छत्तीसगढ़ » कोरबा

Previous1234567Next
Date : 08-Apr-2020

हाथियों ने रौंदी धान की फसल

कोरबा, 8 अप्रैल। वनमंडल कोरबा के कुदमुरा रेंज में दो हाथियों की मौजूदगी ने ग्रामीणों की परेशानी बढ़ा दी है। रेंज में मौजूद हाथियों ने बीती रात उत्पात मचाते हुए तीन कृषकों के धान की फसल को रौंद दिया। इसकी जानकारी कृषकों को बुधवार की  सुबह तब लगी जब वे अपने खेत पहुंचे तो वहां लहलहाती फसल के स्थान पर उसे रौंदा हुआ पाया। कृषकों ने इसकी सूचना कुदमुरा पहुंचकर वन विभाग को दी। जिस पर वन अमले ने मौके पर पहुंचकर नुकसान का सर्वे किया।


Date : 08-Apr-2020

महुआ बीनकर लौट रहे ग्रामीण पर भालू ने किया हमला 

कोरबा, 8 अप्रैल। जिले के जटगा वन परिक्षेत्र के ग्राम झुनकीडीह में महुआ बीनकर वापस लौट रहे युवक पर एक भालू ने हमला कर दिया। भालू के हमले से युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। युवक को सीएचसी कटघोरा में दाखिल कराया गया है। कटघोरा वनमंडल के जटगा वन परिक्षेत्र अंतर्गत ग्राम झुनकीडी के पिढ़ादेव में विक्रम सिंह (35) सुबह महुआ बीनने गया था। वह महुआ बीनकर वापस लौट रहा था, इसी बीच एक मादा भालू से उसका सामना हो गया। भालू के साथ उसके बच्चे भी थे। भालू ने पलक झपकते ही युवक पर हमला कर दिया। युवक ने किसी तरह भालू से अपनी जान बचाई। भालू के हमले से युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना की सूचना मिलते ही वन परिक्षेत्र अधिकारी मोहर सिंह मरकाम और डिप्टी रेंजर वनरक्षक मंगल सिंह नायक मौके पर पहुंचे। युवक को मौके पर विभाग की ओर से 500 रुपये प्रदान किया गया। 
 


Date : 08-Apr-2020

दीपका खदान में वाहन पलटा, पांच घायल

कोरबा, 8 अप्रैल। दीपका खदान में वाहन पलटाने से पांच कर्मी घायल हो गए। खदान के अंदर उत्खनित कार्य से जुड़़े सावेल, डंपर, डोजर समेत अन्य भारी वाहन के आवश्यक मेंटेनेंस हेतु प्रबंधन ने सर्विसमैन वाहन लगाई हुई है। इसमें कर्मचारी बैठकर खदान में उतर कर हैवी मशीन के समीप जाते हैं और मेंटेनेंस कर वापस आते हैं। बताया जा रहा है कि सर्विसमैन वैन क्रमांक सीजी 12 एस 1326 का चालक धनसिंह, फोरमैन सतीश तिवारी, फिटर रामलाल, देवेश पाठक व विशाल को लेकर खदान के अंदर गया था। काम निपटाने के बाद  मंगलवार की शाम पांच बजे वापस लौट रहे थे, तभी खदान के अंदर 10 क्यूबिक मीटर क्षमता वाली सावेल क्रमांक 139 के पास चालक धनसिंह से वैन अनियंत्रित होकर पलट गई। इससे वाहन में सवार पांचों कर्मियों को मामूली चोट आई। अन्य सहकर्मियों को जानकारी होने पर आनन-फानन में सभी को दूसरे वाहन से नेहरू शताब्दी चिकित्सालय गेवरा पहुंचाया गया। सभी कर्मियों की स्थिति सामान्य बताई जा रही है। 


Date : 08-Apr-2020

जामा मस्जिद से जुड़े 15 परिवार के 94 लोग होम क्वारंटीन

छत्तीसगढ  संवाददाता 
कोरबा, 8 अप्रैल। 
कटघोरा के जामा मस्जिद में चैतमा के रहने वाले 15 परिवार के 94 लोगों को होम क्वारंटाइन किया गया है। सभी के स्वास्थ्य पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की टीम की नजर है। इसके पहले ढेलवाडीह व बगदेवा के 83 कर्मचारियों को भी होम क्वारंटाइन किया जा चुका है।

कटघोरा पुरानी बस्ती स्थित मस्जिद में तबलीगी जमात के 16 लोगों में एक किशोर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव होने की खबर के बाद से प्रशासन इस क्षेत्र में सक्रिय है। मस्जिद से जुड़े हर लोगों की जानकारी एकत्र की जा रही है। बताया जा रहा है कि 19 मार्च को कटघोरा मस्जिद से जुड़े सात लोग चैतमा मस्जिद पहुंचे थे। यहां नमाज भी अदा किया गया था।

 इसमें कुछ गांव के समुदाय से जुड़े लोग शामिल हुए थे। उनके भी संपर्क में गांव में ही रहने वाले कई ग्रामीण आए। इस लिहाज से प्रशासन ने सोमवार को संपर्क में आने वाले 15 परिवार के 94 लोगों को 28 दिन के लिए होम क्वारंटाइन में रखा है। इनमें मुस्लिम सहित दूसरे समाज के परिवार भी शामिल हैं। यहां बताना आवश्यक होगा कि पुरानी बस्ती स्थित मस्जिद में समुदाय के पांच लोगों की पहचान सबसे पहले हुई थी, जो नियमित नमाज में शामिल होते थे। ये सभी ढेलवाडीह व बगदेवा कोयला खदान के कर्मचारी थे। इस लिहाज से 83 एसईसीएल कर्मियों को होमक्वारंटाइन किया गया है। इनमें भी अन्य समुदाय के लोग शामिल हैं।

एसपी समेत अफसरों ने किया पैदल मार्च
मंगलवार को पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा की अगुवाई में पुलिस की टीम ने पैदल मार्च किया। इस दौरान लोगों को घरों में ही रहने की हिदायत दी गई। लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर सख्ती बरती जाएगी। फ्लैग मार्च के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक उदय किरण, डीएसपी रामगोपाल करियारे, सीएसपी दर्री केएल सिन्हा, एसडीओपी पंकट पटेल, नगर निरीक्षक रघुनंदन शर्मा, दर्री टीआइ सुमित सोनवानी, तहसीलदार रोहित सिंह, सीएमओ जेबी सिंह समेत काफी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा।


Date : 08-Apr-2020

पत्नी की हत्या, गिरफ्तार

कोरबा, 8 अप्रैल। बाल्को थाना क्षेत्र में एक पति ने अपनी पत्नी की हत्या कर दी थी और पुलिस के चंगुल से बचने के लिए उसने अपनी पत्नी की मौत बीमारी से होना बताया था। जब पीएम रिपोर्ट सामने आया तो पुलिस को ज्ञात हुआ कि यह सामान्य मौत नहीं बल्कि हत्या की गई है। जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो हत्यारा कोई और नहीं बल्कि पति ही हत्यारा निकला। जिसने पुलिस से बचने के लिए अपनी पत्नी की मौत बीमारी जो होना बताया था। पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर कड़ाई से पूछताछ शुरू कर दी है। 


Date : 08-Apr-2020

पानी की तलाश में गांव पहुंचा वन भैंसा

छत्तीसगढ संवाददाता 
कोरबा, 8 अप्रैल।
पानी की तलाश में एक वन भैंसा भटककर गांव आ गया। जब गांव के लोग सुबह होने पर महुआ बीनने घर से बाहर निकले तो वन भैंसा को बैठा देखकर भागते हुए वापस घर लौटकर इसकी जानकारी अन्य ग्रामीणों को दी। गांव में वन भैंसा आ जाने की खबर फैलते हुए वहां लोगों को हुजूम उमड़ पड़ा। 

विकासखंड पाली के अंतर्गत ग्राम पंचायत कपोट के आश्रित मोहल्ला सोनारडीह में वन भैंसा घुसने से ग्रामीणों में हड़कंप मच गया। ग्रामीणों के शोर मचाने पर वन भैंसा मोहल्ला को छोड़कर जंगल की ओर भाग खड़ा हुआ। गौरतलब है कि धीरे-धीरे गर्मी बढ़ रही है, जिससे नदी नाला सूखने लगे हैं। यही वजह है कि जंगली जानवर पानी की तलाश में रिहायशी क्षेत्र में पहुंच रहे हैं। 

कपोट नवापारा के सूरज आयाम ने बताया कि वन भैंसा तड़के चार बजे बनबांधा सागौन जंगल की ओर से नवापारा पहुंचा था। उसके बाद वह सोनारडीह पहुंच गया, जहां एक ग्रामीण के बाड़ी में फंस गया था। गांव के शिवचरण यादव ने बताया सुबह करीब सात बजे जब लोगों ने शोर मचाया तो वन भैंसा करीब छह-सात फीट दीवार को लांघकर भाग गया। कुछ दिन पहले सोनारडीह का इंद्रपाल यादव जंगल में बकरी चराने गया था, तब उसने खेड़ीचुवा जंगल में छह-सात वन भैंसा के झुंड को विचरण करते देखा था। ग्रामीणों के अनुसार आज तक वन विभाग का अमला यहां पहुंचकर ग्रामीणों को सतर्क नहीं किया है। हालांकि वन विभाग के बीट गार्ड ने गांव में मुनादी कराने की बात कही है।

 


Date : 07-Apr-2020

जान जोखिम में डालकर काम कर रहे स्टॉफ को विशेष भत्ता की मांग

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 7 अप्रैल।
कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव व राष्ट्रीय आपदा के समय में काम करने वाले एसईसीएल के सभी चिकित्सकों, कर्मचारियों एवं ठेका मजदूरों को विशेष भत्ता प्रदान किए जाने की मांग की गई है।

इसे लेकर संयुक्त कोयला मजदूर संघ (एटक) के महामंत्री हरिद्वार सिंह ने एसईसीएल सह प्रबंध निदेशक को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने उल्लेख किया है कि महामारी की गंभीरता को देखते हुए भारत सरकार द्वारा पूरे देश में 25 मार्च से लॉकडाउन किया गया है, जहां इस दौरान लोग अपने घरों में हैं. देश के बड़े बड़े प्रतिष्ठान बंद हैं।

इस महामारी के समय में भी एसईसीएल में उत्पादन कार्य पूर्व की भांति लगातार जारी है। इस विषम परिस्थिति में भी एसईसीएल के चिकित्सक, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, सुरक्षा विभाग कर्मचारी सफाई कर्मचार एवं ठेका मजदूर  अपनी जान जोखिम में डालकर काम कर रहे हैं, ताकि उत्पादन पर कोई असर न हो और देश में बिजली संकट पैदा न हो। इन कर्मचारियों के लिए एसईसीएल को विशेष भत्ता का प्रावधान करना चाहिए।
 


Date : 07-Apr-2020

क्वारंटाइन में रखे कर्मियों के वेतन पर निर्णय नहीं, एटक एवं एचएमएस ने एसईसीएल चेयरमैन को लिखा पत्र

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 7 अप्रैल।
कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए एसईसीएल प्रबंधन द्वारा कर्मचारियों को होम क्वारंटाइन किया जा रहा है, लेकिन होम क्वारंटाइन के अवधि की वेतन को लेकर कर्मचारियों में संशय है।  इसे लेकर प्रबंधन की ओर से कोई अधिकृत आदेश नहीं जारी किया गया है। जिसे लेकर एटक एवं एचएमएस ने एसईसीएल चेयरमैन को पत्र लिखकर क्वारेंटाइन अवधि के पूर्ण वेतन की मांग की है।

इस संबंध में संयुक्त कोयला मजदूर संघ (एटक) के महामंत्री हरिद्वार सिंह एवं कोयला मजदूर सभा (एचएमएस) के जनरल सेक्रेटरी  नाथूलाल पांडेय ने एसईसीएल बिलासपुर चेयरमैन को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने मांग की है कि कोविड 19 कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए क्वारेंटाइन में रखे गए कर्मचारियों को क्वारंटाइन अवधि का वेतन पूर्ण रूप से भुगतान किया जाए। भारत सरकार के निर्देश पर संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए विदेश, अन्य राज्य या स्टेशन से बाहर की यात्रा कर आए कर्मचारी व उनके परिजनों को क्वारंटाइन में रखा गया है। संघ की मांग है कि क्वारंटाइन में रखे गए समस्त कर्मचारियों के वेतन में कोई कटौती नहीं की जाए। इस संबंध में आदेश जारी कर कर्मचारियों को लाभ दिलाया जाए।

एनसीएल में आ चुका है आदेश
कोल इंडिया की अनुषंगी कंपनी नार्दल कोल फिल्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के द्वारा क्वारेंटाइन में रखे गए समस्त कर्मचारियों को इस अवधि का वेतन संबंधी आदेश जारी किया गया है, लेकिन एसईसीएल सहित अन्य अनुषंगी कंपनियों में इसे लेकर कोई आदेश जारी नहीं किया गया है।
 


Date : 07-Apr-2020

एसईसीएल भूमिगत खदान के 83 कर्मी होम क्वारंटाइन में कटघोरा के जमातियों के साथ जामा मस्जिद में पढ़ी थी नमाज

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 7 अप्रैल।
कटघोरा में कोरोना पॉजिटिव नाबालिग के साथ जमातियों ने स्थानीय जामा मस्जिद में नमाज पढ़ी थी। जहां एसईसीएल ढेलवाडीह एवं बगदेवा के कुछ कर्मचारी भी शामिल हुुए थे। इस जानकारी के सामने आते ही प्रशासन ने उन कर्मचारियों व उनसे जुड़े लोगों को होम क्वारंटाइन करने का निर्देश दिया था।

इस निर्देश पर अमल करते हुए एसईसीएल प्रबंधन ने नमाज पढऩे व उनके साथ काम करने वाले ढेलवाडीह के 37 एवं बगदेवा के 46 कर्मचारियों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटाइन का आदेश जारी कर दिया है।

एसईसीएल के कर्यालयीन आदेश के अनुसार जामा मस्जिद कटघोरा में रह रहे एक सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। जांच के दौरान ढेलवाडीह एवं बगदेवा भूमिगत खदान में  कार्यरत कुछ कर्मचारियों के द्वारा यह जानकारी दी गई कि वे नियमित रूप से जामा मस्जिद कटघोरा में नमाज पढ़ते हैं। उनके द्वारा यह भी जानकारी दी गई कि विगत दिनों तक उनके द्वारा जामा मस्जिद कटघोरा में नमाज पढ़ा गया है।  

बताया जा रहा है कि समाज के नमाज पढऩे वाले खदान कर्मियों ने इसके बाद ड्यूटी की थी। उनके साथ काम करने वाले सभी कर्मचारियों को होम क्वारंटाइन करते हुए प्रबंधन ने ऐहतियात बरती है। कंपनी की ओर से जारी आदेश को महाप्रबंधक उप क्षेत्रीय प्रबंधक ढेलवाडीह सिंघाली बगदेवा उपक्षेत्र द्वारा जारी किया गया है। बगदेवा एवं ढेलवाडीह के 83 कर्मचारियों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटाइन का आदेश दिया गया है। ढेलवाडीह भूमिगत खदान में लगभग 700 के करीब कर्मचारी हैं।
 


Date : 07-Apr-2020

कोरोना से ठीक होकर लौटे युवक का थाली बजाकर स्वागत

छत्तीसगढ़ संवाददाता  
कोरबा, 7 अप्रैल ।
रामसागरपारा में रहने वाले व्यवसायी का पुत्र कोरोना संक्रमण से निजात पाने के बाद सकुशल वापस घर लौटा तो परिजनों और मोहल्ले के लोगों ने थाली और ताली बजा कर उसका स्वागत किया।

सोमवार को शहर वासियों के लिए राहत भरी खबर आई थी। दरअसल लंदन से लौटा युवक कोरोना संक्रमित मिला था। वह एम्स में छह दिनों तक चले इलाज के बाद स्वस्थ हो गया है, उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, जहां से वह घर कोरबा पहुंच चुका है।

ज्ञात हो कि कोतवाली अंतर्गत रामसागरपारा में एक व्यवसायी निवास करते हैं। उनका पुत्र लंदन में पढ़ाई कर रहा था। वह 18 मार्च को लंदन से कोरबा लौटा था। उसे होम आइसोलेशन में रखकर सैम्पल जांच के लिए भेजा गया था। उसकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग की मदद से एम्स रवाना कर दिया था। युवक का उपचार एम्स में चल रहा था। जहां डाक्टरों की अथक परिश्रम के कारण युवक के स्वास्थ्य में छह दिनों तक चले इलाज के बाद सुधार आ गया। उसकी जांच रिपोर्ट निगेटिव पाए जाने पर एम्स से छुट्टी दे दी गई है। गौरतलब है कि मामला सामने आने के बाद पुलिस ने ऐहतियात बरतते हुए संबंधित क्षेत्र को तीन किमी की परिधि में सील कर दिया है, वहीं जानकारी छिपाने के मामले में पिता पुत्र के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध है।
 


Date : 07-Apr-2020

कलेक्टर के पिता ने की कोरोना प्रभावितों की मदद हेल्प आन द व्हील्स वाहन को बुलाया बंगला और भेजी राशन किट

छत्तीसगढ़ संवाददाता  
कोरबा, 7 अप्रैल।
कोरोना प्रभावितों की मदद के लिए शुरू की गई हेल्प आन द व्हील्स वाहन का पहला उपयोग स्वयं कलेक्टर के परिजनों ने किया। मंगलवार को कलेक्टर के पिता एस.पीे कौशल ने फोन कर वाहन को अपने घर बुलाया और अपने सभी परिजनों की उपस्थिति में कोरोना प्रभावितों के लिए राशन के 25 किट भेजे। इस दौरान कलेक्टर श्रीमती कौशल भी मौजूद रहीं। इन किट्स में पांच किलो चावल, आधा किलो दाल, हल्दी, मिर्ची एवं धनिया के छोटे मसाला पैकेट, एक किलो आलू और हाथ धोने का एक साबुन शामिल था। कलेक्टर के सभी परिजनों ने आमजनों से भी इसी तरह कोरोना प्रभावितों के लिए आगे आकर सहायता करने की अपील की है।

उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्रीमती कौशल की पहल पर कोरबा जिले में हेल्प आन द व्हील्स सुविधा शुरू हो गई है। जिसके तहत कोरोना प्रभावित सभी जरूरतमंदों की सहायता करने के इच्छुक लोगों के घरों तक एक फोन करने पर हेल्प आन द व्हील्स गाड़ी तत्काल पहुंचेगी। दान दाता अपनी सहायता सामाग्री इस गाड़ी के प्रभारी को सौंप सकेगा। हेल्प आन द व्हील्स के माध्यम से मिली सहायता सामाग्री, राशन आदि को कोरोना प्रभावित जरूरतमंद लोगों तक प्रशासन द्वारा पहुंचा दिया जाएगा।

हेल्प आन द व्हील्स के लिए यहां करे फ़ोन
हेल्प आन द व्हील्स को अपने घर बुलाने के लिए अपर कलेक्टर संजय अग्रवाल से दूरभाष क्रमांक 9425257057, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस जयवर्धन के मोबाईल नंबर 8297948681, नगर निगम आयुक्त राहूल देव से दूरभाष क्रमांक 9560932435, अपर आयुक्त अशोक शर्मा से मोबाइल नंबर 9425224112 और प्रभारी अधिकारी पी.आर.मिश्रा से दूरभाष क्रमांक 9827875999 पर संपर्क किया जा सकता है। लोग कोरोना से संबंधित जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष में भी दूरभाष क्रमांक 07759-228548 पर फोन कर हेल्प आन द व्हील्स के लिए सूचना दे सकते हैं।

सभी का मिल रहा सहयोग- कलेक्टर
कलेक्टर किरण कौशल ने इस बारे में बताया कि कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए किये गये लॅाकडाउन से प्रभावित लोगों की मदद करने के लिए जिला प्रशासन को कई स्वयंसेवी संस्थाओं, सामाजिक संगठनों, औद्योगिक घरानों के साथ-साथ अन्य जिला वासियों से भी लगातार सहयोग मिल रहा है। उन्होंने पांच किलो चावल, आधा किलो दाल, हल्दी, मिर्ची एवं धनिया के छोटे मसाला पैकेट, एक किलो आलू और हाथ धोने के लिए एक साबुन इस राशन किट में रखने की अपील की है।
 


Date : 07-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 7 अप्रैल। पुत्र ने जीआई तार से पिता की हत्या कर शव को फंदे पर लटका दिया। हत्या को आत्महत्या की शक्ल देने की कोशिश नाकाम हो गई। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

पसान थाना के सेन्हा गांव के 25 वर्षीय विश्वनाथ चौधरी ने घरेलू विवाद के कारण अपने पिता बुद्धु राम (55) की जीआई तार से गला घोंटकर हत्या कर दी। वारदात को आत्महत्या का शक्ल देने के लिए विश्वनाथ ने पिता की लाश को फांसी के फंदे पर लटका दिया था। जिसकी सूचना उसने ग्राम पंचायत के सरपंच सहदेव सिंह उइके के माध्यम से पसान थाना में दी थी। जिसमें उसने पिता को आदतन शराबी होने और बुधवार को लड़ाई-झगड़ा करने के बाद भागकर अपनी मां के साथ सरपंच के घर में रात ठहरने और अगली सुबह लौटने पर घर में लकड़ी के म्यार में बिजली तार से फांसी के फंदे पर पिता की लाश देखना बताया। लेकिन पीएम रिपोर्ट में डॉक्टर ने बुद्धु राम की मौत गले में जीआई तार से गला घोटने पर दम घुटने से होना लेख किया। जिस पर आरोपी विश्वनाथ चौधरी को गिरफ्तार कर लिया है।


Date : 06-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता

 कोरबा, 6 अप्रैल। कोरबा। कटघोरा के जामा मस्जिद में ठहरे 16 जमातियों के खिलाफ कटघोरा पुलिस ने जानकारी छुपाने का मामला दर्ज किया है। सभी महाराष्ट्र के कामठी के रहने वाले हंै। दो मार्च को 12 व 28 मार्च को 4 जमातिए कटघोरा पहुंचे थे। प्रशासन को 23 मार्च को इसकी जानकारी लगी। जमातियों में शामिल एक 16 साल के किशोर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव है , उसका उपचार एम्स रायपुर में चल रहा है।

कटघोरा बीएमओ रुद्र पाल सिंह कंवर की शिकायत पर पुलिस ने जमातियों के प्रमुख मोहमद अनवर कमाल सभी के खिलाफ धारा 188, 269, 270, 34 महामारी अधिनियम 1897 (3) पंजीबद्ध किया है। सभी पर आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग को भ्रामक जानकारी दी और समुदाय को एकत्रित कर नमाज कराया । केवल एक जमाती 6 मार्च को निजामुद्दीन स्थित तबलीगी मरकज में शामिल होने के बाद कटघोरा वापस लौटा था। हालांकि उसकी रिपोर्ट निगेटिव है।


Date : 06-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 6 अप्रैल। कुसमुंडा में निवासरत एक परिवार की 24 वर्षीय नवविवाहिता ने घर के पड़ोस की बाड़ी में पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। शार्ट पीएम रिपोर्ट में आत्महत्या की जानकारी दी गई है।

पुलिस को मृतका के पति व परिजनों ने बताया कि नवविवाहिता पर उसके चचेरे देवर की बुरी नजर थी। जो अक्सर छेड़छाड़ करता था। नवविवाहिता ने उन्हें इसकी जानकारी दी थी। जिसके बाद देवर को समझाया भी गया था। लेकिन इसके बाद भी उसने छेड़छाड़ करना नहीं छोड़ा था। परिजनों ने इसी कारण नवविवाहिता के आत्महत्या करने की आशंका जाहिर की है। पुलिस मामले में आरोपी देवर के खिलाफ आत्महत्या के लिए उत्प्रेरित करने का जुर्म दर्ज कर लिया है।


Date : 06-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 6 अप्रैल। कोयला सचिव अनिल कुमार जैन ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए  एसईसीएल सहित कोल इंडिया के दूसरी सहायक कंपनियों के अधिकारियों के साथ बीते वित्तीय वर्ष में कोयला उत्पादन कार्य की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कोल सचिव ने सभी अधिकारियों को वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19)से निपटने की तैयारियों का जायजा लिया। इसके साथ इसमें सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं।

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए कोल इंडिया और उसकी सहायक कंपनियों ने कोयला खदानों और आसपास के क्षेत्रों में 3.34 लाख से अधिक मास्क बांटे हैं। एसईसीएल में ही अब तक करीब 65 हजार मास्क बांटे गए हैं।कोल इंडिया के लिए 702 मिलियन टन के नए लक्ष्य के लिए भी अभी से जुट जाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया है। कोल कंपनियों के रिव्यू मीटिंग में कोयला कंपनियों के सीएमडी व निदेशक स्तर के अधिकारी उपस्थित रहे। उन्होंने एसईसीएल, एमसीएल सहित अन्य कंपनियों को लक्ष्य अनुसार कोयला उत्पादन करने के लिए कहा। इस दौरान उन्होंने लक्ष्य से पीछे रहने वाली कंपनियों को नतीजों को लेकर जानकारी ली और आगे स्थिति में बेहतर सुधार के लिए प्रयास के लिए कहा है।

कोल इंडिया को बीते वित्तीय वर्ष 2019-2020 में 660 मिलियन टन कोयला उत्पादन की चुनौती थी, लेकिन कंपनी 602 मिलियन टन ही कोयला उत्पादन कर पाई। लेकिन बीते वर्ष कोल इंडिया ने जीतना उत्पादन किया। उससे 100 मिलियन टन अतिरिक्त 702 मिलियन टन कोयला उत्पादन करने के लिए कहा है।

कोल इंडिया की सबसे ज्यादा कोयला उत्पादन करने वाली कंपनी एसईसीएल को भी 170 मिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य मिला था। चुनौतियों के बीच एसईसीएल ने 150.55 मिलियन टन कोयला उत्पादन किया है। कंपनी को अब 183 मिलियन टन का नया लक्ष्य मिला है। इसके लिए पुराने खदानों के विस्तार और कुछ नए खदानों से उत्पादन शुरू करना होगा।


Date : 06-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा,  6 अप्रैल। 
जिला जेल कोरबा व उप जेल कटघोरा से कुल 38 बंदियों को अंतरिम जमानत पर रिहा किया गया है। सभी सात साल की सजा वाले प्रावधान के आपराधिक मामलों के विचाराधीन बंदी हैं। 30 अप्रैल तक ही रिहाई आदेश दिया गया है, उसके बाद वापस सभी को कोर्ट में पेश होना होगा। रिहा किए गए बंदियों में तीन महिला बंदी भी शामिल हैं।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कोरबा के अध्यक्ष एवं जिला एवं सत्र न्यायाधीश राकेश बिहारी घोरे के मार्गदर्शन में सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कोरबा की ओर से चिन्हांकित कर स्वयं के मुचलके पर बंदियों को रिहा करने का आवेदन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कोरबा के माध्यम से जिला एवं तहसील स्तर के न्यायालयों में दी गई थी। इसके साथ ही जिला जेल कोरबा व उप जेल कटघोरा से बंदियों की सूची मंगाई गई थी। गहन अध्ययन के बाद क्राइटेरिया में आने वाले जिला जेल के 18 बंदियों को रिहा किया गया है। इसमें कटघोरा उप जेल के तीन महिला बंदी भी शामिल हैं। तालुका विधिक सेवा समिति कटघोरा ने 15, करतला से एक एवं पाली से चार बंदियों को रिहा किया है। इस तरह कुल 38 बंदियों की रविवार को रिहाई आदेश जारी किया गया। 


सभी को घर तक पहुंचाया 
जिला न्यायाधीश घोरे ने कहा था कि लॉकडाउन से बंदियों को उनके निवास गृह तक पहुंचने में किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, इसे दृष्टिगत रखते हुए जिला जेल कोरबा एवं उप जेल कटघोरा समेत पुलिस एवं जिला प्रशासन के सहयोग से सभी को उनके निवास स्थान पर सुरक्षित पहुंचाया गया। इसके पहले जिला जेल में धारा 151 में निरुद्ध तीन बंदियों को प्रशासनिक पहल से रिहा किया जा चुका है।
 


Date : 05-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 5 अप्रैल। कटघोरा के जामा मस्जिद में रूके एक तबलीगी जमाती किशोर की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद प्रशासन ने  कोरबा जिले में तबलीगी जमात की सभी नौ मस्जिदों से जुड़े लोगों की जानकारी जुटानी शुरू कर दी है। वहीं कटघोरा के समस्त किराना दुकान, डेयरी व सब्जी दुकानदारों ने अपनी सहमति से रविवार को  अपनी  दुुकानों को बंद रखा  है।

कटघोरा के जामा मस्जिद में रूके एक जमाती  की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उसे रायपुर के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में दाखिल करा दिया गया है। मस्जिद में  साथ रूके अन्य 15  जमातियों को   मस्जिद में ही क्वारंटीन कर दिया गया है। इसके बाद प्रशासन ने तबलीगी जमात की पूरी हिस्ट्री खंगालना शुरू कर दिया है।

जानकारी के अनुसार जिले में इस जमात की  नौ मस्जिदे हैं। इससे इस जमात की सक्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है। नौ में तीन मस्जिद कटघोरा नगर के पूछापारा, पुरानी बस्ती और अम्बिकापुर रोड पर स्थित है। इसके अलावा कोरबा शहर के राताखार, धनुवारपारा, एसईसीएल क्षेत्र सहित जैलगांव, दीपका और पसान में जमात की मस्जिदें स्थित हैं। राताखार मस्जिद के इमाम तबलीगी जमात के मुख्य कर्ताधर्ता बताए गए हैं। जमात की गतिविधियां कटघोरा नगर में कहीं ज्यादा है। बताया गया है कि जिले में 6 से 8 हजार की संख्या में लोग तबलीगी जमात से ताल्लुक रखते हैं। इसमें युवा वर्ग बड़ी संख्या में है। प्रशासन अब इनसे जुड़े सभी लोगों पर नजर रखे हुए है।

ज्ञात हो कि तबलीगी जमात से जुड़े एक किशोर की कोरोना पाजिटिव रिपोर्ट मिलते ही प्रशासन द्वारा तत्काल कार्रवाई करते हुए पुरानी बस्ती स्थित मस्जिद की ओर जाने वाली सभी छह मुख्य सडक़ों को सील कर दिया गया है। बस्ती के अंदर की नौ गलियों को भी लॉक किया गया है। सभी सडक़ों पर बेरिकेटिंग लगाकर आमजनों को उन सडक़ों से आवागमन की मनाही की जा रही है। सभी प्रवेश सडक़ों पर पुलिस के जवानों का कड़ा पहरा लगा दिया गया है।  संक्रमित किशोर  की ट्रेवल हिस्ट्री के साथ-साथ उसके संपर्क में आने वाले लोगों के बारे में आसपास रहने वाले लोगों से पूछताछ की जा रही है। मस्जिद के एक किलोमीटर परिधि का क्षेत्र अतिसंवेदनशील जोन घोषित कर दिया गया है। कोरोना नियंत्रण के लिए निर्धारित प्रोटोकाल और दिशा निर्देशों के अनुसार इस क्षेत्र के लगभग दो सौ घरों में स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंचना शुरू हो गई है।

 कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद  कटघोरा के व्यापारियों में  हडक़ंप मचा हुआ है। रविवार को कटघोरा की सभी  दुकानें  बंद रखी गई है।  सोमवार  को भी  दुकानों के खुलने व बन्द करने के समय परिवर्तन का भी निर्णय लिया जिसमें अब दुकान 10 से दोपहर 1 बजे तक ही किराना दुकानों, डेयरी, एवं सब्जी दुकानों को खोला जाएगा।


Date : 05-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 5 अप्रैल। होम आइसोलेट करने के बाद भी बाहर घूम रहे  विदेश से आए 2 लोगों पर जुर्म दर्ज किया गया है। ज्ञात हो कि कोरोना मामले में जिले में चार लोगों पर अब तक अपराध पंजीबद्ध किए जा चुके हैं। इनमें पहला अपराध रामसागर पारा के युवक पर दर्ज हुआ जो लंदन से लौटने के बाद जानकारी छिपाकर लोगों के बीच घूमता रहा और बाद में उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके पश्चात उसके पिता के विरुद्ध भी अपराध दर्ज किया गया जिसके द्वारा पुत्र के संबंध में जानकारियां छिपाई जाती रही।

होम आइसोलेट किए गए टीपी नगर के लालूराम कॉलोनी निवासी वरुण लांबा जो इंडोनेशिया भ्रमण के बाद 8 मार्च को कोरबा लौटा है तथा सीएसईबी कॉलोनी कोरबा पूर्व निवासी किशोर महंत जो जॉर्जिया की यात्रा कर 17 मार्च को कोरबा लौटा है, इन्हें भी होम आइसोलेट कर बाहर नहीं निकलने के लिए कहा गया था। इसके बावजूद इनके द्वारा घर पर न रहकर बाहर घूमने की शिकायत प्राप्त हुई थी।

कोतवाली थाना प्रभारी निरीक्षक दुर्गेश शर्मा ने बताया कि इन दोनों के बारे में घर से बाहर घूमने की शिकायत मिल रही थी जिसकी तस्दीक की गई जो सही मिली। उच्च अधिकारियों के मार्गदर्शन में इन दोनों के विरुद्ध कोतवाली थाना में अलग-अलग अपराध धारा 188, 269, 270, 271 के तहत दर्ज कर विवेचना में लिया गया है।

टीआई ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के संबंध में जारी निर्देशों की अवहेलना करने वालों के विरुद्ध जिला पुलिस सख्ती से कार्यवाही करेगी इसलिए घर पर आइसलेट किए गए लोग किसी भी सूरत में बाहर ना निकलें।

ज्ञात हो कि कोरबा जिले में जहां 2000 से अधिक लोगों को होम आइसोलेट कर और कोरेनटाइन सेंटर में रखा गया है वहीं कोरोना वायरस के दो मामले सामने आने के बाद जिला प्रशासन द्वारा पूरी एहतियात बरती जा रही है।

ऐसे में होम आइसोलेट किए गए लोगों पर भी पुलिस निगरानी रख रही है। होम आइसोलेट किए लोगों से घर पर ही रहने की अपील की जा रही है और अनावश्यक घर से बाहर ना निकलने के लिए भी कहा जा रहा है।


Date : 04-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 4 अप्रैल।
वेदांता समूह द्वारा पहले ही कटिबद्धता प्रकट करते हुए 100 करोड़ रुपए की एक निधि की घोषणा की गई है जिसके माध्यम से तीन क्षेत्रों - पूरे देश में दिहाड़ी कामगारों की आजीविका, स्वास्थ्य रक्षा तथा देश भर के अपने विभिन्न संयंत्रों में कर्मचारियों और अनुबंध के अंतर्गत कार्यरत सहभागियों को कोरोना वाइरस से उत्पन्न परिस्थितियों से जूझने की दिशा में मदद करना है। वेदांता समूह ने देश के 10 लाख दिहाड़ी कामगारों तक भोजन पहुंचाने का उठाया बीड़ा है। अगले एक महीने तक प्रतिदिन 50 हजार से अधिक घुमंतु पालतू पशुओं के लिए चारा उपलब्ध कराया जाएगा।

देश में ही व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों के निर्माण की दिशा में वेदांता समूह ने वस्त्र मंत्रालय के साथ अनुबंध किया है। इसके लिए चीन से 23 मशीनों का आयात किया जाएगा। जिला अस्पतालों के साथ किए गए समझौते के अंतर्गत सोशल डिस्टेंसिंग के लिए परिसरों में मार्किंग की जाएगी। अस्पतालों को दवाइयां, स्वास्थ्य उपकरण और निष्किटित करने वाले स्प्रे उपलब्ध कराए जाएंगे। रायपुर स्थित बालको मेडिकल सेंटर में आइसोलेशन वार्ड स्थापित किया गया है। कोरबा में 100 बिस्तरों वाला अस्पताल संचालित है। राजस्थान के जोधपुर में वेदांता समूह ने अपने बड़े केयर्न सेंटर ऑफ एक्सीलेंस को प्रशासन को सौंप दिया है ताकि उसे क्वारेंटाइन सेंटर में बदला जा सके। देश भर के ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले लगभग एक हफ्ते के दौरान एक लाख से अधिक मास्क, 15500 से अधिक साबुन तथा सैनिटाइजर्स वितरित किए गए हैं। कोरोना के प्रति सावधानी और उससे बचाव के लिए देश भर के 263 गांवों में सैनिटाइजेशन और जागरूकता अभियान संचालित किए गए हैं।

कोविड-19 महामारी से कर्मचारियों के बचाव के लिए अपोलो अस्पताल की मदद से 24 घंटे हफ्ते के सातों दिन स्वास्थ्य रक्षा हेल्पलाइन संचालित है। अपने सभी प्रचालन क्षेत्रों में वेदांता समूह ने अपने कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए संबंधित जिला प्रशासनों के मार्गदर्शन में रक्षात्मक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई हैं। अपने प्रचालन क्षेत्रों में स्थानीय नागरिकों की तत्कालिक मदद के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष के माध्यम से वेदांता समूह के कर्मचारी अपने एक दिन के वेतन का योगदान देंगे।

वेदांता समूह के चेयरमैन  अनिल अग्रवाल ने कहा है कि '' यह सुनिश्चित करना हमारी जिम्मेदारी है भूख से किसी की जिंदगी खतरे में न आ जाए। शासन से मेरी यह अपील है कि वह पलायन करने वाले मजदूरों को कम से कम 8000 रुपए प्रतिमाह की मदद अगले तीन महीने तक करे। शासन ने आवश्यक उत्पादों के आवागमन को मंजूरी दी है। यह भी महत्वपूर्ण है कि ट्रक ड्राइवरों के लिए ढाबा और खाने के दूसरे स्टॉल हाइवे पर खुले रहें। इस दिशा में पहल के लिए हम किसी भी प्रकार के सहयोग के लिए तैयार हैं।’’ श्री अग्रवाल यह जोड़ते हैं कि '' छोटे एवं मझोले उपक्रमों के साथ ही महत्वपूर्ण उद्योग जो देश की अर्थव्यवस्था को सतत बनाए रखने में योगदान करते हैं, वे 25 फीसदी कार्यबल के साथ प्रचालन में रहें। यह इसलिए क्योंकि वे आवश्यक सेवाएं उपलब्ध कराते हैं तथा सतत प्रक्रिया श्रेणी के अंतर्गत प्रचालित किए जाते हैं एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन के सुझाए सुरक्षा एवं हाइजीन के मानदंडों का पालन करते हैं।’’
 


Date : 04-Apr-2020

 कोरबा, 4 अप्रैल। कोरोना वायरस के संक्रमण के मौजूदा हालातों में राज्य शासन ने सभी राशन कार्ड धारकों को अप्रैल एवं मई माह का राशन एक साथ इसी माह उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। शासन के निर्देश अनुसार ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में दो माह की राशन की वितरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस दौरान होम क्वारेंटाईन में रहने वाले लोगों को शासन द्वारा उनके घरों तक राशन पहुंचाकर देने की व्यवस्था की जा रही है। होम क्वारेंटाईन में रहने वाले लोगों को उनके राशन कार्ड के हिसाब से निर्धारित मात्रा में राशन कोटवार, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, ग्राम पंचायत सचिव अथवा वालिंटियर्स के माध्यम से पहुंचाया जायेगा। किसी भी परिस्थिति में होम क्वारेंटाईन में रखे गये लोगों को घर से बाहर निकलने नहीं दिया जायेगा। इस संबंध में राज्य शासन के गाईड लाईन मिलने के बाद कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने सभी राशन दुकानों से संबद्ध राशन कार्डो के आधार पर परीक्षण कर होम क्वारेंटाईन में रखे गये लोगों की सूची तैयार करने के निर्देश अधिकारियों को दिये हैं। 
 


Previous1234567Next