अंतरराष्ट्रीय

Posted Date : 11-Oct-2018
  • भारत द्वारा रूस से एस-400 मिसाइल सुरक्षा प्रणाली खरीदने के सौदे पर हस्ताक्षर करने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पहली बार प्रतिक्रिया दी है. ट्रंप के मुताबिक, ‘भारत को अब मेरे फैसले के बारे में जल्द ही पता चल जाएगा.’
    यह बात उन्होंने मीडिया से बातचीत के दौरान कही. इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ने ईरान के तेल का आयात जारी रखने वाले देशों को चेताते हुए कहा कि उन पर भी वे नजर बनाए हुए हैं. ग़ौरतलब है कि अमेरिका ने ‘काउंटरिंग अमेरिकाज़ एडवर्सरीज़ थ्रू सैंक्शंस एक्ट’ (काट्सा) के तहत रूस, ईरान और उत्तर कोरिया समेत कई देशों पर आर्थिक प्रतिबंध लगा रखे हैं. साथ ही चेतावानी दी है कि जो भी देश इन देशों के साथ कारोबारी संबंध रखेगा उसे भी अमेरिकी प्रतिबंधाें का सामना करना पड़ेगा. 
    इसके बावज़ूद भारत ने रूस से एस-400 मिसाइल सुरक्षा प्रणाली खरीदने का समझौता किया है. साथ ही ईरान से भी कच्चे तेल का आयात करते रहने की बात कही है. संभवत: इसीलिए ट्रंप ने भारत के प्रति यह सख़्त कदम उठाने का संकेत दिया है. हालांकि ख़बरें यह भी आती रही हैं कि अमेरिका काट्सा के तहत भारत जैसे कुछ नज़दीकी सहयोगी देशों को राहत दे सकता है. उन्हें विशेष परिस्थितियाें में अमेरिकी प्रतिबंधों से छूट दी जा सकती है. लेकिन इस पर भी अंतिम फैसला करने का अधिकार डोनाल्ड ट्रंप के पास ही है. (न्यूज18)

    ...
  •  


Posted Date : 10-Oct-2018
  • संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में अमरीका की राजदूत निकी हेली ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है। हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि उन्होंने किन वजहों से इस्तीफा देने का फैसला किया। पहले अटकलें लग रही थीं कि वे 2020 में राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ सकती हैं। लेकिन मंगलवार को इस्तीफा देने के बाद उन्होंने इन्हें खारिज किया। हालांकि उन्होंने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप के पक्ष में वे प्रचार का काम जरूर करेंगी।
    स्थानीय खबरों के मुताबिक निकी हेली ने बीते हफ्ते व्हाइट हाउस में डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की थी और उसी दौरान उन्होंने अपने पद से इस्तीफा देने की इच्छा भी जताई थी। उधर इस घटनाक्रम से पहले डोनाल्ड ट्रंप ने एक ट्वीट में लिखा था, मंगलवार को व्हाइट हाउस के ओवल कार्यालय में मेरी दोस्त निकी हेली एक बड़ी घोषणा करने वाली हैं।
    यूएन में अमरीका की स्थायी प्रतिनिधि बनने से पहले निकी हेली साउथ करोलीना की गवर्नर के रूप में काम कर रह थीं। इसके अलावा भारतीय मूल की निकी हेली को ट्रंप के निकटतम सहयोगियों में से एक भी माना जाता रहा है। ऐसे में उनके इस्तीफे को ट्रंप प्रशासन के लिए एक बड़े झटके के तौर पर भी देखा जा रहा है। (एनडीटीवी )

     

    ...
  •  


Posted Date : 10-Oct-2018
  • बगदाद/ जॉर्डन, 10 अक्टूबर । पूर्व मिस इराक और मॉडल को हत्या की धमकी के बाद देश छोडऩा पड़ा है। पिछले महीने ही एक मॉडल को अपनी लाइफ स्टाइल के कारण मार दिया गया था, 2015 में मिस इराक चुनी गईं शिमा कासिम अब्दुलरहमान ने इराक छोड़कर जॉर्डन में शरण ले ली है। शिमा का कहना है कि इस्लामिक स्टेट औल लेवांत (आईएसआईएल) से जुड़े कुछ लोगों ने उन्हें अगली बारी तुम्हारी है का संदेश दिया।  
    शिमा का कहना है कि इसके बाद से वह अपने जीवन की सुरक्षा को लेकर बहुत डर गईं हैं और उन्होंने इराक छोडऩे का फैसला कर लिया। एक स्थानीय कुर्दिश समाचार चैनल को दिए बयान में उन्होंने कहा, मुझे हत्या की धमकी दी गई। मेरी जिंदगी को खतरा है। यहां बहुत सी महिलाओं की रोज हत्या हो ही है। मेरे लिए इराक में रहना खतरे से खाली नहीं था और इसलिए मैंने अपने देश को छोड़कर जॉर्डन में रहने का फैसला कर लिया है।
    पिछले सप्ताह ही बगदाद के मध्य हिस्से में मॉडल और इंस्टाग्राम स्टार की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। माना जा रहा है कि तारा फरेस नाम की 22 वर्षीय इस मॉडल की हत्या उनकी खास जीवनशैली की वजह से की गई है। फरेस गुरुवार को अपनी पोर्शे कार से बगदाद के कैंप साराह हिस्से से गुजर रही थीं, उसी वक्त उन पर गोलीबारी की गई। 
    इराक में सोशल मीडिया पर ऐक्टिव रहनेवाली और आधुनिक जीवनशैली वाली कई महिलाओं की हत्या की गई है। इराक की बॉर्बी डॉल कही जानेवालीं और प्लास्टिक सर्जन डॉक्टर रफील अल-यासीरी की भी हत्या की गई। हालांकि, इसे प्रशासन ने शुरुआती जांच में उनकी मौत को ड्रग्स ओवरडोज बताया था।  (नवभारत टाईम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 10-Oct-2018
  • संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में अमेरिका की राजदूत निकी हेली ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है. हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि उन्होंने किन वजहों से इस्तीफा देने का फैसला किया. पहले अटकलें लग रही थीं कि वे 2020 में राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ सकती हैं. लेकिन मंगलवार को इस्तीफा देने के बाद उन्होंने इन्हें खारिज किया. हालांकि उन्होंने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप के पक्ष में वे प्रचार का काम जरूर करेंगी.

    स्थानीय खबरों के मुताबिक निकी हेली ने बीते हफ्ते व्हाइट हाउस में डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की थी और उसी दौरान उन्होंने अपने पद से इस्तीफा देने की इच्छा भी जताई थी. उधर इस घटनाक्रम से पहले डोनाल्ड ट्रंप ने एक ट्वीट में लिखा था, ‘मंगलवार को व्हाइट हाउस के ओवल कार्यालय में मेरी दोस्त निकी हेली एक बड़ी घोषणा करने वाली हैं.’

    यूएन में अमेरिका की स्थायी प्रतिनिधि बनने से पहले निकी हेली साउथ करोलीना की गवर्नर के रूप में काम कर रह थीं. इसके अलावा भारतीय मूल की निकी हेली को ट्रंप के निकटतम सहयोगियों में से एक भी माना जाता रहा है. ऐसे में उनके इस्तीफे को ट्रंप प्रशासन के लिए एक बड़े झटके के तौर पर भी देखा जा रहा है. (एनडीटीवी )

    ...
  •  


Posted Date : 09-Oct-2018
  • बीजिंग, 9 अक्टूबर । चीन के अधिकारियों ने कहा है कि इंटरपोल के प्रमुख मेंग होंगवेई पर रिश्वत लेने का आरोप है जिसकी जांच-पड़ताल की जा रही है। मेंग होंगवेई चीन की हिरासत में हैं। होंगवेई पिछले महीने तब लापता हो गए थे जब वो फ्रांस के लियोन से चीन रवाना हुए थे।
    तब उनकी पत्नी ने बताया था कि मेंग ने चाकू वाली इमोजी भेजकर खतरे में होने का संदेश भेजा था। चीन के जन सुरक्षा मंत्रालय ने अपनी एक घोषणा में कहा है कि मेंग होंगवेई के खिलाफ जांच सही दिशा में बढ़ रही है और इससे भ्रष्टाचार के खिलाफ चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की प्रतिबद्धता का पता चलता है।
    इस मामले में इंटरपोल ने रविवार को एक बयान जारी कर कहा है कि उन्हें मेंग होंगवेई का इस्तीफा मिला है जिसे फौरन स्वीकार कर लिया गया है।
    वहीं मेंग होंगवेई की पत्नी को फ्रांस में अधिकारियों ने सुरक्षा मुहैया कराई है और होंगवेई के खिलाफ जांच भी शुरू कर दी है। बीजिंग में मौजूद संवाददाता रॉबिन ब्रेंट के मुताबिक, मेंग होंगवेई का मामला ये बताता है कि चीन का कानून और सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी का शासन किस तरह काम करता है, और इससे फर्क नहीं पड़ता कि संबंधित व्यक्ति चीन के भीतर हो या उसकी तैनाती फ्रांस में हो। इंटरपोल का प्रमुख बनने से पहले मेंग चीन में जन सुरक्षा विभाग के उप मंत्री रह चुके हैं। (बीबीसी)

     

    ...
  •  


Posted Date : 09-Oct-2018
  • मैक्सिको, 9 अक्टूबर । बीस महिलाओं की हत्या के मामले में मैक्सिकों सिटी पुलिस ने एक दंपत्ति को हिरासत में लिया है। दंपत्ति के पास मानव शरीर के अंग भी मिले हैं। पुलिस को शहर में 10 महिलाओं के हत्यारे की तलाश थी, लेकिन जब हत्यारे पकड़ में आए तो जानकारी मिली कि उन्होंने 10 नहीं बल्कि 20 महिलाओं की हत्या की है। पकड़े गए पुरुष ने कुछ महिला पीडि़तों के साथ रेप की बात भी कबूली है। साथ ही कहा कि वह कई के अंग भी बेच चुका है। सरकारी वकील अलजेंड्रो गोमेज ने यह जानकारी दी। गोमेज ने बताया कि इस दंपत्ति को गुरुवार को गिरफ्तार किया गया था।  
    गिरफ्तार पुरुष ने उन 10 हत्याओं के बारे में जानकारी जिनकी पुलिस को तलाश थी, साथ 10 अन्य हत्याओं के बारे में भी पुलिस को बताया। गामेज ने बताया, हत्यारे ने इन सभी घटनाओं को बेहद सामान्य बताया, यहां तक कि वह ये हत्या करने के बाद काफी अच्छा महसूस कर रहा था। मैक्सिको रेडियो नेटवर्क फॉम्र्युला सक इंटरव्यू में गोमेज ने कहा, यह जोड़ा चाहता था कि लोग इनकी तस्वीर देखें, उनका नाम जानें... निश्चित तौर पर मैं इस जोड़े को दिमागी तौर पर बीमार कहने की जगह हत्यारा या सीरियल किलर कहूंगा।
    दंपत्ति ने यह भी बताया कि उन्होंने एक जोड़े की हत्या कर उनके बच्चे कि एक दूसरे दंपत्ति को बेच दिया था। पुलिस ने बच्चा खरीदने वाले जोड़े को भी गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस गिरफ्तार आरोपियों की जांच के लिए डॉक्टरों की एक टीम को लगाया है। डॉक्टरों ने हत्या की आरोपी महिला को मानसिक तौर पर विक्षिप्त बताया है। 
    पुलिस ने जब उनके घर की तलाशी ली तो उनके घर में मानव अंग मिले, जो सीमेंट से भरी बाल्टी और रेफ्रिजरेटर में रखे हुए थे। आरोपी पुरुष ने जांचकर्ताओं को बताया वह और उसकी पत्नी अपने पीडि़तों को लालच देते थे। स्थानीय लोगों ने इस घटना के विरोध में प्रदर्शन किया और मारे गए लोगों की याद में फूल चढ़ाए। (एएफपी)

    ...
  •  


Posted Date : 09-Oct-2018
  • नई दिल्ली, 9 अक्टूबर । आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) का सरगना मसूद अजहर संभवत: मौत की कगार पर पहुंच गया है। भारतीय खुफिया एजेंसियों के सूत्रों के हवाले से यह खबर मिली है। इसके मुताबिक अजहर इस वक्त किसी जानलेवा बीमारी से जूझ रहा है और बिस्तर पर पड़ा हुआ है। उसकी हालत दिनों-दिन बिगड़ती जा रही है।
    अखबार के मुताबिक 50 वर्षीय मसूद अजहर की हालत अब ऐसी भी नहीं है कि वह अपने संगठन की गतिविधियां संचालित कर सके। बीमारी ने उसकी रीढ़ की हड्डी और गुर्दे (किडनी) पर काफी बुरा असर डाला है। बताया जाता है कि रावलपिंडी के सैन्य अस्पताल में उसका इलाज हो चुका है। लेकिन हालत में सुधार दिखाई नहीं हुआ है। बल्कि वह बीते डेढ़ साल से बिस्तर पर पड़ा हुआ है। इसी कारण से वह काफी समय से अपने गृहनगर- भावलपुर या पाकिस्तान की किसी अन्य जगह में दिखाई भी नहीं दिया है।
    बताया जाता है कि अजहर की गैरमौजूदगी में उसके दो छोटे भाई- रऊफ असगर और अतहर इब्राहिम संगठन की गतिविधियां संचालित कर रहे हैं। वे लगातार भारत और अफगानिस्तान में आतंकी हमलों के लिए अपने लड़ाके भेज रहे हैं। मसूद अजहर को 2001 में भारतीय संसद पर हुए आतंकी हमले का मुख्य साजिशकर्ता माना जाता है। साल 2005 में अयोध्या और 2016 में पठानकोट एयरबेस (भारतीय वायु सेना का अड्डा) पर हुए आतंकी हमलों के पीछे भी उसी का दिमाग रहा है।
    इन्हीं कारणों से भारत काफी समय से इस कोशिश में है कि अजहर को वैश्विक आतंकियों की संयुक्त राष्ट्र संघ की सूची में शामिल करा लिया जाए। उसके इस प्रयास को अमरीका, फ्रांस और ब्रिटेन जैसे देशों का भी समर्थन है। बल्कि अमरीका खुद अपनी तरफ से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इस बाबत प्रस्ताव पेश कर चुका है। लेकिन पाकिस्तान का मददगार चीन इस प्रस्ताव की राह में रोड़ा बना हुआ है। हालांकि भारतीय राजनयिक सूत्रों की मानें तो अजहर की बीमारी ने अब भारत की राह आसान कर दी है। (हिंदुस्तान टाईम्स)

     

    ...
  •  


Posted Date : 09-Oct-2018
  • इस्लामाबाद, 9 अक्टूबर। पाकिस्तान भारी नकदी संकट से जूझ रहा है और देश के सामने भुगतान संतुलन का संकट पैदा हो गया। पीटीआई के मुताबिक इस खतरे से निपटने के लिए पाकिस्तान की सरकार ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) का रुख किया है। पाक इस समस्या से निपटने के लिए आईएमएफ के सामने राहत पैकेज (बेलआउट) की गुहार लगा सकता है।
    शुरुआत में पाकिस्तान आईएमएफ से मदद लेने में हिचकिचा रहा था क्योंकि प्रधानमंत्री इमरान खान अतीत में आईएमएफ से मदद लेने का विरोध करते रहे हैं। लेकिन संकट बढ़ता देख उन्होंने खुद आईएमएफ से संपर्क करने का फैसला लिया और सोमवार को इसकी बाकायदा घोषणा कर दी गई। पाक वित्त मंत्री असद उमर का कहना है कि प्रधानमंत्री ने फैसले को मंजूरी दे दी है, अब जल्द ही आईएमएफ से बात शुरु की जाएगी।
    हालांकि, अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आईएमएफ को पाकिस्तान की मदद के लिए चेताया है। उन्होंने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से मिलने वाली मदद का इस्तेमाल पाकिस्तान चीन का कर्ज चुकाने में कर सकता है। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था मंदे निर्यात के कारण गहरे संकट में है। अगर आईएमएफ पाकिस्तान को मदद देता है तो यह उसका 13वां बेलआउट पैकेज होगा।  (पीटीआई)

     

    ...
  •  


Posted Date : 09-Oct-2018
  • ऑक्सफोर्ड के अंग्रेजी शब्दकोश में 1,400 नए शब्द, भाव और मुहावरे शामिल किए गए हैं. इनमें ‘इडियोक्रेसी’ शब्द भी शामिल है. शब्दकोश में यूनानी भाषा के प्रत्यय ‘क्रेसी’ से बने करीब 100 शब्द हैं जिसका अर्थ ‘शक्ति’ या ‘शासन’ होता है. नए शब्द इडियोक्रेसी का मतलब है ऐसा समाज जिसमें सत्ता अज्ञानी या जड़बुद्धि माने जाने वाले व्यक्ति के हाथ में होती है.

    डेमोक्रेसी और एरिस्टोक्रेसी जैसे शब्द प्राचीन यूनानी भाषा के हैं. 18वीं सदी तक ‘ओक्रेसी’ को अंग्रेजी शब्दों में शामिल किया जाने लगा था मसलन स्टेटोक्रेसी और मोबोक्रेसी. इस अंग्रेजी शब्दकोश को हर तीन महीने में अपडेट किया जाता है. इस बार इस प्रक्रिया में इसमें ‘ट्रेपो’ की परिभाषा भी जोड़ी गई है. फिलीपीनी अंग्रेजी में ट्रेपो का मतलब एक ऐसे राजनीतिज्ञ से है जिसके बारे में माना जाता है कि वह रूढ़िवादी एवं भ्रष्ट शासक वर्ग का है. (सत्याग्रह)

    ...
  •  


Posted Date : 08-Oct-2018
  • तुर्की, 8 अक्टूबर। तुर्की की सत्ताधारी एके पार्टी के एक शीर्ष अधिकारी ने दावा किया है कि सऊदी अरब के लापता पत्रकार जमाल खाशोज्जी की हत्या इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब के वाणिज्यिक दूतावास में किए जाने के सबूत तुर्की के जांचकर्ताओं को मिले हैं। शनिवार को तुर्की के दो अधिकारियों ने कहा था कि हत्या सोच समझकर की गई है और खाशोज्जी का शव दूतावास से हटा दिया गया है। जमाल खाशोज्जी मंगलवार को अपने तलाक के दस्तावेजों लेने के लिए दूतावास गए थे और तब से उन्हें नहीं देखा गया है।
    तुर्की की पुलिस ने उनकी दूतावास के भीतर हत्या किए जाने की बात तो की है लेकिन अपने दावों के समर्थन में अभी तक कोई सबूत पेश नहीं किया है। दूसरी ओर सऊदी के अधिकारियों ने सभी आरोपों को झूठा बताया है।
    शनिवार को इस्तांबुल में सऊदी के कौंसुल जनरल मोहम्मद अल ओतैबी ने कहा, मैं इसकी पुष्टि करता हूं कि नागरिक जमाल न ही सऊदी दूतावास में हैं और न ही सऊदी अरब में हैं और हमारा दूतावास उन्हें खोजने के प्रयास कर रहा है और उन्हें लेकर चिंतित है।
    खासोज्जी की मंगेतर हदीजे जेनगीज का कहना है कि वो कई घंटों तक दूतावास के बाहर उनका इंतेजार करती रहीं और वो बाहर नहीं निकले। खाशोज्जी सऊदी अरब के मशहूर पत्रकार हैं और इन दिनों में अमरीका में रहकर अखबार द वाशिंगटन पोस्ट के लिए लिखते थे। वे सऊदी के शाही परिवार और खासतौर पर क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के प्रखर आलोचक थे।
    वाशिंगटन पोस्ट के राजनीतिक संपादक अली लोपेज ने कहा है कि खाशोज्जी अपनी जान पर खतरे की बात किया करते थे। उन्होंने कहा, वो वहां रह रहे अपने परिवार की सुरक्षा को लेकर चिंतित थे और कहा था कि बोलते रहने के लिए उन्हें देश छोडऩा होगा। वो इस बात को समझते थे कि उनके विचार सऊदी अरब के सबसे शक्तिशाली लोगों को चुनौती दे रहे हैं। मुझे लगता है कि वो हमेशा सोच समझकर खतरा उठाते थे।
    वहीं पत्रकारों की सुरक्षा के लिए काम करने वाली एक समिति से जुड़े रॉबर्ट माहनी का कहना है कि शाही परिवार की आलोचना करने वाला कोई पत्रकार सुरक्षित नहीं है। उन्होंने कहा, क्राउन प्रिंस ने स्पष्ट कर दिया है कि वो नहीं चाहते कि कोई सऊदी शाही परिवार, उसके वित्तीय मामलों या भ्रष्टाचार के बारे में कुछ लिखे या पड़ताल करे। हाल में कई सऊदी पत्रकारों और ब्लॉगरों को जेल में डाला गया है।
    जमाल खाशोज्जी का मामला तुर्की और सऊदी अरब के रिश्तों में भी तनाव बढ़ा सकता है। तुर्की के अधिकारियों ने बेहद गंभीर आरोप सऊदी अरब पर लगाए हैं लेकिन कोई ठोस सबूत अभी पेश नहीं किए हैं। अगर तुर्की के आरोप सही साबित हुए तो दोनों देशों के रिश्ते हाल के दशकों में सबसे तनावपूर्ण स्तर पर होंगे।
    क्या है तुर्की का आरोप
    तुर्की के अधिकारियों का कहना है कि खासोज्जी का कत्ल दूतावास के भीतर ही हुआ है और उनका शव वहां से हटा दिया गया। जांचकर्ताओं के मुताबिक एक 15 सदस्यीय दल मंगलवार को दूतावास पहुंचा था और उसी दिन सऊदी की राजधानी रियाद लौट गया था।
    वहीं तुर्की-अरब मीडिया एसोसिएशन के प्रमुख तूरान किसलागजी ने कहा है कि दूतावास की सुरक्षा कर रहे तुर्की के सुरक्षाबलों के सीसीटीवी में खासोज्जी दूतावास से बाहर जाते नहीं दिख रहे हैं।
    हालांकि उनका ये भी कहना था कि राजयनिक वाहन जरूर दूतावास से आए-गए हैं। वहीं तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तेयेप अर्दोआन ने रविवार को कहा है कि तुर्की के अधिकारियों की जांच पूरी होने का इंतजार कर रहे हैं।
    क्या कहना है सऊदी का?
    सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने बुधवार को ब्लूमबर्ग से कहा है कि तुर्क अधिकारियों दूतावास में आकर जांच करने के लिए स्वागत है क्योंकि हमारे पास छुपाने के लिए कुछ भी नहीं है।
    प्रिंस ने कहा है कि सऊदी के लोग भी जानना चाहते हैं कि आखिर हुआ क्या है। जब प्रिंस से पूछा गया कि क्या खासोज्जी पर सऊदी अरब में कोई मुकदमा चल रहा है तो उन्होंने कहा कि पहले ये जानना जरूरी है कि वो हैं कहां।
    रिश्तों में बढ़ेगा तनाव?
    सऊदी अरब और तुर्की के रिश्ते इस समय बहुत अच्छे नहीं है। कतर को तुर्की के समर्थन, ईरान के साथ बेहतर होते तुर्की के रिश्तों और सऊदी अरब के मुस्लिम ब्रदरहुड को प्रतिबंधित करने की वजह से दोनों देशों के बीच पहले से ही कुछ तनाव है।
    लेकिन अब तुर्की ने बहुत बड़ा आरोप सऊदी पर लगाया है। हालांकि तुर्क अधिकारियों ने अपने आरोपों को साबित करने के लिए कोई सबूत पेश नहीं किया है। हालांकि इतना बड़ा आरोप जरूर किसी आधार पर ही लगाया गया होगा।
    लेकिन तुर्की और सऊदी के रिश्ते बेहद अहम भी हैं और सिर्फ किसी अफवाह पर उन्हें दांव पर नहीं लगाया जा सकता। हालांकि यदि खासोज्जी के कत्ल की बात सही साबित हुई तो इससे दोनों देशों के रिश्तों में और अधिक तनाव आ सकता है।  बीबीसी)

     

    ...
  •  


Posted Date : 08-Oct-2018
  • पश्चिमी दुनिया में बैंक्सी नाम से मशहूर एक चित्रकार का काम सड़क किनारे दीवारों पर देखने मिलता है लेकिन वह अपने चेहरे को छुपाकर चलता है, और लोगों को यह ठीक से पता नहीं है कि वह कैसा दिखता है, या कौन है। अभी एक पेंटिंग की नीलामी में ऐसी हरकत हुई है जिसने कला के खरीददारों को तो हक्का-बक्का किया है उसके साथ-साथ जिसने यह वीडियो क्लिप देखी, वे भी स्तब्ध रह गए हैं। हुआ यह कि बैंक्सी की बनाई एक पेंटिंग की नीलामी हो रही थी। और जैसे ही 10 लाख पाउंड (दस करोड़ रुपये) से अधिक में यह पेंटिंग नीलाम हुई, अचानक यह अपनी फे्रम के भीतर खिसकने लगी, और नीचे आकर बाहर निकलते हुए वह कतरन बन गई। फे्रम के नीचे एक ऐसी मशीन फिट की गई थी जो कि उससे गुजरने वाले कागज को बारीक कतरनों में बदल देती है। बैंक्सी ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर इसके बाद एक वीडियो क्लिप पोस्ट की जिसमें उसने दिखाया कि कैसे उसने कुछ बरस पहले तस्वीर के फे्रम में एक श्रेडर फिट कर दिया था कि अगर उसकी कला को नीलामी पर रखा गया तो वह उसे कतरन बना डालेगा। कला के एक सबसे बड़े नीलाम घर सोदबीज में जैसे ही यह दस करोड़ रुपये में नीलाम हुई, किसी ने रिमोट कंट्रोल से इस तस्वीर को नीचे खिसकाकर उसे कतरन में बदल दिया। इस कलाकार ने बाद में यह भी लिखा है कि अपनी कलाकृति को नष्ट करने की चाह भी एक रचनात्मक चाह होती है। उधर नीलाम घर का मानना है कि कतरन बन चुकी यह पेंटिंग अपने इस इतिहास की वजह से अब कम से कम दो गुने दाम की हो गई है।

    ...
  •  


Posted Date : 08-Oct-2018
  • लियोन, 8 अक्टूबर । अंतरराष्ट्रीय पुलिस संगठन इंटरपोल ने कहा है कि उसे अपने प्रमुख मेंग होंगवेई का इस्तीफा मिल गया है। इसे स्वीकार कर लिया गया है और दक्षिण कोरिया के किम जोंग यांग को तत्काल प्रभाव से इंटरपोल का कार्यवाहक प्रमुख बनाया गया है। इंटरपोल का मुख्यालय फ्रांस के लियोन शहर में है। फ्रांस से मिली खबरों के अनुसार मेंग को आखिरी बार 29 सितंबर को यहीं देखा गया था। तब वे चीन जाने की तैयारी कर रहे थे।
    इससे पहले चीन ने रविवार को आधिकारिक रूप से इस बात की पुष्टि कर दी कि वह कानून का उल्लंघन करने के आरोप को लेकर मेंग होंगवेई के खिलाफ जांच कर रहा है। हालांकि, यह साफ नहीं है कि उन्हें हिरासत में रखा गया है, या नहीं। मेंग चीन के सार्वजनिक सुरक्षा उप मंत्री भी हैं। शिन्हुआ ने एक आधिकारिक बयान के हवाले से अपनी खबर में बताया कि चीन का राष्ट्रीय पर्यवेक्षण आयोग कानून के उल्लंघन के संदेह को लेकर 64 साल के मेंग के खिलाफ जांच कर रहा है। (पीटीआई)

    ...
  •  


Posted Date : 08-Oct-2018
  • वाशिंगटन, 8 अक्टूबर। उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ जल्द से जल्द दूसरी शिखर बैठक करने के लिए राजी हैं। प्योंगयांग में अमरीका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ और किम के बीच हुई बातचीत में यह सहमति बनी। इस दौरान दोनों नेताओं ने उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में उठाए जाने वाले कदमों, वहां पर अमरीकी सरकार की उपस्थिति और इसके बदले में अमरीका द्वारा उठाए जाने वाले कदमों पर भी चर्चा की।
    अमरीकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ चौथी बार उत्तर कोरिया गए थे। बैठक के बाद उन्होंने ट्वीट किया, सिंगापुर सम्मेलन में हुए समझौतों पर हम आगे बढ़ रहे हैं। मेरी और मेरी टीम की मेजबानी करने के लिए धन्यवाद। किम ने भी पॉम्पिओ के साथ हुई अपनी बैठक को अच्छा बताया। इसके बाद उनका बयान आया, एक बहुत अच्छा दिन जो दोनों देशों के लिए अच्छे भविष्य का वादा करता है। डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच पहला शिखर सम्मेलन जून में सिंगापुर में हुआ था।  (पीटीआई)

     

    ...
  •  


Posted Date : 08-Oct-2018
  • न्यूयॉर्क, 8 अक्टूबर। अमरीका के न्यूयॉर्क में एक लिमोजीन दुर्घटनाग्रस्त हो गई। पुलिस के मुताबिक इस हादसे में 20 लोगों की मौत हो गई है। लिमोजीन एक लंबी गाड़ी होती है जिसमें एकसाथ कई लोग सवारी कर सकते हैं।
    हादसा शनिवार दोपहर शोहारी शहर में हुआ। दुर्घटनाग्रस्त लिमोजीन लोगों को लेकर एक पार्टी में जा रही थी। गाड़ी में सवार सभी लोगों की मौत हो गई है, जबकि गाड़ी ने रास्ते में चल रहे दो लोगों को भी कुचल दिया।
    चश्मदीदों के मुताबिक एसयूवी-स्टाइल की एक लिमोजीन डिवाइडर से टकराई और दूसरी कार से जा भिड़ी। इसके बाद गाड़ी एक दुकान की पार्किंग में खड़े लोगों की ओर बढ़ी। हालांकि अबतक हादसे के सही कारण पता नहीं चल पाया है।
    मारे गए लोगों के नाम जाहिर नहीं किए गए हैं, लेकिन न्यूयॉर्क टाईम्स की खबर के मुताबिक हादसे में चार बहनों और कम से कम दो नवविवाहित जोड़ों की मौत हुई है। पुलिस के मुताबिक मरने वालों में कोई बच्चा शामिल नहीं था। इससे पहले आई खबरों में बताया गया था कि कार लोगों को लेकर एक शादी समारोह में जा रही थी, लेकिन बाद में आई खबरों में कहा गया कि ये लोग किसी के जन्मदिन के जश्न में शिरकत करने जा रहे थे। हादसे में लिमोजीन के ड्राइवर की भी मौत हो गई है।
    बिल वॉटर्सन भी उसी समारोह में जा रहे थे। उन्होंने दुर्घटना को अपनी आंखों से देखा। एक अखबार से बातचीत में उन्होंने कहा, मुझे भरोसा नहीं हो रहा है कि ये सब हुआ। ये बहुत ही भयानक था। घटनास्थल पर मौजूद एक स्थानीय रिपोर्टर ने कुछ तस्वीरें और वीडियो ट्वीट की हैं। तस्वीरों में देखा जा सकता है कि जहां हादसा हुआ, वहां नजदीक ही एक स्टोर और कैफे था। हादसे की जगह पर पुलिस की कई गाडिय़ां और एम्बुलेंस भी देखी गईं। हालांकि इन गाडिय़ों की वजह से सड़क पर लंबा जाम लग गया था।
    ट्वीटर पर शेयर की गई एक और तस्वीर में देखा जा सकता है कि कैसे एक बड़ी-सी गाड़ी सड़क से उतरकर पेड़ से टकराई हुई है। चश्मदीदों के मुताबिक जब गाड़ी स्टोर के पास पहुंची तो कई लोग स्टोर से निकल रहे थे। हादसे में उन लोगों को भी चोटें आई हैं।
    घटनास्थल के पास ही रहने वाले ब्रिडे ने बताया, मैंने एक जोरदार आवाज सुनी। उस वक्त स्टोर और कैफे की पार्किंग में कई लोग खड़े थे। फिर अचानक चीख-पुकार मच गई। पुलिस का कहना है कि जांच अभी अपने शुरुआती चरण में है। जांच में एक आईडेंटिफिकेशन और ड्रोन टीम समेत कई अतिरिक्त पुलिस यूनिट्स को भी लगाया गया है।
    नेशनल ट्रांसपोर्टेशन सेफ्टी बोर्ड भी घटनास्थल पर एक टीम भेजने वाली है। बोर्ड ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी।
    बोर्ड के चेयरमैन रोबर्ट समवॉल्ट ने एक प्रेस वार्ता में कहा, ये एक बड़ा हादसा है, जिसमें हमने कई जिंदगियों को खोया। साल 2009 के बाद की ये अबतक की सबसे भयानक सड़क दुर्घटना है। प्रशासन का कहना है कि घटनास्थल पर अगले पांच दिन तक जांच जारी रह सकती है। पुलिस ने बताया कि मृतकों के परिजनों के लिए एक फोन लाइन शुरू की गई है। बताया जा रहा है कि ये दुर्घटना एक पहाड़ी इलाके में हुई। स्थानीय प्रशासन का कहना है कि हाल ही में इस रूट से बड़े ट्रकों का जाना बैन किया था।  (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 08-Oct-2018
  • इंडोनेशिया, 8 अक्टूबर ।  इंडोनेशियाई शहर पालू में आए भूकंप और सुनामी की वजह से मरने वालों की संख्या 1,944 हो चुकी है। अधिकारियों ने सोमवार को आशंका जताई कि मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है क्योंकि हजारों लोग अब भी लापता हैं।
    स्थानीय सैन्य प्रवक्ता एम थोहिर ने बताया, सुलावेसी द्वीप पर 28 सितंबर को आई दोहरी आपदा ने पालू के पूरे-पूरे उपनगरों को तबाह कर दिया है। करीब 5,000 लोगों के लापता होने का अनुमान है। इनमें किसी के भी जीवित मिलने की उम्मीदें अब धुंधली पड़ रही हैं। इससे मृतकों की वर्तमान संख्या बढऩे की ही संभावना है। अभी हमें शवों और लापता लोगों की तलाश रोकने के आदेश नहीं मिले हैं।
    थोहिर सरकार द्वारा गठित 'पालू भूकंप कार्यबल के सदस्य भी हैं। उधर आपदा राहत एजेंसी से मिली जानकारी के मुताबिक, लापता लोगों की तलाश 11 अक्टूबर तक चलेगी। जिनका पता नहीं चलेगा उन्हें मृत मानकर लापता के तौर सूचीबद्ध कर दिया जाएगा। सरकार का कहना है कि जो शव मलबे के नीचे अब तक जहां दबे हैं, उसी स्थान को उनकी कब्र मान लिया जाएगा। सरकार उन्हें हाथ नहीं लगाएगी। (न्यूज 18)

     

    ...
  •  


Posted Date : 06-Oct-2018
  • ढाका, 6 अक्टूबर। किसी बड़ी प्रतियोगिता के मंच पर, जहां सैकड़ों लोगों की आंखें आप पर टिकी हों तो थोड़ा नर्वस होना लाजिमी है। शायद मिस वल्र्ड बांग्लादेश 2018 के साथ भी ऐसा ही हो गया, जब उनसे प्रतियोगिता के फाइनल राउंड में जज ने एच2ओ का मतलब पूछ लिया। सौंदर्य प्रतियोगिता जीतने के लिए हाजिर जवाबी बेहद जरूरी होती है। मगर यह प्रतियोगी इस सवाल पर लडख़ड़ा गई। 
    बांग्लादेश के ढाका स्थित इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर वशुंधारा में मिस वल्र्ड बांग्लादेश 2018 का शानदार आयोजन किया गया था। शो का फाइनल राउंड शुरू हुआ, जिसमें जजों को प्रतियोगियों से कुछ सवाल पूछने थे। एक जज ने एक प्रतिभागी से केमिस्ट्री का बहुत ही आसान सवाल किया। उन्होंने उससे पूछा कि एच2ओ का अर्थ क्या है। इसपर प्रतिभागी ने ऐसा जबाव दिया जिसकी उम्मीद नहीं थी। इस प्रतियोगी ने ऐसा जवाब दिया जिसे सुनकर वहां मौजूद लोगों के चेहरे पर मुस्कुराहट आ गई और वहां मौजूद लोग चकित रह गए।
    यूं तो यह केमिस्ट्री का बेहद आसान सवाल है, जिसका जवाब कोई भी आसानी से दे सकता है। मगर ये सवाल मिस वल्र्ड बांग्लादेश 2018 प्रतिभागी को भारी पड़ गया। बताया जा रहा है कि इस प्रतिभागी ने कहा कि एच2ओ एक रेस्टोरेंट है। जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं कि एच2ओ पानी का रासायनिक फार्मूला है। इस प्रतिभागी की जानकारी के मुताबिक, 
    धन्मोंडी में एच2ओ नाम का एक रेस्टोरेंट है। उनका ये जबाव सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया पर लोग प्रतिभागी के इस ज्ञान पर आश्चर्य जता रहे हैं तो वहीं कुछ यूजर्स इसको प्रतिभागी का कम ज्ञान बता रहे हैं। (लाइव हिन्दुस्तान) 

     

    ...
  •  


Posted Date : 06-Oct-2018
  • वाशिंगटन, 6 अक्टूबर।  अमेरिका स्थित यूटा राज्य में एक दंपत्ति ने फुटबॉल मैच देखने के लिए सालभर बचत कर 1060 डॉलर (करीब 78 हजार रुपये) इक_ा किये थे। लेकिन दो साल के बेटे ने उनके मैच देखने के सपने और सालभर की मेहनत पर मिनटों में पानी फेर दिया। उसने सारे नोट कागज काटने वाली मशीन में डाल दिया।
    बेन और जैकी के दो साल के बेटे के पास वह लिफाफा आ गया जिसमें नकद रखा था। बेटे लियो ने करेंसी से भरा लिफाफा शेडर (कागज काटने वाली मशीन) में डाल दिया। मशीन ने डॉलर को छोटे-छोटे टुकड़ों में तब्दील कर दिया।
    बेन ने अपने ट्विटर एकाउंट पर भी इस घटना का जिक्र किया है। उन्होंने लिखा है, मैं और मेरी पत्नी ने फुटबॉल की टिकट के लिए कैश इकट्टा किया था। मुझे नकदी अपनी मां को सौंपनी थी... हालांकि हमें वह लिफाफा नहीं मिला जिसमें पैसा रखा था जबतक कि मेरी पत्नी ने शेडर चेक नहीं किया। हां, हमारे बेटे ने 1060 डॉलर काट दिये। इस बात की संभावना है कि दंपत्ति का पैसा उन्हें मिल जाएगा। हालांकि इसमें ज्यादा वक्त लग सकता है। (न्यूज 18)

     

    ...
  •