राष्ट्रीय

भाजपा को मिलेंगी ज्यादा सीटें, तब भी नीतीश ही बनेंगे सीएम- अमित शाह
17-Oct-2020 9:52 PM 4
भाजपा को मिलेंगी ज्यादा सीटें, तब भी नीतीश ही बनेंगे सीएम- अमित शाह

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर। बिहार विधानसभा चुनावों में बीजेपी और जेडीयू के बीच आई दरार की अटकलों पर गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्ण विराम लगा दिया है। बिहार चुनाव पर प्रतिक्रिया देते हुए अमित शाह ने शनिवार को कहा, जो कोई भी भ्रांतियां फैलाने का प्रयास कर रहा है। मैं आज इस पर बड़ा फुल स्टॉप लगाना चाहता हूं। नीतीश कुमार ही बिहार के अगले मुख्यमंत्री होंगे। शाह ने कहा कि देश के साथ-साथ बिहार में भी मोदी लहर है और इससे गठबंधन सहयोगियों को समान रूप से मदद मिलेगी। शाह ने कहा, नीतीश हमारे पुराने साथी हैं, गठबंधन तोडऩे का कोई कारण नहीं है।

न्यूज 18 नेटवर्क समूह के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में अमित शाह ने कहा, बिहार विधानसभा चुनावों में बीजेपी को चाहे ज्यादा सीटें मिलें, लेकिन नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री बनेंगे। शाह ने कहा कि उन्होंने विभिन्न पार्टी पदाधिकारियों से फीडबैक लिया, जो हाल ही में बिहार गए थे और उन्होंने जो सीखा है वो ये है कि कोविड-19 की अवधि के दौरान प्रधानमंत्री की योजना द्वारा प्रदत्त खाद्यान्न और पैसों के हस्तांतरण से बिहार के लोगों को काफी मदद मिली है, जिससे उनके मन में एक नई छवि बनी है।

ग्रामीण और शहरी लोगों से लिया फीडबैक : शाह ने कहा, मैंने ऐसे लोगों से प्रतिक्रिया ली है जो प्रदेश के ग्रामीण और शहरी दोनों हिस्सों में रहे हैं। मार्च से छठ पर्व तक राज्य में वितरित खाद्यान्न, का किसी से एक पैसा भी नहीं लिया गया। बिहार के लोग कभी नहीं भूलेंगे कि नीतीश कुमार ने कैसे उनके प्रवास के लिए व्यवस्था की, उनकी यात्रा के लिए भुगतान किया, प्रवासी मजदूरों को प्रति व्यक्ति 1,000 रुपये की आर्थिक सहायता दी। हमने निभाया है गठबंधन का धर्म : बिहार विधानसभा चुनावों में बीजेपी के अकेले लडऩे पर अमित शाह ने कहा, पार्टी का विस्तार कितना हुआ ये उस पर निर्भर करता है। जब से एनडीए बना है तब से नीतीश कुमार हमारे साथी हैं। गठबंधन तोडऩे का कोई कारण नहीं है। बीच में कुछ गड़बड़ हुई थी, लेकिन सिर्फ विस्तार के लिए अकेले लडऩा वो ठीक नहीं है। गठबंधन का एक धर्म होता है और हमने उस धर्म को निभाया है। ऊपर मोदी जी, नीचे नीतीश जी ये डबल इंजन वाली सरकार बिहार के विकास को बढ़ाएगी।

एनडीए से अलग हुई एलजेपी
शाह की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब केंद्र में एनडीए की साथी लोक जनशक्ति पार्टी  ने बिहार में खुद को अलग कर लिया है। एलजेपी ने जेडीयू के खिलाफ चुनावी मैदान में अपने उम्मीदवारों को उतारने की घोषणा भी कर दी है।

अपनी बात पर कायम हैं अमित शाह
हालांकि ये पहली बार नहीं है जब अमित शाह ने नीतीश कुमार के समर्थन में बयान दिया हो। इससे पहले इसी साल 1 जून को राहुल जोशी के साथ खास बातचीत में अमित शाह ने बिहार विधानसभा चुनाव पर कहा था कि एनडीए की ओर से नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री का चेहरा रहेंगे। (hindi.news18)

अन्य पोस्ट

Comments