इतिहास

 इतिहास में आज 14 जनवरी
इतिहास में आज 14 जनवरी
14-Jan-2020

अलबर्ट श्वाइत्सर ने दर्शन और थीयोलॉजी की पढ़ाई स्ट्रासबुर्ग, पेरिस और बर्लिन की यूनिवर्सिटी में की. एक पादरी के रूप में काम करने के बाद उन्होंने मेडिकल स्कूल में दाखिला लिया. इस ट्रेनिंग के बाद वह अफ्रीका में धर्म-प्रचारक बनना चाहते थे. श्वाइत्सर को संगीत की भी खूब समझ थी और वे अपनी पढ़ाई का खर्च निकालने के लिए कॉन्सर्ट में संगीत आयोजन कर पैसे कमाया करते थे. जब तक उनकी मेडिकल की पढ़ाई पूरी हुई और एमडी की डिग्री मिली, उनकी कई किताबें प्रकाशित हो चुकी थीं. इनमें ईसा मसीह पर उनकी प्रसिद्ध किताब 'दि क्वेस्ट' और संगीतकार योहान सेबास्टियन बाख पर लिखी एक किताब भी शामिल हैं.

मेडिकल की पढ़ाई पूरी कर श्वाइत्सर अपनी पत्नी समेत अफ्रीका चले गए. लैम्बारिनी में उन्होंने एक अस्पताल की स्थापना की. कुछ ही समय बाद प्रथम विश्व युद्ध छिड़ गया. जर्मनी में पैदा हुए श्वाइत्सर को युद्ध बंधक के रूप में एक फ्रेंच नजरबंदी कैंप में भेज दिया गया. 1918 में वहां से छोड़े जाने के बाद वे 1924 में लैम्बारिनी वापस लौटे. अगले तीन दशकों तक वह यूरोप भर में जगह जगह संस्कृति और नैतिकता के विषयों पर भाषण देते रहे. उनका दर्शन एक मूल सिद्धांत पर आधारित था और वह इसे "जीवन के सम्मान" का सिद्धांत कहते थे. विचार यह था कि हर जीवन को सम्मान और प्यार मिलना चाहिए. सभी इंसानों को ब्रह्मांड और उसकी सभी कृतियों के साथ व्यक्तिगत और आध्यात्मिक संबंध रखना चाहिए. श्वाइत्सर के अनुसार जीवन के प्रति श्रद्धा रखने से सभी इंसान अपने आप एक ऐसा जीवन जीने लगेंगे जो दूसरों की सेवा में समर्पित होगा.
अफ्रीका में मरीजों की सेवा के दौरान उन्होंने कुष्ठ और दूसरे कई तरह के खतरनाक रोगों का इलाज किया. 1952 में अपने इन्हीं कामों के लिए उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इनाम की राशि का इसतेमाल भी उन्होंने कुष्ठरोगियों की बेहतरी के लिए ही किया. 1950 से लेकर 1965 में अपने देहांत तक श्वाइत्सर न्यूक्लियर टेस्ट और न्यूक्लियर हथियारों के विरूद्ध लिखते रहे.

  • 1514 - पोप लियो एक्स ने दासता के विरुद्ध आदेश पारित किया।
  • 1758 - ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में लड़ाई में जीती हुई संपत्ति अपने पास रखने का अधिकार इंग्लैंड नरेश ने दिया।
  • 1760 - फ्रांसीसी जनरल लेली ने पांडिचेरी अंग्रेज़ों के हवाले कर दिया।
  • 1761 - पानीपत की तीसरी लड़ाई मराठों और अहमदशाह अब्दाली के बीच हुई। भारत में मराठा शासकों और अहमदशाह दुर्रानी के बीच पानीपत का तीसरा युद्ध हुआ। 
  • 1878-ऐलेक्ज़ेन्डर ग्राहम बेल के पहले टेलीफोन का प्रदर्शन रानी विक्टोरिया के समक्ष उनके ऑस्बॉर्न हाउस एस्टेट में किया गया। बेल ने 1876 में टेलिफोन को पेटेन्ट किया। रानी उनके टेलीफोन से बहुत प्रभावित हुईं और उन्होंने ऑस्बॉर्न हाउस तथा बकिंघम पैलेस के बीच में निजी लाइन बिछाने का आदेश दिया।
  • 1994 - यूक्रेन, रूस तथा संयुक्त राज्य अमरीका द्वारा मास्को में परमाणु अस्त्र कम करने संबंधी समझौते पर हस्ताक्षर।
  • 1999 - भारत का पहला अत्याधुनिक  हवाई यातायात परिसर, दिल्ली राष्ट्र को समर्पित किया गया।   
  • 2007 - नेपाल में अंतरिम संविधान को मंजूरी मिली।
  • 1551 - मुग़ल काल में अकबर के नवरत्नों में से एक अबुल फज़़ल का जन्म हुआ।  
  • 1926 - भारत की सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका महाश्वेता देवी  का जन्म हुआ। 
  • 1905 -हिन्दी और मराठी फि़ल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री  दुर्गा खोटे का जन्म हुआ।  
  • 1943- अमेरिकी जैव रसायनज्ञ तथा अंतरिक्षयात्री शैन्नॉन ल्यूसिड का जन्म हुआ, जो 1996 में रूसी अंतरिक्ष स्टेशन मीर में रिकार्ड तोड़ 188 दिनों तक रहीं। पहली यात्रा उन्होंने 1985 में डिस्कवरी में की, फिर अक्टूबर 1989 तथा अगस्त 1991 में अटलांटिस में की और फिर 1993 में। इस तरह वह चार अलग-अलग बार अंतरिक्ष में जाने वाली पहली महिला बन गईं और सबसे अधिक समय (838 घंटे 54 मिनट) तक अंतरिक्ष में रहने वाली महिला का कीर्तिमान उनके नाम है।
  • 1890-अमेरिकी आविषज्ञ तथा जैव रसायनज्ञ  रोला एन. हार्गर का जन्म हुआ, जिन्होंने मानव रक्त में अल्कोहल की मात्रा ज्ञात करने का पहला उपकरण बनाया जिसे ड्रन्कोमीटर(1931) कहते हैं। (निधन- 8 अगस्त 1983)
  • 1742 - अंग्रेज़ गणितज्ञ तथा खगोल शास्त्री  ऐडमन्ड हेली का निधन हुआ, जिन्हें मुख्य रूप से एक चमकदार, कई बार दिख चुके धुमकेतु को पहचानने (जिसे बाद में उनके नाम पर हेली पुच्छलतारा कहा गया) तथा उसके कक्षा की गणना और उसकी वापसी का सही अनुमान लगाने के कारण जाना जाता है। (जन्म-8 नवम्बर 1656)
  • 1949 -अमेरिकी मनोचिकित्सक  हैरी स्टैक सुलिवन का निधन हुआ, जिन्होंने पारस्परिक सम्बन्धों पर आधारित मनोचिकित्सा का एक सिद्धान्त प्रस्तुत किया। उनका विश्वास था कि चिंता या अन्य मनोरोगात्मक लक्षण, व्यक्ति और उसके सामाजिक परिवेश के बीच संघर्षों की उपज होते हैं। उनका यह भी मानना था कि व्यक्तित्व का विकास भी अन्य लोगों के साथ सम्पर्कों की श्रृंखला के कारण होता है। (जन्म- 21 1892)
  • महत्वपूर्ण दिवस- मकर संक्रांति

अन्य खबरें

Comments