इतिहास

इतिहास में 15 मार्च
इतिहास में 15 मार्च
15-Mar-2020
  • 1892 -एस्केलेटर की रूपरेखा को उसके आविष्कारक न्यूयॉर्क के जेसी डब्ल्यू. रेनो ने पेटेन्ट कराया।
  • 1959-न्यूयॉर्क में ब्रूकहेवेन राष्ट्रीय प्रयोगशाला में पहली बार चिकित्सकीय शोध के लिए एक नाभिकीय ऊर्जा केन्द्र बनाया गया।
  • 1920 -अमेरिकी चिकित्सक ई. डॉनेल थॉमस का जन्म हुआ, जिन्हें एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में मेरू-रज्जु का प्रत्यारोपण करने के लिए 1990 में जोजफ़ ई. म्युरे के साथ चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार मिला। यह ल्यूकीमिया तथा अन्य रक्त कैंसर के उपचार में एक बड़ी उपलब्धि थी।
  • 1854-जर्मन जीवाणु वैज्ञानिक ऐमिल ऐडॉल्फ वॉन बेरिंग का जन्म हुआ, जो इम्यूनोलॉजी (प्रतिरोधक क्षमता) विज्ञान के संस्थापक के रूप में जाने जाते हैं। उन्हें सीरम सिद्धान्त के लिए 1901 का पहला नोबेल पुरस्कार मिला। डिप्थीरिया के इलाज में उसका उपयोग होता है। 1890 में एस. किटैसेटो के साथ काम करते हुए उन्होंने पाया कि जिस जानवर में टेटनस तथा डिप्थीरिया के विरुद्ध प्रतिरोधक क्षमता अच्छी हो उसके द्रव द्वारा हमारे शरीर में भी वैसी ही क्षमता विकसित की जा सकती है। (निधन-31 मार्च 1917)
  • 2004-इंजीनियर तथा भौतिकशास्त्री  विलियम हेवार्ड पिकरिंग का निधन हुआ, जो अमेरिका के पहले उपग्रह एक्सप्लोरर के निर्माण दल के प्रमुख थे। उन्होंने 1930 के समय में नेहेर और रॉबर्ट मिलिकन के कॉस्मिक किरणों के प्रयोग में भी सहयोग दिया। (जन्म-24 दिसम्बर-1910)
  • 1898-अंग्रेज़ अन्वेषक और इंजीनियर सर हेनरी बेसेमर का निधन हुआ, जिन्होंने कम खर्चे में इस्पात बनाने की पहली प्रक्रिया का निर्माण किया, तथा बेसेमर कन्वर्टर के विकास में अग्रणी भूमिका निभाई। कन्वर्टर पिघले लोहे से अशुद्धियां दूर करता है। ( जन्म-19 जनवरी 1813)
  • 1646- फ्रांस के विख्यात वस्तुकलाकार हारडोइन मैन्सर का जन्म हुआ। वे लुई चतुर्थ के काल में पैदा हुए थे उन्होंने लुई चतुर्थ के ही आदेश पर वार्सा के महल का निमार्ण पूरा किया इसका निर्माण एक अन्य कलाकार ने आरंभ किया था। वार्सा महल पेरिस के निकट बना हुआ है। यह विश्व के बड़े ऐतिहासिक महलों में है। इस महल में बहुत महत्वपूर्ण घटनाए हुई हैं। और ऐतिहासिक समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। इनमें सन 1919 में प्रथम विश्व युद्ध का शांति समझौता भी शामिल है।
  • 1798-आगोस्ट कैन्ट नामक फ्रांसीसी दार्शनिक और गणिज्ञ का जन्म हुआ। कैन्ट 18 वर्ष की आयु में गणित के शिक्षक बन गये। दर्शनशास्त्र में वे फ्रांसीसी दार्शनिक सेन साइमन के विचारों से प्रभावित थे। उन्होंने दर्शन शास्त्र के सिद्धान्त साकरात्मवाद के आधार शिला रखी। केंट की विचारधारा के प्रचार ओर प्रसार के परिणाम स्वरुप दर्शनस्त्र ओर विज्ञान विचार और मन की दुनिया से निकलकर व्यवहारिक चरण में प्रविष्ट हुआ। सन 1857 में कैंट का निधन हुआ।
  • 1989 - मिस्र के पूर्वोत्तरी भाग में ताबा नामक क्षेत्र ज़ायोनी शासन के वर्षों के अतिग्रहण से मुक्त हुआ। इस शासन ने सीना मरुस्थल को जो ताबा के पूरब में स्थित है 1967 ईसवी के युद्ध के दौरान अपने क़ब्ज़े में कर लिया था।  सन 1989 में ज़ायोनी सेनाएं इस क्षेत्र से निकलने पर विवश हुई थीं।

अन्य खबरें

Comments