छत्तीसगढ़ » कोरबा

Previous123456789Next
20-Sep-2021 9:18 PM (86)

बनाई जांच समिति, सात दिन में मिलेगी रिपोर्ट

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोरबा, 20 सितंबर। कुसमुंडा कोयला खदान में सुरक्षा कर्मियों द्वारा एक युवक को पोल से बांधकर पीटने के मामले में कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने सख्त रुख अपनाते हुए जांच बैठा दी है। कलेक्टर ने स्थानीय समाचार पत्रों में आज प्रकाशित समाचार पर खुद संज्ञान लेते हुए इस मामले की जांच के लिए समिति गठित की है। इस तीन सदस्यीय समिति के अध्यक्ष कटघोरा के अनुविभागीय राजस्व अधिकारी होंगे। सदस्य के रूप में कटघोरा एसडीओपी और खनिज विभाग के उप संचालक भी समिति में शामिल है। इस मामले की जांच कर समिति अगले सात दिनों में पूरी रिपोर्ट कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत करेगी।

गौरतलब है कि आज स्थानीय समाचार पत्रों में इस बारे में  खबर प्रकाशित हुई थी कि कुसमुंडा कोयला खदान में लोहा चोरी के शक पर एक युवक को सुरक्षा कर्मियों ने पोल से बांधकर बेसुध होने तक पीटा था,और पुलिस में रिपोर्ट करने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी।

ज्ञात हो कि एसईसीएल कुसमुंडा के एक निजी कंपनी के सुरक्षाकर्मियों ने 17 सितंबर को लोहा चोरी के संदेह में एक अधेड़ को लोहे के पाइप में बाँध अर्द्धनग्न कर बेरहमी से पीटा था । पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने जुर्म दर्ज कर लिया है। कुसमुण्डा खदान के नया सायलो के पास ओ एण्ड एम में विश्वकर्मा पूजा देखने गया था।  

रेलवे फाटक के निकट सामंता निर्माण कंपनी के दो गार्ड उसे पकड़कर कंपनी के कार्यालय सायलो के पास ले गए। दोनों गार्ड ने लोहा चोरी करने का आरोप लगाकर उसे पाइप के खंभे में  रस्सी से बांध दिए और गार्डों के दो अन्य साथियों द्वारा  सुभाष के कुल्हा एवं पीठ एवं पैर में डंडे बरसाये गए। पीड़ित सुभाष की रिपोर्ट पर मामले में कुसमुण्डा  पुलिस ने सामंता कंपनी के दो गार्ड एवं उनके दो साथियों सहित कुल 4 लोगों के विरुद्ध धारा 294, 330, 34, 348, 506 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध किया है।।


12-Sep-2021 5:45 PM (127)

दुर्घटना में तीन साल पहले दिव्यांग हुए युवक का सहारा बनी लोक अदालत

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोरबा, 12 सितंब । तीन साल पहले सडक़ दुर्घटना में घायल होकर दिव्यांग हुए द्वारिका प्रसाद को लोक अदालत में राज़ीनामा के द्वारा बीस लाख रुपए की मुआवज़ा राशि देने का फ़ैसला हुआ है।

सडक़ दुर्घटना में बुरी तरह घायल होकर दिव्यांग हुआ यह युवक अदालत में आने में असमर्थ था, तो लोक अदालत के दौरान जि़ला सत्र न्यायाधीश बी पी वर्मा ने द्वारिका प्रसाद और बीमा कम्पनी के वकीलों के साथ खुद न्यायालय परिसर में द्वारिका की गाड़ी के पास जाकर सुनवाई की । इस दौरान दोनो पक्षों ने दुर्घटना के बाद दिव्यांग हुए द्वारिका को बीस लाख की क्षतिपूर्ति देने पर राज़ी नामा कर सहमति जताई। इसके बाद जि़ला सत्र न्यायाधीश ने बीमा कम्पनी को बीस लाख रुपए की क्षतिपूर्ति राशि द्वारिका प्रसाद को देने का आदेश जारी किया। तीन साल से लम्बित इस प्रकरण का शनिवार को लोक अदालत में निराकरण हो जाने से दिव्यांग द्वारिका प्रसाद ने ख़ुशी ज़ाहिर की और न्यायालय की इस पहल पर आभार जताया।

घटना 3 दिसंबर 2018 को सुबह लगभग पांच बजे के बीच में आवेदक द्वारिका प्रसाद  कंवर पिता आसाराम कंवर उम्र लगभग 42 वर्ष एलटीपी चार पहिया वाहन क्र. सीजी 12 ए यू 0468 में  कोरबा जा रहा था। जैसे ही वह थाना सिटी कोतवाली कोरबा क्षेत्रान्तर्गत मानिकपुर के पास अनावेदक सुनील कुमार यादव के ट्रेलर के वाहन चालक राजकुमार द्वारा लापरवाहीपूर्वक ट्रेलर क्र. सीजी 12 एस 5293 से आवेदक द्वारिका को ठोकर मारकर घायल कर दिया। दुर्घटना के परिणामस्वरूप आवेदक के गर्दन के पास रीढ़ की हड्डी टूट गई है, जिसे ऑपरेशन कर रॉड डाला गया है। जिसके कारण आवेदक द्वारिका प्रसाद कंवर का सम्पूर्ण शरीर शिथिल होकर दिव्यांग हो गया है और वह भविष्य में वह आजीवन कोई कार्य नहीं कर पायेगा। दुर्घटना के कारण शरीर के अन्य हिस्से में भी गम्भीर एवं संघातिक चोटें आई थी।

 आवेदक घटना के पूर्व एक स्वस्थ जवान व्यक्ति था, जिसे किसी भी प्रकार की बिमारी नहीं थी, जो घटना के कारण पूर्ण रूप से अपंग होकर आजीवन दूसरे के उपर आश्रित रहेगा। आवेदक के दिव्यांग हो जाने के फलस्वरूप उसकी आय भी प्रभावित हुई है। वह किसी तरह की कोई आय अर्जित भी नहीं कर पाएगा, जिसके कारण उसके परिवार के समक्ष भरण पोषण की गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई थी। आवेदक को जो शारीरिक, मानसिक एवं आर्थिक क्षति हुई है एवं भविष्य की जो आय की आर्थिक क्षति हुई है, उसका अनुमान लगाना असंभव है। फिर भी आवेदक द्वारिका प्रसाद कंवर द्वारा क्षतिपूर्ति राशि का मांग किया गया था।

उभय पक्षों ने समझौता होकर लिखित में समझौता आवेदन हाईब्रीड नेशनल लोक अदालत 11 सितंबर को प्रस्तुत किया है। नेशनल लोक अदालत में आवेदक द्वारिका प्रसाद कंवर दिव्यांग हो जाने के कारण न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत होने में असमर्थ था, ऐसे में  बी. पी. वर्मा जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण आवेदक  द्वारिका प्रसाद कंवर के अधिवक्ता  पी.एस. राजपूत तथा अनावेदक बीमा कंपनी के अधिवक्ता रामनारायण राठौर संयुक्त रूप से न्यायालय प्रांगण के बाहर स्वयं जाकर आवेदक द्वारिका प्रसाद कंवर के प्रकरण की सुनवाई की तथा राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के घोष वाक्य ‘‘न्याय आपके द्वार’’ को सत्यार्थ कर, राजीनामा द्वारा प्रकरण निराकृत कर राशि 20 लाख रूपये की क्षतिपूर्ति प्राप्त की गई। उभयपक्षों ने स्वेच्छा पूर्वक बिना किसी भय दबाव के 20 लाख रुपये राजीनामा स्वीकार किया है।


10-Sep-2021 7:11 PM (62)

राज्यपाल ने प्रदान किया पुरस्कार

कोरबा 10 सितंबर। सर्वश्रेष्ठ स्काउट का पुरस्कार अनीश पटेल एवं सर्वश्रेष्ठ रेंजर का पुरस्कार करूणा ने प्राप्त किया है। यह पुरस्कार राज्यपाल द्वारा प्रदान किया गया।

 8 सितंबर को राजभवन में भारत स्काउट्स एवं गाइड्स, छत्तीसगढ़ का राज्यपाल पुरस्कार एवं अलंकरण समारोह आयोजित हुआ। इस समारोह में राज्य स्तर से चयनित 3- 3 स्काउट, गाइड एवं 2- 2 रोवर, रेंजर तथा 2- 2 लीडर्स को राज्यपाल अनुसईया उइके द्वारा पुरस्कार प्रदान किया गया। कोरबा जिले से अनीश पटेल को सर्वश्रेष्ठ स्काउट का पुरस्कार मिला। अनीश सरस्वती उमा विद्यालय, सीएसईबी कोरबा पूर्व की कक्षा 12वीं में अध्ययनरत हैं। करूणा को सर्वश्रेष्ठ रेंजर का पुरस्कार मिला। करूणा रानी दुर्गावती ओपन रेंजर टीम की सदस्य हैं तथा इसी वर्ष शासकीय उमा विद्यालय, दीपका से 12वीं कक्षा उत्तीर्ण किया है। पुरस्कार के रूप में प्रशस्ति पत्र, प्रतीक चिन्ह व 10 हजार रुपए की राशि का चेक प्रदान किया गया।

पूरे देश में छत्तीसगढ़ एक ऐसा राज्य बन गया है, जहां राज्यपाल द्वारा सर्वश्रेष्ठ स्काउट, गाइड, रोवर, रेंजर एवं लीडर्स को पुरस्कार प्रदान किया गया। राजभवन द्वारा प्रत्येक वर्ष यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। 2019 में राज्यपाल द्वारा उक्त पुरस्कार की घोषणा की गई थी।  राज्यपाल द्वारा घोषित पुरस्कार प्राप्त करने पर कलेक्टर रानू साहू ने अनीश व करूणा को बधाई देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की है। जिला शिक्षा अधिकारी जीपी भारद्वाज ने भी अनीश व करूणा को बधाई दी है।


10-Sep-2021 6:37 PM (45)

 

नई मछली नीति में शामिल करने की अनुशंसा

कोरबा, 10 सितम्बर। प्रदेश में मछली पालकों को भी फिश प्रोडक्शन का बोनस मिलने का रास्ता साफ हो गया है। राज्य शासन की नई मछली पालन नीति बनाने के लिए गठित समिति ने मछुआरों को उत्पादकता बोनस देने की अनुशंसा कर दी है। उत्पादकता बोनस प्रदेश के जलाशयों को पट्टे पर देने से होने वाली आय का 40 प्रतिशत होगा और यह उस जल क्षेत्र में मत्स्याखेट करने वाले मछुआरों को मिलेगा।

प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पहले ही राज्य में मछली पालन को कृषि का दर्जा दे दिया है। इससे अब मछुआरों को मछली पालन के लिए सहकारी समितियों से ऋण और अन्य सुविधाएं मिलना शुरू हो गई है। नई मछली पालन नीति में प्रदेश के 20 हेक्टेयर जल क्षेत्र वाले एनीकटों को मछली पालन के लिए पट्टे पर नहीं देने का भी प्रस्ताव किया गया है। ऐसे सभी एनीकट स्थानीय मछुआरों को मत्स्याखेट के लिए नि:शुल्क उपलब्ध होंगे। इसके साथ ही जलाशयों को मत्स्य पालन के लिए पट्टे पर देने में मछुआ जाति के लोगों की सहकारी समितियों को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाएगी। आदिम जाति मछुआ सहकारी समितियों में 30 प्रतिशत सदस्य और समिति के उपाध्यक्ष का पद मछुआ वर्ग के लोगों के लिए आरक्षित होंगे ताकि वे मछली पालन और विपणन का काम कुशलता पूर्वक कर सकें। कृषि मंत्री श्री रवीन्द्र चौबे की अध्यक्षता में नई मछली पालन नीति बनाने के लिए गठित की गई राज्य स्तरीय समिति की बैठक पिछले दिनों रायपुर में हुई जिसमें मछली पालन को बढ़ावा देने और मछली पालकों को ज्यादा से ज्यादा  लाभ पहुंचाने के लिए कई जरूरी प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। समिति के प्रस्तावों का परीक्षण कर राज्य मंत्री परिषद की अनुशंसा पर नई मछली पालन नीति तैयार की जाएगी। मछली पालन नीति के नए प्रावधानों के मंजूर हो जाने पर कोरबा जिले के आठ हजार से अधिक मछली पालकों को इसका लाभ मिलेगा।

नई मछली पालन नीति में समिति ने ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत एवं जिला पंचायत द्वारा अपने क्षेत्राधिकार के तालाबों व जलाशयों को अब छह माह के स्थान पर तीन माह के भीतर आबंटन की कार्रवाई किए जाने का प्रस्ताव किया है। इस अवधि के बाद पंचायत की अनुशंसा के बिना नियमानुसार पट्टा आबंटन का अधिकार कलेक्टर को होगा। राज्य में मछली बीज की गुणवत्ता नियंत्रण एवं प्रमाणीकरण हेतु मत्स्य बीज प्रमाणीकरण अधिनियम बनाया जाएगा, जो मत्स्य बीज उत्पादन हेतु निजी क्षेत्रों को प्रोत्साहित करेगा। निजी क्षेत्र में अधिक से अधिक हेचरी एवं संवर्धन प्रक्षेत्रों के निर्माण को भी प्रोत्साहन दिया जाएगा।

राज्य में उपलब्ध 50 हेक्टेयर से अधिक जलक्षेत्र के जलाशय जिन्हें दीर्घावधि के लिए पट्टे पर दिया गया है, उन जलाशयों में केज कल्चर के माध्यम से मछली उत्पादन के लिए केज स्थापित करने हेतु अधिकतम दो हेक्टेयर जलक्षेत्र पट्टे पर दिया जाना प्रस्तावित किया गया है।


10-Sep-2021 6:22 PM (40)

पोषण माह का आठवां-नौवां दिन

कोरबा, 10 सितंबर।
गर्भवती एवं शिशुवती माताओं और बच्चों का स्वास्थ्य एवं पोषण सुनिश्चित करने के लिए जिले में सितंबर महीना राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है।

पोषण माह के आठवे  दिन जिले के एक हजार  300 से अधिक आंगनबाड़ी केन्द्रों में पोषण आधारित विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया और जिले को कुपोषण मुक्त करने के लिए जन-जागरूकता का प्रसार किया गया। इन गतिविधियों में लगभग 31 से  हजार से अधिक  लोगों ने भाग लिया। पोषण माह के आठवें दिन बेहतर पोषण के लिए प्रसव पूर्व जांच एवं गर्भावस्था तथा स्तनपान के दौरान पोषण के संबंध में गर्भवती महिलाओं को जागरूक किया गया।

आठवें दिन आयुष विभाग द्वारा महिला एवं बाल विकास के अमले को बेहतर पोषण एवं योगाभ्यास के लिए  ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया  गया।  आयुष विभाग द्वारा गर्भवती एवं शिशुवती महिलाओं के स्वाथ्य सम्बन्धी जांच एवं  योगाभ्यास के लिए जागरूक एवं प्रोत्साहित किया गया।


इस दिन आंगनबाड़ी केन्द्रों, स्कूलों, ग्राम पंचायतों एवं सामुदायिक स्थानों पर गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों के स्वास्थ्य की जांच  की गई तथा योगाभ्यास भी कराया गया।  पोषण माह के आठवें दिन शिशु संरक्षण के प्रति महिलाओं को जागरूक करने विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया और जच्चा-बच्चा स्वास्थ्य सुनिश्चित करने लोगों को संकल्पित किया गया। इस दिन स्तनपान के महत्व पर भी चर्चा की गई। उपस्थित महिलाओं को बताया गया कि जन्म के पहले 6 माह तक शिशु को केवल माँ का दूध पिलाया जाना चाहिए। इस दिन जिले के सभी दस एकीकृत बाल विकास परियोजनाओं में लगभग 31 हजार से अधिक लोगों ने भाग लिया।
पोषण माह के नौवे दिन पौष्टिकता के आधार पर मेहंदी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।नौवें दिन आंगनबाड़ी केन्द्रों, स्कूलों, ग्राम पंचायतों एवं सामुदायिक स्थानों पर गर्भवती माता, शिशुवती माता तथा किशोरी बालिकाओं के साथ मेहंदी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। भोजन, पोषण आहार तथा स्वास्थ्य संबंधी संदेश  के साथ हाथों में मेहँदी लगाकर लोगो तक पोषण का  संदेश पहुचाया गया। नौवें दिन जिले के साढ़े चार सौ से अधिक आंगनबाड़ी केन्द्रों में पोषण आधारित गतिविधियों का आयोजन किया गया। जिसमें दस हजार से अधिक लोगों ने भाग लिया।

एक सितंबर से शुरू हुए राष्ट्रीय पोषण माह में प्रत्येक दिन विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। जिले के सभी 10 परियोजनाओं बरपाली, चोटिया, हरदीबाजार, करतला, कटघोरा, कोरबा शहरी एवं ग्रामीण, पाली, पसान तथा पोड़ी-उपरोड़ा के आंगनबाड़ी केन्द्रों में पोषण आधारित गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि पोषण माह के आठवें एवं नौवें दिन जिले के आंगनबाड़ी केन्द्रों में जनप्रतिनिधियों, परियोजना अधिकारी, महिला पर्यवेक्षकों, आंगनबाड़ी सहायिकाओं की उपस्थिति में प्रसव पूर्व जांच, स्तनपान तथा स्वास्थ्य एवं पोषण के प्रति महिलाओं को जागरूक कर कुपोषण मुक्ति का संदेश दिया गया।


04-Sep-2021 6:27 PM (101)

बालकोनगर, 4 सितंबर। वेदांता समूह की कंपनी भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) ने किशोरी बालिकाओं को माहवारी स्वास्थ्य एवं स्वच्छता प्रबंधन के अनेक आयामों से परिचित कराने के लिए चार दिवसीय कार्यशाला आयोजित की। सार्थक जन विकास संस्थान नामक गैर सरकारी संगठन के सहयोग से बालकोनगर में आयोजित कार्यशाला का उद्देश्य किशोरियों को ऐसे लीडर्स के तौर पर विकसित करना था जिससे वे समुदाय में जाकर माहवारी स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के प्रति बालिकाओं और महिलाओं को जागरूक कर सकें। 

आयोजन में आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों की 60 किशोरी बालिकाओं ने भागीदारी की। कार्यशाला के बाद प्रशिक्षित लीडर्स को कोरबा कलेक्टर रानू साहू और बालको के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक अभिजीत पति के हाथों प्रमाण पत्र वितरित किए गए। श्रीमती साहू ने परियोजना के नामकरण नई किरण का विमोचन भी किया।

श्री पति ने बताया कि श्रीमती साहू ने नई किरण परियोजना एवं आयोजन की दिल खोलकर प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि यह बड़े सकारात्मक परिवर्तन का संकेत है कि जिस विषय पर आमतौर पर समाज में खुलकर चर्चा नहीं होती उस पर कार्यशाला में प्रशिक्षित किशोरी बालिकाएं बिना झिझक बात कर रही हैं। बालको की परियोजना नई किरण भ्रांतियों को दूर करने और समुदाय को परस्पर जोडऩे की दिशा में उत्कृष्ट पहल है। 

श्री पति ने बताया कि बालको अपने सामुदायिक विकास कार्यक्रम के जरिए जरूरतमंदों की हरसंभव मदद करने के लिए कटिबद्ध है। महिलाओं से जुड़े अत्यंत संवेदनशील विषय पर गोष्ठियों और कार्यशालाओं के माध्यम से जागरूकता का संचार कर हम अपनी बेटियों को सुरक्षित बना रहे हैं। श्री पति ने प्रतिभागियों की हौसल अफजाई करते हुए कहा कि कोरबा जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में बालको संचालित परियोजना को नए आयाम मिलेंगे। उन्होंने कहा कि सामाजिक जागरूकता की दिशा में 60 किशोरी लीर्डस का योगदान महत्वपूर्ण होगा।
 


04-Sep-2021 6:27 PM (34)

बालकोनगर, 4 सितंबर। वेदांता समूह की कंपनी भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) ने किशोरी बालिकाओं को माहवारी स्वास्थ्य एवं स्वच्छता प्रबंधन के अनेक आयामों से परिचित कराने के लिए चार दिवसीय कार्यशाला आयोजित की। सार्थक जन विकास संस्थान नामक गैर सरकारी संगठन के सहयोग से बालकोनगर में आयोजित कार्यशाला का उद्देश्य किशोरियों को ऐसे लीडर्स के तौर पर विकसित करना था जिससे वे समुदाय में जाकर माहवारी स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के प्रति बालिकाओं और महिलाओं को जागरूक कर सकें। 

आयोजन में आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों की 60 किशोरी बालिकाओं ने भागीदारी की। कार्यशाला के बाद प्रशिक्षित लीडर्स को कोरबा कलेक्टर रानू साहू और बालको के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक अभिजीत पति के हाथों प्रमाण पत्र वितरित किए गए। श्रीमती साहू ने परियोजना के नामकरण नई किरण का विमोचन भी किया।

श्री पति ने बताया कि श्रीमती साहू ने नई किरण परियोजना एवं आयोजन की दिल खोलकर प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि यह बड़े सकारात्मक परिवर्तन का संकेत है कि जिस विषय पर आमतौर पर समाज में खुलकर चर्चा नहीं होती उस पर कार्यशाला में प्रशिक्षित किशोरी बालिकाएं बिना झिझक बात कर रही हैं। बालको की परियोजना नई किरण भ्रांतियों को दूर करने और समुदाय को परस्पर जोडऩे की दिशा में उत्कृष्ट पहल है। 

श्री पति ने बताया कि बालको अपने सामुदायिक विकास कार्यक्रम के जरिए जरूरतमंदों की हरसंभव मदद करने के लिए कटिबद्ध है। महिलाओं से जुड़े अत्यंत संवेदनशील विषय पर गोष्ठियों और कार्यशालाओं के माध्यम से जागरूकता का संचार कर हम अपनी बेटियों को सुरक्षित बना रहे हैं। श्री पति ने प्रतिभागियों की हौसल अफजाई करते हुए कहा कि कोरबा जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में बालको संचालित परियोजना को नए आयाम मिलेंगे। उन्होंने कहा कि सामाजिक जागरूकता की दिशा में 60 किशोरी लीर्डस का योगदान महत्वपूर्ण होगा।
 


28-Aug-2021 6:00 PM (113)

ढाई साल से 65 लाख का भुगतान रोकने का आरोप

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
कोरबा, 28 अगस्त।
कटघोरा वनमंडल परिसर में शुक्रवार को एक स्थानीय ठेकेदार ने डीएफओ के सामने खुद पर मिट्टी का तेल उड़ेल कर आत्मदाह करने की कोशिश की। पीडि़त ठेकेदार के मुताबिक ढाई साल से विभाग ने 65 लाख रुपये का भुगतान रोक रखा है। यह सब होने के बाद डीएफओ ने संबंधित रेंजर को परीक्षण कर भुगतान करने का निर्देश दिया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक  कटघोरा निवासी ठेकेदार अभय गर्ग ने ढाई साल पहले फरवरी-मार्च-अप्रैल 2019 में उसने केशलपुर में तालाब व जटगा वनपरिक्षेत्र में सोढ़ी नाला पार्ट-2में स्टॉप डेम का निर्माण कराया था जिसका करीब 65 लाख रुपये का भुगतान लंबित है।  ठेकेदार ने इस घटनाक्रम को तब अंजाम दिया जब डीएफओ दफ्तर से निकल कर बाहर आ रही थीं। नजारा देख वे वापस लौटीं और पुलिस को सूचना दी। इस बीच अभय के भाई भाजपा नेता अक्षय गर्ग भी जानकारी मिलते ही यहां पहुंच गए और काफी खरी-खोटी विभाग को सुनाया। कुछ देर बाद अभय को डीएफओ ने चर्चा के लिए बुलाया व सोमवार तक परीक्षण कर भुगतान करा देने का आश्वासन दिया। अभय ने कहा है कि सोमवार तक भुगतान नहीं हुआ तो किसी अज्ञात जगह जाकर आत्महत्या कर लेगा।

डीएफओ शमां फारूखी ने इस मामले में बताया कि ठेकेदार का यह पूरा काम तत्कालीन डीएफओ डीडी सन्त के कार्यकाल का है जिसकी ज्यादा जानकारी उन्हें नहीं है। फिलहाल उन्होंने रेंजर को कहा है कि यदि उक्त ठेकेदार दोनों ही निर्माण कार्य में शामिल रहा है तो तत्काल बीटगार्ड व अन्य अफसरों से प्रमाणन प्राप्त कर डिवीजन ऑफिस में जमा करें। 
 


28-Aug-2021 2:35 PM (69)

 

ढाई साल से 65 लाख का भुगतान रोकने का आरोप

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
कोरबा, 28 अगस्त।
कटघोरा वनमंडल परिसर में शुक्रवार को एक स्थानीय ठेकेदार ने डीएफओ के सामने खुद पर मिट्टीतेल उड़ेल कर आत्मदाह करने की कोशिश की। पीडि़त ठेकेदार के मुताबिक ढाई साल से विभाग ने 65 लाख रुपये का भुगतान रोक रखा है। यह सब होने के बाद डीएफओ ने संबंधित रेंजर को परीक्षण कर भुगतान करने का निर्देश दिया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक  कटघोरा निवासी ठेकेदार अभय गर्ग ने ढाई साल पहले फरवरी-मार्च-अप्रैल 2019 में उसने केशलपुर में तालाब व जटगा वनपरिक्षेत्र में सोढ़ी नाला पार्ट-2में स्टॉप डेम का निर्माण कराया था जिसका करीब 65 लाख रुपये का भुगतान लंबित है।  ठेकेदार ने इस घटनाक्रम को तब अंजाम दिया जब डीएफओ दफ्तर से निकल कर बाहर आ रही थीं। नजारा देख वे वापस लौटीं और पुलिस को सूचना दी। इस बीच अभय के भाई भाजपा नेता अक्षय गर्ग भी जानकारी मिलते ही यहां पहुंच गए और काफी खरी-खोटी विभाग को सुनाया। कुछ देर बाद अभय को डीएफओ ने चर्चा के लिए बुलाया व सोमवार तक परीक्षण कर भुगतान करा देने का आश्वासन दिया। अभय ने कहा है कि सोमवार तक भुगतान नहीं हुआ तो किसी अज्ञात जगह जाकर आत्महत्या कर लेगा।

डीएफओ शमां फारूखी ने इस मामले में बताया कि ठेकेदार का यह पूरा काम तत्कालीन डीएफओ डीडी सन्त के कार्यकाल का है, जिसकी ज्यादा जानकारी उन्हें नहीं है। फिलहाल उन्होंने रेंजर को कहा है कि यदि उक्त ठेकेदार दोनों ही निर्माण कार्य में शामिल रहा है तो तत्काल बीटगार्ड व अन्य अफसरों से प्रमाणन प्राप्त कर डिवीजन ऑफिस में जमा करें।


24-Aug-2021 12:13 PM (70)

संदेहियों से पूछताछ 
'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोरबा, 24 अगस्त
। रक्षाबंधन पर्व मनाने ससुराल गए जज के सूने घर में चोरों ने घुसकर लगभग दो लाख का सामान व नगदी की चोरी कर ली। इस घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस अपराध दर्ज कर चोरों की तलाश में जुटी है।

पुलिस के अनुसार  कटघोरा कोर्ट के जज गुरुवार को अपने ससुराल गए थे, वे रविवार की देर शाम लौटे। इस बीच चोरों ने उनके मकान में खिड़की के रास्ते घुसकर करीब 2 लाख  रुपये के सामान व नगदी की चोरी कर ली। मामले में पुलिस अब केस दर्ज कर जांच-पड़ताल कर रही है। 

कटघोरा कोर्ट में रमेश चौहल जेएमएफसी प्रथम क्लास जज हैं, जो कोरबा स्थित सीएसईबी के ऑफिसर्स कॉलोनी (एबी टाइप) के क्वाटर में निवासरत हैं। वे गुरुवार को पत्नी व बच्चे के साथ अपने ससुराल रायगढ़ गए थे। यहां से रक्षाबंधन मनाने के बाद वे रविवार की देर शाम लौटे। मकान के दरवाजे के सामने की कुंडी लगी हुई थी। मकान के अंदर जाने पर पता चला कि  खिड़की के लोहे का राड टूटा हुआ था और कमरे में रखे तीन अलमारी का दरवाजा भी टूटा था। इसमें से सोने-चांदी के जेवरात व कुछ दस्तावेज समेत कुल 1 लाख 99 हजार 5 सौ रुपए कीमत का समान चोरी हो चुकी थी। 

जज रमेश चौहल ने चोरी की सूचना सीएसईबी चौकी में दी।  पुलिस लाइन से डॉग स्कवॉड को बुलाकर मदद ली, लेकिन सुराग नहीं मिला। कुछ संदेहियों को पकड़कर हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।


14-Aug-2021 4:32 PM (64)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
 कोरबा, 14 अगस्त।
लैंको के जीएम जनसंपर्क व एचआर हेड पर प्लांट में ही कार्यरत एक महिला ने छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने विवेचना में शिकायत सही पाए जाने के बाद उक्त दोनों अधिकारियो के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज किया है।

पीडि़ता वर्ष 2008 से  सहायक नर्स के पद पर काम कर रही थी। उसे भविष्य निधि के लिए पिछले एक वर्षों से कभी आधार कार्ड में जन्मतिथि अलग होना और गलत बताकर तथा किसी न किसी दस्तावेज में कोई न कोई त्रुटि निकालकर नोटिस दिया जाता रहा। पीडि़ता की शिकायत अनुसार दस्तावेजों को अधूरा बताकर एक माह का वेतन तक रोक दिया गया। इस संबंध में विस्तृत जानकारी चाहने के लिए जब भी वह लैंको के स्थानीय कार्यालय गई वहां एचआर मैनेजर रानू नायक के द्वारा अनाप-शनाप शब्दों का उपयोग करने के साथ अश्लील बातों के लिए दबाव बनाया जाता रहा। 

5 अगस्त 2021 को वह भविष्य निधि के लिए नया आधार कार्ड सुधरवाकर बताने के लिए एचआर हेड के कार्यालय पहुंची थी। बाहर बैठे स्टाफ लालता प्रसाद पाण्डेय, हरमोहन सिंह से पीडि़ता ने पूछा कि साहब हैं क्या? आधार कार्ड सुधार कर दिखाने लाई हूं। इनके बताने उपरांत पीडि़ता अंदर गई तो  कार्यालय में एच आर हेड रानू नायक एवं डीके तिवारी जीएम जनसंपर्क  उपस्थित थे।

जब पीडि़ता अंदर पहुंच कर अपने दस्तावेज दिखाने लगी इस दौरान एच् आर हेड रानू नायक ने उसका हाथ पकडक़र कहा कि हमारे साथ शारीरिक सुख दोगी तो तुम भी अच्छा रहोगी, नहीं तो परेशान रहोगी। इन अधिकारियों ने शारीरिक संबंध बनाने के लिए उकसाया। पीडि़ता के मुताबिक यह कहते हुए यह दोनों अधिकारी हंस भी रहे थे-जब तक तुम ध्यान नहीं दोगी तो हम कैसे ध्यान देंगे। पीडि़ता यहां से रोते हुए घर लौट आई और अपने बेटे को पूरी जानकारी दी। 

इसके उपरांत परिवार से सलाह-मशविरा कर उरगा थाना में लिखित शिकायत दर्ज कराई और नौकरी पर जबरन विराम लगाकर, दस्तावेज में त्रुटि दिखाकर शारीरिक संबंध बनाने के लिए प्रताडि़त करने वालों के विरूद्ध कार्यवाही का आग्रह किया। टीआई विजय चेलक ने बताया कि पीडि़ता की रिपोर्ट पर धारा 354, 34 के तहत जनसंपर्क अधिकारी डीके तिवारी एवं एचआर हेड रानू नायक के विरूद्ध अपराध दर्ज किया गया है।
 


14-Aug-2021 4:31 PM (76)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
कोरबा, 14 अगस्त।
जिले के कटघोरा वनमंडल में मौजूद हाथियों के दल में एक नन्हा मेहमान आया है। शुक्रवार की रात को  एतमानगर रेंज के बांधापारा बीट में एक  हाथी ने शावक को जन्म दिया। जानकारी मिलते ही वन विभाग का अमला जंगल पहुंचकर नवजात शावक व उसकी मां की निगरानी में जुटा हुआ है, वहीं शनिवार को कोरबा वन मंडल में एक बीमार  हाथी की मौत हो गई है।

जानकारी के अनुसार एतमानगर रेंज के बांधापारा-रिंगनिया जंगल में 37 हाथियों का दल कुछ दिनों से विचरण कर रहा है। इस दल में एक गर्भवती मादा हाथी भी शामिल थी, जिसने बीती रात शावक को जन्म दिया। मादा हाथी व उसके नवजात शावक को आज सुबह जंगल के कक्ष क्रमांक 515 में देखा गया और इसकी सूचना रेंजर शहादत खान व वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। जिस पर अधिकारियों के निर्देश पर वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी जंगल पहुंचकर शावक व उसको जन्म देने वाले मादा हाथी की निगरानी कर रहे हैं। इससे पहले हाथियों के दल से एक दंतैल अलग होकर बस्ती में घुस गया था और उसने उत्पात मचाते हुए गोविंद वल्द इतवार नामक एक ग्रामीण के घर को ध्वस्त कर दिया। पीडि़त व्यक्ति ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। जिस पर कर्मी मौके पर पहुंचे और दंतैल द्वारा किये गए नुकसानी का सर्वे किया।

केंदई रेंज के फुलसर में गुरुवार को उत्पात मचाकर दो घरों को निशाना बनाने वाले दो दंतैल हाथी बीती रात आगे बढक़र पसान रेंज की सीमा में प्रवेश कर गए और जल्के सर्किल के ग्राम तनेरा व सुखरीताल में जमकर उत्पात मचाया। इस दौरान दंतैल हाथियों ने चार ग्रामीणों के मकान तोड़ दिए। इतना ही नहीं खेतों में पहुंचकर धान की फसलों को भी तहस-नहस कर दिया। 
हाथियों के गांव में घुसने व उत्पात मचाए जाने की जानकारी ग्रामीणों द्वारा रात में दिए जाने पर वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी हाथी मित्रदल के सदस्यों व हुल्ला पार्टी के साथ मौके पर पहुंचे और उत्पात मचा रहे हाथियों को खदेड़ा गया।। 

बीमार हाथी की मौत
कोरबा वन मंडल के पिछले कई महीनों से बीमार हाथी की आखिरकार उपचार के दौरान शनिवार को मौत हो गई। बीमार हाथी का विशेषज्ञों की सलाह के आधार पर उपचार किया जा रहा था।  पिछले दिनों श्यांग रेंज में हाथी  गिर कर घायल हो गया था जिसके बाद उसका उपचार किया जा रहा था । उपचार प्राप्त करने के बाद घायल हाथी फिर से अपने पैरों पर खड़ा हो गया था और क्षेत्र में विचरण कर रहा था। 

शनिवार की सुबह से कोरबा फोन मंडल में उसकी मौत हो गई है हाथी की मौत की सूचना पाते ही वन विभाग केअधिकारी कर्मचारियों की टीम मौके पर पहुंच गई है, जहां वैधानिक कार्यवाही के उपरांत मृत हाथी का अंतिम संस्कार किया जाएगा।
 


03-Aug-2021 7:53 PM (320)

कोरबा, 3 अगस्त। जिले में सोमवार को 24 कोरोना संक्रमित मिले, जिसमें  6 बच्चे एवं 6 बड़ों सहित 12 संक्रमित शहर के मानिकपुर वार्ड  पाए गए। जिला प्रशासन ने इस इलाके को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। जहां आवश्यक सेवाओं को छोडक़र सार्वजनिक आवागमन व समस्त गतिविधियां आगामी आदेश पर्यन्त बन्द रहेगी।

मानिकपुर वार्ड के कदमखार मोहल्ला में कुछ लोगों की तबियत बिगडऩे पर कोरोना टेस्ट कराया गया था। रिपोर्ट आने पर पता चला कि इस मोहल्ले के 12 लोग संक्रमित हैं, इनमें 6 बच्चे भी शमिल हैं। इन बच्चों को कोरोना घर या मोहल्ले से हुआ है। इसके अलावा बालको नगर में कोरोना के 2 संक्रमित, चैतमा में 4, भादा में 3, डंगनिया खार में 1, झगरहा में 1 व पोड़ी उपरोड़ा में एक संक्रमित पाया गया है।


30-Jul-2021 10:42 PM (178)

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोरबा, 30 जुलाई।
कोरबा जिले में एक स्थाई वारंटी को गिरफ्तार किए जाने के बाद उसकी मौत हो गई। मामला करतला थाना क्षेत्र का है। थाना में ही युवक का स्वास्थ बिगड़ा फिर उसे अस्पताल ले जाया गया था।

29 जुलाई गुरुवार की रात को श्यांग थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम ऐलोंग निवासी हंसाराम राठिया 30 साल को धारा 295, 323, 506 के मामले में स्थायी वारंट जारी होने के कारण गिरफ्तार किया गया था। गुरुवार की रात लगभग 11 बजे युवक को थाना करतला मे लाया गया था।वारंटी युवक को शुक्रवार की सुबह न्यायालय में पेश करना था। इससे पहले युवक ने अपनी तबियत खराब लगने की बात पुलिस को बताई। जिसके बाद थाना करतला के पुलिस स्टाफ ने युवक को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र करतला में इलाज के लिए ले गए। जहां युवक को खून की कमी, लो ब्लड प्रेसर एवम पीलिया होने की जानकारी चिकित्सक के द्वारा दी गई। इलाज के दौरान हंसाराम राठिया की मृत्यु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र करतला में हो गई। शव का पंचनामा और पोस्टमार्टम की प्रक्रिया न्यायिक दंडाधिकारी और चिकित्सकों की टीम के द्वारा किया गया।


28-Jul-2021 7:18 PM (72)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
कोरबा, 28 जुलाई।
बांगो थानांतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग 130 में बुधवार को मोरगा और ग्राम केंदई के बीच हुए हादसे में एक मानसिक रोगी की मौत हो गई। अज्ञात भारी वाहन की ठोकर से व्यक्ति की मौत होने की बात कही जा रही है। लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची डायल 112 की टीम ने लाश को बीच सडक़ से हटाकर किनारे लाया और कफन ओढ़ाकर मानवता का परिचय दिया। मृतक की शिनाख्ती का प्रयास किया जा रहा है जिसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।


28-Jul-2021 7:17 PM (61)

 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोरबा, 28 जुलाई। तीन मंजिला इमारत पर चढ़े बैल को एक घण्टे की मशक्कत के बाद नीचे उतारा गया।

हाऊसिंग बोर्ड कॉलोनी रामपुर में रहने वाले लोग उस समय सब चौंक गए, जब उन्होंने एक बैल को तीन मंजिला ऊपर चढ़े देखा। लोगों ने बताया कि बैल मंगलवार की रात में पानी से बचने के लिए नीचे खड़ा था, जाने-अनजाने वह ऊपर चढ़ गया होगा। सुबह उठने पर वह लगातार आवाज कर था, ऊपर जाकर देखा गया तो बैल था। फिर राजीव शुक्ला नामक व्यक्ति ने स्नेक रेस्क्यू टीम प्रमुख जितेंद्र सारथी को इसकी जानकारी दी, जिसके बाद जितेंद्र सारथी और उनकी टीम मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू ऑपरेशन चालू किया। बैल को रस्सी से बांधने के साथ ही रोटी देकर सुरक्षित तरीके से नीचे उतारा गया। जितेंद्र सारथी ने बताया कि कुछ पल तो ऐसा लगा मानों बैल रस्सी तोड़ कर नीचे कूद जाएगा इसलिए आराम से एक घण्टे की मशक्कत के बाद उसे नीचे उतारा गया, तब जाकर सभी ने राहत की सांस ली।


27-Jul-2021 9:19 PM (76)

 

माकपा-किसान सभा ने कहा - हर दूसरे दिन होगा सीएमडी का पुतला दहन

कोरबा, 27 जुलाई। बलगी कोयला खदान की डि-पिल्लरिंग और भू-धसान के कारण  सुराकछार बस्ती के 100 से अधिक किसानों के फसल नुकसान के मुआवजे की फ़ाइल एसडीएम कार्यालय से चलकर एसईसीएल कार्यालय तक पहुंच गई है। एसईसीएल प्रबंधन ने अब माकपा और किसान सभा नेताओं से मुआवजा वितरण के लिए दस और दिनों की मोहलत मांगी है। अब माकपा और किसान सभा ने कल कटघोरा एसडीएम के कार्यालय पर आहुत प्रदर्शन को स्थगित करते हुए मुआवजा वितरण न होने तक हर दूसरे दिन एसईसीएल के सीएमडी का पुतला दहन करने का नया कार्यक्रम घोषित किया है।

उल्लेखनीय है कि डि-पिल्लरिंग और भू-धसान के कारण सुराकछार बस्ती की कृषि भूमि में दरारें इतनी गहरी हो चुकी है कि अब इस जमीन में किसान कोई भी कृषि कार्य नहीं कर पा रहे हैं। इसके एवज में एसईसीएल हर साल किसानों को मुआवजा देता रहा है, लेकिन पिछले चार सालों से उसने इस मुआवजे का भुगतान नहीं किया है। इसका प्रमुख कारण यह सामने आया था कि मुआवजे की फ़ाइल एसडीएम कार्यालय में एक साल से लटकी हुई है और अधिकारी राजस्व मंत्री के निर्देशों का भी पालन करने के लिए तैयार नहीं है। इस स्थिति में प्रभावित किसानों ने माकपा और किसान सभा के नेतृत्व में एसडीएम कार्यालय का घेराव करने की चेतावनी दी थी।

माकपा कोरबा के जिला सचिव प्रशांत झा ने जारी विज्ञप्ति में बताया कि आज एसईसीएल प्रबंधन के निमंत्रण पर प्रभावित किसानों और आंदोलनकारी संगठन के नेताओं की संयुक्त बैठक हुई। बैठक में एसईसीएल की ओर से  कोरबा एरिया के एपीएम एन के पटनायक, सुराकछार सब एरिया मैनेजर परिमल मावावाला व रोहित श्रीवास्तव तथा माकपा जिला सचिव प्रशांत झा, छत्तीसगढ़ किसान सभा के जवाहर सिंह कंवर व दीपक साहू तथा प्रभावित किसानों की ओर से महिपाल सिंह कंवर, गणेश राम चौहान आदि शामिल हुए। पूरे मामले में हुई प्रगति का विवरण देते हुए एसईसीएल प्रबंधन ने मुआवजा वितरण के लिए आवश्यक कार्यवाही करने हेतु दस दिनों का समय मांगा था। माकपा नेताओं ने स्पष्ट किया है कि मुआवजा न मिलने तक उनका विरोध जारी रहेगा और हर दूसरे दिन  एसईसीएल सीएमडी का पुतला दहन किया जाएगा।

माकपा और किसान सभा नेताओं ने बताया कि इस नए घोषित आंदोलन के तहत अब 29 जुलाई को सुराकछार गेट के सामने एसईसीएल सीएमडी का पुतला दहन किया जाएगा।


27-Jul-2021 9:11 PM (69)

   स्वास्थ्य केन्द्र के पुराने भवन को डिस्मेंटल करने प्रस्ताव बनाने दिए निर्देश   

कोरबा,  27 जुलाई। कलेक्टर  रानू साहू ने कोरबा ब्लॉक के तिलकेजा गांव के हायर सेकेण्डरी स्कूल में चल रही मोहल्ला क्लास का औचक निरीक्षण सोमवार को किया। कलेक्टर ने इस दौरान मोहल्ला क्लास में पढ़ रहे बच्चों से मुलाकात की और उनकी पढ़ाई के बारे में जानकारी ली।

 श्रीमती साहू ने मोहल्ला क्लास में पढ़ रहे छात्र-छात्राओं से परिचय प्राप्त किया और उन्हें मन लगाकर पढऩे की सलाह दी। कलेक्टर ने मोहल्ला क्लास में मौजूद शिक्षकों का उत्साहवर्धन करते हुए बेहतर कार्य करने के लिए प्रेरित किया। श्रीमती साहू ने बच्चों को पढ़ाई से जोड़े रखने के लिए निरंतर मोहल्ला क्लास मे बच्चों को पढ़ाने के लिए कहा।

तिलकेजा के हायर सेकेण्डरी स्कूल में निरीक्षण के दौरान कलेक्टर श्रीमती साहू को स्कूल में पानी आपूर्ति की समस्या से अवगत कराया गया। प्राचार्य एमआर श्रीवास ने बताया कि परिसर में पानी टंकी बनाई गई है। परंतु टंकी से पानी सप्लाई करने वाली पाईप लाइन खराब होने के कारण स्कूल भवन में पर्याप्त पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

कलेक्टर श्रीमती साहू ने मौके पर मौजूद लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन अभियंता समीर गौड़ को पाईप लाइन की मरम्मत कराने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्रीमती साहू ने तिलकेजा के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में वार्ड तथा प्रसव कक्ष का निरीक्षण किया और उनमें उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी पदस्थ प्रभारी डॉक्टर से ली। उन्होंने स्वास्थ्य केन्द्र में गर्भवती महिलाओं का संस्थागत प्रसव बढ़ाने के प्रयास करने के निर्देश दिए।

श्रीमती साहू ने डॉक्टरों और अस्पताल में पदस्थ मेडिकल स्टाफ को मरीजों से संवेदनशीलता के साथ मधुर व्यवहार करने और उनका बेहतर ईलाज करने के निर्देश दिए। उन्होंने भण्डार कक्ष में उपलब्ध दवाओं और उनकी मात्रा का भी निरीक्षण किया। अपने प्रवास के दौरान कलेक्टर ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में बेहतर ईलाज की सुविधाओं के लिये अधोसंरचना, ईलाज के लिये जरूरी उपकरण एवं दवाईयॉं, डॉक्टरों तथा मेडिकल स्टाफ के लिये आवास व्यवस्था सहित मरीजों के लिये की गई व्यवस्थाओं की जानकारी ली। कलेक्टर ने पीएचसी के पुराने जर्जर भवन को ग्राम पंचायत से प्रस्ताव पारित कराकर डिस्मेंटल करने की कार्रवाई शुरू करने के निर्देश पंचायत सचिव तथा लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को दिए। उन्होंने पुराने भवन के डिस्मेंटल होने के बाद नए भवन तक जाने के लिए पहुंच मार्ग बनाने और सुरक्षा की दृष्टि से बाउंड्री वॉल बनाने का भी प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए।

उन्होंने जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों, मितानिनों, पटवारियों सहित राजस्व अमले को भी अधिक से अधिक लोगों को कोरोना का टीका लगवाने के लिए प्रोत्साहित करने और स्वास्थ्य केन्द्रों तक लाने में मदद करने के निर्देश दिए। इस दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कुंदन कुमार, सीएमएचओ डॉ. बीबी बोडे, उप संचालक कृषि अनिल शुक्ला, सहायक संचालक उद्यानिकी दिनकर सहित सभी विभागों के अधिकारी भी मौजूद रहे।


27-Jul-2021 9:10 PM (57)

कोरबा, 27 जुलाई। कलेक्टर रानू साहू ने सोमवार को कोरबा विकासखण्ड के कुरूडीह गांव में निर्माणाधीन सौर उर्जा चलित सामुदायिक सिंचाई योजना का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने  योजना के तहत अब तक हुए काम पर संतुष्टि जताते हुए आगामी एक महीने के भीतर इसे पूरा करने के निर्देश क्रेडा विभाग के कार्यपालन अभियंता एनके. राय को दिए।

 कलेक्टर ने मौके पर ही इस सामुदायिक सिंचाई योजना से संबंधित पूरी जानकारी क्रेडा विभाग के अधिकारियों से ली। इस योजना के पूरे हो जाने से कुरूडीह सहित आसपास के गांवो के लगभग 80 सब्जी उत्पादक और खेती करने वाले किसानों को फसलों के लिए सिंचाई का भरपूर पानी मिलेगा। इस योजना के तहत डोमनाला के किनारे सौर उर्जा से चलने वाले 10-10 हॉर्सपावर के चार पंप स्थापित किए जाएंगे। पंप स्थापना के लिए मजबूत आधार संरचना और सौर पैनलों को लगाने का काम तेजी से किया जा रहा है। 40 हॉर्स पावर के इन पंपो से डोमनाला से पानी खींचकर कुल चार किलोमीटर की पाईपलाइन से लगभग 40 हेक्टेयर (85 एकड़ से अधिक) रकबे में लगी सब्जियों और फसलों में सिंचाई की सुविधा विकसित की जाएगी।

सरईडीह गौठान के कामों से कलेक्टर खुश

ग्राम पंचायत पाहंदा के आश्रित ग्राम सरईडीह की सरहद पर बने गौठान पहुंचकर कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने गौठान में हुए कामों का भी निरीक्षण किया। उन्होंने गौठान में बने कोटना, पशु शेड, मुर्गीपालन शेड, चरवाहा कक्ष आदि का निरीक्षण किया और उनकी गुणवत्ता पर संतुष्टि जाहिर की। कलेक्टर इस गौठान में मछली पालन और बतख पालन के रोजगार मूलक काम से काफी प्रभावित हुईं। उन्होंने इस काम में लगे स्वसहायता समूह की महिलाओं से भी बातचीत की और उनकी सराहना की। कलेक्टर ने गौठान परिसर में बने तालाब और अन्य संरचनाओं को अच्छी गुणवत्ता से बनाने पर रोजगार सहायक तथा तकनीकी सहायक की भी प्रशंसा की। उन्होंने रोजगार सहायक से गौठान निर्माण से जुड़ी सभी जानकारियां लीं और सरईडीह गौठान की तरह ही जिले के अन्य गौठानों में भी मछली पालन के लिए डबरी-तालाब निर्माण की संभावनाएं तलाशने के निर्देश अधिकारियों को दिए।


27-Jul-2021 9:10 PM (53)

कोरबा, 27 जुलाई। कोरबा शहर के इंडस्ट्रीयल एरिया से लगी लगभग 32 हेक्टेयर निजी भूमि पर मुख्यमंत्री वृक्षारोपण योजना के तहत फलदार और इमारती पेड़ लगाए जाएंगे। इस जमीन के भू-स्वामी किसानों ने आज कलेक्टर श्रीमती रानू साहू की उपस्थिति में वृक्षारोपण के लिए सहमति जताई है। कलेक्टर श्रीमती साहू ने सोमवार को कोरबा विकासखण्ड के विभिन्न स्थानों का सघन दौरा किया और किसानों तथा हितग्राहियों से मुलाकात की। श्रीमती साहू ने खरमोरा में कदम पेड़ के नीचे चौपाल लगाई और आसपास के किसानों से शासकीय योजनाओं की जमीनी हकीकत की जानकारी ली। इस दौरान ही किसानों ने इंडस्ट्रीयल एरिया से लगी अपनी जमीनों पर वृक्षारोपण के लिए सहमति दी। किसानों ने कलेक्टर से इस जमीन से होकर बहने वाले नाले को बांधने या पक्का करने की भी मांग की। कलेक्टर श्रीमती साहू ने इस पर निरीक्षण कराकर उचित कार्रवाई का आश्वासन किसानों को दिया। इस दौरान जिला पंचायत के सीईओ कुंदन कुमार, एसडीएम सुनील नायक, सीएमएचओ डॉ. बीबी बोडे, उप संचालक कृषि अनिल शुक्ला, सहायक संचालक उद्यानिकी श्री दिनकर, तहसीलदार मनहरण राठिया, जनपद पंचायत के सीईओ जीके मिश्रा सहित सभी विभागों के अधिकारी भी मौजूद रहे।


Previous123456789Next