छत्तीसगढ़ » बस्तर

Previous123Next
Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 25 अप्रैल।
    शहर के नया बस स्टैंड में बीती रात को बोधघाट थाना प्रभारी द्वारा होटलों की चेकिंग की गई, जहां होटल के अंदर शराब पीते हुए चार युवक पकड़े गए। वहीं पुलिस की कार्रवाई को देखते हुए होटल संचालक जहां मौके से फ रार हो गया, वहीं होटल के मिस्त्री के साथ ही युवकों को पकड़कर थाने ले गई। 

    मामले के बारे में जानकारी देते हुए बोधघाट थाना प्रभारी मनोज तिर्की ने बताया कि रात को अचानक नया बस स्टैंड के होटलों में शराब खोरी कराए जाने की बात सामने आई, जिसके बाद जांच करने के लिए लाइन से होटलों की जांच कर रहे थे कि इसी दौरान यादव होटल के अंदर चार युवक शराब का नशा कर रहे थे। जिसके बाद पुलिस ने उन युवकों को पकड़ा। जब शराब पिलाने की बात को लेकर जब होटल संचालक को बुलाया गया तो वह भी मौके से फ रार हो गया था। पुलिस ने होटल के मिस्त्रियों के द्वारा होटल के अंदर शराब पिलाने को लेकर उन्हे पकड़कर थाने ले आई। वहीं आरोपियों के खिलाफ  कार्रवाई भी किया गया।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 25 अप्रैल।
     नक्सली छोटे-बड़े हमलों के बाद माड़ का सहारा लेते हुए आसानी से भाग जाते हैं। ऐसे में अब नक्सलियों को रोकने और उनपर निशाना बनाये रखने के लिए बस्तर पुलिस और नारायणपुर पुलिस के द्वारा इस दोनों के बीच में पडऩे वाले मार्ग बोदली में जल्द ही एक कैम्प खोला जा रहा है। जिससे अब नक्सली पुलिस की नजरों से नहीं बच पाएंगे।

    बोदली कैप के बारे में उपपुलिस अधीक्षक बीएस मंडावी ने बताया कि नक्सलियों द्वारा ओडिशा सीमा से आने के बाद ये बड़े नक्सली बॉर्डर के किनारे होते हुए जीरम घाटी,  बुरगुम,  नेतानार के साथ ही अन्य जगहों को पार करने के बाद वे लोग माड़ एरिया में प्रवेश करते हंै। चूंकि ये पूरा इलाका जंगलों से भरा हुआ है, इसलिए ये नक्सली आराम से इसका फ ायदा उठाते हुए निकल जाते है। वहीं कई बार नक्सलियों द्वारा सीमाओं के नीचे से होते हुए पहाड़ में चढ़कर जाते है, ऐसे में उनका सबसे बड़ा जगह चांदामेटा है जो बस्तर और ओडिशा के सीमा को जोड़ता है, बस्तर के नक्सली जब ओडिशा में हमला करते है तो वे इसी मार्ग से बस्तर में आ जाते हंै, और जब बस्तर में करते है तो यही से ओडिशा भाग जाते है लेकिन विगत कुछ वर्षों से बस्तर पुलिस ने नक्सलियों को मुंह तोड़ जवाब भी दिया है। जिसके कारण नक्सली अब बैकफ ुट पर चल रहे है। वहीं नारायणपुर के अलावा बस्तर पुलिस के द्वारा मालेवाही के साथ ही अन्य जगहों में भी कैंप खोल दिया गया है। नक्सली बहुत सारे जिलों जिसमें बस्तर, दंतेवाड़ा,  बीजापुर,  कोंडागांव,  नारायणपुर जैसे जगहों से होते हुए प्रवेश करते हैं।

     पुलिस द्वारा अब नक्सलियों के मुख्य मार्ग को रोकने के लिए टारगेट बनाया है। नक्सली माड़ एरिया में जाने के लिये बस्तर और नारायणपुर के बीच इंद्रावती नदी को पार करने के बाद ही माड़ में प्रवेश करती है।  ऐसे में नारायणपुर की ओर बस्तर के बीच 10 किमी में बसे बोदली में जल्द ही कैम्प खुल जाने से नक्सलियों में भी दहशत रहेगी। साथ ही इन जंगलों में भी टीम नक्सलियों पर कड़ी नजर रख सकेगी। जिससे अब नक्सली ओडिसा सीमा के सीमावर्ती इलाकों से होते हुए माड़ तक नहीं पहुंच पाएंगे।

     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 25 अप्रैल।
    इंटर नेशनल गो सु कु रियो कराते दो एसोशिएशन ब्रांच जगदलपुर व जिला जूडो संघ ऑफ बस्तर के सयुक्त तत्वाधान में 1 मई से नि:शुल्क जूडो कराते प्रशिक्षण नगर के स्थानीय महारानी लक्ष्मीबाई स्कूल में प्रात: साढ़े 6 से साढ़े 7 बजे तक और विद्या ज्योति स्कूल में प्रात: साढ़े 7 से 9 बजे तक एवं शाम साढ़े 4 से साढ़े 5 बजे तक प्रशिक्षण दिया जयेगा। इच्छुक युवती या महिला सुबह 6 से साढे 7 बजे तक पंजीयन करवा कर नि:शुल्क शिविर में भाग ले सकते है। प्रशिक्षण शिविर के दौरान जूडो कराते की प्राथमिक कला किक पंच ब्लाक काता एक्सरसाइज का प्रशिक्षण दिया जायेगा। इसे नियमित अभ्यास के बल से खुद आगे बढ़ सकती है। जूडो विद्या में युवती या महिला का शारिरिक विकास होता है। वरन उनका आत्मविश्वास भी दोगुना बढ़ता है। नि:शुल्क जूडो कराते प्रशिक्षण का उद्देश्य कोई भी लड़की हिंसा की शिकार नहीं हो इसलिये जिले की महिला प्रशिक्षिका मकसुदा हुसैन ब्लैक बेल्ट के द्वारा ग्रीष्म कालीन प्रशिक्षण शिविर का आयोजन  किया गया है। उक्त शिविर में नगर की इच्छुक छात्र छात्राओं महिलाओं को देंगे। इच्छुक छात्राये शिविर का लाभ ले सकते हंै।

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 25 अप्रैल।
    बस्तर विश्वविद्यालय के कंप्यूटर साइंस विभाग द्वारा इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईसीटी अकादमी, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, पटना के सहयोग से शिक्षण, अधिगम एवं शोध में सूचना सम्प्रेषण तकनीक का प्रयोग विषयक 10 दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन दिनांक 20 से 29 अप्रैल तक किया गया है।
    इस कार्यक्रम के छठवें दिन महात्मा गांधी ग्रामोदय विश्वविद्यालय, चित्रकूट, मध्य प्रदेश से आये डॉ विवेक सिंह ने मैटलैब सॉफ्टवेयर के बारे में बताया। दिन के प्रथम सत्र में डॉ सिंह ने मैटलैब सॉफ्टवेयर का सामान्य परिचय प्रतिभागियों को दिया द्वितीय सत्र में उन्होंने इस सॉफ्टवेयर के इंस्टालेशन एवं एप्लीकेशन का प्रशिक्षण दिया। तृतीय सत्र में प्रतिभागियों को मैटलैब सॉफ्टवेयर द्वारा डेटा एनालिसिस करने के बारे में बताया गया। चतुर्थ सत्र में डेटा का ग्राफि कल रिप्रजेंटेशन करना सिखाया गया जिसमें 2 डी एवं 3 डी डायग्राम बनाना भी सम्मिलित था। पांचवे सत्र में मैटलैब का प्रयोग कर के सिग्नल सिमुलेशन करना बताया गया। इसके पूर्व कार्यक्रम के प्रथम चार दिन महात्मा गांधी ग्रामोदय विश्वविद्यालय के सहायक प्राध्यापक डॉ गोविंद सिंह ने प्रतिभागियों के उन्मुखीकरण किया जिसमें उन्हें डेटा, कलेक्शन, डेटा मॉडलिंग एवं एनालिसिस करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल का प्रयोग करना सिखाया। कार्यक्रम के पांचवे दिन कंप्यूटर विभाग बस्तर विश्वविद्यालय के सहायक प्राध्यापक राघवेंद्र पटेल ने शिक्षण एवं शोध की गुणवत्ता सुधारने के लिए गूगल द्वारा विकसित किये गए विभिन्न एप्स के प्रयोग की जानकारी दी इस कार्यक्रम के समन्वयक डॉ बी गुप्ता, एनआइटी पटना एवं डॉ प्रमोद सिंह बस्तर विश्वविद्यालय हैं।
     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 25 अप्रैल।
    केंद्रीय विद्यालय जगदलपुर के द्वारा 15 दिवसीय तरुणोत्सव कार्यक्रम का आयोजन अध्ययनरत 10 वीं 11 वीं एवं 12 वीं कक्षा के छात्र छात्राओं के कैरियर गाइडेंस के लिए किया गया। समारोह के समापन अवसर पर डॉ. पीके तिवारी वैज्ञानिक उद्यानिकी महाविद्यालय अनुसंधान केंद्र जगदलपुर ने उपस्थित छात्र.छात्राओं को कृषि के क्षेत्र में कैरियर बनाने के लिए शिक्षा की दिशा एवं दशा पर विस्तार से बताया। एवं उन्हें कृषि क्षेत्र में उच्च शिक्षा लेकर अपना भविष्य बनाने के लिए प्रेरित किया।  डॉ तिवारी ने अपने वक्तव्य के द्वारा उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र के द्वितीय वर्ष के  प्रखर विद्यार्थी निखिल गुप्ता को भी उपस्थित छात्र.छात्राओं के समक्ष उदाहरणार्थ प्रस्तुत किया। उक्त अवसर पर केंद्रीय विद्यालय के प्राचार्य विकास गुप्ता एवं कार्यक्रम का संचालन कर रहे शिक्षक गोविंद नारायण पाठक जी उपस्थित रहे।
     

  •  

Posted Date : 25-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 25 अप्रैल।
    श्री सीताराम महिला रामायण मंडली धरमपुरा के तत्वावधान में धरमपुरा में आयोजित श्री राम कथा के पंचम दिवस पर 25 मार्च को आचार्य सुबोध महाराज जी ने भरत मिलाप का मार्मिक प्रसंंग सुनाया। जिसे सुनकर उपस्थित भक्तगण भाव विभोर हो गए । साथ ही भगवान श्री राम के द्वारा सबरी उपदेश की कथा का भी सुंदरतम चित्रण आचार्य श्री के द्वारा किया गया ।  26 मार्च को श्री हनुमान चरित्र एवं सुंदर कांड की कथा होगी । धरमपुरा में चल रहे इस भक्तिमय आयोजन में भक्तगण कथा के साथ साथ कथा प्रसंंग अनुसार संगीतमयी भजनों का भी आनंद ले रहे  और भजनों पर भाव विभोर होकर नृत्य कर रहे हैं। प्रतिदिन श्रोताओं की संख्या बढ़ती जा रही है ।
     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • समय-सीमा में सेवा उपलब्ध नहीं कराने पर सौ रूपए प्रतिदिन के हिसाब से दण्ड का प्रावधान
    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    जगदलपुर, 24 अप्रैल । बस्तर संभाग के कमिश्नर अमृत कुमार खलखो ने लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत आवेदकों को निर्धारित समय-सीमा में सेवाएं उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने कहा कि यह राज्य शासन की प्राथमिकता का विषय है और आवेदकों को निर्धारित समय-सीमा में सेवाएं उपलब्ध कराना कानूनी बाध्यता भी है। श्री खलखो ने कहा कि निर्धारित समय-सीमा में आवेदक को सेवाएं उपलब्ध नहीं कराने पर जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारी को प्रतिदिन एक सौ रूपए के मान से जुर्माना देना होगा। इसलिए इस अधिनियिम के तहत नियुक्त सभी नोडल अधिकारी और कर्मचारी इसे गंभीरता से लें और आवेदक को समय-सीमा के भीतर सेवाएं उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। श्री खलखो आज कमिश्नर कार्यालय में संभाग के सभी जिलों के लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत नियुक्त नोडल अधिकारियों की बैठक में अधिनियम के क्रियान्वयन की समीक्षा कर रहे थे। 

    कमिश्नर श्री खलखो ने कहा कि आम जनता की सुविधा के लिए लोक सेवा गारंटी अधिनियम 2011 बनाया गया है। इसके अन्तर्गत जनता से सीधे जुड़े सभी विभागों द्वारा उपलब्ध करायी जाने वाली सेवाओं को सूचीबद्ध किया गया है। इसके साथ ही आवेदक को कितने दिनों में सेवाएं उपलब्ध करानी है, इसके लिए निश्चित समय-सीमा भी निर्धारित की गई है। इसलिए इस अधिनियम के तहत प्राप्त आवेदनों का निराकरण समय सीमा में किया जाए। इस कार्य में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी, कर्मचारी से जुर्माना की राशि वसूलने के साथ ही अनुशासनात्क कार्रवाई भी की जाएगी। कमिश्नर ने कहा कि इस अधिनियम के तहत निराकृत आवेदनों अथवा उपलब्ध सेवाओं की ऑन लाईन प्रविष्ट की जाए और पाक्षिक प्रतिवेदन राज्य शासन और कमिश्नर कार्यालय को भेजना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत अधिसूचित सेवाओं और सेवा प्रदान की निर्धारित समय-सीमा, सक्षम अधिकारी और अपीलीय अधिकारी आदि की जानकारी सभी कार्यालयों में अनिवार्य रूप से प्रदर्शित किया जाए। श्री खलखो ने मुख्यमंत्री सचिवालय से ऑन लाईन जनदर्शन से प्राप्त जन शिकायतों के निराकरण की स्थिति की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जनदर्शन से प्राप्त शिकायतों का समय-सीमा में और गुणवत्तापूर्ण निराकरण करें। शिकायतों के निराकरण के बाद उसकी ऑन लाईन प्रविष्ट भी अनिवार्य रूप से की जाए। उन्होंने कहा कि लोक सेवा गारंटी अधिनियम तथा ऑनलाईन जनदर्शन से प्राप्त शिकायतों के निराकरण की स्थिति की कमिश्नर कार्यालय द्वारा नियमित मॉनीटरिंग की जाएगी। बैठक में कमिश्नर कार्यालय के उपायुक्त जदुबीर राम, एसएस सिदार, संभाग के सभी जिलों के लोक सेवा गारंटी अधिनियम के नोडल अधिकारी और संबंधित कर्मचारी उपस्थित थे

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    जगदलपुर, 24 अप्रैल। यातायात पुलिस ने सोमवार की रात बाइक चलाते नाबालिगों पर कार्रवाई की। पुलिस सभी नाबालिगों को पकड़ कर यातायात विभाग ले गई, जहां चालान काटा गया। वहीं कई नाबालिगों के परिजनों को भी थाने बुलाया गया। मामले के बारे में जानकारी देते हुए यातायात विभाग प्रभारी शिव शंकर गेंदले ने बताया कि शहर में नाबालिग मनमानी रफ्तार पूर्वक गाडिय़ां चला रहे है। जिसके चलते आये दिन सड़क हादसे हो रहे हैं। पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई की और 28 नाबालिगों को पकड़ा। पुलिस ने सभी पर कार्रवाई करते हुए समन लेकर छोड़ दिया।

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    जगदलपुर, 23 अप्रैल। बस्तर संगीत महाविद्यालय घुंघरू नयापारा जगदलपुर में विगत 20 वर्षों से संचालित नृत्य, गायन, वादन एवं चित्रकला विषय में 100 प्रतिशत छात्र-छात्राएं उत्तीर्ण तथा 60 प्रतिशत मेरिट लाकर बस्तर का नाम रोशन किया। जिसमें नृत्य में जागृति मल्लिक, दिष्टि, तनिष्का, समृद्धि, चन्दा, खुशबू, आयुषि, रक्षिता, वंशिका, प्रज्ञा, सृष्टि, कृतिका, आरना, प्रान्जल, भूमिका, आरोही, अश्लेषा, सुभांगी, प्रकृति, सयनि, गीतांजलि, श्रेया, हर्षिता, पिंकी, अलाईसा, मानवी, माहिका, राशि हैं। गायन में डिम्पल, स्वाती, खुशबू, माही, सत्ता, जया, झरना, हिमानी, दीपिका, रीया, कृतिका, आकाश, स्मिता, बलराम, रोहन, नमन हैं। चित्रकला में भानजुल, प्रेन्सिला, बांसुरी वादन में मोबिन खान शामिल हैं।

     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 24 अप्रैल।
     मेडिकल कॉलेज जगदलपुर में मंगलवार को अलग-अलग जगह हुए सड़क हादसे में घायलों की संख्या जहां 1 दर्जन से अधिक देखी गई। वहीं इस दौरान मेडिकल कॉलेज से करीब 1 किमी दूरी में हुए सड़क हादसे में एक ग्रामीण की भी मौत हो गई थी। जबकि 2 डीएसपी भी घायल हो गए थे।

    मामले के जानकारी मिली कि परपा थाना क्षेत्र की 45 वर्षीय महिला सुकमती के अलावा अलग-अलग जगहों में हुए सड़क हादसों में गोलू 26 वर्ष, बालसिंह 35 वर्ष, अशोक 22 वर्ष, छितरु 60 वर्ष, भजनलाल 22 वर्ष, रमेश 32 वर्ष के अलावा और भी कई लोग थे जो सड़क हादसे में घायल होने के बाद उन्हें बेहतर उपचार के लिए 108 की मदद से मेडिकल कालेज लाया गया था। वहीं पुलिस विभाग का कहना है कि वाहन चालकों को कई बार सड़क हादसों को लेकर अभियान भी चलाया जाता है। जिसमें उन्हें दुर्धटना से देर भली का मतलब भी समझया जाता है लेकिन उसके बाद भी युवा पीढ़ी के द्वारा रफ्तार पूर्वक वाहन चलते हुए खुद भी घायल होते है और दूसरों को भी नुकसान पहुचाते हैं। मारेगा के पास मंगलवार की शाम हुए सड़क हादसे में जहां एक स्कार्पियो चालक ने एक बाइक चालक बड़े आरापुर निवासी बुदरु राम को ठोकर मार दिया। इस हादसे में बाइक चालक की तो मौत हो गई, जबकि वाहन में बैठे दोनों डीएसपी घायल हो गए। इस हादसे के बाद घायलों को बेहतर उपचार के लिये भर्ती किया गया है।

     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 24
     अप्रैल। ईमानदारी व पैसों की मोहताज नहीं होती, इस बात को साबित किया है। स्थानीय हाटगुड़ा में रहने वाले एक ऑटो चालक ने उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से शहर आयीं एक महिला के साढ़े 6 लाख के हीरे के आभूषणों को ससम्मान लौटा दिया। इस नेक कार्य के बाद सर्व धर्म समाज ने बुधवार को नगर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में ऑटो चालक सहित उनकी धर्मपत्नी का भी सम्मान किया।

    प्राप्त जानकारी के अनुसार विगत 17 अप्रैल महावीर जयंती के दिन उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद से श्रीमती कृष्णा जैन, स्थानीय व्यापारी और उनके भाई जय चन्द्र जैन के यहां पारिवारिक समारोह में आयीं थी। इस दौरान उनका बैग कहीं गुम हो गया। उक्त बैग में हीरे की एक लॉकेट सहित चैन, दो अंगूठी और दो कंगन थे। जिनकी कीमत तकरीबन साढ़े 6 लाख थी। परिवारजनों के काफ ी मशक्कत के बाद भी जब बैग नहीं मिला तो नगर पुलिस अधीक्षक हेम सागर सिद्दार और यातायात प्रभारी शिव शंकर गेंदले को सूचना दी गई। पुलिस के अधिकारी भी उक्त घटना को चोरी मानते हुए उसे ढूंढने की कोशिश में लग गए थे। 

    इस बीच ऑटो चालक महेश कश्यप के ऑटो में उक्त बैग मिला जिसे वह अपने घर ले गया और उसकी पत्नी हीरामती कश्यप के साथ बैग के मालिक का पता ढूंढने लगा। बैग को खोलने पर उसके अंदर हीरे के आभूषण, आधार कार्ड व एक मोबाइल क्रमांक मिला, जिस पर महेश ने फ ोन कर बैग उसके पास होने की बात कही और ससम्मान बुधवार की सुबह वापस लौटा दिया। जब इस बात की जानकारी सर्व धर्म समाज के पदाधिकारियों को लगी तो महेश सहित उनकी धर्मपत्नी का नगर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में सम्मान किया गया।

     

  •  

Posted Date : 24-Apr-2019
  • तस्वीर/रिपोर्ट बाबा मायाराम
    24 अप्रैल। छत्तीसगढ़ के एक छोटे कस्बे गनियारी में कांग, कोसरा और मडिय़ा की फसलें लहलहा रही है। यह तस्वीरें बारिश के मौसम नहीं हैं, दो दिन पहले की हैं, जब मैं यहां गया था। कोसरा, कुटकी की एक किस्म है. मडिय़ा को कई नाम से जानते हैं। रागी, नाचनी और मडिय़ा.कांग एक छोटे चावल की तरह है.इसकी फली में मोतियों की तरह दाने लगते हैं।
    ये अनाज पहले बारिश में होते थे। अब लुप्त हो रहे हैं। जंगल और पहाड़ों में अब नहीं के बराबर हैं, कुछ जगह जरूर हैं। इनको अब नई पीढ़ी के लोग जानते हैं, खाने की बात तो दूर है।
    यह जनस्वास्थ्य सहयोग का परिसर है। यह संस्था स्वास्थ्य पर काम करती है, लेकिन बीमारी के इलाज के साथ यहां उसकी रोकथाम पर भी ध्यान दिया जाता है। यहां के डाक्टरों का मानना है कि बीमारी का संबंध हमारे भोजन से जुड़ा है। खाद्य सुरक्षा से जुड़ा है. यानी खेती से जुड़ा है इसलिए खेत से जो अनाज हमारी थाली में आता है वह पोषणयुक्त हो, जैविक हो, और विविध प्रकार का हो।

    छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाता है. यानी धान ही यहां की प्रमुख फसल है। सिंचाई का साधन नहीं था। अब बोरवेल का दौर शुरू हुआ है,लेकिन यहां पानी के संरक्षण की अच्छी पानीदार परंपराएं हैं। तालाब ही तालाब हैं यहां, तालाबों के साथ बहुत पहले यहां कई जगह जलस्तर इतना उथला था कि लोग झरिया खनकर पानी पी लेते थे। फिर कुआं थे, जो सूख चुके हैं.कहीं कहीं अब भी हैं। हैंडपंप में भी अब कम पानी आता है।

    बोरवेल हो गए हैं। छत्तीसगढ़ में बड़े पैमाने पर गमी$ में धान की फसल होने लगी है। जन स्वास्थ्य सहयोग के कृषि कार्यक्रम के कार्यकर्ता होमप्रकाश साहू कहते हैं हमारे ये पौष्टिक अनाज लोगों को पोषणयुक्त भोजन देंगे। गर्मी में कम पानी में पक जाते हैं। इनमें सब्जी जितना ही पानी चाहिए. धान की तरह खेतों में पानी भरकर रखने की जरूरत नहीं हैं।

     

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 22 अपै्रल।
    विशाखापट्टनम से जगदलपुर घूमने आए एक ही परिवार के लोगों पर तीरथगढ़ में मधुमक्खियों ने हमला कर दिया। घटना को देख और सैलानी वहां से भाग निकले, जबकि कुछ लोगों पर मधुमक्खियों द्वारा लगातार हमला करने से वे घायल हो गए। जिन्हें बेहतर उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज जगदलपुर लाया गया था। जहां प्राथमिक उपचार कराने के बाद परिवार के लोग अपने घर चले गए।

    मामले के बारे में जानकारी देते हुए कुछ पर्यटकों ने बताया कि रविवार को छुट्टी का दिन होने के कारण सभी अपने परिवार को लेकर घूमने गए हुए थे, उसी दौरान कुछ बाहर से भी सैलानी अपने परिवार के लोगों के साथ छुट्टी मनाने आए थे। अचानक कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा तीरथगढ़ जलप्रपात के पास मधुमक्खी के छत्ते पर किसी ने पत्थर मार दिया। जिसके बाद वहां मधुमक्खियों ने सैलानियों के ऊपर हमला बोल दियाए कुछ लोग सीढिय़ों से नीचे उतर रहे थे, तो वहीं कुछ नीचे फ ोटोग्राफ ी के साथ ही परिजनों के साथ खाना खा रहे थे, अचानक मधुमक्खियों के इस हमले को देख लोग इधर उधर भागने लगे। 

    वहीं विशाखापट्टनम से आए एक ही परिवार के लोग जिसमें दयाल सरल , माधवी,  प्रेमचंद्र ,  वाय एम सुंदर , वाय एन अम्मा, वाय हर्षित , एम नागेश्वर राव , एम वीणा , एम लाक्ष्या, एम लहरी, बी वसंत व उमंग  पर मधुमक्खियों ने हमला कर दिया। इस घटना को देख जहां और सैलानी भागकर अपनी जान बचाने में कामयाब रहे, तो वहीं इन घायलों को बेहतर उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज जगदलपुर उपचार के लिए लाया गया। जहां प्राथमिक उपचार कराने के बाद सभी घायल अपने घर के लिए रवाना हो गए। 

    बताया जा रहा है कि तीरथगढ़ में आए दिन किसी ना किसी असामाजिक तत्वों द्वारा वहां बने मधुमक्खी के छत्ते पर पत्थर मारते रहते हैं, जिससे सैलानियों के साथ ही साथ जगदलपुर निवासी और वहां दुकान लगाने वाले भी मधुमक्खियों के हमने में घायल हो जाते हैं।

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 22 अप्रैल 
    शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय भेजरीपदर में 22 अप्रैल विश्व पृथ्वी दिवस के अवसर पर विधालय परिसर में हरा भरा बनाने का संकल्प लिया गया। भेजरीपदर एवं बोताबोडऩा में लगभग एक हजार तीन सौ के करीब जनसंख्या है। इस पंचायत में लगभग एक सौ के फ र्शी पत्थर खदान है, एक्सिया पेड़ के जंगल वन विभाग के द्वारा लगाया गया है। जंगल कटाई से जहां जीव जन्तु खतरे में आ गए हैं। वहीं फ ल एवं छायादार वृक्ष खत्म होने के कगार पर हैं और वन्य जीव खत्म होते जा रहे हैं। धरती का पेट फ ाड़कर हमने पत्थर, कंकड़, रेती, गिट्टी, निकाल रहे हैं, जल स्तर नीचे जा रहा है, नदी नाला में पानी सिर्फ  बारिश में ही दिखता है, तालाब सूख रहा है कई औषधियां वृक्ष विलुप्त के कगार पर हैं। चिडिय़ा कौवा, गिद्ध दिखाई नहीं देते। क्षेत्र में एक फ सली होने के कारण भी पंछी नहीं दिखाई देते यह एक बड़ी संकट का एक मामूली इशारा है। हमें विधालय भवन के आसपास फल या छायादार वृक्ष लगाना होगा। 

    आज धरती पर उत्पन्न संकट के पीछे मनुष्य की भूमिका 83 फ ीसदी है, गलती करने वाला ही गलती सुधार सकता है। धरती है तो हरियाली है, हरियाली है तो जीवन है, जीवन है तो हम सब हैं। इस मूल मंत्र को भुला चुका इंसान धरती को तबाह करने में जुटा हुआ है सीमित प्राकृतिक संसाधनों का इतनी तेजी से दोहन करने लगा है कि वह साल भर चलन की बजाय उससे पहले खत्म हो जा रहा है। अगर पर्यावरण बचेगा तो ही हम बचेंगे, हम चाहते हैं कि हमारी आने वाली पीढ़ी को बेहतर सेहत और पर्यावरण मिले। एक प्रयास ही सही स्कूल से शुरू करना होगा। इस अवसर पर प्रधानाध्यापक,  गंगाराम कश्यप, जयराम मौर्य, गोविंद सिंह ठाकुर, श्रीमती इच्छावती कश्यप, घनाराम पेकरा, सुखदेव पुजारी, शान्ति यादव, पाकली यादव और विधालय के विधार्थिगण उपस्थित थे।

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  •  ग्रामीणों में दिख बस्तर राजा के प्रति आर्दश व सम्मान

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    तोकापाल, 22 अप्रैल। तोकापाल ब्लाक के छापर भानपुरी में वार्षिक रविवार को चैत्र मंडई मेला संपन्न हुआ है। इस मेले में जलनी माता नामक देवी की पूजा अर्चना किया जाता किया गया। ग्राम के पुजारी ने बताया कि पूरे ग्रामवासियों की खुशहाली व संबृद्ध के लिए ग्राम देवी को प्रतिवर्ष मंडई के रूप में यह कार्यक्रम आयोजित कर पूजा-अर्चना व बलि देकर देवी को खुश किया जाता है। 

    मंडई में आसपास के कई ग्राम से देवी-देवताओं को निमंत्रण देकर बुलाया जाता है। मंडई को भव्य बनाने के लिए रात में बस्तरिया व ओडिशा के नाट, रामलीला जैसी कार्यक्रम आयोजित की जाती है, जिससे लोग पूरी रात मनोरंजन करते हैं। इस बार छापर भानपुरी के लोगों ने बस्तर राजा कमल चंद भंजदेव को भी न्योता भेजा गया था। 

    रविवार को करीब शाम साढे 4 कमल चंद भंजदेव साथ में विनायक गोयल, बैदूराम कश्यप, लछुराम कश्यप ग्राम के माता गुड़ी में पहुचें, जहां ग्राम वासियों ने जमकर स्वागत किए। जिसके बाद जलनी माता देवी की पूजा कर मेले का भी लुप्त उठाया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में समिति के अध्यक्ष मनुराम कश्यप, जीवनाथ कश्यप, लल्लूराम कश्यप व ग्राम वासियों का योगदान था।

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    बीजापुर, 22 अपै्रल। रविवार को जिले के पामेड़ थाना क्षेत्र में हुए पुलिस नक्सली मुठभेड़ में मारे गए नक्सलियों की पहचान पुलिस ने कर ली है। मारे गए नक्सलियों में माडंवी लच्छु उम्र 28 निवासी मिनागट्टा व मड़कम बंडी उम्र 32 निवासी मिनागट्टा के रूप में पहचान हुई है। पुलिस के मुताबिक दोनों नक्सली मिलिशिया सदस्य थे। 

    सोमवार को मृत नक्सलियों का पीएम कराकर शव परिजनों को सौंपा गया। बता दें कि रविवार की तड़के पामेड़ थाना क्षेत्र में तेलंगाना की चेरला पुलिस व बीजापुर पुलिस ने साझा अभियान चलाकर कवरगट्टा व दामावरम के जंगलों में एक महिला व एक पुरुष नक्सली को मार गिराने में सफलता हासिल की थी। पुलिस जवानों ने यहां से नक्सलियों के शव सहित एक भरमार, एक 12 बोर बंदूक, कोडेक्स वायर, 12 बोर के राउंड्स, खाली खोखे, नक्सली वर्दी, पि_ू, नक्सली साहित्य व रोजमर्रा के सामान बरामद किये थे।

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • उपभोक्ता फोरम में जाने की तैयारी कर रहे उपभोक्ता
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 22 अप्रैल।
    हाऊसिंग बोर्ड द्वारा चोकावाड़ा में निर्माण किये जा रहे आवास को अस्थायी आबंटन के मुताबिक मकान मालिकों को 2017 में निर्माण पूरा कर, आधिपत्य सौंपना था, लेकिन अब भी मकान का निर्माण अधूरा है। जबकि 2015 में ग्राहकों से मकान के एवज में पूरा भुगतान ले लिया गया है। लगभग 30 उपभोक्ताओं ने रजिस्ट्री भी करवा ली है। अब हाऊसिंग बोर्ड अधिकारियों द्वारा मकान देने के नाम पर सिर्फ आश्वासन ही दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अब हाऊसिंग बोर्ड में मकान खरीदे लोग मिलकर उपभोक्ता फ ोरम जायेंगे। उक्त बातें हाऊसिंग बोर्ड में मकान खरीदे ग्राहकों ने रविवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए कही।

    शहीद पार्क में पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि हाऊसिंग बोर्ड को मकान के एवज में पूरा भुुगतान किया गया है और दो दर्जन से अधिक लोगों की रजिस्ट्री भी जो चुकी है, लेकिन अब तक मकान नहीं मिल पाया है। जिसके कारण काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि विगत दिनों ग्राहकों द्वारा हाऊसिंग बोर्ड को एक ज्ञापन भी सौंपा गया था, लेकिन अब तक कोई रिस्पांस नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि हाऊसिंग बोर्ड अटल विहार योजना चोकावाड़ा तक पहुंचने के लिए मुख्य सड़क से पहुंच मार्ग का निर्माण नहीं किया गया है। ड्रेनेज सिस्टम तैयार नहीं है और पानी के लिए पाइप लाइन नहीं बिछाई गई है। बाऊंड्री वॉल, यूटीलिटी एरिया, वायरिंग, बिजली के बोर्ड अब तक नहीं लगाए गए हैं। चर्टर में दरवाजे और चौखट नहीं लगे हैं और फर्श पर टाइल्स लगाने का काम बाकी है। छत से बारिश का पानी रिस रहा है और कॉलोनी में तैयार किया जाने वाला पार्क अब तक अधूरा है। यहीं नहीं कॉलोनी में कई निर्माण कार्य अधूरे है, लेकिन हाऊसिंग बोर्ड कॉलोनी का निर्माण पूर्ण करने गंभीर नहीं है। इस दौरान बीवी सांईबाबा, राजेश मेहरा, एम खान, सके टिकहरिया, लीला नायर, कामिनी वर्मा, सुलोचना मेनन, सरोज साहू, सरोज अचिंत्य, अंजन देवनाथ, कमला थवानी, मंजीत थवानी, श्याम थवानी और अनुज शर्मा सहित अन्य मौजूद थे।

     

  •  

Posted Date : 22-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर,22 अप्रैल ।
    बस्तर का नियाग्रा कहे जाने वाला चित्रकोट जलप्रपात जहां पूरी तरह से सूख जाने की वजह से अपना अस्तित्व खो रहा है, इस संबंध में कुछ लोगों द्वारा सिंचाई विभाग के अधिकारी एवं उच्च प्रशासनिक अधिकारी को जानकारी दिये जाने के बावजूद बरती गई लापरवाही के चलते यह स्थिति निर्मित होने की बात सामने का रही है। इसके बाद आनन फानन में कोसारटेडा से 6 क्यूविक पानी छोड़ा गया। जिससे चित्रकोट जलप्रपात का रौनक लौटा। किन्तु कोसारटेडा का पानी किसानों एवं पेयजल के उपयोग के लिए है। यही कारण है कि कोंडागांव नगर पालिका के द्वारा पानी की पूर्ति नही होने के कारण शासन को पत्र लिखते हुए 3 टीएमसी पानी की डिमांड की है। 

     इस मामले को लेकर एरिगेशन विभाग के पीजीएस राजपूत ने बताया कि चित्रकोट में पानी की कमी होने के कारण चित्रकोट के ऊपर बने एक और एनीकेट की मदद से पानी को छोड़ा गया है। वही कल तक ये एनीकेट में पानी नही होने की बात सामने आई थी। लेकिन इस बात का पता चला कि पानी होने के कारण ही उसे छोड़ा गया है। वही पानी की कमी को देखते हुए कोसारटेडा से भी पानी को कल शाम को छोड़ा गया है। वही पानी की कमी ना हो इसके लिए नारंगी नदी का पानी भी छोड़ दिया गया है, जिससे 6 कयूनिक पानी अब तक छोड़ा गया है। वही कोसारडेटा की बात की जाए तो वहाँ अभी 35 प्रतिशत ही पानी बच गया है। 6 कयूनिक पानी जो अभी छोड़ा गया है वो अभी 15 दिनों तक चलता रहेगा। वही और जरूरत पडऩे पर और पानी छोड़ा जा सकता है। लेकिन वहां भी अभी पानी की कमी लगातार बना हुआ है। अभी हाल ही में शासन को कोंडागांव निगम ने एक पत्र लिखा है जिसमे सालभर के लिए करीब 3 पीएमसी पानी की डिमांड की गई है। 

    फसल उत्पादन के चलते घटा इंद्रावती का पानी
    जोरानाला से छत्तीसगढ़ में अभी 4 क्यूनिक पानी आ रहा है। लेकिन सबसे बड़ी बात ये है कि इंद्रावती नदी में ही पानी का स्तर कम हो गया है। जिसका सबसे बड़ा कारण है कि नदी किनारे रहने वाले किसानों के द्वारा इसका उपयोग किया जा रहा है, ये केवल बस्तर ही नहीं ओडिशा में भी देखने को मिल रहा है। क्योंकि किसानों के द्वारा रबी फ सल लगाया जा रहा हैं, जिसके कारण पानी का ज्यादा उपयोग कर रहे है। वही ओडिशा से निवेदन भी किया जा रहा है कि पानी की कमी को देखते हुए पानी को छोड़ा जाए। वहाँ पर भी एक एनीकेट बनाया गया है। इन्द्रावती नदी में मिलने वाली एक नदी का पानी भी कम हों गया है। जिसके कारण फ्लो नही आ पा रहा है। यदि ओडिसा से समझौता के अनुरूप पानी छोड़ा जाता है तो कोसारटेड़ा तक पानी मिलेगा।

    चित्रकोट जलप्रपात सूखने में  रेत माफि याओं द्वारा भरे पानी को खाली करना भी एक कारण है। प्राप्त जानकारी के अनुसार छिन्दगांव में एनिकट निर्माण का कार्य चल रहा है। जिसके चलते इंदावती नदी से रेत निकालने व एनिकट के निर्माण कार्य को करने के लिए सिंचाई विभाग के अधिकारियों एवं  ठेकेदार व रेत माफियाओं की मिलीभगत से नारायण पाल एनिकट क सभी गेट को खोल दिया गया था। जिससे एनिकट में जमा सारा पानी बह गया और यह स्थिति निर्मित हुई। केवल रेत माफियाओं द्वारा रेत निकालने में तथा ठेकेदार को एनिकट निर्माण कार्य सुविधा के लिए ही यह गलत कदम उठाया गया। अधिकारियों को इसकी जानकारी होने के बावजूद किसी तरह की कार्यवाही नहीं की गई। चित्रकोट जलप्रपात में पानी का धार नगण्य होने के बाद तात्कालीक व्यवस्था के लिए कोसारटेडा व नारंगी नदी से पानी गुरूवार को छोड़ा गया। जो शुक्रवार की रात चित्रकोट जलप्रपात पहुंचा। वर्तमान में नारायणपाल एनिकट के चार गेट को खोला गया है। जानकारों का मानना है कि पानी के अपव्यय को रोकने के लिए दो गेट खुलकर भी चित्रकोट जलप्रपात की रौनक बचाई जा सकती है। 

     

  •  

Posted Date : 21-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    जगदलपुर, 21 अप्रैल। चंदैय्या मेमोरियल मेथोडिस्ट चर्च एमसीआई एवं लाल चर्च के साथ ही अन्य गिरजाघरों में भी  पुनरुत्थान दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। प्रभु यीशु के पुनर्जन्म को लघु नाटक के रूप में महिला समिति की बहनों ने बड़े भोर को मंच पर प्रस्तुत किया तथा यीशु के पुनरुत्थान के गीतों को गाते हुए मसीह कब्रिस्तान जाकर अपने प्रिय जनों की कब्रों पर श्रद्धांजलि अर्पण किया।

     परमेश्वर का वरदान हमारे प्रभु यीशु में मसीह में अनंत जीवन है। इस विश्वास के प्रगति करण स्वरूप आराधना ले में विशेष गीतों के माध्यम से संडे स्कूल शिक्षकों एव महिला समिति की बहनों और कॉयर के जवान एवं बच्चों ने अपनी प्रस्तुति दी। प्रभु यीशु के संदेश को मानव जाति को प्रेम, दया, सहनशीलता, कर्म आदि पाठ सिखाता है। रेव्ह ललित मोहन के द्वारा आज का वचन बांटा गया है जिसमें पुनरुत्थान को स्पष्ट किया गया। पुनर्जीवित एवं पुनरुत्थान के अंतर को स्पष्ट किया आदि व अंत एक ही है। हमारे कार्यों का न्याय होगा अत: हमें अपने जीवन के कार्यों को परमेश्वर का भय मानते हुए बुराइयों से परे रह कर भरसक मानव की भलाई में अपना जीवन व्यतीत करना चाहिए। रेव्ह रविंद्र नाथ आराधना का संचालन किया तथा वरिष्ठ पासवान रेव्ह जी पॉल ने भेट की। प्रार्थना में सहयोग प्रदान किया अंत में रेव्ह रविंद्र नाथ ने आशीष देकर आराधना संपन्न की और कल शाम को 6 बजे से ईस्टर मेला का चर्च ग्राउंड में आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान कलीसिया के बहुत भारी संख्या में लोग उपस्थित थे।

    बाक्स—-

    मेथोडिस्ट चर्च कस्तूरी में धूमधाम से ईस्टर का पर्व मनाया गया। इस अवसर पर सुबह कब्रिस्तान में महिलाओं के द्वारा यीशु के जी उठने का दृश्य प्रस्तुत किया गया। तत्पश्चात चर्च में ईस्टर की आराधना की गई। रेव्ह विजय लाल द्वारा अमन, शांति और लोगो के मनो में प्रेम, दया, भलाई बनी रहे इसके लिए विशेष प्रार्थना की।  अपने संदेश में उन्होने कहा कि पुनरुत्थान आशीष का कारण है। इसलिए हमें खुश होना है। यीशु आज भी जीवित है और हमारे बीच हैं।  जिनके मन शुद्ध है वो उसका दर्शन कर सकते 

  •  

Posted Date : 21-Apr-2019
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    जगदलपुर, 21 अप्रैल। शहर में इन दिनों आईपीएल मैचों को खिलाने वाले बुकी प्ले स्टोर से एक ऐप्प डाउनलोड करके ऑनलाइन मैच खिला रहे हैं जिसकी सूचना पर पुलिस ने 3 आरोपियों को पकड़ा है। जिनके पास से नगदी के साथ ही सट्टा पर्ची भी बरामद किया गया है। 

    आईपीएल खिलाने वाले पकड़े गए लोगों के बारे में एसडीओपी डॉ. यॉर्क ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली कि तोकापाल निवासी संतोष बघेल, पथरागुड़ा निवासी राकेश के साथ ही जयदीप सिंह को पुलिस ने पकड़ा, जिनके पास से सट्टा पर्ची के साथ ही 10 हजार 300 रुपए बरामद किया गया। वहीं जब पुलिस पहुँची तो इनके द्वारा ऑनलाइन मैच खिला रहे थे। पुलिस ने आरोपियों को पकडऩे के साथ ही कार्यवाही भी किया। वहीं एक अन्य कार्यवाही के बारे में नगर पुलिस अधीक्षक हेमसागर सिदार ने बताया कि एक अन्य मामले भी 3 आरोपी पकड़े गए हैं, जो आईपीएल मैच खिला रहे थे। उनपर भी कार्रवाई 

  •  



Previous123Next