छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456Next
Posted Date : 25-Apr-2019
  • हादसों का डर, हटाने की मांग
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    लोकसभा चुनाव निपटने के बाद भी निगरानी टीम की ओर से आउटरों में लगाए गए बेरीकेड्स-पोस्टर सड़कों पर ही पड़े हुए हैं, जिससे हादसे का डर बना हुआ है। लोगों ने काम खत्म होने के बाद ऐसे बेरीकेड्स को हटाने की मांग की है, ताकि आवागमन में असुविधा न हो। लोकसभा चुनाव के समय शहर के बोरियाखुर्द, महादेव घाट समेत सभी आउटरों में स्थैतिक निगरानी दल तैनात किए गए थे। यह दल  शहर आने-जाने वाली चारपहिया व अन्य वाहनों की जांच में लगी रही। प्रदेश में अब चुनाव निपट चुका है और दल चले गए हैं, लेकिन उनके लगाए बेरीकेड्स बीच सड़कों पर ही हैं, जिससे दोपहिया-चारपहिया व अन्य वाहन चालकों को हादसों का डर बना हुआ है। उन्होंने बिना काम के पड़े बेरीकेड्स को सड़कों से उठाने की मांग की है। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    26 अप्रैल को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अमेठी लोकसभा क्षेत्र-37 में दो सभाएं बरसण्डा बाजार शुकुल, तिरहुत बल्दिराय सुल्तानपुर और रायबरेली लोकसभा क्षेत्र-36 में दो सभाएं सरावां, ब्लाक अमांवा और सांगो ब्लाक बछरावां को संबोधित करेंगे। 

    उत्तर प्रदेश कांग्रेस द्वारा जारी किए गए कार्यक्रम के अनुसार प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लखनऊ से हेलीकॉप्टर द्वारा 11 बजे रवाना होकर 11.40 बजे अमेठी पहुंचेंगे और 11.40 बजे अमेठी पहुंचकर बरसण्डा बाजार शुकुल में सभा को संबोधित करेंगे। दोपहर 1 बजे तिरहुत बल्दिराय सुल्तानपुर पहुंचकर सभा को संबोधित करेंगे। दोपहर 3 बजे रायबरेली लोकसभा क्षेत्र के सरावां, ब्लाक अमांवा में सभा को संबोधित करेंगे और शाम 5 बजे सांगो ब्लाक बछरावां पहुंचकर वहां भी सभा को संबोधित करेंगे। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • भाठागांव प्याऊ घर में भारी गंदगी, मक्खी-मच्छर
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    गर्मी बढऩे के साथ ही शहर में जगह-जगह प्याऊ घर खुलने लगे हैं और लोग वहां जाकर अपनी प्यास भी बुझा रहे हैं, लेकिन भाठागांव सड़क किनारे के सार्वजनिक प्याऊ घर में पानी और बीमारी साथ-साथ मिलेगी। वहां रखे गए मटकों में पानी तो भरा हुआ है, लेकिन बाहर मक्खी-मच्छर भिनभिना रहे हैं। ऐसे में कई लोग बिना प्यास बुझाए वहां से लौट रहे हैं। 
    भाठागांव सार्वजनिक प्याऊ घर में पहुंच रहे लोगों का कहना है कि जिस किसी ने भी प्याऊ घर खोला है या राहगीरों के लिए पीने के पानी का इंतजाम किया है, यह अच्छा काम है। लेकिन वहां की सफाई भी जरूरी है। भारी गर्मी में सड़कों पर आने-जाने वाले लोग प्याऊ घर देखकर वहां ठहरते हैं, लेकिन वहां भारी गंदगी देखकर वापस लौट जाते हैं। 
    वहीं कई प्यासे लोग गंदगी के बाद भी वहां का पानी पीकर आगे बढ़ रहे हैं, जिससे उनके बीमार होने का डर बना हुआ है। 
    लोगों ने मांग की है कि शहर में खुलने वाले हर प्याऊ घरों में पीने के पानी के साथ पर्याप्त सफाई हो। ऐसा न होने पर समाजसेवी संस्थाओं या मोहल्लेवासियों की ओर से पुण्य के काम के लिए खोले प्याऊ घर से बीमारी फैलना तय है। लोग गंदगी के बीच वहां का पानी पीकर बीमार अवश्य होंगे। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • गंदगी से लोग परेशान, सफाई की मांग
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    गर्मी बढऩे के साथ ही महादेवघाट स्थित खारुन नदी एवं शहर के तालाबों में आवारा भैंसों की जमघट शुरू हो गई है। ये भैंसे वहां घंटों पानी में तैरती रहती हैं और बाहर निकलकर वहां घाट-आसपास गंदगी फैला रही हैं, जिससे वहां निस्तारी के लिए पहुंच रहे लोग परेशान हैं। उन्होंने नदी-घाट दोनों की सफाई की मांग की है। 
    निगम की दूध डेयरी हटाओ अभियान के बाद भी शहर की कई छोटी-बड़ी कालोनियों और बस्तियों में अभी भी दूध डेयरियां चल रही हैं। डेयरी संचालक वहां एक से डेढ़ दर्जन भैंस, गाय रखकर दूध बेच रहे हैं। दूसरी ओर सुबह-शाम इन जानवरों को खटाल से छोड़ रहे हैं, जिसकी वजह से सड़कों से लेकर नदी-तालाब तक गंदगी फैल रही है। लोग पहले की तरह दूध डेयरी शहर से बाहर करने की मांग लगातार कर रहे हैं, पर निगम की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।

    गर्मी के दिनों में नहाने और निस्तारी के लिए महादेव घाट स्थित खारुन नदी व तालाबों में पहुंच रहे लोगों का कहना है कि शहर की सड़कों पर आवारा मवेशियों की अक्सर जमघट लगी रहती है। वहीं नदी-तालाबों में भी उनकी जमघट कम नहीं हो रही है। खासकर गर्मी के दिनों में भैंसे घंटों नदी-तालाबों में तैरते हुए वहां गंदगी फैला रही हैं। ऐसे में उन्हें प्रदूषित पानी से बीमारी फैलने का डर बना हुआ है। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • सामाजिक और प्रशासनिक समन्वय से बाल-विवाह रोकथाम के प्रयास
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    वैवाहिक मौसम और आगामी अक्षय तृतीया के त्योहार में बाल विवाह की संभावना को ध्यान में रखते हुए प्रदेश में बाल विवाह रोकथाम केे प्रयास तेज हो गए हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग ने छत्तीसगढ़ में पिछले 4 वर्षों में लगभग एक हजार 377 बाल विवाह रोकने में सफलता पाई है। इस वर्ष भी महिला एवं बाल विकास विभाग ने समन्वित प्रयास और समाजिक सहयोग से बाल विवाह रोकने की तैयारी कर ली है। 

    मंत्रालय स्थित महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बाल विवाह रोकथाम के लिए सभी जिलों के कलेक्टर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, जिला और जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकरी सहित विभागीय जिला अधिकारियों को विस्तृत दिशानिर्देश जारी कर दिये गए हैं। निर्देश में बताया गया है कि बाल विवाह एक कानूनन अपराध है। बाल विवाह करने वाले वर एवं वधु के माता-पिता,सगे-संबंधी, बाराती यहां तक कि विवाह कराने वाले पुरोहित पर भी कानूनी कार्यवाही की जा सकती है। इसके लिए अधिकारियों को पटवारी,कोटवार, शिक्षकों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं ग्राम स्तरीय शासकीय अमले से का सहयोग लेने कहा गया है। प्रत्येक ग्राम या ग्राम पंचायत में विवाह पंजी संधारित कर क्षेत्र में होने वाले सभी विवाह को पंजीबद्ध करने कहा गया है। राजस्व विभाग के समन्वय से शतप्रतिशत विवाह पंजीयन सुनिश्चित करने कहा गया है।अधिकारियों ने बताया कि बाल विवाह के कारण बच्चों में कुपोषण, शिशु-मृत्यु दर एवं मातृ-मृत्युदर के साथ घरेलू हिंसा में भी वृद्धि देखी गई है। 

    अक्षय तृतीया पर अधिक विवाह होते हैं, इस समय बाल विवाह होने के संभावना अधिक होती है। बाल विवाह की जानकारी और रोकथाम के लिए प्रशासन के साथ-साथ सामाजिक भागीदारी भी जरूरी है। इसके लिए विभिन्न प्रचार माध्यमों जैसे गांव में मुनादी,दीवार पर नारा लेखन, पॉम्पलेट्स, रैली, वाद-विवाद और निबंध प्रतियोगिता के माध्यम से जन जागरूगता का अभियान चलाया जाएगा । अभियान के माध्यम से लोगों को बाल विवाह के दुष्प्रभाव के प्रति जागरूक किया जाएगा जिससे अधिक से अधिक लोग इस सामाजिक बुराई के रोकथाम में सहयोग करें। अधिकारियों ने बताया कि बाल विवाह की सूचना ग्राम सरपंच, पंचायत सचिव,ग्राम के शिक्षक, कोटवार, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से दी जा सकती है। 
    इसमें किशोरी बालिकाओं और बालिका समूहों की अहम भूमिका हो सकती है। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    राजधानी में राजस्थानी परिवार बंजारा जीवन जीते हुए शहर के अलग-अलग स्थलों में डेरा डालकर छोटा-मोटा कारोबार करते रहते हैं। हालांकि इन कारोबारियों में ज्यादातर कारोबारी निरक्षर हैं लेकिन  इनकी व्यवसायिक सूझबूझ अनुकरणीय है। क्रिसमस से पहले ये दिल्ली जैसी बड़े शहरों से खरीदी करके सांताक्लॉज के परिधान, गणतंत्र दिवस के पहले तिरंगा और नए साल में चाइनीज गुब्बारा की बिक्री करते हैं। मूल रूप से राजस्थान के रहवासी शहर के आसपास डेरा डालकर परिवार सहित प्लास्टर और पेरिस की सजावटी मूर्तियां, सॉफ्ट टॉयज बनाने का काम भी करते हैं।

    चुनावी दौर में राफेल के मुद्दे से अंजान मेकाहारा के सामने इन दिनों राजस्थानी कारोबारी हवाई जहाज बेच रहे हैं। कारोबारियों ने बताया कि उन्होंने दिल्ली से हवाई जहाज के कलपुर्जे लाएं हैं। इन कलपुर्जों को जोडऩे का काम उनके बच्चे कर रहे हैं। उनके बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं लेकिन हवाई जहाज के कलपुर्जे जोडऩे में माहिर हंै। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • रायपुर, 26 अप्रैल। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा शुक्रवार, 26 अप्रैल से गुरूवार 2 मई तक चौबे कालोनी स्थित विश्व शान्ति भवन में विशेष राजयोग अनुभूति शिविर आयोजित किया गया है। शिविर में राजयोग मेडिटेशन का व्यवहारिक अभ्यास कराया जाएगा।

    उक्त शिविर प्रतिदिन दो सत्रों में होगा जिसका समय सुबह 7.00 से 8.30 बजे और शाम को 7.00 से 8.30 बजे रखा गया है। प्रतिभागियों को दोनों में से किसी एक सत्र में भाग लेना होगा। प्रवेश नि:शुल्क रहेगा। 
    शिविर में भाग लेने वालों के लिए शिविर स्थल पर निर्धारित समय से आधा घण्टा पहले पंजीयन की व्यवस्था की गई है। किन्तु ब्रह्माकुमारी उर्मिला दीदी के शिविर में भाग लेने वालों को पुन: पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं होगी। शिविर मे सात दिनों तक सुबह और शाम आत्मानुभूति, परमात्मानुभूति, कर्मों की गहन गति, भारत के उत्थान और पतन की कहानी, राजयोग अनुभूति और समय की पहचान आदि विषयों पर व्याख्यान होगा। इस शिविर में राजयोग का गहन अभ्यास कराया जाएगा जो कि शरीर के अनेक घातक रोगों जैसे हृदयरोग, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, डिप्रेशन आदि के निवारण में बहुत ही लाभदायक सिद्घ हुआ है। 

    आजकल जीवन के हर क्षेत्र में जिस तरह से नित नई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, उसके परिणाम स्वरूप तनावजन्य परिस्थितियॉं भी बढ़ती जा रही हैं। 
    ऐसे वातावरण में कार्य करते हुए शान्ति की गहन अनुभूति करने, कर्मों में कुशलता लाने तथा मानसिक तनाव से मुक्ति प्राप्त कर सन्तुलित जीवन जीने की कला सीखने के लिए राजयोग का अभ्यास बहुत लाभकारी सिद्घ हुआ है।

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    नान घोटाले-फोन टैपिंग प्रकरण में फंसे निलंबित डीजी मुकेश गुप्ता गुरूवार को ईओडब्ल्यू दफ्तर पहुंचे। उनसे दो घंटे से अधिक समय तक पूछताछ हुई। 
    निलंबित डीजी मुकेश गुप्ता के खिलाफ तीन प्रकरण दर्ज किए गए हैं। उन्हें निलंबन के बाद पुलिस मुख्यालय अटैच किया गया, लेकिन  वे दफ्तर नहीं आ रहे थे। वे अपने खिलाफ दर्ज प्रकरण को लेकर हाईकोर्ट भी गए हैं। हाईकोर्ट ने उन्हें जांच में सहयोग देने के लिए कहा है। कोर्ट के आदेश के बाद ईओडब्ल्यू की नोटिस पर गुप्ता सुबह करीब साढ़े 11 बजे ईओडब्ल्यू दफ्तर पहुंचे। वहां मीडिया का मजमा लगा रहा। 

    गुप्ता जैसे ही वहां पहुंचे। पुलिस कर्मियों ने उन्हें सैल्युट किया और फिर मीडिया की तरफ मुखातिब होते हुए कहा कि आपने पहले भी मेरा काम देखा है और अब भी जो हो रहा है वह देख रहे हैं। इसके बाद वे अपने वकील के साथ अंदर चले गए। सूत्रों के मुताबिक फोन टैपिंग प्रकरण में करीब दो दर्जन से अधिक सवालों की सूची तैयार की गई थी। कहा जा रहा है कि उन्होंने सवालों के जवाब भी दिए। 

    गुप्ता से पूछताछ की रिकॉर्डिंग भी कराई गई है। मुकेश गुप्ता के खिलाफ पूर्व गृहमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता ननकी राम कंवर ने भी शिकायत की है। इसकी जांच अलग से डीजी गिरधारी नायक कर रहे हैं। नायक को तीन महीने के भीतर रिपोर्ट देने के लिए कहा गया था। समय सीमा पूरी हो चुकी है, लेकिन उन्होंने अपनी रिपोर्ट नहीं दी है। कहा जा रहा है कि वे जल्द ही इसको लेकर जवाब दे सकते हैं। 

    बताया गया कि गुप्ता के अलावा उनके स्टेनो रेखा नायर से भी पूछताछ चल रही है। रेखा नायर के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के साथ-साथ फोन टैपिंग का प्रकरण भी दर्ज किया गया है। रेखा नायर के बंगले में भी जांच-पड़ताल हुई है। साथ ही उनकी संपत्ति खंगाली जा रही है। उन्होंने मीडिया में जांच एजेंसी के खिलाफ टिप्पणी की थी। इसको लेकर उन्हें नोटिस भी जारी किया गया है। 

     

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • अस्पतालों में बढ़ी मरीजों की भीड़ 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 मार्च।
    प्रदेश में सुबह से झुलसनभरी गर्म हवा चलती रही और लोग दिनभर भारी गर्मी से बेहाल रहे। दोपहर में सडक़ों और बाजारों में भीड़ कम रही। बिलासपुर, रायपुर में सबसे अधिक 42 डिग्री के आसपास तापमान दर्ज किया जा रहा है। मौसम विभाग का मानना है कि आने वाले एक-दो दिनों में दिन का तापमान बढक़र 44 डिग्री पर पहुंच सकता है। कहीं-कहीं लू की संभावना भी बनी रहेगी। 

    प्रदेश में बदली-बारिश के बाद अब भारी गर्मी शुरू हो गई है। उत्तरी हवा और चक्रवात आदि के असर से पिछले साल की तुलना में फिलहाल गर्मी थोड़ी कम है, लेकिन आने वाले दिनों में यह गर्मी और ज्यादा बढ़ेगी। मौसम विभाग के मुताबिक हवा की दिशा बदलकर पश्चिमी हो गई है और वहां से झुलसाने वाली गर्म हवा आ रही है। दूसरी ओर उत्तर भारत से थोड़ी नमीयुक्त हवा आ रही हैं, पर उसका असर कम है। बिलासपुर में कल दिन का तापमान सबसे अधिक 42.4 डिग्री रहा। रायपुर-41.9, पेंड्रारोड-40.0, अंबिकापुर-38.6 व जगदलपुर-38.5 डिग्री दर्ज किया गया था। रात  का तापमान रायपुर, जगदलपुर में 28.0 डिग्री के आसपास रहा। बाकी शहरों में 25.0 डिग्री के आसपास रिकॉर्ड किया गया। रात का यह तापमान सामान्य से दो-तीन डिग्री अधिक था। 

    दूसरी ओर भारी गर्मी के चलते अंबेडकर समेत सरकारी-निजी अस्पतालों में उल्टी, दस्त, बुखार, सिरदर्द आदि के मरीज बढऩे लगे हैं। खासकर बीमार लोगों के साथ बच्चों और बुजुर्गों की हालत खराब होने लगी है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से गर्मी से बचाव के लिए सलाह दिए जा रहे हैं। डॉक्टर भी बीमार लोगों को गर्मी से बचाव के बारे में बता रहे हैं। सडक़ों पर चल रहे लोग गर्मी से बचाव के लिए गमछा-छतरी का सहारा ले रहे हैं। समाजसेवी संस्थाएं प्याऊ घर खोलने में लगे हैं, ताकि राह चलते लोगों को पीने के पानी के लिए कहीं भटकना न पड़े। 
    मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अप्रैल को भारी गर्मी का महीना माना जाता है। इस बार बदली-बारिश के चलते गर्मी थोड़ी कम है, लेकिन एक-दो दिनों में यहां गर्मी और ज्यादा बढ़ेगी। इसके बाद कहीं-कहीं लू की स्थिति बन सकती है। फिलहाल कहीं लू जैसी स्थिति नहीं बनी है, क्योंकि उत्तर भारत से हल्की ठंडी हवा आ रही है। 

     

     

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • हादसों का डर, हटाने की मांग

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    लोकसभा चुनाव निपटने के बाद भी निगरानी टीम की ओर से आउटरों में लगाए गए बेरीकेड्स-पोस्टर सडक़ों पर ही पड़े हुए हैं, जिससे हादसे का डर बना हुआ है। लोगों ने काम खत्म होने के बाद ऐसे बेरीकेड्स को हटाने की मांग की है, ताकि आवागमन में असुविधा न हो। 

    लोकसभा चुनाव के समय शहर के बोरियाखुर्द, महादेव घाट समेत सभी आउटरों में स्थैतिक निगरानी दल तैनात किए गए थे। यह दल  शहर आने-जाने वाली चारपहिया व अन्य वाहनों की जांच में लगी रही। प्रदेश में अब चुनाव निपट चुका है और दल चले गए हैं, लेकिन उनके लगाए बेरीकेड्स बीच सडक़ों पर ही हैं, जिससे दोपहिया-चारपहिया व अन्य वाहन चालकों को हादसों का डर बना हुआ है। उन्होंने बिना काम के पड़े बेरीकेड्स को सडक़ों से उठाने की मांग की है। 

     

     

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 25 अप्रैल। शादी के सीजन में इन दिनों पर्रा, सूप से लेकर पगड़ी, मौर की मांग के कारण बाजार गुलजार हैं। व्यवसायियों ने ग्रामीण ग्राहकों के साथ-साथ शहरी ग्राहकों का खास ध्यान रखा है। 

    गोलबाजार की दुकानों में सभी समुदाय से जुड़े विवाह संबंधी सामान उपलब्ध हैं। दिल्ली, जयपुर, इंदौर की खूबसूरत पगड़ी के अलावा जरी, मोतियों की माला उपलब्ध है। इसकी कीमत 2 सौ रुपये से लेकर 5 सौ रुपये तक है। ग्रामीण क्षेत्र में छीन की मौर के अलावा उड़ीसा में प्रचलित मोतियों की लड़ी से युक्त सेहरा के अलावा मोतियों से अलंकृत मौर भी मौजूद हैं। 
    सलीम भाई रंगोली व्यवसायी ने बताया शादी के सीजन में बाजार इन दिनों गुलजार है। शादी में इस्तेमाल होने वाली हर चीज को उन्होंने जुटा रखा है। सौ से ढाई सौ रुपये तक की कटार से लेकर उ.प्र., बिहार में प्रचलित सिंधोरा उनकी दुकान में मौजूद है। शादी की खरीदी के लिए मुरा गांव के बिसेलाल यादव और उनकी पत्नी बेटे के लिए मौर, पगड़ी के अलावा अन्य सामान खरीदी के लिए गोल बाजार पहुंचे। 

    व्यवसायी शत्रुधन गुप्ता ने बताया कि पगड़ी की बिक्री के अलावा वह इन दिनों अपने हाथों से बने मंडप भी बेच रहे हैं। शत्रुधन कहते हैं खाली समय में दुकान में बैठे मंडप तैयार कर लेता हूं। सजावट के आधार पर इसे सौ से 4 सौ रुपये जोड़ी बेच रहा हूं। 

    गोलबाजार में सूप, टोकरी की बिक्री कर रहे धमतरी के विदेश सोरी ने बताया कि इन दिनों टोकरी सूप, पर्रा की मांग बहुत ज्यादा है। चकोटा का पहले बहुत ज्यादा चलन था लेकिन दिनों-दिन इसकी मांग कम होती जा रही है। 

    कुम्हारी से शादी के सामान की खरीदी के लिए गोलबाजार पहुंचे सियाराम ने बताया कि उनकी लडक़ी की शादी है। शादी का सामान कुम्हारी में भी मिल जाता है लेकिन रायपुर में सारा सामान मिल जाता है।  राधा-रानी श्रृंगार दुकान में शादी के रीति-रिवाजों को ध्यान में रखकर आकर्षक ढंग से सजाई गई टोकरी, सूप और नारियल उपलब्ध हैं। दुकानदार ने बताया कि पिछले चार महीनों से ये सारी चीजे तैयार की जा रही थीं। शादी में आजकल आकर्षक ढंग से सजे हुए कलश से लेकर नारियल की मांग है। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • स्कूटी की डिक्की से नगदी-जेवर चोरी, पूछताछ
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 मार्च
    । शंकर नगर में एक युवक के बैंक एकाउंट से फिर 87 हजार रुपये पार हो गया। अज्ञात व्यक्ति ने अपने को बैंक कर्मी बताकर रीडिंग प्वाइंट देने के बहाने उसके क्रेडिट कार्ड का नंबर पूछा और कुछ ही देर में उसके एकाउंट से रकम पार हो गया। दूसरी ओर खमतराई में खड़ी स्कूटी की डिक्की से 45 हजार नगदी, जेवर, मोबाइल व अन्य सामान चोरी चली गई। पुलिस दोनों घटनाओं में मामला दर्ज कर पूछताछ कर रही है। आरोपियों का पता नहीं चल पाया है। 

    पुलिस के मुताबिक इंद्रप्रस्थ कालोनी डीडी नगर का मदन नायक(31)परसों किसी काम से अरोग्य अस्पताल शंकर नगर गया था, तभी उसके मोबाइल पर एक अपरिचित नंबर से फोन आया। पूछने पर उसने अपने को एसबीआई बैंक कर्मी बताया और रीडिंग प्वाइंट देने के बहाने युवक से उसके क्रेडिट कार्ड का नंबर पूछ लिया। युवक ने बैंक से फोन समझ कर सब कुछ बता दिया। कुछ देर बाद उसके एकाउंट से 87 हजार रुपये पार होने का मैसेज आया। युवक ने इसकी रिपोर्ट बीती रात सिविल लाइन पुलिस में दर्ज करायी। पुलिस एसएमएस के आधार पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर पूछताछ में लगी है। 

    दूसरी घटना खमतराई की है। संतोषी नगर खमतराई की एक महिला वर्षा भोंसले(35)परसों कुछ सामान खरीदने वहां के जीटी काम्पलेक्स गई थी। इस दौरान उसकी स्कूटी काम्पलेक्स के बाहर खड़ी रही। वह कुछ देर बाद जब सामान खरीदकर वापस स्कूटी के पास पहुंचीं, तो उसे डिक्की में रखे 45 हजार नगदी, एक मोबाइल,  सोने की झुमका, अंगूठी व कागजात गायब मिले। पुलिस करीब 65-70 हजार की चोरी मानकर पूछताछ में लगी है। आरोपी पकड़ से बाहर हैं। पुलिस का कहना है कि वाहन की डिक्की से यह सब कुछ कैसे पार हुआ, यह पता नहीं चल पा रहा है, क्योंकि उसकी चाबी महिला के पास थी और डिक्की बंद थी। फिर भी पुलिस जांच में जुटी है। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 25 अप्रैल। लोकसभा चुनाव के तहत मतदाताओं को प्रोत्साहित करने आयोजित की गई सेल्फी प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए शुक्रवार 26 अप्रैल तक मतदाता अपनी प्रविष्टी भेज सकते हैं। 23 अप्रैल को प्रदेश में तीसरे चरण के लिए सात लोकसभा क्षेत्रों में मतदान संपन्न हो गया। तीनों चरणों में सभी मतदान केन्द्रों में ‘वोटर सेल्फी जोन‘ स्थापित किए गए थे। प्रतियोगिता में प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र से 25 उत्कृष्ट सेल्फियों को  पुरस्कृत किया जाएगा। इसमें उन्हीं सेल्फियों को शामिल किया जाएगा, जो अपनी प्रविष्टी मतदान के तीन दिनों के भीतर भेजेंगे।

    लोकसभा निर्वाचन के दौरान प्रदेश के सभी मतदान केन्द्रों के बाहर सेल्फी जोन स्थापित किया गया था। प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए मतदाता को अपने बायें हाथ की तर्जनी उंगली में लगी अमिट स्याही दिखाते हुए वोटर सेल्फी पोस्टर के साथ सेल्फी लेकर भेजना है।  

    मतदाता, सेल्फी खींचकर उसे अपने मतदाता परिचय पत्र क्रमांक के साथ विधानसभा क्षेत्र एवं लोकसभा क्षेत्र का नाम एवं क्रमांक अंकित करते हुए 26 अप्रैल 2019 तक अपने ट्वीटर हैंडल पर प्तष्टद्धद्धड्डह्लह्लद्बह्यद्दड्डह्म्द्धङ्कशह्लद्गह्य टैग करें अथवा फेसबुक अकाउंट से  ञ्चष्टश्वह्रष्द्धद्धड्डह्लह्लद्बह्यद्दड्डह्म्द्ध  पर पोस्ट करेंगे अथवा ई-मेल  ष्द्दद्गद्यद्गष्ह्लद्बशठ्ठह्यद्गद्यद्घद्बद्गष्शठ्ठह्लद्गह्यह्लञ्चद्दद्वड्डद्बद्य.ष्शद्व में भेज सकते हैं।

    प्रत्येक लोकसभा से 25 उत्कृष्ट सेल्फी का चयन कर आकर्षक पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। इसमें भाग लेने के लिए मतदाता को सेल्फी-मतदान दिवस पर मतदान केन्द्र के समीप स्थापित ‘सेल्फी पोस्टर के समक्ष ही खींची गई सेल्फी भेजनी होगी। अमिट स्याही युक्त तर्जनी अंगुली दिखाते हुए सेल्फी लेनी होगी। प्रतियोगिता में सेल्फी ही मान्य होगी अर्थात् स्वयं के द्वारा खींची गई मौलिक फोटो होनी चाहिए। 

     उल्लेखनीय है कि मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री सुब्रत साहू की विशेष पहल पर मतदाताओं में मतदान के प्रति जागरूकता लाने और मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए ‘वोटर सेल्फी जोन‘ की शुरूआत की गई है।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल। आर्ट होम की ओर से रविन्द्र भवन मोतीबाग में आयोजित ग्रीष्म कालीन महिला एवं बाल चित्रकला, हस्तकला प्रशिक्षण शिविर में नेहा अशफालिया द्वारा इन दिनों सिपोरेक्स ब्लॉक कार्विंग प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 

    प्रशिक्षिका नेहा अशफालिया ने बताया कि सिपोरेक्स ब्लॉक कार्विंग  कला की आधुनिक विधा है। इसमें एएसी फोम सीमेंट के ब्लॉक का उपयोग किया जाता है। जो कि वजन में हल्के होते हैं। इसे औजारों के माध्यम से तराश कर मनचाही कलाकृति तैयार की जाती है। वर्तमान में इस कला को कलाप्रेमी बेहद पसंद कर रहे हैं। कलाकृति बनाने के लिए सबसे पहले सिपोरेक्स ब्लॉक टाइल्स को आवश्यकतानुसार निर्धारित आकार में लेकर, उन पर फ्री हैंड ड्राइंग बनाई जाती है। जिसके बाद विभिन्न आकार के औजारों द्वारा इस पर कार्विंग की जाती है। इसके बाद इस पर एक्रेलिक तथा ऑयल कलर से पेंट किया जाता है। तैयार हुए ब्लॉक को एक बोर्ड पर ग्लू से चिपकाया जाता है। एक कलाकृति को बनाने दो से तीन दिन लगते हैं। सिपोरेक्स ब्लॉक पर ज्यादातर वास्तु से संबंधित डिजाइन बनाए जाते हैं। वर्तमान में इन्टीरियर में इसकी खासी मांग है।  

     

     

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 25 अप्रैल।
    एन. बैजेन्द्र कुमार, आईएएस, सीएमडी, एनएमडीसी ने आज एनएमडीसी की द्वितीय सुस्थिरता रिपोर्ट जारी किया। इस अवसर पर एनएमडीसी के कार्यकारी निदेशक डॉ. टीआरके राव निदेशक पीके सतपथी, निदेशक एवं अमिताभ मुखर्जी, निदेशक तथा एनएमडीसी के वरिष्ठ अधिकारी एवं थींकस्टेप सस्टैनबिलिटी सलूशन प्राइवेट लिमिटेड के अधिकारी उपस्थित थे। 

    एनएमडीसी ने लौह अयस्क गवेषण तथा खनन के क्षेत्र में तथा अपने परियोजनाओं के आसपास सामाजिक परिवर्तन लाने और पर्यावरण संरक्षण के लिए समग्र रूप से एक उत्तरदायित्व कार्पोरेट नागरिकता के नाते अग्रणी योगदान किया है। भारत सरकार के फ्रेमवर्क एवं एमओयू के दिशानिर्देशानुसार संगठन में आवश्यक रूप ट्रिपल बाटम लाईन के प्रमुख सिद्धांत संगठन में रचे-बसे हैं। सुस्थिरता सिद्धांत पर पैनी नजर रखते हुए तथा प्रणाली, प्रक्रियाओं तथा निष्पादन मैंट्रीक्स में अंत: स्थापित किया है। एनएमडीसी ने सुस्थिरता विकास की अपनी इस यात्रा में तेजी लाने के लिए ग्लोब्ल, रिपोर्टिंग पहल (जीआरआई) मानकों के अनुसार वित्तीय वर्ष 2017-18 की समीक्षा अवधि के लिए अपनी द्वितीय वार्षिक सुस्थितरता रिपोर्ट प्रकाशित की है। 

    एन बैजेन्द्र कुमार सीएमडी ने अपने संबोधन में इस द्वितीय सुस्थिरता रिपोर्ट तैयार करने के लिए एनएमडीसी टीम को बधाई दी और कहा कि विश्लेषण, ज्ञानार्जन के लिए मूल्य सृजन में सहायता मिलेगी। पी के सतपथी, निदेशक ने कहा कि एनएमडीसी अपने परियोजनाओं के आसपास सुस्थिरता के प्रति प्रतिबद्ध है तथा आर्थिक, पर्यावरण एवं सामाजिक उद्देश्यों की दीर्घावधि विकास पूर्ति के लिए एक संतुलित नीति का कार्यन्वयन किया है। इस सुस्थिरता रिपोर्ट में वैज्ञानिक रूप से खनन करने, सामाजिक दायित्व, जलवायु संरक्षण, जैव विविधता संरक्षण तथा आर्थिक विकास आदि के क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित किया गया है। 

     

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • रायपुर, 26 अप्रैल। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा शुक्रवार, 26 अप्रैल से गुरूवार 2 मई तक चौबे कालोनी स्थित विश्व शान्ति भवन में विशेष राजयोग अनुभूति शिविर आयोजित किया गया है। शिविर में राजयोग मेडिटेशन का व्यवहारिक अभ्यास कराया जाएगा।
    उक्त शिविर प्रतिदिन दो सत्रों में होगा जिसका समय सुबह 7.00 से 8.30 बजे और शाम को 7.00 से 8.30 बजे रखा गया है। प्रतिभागियों को दोनों में से किसी एक सत्र में भाग लेना होगा। प्रवेश नि:शुल्क रहेगा। 
    शिविर में भाग लेने वालों के लिए शिविर स्थल पर निर्धारित समय से आधा घण्टा पहले पंजीयन की व्यवस्था की गई है। किन्तु ब्रह्माकुमारी उर्मिला दीदी के शिविर में भाग लेने वालों को पुन: पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं होगी। शिविर मे सात दिनों तक सुबह और शाम आत्मानुभूति, परमात्मानुभूति, कर्मों की गहन गति, भारत के उत्थान और पतन की कहानी, राजयोग अनुभूति और समय की पहचान आदि विषयों पर व्याख्यान होगा। 
    इस शिविर में राजयोग का गहन अभ्यास कराया जाएगा जो कि शरीर के अनेक घातक रोगों जैसे हृदयरोग, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, डिप्रेशन आदि के निवारण में बहुत ही लाभदायक सिद्घ हुआ है। 
    आजकल जीवन के हर क्षेत्र में जिस तरह से नित नई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, उसके परिणाम स्वरूप तनावजन्य परिस्थितियॉं भी बढ़ती जा रही हैं। ऐसे वातावरण में कार्य करते हुए शान्ति की गहन अनुभूति करने, कर्मों में कुशलता लाने तथा मानसिक तनाव से मुक्ति प्राप्त कर सन्तुलित जीवन जीने की कला सीखने के लिए राजयोग का अभ्यास बहुत लाभकारी सिद्घ हुआ है।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • रायपुर, 25 अप्रैल। संभागायुक्त जी. आर. चुरेन्द्र ने रायपुर संभाग के सभी जिलों में विभिन्न मदों के अंतर्गत निर्मित पुराने, जीर्ण-शीर्ण एवं जर्जर भवनों का निपटारा या विनिष्टीकरण करने के निर्देश दिए है। संभागायुक्त ने सभी जिलों के कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, वन मंडलाधिकारी एवं जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर उनके जिलों में स्थित पुराने, जीर्ण-शीर्ण एवं जर्जर भवनों का निपटारा अथवा विनिष्टीकरण 15 जून तक पूरा करने को कहा है। 

    श्री चुरेन्द्र ने कहा है कि जिलों में विभिन्न विभागों के अंतर्गत विभिन्न मदों से बने हुए विभिन्न प्रकार के भवन, स्कूल भवन, कार्यालय भवन आदि काफी जर्जर एवं जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है जिससे कभी भी हादसा होने की आशंका है। उन्होंने कहा कि विभिन्न विभागों के अंतर्गत जीर्ण-शीर्ण एवं जर्जर तथा विनिष्टीकरण योग्य भवनों की सूची बनाई जाए। मरम्मत योग्य पुराने भवनों की सूची अलग से बनाई जाए। यह कार्य 8 मई तक पूर्ण कर ली जाए। भवनों के विनिष्टीकरण हेतु तकनीकी आंकलन के लिए प्रत्येक विकासखंड में कम से कम दो तकनीकी दल गठित किए जाए। 

    आंकलन के समय भवनों की वीडियोग्राफी, फोटोग्राफी भी कराई जाए। तकनीकि दल के अभिमत के आधार पर भवनों को नष्ट करने के संबंध में निर्णय लिया जाना चाहिए। तकनीकी दल द्वारा भवनों के विनिष्टीकरण हेतु दिए गए प्रस्ताव या अभिमत का अनुमोदन जनपद पंचायत एवं जिला पंचायत की सामान्य सभा से करवाने के पश्चात् इन भवनों का विनिष्टीकरण किया जाए। इन भवनों में लगी हुई सामग्री, पुराने ईट, खिडक़ी-दरवाजा, बल्ली तथा अन्य सामग्री को नीलामी के माध्यम से निपटारा करने की कार्रवाई जनपद पंचायत या तहसीलदार के माध्यम से कराई जाए। 
    संभागायुक्त ने इस संबंध में की गई प्रारंभिक कार्रवाई का प्रतिवेदन 15 मई तक भेजने के निर्देश दिए हैं। 

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • रायपुर, 25 अप्रैल। रायपुर लोकसभा क्षेत्र के लिए 23 अप्रैल को हुए मतदान के शांतिपूर्ण और सफल आयोजन के लिए कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ.बसवराजु एस. ने सभी मतदाताओं सहित निर्वाचन कार्य से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े सभी अधिकारी-कर्मचारी, पुलिस व सुरक्षा बल के जवान, राजनीतिक दलों व अभ्यर्थियों तथा प्रिन्ट और इलेक्ट्रानिया मीडिया प्रतिनिधियों का आभार जताया है। गौरतलब है कि रायपुर लोकसभा के लिये 13 लाख 93 हजार 210 मतदाताओ ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है वहीं इस निर्वाचन में 12 हजार 500 अधिकारी-कर्मचारी जुड़े रहे।

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 

    खरोरा, 25 अप्रैल। बुधवार दोपहर को खरोरा पशु चिकित्सा केंद्र के सामने शासकीय दवाइयों से भरी हुई कार में आग लग गई और देखते ही देखते कार जलकर खाक हो गई। घटना में पशु चिकित्सा विभाग की लाखों रुपए की दवाइयां खाक हो गई।

    कल दोपहर करीब 12 बजे खरोरा पशु चिकित्सा केंद्र के सामने यहां के पशु चिकित्सा क्षेत्राधिकारी डॉ. सीएल देवांगन की सफेद रंग की कार सीजी 04  एच ई 1100 में पशु चिकित्सा केंद्र खरोरा से डेरोकसन इंजेक्शन के कार्टून बेलदार सिवनी सेंटर ले जाने के लिए रख रहे थे। अचानक कार में आग लग गई व कार जलने लगी, जिससे कार में रखे हुए दवाई के कार्टून भी पूरी तरह से जल गए। वार्ड पार्षद व आसपास के लोगों की मदद से पास का ही बोर को चालू करके आग को बुझाने का प्रयास किया गया, लेकिन आग से पशु चिकित्सा विभाग की लाखों रुपए की दवाइयां खाक हो गई।

     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 24 अप्रैल।
    बदली-बारिश के बाद प्रदेश में अब भारी गर्मी शुरू हो गई है और पारा 42 डिग्री को पार करने लगा है। दूसरी ओर भारी गर्मी से लोग हलाकान होने लगे हैं और गर्मी से बचाव के लिए सड़कों पर गमच्छा या छतरी का सहारा लेने लगे हैं। मौसम विभाग का कहना है कि   आने वाले दिनों में प्रदेश में गर्मी और बढ़ेगी और तापमान 45 डिग्री के आसपास पहुंच सकता है। 

    प्रदेश में भारी गर्मी के साथ बुधवार को दोपहर 2.30 बजे बिलासपुर का तापमान 42.0 डिग्री दर्ज किया गया। रायपुर का तापमान 41.2 डिग्री रहा। इसी तरह बाकी शहरों में भी दिन के तापमान बढ़ोत्तरी दर्ज की जाती रही। कल रायपुर का तापमान 40.8 डिग्री था। 

    अंबिकापुर-37.9, बिलासपुर-41.6, पेंड्रारोड-39.3 डिग्री एवं जगदलपुर-37.5 डिग्री दर्ज किया गया था। रात का तापमान 21.0 से 25.0 डिग्री के आसपास दर्ज किया जा रहा है। संभावना व्यक्त की जा रही है कि आने वाले दिनों में दिन और रात के तापमान में और वृद्धि होगी। 

    दूसरी ओर भारी गर्मी का असर सड़कों और बाजारों में दिखने लगा है। खासकर दोपहर में इन जगहों पर भीड़ कम होने लगी है। लोग गर्मी से बचने घरों और दफ्तरों में एसी, कूलर का सहारा ले रहे हैं। सड़कों पर चलने वाले लोग चेहरों पर गमच्छा बांधकर चल रहे हैं या छतरी का सहारा ले रहे हैं। उनका कहना है कि अपै्रल के तीसरे हफ्ते में शुरू हुई गर्मी आगे और बढ़ेगी। 

    मौसम वैज्ञानिक पीएल देवांगन का कहना है कि उत्तरी छत्तीसगढ़ में एक चक्रवात बना हुआ है, जहां से मध्य छत्तीसगढ़ में हल्की नमी आ रही है। चक्रवात के चलते उत्तरी छत्तीसगढ़ में कहीं-कहीं बादल के साथ छींटे पड़ सकते हैं। बाकी रायपुर, बिलासपुर समेत मध्य छत्तीसगढ़ में भारी गर्मी जारी रहेगी। आने वाले तीन-चार दिनों में तापमान बढऩे के साथ स्थानीय प्रभाव से कहीं-कहीं बादल भी आ सकते हैं। आज रायपुर-बिलासपुर के तापमान में कल की तुलना में बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है। 

     

  •  



Previous123456Next