बस्तर

जिले के 26 हजार से अधिक को मिला मेगा विधिक सेवा शिविर का लाभ
24-Oct-2021 9:56 PM (68)
जिले के 26 हजार से अधिक को मिला  मेगा विधिक सेवा शिविर का लाभ

विभिन्न योजनाओं के तहत 34 करोड़ से अधिक राशि का भुगतान

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 24 अक्टूबर। राष्ट्रीय विधिक प्राधिकरण (नालसा ) नई दिल्ली के तत्वावधान एवं छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्गदर्शन में आजादी का अमृत महोत्सव के तहत अखिल भारतीय जागरूकता एवं आउटरीच अभियान के अंतर्गत ‘मेगा लीगल सर्विस कैम्प’ आयोजित किया गया। जिले के सभी विकासखण्ड मुख्यालय में आयोजित ‘मेगा लीगल सर्विस कैम्प’ में बड़ी संख्या में लोग शासकीय योजनाओं का लाभ लेने के लिए पहुंचे। इस मेगा लीगल सर्विस कैंप के माध्यम से 26 हजार 31 हितग्राहियों को शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत 34 करोड़ 74 लाख 99 हजार 475 रुपए का भुगतान किया गया।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की बैंक लिंकेज, रिवाल्विंग फंड, सामग्री वितरण, प्रधानमंत्री आवास योजना, समाज कल्याण विभाग द्वारा जन्म प्रमाण पत्र, मृत्यु प्रमाण पत्र, वृद्वा पेंशन, राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना, दिव्यांगों के लिए सहायक उपकरण, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा मनरेगा के तहत भुगतान, राजस्व विभाग द्वारा जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, शिक्षा विभाग द्वारा छात्र दुर्घटना बीमा, महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा नोनी सुरक्षा बीमा योजना, छत्तीसगढ़ महिला कोष ऋण, वन विभाग द्वारा शहीद महेन्द्र कर्मा बीमा सुरक्षा योजना, वनोपज संग्रहण समूह का भुगतान, कृषि विभाग द्वारा मिनी किट, स्प्रिंकलर, उद्यानिकी विभाग द्वारा पावर स्प्रे, श्रम विभाग द्वारा ई-श्रम कार्ड, मुख्यमंत्री निर्माण योजना, ठेेका श्रमिकों के लिए योजना तथा पंजीयन कार्ड, स्वास्थ्य विभाग द्वारा मच्छरदानी, मितानीन दवा पेटी, पशुधन विकास विभाग द्वारा पशुधन, खाद्य विभाग द्वारा राशन कार्ड, जिला अंत्यावासायी द्वारा शहीद वीर नारायण सिंह स्वावलंबन योजना, व्यापार एवं उद्योग केन्द्र द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम सहित विभिन्न योजनाओं के तहत इस अवसर पर हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया।

कलेक्टोरेट के आस्था कक्ष में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमती सुमन एक्का, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र मीणा, अपर कलेक्टर अरविंद एक्का, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव श्रीमती गीता बृज सहित न्यायाधीशगण उपस्थित थे।

सुबह 10.30 बजे वर्चुअल कार्यक्रम के जरिए बिलासपुर स्थित उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधिपति एवं मुख्य संरक्षक विधिक सेवा प्राधिकरण अरूप कुमार गोस्वामी के मुख्य आथित्य में ई मेगा विधिक सेवा शिविर की शुरुवात की गई। मुख्य न्यायाधिपति ने इस मौके पर शिविर को संबोधित करते हुए कहा कि यह हर्ष की बात है कि वे इस शिविर का हिस्सा बन पाए हैं। उन्होंने संविधान में समान विधिक सेवा सभी नागरिकों को उपलब्ध कराने उल्लेखित अनुच्छेदों का जिक्र किया। निशुल्क विधिक सेवा सभी नागरिकों का अधिकार है और प्रयास है कि सभी नागरिकों को इसकी जानकारी हो। विधिक जागरूकता लाने में यह ई मेगा विधिक सेवा शिविर काफी सहयोगी साबित हुआ है। उन्होंने इसके लिए सबका धन्यवाद भी ज्ञापित किया।

        कार्यक्रम की अध्यक्षता न्यायाधीश गौतम भादुड़ी ने की। उन्होंने इस मौके पर कहा कि ई मेगा विधिक शिविर से सभी जिलों के काफी संख्या में हितग्राही लाभान्वित हुए हैं । ये जागरूकता शिविर लगाने का उद्देश्य  है कि लोगों को दिए गए हक के प्रति उनको जागरूक किया जा सके। उन्होंने विधिक शिविर के जरिए जो लाभ लाभार्थियों को दिया गया उसकी जानकारी दी और हर्ष भी जताया कि इससे राज्य के आठ लाख से ज्यादा लोग लाभान्वित हुए हैं। उन्होंने इस मौके पर नालसा का हेल्पलाइन नंबर ’15100’ भी सबके साथ साझा करते हुए सभी जरूरतमंदों को इसका लाभ उठाने का सुझाव दिया। उन्होंने सबका आह्वान किया कि जिन्हें विधिक जागरूकता का लाभ मिला वो अन्य को भी इसका लाभ उठाने कहें।

इस वर्चुअल कार्यक्रम में विशेष अतिथि के तौर पर उच्च न्यायालय के न्यायाधिपति संजय कुमार अग्रवाल और संजय श्याम अग्रवाल उपस्थित रहे। उन्होंने अपने उद्बोधन में  राज्यव्यापी ई मेगा विधिक शिविर आयोजित किए जाने पर बधाई दी क्योंकि इसके जरिए आम लोगों को विधिक सेवाएं उपलब्ध कराई गई  और लोगों को संविधान में उल्लेखित उनके मौलिक अधिकार की जानकारी दी गई। इसके तहत प्रयास रहा कि समान न्याय लोगों को पहुंचाने सभी जिलों में कार्य किया जाए। इस मौके पर राज्यव्यापी ई मेगा विधिक शिविर में स्वागत भाषण रजिस्ट्रार जनरल संजय कुमार जायसवाल ने दिया। वर्चुअल कार्यक्रम के अंत में छत्तीसगढ़ विधिक सेवा प्राधिकरण के सदस्य सचिव सिद्धार्थ अग्रवाल ने धन्यवाद ज्ञापित किया ।

जि़ला स्तर पर आयोजित मेगा विधिक सेवा शिविर में उपस्थित जि़ला और सत्र न्यायाधीश श्रीमती सुमन एक्का ने उद्बोधन में कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर 2 अक्टूबर से 14 नवंबर तक अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्य रूप से यह विधिक सेवा शिविर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण,जि़ला प्रशासन के सहयोग से आयोजित कर आम लोगों को विधिक सेवाओ के प्रति जागरूक करते हुए विभिन्न विधिक और शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिया गया । उन्होंने इस मौके पर नालसा की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। जि़ला विधिक सेवा प्राधिकरण  से सबको आवश्यक सहयोग सुलभ होने की बात उन्होंने भी दोहराई। उन्होंने कहा कि कल्याणकारी राज्य में जो योजनाएं आम लोगों के लिए बनाई गई हैं, इसका दायरा व्यापक है। लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत अनेक सेवाएं हैं जो कि विधिक सेवा प्राधिकरण के तहत भी है। अत: आम जनों को प्रदाय की जाने वाली सभी विभागीय योजनाएं इसमें शामिल हैं। इसलिए सुनिश्चित किया जाए कि आमजन को यह सुविधा और सेवाएं त्वरित पहुंचे । उन्होंने अधिकारियों को समझाइश दी कि विभागीय अधिकारी आम जनों को ऐसी योजनाओं का लाभ उपलब्ध कराने उसकी बारीकी से जानकारी दें और त्वरित सेवा का लाभ दिलाएं । इस अवसर पर उपस्थित अधिकारियों ने अपने-अपने विभागों द्वारा संचालित योजनाओं के संबंध में जानकारी दी। ज्ञात हो कि आज के शिविर में लाभार्थियों को लाभ का वितरण किया गया।  वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए ब्लॉक स्तर के अधिकारी और हितग्राही भी कार्यक्रम से जुड़े रहे।

  बस्तर जिले में जनपद स्तर पर मुख्य कार्यक्रम बस्तर जनपद पंचायत कार्यालय में आयोजित किया गया, जहां 517 हितग्राहियों को 2 करोड़ 72 लाख 67 हजार रुपए से अधिक की राशि विभिन्न शासकीय योजनाओं के तहत प्रदान की गई। इसके साथ ही हितग्राहियों को जाति, आय, निवास प्रमाण पत्र सहित अन्य शासकीय दस्तावेज एवं हितग्राहीमूलक सामग्री भी प्रदान किए गए।

बैटरीचलित ट्राईसिकल पाकर खिला ऐश्वर्या का चेहरा

ई मेगा लीगल सर्विस कैंप के तहत आज बस्तर विकासखण्ड मुख्यालय में भानपुरी से 12 वर्षीय बालिका ऐश्वर्या भी अपने माता-पिता के साथ पहुंची थी। लगभग ढाई साल की उम्र में ही एक गंभीर दुर्घटना में ऐश्वर्या के रीढ़ की हड्डी में लगी चोट के कारण चल नहीं सकती। लीगल सर्विस कैंप में बैटरी चलित ट्राईसिकल पाकर ऐश्वर्या के चेहरे पर मुस्कान उभर आई। साथ ही माता-पिता भी खुश नजर आए। पिता राजेन्द्र कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि ऐश्वर्या भानपुरी में ही कैम्ब्रिज केरला इंग्लिश मीडियम स्कूल में कक्षा छटवीं में पढ़ती है। वे स्वयं किराने का व्यवसाय करते हैं। ऐश्वर्या को अभी स्कूल छोडऩे और लाने की जरुरत पड़ती है, जिससे उनका व्यवसाय भी प्रभावित होता है। माता ने बताया कि ऐश्वर्या भले ही चलने-फिरने में असमर्थ है, किन्तु वह अपने सारे कामकाज स्वयं करना पसंद करती है। इसके लिए वह अपने शरीर को घसीटकर आगे ले जाती है, जिससे उसके शरीर में कई जगह जख्म उभर आया है। अब ऐश्वर्या को बैटरीचलित ट्राईसिकल मिलने से उसे काफी आराम मिलेगा।

अन्य पोस्ट

Comments