राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : कोरबा में मुमकिन तो है पर...
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : कोरबा में मुमकिन तो है पर...
Date : 30-Dec-2019

कोरबा में मुमकिन तो है पर...

कांग्रेस सभी 10 म्युनिसिपलों में अपना मेयर-सभापति बनाने का दावा कर रही है। सीएम भूपेश बघेल पूरी दमदारी से यह बात कह भी चुके हैं। सिर्फ कोरबा में थोड़ी बहुत दिक्कत हो सकती है। क्योंकि यही एक म्युनिसिपल है जहां कांग्रेस, भाजपा से थोड़ी पीछे है। यद्यपि बहुमत किसी दल को नहीं है, फिर भी कांग्रेस के रणनीतिकार मानकर चल रहे हैं कि कोरबा में भी कांग्रेस का मेयर बनेगा। यहां कांग्रेस के 26, भाजपा को 31, जोगी कांग्रेस के 2 और 9 निर्दलीय पार्षद चुनकर आए हैं। 

पार्टी ने सोच समझकर अनुभवी नेता सुभाष धुप्पड़ को मेयर चुनाव के लिए पर्यवेक्षक बनाया है। वे विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत के करीबी माने जाते हैं, तो सीएम का भी उन पर भरोसा है। वे अल्पमत को बहुमत में बदलने का कारनामा पहले भी कर चुके हैं। डायरेक्ट इलेक्शन के दौर में जब जोगेश लांबा कोरबा के मेयर बने थे तब कांग्रेस पार्षदों की संख्या भाजपा से कम थी। 

तब सभापति के चुनाव में सुभाष धुप्पड़ की रणनीति के आगे भाजपा टिक नहीं पाई और सभापति पद पर कांग्रेस का कब्जा हो गया। अब तो प्रदेश में सरकार भी है। फिलहाल तो चार पार्षद पहले ही मंत्री जयसिंह अग्रवाल को समर्थन देने का वादा कर आए हैं। बाकियों से चर्चा चल रही है। ऐसे में पार्टी के रणनीतिकार मानकर चल रहे हैं कि इतिहास फिर दोहराया जाएगा। 

अब कांगे्रस के भीतर कोरबा के मेयर को लेकर एक दुविधा यह है कि पार्टी के कुछ लोग वहां मंत्री जयसिंह अग्रवाल के एक विरोधी कांगे्रस पार्षद को मेयर बनाना चाहते हैं। उन्होंने सीएम तक कोशिश की है, लेकिन कोरबा संसदीय सीट के सबसे बड़े नेता, विधानसभाध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने पार्टी के भीतर यह साफ कर दिया है कि पार्टी के बाहर से पार्षदों को लाकर या लेकर महापौर बनाने की क्षमता आज सिर्फ जयसिंह में है, और कोई चाहे या न चाहे, जयसिंह की पसंद से ही पार्टी का मेयर बन सकता है। वैसे यह बात भी है कि जयसिंह अग्रवाल दशकों से सुभाष धुप्पड़ के करीबी रहे हुए हैं, और इन्हीं सब तालमेल को देखते हुए उन्हें कोरबा का जिम्मा दिया गया है।

टीएस की अगली पीढ़ी का लाँच
सरगुजा राजघराने के मुखिया टीएस सिंहदेव अब अपने भतीजे आदितेश्वर शरण सिंहदेव (आदि बाबा) को पंचायत चुनाव के जरिए चुनावी राजनीति में लांच करने जा रहे हैं। आदि बाबा के जिला पंचायत चुनाव मैदान में उतरने की चर्चा है। वे सरगुजा के जिला पंचायत क्रमांक-2 से प्रत्याशी हो सकते हैं। आदि बाबा ने अमेरिका से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है और वे कुछ समय वहां एक निजी कंपनी में काम करते रहे हैं। नौकरी छोड़़कर आने के बाद वे सक्रिय राजनीति में आ गए। वे एआईसीसी के सदस्य भी हैं।

टीएस सिंहदेव के मंत्री बनने के बाद आदि बाबा अंबिकापुर में रहकर सिंहदेव के निर्वाचन क्षेत्र से जुड़े कामकाज में सहयोग करते हैं। वैसे तो पंचायत चुनाव दलीय आधार पर नहीं हो रहे हैं फिर भी पार्टी अधिकृत प्रत्याशियों की सूची जारी करेगी। जिला पंचायत का अध्यक्ष पद अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित है। ऐसे में चुनाव जीतने की स्थिति में आदि बाबा जिला पंचायत के उपाध्यक्ष ही बन सकते हैं। 

Related Post

Comments