छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456Next

Date : 25-Jun-2019

सभी वार्डों में घरों के सामने अब नाम-नंबर प्लेट लगाए जाएंगे, एमआईसी की बैठक, दो दर्जन प्रस्तावों पर चर्चा 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
 रायपुर, 25 जून।
नगर निगम द्वारा अब शहर के सभी 70 वार्डों के घरों के सामने नाम-नंबर प्लेट लगाए जाएंगे। एमआईसी की बैठक में सर्वे के हिसाब से इसके लिए ठेका देने का प्रस्ताव पारित किया गया।  कहा गया कि शहर में यह काम नए ढंग से कराए जाएंगे, ताकि नंबर व मकान मालिक के नाम से एक-एक घर की पहचान हो सके। 

नगर निगम एमआईसी की बैठक मंगलवार सुबह शुरू हुई, जो घंटों चलती रही। महापौर प्रमोद दुबे की उपस्थिति में हो रही बैठक में नाली-नाला निर्माण, सड़क मरम्मत, सफाई, पेयजल, बिजली समेत शहर विकास के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होती रही। 

बैठक में सालों से अटके भृत्य समेत छोटे कर्मचारियों की पदोन्नति पेंशन, नगर निगम शिक्षकों का संविलियन समेत करीब दो दर्जन प्रस्ताव रखे गए। महापौर और एमआईसी सदस्य सभी मुद्दों पर निगम आयुक्त व अन्य अफसरों से चर्चा करते हुए उससे जुड़ी जानकारी लेते रहे। बैठक में परिसीमन मुद्दे पर भी कुछ सदस्यों ने जानकारी चाही।

इसके अलावा एमआईसी की बैठक में जवाहर बाजार स्थित पार्किंग से व्यावसायिक परिसर व्यवस्थापन अंतर्गत आवंटित दुकानों का नामांतरण को लेकर चर्चा हुई। एमआईसी के सदस्यों ने महंतलक्ष्मी दास के वार्ड क्रमांक 61 अंतर्गत लाखे नगर चौक से दंतेश्वरी चौक मार्ग का नामकरण परमानंद शास्त्री के नाम पर करने हेतु प्रस्ताव रखा गया। 

महापौर प्रमोद दुबे के मुताबिक की शहर की सीमाएं बढ़ गई हैं, रायपुर का क्षेत्रफल 225 वर्ग किलोमीटर तक फैल गया है। सिक्स लेन सड़कों, कैनाल रोड समेत कई सड़कों का निर्माण हुआ है, इसलिए अब आउटर की सड़कों की सफाई मशीनों से कराए जाने पर विचार चल रहा है। 


Date : 25-Jun-2019

विधायक ने मच्छी तालाब सौंदर्यीकरण देखने पहुंचे, कहा-गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं 
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
विधायक विकास उपाध्याय ने मंगलवार को निगम आयुक्त शिव अनंत तायल के साथ गुढिय़ारी स्थित मच्छी तालाब सौंदर्यीकरण का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने वहां के ठेकेदार को समझाईश देते हुए सौंदर्यीकरण जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निर्माण व सौंदर्यीकरण में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 

लाखों रुपये खर्च कर मच्छी तालाब का सौंदर्यीकरण कराया जा रहा है, जहां गुणवत्ता पूर्ण काम न होने की शिकायत मिल रही है। विधायक श्री उपाध्याय लोगों की शिकायत पर निगम अफसरों के साथ तालाब सौंदर्यीकरण का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने वहां संबंधित ठेकेदार से चर्चा कर सौंदर्यीकरण जल्द पूरा करने पर जोर दिया है। मौके पर पहुंचे वार्ड के लोगों ने विधायक को बताया कि सौंदर्यीकरण का काम पिछले दो-तीन महीने से बंद है। वहां गुणवत्ताहीन मटेरियल भी लगाए गए हैं। 
विधायक विकास उपाध्याय ने ठेकेदार को समझाईश देते हुए कहा कि सौंदर्यीकरण में ढील बरती जा रही थी। तालाब में दो वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम और टॉयलेट बनाने को लेकर बात की गई थी। तालाब के चारों ओर शेड लगाने की भी चर्चा हुई थी, लेकिन काम कहीं नहीं दिख रहा है। विधायक ने वार्डवासियों, कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा है कि अगर कहीं भी किसी भी निर्माण कार्य में गड़बड़ी की गई तो इसकी शिकायत उनसे की जाए। सौंदर्यीकरण, निर्माण कार्य में कोई समझौता नहीं किया जाएगा। तालाब निरीक्षण के दौरान एमआईसी सदस्य श्रीकुमार मेनन, डॉ.अन्नू साहू, रामदास कुर्रे, सुनील बाजारी आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे। 


Date : 25-Jun-2019

टीमों ने औद्योगिक इकाईयों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग की जांच शुरू की

रायपुर, 25 जून। बारिश के जल के संचयन के लिए जिले के सभी औद्योगिक ईकाईयों को अपने यहां रेन वाटर हार्वेस्टिंग लगाने के निर्देश दिए गए थे। जिले की औद्योगिक इकाईयों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग की जांच के लिए कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने 20 टीमों का गठन किया है। इन सभी टीमों द्वारा जिले के उरला, गोंदवारा, सिलतरा, नेऊरड़ी, कारा, भनपुरी, कपसदा, बहेसर, गुमा और गोगांव में स्थित विभिन्न औद्योगिक इकाईयों का निरीक्षण शुरू कर दिया गया है। इन दलों द्वारा औद्योगिक इकाईयों के निरीक्षण की समीक्षा समय-सीमा की बैठक में की जाएगी।  

 


Date : 25-Jun-2019

दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय योग ओलंपियाड समापन अवसर के योग प्रदर्शन में रही छग की सहभागिता

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के तत्वावधान में दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय योग ओलंपियाड के समापन अवसर के योग प्रदर्शन में शामिल छत्तीसगढ़ के विद्यार्थी उत्कृष्ठ प्रदर्शन से छग की पहचान बनाने में सफल रहे। प्रदर्शन में छग के रवि शर्मा, प्रकाश साहू, राकेश पाडे, रूपेश सिंह, सूरजशर्मा, टाकेश सेन, रिंकी तिवारी, पीकी तिवारी, मोहनी सेन, गीता सेन, हेमायादव प्रीति सूर्यवंशी शामिल रहे। 

दल प्रभारी छगनलाल सोनवानी ने बताया कि दिल्ली के एआईसीटीआई ऑडिटोरियम में 18 से 20 जून तक आयोजित राष्ट्रीय योग ओलंपियाड का समापन अवसर पर योग ओलंपियाड में शामिल देश भर के विद्यार्थियों में से लगभग 25 विद्यार्थियों ने योग प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में छत्तीसगढ़ के 11 विद्यार्थी शामिल रहे। समापन अवसर पर मुख्य अतिथि बतौर शिक्षा सचिव रीना रे, डायरेक्टर एनसीईआरटी हरिकेश सेनापति, सचिव मेजर हर्षकुमार, डीन प्रो सरोज यादव शामिल रहे। 

विदित हो कि राष्ट्रीय योग ओलंपियाड में छत्तीसगढ़ से कुल 16 विद्यार्थियों ने छग का प्रतिनिधित्व किया था। राष्ट्रीय योग ओलंपियाड में दल प्रभारी छगनलाल सोनवानी प्रधान पाठक के अलावा कोच तुकेंद्र वर्मा व्याख्याता तथा पीटीआई शीतलेश वर्मा शामिल रहे। 


Date : 25-Jun-2019

बिलासपुर को प्रदेश का अग्रणी जिला बनाएंगे- साहू

रायपुर, 25 जून। लोक निर्माण तथा गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने आज बिलासपुर जिले के तखतपुर विकासखण्ड के ग्राम घुरू में लगभग 62 लाख रूपये की लागत के 14 निर्माण कार्यों का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि बेहतर ढंग से कार्य करते हुए बिलासपुर को प्रदेश का अग्रणी जिला बनायेंगे। लोक निर्माण मंत्री ने ग्राम घुरू में निर्मित 17 लाख की लागत का राजीव गांधी सेवा केन्द्र, 11 लाख की लागत के दो सामुदायिक भवन, सूर्यवंशी सामुदायिक भवन, मुख्यमंत्री समग्र विकास योजना के तहत 10.40 लाख रूपये के लागत के 4 सी.सी. सड़क, 8.92 लाख रूपये के लागत के व्यावसायिक परिसर, स्कूल में किचन शेड निर्माण, अतिरिक्त कक्ष, ग्राम में नाली निर्माण सहित सूर्यवंशी श्मशान मार्ग में सी.सी. सड़क और एक अन्य सी.सी. सड़क का लोकार्पण किया।

 


Date : 25-Jun-2019

बिलासपुर में आयोजित राज्यस्तरीय तैराकी प्रतियोगिता में डीपीएस के त्रिशा और वेदांत ने बटोरे 11 पदक

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
छत्तीसगढ़ स्वीमिंग एसोसिएशन की ओर से बिलासपुर में आयोजित राज्यस्तरीय तैराकी प्रतियोगिता में उम्दा प्रदर्शन करते डीपीएस, रायपुर के तैराक त्रिशा बनर्जी और वेदांत वर्मा ने 7 गोल्ड, 2 सिल्वर और दो ब्रॉन्ज़ मेडल जीतकर विदयालय का मान बढ़ाया और साथ-ही-साथ नेशनल के लिए भी अपना स्थान सुरक्षित कर लिया। ये दोनों ही तैराक अब 26 से 30 जून 2019 तक राजकोट में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व करेंगे।
 त्रिशा बनर्जी ने 100 और 200 मी. फ्रीस्टाइल तथा 50 मी. और 100 मी. ब्रेस्टस्ट्रोक में कुल चार गोल्ड अपने नाम किए। वहीं वेदांत वर्मा ने 100 और 200 मी. फ्रीस्टाइल, 50 मी. और 100 मी. फ्रीस्टाइल, 50 मी. ब्रेस्टस्ट्रोक और बटरफ़्लाई, 50 मी. बैकस्ट्रोक तथा 4 गुणा 50 मी. फ्रीस्टाइल एवं मेडली रिले में शानदार प्रदर्शन करते हुए 3 गोल्ड, 2 सिल्वर और दो ब्रॉन्ज़ मेडल जीतकर नेशनल का रास्ता पक्का कर लिया। 

छात्रों के चयन पर विद्यालय के प्रोवाइस चेयरमैन बलदेव सिंह भाटिया, महासचिव विजय शाह एवं पुखराज जैन, प्राचार्य रघुनाथ मुखर्जी ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्हें शुभकामनाएँ दीं।

 


Date : 25-Jun-2019

सीएम की मां की हालत नाजुक

रायपुर, 25 जून। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता श्रीमती बिंदेश्वरी बघेल का यहां रामकृष्ण केयर अस्पताल में इलाज लगातार जारी है और उनकी हालत नाजुक बताई जा रही है। उनके बेहतर इलाज के लिए दिल्ली से भी डॉक्टरों की एक टीम पहुंची है। अस्पताल के एमडी डॉ. संदीप दवे ने मंगलवार सुबह एक बुलेटिन जारी कर बताया कि उन्हें बार-बार झटके आ रहे हैं और अगले 72 घंटे उनके लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। उनका प्रयास है कि उनके स्वास्थ्य में जल्द सुधार हो। 

 

 


Date : 25-Jun-2019

अम्बिकापुर बस हादसा, सीएम ने मदद के लिए अफसर भेजे

रायपुर, 25 जून। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने  बस दुर्घटना में मृत यात्रियों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने घटना को बेहद दु:खद बताते हुए घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है। उन्होंने बलरामपुर के कलेक्टर से चर्चा कर घायल यात्रियों को तत्काल चिकित्सा एवं अन्य जरूरी सहायता के लिए अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस और तहसीलदार की टीम को सहायता उपलब्ध कराने के लिए भेजा है। यह टीम गढ़वा के सदर अस्पताल में छत्तीसगढ़ के घायल यात्रियों की मदद और देखभाल सुनिश्चित करेगी।  

 


Date : 25-Jun-2019

अमित जोगी का आवाज का सैंपल देने से इंकार, कहा-मीडिया के जरिए दे रहे हैं...

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
अंतागढ़ टेपकांड के आरोपी पूर्व विधायक मंतूराम पवार के बाद अब अमित जोगी ने भी अपना वाइस सैंपल देने से मना कर दिया है। उन्होंने इस पूरे प्रकरण को ही फर्जी करार दिया है। दूसरी तरफ, टेपकांड के सूत्रधार फिरोज सिद्धीकी ने पूरी जांच प्रक्रिया पर ही सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि जांच सही ढंग से नहीं होने के कारण अमित जोगी जैसे लोगों को कानूनी लाभ मिल रहा है। 

अंतागढ़ टेपकांड का खुलासा करने वाले फिरोज सिद्धीकी ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि एसआईटी को प्रकरण से जुड़े ऑडियो रिकॉर्डिंग की जांच करानी चाहिए थी। इसके बाद ही रिकॉर्डिंग में आए लोगों का वाइस सैंपल लेने का आधार बनता है, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। इस वजह से प्रकरण से जुड़े लोगों को कानूनी फायदा पहुंच रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि जांच में खामियों की वजह से ही टेपकांड के आरोपी पूर्व विधायक मंतूराम पवार, डॉ. पुनीत गुप्ता और राजेश मूणत को जमानत मिल गई। 
सिद्धीकी ने अमित जोगी पर भी निशाना साधा और कहा कि वे किस आधार पर कह रहे हैं कि पेन ड्राइव फर्जी है? उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले की रिकॉर्डिंग मैंने की थी और यह टेप पूरी तरह सही है। फिरोज ने चुनौती दी है कि यदि टेप फर्जी है, तो मेरे खिलाफ कानूनी कार्रवाई करे। दूसरी तरफ, पूर्व विधायक अमित जोगी मंगलवार को एसआईटी दफ्तर (गंज थाने) पहुंचे, लेकिन वे बाहर से ही लौट आए। 

उन्होंने मीडिया से चर्चा में कहा कि किस नियम के तहत एसआईटी उनका वाइस सैंपल लेना चाहती है। उन्होंने कहा कि मीडिया के जरिए अपना वाइस सैंपल दे रहे हैं। अमित जोगी ने आरोप लगाया है कि यह पूरा पेन ड्राइव ही फर्जी है। कई ऑडियो क्लिप को मिक्स कर बनाया गया है। इसकी एडिटिंग की गई है। उन्होंने कहा कि फर्जी पेन ड्राइव बनाने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। 

उल्लेखनीय है कि साल 2014 में अंतागढ़ विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने मंतूराम पवार को प्रत्याशी बनाया था। ऐन वक्त पर उन्होंने नाम वापस लेकर भाजपा प्रत्याशी को वाकओवर दे दिया था। इस बीच एक सीडी सामने आई, जिसमें कथित तौर पर तत्कालीन कांग्रेस विधायक अमित जोगी, तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के दामाद डॉ पुनीत गुप्ता आदि के बीच बातचीत में सात करोड़ रुपये की डील की बात सामने आई। इस मामले में कांग्रेस ने उसी समय मुकदमा दर्ज कराने के लिए पुलिस थाने में तहरीर दी, लेकिन मामला दर्ज नहीं किया गया था। अब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एसआइटी जांच शुरू करा दी। बहरहाल, इस पूरे मामले को लेकर विवाद गरमा गया है।
 

 


Date : 25-Jun-2019

दिल्ली से लौटे सिंहदेव ने कहा-बस्तर से होगा नया कांग्रेसाध्यक्ष  

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने मंगलवार को कहा कि अगला प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बस्तर से ही होगा। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को अपनी राय से अवगत करा दिया है। इस मसले पर श्री गांधी अंतिम निर्णय लेंगे। 
श्री सिंहदेव आज ही दिल्ली से लौटे हैं। वे विमानतल से सीधे रामकृष्ण केयर अस्पताल पहुंचे। जहां सीएम भूपेश बघेल की माता बिन्देश्वरी बघेल का इलाज चल रहा है। उन्होंने श्री बघेल की माता की तबियत की जानकारी ली। 

स्वास्थ्य मंत्री ने दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी और उन्हें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अपनी राय दी थी। सूत्रों के मुताबिक सिंहदेव ने राहुल को बस्तर से ही अध्यक्ष बनाने का सुझाव दिया था। जिसे मान लिया गया। इसको लेकर मुख्यमंत्री श्री बघेल से भी राय ली गई है। श्री बघेल ने पहले सीतापुर के विधायक अमरजीत भगत को अध्यक्ष बनाने की वकालत की थी। पर श्री सिंहदेव इस पर सहमत नहीं थे। अब बस्तर से पूर्व मंत्री मनोज मंडावी और कोंडागांव के विधायक मोहन मरकाम के बीच फैसला होना है। 
दोनों नेताओं ने सोमवार को राहुल गांधी से मुलाकात की थी। राहुल ने दोनों का इंटरव्यू लिया। माना जा रहा है कि दोनों में से किसी को अध्यक्ष बनाया जा सकता है। इसका फैसला आज-कल में हो सकता है।

 

 


Date : 25-Jun-2019

इंडिया टुडे  ग्रुप के ग्रुप एडिटोरियल डायरेक्टर राज चेंगप्पा ने  सीएम भूपेश बघेल से बातचीत की, उसके संपादित अंश।

  • विधानसभा चुनाव में इतनी बड़ी जीत के बाद लोकसभा में इतनी बड़ी हार का कारण, आप क्या कहेंगे।
  • .विधानसभा चुनाव के बाद हमने जितने वादे किए थे पूरे किए। इसके बाद भाजपा की लड़ाई सतह पर आ गई, कार्यकर्ता हतोत्साहित थे। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ गया। पूरे चुनाव अभियान में भाजपा कहीं नहीं दिखाई दी। राजनीतिक समीक्षक कहते थे कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को कम से कम 9 सीटें मिलेेगीं। हम लोग तो 10 और 11 सोच रहे थे। लेकिन जो नतीजे आए उसकी कल्पना यहां के किसी ने नहीं की थी। 
  • देखिए जो कारण बता रहे हैं वो समझ से बाहर है। यदि आप राष्ट्रवाद की बात करें, सर्जिकल स्ट्राइक की बात करें तो  जहां भाजपा और गैर कांग्रेसी दल ने चुनाव लड़ा, फिर वहां राष्ट्रवाद क्यों काम नहीं आया। चाहे वह तमिलनाडू हो, ओडिशा हो, तेलंगाना हो या फिर पश्चिम बंगाल। तो फिर वो मुद्दा तो नहीं रहा। मुद्दा तो कुछ और है जिसके बारे में कहा जा रहा है तो वह खतरनाक है। यदि ईवीएम है तो देश की प्रगति के लिए उन्नति के लिए खतरनाक है। क्योंकि जिस तरह से छत्तीसगढ़ में नतीजे आए कोई सोच नहीं पाया था। मतगणना के दिन तक लोगों को विश्वास नहीं हो रहा था, क्योंकि भाजापा के कार्यकर्ता निकले ही नहीं थे। कहते हैं कि आरएसएस के दम पर है तो उसकी भी कुछ सीमा है। कितना कर पाएंगे।
  • जहां तक मेरा सवाल है 90 विधानसभा में से 78 में मैंने सभाएं ली हैं। इसका जबरदस्त असर भी दिखा, क्योंकि किसानों की कर्ज माफी, 25 सौ रुपये क्विंटल धान, आदिवासियों की जमीन वापसी, फरेस्ट एक्ट के तहत अधिमान्य पत्र देना जिसका लोगों को लंबे समय से इंतजार था और उसे हमने पूरा किया। 
  • पहले महीने के बाद आपने जो वादा किया था उसे पूरा करने में सरकार कमजोर रही..
  • यह तो गलत बात है। हमने तत्काल धान का दाम 2500 रुपए क्विंटल किया जबकि समर्थन मूल्य 1700 था। दूसरे राज्यों में तो समर्थन मूल्य भी नहीं मिल पा रहा है। तेरह-चौदह सौ रुपये मिल रहे हैं। इससे बढिय़ा डिलवरी क्या हो सकती है वो तो जिल्ट के पहले आ गया था। सहकारी बैंकों की ऋण माफी तुरंत दे दी। 
  •  इस दौरान जनवरी ले कर मई तक ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में देश में गिरावट आई। छत्तीसगढ़ अकेला राज्य है जहां 26 फीसदी का इजाफा हुआ। सोने-चांदी की बिक्री बढ़ी। मकान बनाने की संख्या बढ़ी। किसान फ्रीज, कूलर खरीद रहे हैं। पूरे बाजार में उछाल आया। यदि किसानों के पास पैसा नहीं था तो यह इजाफा कैसे होता?
  • चुनाव के बाद आपने इस्तीफा नहीं दिया, जिस तरह राहुल गांधी ने दिया?
  •  क्योंकि संगठन ने जिम्मेदारी दी थी, संगठन को हमने पहले ही कह दिया था कि चूंकि आपने सदन के नेता का दायित्व सौंपा है इसलिए प्रदेश अध्यक्ष किसी और को नियुक्त कर दें। हमारा यह निवेदन अभी लंबित है।
  • क्या लोकसभा चुनाव में आप अतिआत्मविश्वास में नहीं थे जिस तरह भाजपा..
  • उनकी भी पूर्ण बहुमत की सोच नहीं थी, जोगी को 10 सीटें मिलेंगी, उनको 39 सीटों की उम्मीद थी। जोगी 5 पर सिमट गए और वे 15 पर।
  • हम कभी अति-आत्मविश्वास में नहीं रहे, क्योंकि हम लगातार दौरा कर रहे थे। एक दिन भी हमारे विधायक, मंत्री और मैं स्वयं शांत नहीं बैठे। 
  • हमने जीत का जश्न नहीं मनाया, लगातार काम करते रहे। इतने बड़े बड़े फैसले लिए वो घर बैठकर या चलते हुए नहीं लिए जा सकते। हमने योजना बनाई थी। सब चीजों की व्यवस्था पर सोचा फिर फैसला लिया। जो वादा किया सबको पूरा किया लेकिन भाजपा कार्यकर्ता घर से नकले ही नहीं। इसलिए  कोई कांग्रेस का प्रत्याशियों में कोई 3 लाख से जीता, तो कोई चार लाख से। 
  • देश के अंदर भी आप देखेंगे कि 2014 में जो स्थिति, हर-हर मोदी, घर-घर मोदी, वो इस समय नहीं थी। आज उसकी आलोचना भी हो रही है। न तो उन्होंने नोटबंदी का जवाब दिया, न तो जीएसटी का जवाब दिया, न तो काले धन पर बात की।   वे कहते रहे कांग्रेस 54 पार नहीं कर पाएगी। अबकी बार 3 सौ पार।
  • आप याद करें मोदीजी की पहली और आखिरी पत्रकार वार्ता जिसमें उन्होंने कहा कि सत्ताधारी दल पिछले बार से ज्यादा रिकार्ड मतों से सरकार बनाने जा रही है। ये क्या बताता है, इतने पहले आखिर उन्हें कैसे मालूम कि नतीजे इस तरह आएंगे।

 


Date : 25-Jun-2019

एमआईसी की बैठक में दो दर्जन प्रस्तावों पर चर्चा 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
 रायपुर, 25 जून।
नगर निगम एमआईसी की बैठक मंगलवार सुबह शुरू हुई, जो घंटों चलती रही। महापौर प्रमोद दुबे की उपस्थिति में हो रही बैठक में नाली-नाला निर्माण, सडक़ मरम्मत, सफाई, पेयजल समेत शहर विकास के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होती रही। 
बैठक में सालों से अटके भृत्य समेत छोटे कर्मचारियों की पदोन्नति पेंशन, नगर निगम शिक्षकों का संविलियन समेत करीब दो दर्जन प्रस्ताव रखे गए हैं। महापौर और एमआईसी सदस्य सभी मुद्दों का अफसरों से चर्चा करते हुए उससे जुड़ी जानकारी लेते हुए उस पर विचार कर रहे हैं। बैठक में परिसीमन मुद्दे पर भी कुछ सदस्यों ने जानकारी चाही।

महापौर प्रमोद दुबे के मुताबिक की शहर की सीमाएं बढ़ गई हैं, रायपुर का क्षेत्रफल 225 वर्ग किलोमीटर तक फैल गया है। सिक्स लेन सडक़ों, कैनाल रोड समेत कई सडक़ों का निर्माण हुआ है, इसलिए अब आउटर की सडक़ों की सफाई मशीनों से कराए जाने पर विचार चल रहा है। साथ ही बैठक में विकास के करीब 20 एजेंडों पर चर्चा होगी। एमआईसी की बैठक में इस मुद्दे पर फैसला लिया जाएगा। इसके अलावा वार्डों में नाली-नाला निर्माण के अटके कामों को भी मंजूरी दी जाएगी। 

 

 

 


Date : 25-Jun-2019

मानसून प्रदेशभर में छाया, फिलहाल झमाझम बारिश की संभावना नहीं

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
मानसून पूरे प्रदेशभर में छा गया है, पर जून में झमाझम बारिश की संभावना कम है। मौसम विभाग का कहना है कि अच्छी बारिश के लिए फिलहाल तीन-चार दिन इंतजार करना होगा, इसके बाद ही प्रदेश में कई जगहों पर अच्छी बारिश हो सकती है। 
प्रदेश में मानसून आने के साथ ही रायपुर समेत कई जगहों पर झमाझम बारिश हुई। मानसून के आगे बढऩे यहां अब कहीं-कहीं हल्की बारिश ही दर्ज की जा रही है। मौसम विभाग के मुताबिक यह स्थिति आने वाले तीन-चार दिनों तक बनी रहेगी। इसके बाद राजस्थान से गुवाहाटी तक बनने  वाले सिस्टम का असर प्रदेश तक आ सकता है। इसके अलावा दूसरा सिस्टम भी तैयार हो सकता है। 

मौसम वैज्ञानिक एचपी चंद्रा का कहना है कि मानसून अब पूरे प्रदेशभर में छा गया है, पर अभी अच्छी बारिश की संभावना कम है। खासकर दो-तीन दिन बहुत कम जगहों पर हल्की बारिश होगी। इसके बाद धीरे-धीरे मानसून के प्रभाव से अच्छी बारिश की संभावना बनेगी। उनका कहना है कि जुलाई में प्रदेश में झमाझम बारिश हो सकती है। मानसून का पूरा-पूरा प्रभाव उस समय देखा जा सकता है। 

भारी गर्मी से राहत 
दूसरी ओर मौसम में बदलाव से लोगों को भीषण गर्मी से राहत मिली है। खासकर सडक़ों से लेकर बाजारों तक चहल-पहल बढ़ गई है। लोग खरीदी के लिए सुबह से शाम-रात तक बाजारों में पहुंच रहे हैं। अच्छी बारिश होने पर तापमान में और गिरावट आएगी। 

 

 


Date : 25-Jun-2019

विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के द्वारा विगत दिवस रक्तदाताओं का सम्मान

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के द्वारा विगत दिवस वृंदावन हॉल में आयोजित छत्तीसगढ़ जीवन रक्षक सम्मान समारोह में 400 सौ से ज्यादा रक्तदाताओ का सम्मान किया गया। कार्यक्रम में दिव्यांग रक्तदाता, महिला रक्तदाता, एसडीपी रक्तदाता, निगेटिव ग्रुप के रक्तदाताओं को स्मृति चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। 

छत्तीसगढ़ जीवन रक्षक सम्मान समारोह में बतौर अतिथि डॉ मनोज लांजेवार, डॉ रामदेव मंधानी, कमलेश जैन, कुलवंत भाटिया, सचिन दुबे, डॉ अश्विन अग्रवाल, श्याम केशवानी, राजेश अग्रवाल आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम में डॉ. मनोज लांजेवार व डॉ.रामदेव मंधानी के द्वारा कार्यक्रम में आये हुए रक्तदाता व सभी अतिथियों को रक्तदान के फायदे बताए एवं ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस मुहिम में जुडऩे के लिए आग्रह किया। इस अवसर पर विवेक साहू ने छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के कार्यों की जानकारी देने हुए बताया कि छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन विगत 5 वर्षों से रक्तदान व अन्य सामाजिक कार्य कर रहा है। उन्होंने कार्यक्रम में पहुंचे सभी अतिथियों व रक्तदाताओं के प्रति आभार जताया। 

इस कार्यक्रम में विवेक साहू, कीर्ति कुमार परमानंद, विकास जायसवाल, इंदर प्रेमचंदानी, प्रेमप्रकाश साहू, कीर्ति साहू, रितेश साहू, गोविंद साहू, प्रशांत साहू, योगेश अग्रवाल, जय बंछोर, डिकेन्द्र कामड़े, राज पटेल, नरेंद्र गिरी, चंद्र नारायण निर्मलकर, श्रीकांत सारडा, गौरव दुबे, नेमी वर्मा, पवन गुप्ता, राज रात्रे, विक्की बजाज, जितेश देकवे, हेमंत राठी, रोहित परमानंद, रोहित साव, अनिता अग्रवाल, गीतू जोशी, दिव्या राठी, रूमासेन गुप्ता, आदि सदस्य उपस्थित रहे।

 

 


Date : 25-Jun-2019

शाला प्रवेश उत्सव 8 जुलाई तक, निर्देश

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
प्रदेश के सभी स्कूल कल से शुरू हो गए हैं और स्कूलों में रौनक लौट आई है। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा सभी जिला कलेक्टरों, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों, जिला शिक्षा अधिकारियों, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्यों और जिला मिशन समन्वयकों को शाला प्रवेश उत्सव के आयोजन के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं। शाला प्रवेश उत्सव व्यापक प्रचार-प्रसार के साथ आठ जुलाई तक आयोजित करने और 9 जुलाई से कक्षाओं में नियमित अध्ययन प्रारंभ करने कहा गया है। शाला में प्रवेश लेने वाले बच्चों का आज तिलक लगाकर और चॉकलेट खिलाकर स्वागत किया गया।

शाला प्रवेश उत्सव को जन अभियान बनाने और इसे सभी स्तर पर सफल बनाएं। छह से 18 वर्ष के शत-प्रतिशत बच्चों का शाला में प्रवेश एवं ठहराव सुनिश्चित करते हुए उन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान की जाए। राज्य में सरकारी स्कूलों को असरकारी बनाने की दिशा में ठोस पहल प्रारंभ की जा चुकी है। शाला प्रवेश उत्सव के दौरान सभी शासकीय शालाओं में स्कूल खुलते ही नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें एवं गणवेश वितरण, सक्रिय शाला प्रबंधन समिति का गठन और उन्हें बच्चों के प्रवेश नियमित उपस्थिति के लिए जिम्मेदारी दी जाए। शाला परिसर का सौन्दर्यीकरण, बच्चों की दर्ज संख्या अनुसार शिक्षकों की उपलब्धता हेतु युक्तियुक्तीकरण किया जाए। शुरू के 15 दिनों तक बच्चों को गत वर्ष के लर्निंग आऊटकम और गत राज्य स्तरीय आकलन के परिणामों के आधार पर उपचारात्मक शिक्षण सामग्री संबंधी अभ्यास के लिए जिलों में डाइट के माध्यम से दिवसवार पैकेज उपलबध करवाया जाएगा। 

शाला प्रवेश के पूर्व सभी शालाओं में माताओं का उन्मुखीकरण करते हुए उन्हें बच्चों का शाला में प्रवेश से लेकर नियमित उपस्थिति एवं घर में सहयोग देने के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स दिए गए। सभी स्कूलों के बाहर समग्र शिक्षा के लिए चयनित नया लोगों और समग्र शिक्षा संबंधी विवरण का प्रदर्शन किया जाए। शाला सुरक्षा से संबंधित विवरण भी प्रदर्शित किया जाए। शाला के आस-पास पढऩे योग्य आयु वर्ग के बच्चों को खोजकर शाला में प्रवेश दिलवाया जाए। शाला प्रवेश के लिए विभिन्न विभागों से समन्वय किया जाए। 

इस वर्ष शाला में प्रारंभिक 15 दिनों तक गत सत्र के लर्निंग आऊटकम पर निरंतर सघन अभ्यास के अलावा प्रति दिन अलग-अलग मुद्दों पर फोकस करते हुए शाला स्तर पर मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री के संदेश का वाचन, शाला खोलने के लिए जिम्मेदार सदस्यों और पुराने विद्यार्थियों का स्वागत तथा उनके द्वारा शाला से जुड़े अपने अनुभवों का साझा करना, बच्चों द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रसतुतिकरण एवं उनकी प्रतिभाओं से परिचय कराने, बच्चों और शाला प्रबंधन समिति के सदस्यों द्वारा शाला के आस-पास रैली निकालकर सकारात्मक माहौल बनाकर प्रवेश दिलवाना, शाला में बच्चों की गुणवत्ता में सुधार पर फोकस करते हुए मिलकर एक मिशन स्टेटमेंट बनाकर उस पर पूरे सत्र में अमल करने के लिए कार्यवाही तय करना। 

पाठ्य पुस्तकों में उपलब्ध क्यूआर कोड को देखने के तरीकों को बच्चों और पालकों को सिखाना। पालकों विशेषकर माताओं और बच्चों के लिए खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन। पढऩे में रूचि विकसित करने के लिए मुस्कान पुस्तकालय की पुस्तकों का वाचन। समुदाय के बीच जाकर गणित मेला का आयोजन कर बच्चों की प्रतिभा का प्रदर्शन। बच्चों द्वारा विज्ञान में कबाड़ से जुगाड़ आधारित प्रयोगों का प्रदर्शन। गांव में स्कूल की पढ़ाई के बार में प्रचार-प्रसार के लिए दीवार लेखन। समुदाय के लिए जन सहयोग के क्षेत्र की पहचान कर शाला द्वारा श्रमदान। शाला कार्यों में समय-समय पर सहयोग देने के लिए इच्छुक स्थाई पैनल से परिचय कराने के कार्यक्रम आयोजित किए जाएं। 

 

 

 


Date : 25-Jun-2019

एक नवम्बर तक ठोस अपशिष्ट के डिस्पोजल नियमों का पालन तय करें रायपुर निगम - एनजीटी

राज्य स्तरीय समिति की बैठक 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 25 जून।
राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) नई दिल्ली के निर्देशों पर नगरीय ठोस अपशिष्ट नियम, 2016 के पालन पर की जा रही कार्यवाही की समीक्षा के लिये गठित राज्य स्तरीय समिति की बैठक सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति धीरेन्द्र मिश्रा की अध्यक्षता में सोमवार को नवीन विश्राम गृह में हुई। 

श्री मिश्रा ने कहा कि इस नियम के पालन की जिम्मेदारी जिन विभागों को दी गई है वे उसे पूरी तरह निभाएं। रायपुर नगर निगम एक नवंबर तक ठोस अपशिष्ट के प्रबंधन के संबंध में जारी नियमों का अक्षरक्ष: पालन करना सुनिश्चित करें। उन्होंने बिलासपुर नगर निगम को 31 दिसंबर तक नियमों के तहत सभी व्यवस्थाएं पूर्ण करने के निर्देश दिए। 

उन्होंने सभी निर्माण एजेंसियों को निर्देशित किया कि वे किसी भी प्रकार का निर्माण करते समय नगरीय निकायों से अनुमति के समय ही निर्माण एवं विध्वंस अपशिष्ट के प्रबंधन पर एक्शन प्लान जमा करें। श्री मिश्रा ने रेलवे द्वारा कचरे के निष्पादन पर नियम के अनुसार कार्यवाही न किये जाने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि रेलवे प्रबंधन 15 जुलाई तक एक्शन प्लान जमा करे। उन्होंने रेलवे प्रबंधन को निर्देश दिया कि वे सोर्स पर ही कचरे का पृथककरण सुनिश्चित करें एवं कम्यूनिटी डस्टबिन सिस्टम को भी तत्काल हटायें। 
इसी प्रकार बैठक में एसईसीएल को भी कचरे के निस्पादन पर तत्काल कार्रवाई करते हुए कार्ययोजना जमा करने के निर्देश दिए गए। उन्होंने कहा कि एसईसीएल प्रबंधन खतरनाक ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की उचित व्यवस्था करें। बैठक में जीव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन के लिये संयुक्त उपचार सुविधा स्थापित किये जाने की प्रगति की समीक्षा की गई। 

बैठक में अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मण्डल, संगीता पी, अलरमेलमंगई डी, ए.एस. राठौर, प्रभारी सदस्य सचिव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

 


Date : 25-Jun-2019

शांति-सुरक्षा-विकास पर गृह विभाग की परिचर्चा 

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 25 जून। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने वर्तमान में छत्तीसगढ़ की नक्सल समस्या के समाधान के लिए राज्य शासन के प्रयासों का उल्लेख किया। उन्होंने नक्सल समस्या के समाधान के लिए उपयोगी रणनीति पर अपने सकारात्मक विचार व्यक्त कर परिचर्चा का शुभारंभ किया। 

गृह विभाग द्वारा आज नवीन विश्राम गृह रायपुर में नक्सल समस्या के समाधान हेतु शांति सुरक्षा-विकास के दृष्टिकोण पर गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू की अध्यक्षता में परिचर्चा का आयोजन किया गया। 
परिचर्चा में सिनर्जिया फाउंडेशन, बेंगलुरू के टॉबी साईमन, डॉ. अंशुमान बेहेरा तथा उपेन्द्र बघेल शामिल हुए। उनके द्वारा नक्सल समस्या के समाधान हेतु ‘शांति-सुरक्षा-विकास’ के मॉडल पर विभिन्न उग्रवाद-आतंकवाद ग्रस्त देशों में अपनाये गये मॉडल के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। 

मुख्य सचिव सुनील कुजूर के द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य के वर्तमान नक्सल परिदृश्य के संबंध में शासन के समस्त विभागों के समग्र प्रयासों का विवरण देते हुए नक्सल क्षेत्र में सभी प्रकार की योजनाओं के अधिक प्रभावी तरीके से क्रियान्वयन की आवश्यकता बताई गई। पूर्व मुख्य सचिव विवेक ढांड द्वारा बस्तर क्षेत्र के समुचित विकास हेतु ‘बस्तर विकास योजना’ की आवश्यकता बताई गई। 

अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह सी.के. खेतान द्वारा नक्सल प्रभावित इलाके में उपलब्ध संसाधनों का स्थानीय लोगों के हित में विवेकपूर्ण उपयोग किए जाने की आवश्यकता बताई गई। प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी द्वारा प्रदेश की प्रचुर वन संपदा का जनजातियों के हित में सदुपयोग के संबंध में अपने विचार व्यक्त किए गए। पुलिस महानिदेशक (नक्सल अभियान) गिरधारी नायक द्वारा बस्तर क्षेत्र में शांति एवं विकास हेतु सुरक्षा का वातावरण निर्मित करने की आवश्यकता बताई गई। 

पुलिस महानिदेशक डी.एम. अवस्थी द्वारा नक्सल समस्या के निदान हेतु विश्वसनीय पुलिसिंग के माध्यम से स्थानीय जनजातियों का विश्वास अर्जित करने की दिशा में छत्तीसगढ़ में तैनात सुरक्षा बलों द्वारा किए जा रहें प्रयासों का उल्लेखित किया गया। वरिष्ठ पत्रकार सुनील कुमार, दीपांकर घोष, रितेश मिश्रा, ज्ञानेन्द्र तिवारी तथा रश्मि द्रोलिया के द्वारा भी परिचर्चा में अपने विचार व्यक्त किए। 

 


Date : 25-Jun-2019

धान खरीदी एवं कस्टम मिलिंग की नीति की समीक्षा के लिए मंत्रि मंडलीय उप समिति का गठन 

रायपुर, 25 जून। राज्य शासन ने आगामी वर्ष में धान खरीदी एवं कस्टम मिलिंग की समीक्षा कर सुझाव देने के लिए खाद्य मंत्री मोहम्मद अकबर की अध्यक्षता में मंत्रि मंडलीय उप-समिति का गठन किया है। इसके अन्य सदस्य स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, संसदीय कार्य, कृषि एवं जैव प्रौद्योगिकी मंत्री रविन्द्र चौबे, उच्च शिक्षा मंत्री  उमेश पटेल होंगे। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के सचिव इस समिति के संयोजक होंगे। 

 

 


Date : 25-Jun-2019

सरपंच-पंच और शाला प्रबंधन समिति के सदस्य शाला  पर विशेष ध्यान दे - स्कूल शिक्षा मंत्री 

रायपुर, 25 जून। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने शालाओं के नवीन सत्र के शुभारंभ अवसर पर सभी सरपंच-पंच और शाला प्रबंधन समिति को पत्र लिखकर स्थानीय स्तर पर शाला के प्रबंधन विशेष ध्यान देने का आग्रह किया है। 
स्कूल शिक्षा मंत्री ने स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए नया सत्र प्रारंभ हो गया है। सभी के सहयोग से ही राज्य के विभिन्न भागों में स्कूलों का संचालन हो रहा है। हम सभी को मिलकर स्कूलों का संचालन करना है। विशेष ध्यान रखें कि स्कूलों के भवन, रख-रखाव और संसाधनों के साथ-साथ स्कूलों में बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलें। 

डॉ. सिंह ने कहा कि स्कूल में देखें कि किन-किन क्षेत्रों में सुधार या मरम्मत की आवश्यकता है। 
आंगन, परिसर, शौचालय, मैदान, फर्श एवं छत में मरम्मत का कार्य शीघ्र पूरा कराएं। आस-पास क्षेत्र के स्कूलों में प्रवेश लेने लायक बच्चों, शाला त्यागी और अप्रवेशी बच्चों को शाला में नियमित लाने के लिए स्थानीय स्तर पर आवश्यक प्रयास करें। उन्होंने कहा कि हमारा सतत् प्रयास है कि शाला में सभी बच्चों को समय पर पाठ्य-पुस्तकें, अभ्यास पुस्तिकाएं, गणवेश और अन्य सुविधाएं उपलब्ध हो और इनका कक्षा में नियमित उपयोग बच्चे कर सकें। विशेषकर अभ्यास पुस्तिकाओं पर लगातार काम हो। पालक अपने बच्चों द्वारा स्कूल में लिए जा रहे कार्यों को नियमित रूप से देखें और बच्चों को घर पर पढऩे के लिए प्रेरित करते रहे। माताओं को शाला में समय-समय पर उन्मुखीकरण कार्यक्रम में आमंत्रित कर बच्चों की पढ़ाई के बारे में टिप्स दिए जाए।  सभी सरपंच-पंच और शाला प्रबंधन समिति विभिन्न योजनाओं के लिए प्राप्त बजट का शाला सुधार में उपयोग प्राथमिकता से करें। 


Previous123456Next