दुर्ग

धमधा में पिछले साल हुआ था पुष्पवाटिका का जीर्णोद्धार, स्थिति फिर खराब
29-Nov-2020 8:22 PM 38
धमधा में पिछले साल हुआ था पुष्पवाटिका का जीर्णोद्धार, स्थिति फिर खराब

कलेक्टर ने दौरे के दौरान किया निरीक्षण, एसडीएम को दिए जांच के निर्देश

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

दुर्ग, 29 नवंबर। दुर्ग जिले के धमधा ब्लाक के दौरे के दौरान कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे ने विभिन्न अधोसंरचनाओं की स्थिति का अवलोकन भी किया। वे यहां पुष्पवाटिका भी पहुंचे। यहां साफ-सफाई की स्थिति अच्छी नहीं थी और झूले जैसे साजोंसामान भी खराब हो रहे थे। इस पर कलेक्टर ने इसे ठीक कराने के निर्देश दिए गए।

बताया गया कि पिछले साल ही पुष्पवाटिका का जीर्णोद्धार हुआ था। मौके पर मौजूद इंजीनियर ने बताया कि चूंकि जीर्णोद्धार के कार्य के काफी समय बाद इसका लोकार्पण हुआ था। इसलिए मेंटेनेंस की जरूरत है। इस पर कलेक्टर ने नाराजगी जताई और एसडीएम बृजेश क्षत्रिय को जांच के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पुष्पवाटिका को बेहतर करें। नियमित रूप से माली के माध्यम से पौधों की छंटाई कराएं। बच्चों के प्ले जोन को बेहतर करें। पैबर ब्लाक लगा दें एवं रंगरोगन भी करा दें। नगरीय निकाय में गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन पर जताई नाराजगी।

कलेक्टर ने धमधा नगरीय निकाय में गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि गोधन न्याय योजना शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता की योजना है। इसमें तकनीकी गुणवत्ता सहित सभी पक्षों का ध्यान रखना है। शासन के सभी निर्देशों का भलीभांति  पालन करना है। उन्होंने धमधा सीएमओ को एक हफ्ते के भीतर स्थिति सुधारने के निर्देश दिए।

जामुल में जताई संतुष्टि

कलेक्टर ने जामुल नगरीय निकाय में गोधन  न्याय योजना के क्रियान्वयन पर संतुष्टि जताई। उन्होंने वर्मी कंपोस्ट देखा और इसकी तकनीकी गुणवत्ता से संतोष जाहिर किया। उन्होंने कहा कि नियमित रूप से मानिटरिंग और बेहतर व्यवस्था बनाये रखने की जरूरत है, ताकि अधिकाधिक लोगों को गोधन न्याय योजना का लाभ मिल सके। उन्होंने यहां स्वसहायता समूहों द्वारा किये जा रहे कार्यों का निरीक्षण भी किया। उन्होंने  कहा कि आजीविकामूलक गतिविधियों को निरंतर बढ़ाना जरूरी है। इसके लिए निरंतर कार्य किये जाने की जरूरत है।

शीघ्र आरंभ हो जलापूर्ति

 कलेक्टर जामुल के फिल्टर प्लांट भी पहुंचे। इस पर काम पूरा हो चुका है। कलेक्टर ने नगरीय निकाय को इसका हैंडओवर लेने एवं शीघ्र जलापूर्ति आरंभ करने के निर्देश दिये। यह 4.5 एमएलडी का  प्लांट है। कलेक्टर ने झेंझरी में स्थित इसके इंटेक वेल का निरीक्षण भी किया। बरसात में यहां तक पहुंचने में परेशानी होती है। इसके लिए सीधी एप्रोच रोड बनाने के निर्देश भी उन्होंने दिये। कलेक्टर ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि शीघ्र ही आवश्यक औपचारिकताएं पूरी कर इस प्लांट से जलापूर्ति आरंभ करें।

अन्य पोस्ट

Comments