। एक ही दिन में 492 केस सामने आये हैं। मरीजों के चलते सभी सरकारी और निजी अस्पताल मरीजों से भरे हुए हैं। दूसरे राज्यों में लॉकडाउन के कारण एक बार फिर मजदूर आ सकते हैं, उनके लिये 4 हजार बिस्तरों की तैयारी की जा रही है। साथ ही संभाग में एक हजार ऑक्सीजन बेड और बढाने की घोषणा स्वास्थ्य मंत्री ने की है।

कोविड संक्रमण के दूसरे दौर से एक बार फिर लोगों में दहशत फैल रही है। बिलासपुर जिले में हर दिन मरीजों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। सोमवार की शाम यहां 492 नये संक्रमितों का पता चला जो अब तक के एक दिन में मिले सर्वाधिक हैं। इसके पहले 17 सितम्बर 2020 को 374 मरीज एक ही दिन मिले थे। जिले में अब तक संक्रमण के 25 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से दो हजार से अधिक केस अभी भी एक्टिव हैं। अस्पतालों में बेड फुल चल रहे हैं। संभागीय कोविड अस्पताल में कोई भी बिस्तर खाली नहीं है, जिससे लोग निजी अस्पतालों के महंगे इलाज की ओर रुख कर रहे हैं पर वहां खर्च बहुत ज्यादा आ रहा है। अपोलो अस्पताल में न केवल ऑक्सीजन बेड बल्कि सभी नार्मल बेड खाली चल रहे हैं। शहर में दो दिन के भीतर केयर एंड क्योर तथा साईं बाबा हॉस्पिटल को कोविड अस्पताल शुरू करने की अनुमति दी गई। अनुमति मिलने के कुछ घंटे के बाद ही इनके अधिकांश बेड भर गये।

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कल वीडियो कांफ्रेंस कर बिलासपुर संभाग में कोविड से बचाव और उपचार की स्थिति की समीक्षा की। इसके बाद उन्होंने सिम्स में टेस्ट बढ़ाने के लिये दो आरटीपीसीआर टेस्ट यूनिट बढ़ाने का निर्देश दिया। संभागीय कोविड अस्पताल में भी 25 और बेड बढ़ाये जायेंगे। दूसरे राज्यों में लगातार लगाये जा रहे लॉकडाउन के चलते एक बार फिर प्रवासी श्रमिकों के लौटने की स्थिति है। इसे देखते हुए कोविड मरीजों की देखभाल के लिये जिले में चार हजार बिस्तर और तैयार करने का निर्देश दिया गया है। ये बिस्तर अस्पतालों में जगह न होने पर सार्वजनिक, सामुदायिक भवनों में तैयार किये जा सकते हैं। इसी तरह से एक हजार ऑक्सीजन बेड तैयार करने का निर्देश भी उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों को दिया है। 

कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सिम्स के ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता तत्काल बढ़ाई जायेगी। सिंहदेव ने होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों से अपील की कि वे समय रहते अस्पताल पहुंचें ताकि उनको खतरे से बचाया जा सके। उन्होंने डॉक्टरों को भी निर्देश दिया कि वे आइसोलेट मरीजों की सेहत से गाइडलाइन के अनुसार अपडेट रहें।


02-Apr-2021 6:45 PM 21

बिलासपुर विधायक की सभी पात्र लोगों से टीका लगाने की अपील
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 2 अप्रैल।
विधायक शैलेष पांडे ने राज्य सहित बिलासपुर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए अपील की है कि सभी नागरिक अपनी पात्रता के अनुसार वैक्सीनेशन जरूर करायें। साथ ही बुजुर्ग का भी टीका लगवाना सुनिश्चित करें।

कोरोना वारियर्स, प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के लोग दिन रात मेहनत कर कोरोना को परास्त करने में लगे हुए हैं आप उनमें सिर्फ इतना करके सहयोग कर सकते हैं कि इसके बचाव के लिये तय गाइडलाइन का पालन करें। सोशल डिस्टेंस लागू रखें, मास्क और सेनेटाइजर का उपयोग करें।

इधर लगातार कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। मस्तूरी विधायक व पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी ने अपने कोरोना संक्रमित हो जाने की जानकारी ट्विटर पर दी है और सम्पर्क में आये सभी लोगों से कोरोना टेस्ट कराने का अनुरोध किया है। संभागीय कोविड अस्पताल सहित जिले के अन्य सरकारी और निजी कोविड अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ रही है, जो 15 दिन पहले तक लगभग खाली हो चुके थे।


02-Apr-2021 6:34 PM 127

आत्महत्या के लिये उकसाने के आरोप में पटवारी गिरफ्तार, एसडीएम ने किया निलम्बित

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 2 अप्रैल।
पटवारी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर आत्महत्या करने वाले किसान के पास सिर्फ 70 डिसमिल जमीन थी। इसके बावजूद अपनी जमीन को वह बेचना चाहता था।  ऐसी नौबत क्यों आई, प्रशासन ने अभी इस बात की जांच नहीं की है। 

आज सुबह की घटना से जिला प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है। निगारबंद,  हल्का नंबर 10 के पटवारी उत्तम प्रधान को एसडीएम ने निलम्बित कर दिया और पुलिस ने भी तत्परता से कार्रवाई करते हुए उसे आईपीसी की धारा 306 के तहत गिरफ्तार कर लिया।

उल्लेखनीय है कि राजाकापा ग्राम में किसान छोटूराम कैवर्त (58 वर्ष) का शव सुबह पास के खेत में फांसी पर लटका मिला। उसके पास से एक सुसाइडल नोट मिला, जिसमें लिखा था कि पांच हजार रुपये रिश्वत में देने के बावजूद पटवारी ने उसे पर्ची बनाकर नहीं दिया है, इसलिये आत्महत्या कर रहा है। पुलिस व राजस्व विभाग की जांच से मालूम हुआ है कि मृतक के पास केवल 70 डिसमिल जमीन है, यानि वह लघु कृषक की श्रेणी में आता है। किसान ने अपने गांव के एक दूसरे कृषक पांडेय महाराज की जमीन पर कुछ सब्जी भाजी भी बो रखी थी। इतनी कम जमीन होने के बावजूद उसे  बेचना चाहता था, क्यों, इसकी जानकारी अभी तक की जांच में सामने नहीं लाई गई है। मृतक किसान के घर में पत्नी के अलावा दो युवा पुत्र भी हैं।  

राजाकापा की जमीन को वह बेचना चाहता था, उसकी ऋण पुस्तिका गुम गई थी। इसके लिये उसने अपने इलाके के पटवारी को 5 हजार रुपये की रिश्वत दी थी। इसके बावजूद पटवारी उसे नया पर्ची बनाकर नहीं दे रहा था। वह निगारबंद स्थित उसके कार्यालय में कई चक्कर काटकर थक चुका था। वित्तीय वर्ष के अंत 31 मार्च तक जब वह जमीन नहीं बेच पाया तो निराश हो गया और उसने आत्मघाती कदम उठा लिया।

इस मामले में पटवारी प्रधान पर सीधे आरोप लगाने से जिला प्रशासन बच रहा है। उसके निलम्बन आदेश में छोटूराम कैवर्त की मौत का जिक्र ही नहीं किया गया है। पुलिस ने जरूर उसकी इस आरोप में गिरफ्तारी कर ली है।

मामला सामने आने के बाद प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है और पूरी कोशिश की जा रही है कि घटना को साधारण बताया जाये, लेकिन राजस्व विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार की इस मामले ने पोल खोल दी है। राजस्व विभाग में सिटीजन चार्टर लागू है, जिसके तहत निश्चित समय में काम होना चाहिये पर इसका पालन शायद ही किसी पटवारी, तहसील के दफ्तर में होता है। जिन अधिकारियों के अधीन ये पटवारी काम कर रहे हैं उनकी कार्यप्रणाली भी संदेह के दायरे में आ गई है।

आज महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष हर्षिता पांडेय ने 25 लाख रुपये मुआवजा पीड़ित परिवार को देने की तथा घटना की न्यायिक जांच कराने की मांग सरकार से की है। उन्होंने परिवार को ढांढस भी बंधाया। संसदीय सचिव व तखतपुर विधायक रश्मि सिंह ठाकुर ने पीड़ित परिवार को सांत्वना दी और अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई के लिये कहा।


02-Apr-2021 1:04 PM 83

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 2 अप्रैल।
किसान आत्महत्या के मामले में रिश्वत लेकर भी पर्ची बनाकर नहीं देने आरोपी पटवारी उत्तम प्रधान को कलेक्टर के आदेश पर एसडीएम ने सस्पेंड कर दिया है। पटवारी को गिरफ्तार करने पुलिस उसके घर रवाना हुई है। 

आज सुबह आत्महत्या का यह मामला सामने आने पर जिला प्रशासन में हडक़ंप मच गया। तखतपुर के ग्राम राजा कापा के छोटू नाम के किसान ने अपने घर के पास फांसी लगाकर जान दे दी है। उसने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है जिसमें पटवारी पर पांच हजार रुपए रिश्वत लेने के बाद भी ऋण  पुस्तिका बनाकर नहीं देने की बात कही है। 

कलेक्टर को मामले की जानकारी मिली। उनके निर्देश पर एसडीएम आनंद रूप  तिवारी ने हल्का नंबर 10 के पटवारी के निलंबन की  कार्रवाई की। घटना स्थल पर एसडीओ रश्मीत कौर चावला अपने स्टाफ के साथ पहुंची और मामले की गंभीरता को देखते हुए पटवारी को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस बल को रवाना किया है।

भाजपा नेताओं की ओर से इसके पहले पटवारी की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की गई भाजपा नेत्री हर्षिता पांडे घटनास्थल पर भी पहुंच गई। विधायक एवं संसदीय सचिव रश्मि सिंह ठाकुर भी घटनास्थल पहुंच गई हैं। 


Previous12345678Next