राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : खुद के वेतन में कटौती का सुझाव....
22-May-2021 5:29 PM (219)
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : खुद के वेतन में कटौती का सुझाव....

खुद के वेतन में कटौती का सुझाव....

आमतौर पर मंत्रियों-विधायकों की ओर से खुद अपने वेतन भत्तों की बढ़ोतरी कर ली जाती है यह इकलौता ऐसा प्रस्ताव सदन में होता है जिस पर पक्ष और विपक्ष के लोगों में कोई मतभेद नहीं होता। ऐसी स्थिति में यदि कोई विधायक वेतन भत्तों को कम करने की बात करें तो?

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के विधायक धर्मजीत सिंह ठाकुर का कहना है कि सभी मंत्रियों, संसदीय सचिव और विधायकों के वेतन भत्ते में 50 प्रतिशत तक कटौती की जाये। जनसंपर्क निधि को भी एक साल के लिए स्थगित कर दिया जाये। छत्तीसगढ़ इस समय कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पाने में लगा हुआ है और तीसरी लहर आने की आशंका दिखाई दे रही है। ऐसी स्थिति में वेतन भत्तों की कटौती से मिलने वाली पूरी राशि स्वास्थ्य की व्यवस्था मजबूत करने में लगाई जाये। अभी तक धर्मजीत सिंह के विचार का किसी विधायक, मंत्री ने समर्थन नहीं किया है। कोई करेगा, ऐसी उम्मीद भी कम है।

वैक्सीनेशन में सामाजिक सद्भाव

वैक्सीनेशन पर भ्रांतियों, अफवाहों को हवा मिलती है जब इसे धर्म, समुदायों की अस्मिता के साथ जोड़ दिया जाये। कोरबा के एक इलाके में बीते दिनों मुस्लिम समाज के बीच कुछ इसी तरह भांति फैलाने की कोशिश की गई। वहां से लोग टीके के लिये नहीं निकल रहे थे। कुछ समझदार लोगों ने जिला प्रशासन से बात की और टीकाकरण कराने में मदद करने की बात कही। इसके बाद वहां के एक मस्जिद में ही टीकाकरण केन्द्र खोल दिया गया। अब सोशल मीडिया पर इस पोस्ट होने लगे, मस्जिद में ही टीकाकरण क्यों?  वैसे भी सरकार इस समय टीकाकरण का वर्गीकरण को लेकर हाईकोर्ट को जवाब देने के नाम पर परेशान दिखाई दे रही है। फिलहाल सोशल मीडिया पोस्ट के जवाब में आयोजन करने वालों ने बाकी मस्जिदों से भी सम्पर्क किया। सभी में एक ही दिन एक साथ टीका। साथ ही यह घोषणा भी की गई कि किसी एक समाज के लिये यह टीकाकरण केन्द्र नहीं खोला गया है, टीका सबको लगेगा। और ऐसा हुआ भी। सभी वर्गों से लोग पहुंचे और उन्होंने टीका लगवाया।

बहुगुणा ने लड़ाई को दिशा दी..

पंडित सुंदरलाल, बहुगुणा पद्म विभूषण पर्यावरणविद और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी। जल जंगल और जमीन को बचाने के लिए उनसे प्रेरणा लेने वाले छत्तीसगढ़ में भी बहुत से लोग हैं। यह लड़ाई कोई सडक़ से लड़ रहा है तो कोई अदालतों के जरिए। सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता सुदीप श्रीवास्तव सन 2012 में दिल्ली में उनसे मिले। वे वहां हिमालय बचाओ अभियान के एक कार्यक्रम में पहुंचे थे। सुदीप श्रीवास्तव ने उनको बताया कि हसदेव नदी पर बनाए गए बांध के कारण 11 हजार हेक्टेयर जंगल पहले ही डुबान क्षेत्र में आ चुका है। अब उसके ऊपर पांच छह कोयला खदानों को मंजूरी दे दी गई है। इससे बड़ी संख्या में पेड़ों का विनाश होगा। बहुगुणा इससे चिंतित दिखे और कहा कि आप लोगों को इसे लेकर लडऩा चाहिए। सुदीप ने बताया लड़ाई चल रही है। इन खदानों को खोलने के खिलाफ एडवोकेट सुधीर श्रीवास्तव की याचिका पर एनजीटी ने खदानों के आबंटन पर रोक लगाई, लेकिन सुप्रीम कोर्ट से एनजीटी के आदेश पर स्थगन हो गया। अभी भी जो खदानें खुली हैं, सुप्रीम कोर्ट के स्थगन के आदेश पर ही है। सुदीप कहते हैं कि बहुगुणा से मिलने के पहले उन्हें लगता था कि इतने पत्राचार करने, मुकदमे लडऩे के कारण मुझे विकास विरोधी, बांध विरोधी कहा जाएगा। लड़ाई लडऩी चाहिए या नहीं, सोचा करता था। उनसे मिलने के बाद लगा कि उसकी दिशा सही है। उन्होंने सारे भ्रम दूर किये। आज भी वे पर्यावरण के मसलों पर दर्जनों लड़ाइयां लड़ रहे हैं। अदालत में भी और बाहर भी। इसके पीछे बहुगुणा का परामर्श उनके बहुत काम आता है।

कठिन सवाल, और शानदार ईनाम

किसी फिल्म को हिट करने के लिए तो पता नहीं क्या-क्या किया जाता है, लेकिन किसी फिल्म को फ्लॉप साबित करने के लिए लोग इतने किस्म के लतीफे बनाते हैं कि जिसकी हद नहीं।

अभी सोशल मीडिया पर एक किस्सा घूम रहा है कि एक ऑनलाइन कंपनी ने एक इनामी मुकाबला शुरू किया। उसमें दाखिल होने के लिए किसी कंपनी को फोन करना था। एक आदमी ने फोन किया तो उसे बताया गया कि आपसे एक सवाल किया जाएगा और अगर आपने उसका सही जवाब दिया तो आपके लिए एक बहुत शानदार इनाम रखा गया है।

खुश होकर उस आदमी ने पूछा कि सवाल क्या है? तो उसे बताया गया कि सवाल गणित का है।

वह आदमी और खुश हो गया उसने कहा कि वह तो 30 बरस से स्कूल में गणित ही पढा रहा है और वह उसका पसंदीदा विषय भी है।

उसने पूछा कि ईनाम क्या है? तो उसे बताया गया कि सलमान खान की फिल्म ‘राधे’ की 4 टिकटें।

इसके पहले कि वह फोन रख सके उससे सवाल पूछा गया कि 2 में 2 जोड़े तो कितना होगा?

उस आदमी ने छुटकारा पाने के लिए जवाब दिया 7, और उसने सोचा कि अब कम से कम इस फिल्म की टिकट लेने से बच जाएगा।

लेकिन सामने से उस कंपनी के आदमी ने खुश होते हुए कहा कि सुबह से जवाब तो कई लोग दे रहे थे लेकिन आपका जवाब सही जवाब के सबसे करीब है, इसलिए आपके पते पर फिल्म ‘राधे’  की 4 टिकटें भेजी जा रही हैं।

अन्य पोस्ट

Comments