राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : छत्तीसगढ़ को नई पहचान दिलाने वाला नृत्योत्सव
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : छत्तीसगढ़ को नई पहचान दिलाने वाला नृत्योत्सव
Date : 29-Dec-2019

छत्तीसगढ़ को नई पहचान
दिलाने वाला नृत्योत्सव

आदिवासी नृत्य महोत्सव की तारीफ देश-दुनिया में हो रही है। यह आयोजन देश में पहली बार हुआ है। न सिर्फ देश के बल्कि दुनिया के अलग-अलग देशों के आदिवासी कलाकारों ने अपनी पारंपरिक नृत्य कला का प्रदर्शन किया। इससे पहले तक पिछली सरकार में राज्योत्सव और अन्य मौकों पर गीत-संगीत, नृत्य के कार्यक्रम होते रहे हैं। इनमें सलमान खान, करीना कपूर जैसी फिल्मी हस्तियों पर ही करोड़ों रुपये फूंके गए थे, मगर वैसी तारीफ और सुर्खियां नहीं मिलीं, जैसे आदिवासी नृत्य महोत्सव की हो रही है। 

सुनते हैं कि इस तरह के आयोजन का आइडिया छत्तीसगढिय़ा मूल के, अमरीका में बसे वैंकटेश शुक्ला का रहा है। वे साल में एक-दो बार छत्तीसगढ़ आते हैं। उनका दर्द यह रहा है कि छत्तीसगढ़ की समृद्धशाली आदिवासी नृत्य-परंपराओं को देश-दुनिया में कोई पहचान नहीं मिल पा रही है। उन्होंने पिछली सरकार के लोगों को भी इस तरह के आयोजन का सुझाव दिया था। मगर सरकार में शहरी-अभिजात्य सोच के दबदबे के चलते उनके इस सुझाव पर ध्यान नहीं दिया गया। सरकार बदलने के बाद तीन-चार माह पहले यहां आए, तो उन्होंने फिर से आदिवासी नृत्य महोत्सव के आयोजन का सुझाव दिया। भूपेश बघेल की खुद आदिवासी कला-परंपराओं को आगे बढ़ाने की सोच रही है। उन्हें आदिवासी कला को लेकर आयोजन को अंतराष्ट्रीय स्वरूप देने का आइडिया जच गया। फिर क्या था, उन्होंने अपने करीबी अफसरों को इसकी कार्ययोजना तैयार करने कहा। 

महोत्सव के आयोजन का भार संस्कृति विभाग को सौंपा गया। फंड की बड़ी चिंता थी, क्योंकि इस आयोजन में काफी खर्च होना था। तब सरकार के रणनीतिकारों ने इसके लिए एनएमडीसी से चर्चा की। एनएमडीसी को माइनिंग लीज की अवधि समय से पहले ही बढ़ा दी गई। इससे एनएमडीसी प्रबंधन राज्य सरकार से काफी उपकृत है। 

सीएमडी एन बैजेंद्र कुमार ने व्यक्तिगत रूचि लेकर महोत्सव के लिए सीएसआर मद से साढ़े सात करोड़ उपलब्ध करा दिए। इसके बाद युद्ध स्तर पर कार्यक्रम की तिथि तय कर अलग-अलग देशों के दूतावास के जरिए आदिवासी कलाकारों को आमंत्रण पत्र भेजा गया। पहले तो कई बड़े लोग इसको लेकर नाक-भौंह सिकोड़ रहे थे। कार्यक्रम के आयोजन की सफलता पर सवाल खड़े किए जा रहे थे, लेकिन जैसे ही देश-दुनिया के कलाकारों ने छत्तीसगढ़ की धरती पर कदम रखा पूरा माहौल ही बदल गया। कपकपाती ठंड में लोग आदिवासी नृत्य देखने के लिए उमड़ पड़े हैं, जो लोग पहले नृत्य के आयोजन को लेकर सवाल खड़े कर रहे थे, वे आदिवासी कलाकारों के साथ फोटो खिंचवाने के लिए तत्पर दिख रहे हैं। कुल मिलाकर इस आयोजन ने दुनिया के अलग-अलग देशों में भी छत्तीसगढ़ की पहचान और आदिवासी संस्कृति को लेकर उत्सुकता जगाई है, और आने वाले बरसों में हो सकता है कि यह कार्यक्रम और भी बड़ा रूप ले ले। (rajpathjanpath@gmail.com)

 

Related Post

Comments