इतिहास

 आज का इतिहास 20 मई
आज का इतिहास 20 मई
Date : 20-May-2019

पश्चिम में 15वीं शताब्दी में भारत को खोजने की होड़ छिड़ी थी. कई नाविक भटक रहे थे. लेकिन 20 मई 1498 को वास्को डा गामा से कालीकट पहुंच कर भारत को खोज ही निकाला.

यूरोपीय देशों के लिए भारत एक पहेली जैसा था. अरब देशों के साथ यूरोप का व्यापार था. यूरोप अरब जगत से मसाले, खासकर काली मिर्च और चाय खरीदता था. लेकिन अरब कारोबारी उन्हें ये नहीं बताते थे कि ये मसाले और चाय कहां पैदा होते हैं. यूरोप इतना समझ चुका था कि अरब कारोबारी कुछ छुपा रहे हैं. रोमन सभ्यता के इतिहास से उन्हें पता था कि पूर्व में एक अलग संस्कृति वाला समृद्ध देश है.
उस देश को खोजने बड़ी संख्या में यूरोप के नाविक निकल पड़े. इनमें एक नाम था इटली के क्रिस्टोफर कोलंबस का. भारत खोजने निकले कोलंबस अटलांटिक महासागर में भटक गए और अमेरिका की तरफ पहुंच गए. कोलंबस को शुरुआत में लगा कि उन्होंने भारत खोज लिया है, इसीलिए वहां के मूल निवासियों को रेड इंडियंस कहा गया.
कोलंबस की पहली यात्रा के करीब पांच साल बाद जुलाई 1497 में पुर्तगाल के युवा नाविक वास्को डा गामा भारत की खोज में निकले. 1460 में पैदा हुए वास्को डा गामा एक हुनरमंद कप्तान थे. चार जहाजों के साथ यात्रा की शुरुआत पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन से हुई. उनका अपना जहाज सेंट गाब्रियल 200 टन का था.
कहा जाता है कि वास्को डा गामा सीधे दक्षिण अफ्रीका पहुंचे. वहां उन्होंने कई भारतीयों को देखा. उन्हीं के जरिए वास्को डा गामा को पता चला कि भारत अभी और आगे है. दक्षिण अफ्रीका के आखिरी छोर के मोड़ 'कैप ऑफ गुड होप' का मोड़ काटते ही वो हिंद महासागर में दाखिल हो गए. इसके बाद उनके ज्यादातर साथी बीमार पड़ गए. खाना कम पड़ गया. जान बचाने के लिए वो मोजाम्बिक में रुके. मोजाम्बिक के सुल्तान को उन्होंने यूरोपीय उपहार दिए. तोहफों से सुल्तान ऐसे खुश हुए कि उन्होंने वास्को डा गामा की भरपूर मदद की और भारत का रास्ता खोजने में भी मदद की.
ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार 20 मई वर्ष का 140 वां (लीप वर्ष में यह 141 वां) दिन है। साल में अभी और 225 दिन शेष हैं। 
आखिरकार 20 मई 1498 को वास्को डा गामा कालीकट के तट पर पहुंच गए. कालीकट के राजा ने उनसे कारोबार करने की हामी भरी. कालीकट में तीन महीने बिताने के बाद वो वापस पुर्तगाल लौटे. उनके 199 नाविकों में सिर्फ 55 जिंदा बचे. 1499 में वास्को डा गामा के लिस्बन पहुंचने के बाद पूरे यूरोप में भारत की खोज की खबर फैलने लगी.
इसके बाद कब्जे का दौर शुरू हुआ. 1502 को पुर्तगाल के राजा ने वास्को डा गामा को 20 नौसैनिक जहाजों के साथ भारत के लिए रवाना किया. पुर्तगाली कालीकट और उसके आस पास के इलाके को अपने नियंत्रण में रखना चाहते थे. पूर्वी अफ्रीका के तट के सहारे वास्को डा गामा ने अरबों पर बर्बर हमले किये. कालीकट पहुंचने पर भी हमले जारी रहे. कालीकट के राजा के आत्मसमर्पण के बाद कोच्चि के राजा से समझौता किया. इसके तहत मसालों का कारोबार बनाए रखने की संधि हुई.
1503 में वास्को डा गामा पुर्तगाल लौट गए. वहां 20 साल रहने के बाद वो फिर भारत आए. 1524 में तीसरी बार भारत पहुंचे वास्को डा गामा की तबियत गड़बड़ा गई. 24 मई 1524 को उनकी मौत हो गई. पहले उन्हें कोच्चि में ही दफनाया गया. बाद में 1538 में कब्र खोदी गई और वास्को डा गामा के अवशेषों को पुर्तगाल लाया गया. लिस्बन में आज भी उस जगह एक स्मारक है जहां से वास्को डा गामा ने पहली भारत यात्रा शुरू की.

  • 1830- डी हाइड ने फाउन्टेन पेन का पेटेन्ट कराया।
  • 1910 -जापान ने कोरिया को औपचारिक रुप से अपना एक भाग बना लिया और इसका नाम बदल कर चोजऩ रख दिया।
  • 1940-अन्वेषक आइगर सिकॉर्स्की ने जनता के सामने अपना हैलिकॉप्टर प्रदर्शित किया।
  • 1995 - रूस द्वारा मानव रहित अंतरिक्ष यान स्पेक्त्र  का सफल प्रक्षेपण।
  • 1999 - कुर्द विद्रोही नेता सेमडिम साकिक को मृत्युदंड की सज़ा।
  • 2000 - फिजी में बंदूक़धारियों के नेता जार्ज स्पेट ने देश के अंतरिम प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली।
  • 2001 - अफग़़ानिस्तान में तालिबान ने हिन्दुओं की अलग पहचान के लिए ड्रेस कोड बनाया।
  • 2003 - पाकिस्तान ने उग्रवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन पर प्रतिबंध लगाया।
  • 2004 - ताइवान में नवगठित सरकार ने शपथ ग्रहण की। यूरोपीय संघ के बाद अमेरिका ने भी कृषि निर्यात सब्सिडी कम करने की घोषणा की।
  • 1900- हिन्दी भाषा के जाने-माने कवि सुमित्रानंदन पंत का जन्म हुआ।  
  • 1932 -भारत में क्रांतिकारी विचारों के जनक  विपिन चन्द्र पाल का निधन हुआ। 
  • 1957 - प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी और आंध्रप्रदेश के  प्रथम मुख्यमंत्री टी. प्रकाशम का निधन हुआ। 
  • 1860 -जर्मन जैव रसायनज्ञ ऐडवर्ड बकनर का जन्म हुआ, जिन्होंने बताया कि किण्वन केवल खमीर की कोशिका के कारण नहीं होता बल्कि उसमें मौजूद एंज़ाइम के कारण होता है।  (निधन-13 अगस्त 1917)
  • 1806- ब्रिटेन के दार्शनिक और अर्थशास्त्री जॉन स्टीवर्ट मिल का जन्म हुआ। दर्शनशास्त्र में वे ऑगस्ट कैंट के विचारों से प्रभावित थे। अर्थ व्यवस्था में वे उत्पादन और उपभोग के लिए सहकारी संस्थाएं स्थापित किए जाने के पक्षधर थे। सन 1873 में उनका निधन हुआ।
  • 1913- अमेरिकी इलेक्ट्रिक इंजीनियर विलियम रैडिंगटन हैवलेट  का जन्म हुआ,  जिन्होंने हैवलेट पैकार्ड कम्पनी की नींव रखी जो आज कम्प्यूटर निर्माण की अग्रणी कम्पनी है। (निधन-12 जनवरी 2001)
  • 1947 -जर्मन भौतिकशास्त्री फिलिप एडवर्ड ऐन्टन लेनार्ड का निधन हुआ, जिन्हें कैथोड किरणों पर अनुसंधान के लिए वर्ष 1905 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला। (जन्म-7 जून 1862)
  • 1793 -स्विस प्रकृतिविद् चाल्र्स बनेट का निधन हुआ, जिन्होंने अनिषेकजनन (पार्थेनोजेनेसिस) की खोज की। इसका अर्थ होता है बिना निषेचन के प्रजनन। उन्होंने पता लगाया कि कीट अपने शरीर के छिद्रों से श्वसन करते हैं जिन्हें उन्होंने स्टिग्मैटा कहा। (जन्म 13 मार्च 1720)।

Related Post

Comments