छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456789...3940Next
Posted Date : 22-Jul-2018
  • आगामी 24 घंटे में कहीं-कहीं भारी बारिश की चेतावनी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 22 जुलाई। प्रदेश के अधिकांश जगहों पर बीती शाम-रात से  लेकर दोपहर तक रूक-रूककर बारिश होती रही। इस दौरान डभरा, सारंगढ़ समेत कई जगहों पर भारी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि आगामी 24 घंटे में प्रदेश में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। दूसरी ओर बारिश के साथ ही प्रदेश में खेती में तेजी आ गई है और करीब 60 फीसदी खेतों के बुआई पूरी कर ली गई हैं। 
    मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण-पूर्व झारखंड, तेलंगाना, प.बंगाल, उत्तर ओडिशा के बीच एक अवदाब बना हुआ है, जो धीरे-धीरे पश्चिम की ओर बढ़ रहा है। प्रदेश मेें इसी के चलते बीती शाम-रात से रूक-रूककर बारिश हो रही है। सबसे अधिक बारिश डभरा में 131.0 मिमी व सारंगढ़ में 115.6 मिमी दर्ज की गई है। इसके अलावा बड़े राजपुर (बस्तर)-91.4, जैजेपुर-91.0, बसना-90.0, पुसौर-89.3, सराईपाली-37.0, रायपुर में 14.6 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई है। 
    मौसम वैज्ञानिक उमेश पांडेय का कहना है कि बंगाल की खाड़ी से लगकर मैदानी इलाकों में बना अवदाब अब और ज्यादा तगड़ा हो गया है और वह पश्चिम की ओर आगे बढ़ रहा है। इससे छत्तीसगढ़ के साथ मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र के कई जगहों पर अच्छी बारिश की संभावना है। कहीं-कहीं पर आगामी 24 घंटे में भारी बारिश भी हो सकती है। 
    दूसरी ओर प्रदेश में हो रही बारिश से धान व अन्य खरीफ फसल की बुआई तेजी के साथ जारी है। किसान आधे से अधिक खेतों की बोआई पूरी कर चुके हैं। प्रदेश मेें करीब 48 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसल की बुआई हो रही है, जिसमें धान का रकबा करीब 37 लाख हेक्टेयर है। किसान रूक-रूककर हो रही बारिश को खेती के लिए बेहतर मान रहे हैं और लगातार बुआई में जुटे हैं। 
    संचालक कृषि एमएस केरकेट्टा का कहना है कि प्रदेश में धान व अन्य खरीफ फसल के लिए अच्छी बारिश हो रही है। प्रदेशभर में खेती-किसानी का काम जोरों पर है। करीब 60 फीसदी खेतों की बुआई पूरी हो चुकी है। बारिश का क्रम इसी तरह जारी रहा तो आगामी कुछ दिनों में धान की बुआई पूरी कर ली जाएगी। वहीं अगस्त तक दलहन-तिलहन की बुआई पूरी हो जाएगी। बारिश को देखते हुए इस बार प्रदेश में खरीफ फसल की अच्छी पैदावार की उम्मीद है। 

  •  

Posted Date : 21-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 21 जुलाई। आयकर विभाग 25 तारीख को प्रदेश के 8 सबसे पुराने आयकरदाताओं को सम्मानित करने जा रहा है। खास बात यह है कि इनमें से एक अपने जीवन की शतकीय पारी खेल चुके हैं। बाकी की उम्र 90 के आसपास है। ये बड़े उद्योगपति और व्यापारी नहीं है, लेकिन पिछले 40-50 सालों से आयकर नियमित रूप से दे रहे हैं। 
    आयकर दिवस के मौके पर होने वाले कार्यक्रम में मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के शीर्ष आयकर अफसर सुग्रीव सोनी, श्रीमती दयावती पांडेय, केशवलाल पटेल, देवी बाई जमुनानी, राम सिंग, सुंदरी देवी, बंशीलाल उपाध्याय और रघुनाथ प्रसाद तिवारी को सम्मानित करेंगे। अंबिकापुर के 86 वर्षीय सराफा व्यवसायी सुग्रीव सोनी विगत 40 सालों से इन्कम टैक्स नियमित रूप से पटाते आ रहे हैं। ईमानदारी से कर्तव्य निवर्हन किए जाने के लिए उन्हें आयकर दिवस के अवसर पर सम्मानित किया जाएगा। सुग्रीव सोनी के बेटे परशुराम सोनी जो कि भाजपा के जनप्रतिनिधि हैं, ने बताया कि उनके पिता सराफा व्यवसायी होने के अलावा समाजसेवी रहे हैं। उनका मानना है कि जो व्यक्ति आयकर के दायरे में आता है उसे आयकर पटाना ही चाहिए। अगर व्यक्ति आयकर नहीं पटाएगा तो देश का विकास कैसे होगा। आयकर पटाने से पारदर्शिता बनी रहती है जिससे निवेश आदि के काम में सहुलियत रहती है। 
    आयकर विभाग द्वारा स्व.पी.आर. पाण्डेय जो कि रेल्वे पुलिस में एसपी थे की पत्नी दयावती पाण्डेय को आयकर विभाग द्वारा सम्मानित किया जाएगा। दयावती पाण्डेय के पोते मधुर पाण्डेय ने बताया कि नियमित आयकर चुकाने वाले दादा के एवज में दादी दयावती पाण्डेय को आयकर विभाग द्वारा सम्मानित किया जाएगा। 
    100 साल पूरे कर चुकी दादी के लिए आयकर विभाग द्वारा दिया जाने वाला सम्मान सुखद होगा।
    आयकर विभाग द्वारा सीनियर सिटीजन रघुनाथ प्रसाद तिवारी को सम्मानित किया जाएगा। रघुनाथ प्रसाद तिवारी के नाती विवेक कुमार वाजपेयी ने बताया कि उनके नाना भिलाई इस्पात संयंत्र में कार्यरत थे। नियमित आयकर देने के एवज में उन्हें सम्मानित किया जा रहा है। आयकर विभाग द्वारा वयोवृद्ध रामसिंग को नियमित रूप से आयकर पटाने के लिए सम्मानित किया जाएगा। मनेन्द्रगढ़ निवासी रामसिंग के बेटे रमेश सिंह ने बताया कि उनके पिता पेशे से एडवोकेट रहे। वर्ष 1967 से वह नियमित रूप से आयकर पटाते आ रहे हैं। 97 साल की उनकी उम्र हो चुकी है लेकिन आज भी वह आयकर पटा रहे हैं। 
    आयकर विभाग द्वारा नियमित रूप से आयकर पटाने वाले रायपुर के वयोवृद्ध बंशीलाल उपाध्याय को सम्मानित किया जाएगा। उनके बेटे अनिरूद्ध उपाध्याय ने बताया कि उनके पिताजी का फेब्रीकेशन का कारोबार था। आयकर पटाने को लेकर वे हमेशा सजग रहते हैं और आज भी आयकर पटा रहे हैं। 
    आयकर विभाग द्वारा रायपुर की वयोवृद्ध देवी बाई झमनानी को सम्मानित किया जाएगा। देवी बाई जमुनानी के बेटे आनंद ने बताया कि उनेक स्व. ठेकेदार पिता आयकर चुकाने में कभी कोताही नहीं बरतते थे। अशक्त होने के कारण उनकी मां सम्मान लेने के लिए नहीं जा पाएंगी लेकिन उन्हें खुशी है कि उन्हें इस सम्मान का हकदार बनाया गया। 

  •  

Posted Date : 20-Jul-2018
  • डीजल के दाम कम करने की मांग
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 20 जुलाई। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के आव्हान पर शुक्रवार को छत्तीसगढ़ समेत देशभर में ट्रक, ट्रेलर व अन्य मालवाहक वाहनों की हड़ताल रही। डीजल के दाम कम करने समेत अपनी 6 सूत्रीय मांगों को लेकर वाहन मालिक आउटरों में अपने हजारों वाहन खड़े कर हड़ताल पर बैठे रहे। इस दौरान ट्रांसपोर्ट कारोबार को यहां हर रोज करीब दो हजार करोड़ का नुकसान माना जा रहा है। 
    ट्रक, ट्रेलर व अन्य मालवाहक वाहनों की हड़ताल का असर  प्रदेश में आज कम रहा और कई जरूरी सामान लेकर चल रहे वाहन छोड़ दिए गए, पर खाली वाहनों की आउटरों में लंबी लाइन लगी रही। यूनियन से जुड़े कई पदाधिकारी रायपुर समेत कई शहरों के आउटरों में वाहनों को बंद कराने में जुटे रहे। कई जगहों पर वे सभी एकजुट होकर धरना-प्रदर्शन करते रहे। उन्होंने चेतावनी दी है कि मांगें पूरी न होने पर उनकी बेमियादी हड़ताल आगे भी जारी रहेगी। 
    ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट के मैनेजिंग कमेटी के सदस्य सुखदेव सिंह सिद्धू, त्रिलोक सिंह का कहना है कि मालवाहक वाहनों की हड़ताल का असर पहले दिन थोड़ा सा कम देखने को मिलेगा, क्योंकि जरूरी सामान लेकर चल रहे वाहनों को गंतव्य तक पहुंचने दे रहे हैं, ताकि चालक-परिचालक को कोई दिक्कत न हो। कल दूसरे दिन से वे सभी ज्यादा कड़ाई बरतते हुए सभी माल वाहकों को आउटरों में ही रोक देंगे। हड़ताल में प्रदेश के छोटे-बड़े करीब 20 यूनियन शामिल हैं और हड़ताल से हर रोज करीब दो हजार करोड़ का नुकसान होगा। 
    छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स में ट्रांसपोर्ट अध्यक्ष हरचरण सिंह साहनी का कहना है कि डीजल के बढ़ते दाम से उन्हें भारी नुकसान हो रहा है। इसके अलावा सरकार जीएसटी समेत और कई नियम बनाकर उन्हें परेशान करने में लगी है। उनके राष्ट्रीय पदाधिकारी मांगों को लेकर कई बार केंद्र सरकार से चर्चा कर चुके हैं, पर उनकी मांगों पर कोई विचार नहीं किया जा रहा है। यही वजह है कि वे सभी एकजुट होकर सड़क पर उतरने मजबूर हैं।
    ये है प्रमुख मांगेंये है प्रमुख मांगें
    डीजल की कीमत कम करने और इसमें त्रैमासिक संशोधन, राष्ट्रीय स्तर पर समान मूल्य निर्धारित करने, देशभर में टोलमुक्त बैरियर, बीमा प्रीमियम में पारदर्शिता, टीडीएस और जीएसटी छूट, कांप्रेसिंग पॉलिसी के माध्यम से एजेंटों के अतिरिक्त कमीशन समाप्त करने, आयकर अधिनियम और ई-वे बिल के नियमों में जरूरी संशोधन। 
    बढ़ सकते हैं किराना, सब्जी व  अन्य जरूरी सामानों के दाम 
    दूसरी ओर मालवाहक वाहनों की हड़ताल ज्यादा दिनों तक चलने पर उसका असर जन-जीवन पर पड़ सकता है। किराना, सब्जी से लेकर सभी तरह के जरूरी सामानों के दाम बढ़ सकते हैं। कहीं-कहीं कालाबाजारी भी शुरू हो सकती है, क्योंकि सामानों को एक-दूसरी जगहों पर पहुंचाने का काम इन्हीं मालवाहकों के माध्यम से ज्यादा होता है। 

  •  

Posted Date : 20-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 20 जुलाई। छत्तीसगढ़ के पहले वित्तमंत्री रामचंद्र सिंहदेव  को श्रद्धांजलि देने लोगों का तांता लगा रहा। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शुक्रवार की सुबह उनके निवास जाकर श्रद्धांजलि दी। बाद में उनके पार्थिव शरीर को शुक्रवार अंतिम दर्शन के लिए कांग्रेस भवन में रखा गया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल सहित अन्य नेताओं ने उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए। 
    श्री सिंहदेव का गुरुवार की देर रात रामकृष्ण केयर अस्पताल में निधन हो गया। वे 88 वर्ष के थे। वे पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। श्री सिंहदेव अविवाहित रहे। शुक्रवार को उनके पार्थिव शरीर को पहले मौलश्री विहार स्थित उनके निवास ले जाया गया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने उनके निवास जाकर श्रद्धांजलि दी और उनके परिजनों को सांत्वना दी। 
    अंतिम संस्कार के लिए कोरिया ले जाने से पहले दिवंगत पूर्व वित्तमंत्री के पार्थिव शरीर को कांग्रेस भवन में रखा गया। 
    जहां प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री बघेल सहित कांग्रेस के छोटे-बड़े कई नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। उनके अंतिम दर्शन के लिए कार्यकर्ताओं का हुजूम उमड़ पड़ा। बाद में राज्य शासन के विमान से अंबिकापुर ले जाया गया है। वहां से सड़क मार्ग से कोरिया ले जाया जाएगा।    
     राज्यपाल बलरामजी दास टंडन ने छत्तीसगढ़ के प्रथम एवं पूर्व वित्त मंत्री रामचन्द्र सिंहदेव के निधन पर शोक व्यक्त किया है। राज्यपाल श्री टंडन ने अपने शोक संदेश में कहा है कि श्री सिंहदेव छत्तीसगढ़ के लोकप्रिय जनप्रतिनिधि थे। उनके निधन से प्रदेश को अपूरणीय क्षति पहुंची है। 
    मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने उनके देहावसान पर शोक प्रकट करते हुए कहा है कि डॉ. सिंहदेव का सुदीर्घ सार्वजनिक जीवन सभी लोगों के लिए सादगी और शुचिता का प्रेरणादायक उदाहरण रहा। डॉ. सिंह ने यहां जारी शोक संदेश में कहा कि एक सजग और कर्मठ जनप्रतिनिधि के रूप में रामचन्द्र सिंहदेव ने लगभग पांच दशक लम्बे राजनीतिक जीवन में सादगी के साथ जनता की सेवा को ही अपना लक्ष्य माना और जीवन भर समाज और देश की सेवा में लगे रहे। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि तत्कालीन अविभाजित मध्यप्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों के मंत्री और वर्ष 2000 में गठित छत्तीसगढ़ प्रदेश के प्रथम वित्त मंत्री के रूप में डॉ. रामचन्द्र सिंहदेव की सेवाओं को हमेशा याद रखा जाएगा। 

  •  

Posted Date : 19-Jul-2018
  • कथित नक्सल नेता द्वारा फोन करने का मामला
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 19 जुलाई। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल को कथित तौर पर नक्सल नेता गणपति का फोन आने के मामले में जांच शुरू नहीं हो पाई है। पुलिस को श्री बघेल की लिखित शिकायत का इंतजार है। 
    दुर्ग आईजी जीपी सिंह ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में बताया कि श्री बघेल का फोन आने के बाद चूूंकि घटना स्थल रायपुर है इसलिए वहां लिखित में शिकायत दर्ज कराने का सुझाव दिया गया था। दूसरी तरफ रायपुर आईजी प्रदीप गुप्ता ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में कहा कि श्री बघेल की तरफ से अब तक लिखित में कोई शिकायत नहीं प्राप्त हुई है। शिकायत का इंतजार किया जा रहा है इसके बाद जांच शुरू होगी।
    बताया गया कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने दुर्ग पुलिस को मौखिक शिकायत कर बताया था कि उन्हें अज्ञात फोन आया था। फोन करने वाले ने अपने को नक्सली नेता गणपति बताया था।  और कहा था कि पिछले चुनाव में हमने भाजपा की मदद की थी, इस बार कांग्रेस की मदद करना चाहते हैं। फोन आने पर श्री बघेल ने अपने करीबी लोगों से चर्चा कर तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी। उन्होंने भाजपा सरकार और जोगी कांग्रेस की साजिश का शक जताया था। भाजपा ने इसकी तीखी प्रतिक्रिया दी है और यहां तक कह दिया  गलत काम करने वाले को साजिश का डर रहता है। बहरहाल, इस मामले को लेकर राजनीति गरमाई हुई है। 

     

  •  

Posted Date : 19-Jul-2018
  • रायपुर, 19 जुलाई। सिविल लाईन निवासी सतपाल ढांड का गुरूवार को तड़के निधन हो गया। वे 88 वर्ष के थे। स्व. ढांड, रेरा के चेयरमैन विवेक ढांड, साधना ढांड, नवीन कन्या महाविद्यालय की प्राचार्य श्रीमती अरूणा पलटा और श्रीमती रंजना खोसला के पिता थे। दोपहर बाद देवेन्द्र नगर मुक्तिधाम में उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस मौके पर शहर के गणमान्य नागरिक और सरकार के आला अफसर मौजूद थे। 
    मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज सुबह रेरा के चेयरमैन श्री ढांड के निवास पहुंचे, जहां उन्होंने उनके पिता के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया और उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की। मुख्यमंत्री ने स्वर्गीय सतपाल ढांड को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। 
    इस अवसर पर राज्य प्रशासनिक सुधार आयोग के अध्यक्ष और पूर्व मुख्य सचिव एस.के. मिश्रा, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, राज्य निर्वाचन आयुक्त ठाकुर रामसिंह, छत्तीसगढ़ ओलम्पिक संघ के महासचिव विक्रम सिसोदिया और शासन-प्रशासन के अनेक वरिष्ठ अधिकारियों तथा बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिकों ने भी विवेक ढांड और उनके परिजनों से मिलकर संवेदना प्रकट की। 

  •  

Posted Date : 19-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 19 जुलाई। पूर्व वित्त मंत्री रामचंद्र सिंहदेव की हालत चिंताजनक बनी हुई है। श्री सिंहदेव का रामकृष्ण केयर अस्पताल में ईलाज चल रहा है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने गुरूवार को श्री सिंहदेव के परिजनों से दूरभाष पर चर्चा कर हालचाल जाना और उनके इलाज में लगे चिकित्सकों से भी चर्चा की। 
    श्री सिंहदेव की हालत गंभीर बताई गई है। रामकृष्ण केयर अस्पताल प्रबंधन ने पूर्व वित्तमंत्री श्री सिंहदेव का मेडिकल बुलेटिन जारी किया।  जिसमें बताया गया कि उन्हें सांस लेने की तकलीफ थी और उल्टी हो रही थी। बुलेटिन में यह भी बताया गया कि वे वेंटिलेटर पर हैं और दवाओं के सपोर्ट से ब्लड पे्रशर मेंटेन है। डाक्टरों ने यह भी बताया कि शरीर में वेंटिलेटर सपोर्ट से ऑक्सीजन की मात्रा कंट्रोल है। 
    मुख्यमंत्री डॉ. सिंह बुधवार को उनकी तबियत बिगडऩे की जानकारी मिलने के बाद वे रामकृष्ण केयर अस्पताल देखने भी गए। उन्होंने सिंहदेव के उपचार कर रहे डॉक्टरों से चर्चा की। आज सुबह भी उन्होंने श्री सिंहदेव की भतीजी अंबिका सिंहदेव से भी लंबी चर्चा की। 

  •  

Posted Date : 17-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 17 जुलाई। भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष पूजा विधानी ने अगले चुनाव में पार्टी की ओर से महिलाओं को अधिक टिकट दिए जाने के प्रति उम्मीद जताई है। पूजा विधानी का कहना है कि तुलनात्मक रूप से पुरुषों की अपेक्षा महिला प्रतिनिधियों की सक्रियता और काम को देखते हुए पार्टी महिलाओं को प्रतिनिधित्व का अधिक अवसर प्रदान करेगी। पिछली बार महिलाओं के हिस्से में 12 टिकट आई थी, इस बार इसमें इजाफे की उम्मीद है। 
    अविभाजित छत्तीसगढ़ में पार्षद से लेकर भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष का सफर तय करने वाले पूजा विधानी ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश में महिला प्रतिनिधियों को पहले की तुलना में अधिक टिकट मिलने की उम्मीद है। पार्टी द्वारा प्रतिनिधियों को लेकर किए जाने वाले सर्वे में पुरुषों की तुलना में महिला प्रतिनिधियों की सक्रियता को निश्चित तौर से तरजीह दी जाएगी। वर्तमान में महिला प्रतिनिधियों का प्रदर्शन सराहनीय रहा है। इस आधार पर महिला प्रतिनिधियों को विश्वास है कि वे पार्टी की कसौटी पर खरी उतरेंगी और उन्हें पहले से अधिक अवसर प्रदान किया जाएगा। पूजा विधानी कहती हैं संसद में 33 प्रतिशत आरक्षण को लेकर भाजपा ने ही मुद्दा उठाया है। उम्मीद है कि महिला आरक्षण को लेकर बिल पास हो जाएगा। पंचायत में 50 प्रतिशत महिला आरक्षण से गांवों में महिला प्रतिनिधियों को नेतृत्व का मौका मिला है। शहर की तुलना में गांवों की प्रतिनिधि प्रखर साबित हुई है। भाजपा संगठन में महिलाओं को 33 प्रतिशत भागीदारी मिली हुई है। 
    उनका कहना है कि संगठन में उपाध्यक्ष सरला कोसरिया के अलावा चंद्रकांती वर्मा की  सहभागिता है। विधानसभा में सुनीति राठिया, चंपा देवी पावले, रूप कुमारी चौधरी, रमशीला साहू जैसे प्रतिनिधि महिला नेतृत्व कर रहे हैं। फिलहाल हम बहने बूथ स्तर पर सघन कार्य करते हुए भाजपा को चौथी बार जीत दिलाने के लिए संकल्पबद्ध हैं। भाजपा ने महिलाओं के हित में कल्याणकारी जिन योजनाओं को लागू किया है। हमें उन योजनाओं को नीचे स्तर तक पहुंचाना है। 

     

  •  

Posted Date : 17-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 17 जुलाई। अंबेडकर अस्पताल परिसर पहुंची एक 108 एंबुलेंस का दरवाजा नहीं खुलने के बाद दम घुटने से एक बच्चे की मौत हो गई। यह बच्चा दिल की बीमारी से पीडि़त था और उसके परिवारवाले उसे दिल्ली एम्स अस्पताल से सुबह यहां लेकर आए थे। बच्चे की मौत पर परिजनों और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने वहां जमकर हंगामा करते हुए घटना की जांच की मांग की है। 
    गया(बिहार) निवासी प्रतिमा देवी का दो महीने का पुत्र जन्म से दिल की बीमारी से पीडि़त था। डॉक्टर उसके दिल में छेद बता रहे थे। परिवारवाले उसे हफ्तेभर पहले दिल्ली एम्स अस्पताल लेकर गए थे, जहां वह चार-पांच दिन भर्ती रहा। पैसों की कमी के चलते वहां के डॉक्टरों ने उसे आगे रखने से इंकार करते हुए सत्य सांई अस्पताल नया रायपुर भेज दिया, जहां उसका मुफ्त में इलाज होना था। बच्चे के मां-बाप उसे टे्रन से लेकर आज सुबह रायपुर स्टेशन पहुंचे। 
    बच्चे के पिता अंबिका सिंह का कहना है कि स्टेशन में उसने फोन का 108 एंबुलेंस को बुलाया। वे लोग बच्चे को लेकर नया रायपुर के लिए निकले थे, पर उसकी हालत गंभीर देखकर अंबेडकर अस्पताल ले गए। वहां एंबुलेंस का दरवाजा लगातार प्रयास के बाद भी दो घंटे तक नहीं खुल पाया और बच्चे की दम घुटने से मौत हो गई। वहां सिलेंडर का ऑक्सीजन खत्म हो चुका था।
    बाद में कार तोड़कर जब वे लोग बच्चे को अस्पताल भीतर लेकर गए, तब तक वह दम तोड़ चुका था। 
    दूसरी ओर परिवारवालों ने रोते-बिलखते हुए अपने बच्चों को किसी भी तरह से बचाने की गुहार लगाई, पर उसे नहीं बचाया जा सका। इस दौरान परिवारवालों का रो-रोकर बुरा हाल रहा। उन सभी ने शासन-प्रशासन से एंबुलेंस में लापरवाही की जांच की मांग की है। 
    घटना की जानकारी मिलते ही पूर्व विधायक कुलदीप जुनेजा भी अपने कुछ कार्यकर्ताओं के साथ अस्पताल पहुंचे। उन सभी ने भी घटना की जांच की मांग करते हुए जमकर हंगामा किया। श्री जुनेजा का कहना है कि यह घटना बेहद दुखद है। एंबुलेंस हड़ताल के चलते बच्चे की मौत हुई है। अप्रशिक्षित चालक के हाथों एंबुलेंस को थमा दिया गया है, जिसने आज एक बच्चे की जान ले ली। 
    अंबेडकर अस्पताल प्रशासन का कहना है कि इसमें अस्पताल की कोई गलती नहीं है। यह सब कुछ जीवीके कंपनी का मामला है। छत्तीसगढ़ ने जब जीवीके कंपनी को फोन कर लापरवाही और घटना के संबंध में बताना चाहा, पर वहां जिम्मेदार अफसरों ने फोन रिसीव नहीं किया। 

     

  •  

Posted Date : 17-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अम्बिकापुर, 17 जुलाई। बलरामपुर-रामानुजगंज जिला के रामानुजगंज विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस विधायक बृहस्पत सिंह के मोबाईल से मंगलवार की सुबह एक व्हाट्सअप ग्रुप में पोर्न वीडियो वायरल हो गया। इससे ग्रुप में बवाल मच गया और कई ने घोर निंदा की। आनन-फानन में ग्रुप एडमिन ने विधायक बृहस्पत सिंह को ग्रुप से बाहर कर दिया और ग्रुप को बंद कर दिया। 
    इधर विधायक बृहस्पत सिंह का कहना है कि गत सोमवार को जनसम्पर्क के दौरान उनका मोबाईल गुम गया था। कोई व्यक्ति उनके मोबाईल से अश्लील मैसेज व्हाट्अप ग्रुप में डालकर उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहा है। विधायक का कहना है कि मोबाईल गुम होने की सूचना मौखिक रूप से थाने में दी थी।     
    आज सुबह वीडियो वायरल होने के बाद वे इसकी लिखित शिकायत रामानुजगंज थाने में की है।  
    कांग्रेस विधायक बृहस्पत सिंह के मोबाईल नम्बर से ग्रुप में मंगलवार की सुबह 5.10  मिनट पर पोर्न वीडियो डाला गया था। इस ग्रुप में पत्रकार, जनप्रतिनिधि एवं महिला अधिकारी जुड़े हुए थे। जैसे ही वीडियो वायरल हुआ विधायक के पास  फोन आने लगे, तब विधायक ने थाने पहुंचे और लिखित शिकायत की।
    उनका कहना था कि वे 16 जुलाई की रात ग्राम करेवासिला, कंचननगर होते हुये घर लौट रहे थे। इस दौरान उनका मोबाईल कहीं गिर गया या गुम हो गया। विधायक ने कहा कि उन्हें एंड्रॉयड मोबाईल चलाना नहीं आता। कुछ पोस्ट करना होता है तो वे अपने पीएसओ से कहकर करवाते हैं। विधायक ने आगे बताया कि उन्होंने कल रात में ही थाना में मोबाईल गुम होनेे की मौखिक जानकारी दी थी लेकिन पुलिस इसे हल्के में ली। आज सुबह व्हाट्सअप ग्रुप में पोर्न वीडियो वायरल होने के बाद विधानसभा क्षेत्र में विधायक को लेकर तरह-तरह की चर्चा होने लगी व राजनीति भी गरमा गई।  

  •  

Posted Date : 16-Jul-2018
  • व्यापारियों को पुचकारा, कहा-आपके दर्द का अंदाजा है..
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 16 जुलाई। केन्द्र सरकार जीएसटी पर व्यापारियों को एक बड़ी राहत दे सकती है। बताया गया कि सालाना 37 तरह की रिटर्न को घटा सकती है। इस पर फैसला 21 तारीख को जीएसटी काउंसिल की बैठक में लेने की उम्मीद है। खुद केन्द्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को अलग-अलग व्यापारिक संगठनों से चर्चा की और कुछ मांगों पर तुरंत कार्रवाई के निर्देश दिए। 
    श्री गोयल ने चेम्बर ऑफ कॉमर्स के साथ ही बेकरी-लघु भारती और फर्शी-मार्बल सहित अन्य संगठनों के पदाधिकारियों से अलग-अलग चर्चा की। बेकरी व्यापारियों ने बेकरी पर 18 फीसदी जीएसटी का रोना रोया।
    उन्होंने बताया कि जिन चीजों से बेकरी तैयार होता है, उस पर अलग से जीएसटी देना पड़ता है। यानी घी पर पहले से ही 5 फीसदी जीएसटी लगा हुआ है। श्री गोयल ने बेकरी विक्रेताओं को आश्वस्त करते हुए कहा कि मुझे बेकरी बहुत पसंद है और आपके दर्द का अंदाजा भी है। आप लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। जल्द ही इस पर कोई निर्णय लिया जाएगा। 
    लघु भारती संघ के अध्यक्ष पूर्व साडा अध्यक्ष सत्यनारायण अग्रवाल ने आयकर छापों का जिक्र करते हुए कहा कि इससे व्यापारी डरे हुए हैं। उन्होंने कहा बताते हैं कि आयकर विभाग के लोग सैटल नहीं करने पर धमकी देते हैं। इस पर केन्द्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि यदि ऐसा है तो सबूत दें, वे तुरंत एक्शन लेंगे। श्री गोयल बैठक में मौजूद आयकर कमिश्नर पीके दास की तरफ मुखातिब हुए। श्री दास ने उन्हें बताया कि आयकर छापों की वीडियोग्राफी भी होती है। 
    केन्द्रीय वित्त मंत्री ने राईस मिल पदाधिकारियों से भी लंबी चर्चा की। राईस मिलरों ने उन्हें बताया कि कस्टम मिलिंग पर जीएसटी लगाया गया है। इसको लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। इस वजह से करीब 5 सौ करोड़ रूपए राईस मिलरों के फंसे हुए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि 17 सौ करोड़ रूपए एफसीआई ने अभी तक नहीं लौटाया है। 
    मिलरों ने उन्हें बताया कि वर्ष-03 के बाद आज तक कस्टम मिलिंग के रेट नहीं बढ़ाए गए हैं। उनसे नान बासमती राईस पर जीएसटी हटाने का भी आग्रह किया गया है। उन्होंने कहा कि जिस पर जीएसटी लगता है, उस पर मण्डी शुल्क नहीं लगना चाहिए। रेल्वे रैक उपलब्ध कराने की भी मांग की ताकि निर्यात भी किया जा सके। केन्द्रीय वित्त मंत्री ने मिलरों की मांगों पर वहां मौजूद अफसरों को दिशा निर्देश दिए। 
    केन्द्रीय वित्त मंत्री ने स्टील उद्योग के प्रतिनिधियों से भी मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कोयले की किल्लत पर चर्चा की। बैठक में मौजूद एसईसीएल के अधिकारियों पर श्री गोयल जमकर बरसे और कहा कि आप लोग यहां करते क्या हैं, आपके कारण समस्या बनी हुई है। श्री गोयल व्यापारियों की कुछ मांगों पर तुरंत अधिकारियों को दिशा निर्देश देते रहे तो कुछ को अपनी डायरी में नोट करते रहे। चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, सरकार के मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और अमर अग्रवाल भी मौजूद थे। 

  •  

Posted Date : 16-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 16 जुलाई। प्रदेश में बीती शाम- रात से लेकर दोपहर तक रुक-रुककर बारिश होती रही। इस दौरान अंतागढ़, दुर्गकोंदल, छुरा, बड़े राजपुर, पलारी समेत करीब दो दर्जन जगहों पर भारी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि आगामी 24 घंटे में प्रदेश के कुछ जगहों पर गरज-चमक के साथ भारी बारिश हो सकती है। 
    मौसम विभाग के मुताबिक पिछले तीन दिनों से उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी व आसपास कम दबाव क्षेत्र बना हुआ है और उसका असर प्रदेशभर में देखा जा रहा है। पिछले दो-तीन दिनों से प्रदेश के अधिकांश जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश हो रही है। दुर्ग, भैरमगढ़, मैनपुर, कोटा, बागबाहरा, सराईपाली, पाटन, ओरछा, बेरला, छिंदगढ़, प्रतापपुर, पेंड्रा, लखनपुर, प्रेमनगर, शिवरीनारायण, पिथौरा समेत कई जगहों पर अच्छी बारिश रिकॉर्ड की गई है। 
    दूसरी ओर देर रात से दोपहर तक प्रदेश के 25 जगहों पर भारी बारिश हुई। इस दौरान अंतागढ़ में 156.2 मिमी, दुर्गकोंदल-155.0 मिमी, छुरा-110.0 मिमी, पलारी-105.0 मिमी व रायपुर 67.6 मिमी बारिश दर्ज की गई। मौसम वैज्ञानिक पीएल देवांगन का कहना है कि बंगाल की खाड़ी में कम दवाब का असर एक-दो दिन प्रदेश में बना रहेगा। इस दौरान रुक-रुककर लगातार बारिश होती रहेगी। कहीं-कहीं भारी बारिश भी हो सकती है। 

  •  

Posted Date : 15-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 15 जुलाई। केन्द्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल रविवार को व्यापारी संगठनों से रूबरू होंगे। चेम्बर ऑफ कॉमर्स, श्री गोयल को जीएसटी दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने पर विशेष रूप से जोर देगा। साथ ही साथ दैनिक उपयोग की वस्तुओं पर कर की दरों में कमी के लिए भी दबाव बनाएंगे। 
    श्री गोयल सबसे पहले चेम्बर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष जितेन्द्र बरलोटा और अन्य सदस्यों से मुलाकात करेंगे। चेम्बर ऑफ कॉमर्स के बाद स्पंज आयरन- स्टील उद्योगों के प्रतिनिधियों से चर्चा करेंगे। इसके बाद राईस मिल एसोसिएशन के पदाधिकारियों से रूबरू होंगे। चेम्बर के कार्यकारी अध्यक्ष ललित जैसिंघ एफएम सीजी के प्रतिनिधियों को साथ लेकर केन्द्रीय वित्त मंत्री से चर्चा करेंगे। 
    कैट के अध्यक्ष अमर परवानी और सत्यनारायण अग्रवाल भी केन्द्रीय वित्त मंत्री से चर्चा करेंगे। चैम्बर ने सभी संगठनों और विशेषज्ञों से सलाह लेकर संयुक्त रूप से ज्ञापन तैयार किया है । चैम्बर अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा ने बताया कि सबसे प्रमुख मांग है रिटर्न का सरलीकरण हो। अभी 37 रिटर्न दाविल करना होता है जिसमें सरलीकरण हो। इसके साथ ही जीवन उपयोगी जूता- चप्पल , राखी , चना ,जैसे वस्तुओं पर कर की दर अत्यधिक है उसकी दर कम हो। 
    चेम्बर के प्रतिनिधियों ने बताया कि अगर टैक्सपेयर के खाते में पर्याप्त बैलेंस है तो दूसरे मद में लगने वाले ब्याज से छूट मिले। सबसे बड़ी समस्या रिटर्न दाखिल करने में पोर्टल में होने टाइम और डाटा अपग्रेड करने की है। करदाता का ज्यादातर समय बिल जमा करने में लगने वाला टाइम है जिसकी वजह से व्यापर में बहुत ज्यादा कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। इसलिए सबसे बड़ी जरुरत है कि रिटर्न में कम से कम हेड हो और त्वरित गति से जानकारी अपडेट हो जाए। 
    अगर यह कार्य हो जाए तो जीएसटी की सबसे बड़ी अड़चन दूर हो जायेगी। उन्होंने कहा कि सिस्टम का बैकअप प्लान पहले से सरकार के पास होता तो यह समस्या नहीं होती। इस सिस्टम को सबसे पहले बेहतर करने से करदाता को राहत मिलेगी।

     

  •  

Posted Date : 15-Jul-2018
  • राय-कौशिक, जोगी पार्टी से 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 15 जुलाई। भाजपा से चुनाव लडऩे की अटकलों पर विराम लगाते हुए निर्दलीय विधायक डॉ. विमल चोपड़ा ने साफ कर दिया है कि वे निर्दलीय ही चुनाव लड़ेंगे। इसी तरह बसपा के इकलौते विधायक केशव चंद्रा ने कहा है कि वे बसपा की टिकट से ही चुनाव लड़ेंगे। 
    दोनों विधायकों को लेकर राजनीतिक हल्कों में यह चर्चा रही है कि वे देर-सबेर भाजपा में शामिल हो सकते हैं। डॉ. विमल चोपड़ा भाजपा से जुड़े रहे हैं। राष्ट्रपति और राज्यसभा चुनाव में खुलकर भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में मतदान किया था। पिछली बार टिकट नहीं मिलने से वे निर्दलीय प्रत्याशी की हैसियत से चुनाव लड़े और जीत हासिल की। 
    बताया गया कि भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेता इस राय के हैं कि डॉ. चोपड़ा को पार्टी में वापस लाया जाए। सरकार के मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और प्रेम प्रकाश पाण्डेय इसके पक्षधर भी हैं, लेकिन महासमुंद जिले के कुछ नेता इसकी खिलाफत कर रहे हैं। भाजपा में वापसी की अटकलों पर विराम लगाते हुए डॉ. चोपड़ा ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में कहा कि न तो भाजपा की तरफ से उन्हें पार्टी में लाने के लिए पहल की गई है और न ही मैंने इसके लिए प्रयास किया है। वे निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ही चुनाव मैदान में उतरेंगे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भाजपा से यदि कोई प्रस्ताव आता है, तो देखेंगे। अभी निर्दलीय ही चुनाव लडऩे की तैयारी है। 
    दूसरी तरफ जैजेपुर के विधायक केशव चंद्रा बसपा की टिकट से चुनाव जीते थे। उन्होंने  'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में कहा कि वे बसपा से ही चुनाव लड़ेंगे। वे पार्टी संगठन की नीतियों के अनुरूप काम करते रहे हैं। पार्टी संगठन भी उनसे संतुष्ट है। वे पिछले पांच साल से क्षेत्र में काफी सक्रिय रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनकी चुनाव लडऩे की तैयारी पूरी है और वे बसपा प्रत्याशी की हैसियत से ही चुनाव मैदान में उतरेंगे। 
    इससे परे कांग्रेस से निष्कासित विधायक आरके राय और बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक कह चुके हैं कि वे जनता कांग्रेस की टिकट से ही चुनाव लड़ेंगे। श्री राय ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में कहा कि उनकी चुनाव लडऩे की पूरी तैयारी है। उन्होंने कहा कि  पूरे विधानसभा क्षेत्र में कार्यकर्ताओं की टीम तैयार हो गई है। वे लगातार बैठक ले रहे हैं। चुनाव चिन्ह मिलने के बाद इसका प्रचार शुरू कर दिया जाएगा। 

  •  

Posted Date : 14-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 जुलाई। आषाढ़ शुक्ल की द्वितीया शनिवार को हर्षोल्लास के साथ भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकाली गई। गायत्री नगर स्थित जगन्नाथ मंदिर में रथ यात्रा के पहले मुख्यमंत्री रमन सिंह द्वारा छेरा पहरा की रस्म अदा की गई। वैदिक मंत्रोच्चार, शंखनाद के बीच भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा को सुसज्जित रथों में विराजित किया गया। रथ यात्रा के पूर्व 11 पंडितों की सहभागिता में भगवान जगन्नाथ की विशेष पूजा-अर्चना आरती की गई। नंदी घोष, तालध्वज और देवदलन के सुसज्जित रथ में विराजित भगवान जगन्नाथ, सुभद्रा और बलभद्र के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ा रहा। 
    शंखनाद, संकीर्तन और ओडिशा के नर्तक दल के बीच 16 फीट ऊंचे रथ में आरूढ़ भगवान, सुभद्रा और बलभद्र की रथयात्रा के स्वागत के लिए श्रद्धालु उमड़े रहे। आस्था और भक्तिमय वातावरण में भगवान के रथ को खींचने के पुण्य का हर कोई भागीदार बनने का इच्छुक नजर आया। भगवान जगन्नाथ की आस्था से आलोडि़त श्रद्धालु भगवान का प्रसाद गजा मंूग पाकर धन्य नजर आए। गायत्री मंदिर संस्थापक पुरन्दर मिश्रा ने बताया कि ज्येष्ठ पूर्णिमा को स्नान उपरांत बीमार पडऩे पर भगवान जगन्नाथ के स्वास्थ्य लाभ के लिए उन्हें 14 दिनों तक काढ़ा पिलाया गया। स्वास्थ्य लाभ पश्चात शुक्रवार को श्रृंगार, भोग, महाआरती पश्चात मंदिर के पट खोल दिए गए तथा नेत्रोत्सव की परंपरा का निर्वहन किया गया। रथ यात्रा के पश्चात भगवान आषाढ़ शुक्ल की दसमीं तिथि को मौसी के घर से वापस मंदिर में विराजित होंगे।

  •  

Posted Date : 13-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 13 जुलाई। प्रदेश के बस्तर, सरगुजा संभाग के आदिवासी व दूर-दराज के स्कूलों में करीब दो-ढाई साल से नौकरी कर रहे विद्या मितान शिक्षकों ने शुक्रवार को यहां बूढ़ातालाब में जल सत्याग्रह किया। इस दौरान उन सभी ने वहां बैनर-पोस्टर के साथ जमकर प्रदर्शन किया। 
    उनकी मांग है कि स्कूलों में व्याख्याता पंचायत के रिक्त पदों पर उन सभी का संविलियन किया जाए। 
    विद्या मितान शिक्षक कल्याण संघ के बैनर तले दोनों संभागों के सैकड़ों विद्या मितान शिक्षक पिछले 20 दिनों से हड़ताल पर हैं। इस दौरान वे सभी यहां ईदगाहभाठा मैदान में एकजुट होकर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। आज दोपहर में वे सभी धरना स्थल से एक रैली के रूप में बूढ़ातालाब पहुंचे। वहां उन सभी ने वहां नारेबाजी करते हुए जल सत्याग्रह किया। उनका कहना है कि वे सभी सरकार से संविलियन की लगातार मांग कर रहे हैं, पर उनकी यह मांग पूरी नहीं हो रही है। 
    संघ के प्रांत अध्यक्ष धर्मेंद्र वैष्णव, हीरालाल राठौर व अन्य पदाधिकारियों का कहना है कि उनकी संख्या करीब छह हजार है और वे सभी पिछले दो-ढाई साल से काम कर रहे हैं। स्कूल शिक्षा विभाग में व्याख्याता पंचायत के करीब साढ़े पांच हजार पद रिक्त हैं, जहां वे संविलियन की मांग कर रहे हैं। वे सभी फिलहाल 14-15 हजार मासिक वेतन पर नौकरी कर रहे हैं। उनकी नियुक्ति आउटसोर्सिंग से हुई है। उनके समान काम कर रहे बाकी शिक्षकों से उनका वेतन फिलहाल बहुत ही कम है। यही वजह है कि वे सभी संविलियन की मांग कर रहे हैं। 

     

  •  

Posted Date : 13-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 13 जुलाई। ज्येष्ठ पूर्णिमा में स्नान उपरांत 15 दिनों तक बीमार रहने के पश्चात शनिवार को भगवान जगन्नाथ बहन सुभद्रा और बलभद्र के साथ रथ पर सवार होकर श्रद्धालुओं को दर्शन देंगे। आषाढ़ शुक्ल की दूज को निकलने वाली रथयात्रा के पूर्व शुक्रवार को शहर के जगन्नाथ मंदिरों में नेत्रोत्सव का अनुष्ठान किया गया। 
    श्री जगन्नाथ सेवा समिति के संस्थापक, अध्यक्ष पुरंदर मिश्रा ने बताया कि शुक्रवार को विधिवत पूजा अर्चना हवन के साथ नेत्रोत्सव मनाया गया। 14 जुलाई को भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। 21 बढ़ई द्वारा भगवान जगन्नाथ का रथ नंदी घोष, बलभद्र का रथ तालध्वज एवं बहन सुभद्रा का रथ देवदलन बनाया जा चुका है। मुख्यमंत्री रमन सिंह, राज्यपाल बलरामदास जी टंडन तथा श्रद्धालुओं की सहभागिता में नियत अनुष्ठान के पश्चात तीनों रथ मंदिर से निकाले जाएंगे। 

  •  

Posted Date : 13-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 13 जुलाई। प्रदेश में पिछले चार साल में रोजगार कार्यालयों के माध्यम से कुल 12 सौ लोगों को ही सरकारी नौकरी मिली है। इनमें से दर्जनभर जिले ऐसे हैं, जहां एक को भी सरकारी नौकरी नहीं मिली। 
    विभागीय सूत्रों के मुताबिक प्रदेश के रोजगार कार्यालयों में कुल मिलाकर 14 लाख 25 हजार 284 पंजीकृत बेरोजगार हैं। बताया गया कि सरकार ने बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के लिए पिछले सालों में अभियान छेड़ा था और सभी जिलों में रोजगार मेला का आयोजन किया था। इसमें निजी कंपनियों को आमंत्रित किया गया था। 
    यह बात सामने आई है कि पिछले 4 बरसों में रोजगार मेला के जरिए कुल 31 हजार 597 लोगों को ही नौकरी मिली है। ये नौकरी निजी संस्थानों में मिली है। सबसे ज्यादा 3814 बिलासपुर और फिर राजनांदगांव के 3711 बेरोजगारों को नौकरी दी गई। जांजगीर-चांपा जिले के 3163 और रायपुर जिले के 2616 बेरोजगारों को नौकरी हासिल हुई। लेकिन रोजगार कार्यालय के माध्यम से अब तक मात्र 1202 लोगों को ही सरकारी नौकरी मिल पाई है। 
    बताया गया कि सुकमा, सूरजपुर, मुंगेली, गरियाबंद, बालोद, राजनांदगांव, रायगढ़, महासमुंद, नारायणपुर, धमतरी और दुर्ग जिले में एक भी को रोजगार कार्यालयों के माध्यम से नौकरी नहीं मिल पाई है। सबसे ज्यादा जगदलपुर जिले 656, कबीर धाम में 119, कांकरे में 191, बिलासपुर में 62 और रायपुर जिले में 80 लोगों को नौकरी मिली है। दंतेवाड़ा में 13, अंबिकापुर में 8, बलौदाबाजार में 3 और बलरामपुर में 2 लोगों को ही रोजगार कार्यालयों के माध्यम से नौकरी मिल पाई है।

  •  

Posted Date : 12-Jul-2018
  • रायपुर, 12 जुलाई । सुप्रसिद्ध साहित्यकार एवं दूरदर्शन के पूर्व उपमहानिदेशक तेजेन्दर सिंह गगन का बुधवार रात 10 बजे हृदयाघात से निधन हो गया। 67 वर्षीय गगन अपनी पीछे पत्नी दलजीत गगन और पुत्री समीरा को छोड़ गए। उनका अंतिम संस्कार गुरूवार सुबह मारवाड़ी श्मशान घाट में किया गया। इस अवसर पर शहर के साहित्यकार, आकाशवाणी एवं दूरदर्शन के अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे। साहित्यकारों ने उनके निधन को अपूरणीय क्षति बताया है। तेजेन्दर सिंह गगन के उपन्यास वह मेरा चेहरा, काला पादरी, सीढिय़ों पर चीता, हैलो सुजीत के अलावा काव्य संग्रह बच्चे अलाव ताप रहे हैं चर्चित रहे। 
    तेजेन्दर सिंह गगन आकाशवाणी के पश्चात दूरदर्शन में बतौर निदेशक कार्यरत रहे। अहमदाबाद से सेवानिवृत्ति के पश्चात उनका लेखन कार्य सतत् जारी रहा। उनके बचपन का एक हिस्सा जालंधर में बीता था जिसे वह  याद करते थे। वर्ष 1984 के घटनाओं पर उनके उपन्यास वह मेरा चेहरा का नया संस्करण बीते साल के अंत में छपा था। यह उपन्यास पंजाब समस्या पर केन्द्रित उनकी अनूठी रचना मानी जाती है। 

  •  

Posted Date : 12-Jul-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 12 जुलाई। सरकार आदिवासी इलाकों के स्कूलों में आउटसोर्सिंग के जरिए विशेषज्ञ शिक्षकों की भर्ती करने जा रही है। बताया गया कि करीब सवा छह सौ से अधिक पदों पर भर्ती होगी और इसके लिए प्लेसमेंट एजेंसी के चयन की प्रक्रिया चल रही है। खास बात यह है कि यह भर्ती रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर संभाग के 11 जिलों के स्कूलों में  होगी। 
    प्रदेश के आदिवासी क्षेत्र के स्कूलों में विशेषज्ञ शिक्षकों की लंबे समय से कमी बनी हुई है। खासकर गणित, जीव विज्ञान, रसायन, भौतिकी, अंग्रेजी, कॉमर्स के शिक्षक नहीं मिल रहे हैं और वहां बच्चों की पढ़ाई प्रभावित है। यही वजह है कि स्कूल शिक्षा विभाग विशेषज्ञ शिक्षकों के रिक्त पदों पर जल्द भर्ती की तैयारी में है। भर्ती किए गए ये सभी शिक्षक विद्या मितान के नाम से अपनी सेवाएं देंगे। 
    बताया गया कि रायगढ़ में 141 व कोरबा में 138 शिक्षकों की भर्ती की जाएगी, जो बाकी जिलों की अपेक्षा सबसे अधिक है। राजनांदगांव में 95, गरियाबंद-87, बिलासपुर-65, धमतरी-23, बलौदाबाजार-22, बालोद-22, महासमुंद-19, कबीरधाम-16 व जांजगीर-चांपा में 6 शिक्षकों की भर्ती होगी। इस तरह कुल 631 पदों पर भर्ती की तैयारी है। इसमें गणित भौतिकी के 214 शिक्षक, जीव विज्ञान रसायन-117, अंग्रेजी- 139, कॉमर्स-96 व साइंस के 65 शिक्षक शामिल हैं। 
    शिक्षा अफसरों का कहना है कि आदिवासी व दूर-दराज के स्कूलों में विशेषज्ञ शिक्षकों की भर्ती के लिए कई बार प्रयास किया गया, पर उन्हें योग्य शिक्षक नहीं मिले। ऐसी स्थिति में आउटसोर्सिंग से उन पदों पर भर्ती की जा रही है। इसके पहले बस्तर, सरगुजा संभाग में आउट सोर्सिंग से उन पदों पर भर्ती की गई थी। अब रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर संभाग के 11  जिलों में भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। उनका मानना है कि स्कूलों में विशेषज्ञ शिक्षकों के आने से बच्चों की पढ़ाई और ज्यादा बेहतर होगी। 
    उल्लेखनीय है कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर करने की मांग कई बार उठ चुकी है। कई जगहों पर लोग अपनी यह मांग लेकर सड़क पर उतर चुके हैं। हाल ही में विधानसभा में भी यह मामला उठा था।

  •  



Previous123456789...3940Next