छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456789...3233Next
Posted Date : 23-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 23 मई। राज्य पर्यावरण संरक्षण मंडल के सदस्य सचिव देवेन्द्र सिंह का बुधवार को निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार देवेन्द्र नगर मुक्तिधाम में किया गया। श्री सिंह पिछले कुछ सालों से  ब्रेनट्यूमर से पीडि़त थे। 
    आईएफएस के वर्ष-88 बैच के अफसर श्री सिंह अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक स्तर के अफसर थे। श्री सिंह ने सरकार और निगम मंडलों में कई अहम पदों पर रहे। उनकी साख बेहद अच्छी रही है। वे सीएसआईडीसी के एमडी पद पर रहे। उनके कार्यकाल में सबसे बड़ा इनवेस्टर मीट हुआ था। जिसमें देश-विदेश के नामी उद्योग घरानों ने शिरकत की थी। 
    देवेन्द्र सिंह को लोग उनके सकारात्मक रूख के लिए याद करते हैं कि वे नियमों के तहत किसी काम को करने पर भरोसा रखते थे, और बेवजह अडंगा लगाने के खिलाफ रहते थे।

    उनकी काबिलियत को देखते हुए सरकार ने प्रदूषण पर लगाम लगाने की नीयत से  राज्य पर्यावरण संरक्षण मंडल के सदस्य सचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई। बताया गया कि पांच साल पहले उन्हें ब्रेनट्यूमर होने का पता चला था। इसके बाद ठीक भी हो गए थे, लेकिन ट्यूमर फिर उभर आया। अमेरिका और मुंबई के अस्पताल में भी उनका इलाज चला लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इसके बाद लगातार उनकी तबियत बिगड़ती चली गई। कुछ समय पहले उन्हें पक्षाघात भी हो गया। इसके बाद वे कोमा में चले गए। अंतत: उनकी सांसें थम गई। उनके निधन पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और आईएफएस एसोसिएशन ने शोक व्यक्त किया है। आज बुधवार को उनके अंतिम संस्कार के मौके पर राज्य के बहुत से प्रमुख लोग मौजूद थे। 

  •  

Posted Date : 23-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर/भोपाल, 23 मई। रिटायर्ड आईएएस अफसर एम ए खान के यहां आयकर विभाग ने दबिश दी है। खबर है कि आयकर छापे में कई बेनामी संपत्ति का पता चला है। प्रारंभिक जांच में 30 करोड़ से अधिक की जमीन-जायदाद की खबर है। इसमें भोपाल के कई महंगे इलाकों में मकान और जमीन शामिल हैं। 
    खान मूलत: उद्योग विभाग के अफसर रहे हैं और उन्हें आईएएस अवार्ड हुआ। वे रायपुर डीआईसी में जीएम के पद पर रहे हैं। वे भोपाल कलेक्टर भी थे। यह पता चला है कि खान परिवार की भोपाल के अलावा कई शहरों में प्रापर्टी हैं जिसकी जानकारी उन्होंने छिपाई हैं। जांच की कार्रवाई चल रही है।  

  •  

Posted Date : 22-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 22 मई। प्रबल इच्छा शक्ति से शारीरिक चुनौतियों को पराजित कर अंतस में बसे रंगों से चित्रकला का विराट साम्राज्य खड़ा करने वाले कुरूद के चित्रकार बसंत साहू ने हाल में बसंत फाउंडेशन की स्थापना की है। बसंत फाउंडेशन के माध्यम से प्रदेश के दिव्यांग रंगों से चुनौतियों की सामना करने में सक्षम होंगे। 
    वर्षों पहले हुए एक्सीडेंट के कारण 90 फीसदी शारीरिक रूप से अक्षम बसंत साहू द्वारा इस फाउंडेशन के माध्यम से दिव्यांगों के हिस्से में अंधकार को दूर कर उनमें न सिर्फ आशा का संचार किया जाएगा वरन उनकी प्रतिभा को तराशकर उन्हें स्वावलंबी बनाया जाएगा। 
    इस संबंध में जानकारी देते हुए राजिम की डॉ. मोहिनी रोचलानी ने बताया कि बसंत साहू दिव्यांग के अलावा अवसादग्रस्त हर वर्ग में आशा के आकांक्षी है। इस नाते से साधन के अभाव और शारीरिक चुनौतियों के बावजूद वह विगत 20 सालों से प्रदेश में सक्रिय हैं। शासन ने उन्हें सम्मान से विभूषित जरूर किया, लेकिन उनके उद्देश्य के क्रियान्वयन के लिए सहयोग नहीं किया। इस हकीकत को जानने के बाद उनके हितैषियों ने बसंत साहू फाउंडेशन बनाने का सुझाव दिया।
    डॉ. मोहिनी कहती हैं बसंत साहू एक दिव्य कलाकार हैं। पेंटिंग के अलावा उनका जीवन दर्शन प्रेरणादायी है। तमाम असुविधाओं के बावजूद नि:शक्तता की चुनौती का सामना करते हुए किसी संस्था के सदृश उनका प्रयास मिसाल है। बसंत साहू अपने क्षेत्र के कलाकारों का मार्गदर्शन करने के अलावा नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में जाकर दिव्यांगों की काउंसिलिंग करते हैं। उनकी प्रतिभा के अनुरूप उन्हें कला को तराशने के लिए प्रेरित करते हैं। फाउंडेशन के माध्यम से बसंत साहू के उद्देश्य को सफल बनाने के लिए मुझ जैसे कई कलाप्रेमी बसंत साहू के साथ हैं। हम आशा करते हैं कि सब के साझा प्रयास से उनके अंतस में बसा उजास दिव्यांगों के अंधकार को दूर करेगा। 

  •  

Posted Date : 22-May-2018
  • नर्सों-मितानिनों पर कहा, चुनावी साल में सभी हड़ताल करते हैं

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 22 मई। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मंगलवार को कहा कि नक्सलियों की करतूत की वजह से विकास के काम नहीं रूकने वाले हैं। उन्होंने कहा कि वे यह संदेश देने के लिए ही दंतेवाड़ा के घोर नक्सल प्रभावित इलाके बचेली जा रहे हैं। 
    डॉ. सिंह विकास यात्रा पर रवाना होने से पहले हैलीपेड में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री दंतेवाड़ा के निकट नक्सल ब्लॉस्ट में 7 जवानों के शहीद होने की घटना के बाद बैठकों में व्यस्त रहे। 
    केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी यहां इस घटना को लेकर समीक्षा बैठक ली थी। मुख्यमंत्री बीजापुर, दंतेवाड़ा, बस्तर, कांकेर, धमतरी और बालोद जिले की विकास यात्रा में शामिल होने के लिए रवाना हो गए। 
    डॉ. सिंह ने कहा कि 25 मई को झीरम घाटी हमले में 5 बरस पूरे होने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मामले की न्यायिक जांच चल रही है। 
    हाईकोर्ट के जज की अध्यक्षता में जांच आयोग गठित की गई है। कमेटी के समक्ष लोग अपना बयान दर्ज करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसमें न्याय होगा। नर्सों-मितानिनों की हड़ताल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनावी साल है और सभी हड़ताल करेंगे। 

  •  

Posted Date : 22-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    रायपुर, 22 मई। प्रदेश में नर्सों की बेमियादी हड़ताल पिछले चार दिनों से जारी है। दूसरी ओर उनकी हड़ताल से अस्पतालों की व्यवस्था चरमराने लगी है। सरकार ने नर्सों के जल्द काम पर नहीं लौटने पर कार्रवाई की चेतावनी दी है। कहा है कि हड़ताल अवधि को ब्रेक इन सर्विस माना जाएगा। 
    अंबेडकर अस्पताल समेत प्रदेश की करीब तीन हजार स्टाफ नर्स  46 सौ ग्रेड-पे, ग्रेड-2  का दर्जा देने समेत अपनी छह सूत्रीय मांगों को लेकर पिछले चार दिनों से हड़ताल पर हैं। इस दौरान वे सभी यहां नारेबाजी करते हुए धरना, प्रदर्शन कर रही हैं। उनका कहना है कि वे सभी अपनी मांगों को लेकर शासन-प्रशासन से कई बार चर्चा कर चुकी हैं। मांगों पर कोई विचार नहीं करने पर वे सभी आंदोलन पर उतरने विवश हुई हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि मांगों पर जल्द विचार नहीं करने पर वे सभी उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगी। 
    दूसरी ओर नर्स हड़ताल से अंबेडकर अस्पताल की व्यवस्था सबसे ज्यादा प्रभावित है। वहां मरीजों को समय पर दवा नहीं मिल पा रही है। और कई छोटी-छोटी बातों को लेकर मरीज हलाकान हैं। वहां जूनियर डॉक्टर व प्रशिक्षु नर्स तैनात हैं, पर उनसे उन्हें ज्यादा मदद नहीं मिल पा रही है। 
    इसी तरह जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व अन्य छोटे अस्पतालों का हाल है। लगातार हड़ताल से मरीजों की दिक्कतें बढ़ती जा रही है। 
    स्वास्थ्य विभाग ने बीती शाम प्रदेश के सभी सीएमओ को पत्र जारी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। पत्र में कहा गया है कि वे सभी जिलेवार हड़ताली नर्सों की सूची भेजें। यह सूची मिलने के बाद उन सभी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। हड़ताल अवधि को सर्विस इन ब्रेक माना जाएगा। 

  •  

Posted Date : 21-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 21 मई। आम आदमी पार्टी ने विधानसभा की 31 सीटों के लिए प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। पार्टी के प्रदेश संयोजक डॉ. संकेत ठाकुर रायपुर ग्रामीण सीट से चुनाव मैदान में उतरेंगे। पूर्व जज प्रभाकर ग्वाल को सराईपाली से प्रत्याशी बनाया गया है। 
    दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि पार्टी प्रदेश की सभी 90 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। फिलहाल 31 नामों की घोषणा कर दी गई है। इसमें पार्टी ने रायपुर की चारों सीटों के लिए प्रत्याशियों की घोषणा की है। रायपुर दक्षिण से मुन्ना बिसेन को उम्मीदवार बनाया गया है। जबकि रायपुर पश्चिम से उत्तम जायसवाल, रायपुर उत्तर से योगेन्द्र सेन उम्मीदवार बनाया गया है। 
    पार्टी ने अकलतरा सीट से चंद्रहास देवांगन, जांजगीर-चांपा से संजय शर्मा, जैजेपुर सीट से दादूराम मनहर, चंद्रपुर से भानुप्रकाश चंद्रा, कोटा से हरीश चंदेल,बिल्हा से जसबीर सिंह, मस्तूरी से लक्ष्मीप्रसाद टंडन, जगदलपुर से रोहित सिंह आर्या, चित्रकोट से दंती पोयाम, कोंटा से रामदेव बघेल, भानुप्रतापपुर से कोमल हुपेंंडी, डौंडीलोहारा से पूजा गावड़े, अंतागढ़ से संतराम सिंह सलाम, धमतरी से शत्रुहन साहू, खल्लारी से संतोष चंद्राकर, सराईपाली से प्रभाकर ग्वाल, अंबिकापुर से साकेत त्रिपाठी, सीतापुर से अशोक कुमार टिरकी, रामानुजगंज से सुग्रीव राम, दुर्ग से श्रीकृष्ण अग्रवाल, डोंगरगढ़ से ईशू चंदानी, कोरबा से अनुप अग्रवाल, सांरगढ़ से सुभाष चौहान और खरसिया से अमर अग्रवाल को प्रत्याशी बनाया गया। 

  •  

Posted Date : 21-May-2018
  • जमकर प्रदर्शनः मानदेय, सुविधाएं बढ़ाने की मांग

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 21 मर्ई। प्रदेश की हड़ताली हजारों मितानिनों ने मानदेय, सुविधाएं बढ़ाने समेत अपनी 12 सूत्रीय मांगों को लेकर सोमवार को यहां एक जंगी रैली निकाली। उनकी यह रैली धरना स्थल से सप्रे स्कूल गेट के पास पहुंची थी, कि पुलिस ने उन्हें बेरीकेड्स लगाकर रोक लिया। इसके बाद वे सभी वहां सड़क पर जमकर धरना-प्रदर्शन करती रहीं। नारेबाजी करते हुए उन सभी ने चेतावनी दी है कि मांगें पूरी नहीं होने पर वे सभी उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगी। 
    स्वास्थ्य मितानिन संघ के बैनर तले रायपुर समेत प्रदेश की हजारोंं मितानिन पिछले दस दिनों से यहां बेमियादी हड़ताल पर हैं। आज दोपहर वे सभी एक रैली निकाल कर मुख्यमंत्री निवास घेराव के लिए निकलीं, तभी पुलिस ने उन सभी को सड़क पर रोक लिया। इसके बाद वे सभी वहीं नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गईं। संघ की पदाधिकारी आरती वर्मा, अन्नपूर्णा साहू व अन्य पदाधिकारियों का कहना है कि वे सभी अपनी मांगों को लेकर शासन-प्रशासन से कई बार चर्चा कर चुकी हैं। उनकी किसी भी मांग पर कोई विचार नहीं किया जा रहा है। बहुत कम मानदेय के बाद भी वे सभी शासन की योजनाओं से जुड़कर घंटों काम कर रही हैं। 
    उनकी मांगों में ब्लॉक समन्वयक, स्वास्थ्य पंचायत समन्वयक व क्षेत्र समन्वयक का मानदेय 30 हजार करने, मितानिन प्रशिक्षक का मानदेय 20 हजार, हेल्प डेक्स फेसिलिटेटर का मानदेय 15 हजार, मितानिनों को सौ प्रतिशत राज्यांश, मानदेय भुगतान जल्द करने, पीएफ कटौती करने, मेडिकल  व अन्य अवकाश देने आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं। इसके अलावा वे सभी समेत बस्तर में रहने वाली मितानिनों को नक्सली भत्ता के साथ हर साल उनका मानदेय 10 प्रतिशत बढ़ाने की मांग भी कर रही हैं। 

  •  

Posted Date : 19-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 19 मई। अंबिकापुर सेंट्रल जेल में डायरिया फैलने के बाद हाईकोर्ट न्यायाधीश, राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यपालक अध्यक्ष प्रीतिंकर दिवाकर ने जेल अफसरों के साथ आज सुबह यहां रायपुर सेंट्रल जेल का निरीक्षण किया। उन्होंने वहां अलग-अलग बैरकों का निरीक्षण कर कैदियों से चर्चा की। खासकर उन्होंने वहां बीमार कैदियों के बारे में पूछा। इसके अलावा उन्होंने वहां की सफाई, पेयजल व अन्य व्यवस्था की जानकारी भी ली। 
    बताया गया कि अंबिकापुर जेल में डायरिया से एक कैदी की मौत एवं डेढ़ दर्जन कैदियों के बीमार होने के बाद बड़े जेलों में हड़कंप की स्थिति बनी हुई है। रायपुर जेल के अफसर भी डायरिया व अन्य संक्रामक रोग फैलने को लेकर चिंतित हैं। जेल प्रशासन की ओर से आज केंद्रीय जेल व महिला सेल में स्वास्थ्य शिविर लगाकर सभी कैदियों का स्वास्थ्य परीक्षण कराया जा रहा है।  न्यायाधीश श्री दिवाकर पहले इन दोनों शिविरों में पहुंचे। वहां उन्होंने सभी कैदियों के स्वास्थ्य की जानकारी ली। इस दौरान उन्हें बताया गया कि यहां कोई गंभीर कैदी नहीं है।
    न्यायाधीश श्री दिवाकर वहां से जेल के अलग-अलग बैरकों में पहुंचे। उन्होंने वहां लंबे समय से बंद कैदियों से चर्चा की। इस दौरान एक कैदी ने उन्हें बताया कि उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। वह करीब 14 साल से जेल में है। वह जेल से बाहर कब आएगा, यह कोई नहीं बता रहे हैं। न्यायाधीश ने उसकी बात सुनने के बाद उसे जल्द बाहर आने का भरोसा दिलाया। इसी तरह और कई कैदियों ने उन्हें अपनी-अपनी दिक्कत बताई। 
    बताया गया कि स्वास्थ्य शिविर के पास ही वहां विधिक शिविर भी लगाए गए हैं, जहां श्री दिवाकर ने कहा कि जिन बंदियों के पास अपनी समस्याएं हैं उसे वे सभी अपने-अपने वकीलों को बता सकते हैं। वकीलों को नहीं बता पाने की स्थिति में जेल अफसरों को बता सकते हैं। खासकर बीमार बंदी अपनी जानकारी जेल प्रशासन को दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि जेल में वे सभी एक परिवार की तरह रहें, ताकि उन्हें अपने परिवार की कमी महसूस न हो। जिन बंदियों की सजा पूरी हो चुकी है वे विधिक सहायता दफ्तर में आवेदन लगा सकते हैं। 
    निरीक्षण के दौरान उनके साथ राज्य विधिक प्राधिकरण के सदस्य सचिव विवेक तिवारी, प्रमुख सचिव विधि रविशंकर शर्मा, जिला एवं सत्र न्यायाधीश नीलमचंद सांकला, डीआईजी जेल केके गुप्ता आदि भी थे। 

  •  

Posted Date : 19-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर/कोरिया, 19 मई। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कर्ज माफी के वादे पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शनिवार को कहा कि राहुल जहां-जहां जाते हैं, वहां बड़ी घोषणा कर जाते हैं। जनता उन पर विश्वास नहीं करती। यही वजह है कि कांगे्रस सिर्फ पांच फीसदी आबादी तक सिमटकर रह गई है। 
    मुख्यमंत्री ने प्रेस कांफ्रेंस में आगे कहा कि देश के 22 राज्यों में भाजपा की सरकार है। राहुल के नेतृत्व में कांग्रेस कहां पहुंची है, इसका आंकलन उन्हें खुद करना चाहिए। आंधी-तूफान के बाद भी मनेन्द्रगढ़ और चिरमिरी में विकास यात्रा में जिस तरह हजारों की भीड़ उमड़ी है, वह अभूतपूर्व है। उन्होंने कहा कि चिरमिरी में कई बार सभाओं को संबोधित कर चुके हैं लेकिन इस बार आंधी-तूफान में भी विकास यात्रा निकल सकती है, यह स्पष्ट हुआ है। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास यात्रा 15 साल में किए गए विकास को जनता के सामने रखने और हिसाब देने की यात्रा है। यात्रा के दौरान वे लोगों से आशीर्वाद लेने निकले हैं और यह एक प्रकार से तीर्थयात्रा है। उन्होंने कहा कि कोरिया जिले की विकास यात्रा का एकदम अलग अनुभव रहा है। जितने भी कार्यक्रम किए होंगे, सबसे अभूतपूर्व यात्रा रही है। 
    कांग्रेस के 15 अगस्त तक टिकट घोषणा करने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राहुल गांधी ने शहरी इलाकों में रोड शो किया, बिलासपुर में क्या उपस्थिति रही, और विकास यात्रा में आंधी-तूफान के बावजूद भारी भीड़ उमड़ी। उन्होंने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ के जिलों के विकास की अपने लोकसभा क्षेत्र मेंं विकास के लिए प्रेरणा लेते तो अच्छा रहता। कांग्रेस ने 15 अगस्त तक प्रत्याशी घोषित करने की बात कही है, यह अच्छी बात है। भाजपा समय पर ही प्रत्याशी घोषित करेगी। 

  •  

Posted Date : 19-May-2018
  • 50 लाख को मिलेंगे फोन

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 19 मई। प्रदेश में स्मार्ट फोन के लिए हितग्राहियों के चयन की प्रक्रिया चल रही है। बताया गया कि अंतिम रूप से तीन जून तक हितग्राहियों का चयन कर लिया जाएगा और 15 जून के आसपास चयनित हितग्राहियों को स्मार्ट फोन का वितरण किया जाएगा। 
    सरकार ने गरीबों को संचार क्रांति योजना के तहत स्मार्ट फोन के वितरण के लिए तैयारी शुरू कर दी है। शहरी इलाकों में नगरीय निकायों और ग्रामीण इलाकों में पंचायत के जरिए स्मार्ट फोन का वितरण होगा। करीब 50 लाख स्मार्ट फोन मुफ्त दिए जाएंगे। सरकार ने पहले ही कंपनी का चयन कर लिया है। माइक्रोमैक्स कंपनी का स्मार्ट फोन दिया जाएगा और कनेक्शन जियो का रहेगा। 
    बताया गया कि हितग्राहियों के चयन की प्रक्रिया चल रही है। वर्ष 2007-08 में शहरी गरीब परिवार के लिए कराए गए सर्वेक्षण के बाद अधिसूचित की गई सूची और पंचायतों में वर्ष 2002-03 में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी बीपीएल सूची के अनुसार गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले लोग पात्र होंगे। हितग्राहियों  की ड्राफ्ट सूची के प्रकाशन के बाद आपत्ति-दावे आमंत्रित किए गए हैं। 20 मई तक आपत्ति दावे किए जा सकेंगे। नये हितग्राहियों के नाम का ग्रामसभा और संबंधित विभाग द्वारा अनुमोदन किया जाएगा। 
    बताया गया कि नये हितग्राहियों के लिए 26 मई तक आवेदन दिए जा सकेंगे। स्मार्ट फोन के लिए हितग्राहियों की चयन सूची का अंतिम प्रकाशन 3 जून को होगा। सूत्रों के मुताबिक स्मार्ट फोन का वितरण 15 जून के आसपास शुरू हो जाएगा। विभागीय अफसरों के मुताबिक 30 सितंबर तक स्मार्ट फोन का वितरण का काम पूरा कर लिया जाएगा। 

  •  

Posted Date : 18-May-2018
  • कांग्रेस यानी शिवजी की बारात 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बिलासपुर, 17 मई। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी पर किए गए एक सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि वो तो कांग्रेस छोड़ कर जा चुके हैं और अवसर वादियों के लिए कांग्रेस में कोई जगह नहीं है। उन्होंने एक सवाल पर ही कहा कि विधायक डॉ. रेणु जोगी को मानवता के चलते हमने पार्टी से नहीं निकाला। उन्होंने शरद यादव का नाम लिया और कहा कि अब जाकर उन्हें समझ आया कि संघ या भाजपा की राजनीति कितनी खतरनाक है। उन्हें यह बात समझने में पचास बरस लग गए। 
    कुछ पत्रकारों से अनौपचारिक चर्चा के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि मैं तो छत्तीसगढ़ की जनता से सीखने ही आया हूं। देश की जनता से सीखता हूं। आरएसएस सीखने पर नहीं सिखाने पर ही तो विश्वास करता है।
    उनके छत्तीसगढ़ दौरे को लेकर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा था कि  यहां सुशासन और विकास का क ख ग सीखने के लिए राहुल गांधी का स्वागत है, इसी सवाल का जवाब देते हुए राहुल ने उक्त बातें कहीं। फिर उन्होंने आर एस एस की विचारधारा पर विस्तार से बात की और कांग्रेस की विचारधारा बताते हुए कहा कि हम सबको आत्मसात करते हुए चलते हैं। यही भारतीय परम्परा भी है। बातचीत के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि हमारा देश विविधताओं का देश है। इसे समझने और सम्मान करने की जरूरत है। 
    राहुल गांधी का कहना था कि आज हर क्षेत्र में खतरा मंडरा रहा है। एक भय का माहौल बना दिया गया है। भारतीय अस्मिता पर खतरा दिख रहा है। मोदी जी और उनके साथी अमित शाह की भाषा सत्ता के अहंकार की भाषा है। आज किसान से लेकर नौजवान तक हर कोई परेशान है।  विकास के नाम पर गांव छले जा रहे हैं। युवाओं के लिए रोजगार नहीं है। 15 लाख से लेकर सारी बातें झूठी निकली। अपने देश के प्रधानमंत्री लगातार झूठ ही कहे जा रहे हैं। हर सभा में झूठ ही कहते हैं। क्या क्या गिनाया जाए। देश की जनता सब देख समझ रही है। देश को जेल में तब्दील कर दिया गया है। जनता अब और बर्दाश्त नहीं करेगी। किसान,व्यापारी, मीडिया हर किसी में भय का माहौल बनाया जा रहा है। पर कंस वध होगा।
    राहुल गांधी ने एक सवाल के जवाब में  कहा कि यहां चरणदास महन्त, भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव,पुनियाजी सब एक टीम के रूप में बेहतर काम कर रहे हैं। बदलाव होना तय है। ,ज्ज्लेकिन आपसी झगड़े तो....ज्ज् इस बात को बीच में ही लपकते हुए राहुल गांधी ने कहा कि - नहीं , ऐसा कुछ नहीं है। ये आपके साथियों द्वारा फैलाई बातें हैं। गुजरात,कर्नाटक में भी ऐसा कहते थे। पर हम सब एक टीम के रूप में काम कर रहे हैं। 
     उन्होंने कहा कि नक्सल समस्या पर चुनाव के बाद मुख्यमंत्री और उनके साथी इस पर बात करेंगे। हर समस्या का समाधान सम्भव है। इसका भी होगा।
    उन्होंने बहुत शिद्दत के साथ नंदकुमार पटेल को याद किया। कहा कि उनकी और कांग्रेस के साथियों की राजनीतिक हत्या की गई थी। यह दुख,यह पीड़ा हर कांग्रेसी को है। निर्दोष थे वे सब। ऐसी राजनीति करने वालों को पहचानने की जरूरत है। राहुल के चेहरे पर भावुकता और दृढ़ता के भाव साफ दिख रहे थे। राहुल ने कहा कि हमारे देश की एक खासियत यह भी है कि खतरे के समय हम एक क्षण आंख बंद कर रुकते हैं, सोचते हैं लेकिन फिर लडऩे के लिए निकल पड़ते हैं। हम सब मिलकर हालात का सामना करेंगे। जरूरी है कि देश को बचाया जाए। उन्होंने कहा कि मैं धर्म को बचाने के लिये भी लड़ रहा हूं, इसे मानिए आप लोग। आप सब भी इसमें शामिल हों । इसलिए कि हम धर्म की राजनीति नहीं करते। संघ और भाजपा तो धर्म का इस्तेमाल राजनीति के लिए ही तो करती है। कांग्रेस के सहयोगी संगठनों सेवादल, युवा कांग्रेस आदि की कम सक्रियता पर सवाल किया गया। राहुल गांधी ने कहा कि पहले और अब इस बारे में मेरे विचार में जरा बदलाव आया है। कांग्रेस इस देश की आम जनता में बसती है। हम इसे कैडर आधारित नहीं चला सकते, अन्यथा यह तो संघ(आरएसएस) की तरह चलाना हो जाएगा। कांग्रेस तो शिवजी की बारात है। इसमें सबका स्वागत है, पर हमारा रास्ता स्पष्ट है, जो इसके रास्ते पर चलेगा हमारे साथ चलते रहेगा।  

     कार्यकर्ताओं से पूछकर ही टिकट का वितरण-राहुल 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    दुर्ग, भिलाई, 18 मई।  पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते राहुल गांधी ने कहा कि मेरा पहला काम देश में कांग्रेस की विचार धारा को आगे बढ़ाना है। कांग्रेस का सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति कार्यकर्ता है। मेरा काम आप की रक्षा करना है।
     उन्होंने कहा कि इस विधानसभा में कांग्रेस पार्टी की विचार धारा के लोगों को ही टिकट मिलेगा। कार्यकर्ताओं से पूछकर ही टिकट का वितरण किया जायेगा।  पूरे देश में आरएसएस के लोग एक दूसरे से लड़ा रहे हैं। 15-20 अमीर लोग के लिए सरकार चल रही है। किसानों से लेकर मजदूर हर कमजोर लोगों का शोषण हो रहा है। मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि वो भ्रष्ट है।
      जिस तरह से कार्यकर्ता का आदर होना चाहिए उस तरह से कांग्रेस पार्टी में उसका आदर नहीं होता है।  किसी सीनियर लीडर ने किसी कार्यकर्ता का अपमान किया तो मैं उस पर कार्यवाही करूँगा। कर्नाटक चुनाव पर कहा कि भाजपा को सरकार बनाने का न्योता दिया जाता है लेकिन गोवा और मणिपुर में कांग्रेस को मौका नहीं दिया जाता।  हर इंस्टिट्यूशन पर आरएसएस का दबाव है।


     राहुल का रोड-शो, कई बड़े दिग्गज शामिल

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 17 मर्ई। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का शुक्रवार को दुर्ग से रोड शो शुरू हुआ। श्री गांधी के साथ प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी पीएल पुनिया के अलावा प्रदेश कांग्रेस के सभी बड़े नेता मौजूद थे। बस में सवार श्री गांधी ने कई जगह कार्यकर्ताओं से रूककर मुलाकात की। उनके स्वागत के लिए अच्छी खासी भीड़ जमा थी। 
    रोड शो से पहले श्री गांधी ने दुर्ग के स्टेडियम में राहुल गांधी ने कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित किया। कार्यकर्ता सम्मेलन के बाद वे बस में सवार होकर निकले।  
    राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार रायपुर आए श्री गांधी को लेकर कांग्रेसियों में भारी उत्साह देखा जा रहा है। उनके कार्यक्रमों में हजारों  कार्यकर्ता पहुंचे हैं। समाचार लिखे जाने तक रोड शो में बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए।  रायपुर में रोड- शो कुम्हारी टोल प्लाजा, चंदनीडीह, टाटीबंध, मोहबाबाजार, आमानाका, रविवि गेट के सामने, राजकुमार कालेज,  विवेकानंद आश्रम, लाखेनगर, पुरानी बस्ती, बुढ़ेश्वर मंदिर चौक, बुढ़ापारा बिजली आफिस चौक, महिला थाना चौक, शास्त्री चौक, जीई रोड, मरीन ड्राइव तेलीबांधा होकर वीआईपी रोड से माना विमानतल तक जाएगा। 

  •  

Posted Date : 18-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 18 मई। एनएमडीसी लिमिटेड को लंदन ग्रोसवेनर स्क्वायर मैरियट होटल, यू.के में 17 मई  को नैगम सामाजिक दायित्व वर्ग में प्रतिष्ठित एस एंड पी ग्लोबल प्लैट्स ग्लोबल मेटल्स अवार्ड 2018 प्राप्त हुआ।  एन.बैजेन्द्र कुमार, भाप्रसे, अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक,  एवं संदीप तुला, निदेशक (कार्मिक) एनएमडीसी लिमिटेड ने यह प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त किया। पुरस्कार के लिए समस्त विश्व की विख्यात कंपनियों से कुल 12 नामांकन चुने गए थे । यह पहला अवसर है जबकि किसी भारतीय कंपनी को इस श्रेणी में यह पुरस्कार मिला है।
    एस एंड पी ग्लोबल प्लैट्स ऊर्जा तथा जिंस बाजार में सूचना,बेंचमार्क कीमतें तथा विश्लेषण प्रदान करने वाली अग्रणी स्वतंत्र संस्था है। यह 100 से अधिक वर्षों से कार्यरत है। एस एंड पी ग्लोबल प्लैट्स ग्लोबल मेटल्स अवार्ड उद्योग में अग्रणी तथा नवोन्मेषी सर्वोच्च निष्पादकों को सम्मान प्रदान करता है।
    नैगम सामाजिक दायित्व (सी एस आर) अवार्ड कार्पोरेट व्यावसायिक प्रतिष्ठान के नेतृत्व, कार्य के लिए प्रतिबद्धता तथा सामाजिक दायित्वों के समाज पर वास्तविक प्रभाव का सर्वोत्तम प्रदर्शन करने वाले संगठन को मान्यता प्रदान करता है।
    एनएमडीसी भारत में सबसे बडी लौह अयस्क खनन कंपनी है। इसका लौह अयस्क उत्पादन प्रतिवर्ष लगभग 35 मिलियन टन (एमटीपीए) है और इसका बाजार में हिस्सा लगभग 25त्न (नॉन-कैप्टिव वर्ग) है। एनएमडीसी पन्ना में स्थित अपनी खान से हीरे का भी उत्खनन करता है। यह एशिया की एकमात्र मशीनीकृत हीरा खान है। 
     एन.बैजेंद्र कुमार ने  सभी कर्मचारियों को बधाई दी तथा कहा कि सभी कर्मचारियों के सामूहिक प्रयासों तथा सहयोग से यह उपलब्धि हासिल हुई है। उन्होंने इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार को निरंतर सहयोग तथा मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए धन्यवाद दिया।  उन्होंने  संगठन के प्रतिबद्ध कार्मिकों के प्रयासों की भी सराहना की जो कंपनी को उत्कृष्टता के नूतन शिखर पर ले जा रहे हैं।

  •  

Posted Date : 18-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 18 मई। अंतागढ़ उपचुनाव के चुनाव आयोग से जांच के लिए दायर जनहित याचिका हाईकोर्ट ने शुक्रवार को खारिज कर दी। कोर्ट ने इस प्रकरण पर याचिकाकर्ता और सरकार का पक्ष सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रखा था। 
    जस्टिस संजय के अग्रवाल की एकलपीठ ने प्रकरण की सुनवाई की। याचिकाकर्ता हमर संगवारी संस्था के प्रमुख राकेश चौबे की तरफ से दायर याचिका में कहा गया कि अंतागढ़ उपचुनाव में राजनीतिक भ्रष्टाचार हुआ है। उन्होंने यह भी कहा कि मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के प्रत्याशी ने अपना नामांकन वापस ले लिया। न सिर्फ कांग्रेस बल्कि नौ निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी अपना नामांकन वापस ले लिया। 
    याचिका में कहा गया कि चुनाव में सत्तारूढ़ दल के लोगों ने निर्विरोध निर्वाचन के लिए हर संभव हथकंड़े अपनाए। इस मामले में प्रकरण की जांच नहीं हुई है। याचिकाकर्ता ने चुनाव आयोग से प्रकरण की जांच कर  कार्रवाई पर जोर दिया। इस मामले में महाधिवक्ता जे के गिल्डा ने कहा कि कांग्रेस की तरफ से प्रकरण की एसआईटी जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दायर की गई है। इस पर सुनवाई होना बाकी है। ऐसे में यहां इसी प्रकरण पर सुनवाई करना उचित नहीं है। 
    दोनों पक्षों को सुनने के बाद जस्टिस संजय के अग्रवाल ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। शुक्रवार को कोर्ट ने याचिका निरस्त कर दी। याचिकाकर्ता राकेश चौबे ने कहा कि प्रकरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की जाएगी। 

  •  

Posted Date : 18-May-2018
  • रायपुर में राहुल गांधी के स्वागत का एक नजारा, भविष्य की भविष्यवाणी। 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 17 मर्ई। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी आज शाम दुर्ग से माना एयरपोर्ट रायपुर तक करीब 50 किमी का रोड-शो करेंगे। रोड-शो में पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश, रणदीप सिंह सुरजेवाला, मीनाक्षी नटराजन समेत कांग्रेस के कई बड़े दिग्गज नेता शामिल होंगे। रोड-शो की तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। प्रदेश कांग्रेस, महिला कांग्रेस और उनसे जुड़े अन्य सभी संगठनों की ओर से यहां जगह-जगह स्वागत द्वार और पंडाल लगाए गए हैं, जहां उनके स्वागत के लिए हजारों की भीड़ जुटेगी। 
    राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार रायपुर आए श्री गांधी को लेकर कांग्रेसियों में भारी उत्साह देखा जा रहा है। उनके कार्यक्रमों में हजारों  कार्यकर्ता पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को बिलासपुर, दुर्ग में कार्यकर्ता सम्मेलन के बाद शाम को उनका रोड-शो होगा। यह रोड-शो शाम को दुर्ग से प्रारंभ होगा। वहां से यह रोड- शो कुम्हारी टोल प्लाजा, चंदनीडीह, टाटीबंध, मोहबाबाजार, आमानाका, रविवि गेट के सामने, राजकुमार कालेज,  विवेकानंद आश्रम, लाखेनगर, पुरानी बस्ती, बुढ़ेश्वर मंदिर चौक, बुढ़ापारा बिजली आफिस चौक, महिला थाना चौक, शास्त्री चौक, जीई रोड, मरीन ड्राइव तेलीबांधा होकर वीआईपी रोड से माना विमानतल तक जाएगा। 
    बताया गया कि रोड-शो में पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश, अभा कांग्रेस संचार विभाग अध्यक्ष रणदीप सिंह सुरजेवाला, पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन, महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव व राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के हर्षवर्धन सकपाल, छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया, चंदन यादव व अरुण उरांव भी उनके साथ होंगे। दूसरी ओर पुलिस प्रशासन की ओर से रोड-शो के दौरान सुरक्षा के तौर पर करीब एक हजार जवान तैनात किए जाएंगे। 

  •  

Posted Date : 18-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 18 मई। विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा अलग रणनीति  बना रही है। बताया गया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जल्द ही भोपाल में डेरा डालेंगे और वे वहां से छत्तीसगढ़ के साथ-साथ मध्यप्रदेश और राजस्थान में पार्टी की गतिविधियों पर नजर रखेंगे। 
    अगले 6 महीने में छत्तीसगढ़ के साथ-साथ मध्यप्रदेश और राजस्थान में विधानसभा चुनाव होंगे। तीनों राज्यों के चुनाव एक साथ हो रहे हैं। पार्टी के भरोसेमंद सूत्रों के मुताबिक इन तीनों राज्यों में कांटे की टक्कर है। राजस्थान की हालत और भी खराब है। यहां हाल के सारे विधानसभा और लोकसभा उपचुनाव पार्टी हार चुकी है। मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में पिछले 15 सालों से सरकार है और पिछले चुनावों की अपेक्षा इस बार मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ज्यादा ताकतवर होकर उभरी है। पार्टी हाईकमान ने सारी स्थितियों से निपटकर तीनों राज्यों में सरकार बनाने के लिए रणनीति बना रही हैं। 
    बताया गया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह खुद दिल्ली के बजाए ज्यादातर समय भोपाल में रहेंगे। भोपाल में उनके लिए बंगला तलाशा जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक श्री शाह संभवत: जून के पहले हफ्ते में भोपाल में डेरा डालेंगे। पार्टी नेताओं का कहना है कि श्री शाह खुद तीनों राज्यों के जिलों में जाएंगे और चुनाव तैयारियों की समीक्षा करेंगे। यह बताया गया कि पहले चरण में वे मध्यप्रदेश के जिलों में जाकर चुनाव प्रचार की स्थिति संभालेंगे। दूसरी तरफ, छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी का राष्ट्रीय सम्मेलन होगा। इसके लिए तिथि की घोषणा भी इसी माह होने की संभावना है। 
    राष्ट्रीय सम्मेलन के लिए कुशाभाऊ ठाकरे परिसर को पहले से तैयार किया जा रहा है। एक नया भवन भी तैयार हुआ है और यहां साज-सज्जा को अंतिम रूप दिया जा रहा है। प्रदेश में मुख्यमंत्री की विकास यात्रा चल रही है और यह यात्रा 12 जून तक चलेगी। यात्रा के दौरान श्री शाह भी यहां आ सकते हैं। हालांकि उनके आने की तिथि अभी तय नहीं हुई है, लेकिन जल्द ही पार्टी नेता इसकों लेकर प्रकाश डाल सकते हैं।

  •  

Posted Date : 17-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 17 मर्ई। प्रदेश दौरे पर आए कांगे्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरूवार को जन स्वराज सम्मेलन में भाजपा और मोदी सरकार पर अब तक का सबसे तीखा हमला बोला। उन्होंने भाजपा पर भय की राजनीति का आरोप लगाते हुए यहां तक कह दिया कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हत्या के आरोपी हैं। देश में पहली बार हुआ है जब सुप्रीम कोर्ट के जज और मीडिया के लोग डरे हुए हैं। यही डर उनके पार्टी के सांसदों में भी है। पूरे देश में डर फैलाया जा रहा है। उन्होंने कर्नाटक का जिक्र करते हुए कहा कि आज देश में संविधान पर जबर्दस्त आक्रमण हो रहा है। कर्नाटक में देखा है कि विधायक एक तरफ खड़े हैं और गर्वनर दूसरी तरफ। श्री गांधी ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो पंचायतीराज के लोगों से सलाह लेकर फैसले लिए जाएंगे। ऐसा नहीं हुआ तो हम मुख्यमंत्री बदल देंगे।
    इंडोर स्टेडियम में पार्टी के जनस्वराज सम्मेलन में मुख्य रूप से पंचायत और नगरीय निकाय के प्रतिनिधि एकत्र हुए थे। सम्मेलन में श्री गांधी ने केन्द्र सरकार कार्यप्रणाली पर करारा वार किया। उन्होंने कहा कि 70 साल में पहली बार ऐसा हो रहा है जब सुप्रीम कोर्ट के चार जज आम जनता के सामने आते हैं और कहते हैं कि हमें आपकी जरूरत है। श्री गांधी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जज अपना काम नहीं कर पा रही है। जो डर जजों में है, वही प्रेस में भी है। उन्होंने इशारों-इशारों में अमित शाह का नाम लिए बिना जस्टिस लोया प्रकरण का जिक्र किया और कहा कि हत्या के आरोपी एक बड़ी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। 
    श्री गांधी ने कहा कि भाजपा के सांसदों से संसद भवन में मुलाकात होते रहती है। वे भी बताते हैं कि पीएम के सामने एक शब्द नहीं कह सकते। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र के एक सांसद ने एक मामला उठाया तो उसे बाहर कर दिया गया। यह डर कौन फैला रहा है? कौन सी शक्तियां है और इसका फायदा उठा रही है। कांग्रेस अध्यक्ष ने किसानों की कर्ज माफी पर भी मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि उनके वित्तमंत्री अरूण जेटली कहते हैं कि कर्ज माफी करना हमारी पॉलिसी में नहीं है। 
    श्री गांधी ने कहा कि एक साथ ढाई लाख करोड़ का कर्जा देश के 15 सबसे अमिर लोगों का माफ कर दिया और उनके वित्तमंत्री कुछ नहीं कहते हैं। उन्होंने कहा कि देश की हर संस्था को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है। देश की हर संस्था में आरएसएस अपने ही लोगों को भर रही है। श्री गांधी ने कहा कि कांग्रेस ने बहुत साल हिन्दुस्तान को चलाया है। लेकिन संवैधानिक संस्थाओं ने अपने लोगों से नहीं भरा। इन संस्थाओं में अपने लोग बैठाने का लक्ष्य क्या है? उन्होंने कहा कि आरएसएस और भाजपा नहीं चाहते कि इस देश के गरीबों की आवाज सुनी जाए। वे नहीं चाहते कि रोहित वेमुला जैसे दलित युवक सपना देखें।
    उन्होंने कहा कि आरएसएस के लोगों की सोच है कि महिला-पुरूषों के सामने खड़े न हों। महिलाएं खुलकर न बोलें। महिलाओं का काम उनके लिए खाना बनाना है। दलितों के लिए उनका नजरिया सफाई के लिए है। उनकी नजर में आदिवासियों को अपनी जगह पर रहना चाहिए। यह उनकी विचारधारा है। हिन्दुस्तान गरीब देश नहीं है। यह गरीबों का देश है। इस देश में लाखों करोड़ों रूपए 15-20 लोगों को दिए जाते हैं। छत्तीसगढ़ के पास खदान और पानी है। मगर यह लोगों के पास नहीं है। 
    श्री गांधी ने कहा कि उनपर सबसे बड़ा हमला तब हुआ जब वे भट्टा परसौल गए थे। उस दिन से उनके उपर हमले शुरू हए। हमने भूमि अधिग्रहण बिल दिया। इसमें सबसे ज्यादा फायदा किसका हुआ। तीन बार अध्यादेश लाकर बिल को मिटाने की कोशिश की। जब हमारे विरोध के बाद भी वापस नहीं कर पाए तो राज्य के मुख्यमंत्रियों से भूमि अधिग्रहण कानून से निपटने की जिम्मेदारी ली गई है। राहुल ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री सदन में मनरेगा का उपहास करते हैं। आज पंचायती राज के अधिकार अफसरों को दे दिए गए। उनमें इतनी ताकत नहीं है कि मनरेगा बंद कर सके। 
    उन्होंने यह भी कहा कि हम पंचायत को कमजोर नहीं होने देंगे। 21वीं सदी में संविधान की रक्षा पंचायत प्रतिनिधि ही करेंगे। अगर सैनिक देश की सीमा की रक्षा करते हैं तो वहीं काम देश के अंदर करते हैं। 

    धारा-40 पंचायत प्रतिनिधियों पर 
    लग सकती है तो पीएम क्यों नहीं?

    श्री गांधी ने धारा-40 का जिक्र करते हुए कहा कि इसके तहत पंचायत प्रतिनिधियों को हटाने का प्रावधान है। उन्होंने इस पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि धारा-40 पंचायत प्रतिनिधियों पर लग सकता है, तो विधायक, सांसद और प्रधानमंत्री पर क्यों नहीं? उन्होंने कहा कि स्पेशल ट्रीटमेंट क्यों? उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार में यह चलने नहीं देंगे। 
    श्री गांधी ने सवाल-जवाब की कड़ी में 74वें संविधान संशोधन की चुनौतियों को लेकर पूछे गए सवाल में भी इसका जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार ने पंचायत प्रतिनिधियों के लिए न्यूनतम योग्यता 8वीं पास रखी है। राहुल ने सवाल उठाया कि यह पीएम के लिए क्यों नहीं। पंचायत प्रतिनिधियों के साथ सौतेला व्यवहार क्यों। नौकरशाह पंचायत प्रतिनिधियों के अधिकार चाहता है। उन्होंने जोर देकर कहा कि पंचायती राज लोगों की सलाह से कानून बनाया जाएगा और काम किया जाएगा। 

  •  

Posted Date : 17-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 17 मई। दिग्गज आदिवासी नेता पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम गुरूवार को कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्होंने श्री राहुल गांधी के समक्ष कांग्रेस प्रवेश किया। श्री गांधी ने उनका माला पहनाकर स्वागत किया। 
    श्री नेताम कांकेर लोकसभा सीट से 6 बार सांसद रह चुके हैं। वे इंदिरा गांधी और पीवी नरसिम्हा राव के मंत्रिमंडल के सदस्य थे। श्री नेताम, काफी पहले कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे बाद में वे पीए संगमा की पीपुल्स पार्टी में चले गए। 
    पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कुछ समय पहले कांकेर के पूर्व भाजपा सांसद सोहन पोटाई के साथ मिलकर नई पार्टी का गठन किया। श्री नेताम की पत्नी छबिला नेताम भी सांसद रही है। कांग्रेस नेताओं से चर्चा के बाद वे पार्टी में वापसी के लिए तैयार हो गए। उन्हें पार्टी में लाने में प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया के साथ ही कांग्रेस विधायक दल के उपनेता कवासी लखमा की भूमिका रही है। इसके अलावा प्रदेश अध्यक्ष श्री बघेल और अन्य नेताओं ने भी चर्चा की। ऐसे मौके पर जब पत्थरगड़ी मामले को लेकर आदिवासी जगह-जगह आंदोलन कर रहे है, ऐसे समय में आंदोलन के समर्थक नेताम का कांग्रेस प्रवेश कई मायनों में महत्वपूर्ण माना जा रहा है।
    श्री नेताम पार्टी के जनस्वराज सम्मेलन में उपस्थित हुए और राहुल गांधी के भाषण के बाद वे मंच पर आए और वहां विधिवत उनके पार्टी में शामिल होने की घोषणा की। राहुल के अलावा पुनिया और प्रदेश अध्यक्ष श्री बघेल ने भी उनका स्वागत किया।  

     

  •  

Posted Date : 17-May-2018
  • विशेष संवाददाता
    रायपुर, 17 मई (छत्तीसगढ़)। कर्नाटक में भाजपा की सरकार बनने से उत्साहित भारतीय जनता पार्टी के नेता अब राहुल गांधी पर हमले तेज कर रहे हैं। आम तौर पर शांत और उदार स्वभाव के छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज सुबह से ट्विटर पर राहुल पर हमला बोला है, और फिर उन्हीं के हमले का जिक्र करते हुए मंत्रिमंडल में उनके दाएं हाथ समझे जाने वाले राजेश मूणत ने भी लगातार कई ट्वीट की हैं। 
    आज सुबह जब रायपुर में राहुल का भाषण शुरू हुआ ही था, ट्विटर पर डॉ. रमन सिंह ने लिखा- विकास का पहाड़ा और सुशासन का क, ख, ग सीखने छत्तीसगढ़ आए राहुल गांधीजी का स्वागत है। देखो छत्तीसगढ़, सीखो विकास। 
    इसके बाद इसी हैशटैग, # देखो _ छत्तीसगढ़ _ सीखो _ विकास, को लगाकर राजेश मूणत ने भी छत्तीसगढ़ के विकास की कुछ तस्वीरें पोस्ट करते हुए राहुल गांधी के स्वागत का ट्वीट किया। इसके बाद राज्य भाजपा ने भी इसी हैशटैग से छत्तीसगढ़ की विकास की तस्वीरें पोस्ट करते हुए राहुल गांधी का स्वागत किया।
    छत्तीसगढ़ भाजपा ने आज सुबह ही राहुल गांधी के लिए ट्वीट किया - राहुल गांधीजी, समृद्ध छत्तीसगढ़ में स्वागत है। आपकी पार्टी के नेताओं को मतिभ्रम हो गया है इसलिए राज्य में विकास खोज रहे हैं। छत्तीसगढ़ का विकास आपको चुनौती देता है कि आप बताएं कि क्या अमेठी छत्तीसगढ़ से ज्यादा विकसित है? 
    इन्हीं दो-तीन घंटों में भाजपा के बहुत से नेताओं, पदाधिकारियों, और निगम मंडल अध्यक्षों ने राहुल गांधी पर हमले की बौछार कर दी और छत्तीसगढ़ के विकास के आंकड़े, विकास की तस्वीरें ट्विटर पर हर मिनट पर पोस्ट करना जारी रखा।
    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निजी ट्विटर अकाउंट से भी हैशटैग, # देखो _ छत्तीसगढ़ _ सीखो _ विकास, के साथ छत्तीसगढ़ के विकास की तस्वीरें पोस्ट होना इसी वक्त के आसपास शुरू हो गया।

  •  

Posted Date : 16-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 16 मई। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के दो दिनी दौरे की तैयारी पूरी हो गई है। श्री गांधी गुरूवार को यहां पहुंचेंगे और इंडोर स्टेडियम में पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मेलन में शिरकत करेंगे। बताया गया कि प्रशासन से चर्चा के बाद श्री गांधी के रोड शो के रूट में परिवर्तन किया गया है। 18 तारीख को दुर्ग के गांधी चौक से शुरू होकर भिलाई, टाटीबंध से होते हुए राजकुमार कॉलेज और पुरानी बस्ती मार्ग से माना एयरपोर्ट में खत्म होगी। 
    यह रोड शो करीब 50 किमी का होगा और इसमें पार्टी के सभी प्रमुख नेता भी शामिल होंगे। राहुल के दौरे की तैयारियों को लेकर बैठकों का दौर चल रहा है। कर्नाटक चुनाव नतीजे आने के बाद राहुल गांधी का देश में पहला दौरा है और इसको लेकर राजनीतिक गलियारों में हलचल मची हुई है। माना जा रहा है कि श्री गांधी कर्नाटक नतीजे और सरकार को लेकर अपने विचार रख सकते हैं। 
    श्री गांधी गुरूवार को सुबह 9 बजे यहां पहुंचेंगे और फिर इंडोर स्टेडियम में कार्यक्रम में शामिल होंगे। इसके बाद वे दोपहर 12 बजे सीतापुर में किसान आदिवासी सम्मेलन में शामिल होंगे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. चरणदास महंत ने कोटमी बिलासपुर में जंगल सत्याग्रह सम्मेलन की तैयारियों की समीक्षा की। कोटमी कार्यक्रमों में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के हीरासिंह मरकाम, पी.वी. राजगोपाल राजाजी, छत्तीसगढ़ बचाओं आंदोलन और अन्य संगठनों के प्रतिनिधी भी शामिल होंगे। बिलासपुर और दुर्ग संभाग के बूथ स्तर के प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं के सम्मेलन की तैयारियां पूर्ण हो चुकी है। 

    वे दोपहर 02 बजे पेण्ड्रा के कोटमी में वन सत्याग्रह सम्मेलन में भाग लेंगे। 18 मई को वे सुबह 11 बजे बिलासपुर में बिलासपुर संभाग के कांग्रेस के बूथ लेवल के प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में शामिल होने के पश्चात दोपहर 01 बजे दुर्ग में दुर्ग संभाग के बूथ लेवल के प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में शामिल होंगे। 18 मई को वे 03 बजे दुर्ग से माना विमानतल रोड शो में शामिल होंगे। 

  •  

Posted Date : 16-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 16 मई। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विद्यालय द्वारा बुधवार को दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में विश्वविद्यालय का तीसरा दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू और मुख्यमंत्री रमन सिंह द्वारा 19 विद्यार्थियों को गोल्ड मेडल प्रदान किया गया। समारोह में एम फिल के 23 विद्यार्थियों को, स्नातकोत्तर के 122 और स्नातक के 104 विद्यार्थियों को उपाधि प्रदान की गई। 
    इस अवसर पर मुख्य अतिथि एम वैंकेया नायडू ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और राजनीति पर जहां कटाक्ष किया वहीं मां, मातृभाषा और गुरू के सम्मान को मूलमंत्र बताया। दीक्षांत समारोह के अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मुख्यमंत्री रमन सिंह ने विद्यार्थियों को ब्रेकिंग न्यूज की जगह यर्थाथ परक और गुणवत्ता वाली खबरों पर काम करने का सुझाव दिया। 
    दीक्षांत समारोह के अवसर पर मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने कहा देश में जब जागरूकता होगी तभी लोकतांत्रिक व्यवस्था सफल हो सकती है। प्रजातांत्रिक व्यवस्था में नेता में चार सी के गुण कैरेक्टर, कैपेबलिटी, कमिटमेंट और कैलीबर होना चाहिए। लेकिन आज इसकी जगह कास्ट, कम्युनिटी, कैश और क्राइम ने ले लिया है। 
    पत्रकारिता पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में इन दिनों सनसनीखेज खबरों और ब्रेकिंग न्यूज का दौर चल रहा है। मुझे लगता है कि खबरे जोडऩे वाली होनी चाहिए न कि तोडऩे वाली। न्यूज को व्यूज के साथ आजकल जोड़ा जा रहा है। ऐसा नहीं किया जाना चाहिए। खबरें कनस्ट्रक्टिव हो न कि डिस्टे्रक्टिव। समाचार पत्रों का प्रकाशन मिशन से बदलकर उद्योग का रूप ले चुका है। खबरों की विश्वसनीयता खत्म हो रही है। इसलिए जरूरी है कि समाचार का प्रकाशन मिशन बतौर हो।  
    संसद में इन दिनों वॉकआउट का ट्रेंड चल रहा है लेकिन सच तो ये है कि ऐसा करने से व्यवस्था ही आउट हो जाएगी। लोकतंत्र में व्यस्था के  बीच सहमति असहमति दोनों ही होनी चाहिए। लेकिन वॉकआउट का तरीका सही नहीं है। 
    उपराष्ट्रपति ने कहा हर एक इंसान को मां, जन्मभूमि और मातृभाषा को कभी नहीं भूलना चाहिए। अंगे्रजों के कारण दुर्भाग्यवश मातृभाषा की जगह लोगों ने अंग्रेजी को लेकर माइंड सेट कर लिया है, लेकिन मां शब्द अंतस से उपजता है। भाषा और भावना एक साथ चलती है इसलिए मातृभाषा को अपनाना चाहिए। 
    उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने कहा यह आईटी युग है, लेकिन सच्चाई ये है कि गूगल गुरू की जगह नहीं ले सकता है। इसलिए गुरू का सम्मान करें। महिला अत्याचार पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि आजादी के इतने सालों बार महिला से जुड़े अपराध की घटनाएं मन विचलित कर देती है। हमारे देश में महिला के सम्मान की संस्कृति है। नदियों के नाम भी स्त्री के नाम हैं। सरस्वती शिक्षा मंत्री, लक्ष्मी वित्त मंत्री स्वरूप है। लोगों का कहना है कि पंचायत में स्त्रियों को अवसर दिया गया, लेकिन सरपंच पति ने उनकी जगह ले ली। मेरा कहना है कि महिलाओं को अवसर दें फिर देखिए पति की क्या गति होती है। 
    समारोह की अध्यक्षता कर रहे मुख्यमंत्री रमन सिंह ने वर्ष 1900 में राज्य के पेन्ड्रा जैसे छोटे से कस्बे से माधवराव सपे्र द्वारा प्रकाशित छत्तीसगढ़ मित्र का संदर्भ देते हुए बदलते परिवेश में आई तकनीकी क्रांति के बीच विश्वसनीय पत्रकारिता पर जोर दिया। 
    इस अवसर पर विशेष अतिथि के रूप में कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, विधानसभा अध्यक्ष गौरी शंकर अग्रवाल, उच्च शिक्षा मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय, सांसद रमेश बैस मौजूद रहे। दीक्षांत समारोह के मौके पर कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एंव जन संचार विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एम एस परमार ने विश्वविद्यालय की उपलब्धियों का ब्यौरा प्रस्तुत किया। तथा कुलसचिव अतुल कुमार तिवारी ने आभार व्यक्त किया। 

  •  



Previous123456789...3233Next