खेल

क्या लोकप्रियता में सचिन और विराट को पीछे छोड़ चुके हैं धोनी?
21-Sep-2020 7:26 PM 2
क्या लोकप्रियता में सचिन और विराट को पीछे छोड़ चुके हैं धोनी?

नई दिल्ली, 21 सितम्बर (आईएएनएस)| क्या शोहरत के मामले में महेंद्र सिंह धोनी अपने दो पूर्व साथियों-सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली से आगे निकल चुके हैं? अगर भारतीय टीम को पूर्व कप्तान और आज के सबसे चर्चित क्रिकेट विश्लेषकों में से एक सुनील गावस्कर की मानें तो धोनी अपने इन दोनों प्रख्यात साथियों से लोकप्रियता के मामले में मीलों आगे निकल चुके हैं। गावस्कर मानते हैं कि जहां तक फैनडम की बात है तो धोनी सबसे आगे निकल गए हैं। सचिन और विराट के करोड़ो फैन हैं लेकिन धोनी क्रिकेट को धर्म मानने वाले इस देश में फैनडम के मामले में अब तक तय हर पैमाने से आगे निकल चुके हैं।

धोनी ने शनिवार को 436 दिनों के बाद मैदान पर वापसी की और आईपीएल-13 के अपने पहले ही मैच में मौजूदा चैम्पियन मुम्बई इंडियंस को मात दी। 15 अगस्त को धोनी ने संन्यास की घोषणा की थी। उनके साथ-साथ सुरेश रैना ने भी सन्यास की घोषणा की थी। 15 अगस्त के दिन सन्यास लेने से लोगों के दिल में उनके प्रति प्यार और सम्मान और बढ़ गया। इसका कारण यह है कि धोनी ने बार-बार यह साबित किया है कि उनके अंदर गजब का देशप्रेम है।

बीते साल इंग्लैंड में आयोजित विश्व कप के दौरान धोनी ने 9 जुलाई को न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना अंतिम इंटरनेशनल मैच खेला था। इसके बाद उन्होंने लम्बा ब्रेक लिया और इस दौरान सेना में भी ट्रेनिंग ली। टी20 विश्व कप, जिसका आयोजन इस साल आस्ट्रेलिया में होना था, के लिए धोनी की टीम में वापसी तय मानी जा रही थी लेकिन कोरोना महामारी के कारण विश्व कप टल गया और इसके साथ ही धोनी ने संन्यास की घोषणा कर दी।

इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेने के साथ ही धोनी ने अपना ध्यान आईपीएल पर लगाया और बदले हुए रूप के साथ संयुक्त अरब अमीरात पहुंचे। अपने इंटरनेशनल क्रिकेट के दिनों में धोनी जितने चर्चित रहे, उससे कहीं अधिक अब चर्चित हो गए हैं क्योंकि बीते दिनों एक सर्च इंजन द्वारा जारी आंकडो़ं के मुताबिक वह अभी भी सबसे अधिक सर्च किए जाने वाले भारतीय क्रिकेटर हैं।

सचिन तेंदुलकर ने 2013 में संन्यास लिया था और कोहली अभी भी खेल रहे हैं। इन दोनों की लोकप्रियता अपार है लेकिन गावस्कर की मानें तो धोनी इनसे अधिक लोकप्रिय इसलिए हैं क्योंकि वह रांची से आते हैं, जहां धोनी से पहले कोई क्रिकेट कल्चर नहीं था, लिहाजा पूरा देश उन्हें चाहता है। दूसरी ओर, सचिन और विराट क्रिकेट का गढ़ कहे जाने वाले मुम्बई और दिल्ली से हैं।

धोनी 2008 से ही चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान हैं। दो साल इस क्लब को जब बैन किया गया था, तब वह पुणे राइजिंग सुपरजाएंट्स के कप्तान थे। चेन्नई में धोनी को थाला नाम से पुकारते हैं और शेष भारत में वह माही कहे जाते हैं। सचिन और विराट के लिए देश के दो हिस्सों में इस तरह का कोई नाम प्रचलित नहीं है।

आईपीएल-13 के लिए धोनी बदले हुए रूप के साथ यूएई पहुंचे। पहले मैच में टॉस के दौरान 39 साल के माही अलग तरह की दाढ़ी में नजर आए। कुछ सिंघम स्टाइल में। इस लुक की काफी तारीफ हुई। कई फैन्स से सोशल मीडिया पर इसके प्रति अपना प्यार जताया। शरीर से भी धोनी काफी फिट नजर आए। ऐसा लगा कि उन्होंने फुर्सत के दिनों में काफी समय जिम में बिताया है।

चाहें वो 2007 टी20 विश्व कप हो या फिर 2011 का 50 ओवर विश्व कप, धोनी हमेशा प्रयोग के लिए जाने जाते हैं। मैदान के अंदर हो या फिर मैदान के बाहर, माही ने कई सारे प्रयोग किए हैं। निजी जीवन में भी उनकी पसंद लोगों की पसंद बनती दिखती है। हमर से लेकर स्पोर्ट्स बाइक्स की चाह रखने वाला यह खिलाड़ी सैकड़ों विज्ञापनों में दिखता है और फिर फुटबाल, रेसिंग और दूसरे कई खेलों को प्रोमोट करने के लिए पैसा भी लगता है।

इन सब बातों ने धोनी को सबका चहेता बना दिया है। मैदान में बनाए गए रिकार्ड्स और कैप्टन कूल की छवि आज भी धोनी के साथ है और आने वाले कई सालों तक रहेगी क्योंकि अभी धोनी के दिन लदे नहीं हैं। चेन्नई का थाला और उत्तर भारत का माही आज भी मैदान पर अपनी कप्तानी और बल्ले की कलाकारी से सबका मन मोह रहा है और ऐसी उम्मीद है कि आने वाले कई सालों तक मोहता रहेगा।

अन्य पोस्ट

Comments