स्थायी स्तंभ

Previous123456789...222223Next
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 06-Dec-2021 1:29 PM (6)
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 06-Dec-2021 12:59 PM (7)
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 06-Dec-2021 12:58 PM (7)
इतिहास में 6 दिसंबर
इतिहास  / 06-Dec-2021 11:51 AM (18)
  • 1862- न्यूयॉर्क तथा सैन फ्रान्सिस्को के बीच टेलीग्राफिक लिंक स्थापित हुआ।
  • 1917 -फिऩलैंड को रुस के अधिकार से स्वतंत्रता मिली।
  • 1958-इटली में विश्व की सबसे लम्बी और अत्यंत महत्वपूर्ण सुरंग बनाने का काम आरंभ हुआ। फ्रांस के सबसे ऊंचे पहाड़ माने ब्लान के नीचे खोदी गयी यह सुरंग 6 किलोमीटर लंबी है और यह इटली तथा फ्ऱांस को एक दूसरे से जोड़ती है। इसकी ख़ुदाई का काम 6वर्ष के कठिन परिश्रम के बाद 14 अगस्त सन 1964 को पूरा हुआ।
  • 1992 - उग्र हिंदुओं की एक भीड़ ने उत्तर प्रदेश के अयोध्या में ऐतिहासिक बाबरी मस्जिद को ढहा दिया था और शहर के कई अन्य मुस्लिम ठिकानों पर हमला कर दिया था। इस घटना के बाद भारत में भयानक सांप्रदायिक दंगों की शुरुआत हो गई थी।
  • 1997 - क्योटो (जापान) में अंतर्राष्ट्रीय जलवायु सम्मेलन प्रारम्भ।
  • 1998 - बैंकॉक में 13वें एशियाई खेलों की शुरुआत, इटली को हराकर स्वीडन लगातार दूसरी बार डेविस कप विजेता बना।
  • 1999 - इंडोनेशियाई जेल से 283 क़ैदी फऱार।
  • 2001 - अफग़़ानिस्तान में तालिबान हथियार डालने पर सहमत।
  • 2002 - स्पेन के कार्लोस मोया को एटीपी यूरोपियन प्लेयर आफ़ द इयर खिताब दिया गया।
  • 2007 - आस्ट्रेलिया के स्कूलों में अब सिख छात्रों को कृपण साथ ले जाने और मुस्लिम छात्राओं को कक्षाओं में हिजाब पहनकर जाने की इजाजत मिली।
  • 2008- केन्द्रीय बैंक ने रेपो रेट और रिवर्स रेट में एक प्रतिशत की कटौती की। भारत व चीन की सेनाओं के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास एक्सरसाइज हैंड इन हैंड 2008 कर्नाटक के बेलगांव में प्रारम्भ हुआ।
  • 1956 - राजनीतिक नेता और बौद्ध पुनरुत्थानवादी बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर का निधन हुआ।
  • 1814-  फ्रांसीसी आविष्कारक ऐडॉल्फ सैक्स का जन्म हुआ,  जिन्होंने संगीत के उपकरणों का निर्माण किया। साथ ही उन्होंने 1840 के मध्य में सैक्सोफोन का आविष्कार किया और 1846 में उसे पेटेन्ट कराया। (निधन-7 फरवरी 1894)
  • 1638-स्कॉटलैण्ड के गणितज्ञ, खगोलशास्त्री  जेम्स ग्रेगरी का जन्म हुआ, जिन्होंने रिफ्लैक्टिंग टेलिस्कोप की खोज की। इन्होंने कैल्कुलस के विकास में योगदान दिया। (निधन- अक्टूबर 1675)
  • 1976-अमेरिकी चिकित्सक डेविड मैरीन का निधन हुआ, जिन्होंने घेंघा रोग के इलाज के क्षेत्र में अनुसंधान किया और पता लगाया कि खाने के नमक के साथ आयोडीन देने से घेंघा रोग की रोकथाम की जा सकती है।(जन्म 20 सितम्बर 1888)
  • 1777-फ्रांसीसी वनस्पति वैज्ञानिक बर्नार्ड डी जस्यू का निधन हुआ, जिन्होंने एक नया पादप वर्गीकरण दिया जो पौधों की भ्रौणिक ऐनाटॉमी की विशेषताओं पर आधारित था।(जन्म 17 अगस्त 1699)
  • महत्वपूर्ण दिवस-  नागरिक सुरक्षा दिवस, होमगार्ड स्थापना दिवस।
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 06-Dec-2021 11:41 AM (8)
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 06-Dec-2021 11:40 AM (8)
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : दर्द ‘ऊपर’ तक महसूस
राजपथ - जनपथ  / 05-Dec-2021 5:02 PM (97)

दर्द ‘ऊपर’ तक महसूस

बिलाईगढ़ के सरकारी कार्यक्रम में मंच पर कुर्सी नहीं मिलने से बलौदाबाजार-भाटापारा की जिला पंचायत की सभापति कविता लहरे इतनी दुखी हो गई कि वो मंच पर ही फूट फूटकर रो पड़ी। मंच पर स्थानीय विधायक, और कलेक्टर, जिला पंचायत सीईओ के लिए कुर्सी लगाई गई थी। लेकिन कार्यक्रम में आमंत्रण के बाद भी सभापति के लिए कुर्सी नहीं लगाई गई।

कविता लहरे ने किसी पर दोषारोपण नहीं किया, लेकिन सरकारी कार्यक्रम में अपमानित करने का आरोप लगा दिया। आपसी चर्चा में कई लोग सभापति के साथ अपमानजनक व्यवहार के लिए संसदीय सचिव, और विधायक चंद्रदेव राय को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। दरअसल, चंद्रदेव राय को जिले के बाकी विधायकों की तुलना में पॉवरफुल माना जाता है। प्रशासन में उनकी धमक है।

चंद्रदेव राय सीएम के पक्ष में तीन महीना पहले कांग्रेस विधायकों के दिल्ली परेड के अगुवा थे। इससे परे सभापति कविता लहरे बिलाईगढ़ इलाके से जिला पंचायत सदस्य चुनकर आई हैं। उन्हें बिलाईगढ़ से कांग्रेस टिकट का दावेदार माना जाता है। ऐसे में सभापति को कुर्सी नहीं मिली, तो चंद्रदेव राय निशाने पर आ गए। मगर इसके पीछे उनकी भूमिका है अथवा नहीं, यह तो साफ नहीं है। लेकिन सभापति का दर्द  ‘ऊपर’  तक महसूस किया गया। देखना है आगे क्या होता है।

एडीजी स्तर पर बदलाव

पीएचक्यू में इस माह के आखिरी में एक बड़े बदलाव की चर्चा है। डीजी स्तर के अफसर आरके विज 31 तारीख को रिटायर हो रहे हैं। विज लोक अभियोजन संचालक के पद पर हैं। इसके अलावा बीएसएफ में प्रतिनियुक्ति पर गए 90 बैच के आईपीएस राजेश मिश्रा की भी जल्द वापसी हो रही है। इन सब वजहों से एडीजी स्तर के अफसरों के प्रभार बदले जा सकते हैं।

कवर्धा में शौर्य दिवस..

देश के इतिहास में 6 दिसंबर हिन्दूवादी संगठनों के लिये इस मायने में खास दिन है, क्योंकि इस दिन अयोध्या में बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा गिराया गया था। अब राम मंदिर के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट का फैसला है और मंदिर का निर्माण द्रुत गति से चल रहा है। इस दिन को ये संगठन शौर्य दिवस के रूप में मनाते हैं। इस बार बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद और मिलते-जुलते दूसरे संगठनों ने एक बड़ा कार्यक्रम कवर्धा में रखा है। प्रत्यक्ष रूप से इस आयोजन में भारतीय जनता पार्टी के सामने नहीं होने के बावजूद ऐसे आयोजनों का उसको चुनावी फायदा मिलता रहा है। इस महासभा में पूरे प्रदेश के लोग तो शामिल हो ही रहे हैं, देशभर से साधु संत भी पहुंचेंगे। एक बाइक रैली भी कल 4 दिसंबर को निकाली गई। प्रशासन के लिए चुनौती भरा होगा कि पूरा आयोजन बिना किसी व्यवधान के निपट जाये।

खटाई में पीएम आवास...

प्रधानमंत्री आवास योजना केंद्र और राज्य सरकार के बीच विवादों में फंस गई है। वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिये दी गई मंजूरी तो केंद्र ने वापस ले ही ली है। अब, प्रदेश में हजारों मकान ऐसे अधूरे पड़े हैं, क्योंकि एक बार काम शुरू होने के बाद दूसरी, तीसरी किश्त मिली ही नहीं। यह तस्वीर जगदलपुर की है। 

तृणमूल कांग्रेस छत्तीसगढ़ की ओर

पश्चिम बंगाल से बाहर पैर पसारने के अभियान में जुटी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री व तृणमूल सुप्रीमो ममता बेनर्जी ने अब छत्तीसगढ़ का रुख किया है। प्राय: सभी बीते चुनावों में कांग्रेस-भाजपा के बीच प्रदेश में सीधी टक्कर रही है हालांकि कुछ सीटों पर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ का असर बीते विधानसभा चुनाव में देखा जा चुका है। जाहिर है तृणमूल कांग्रेस का लक्ष्य कांग्रेस के असंतुष्टों को अपने साथ जोडऩा है, जैसा कि दूसरे राज्यों में वह कर रही है। अभी हाल ही में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने खंडन किया है कि वे तृणमूल कांग्रेस के संपर्क में है। कांग्रेस नेतृत्व के लिए यह राहत भरी बात हो सकती है। मौजूदा परिस्थिति में किसी बड़े नेता ने तृणमूल की ओर जाने की बात नहीं की है। हां, कांग्रेस में चुनाव के समय टिकट नहीं मिलने पर असंतोष खूब उभरता है। तृणमूल ऐसे लोगों के लिये एक विकल्प हो सकता है।

इतिहास में 5 दिसंबर
इतिहास  / 05-Dec-2021 12:19 PM (29)
  • 1917 - रूस में नई क्रांतिकारी सरकार गठन तथा रूस-जर्मनी के बीच युद्ध विराम।
  • 1946 - भारत में होमगार्ड संगठन की स्थापना हुई।
  • 1971 - भारत ने बंगलादेश को एक देश के रूप में मान्यता दी।
  • 1974 - माल्टा गणराज्य घोषित।
  • 1992 - भारत के अयोध्या (उत्तर प्रदेश) में स्थित बाबरी मस्जिद का विवादास्पद ढांचा गिरा दिया गया। इसके साथ ही भारत के अनेक हिस्सों में दंगे भडक़ उठे।
  • 1997 - भगवान बुद्ध की जन्मस्थली लुम्बिनी, इटली में पोम्पेली और हम्रयूलेनियम स्थल, पाकिस्तान में शेरशाह सूरी निर्मित रोहतास का कि़ला और बांग्लादेश में सुंदरवन को यूनेस्को ने विश्व धरोहर में शामिल या।
  • 1998 - रूस 2002 में भारतीय नौसेना को क्रिवाक श्रेणी के बहुउद्देश्यीय युद्धपोत देने पर सहमत।
  • 2001 - अफग़़ानिस्तान में हामिद करजई के नेतृत्व में अंतरिम सरकार के गठन पर चारों गुट सहमत।
  • 2005 - एक नये क़ानून द्वारा ब्रिटेन में समलैंगिक पुरुष (गे) और समलैंगिक स्त्री (लेस्बियन) का वैध सम्बन्ध स्थापित करने की मान्यता दी गयी।
  • 2008 - रूस के राष्ट्रपति दामित्री मेदेवेदेव ने अगली पीढ़ी की परमाणु अभियांत्रिकी को भारत के साथ संयुक्त रूप से विकसित करने का प्रस्ताव किया। कांग्र्रेस ने अशोक चाव्हाण को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा की।
  • 1932 - हिन्दी फि़ल्मों की मशहूर अभिनेत्री नादिरा का जन्म हुआ।
  • 1941 -प्रसिद्ध भारतीय महिला चित्रकार अमृता शेरगिल का निधन हुआ।
  • 1950 - भारतीय लेखक अरबिंदो घोष का निधन हुआ।
  • 1951 - प्रख्यात कलाकार तथा साहित्यकार अवनीन्द्रनाथ ठाकुर का निधन हुआ। 
  • 1892-ब्रिटेन के  आनुवांशिकविद् और बायोमेट्रीशियन जॉन बर्डन सैंडरसन हाल्डेन का जन्म हुआ, जिन्होंने जनसंख्या आनुवांशिकी और विकास के अध्ययन के नए रास्ते खोले।  (निधन-1 दिसम्बर 1964)
  • 1863-इंजीनियर और अन्वेषक जेम्स (वार्ड पैकार्ड) का जन्म हुआ, जिन्होंने पैकार्ड आटोमोबाइल कम्पनी की स्थापना की। वर्ष 1889 में इन्होंने अपने भाई के साथ मिलकर पैकार्ड इलेक्ट्रिक कम्पनी की स्थापना की, फिर इन्होंने ट्रान्सफॉर्मर, फ्यूज़ बॉक्स और केबल आदि का निर्माण किया। (निधन-20 मार्च 1928)
  • 1914-ऑगस्ट वाइज़मैन जर्मन जीवविज्ञानी तथा आनुवांशिकता-विज्ञान के संस्थापकों में से एक  ऑगस्ट वाइज़मैन का निधन हुआ,  जिन्हें खास कर के उपार्जित लक्षणों की वंशानुगति के सिद्धांत तथा जर्मप्लाज़्म सिद्धांत के लिए जाना जाता है।(जन्म 17 जनवरी 1834)
  • 1930-डच वैज्ञानिक, चिकित्सक, स्वच्छता अभियानी  क्रिश्चियान ईज्कमैन का निधन हुआ,  जिन्होंने बताया कि बेरी-बेरी कुपोषण के कारण होता है, इसी के बाद विटामिन की खोज को आधार मिला। (जन्म 11 अगस्त 1858)

 

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : बिलासपुर संभाग में पैर नहीं जमे
राजपथ - जनपथ  / 04-Dec-2021 5:34 PM (107)

बिलासपुर संभाग में पैर नहीं जमे

सूबे में बिलासपुर संभाग की प्रशासनिक लिहाज से पोस्टिंग की ब्यूरोक्रेटस में काफी अहमियत है।  बिलासपुर में एसपी रहते हाल ही मेें डीआईजी पदोन्नत हुए 2007 बैच के आईपीएस दीपक झा की सर्विस में यह दूसरा मौका आया, जब वह बिलासपुर संभाग में अपने कार्यकाल को लंबा खींचने में कामयाब नहीं हो पाए। उनकी किस्मत इस संभाग की औद्योगिक नगरी रायगढ़ में खराब रही, जब मौजूदा सरकार ने चार माह के भीतर पीएचक्यू बुला लिया था।  अब बिलासपुर से भी उन्हें इतने ही कम समय में हटाकर बलौदाबाजार भेज दिया। दीपक के सेवाकाल में महासमुंद और बस्तर ही दो वर्ष के लिए यादगार रहा। सुनते हंै कि दीपक को पीएचक्यू लाने के लिए कुछ अफसरों ने सरकार को सुझाव दिया था, लेकिन उन्हें बिलासपुर से कमतर छोटे जिले में भेजकर फील्ड में बनाए रखने का विचार किया गया। सुनते हंै कि डीआईजी प्रमोशन के बाद एकाएक स्थानांतरण से न सिर्फ दीपक, बल्कि आईपीएस बिरादरी हैरानी में पड़ गयी है।

उम्मेद की कवर्धा वापसी ने चौंकाया

राज्य सरकार ने डॉ. लाल उम्मेद सिंह की दोबारा कवर्धा में पोस्टिंग करके सबको चौंका दिया है। सुनते हैं कि कवर्धा दंगे के बाद उपजे हालत से निपटने के लिए उम्मेद पर सरकार युवा आईपीएस की तुलना में ज्यादा भरोसा दिखा है। वे पुलिस महकमे में अपनी सहजता और ईमानदारी की वजह से विशिष्ट पहचान रखते हैं। कवर्धा वापसी इस लिहाज से मायने रखती है कि पूर्व में दो साल एसपी रहते अनुभव और संपर्क से विषम हालत से निपटने का वह माद्दा रखते हैं। चर्चा है कि उम्मेद को नए जिले में काम करने का भरोसा था, लेकिन वह कवर्धा भेजने के फैसले से अचरज में पड़ गए हैं। पशु चिकित्सक उम्मेद पर कवर्धा में शांति बहाली की बड़ी जवाबदारी होने के साथ ही महकमे के बिगड़े तंत्र को दुरूस्त करने का जिम्मा भी होगा। कवर्धा दंगे के दौरान उन्होंने काफी दिनों तक कैंप भी किया था। वैसे प्रदेश के इतिहास में यह तीसरा मौका भी जब पूर्व पदस्थ जिले में दुबारा तैनाती का आदेश निकला। इससे पहले आर एल डांगी कोरबा, और हेतराम मनहर बेमेतरा में दो-दो बार एसपी रहे।

डहरिया सफल रहे

टीएस सिंहदेव ने शिवपुर चरचा, और बैकुंठपुर के चुनाव का प्रभार लेने से मना कर दिया है। कहा जा रहा है कि सिंहदेव ने ओमीक्रॉन के खतरे को देखकर चुनाव प्रचार की कमान लेने से मना कर दिया है। वो पूरा समय स्वास्थ्य अमले को चुस्त दुरूस्त करने में लगा रहे हैं। ताकि पिछली बार जैसी गलतियां न हो।

वैसे भी कोरिया जिले के विभाजन के बाद से शिवपुर चरचा, बैकुंठपुर नगर पालिका में काफी विवाद हो रहा है। सिंहदेव समर्थकों का कहना है कि विवाद निपटारे के लिए चुनाव तक सिंहदेव को वहां रहना पड़ता। इससे विभागीय कामकाज पर असर पड़ सकता था।

सिंहदेव ने सीएम, और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को अपनी मंशा बता दी। इसके बाद नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया को सिंहदेव की जगह दोनों नगर पालिकाओं की कमान सौंपी गई। डहरिया ने वहां जाते ही चुनाव बहिष्कार के लिए अड़े नेताओं को मनाया, और समय रहते प्रत्याशियों की घोषणा, और नामांकन दाखिल कराने में सफल रहे।

ताकत का एहसास करा दिया

भाजपा में टिकट वितरण को लेकर काफी किचकिच हुई। बीरगांव में तो किसी तरह का विवाद नहीं हुआ। यहां टिकट वितरण में प्रभारी अजय चंद्राकर ने अहम भूमिका निभाई। उन्होंने रायपुर जिले के सभी बड़े नेताओं को विश्वास में लेकर बीरगांव के प्रमुख नेताओं को प्रत्याशी बनवा दिया। मगर इससे दिक्कत भी पैदा हो रही है। संगठन के प्रमुख नेता खुद के प्रचार में लगे हैं, तो बाकियों का संचालन कौन करेगा यह समस्या आ गई है।

दूसरी तरफ, भिलाई, भिलाई-चरौदा, और रिसाली में प्रत्याशी चयन को लेकर काफी रस्साकशी हुई। चयन समिति की सदस्य सरोज पाण्डेय खुद तो नहीं आई, लेकिन उनके भाई राकेश पाण्डेय ने अपनी ताकत का एहसास करा दिया। संभागीय चयन समिति में विवाद बरकरार रहने के बाद पैनल प्रदेश की समिति को भेजा गया।

कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में नाम फाइनल करने के लिए एक दिसंबर को दोपहर में बैठक बुलाई गई थी। प्रभारी संतोष पाण्डेय, सांसद विजय बघेल, प्रेमप्रकाश पाण्डेय तो बैठक में पहुंच गए, लेकिन राकेश पाण्डेय नहीं पहुंचे। उनके लिए दो घंटे इंतजार करना पड़ा। राकेश पहुंचे तब कहीं जाकर प्रत्याशियों के नाम पर चर्चा शुरू हो पाई। और फिर देर रात प्रत्याशी घोषित किए गए।

हिरण का जवानों से लगाव..

सुकमा के किस्टाराम के जंगलों में सर्चिंग के लिए निकले जवानों को एक हिरण भटकता हुआ मिल गया। जवान उसे जंगल में भीतर तक छोडक़र लौटने लगे। मगर हिरण वापस जवानों के साथ ही चलने लगा। बड़ी कोशिश के बाद भी हिरण ने उनका साथ नहीं छोड़ा और अब वे उसे अपने कैंप में ले आए हैं। शायद हिरण को खूंखार जानवरों का डर है और लगता है कि जवानों की बंदूक उसे बचा सकती है।

एसपी का कांस्टेबल को धमकाना

बलौदा बाजार में पुलिस अधीक्षक आई के एलएसेला ने कथित रूप से कांस्टेबल ब्रह्मानंद देवांगन को इस बात के लिए धमकाया है कि वह नया आवास आवंटित होने के बावजूद अपनी पुरानी जगह को छोडऩे के लिए तैयार नहीं है। ऑडियो वायरल हो गया है। एसपी ने इस ऑडियो में कांस्टेबल की तो लानत-मलामत की ही है, आईजी, गृह मंत्री और मुख्यमंत्री तक को लपेट दिया। कहा कि मैं एसपी हूं जहां शिकायत करनी है करो मेरा कुछ नहीं बिगडऩे वाला है। दोनों ने स्वीकार कर लिया है कि ऑडियो में उनकी आवाज है। मगर एसपी का कहना है कि टेंपरिंग की गई है। यही समझ में आता है कि एक कांस्टेबल से सीधे एसपी को उलझने से बचना चाहिए। उसके मातहत तो कई अधिकारी होते हैं, जो कांस्टेबल को समझा बुझा सकते थे। फजीहत कांस्टेबल की तो हुई नहीं।

साइकिल यात्री पार्षद..

जगदलपुर के पार्षद धन सिंह नायक की जिले में सुनवाई नहीं हुई। वे साइकिल यात्रा कर रायपुर पहुंचे। 3 दिन तक धरने पर बैठे रहे। चौथे दिन फिर वह धरना देने जा रहे थे कि पचपेड़ी नाका के पास पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। लेकिन उसे राज्यपाल से मिलवाया गया और मुख्यमंत्री से भी भेंट कराई गई। दोनों से मिलकर धनसिंह ने अपनी मांगें रखी और वापस लौटे। धन सिंह का कहना है कि वह पुलिस की लंबी पूछताछ से परेशान जरूर हुए लेकिन जिस मकसद से यहां पहुंचे थे वह पूरा हुआ। अब मांगों के पूरा होने का इंतजार है।

इतिहास में 4 दिसंबर
इतिहास  / 04-Dec-2021 9:46 AM (26)
  • 1894-जॉर्ज पार्कर के नाम फाउन्टेन पेन के लिए पेटेन्ट जारी किया गया।
  • 1899 -पहली बार टाइफाइड का टीका मनुष्य को इस बीमारी से सुरक्षित रखने के लिए प्रयोग किया गया।
  • 1973 -पायोनियर-10 बृहस्पति ग्रह पर पहुंचा।
  • 1996 - अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने मंगल ग्रह के लिए एक और अंतरिक्ष यान मार्स पाथफ़ाउंडर प्रक्षेपित किया।
  • 1999 - सं.रा. अमेरिका के अडिय़ल रुख के कारण सिएटल वार्ता विफल, अगला दौर जिनेवा में कराने की घोषणा, रूसी सेनाओं ने ग्रोज्री के अनगुन शहर पर कब्ज़ा किया।
  • 2004 - पेरू की मारिया जूलिया मांतिला गार्शिया को मिस वल्र्ड 2004 चुना गया।
  • 2006 - फिलीपींस के एक गांव में तूफ़ान के बाद ज़मीन धंसने से लगभग एक हज़ार लोगों की मौत।
  • 2008 - प्रसिद्ध इतिहासकार रोमिला थापर को क्लूज सम्मान के लिये चुना गया।
  • 1910 - भारत के आठवें राष्ट्रपति का रामस्वामी वेंकटरमण का जन्म हुआ।
  • 1919 - भारत के बारहवें प्रधानमंत्री इन्दर कुमार गुजराल का जन्म हुआ।
  • 1908 -अमेरिकी जीवविज्ञानी  अल्फ्रैड डे हर्शे का जन्म हुआ, जिन्होंने मैक्स डेलब्रुक और सैल्वडोर ल्युरिया के साथ 1969 में शरीरक्रियाविज्ञान का नोबेल पुरस्कार प्राप्त किया। यह पुरस्कार उन्हें जीवाणुभोजी (बैक्टीरियोफेज़) विषाणु पर अध्ययन करने के लिए मिला। यह 1956 का मशहूर ब्लेन्डर प्रयोग है।(निधन- 22 मई 1997)
  • 1858-अमेरिकी अन्वेषक और आविष्कारक  चेस्टर ग्रीनवुड का जन्म हुआ, जिन्होंने कानों के मफलर का आविष्कार किया जिसके लिए उन्हें 13 मार्च को पेटेन्ट जारी किया गया। एक बार सर्दी में स्केटिंग करते हुए कानों में चुभन महसूस हुई तो इससे बचने के लिए उन्होंने बीवर के फर को एक पतले फ्रेम में लगाया और कानों को ढंक लिया। उसके बाद तो बस उनके मफलर की मांग बढ़ती गई। (निधन- 5 जुलाई 1937)
  • 1945-अमेरिकी जन्तुविज्ञानी और आनुवांशिकविद्  थॉमस हन्ट मॉर्गन का निधन हुआ, जो अपने प्रायोगिक अनुसंधान के लिए सुप्रसिद्ध हैं। फलमक्खी पर किए अपने प्रयोग से उन्होंने आनुवांशिकता का गुणसूत्र सिद्धान्त प्रतिपादित किया।(जन्म 25 सितम्बर 1866)
  • 1893- ब्रिटिश भौतिकविद्  जॉन टिण्डल का निधन हुआ, जिन्होंने बताया कि आसमान नीला क्यों दिखाई देता है। इन्होंने दिप्तिमान ऊष्मा पर भी कार्य किया। टिण्डल काफी प्रसिद्ध व्याख्याता थे। (जन्म 2 अगस्त 1820)
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : बारदाने की अंतर्कथा..
राजपथ - जनपथ  / 03-Dec-2021 6:12 PM (103)

बारदाने की अंतर्कथा..

पूरे प्रदेश में 1 दिसंबर से बड़े उल्लास के साथ समर्थन मूल्य पर धान खरीदी शुरू हो गई है। राज्य सरकार और प्रशासन की सबसे बड़ी चिंता बारदाने की व्यवस्था करने की है। पहले ही दिन से सरकार ने किसानों से कहा है कि वे अपने बारदाने में धान लेकर आएं। इधर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और दूसरे भाजपा नेताओं का बयान है कि हमने तो कभी बोरियों की कमी का रोना नहीं रोया। दरअसल, उस वक्त अधिकतम खरीदी बमुश्किल 75 लाख मीट्रिक टन की हुई। भाजपा के दौर में भी धान खरीदने के लिए बोरियों की कमी होती थी पर वह मामूली थी। पर, अब ज्यादातर राज्य समर्थन मूल्य पर धान खरीदने लगे हैं। अब सबको बोरियों की जरूरत है। अपने यहां 2500 रुपये क्विंटल प्रोत्साहन भुगतान के चलते हर तरफ धान ही धान है। बीते साल सरकार ने करीब 93 लाख मैट्रिक टन धान खरीदा था। इस बार एक करोड़ 5 लाख मीट्रिक टन खरीदने का लक्ष्य है।

हर साल लक्ष्य बढऩे के कारण बोरियां कम पड़ रही हैं। बोरियां पटसन से बनती हैं और इसका 95 प्रतिशत उत्पादन पश्चिम बंगाल में होता है। किस राज्य को कितनी बोरियां देनी हैं, यह तय करने के लिए एक जूट आयुक्त कोलकाता में बैठे हुए हैं। पर इस आयुक्त के हाथ बंधे रहते हैं। वे केंद्र सरकार की सलाह या निर्देश पर राज्यों को बोरियां आवंटित करते हैं। ऐसे में यदि राज्य सरकार केंद्र पर बोरियां नहीं देने का आरोप लगा रही है, तो वह गलत नहीं है। पिछले साल उसी पश्चिम बंगाल में, जहां पर 95 प्रतिशत बोरियों का उत्पादन होता है, ममता बनर्जी सरकार को लाख मिन्नतों के बावजूद गेहूं की खरीद के लिए जरूरत के मुताबिक बोरियां नहीं मिलीं। इसके चलते गेहूं की खरीद लक्ष्य से 20 प्रतिशत कम हो पाई। अब छत्तीसगढ़ में भी यही हाल है। क्या लक्ष्य तक धान खरीदा जा सकेगा?

पंच परमेश्वरों की करतूत...

हाल ही में मुंगेली नगर पालिका के अध्यक्ष संतू लाल सोनकर को बर्खास्त कर दिया गया। उन्होंने 13 लाख रुपये के ऐसी नाली निर्माण के बिल पर हस्ताक्षर किए जो बनी ही नहीं। अब जांजगीर से खबर है कि वहां पर एक करोड़ रुपए में सडक़ों का निर्माण हुआ, मरम्मत की गई, मगर जमीन पर कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। ऑफिस से इसके बिल वाउचर भी गायब हैं। जिला पंचायत बिलासपुर में इस समय बवाल मचा हुआ है। अध्यक्ष ने अपने फॉर्म हाउस तक 11 लाख रुपए की सडक़ बनवा ली। ग्राम पंचायत को इसकी भनक भी नहीं लगी। सीधे जिला पंचायत से पैसे निकले। ऐसे मामले खंगाले जाएं तो हर शहर, कस्बे, गांव में मिलेंगे। दर्जनों जनप्रतिनिधियों से वसूली और उनकी गिरफ्तारी बची. रुकी है। और ऐसी स्थिति में बड़ी उदारता के साथ जिला पंचायत सदस्यों से लेकर के सरपंच तक का मानदेय सरकार ने बढ़ा दिया है। आगे बढक़र, उन्हें 50 लाख रुपए तक के काम कराने की छूट भी दे दी है।

हिंदी की टंगी हुई टांग

सोशल मीडिया पर वायरल यह तस्वीर डरा रही है। ऐसे निमंत्रण देंगे तो कौन सफर करेगा?

 

सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 03-Dec-2021 12:28 PM (14)
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 03-Dec-2021 12:27 PM (13)
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 03-Dec-2021 12:27 PM (15)
सोशल मीडिया
फ़न कॉर्नर  / 03-Dec-2021 12:26 PM (15)
इतिहास में 3 दिसंबर
इतिहास  / 03-Dec-2021 9:51 AM (32)
  • 1469-इटली के विख्यात राजनेता और इतिहासकार निकोलो मैक्यावेले का फ़लोरेन्स नगर में जन्म हुआ।
  • 1851-पेरिस की जनता ने नेपोलियन बोनापार्ट के भतीजे लुईस नेपोलियन के विरुद्ध आंदोलन आरंभ किया।
  • 1984-भोपाल नगर में अमरीकी केमिकल फैक्ट्री युनियन कार्बाइड से गैस के रिसाव के परिणाम स्वरुप भयानक त्रास्दी हुई। कंपनी के अधिकारियों की ओर से साधानी के नियमों की अनदेखी कारण के होने वाली इस त्रास्दी में कम से कम ढाई हज़ार लोग मारे गए और दसियों हज़ार लोग बीमार हो गए
  • 1796 - बाजी राव द्वितीय को मराठा साम्राज्य का पेशवा बनाया गया। वे मराठा साम्राज्य के अंतिम पेशवा थे।
  • 1829 - वायसराय लॉर्ड विलियम बैंटिक ने भारत में सती प्रथा पर रोक लगायी।
  • 1959 - भारत और नेपाल ने गंडक सिंचाई और विद्युत परियोजना के समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • 1967 - भारत का पहला रॉकेट (रोहिणी आर एच 75) को थुम्बा से प्रक्षेपित किया गया।
  • 1975 - लाओस गणराज्य घोषित।
  • 1994 - ताइवान में पहला स्वतंत्र स्थानीय चुनाव सम्पन्न।
  • 1999 - विश्व प्रसिद्ध गिटार वादक चार्ली ली बर्ड का निधन, चेचेन्या के छापामारों ने 250 रूसी सैनिकों को मार गिराया।
  • 2000 - विसिट फ़ॉक्स मैक्सिको के नये राष्ट्रपति निर्वाचित, आस्ट्रेलिया ने वेस्टइंडीज को टेस्ट मैच में हराकर लगातार 12 टेस्ट मैच जीतने का रिकार्ड बनाया।
  • 2008 - मुंबई में हुई 23 नवंबर की आतंकवादी घटना के बाद महाराष्ट्र के मुख्य मंत्री विलासराव देशमुख ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया।
  • 1882 - भारत के एक प्रसिद्ध चित्रकार नंदलाल बोस का जन्म हुआ।
  • 1884 - भारत के प्रथम राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद का जन्म हुआ।
  • 1889 - स्वतंत्रता सेनानी खुदीराम बोस का जन्म हुआ।
  • 1903 - हिन्दी के  कथाकार और निबंध लेखक यशपाल का जन्म हुआ।
  • 1982 - टेस्ट क्रिकेट मैच में दोहरा शतक बनाने वाली पहली भारतीय महिला मिताली राज  का जन्म हुआ।
  • 2011- फि़ल्म अभिनेता और निर्माता देव आनंद का निधन हुआ।
  • 1942- अमेरिकी कृत्रिममृदा वैज्ञानिक पीटर सी. शुल्ज़ का जन्म हुआ,  जिन्होंने कॉर्निंग ग्लास शोधकर्ताओं, रॉबर्ट मॉरर और डॉनल्ड केक के साथ काम करते हुए आप्टिकल फाइबर का निर्माण किया।
  • 1193-डच रसायनज्ञ  पॉल क्रूट्ज़ेन का जन्म हुआ, जिन्होंने बताया कि नाइट्रोजन के यौगिक स्ट्रैटोस्फेयर में ओज़ोन परत के क्षय के लिए जिम्मेदार हैं। इसके लिए उन्हें सन 1995 में रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार मिला।
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : बृजमोहन के लिए चुनौती
राजपथ - जनपथ  / 02-Dec-2021 7:25 PM (125)

बृजमोहन के लिए चुनौती

बृजमोहन अग्रवाल मुश्किल में हैं। चर्चा है कि पार्टी ने उनकी इच्छा के खिलाफ जाकर भिलाई-चरौदा नगर निगम का चुनाव संचालक बना दिया है। बृजमोहन चाहते थे कि भिलाई-दुर्ग के तीनों बड़े नेता सरोज पाण्डेय, विजय बघेल, और प्रेमप्रकाश पाण्डेय को एक-एक निगम का प्रभार दे दिया जाए। उनका मानना था कि स्थानीय बड़े नेता चुनाव संचालन बेहतर ढंग से कर सकते हैं। मगर पार्टी ने उनकी नहीं सुनी।

सुनते हैं कि बृजमोहन को चुनाव संचालन से परहेज नहीं है। बल्कि इस बार समस्या कुछ और है। दरअसल, पिछली बार भी भिलाई-चरौदा निगम के चुनाव का संचालन बृजमोहन ने किया था। तब उस समय पार्टी की सरकार थी। बृजमोहन ने चुनाव के दौरान स्थानीय कुछ प्रभावशाली असंतुष्ट नेताओं को एल्डरमैन, और अन्य पद दिलाने का वादा कर प्रचार के लिए मनाया था। चुनाव में भाजपा तो जीत गई, लेकिन बड़े नेताओं के विरोध के चलते बृजमोहन अपना वादा पूरा नहीं कर पाए। अब इन असंतुष्ट नेताओं को काम में लगाना बृजमोहन के लिए चुनौती बन गई है।

सिंहदेव की परीक्षा

नगरीय निकाय चुनाव के लिए सभी मंत्रियों की जिम्मेदारी तय कर दी गई है। रविन्द्र चौबे को बीरगांव, और दुर्ग जिले के तीन नगर निगमों का प्रभार परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर को दिया गया है। दोनों ही क्रमश: रायपुर और दुर्ग के प्रभारी मंत्री हैं। मगर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को कोरिया जिले का प्रभार दिया गया है। यहां के बैकुंठपुर, और शिवपुर चरचा नगर पालिका में चुनाव है। दोनों ही नगर पालिका में जिला विभाजन के विरोध में प्रदर्शन चल रहा है, और स्थानीय संगठनों ने चुनाव के बहिष्कार का ऐलान भी कर दिया है। ऐसे में सिंहदेव की चुनावी कौशल की परीक्षा है। देखना है कि वो इसमें खरा उतर पाते हैं अथवा नहीं।

नामांकन के लिये खातिरदारी...

वोट के लिए मतदाताओं को ढोकर लाने की खबरें तो हर चुनाव में खूब सुनी गई हैं, मगर बैकुंठपुर में प्रत्याशियों को लाया जा रहा है। कोरिया में भाजपा और दूसरे दलों ने नगरी निकाय चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। कांग्रेस ने भी चुनाव की तारीख आगे बढ़ाने की मांग की है। विरोध कोरिया जिले के विभाजन को लेकर उठे असंतोष के कारण है। सब दलों के एक हो जाने के कारण ऐसा दिखाई दे रहा था कि दोनों नगरीय निकाय शिवपुर-चरचा और बैकुंठपुर में कोई नामांकन ही दाखिल नहीं हो पायेगा और शासन की फजीहत हो जाएगी।

जैसा कि मालूम हुआ है कि कल दिन भर प्रत्याशी ढोये गये। उनसे निर्दलीय नामांकन दाखिल कराया गया। ऐसे उम्मीदवारों को तुरंत एनओसी देने के लिए अधिकारी बैठे रहे। सफलता मिली। शाम तक 16 निर्दलीय नामांकन दाखिल हो गये। भाजपा का आरोप है कि यह प्रशासन का नहीं कांग्रेस का खेल है।

पर इस पैंतरे ने कांग्रेस और भाजपा सहित सभी दलों के कान खड़े कर दिए हैं। नामांकन दाखिल करने की तारीख 3 सितंबर है, वह भी बीती जा रही है। बहिष्कार करना है या नहीं, वे जल्दी तय करेंगे वरना दोनों निकायों में निर्दलीय काबिज दिखेंगे।

कोई नई गाइडलाइन आई तो?

देश के लगभग सभी राज्यों में कोरोना के नये वेरिएंट ओमीक्रोन की आहट से धीरे-धीरे चिंता पसर रही है। दूसरी लहर के कमजोर होने के बाद छत्तीसगढ़ में सार्वजनिक समारोहों, शादी ब्याह की छूट मिल गई है। अब पूरी क्षमता से मेरिज हाल, गार्डन खुल गये हैं। बैंड, टेंट, केटरिंग का धंधा भी दुबारा रफ्तार पकड़ चुका है। छूट तो तीन-चार महीने पहले से ही दी जा चुकी थी, पर देव शयन पर थे। देवउठनी एकादशी के बाद मुहूर्त बने। दिसंबर में खूब शादियां हैं। जिन लोगों की विवाह की योजना दिसंबर में नहीं बन पाई, उन्होंने कार्यक्रम जनवरी के लिये खिसका दिया है। 22 जनवरी के बाद कई मुहूर्त हैं। 

अब चिंता यह है कि दिसंबर के समारोह तो जैसे तैसे निपट सकते हैं लेकिन यदि आगे कोविड केस बढ़े तो क्या होगा?   

शराबबंदी लागू करना खेल है?

बिहार विधानसभा परिसर में सत्र के दौरान ही शराब की बोतलें मिलीं, जबकि वहां पूर्ण शराबबंदी है। पूरा प्रशासन हिल गया है। सीएम नीतिश कुमार भी बेचैन हो गये हैं। इसीलिये तो, अपने यहां अभी तक टर्म्स एंड कंडिशन्स देखे जा रहे हैं। 

Previous123456789...222223Next