इतिहास

 आज का इतिहास 18 मई
आज का इतिहास 18 मई
18-May-2019

18 मई 1912 भारतीय सिनेमा का एक बड़ा दिन था. उस दिन भारत में एक ऐसी फिल्म रिलीज हुई, जो भारत में बनी पहली फिल्म साबित हो सकती थी.

इस दिन 'श्री पुंडलिक' नाम की एक फिल्म कोरोनेशन सिनेमैटोग्राफ गिरगांव मुंबई में रिलीज की गई. भारत की पहली मूक फिल्म होने की ये उम्मीदवार है. श्री पुंडलिक नाम की ये फिल्म दादा साहेब तोरणे ने बनाई और निर्देशित की थी.

बिना संवादों वाली इस फिल्म के लिए तोरणे और उनके सहयोगी नानासाहेब चित्रे और किर्तीकर ने शूटिंग स्क्रिप्ट लिखी. फिर इसे प्रोसेसिंग के लिए लंदन भेजा गया. ये फिल्म 1,500 फीट लंबी यानी करीब 22 मिनट की थी. लंदन में तैयार होने के बाद इसे मुंबई के गिरगांव के कोरोनेशन सिनेमैटोग्राफ में दिखाया गया. ये फिल्म दो सप्ताह चली.

कुछ लोगों का दावा है कि ये फिल्म पहली भारतीय फिल्म इसलिए नहीं कही जा सकती क्योंकि यह एक मराठी नाटक की फोटोग्राफिक रिकॉर्डिंग थी. और क्योंकि इसके कैमरामैन भारतीय नहीं हो कर ब्रिटेन के जॉन्सन थे.

इसके करीब एक साल बाद भारत के इतिहास में पहली फिल्म के तौर पर गिनी जाने वाली फिल्म 'राजा हरिश्चंद्र' रिलीज हुई थी, जिसे दादा साहेब फाल्के ने बनाया था.

  • 1804-फ्रांस की सेनेट के समर्थन से नेपोलियन बोनापार्ट इस देश के शासक बने। इस प्रकार फ्रांस में क्रांति की सफतला के 15 वर्ष बाद पुन: राजशाही शासन व्यवसथा स्थापित हो गयी किंतु दस वर्ष बाद 11 अप्रैल सन 1814 ईसवी को फ्रांस में नेपोलियन की तानाशाही भी उस समय समाप्त हो गयी जब उनको योरोपीय सरकारों ने पराजित करके देश निकाला दे दिया। 
  • 1910 -हैली पुच्छलतारा दिखायी दिया।
  • 1914 -पहली बार व्यावसायिक माल पनामा नहर से होकर गुजरा।
  • 1994 - संयुक्त राष्ट्र संघ ने वर्ष 1995 को संयुक्त राष्ट्र सहिष्णुता वर्ष के रूप में मनाने का निर्णय लिया, गाजा पट्टी क्षेत्र से अंतिम इस्रायली सैनिक टुकड़ी हटाए जाने के साथ ही क्षेत्र पर फिलीस्तीनी स्वायत्तशासी शासन पूर्णत:लागू।
  • 2004 - इस्रायल के राफा विस्थापित कैम्प में इस्रायली सैनिकों ने 19 फिलीस्तीनियों को मौत के घाट उतारा।
  • 2006 - नेपाल नरेश को कर के दायरे में लाया गया।
  • 2007 - कजाकिस्तान के राष्ट्रपति नूर सुल्तान नजर वायेव का कार्यकाल असीमित समय के लिए बढ़ा।
  • 2008 -  पाश्र्व गायक नितिन मुकेश को मध्य प्रदेश सरकार ने राष्ट्रीय लता मंगेशकर अलंकरण से सम्मानित किया। भारतीय मूल के लेखक इन्द्रा सिन्हा को उनकी किताब एनिमल पीपुल हेतु कामनवेल्थ सम्मान प्रदान किया गया। 
  • 1933 - भारत के बारहवें प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा का जन्म हुआ। 
  • 1824 -   जर्मन वनस्पति वैज्ञानिक विल्हेम (फ्रेड्रिक बेनेडिक्ट) हॉफ्मीस्टर का जन्म हुआ,  जिनके पेड़-पौधों के अनुसंधान ने उन्हें आपेक्षिक पादप आकृतिविज्ञान का अग्रणी बना दिया। उन्होंने 1982 में पौधों में लैंगिक और अलैंगिक दोनों पीढिय़ों के एकांतरण की खोज की, जो सभी पेड़-पौधों के जीवन-चक्र को समझने का आधार है। (निधन-12 जनवरी1877)
  • 1048 - फारसी कवि, गणितज्ञ और खगोलशास्त्री  उमर खय्याम का जन्म हुआ। खय्याम निशापुर (इरान) में पैदा हुए थे। उन्होंने बीजगणित पर कार्य किया जो ईरान में आज भी पढ़ाया जाता है। ज्यामिति में उन्होंने यूक्लिड के कार्य को पढ़ा तथा समान्तर रेखाओं पर कार्य किया।  (निधन- 4 दिसम्बर 1131)
  • 1912- जर्मनी के पादप कोशिका विज्ञानी  एड्वर्ड एडॉल्फ स्ट्रॉसबर्गर का निधन हुआ, जिन्होंने जिसने जिमनोस्पर्म के भ्रूण थैलियों के बारे में बताया (जैसे कोनिफर), और ऐन्जियोस्पर्म (फूलों वाले पौधे) में युग्मित निषेचन के बारे में बताया। उन्होंने कोशिका में पाए जाने वाले द्रव को साइटोप्लाज़्म तथा केन्द्रक में पाए जाने वाले द्रव के लिए न्यूक्लियोप्लाज़्म कहा। (जन्म-1 फरवरी 1844)
  • 1975-मूलत: पोलैंड से ताल्लुक रखने वाले अमेरिकी भौतिक रसायनज्ञ  कासिमीर फैजान्स का निधन हुआ,  जिन्होंने ब्रिटेन के फ्रेडरिक सॉडी के साथ मिलकर रेडियोएक्टिव विस्थापन का नियम प्रतिपादित किया। इस नियम के अनुसार जब कोई रेडियोएक्टिव तत्व विखण्डित होता है तो उसका परमाणु भार दो अंक कम हो जाता है। (जन्म-27 मई 1887)।

 

इस दिन 'श्री पुंडलिक' नाम की एक फिल्म कोरोनेशन सिनेमैटोग्राफ गिरगांव मुंबई में रिलीज की गई. भारत की पहली मूक फिल्म होने की ये उम्मीदवार है. श्री पुंडलिक नाम की ये फिल्म दादा साहेब तोरणे ने बनाई और निर्देशित की थी.

बिना संवादों वाली इस फिल्म के लिए तोरणे और उनके सहयोगी नानासाहेब चित्रे और किर्तीकर ने शूटिंग स्क्रिप्ट लिखी. फिर इसे प्रोसेसिंग के लिए लंदन भेजा गया. ये फिल्म 1,500 फीट लंबी यानी करीब 22 मिनट की थी. लंदन में तैयार होने के बाद इसे मुंबई के गिरगांव के कोरोनेशन सिनेमैटोग्राफ में दिखाया गया. ये फिल्म दो सप्ताह चली.

कुछ लोगों का दावा है कि ये फिल्म पहली भारतीय फिल्म इसलिए नहीं कही जा सकती क्योंकि यह एक मराठी नाटक की फोटोग्राफिक रिकॉर्डिंग थी. और क्योंकि इसके कैमरामैन भारतीय नहीं हो कर ब्रिटेन के जॉन्सन थे.

इसके करीब एक साल बाद भारत के इतिहास में पहली फिल्म के तौर पर गिनी जाने वाली फिल्म 'राजा हरिश्चंद्र' रिलीज हुई थी, जिसे दादा साहेब फाल्के ने बनाया था.

अन्य खबरें

Comments