छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456789...3132Next
23-Nov-2020 7:28 PM 13

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 23 नवम्बर। छत्तीसगढ़ के युवा नेता आदित्य भगत सोनाखान में आदिवासी समाज के एक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। छत्तीसगढ़ के प्रथम स्वाधीनता संग्राम सेनानी शहीद वीरनारायण सिंह की जन्मस्थली सोनाखान में उनकी जयंती पर होने वाले कार्यक्रम की तैयारी के लिए यह बैठक रखी गई थी। उल्लेखनीय है कि दस दिसंबर को शहीद वीरनारायण सिंह की जयंती है।

शहीद वीरनारायण सिंह की स्मृति में उनकी जयंती पर प्रतिवर्ष आदिवासी समाज द्वारा विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। इस संदर्भ में कल सोनाखान में बैठक रखी गई थी, जिसमें कार्यक्रम के संबंध में चर्चा हुई साथ ही अन्य विषयों पर भी रायशुमारी की गई।

इस अवसर पर आदित्य भगत ने शहीद वीर नारायण सिंह को याद करते हुए उन्हें गरीबों का मसीहा बताया। साथ ही उन्होंने कहा कि शहीद वीरनारायण सिंह गरीब आदिवासियों के उत्थान और उन्हें सामंतवादी व्यवस्था के शोषण से बचाने के लिये अंग्रेजों के सामने दीवार बनकर खड़े हो गये थे। शहीद वीर नारायण सिंह जी अंग्रेजों के खिलाफ आवाज उठाने वाले छत्तीसगढ़ के पहले क्रांतिकारी थे। उन्होंने कई अंग्रेज़ अफसरों को नाकों चने चबवा दिए थे। वे ऐसे महापुरुष थे जो आजीवन गरीब आदिवासियों की रक्षा व उत्थान हेतु समर्पित रहे।

आदित्य भगत ने अपने उद्बोधन के दौरान शहीद वीर नारायण सिंह जी की जन्मभूमि सोनाखान को स्मार्ट विलेज के तर्ज में विकसित करने की भी बात कही। बैठक में छत्तीसगढ़ प्रदेश के आदिवासी समाज उपाध्यक्ष एवं मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरण के सदस्य मोहित ध्रुव एवं प्रदेश पदाधिकारी आदिवासी कांग्रेस के महामंत्री जनक ध्रुव के साथ क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं व युवागण शामिल हुए।


23-Nov-2020 5:10 PM 20

रायपुर, 23 नवंबर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी रिसर्च डिपार्टमेंट अध्यक्ष इदरीस गांधी ने कहा है कि मंडी एक्ट में संशोधन भूपेश सरकार का किसानों के हितों संरक्षण की दिशा में सार्थक कदम है।

छत्तीसगढ़ की किसान हितैषी राज्य सरकार ने मोदी सरकार के किसान विरोधी काले कानून के खिलाफ मंडी संशोधन विधेयक पास किया है, इससे राज्य सरकार का नियंत्रण किसानों के उत्पादन को खरीदने के लिए आने वाली बड़ी-बड़ी कंपनियों पर हो सकेगा।

 नए कानून के तहत राज्य सरकार को ऐसी कंपनियों पर नियंत्रण कानूनी कार्यवाही निरीक्षण और सजा देने का भी प्रावधान होगा, जो एक सराहनीय कदम है।


23-Nov-2020 5:09 PM 19

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 23 नवंबर। धान कटाई-मिंजाई के साथ ही प्रदेश की सहकारी सोसायटियों में एक दिसंबर से धान खरीदी की तैयारी शुरू कर दी गई है। कई जगहों पर खरीदे गए धान रखने के लिए चबूतरे बनाए जा रहे हैं, और कई जगहों पर स्थल साफ-सफाई कराई जा रही है। कहीं-कहीं पर धान भूसा भी गिराए जा रहे हैं। ताकि किसानों से खरीदा धान सुरक्षित रह सके।

राजधानी रायपुर से लगे सेजबहार सहकारी समिति में धान खरीदी की तैयारी जारी है। यहां धान भूसा गिराकर चबूतरों की सफाई कराई जा रही है। समिति से जुड़े लोगों का कहना है कि यहां भी आसपास गांव के सैकड़ों किसान अपनी उपज लेकर समर्थन मूल्य में बिक्री के लिए पहुंचते हैं। ऐसे में उन्हें होने वाली दिक्कतों और खरीदे धान को सुरक्षित  रखने का इंतजाम शुरू कर दिया गया है। इसी तरह प्रदेश की और भी सहकारी सोसायटियों में धान खरीदी की तैयारी जारी है।

प्रदेश में फिलहाल धान की कटाई तेजी के साथ जारी है, और कई किसान उसकी मिंजाई भी करा रहे हैं। समर्थन मूल्य पर सहकारी सोसायटियों में खरीदी शुरू न होने से यह उपज किसान गौठानों में जमा कर भी रख रहे हैं। वहीं कई किसान त्योहारी खर्च और सेठ-साहूकारों का कर्ज चुकता करने उसकी औने-पौने दाम पर बिक्री भी कर रहे हैं। उनका कहना है कि समय पर धान खरीदी शुरू होने से उनकी दिक्कत कम हो सकती थी, लेकिन सरकार इस बार यह धान खरीदी एक दिसंबर से शुरू कर रही है।


23-Nov-2020 5:08 PM 14

रायपुर, 23 नवंबर। समाज सेवी संस्था भारतीय जैन संगठना द्वारा 21 नवंबर को आयोजित वर्चुअल म्यूजिकल नाईट एंड बीजेएस नेशनल एक्सीलेंस अवार्ड सेरेमनी में छत्तीसगढ़ से संस्था के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं युवा समाज सेवी पंकज चोपड़ा को बिजनेस डेवलपमेंट प्रोग्राम में आउटस्टैंडिंग कंट्रीब्यूशन के लिए  नेशनल एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया। 
कार्यकम में देश-विदेश से लगभग 1 हजार लोगों ने शिरकत की। इस अवसर सागर केंदुलकर, कविता मूर्ति एवं प्रशांत राव द्वारा प्रस्तुति दी गई। अवार्ड सेरेमनी का संचालन राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य एवं अवार्ड जूरी के चेयरमैन मुम्बई के पंकज सापरिया ने किया। 

 

 


23-Nov-2020 5:07 PM 24

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 23 नवंबर।
ट्रेड यूनियनों के संयुक्त मंच छत्तीसगढ़, देश के 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों और अन्य स्वतंत्र फेडरेशनों के राष्ट्रीय मंच ने केंद्र सरकार की मजदूर व किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ 26 नवंबर को देशव्यापी हड़ताल का ऐलान किया है। इस दौरान किसान-कामगार, संगठित-असंगठित क्षेत्र के हजारों मजदूर आंदोलन में शामिल होंगे। 

सीटू के सचिव धर्मराज महापात्र, इंटक अध्यक्ष संजय सिंह, बृजेन्द्र तिवारी, राकेश साहू, आरएस भट्ट व अन्य ट्रेड यूनियन नेताओं ने एक पत्रवार्ता में बताया कि केंद्र सरकार की मजदूर-किसान विरोधी नीतियों का लगातार विरोध किया रहा है। इस संबंध में उनकी कई दौर की बैठक भी हो चुकी है, जहां आंदोलन की रणनीति तैयार की गई है। उन्होंने श्रमिकों, किसानों और कृषि श्रमिकों के सभी वर्गों की एकजुटता का आह्वान किया है। 

उनकी मांगों में सभी गैर आयकरदाता परिवारों के लिए प्रति माह 75 सौ रुपये का नकद हस्तांतरण, सभी जरूरतमंदों को प्रति व्यक्ति प्रतिमाह 10 किलो मुफ्त राशन, ग्रामीण क्षेत्रों में एक साल में 200 दिनों का काम बढ़ी हुई मजदूरी पर उपलब्ध कराने के लिए मनरेगा का विस्तार शहरी क्षेत्रों में रोजगार गारंटी का विस्तार, सभी किसान विरोधी कानूनों और मजदूर विरोधी श्रम संहिता को वापस लेना प्रमुख रूप से शामिल हैं। 

इसके अलावा उन्होंने वित्तीय क्षेत्र सहित सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण को रोकने, रेलवे, आयुध कारखानों, बंदरगाह आदि जैसे सरकारी विनिर्माण उपक्रम और सेवा संस्थाओं का निगमीकरण बंद करने, सरकार और पीएसयू कर्मचारियों की समय से पहले सेवानिवृत्ति सर्कुलर वापस लेने, सभी को पेंशन देने, एनपीएस को खत्म करने और पहले की पेंशन को बहार करने की मांग भी रखी है। उन्होंने चेतावनी दी है कि आंदोलन के बाद भी उनकी मांगों पर विचार ना करने पर वे सभी आगे की रणनीति बनाने के लिए विवश होंगे। 
 


23-Nov-2020 4:55 PM 27

रायपुर, 23 नवंबर। आईआईआईटी स्टूडेंट ब्रांच एंड इंस्टीट्यूट इनोवेशन काउंसिल ऑफ आईआईआईटी-एनआर, ने पेटेन्ट एण्ड प्रेक्टिस ऑफ मॉडर्न साइन्स एण्ड टेक्नोलॉजी (आधुनिक विज्ञान और प्रौद्योगिकी के पेटेंट और प्रैक्टिस) से जुड़े सेमिनार्स/वेबिनार्स की एक श्रृंखला का आयोजन किया। अपने उद्घाटन भाषण में, आईआईआईटी नया रायपुर के वाइस चांसलर एवं डायरेक्टर डॉ. प्रदीप कुमार सिन्हा ने इन्टेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स और पेटेंट से सम्बन्धित जानकारी प्रदान करने के लिए समय निकालने के लिए वक्ताओं को धन्यवाद दिया। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि वर्तमान समय में, नवाचारों को बढ़ावा देने के लिए बौद्धिक सम्पदा अधिकारों और पेटेंट के बारे में ज्ञान महत्वपूर्ण है, जिसके बिना इनोवेटर अपने इनोवेशन के पूर्ण लाभों को प्राप्त करने में सक्षम नहीं होगा।

इस श्रंखला की पहली सेमीनार का आयोजन 11 नवम्बर, 2020 को किया गया जिसमें, छत्तीसगढ़ काउन्सिल ऑफ साइन्स एण्ड टेक्नोलॉजी (सीजीसीओएसटी) के साइन्टिस्ट ‘डी‘ए डॉ. अमित दुबे ने इन्ट्रोडेक्शन ऑफ इन्टेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स (आईपीआर) एण्ड पेटेन्टेबिलिटी क्रायटेरिया‘‘ पर चर्चा की। डॉ. अमित दुबे ने इन्ट्रोडेक्शन ऑफ  इन्टेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स एण्ड पेटेन्टेबिलिटी क्रायटेरिया की मूल बातों और फैकल्टीज और छात्रों के लिए आवश्यक महत्वों पर बात की।उन्होंने एक राष्ट्र की अर्थव्यवस्था पर बौद्धिक संपदा के प्रभाव और योगदान पर चर्चा की। उन्होंने यह भी चर्चा की कि कम्पनियां अपने पेटेंट, ट्रेडमार्क और कॉपीराइट कैसे लागू करती हैं। उन्होंने आईपीआर के कानूनी अधिकारों के तहत एक विचार या इनोवेशन की रक्षा करने के बारे में भी चर्चा की।


23-Nov-2020 4:42 PM 15

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 23 नवंबर। प्रदेश में कोरोना से कल 13 मौतें हुई हैं। इन सभी का अलग-अलग जगहों पर इलाज चल रहा था। इनके संपर्क में आने वालों की जांच-पहचान की जा रही है। दूसरी तरफ, इन मौतों को मिलाकर प्रदेश में कोरोना मौत के आंकड़े बढक़र 642 हो गए हैं।

बुलेटिन के मुताबिक जिन 13 मरीजों की मौत हुई है, इसमें दुर्ग संभाग से अर्जुना बालोद का 63 वर्षीय पुरूष, वार्ड-5 लवकुश नगर जामुल भिलाई दुर्ग का 74 वर्षीय पुरूष, प्रोफेसर कॉलोनी कवर्धा का 58 वर्षीय पुरूष एवं बिलासपुर संभाग से खामी मुंगेली का 32 वर्षीय पुरूष, मालखरौदा जांजगीर की 63 वर्षीय महिला, कोटमी डभरा जांजगीर का 83 वर्षीय पुरूष, मरवाही गौरेला पेंड्रा मरवाही का 65 वर्षीय पुरूष, बिलासपुर का 64 वर्षीय पुरूष, सीपत चौक सरकंडा बिलासपुर का 79 वर्षीय पुरूष, सुभाष चौक कोरबा का 60 वर्षीय पुरूष, ग्वालीनडीह सारंगढ़ की 55 वर्षीय महिला  शामिल हैं।

सरगुजा संभाग से मनेन्द्रगढ़ कोरिया का 72 वर्षीय पुरूष, महादेव टीकरा पत्थलगांव जशपुर का 65 वर्षीय पुरूष शामिल हैं। इन सभी का एम्स व अन्य जगहों पर इलाज चल रहा था। इसमें 1 की मौत कोरोना से एवं बाकी 15 की अन्य गंभीर बीमारियों के साथ कोरोना से मौत हुई हैं। स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण बना हुआ है और ठंड बढऩे पर इसका खतरा और बढ़ सकता है। ऐसे में लक्षण दिखने पर तुरंत कोरोना जांच कराएं।


23-Nov-2020 4:42 PM 18

मनरेगा और वन विभाग के अभिसरण से मसनिया पहाड़ पर लगाए गए हैं 25 हजार पौधे

रायपुर, 23 नवम्बर। प्राकृतिक संसाधनों, पारिस्थितिक तंत्र और जल, जंगल व जमीन को सहेजने में मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना) किस तरह महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है, यह देखना हो तो मसनिया पहाड़ पर उगाए गए पेड़ों के बीच खेलते-कूदते भालूओं के आनंददायक दृश्य का साक्षात्कार करना चाहिए। मनरेगा और वन विभाग की योजनाओं के अभिसरण से वहां न केवल पहाड़ को वृक्षों से आच्छादित किया गया है, बल्कि जल संरक्षण के लिए कई चेकडेम भी बनाए गए हैं। मानव और वन्य प्राणी के सह-अस्तित्व को मानवीय कोशिशों से मजबूत करने का नायाब उदाहरण है मसनिया पहाड़ और इसके आसपास के क्षेत्र में मनरेगा और वन विभाग से हुए काम।

जांजगीर-चांपा जिले के सक्ती विकासखंड के मसनियाकला और मसनियाखुर्द गांव से लगे मसनिया पहाड़ पर कुछ साल पहले तक हरियाली का नामो-निशान तक नहीं था। पेड़-पौधों से वीरान इस पहाड़ी पर खाने-पीने की कमी हुई तो भालू एवं अन्य वन्य प्राणी गांव की तरफ खींचे चले आए। नतीजतन भालू और ग्रामीण बार-बार आमने-सामने होने लगे जिससे कभी भालू तो कभी ग्रामीण घायल हुए। भूख के कारण भालू फसलों को भी नुकसान पहुंचाने लगे। इससे ग्रामीणों में भय व्याप्त रहने लगा और वे इस समस्या से निजात पाने का रास्ता तलाशने लगे।

गांववालों ने आपस में चर्चा कर भालूओं को पहाड़ एवं जंगल में ही संरक्षित करने की योजना बनाई। मसनियाकला ग्राम पंचायत और आश्रित गांव मसनियाखुर्द में ऐसे पौधे लगाने पर विचार किया गया जिससे कि भालूओं को जंगल में ही खाने को मिल जाए और वे गांव की तरफ न आए। इसके लिए मनरेगा और वन विभाग की योजनाओं के अभिसरण से पहाड़ पर वृक्षारोपण का रास्ता निकाला गया। वर्ष 2017-18 में अगले पांच वर्षों के लिए योजना तैयार कर इसे अमलीजामा पहनाया गया। लगभग 25 एकड़ जमीन पर मिश्रित पौधों का रोपण किया गया जिसमें सागौन, डूमर, खम्हार, जामुन, आम, बांस, शीशु, अर्जुन, केसियासेमिया और बेर के 25 हजार पौधे शामिल थे।

इस काम के लिए मनरेगा से 29 लाख 38 हजार रूपए स्वीकृत होने के बाद श्रमिकों ने अपनी सहभागिता निभाते हुए दुर्गम मसनिया पहाड़ी पर पौधे रोपने का काम शुरू किया। यह काम मुश्किल था क्योंकि पौधरोपण के बाद पानी की कमी के चलते अधिक समय तक वह जिंदा नहीं रह पाता था। पानी की समस्या को दूर करने मनरेगा और वन विभाग के अभिसरण से भूजल संरक्षण के लिए करीब दस लाख रूपए स्वीकृत किए गए। इस राशि से ब्रशवुड चेकडेम, गाडकर चेकडेम, बोल्डर चेकडेक और कंटूर ट्रेंच का निर्माण किया गया। श्रमिकों ने कड़ी मेहनत से लगातार पौधों को पानी देकर व फेंसिंग कर पौधों को सुरक्षित रखा।

अच्छी देखभाल से पौधे दो साल में ही वृक्ष की तरह लहलहाने लगे। वहां सागौन के 8015, डूमर के 2975, खम्हार के 1815, जामुन के 2445, आम के 2075, बांस के 1425, शीशु के 1245, अर्जुन के 1275, केसियासेमिया के तीन हजार तथा बेर के 730 पौधों को मिलाकर कुल 25 हजार पौधे रोपे गए। मजदूरों ने कांवर एवं डीजल पंप के माध्यम से इन पौधों की सिंचाई की। पौधों की सुरक्षा के लिए सीमेंट पोल चैनलिंक से 716 मीटर फेंसिंग की गई।

 


23-Nov-2020 4:40 PM 11

मौतें-642, एक्टिव-7195, डिस्चार्ज-37056

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 23 नवंबर। राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना मरीज 45 हजार आसपास पहुंच गए हैं। बुलेटिन के मुताबिक बीती रात मिले 323 नए पॉजिटिव के साथ इनकी संख्या बढक़र 44 हजार 893 हो गई है। दूसरी तरफ, इन सभी मरीजों में से 642 की मौत हो चुकी है। 7 हजार 893 एक्टिव हैं, जिनका अलग-अलग जगहों पर इलाज जारी है। 37 हजार 56 मरीज ठीक होकर अपने घर लौट गए हैं।

राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना की रफ्तार धीरे-धीरे बढऩे लगी है और नए पॉजिटिव अब 3 सौ पार होने लगे हैं। सर्दी बढऩे पर उनका यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। डॉक्टरों का मानना है कि लक्षण दिखने पर तुरंत कोरोना जांच कराएं। देर से अस्पताल पहुंचने पर दिक्कत हो सकती है, और कई बार जान को खतरा भी हो सकता है।

स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना की अलग-अलग जगहों पर सैंपल लिए जा रहे हैं। होटलों और बाजारों में भी आने-जाने वालों की जांच चल रही है और कहीं-कहीं से नए पॉजिटिव सामने आ रहे हैं। उनका कहना है कि कोरोना से बचाव के लिए हम सभी को नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है। खासकर सर्दी में संक्रमण का डर ज्यादा हो सकता है।


23-Nov-2020 4:25 PM 23

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 23 नवंबर।
कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की नवमीं तिथि सोमवार को आंवला नवमीं मनाई गई। जैतू साव मठ सहित शहर के उद्यानों में स्थित आंवला वृक्ष तले महिलाओं ने एकजुट होकर आंवला पेड़ की पूजा करके विधिवत पेड़ की परिक्रमा की और आंवला नवमीं की कथा सुनी।

जैतू साव मठ में विधिवत रूप से आंवला नवमीं मनाई गई। श्री नारायण लक्ष्मी को आंवला पेड़ तले चांदी के सिंहासन पर विराजित कर महिलाओं ने पूजा-अर्चना करने के पश्चात पेड़ की परिक्रमा की। कथा सुनने के बाद उन्होंने प्रसाद ग्रहण किया। आंवला नवमीं की पूजा करने आई प्रभा अग्रवाल ने बताया कि आंवला नवमीं में हर साल की तरह उन्होंने पूजा की और कथा सुनी। 

पं. चंद्रभूषण शुक्ला ने बताया कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की नवमी अक्षय नवमी या आंवला नवमी कहलाती है। इस दिन स्नान, पूजन, तर्पण तथा अन्न आदि के दान से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। इस दिन महिलाएं आंवला के पेड़ के नीचे बैठकर संतान की प्राप्ति व उसकी रक्षा के लिए पूजा करती हैं। आंवला नवमी के दिन आंवला के पेड़ के नीचे बैठकर भोजन करने की भी प्रथा है। इस दिन भगवान विष्णु के प्रिय आंवले के पेड़ की पूजा करने का विधान है।

मान्यता है कि कार्तिक शुक्ल नवमी से पूर्णिमा तक भगवान विष्णु आंवले के पेड़ पर निवास करते हैं। इसलिए इस दिन आंवले के पेड़ की पूजा की जाती है।
इस दिन आंवला पेड़ की पूजा-अर्चना कर दान पुण्य करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। अन्य दिनों की तुलना में नवमी पर किया गया दान-पुण्य कई गुना अधिक लाभ दिलाता है। मान्यता है कि आंवला पेड़ की पूजा कर 108 बार परिक्रमा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। पूजा-अर्चना के बाद खीर, पूड़ी, सब्जी और मिष्ठान्न आदि का भोग लगाया जाता है। 

इस दिन महिलाएं भी अक्षत, पुष्प, चंदन आदि से पूजा-अर्चना कर पीला धागा/मौलीधागा लपेट कर वृक्ष की परिक्रमा करती हैं। धर्मशास्त्र के अनुसार इस दिन स्नान, दान, यात्रा करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है।


23-Nov-2020 4:24 PM 18

मंत्री डॉ. डहरिया ने की पहल, कचरा बीनने वालों की जिंदगी बदल गई

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 23 नवम्बर।
एक बच्चे की मां गौरी सोनी की सुबह हमेशा कूड़े-कचरे के बीच होती थी। जब शाम का सूरज ढलने लगता था, तब वह कूड़े-कचरे की ढेर से निकलकर घर को लौटती थी। कमोवेश सुजाता साहू की जिंदगी भी गौरी जैसी ही थी। 

सूरज निकलने से पहले और अस्त होने के पहले पूरा दिन कचरों के ढेर में ही गुजर जाता था। एक ओर जहा सभी ओर दिन के उजाले होते थे लेकिन इनकी जिंदगी उजालों के बीच भी अंधेरों में रहने के समान थी। कचरों के ढेर में कुछ-कुछ सामान तलाशते-तलाशते अपनी दो जून की रोटी का जुगाड़ करना इनकी नियति बन गई थी। एक दिन प्रदेश के मुख्य सचिव आरपी मण्डल जब राजधानी के व्हीआईपी चौक से गुजर रहे थे, तब उनकी नजर कचरे के ढ़ेर में सामान तलाशते हुए महिलाओं पर पड़ी। कुछ महिलाएं अपने साथ बच्चे भी ली हुई थीं। उन्होंने अपनी कार रोकी और मैले कपड़े पहनी हुई कचरा बीनने वाली महिलाओं को अपने पास बुलाया। वे स्वयं भी कार से उतर गए और कचरा बीनने वालियों से उनके बारे में पूछने लगे। तब मुख्य सचिव श्री मण्डल ने उन्हें बताया कि राज्य शासन द्वारा आपके कल्याण के लिए योजना चलाई जा रही है। 

आप कब तक ऐसे ही कचरों में अपनी जिंदगी गुजारती रहोगी? काम सीखों और आत्म सम्मान के साथ जीना सीखों। कचरा बीनने वालों पर मुख्य सचिव की नजर, इनकी जिंदगी के लिए मानों एक नई उम्मीद की किरण और एक नया सबेरा लेकर आई। कुछ दिन बाद ही नगरीय प्रशासन विकास और श्रम मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया ने कचरा बीनने वाली महिलाओं से उनकी ही बस्ती के पास मुलाकात की। 

उन्होंने श्रम विभाग की योजना से जोड़ते हुए कचरा उठाने वाली गौरी यादव, सुजाता साहू सहित कई महिलाओं को सिलाई मशीन सहित अन्य जरूरत के सामान दिए। इनकी जिंदगी की नई सुबह की शुरुआत के बाद श्रम मंत्री डॉ. डहरिया की पहल इनकी अंधकारमय जिंदगी को नई रोशनी देने के साथ एक नई दिशा की ओर ले गई। उन्होंने इन कचरा बीनने वाली महिलाओं को श्रम विभाग की योजना से जोड़ते हुए इन्हें नुकसान से बचाने अपने ही हाथों से सभी को घर खर्च के लिए चेक भी दिए और सभी को सिलाई-कढ़ाई का अच्छे से प्रशिक्षण प्राप्त कर स्वरोजगार अपनाते हुए आत्मनिर्भर बनने और आत्मसम्मान के साथ जीने की सीख दी। आज लगभग दो महीने बाद गौरी, सुजाता सहित अन्य कई महिलाओं की परिस्थितियां बहुत बदल गई है। इनके हाथों में किसी के फेंके हुए कचरों के ढेर में समाई गंदगी नहीं बल्कि स्वच्छता और बीमारी से बचने का संदेश देने वाले हाथों से बनाएं मास्क, महिलाओं को सम्मान से जोडऩे वाला सलवार शूट, ब्लाऊज के परिधान के रुप में एक ऐसा हुनर भी है जो साफ-सुथरी भी है और धारण करने के योग्य है। 

रायपुर के सुभाष नगर इलाके में रहने वाली गौरी यादव ने बताया कि अब उनकी जिंदगी बदल चुकी है। कचरे के ढेर में अब वह नहीं जाती है। श्रम विभाग के माध्यम से मुझे 45 दिन का सिलाई का प्रशिक्षण मिला और नुकसान से बचाने प्रशिक्षण के साथ प्रतिदिन तीन सौ रुपए के मान से स्टायफंड भी मिला। उन्होंने बताया कि मंत्री डॉ. डहरिया सहित मुख्यसचिव आरपी मण्डल ने तब कहा था कि पुराने काम काज के बदले नया सम्मानजनक कार्य से उनके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आएगा। आज प्रशिक्षण के बाद मैं बहुत बदली हुई हूं। मैं गंदगी के ढ़ेर में कुछ काम का सामान तालाशती थी। उसे कबाड़ी में बेचकर जो रुपए मिलते थे उसी से घर चलता था। सुबह से लेकर शाम तक पूरा दिन कचरे के बीच ही गुजरता था। अब ऐसा नहीं है। मैंने मास्क सीले हैं और सलवार शूट, ब्लाऊज  भी सिलाई करना सीख लिया है। 
गौरी यादव का कहना है कि यह काम पहले से लाख गुना अच्छा है। बच्चों के साथ घर में रहकर सिलाई का काम किया जा सकता है। पहले कचरे में सिर्फ गंदगी ही मिलती थी, भूखे-प्यासे भटकना पड़ता था। 

धूप-बारिश हो, सभी दिन बस इधर-उधर भटकना पड़ता था। अब स्वच्छ रहकर साफ-सुथरे कपड़ों की सिलाई करते हैं। उनका कहना है कि आने वाले दिनों में उम्मीद है कि वे भी एक बेहतर भविष्य बना सकेंगी। इसी तरह सुजाता साहू का कहना है कि हमें मंत्री डॉ डहरिया और मुख्य सचिव सहित अधिकारियों ने जब भरोसा दिलाया कि सिलाई-कढ़ाई का प्रशिक्षण एक दिन उनकी जिंदगी बदल सकती है तब जाकर मैंने और मेरे साथ अनेक कचरा बीनने वाली महिलाओं ने कचरा बीनना छोडक़र नई राह को चुना है। 
 


23-Nov-2020 4:15 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 23 नवंबर।
गुनरस पिया फाउंडेशन द्वारा विगत दिवस 21वीं संगीत सभा आयोजित की गई। संगीत सभा में पुणे के दृष्टि बाधित कलाकार निनाद शुक्ला ने शास्त्रीय गायन की सुमधुर प्रस्तुति दी।

गुनरस पिया फाउंडेशन द्वारा विगत दिवस फेसबुक पेज पर आयोजित शास्त्रीय संगीत की 21वीं प्रात: कालीन सभा में इस बार मेवाती घराने के पद्मविभूषण पं. जसराज के शागिर्द डॉ.विजय साठे के शिष्य दृष्टि बाधित कलाकार निनाद शुक्ला ने सबसे पहले-राग गुर्जरी तोड़ी में, विलंबित एकताल में मेरी अखियन की, तत्पश्चात ताल-त्रिताल में छोटा ख्याल प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम संयोजक दीपक व्यास ने बताया कि श्रोताओं द्वारा निनाद शुक्ला की गायकी को भरपूर सराहना मिली।
 


23-Nov-2020 4:09 PM 22

रायपुर, 23 नवंबर। उत्तर विधायक एवं गृह निर्माण मंडल अध्यक्ष  कुलदीप जुनेजा की पहल मानव सेवा ही माधव सेवा पर कपड़ा व्यवसायी तलरेजा परिवार द्वारा अमरजीत भगत खाद्य मंत्री की विशेष उपस्थित में पंडरी कुष्ठ बस्ती में कंबल व अन्य गर्म कपड़ों का वितरण किया गया। इस अवसर पर कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष एवं एल्डरमैन सुनील भुवाल, रमेश यादव सहित कई कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
 


23-Nov-2020 4:08 PM 21

रायपुर, 23 नवंबर। राज्यपाल  अनुसुईया उइके से राजभवन में पूर्व अंतर्राष्ट्रीय कराते खिलाड़ी, शिएको काई कराते अकादमी हर्षा साहू ने सौजन्य मुलाकात की।
राज्यपाल ने कहा कि आप बेटियों को जो आत्म रक्षा करने का प्रशिक्षण दे रही है वह सराहनीय है। राज्यपाल ने कहा कि वर्तमान समय में बेटियों को अपनी आत्मरक्षा का प्रशिक्षण अवश्य लेना चाहिए। इससे महिलाओं में एक आत्मविश्वास आएगा और असामाजिक तत्वों का मजबूती से सामना करेंगी। साथ ही उनके प्रति हो रही घटनाओं में भी कमी आएगी। इस अवसर पर राज्यपाल ने श्रीमती हर्षा साहू को शॉल व प्रतीक चिन्ह प्रदान कर सम्मान किया। श्रीमती हर्षा ने बताया कि विगत वर्षों में उनके द्वारा  छात्राओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया है। चलती ट्रेन व सूनसान जगह पर घटना होने पर असामाजिक तत्वों से कैसे निपटा जाए यह भी सिखाया गया है।
 


23-Nov-2020 4:07 PM 22

गुढिय़ारी की सौ से अधिक महिलाओं का हुआ इलाज

रायपुर, 23 नवंबर। मुख्यमंत्री शहरी एवं स्वास्थ्य योजना के अंतर्गत शुरू हुए दाई दीदी क्लीनिक योजना के तहत आज गुढिय़ारी पहाड़ी चौक की 100 से अधिक महिलाओं ने अपना इलाज कराया तथा सरकार के प्रति अपना आभार आभार प्रदर्शन किया। महिलाओं ने बताया कि दाई दीदी क्लीनिक योजना की एंबुलेंस में किशोरी बालिकाओं एवं महिलाओं के लिए सभी प्रकार की उपचार की सुविधा उपलब्ध है।

महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों ने बताया कि 22 नवंबर  को गुढिय़ारी पहाड़ी चौक में दाई दीदी क्लीनिक के अंतर्गत 12 गर्भवती माताओं, 21 किशोरी बालिकाओं सहित 100 से अधिक महिलाओं का इलाज कर स्वास्थ्य सुविधाएं दी गई, जिसमें 38 महिलाओं का शुगर जांच बीपी चेकअप ब्लड टेस्ट किया गया एवं एक महिला का ईसीजी भी किया गया। 

आज के इस दाई दीदी क्लीनिक में वार्ड पार्षद सुंदरलाल जोगी,  श्रीकुमार मैनन की उपस्थिति में कार्यक्रम  शुभारंभ किया गया। जिसमें आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिका मितानिनों ने विशेष सहयोग  दिया।

गुडिय़ारी पर्यवेक्षक रीता चौधरी ने बताया कि इस दीदी क्लीनिक में किशोरी बालिकाओं व महिलाओं के लिए सर्वसुविधायुक्त एंबुलेंस उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि सभी प्रकार की बीमारियों जैसे शुगर,बीपी की दवाइयां भी दी गई जिससे महिलाएं उत्साहित हुई। क्योंकि दाई दीदी क्लीनिक उनके घर तक पहुंच कर महिला चिकित्सकों द्वारा इलाज किया जा रहा है। सभी मरीजों के द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। सभी ने मास्क का उपयोग किया छत्तीसगढ़ सरकार व जिला प्रशासन की अनूठी व उपयोगी पहल है। 
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता प्रतिमा गजभिए, नंदा रामटेके, जया सेना, मौसमी साहू द्वारा गर्भवती माताओं, किशोरी बालिकाओ व महिलाओं को दाई दीदी क्लीनिक में लाकर स्वास्थ्य जांच व ब्लड टेस्ट कराया गया और दवाइयां सहित अन्य सभी सुविधाओं के लिए मदद व समझाईश दी गई।
 


22-Nov-2020 5:59 PM 20

रायपुर, 22 नवंबर। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने वरिष्ठ पत्रकार आर. कृष्णा दास के पिता के. राम दास के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। राज्यपाल ने उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है और उनके शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने वरिष्ठ पत्रकार आर. कृष्णा दास के पिता  के. राम दास के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। श्री बघेल ने के.राम दास के शोकसंतप्त परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।


22-Nov-2020 5:58 PM 21

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 22 नवंबर। व्यापारी एकता पैनल के अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी और चेम्बर अध्यक्ष प्रत्याशी योगेश अग्रवाल प्रचार के लिए दुर्ग पहुंचे। वहां उन्होंने एक होटल में दीवाली मिलन कार्यक्रम में शिरकत की।

 एकता पैनल के प्रवक्ता ललित जैसिंघ और दिनेश अठवानी ने कार्यक्रम का ब्यौरा देते हुए बताया कि वहां स्थानीय व्यापारियों ने एक स्वर में श्रीचंद सुंदरानी को समर्थन देने का वादा किया।  इस बार भी व्यापारी एकता पैनल के प्रचंड मतों से विजयी होने का विश्वास जताया। अपने संबोधन में सुंदरानी ने कहा-कि व्यापारी वर्ग की हर समस्या मेरी अपनी समस्या है, मैं सबसे पहले व्यापार धर्म निभाऊंगा। वे खुद एक व्यापारी परिवार से हैं।

 जीएसटी लागू होने के बाद मुख्यमंत्री रमनसिंह के सहयोग से केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल से हमने व्यापार हित में 4 सौ संशोधन करवाए,जो तत्काल प्रभाव से लागू भी हुए। जय व्यापार पैनल के प्रमुख अमर पारवानी का नाम लिए बिना कहा कि वे राष्ट्रीय संस्था कैट में रहकर कुछ भी न कर पाने से उनका मनोबल गिरा है, अब वे चेम्बर में गुटबाजी करने के उद्देश्य से चुनाव लडऩा चाहते हैं, जिनकी अपनी कोई उपलब्धि नहीं है। मैं व्यापार हित में राजनीति को प्रभावित करता हूं। मैंने कभी चेम्बर में जाति को हावी होने नहीं दिया।

कार्यक्रम में दुर्ग इकाई प्रमुख अशोक राठी,संरक्षक राम खत्री, संरक्षक विनीत जैन, नरेश तेजवानी, पारूमल, किशोर जैन, नवल अग्रवाल, दीपक चोपड़ा, दिनेश टावरी, धीरज बाकलीवाल, पार्षद अमर बंसल, रतनलाल, गुप्ता, महावीर अग्रवाल आदि सैकड़ों व्यापारी प्रतिनिधियों ने प्रमुख रूप से भागीदारी निभाई।

व्यापारी एकता पैनल की ओर से प्रमुखत:अध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरानी, अध्य्क्ष पद प्रत्याशी योगेश अग्रवाल, चैम्बर ऑफ कॉमर्स के संरक्षक संजय रूंगटा, रमेश मिरघानी, राजेश वासवानी, विनय बजाज, पार्षद अमर बंसल, मदन जैन, नितिकेश बरडिया, संजय कानूगा, सुदेश मंध्यान, मोहन होतवानी, राहुल खूबचंदानी प्रमुख रूप से शामिल हुए।

 


22-Nov-2020 5:56 PM 15

रायपुर, 22 नवम्बर। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार राज्य में फोटोयुक्त निर्वाचक नामावली के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण का कार्य शुरू 16 नवम्बर से शुरू हो गया है। छत्तीसगढ़ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि एक जनवरी 2021 की स्थिति में मतदाता सूची का पुनरीक्षण किया जा रहा है। मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 15 जनवरी 2021 को किया जाएगा।

इस विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के तहत नए मतदाता अपना नाम जुड़वा सकते हैं। आयोग द्वारा मतदाता सूची के पुनरीक्षण के लिए जारी कार्यक्रम के अनुसार 16 नवंबर को विस्तृत मतदाता सूची का प्रकाशन कर दिया गया है। 16 नवंबर से 15 दिसंबर तक दावा या आपत्ति प्रस्तुत की जा सकेगी। प्राप्त दावों एवं आपत्तियों का निराकरण 5 जनवरी 2021 तक किया जाएगा। संशोधन एवं नए नाम जोडऩे के बाद 15 जनवरी 2021 को अंतिम रूप से पुनरीक्षित फोटोयुक्त निर्वाचक नामावली का प्रकाशन किया जाएगा। ऐसे युवा जो एक जनवरी 2021 की स्थिति में 18 साल की आयु पूर्ण कर रहे हैं, वे अपना नाम जुड़वाने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इसके लिए वे भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाइट नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल (एनवीएसपी) में जाकर आनलाइन आवेदन कर सकते हैं।


22-Nov-2020 5:55 PM 22

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 22 नवंबर। राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना मरीज साढ़े 44 हजार तक पहुंच गए हैं। बुलेटिन के मुताबिक बीती रात मिले 273 नए पॉजिटिव के साथ इनकी संख्या बढक़र 44 हजार 570 हो गई है। दूसरी तरफ, इन सभी मरीजों में से 642 की मौत हो चुकी है। 6 हजार 999 एक्टिव हैं, जिनका अलग-अलग जगहों पर इलाज जारी है। 36 हजार 929 मरीज ठीक होकर अपने घर लौट गए हैं।

राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना की रफ्तार अब बढऩे लगी है और नए पॉजिटिव का आंकड़ा 3 सौ की तरफ बढऩे लगी है। सर्दी बढऩे पर उनका यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। डॉक्टरों का मानना है कि लक्षण दिखने पर तुरंत कोरोना जांच कराएं। देर से अस्पताल पहुंचने पर दिक्कत बढ़ सकती है, और उनकी यह देरी जान पर भी भारी पड़ सकती है।

स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना की नियमित जांच चल रही है। अब होटलों और बाजारों में आने-जाने वालों की भी जांच की जा रही है। जांच में कहीं-कहीं से नए पॉजिटिव सामने आ रहे हैं। उनका कहना है कि हम सभी को नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है। खासकर सर्दी में खुद सतर्क होकर अपना बचाव करें। इस समय संक्रमण बढऩे का खतरा ज्यादा रहेगा।


22-Nov-2020 5:54 PM 31

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 22 नवंबर। प्रदेश में कोरोना से कल 16 मौतें हुई हैं। इन सभी का अलग-अलग जगहों पर इलाज चल रहा था। इनके संपर्क में आने वालों की जांच-पहचान की जा रही है। दूसरी तरफ, इन मौतों को मिलाकर प्रदेश में कोरोना मौत के आंकड़े बढक़र 642 हो गए हैं।

बुलेटिन के मुताबिक जिन 16 मरीजों की मौत हुई है, इसमें रायपुर संभाग से सराईपाली महासमुंद का 68 वर्षीय पुरूष, बसना महासमुंद का 75 वर्षीय पुरूष, बलौदाबाजार का 65 वर्षीय पुरूष, आमापारा रायपुर का 72 वर्षीय पुरूष,  गोंडवारा रायपुर की 42 वर्षीय महिला, दुर्ग संभाग से बेमेतरा की 40 वर्षीय महिला, राजनांदगांव का 60 वर्षीय पुरूष, चिरपानी राजनांदगांव की 70 वर्षीय महिला, केम्प-2 भिलाई दुर्ग की 56 वर्षीय महिला, गंजपारा बालोद का 63 वर्षीय पुरूष शामिल हैं।

बिलासपुर संभाग से केवाली खरसिया रायगढ़ का 66 वर्षीय पुरूष, असमुडा तमनार रायगढ़ का 77 वर्षीय पुरूष, आरएसएस नगर कोरबा का 77 वर्षीय पुरूष, रतनपुर बिलासपुर का 74 वर्षीय पुरूष एवं सरगुजा संभाग से बतौली अंबिकापुर का 55 वर्षीय पुरूष शामिल हैं।

इन सभी का एम्स, रायपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल व अन्य जगहों पर इलाज चल रहा था। इसमें 1 की मौत कोरोना से एवं बाकी 15 की अन्य गंभीर बीमारियों के साथ कोरोना से मौत हुई हैं। स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण बना हुआ है और ठंड बढऩे पर इसका खतरा और बढ़ सकता है। ऐसे में लक्षण दिखने पर तुरंत कोरोना जांच कराएं।


Previous123456789...3132Next