महासमुन्द

भक्त गुहा निषादराज जयंती व मड़ई मेला में पहुंचे लखमा
17-Jan-2021 4:57 PM 25
भक्त गुहा निषादराज जयंती  व मड़ई मेला में पहुंचे लखमा

कहा-हमारी परम्परा और संस्कृति ही हमारी धरोहर

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुन्द, 17 जनवरी।
प्रभारी मंत्री कवासी लखमा शनिवार को महासमुन्द जिले के बागबाहरा विकासखंड के ग्राम डूमरपाली में आयोजित मड़ई मेला एवं  गुहा निषाद राज जयंती में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे। 
श्री  लखमा ने कहा कि मड़ई मेला के आयोजन में छत्तीसगढ़ के संस्कार की सौंधी खुशबू है। सभी ग्रामवासी मिलकर हर्षोल्लास के साथ ग्राम देवता की पूजा-अर्चना के साथ यह आयोजन करते हैं। समाज गुहाराज की जयंती मना रहे है। यही छत्तीसगढ़ की समरसता का सबसे बड़ा उदाहरण है। संसदीय सचिव एवं विधायक खल्लारी द्वारिकाधीश यादव, जिला पंचायत सदस्य सीमा निर्मलकर, सरपंच नंदकुमार निषाद सहित अन्य ग्राम पंचायत पंच, सरपंच जनप्रतिनिध और ग्रामीणजन उपस्थित थे। 

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि आबकारी एवं उद्योग मंत्री श्री लखमा ने किया। अध्यक्षता संसदीय सचिव एवं विधायक द्वारिकाधीश यादव ने की। मंत्री श्री लखमा ने कहा कि हमारी परम्परा और संस्कृति ही हमारी धरोहर है। मड़ई मेला भी छत्तीसगढञ की एक धरोहर है। आज भक्तराज गुहा निषाद समाज के लिए गौरव है। ऐसे सहज और सरल समाज के व्यक्ति भगवान श्रीराम को भी अपने नौका में बैठाने के लिए श्रद्धा भक्ति से विवश कर दिए। भक्त गुहा के बताए रास्ते पर निषाद समाज चल रहा है और सहजता और सरलता देखने को मिलती है। 

उन्होंने कहा कि राज्य  सरकार ग्रामीणजन की लोककला-संस्कृति को आगे बढ़ा रही है। सरकार ने गरीब, किसान सभी लोगों के लिए कल्याणकारी योजनाए शुरू की है। छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा,गरवा, घुरवा अउ बाड़ी छत्तीसगढ़ की पहचान बन गए हैं। गौधन न्याय योजना से पशुपालकों के जीवन में सुधार आने लगा है। सरकार उन्हें गोबर की कीमत दे रही है।  इसके अलावा उन्होंने राज्य सरकार की लाभकारी योजनाएं भी बतायी।
 

अन्य पोस्ट

Comments