छत्तीसगढ़ » बस्तर

Previous12345678Next
11-Aug-2020 10:06 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 11 अगस्त। कोरोना से मौत के बाद आखिरकार 3 दिनों बाद शव को दफना दिया गया। कोरोना महामारी संक्रमण से भयभीत ग्रामीण पिछले 3 दिनों से उसे ग्रामीण इलाकों में दफनाने को लेकर प्रशासन से भिड़ते रहे, जिसके कारण प्रशासन को कोरोना से मृत शरीर को दफनाने में काफी मेहनत करनी पड़ी। ज्ञात हो कि बस्तर जिले में कोरोना से यह दूसरी मौत की पुष्टि हुई है। इसके पहले जगदलपुर निवासी एक युवती की रायपुर के अस्पताल में मौत हुई थी तथा उनका अंतिम संस्कार वहीं कर दिया गया था।

शव को दफनाने को लेकर डिमरापाल मेडिकल कॉलेज के पीछेपंडरीपानी व जाटम गांव में ग्रामीणों द्वारा विरोध जताया गया। इसके बाद नगर निगम क्षेत्र के मुक्तिधाम में शव को दफना दिया गया है।

        मेडिकल कालेज जगदलपुर के अधीक्षक डॉ. केएल आजाद ने बताया कि मृतक की उम्र 25 साल है, जो जिले के लोहंडीगुड़ा ब्लॉक के पटेलपारा का रहने वाला था, और उसे 7 अगस्त को सांस लेने में तकलीफ होने के बाद डिमरापाल अस्पताल लाया गया था। इस दौरान उसकी कोरोना जांच भी की गई, जो पॉजिटिव आई थी। जानकारी के मुताबिक अस्पताल लाने के वक्त युवक की हालत काफी गंभीर थी। जिसके बाद 8 अगस्त को उसे मृत घोषित कर दिया गया। जिसके बाद से शव मुर्दाघर में ही रखा गया था।

इस संबंध में नगरनिगम आयुक्त प्रेम कुमार पटेल ने कहा कि मेकाज में यह पहली मौत है, जिसके कारण थोड़ी परेशानी हुई, लेकिन आगामी यहीं दफनाया जाएगा और दाह संस्कार के लिए इलेक्ट्रिक मशीन के लिए प्रपोजल तैयार किया जा रहा है।


11-Aug-2020 10:05 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 11 अगस्त। बस्तर में पौराणिक काल के प्रमाण कई जगह पर मिले हैंं। इन प्रमाण के आधार पर यह तय किया गया है कि त्रेतायुग में बस्तर जो कि उस काल मेंं दंडकारण्य के नाम से विख्यात था। यहां से भी प्रभु श्रीराम, माता सीता व अनुज लक्ष्मण के साथ गुजरे थे। इसी काल में उन्होंने जगदलपुर से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कलचा क्षेत्र के जरण्डीगुड़ा रामपाल गांव में कुछ समय गुजारा था, यहां उन्होंने भगवान शिव की उपासना भी की थी।

ऐसी संभावना व्यक्त की जाती है कि उसी काल में यहां शिवलिंग की स्थापना की गई थी, राम के आगमन के कारण ही बाद में बसे इस गांव का नाम रामपाल पड़ा होगा। हालांकि इस स्थान की महत्ता के बार में कम ही लोग जान पाए हैं। गांव के एक छोर पर बनाए गए इस छोटे से शिव मंदिर  की सबसे ज्यादा आकर्षित करने वाली जो बात है, यहां स्थापित शिवलिंग। इस शिवलिंग की बनावट आम शिवलिंग से पूरी तरह अलग है। साढ़े तीन फीट ऊंचे इस शिवलिंग का निचला आधार अष्टकोणीय है।

मंदिर के पुजारी अर्जुन ने बताया कि इससे भी नीचे यह शिवलिंग चार कोण वाला है, जैसे ही यह आकृति कुछ ऊपर हुई इसमें आठ कोण आसानी से नजर आ रहे हैं। मंदिर परिसर में एक घंटी लगी हुई है। इस घंटी पर मेड इन लंदन छपा हुआ है साथ ही रोमन लिपि में दर्ज है कि यह घंटी 1860 की निर्मित है। यह घंटी भारतीय घंटी के आकार- प्रकार से पूरी तरह अलग है।

 कहा जाता है कि ब्रिटिश काल में यहां पहुंचे एक पर्यटक ने श्रद्धा जताते हुए लंदन में बनी यह घंटी मंदिर को भेंट की थी। हालांकि मंदिर की हालत जीर्ण होने की स्थिति में है मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए समिति बनी है। श्री लिंगेश्वर मंदिर निर्माण समिति ने आपसी चंदा कर मंदिर के आसपास चबूतरे व पिलर खड़े कर दिए हैं। अब राज्य सरकार ने इसे रामगमन पथ सर्किट से जोड़ दिया  है। इससे रामभक्त व यहां के निवासी उत्साहित हैं उनका कहना है कि इससे बस्तर के साथ ही गांव में भी पर्यटन का विकास होगा।

ऐसे पहुंचे रामपाल

जगदलपुर के आमागुड़ा चौके से हाटगुड़ा, हाटगुड़ा से कलचा पहुंचे। कलचा से तुरेनार, झरनीगुड़ा होते हुए रामपाल पहुंचा जा सकता है। यहां तक पक्की सडक़ बिछी है। शहर से इसकी दूरी 10 किमी है। आधे घंटे के सफर में यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है।


11-Aug-2020 10:03 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 11 अगस्त। बस्तर जिला कांग्रेस कमेटी (शहर) के संघर्षशील जिलाध्यक्ष राजीव शर्मा ने जारी विज्ञप्ति में कहा कि वनवासियों के जीवन में बदलाव लाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा लगातार कोशिशें की जा रही है। वनवासियों की आर्थिक स्थिति बेहतर हो इसके लिए तेंदूपत्ता का मूल्य 2500 से बढ़ाकर 4000 प्रति मानक बोरा किए जाने के साथ ही लघु वनोपज की खरीदी को भी विस्तारित किया गया लघु वनोपज की खरीदी समर्थन मूल्य पर किए जाने के साथ ही उनके मूल्य में भी बढ़ोतरी की गई ताकि इसका लाभ सीधे ग्राहकों को मिले।

श्री शर्मा ने कहा कि लघु वनोपज के संग्रहण एवं प्रसंस्करण का प्रबंध कर वनवासियों की आय में कई गुना बढ़ोतरी की जा सकती है। प्रदेश की संवेदनशील भूपेश सरकार ने इस दिशा में कार्य को अंजाम देना शुरू कर दिया है मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आदिवासी संस्कृति के संरक्षण के लिए गढिय़ा पहाड़ संग्रहालय की आधारशिला रखने के साथ ही कृषि विज्ञान केंद्र,कांकेर में कोदो कुटकी रागी प्रसंस्करण केंद्र, इच्छापुर में हर्रा प्रसंस्करण केंद्र, नवागांव-भावगीर में लाख प्रसंस्करण केंद्र,मर्दापोटी में मशरूम उत्पादन से प्रशिक्षण केंद्र का भूमिपूजन और वन क्लस्टर का शुभारंभ कर किसान पुत्र होने का सबूत दिया लघु वनोपज के संग्रहण एवं प्रसंस्करण की बेहतर व्यवस्था करके वनवासी क्षेत्र के लोगों की आमदनी तीन से चार गुना बढ़ाई जा सकती है। कांग्रेस की भूपेश सरकार वनांचल एवं वनवासियों की बेहतरी के लिए प्रतिबद्ध है।

श्री शर्मा ने कहा कि वन अधिकार मान्यता अधिनियम वर्ष 2006 में लागू हुई, मगर भाजपा की रमन सरकार द्वारा राज्य में इसका प्रभावी क्रियान्वयन ना होने की वजह से निजी और सामुदायिक वन अधिकार पट्टा अपेक्षानुसार वितरित नहीं हो सका। इस कारण वनवासियों को अपने अधिकारों से वंचित होना पड़ा। राज्य की संवेदनशील भूपेश सरकार ने इसे एक अभियान के रूप में संचालित किया और सभी पात्र लोगों को तेजी से वन भूमि का पट्टा दिए जाने की शुरुआत की, जो कि स्वागत योग्य है। जिसके कारण छत्तीसगढ़ देश में वन अधिकार पट्टा वितरण में अग्रणी व अव्वल है।


11-Aug-2020 9:58 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर' 11 अगस्त। कलेक्टर  रजत बंसल ने समय-सीमा की बैठक जिला कार्यालय के प्रेरणा सभाकक्ष में लिए। 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस समारोह की तैयारी के संबंध में अधिकारियों को दायित्व दिया गया और सभी कार्यालय में 14-15 अगस्त को कार्यालय भवन में रोशनी के निर्देश दिए गए। साथ ही स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कोरोना वॉरियर्स को सम्मानित करने हेतु विभागो से सूची मंगाई गई। इस स्वतंत्रता दिवस पर मुख्य अतिथि स्कूल शिक्षा व जिला प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम होंगे। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक दीपक झा, सीईओ जिपं इंद्रजीत चन्द्रवाल, सहायक कलेक्टर रेना जमील, अपर कलेक्टर अरविंद इक्का जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

बैठक में कोरोना कोर कमेटी के विषय पर चर्चा के दौरान कलेक्टर ने जिले में ली जा रही सैंपलिंग व टेस्टिंग की गतिविधियों का संज्ञान लेते हुए रिपोर्ट को समय-सीमा में उपलब्ध कराने तथा मेडिकल कॉलेज के प्रभारी को ईलाज की व्यवस्था को दूरूस्त करने के निर्देश दिए। सभी अनुविभागीय अधिकारी से हाट बाजार बंद करने की स्थिति और काट्रेक्ट ट्रेसिंग दल के द्वारा की जा रही कार्य की समीक्षा की। साथ ही ग्रामीण क्षेत्रो में कंटेनमेंट जोन में आवश्यक व्यवस्थाओं को पूर्ण करने के निर्देश दिए है।


11-Aug-2020 9:57 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

किलेपाल, 11 अगस्त। विधायक चित्रकोट द्वारा अतिसंवेदनशील क्षेत्र काकलूर कापनार दौरा कर ग्रामीणों से रूबरू हुए वहीं  बास्तानार ब्लॉक में विभिन्न कार्यों का भूमिपूजन किया।

चित्रकोट विधायक राजमन बेंजाम पिछले दो दिनों से बास्तानार ब्लाक में विभिन्न कार्यक्रम में हिस्सा लिया। जिसमें सोमवार को 90 लाख रु का भूमिपूजन लालगुड़ा तुरंगुर में और आज कापनार ,काकलूर, परलमेटा, बोदेनार  में कुल 15 लाख 56 हजार रु के निर्माण कार्यों का भूमिपूजन किया, जिसमें सीसी सड़क, पुलिया, सामुदायिक भवन शामिल हैं।  विधायक वैश्विक महामारी के बावजूद  क्षेत्र की समस्याओं को सुनने हमेशा दौरा कर रहे हैं। सोशल डिस्टेंस के साथ अपनी सुरक्षा का ध्यान रखने सन्देश देते हुए समस्याओं का यथासम्भव समाधान भी मौके पर कर रहे हैं।

इस मौके पर जनपद सदस्य गुनिता बेंजाम, ब्लाक कांग्रेस कमेटी चंद्रशेखर ठाकुर, सरपंच कापानार लक्ष्मी, सरपंच काकलूर पाईके मरकाम, बृज नारायण ठाकुर, बलदेव मंडावी, बांको भास्कर जगबन्धु ठाकुर, लखमू एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


11-Aug-2020 9:57 PM

जगदलपुर, 11 अगस्त। स्थानीय लाल बाग में स्थित नक्षत्र वाटिका में 11 अगस्त की सुबह बस्तर के पूर्व सांसद स्व. बलीराम कश्यप की स्मृति में पौधारोपण कार्यक्रम किया गया। पूर्व मंत्री केदार कश्यप के साथ नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष संजय पांडे ने पौधारोपण किया।  इस नक्षत्र वाटिका का निर्माण पूर्व सांसद स्व. बलीराम कश्यप के मार्गदर्शन में महापौर किरण देव के कार्यकाल में हुआ था। इसमें पुरातन मान्यता के अनुसार विभिन्न नक्षत्रों के लिए विशेष वृक्षों का रोपण किया गया था, इस उद्देश्य से की सभी राशि वाले व्यक्ति इन पौधों का रोपण कर उसे वृक्ष बनने तक देखरेख करेंगे।

इस दौरान पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने इस नक्षत्र वाटिका के संरक्षण और संवर्धन के लिए हमेशा सहयोग करने का आश्वासन दिया।

 इस अवसर पर नक्षत्र वाटिका की देखरेख करने वाले पर्यावरण प्रेमी मदन आचार्य  ,प्रमोद मोतीवाला, महबूब खान, किशोर जाधव ,जीतू चावला राजू श्रीकांत  जयराम दास बृजनंदन वर्मा एवं अन्य सदस्यगण उपस्थित थे।


11-Aug-2020 9:55 PM

सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ की आवाज़ बुलंद - रेखचंद

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 11 अगस्त। बस्तर जिला कांग्रेस कमेटी (शहर) ने स्थानीय कांग्रेस भवन में पांच बार की सांसद मिनाक्षी देवी उर्फ मिनीमाता की पुण्यतिथि गरिमा और सादगी के साथ मनाई गई।

सर्वप्रथम जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजीव शर्मा ने मिनी माता  की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि अविभाजित छत्तीसगढ़ राज्य के लिए उन्होंने सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। वह भले राज परिवार से ताल्लुक नहीं रखती थी, किन्तु उन्हें छत्तीसगढ़ की राजमाता के रूप में वह विख्यात है और उनके कार्य व बलिदान अविस्मरणीय है।

 संसदीय सचिव व विधायक रेखचन्द जैन ने श्रध्दासुमन अर्पित कर कहा कि सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ लड़ाई लड़ी, जिसमें बाल विवाह संप्रेषण कानून व अस्पृश्यता कानून के लिए बतौर सांसद संसद भवन में आवाज बुलंद की। इस दौरान  महापौर सफीरा साहू ने कहा कि महिलाओं के लिए आजीवन संघर्ष किया जिससे पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने योग्य बनी। 

कार्यक्रम के अंत में वरिष्ठ कांग्रेसी स्व.गुरनाम सिंह और कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष नरेंद्र तिवारी की माता स्व.रामसँवारी तिवारी के निधन पर 2 मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि दी गई एवं शोकाकुल परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की।

इस कार्यक्रम में वरिष्ठ कांग्रेसी पार्षद सुषमा कश्यप जिला महासचिव अनवर खान, अ. सईद,आईटी सेल के प्रदेश महामंत्री योगेश पानीग्राही, नरेंद्र तिवारी, छबिश्याम तिवारी,हरिशंकर सिंह,संजू जैन,विधि प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अवधेश झा,मोईन कुरैशी आदि कांग्रेसजन उपस्थित थे।


11-Aug-2020 9:54 PM

जगदलपुर, 11 अगस्त। आमचो इंद्रावती कठा लगाऊं बूटा के तहत इंद्रावती तट किनारे बसे 61 पंचायतों और 81 गांवों में युवोदय के माध्यम से प्रशासन के द्वारा इस वर्ष 81 हजार पौधों का रोपण किया गया है जिसमें 90 फीसदी लक्ष्य को प्राप्त कर लिया गया है।

पौधों को पेड़ बनाने की महत्वाकांक्षी लक्ष्य को लेकर प्रशासन ने पौधरोपण से लेकर उनके संरक्षण, संवर्धन तथा पेड़ रूप में विकसित होने तक की जिम्मेदारी युवोदय को दी है। जिसमें जिला प्रशासन ने शहर के चुनिंदा स्वयं सेवकों चिन्हाकित कर उक्त समस्त जिम्मेदारी युवोदय के अंतर्गत अधिकृत तौर पर वॉलिंटियर्स बना कर दी गई है।

 कभी अनुपयोगी माना जाने वाली बेशरम झाड़ी अब पौधों को संरक्षित कर उन्हें पेड़ बनाने में सहायक सिद्ध हो रहे हैं। ज्ञात हो कि सर्वप्रथम कविआसना पंचायत ने नो-कॉस्ट ट्री-गार्ड की अवधारणा पर काम करते हुए नदी के किनारे उगने वाले बेशरम झाड़ी व अन्य अनेक प्रकार के कंटीले झाडिय़ों को गाथ कर ट्री-गार्ड बनाने की पहल की थी, जिसे देखते हुए बगल का पंचायत कुड़कानार के युवोदय वॉलिंटियर्स भी अब उक्त विधि के द्वारा ट्री-गार्ड बनाने लगे हंै।


11-Aug-2020 9:53 PM

जगदलपुर, 11 अगस्त। बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा संगठन एवं बस्तर संभाग के सभी अतिथि शिक्षक संघ ने आज बस्तर कमिश्नर अमृत कुमार खलखो को ज्ञापन सौंपकर अपनी समस्याएं बताई गई।

ज्ञापन में बताया कि डीएमएफ फण्ड के माध्यम से बस्तर संभाग के सभी सभी जिलों में अतिथि शिक्षक विगत वर्ष से कार्यरत हैं। अतिथि शिक्षक को कम वेतन में भी अति संवेदनशील नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। जिसमें संभाग के सभी स्कूलों तथा संभाग के शिक्षा गुणवत्ता में काफी सुधार आया है। अतिथि शिक्षकों ने कहा कि हमारी नियुक्ति प्राथमिक, माध्यमिक, हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूल के रिक्त स्थायी पदों के विरूद्ध हुआ है। शिक्षा सत्र प्रारंभ होने के पश्चात अगस्त, सितम्बर से पुनर्नियुक्ति कर सेवा में लिया जाता है तथा शिक्षा सत्र के अंत में अप्रैल में भारमुक्त किया जाता है। इस दौरान हम सभी अतिथि शिक्षक को बेरोजगारी, मानसिक एवं पारिवारिक आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है तथा इस उम्मीद के साथ पुनर्नियुक्ति का इंतजार करना पड़ता है कि हमें आगामी सत्र में रोजगार मिल जाएगा और हमारी सेवा जारी रहेगी।

बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा के संभागीय संयोजक नवनीत चांद ने डीएमएफ फंड के बारे में योजनाओं एवं अपने हक अधिकार के बारे में अतिथि शिक्षक संघों को जानकारी दी और आगे लड़ाई मोर्चा उनके साथ मिलकर लड़ेगी।

आज बस्तर जिला अध्यक्ष मनोज ठाकुर, रूकधर, रूपेन्द्र, दीपक पाण्डे, पिताम्बर पोयाम, गोपाल सरकार,तापस मल्लिक,नवनीत चाँद,डॉ. अमित पीटर, भरत कश्यप,मीता बहादुर,अनिता पानीग्राही, धरमी मौर्य, पदमनी बेलसरिया, लक्ष्मी पानीग्राही, यशोदा, हेमलता, रिंकी,जनश्याम पांडे, सहेलनी कौशल, किरण वाजपेयी, एकता रानी, सोभा गणोंत्रे एवं संभाग के सभी अतिथि शिक्षक उपस्थित थे।


11-Aug-2020 2:22 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 11 अगस्त। मेडिकल कॉलेज डिमरापाल में कोरोना से हुई मौत में शव को चार दिन गुजरने के बाद भी नहीं दफनाया जा सका है। पहले जिस जगह का चयन किया गया था, वहां के ग्रामीणों ने भारी विरोध किया और उन्होंने खोदा गया गड्ढा को पटवा दिया। इसके बाद कल चयनित जगह पर पानी भर गया। ज्ञात हो कि बस्तर जिले में कोरोना से यह दूसरी मौत की पुष्टि हुई है। इसके पहले जगदलपुर निवासी एक युवती की रायपुर के अस्पताल में हुई थी।

मेडिकल कालेज जगदलपुर के अधीक्षक डॉ केएल आजाद ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि मृतक की उम्र 25 साल है, जो जिले के लोहंडीगुड़ा ब्लॉक के पटेलपारा का रहने वाला था, और उसे 7 अगस्त को सांस लेने में तकलीफ होने के बाद डिमरापाल अस्पताल लाया गया था। इस दौरान उसकी कोरोना जांच भी की गई जो पॉजिटिव आई थी। 

जानकारी के मुताबिक अस्पताल लाने के वक्त युवक की हालत काफी गंभीर थी। जिसके बाद 8 अगस्त को उसे मृत घोषित कर दिया गया। जिसके बाद से आज तक मृतक का शव मुर्दाघर में ही रखा गया है। जिसे दफनाने प्रशासन ने 9 अगस्त को डिमरापाल मेडिकल कॉलेज के पीछे ग्राम पंचायत पंडरीपानी के खाली जमीन पर गड्ढा खुदवाया जा रहा था। इसी बीच सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण वहां पहुंच गए और इसका विरोध करने लगे। अधिकारी घंटो ग्रामीणों को समझाते रहे, लेकिन ग्रामीणों ने उनकी नहीं मानी और खोदा गया गड्ढा को पटवा दिया गया। जिसके बाद प्रशासन के लोग वहां से बैरंग लौट गए । 

ग्रामीण हरिराम मौर्य सरपंच पति हरिशंकर कश्यप, धरमु राम नागेश सहित मौजूद ग्रामीणों ने बताया कि पहले भी यहां एसडीएम, पटवारी आये हुए थे, लेकिन इस जगह को देने से ग्रामीणों ने मना किया था। बावजूद इसके यहां बिना जानकारी के खोदना गलत है और कोरोना से हुई मौत को लेकर क्षेत्र में बहुत ज्यादा दहशत का माहौल बना हुआ है। फिलहाल मृतक के परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए अभी और इंतजार करना पड़ सकता है।

इस संबंध में पालिक निगम आयुक्त प्रेम कुमार पटेल ने बताया कि कलेक्टर रजत बंसल के निर्देशानुसार कल जिस जगह का चयन किया गया था, वहां पानी भर गया था, इसलिए नहीं दफनाया जा सका। इसके पहले जो स्थान देखा गया था वहां ग्रामीणों का विरोध था। आज एक अन्य स्थान देखा गया है, संभवत: आज शव को दफना दिया जाएगा, जिसकी सूचना मृतक के परिजनों को दे दी गई है।


10-Aug-2020 11:14 PM

जगदलपुर, 10 अगस्त।बस्तर जिला प्रशासन की पहल पर अमल करते हुए बस्तर ब्लॉक के सुदूर अंचल के ग्राम मांदलापाल में लाऊडस्पीकर क्लास के माध्यम से बच्चों को शिक्षण गतिविधियों में शामिल कराया जा रहा है, जिसमें बच्चों को छोटी छोटी गतिविधियों व कहानियों को प्रोजेक्टर के माध्यम से दिखाया जा रहा है। ग्राम मांदलापाल में विगत 25 जुलाई से लाऊडसपीकर क्लास का आयोजन ग्राम  के सरपंच फ़क़ीर राम कश्यप, प्राचार्य हायर सेकेंडरी स्कूल मांदलापाल  राजेन्द्र कुमार डाहरे व शिक्षकों के सहयोग से किया जा रहा है। लाऊडस्पीकर क्लास की सतत मॉनिटरिंग संकुल समन्वयक देवेंद्र सोनी द्वारा की जाती है। शिक्षकों के सहयोग से लाऊडस्पीकर क्लास में नवाचारी प्रयोग करते हुए प्रोजेक्टर भी लगाया गया है जिसमें विभिन्न प्रकार के शैक्षणिक गतिविधियों को बच्चों को दिखाया जाता है। प्रोजेक्टर में वीडियो दिखाने के लिए शैक्षणिक गतिविधियों का वीडियो संकुल के शिक्षकों व संकुल समन्वयक देवेंद्र सोनी के द्वारा यूट्यूब से डाउनलोड कर उपलब्ध कराया जाता है। ग्राम मांदलापाल में लाऊडस्पीकर क्लास प्रतिदिन शिक्षक जयदेव सिंह ठाकुर, लक्ष्मण सेलर, हेमलता नाग, सुकचंद बघेल, चिंतेश्वर ध्रुव, विजेंद्र सिंह सेठी, कार्तिक राम दीवान, शिवराम बघेल, संतोष देहारी, शिव ठाकुर, रूपेंद्र कुमार गायकवाड़ खिरेंद्र पाण्डेय, हेमनलाल धिरहे, द्वारिकानाथ सेन, गोविंद साहू, मुकेश ध्रुव व सभी शिक्षकों के सहयोग से संचालित है।


10-Aug-2020 11:12 PM

जगदलपुर ,10 अगस्त। कलेक्टर रजत बंसल ने विकासखंड बास्तानार के बड़ेकिलेपाल 1 और सिकलजोड़ी के गौठानों का आकस्मिक निरीक्षण किया। श्री बंसल ने गौठानों में गोधन न्याय योजना के तहत् गोबर खरीदी एवं राषियों का भुगतान के संबंध में आवश्यक निर्देश देते हुए गौठान की अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लिया। सिकलजोड़ी के गौठान में स्व-सहायता समूह से गोधन न्याय योजना तहत् गोबर खरीदी व भुगतान तथा वर्मी कम्पोस्ट निर्माण एवं बिक्री के संबंध में चर्चा भी की।


10-Aug-2020 10:39 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 10 अगस्त। भाजपा के नवनियुक्त बस्तर जिला अध्यक्ष रूप सिंह मंडावी ने आज पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में भाजपा जिला कार्यालय में  कार्यभार ग्रहण किया। पूर्व जिला अध्यक्ष बैदूराम कश्यप ने श्री मंडावी को फूलों की माला पहना कर दायित्व सौंपा।

भाजपा के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष श्री मंडावी ने कहा कि हम सभी कार्यकर्ता है और हमें मिलजुल कर समवेत प्रयासों से संगठन को और मजबूत करना है। भाजपा प्रदेश महामंत्री डॉ.सुभाऊ कश्यप ने कहा कि नई ऊर्जा के साथ कार्यकर्ता जनता के बीच पहुंचें और अपनी बातें रखें। जनता से ही जीत का मार्ग प्रशस्त होता है। पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने कहा कि हमारी केन्द्र सरकार ने देश के समक्ष किये सभी वायदों को पूरा कर रही है। धारा 370 हटाने से लेकर प्रभु श्री राम मंदिर के निर्माण का कार्य आरंभ हुआ। कोरोना संकटकाल में जनता की सुरक्षा के लिए अथक प्रयास हो रहे हंै। समवेत रूप से कार्यकर्ताओं को प्रदेश की नाकाम कांग्रेस सरकार से लोहा लेना है।

भाजपा प्रदेश मंत्री किरणदेव ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं की पार्टी है। कार्यकर्ता लक्ष्य निर्धारित कर अनुशासन के साथ आगे बढ़ें और कार्यकर्ता जनता की आवाज़ बने। पूर्व सांसद दिनेश कश्यप ने कहा कि प्रदेश की नकारा कांग्रेस सरकार की खामियाँ एक के बाद एक उजागर हो रही हैं। ऐसे समय में हमें एकजुट होकर जनता के मध्य जाना है।

पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष बैदू राम कश्यप ने नये अध्यक्ष को बधाई शुभकामनाएं देते हुए कार्यकर्ताओं से परिश्रम व निष्ठा से कार्य करने कहा। इस दौरान  पूर्व विधायक संतोष बाफना, श्रीनिवास राव मद्दी, कमलचंद भंजदेव, लच्छूराम कश्यप, मनीराम कश्यप, शेष नारायण तिवारी,योगेन्द्र पांडे,रामाश्रय सिंह,अश्निन सरडे, श्रीधर ओझा, वेद प्रकाश पांडे, राजेन्द्र बाजपेयी, आर्येन्द्र आर्य, नरसिंह राव, संग्राम सिंह राणा, मनोहर तिवारी,श्रीपाल जैन, सुरेश गुप्ता, मनीष पारेख, दीप्ति पाण्डे आदि सहित कार्यकर्ता मौजूद थे।


10-Aug-2020 10:38 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 10 अगस्त। वन विभाग द्वारा सोमवार को चित्रकोट मार्ग स्थित ऑक्सीजोन टेकामेटा में इंद्रावती बचाओ अभियान के सदस्यों, वन अधिकारियों और ग्रामीणों की उपस्थिति में पहली बार सामूहिक रूप से छत्तीसगढ़ के राजवृक्ष साल का आक्सीजोन टेकामेटा में रोपण किया गया।

इस मौके पर मुख्य अतिथि पद्मश्री धर्मपाल सैनी ने कहा कि बस्तरवासी साल को कल्पवृक्ष मानते हैं। यह वृक्ष ग्रामीणों की आर्थिक समृद्धि को बढ़ाता रहा है। सालबीज की अंकुरण क्षमता 15 दिनों से भी कम दिवस की होती है, इसलिए सालरोपण को महत्वपूर्ण कार्य माना गया है। हमें इसे संवर्धित कर बस्तर को फिर से साल वनों का द्वीप बनाना है। उन्होंने कहा कि इंद्रावती को सदानीरा बनाने में पौधरोपण महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा।

इस मौके पर परिसर में साल के 100, नीम के 40, बड़ और पीपल के 25-25 तथा आंवला के 10 पौधे रोपे गए। जगदलपुर वन वृत्त के मुख्य वन संरक्षक शाहिद खान ने कहा कि इंद्रावती बचाओ अभियान सैनीजी के नेतृत्व में सक्रिय है। गांव वालों को जोड़कर पौधों की सुरक्षा का दायित्व भी अभियान ने उठाया है। हमें रोपित पौधों को बचाना है। किसी भी प्रकार की तकलीफ पर  सीसीएफ और डीएफओ से सीधे संपर्क किया जा सकता है।

 टेकामेटा  की सरपंच उर्मिला गोयल ने कहा कि रोपित पौधों की सुरक्षा पंचायत प्रतिनिधि और ग्रामीण करेंगे। ऐसा कर हम नई पीढ़ी को भी पौधरोपण के प्रति प्रोत्साहित कर सकते हैं।

इंद्रावती बचाओ अभियान के संपत झा ने कहा कि साल के साथ जुड़ी भ्रांतियों को दूर करना बेहद जरुरी है। उन्होंने बताया कि संजय मार्केट चौक से गीदम नाका तक तथा कोर्ट चौक से बोधघाट थाना तक सड़क के दोनों किनारे पौधरोपण करना चाहते हैं। इस कार्य हेतु वन विभाग से बेहतर  ट्री गार्ड की आवश्यकता है। रोपे गए पौधों की सुरक्षा का दायित्व हम उठाएंगे। सीसीएफ मोहम्मद शाहिद ने ट्री गार्ड उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है। कार्यक्रम के दौरान जिपं सदस्य रैतुराम बघेल, दशरथ कश्यप,आनंदमोहन मिश्रा, हेमंत कश्यप, वन परिक्षेत्राधिकारी देवेंद्र वर्मा जगदलपुर, रतनराम कश्यप चित्रकोट, उमेश सिंह सामाजिक वानिकी, इंद्रावती बचाओ अभियान के सदस्य और ग्रामीण बड़ी संख्या में मौजूद रहे।


10-Aug-2020 10:37 PM

जगदलपुर, 10 अगस्त। आज बस्तर जिले में  4 लोगों की कोरोना  टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आया है। इसमें से 3 व्यक्ति केशलूर और 1 व्यक्ति बस्तर से हैं। जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा  संबधित  क्षेत्र में आवश्यक कारवाई की जा रही है।


10-Aug-2020 10:35 PM

जगदलपुर ,10 अगस्त। कलेक्टर रजत बंसल ने विकासखंड बास्तानार के बड़ेकिलेपाल 1 और सिकलजोड़ी के गौठानों का आकस्मिक निरीक्षण किया। श्री बंसल ने गौठानों में गोधन न्याय योजना के तहत गोबर खरीदी एवं राषियों का भुगतान के संबंध में आवश्यक निर्देश देते हुए गौठान की अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लिया। सिकलजोड़ी के गौठान में स्व-सहायता समूह से गोधन न्याय योजना तहत् गोबर खरीदी व भुगतान तथा वर्मी कम्पोस्ट निर्माण एवं बिक्री के संबंध में चर्चा भी की।


10-Aug-2020 10:31 PM

जगदलपुर,10 अगस्त। कलेक्टर रजत बंसल के निर्देशानुसार खनिज विभाग द्वारा 9 और 10 अगस्त को जिले के भानपुरी, बस्तर एवं नगरनार क्षेत्र में आकस्मिक निरीक्षण के दौरान गौण खनिज चूना पत्थर के 5 वाहन तथा साधारण पत्थर के 1 वाहन कुल 6 वाहन अवैध परिवहन करते पाये जाने पर परिवहनकर्ताओ के विरूद्व खनिज का अवैध परिवहन का प्रकरण दर्ज किया गया।

अवैध परिवहन के कुल 6 प्रकरण को बिना वैध अभिवहन पास के चालकों द्वारा खनिजों का परिवहन करते पाये जाने पर खनिज मय वाहनों को जब्त कर सभी प्रकरणों में छग गौण खनिज नियमावली के तहत दण्डात्मक कार्रवाई की जा रही है।


10-Aug-2020 10:28 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 10 अगस्त। संभाग के सबसे बड़े बाजार संजय बाजार को कोविड -19 के एक मरीज की वजह से बफर जोन घोषित किया गया था और लगभग बीस दिनों से इसे बंद किया गया था। व्यापारियों ने समस्याओं को संसदीय सचिव रेखचंद जैन, अक्षय ऊर्जा विकास निगम चेयरमेन मिथिलेश स्वर्णकार व शहर अध्यक्ष राजीव शर्मा के समक्ष रखी। तीनों ने तत्काल प्रशासनिक अधिकारियों के साथ चर्चा की। जिला प्रशासन ने शासन की गाईड लाईन के साथ दूकानों को खोलने की अनुमति दी।

 त्वरित पहल के लिए संजय बाजार व्यापारिक संघों के पदाधिकारियों व व्यापारियों में हर्ष का माहौल है एवं संसदीय सचिव, क्रेडा अध्यक्ष व शहर अध्यक्ष को पुष्प गुच्छ भेंट कर आभार व्यक्त किया और इसी प्रकार भविष्य में भी मदद करने की आशा व्यक्त कई।

व्यापारियों को नेतागणों ने कहा कि हम सब परिवार के सदस्य हैं और आपकी समस्याओं का निराकरण करने हेतु कटिबद्ध है और इस पर तत्काल निर्णय लिया गया। जिस प्रकार कोरोना महामारी के दौरान आप लोगों का जो सहयोग मिला, उसके लिए भी धन्यवाद दिया।

व्यापारियों की समस्याओं के त्वरित पहल होना बस्तर के इतिहास में पहला उदाहरण है और व्यापारियों ने इस हेतु नेतागणों के प्रति पुन: आभार प्रकट करने के साथ जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया है।


10-Aug-2020 8:12 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 10 अगस्त। इस वर्ष नगर के कई चौक-चौराहों पर सार्वजनिक गणेश की स्थापना न कर अपने-अपने घरों में गणेश प्रतिमा स्थापित कर पूरे विधि-विधान के साथ पूजा करने का निर्णय लिया गया है। इस समय भारत समेत पूरी दुनिया कोरोना संकट से जूझ रही है। कोरोना के कारण भारत में इस बार कई त्यौहार लोगों ने अपने घरों में ही मनाए। कोरोना के कारण इस साल पंच रास्ता समिति ने सार्वजनिक गणेश प्रतिमा विराजित न करने का फैसला किया है। करीब 14 साल में ऐसा पहली बार होगा, जब पंचचौक में गणेशजी की प्रतिमा की स्थापना नहीं होगी।

पंचचौक समिति से जुड़े हुए सदस्यों ने बताया कि इसबार एक नहीं 20 से अधिक गणेशजी की प्रतिमा समिति के सदस्य अपने घरों में स्थापित करेंगे और पूरे विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना करेंगे। बरसों से चली आ रही इस परंपरा को खंडित करने का फैसला लेना आसान नहीं था, किन्तु बस्तर में इस समय कोरोना तेजी से फैल रहा है जिसको देखते हुए यह निर्णय लिया गया है।

विदित हो कि मनमोहक झांकी के लिए पूरे बस्तर संभाग में पंच चौक समिति के द्वारा बैठाया जाने वाला गणेश पंडाल मशहूर है। बताया जाता है कि इस पंडाल को देखने बस्तर के अंदरूनी इलाकों से लोग आते हैं। पिछले वर्ष इस पंडाल में स्थापित गणेश प्रतिमा के दर्शन शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र के काफी लोगों ने किया था। इस वर्ष शासन द्वारा भी सार्वजनिक पंडालों में 4 फुट से अधिक ऊंचाई के गणपति मूर्तियों की स्थापना करने की अनुमति नहीं दी गई है जिसके चलते यह अनुमान लगाया जा रहा है कि शहर के अधिकांश चौक चौराहों पर प्रतिवर्ष आकर्षक पंडालों में विराजित होने वाले गणपति प्रतिमाओं की संख्या कम होगी।


09-Aug-2020 11:56 PM

जगदलपुर, 9 अगस्त। इस वर्ष नगर के कई चौक-चौराहों पर सार्वजनिक गणेश की स्थापना न कर अपने-अपने घरों में गणेश प्रतिमा स्थापित कर पूरे विधि विधान के साथ पूजा करने का निर्णय लिया गया है। इस समय भारत समेत पूरी दुनिया  कोरोना संकट से जूझ रही है। कोरोना के कारण भारत में इस बार कई त्योहार लोगों ने अपने घरों में ही मनाए। कोरोना के कारण इस साल पंच रास्ता समिति ने सार्वजनिक गणेश प्रतिमा विराजित न करने का फैसला किया गया है। करीब 14 साल में ऐसा पहली बार होगा, जब पंचचौक में गणेशजी की प्रतिमा की स्थापना नहीं होगी। 

पंचचौक समिति से जुड़े हुए सदस्यों ने बताया कि इसबार एक नही 20 से अधिक गणेशजी की प्रतिमा समिति के सदस्य अपने घरों में स्थापित करेंगे और पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करेंगे। बरसों से चली आ रही इस परंपरा को खंडित करने का फैसला लेना आसान नहीं था, किन्तु बस्तर में इस समय कोरोना तेजी से फैल रहा है जिसको देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। 

विदित हो कि मनमोहक झांकी के लिए पूरे बस्तर संभाग में पंच चौक समिति के द्वारा बैठाया जाने वाला गणेश पंडाल मशहूर है। बताया जाता है कि इस पंडाल को देखने बस्तर के अंदरूनी इलाको से लोग आते हैं। पिछले वर्ष इस पंडाल में स्थापित गणेश प्रतिमा के दर्शन शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र के काफी लोगों ने किया था। इस वर्ष शासन द्वारा भी सार्वजनिक पंडालों में 4 फुट से अधिक ऊंचाई के गणपति मूर्तियों की स्थापना करने की अनुमति नहीं दी गई है जिसके चलते यह अनुमान लगाया जा रहा है कि शहर के अधिकांश चौक चौराहों पर प्रतिवर्ष आकर्षक पंडालों में विराजित होने वाले गणपति प्रतिमाओं की संख्या कम होगी।


Previous12345678Next