छत्तीसगढ़ » बस्तर

29-Nov-2020 8:58 PM 30

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 29 नवम्बर। संसदीय सचिव व जगदलपुर विधायक रेखचंद जैन ने बस्तर जिला मुख्यालय के जगदलपुर विधानसभा क्षेत्र के जनपद पंचायत क्षेत्र के नियानार, कुरंदी एक-दो तथा धुरगुड़ा ग्राम पंचायत में प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना अंतर्गत बारह किलोमीटर सडक़ निर्माण कार्य हेतु श्रीफल फोडक़र कार्य  प्रारंभ करवाया।

प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना अंतर्गत नियानार से तुसेल पहुंच मार्ग 5 किलोमीटर सडक़ निर्माण कार्य 50 लाख रुपए, कुरंदी आंगनबाड़ी चौक जामगुड़ा से बिलोरी पहुंच मार्ग 2.68 किलोमीटर सडक़ निर्माण कार्य लगभग 24 लाख रुपए , कुरंदी दो में 2.53 किलोमीटर एनएच 43 से चिलखुटी सडक़ निर्माण कार्य लगभग 23 लाख रुपए व धुरगुड़ा में 2.20 किलोमीटर सडक़ निर्माण कार्य हाटगुड़ा से धुरगुड़ा मुख्य सडक़ निर्माण लागत 20.68 लाख रुपए  का भूमिपूजन किया गया, जो कि कुल लगभग 120  लाख रुपए से 12 किमी सडक़ों का निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ। संसदीय सचिव रेखचंद जैन का इन कार्यों की सौगात देने के लिए लोगों ने आभार जताया।

संसदीय सचिव जैन ने इस दौरान शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं के बारे में ग्रामीणों को अपने संबोधन में जानकारी दी जिसमें किसानों के लिए किए जा रहे भूपेश बघेल सरकार के कार्यों को बताया। श्री जैन ने कहा कि छत्तीसगढ़ प्रदेश देश का पहला प्रदेश है जहां किसानों का धान 2500 रुपए क्विंटल की दर से खरीदा जा रहा है वहीं जनता को 1 रुपए में चावल देकर 2 रुपए में गो धन योजना से गोबर की खरीदी की जा रही है। इसी प्रकार स्कूल ,सडक़, पुल- पुलिया का निर्माण भी इस विधानसभा क्षेत्र में बड़ी तादाद से किए जा रहे हैं। पेयजल की आपूर्ति के लिए भी गांव- गांव में नलकूप खनन के  का कार्य किया जा रहा है।  सुविधा की दृष्टि से महारानी अस्पताल में आधुनिक उपकरणों से उपचार किया जा रहा है तथा ग्रामीण अंचलों में भी स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर है। इस दौरान संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने नियानार में सडक़ निर्माणकार्य करने वाली वाहन में बैठकर प्रतिकात्मक रुप से कार्य संपादित करने का आदेश दिया

इस दौरान  जनपद सदस्यगण जीशान कुरैशी,घेनवा राम, कनकदई राय, सरपंचगण तिरुपति नागेश, दुर्गा उद्दे, धनमती पूजारी, सुभद्रा बघेल, विमला बघेल,चम्पा कश्यप , उपसरपंच रामेश्वर बिसाई जिला महामंत्री अनवर खान,हेमु उपाध्याय, जिला सहसचिव मोईन अख्तर, आईटी सेल प्रदेश महासचिव योगेश पानीग्राही, ब्लॉक अध्यक्ष वीरेंद्र साहनी, जोन अध्यक्ष लैखन बघेल, महामंत्री विजय सिंह, विजय चंद्र नाग,भगतराम, शोभाराम,राजेश कश्यप,   लखमु कश्यप सहित अन्य उपस्थित थे।


29-Nov-2020 8:56 PM 43

बकावण्ड, 29 नवम्बर। बकावण्ड ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत मंगनार में कृषि विभाग द्वारा किसानों को गेहूं, चना, मूंगफली, सरसो, सूरजमुखी व मूंग का वितरण किया गया। क्षेत्र के किसानों को विभिन्न योजनाओं को कृषि विभाग द्वारा ध्यानाकर्षण कराते हुए ग्राम पंचायत मंगनार में 35 हितग्राहियों को सामग्री  उपलब्ध कराया गया। इस अवसर पर सरपंच अनंत कश्यप, कृषि अधिकारी प्रवीण पाण्डे, उप सरपंच बंशी देवांगन, राजु देवांगन, जनपद प्रतिनिधि सत्यभामा व अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।


29-Nov-2020 8:50 PM 30

बकावण्ड, 29 नवम्बर। बकावण्ड ब्लाक के ग्राम पंचायत तारापुर में सर्व आदिवासी समाज की बैठक शनिवार को आयोजित की गई, जहां आगे की रणनीति तैयार की गई।

 इस अवसर पर सर्व आदिवासी समाज बकावण्ड के अध्यक्ष दयानाथ कश्यप ने कहा कि समाज को एक जुटता के साथ अपने अधिकारों को समझना होगा। यह पांचवी अनुसूचित संवेदनशील क्षेत्र है, और पेसा कानून भी लागू है। उन्होंने कहा कि शांत माहौल में अशांति का ज़हर घोलने का प्रयास किया जा रहा है, कुछ असामाजिक तत्व भडक़ाने व समाज को तोडऩे व क्षति पहुंचाने में लगे हुये हैं। साथ ही बैठक में विभिन्न विषयों पर गहन चर्चा की गई। बैठक में सामाजिक परम्परा, संस्कृति, रीति नीति और संविधानिक अधिकारों के संबंध में एक मंच पर एकत्रित होकर समाज  हित के विषय पर पुरजोर प्रकाश डाला गया। इस मौके पर धनेश्वर , नवीन गोतम, नरसिंह, उदय, संरपच आयतुराम, शिवशंकर,  अर्जुन, रामलाल, मोहन, रावटे, सोहन , बनमाली, रामसिंह, बनियागांव सरपंच भोंवरलाल एवं अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद रहे।


29-Nov-2020 8:49 PM 27

  सांस्कृतिक कार्यक्रम व सुंदरकांड का आयोजन   

भानपुरी, 29 नवम्बर। प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी बस्तर विकासखण्ड के ग्राम बेसोली में कार्तिक मास के अवसर पर भगवान कार्तिकेय की प्रतिमा स्थापित की गई है। हालांकि कोरोना काल होने के कारण समिति के द्वारा  कोरोना गाइडलाइंस का पालन किया जा रहा है।

पूजा समिति के संरक्षक राजेश सागर ने बताया कि कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष में आने वाली पूर्णिमा, कार्तिक पूर्णिमा  कहलाती है। इस दिन स्नान, दीपदान, यज्ञ और ईश्वर की उपासना की जाती है। इस दिन किए जाने वाले दान-पुण्य समेत कई धार्मिक कार्य विशेष फलदायी होते हैं। मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा की संध्या पर भगवान विष्णु का मत्स्यावतार हुआ था। एक अन्य मान्यता के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन महादेव ने त्रिपुरासुर नाम के राक्षस का वध किया था। इस दिन सुबह किसी पवित्र नदी, सरोवर या कुंड में स्नान करना बहुत शुभ माना जाता है।कार्तिक मास में गांव में भक्तिमय माहौल बना है, साथ ही शनिवार को चेतन्य कीर्तन मंडली जगदलपुर द्वारा सुंदरकांड सोमवार को  रात्रिकालीन सांस्कृतिक  व मंगलवार को विसर्जन भण्डार किया जाएगा।

पूजा समिति में राजेश सागर,नंदकिशोर, कमल सिंह ,पूरन मौर्य ,कमलेश दीवान, मनोज बघेल, आसमान बघेल, सतीश कश्यप, बंसी बघेल, प्रेम कश्यप, पीतेश्वर बघेल, श्यामलाल ,दिव्यानंद ,डमरू,तुलाराम, देवलाल,उमेश,योगेश ,श्रीधर,उपेंद्र तुलेश ,मनीष ,लक्ष्मण ,गोलू ,थबीर सुमित , गनीराम,जेठूराम, डमरु, रमेश,प्रदीप समेत ग्रामीणों का योगदान है।


29-Nov-2020 8:19 PM 26

डीएफओ ने जांच कर कार्रवाई के दिए निर्देश

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 29 नवम्बर। बकावंड ब्लाक के अंतर्गत ग्राम पंचायत मालगांव की शासकीय वन भूमि पर करीतगांव के सरपंच व ग्रामीणों द्वारा मिलकर इमारती लकड़ी काटकर धान खरीदी केंद्र बनाने का आरोप मालगांव के ग्रामीणों द्वारा लगाया जा रहा है।

इस संबंध में वनमण्डलाधिकारी बस्तर स्टाइलो मंडावी से जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया आपके माध्यम से जो जानकारी हमें मिली थी कि फॉरेस्ट के जमीन पर धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा, जिसे मैंने तुरंत बंद करवाने का आदेश दिया था लेकिन उसके बावजूद भी अगर वहां पर काम चल रहा है, तो यह गलत है। समझाइश देने के बाद भी अगर इस तरह की स्थिति बनी है,तो उन पर कार्रवाई भी की जाएगी।

जानकारी के मुताबिक ग्राम पंचायत मालगांव के ग्रामीणों का आरोप है कि मालगांव के शासकीय वन भूमि पर करीतगांव के सरपंच की शह पर ग्रामीणों द्वारा इमारती पेड़ काटकर उक्त भूमि पर धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा है जिसकी वन विभाग से कोई अनुमति नहीं ली गई है। उसके बाद भी वन अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

मालगांव के ग्रामीणों द्वारा जब इसका विरोध कर पूछा गया कि आप किस आदेश के तहत पेड़ काटकर यहां खरीदी केंद्र बना रहे हैं तो करीतगांव के सरपंच व ग्रामीण लड़ाई-झगड़ा पर उतर आए और कहा कि हमने फॉरेस्ट के अधिकारियों को जानकारी दे दी है और हमें अनुमति भी दिया गया है।

अपना नाम नहीं छापने की शर्त में मालगांव के कुछ ग्रामीणों ने बताया कि हमने शुरू में ही जब यहां पेड़ काट रहे थे, तब फॉरेस्ट के अधिकारी को बताया था लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की।

इस विषय में ‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता ने जब मौके पर जाकर देखा तो निर्माण कार्य के लिए गड्ढे खोदे गए थे। इसको लेकर जब डीएफओ से जानकारी ली गई तो उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं थी। डीएफओ ने तत्काल उस एरिया के संबंधित अधिकारी से फोन पर इस विषय को ले कर जांच कर कार्रवाई के लिए कहा। अधिकारी के कहने पर आनन-फानन में अवैध रूप से किए गए निर्माण कार्य के लिए गड्ढे को तत्काल मिट्टी से भर दिया गया।

मालगांव जनपद सदस्य भोलानाथ नाग ने बताया कि यह जमीन मालगांव के क्षेत्र में आती है, हमसे बिना पूछे ही पेड़ काटकर यहां धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा है, इसका हम सब मिलकर विरोध करते हैं। हम अपने जमीन में धान खरीदी केंद्र बनने नहीं देंगे, इसको लेकर हमने कलेक्टर को भी सीमा सीमांकन के लिए आवेदन दिया है। कलेक्टर साहब से भी अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है हमारे पूर्वज इस जमीन, इस जंगल की देखरेख व रक्षा हमेशा करते आए हैं।

मालगांव ग्रामीण रामेश्वर कश्यप ने बताया कि करीतगांव पंचायत वाले मालगांव की शासकीय जमीन फॉरेस्ट भूमि पर जंगल काटकर लेम्स का निर्माण कर रहे हैं और फॉरेस्ट अधिकारी भी आते नहीं है इसकी शिकायत यहां के नाकेदार को भी की गई है लेकिन अभी तक वह आए नहीं. न जाने कहां ड्यूटी करते हैं और उनकी ड्यूटी क्या है, कभी भी बुलाने से आते ही नहीं है। हम लोग विरोध करते हैं और इस जमीन में हम धान खरीदी केंद्र बनने नहीं देंगे क्योंकि हमारे पूर्वज इस जंगल के रक्षा पीढ़ी दर पीढ़ी करते आ रहे हैं।

मालगांव ग्रामीण हेमराज कश्यप ने बताया कि यह जमीन हमारे पंचायत में आती है। पंचायत से बिना पूछे ही यहां के सरगी के पेड़ काटकर धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा है जिसकी जानकारी हमें व पंचायत को मिली ही नहीं हम इसका विरोध करते है। यदि यह जमीन करीतगांव में आती है तो करीतगांव वाले रिकॉर्ड दिखा दे हम इस जमीन को छोड़ देंगे। पेड़ काटने की जानकारी फॉरेस्ट को है वह चुप हैं और कार्रवाई न कर  छुपते नजऱ आ रहे हैं। हमको जानकारी मिली कि यहां कुछ बन रहा है तो यहां आ कर देखें तो यहां कॉलम के लिए गड्ढा खोदा गया है। फिर दो दिन के बाद उस गड्ढे को भर दिया गया। वहीं करीतगांव के लोग बोल रहे हैं कि यह जमीन उनकी है तो खोदे गए गड्ढों को क्यों भरा गया और निर्माण कार्य क्यों नहीं किया गया यदि उनको अनुमति मिल चुकी है। (बाकी पेज 8 पर)

जनपद उपाध्यक्ष बकावंड रामानुज आचार्य ने बताया कि मालगांव से सहमति लेना या करीतगांव से पूछना है यह तो जनहित का कार्य है। यह जमीन किसकी है हमको जानकारी नहीं है। यह मालगांव की है कि जुनवानी की है या करीतगांव की। यहां के 4 पंचायत के किसानों की सहमति से यह बन रहा है। यह जमीन बीच में है, इसलिए बनाया जा रहा है। आज से 1 साल पहले जुनवानी और करीतगांव एक ही पंचायत हुआ करता था। एक पंचायत होने के कारण जुनवानी को लगता था कि जमीन उनकी है, उस हिसाब से इस जमीन में निर्माण कार्य कर रहे थे। करीतगांव में राजस्व जमीन वर्तमान में नहीं है। जनता के हित के लिए है। इसमें ना तो सरकार ना तो मालगांव ना ही किसी प्रकार से हितग्राही को आपत्ति होनी चाहिए। मैं सभी से निवेदन करुंगा आपसी समझौता से कार्य करें, ताकि किसी को परेशानी ना हो।

करीतगांव सरपंच गुनेश्वर बघेल ने बताया कि मालगांव की जमीन होती तो परमिशन हम लेते। हम तो नहीं जानते कि यह जमीन मालगांव में आती है। 50 वर्षों से यह जमीन ग्राम जुनवानी की है और 4 पंचायत के सहमति से यह बन रहा है। रिकॉर्ड तो हम नहीं देखे हैं हमें नहीं पता, लेकिन हम यह जानते हैं कि यह जमीन ग्राम जुनवानी के क्षेत्र में है। हम लोग धान खरीदी केंद्र बनाने के लिए गड्ढा किए थे लेकिन फॉरेस्ट के अधिकारी द्वारा मना किया गया। फॉरेस्ट वाले बोले कि अभी नहीं बनाओ, आप लोग लेटर दिए हैं आपको जब अनुमति मिल जाएगी तो बनाना विधायक से भी बात हुई है डीएफओ मैडम, विधायक महोदय से बात की है।


28-Nov-2020 9:47 PM 188

  पीएम आवास राशि का सरपंच, सचिव व आवास मित्र पर गबन का आरोप  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 28 नवम्बर। बस्तर जिले के जनपद पंचायत बकावंड अंतर्गत ग्राम पंचायत मटनार में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हुई स्वीकृत राशि एक लाख तीस हजार का आहरण सरपंच, सचिव व आवास मित्र के द्वारा गबन करने का आरोप हितग्राही भगवती पांडे ने लगाया है।

इस विषय में कलेक्टर रजत बंसल से ‘छत्तीसगढ़’ ने जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना की शिकायत आपके माध्यम से प्राप्त हुई है, तत्काल इसको प्राथमिकता में लेते हुए जांच करवाया जाएगा और जो भी इसमें कार्रवाई होगी, उसको नियमानुसार किया जाएगा।

हितग्राही भगवती पांडे ने बताया कि वर्ष 2018 में आवास मित्र खिरेंद्र जोशी ने उन्हें बताया कि उनके नाम पर एक आवास स्वीकृत हुआ है और उनके लिए वह मकान बनाया जाएगा। इसके लिए उनसे पासबुक, आधार कार्ड  की छाया प्रति मांगा गया और उनसे कहा गया कि आपके नाम पर मकान निकला है यह सब फॉर्मेलिटी पूरी करने पर जल्द से जल्द आपका घर बनाया जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि एक दिन रात को खिरेंद्र जोशी द्वारा घर आकर उनसे कुछ पेपर पर दस्तखत करवाया गया और उनसे पासबुक मांग कर वहां से चले गए। काफी दिन बीत जाने के बाद भी जब उनके लिए मकान नहीं बनाया गया तब उन्होंने इसकी जानकारी आवास मित्र से ली तो उन्होंने आजकल कर टालमटोल कर दिया।

जब इसकी शिकायत लेकर पंचायत में वह गई तो पंचायत के जिम्मेदार लोगों द्वारा भी आज कल कर टालमटोल करने लगे। इसकी शिकायत उन्होंने कई बार पंचायत में की, पर पंचायत के जिम्मेदार लोग एक कान से सुनकर दूसरे कान से निकाल दिए। उन्होंने ये भी बताया कि उनके पास रहने के लिए घर नहीं है और इस विषय को लेकर उन्होंने कहा कि मैं बड़े अधिकारी के पास शिकायत करूंगी, तब आनन-फानन में सरपंच, सचिव व आवास मित्र के द्वारा उन्हें आंगनबाड़ी के रसोई घर में रहने को जगह दी गई और कहा गया कि आपका मकान बनते तक आंगनबाड़ी के रसोई घर में रहिये, जल्द ही आपके लिए आवास का निर्माण किया जाएगा। लेकिन आज 2 साल बीत गए ना तो मकान बना और ना ही कोई व्यवस्था की गई। आज भी वह आंगनबाड़ी के एक छोटे से रसोई घर में रह रही है जहां पर ना तो बिजली है और ना पानी की सुविधा और ना ही शौचालय। पूर्व में उनके पास जीवन यापन के लिए कार्ड के जरिए राशन मिलता था लेकिन किसी कारणवश वह भी नहीं मिल रहा है।

जब इस विषय में उन्होंने सेल्समैन से पूछा तो उन्हें बताया गया कि उनका नाम लिस्ट में नहीं है। इसकी शिकायत कई बार पंचायत को की गई लेकिन किसी प्रकार की मदद नहीं मिली।

 कुछ ग्रामीणों ने अपना नाम नहीं छापने के शर्त पर बताया कि सरपंच, सचिव, व आवास मित्र की मिलीभगत से गांव में बने कई ऐसे आवास है जिनका निर्माण अधूरा है और उसकी पूरी राशि निकाल ली गई है। इसी प्रकार पूर्व में कई ऐसे निर्माण कार्य भी हुए है  जो सिर्फ कागजों में हैं लेकिन जमीनी स्तर पर कोई कार्य नहीं किया गया है। शासकीय पैसे का दुरुपयोग किया गया है।

इस विषय में मंगतिन कश्यप सरपंच से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि यह सब काम आवास मित्र खिरेंद्र जोशी ही देखते थे, वही इसकी जानकारी दे पाएंगे।

इस विषय में पूर्व सरपंच सुखदेव कश्यप से जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया कि पंचायत के द्वारा हितग्राही भगवती पांडे को रहने की व्यवस्था आंगनबाड़ी में की गई। राशि का आहरण किया गया है, इसकी मुझे कोई जानकारी नहीं है। यह सब जानकारी आवास मित्र दे पाएंगे क्योंकि वही सब काम देखते थे और आवास मित्र द्वारा ही दस्तख़त करने पर पैसा निकलता था और बैंक का काम भी वही करते थे।

इस विषय में आवास मित्र खिरेंद्र जोशी से जानकारी ली गई तो उनके द्वारा किसी भी प्रकार की जानकारी देने से मना किया गया।


28-Nov-2020 9:46 PM 39

जगदलपुर, 28 नवम्बर। चांदनी चौक पर लगे ट्रैफिक सिग्नल के पोल को दंतेवाड़ा से आ रही ट्रक क्रमांक सीजी 18 के 3570 के चालक ने वाहन से अपना नियंत्रण खो कर ठोकर मार दिया, जिससे ट्रैफिक सिग्नल का पोल क्षतिग्रस्त हो गया है, जिसके चलते सिग्नल भी बंद हो गया  है। पुलिस ने ट्रक को जब्त कर सिटी कोतवाली परिसर में रखा है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार घटना शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात की है। विदित हो कि इसके पूर्व भी इसी ट्रैफिक सिग्नल को एक ट्रक के द्वारा ठोकर मारकर क्षतिग्रस्त किया गया था और उसे काफी मशक्कत के बाद सुधारा गया था।

 


28-Nov-2020 9:44 PM 40

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 28 नवम्बर। कलेक्टर रजत बंसल ने धान खरीदी के दौरान उपार्जन केन्द्रों की सतत निगरानी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने धान खरीदी केन्द्रों में सभी आवश्यक तैयारियां सुनिश्चित करने के निर्देश दिए, जिससे धान बेचने वाले किसानों को किसी भी प्रकार की समस्या न हो।

कलेक्टर ने कहा कि धान खरीदी छत्तीसगढ़ शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है का कार्य है तथा इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। धान खरीदी के दौरान किसानों को किसी प्रकार की परेशानी हो, इसलिए धान खरीदी के लिए टोकन अधिकतम एक सप्ताह के अवधि तक के लिए दिए जाएंगे। किसानों को जारी टोकन में उल्लेखित तारीख तक किसी कारणवश यदि कोई किसान धान नहीं बेच पाता है तो उन्हें पुन: नया टोकन जारी किया जाएगा।

    धान खरीदी के लिए आवश्यक बारदाने की व्यवस्था खरीदी के पूर्व करने के निर्देश दिए गए हैं। पीडीएस सिस्टम एवं मिलरों से प्राप्त बारदानों का भौतिक सत्यापन करा लें और धान खरीदी केन्द्रों में चबूतरा निर्माण सहित खरीदी केन्द्र के चारों तरफ सुरक्षा के लिए घेरा की व्यवस्था, ड्रेनेज सिस्टम, बारदाना, तालपतरी, कांटा-बांट सत्यापन, मास्चर मीटर, बोर्ड लगाने का कार्य खरीदी शुरू होने से पूर्व पूरा कर ऑनलाईन रिपोर्ट अपलोड करने के निर्देश दिए गए। चबूतरा निर्माण का कार्य पूर्ण नही हो पाया है, वे 30 नवम्बर तक निर्माण कार्य पूरा कराएं।

    कलेक्टर ने सीजी पोर्टल, जन चैपाल, गुहार एप्प सहित समय-सीमा के प्रकरणों का समाधानकारक निराकरण तत्काल करने के निर्देश दिए। बैठक में वन मंडलाधिकारी सुश्री स्टायलो मंडावी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी इंद्रजीत चंद्रवाल, सहायक कलेक्टर सुश्री रेना जमील, अपर कलेक्टर अरविंद एक्का सहित जिलास्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।


28-Nov-2020 9:41 PM 112

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 29 नवम्बर। बस्तर संभाग के बीजापुर के जंगल में बाघ देखे जाने की खबर वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

 बीजापुर के इन्द्रावती राष्ट्रीय उद्यान इलाके में बाघ देखे जाने की बाते सामने आने के बाद वन विभाग के कान खड़े हो गए हैं। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो दरअसल बीजापुर का बताया जा रहा है। तस्वीरें किसी अन्य स्थान की भी हो सकती है, इसकी तस्दीक भी की जा रही है।

वन विभाग तस्दीक के लिए वनकर्मियों की दो टीमें रवाना की गई है। हालांकि एक वीडियो में जिसमें बाघ जंगल से निकलकर नदी में पानी पीता नजर आ रहा है, दावा किया जा रहा है कि संबंधित वीडियो पटनम ईलाके में रामपुरम के आस-पास का है, हालांकि बाघ द्वारा गत दिनों एक दो मवेशियों को अपना शिकार बनाये जाने की शिकायत ग्रामीणों द्वारा की गई है,जिसके आधार और वायरल वीडियो को लेकर वन विभाग बाघ का सुराग पता लगा रही है। वहीं वन विभाग की ओर से ग्रामीणों को सचेत और सावधानी बरतने की नसीहत जरूर दी गयी है।

इधर कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान के डायरेक्टर अशोक पटेल का कहना है कि इलाके से दो वीडियो वायरल हो रही है एक में सागौन पेड़ के पास बाघ नजर आ रहा है जो बेपरवाह घूम रहा है इससे ये नहीं लगता कि बाघ बीजापुर इलाके का है। हां नदी किनारे पानी पीने आये बाघ को ट्रेस करवाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि अगर टाइगर रिजर्व में बाघ दिखा है तो विभाग के लिये अच्छी खबर है। टीम के लौटने के बाद ज्यादा जानकारी मिल पाएगी।


28-Nov-2020 9:34 PM 27

बकावंड, 28 नवम्बर।भारतीय जनता पार्टी करपावंड मंडल में प्रशिक्षण की तैयारी को लेकर के बैठक की गई। उक्त बैठक पूर्व प्रदेश महामंत्री व पूर्व विधायक डॉ. सुभाउ कश्यप के निर्देशन में बैठक संपन्न हुई। मंडल प्रभारी वेद प्रकाश पांडे एवं मंडल अध्यक्ष  परीस राम बेसरा के द्वारा पूरी तैयारी को सुनिश्चित किया गया है। ज्येष्ठ, श्रेष्ठ व वरिष्ठ सभी कार्यकर्ता की उपस्थिति में पार्टी के रीति नीति सिद्धांत को लेकर के चर्चा हुई। आगामी समय में प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न होना है। शुद्ध राम कश्यप उपाध्यक्ष, रमेश कश्यप उपाध्यक्ष, पुलकेस्वर पांडे महामंत्री, नंद लाल देवांगन, महामंत्री, अशोक ठाकुर कोषाध्यक्ष, श्रीमती पिताई  मंत्री व कार्यकर्ता उक्त कार्यक्रम में उपस्थिति रहे।


28-Nov-2020 9:34 PM 36

जगदलपुर, 28 नवम्बर। पूर्व मंत्री एवं प्रदेश भाजपा प्रवक्ता केदार कश्यप  के बयान पर  पलटवार करते हुए प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा है कि कांग्रेस सरकार  किसानों से किए गए वादे पर अडिग है। छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से धान खरीदी होगी।  टोकन पहले से दिये जा रहे हैं। यह टोकन 7 दिन के लिये वेलिड होंगे। यदि कोई किसान अपने टोकन पर धान नहीं बेच पाया तो उसे फिर से टोकन जारी कर दिया जायेगा। इस प्रकार धान खरीदी सुव्यवस्थित रूप में चलेगी। सब का धान खरीदा जायेगा। 2500 रूपये में खरीदा जायेगा।

आलोक दुबे ने कहा है कि भाजपा द्वारा लगातार धान खरीदी में बाधा डालने की कोशिशे की गयीं है और की जा रही है। कभी भाजपा की केन्द्र सरकार द्वारा कहा गया सेन्ट्रल पुल में छत्तीसगढ़ के किसान के धान से बना चावल नहीं लिया जायेगा।पूर्व मंत्री केदार कश्यप यह बताएं कि इस साल भाजपा की केन्द्र सरकार धान खरीदी के लिये बारदानों की उपलब्धता में बाधा क्यों डाल रही है। बारदाने उपलब्ध न होने पर भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार इन तमाम समस्याओं का मुकाबला करते हुये अपने वादे को पूरा करते हुये किसानों के धान की खरीदी 1 दिसंबर से करने जा रही है। छत्तीसगढ़ में सुव्यवस्थित रूप से धान की खरीदी होगी। धान बिचौलियों, धान दलालों और धान खरीदी में गड़बड़ी कर किसानों को परेशान करने वालों को कोई प्रश्रय नहीं मिलेगा। प्रदेश के बाहर का धान नहीं, छत्तीसगढ़ के किसानों का उगाया हुआ धान छत्तीसगढ़ के सोसाइटियों में 2500 रूपये में खरीदा जायेगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने धान का दाम 2500 रू. देते हुये पहले साल 80 लाख टन से अधिक और दूसरे साल 83 लाख टन धान की खरीदी की है। भाजपा की 15 साल की सरकार में तो 12 लाख किसानों से ही औसत 50 लाख टन धान ही प्रतिवर्ष खरीदा गया।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा है कि छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष  मोहन मरकाम के दिशा निर्देश  एवं मार्गदर्शन में धान खरीदी में निगरानी हेतु कांग्रेस की त्रिस्तरीय समितियां काम करेगी और जिला, ब्लॉक एवं केन्द्र वार धान खरीदी पर निगरानी रखी जाएगी। धान खरीदी की सुव्यवस्थित तैयारियों से भाजपा की पोल खुल गई है शायद इसलिए वह अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं।


28-Nov-2020 9:31 PM 49

जगदलपुर, 28 नवम्बर। लालबाग आमागुड़ा चौक की ओर से शहर आ रही एक स्कार्पियो वाहन के चालक ने वहां से नियंत्रण खो दिया और वाहन बस्तर संभाग आयुक्त बंगले के किनारे स्थित नाली में घुस गई। इस घटना के बाद हुई आवाज सुनकर कमिश्नर कार्यालय के सुरक्षा कर्मचारी घटनास्थल पर पहुंचे और वाहन में सवार चालक को महारानी अस्पताल भेजा। हालांकि वाहन चालक बस में बैठे लोगों को गंभीर चोट नहीं लगी है। वाहन क्रमांक सीजी 18 टी 0344 वाहन के दो चक्के पूरी तरह से नाली में घुस गई। इस वाहन को दोपहर तक नाली से बाहर काफी मशक्कत के बाद निकाला जा सका ।


28-Nov-2020 9:28 PM 33

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 28 नवम्बर। कलेक्टर रजत बंसल ने आज जगदलपुर शहर में चल रहे विकास कार्यों का जायजा लिया और निर्माणाधीन कार्यों की लेटलतीफी पर कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए कार्यों की गति में तेजी लाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने शनिवार सुबह लालबाग, शहीद पार्क, सिटी ग्राउंड, इतवारी बाजार, पुरानी मंडी, गीदम रोड और जिला संग्रहालय में संचालित कार्यों का जायजा लिया।

कलेक्टर ने सिटी ग्राउण्ड के उन्नयन के लिए किए जा रहे कार्य की धीमी गति पर नाराजगी जाहिर करते हुए कार्य में गति लाने के निर्देश दिए। गीदम मार्ग के चैड़ीकरण कार्य का जायजा लेने के साथ ही उन्होंने यहां अमृत मिशन के तहत किए जा रहे कार्य का अवलोकन भी किया। इतवारी बाजार को व्यवस्थित करने का कार्य शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश उन्होंने दिए। उन्होंने शहीद पार्क स्थित स्वीमिंग पुल और गढ़ कलेवा का निरीक्षण भी किया ।

इस दौरान सहायक कलेक्टर रेना जमील, अनुविभागीय दण्डाधिकारी जीआर मरकाम, नगर निगम आयुक्त प्रेम कुमार पटेल, लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन अभियंता राजीव बत्रा, विद्युत विभाग के कार्यपालन अभियंता नवीन पायोम उपस्थित थे।


28-Nov-2020 9:27 PM 26

जगदलपुर, 28 नवंबर। नगर के प्रतिष्ठित व्यवसायी परिवार के राजेश राव नायडू (52) का शनिवार की दोपहर 2 बजे विशाखापट्टनम में उपचार के दौरान निधन हो गया। वे डेढ़ माह से विशाखापट्टनम के हास्पिटल में भर्ती थे।

वे प्रभाकर राव, कृष्णा राव, जयंत राव नायडू के छोटे भाई थे। वे अपने पीछे पत्नी सहित दो बच्चों का भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं। उनका पार्थिव देह विशाखापटनम से जगदलपुर लाया जा रहा है। रविवार की सुबह उनका अंतिम संस्कार स्थानीय मुक्तिधाम में किया जाएगा।


28-Nov-2020 9:25 PM 29

जगदलपुर, २८ नवंबर। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका संघ की प्रांताध्यक्ष रुकमनी सज्जन ने पूर्व से चली आ रही ५ सूत्रीय मांगों के समर्थन में २८ नवम्बर को कोंडागांव जिले के जुगानी में आंदोलन का आगाज किया है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने चुनाव पूर्व हमारे मांगों को पूर्ण करने का आश्वासन दिया था एवं चुनावी घोषणापत्र में मांग पूरा होने के उल्लेख बावजूद भी अभी तक किसी भी प्रकार की कार्रवाई अपेक्षित है, जिसके कारण एक लंबी अवधि गुजर जाने के बाद प्रदेश के कार्यकर्ता एवं सहायिका में आक्रोश होना स्वाभाविक है। बावजूद भी हम आज भी प्रदेश के मुखिया  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल  से आशान्वित हैं, जिसके कारण प्रदेश के भीतर हम आंदोलन से दूर रहे हैं। यदि हमारी मांगे बहुत जल्द पूरी नहीं होती है तो उग्र आंदोलन होगी।

प्रदेश के  संगठन के द्वारा १० दिसंबर का प्रस्तावित आंदोलन का हम समर्थन करते हैं। बस्तर संभाग के सभी जिलों में सोशल डिस्टेंस बनाते हुए जिला मुख्यालय में प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री का ज्ञापन कलेक्टर को सौंपेंगे।

बैठक में संघ के नव निर्वाचित संघरक्षक चंद्रीका सिंग तथा कोंडागांव जिला अध्यक्ष  पुष्पा राय कांकेर जिला अध्यक्ष जयश्री राजपूत जगदलपुर जिला अध्यक्ष प्रेमवती नाग नारायणपुर जिला अध्यक्ष देशांत्री भद्रे  दंतेवाड़ा जिला अध्यक्ष किरण नाग सुकमा जिला अध्यक्ष दयावती यालम बिलासपुर जिला अध्यक्ष हेमलता ठाकुर,  महामंत्री  शैल जैन तथा बड़ी संख्या में कार्यकर्ता की उपस्थिति थीं।--------


28-Nov-2020 9:24 PM 32

जगदलपुर, २८ नवंबर। लाल बाग स्थित नक्षत्र वाटिका को अमृत मिशन योजना के तहत लाखों रुपए की लागत से संवारने का कार्य किया जा रहा है। ठेकेदार द्वारा कार्य में विलंब किए जाने से नक्षत्र वाटिका को पहुंच रही क्षति से लोगों में काफी नाराजगी है।

नेहरू मंडप के पास स्थित नक्षत्र वाटिका को अमृत मिशन योजना के तहत लखनऊ ७५ लाख रुपए की लागत से संवारा जा रहा है, लेकिन चार दिवारी और फुटपाथ के निर्माण में हो रही देरी से नक्षत्र वाटिका की देखरेख कर रही समिति के सदस्यों ने नाराजगी व्यक्त की है।

सदस्यों का कहना है कि ठेकेदार कार्य में लापरवाही बरत रहा है जिसके चलते नक्षत्र वाटिका को काफी क्षति पहुंच रही है। नक्षत्र वाटिका देखरेख समिति के सदस्य प्रमोद मोतीवाला ने बताया कि ठेकेदार द्वारा चारदीवारी बनाने में अभिलंब की जा रही है जिसके चलते शाम होते ही असामाजिक तत्वों का डेरा नक्षत्र वाटिका में हो जाता है। इनके द्वारा बगीचे के पौधों को भी क्षति पहुंचाई जा रही है। हमारे समिति के सदस्यों द्वारा लगभग १  बोरी शराब की बोतलें नक्षत्र वाटिका से एकत्रित कर फेंका गया।

उन्होंने नक्षत्र वाटिका को संवारने ने नगर निगम और जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए निर्माण कार्यों को शीघ्र पूरा किए जाने के लिए विभागीय अधिकारियों से गंभीरता के साथ प्रयास करने का अनुरोध किया।

विदित हो कि नक्षत्र वाटिका के कार्य में हो रहे विलंब को लेकर कलेक्टर रजत बंसल द्वारा नगर निगम अमृत योजना के इंजीनियरों के साथ ही ठेकेदार को भी कार्य शीघ्र पूर्ण करने का निर्देश दिया था लेकिन अब तक ठेकेदार द्वारा कार्य पूरा नहीं किया गया है। कलेक्टर के निर्देश पर सहायक कलेक्टर रैना जमील नक्षत्र वाटिका के  कार्यों का  निरीक्षण कर रही हैं। उम्मीद है नक्षत्र वाटिका शीघ्र ही अपने आकर्षक रूप में लोगों के समक्ष होगी।


28-Nov-2020 9:21 PM 248

  डीएफओ ने जांच कर कार्रवाई के दिए निर्देश   

जगदलपुर, २८ नवम्बर। बकावंड ब्लाक के अंतर्गत ग्राम पंचायत मालगांव की शासकीय वन भूमि पर करीतगांव के सरपंच व ग्रामीणों द्वारा मिलकर इमारती लकड़ी काटकर धान खरीदी केंद्र बनाने का आरोप मालगांव के ग्रामीणों द्वारा लगाया जा रहा है।

इस संबंध में वनमण्डलाधिकारी बस्तर स्टाइलो मंडावी से जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया आपके माध्यम से जो जानकारी हमें मिली थी कि फॉरेस्ट के जमीन पर धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा, जिसे मैंने तुरंत बंद करवाने का आदेश दिया था लेकिन उसके बावजूद भी अगर वहां पर काम चल रहा है, तो यह गलत है। समझाइश देने के बाद भी अगर इस तरह की स्थिति बनी है,तो उन पर कार्रवाई भी की जाएगी।

जानकारी के मुताबिक ग्राम पंचायत मालगांव के ग्रामीणों का आरोप है कि मालगांव के शासकीय वन भूमि पर करीतगांव के सरपंच की शह पर ग्रामीणों द्वारा इमारती पेड़ काटकर उक्त भूमि पर धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा है जिसकी वन विभाग से कोई अनुमति नहीं ली गई है। उसके बाद भी वन अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

मालगांव के ग्रामीणों द्वारा जब इसका विरोध कर पूछा गया कि आप किस आदेश के तहत पेड़ काटकर यहां खरीदी केंद्र बना रहे हैं तो करीतगांव के सरपंच व ग्रामीण लड़ाई-झगड़ा पर उतर आए और कहा कि हमने फॉरेस्ट के अधिकारियों को जानकारी दे दी है और हमें अनुमति भी दिया गया है।

अपना नाम नहीं छापने की शर्त में मालगांव के कुछ ग्रामीणों ने बताया कि हमने शुरू में ही जब यहां पेड़ काट रहे थे, तब फॉरेस्ट के अधिकारी को बताया था लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की।

इस विषय में च्छत्तीसगढ़ज् संवाददाता ने जब मौके पर जाकर देखा तो निर्माण कार्य के लिए गड्ढे खोदे गए थे। इसको लेकर जब डीएफओ से जानकारी ली गई तो उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं थी। डीएफओ ने तत्काल उस एरिया के संबंधित अधिकारी से फोन पर इस विषय को ले कर जांच कर कार्रवाई के लिए कहा। अधिकारी के कहने पर आनन-फानन में अवैध रूप से किए गए निर्माण कार्य के लिए गड्ढे को तत्काल मिट्टी से भर दिया गया।

मालगांव जनपद सदस्य भोलानाथ नाग ने बताया कि यह जमीन मालगांव के क्षेत्र में आती है, हमसे बिना पूछे ही पेड़ काटकर यहां धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा है, इसका हम सब मिलकर विरोध करते हैं। हम अपने जमीन में धान खरीदी केंद्र बनने नहीं देंगे, इसको लेकर हमने कलेक्टर को भी सीमा सीमांकन के लिए आवेदन दिया है। कलेक्टर साहब से भी अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है हमारे पूर्वज इस जमीन, इस जंगल की देखरेख व रक्षा हमेशा करते आए हैं।

मालगांव ग्रामीण रामेश्वर कश्यप ने बताया कि करीतगांव पंचायत वाले मालगांव की शासकीय जमीन फॉरेस्ट भूमि पर जंगल काटकर लेम्स का निर्माण कर रहे हैं और फॉरेस्ट अधिकारी भी आते नहीं है इसकी शिकायत यहां के नाकेदार को भी की गई है लेकिन अभी तक वह आए नहीं. न जाने कहां ड्यूटी करते हैं और उनकी ड्यूटी क्या है, कभी भी बुलाने से आते ही नहीं है। हम लोग विरोध करते हैं और इस जमीन में हम धान खरीदी केंद्र बनने नहीं देंगे क्योंकि हमारे पूर्वज इस जंगल के रक्षा पीढ़ी दर पीढ़ी करते आ रहे हैं।

मालगांव ग्रामीण हेमराज कश्यप ने बताया कि यह जमीन हमारे पंचायत में आती है। पंचायत से बिना पूछे ही यहां के सरगी के पेड़ काटकर धान खरीदी केंद्र बनाया जा रहा है जिसकी जानकारी हमें व पंचायत को मिली ही नहीं हम इसका विरोध करते है। यदि यह जमीन करीतगांव में आती है तो करीतगांव वाले रिकॉर्ड दिखा दे हम इस जमीन को छोड़ देंगे। पेड़ काटने की जानकारी फॉरेस्ट को है वह चुप हैं और कार्रवाई न कर  छुपते नजऱ आ रहे हैं। हमको जानकारी मिली कि यहां कुछ बन रहा है तो यहां आ कर देखें तो यहां कॉलम के लिए गड्ढा खोदा गया है। फिर दो दिन के बाद उस गड्ढे को भर दिया गया। वहीं करीतगांव के लोग बोल रहे हैं कि यह जमीन उनकी है तो खोदे गए गड्ढों को क्यों भरा गया और निर्माण कार्य क्यों नहीं किया गया यदि उनको अनुमति मिल चुकी है।

जनपद उपाध्यक्ष बकावंड रामानुज आचार्य ने बताया कि मालगांव से सहमति लेना या करीतगांव से पूछना है यह तो जनहित का कार्य है। यह जमीन किसकी है हमको जानकारी नहीं है। यह मालगांव की है कि जुनवानी की है या करीतगांव की। यहां के ४ पंचायत के किसानों की सहमति से यह बन रहा है। यह जमीन बीच में है, इसलिए बनाया जा रहा है। आज से १ साल पहले जुनवानी और करीतगांव एक ही पंचायत हुआ करता था। एक पंचायत होने के कारण जुनवानी को लगता था कि जमीन उनकी है, उस हिसाब से इस जमीन में निर्माण कार्य कर रहे थे। करीतगांव में राजस्व जमीन वर्तमान में नहीं है। जनता के हित के लिए है। इसमें ना तो सरकार ना तो मालगांव ना ही किसी प्रकार से हितग्राही को आपत्ति होनी चाहिए। मैं सभी से निवेदन करुंगा आपसी समझौता से कार्य करें, ताकि किसी को परेशानी ना हो।

करीतगांव सरपंच गुनेश्वर बघेल ने बताया कि मालगांव की जमीन होती तो परमिशन हम लेते। हम तो नहीं जानते कि यह जमीन मालगांव में आती है। ५० वर्षों से यह जमीन ग्राम जुनवानी की है और ४ पंचायत के सहमति से यह बन रहा है। रिकॉर्ड तो हम नहीं देखे हैं हमें नहीं पता, लेकिन हम यह जानते हैं कि यह जमीन ग्राम जुनवानी के क्षेत्र में है। हम लोग धान खरीदी केंद्र बनाने के लिए गड्ढा किए थे लेकिन फॉरेस्ट के अधिकारी द्वारा मना किया गया। फॉरेस्ट वाले बोले कि अभी नहीं बनाओ, आप लोग लेटर दिए हैं आपको जब अनुमति मिल जाएगी तो बनाना विधायक से भी बात हुई है डीएफओ मैडम, विधायक महोदय से बात की है।


28-Nov-2020 8:26 PM 17

  खेलों को बढ़ावा देने 24 करोड़ से खेल मैदानों का जीर्णोद्धार   

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 28 नवम्बर। बस्तर जिला मास्टर ऐथेलिट्स संघ द्वारा जगदलपुर विधानसभा के हल्बा कचोरा में खेल-कूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें  रेखचंद जैन बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए।

 संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने खिलाडिय़ों का हौसला अफजाई करते हुए कहा कि जीवन में हार-जीत का अनुभव लेकर जो चलता है उसे निश्चित ही सफलता मिलती है। इसी प्रकार खेल में भी इस अनुभव का पालन करना चाहिए। संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने आगे कहा कि छोटी सी मुसीबत से घबरा जाए वो अनाड़ी होता है,हार को सामने देखकर जो लड़ जाए वो खिलाड़ी होता है।

संसदीय सचिव  रेखचंद जैन ने बताया कि खेलों के विकास के लिए खेल प्राधिकरण का गठन किया गया है जिसके माध्यम से बस्तर जिला मुख्यालय के  प्रमुख  खेल मैदानों हाता ग्राउंड, सिटी ग्राऊंड़, प्रियदर्शनी इंदिरा स्टेडियम, खेल परिसर धरमपुरा व गारावंड़ कला मैदान के उन्नयन का कार्य हेतु लगभग 24 करोड रुपए की लागत से किया जा रहा है।

संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने  पटवारी स्व. राजेंद्र पानीग्राही व विजय वार्ड निवासी कमला दुबे को नगर के लिए गौरव बताया, साथ ही गत वर्षों में श्रीलंका में वेटरन प्रतियोगिता में शामिल होने गये स्व. राजेंद्र पानीग्राही के निधन को अपना व्यक्तिगत क्षति बताया। इस दौरान कमला दूबे के खेल के प्रति समर्पण की जमकर तारीफ की।

गोला फेंक कर खिलाडिय़ों का बढ़ाया हौसला

संसदीय सचिव रेखचंद जैन को खिलाडिय़ों ने गोला फेंकने के लिए आमंत्रित किया तो वह भी जोशीले अंदाज में गोला फेंक कर खिलाडिय़ों में जोश भरा। खिलाडिय़ों ने भी ताली बजाकर उत्साहवर्धन किया।

इस दौरान आनंद जीत सिंह, अशोक नायडू, योगेन्द्र साहू,  ब्लाक अध्यक्ष विरेंद्र साहनी विद्या जीराम, श्री चौधरी सरपंच प्रकाश कश्यप ने भी मास्टर ऐथेलिट्स खेलों के संबंध में अपनी बातों को रखा। कार्यक्रम का संचालन नगरनार ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के महामंत्री व वेटरन खिलाड़ी गुलरेज साहा ने किया और उन्होंने अतिथियों का आभार भी माना।

 कार्यक्रम में जिला महामंत्री हेमु उपाध्याय, आईटी सेल प्रदेश महासचिव योगेश पानीग्राही, इंटक प्रदेश सचिव विजय सिंह, ब्लॉक युवा कांग्रेस अध्यक्ष संतोष सेठिया,  उपसरपंच लोकनाथ कश्यप, सचिव पूर्णिमा गुप्ता, ममता राव, मंगल अज, दीपा मांझी, हेमलता नाग, कमला कश्यप, रमा कर्मा, शांति उसेंडी, जैकलिन डॉन सहित खिलाड़ी गण एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


28-Nov-2020 2:45 PM 25

बस्तर के रागी, कोदो, कुटकी, महुआ, काजू, इमली आदि से बनाया जा रहा स्वादिष्ट और स्वास्थवर्धक कुकीज

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 26 नवम्बर। महिला स्व-सहायता समूह के माध्यम से बस्तर के रागी, कोदों, कुटकी, महुआ, काजू, इमली से  स्वादिष्ट और स्वास्थवर्धक खाद्य सामाग्री का निर्माण और विक्रय किया जा रहा है। जगदलपुर जिला मुख्यालय के समीप स्थित कुदाल गांव की जय मां काली स्व-सहायता समूह द्वारा संचालित आमचो बस्तर बेकरी में रागी, कोदो, कुटकी, महुआ, काजू, इमली आदि से कुकीज और अन्य उत्पाद का निर्माण महिलाओं के द्वारा किया जा रहा है। समूह की महिलाओं के द्वारा बाजार में उपलब्ध कुकीज से हटकर बस्तर के रागी, कोदो, कुटकी, महुआ, काजू, इमली आदि से कुकीज का भी निर्माण किया जा रहा है, जो कि स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थवर्धक एवं पोषक तत्वों से भरपूर है।

रागी, कोदो, कुटकी, काजू और महुआ में पोषक तत्वों की प्रचूरता होती है, जो शरीर के लिए आवश्यक तत्वों की पूर्ति करते है। ये पोषक तत्व रक्तचाप, खून की कमी, लिवर से संबंधित बीमारियों, मोटापे, हृदय, स्नायु तंत्र, त्वचा, बालों, आंखों, पेट के रोगों में लाभदायक होते है। कोरोना महामारी में उक्त उत्पादों से बने कुकीज इसलिए भी महत्वपूर्णं है क्योंकि ये शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करते है। इसके अलावा समूह द्वारा कोकोनट, चॉकलेट, जीरा, मिल्क, शुगर फ्री, नमकीन, हनी आदि कुकीज का भी निर्णय किया जा रहा है, साथ ही अनेक तरह के खाखरा, केक, महुआ और इमली चॉकलेट का भी निर्माण करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

 एनआरएलएम के द्वारा महिला समूह द्वारा बनाए जा रहे उत्पाद के लिए प्रयास किया जा रहा है कि निर्माण प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाले कच्चा माल कोदो, कुटकी, रागी, रेड राइस, इमली, महुआ आदि स्थानीय समूहों और बाजार से क्रय किया जाए जिस से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से अन्य ग्रामीणों को भी लाभ पहुँच सके। इन कुकीज को बाजार में अच्छा प्रतिसाद प्राप्त हो रहा है, जिससे समूह के हौसले बुलंद है। वर्तमान में 10 प्रकार के कुकीज को लॉन्च किया गया है।

कुदाल गांव, बस्तर की जय माँ काली महिला स्व-सहायता समूह को फूड प्रोसेसिंग एवं बेकरी का प्रशिक्षण दिया गया है। जिस में कुकीज के अलावा खाकरा, केक, चॉकलेट एवं अन्य उत्पाद बनाने का भी प्रशिक्षण दी जा रही है। कोरोना काल में महिलाओं के आजीविका के लिए जिला प्रशासन के इस प्रयास से महिलाओं के आमदनी में वृद्धि हो रही है।


28-Nov-2020 2:43 PM 28

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 27 नवम्बर। नि:शक्तजन व दिव्यांगजनों के चेहरे में खुशियां लाने के मकसद से जगदलपुर  विधायक रेखचंद जैन लगातार प्रयासरत हैं और इसके लिए वह लगभग एक माह में दस से बारह दिव्यांगजनों को राहत दिलाए हैं। शुक्रवार को भी संतोषी वार्ड निवासी प्रभुदास एवं आरती के घर विधायक व संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने पहुंचकर ट्रायसाइकिल व व्हील चेयर प्रदान किया गया। आरती को चलने फिरने व स्कूल जाने में सहयोग मिलेगा, वहीं प्रभु साहय अपनी नौकरी में समय में पहुंच सकेगा।

 मां संतोषी माता वार्ड की पार्षद  लता निषाद व वार्डवासियों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व संसदीय सचिव रेखचंद जैन, छत्तीसगढ़ के कांग्रेस  सरकार का दिल से धन्यवाद दिया व आभार व्यक्त किया। दिव्यांगजनों की मदद के लिए जब संसदीय सचिव वार्ड में पहुंचे तो वार्डवासियों में अलग ही खुशी देखने को मिली।

पार्षद लता निषाद ने कहा कि संसदीय सचिव व विधायक रेखचंद जैन द्वारा दिव्यांगजनों को लगातार सुविधा उपलब्ध करा रहे हैं। संतोषी वार्ड में भी दो दिनों के भीतर चार दिव्यांगों के लिए ट्रायसाइकिल व व्हील चेयर दिया गया।

 विधायक व संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने कहा कि संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा है कि अंतिम व्यक्ति तक शासन की योजनाओं का लाभ मिले खासकर नि:शक्त व दिव्यांग जनों को भी शासन की योजनाओं का लाभ दिलाया जाये।इसी तारतम्य में दिव्यांगजनों को समाज कल्याण योजनाओं का लाभ घर तक पहुंचा रहें हैं जिससे उनके जीवन में खुशियां आएंगी।