छत्तीसगढ़ » धमतरी

Previous12Next
Posted Date : 21-May-2018
  • टिकेश्वर : परेवाडीह, धमतरी

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 21 मई। दंतेवाड़ा में कल शहीद जवान टिकेश्वर का शव आज सुबह उसके गृहग्राम परेवाडीह लाया गया। जहां राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई।  केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शहीद  के पिता जहूर सिंह से  फोन पर बात कर संवेदना जताई और परिवार को ढंाढस बंधाया।   
    शहीद जवान टिकेश्वर के दोस्त हेमंत साहू, राजेश ध्रुव, भुनेश्वर साहू ने बताया कि टिकेश्वर  जिंदादिल इंसान था। उसे बचपन से ही देश सेवा का जुनून था इसलिए उसने पुलिस की नौकरी ज्वाईन की। दोस्त गैंदलाल, राजेश्वर ध्रुव, कैलाश ने बताया कि दो महीने पहले वह जब छुट्टी में आया था, तो उन्होंने काफी मौज-मस्ती की थी। उसने वादा किया था कि गर्मी की छुट्टी में वह फिर लौटकर आएगा। आज जब उसकी शहादत की खबर मिली, तो यकीन नहीं हुआ। 
     टिकेश्वर का जन्म 1982 में हुआ था। बचपन से ही पढ़ाई में काफी होशियार था। पीजी कालेज से बीए की पढ़ाई पूरी करने के दौरान ही उसकी पुलिस में नौकरी लग गई। उसके कंधे में जब वर्दी सजी, तो वह काफी खुश था। उसका कहना था कि बचपन से जो सपना देखा था वह पूरा हो गया। वह कहता था कि जिंदगी भर अपने तन से वर्दी को जुदा नहीं करेगा और उसकी यह बात सच भी हो गई। जवान टिकेश्वर ध्रुव दंतेवाड़ा में ही अपनी पत्नी तारिणी और 4 साल की बेटी नम्रता के साथ रहता था। उसका सपना था कि नम्रता  डाक्टर बने।
    नगरी सिहावा क्षेत्र में बढ़ाई गई सर्चिंग
    इस घटना के बाद से जिले के नगरी-सिहावा और ओडिया बार्डर पर पुलिस सर्चिंग बढ़ा दी गई है। बोरई, खल्लारी, मेचका थाना में भी अलर्ट जारी किया गया है। इस क्षेत्र आने-जाने वाले वाहनों की सघन जांच की जा रही है। 

  •  

Posted Date : 15-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    धमतरी, 15 मई। समीप के ग्राम कोलियारी के पास आज सुबह एक हाईवा ने साइकिल सवार पिता-बेटी को अपने चपेट में ले लिया। हादसे में 12 साल की बच्ची की मौके पर मौत हो गई। गुस्साए ग्रामीणों ने हाईवा को आग लगाकर चक्काजाम कर दिया। दोपहर तक हालात तनावपूर्ण था।   

    मिली जानकारी के अनुसार  आज सुबह 8 बजे  ग्राम भोयना निवासी मोहन ध्रुव अपने बेटी वास्तिका ध्रुव  के साथ बठेनापारा से साइकिल से घर लौट रहा था। तभी नगरी रोड से आ रही हाईवा क्रमांक सीजी 07 एसी 6202 ने उसे चपेट में ले लिया। टक्कर इतना जोरदार थी कि मोहन साइकिल समेत सड़क से दूर फेंका गया, जबकि उसकी बेटी  चक्के के नीचे आने से मौके पर दम तोड़ दिया। 
    इधर घटना की जानकारी ग्रामीणों को मिली, तब क्षेत्र के लोग आगबबूला हो गए और चक्काजाम कर विरोध जताने लगे। कुछ समय बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने वाहन में आग लगा दिया। 
    इधर घटना की खबर पर अर्जुनी, रुद्री, कोतवाली के थानेदार समेत पुलिस अफसर दलबल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले को शांत कराने की कोशिश में लगे थे।  

  •  

Posted Date : 13-May-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता

    धमतरी, 13 मई। गरियाबंद जिले के बिंद्रानवागढ़ क्षेत्र में रावनडिंगी गांव के पास जिस नक्सली कमांडर सेवकराम को पुलिस और सुरक्षा बलों ने मार गिराया उस पर धमतरी जिले में भी दो हत्याओं के आरोप हैं। उसका पहले धमतरी जिले में आतंक था लेकिन धमतरी पुलिस का दबाव बढऩे के कारण वह पड़ोसी जिला गरियाबंद के जंगलों में शरण लिए हुए था। उसके खिलाफ धमतरी जिले में हत्या के दो अपराधों के अलावा अन्य अपराध दर्ज हैं। इसकी पुष्टि एसपी रजनेश सिंह ने की है।
    नक्सली के रूप में 2007 से सक्रिय सेवकराम गोबरा दलम (लोकल आपरेशन स्क्वाड) का कमांडर था। गोबरा दलम मैनपुर डिवीजन और सीतानदी एरिया कमेटी के अंतर्गत है। वह धमतरी और गरियाबंद के सीमा क्षेत्र में ग्रामीणों को धमकाता था। एसपी के निर्देश पर गठित टीम ने जब जिले के जंगल बोरई, खल्लारी क्षेत्र में लगातार दबाव बनाया और सीआरपीएफ ने लगातार सर्चिंग की तो वह जिले के जंगल को असुरक्षित मानकर गरियाबंद के जंगलों में चला गया। वहां आसपास के इलाके में पैठ जमाने की कोशिश करने लगा। इस दौरान 11 मई को हुई मुठभेड़ में वह मारा गया। एसपी रजनेश सिंह ने कहा कि 9 सितंबर 2017 को निर्राबेड़ा जंगल में हुई पुलिस और नक्सली मुठभेड़ के दौरान सेवकराम के पैर और हाथ में गोली लगी थी। वह किसी तरह भाग निकला। सुरक्षा बलों ने उसकी काफी खोजबीन की लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला। फिलहाल जिले के जंगल में नक्सली उपस्थिति की कोई सुगबुगाहट नहीं है। गठित स्पेशल टीम क्षेत्र में लगाकर सर्चिंग कर रही है। सूचना मिलने पर तत्काल एक्शन भी लेंगे। 
    महादेव मंडावी की हत्या का आरोप
    पुलिस के अनुसार आत्मसमर्पण कर चुके पूर्व नक्सली नचकारपारा बेलर निवासी महादेव मंडावी (40) की हत्या सेवकराम ने ही की। 24 मई 2015 वह महादेव मंडावी के घर घुसा और उस पर कुल्हाड़ी से वार कर उसकी हत्या कर दी। 9 सितंबर 2017 को पुलिस मुखबिर के शक में नक्सली जोगीबिरदो निवासी शत्रुघन को घर से उठाकर गांव के प्राथमिक शाला के पीछे ले गए और कुल्हाडी से उसकी हत्या कर दी। इस हत्या में भी उसका हाथ था। 2009 में रिसगांव ( नगरी ब्लाक) में हुई सबसे बड़ी नक्सली वारदात में भी वह शामिल था। इस वारदात में 13 जवान शहीद हुए थे।  

  •  

Posted Date : 01-Apr-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    अभनपुर, 1 अप्रैल। पत्नी की हत्या कर स्वाभाविक मौत बता अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहे पति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जमीन को लेकर विवाद के कारण उसने ऐसा किया।
    मिली जानकारी के अनुसार थाना अभनपुर के ग्राम थनौद में ओंकार साहू  निवासी थनौद ने 31 मार्च के रात्रि अपनी पत्नी सोना साहू (56) का गला घोंट कर हत्या कर दीं और ग्रामीणों को बताया तबीयत खराब होने की वजह से मृत्यु हो गई है। 
    रायपुर अस्पताल ले जाने के लिए राकेश साहू के स्कापियों में ले गया।   रायपुर से वापस गांव ले आया एवं अंतिम संस्कार के लिए श्मशान ले जाने की ओर अग्रसर थे तभी रूपसिंग साहू  निवासी कुकरा ने दूरभाष से सोना बाई की संदिग्ध मृत्यु होने की सूचना दी। 
    अभनपुर पुलिस थनौद गांव ओंकार साहू के घर पहुंचे एवं संदिग्ध आकस्मिक मृत्यु पर मर्ग पंजीबद्ध कर जांच कार्रवाई कर शव का पीएम अभनपुर में कराकर पीएम रिपोर्ट प्राप्त किया गया डॉक्टर द्वारा गला घोंटने से मृत्यु होना बताने पर अपराध दर्ज कर विवेचना किया गया। 
    आरोपी ओंकार साहू ने बताया कि उसकी पत्नी के नाम पर लगभग 10 एकड़ कृषि जमीन था जिसमें उसके मायके से प्राप्त कुकरा 2 एकड़, 25 डिसमील जमीन को बिक्री कर ग्राम पाहंदा में 4 एकड़ मृतिका के नाम से क्रय किया गया था एवं ओंकार की बटवारा की जमीन करीबन 6 एकड़ इसके भूस्वामी के नाम में कराया गया था। मृतिका के बैंक खाते में 5 लाख रुपये जमा था इस विवाद के कारण हत्या करना कबुल किया। 

  •  

Posted Date : 23-Mar-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 23 मार्च। अलसुबह  धमतरी से रायपुर जा रही लोहे की राड से लदी ट्रक पेड़ से टकरा गई। ट्रक की रफ्तार इतनी ज्यादा थी कि कंडक्टर और ड्रायवर केबिन में बुरी तरह फंस गए। दोनों को बाहर निकालने में पुलिस को 2 घंटे लगे, तब तक चालक की जान चली गई। जबकि परिचालक का उपचार जिला अस्पताल में चल रहा है। 
     घटना की सूचना पर एएसपी केपी चंदेल, अर्जुनी पुलिस, कोतवाली पुलिस की टीम घटना स्थल पहुंची और ट्रक में फंसे चालक-परिचालक को बाहर निकलने मशक्कत शुरु की। दोनों ट्रक के केबिन में बुरी तरह फंसे थे। पुलिस को गैस कटर, जेसीबी और क्रेन बुलानी पड़ी। करीब 2 घंटे की मशक्कत के बाद पहले परिचालक को बाहर निकला और उसे तत्काल जिला अस्पताल भेजा।  पुलिस के अनुसार मृत चालक का नाम पांडू  और घायल का नाम वेंकट है। दोनों आंध्रप्रदेश के सालूर गांव के निवासी है। 

     

  •  

Posted Date : 24-Dec-2017
  • मगरलोड गौशाला में 
    संचालक फरार

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 24 दिसंबर। जिले के मगरलोड स्थित एक गौशाला में बीते दस दिनों में सौ से ज्यादा गायों की भूख-प्यास से मौत हो गई है। इन मौतों के बाद से गौशाला संचालक फरार है। 'छत्तीसगढ़Ó ने गौशाला का जायजा लिया तो वहां गौशाला संचालन संबंधी कोई दस्तावेज नहीं मिले। कई गायों की हालत दयनीय है। जिलाधीश डॉ सीआर प्रसन्ना ने मामले को  गंभीर बताते हुए जांच के बाद गौशाला संचालक के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है।
    ज्ञात हो कि प्रदेश में कुछ माह पहले साजा-बेमेेतरा और महासमुंद की गौशालाओं में गायों की बिना दाना पानी और बीमारी से मौत के बाद भारी सियासी बवाल मचा था। 
    धमतरी जिले के मगरलोड ईलाके के राजाडेरा गांव से तीन किमी दूर गौशाला जंगल के बीच  है। वेद माता गौशाला के संचालक मनहरण लाल साहू  गायत्री परिवार से जुड़े हंै। मिली जानकारी के अनुसार इस गौशाला में बीते 10 दिनों में सौ से ज्यादा गायों की भूख प्यास से मौत हो गई है। मृत गायों को जंगल में फंेक दिया गया है। बचे गायों की भी हालत काफी दयनीय है।  गौशाला में न चारा है और न ही पीने को पानी। लाशों की बदबू से ग्रामवासी परेशान हंै। गौशाला को लेकर किसी भी तरह का कोई भी दस्तावेज नही है। प्रशासन को भी संचालन संबंधी कोई जानकारी नहीं है। 
    मिली जानकारी के अनुसार गौशाला संचालक ने ईलाके में घूम घूम कर ऐसे लोगों से गाय लिया जो पालने में सक्षम नहीं थे। वहीं गायों के पालन पोषण के लिए भी  उनसे कुछ रकम भी ली। गाय देने वाले किसान बीसन लाल साहू ने बताया कि  आर्थिक हालत ठीक नहीं होने के चलते इस गौशाला को गाय दान में दे दिया था। उम्मीद थी कि यहां पर गायों की अच्छी देखभाल होगी लेकिन यहां पहुंचने पर उन्हें कुछ और ही दिखाई दिया। 
    बजरंग दल के नेता हरख निर्मलकर ने कहा कि गौशाला संचालक इसकी आड़ में मुनाफा कमा रहे हंै। गायों की देखरेख को नजरअंदाज कर रहे हंै जिसका खामियाजा बेजुबान जानवरों को जान देकर चुकाना पड़ रहा है।   

  •  

Posted Date : 11-Dec-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 11 दिसंबर।  अर्जुनी थाना इलाके के ग्राम लोहरसी स्कूल परिसर में आज एक महिला की लाश जली  हालत में मिली। पुलिस ने हत्या की आशंका जताई है।
    अर्जुनी पुलिस के  अनुसार मृतका की पहचान रेवती यादव लोहरसी के रुप में की गई  है। वह आपने 21 वर्षीय बेटे के साथ रहती थी।  प्रथम दृष्टया मामला हत्या का लग रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही इसका खुलासा हो पायेगा।  

  •  

Posted Date : 21-Nov-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 21 नवंबर। नेरोगेज रेल को ब्राडगेज में तब्दील करने के लिए रेलवे की कार्रवाई आज से शुरु हो गई। सुबह 5 बजे से करीब 250 पुलिस बल को मौके पर तैनात किया गया था। रेलवे की जेसीबी चलने से दुकानदारों में खलबली मच गई। 3 जेसीबी के जरिए 93 दूकानों को तोड़ दिया गया। 
    सोमवार को रेलवे के अधिकारियों ने सड़क किनारे के दूकानों की स्थिति का जायजा लिया और दुकानों की गिनती की। इसके बाद लाउडस्पीकर से रेलवे की जमीन पर कब्जा जमाए दुकानदारों को जगह खाली करने के निर्देश दिए। रेलवे को केंद्र शासन से धमतरी स्टेशन में गुड्स टर्मिनल निर्माण के लिए राशि हस्तांतरित हो गई है। टर्मिनल का निर्माण रोड से लगे स्थान पर संभावित है, जहां अभी 130 दूकानें संचालित हो रही थी। इन दूकानों को हटाने महीनेभर पूर्व नोटिस जारी किया गया था। बिजली कनेक्शन काटने के बाद सीधे तोडफ़ोड़ की कार्रवाई होनी थी, लेकिन हाईकोर्ट के स्टे को लेकर यह काम रुक गया था।
    रेलवे अफसरों ने आज सुबह 7 बजे दूकानों की तोडफ़ोड़ कार्रवाई शुरु की। 5 घंटे से अधिक समय तक चले  इस कार्रवाई के दौरान  250 पुलिस बल और 200 रेल विभाग के जवान तैनात थे। रेलवे विभाग के एडीएम जेपी मिश्रा, एएसपी केपी चंदेल, डीएसपी पंकज पटेल, कुरुद एसडीओपी, नगरी एसडीओपी, कोतवाली थानेदार संतोष जैन, आरआई धनेन्द्र ध्रुव समेत पुलिस लाईन से बड़ी संख्या में अफसरों को तैनात किया गया था। वहीं जिला प्रशासन की ओर से डिप्टी कलेक्टर, एसडीएम, तहसीलदार, पटवारी समेत अन्य प्रशानिकी अफसर मौजूद थे। 
    जिनकी कहीं दूकान नहीं, 
    उनका ही होगा व्यवस्थापन 
    रेलवे की कार्रवाई शुरु होते ही प्रभावितों सहित शहर में इनके व्यवस्थापन की चर्चा है। तोडफ़ोड़ की कार्रवाई के पूर्व दुकानदारों ने निगम में प्रदर्शन भी किया था, जिन्हें बैरंग लौटना पड़ा था। वहीं निगम कमिश्नर अशोक द्विवेदी, महापौर अर्चना चौबे से बात की, तो उन्होंने जिनके पास रेलवे की जमीन के अलावा और कहीं भी दूकान नहीं है, उनका ही व्यवस्थापन होना बताया था। निगम की मानें, तो शासन-प्रशासन से ऐसे 33 लोगों की सूची मिली है, जिनमें से 25 को पात्र बताया गया है। निगम द्वारा कोई सर्वे भी नहीं कराया गया। ऐसे पात्र लोगों को निगम द्वारा मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के तहत दुकानें उपलब्ध कराई जाएगी। दूकान वितरण से पहले इन्हें शपथ पत्र भी भरवाया जाएगा। 
    कार्रवाई जारी रहेगी 
    रायपुर रेलवे के पीआरआई तन्मय मुकोपाध्याय ने बताया कि धमतरी में टर्मिनल गुड्स निर्माण की कार्रवाई के लिए अतिक्रमण हटाने का काम शुरु कर दिया गया है। कुल 130 दुकानें तोडऩा है, पर 37 लोगों ने हाईकोर्ट में स्टे लगाया है। इसलिए उनकी दूकानें नहीं टूटी हैं। कोर्ट से सुनवाई होते ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।  जो कब्जाधारी रेलवे की जमीन नहीं होने का दावा कर रहे हैं, वह गलत है। जहां हमारी कार्रवाई चल रही और जिन्हें हमने नोटिस दिया है, वह रेलवे की ही जमीन है। 

     

  •  

Posted Date : 10-Nov-2017
  • धमतरी, 10 नवंबर। भखारा-भठेली निवासी 3 वर्षीय बच्चे की लाश गांव के ही तालाब में आज सुबह तैरते मिली। बच्चा रात से लापता था।  
    भखारा पुलिस के अनुसार राजेन्द्र कोसरिया का 3 वर्षीय बेटा साहिल कोसरिया गुरुवार देर-शाम से लापता था। परिजन रातभर उसे ढूंढते रहे। पर कहीं पता नहीं चला। आज सुबह कुछ ग्रामीणों ने तालाब में एक बच्चे की लाश तैरते देखी। पुलिस ने उसे बाहर निकाला, जो साहिल की निकली। 

  •  

Posted Date : 22-Oct-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 22 अक्टूबर। गोवर्धन पूजा की शाम सिहावा थाना क्षेत्र के ग्राम सोनामगर में एक युवक की हत्या उसके दोस्त ने ही तलवार से वार कर कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गया है। विवाद का कारण 7 साल पुरानी रंजिश को बताया गया है।
    घटना शुक्रवार की शाम करीब 6.30 बजे की है। सोनामगर निवासी विशेश्वर (35) पिता प्रभुलाल निषाद व प्रेमलाल साहू दोनों अपने दोस्त सुखदास के घर मोटर साइकिल से जा रहे थे। उनकी बाइक जैसे ही सुखदास के घर के ठीक सामने रुकी, संतोष (40) पिता उमेदीराम साहू ने विशेश्वर के सिर पर तलवार से प्राणघातक वार कर दिया। विशेश्वर अपनी जान बचाने सुखदास के घर घुसा, तो संतोष भी उसके पीछे आ गया और दोबारा वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद वह बाहर निकलकर फरार हो गया। घटना की खबर गांव में आग की तरह फैली, तब लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई। कुछ समय बाद सिहावा पुलिस मौके पर पहुंची और लाश का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए नगरी अस्पताल भिजवाया। सिहावा थाना प्रभारी संतोष मिश्रा ने बताया कि आरोपी संतोष और विशेश्वर के घर अगल-बगल हैं। दोनों के बीच 7 साल पहले होली के दिन रंग-गुलाल लगाने को लेकर विवाद हुआ था। इस दौरान संतोष ने विशेश्वर को देख लेने की धमकी दी थी। शुक्रवार को मौका देखकर संतोष ने उस पर तलवार से प्राण घातक हमलाकर उसे मौत के घाट उतार दिया। आरोपी के खिलाफ धारा 302, 307 के तहत जुर्म दर्ज कर पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

  •  

Posted Date : 13-Oct-2017
  • कहा-जिंदगी में कुछ भी हो सकता है...और आज वे एफटीआईआई के चेयरमेन बनाए गए
    छत्तीसगढ़ संवाददाता  
    कुरूद, 13 अक्टूबर। पद्मभूषण से सम्मानित प्रसिद्ध सिने अभिनेता अनुपम खेर के लिए माँ चंडी की धरती कुरुद तथा स्कूली बच्चों के लिए उमड़े प्यार भाग्यशाली साबित हुई। उन्हें  पुणे स्थित भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) का नये अध्यक्ष बनाए गए हैं। 
    बुधवार को अनुपम को जिप्प के अध्यक्ष पद के लिए चुना गया। मंत्री अजय चंद्राकर व वन्देमातरम परिवार कुरुद के संयुक्त प्रयास से आयोजित कार्यक्रम सफलता के मूलमंत्र एवं अनुशासन पर कल जब अनुपम खेर मौजूद थे, तो उन्होंने स्कूली बच्चों से कहा था कि जिंदगी में कुछ भी हो सकता है। जिंदगी में कभी भी कुछ भी मिल सकता है, बस अपना कर्म करना है, लिहाजा ये बोल खुद अनुपम की जिंदगी में भी अचानक नयी कामयाबियां ले आई। उनके इस कामयाबी पर मंत्री अजय चंद्राकर ने उन्हें शुभकामनाएं प्रेषित की है। 
    कुरूद के नवीन कृषि उपज मण्डी के विशाल परिसर में अपार जनसैलाब के बीच वन्देमातरम् समिति के पदाधिकारियों के स्वागत-सत्कार से अभिभूत श्री खेर ने अनौपचारिक चर्चा के दौरान मंत्री अजय चंद्राकर, कुरूदवासियों और वन्देमातरम समिति के पदाधिकारियों के प्रति आभार माना। अपने खास अंदाज के लिए सुविख्यात फिल्म आर्टिस्ट श्री खेर ने कुरूद में मंगलवार को आयोजित प्रबोधन कार्यक्रम में 'कुछ भी हो सकता है' शब्द पर ज्यादातर फोकस किया था, जिसको लेकर हमने उनसे कुछ सवाल भी किए कि आप बुरे वक्त से निकलने के लिए क्या करते हैं? उन्होंने इसका सटीक जवाब देते हुए कहा कि चूंकि मैं कुछ भी हो सकता है, कि फिलॉसफी में यकीन रखता हूं, इसलिए मैंने हमेशा पॉजिटिव ही सोचा। इसका मतलब यह नहीं कि लाइफ में बुरा वक्त आता है, तो बुरा नहीं लगता। हर आदमी को अपने खुद का अस्तित्व होने का अहसास होना बहुत जरूरी है। जब मैं मुंबई में था, स्ट्रगल करता रहा तीन साल। तब मुझे लगता था कि मुझे लोग काम दे न दें, लेकिन कोई मुझे मेरे नाम से बुला ले एक बार। हमने पूछा कि कुछ भी हो सकता है में निगेटिव थिंकिंग भी आती है तब क्या करे? जवाब मिला कि ये सब कुछ भी हो सकता मोमेंट हैं। ये पल इतने डरावने नहीं जितने कि हमने इन्हें बना दिया है। 
    उन्होंने अपने अतीत के पन्नों को कुरेदते हुए बताया कि मेरे दादाजी कहा करते थे कि आप कितने ज्यादा दुखी हैं, यह सोचने से ज्यादा जरूरी यह जानना है कि आपसे दुखी कितने ज्यादा लोग हैं। आपकी समस्या कम हैं लेकिन अगले की ज्यादा होंगी इसलिए नेवर माइंड। हमने पूछा आप राजनीति में कब आ रहे हंै? तो मुस्कुराते हुए फिर दोहराया कि कुछ भी हो सकता है।

  •  

Posted Date : 09-Oct-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 9 अक्टूबर। अर्जुनी थाना के ग्राम पोटियाडीह निवासी 9वीं के एक छात्र ने पुलिस पूछताछ के बाद फाँसी लगाकर खुदकुशी कर ली।  
    मिली जानकारी के अनुसार  मृतक छात्र रेखराम साहू के दोस्तों ने गांव में किसी के साथ मारपीट की थी।  पुलिस ने रविवार को इसे इसके दोस्तों समेत पूछताछ करने गांव से उठाकर थाना लाया था।  थाने से गांव आने के बाद  छात्र अपने घर ही नहीं पहुंचा, जिसके बाद परिजनों ने युवक की पतासाजी की। 
    देर रात युवक का शव गांव के स्टेडियम में फाँसी पर लटका मिला। 
    मृतक छात्र के पिता घनश्याम साहू का कहना है कि थाने में उनके दोस्तों के साथ उनका नाम आ जाने के डर से फाँसी लगाई है। पुलिस मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई में जुट गई है। अर्जुनी थाना प्रभारी उमेन्द्र टंडन ने कहा कि मृतक युवक का नाम मारपीट में नहीं था, सिर्फ उनके दोस्तों का नाम था और मृतक युवक से पुलिस किसी तरह से पूछताछ नहीं की गई है।

  •  

Posted Date : 04-Oct-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 4 अक्टूबर। विश्रामपुर जंगल से हिरण का शिकार कर अपने घर ला रहे  तीन युवकों को कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों से मृत हिरण समेत दो बंदूक व कार जब्त किया है। गिरफ्तार युवकों को  न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। 
    पुलिस ने बताया कि मंगलवार देर रात कोतवाली पुलिस को  से सूचना मिली कि एक कार में वन्य प्राणी को ले जाया जा रहा है। पुलिस  अम्बेडकर चौक में आने जाने वाले वाहनों को रोककर तलाशी ली। इसी दरम्यान सामने से आ रही कार  सी जी 05 एबी 2656 को रोककर तलाशी ली। इस दौरान पुलिस को कार के पीछे वाले डिक्की से हिरण का शव मिला। जिसके बाद  तीनों युवकों को गिरफ्तार कर थाना लाया।  इनके नाम रॉबिन लाल निवासी अरिहंत विहार कालोनी, प्रणय बच्चन रुद्री निवासी और विनीत विक्टर निवासी जिला अस्पताल रोड है। सभी धमतरी के संभ्रात परिवार के हंै। 
    थाना प्रभारी संतोष जैन ने बताया कि आरोपियों ने हिरण का मांस खाने के लिए शिकार किया था। वहीं  खाल को  बेच देते हैं। पुलिस की मानें तो तीनों आरोपी शिकार करने बंदूक लेकर जंगल गए थे। जहां पर हिरण का शिकार किया। उल्लेखनीय है कि वन विभाग 2 से 7 अक्टूबर तक वन्यजीव  बचाओ सप्ताह मना रहा है। 

  •  

Posted Date : 02-Oct-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    धमतरी, 2 अक्टूबर। जिले के नक्सल प्रभावित इलाके के ग्राम बरपदर में  पति ने सब्जी को ले अपनी पत्नी की हत्या कर दी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। 
     मेचका थाना इलाके के बरपदर  निवासी तिहारुराम गोड़ अपनी पत्नी संगीता के साथ   खेत काम करने गए थे।  लौटने के दौरान उन्हें जंगल से फुटू मिला। घर पहुँचने पर इसकी सब्जी को लेकर  दोनों में जमकर विवाद हुआ। गुस्से में आकर पति ने घर में रखे डंडे से उसकी बेदम से पिटाई कर दी। इतना ही नहीं चाकू से भी उस पर ताबड़तोड़ वार कर दिया। जिससे संगीता की मौके पर मौत हो गई। 
    घटना के बाद आरोपी रातभर अपने मृतका के शव के पास रहा। सुबह जब इसकी जानकारी ग्रामीणों को लगी, तब सरपंच ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी को घर से गिरफ्तार किया। उसे न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। 

  •  

Posted Date : 23-Sep-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 23 सितंबर। कार से गांजा तस्करी कर रहे पांच तस्करों को पुलिस ने पकड़ा है। आरोपियों के पास से 5 बोरी गांजा व कार जब्त हुआ है। सभी तस्करों के खिलाफ पुलिस ने जुर्म दर्ज कर लिया है। 
    बोराई थाने के अनुसार शुक्रवार को बोराई पुलिस फारेस्ट नाका ग्राम बोरई के पास वाहनों का चेकिंग कर रही थी। इसी दौरान ओडि़शा की ओर से कार क्रमांक डीएल-6 सीजी-5423 में 5 लोग सवार होकर तेज रफ्तार से आते नजर आए। पुलिस ने जांच के लिए वाहन को रोका। कार चालक ने वाहन को तेज रफ्तार चलाते हुए सिहावा की ओर भागने की कोशिश की। पुलिस टीम ने कार का पीछा किया। घेराबंदी कर सीतानदी बहीगांव के पास पुलिस ने कार को पकड़ा। कार के अंदर पुलिस ने चेकिंग की तो वाहन के डिक्की में पांच सफेद रंग की बोरी में 91 किलो मादक पदार्थ गांजा मिला। इसकी अनुमानित कीमत 4 लाख 55 हजार रुपए बताई गई है। कार को भी जब्त किया गया है। कार की अनुमानित कीमत 5 लाख रुपए है। गांजा तस्कर मोनू (24) पिता रामफल जोगी ग्राम पसीना थाना पानीपत हरियाणा, पदम सिंग (35) पिता सुभाष लोहार ग्राम गोहाना जिला सोनीपत हरियाणा, पिंकू उर्फ चिंता राम (21) पिता कृष्ण जाट ग्राम सरगथल जिला सोनीपत हरियाणा, जयकिशन (26) पिता किशन लाल लोहार ग्राम बहादुरगढ़ जिला झज्जर हरियाणा और राजेश छोकर (30) पिता जिले सिंग ग्राम पसीना जिला पानीपत हरियाणा को गिरफ्तार किया गया है। गांजा तस्करी के जुर्म में सभी आरोपियों के खिलाफ बोरई पुलिस ने धारा 20 (ख) एनडीपीएस एक्ट के तहत जुर्म दर्ज किया है। 

     

  •  

Posted Date : 14-Sep-2017
  • डेढ़ किमी बनकर तैयार

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 14 सितंबर। अल्पवर्षा से सूख रही धान फसल को बचाने के लिए मगरलोड ब्लॉक के धनबुड़ा, देवगांव, झांझरकेरा और भालूचुवा के किसानों ने शासन-प्रशासन का मुंह नहीं ताका। बल्कि खुद ही पत्थरों का सीना चीरकर नाले का पानी खेत तक पहुंचाने रास्ता बना लिया। इन 4 गांव के किसान प्रतिदिन 30-30 की संख्या में श्रमदान कर यह पहल की। 
    समूह में किसान फावड़ा, कुदाली लेकर पत्थर तोडऩे में जुट गए और नाले का पानी खेतों तक पहुंचाने रास्ता बना रहे हैं। अभी तक नाला से पत्थरों को काटते हुए डेढ़ किमी का रास्ता बनाया जा चुका है। 5 किमी का रास्ता और बनाना है तब कहीं जाकर खेतों तक पानी पहुंच जाएगा। ग्रामीणों का कहना है कि सालों से स्टापडेम की मांग कर रहे हैं, लेकिन किसानों को शासन-प्रशासन से राहत नहीं मिली, तो खुद ही खेतों तक पानी पहुंचाने में जुट गए। 
    मगरलोड इलाके के किसान मानसून पर ही निर्भर रहते है। किसानों का कहना है कि अगर नाले का पानी खेतों तक पहुंचाने कामयाब हो जाते हैं, तो क्षेत्र के 3 हजार एकड़ फसल की सिंचाई हो सकती है। किसान पत्थरों को काटकर खेतों तक पानी पहुंचाने की मुहिम में जुटे हुए हैं। खरीफ धान की फसल को बचाने की कोशिश में गांव के युवा लगे हैं। 
    सामूहिक श्रमदान कर अमलीकोन्हा के नाला में व्यर्थ बह रहे पानी को पत्थरों व मिट्टी की नाली बनाकर खेतों तक पहुंचाने की कोशिश में लगे हैं। ताकि फसल को सिंचाई पानी मिल सके। 
    पानी के अभाव में दरारें पडऩे लगी 
    किसान रूप सिंग, देवनारायण, फूलचंद, रोशन, कुलेश्वर, राधेश्याम, महेत्तर, नरेश, मोनीन बाई, उर्मिला, लाभाराम,भागा बाई, धनेश, चंद्रहास, करण ने बताया कि अल्प वर्षा के चलते अंचल में अकाल की स्थिति निर्मित हो रही है। खेतो में पानी के अभाव में दरारें पडऩे लगी है। साथ ही धान के पौधे पीला पड़कर मरने लगे हैं। इसलिए खेतों को सिंचाई पानी देने पत्थरों से होकर गुजरने वाले नाला के पानी को खेतों तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। 
    क्षेत्र में चेकडेम निर्माण के लिए ग्रामीण कई बार कलेक्टर को आवेदन दे चुके हैं। लेकिन प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। ग्रामीणों ने कहा कि चेकडेम का निर्माण किया जाता है तो लोगों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध हो सकता है। 
    ग्राम पंचायत झांझरकेरा के उपसरपंच व धनबुड़ा निवासी रामनाथ धु्रव ने बताया कि अल्प वर्षा के चलते अकाल की स्थिति निर्मित हो रही है। अमलीकोन्हा में स्टॉपडेम व नाली निर्माण की मांग लगातार प्रशासन से की जा रही है। फिर भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। स्टॉप डेम का निर्माण हो जाता तो लोगों को यह दिन देखना नहीं पड़ता।  

  •  

Posted Date : 11-Sep-2017
  • स्कूल के विकास के लिए रोज जमा करती है बीस रुपये 
    पुरुषोत्तम सिंह ठाकुर 
    धमतरी से करीब 25 किमी दूर सेमराबी के प्राथमिक शाला और माध्यमिक शाला एक ही अहाते में है। और इन स्कूलों के पास कुछ हो या न हो, पर इनके पास जो है वह और कोई भी स्कूलों के पास नहीं है। यहाँ के शालाओं के पास दुखिन दीदी हैं। दुखिन दीदी न तो शाला के शिक्षक हैं, न गाँव के सरपंच औरनवह कोई बड़े पैसे वाली महिला हैं पर वह इस स्कूल के बच्चों के लिए वह सब कुछ करती हैं जो दूसरे लोग नहीं करते।
     ये सब मेरे बच्चे हैं, ये मेरे भगवान हैं! मैं चाहती हूँ की ये बच्चे, अच्छे से पढ़ें लिखें औरखुश रहें- यह कहना है तकऱीबन65 साल उम्र के दुखिन दीदी का।
     इस स्कूल में जो कुछ बेहतर दिखाई दे रहा है उसमें दुखिन दीदी का बहुत बड़ा योगदान है। उन्होंने स्कूल को वाटर प्योरिफायर से लेकर स्कूल में नल की व्यवस्था करवाई। और कई चीजें दी हैं। स्वाधीनता दिवस हो या गणतंत्र दिवस जैसेकोई उत्सव होता है तब भी बच्चों के लिए मिठाई नास्ता का व्यवस्था भी करती हैं- यह कहना है स्कूल की शिक्षिका श्रीमती ज्योति निषाद का।
    दुखिन दीदी शादी के कुछ दिन बाद ही उनके पति ने छोड़ दिया था और वह  वापस गाँव चली आईं थीं और स्कूल के सामने एक गुमटी वाला चाय-नाश्ता की दूकान खोलकर गुजर बसर कर रही हैं। इसमें उन्होंने जो कमाया वह स्कूल के विकास के लिए दान में दे दिया। वह फिलहाल हर दिन स्कूल के नाम से 20 रुपये बैंकमें जमा करवाती हैं और उस पैसे को स्कूल के बच्चों के लिए खर्च करती हैं। यही नहीं वह शिक्षक दिवस में स्कूल के शिक्षिका-शिक्षकों का भी सम्मान करती हैं।
    दुखिन दीदी को शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए पिछले साल धमतरी जिला प्रशासन ने भी गणतंत्र दिवस के दिन सम्मानित किया। अब उनकी तबियत ठीक नहीं है इसके बावजूद स्कूल का कोई भी कार्यक्रम हो उसमें वह मौजूद ना हों ऐसा कभी नहीं हुआ।
    (लेखक सामाजिक बदलाव के मुद्दे पर लिखते हैं और अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन से जुड़े हुए हैं )

  •  

Posted Date : 10-Sep-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 10 सितंबर। मगरलोड थाना क्षेत्र के ग्राम मोहेरा में आज सुबह एक युवक ने युवती की चाकू मारकर हत्या कर दी। फिर जहर खाया जान देने की कोशिश की। पुलिस के अनुसार आरोपी युवती से एक तरफा प्यार करता था।  
    मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह  मोहेरा गांव में  बागेश्वरी  हल्बा नामक युवती अपने आंगन की सफाई कर रही थी। तभी गांव का  प्रीतराम  हल्बा नामक युवक चाकू लेकर दौड़ते पहुंचा और कई  वार कर दिए  जिससे युवती ने मौके पर दम तोड़ दिया। घटना के बाद युवकघर पहुंचा और जहर खाकर खुदकुशी करने की कोशिश की। परिजनों ने उसे गरियाबंद अस्पताल में भर्ती कराया है। जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है।
    थाना प्रभारी निर्भयसिंह राजपूत ने बताया कि आरोपी प्रीतराम एकतरफा प्यार करता था और युवती से शादी करने की इच्छा जताई थी, जिसे युवती ने ठुकरा दिया था।  

  •  

Posted Date : 06-Sep-2017
  • बत्तीस युवाओं ने भी लिया मुफ्त प्रशिक्षण 
    झुरा नवागांव शास.माध्यमिक स्कूल
    पुरुषोत्तम सिंह ठाकुर 

    शासकीय स्कूलों में संसाधनों की कमी एक आम बात है लेकिन अगर शिक्षक चाहें तो अपनी कोशिशों से संसाधन भी जुटा सकते हैं। इस बात का उदाहरण धमतरी जिले के झुरा-नवागांव के शासकीय माध्यमिक स्कूल में जाके देख भी सकते हैं। इस माध्यमिक स्कूल में बाकी चीजों के अलावा 4 कम्प्यूटर हंै जिसमें न केवल इस स्कूल के बच्चे बल्कि प्राथमिक शाला के बच्चे और गाँव के शिक्षित युवा (बेरोजगार) भी कम्प्यूटर का प्रशिक्षण ले रहे हैं।
    यह चार कम्प्यूटर जनसहयोग से जुटाया है। इनमें से एक  कम्प्यूटर गाँव के एक प्रगतिशील किसान देव चरण यादव ने दिया है जिनका खुद का सिर्फ 5 एकड़ ज़मीन है लेकिन वह करीब 150 एकड़ में खेती करते हैं।
    दूसरा  कम्प्यूटर गाँव के ही मेरे दो साथियों ने भेंट किया है जिनमें से एक लोमेश साहू अभी विवेकानंद आश्रम, नारायणपुर में माध्यमिक शाला में प्रधान पाठक हैं वहीं तीसरा कंप्यूटर राकेश चंद्राकर ने दिया है जो विवेकानंद आश्रम में इंजीनियर हैं। और चौथा कंप्यूटर मैंने ने दिया है- यह कहा स्कूल के शिक्षक दुजराम साहू ने।
    दूजराम साहू अपने शिक्षक जीवन का ज्यादातर समय दूसरे गाँव में बिताया जिनमें सेमरा बी स्कूल भी शामिल है, वहां भी बेहतर काम किया लेकिन 2014 में उन्होंने स्वेच्छा से अपने गाँव का स्कूल में तबादला माँगा ताकि गाँव के बच्चों के लिए कुछ काम कर सकें।
    शिक्षक दुजराम और उनके साथ शिक्षकों ने पालकों और गाँव वालों से बात की और गाँव वाले भी अपने श्रद्धा और हैसियत के मुताबक किसी ने  कम्प्यूटर के टेबल, किसी ने कुर्सी तो कोई एक्सटेंशन वायर दिया इस तरह से संसाधन जुटाए गए।
    लेकिन सिर्फ संसाधन जुटा लेने से नहीं होता जब तक उसका उपयोग ना हो। इसलिए इन लोगों ने स्कूल में एक वैकल्पिक कम्प्यूटर शिक्षक की व्यवस्था की। उन्हें दो हज़ार रुपये मानदेय देते हैं जिनमें से एक हज़ार रुपये दुजराम देते हैं और बाकी का हज़ार रुपये प्राथमिक शाला और माध्यमिक शाला के शिक्षक एक एक सौ  रुपये करके देते हैं।
    इस बार गर्मी के छुट्टी के दौरान दोनों स्कूलों के प्रबंधन कमिटी ने गाँव के बत्तीस शिक्षित युवाओं को तीन शिफ्ट में कम्प्यूटर का प्रशिक्षण दिया और उन्हें प्रमाण पत्र भी दिया।
    स्कूल में बच्चों के बौधिक और रचनात्मक विकास के प्रति भी ध्यान दिया जा रहा है। हमने देखा कि मध्यान्ह भोजन के बाद कहानियों के पुस्तक पढ़ते हैं। स्कूल में दो तीन जगह वाल-मैगज़ीन भी है जिसमें बच्चों द्वारा किये गए ड्राइंग-पेंटिंग और लेख चिपकाए गए थे जिसे बच्चे पढ़ भी रहे थे।
    इस तरह से यह स्कूल का उदाहरण से स्पष्ट है कि अगर शिक्षक चाहें तो असंभव को भी संभव कर सकते हैं, आवश्यकता है तो सिर्फ जज्बे की।
    ( लेखक अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन से जुड़े हैं और सामाजिक बदलाव और शिक्षा में नवाचार विषय पर लिखते हैं ) 

  •  

Posted Date : 28-Aug-2017
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 28 अगस्त। सीसीटीवी फुटेज  की मदद से धमतरी पुलिस ने हत्या के दो  अरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की। दोनों  को न्यायिक रिमांड पर पुलिस ने जेल भेज दिया है।
     26 अगस्त को शहर के बालाजी कालोनी के पीछे एक डबरी में पूर्व पार्षद पति संतोष यादव की लाश संदिग्ध हालात में मिली थी।  पुलिस जांच में सामने आया कि मृतक संतोष और उसके 2 दोस्त घटना की रात जमकर शराब पी थी। इसी दरम्यान पैसे की लेनदेन और पुरानी रजिंश को लेकर विवाद हुआ। तैश में आकर आरोपी चंद्रकांत और धीरज ने संतोष यादव की हत्या कर दी। फिर  शव को पास के डबरी मे फेंककर वहां से भाग गए थे। 
    पुलिस जांच-पड़ताल की शुरुआत शराब दुकान में लगे सीसीटीवी फुटेज से किया। जिसमें तीनों एक साथ दिखाई दिया और किसी बात को लेकर विवाद करते नजर आए। पुलिस को मिले सबूतों के आधार पर दोनों आरोपी को हिरासत में लेकर कड़ाई के साथ पूछताछ  की। दोनों  ने अपना जुर्म कबूल लिया। पुलिस ने दोनों आरोपी चन्द्रकांत उर्फ काजू पांडेय, धीरज उर्फ झबलू सोनी गणेश चौक के खिलाफ  जुर्म दर्ज कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। 

  •  



Previous12Next