छत्तीसगढ़ » रायगढ़

24-Nov-2020 7:23 PM 22

खरसिया, 24 नवंबर। खरसिया ब्लॉक के ग्राम पंचायतों मे मितानिनों का सम्मान किया गया। मितानिनों को फूलों का गुलदस्ता भेंट देकर सम्मानित किया गया।  ग्राम पंचायत पतरापाली, सरवानी, बरगढ़, छोटे देवगांव, बोतल्दा, लोधिया, ढिमानी में मितानिनों को फूल गुलदस्ता देकर सम्मानित कर मितानिनों का हौसला अफजाई की गई।


24-Nov-2020 7:22 PM 19

खरसिया, 24 नवंबर। खरसिया में 22 नवंबर गौशाला समिति द्वारा गोपाष्टमी उत्सव मनाया गया। इस अवसर पर गौ माता की पूजा की गई। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी खरसिया गौशाला समिति द्वारा गोपाष्टमी का उत्सव मनाया गया। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सुनील शर्मा के मुख्य आतिथ्य में यह आयोजन संपन्न हुआ। कोरोनाकाल होते हुए भी इस वर्ष शासन के नियम अनुसार कोविड-19 का ध्यान रखते हुए  राधा सुनील शर्मा अध्यक्ष नगर पालिका परिषद के प्रतिनिधि वरिष्ठ कांग्रेसी सुनील शर्मा  के मुख्य आतिथ्य एवं पार्षद गण ज्योति सिदार, दीनदयाल अग्रवाल,पार्षद प्रतिनिधि रमेश अग्रवाल, सुनील विश्वकर्मा, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता गोवर्धन सिंह ठाकुर, छेदी शर्मा तथा शहर के गणमान्य नागरिकों की उपस्थिति में संपन्न हुआ। इस अवसर पर गौ माता की पूजा की गई और अतिथियों ने अपने हाथों से गौ माताओं को दाना खिलाया गया।


24-Nov-2020 7:04 PM 18

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

खरसिया, 24 नवंबर। सिविल अस्पताल के मुख्य गेट से लगे हुए चाय ठेला संचालक प्रदुम नाम के युवक पर 23 नवंबर को चौकी पुलिस ने 151 की कार्यवाही की है। प्रदुम आये दिन आते जाते गाली गलौज एवम मारने की धमकी प्रार्थी को देता था,इस पर खरसिया चौकी पुलिस ने 151 की कार्यवाही की। सिविल अस्पताल के मुख्य गेट से चाय ठेला लगा हुआ है एवम शाम होते ही ठेला के पीछे अंधेरा होते ही शराबी और असामाजिक तत्वों का जमावड़ा यहां शुरू हो जाता है।जिसकी शिकायत प्रार्थी के द्वारा की गई थी जिसके कारण प्रदुम उसके साथ आए दिन गाली गलौज करता था।


24-Nov-2020 6:17 PM 62

 फर्जी जीएसटी इनपुट क्रे डिट रैकेट में हुई कार्रवाई

बाबा ट्रांसपोर्ट का मालिक पहले से रहा है विवादों में

नरेश शर्मा

रायगढ़, 24 नवंबर(‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता)। रायगढ़ के कोतरा रोड़ बाईपास में स्थित बाबा ट्रांसपोर्ट के संचालक राकेश शर्मा व उसका सहयोगी नरेश इसरानी को छत्तीसगढ़ में कोयले के ऊपर लिये जाने वाले फर्जी जीएसटी इनपुट क्रेडिट रैकेट के खिलाफ चल रही जांच में इंटेलिजेंस की टीम ने गिरफ्तार किया है। अधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बड़ी कार्रवाई में 230 करोड़ के फर्जी बिल के जरिए 38 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी की गई थी। 

मिली जानकारी के अनुसार जीएसटी इंटेलिजेंस की टीम ने शुक्रवार को रायगढ़ पहुंचकर कोयला कारोबारी के घर व कोतरा रोड़ स्थित बाबा ट्रांसपोर्ट ऑफिस में छापामार कार्रवाई करते हुए राकेश शर्मा को और उसके बाद राकेश के सलाहकार नरेश इसरानी को अलग-अलग धाराओं के तहत गिरफ्तार किया है। दोनों को गिरफ्तार करके शनिवार की देर शाम रायपुर ले जाया गया है।  बताया जाता है कि आरोपियों ने फर्जी कंपनी खोलकर 38 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी की है।

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार, राजस्व विभाग, सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेस द्वारा देशभर में चल रहे फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट के रैकेट पर नकेल कसने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। यहां यह बताना लाजमी होगा कि बाबा ट्रांसपोर्ट के राकेश शर्मा कुछ दिन पहले ही सरगुजा जिले के बसंतपुर में इनकंम टैक्स चोरी के तहत गिरफ्तार किये गए थे।  उसके बाद जैसे ही वे रिहा हुए थे, उन्हें सेट्रल इंटेलिजेंस की टीम ने रायगढ़ पहुंचते हुए पूछताछ के बाद जीएसटी चोरी मामले में गिरफ्तार कर लिया।

जीएसटी इंटेलिजेंस की जोनल इकाई छत्तीसगढ़ ने जांच में पाया है कि कोयला कारोबारी राकेश शर्मा और उनके सलाहकार नरेश इसरानी पर आरोप है कि दोनों ने कई फर्जी कंपनियां बनाकर कोयला कारोबार करते हुए 230 करोड़ रुपए का फर्जी बिल जारी कर 38 करोड़ की जीएसटी चोरी की है। इस पर दोनों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। राकेश की ही तीन फर्म मेसर्स श्री मंगलम, मेसर्स श्री सांई मंगलम एवं मेसर्स श्री मंगल को महज कागजों पर कोयला बेचा जाना दिखाया गया है। उक्त फर्जी बिलों के आधार पर राकेश की कथित फर्मो द्वारा गलत तरीके से लगभग 38 करोड़ रुपए इनपुट टैक्स क्रेडिट लिया गया है एवं उसको आगे पारित भी किया गया। इस प्रकार बनाई गई फर्जी फर्मों की श्रृंखला के माध्यम से इस घोटाले को अंजाम दिया गया। फिलहाल दोनों को रायपुर ले जाकर पूछताछ की जा रही है और इनकी गिरफ्तारी के बाद अन्य कोयला कारोबारियों में भी हडक़ंप मचा हुआ है।

 जानकार सूत्रों की मानें तो बाबा ट्रांसपोर्ट के राकेश शर्मा लगातार कोयला चोरी, परिवहन में इनकम टैक्स चोरी के साथ-साथ जीएसटी चोरी में संलिप्त रहे हैं और इनकी शिकायत पहले भी सेंट्रल एक्ससाईज व इनकम टैक्स विभाग में हो चुकी थी, लेकिन चालाकियों के चलते उनकी पकड़ से बाहर थे।


24-Nov-2020 4:42 PM 20

रायगढ़, 24 नवंबर।  कल देर शाम छापामार कार्रवाई करते हुए खरसिया पुलिस ने चार जुआरियों को गिरफ्तार करके उनके पास से 1 लाख 6 हजार रुपए नगद व ताशपत्ती जब्त की है। 

पुलिस अधीक्षक रायगढ़  संतोष कुमार सिंह के दिशा निर्देशन पर सहायक पुलिस अधीक्षक एवं थाना प्रभारी खरसिया पुष्कर शर्मा की टीम ने कल ग्राम उल्दा में मुखबीर सूचना पर मंदिर परिसर के सामने जुआ रेड के लिए घेराबंदी की गई थी। इस दौरान कुछ जुआरी पुलिस को देखकर जंगल झाड़ी की ओर भाग गये मौके पर सूरज यादव जाँजगीर चाँपा , रथराम राठिया उल्दा थाना खरसिया, अंकित अग्रवाल जाँजगीर चाँपा , गोपाल अग्रवाल जांजगीर-चांपा को पुलिस टीम द्वारा 52 पत्ते ताश के साथ पकड़ा गया। आरोपियों के जुआ फड से 1 लाख 06 हजार नगद ताश की पत्ती एवं एक दरी जब्त की गई है। 
 


24-Nov-2020 4:39 PM 16

25 नवंबर की जनसुनवाई को रद्द करने की उठी मांग 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ, 24 नवंबर।
रायगढ़ जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक बार फिर से कलेक्टर ने 20 दिसंबर तक धारा 144 लगाने के कल शाम आदेश जारी किये हैं और इस आदेश के बाद रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक कफ्र्यू भी लागू रहेगा।

 जिला कलेक्टर भीम सिंह के अनुसार  रायगढ़ जिले में इस बीमारी के फैलने या संक्रमण होने की संभावना है।  जिले के सीमाओं से लगे हुये अन्य जिलों में यह बीमारी संक्रामक है। रायगढ़ जिला खनन क्षेत्र तथा औद्योगिक क्षेत्र होने के साथ-साथ जिले की सीमा अन्य प्रदेशों से जुड़े होने के कारण जिले में लगातार आवागमन एवं परिवहन होता है। 

तत्संबंध में राज्य शासन एवं जिला स्तर से उक्त संक्रमण के रोकथाम, नियंत्रण तथा निर्मित विकट स्थिति से निपटने के संबंध में दिशा-निर्देश एवं एडवायजरी जारी किये गये है। वहीं धारा 144 के आदेश जारी होनें के बाद जिले के पर्यावरण प्रेमियों ने 25 नवंबर को होने वाली औद्योगिक जनसुनवाई को भी रद्द करने का आग्रह किया है चंूकि अगर पूरे जिले में धारा 144 लगाई गई है तो ऐसे में 25 नवंबर को तराईमाल में होने वाली जनसुनवाई में होनें वाली भारी भीड़ के ऊपर भी यह आदेश लागू होना चाहिए। जबकि इस मामले में कोई भी प्रशासनिक आदेश जारी नहीं हुआ है। 

जिले के जनचेतना मंच के संयोजक एवं पर्यावरण प्रेमी राजेश त्रिपाठी तथा सविता रथ ने कलेक्टर द्वारा जारी आदेश के मामले में कहा है कि यदि जिले में कल से धारा 144 लागू कर दी गई है तो औद्योगिक जनसुनवाई जो आने वाले 25 नवंबर को तराईमाल में हो रही है उस पर भी रोक लगाई जानी चाहिए चूंकि जन सुनवाई में भारी भीड़ इक_ी होगी और यहां भी खतरनाक कोविड़ कोरोना नाम की बीमारी फैलने की आशंका है ऐसे में धारा 144 लागू हो जाने के बाद जनसुनवाई पर भी इस आदेश का पालन होना चाहिए। 
 


24-Nov-2020 8:51 AM 65

सांरगढ़, 23 नवंबर। सारंगढ़ में वरिष्ठ पत्रकार से दुव्र्यवहार के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस मामले को लेकर सारंगढ़ के पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल ने रायगढ़ प्रेस क्लब के अध्यक्ष से भेंट की। साथ ही सारंगढ़ एसडीओपी के द्वारा किए गये दुव्र्यवहार एवं गाली गलौच के मामले में कार्रवाई की मांग की।

ज्ञात हो कि एसडीओपी जितेंद्र खुंटे पर पत्रकार भरत अग्रवाल ने अपने कार्यालय में बुलाकर गाली-गलौज करने का आरोप लगाया था।
रायगढ़ प्रेस क्लब की ओर से कहा गया कि इस मामले को लेकर मंगलवार को पुलिस अधीक्षक रायगढ़ से भेंट करेंगे और एसडीओपी के विरुद्ध कार्रवाई की मांग करेंगे। सारंगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार भरत अग्रवाल के साथ नूतन थवाईत, रंजीत ठाकुर, रामकिशोर दुबे, ओंकार केशरवानी, राजेश यादव, संजय चौहान, गोविंद बरेठा, प्रवीण थामस, मिलाप बरेठा, हेमंत जायसवाल एवं कुलदीप आहूजा ने रविवार को रायगढ़ आकर रायगढ़ प्रेस क्लब के पदाधिकारियों से भेंट की।

इस दौरान प्रेस क्लब अध्यक्ष हेमंत थवाईत, सचिव नवीन शर्मा, उपाध्यक्ष राजेश जैन, उपाध्यक्ष अविनाश पाठक, प्रवक्ता पुनीराम रजक एवं कार्यकारिणी सदस्य सुशील पाण्डेय के समक्ष सारंगढ़ से आए पत्रकारों के प्रतिनिधिमंडल ने पूरे मामले की जानकारी दी। इस गंभीरता से लेते हुये रायगढ़ प्रेस क्लब अध्यक्ष हेमंत थवाईत ने मामले की पूरी जानकारी एसपी को देने की बात कही। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर रायगढ़ प्रेस क्लब का प्रतिनिधि मंडल मंगलवार को पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह से भेंट करेगा। साथ ही इस मामले को लेकर सारंगढ़ एसडीओपी के विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई की मांग की जाएगी।
 


23-Nov-2020 11:13 PM 30

  फर्जी जीएसटी इनपुट क्रेडिट रैकेट में हुई कार्रवाई   

बाबा ट्रांसपोर्ट का मालिक पहले से रहा है विवादों में

नरेश शर्मा की रिपोर्ट

रायगढ़, 23 नवंबर (‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता)। रायगढ़ के कोतरा रोड़ बाईपास में स्थित बाबा ट्रांसपोर्ट के संचालक राकेश शर्मा व उसका सहयोगी नरेश इसरानी को छत्तीसगढ़ में कोयले के ऊपर लिये जाने वाले फर्जी जीएसटी इनपुट क्रेडिट रैकेट के खिलाफ चल रही जांच में इंटेलिजेंस की टीम ने गिरफ्तार किया है। अधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बड़ी कार्रवाई में 230 करोड़ के फर्जी बिल के जरिए 38 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी की गई थी।  

मिली जानकारी के अनुसार जीएसटी इंटेलिजेंस की टीम ने शुक्रवार को रायगढ़ पहुंचकर कोयला कारोबारी के घर व कोतरा रोड़ स्थित बाबा ट्रांसपोर्ट ऑफिस में छापामार कार्रवाई करते हुए राकेश शर्मा को और उसके बाद राकेश के सलाहकार नरेश इसरानी को अलग-अलग धाराओं के तहत गिरफ्तार किया है। दोनों को गिरफ्तार करके शनिवार की देर शाम रायपुर ले जाया गया है।  बताया जाता है कि आरोपियों ने फर्जी कंपनी खोलकर 38 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी की है। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार, राजस्व विभाग, सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेस द्वारा देशभर में चल रहे फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट के रैकेट पर नकेल कसने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। यहां यह बताना लाजमी होगा कि बाबा ट्रांसपोर्ट के राकेश शर्मा कुछ दिन पहले ही सरगुजा जिले के बसंतपुर में इनकंम टैक्स चोरी के तहत गिरफ्तार किये गए थे।  उसके बाद जैसे ही वे रिहा हुए थे उन्हें सेट्रल इंटेलिजेंस की टीम ने रायगढ़ पहुंचते हुए पूछताछ के बाद जीएसटी चोरी मामले में गिरफ्तार कर लिया। 

जीएसटी इंटेलिजेंस की जोनल इकाई छत्तीसगढ़ ने जांच में पाया है कि कोयला कारोबारी राकेश शर्मा और उनके सलाहकार नरेश इसरानी पर आरोप है कि दोनों ने कई फर्जी कंपनियां बनाकर कोयला कारोबार करते हुए 230 करोड़ रुपए का फर्जी बिल जारी कर 38 करोड़ की जीएसटी चोरी की है। इस पर दोनों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। राकेश की ही तीन फर्म मेसर्स श्री मंगलम, मेसर्स श्री सांई मंगलम एवं मेसर्स श्री मंगल को महज कागजों पर कोयला बेचा जाना दिखाया गया है। उक्त फर्जी बिलों के आधार पर राकेश की कथित फर्मो द्वारा गलत तरीके से लगभग 38 करोड़ रुपए इनपुट टैक्स क्रेडिट लिया गया है एवं उसको आगे पारित भी किया गया। इस प्रकार बनाई गई फर्जी फर्मो की श्रृंखला के माध्यम से इस घोटाले को अंजाम दिया गया। फिलहाल दोनों को रायपुर ले जाकर पूछताछ की जा रही है और इनकी गिरफ्तारी के बाद अन्य कोयला कारोबारियों में भी हडक़ंप मचा हुआ है। जानकार सूत्रों की मानें तो बाबा ट्रांसपोर्ट के राकेश शर्मा लगातार कोयला चोरी, परिवहन में इनकम टैक्स चोरी के साथ-साथ जीएसटी चोरी में संलिप्त रहे हैं और इनकी शिकायत पहले भी सेंट्रल एक्ससाईज व इनकम टैक्स विभाग में हो चुकी थी, लेकिन चालाकियों के चलते उनकी पकड़ से बाहर थे। 


23-Nov-2020 6:03 PM 20

 ‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता   
सारंगढ़, 23 नवंबर।
सारंगढ़ विधायक उत्तरी जांगड़े ने सर्वसुविधा युक्त एंबुलेंस को हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया। 

ज्ञात  हो कि सारंगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लंबे वर्षों से आसपास के अंचल के मरीजों को हो रही वाहन सुविधा की परेशानियों को देखते हुए सारंगढ़ विधायक उत्तरी गणपत जांगड़े (उपाध्यक्ष अनु जाति विकास प्राधिकरण छत्तीसगढ़ शासन) ने मंत्री गण एवं जिला कलेक्टर को खनिज न्यास मद से सर्व सुविधा युक्त एंबुलेंस देने की अनुशंसा की थी। इसके पूर्व भी विधायक ने एंबुलेंस के लिए अथक प्रयास किया था, अंतत: जिले के कलेक्टर भीम सिंह जी ने सारंगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को लगभग 26 लाख की राशि का सर्व सुविधा युक्त एंबुलेंस प्रदाय किया। जिसका शुभारंभ लोकप्रिय विधायक उत्तरी गणपत जांगड़े ने हरी झंडी दिखाकर अस्पताल परिसर में शुभारंभ किया। 

उक्त अवसर पर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरुण मालाकार ने मुख्यमंत्री स्वास्थ्य मंत्री जिले के प्रभारी मंत्री तथा उमेश पटेल जिला कलेक्टर सारंगढ़ विधायक को आभार जताया। 
गौरतलब हो कि कुछ दिन पहले शासन की तरफ से सारंगढ़ को एक और एंबुलेंस प्राप्त हुआ था अब सारंगढ़ में दो नए एंबुलेंस वाहन मरीजों की सुविधा के लिए निरंतर कार्यरत रहेंगे। उक्त अवसर पर बीएमओ डॉ दृतलहरें ने विधायक व अतिथियों का अभिवादन किया और उनकी अगुवाई में जिला कांग्रेस के महामंत्री संजय दुबे महाराज जी ने पूजा अर्चना की। विधायक ने श्रीफल छोडक़र एंबुलेंस वाहन को हरी झंडी दिखाते हुए शुभारंभ किया। उपस्थित वरिष्ठ जन ने दीप प्रज्वलित किया। 

उक्त अवसर पर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरुण मालाकार वरिष्ठ कांग्रेसी सूरज तिवारी, संजय दुबे, कांग्रेस अध्यक्षगण पुरुषोत्तम साहू, विष्णु चंद्रा, पवन अग्रवाल , गनपत जांगड़े जनपद उपाध्यक्ष, मंजू आनंद महिला प्रदेश संयोजक सेवादल, गोल्डी नायक जिला प्रवक्ता, रविंद्र नंदे, प्रमोद मिश्रा सोसायटी अध्यक्ष, राकेश पटेल, सरिता गोपाल महिला कांग्रेस अध्यक्ष, महेंद्र गुप्ता युवा कांग्रेस अध्यक्ष, बबलू वहीदार एल्डरमैन राजकमल अग्रवाल, कमल यादव, राकेश जाटवर, रामसिंह ठाकुर, भोला अग्रवाल, सोशल मीडिया से सत्यम बाजपेई, मिलन दास महंत, केशव महिलाने, राकेश रात्रे, कोमल इज़ारदार,चिंता पटेल, लाल बहादुर चंद्रा, रमेश पटेल, हेमंत चंद्रा, अरुन निषाद राजेश आनंद जी पूर्व पार्षद के साथ अस्पताल प्रबंधन से डॉ  धृतलहरें बीएमओ, डॉ साय, बीपीएम  केशव जयसवाल,मुकेश यादव, देवांगन, अनुज कठोतिया,  स्टाफ नर्स,  विष्णु मेहर ( चालक) आदि शामिल रहे।*     
 

 


23-Nov-2020 6:00 PM 25

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर।
मकान खरीदी के नाम पर धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। शिकायतकर्ता के शिकायत पत्र की जांच उपरांत 21 नवंबर को आरोपी के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर लिया गया है। 

शिकायत जांच दौरान शिकायतकर्ता बुटूराम महंत जुटमिल झोपड़ी पारा रायगढ़ बताया कि करीब दो वर्ष पहले अपने परिचित रतन बंगाली से अपना झोपड़ी पारा जूटमिल रायगढ़ स्थित मकान को बिक्री करने की बात किया था।  रतन बंगाली जमीन दलाल जितेन्द्र गुप्ता प्रगति नगर सुपेला भिलाई के बारे में बताया और संम्पर्क कर लो बोला और बताया कि जितेन्द्र गुप्ता शिवम लॉज रायगढ़ में रूका है। तब बुटूराम महंत उससे जाकर संम्पर्क किया तो जितेन्द्र गुप्ता व उसका साथी रवि द्विवेदी दुर्ग के साथ उसके मकान को देखने जूटमिल आए और 16 लाख में उसके मकान को किशन अग्रवाल के पास बिक्री करवाए। 

बुटूराम महंत, जितेन्द्र गुप्ता को बताया था कि वह झोपड़ीपारा का मकान बिक्री के बाद दूसरा मकान लेगा जिस पर जितेन्द्र गुप्ता, बुटूराम महंत को बोला कि उसे पन्द्रह दिन के अंदर मकान दिलवा देगा और कई जगह मकान दिखाया पर किसी भी मकान मालिक से नहीं मिलवाया। मई 2019 में जितेन्द्र गुप्ता लोचन नगर का एक मकान दिखवाया मकान खाली था। जिसे 7 लाख 50 हजार रुपए में दिलवा दूंगा कहकर जितेन्द्र, बुदूराम से 7 लाख रुपए नगद ले लिया और शेष रकम रजिस्ट्री कराते समय देना बोला और पैसा लेने के संबंध में जितेन्द्र गुप्ता 50 रुपए के स्टांप पेपर में इकरारनामा भी लिख कर दिया था, लेकिन रुपए लेने के बाद से जितेन्द्र गुप्ता वापस रायगढ़ नहीं आया एवं अपना फोन भी बंद कर दिया। 

बुटूराम उसका घर जाकर पता करने का प्रयास किया पर उससे मिल नहीं पाया। चक्रधरनगर पुलिस आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्ध कर जांच में जुट गई है।

 


23-Nov-2020 5:55 PM 25

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर।
कलेक्टर भीम सिंह ने रविवार की सुबह नटवर स्कूल में संचालित कोरोना सैंपल कलेक्शन सेंटर का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान वहां सैंपल कलेक्शन के लिए तैनात स्वास्थ्य विभाग के लैब टेकनिशियन्स अनुपस्थित मिले। कलेक्टर भीम सिंह ने इस पर नाराजगी जताते हुए तत्काल मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को संबंधित कर्मचारियों पर कार्यवाही करते हुए उनका एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए। 

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए हम ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग कर रहें हैं। राज्य शासन से भी इस दिशा में हमें टेस्टिंग टारगेट मिलता है। जिसे पूरा करना हमारी जिम्मेदारी है। ऐसे में सैंपलिंग कार्य के लिए संलग्न कर्मचारियों का समय से कलेक्शन सेंटर में उपस्थित रहना अत्यंत आवश्यक है। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एसएन केसरी ने बताया कि कलेक्टर भीम सिंह के निर्देश पर अनुपस्थित लैब टेकनिशियन्स लीलाधर लक्ष्मे व देवनंदन राठिया का एक दिन का वेतन काटा जाएगा। 
 


23-Nov-2020 5:52 PM 22

आचार्य गौशाला बैसपाली में गोपाष्टमी मनी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर।
रविवार को गोपाष्टमी पर्व आचार्य गौशाला बैसपाली में बड़े धूमधाम से मनाया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष निराकार पटेल एवं सरपंच ग्राम पंचायत नंदेली अनुसुईया सुदर्शन पटेल, लक्ष्मी नारायण पटेल, कृष्णाचंद्र पटेल, सचिव फूलचंद पटेल, शत्रुघन पटेल, सचिव सरडामाल राजेन्द्र पटेल, सचिव कुलबा, लोकेश्वर नायक एवं तिरिथराम डनसेना, रविराम साहू, तेजराम डनसेना, उदल, घनश्याम, रामनारायण, दुर्गा, दिनेश, डोलू, फनीष, घुरूवा, हेतराम, छगनलाल, मकर, लेखराम, घुरूवा सिदार उपस्थित थे। आचार्य गौशाला के अध्यक्ष ब्रजेश तिवारी ने गौमाता के सेवा के बारे में विस्तृत जानकारी दिया। मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष निराकार पटेल ने इस अवसर पर कहा कि गोमाता की सेवा पुण्य का काम है, हमे यथा संभव गोसेवा अवश्य करना चाहिए। इसी क्रम में ग्राम पंचायत नंदेली के सरपंच प्रतिनिधि सुदर्शन पटेल ने आयोजन में पधारे सभी गो सेवकों को धन्यवाद दिया। कार्यक्रम के अंत में गौमाता को भोजन खिलाकर उपस्थित जनमानस को भोजन प्रसाद वितरण किया गया। जिसमें दानदाता बढ़ चढ़ हिस्सा लिये और कार्यक्रम भव्य रूप में सफल रहा। ग्राम बैसपाली एवं ग्रामपंचायत नंदेली के सहयोग से उक्त कार्यक्रम सफल रहा। 
 


23-Nov-2020 5:50 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर।
शनिवार को थाना कोतवाली में स्थानीय व्यवसायी ने रायपुर की आपकी मेट्रोमोनी कार्यालय की संचालिका द्वारा मोहित अग्रवाल का बायोडाटा देने के लिए पांच हजार रुपए शुल्क लेकर धोखाधड़ी किए जाने के संबंध में आवेदन दिया गया। आवेदन पर से संचालिका के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है।

रिपोर्टकर्ता ने बताया कि श्वेता विश्वकर्मा उर्फ श्वेता अग्रवाल नामक एक महिला शॉप नंबर 102 प्रथम तल भगत प्लाजा पंडरी रायपुर में आपकी मेट्रोमोनी नाम से कार्यालय खोलकर वैवाहिक संबंध कायम कराने का व्यवसाय करती है। उसके इस कार्य में उसके साथ अनेक सहयोगी भी शामिल है।  माह सितंबर में श्वेता विश्वकर्मा के कार्यालय में मोहित अग्रवाल निवासी 1007 नोवा आकृति निहारिका कंपलेक्स साईं बाड़ी अंधेरी ईस्ट मुंबई का विवाह के लिए पंजीयन हुआ था। जिससे इसकी बहन का विवाह हुआ है।

 रिपोर्टकर्ता द्वारा मोहित अग्रवाल के उपरोक्त विज्ञापन वास्तव में इसके जीजा मोहित ने ही दिया है अथवा उक्त विज्ञापन किसी और व्यक्ति का है अथवा फर्जी है, जानने के लिए दिनांक 16 /9/ 2020 को श्वेता अग्रवाल को उसके मोबाइल नंबर पर कॉल करके मोहित का बायोडाटा उपलब्ध कराने का अनुरोध किया जिस पर श्वेता विश्वकर्मा, मोहित अग्रवाल का पूरा डाटा बायोडाटा उपलब्ध कराने के लिए पंजीयन शुल्क 5,000 रुपए बताई तो रिपोर्टकर्ता द्वारा गूगल पे द्वारा भुगतान किया। 

रिपोर्टकर्ता 17 सितंबर को जब श्वेता विश्वकर्मा से उसके मोबाइल पर संपर्क किया तब वह भ्रामक जवाब देते हुए टाल-मटोल करने लगी। जिसके पश्चात उसने दिनांक 18 सितंबर को बायोडाटा देने से इनकार कर दी और पंजीयन शुल्क के नाम से प्राप्त की हुई 5,000 वापस नहीं की। रिपोर्टकर्ता का कहना है कि श्वेता विश्वकर्मा उर्फ श्वेताअग्रवाल कार्यालय खोलकर अपने सहयोगी के साथ मिलकर ठगी का कारोबार कर रही है एवं मेट्रोमोनी की आड़ में जालसाजी और ठगी का एक रैकेट चला रही है। थाना कोतवाली में श्वेता विश्वकर्मा उर्फ श्वेता अग्रवाल के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया गया है। 
 


23-Nov-2020 5:48 PM 18

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर। 
रायगढ़ नगर निगम में एल्डरमैन की नियुक्ति को दो महीने बीत चुके हैं। अब तक न तो आठवें पार्षद का नाम सामने आया और ना ही पार्षदों ने शपथ ली है। नियम के अनुसार मनोनीत पार्षदों के पद स्वत: ही रिक्त हो चुके हैं। दोनों ही मामलों में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के अंदरुनी कलह की बात सामने आ रही है। कांग्रेस के जिले के दिग्गज नेता चुने गए दो लोगों के विरोध में हैं। 

17 सितंबर को राज्य शासन ने प्रदेश के 45 नगरीय निकायों में मनोनीत पार्षदों की नियुक्ति की। रायगढ़ नगर निगम के लिए 7 पार्षदों का मनोनयन हुआ। घोषणा के बाद मरवाही चुनाव और कोरोना को कारण बता लगातार शपथ समारोह टाला गया। कुछ दिनों बाद अफसरों ने राज्य स्तर पर रोक लगाए जाने की बात कही। जिन 7 लोगों का मनोनयन हुआ है उसके कुछ नाम को लेकर लोगों ने आपत्ति जताई। प्रदेश के दूसरे निकायों में शपथ लेने के बाद काम भी चालू- आदेश जारी होने के बाद ही कुछ दिनों के भीतर प्रदेश के अधिकतर निकायों में पदभार ग्रहण कर लिए गए। कोरबा नगर निगम में आदेश निकलने के कुछ ही दिनों बाद जिला पंचायत में सभी मनोनीत पार्षदों की नियुक्तियां कर दी गई थी। यहां राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने ही सभी को शपथ दिलाई थी। इसी तरह बाकी निकायों में भी हो गई।

एक, दो नहीं  बल्कि तीन सीट पर खींचतान
सूत्रों के अनुसार आठवें एल्डरमैन की नियुक्ति के लिए निगम में शामिल लैलूंगा विधानसभा क्षेत्र से कार्यकर्ता जोर लगा रहे हैं। उन्हें तवज्जो नहीं मिलने से ये लोग विधायक के माध्यम से जोर लगा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक चुने गए दो लोगों के नाम पर आपत्ति है। इनमें एक युवा कांग्रेसी मीडिया प्रभारी रहा है वहीं एल्डरमैन बनाया गया दूसरा नेता पार्टी में सक्रिय नहीं रहा। विधायक समेत दूसरे दमदार नेताओं की जानकारी के बिना ही इसके नाम की घोषणा हो गई। 

यह है नियम नगर पालिक निगम 1956 के अधिनियम की धारा 19 के तहत मनोनीत पार्षदों की नियुक्ति होती है। इसी तरह इसी अधिनियम में धारा 17 ख के अनुसार मनोनीत पार्षद 30 दिनों के भीतर शपथ लेते हैं। 30 दिनों के भीतर शपथ नहीं लेने पर अपने-आप पद रिक्त हो जाएंगे। हालांकि राज्य शासन इस पर अपने स्तर पर निर्णय भी ले सकती है। 

शहर के विकास कार्य पर पड़ा है असर  
मनोनीत पार्षदों को भी शहर विकास के कार्यों के लिए सालाना फंड दिया जाता है। शहर के किसी वार्ड विकास में कोई पार्षद अपना योगदान कर सकता था। लेकिन मनोनीत होने के बाद भी शपथ ग्रहण नहीं होने से ये न तो कोई कार्य करा पा रहे हैं और ना ही बैठकों में सुझाव तक दे पा रहे हैं। एल्डरमेन किसी वार्ड से संबंधित नहीं होता है इसलिए शहर विकास के बारे में नया आइडिया दे सकता है। 
 


23-Nov-2020 5:37 PM 13

रायगढ़, 23 नवंबर। बिना मास्क/फेस कवर के पैदल, दुपहिया में घूम रहे 424 लोगों पर जुर्माने की कार्यवाही की गई है। 

ज्ञात हो कि जिला प्रशासन द्वारा 21 नवबंर को जिले में मास्क पहनने, सोशल/ फिजिकल डिस्टेसिंग का पालन करने तथा प्रतिष्ठानों को उनके लिए निर्धारित किए समय के पहले अथवा बाद में संचालित नहीं करने जैसे रक्षात्मक उपायों को अनिवार्य रूप से अपनाने एवं उनका कड़ाई से पालन करने के लिए आदेश जारी किया गया है। उक्त निर्देशों का उल्लंघन करते पाए जाने पर अधिरोपित किए जाने वाले जुर्माने की राशि में वृद्धि की गई है। इसी परिप्रेक्ष्य में पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह द्वारा सभी थाना/चौकी प्रभारियों को जिला प्रशासन के नियमों का कड़ाई से पालन कराने अपने-अपने क्षेत्र में अभियान चलाकर पालन कराने निर्देशित किया गया है। बीते दिन शाम पांच बजे से देर रात तक एक साथ सभी थानाक्षेत्र में पुलिस की जांच कार्यवाही प्रमुख चौक-चौराहों में देखी गई है।  

इस दौरान बिना मास्क/फेस कवर के पैदल, दुपहिया में घूम रहे 424 लोगों पर जुर्माने की कार्यवाही की गई है।


23-Nov-2020 5:35 PM 17

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर।
रायगढ़ जिले में कोरोना का कहर लगातार जारी है। रविवार को 247 कोरोना संक्रमित पाए गए वहीं एक ने शनिवार की देर रात दम दोड़ा। 1349 सैंपलों की जाँच की गई। पिछले एक हफ्ते में ही 1300 से ज्यादा पॉजिटिव मिले हैं। जिले में अब तक कुल 222 मौतें हो चुकी हैं। मौत की रफ्तार चिंताजनक है। 

अक्टूबर के महीने में मौत की दर 1.10प्रतिशत थी जो नवंबर में अब तक 2.05 प्रतिशत यानि लगभग दोगुनी हो चुकी है। त्योहारों के कारण जांच कम हुई तो मरीज कम मिले लेकिन खतरा अब भी बना हुआ है। डॉक्टरों के मुताबिक ठंड में संक्रमण के साथ लक्षण की गंभीरता बढ़ेगी। बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते जिला कलेक्टर ने फिर से प्रत्येक रविवार को पूर्ण लॉकडाउन लगाने के साथ-साथ बाकी दिनों में दुकानों के खुलने के समय सुबह 9 बजे से लेकर रात 8 बजे तक कर दिया है। 

जिले में 2285 मरीज एक्टिव 
कोरोना के गंभीर बीमारी की चपेट में आने से पहले के 132 दिनों में 50 मौतें हुई थीं। आखिर की 72 मौतें 19 दिन में हुई हैं। मृत्यु दर भी 1.10 से बढक़र 2.05 प्रतिशत हो गई है। कोरोना मृत्यु के मामले में रायगढ़, प्रदेश में रायपुर और दुर्ग जिले के बाद तीसरे नंबर पर है। पिछले एक हफ्ते में 13600 संभावित लोगों की कोरोना जांच की गई। जिसमें से लगभग 10प्रतिशत की दर से 1400 लोग संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकडो़ं के मुताबिक जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या 2285 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार कुल संक्रमितों का आंकड़ा 17 हजार 871 पहुंच चुका है। कुल 161 लोग डिस्चार्ज किए गए। धीरे-धीरे रायगढ़ जिले में बढ़ते मौतों के आंकड़े चिताजनक है। 
 


23-Nov-2020 5:29 PM 23

सर्वाधिक फर्जी किसान सारंगढ़ विकासखण्ड के 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर
। रायगढ़ जिले के सभी ब्लाकों में किसान पंजीयन का काम पूरा होने के बाद अब फर्जी पंजीयन मामले में जांच पूरी हो चुकी है। जिसमें से अब तक 2465 किसानों का पंजीयन फर्जी पाए जाने के बाद निरस्त किया गया है। दावा आपत्ति मिलने के बाद यह कार्रवाई प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा की गई है। जिसमें 2451 किसान पुराने शामिल हैं और फर्जी पंजीयन कराने के मामले में सारंगढ़ विकासखण्ड के सर्वाधिक किसान इस सूची में शामिल हैं।  

इस बार सरकार ने किसान पंजीयन को लेकर बेहद सख्त तेवर अपनाए हैं। योजनाबद्ध तरीके से पहले पटवारियों को हर खेत का मुआवजा कर गिरदावरी तैयार करने को कहा। जहां संदेह हुआ, वहां जांच भी करवाई। कलेक्टर ने धान का ज्यादा रकबा दर्शाने वाले गांवों का पुन: जांच करने का आदेश भी दिया था। इसमें पता चला कि कहीं 7 को 70 कर दिया तो कहीं 58 को 85। इस वजह से रकबा बहुत ज्यादा दिख रहा था। गिरदावरी को भुइयां से लिंक कर हर किसान का डाटा अपडेट किया। जब किसान पंजीयन प्रारंभ हुआ तो साफ्टवेयर में भुईयां से क्रास चेक करने का विकल्प मौजूद था। एक मिनट में किसान का रकबा सामने आ जाता था जिसके हिसाब पंजीयन हुआ। 

चौकाने वाली बात यह है कि प्रक्रिया के दौरान 2465 ऐसे किसानों का पंजीयन निरस्त किया गया जिनके नाम पर अब तक धान बेचकर समर्थन मूल्य हासिल किया जा रहा था। इनमें 2451 तो पुराने किसान थे जिनका पंजीयन कैरी फरवर्ड किया गया था। सबसे ज्यादा 654 फर्जी नाम सारंगढ़ की 12 समितियों में मिले। इसमें भी गाताडीह समिति में अकेले 307 नाम मिले। अब उसी गाताडीह समिति में फिर से रकबा संशोधन की मांग उठाई जा रही है। जिला प्रशासन ने संयुक्त टीमें बनाकर ऐसे फर्जी पंजीयन को रोका था। लेकिन अंतिम दिनों में बार-बार मोहलत बढ़ाकर रकबा संशोधन करने की मांग करना बहुत अजीब है। 

पंजीयन की सूची का प्रकाशन भी किया गया था। सारंगढ़ में किसानों को 11 व 12 नवंबर को दावा आपत्ति प्रस्तुत करने का समय दिया गया था लेकिन कोई किसान नही पहुंचे। 17 नवंबर को अचानक से गाताडीह समिति के गांवो से करीब ढाई सौ किसानों ने आपत्ति दर्ज कराई। सब कुछ बेहद नाटकीय तरीके से हो रहा था। किसानों का कहना है कि उनका रकबा छूट गया है। 

 


23-Nov-2020 5:28 PM 17

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 23 नवंबर।
छाल क्षेत्र में स्थित एसईसीएल के कोल खनन  में अपनी जमीन गंवाने के बाद विगत दो वर्षों से नौकरी की आस लगाए बैठे गांव के ग्रामीणों ने नौकरी दिलाने की मांग करते हुए कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा है। साथ ही मांग पूरी नहीं होने की स्थिति में आंदोलन की चेतावनी भी दी गई है।

छाल क्षेत्र के ग्रामीणों का कहना था कि एसईसीएल द्वारा कोयला खनन के लिए उनके भूमि का अधिग्रहण किया गया है। जिसका मुआवजा वितरण किया जा रहा है। विगत दो वर्षो से भी अधिक समय से गांव के युवा नौकरी की आश लगाए बैठे हैं, परंतु एसईसीएल द्वारा अभी तक नौकरी नही दिया जा रहा है। जिससे पढ़े लिखे युवा बेरोजगारों का भविष्य अंधेरे में डूबता नजर आ रहा है। 

कलेक्टर के नाम सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि 22 मार्च 18 को आपकी अध्यक्षता में जिला पुर्नवास समिति की बैठक की गई जिसमें राज्य शासन के आला अधिकारीगण, एसईसीएल के आला अधिकारी, गांव के जनप्रतिनिधि सहित 300 से अधिक ग्रामीण उपस्थित थे। जिसमें कोल इंडिया पुर्नवास नीति 2012 के तहत अवरोही क्रमानुसार अधिग्रहित निजी भूमि के एवज में नौकरी देने हेतु आम सहमति बनी। उपरोक्त निर्णयानुसार राज्य शासन द्वारा अवरोही क्रम में नौकरी पात्रता सूची सत्यापित कर एसईसीएल को सुपुर्द किया जा चुका है। जिसमें छाल क्षेत्र में अधिग्रहित निजी भूमि के एवज में कुल 415 नौकरियां सृजित हुई है। हमारे द्वारा विगत 6 माह में 100 से भी अधिक नौकरी फाईलें एसईसीएल में जमा कर दी गई है। परंतु आज तलक एसईसीएल द्वारा एक भी नौकरी ज्वानिंग नही दी जा रही है जिससे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। 

गांव के ग्रामीणों का यह भी कहना था कि अगर एसईसीएल द्वारा उन्हें जल्द नौकरी नही दिया गया तो आने वाले दिनों में वे एक बार फिर से आंदोलन करने को बाध्य होंगे। ज्ञापन सौंपने वालों में छाल सरपंच , चतुर सिंह, प्रमोद सिंह, सहदेव, अंकित सहित गांव के अन्य ग्रामीण उपस्थित थे। 
 


22-Nov-2020 6:29 PM 166

रायगढ़ जिले के पत्रकारों में रोष, विधायक ने भी निंदा की

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

सारंगढ़, 22 नवंबर। एसडीओ पुलिस पर एक पत्रकार ने अपने कार्यालय में बुलाकर गाली गलौच करने का आरोप लगाया है। घटना से क्षेत्र के पत्रकारों में रोष है। इसकी शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों से करते हुए कार्रवाई की मांग की गई है। विधायक ने इस घटना की निंदा की है तथा कार्रवाई की मांग की है।

क्षेत्र के वरिष्ठ पत्रकार भरत अग्रवाल के साथ यह घटना हुई है। एसडीओपी जितेन्द्र खुंटे ने पत्रकार और उनके साथियों को किसी मामले में बयान देने के लिये अपने कार्यालय में बुलाया। पत्रकार का मोबाइल फोन कार्यालय के बाहर कर्मचारी ने रख लिया। पत्रकार ने अनुमति लेकर चेम्बर में प्रवेश किया और एक कुर्सी पर बैठ गया। शिकायत के मुताबिक एसडीओपी इससे तैश में आ गये और गाली गलौच करते हुए कहा कि बिना अनुमति कुर्सी पर बैठ कैसे गये? इस घटना को कुछ और पत्रकारों ने भी वहां देखा। गाली-गलौच करते देख पत्रकार भरत अग्रवाल तुरंत उनके कमरे से बाहर आ गये। निकलते ही उन्होंने सारंगढ़ थाने में लिखित शिकायत की और फोन पर पुलिस अधीक्षक, महानिरीक्षक तथा महानिदेशक को इस घटना की जानकारी दी। पत्रकार ने सोशल मीडिया पर पूरी जानकारी शेयर करते हुए कहा है कि एसडीओपी बिना वजह कोई व्यक्तिगत दुश्मनी भुना रहे हैं। गंदी गालियां सुनकर वह काफी दुखी हैं। मेरे साथ कोई भी घटना होती है तो इसके लिये एसडीओपी ही जिम्मेदार होंगे।

जानकारी के अनुसार एसडीओपी खुंटे ने इससे पहले भी पत्रकार प्रवीण थॉमस के साथ गाली गलौच की थी जिसका वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो चुका है।

क्षेत्रीय विधायक उत्तरी जांगड़े ने इस घटना की तीखी निंदा की है। उन्होंने कहा कि एक पत्रकार से पुलिस अफसरों का ऐसा बर्ताव है तो आम जनों का क्या होगा? विभाग के जिम्मेदार अधिकारी इस मामले पर गौर करते हुए कार्रवाई करे।

रायगढ़ जिले के पत्रकारों में भी इस घटना से रोष व्याप्त है। वे एसडीओपी के खिलाफ मोर्चा खोलने की तैयारी कर रहे हैं। वरिष्ठ पत्रकार टिल्लू शर्मा ने कहा कि गाली गलौच करने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई होना ही चाहिये।

मामले में जब एसडीओपी जितेन्द्र खूंटे का पक्ष जानने की कोशिश की गई तो उन्होंने काल रिसीव नहीं किया।  

 


22-Nov-2020 4:41 PM 18

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 22 नवंबर।
कलेक्टर भीम सिंह ने कोविड-19 के प्रचार के रोकथाम के लिए जिले में मास्क पहनना, सोशल फिजिकल डिस्टेसिंग का पालन करना तथा प्रतिष्ठानों को उनके लिये निर्धारित किए समय के पहले अथवा बाद में संचालित नहीं करने जैसे रक्षात्मक उपायों को अनिवार्य रूप से अपनाने एवं उनका कड़ाई से पालन करने हेतु आदेश जारी किया है। उक्त निर्देशों का उल्लंघन करते पाए जाने पर अधिरोपित किए जाने वाले जुर्माने की राशि में वृद्धि की गई है। 

जिसके तहत सार्वजनिक स्थलों, कार्यालयों, अस्पतालों, बाजारों एवं भीड़भाड़ वाले स्थानों, गलियों में आने-जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति द्वारा मास्क/फेस कवर धारण किया जाना अनिवार्य होगा। कार्यालय/कार्य स्थलों एवं फैक्ट्री आदि में कार्य करने वाले प्रत्येक व्यक्ति द्वारा मास्क फेस कवर धारण किया जाना अनिवार्य होगा।

 दो पहिया/चार पहिया वाहन के द्वारा यात्रा करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को मास्क पहनना अनिवार्य होगा।  उपरोक्त के लिए डिस्पोजेबल मास्क तथा कपड़े के मास्क का प्रयोग किया जा सकता है। फेस कवर/मास्क उपलब्ध न होने की स्थिति में गमछा, रूमाल, दुपट्टा इत्यादि का भी फेस कंवर के रूप में प्रयोग किया जा सकता है। बशर्ते मुंह एवं नाक पूरी तरह से ढंका हो। कपड़े का मास्क, फेस कवर, गमछा, रूमाल, दुपट्टा इत्यादि का पुन: प्रयोग साबुन से अच्छी तरह से साफ किये जाने बिना न किया जाए।