छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456789...121122Next
18-Jun-2021 7:49 PM (13)

बचेली/किरंदुल, 18 जून। इंडस्ट्रियल ग्लोबल यूनियन द्वारा आयोजित स्वास्थ्य और सुरक्षा पर दक्षिण एशिया वेबीनार में मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन (इंटक) की बचेली शाखा के श्री तोमनश्री, रंजीत परीक्षा, दीनानाथ तिवारी तथा किरंदुल शाखा के अरविंद गुप्ता ने हिस्सा लिया। इस वेबीनार में दक्षिण एशियाई देशों के 120 ट्रेड यूनियन कार्यकर्ता और अंतरराष्ट्रीय श्रमिक संगठन और इंडस्ट्रियल ग्लोबल यूनियन के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। बैलाडीला क्षेत्र से इंटक के सदस्यों को नामित करने पर राष्ट्रीय अध्यक्ष, राष्ट्रीय महामंत्री व प्रदेश अध्यक्ष का आभार जताया।

ज्ञात हो कि इंडस्ट्रियल ग्लोबल का मुख्यालय जिनेवा में है और यह खनन, ऊर्जा और विनिर्माण क्षेत्रों में 140 देशों के 50 मिलियन श्रमिकों का प्रतिनिधित्व करता है और दुनिया भर में बेहतर कामकाजी परिस्थितियों और ट्रेड यूनियन अधिकारों के लिए लड़ाई लडऩे वाली एक वैश्विक ताकत है।  मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष अभय  सिंह,  महामंत्री आशीष यादव, ए.के.सिंह, देवाशीष पॉल, पी.एल.साहू., पूरन सिंह जायसवाल, दिलीप सिंह, बी.एल.तारम, एल. रमेश, पुष्पलता साहू,  चंद्रकुमार मंडावी, युवा इंटक के जिलाध्यक्ष संतोष कुमार व अन्य ने बचेली एवं किरंदुल से इंटक के सदस्यों को अंतरराष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम में नामित किये जाने के लिए इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष  डॉ. जी. संजीवा रेड्डी और राष्ट्रीय महामंत्री व प्रदेश अध्यक्ष संजय कुमार सिंह को धन्यवाद देते हुए आभार व्यक्त किया है।

तथा आशा व्यक्त की है कि भविष्य में भी बैलाडीला के श्रमिकों को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रमों में भाग लेने का अवसर मिलेगा।


18-Jun-2021 7:46 PM (15)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 18 जून। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण और रोकथाम के लिए किए गए प्रभावी उपायों से प्रदेश में संक्रमण की स्थिति में लगातार सुधार आ रहा है। अभी प्रदेश में संक्रमण की दर गिरकर मात्र 1.29 प्रतिशत पर पहुंच गई है। वहीं रिकवरी दर बढक़र अब 98 प्रतिशत हो गई है।

कोरोना से होने वाली मौतें भी थम रही हैं। पिछले एक सप्ताह के दौरान 76 लोगों की मृत्यु हुई है, जिनमें कोमोरबिडिटी वाले 34 मरीज भी शामिल हैं। राज्य में कोरोना से बचाव के टीके की पहली और दूसरी खुराक को मिलाकर अब तक (17 जून तक) 74 लाख 33 हजार 759 टीके लगाए जा चुके हैं। प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक के नागरिकों के लिए अभी 19 लाख 42 हजार 890 तथा 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिए एक लाख 79 हजार 580 टीके उपलब्ध हैं।

प्रदेश के 25 जिलों में अभी संक्रमण दर 0.28 प्रतिशत से लेकर 2.89 प्रतिशत के बीच है। केवल कोरबा में 3.03 प्रतिशत, गरियाबंद में 3.46 प्रतिशत और बीजापुर 4.59 प्रतिशत में ही संक्रमण की दर इससे अधिक है। कोरोना से होने वाली मौतें भी काफी कम हो गई हैं। प्रदेश भर में बीते सप्ताह के दौरान 11 जून को 15, 12 जून को 11, 13 जून को 6, 14 जून को 17, 15 जून को 8, 16 जून को 12 और 17 जून को केवल 7 मौतें हुई हैं।

राज्य में कोरोना से बचाव के टीके की पहली और दूसरी खुराक को मिलाकर अब तक (17 जून तक) 74 लाख 33 हजार 759 टीके लगाए जा चुके हैं। स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 45 वर्ष से अधिक तथा 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के कुल 62 लाख 30 हजार 957 लोगों को टीके की पहली खुराक और 12 लाख दो हजार 802 नागरिकों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है।

केंद्र सरकार से स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स एवं 45 वर्ष से अधिक के नागरिकों के लिए प्रदेश को कुल 83 लाख 28 हजार 070 टीके प्राप्त हुए हैं। राज्य सरकार की मांग पर 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिए टीका निर्माता कंपनियों द्वारा अभी तक 12 लाख 51 हजार 420 टीकों की आपूर्ति की गई है। प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक के नागरिकों के लिए अभी 19 लाख 42 हजार 890 तथा 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिए एक लाख 79 हजार 580 टीके उपलब्ध हैं।


18-Jun-2021 7:45 PM (13)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 18 जून। राज्य शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम) के अंतर्गत शिकायतों की स्वतंत्र व निष्पक्ष जांच एवं सुनवाई के लिए 14 नए लोकपालों की नियुक्ति की गई है। इन 14 लोकपालों के प्रादेशिक क्षेत्राधिकार में 23 जिलों को शामिल किया गया है। नव नियुक्त लोकपालों द्वारा संबंधित जिला मुख्यालयों में पदभार ग्रहण कर लिया गया है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी नियुक्ति आदेश के अनुसार इन लोकपालों की नियुक्ति दो वर्षों की अवधि के लिए की गई है। इसे अच्छे कार्य-प्रदर्शन के आधार पर, दो बार क्रमश: एक-एक वर्ष के लिए बढ़ाया जा सकता है या 68 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक, जो भी पहले हो, के लिए लागू होगी।

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा रायपुर और बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के लिए सुनील राय, सरगुजा और सूरजपुर के लिए मोहम्मद परवेज खान, बस्तर और कोंडागांव के लिए रमेश कुमार राजपूत, बिलासपुर, मुंगेली और गोरेला-पेंड्रा-मरवाही के लिए सुरेश सोनी, धमतरी और गरियाबंद के लिए घना राम साहू, दुर्ग और बालोद के लिए  मीना चंदेल, कांकेर और नारायणपुर के लिए अजय कुमार शर्मा तथा कबीरधाम और बेमेतरा के लिए संजय श्रीवास्तव को लोकपाल नियुक्त किया गया है। रविजा सिंह को जांजगीर-चांपा, कल्पना पाण्डेय को कोरबा,  लाल बहादुर राठौर को रायगढ़, राजू देवांगन को महासमुंद, राणा प्रताप सिंह को जशपुर और केदारनाथ यादव को बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के लिए लोकपाल नियुक्त किया गया है।

केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा मनरेगा के अंतर्गत जारी लोकपाल के निर्देश  के अनुसार कोई भी नागरिक मनरेगा के क्रियान्वयन में कमी का आरोप लगाते हुये ग्राम सभा की बैठक एवं उसकी कार्यवाही विवरण का संधारण, रिकार्ड का रखरखाव व संधारण एवं मनरेगा के अधिनियम या अनुसूची में सुनिश्चित किसी पात्रता से वंचित करने जैसे एक या एक से अधिक विषयों पर अपनी शिकायत योजना के तहत कार्यरत लोकपाल से कर सकता है।


18-Jun-2021 7:45 PM (14)

रायपुर, 18 जून। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर ने कोविड 2019 महामारी काल में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर स्नातकोत्तर एवं पी.एच.डी. पाठ्यक्रम की ऑन लाईन परीक्षाओं का आयोजन एवं परीक्षा परिणाम घोषित कर एक बार पुन: अपनी श्रेष्ठता साबित की है। की है। विश्वविद्यालय द्वारा विकसित ई-कृषि पाठशाला एप के माध्यम से स्नातकोत्तर एवं पीएचडी. पाठ्यक्रम के परीक्षाफल घोषित किए गए हैं। परीक्षा परिणाम विश्वविद्यालय की वेबसाईट पर उपलब्ध हैं। विश्वविद्यालय में एमएससी कृषि, उद्यानकी एवं वानिकी, एमबीएएबीएम एवं एमटेक. कृषि अभियांत्रिकी पाठ्यक्रम के 20 विषयों तथा पीएचडी कृषि, उद्यानिकी, वानिकी एवं पीएचडी कृषि अभियांत्रिकी के 19 विषयों की उपाधि प्रदान की जाती है।

कोविड-2019 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा अपने विद्यार्थियों के लिए ऑनलाईन शिक्षण की व्यवस्था की गई। सभी महाविद्यालयों के अधिष्ठाताओं एवं विभागाध्यक्षों को उनके विद्यार्थियों के लिए ऑनलाईन कक्षाएं संचालित करने को कहा गया। सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के वॉट्सएप गु्रप गठित किये गए। इन वाट्सएप गु्रप के माध्यम से ऑलानईन शिक्षण के साथ-साथ पाठ्य सामग्री का विनिमय, समूह चर्चा एवं सूचनाओं का आदान-प्रदान किया गया। विद्यार्थियों की पाठ्यस्तु संबंधित जिज्ञासाओं एवं कठिनाईयों का निदान भी किया गया। सभी आंतरिक परीक्षाएं जैसे - मिड टर्म परीक्षा, प्रायोगिक परीक्षाएं भी ऑनलाईन आयोजित की गई। प्रायोगिक परीक्षाओं के आयोजन हेतु वॉट्सएप ई-मेल, गूगल प्लेटफॉर्म, जूम एप आदि का उपयोग किया गया।

विद्यार्थियों का मूल्यांकन उनके ऑनलाईन कक्षाओं में प्रदर्शन, उपस्थिति एवं प्रायोगिक दस्तावेज द्वारा दिए गए अंकों के आधार पर किया गया।

स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम यथा एम.एस.सी. कृषि, एम.एस.सी. उद्यानिकी, एम.एस.सी. वानिकी, एम.बी.ए. कृषि व्यवसाय प्रबंधन एवं बी.टेक. कृषि अभियांत्रिकी तथा पी.एच.डी. कृषि, उद्यानिकी, वानिकी एवं पी.एच.डी. कृषि अभियांत्रिकी के विद्यार्थियों की सैद्धांतिक परीक्षाओं का आयोजन कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित एप ई-कृषि पाठशाला के माध्यम से किया गया। यह एप ऑनलाईन एवं ऑफलाईन दोनों मोड में कार्य करता है। इस एप में उत्तर पुस्तिका के 25 पृष्ठों को पी.डी.एफ. के रूप में अपलोड करने के सुविधा है। यह कार्य विद्यार्थियों द्वारा आसानी से किया जा सकता है। विद्यार्थियों को ऑनलाईन माध्यम से आयोजित तीन घंटे की परीक्षा के पश्चात दो घंटों के भीतर उत्तर पुस्तिकाओं को ई-कृषि पाठशाला एप में अपलोड करना होता है। यदि किसी कारणवश विद्यार्थी ई-कृषि पाठशाला एप में उत्तर पुस्तिका अपलोड करने में असफल रहता है तो उन्हें उत्तर पुस्तिका वॉट्सएप तथा ई-मेल द्वारा भेजने का विकल्प भी प्रदान किया गया है।


18-Jun-2021 7:44 PM (13)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 18 जून। नगर निगम रायपुर के 30 दिवंगत कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दी गई है। इनमें से ज्यादातर कर्मचारियों की मौत कोरोना से हुई थी।

मेयर एजाज ढेबर, और आयुक्त प्रभात मलिक के निर्देशानुसार अनुकंपा नियुक्ति के आश्रित परिवारों को नियुक्ति दी गई है। इसके लिए सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी 22 मई 2021 के तृतीय श्रेणी के पदो पर अनुकंपा नियुक्ति के लिए प्रावधानित 10 प्रतिशत पदों के सीमा बंधन को शिथिल किए गए।

नगर निगम में मृतक कर्मचारियों के आश्रित परिवार के सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों का परीक्षण करने हेतु गठित छानबीन समिति की बैठक में 16 जून  को की गई अनुशंसा के आधार पर मृतक कर्मियों के आश्रित परिवार के सदस्यों को वेतन बैंड 5200-20200 ग्रेड पे 1900 (वेतन मैट्रिक्स लेवल - 4) एवं अन्य प्राप्त भत्तो पर अस्थायी रूप से 3 वर्ष की परीवीक्षा अवधि तथा नियत स्टायपेंड पर अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की गई है। आयुक्त द्वारा निगम सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार पदस्थापना पृथक से दी जाएगी।

 नगर निगम सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी अनुकंपा नियुक्ति आदेश के अनुसार कुमारी राषि नेताम पुत्री स्व. श्रीराम नेताम को सहायक ग्रेड 3, लोकेश कुमार पाटले पुत्र स्व. प्रीतम चंद पाटले को सहायक राजस्व निरीक्षक, मनीष सागर पुत्र स्व. रामजी सागर को सहायक ग्रेड 3, अरविंद दीप पुत्र स्व. शांति दीप को सहायक राजस्व निरीक्षक, नागेश कुमार चौबे पुत्र स्व. कृष्ण कुमार चौबे को सहायक राजस्व निरीक्षक, स्व. मनोज कुमार पुत्र स्व. उजिया /गरीबों को सहायक ग्रेड 3, कैलाष तांडी पुत्र स्व. कुमारी बाई तांडी को सहायक राजस्व निरीक्षक, आशुतोष तिवारी पुत्र स्व. दिनेश तिवारी को सहायक राजस्व निरीक्षक, कुमारी नीरू सोनी पुत्री स्व. विरत/टुनिया को सहायक ग्रेड 3, कमल शुक्ला पुत्र स्व. राजेन्द्र शुक्ला को सहायक ग्रेड 3,  संदीप दीप पुत्र स्व. सुनिता दीप को सहायक राजस्व निरीक्षक, महावीर बेहरा पुत्र स्व. जमुना बेहरा को सहायक राजस्व निरीक्षक, मनोज कुमार पुत्र स्व. बलदेव /मेघनाथ को सहायक ग्रेड 3, मयंक यादव पुत्र स्व. संतोष कुमार यादव को सहायक राजस्व निरीक्षक, ंआदित्य हजारी पुत्र स्व. लक्ष्मण हजारी को स्वच्छता पर्यवेक्षक, वीनल कश्यप पुत्र स्व. राजेश कुमार कष्यप को सहायक ग्रेड 3, रविन दुबे पुत्र स्व. राजेश दुबे को सहायक ग्रेड 3, कुमारी नीती सोनी पुत्री स्व. धीरेन्द्र को सहायक ग्रेड 3, विनय सोनी पुत्र स्व. नरेश सूदेराम को सहायक राजस्व निरीक्षक,  देवेन्द्र वर्मा पुत्र स्व. शंभू नारायण वर्मा को सहायक राजस्व निरीक्षक, आकाश तिवारी पुत्र स्व. रमेश तिवारी को सहायक राजस्व निरीक्षक, विपिन सोनी पुत्र स्व. शशिकांत सोनी को सहायक राजस्व निरीक्षक, मोना शुक्ला पत्नि स्व. नारायण शुक्ला को सहायक ग्रेड 3, बानी चक्रवर्ती पत्नी स्व. सूजन चक्रवर्ती को सहायक ग्रेड 3, मीनाक्षी मिश्रा पत्नी स्व. रितेश मिश्रा को सहायक ग्रेड 3, प्रताप भारती पुत्र स्व. राजमोहन भारती को सहायक ग्रेड 3,  फैजान अंसारी पुत्र स्व. हसीब अंसारी को सहायक राजस्व निरीक्षक एवं अनुराधा शर्मा पुत्री स्व. चंद्रबाला शर्मा को सहायक ग्रेड 3 के पद पर अस्थायी रूप से आगामी आदेश तक 3 वर्ष की परीवीक्षा अवधि एवं नियत स्टायपेंड पर अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की गई है।


18-Jun-2021 7:43 PM (8)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 18 जून। पहले मैं बहुत दुखी रहती थी। खाने-पीने तक के लिए मां-बाप पर ही आश्रित थी। लेकिन अब खुद कमा-खा रही हूं, और दूसरों को भी खिला-पिला सकती हूं। मैंने आज 35 और महिलाओं को अपने साथ जोडक़र रोजगार दिया है। कोरबा जिले की दिव्यांग महिला ललिता राठिया ने शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अपने जीवन संघर्ष और सफलता की कहानी सुनाई। वे जनपद पंचायत कोरबा से करीब 65 किलोमीटर दूर ग्राम चिर्रा की निवासी हैं। ग्रामीण क्षेत्र में ललिता राठिया महिला सशक्तिकरण के अनुकरणीय उदाहरण के रूप में सामने आई हैं।

श्री बघेल ने ललिता उनकी सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए ललिता तथा उनकी समूह की महिलाओं को उनके प्रयासों के लिए बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिव्यांग होने के बाद भी महिलाओं को आर्थिक विकास की राह पर चलने के लिए रास्ता दिखा रहीं हैं, यह निश्चित ही जहां चाह वहां राह की बातों को सिद्ध करता है। श्री बघेल ने ललिता की तारीफ करते हुए कहा कि शासन की लाभकारी योजनाओं की जानकारी ललिता को है, मुझे बताने की जरूरत नहीं पड़ी। शासन की योजनाएं गरीब, किसान एवं सभी लोगों के लिए निश्चित ही लाभदायक है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ललिता ने दिव्यांग होकर भी खुद आर्थिक रूप से मजबूत होकर गांव की दूसरी महिलाओं को भी स्वावलंबन की राह दिखाई है। यह सभी के लिए प्रेरणादायक है। ललिता सभी महिलाओं को स्वरोजगार से जुडऩे के लिए प्रेरित कर रहीं हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के युग में महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत होना बहुत जरूरी है। प्रदेश की सभी गौठानों को रूरल इंडस्ट्रियल पार्कों के रूप में स्थापित करना है। गौठान के माध्यम से सभी ग्रामीणों को जोडक़र रोजगार के नए अवसर प्रदान करना और लोगों को स्वावलंबी बनाना सरकार का उद्देश्य है।

जिले के विकास कार्यों के वर्चुअल लोकार्पण और भूमिपूजन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री से बातचीत करते हुए ललिता ने बताया था कि उनके दोनों पांव खराब हैं। अपने जीवन को लेकर वे निराश थीं। लेकिन राज्य शासन की नरवा-गरवा-घुरवा-बाड़ी योजना से जुडक़र जीवन की दिशा ही बदल गई।  ललिता ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को बताया कि शासन की महत्वकांक्षी नरवा-गरवा-घुरूवा-बाड़ी योजना एवं गोधन न्याय योजना से जुडक़र गांव की 35 महिलाओं ने पांच लाख 28 हजार 900 रूपए की आय अर्जित कर लिया है। दिव्यांग होने के बावजूद अपने गांव चिर्रा के गौठान में सक्रिय सदस्य के रूप में काम करके लोगों के सामने आर्थिक मिसाल पेश की है।

ललिता ने बताया कि गांव की विधवा परित्यकता एवं अन्य महिलाओं को मिलाकर 35 महिलाओं का समूह बनाया। समूह की महिलाएं गौठान में मछली पालन, मुर्गी पालन, सब्जी उत्पादन, धान की खेती, वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन जैसे आर्थिक गतिविधियों में काम कर रहीं है। गांव में ही काम मिल जाने से गांव की महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हो रही हैं, जिससे उनके घर की आर्थिक स्थिति सुधर रही है। आर्थिक मजबूती मिलने से गांव की महिलाएं अपने घर-परिवार तथा बच्चों का भरण-पोषण एवं पढ़ाई-लिखाई अच्छे से कर पा रही है। ललिता ने बताया कि समूह की महिलाएं मिलकर 800 क्विंटल गोबर खाद की खरीदी कर चुकी है और 400 क्विंटल केंचुआ खाद भी बना चुकी हैं।


18-Jun-2021 7:43 PM (9)

रायपुर, 18 जून। कोविड की तीसरी लहर के लिए छत्तीसगढ़ सरकार की तैयारियों में सहायता के उद्देश्य से, यूनिसेफ ने शुक्रवार को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री टीएस सिंहदेव को 708 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर सौंपे। कनाडा सरकार के योगदान से यूनिसेफ के ग्लोबल सप्लाई डिवीजन द्वारा ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर खरीदे गए और यूपीएस द्वारा ट्रांसपोर्ट किया गया।

श्री सिंहदेव ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में यूनिसेफ सरकार का एक अमूल्य भागीदार रहा है। हम यूनिसेफ की तकनीकी विशेषज्ञता, आवश्यक आपूर्ति के योगदान और रोको औ टोको जैसे अभियानों के माध्यम से कोरोना उपयुक्त व्यवहार और टीकाकरण को बढ़ावा देने के प्रयासों की सराहना करते हैं। उन्होंने कहा, छत्तीसगढ़ के लोगों की ओर से, मैं यूनिसेफ, कनाडा सरकार और कनाडा के लोगों को उनके उदार योगदान के लिए और यूपीएस को अतिआवश्यक ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर का परिवहन करने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं।

आपूर्ति के दूसरे चरण में, यूनिसेफ जल्द ही सरकार को 440 अतिरिक्त ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर्स प्रदान करेगा और साथ ही राज्य की सभी मितानिन और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए 3.5 लाख रियूसेबल फेस शील्ड भी उपलब्ध कराएगा। इससे पहले, रायपुर और अन्य जिलों में कोविड अस्पतालों को स्थापित और विकसित करने में मदद करने के अलावा, यूनिसेफ ने सरकार को आरटीपीसीआर मशीनें, वेंटिलेटर और उच्च प्रवाह वाली नलिकाएं प्रदान की थीं।

यूनिसेफ छत्तीसगढ़ के प्रमुख जॉब जकरिया ने कहा, कोरोना के प्रसार को रोकने के हर प्रयास में यूनिसेफ छत्तीसगढ़ सरकार के साथ खड़ा है। यूनिसेफ अपनी ओर से तकनीकी सहायता और जीवन रक्षक चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति भविष्य में भी जारी रखेगा।

इस अवसर पर डॉ. श्रीधर रायनवंकी, स्वास्थ्य विशेषज्ञ, शेषगिरी मधुसूदन, शिक्षा विशेषज्ञ और अभिषेक सिंह, छत्तीसगढ़ में यूनिसेफ कार्यालय के सी4डी विशेषज्ञ उपस्थित थे।


18-Jun-2021 7:37 PM (10)

रायपुर, 18 जून। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के अंतर्गत संचालित बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र, बिलासपुर की बीएससी (कृषि) चतुर्थ वर्ष की छात्रा कुमारी डीना थंकाचन का चयन उच्च शिक्षा हेतु जर्मनी के शीर्ष स्तरीय होहेनहेम विश्वविद्यालय, स्टुटगार्ट, में हुआ है।

बीएससी (कृषि) चतुर्थ वर्ष सत्र 2020-21 में 8.58 ओजीपीए (ओवरऑल ग्रेड पर्ॉइंट एवरेज) अंकों से प्रथम स्थान प्राप्त, डीना जर्मनी के होहेनहेम विश्वविद्यालय से ‘ऑर्गेनिक एग्रीकल्चर एंड फूड सिस्टम’ विषय में स्नातकोत्तर शिक्षा प्राप्त करेगी। उल्लेखनीय है कि होहेनहेम विश्वविद्यालय स्टुटगार्ट को जर्मनी में प्रथम, यूरोप में छठवीं तथा विश्व में 22 वीं रैंक प्राप्त है। केरल निवासी थंकाचन के.जे. एवं श्रीमती मर्सी थंकाचन की सुपुत्री डीना प्रारंभ से ही प्रतिभाशाली रहीं है।

डीना ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित अखिल भारतीय परीक्षा में चयनित होकर कृषि महाविद्यालय, बिलासपुर से स्नातक उपाधि प्राप्त की है। डीना की इस सफलता के लिए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एसके पाटील ने कुमारी डीना तथा महाविद्यालय के अधिष्ठाता एवं समस्त अध्यापकों को बधाई तथा शुभकामनाएं दी हैं।


18-Jun-2021 7:36 PM (11)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 18 जून। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा 21 जून 2021 को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योगाभ्यास प्रोटोकॉल के अनुसार आयोजित होने वाले छत्तीसगढ़ वर्चुअल योग मैराथन को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। इस मैराथन के लिए अब तक 7 लाख 50 हजार से अधिक लोगों द्वारा इसमें भाग लेने के लिए ऑनलाइन पंजीयन किया गया है। इस मैराथन में सम्मिलित होने के लिए लोग 19 जून 2021 तक लिंक पर क्लिक कर ऑनलाइन पंजीयन कर सकते है।

सभी पंजीयनकर्ताओं को डिजिटल प्रणाम पत्र प्रदान किया जाएगा। साथ ही हर जिले के प्रथम 100 पंजीयन को टीशर्ट प्रदान किया जाएगा। समाज कल्याण विभाग अंतर्गत छत्तीसगढ़ योग आयोग द्वारा आयोजित च्छत्तीसगढ़ वर्चुअल योग मैराथन में भाग लेने हेतु आवेदक को योगासन करते हुए अपना फोटो/वीडियो अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स पर हैशटेग के साथ शेयर करना है। इसके अलावा प्रतिभागी अपना फोटो/वीडियो पर मेल भी कर सकते हैं।


18-Jun-2021 7:23 PM (12)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 18 जून।
अदाणी समूह द्वारा संचालित अदाणी फाउंडेशन, सरगुजा जिले के ग्रामों में सामाजिक उत्तरदायित्व निर्वहन के कार्यक्रम, जिसमें मुख्य रूप से शिक्षा, स्वास्थ्य, संरचना विकास इत्यादि चलाता है। अदाणी फाउंडेशन द्वारा किए गए कार्यों की सराहना स्थानियों द्वारा हमेशा से की गई है।

अदाणी समूह स्थानीय विद्यार्थियों को उच्च कोटि की शिक्षा नि:शुल्क उपलब्ध कराने हेतु प्रतिबद्ध है। अत: क्षेत्र के विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्ता की शिक्षा देने के लिए अदाणी विद्या मंदिर, जो कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से मान्यता प्राप्त है, की शुरुआत 5 वर्ष पूर्व की गई थी, जिसमें वर्तमान में कक्षा 1 से कक्षा 10 तक की शिक्षा, शिक्षण सामग्री तथा भोजन आदि सैकड़ों छात्रों को नि:शुल्क दी जाती है।

अदाणी फांउडेशन प्रबंधन ने जिला दंडाधिकारी को सूचित किया है कि अदाणी विद्या मंदिर के उच्चतर माध्यमिक शिक्षा की मान्यता के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, नई दिल्ली में आवेदन प्रस्तुत करेगा। इससे स्थानीय विद्यार्थियों को उच्चतर माध्यमिक कक्षा का भी लाभ मिल पाएगा। प्रक्रिया पूर्ण होने तक कक्षा 10वीं के कुल 35 प्रोन्नत विद्यार्थियों को उदयपुर के अंग्रेजी माध्यम स्कूल में जिला प्रशासन की मदद से प्रवेश दिलाने में प्रबंधन, अभिभावकों को पूर्ण सहयोग प्रदान करेगा।


18-Jun-2021 5:57 PM (23)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 18 जून।
राज्य शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम) के अंतर्गत शिकायतों की स्वतंत्र व निष्पक्ष जांच एवं सुनवाई के लिए 14 नए लोकपालों की नियुक्ति की गई है। इन 14 लोकपालों के प्रादेशिक क्षेत्राधिकार में 23 जिलों को शामिल किया गया है। नव नियुक्त लोकपालों द्वारा संबंधित जिला मुख्यालयों में पदभार ग्रहण कर लिया गया है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी नियुक्ति आदेश के अनुसार इन लोकपालों की नियुक्ति दो वर्षों की अवधि के लिए की गई है। इसे अच्छे कार्य-प्रदर्शन के आधार पर, दो बार क्रमश: एक-एक वर्ष के लिए बढ़ाया जा सकता है या 68 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक, जो भी पहले हो, के लिए लागू होगी।

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा रायपुर और बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के लिए सुनील राय, सरगुजा और सूरजपुर के लिए मोहम्मद परवेज खान, बस्तर और कोंडागांव के लिए रमेश कुमार राजपूत, बिलासपुर, मुंगेली और गोरेला-पेंड्रा-मरवाही के लिए सुरेश सोनी, धमतरी और गरियाबंद के लिए घना राम साहू, दुर्ग और बालोद के लिए  मीना चंदेल, कांकेर और नारायणपुर के लिए अजय कुमार शर्मा तथा कबीरधाम और बेमेतरा के लिए संजय श्रीवास्तव को लोकपाल नियुक्त किया गया है। रविजा सिंह को जांजगीर-चांपा, कल्पना पाण्डेय को कोरबा,  लाल बहादुर राठौर को रायगढ़, राजू देवांगन को महासमुंद, राणा प्रताप सिंह को जशपुर और केदारनाथ यादव को बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के लिए लोकपाल नियुक्त किया गया है। 

केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा मनरेगा के अंतर्गत जारी लोकपाल के निर्देश  के अनुसार कोई भी नागरिक मनरेगा के क्रियान्वयन में कमी का आरोप लगाते हुये ग्राम सभा की बैठक एवं उसकी कार्यवाही विवरण का संधारण, रिकार्ड का रखरखाव व संधारण एवं मनरेगा के अधिनियम या अनुसूची में सुनिश्चित किसी पात्रता से वंचित करने जैसे एक या एक से अधिक विषयों पर अपनी शिकायत योजना के तहत कार्यरत लोकपाल से कर सकता है।


18-Jun-2021 5:56 PM (11)

रायपुर, 18 जून। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर ने कोविड 2019 महामारी काल में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर स्नातकोत्तर एवं पी.एच.डी. पाठ्यक्रम की ऑन लाईन परीक्षाओं का आयोजन एवं परीक्षा परिणाम घोषित कर एक बार पुन: अपनी श्रेष्ठता साबित की है। की है। विश्वविद्यालय द्वारा विकसित ई-कृषि पाठशाला एप के माध्यम से स्नातकोत्तर एवं पीएचडी. पाठ्यक्रम के परीक्षाफल घोषित किए गए हैं। परीक्षा परिणाम विश्वविद्यालय की वेबसाईट पर उपलब्ध हैं। विश्वविद्यालय में एमएससी कृषि, उद्यानकी एवं वानिकी, एमबीएएबीएम एवं एमटेक. कृषि अभियांत्रिकी पाठ्यक्रम के 20 विषयों तथा पीएचडी कृषि, उद्यानिकी, वानिकी एवं पीएचडी कृषि अभियांत्रिकी के 19 विषयों की उपाधि प्रदान की जाती है। 

कोविड-2019 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा अपने विद्यार्थियों के लिए ऑनलाईन शिक्षण की व्यवस्था की गई। सभी महाविद्यालयों के अधिष्ठाताओं एवं विभागाध्यक्षों को उनके विद्यार्थियों के लिए ऑनलाईन कक्षाएं संचालित करने को कहा गया। सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के वॉट्सएप गु्रप गठित किये गए। इन वाट्सएप गु्रप के माध्यम से ऑलानईन शिक्षण के साथ-साथ पाठ्य सामग्री का विनिमय, समूह चर्चा एवं सूचनाओं का आदान-प्रदान किया गया। विद्यार्थियों की पाठ्यस्तु संबंधित जिज्ञासाओं एवं कठिनाईयों का निदान भी किया गया। सभी आंतरिक परीक्षाएं जैसे - मिड टर्म परीक्षा, प्रायोगिक परीक्षाएं भी ऑनलाईन आयोजित की गई। प्रायोगिक परीक्षाओं के आयोजन हेतु वॉट्सएप ई-मेल, गूगल प्लेटफॉर्म, जूम एप आदि का उपयोग किया गया। विद्यार्थियों का मूल्यांकन उनके ऑनलाईन कक्षाओं में प्रदर्शन, उपस्थिति एवं प्रायोगिक दस्तावेज द्वारा दिए गए अंकों के आधार पर किया गया।
 
स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम यथा एम.एस.सी. कृषि, एम.एस.सी. उद्यानिकी, एम.एस.सी. वानिकी, एम.बी.ए. कृषि व्यवसाय प्रबंधन एवं बी.टेक. कृषि अभियांत्रिकी तथा पी.एच.डी. कृषि, उद्यानिकी, वानिकी एवं पी.एच.डी. कृषि अभियांत्रिकी के विद्यार्थियों की सैद्धांतिक परीक्षाओं का आयोजन कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित एप ई-कृषि पाठशाला के माध्यम से किया गया। यह एप ऑनलाईन एवं ऑफलाईन दोनों मोड में कार्य करता है। इस एप में उत्तर पुस्तिका के 25 पृष्ठों को पी.डी.एफ. के रूप में अपलोड करने के सुविधा है। यह कार्य विद्यार्थियों द्वारा आसानी से किया जा सकता है। विद्यार्थियों को ऑनलाईन माध्यम से आयोजित तीन घंटे की परीक्षा के पश्चात दो घंटों के भीतर उत्तर पुस्तिकाओं को ई-कृषि पाठशाला एप में अपलोड करना होता है। यदि किसी कारणवश विद्यार्थी ई-कृषि पाठशाला एप में उत्तर पुस्तिका अपलोड करने में असफल रहता है तो उन्हें उत्तर पुस्तिका वॉट्सएप तथा ई-मेल द्वारा भेजने का विकल्प भी प्रदान किया गया है। 


18-Jun-2021 5:54 PM (12)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 18 जून। नगर निगम रायपुर के 30 दिवंगत कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दी गई है। इनमें से ज्यादातर कर्मचारियों की मौत कोरोना से हुई थी। 

मेयर एजाज ढेबर, और आयुक्त प्रभात मलिक के निर्देशानुसार अनुकंपा नियुक्ति के आश्रित परिवारों को नियुक्ति दी गई है। इसके लिए सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी 22 मई 2021 के तृतीय श्रेणी के पदो पर अनुकंपा नियुक्ति के लिए प्रावधानित 10 प्रतिशत पदों के सीमा बंधन को शिथिल किए गए।

नगर निगम में मृतक कर्मचारियों के आश्रित परिवार के सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों का परीक्षण करने हेतु गठित छानबीन समिति की बैठक में 16 जून  को की गई अनुशंसा के आधार पर मृतक कर्मियों के आश्रित परिवार के सदस्यों को वेतन बैंड 5200-20200 ग्रेड पे 1900 (वेतन मैट्रिक्स लेवल - 4) एवं अन्य प्राप्त भत्तो पर अस्थायी रूप से 3 वर्ष की परीवीक्षा अवधि तथा नियत स्टायपेंड पर अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की गई है। आयुक्त द्वारा निगम सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार पदस्थापना पृथक से दी जाएगी। 

नगर निगम सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी अनुकंपा नियुक्ति आदेश के अनुसार कुमारी राषि नेताम पुत्री स्व. श्रीराम नेताम को सहायक ग्रेड 3, लोकेश कुमार पाटले पुत्र स्व. प्रीतम चंद पाटले को सहायक राजस्व निरीक्षक, मनीष सागर पुत्र स्व. रामजी सागर को सहायक ग्रेड 3, अरविंद दीप पुत्र स्व. शांति दीप को सहायक राजस्व निरीक्षक, नागेश कुमार चौबे पुत्र स्व. कृष्ण कुमार चौबे को सहायक राजस्व निरीक्षक, स्व. मनोज कुमार पुत्र स्व. उजिया /गरीबों को सहायक ग्रेड 3, कैलाष तांडी पुत्र स्व. कुमारी बाई तांडी को सहायक राजस्व निरीक्षक, आशुतोष तिवारी पुत्र स्व. दिनेश तिवारी को सहायक राजस्व निरीक्षक, कुमारी नीरू सोनी पुत्री स्व. विरत/टुनिया को सहायक ग्रेड 3, कमल शुक्ला पुत्र स्व. राजेन्द्र शुक्ला को सहायक ग्रेड 3,  संदीप दीप पुत्र स्व. सुनिता दीप को सहायक राजस्व निरीक्षक, महावीर बेहरा पुत्र स्व. जमुना बेहरा को सहायक राजस्व निरीक्षक, मनोज कुमार पुत्र स्व. बलदेव /मेघनाथ को सहायक ग्रेड 3, मयंक यादव पुत्र स्व. संतोष कुमार यादव को सहायक राजस्व निरीक्षक, ंआदित्य हजारी पुत्र स्व. लक्ष्मण हजारी को स्वच्छता पर्यवेक्षक, वीनल कश्यप पुत्र स्व. राजेश कुमार कष्यप को सहायक ग्रेड 3, रविन दुबे पुत्र स्व. राजेश दुबे को सहायक ग्रेड 3, कुमारी नीती सोनी पुत्री स्व. धीरेन्द्र को सहायक ग्रेड 3, विनय सोनी पुत्र स्व. नरेश सूदेराम को सहायक राजस्व निरीक्षक,  देवेन्द्र वर्मा पुत्र स्व. शंभू नारायण वर्मा को सहायक राजस्व निरीक्षक, आकाश तिवारी पुत्र स्व. रमेश तिवारी को सहायक राजस्व निरीक्षक, विपिन सोनी पुत्र स्व. शशिकांत सोनी को सहायक राजस्व निरीक्षक, मोना शुक्ला पत्नि स्व. नारायण शुक्ला को सहायक ग्रेड 3, बानी चक्रवर्ती पत्नी स्व. सूजन चक्रवर्ती को सहायक ग्रेड 3, मीनाक्षी मिश्रा पत्नी स्व. रितेश मिश्रा को सहायक ग्रेड 3, प्रताप भारती पुत्र स्व. राजमोहन भारती को सहायक ग्रेड 3,  फैजान अंसारी पुत्र स्व. हसीब अंसारी को सहायक राजस्व निरीक्षक एवं अनुराधा शर्मा पुत्री स्व. चंद्रबाला शर्मा को सहायक ग्रेड 3 के पद पर अस्थायी रूप से आगामी आदेश तक 3 वर्ष की परीवीक्षा अवधि एवं नियत स्टायपेंड पर अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की गई है।


18-Jun-2021 5:52 PM (12)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 18 जून।
पहले मैं बहुत दुखी रहती थी। खाने-पीने तक के लिए मां-बाप पर ही आश्रित थी। लेकिन अब खुद कमा-खा रही हूं, और दूसरों को भी खिला-पिला सकती हूं। मैंने आज 35 और महिलाओं को अपने साथ जोडक़र रोजगार दिया है। कोरबा जिले की दिव्यांग महिला ललिता राठिया ने शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अपने जीवन संघर्ष और सफलता की कहानी सुनाई। वे जनपद पंचायत कोरबा से करीब 65 किलोमीटर दूर ग्राम चिर्रा की निवासी हैं। ग्रामीण क्षेत्र में ललिता राठिया महिला सशक्तिकरण के अनुकरणीय उदाहरण के रूप में सामने आई हैं।

श्री बघेल ने ललिता उनकी सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए ललिता तथा उनकी समूह की महिलाओं को उनके प्रयासों के लिए बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिव्यांग होने के बाद भी महिलाओं को आर्थिक विकास की राह पर चलने के लिए रास्ता दिखा रहीं हैं, यह निश्चित ही जहां चाह वहां राह की बातों को सिद्ध करता है। श्री बघेल ने ललिता की तारीफ करते हुए कहा कि शासन की लाभकारी योजनाओं की जानकारी ललिता को है, मुझे बताने की जरूरत नहीं पड़ी। शासन की योजनाएं गरीब, किसान एवं सभी लोगों के लिए निश्चित ही लाभदायक है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि ललिता ने दिव्यांग होकर भी खुद आर्थिक रूप से मजबूत होकर गांव की दूसरी महिलाओं को भी स्वावलंबन की राह दिखाई है। यह सभी के लिए प्रेरणादायक है। ललिता सभी महिलाओं को स्वरोजगार से जुडऩे के लिए प्रेरित कर रहीं हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के युग में महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत होना बहुत जरूरी है। प्रदेश की सभी गौठानों को रूरल इंडस्ट्रियल पार्कों के रूप में स्थापित करना है। गौठान के माध्यम से सभी ग्रामीणों को जोडक़र रोजगार के नए अवसर प्रदान करना और लोगों को स्वावलंबी बनाना सरकार का उद्देश्य है।

जिले के विकास कार्यों के वर्चुअल लोकार्पण और भूमिपूजन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री से बातचीत करते हुए ललिता ने बताया था कि उनके दोनों पांव खराब हैं। अपने जीवन को लेकर वे निराश थीं। लेकिन राज्य शासन की नरवा-गरवा-घुरवा-बाड़ी योजना से जुडक़र जीवन की दिशा ही बदल गई।  ललिता ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को बताया कि शासन की महत्वकांक्षी नरवा-गरवा-घुरूवा-बाड़ी योजना एवं गोधन न्याय योजना से जुडक़र गांव की 35 महिलाओं ने पांच लाख 28 हजार 900 रूपए की आय अर्जित कर लिया है। दिव्यांग होने के बावजूद अपने गांव चिर्रा के गौठान में सक्रिय सदस्य के रूप में काम करके लोगों के सामने आर्थिक मिसाल पेश की है। 

ललिता ने बताया कि गांव की विधवा परित्यकता एवं अन्य महिलाओं को मिलाकर 35 महिलाओं का समूह बनाया। समूह की महिलाएं गौठान में मछली पालन, मुर्गी पालन, सब्जी उत्पादन, धान की खेती, वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन जैसे आर्थिक गतिविधियों में काम कर रहीं है। गांव में ही काम मिल जाने से गांव की महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हो रही हैं, जिससे उनके घर की आर्थिक स्थिति सुधर रही है। आर्थिक मजबूती मिलने से गांव की महिलाएं अपने घर-परिवार तथा बच्चों का भरण-पोषण एवं पढ़ाई-लिखाई अच्छे से कर पा रही है। ललिता ने बताया कि समूह की महिलाएं मिलकर 800 क्विंटल गोबर खाद की खरीदी कर चुकी है और 400 क्विंटल केंचुआ खाद भी बना चुकी हैं।


18-Jun-2021 5:51 PM (9)

रायपुर, 18 जून।  कोविड की तीसरी लहर के लिए छत्तीसगढ़ सरकार की तैयारियों में सहायता के उद्देश्य से, यूनिसेफ ने शुक्रवार को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री टीएस सिंहदेव को 708 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर सौंपे। कनाडा सरकार के योगदान से यूनिसेफ के ग्लोबल सप्लाई डिवीजन द्वारा ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर खरीदे गए और यूपीएस द्वारा ट्रांसपोर्ट किया गया।

श्री सिंहदेव ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में यूनिसेफ सरकार का एक अमूल्य भागीदार रहा है। हम यूनिसेफ की तकनीकी विशेषज्ञता, आवश्यक आपूर्ति के योगदान और रोको औ टोको जैसे अभियानों के माध्यम से कोरोना उपयुक्त व्यवहार और टीकाकरण को बढ़ावा देने के प्रयासों की सराहना करते हैं। उन्होंने कहा, छत्तीसगढ़ के लोगों की ओर से, मैं यूनिसेफ, कनाडा सरकार और कनाडा के लोगों को उनके उदार योगदान के लिए और यूपीएस को अतिआवश्यक ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर का परिवहन करने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। 

आपूर्ति के दूसरे चरण में, यूनिसेफ जल्द ही सरकार को 440 अतिरिक्त ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर्स प्रदान करेगा और साथ ही राज्य की सभी मितानिन और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए 3.5 लाख रियूसेबल फेस शील्ड भी उपलब्ध कराएगा। इससे पहले, रायपुर और अन्य जिलों में कोविड अस्पतालों को स्थापित और विकसित करने में मदद करने के अलावा, यूनिसेफ ने सरकार को आरटीपीसीआर मशीनें, वेंटिलेटर और उच्च प्रवाह वाली नलिकाएं प्रदान की थीं।
यूनिसेफ छत्तीसगढ़ के प्रमुख जॉब जकरिया ने कहा, कोरोना के प्रसार को रोकने के हर प्रयास में यूनिसेफ छत्तीसगढ़ सरकार के साथ खड़ा है। यूनिसेफ अपनी ओर से तकनीकी सहायता और जीवन रक्षक चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति भविष्य में भी जारी रखेगा।
 
इस अवसर पर डॉ. श्रीधर रायनवंकी, स्वास्थ्य विशेषज्ञ, शेषगिरी मधुसूदन, शिक्षा विशेषज्ञ और अभिषेक सिंह, छत्तीसगढ़ में यूनिसेफ कार्यालय के सी4डी विशेषज्ञ उपस्थित थे।


18-Jun-2021 5:50 PM (25)

रायपुर, 18 जून। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के अंतर्गत संचालित बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र, बिलासपुर की बीएससी (कृषि) चतुर्थ वर्ष की छात्रा कुमारी डीना थंकाचन का चयन उच्च शिक्षा हेतु जर्मनी के शीर्ष स्तरीय होहेनहेम विश्वविद्यालय, स्टुटगार्ट, में हुआ है।

बीएससी (कृषि) चतुर्थ वर्ष सत्र 2020-21 में 8.58 ओजीपीए (ओवरऑल ग्रेड पर्ॉइंट एवरेज) अंकों से प्रथम स्थान प्राप्त, डीना जर्मनी के होहेनहेम विश्वविद्यालय से ‘ऑर्गेनिक एग्रीकल्चर एंड फूड सिस्टम’ विषय में स्नातकोत्तर शिक्षा प्राप्त करेगी। उल्लेखनीय है कि होहेनहेम विश्वविद्यालय स्टुटगार्ट को जर्मनी में प्रथम, यूरोप में छठवीं तथा विश्व में 22 वीं रैंक प्राप्त है। केरल निवासी थंकाचन के.जे. एवं श्रीमती मर्सी थंकाचन की सुपुत्री डीना प्रारंभ से ही प्रतिभाशाली रहीं है। 

डीना ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित अखिल भारतीय परीक्षा में चयनित होकर कृषि महाविद्यालय, बिलासपुर से स्नातक उपाधि प्राप्त की है। डीना की इस सफलता के लिए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एसके पाटील ने कुमारी डीना तथा महाविद्यालय के अधिष्ठाता एवं समस्त अध्यापकों को बधाई तथा शुभकामनाएं दी हैं।


18-Jun-2021 5:49 PM (13)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 18 जून।
 छत्तीसगढ़ शासन द्वारा 21 जून 2021 को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योगाभ्यास प्रोटोकॉल के अनुसार आयोजित होने वाले छत्तीसगढ़ वर्चुअल योग मैराथन को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। इस मैराथन के लिए अब तक 7 लाख 50 हजार से अधिक लोगों द्वारा इसमें भाग लेने के लिए ऑनलाइन पंजीयन किया गया है। इस मैराथन में सम्मिलित होने के लिए लोग 19 जून 2021 तक लिंक पर क्लिक कर ऑनलाइन पंजीयन कर सकते है। 

सभी पंजीयनकर्ताओं को डिजिटल प्रणाम पत्र प्रदान किया जाएगा। साथ ही हर जिले के प्रथम 100 पंजीयन को टीशर्ट प्रदान किया जाएगा। समाज कल्याण विभाग अंतर्गत छत्तीसगढ़ योग आयोग द्वारा आयोजित च्छत्तीसगढ़ वर्चुअल योग मैराथन में भाग लेने हेतु आवेदक को योगासन करते हुए अपना फोटो/वीडियो अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स पर हैशटेग के साथ शेयर करना है। इसके अलावा प्रतिभागी अपना फोटो/वीडियो पर मेल भी कर सकते हैं।


17-Jun-2021 6:27 PM (18)

रायपुर, 17 जून। प्राणीशास्त्र विभाग तथा आईक्यूएसी समिति, शासकीय नागार्जुन स्नातकोत्तर विज्ञान महाविद्यालय, रायपुर  के तत्वाधान में एनिमल डाइवर्सिटी-लोकल टू ग्लोबल विषय पर एक अंतरराष्ट्रीय वेबीनार के दूसरे दिन ब्राज़ील से डॉ. सुएल ने सेरियम नैनोपार्टिकल्स, यूवी-प्रेरित फोटोडैमेज के खिलाफ लडऩे के लिए सेल रेडॉक्स प्रतिक्रिया को बढ़ाने के लिए एक संभावित सहयोगी पर अपने व्याख्यान में बताया अल्ट्रा वॉइलेट किरणे रेडॉक्स सेल सिस्टम में असंतुलन को उत्तेजित करते हैं जो प्रोटीन, लिपिड और डीएनए जैसे आवश्यक मैक्रोमोलेक्यूल्स में सेलुलर परिवर्तनों के लिए एक प्रारंभिक कुंजी हो सकती है, जिससे मनुष्यों में त्वचा की उम्र बढऩे और कैंसर की बीमारी होती है। अध्ययन से पता चलता है कि यूवी-प्रेरित फोटोडैमेज के  खिलाफ लडऩे के लिए सीएनपी एंटीऑक्सिडेंट रेडॉक्स क्षमता को बढ़ा सकता है। 

डॉ. उज्जवला देशमुख (महाराष्ट्र) ने प्रकृति में मकड़ी की विविधता और भूमिका पर बताया कि मकडिय़ां अपनी उल्लेखनीय आदतों और जटिल जीवन चक्र के साथ संरचनात्मक रूप से सुंदर हैं।  मकडिय़ों की लगभग 45,776 प्रजातियां हैं। जिनमें से कुछ कठोर पर्यावरण में पायी जाने वाली मकडिय़ों को छोडक़र बाकी महानगरीय हैं। मकडिय़ां हमरे पारिस्थितिक तंत्र में बायोलॉजिकल इंडिकेटर व एग्रीकलचरल पेस्ट्स के लिए बायोलॉजिकल कंट्रोल का काम करती हैं। 

डीएनए को फ्री-रेडिकल-मध्यस्थता विकिरण क्षति पर डॉ. अमिताभ अधिकारी (ओकलैंड विश्वविद्यालय, रोचेस्टर) ने अपने व्याख्यान में बताया कि डीएनए को सबसे अधिक नुकसान उत्परिवर्तन और आयनकारी विकिरणों से प्रेरित परिवर्तनों के कारन होता है। विकिरण से डीएनए का क्षतिग्रस्त होना और इसके अध्ययन में अपनाए जाने वाले तीन दृष्टिकोण मॉडल कंपाउंड पृथक किया गया डीएनए एवं कोष के डीएनए पर अपने विस्तृत विचार प्रस्तुत किए। कार्यक्रम का संचालन डॉ. शशी गुप्ता ने किया।
 


17-Jun-2021 6:21 PM (17)

रायपुर, 17 जून। छत्तीसगढ़ राज्य में शासकीय सेवा से रिटायर हुए अधिकारी कर्मचारी गण अपने मासिक पेंशन के भुगतान को लेकर चक्कर काट रहें हैं। इस कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव में लॉक डाउन में घर में कैद होना मजबूरी है परन्तु इस संकट के बेला में विभाग, ट्रेजरी और बैंक के झमेला में 4-5 माह से मासिक पेंशन से वंचित हैं। कारण क्या है,कोई बतानेवाला नहीं है, न तो इन जगहों में कोई सुनने वाला है और नहीं कोई गाइड करनेवाला है।

प्रदेश में हजारों पेन्शनर इससे पीडि़त होकर यहां-वहां चक्कर लगाकर परेशान हैं। स्थिति इतनी बदतर है कि मृतक रिटायर पेंशनरो के आश्रित पात्र फेमली पेन्शनर उम्र के अंतिम पड़ाव में फेमिली पेंशन के लिये भटक रहे हैं। सरकार के वरिष्ठ नागरिकों के लिये संवेदनशीलता और योजनायें दम तोड़ती नजर आ रहीं हैं। एक विडम्बना यह भी है शासन के आदेश के बावजूद 80 वर्ष के बुजुर्ग पेन्शनर नियमानुसार 20 फीसदी अधिक पेंशन पाने हक से वंचित हैं। उक्त आरोप छत्तीसगढ़ राज्य संयुक्त पेन्शनर फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव और पेन्शनर एसोसिएशन छत्तीसगढ़ के प्रांताध्यक्ष यशवन्त देवान ने जारी संयुक्त विज्ञप्ति में लगाया है।

जारी विज्ञप्ति में उन्होंने आगे बताया है कि प्रदेश के केवल धमतरी जिले से मिली छुटपुट जानकारी अनुसार बैंक आफ बडौदा मगरलोड से भैसमुड़ी के 4 फेमली पेन्शनर, जिले के स्टेटबैंक छाती से ग्राम सेमरा भखारा के 3 और स्टेटबैंक धमतरी से 1 फेमली पेन्शनर 2019-20 से अबतक पेंशन के इंतजार में दिन गिन रहे हैं। 

इसके अलावा धमतरी जिले से नये 2 रिटायर पेन्शनर पीपीओ जारी होने के बाद से सेन्ट्रल प्रोसेसिंग सेल गोविपुरा भोपाल में प्रकरण के लंबित रहने से फरवरी 21 से अबतक पेंशन से वंचित हैं। इसके अलावा स्टेट बैंक छाती के 4 पेंशनधारी 80 वर्ष अधिक उम्र के बुजुर्ग अपने पेंशन राशि मे 80 वर्ष के उम्र पूरा होने के 5-6 साल बाद भी जो नियम से शासन आदेशानुसार 20त्न प्रतिशत अधिक पेंशन पाने के हकदार हैं, उन्हें भी बैंक के लालफीताशाही के शिकार होकर आर्थिक हानि उठाना पड़ रहा है। 

यह तो सिर्फ एक जिले के 1-2 ब्लाक की जानकारी है। इस तरह के प्रकरणों की गाँव से लेकर जिलों तक हजारों की संख्या होने से इंकार नहीं किया जा सकता। पेंशनधारी हजारों लोगों को नियमों की जानकारी नहीं होने के कारण जो मिल रहा है, वह उसी में खुश हैं।  राज्य सरकार से कम से कम छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के बाद सभी लंबित पेन्शन प्रकरणों की समीक्षा करने और उनके निराकरण हेतु जिला स्तर पर शिविर लगाकर अभियान चलाने की मांग की है।


17-Jun-2021 6:20 PM (18)

रायपुर, 17 जून। छत्तीसगढ़ युवा विकास संगठन संचालित विप्र कला ,वाणिज्य एवं शारीरिक शिक्षा महाविद्यालय में रजत जयंती वर्ष के अवसर पर वेबिनार सप्ताह के अंतर्गत शिक्षा विभाग द्वारा तीन दिवसीय नेशनल वेबीनार का उद्घाटन समारोह  मुख्य अतिथि डॉ .अरुणा  पल्टा( कुलपति हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग) ,विशिष्ट अतिथि ज्ञानेश शर्मा (अध्यक्ष विप्र शिक्षण  समिति )एवं कार्यक्रम अध्यक्ष प्रोफेसर सी.डी. अगाशे (संचालक शिक्षा विभाग पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर) के सारगर्भित आशीष वचनों से संपन्न हुआ  ।

 मुख्य अतिथि प्रसिद्ध शिक्षाविद,हेमचंद यादव विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ अरुणा पलटा ने कहा च्कोरोना महामारी का प्रारंभ इतना अचानक  और भयानक था कि किसी की तैयारी नहीं थी। शिक्षा जगत भी इससे प्रभावित हुआ। ऑनलाइन परीक्षा और ऑनलाइन कक्षा के माध्यम से अध्ययन अध्यापन को प्रारंभ  किया गया । परंतु इससे शिक्षक और छात्र दोनों संतुष्ट नहीं हो सकते। ऑनलाइन कक्षा में उपस्थिति कम रहती हैं ।एकाग्रता का अभाव रहता है । अध्यापकों का निरीक्षण या अवलोकन नहीं हो पाता।  सिर्फ अध्ययन करने के लिए विद्यार्थी महाविद्यालय में प्रवेश नहीं लेते ,ऑन लाईन कक्षाओं से अन्य शैक्षणिक गतिविधियां  निरंक रहा। 

उन्होंने कहा  इसके बाद भी ऑनलाइन कक्षा की कुछ विशेषताएं हैं ,इस प्रकार की आपातकालीन स्थिति में अध्ययन अध्यापन जारी रखने का एकमात्र बेहतर उपाय ऑन लाईन कक्षा ही है । साथ ही विश्वविद्यालय में प्रसिद्ध विषय विशेषज्ञों का व्याख्यान आयोजित किया गया ,जो सामान्य स्थिति में विश्वविद्यालय में बुलाकर संभव नहीं था। इस प्रकार ऑनलाइन के माध्यम से एक छात्र दुनिया के किसी भी कोने का बेहतरीन शिक्षा प्राप्त कर सकता है ।समय की आवश्यकता के अनुसार इसे और अधिक बेहतर बनाने की आवश्यकता है।ज्इस अवसर पर  ज्ञानेश शर्मा ने कहा ऑनलाइन क्लास आज की आवश्यकता है । विप्र महाविद्यालय भी इसमें पीछे नहीं रहा ।जैसे ही करोना महामारी के बाद विद्यार्थियों का संपर्क महाविद्यालय से खत्म हुआ।

प्राध्यापकों ने ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से बेहतरीन शिक्षा विद्यार्थियों तक पहुंचाने का प्रयास प्रारंभ कर दिया।इससे विद्यार्थियों का रुझान महाविद्यालय की ओर बढ़ा ,और विगत वर्ष प्रवेश संख्या में वृद्धि हुई।

कार्यक्रम अध्यक्ष प्रोफेसर सी .डी . अगाशे  ने बताया कि ऑनलाइन कक्षा वर्तमान समय की मजबूरी है ।ऑनलाइन कक्षा में प्रत्यक्ष  निरीक्षण नहीं हो पाता। विद्यार्थियों और अध्यापकों में भावनात्मक जुड़ाव भी खत्म हो गया है । विद्यार्थी क्लासरूम में ज्यादा सक्रिय रहते हैं ,फिर भी ऑनलाइन कक्षा आज की आवश्यकता है ।इन कमियों को दूर करने का प्रयास वेबीनार में चर्चा के माध्यम से किया जाना चाहिए। इसके पूर्व अतिथियों का स्वागत करते हुए प्राचार्य डॉ . मेघेश तिवारी ने कहां पिछले कुछ दशकों में शिक्षा के क्षेत्र में तकनीकी रूप से काफी तेजी से परिवर्तन हुआ है। तथा वर्तमान स्थापित परिस्थितियों ने इसे और अधिक तीव्रता प्रदान की है। इसी कड़ी में ऑनलाइन शिक्षा की आवश्यकता एवं इससे संबंधित चुनौतियों को समझना आवश्यक प्रतीत होता है।उपरोक्त विषय पर संभावित विभिन्न पहलुओं का विस्तृत अवलोकन करने के लिए महाविद्यालय के रजत जयंती वर्ष के अवसर   पर 6 वें वेबिनार का आयोजन किया गया है। इसके बाद वेबीनार की रूपरेखा संयोजक डॉ. दिव्या शर्मा (विभागाध्यक्ष शिक्षा विभाग) ने प्रस्तुत किया। उद्घाटन समारोह के बाद विषय विशेषज्ञ मुख्य प्रवक्ता डॉ .मुकेश चंद्राकर (सहायक प्रोफेसर, केंद्रीय विश्वविद्यालय, बिलासपुर)ने ऑनलाइन एजुकेशन के लाभ पर चर्चा की, साथ ही ऑनलाइन लर्निंग के प्रकारों की व्याख्या की और इन्हें बेहतर बनाने के उपाय पर चर्चा की। इसके बाद भर्ती विषय विशेषज्ञ ,डॉ. सुभाष सरकार(प्रमुख आई./सी. शिक्षा विभाग, त्रिपुरा विश्वविद्यालय, त्रिपुरा) ने ऑनलाइन कक्षा को रुचि पूर्ण  और बच्चों के लिए मजेदार बनाने के उपायों पर चर्चा किए। साथ ही ऑनलाइन कक्षा के लिए अनुकूल वातावरण बनाने  के उपाय बताएंं । इसके बाद विषय विशेषज्ञ  सुशांत कुमार नायक( सहायक प्रोफेसर, शिक्षा विभाग, राजीव गांधीविश्वविद्यालय, एपी) ऑनलाइन कक्षा में तकनीकी का सही ढंग से उपयोग करते हुए विद्यार्थियों को ऑनलाइन क्लास में जोड़ कर रखना, उन्हें ऑनलाइन क्लास में सीखने के लिए प्रोत्साहित करना एवं ऑनलाइन क्लास के बेसिक नॉलेज पर व्यख्यान प्रस्तुत किया।कल दूसरे दिन विषय विशेषज्ञ डॉ. वी.पी . जोशी (सहायक प्रोफेसर  केरल केंद्रीय विश्वविद्यालय केरल) एवं श्री प्रभाकर पुसाद कर( सहायक प्राध्यापक सामाजिक कार्य विभाग एन ए सी एस कॉलेज वर्धा महाराष्ट्र )के व्याख्यान होंगे।
 


Previous123456789...121122Next