राष्ट्रीय

ठग सुकेश चंद्रशेखर के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगा ईडी
04-Dec-2021 1:32 PM (109)

नई दिल्ली, 4 दिसम्बर | प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) करोड़पति ठग सुकेश चंद्रशेखर के खिलाफ बी-टाउन अभिनेत्री जैकलीन फर्नाडीज और नोरा फतेही से जुड़े 200 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गवाह के रूप में अपनी पहली अभियोजन शिकायत दर्ज करने के लिए पूरी तरह तैयार है। शनिवार को चार्जशीट दाखिल होने की संभावना है। ईडी ने इसे लेकर वरिष्ठ काउंसल से कानूनी राय ली है।

अभियोजन की शिकायत जो मूल रूप से एक चार्जशीट है, इसे पटियाला हाउस कोर्ट में दाखिल किया जाएगा। ईडी फिलहाल चार्जशीट की फिर से जांच कर रहा है और अपने वरिष्ठ अधिकारियों से कानूनी राय ले रही है। वे इस मामले में कोई मौका नहीं छोड़ना चाहते हैं।

ईडी का मामला दिल्ली पुलिस के केस पर आधारित है। दिल्ली पुलिस ने सुकेश पर एक उद्योगपति की पत्नी से कथित तौर पर करीब 200 करोड़ रुपये रंगदारी वसूलने का आरोप लगाया था। बाद में हवाला के जरिए पैसे में हेर फेर किया गया और क्रिप्टो करेंसी खरीदने में इस्तेमाल किया गया।

उच्च पदस्थ सूत्रों ने कहा कि मामले में 100 से अधिक गवाह हो सकते हैं और सुकेश और उनकी पत्नी लीना मारिया पॉल के अलावा, ईडी लगभग 14 लोगों को आरोपी के रूप में नामित करेगी।

चार्जशीट में जिन लोगों को आरोपी बनाया जाएगा उनमें प्रदीप रामदानी, बी मोहन राज, दीपक रामनानी, अरुण मुथु, कमलेश कोठारी, अवतार सिंह कोचर, सुकेश चंद्रशेखर और उनकी पत्नी लीना मारिया पॉल शामिल हैं। चार्जशीट में और भी लोग होंगे जिनका नाम आरोपी के तौर पर होगा।

अगर ईडी शनिवार को इसे दाखिल करने में विफल रहती है, तो आरोपी को डिफॉल्ट रूप से जमानत मिल जाएगी। इस मामले पर टिप्पणी करने के लिए ईडी का कोई अधिकारी उपलब्ध नहीं था।

सुकेश की ओर से पेश वकील अनंत मलिक ने कहा कि चार्जशीट दाखिल होने के बाद ही वह टिप्पणी करेंगे। (आईएएनएस)

कर्नाटक में गैस टैंकर ने ट्रक को मारी टक्कर, 4 की मौत
04-Dec-2021 1:31 PM (116)

चित्रदुर्ग (कर्नाटक), 4 दिसम्बर | कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले में शनिवार प्रात: तेज रफ्तार गैस टैंकर की चपेट में आने से चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। मृतकों की पहचान रायचूर निवासी हुलुगप्पा, रोना निवासी शरणप्पा, विजयपुरा निवासी संजय और कुश्तगी निवासी मंजूनाथ के रूप में हुई है।

घटना चित्रदुर्ग जिले के डोड्डासिद्दववनहल्ली गांव के पास राष्ट्रीय राजमार्ग 40 पर हुई। मृतक प्याज की बोरियों से लदे ट्रक में गडग जिले के रोना कस्बे से बेंगलुरु की ओर जा रहे थे।

मामले की जांच कर रही चित्रदुर्ग ग्रामीण पुलिस के मुताबिक गैस टैंकर चालक ने सड़क किनारे खड़े ट्रक को पीछे से टक्कर मार दी थी। एक व्यक्ति गाड़ी का टायर बदल रहा था। जबकि दूसरा बारिश के समय छाता लिए हुए था। अन्य दो उसकी मदद कर रहे थे। गैस टैंकर की चपेट में आने से सभी की मौके पर ही मौत हो गई।

पुलिस को अंदेशा है कि धुंध और बारिश के कारण गैस टैंकर का चालक बाइपास रोड के पास सड़क किनारे खड़े ट्रक को देख नहीं पाया। गनीमत रही कि घटना में गैस टैंकर में आग नहीं लगी जिससे बड़ा हादसा हो सकता था। पुलिस आगे की जांच कर रही है। (आईएएनएस)

3 फुटबॉल मैदानों तक की रेंज वाली मॉडर्न AK-203 राइफलें अब यूपी में बनेंगी
04-Dec-2021 1:23 PM (108)

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश के अमेठी के कोरवा में पांच लाख से अधिक एके-203 असॉल्ट राइफल के विनिर्माण की योजना को मंजूरी दी है. आधिकारिक सूत्रों ने इसे रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने का बड़ा प्रयास बताया है. सूत्रों ने कहा कि उत्तर प्रदेश भारत का रक्षा विनिर्माण केंद्र बनने के मार्ग पर है. एक सूत्र ने कहा, “यह रक्षा अधिग्रहण में खरीद (वैश्विक) से मेक इन इंडिया तक के सफर में लगातार होते बड़े परिवर्तन को दर्शाता है. यह प्रयास रूस के साथ साझेदारी में किया जाएगा और यह रक्षा क्षेत्र में दोनों देशों के बीच गहरी होती साझेदारी को दर्शाता है.”

उन्होंने कहा कि यह परियोजना विभिन्न सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) और अन्य रक्षा उद्योगों को कच्चे माल तथा घटकों की आपूर्ति के लिए व्यावसायिक अवसर प्रदान करेगी, जिससे रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे. 7.62 X 39एमएम कैलिबर एके-203 (असॉल्ट कालाश्निकोव-203) राइफल तीन दशक पहले शामिल सेवा में जारी इंसास राइफल की जगह लेंगी. सूत्रों ने बताया कि एके-203 असॉल्ट राइफलें, 300 मीटर की प्रभावी रेंज के साथ, हल्की, मजबूत और प्रमाणित तकनीक के साथ आसानी से उपयोग में लाई जा सकने वाली आधुनिक असॉल्ट राइफल हैं. ये वर्तमान और परिकल्पित अभियान संबंधी चुनौतियों का पर्याप्त रूप से सामना करने के लिए सैनिकों की युद्ध क्षमता को बढ़ाएंगी.

ये आतंकवाद और उग्रवाद विरोधी अभियानों में भारतीय सेना की परिचालन प्रभावशीलता को बढ़ाएंगी. उन्होंने बताया कि यह परियोजना इंडो-रशियन राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड (आईआरआरपीएल) नामक एक विशेष प्रयोजन के संयुक्त उद्यम द्वारा कार्यान्वित की जाएगी। यह भारत के तत्कालीन ओएफबी-आयुध निर्माणी बोर्ड (अब एडवांस्ड वेपन्स एंड इक्विपमेंट इंडिया लिमिटेड (एडब्ल्यूईआईएल) और म्यूनिशन्स इंडिया लिमिटेड (एमआईएल) तथा रूस के रोसोबोरोनएक्सपोर्ट (आरओई) एवं कालाश्निकोव के साथ बनाया गया है.
(ndtv.in)

दक्षिण भारत जाने वाले यात्रीगण ध्यान दें, रेलवे ने रद्द कीं 75 से ज्यादा ट्रेनें, यहां देखें पूरी लिस्ट
04-Dec-2021 1:21 PM (97)

नई दिल्ली : बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवात 'जवाद' के खतरे को देखते हुए रेलवे ने 4 और 5 दिसंबर को लगभग 75 से अधिक ट्रेनों को ट्रेनों को रद्द कर दिया है. यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए रेलवे ने यह निर्णय लिया है. चार दिसंबर को कुल 36 ट्रेनों को कैंसिल किया गया है. इनमें 18045 हावड़ा-हैदराबाद ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस , 12841 हावड़ा से चेन्नई सेंट्रल कोरोमंडल एक्सप्रेस और 22877 हावड़ा-एर्नाकुलम एक्सप्रेस शामिल हैं.

साथ ही 18420 पुरी एक्सप्रेस ,18409 हावड़ा-पुरी श्री जगन्नाथ एक्सप्रेस , 12837 हावड़ा-पुरी एक्सप्रेस, 12863 हावड़ा-यशवंतपुर एक्सप्रेस, 18532 विशाखापत्तनम-पलासा एक्सप्रेस , 18451 हटिया-पुरी तपस्विनी एक्सप्रेस ,18047 हावड़ा-वास्कोडिगामा अमरावती एक्सप्रेस, 12839 हावड़ा-चेन्नई मेल सहित अन्य ट्रेनों को भी रद्द किया गया है.

पांच दिसंबर को कुल 38 ट्रेनें कैंसिल की गई हैं. इनमें 18531 पलासा-विशाखापत्तनम एक्सप्रेस, 18463 भुवनेश्वर-बैंगलोर प्रशांति एक्सप्रेस , 12845 भुवनेश्वर-बैंगलोर कैंट एक्सप्रेस, 22819 भुवनेश्वर-विशाखापत्तनम इंटर सिटी एक्सप्रेस, 22820 विशाखापत्तनम-भुवनेश्वर इंटर सिटी एक्सप्रेस ,  17015 भुवनेश्वर-सिकंदराबाद विशाखा एक्सप्रेस , 18417 पुरी-गुनुपुर एक्सप्रेस , 18418 गुनुपुर-पुरी एक्सप्रेस, 20819 पुरी-ओखा एक्सप्रेस , 22871 भुवनेश्वर-तिरुपति एक्सप्रेस सहित अन्य ट्रेनें शामिल हैं. वहीं छह दिसंबर को 18418 गुनुपुर-पुरी एक्सप्रेस को कैंसिल कर दिया गया है.

ट्रेनों के कैंसिलेशन के बारे में यात्री रेलवे की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. साथ ही यूनिवर्सल हेल्पलाइन नंबर 139 पर भी कॉल करके जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. (ndtv.in)
 

ममता बनर्जी के वैकल्पिक मोर्चे में शामिल हो सकते हैं अखिलेश यादव, बोले- कांग्रेस को मिलेंगी '0 सीट'
04-Dec-2021 1:19 PM (105)

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि वह तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाले वैकल्पिक विपक्षी मोर्चे में शामिल हो सकते हैं. अगले साल होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा को चुनौती देने के लिए एक मंच बनाने में व्यस्त अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ पार्टी का "सफाया" हो जाएगा,
जैसा कि बंगाल चुनावों में ममता बनर्जी ने उनका सफाया कर दिया था.

यादव ने बुंदेलखंड के झांसी में संवाददाताओं से कहा, "मैं उनका स्वागत करता हूं. जिस तरह से उन्होंने बंगाल में भाजपा का सफाया किया... उत्तर प्रदेश के लोग भी उसी तरह भाजपा का सफाया कर देंगे."

जब रिपोर्टर ने उनसे ममता के वैकल्पिक मोर्चे की बात की तो उन्होंने कहा, "जब सही समय आएगा तब हम इसके बारे में बात करेंगे."  यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को भी खारिज कर दिया और कहा, "जनता उन्हें वोट नहीं देगी... और आगामी चुनावों में उन्हें 0 सीटें मिलेंगी."

उन्होंने प्रियंका गांधी वाड्रा के कटाक्ष पर भी पलटवार किया. गुरुवार को पश्चिमी यूपी के मुरादाबाद में एक रैली में प्रियंका गांधी ने अखिलेश यादव पर आरोप लगाते हुए कहा था कि जब लखीमपुर खीरी में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे ने किसानों को अपनी गाड़ी के नीचे रौंदा तो यादव कहां गायब थे. मिश्रा के आरोपी बेटे आशीष मिश्रा इस मर्डर केस में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में इन दिनों जेल में बंद हैं.

अखिलेश यादव ने इसी महीने एनडीटीवी को बताया था, "उत्तर प्रदेश ने कांग्रेस को खारिज कर दिया है." उन्होंने कहा, "दोनों दलों ने 2017 में एक साथ काम किया था लेकिन "हमारा अनुभव अच्छा नहीं रहा."

झांसी में यादव ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उद्घाटन किए गए पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को लेकर भी भाजपा पर निशाना साधा. उन्होंने दावा किया कि भाजपा उनकी पार्टी द्वारा शुरू की गई परियोजनाओं का श्रेय ले रही है. उन्होंने घोषणा की, "अगर समाजवादी पार्टी 22 महीने में एक्सप्रेसवे बना सकती है तो बीजेपी को उसी काम को करने में 4.5 साल क्यों लगे? ऐसा इसलिए है क्योंकि वे यूपी में लोगों के कल्याण के लिए काम नहीं करना चाहते हैं."

अखिलेश यादव यूपी चुनाव से पहले राज्य के पूर्वी हिस्से में क्षेत्रीय दलों को आत्मसात कर एक "इंद्रधनुषीय" गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं. इसके अलावा वह पश्चिमी यूपी में किसानों के वोटों पर भी निर्भर हैं.

उनके और तृणमूल कांग्रेस के बीच एक लिंक-अप की चर्चा दोनों दलों द्वारा कांग्रेस पर कटाक्ष किए जाने के बाद जोर पकड़ रही है.  कई लोग अंदाजा लगा रहे हैं कि कांग्रेस विपक्षी दल की भूमिका से भी हाथ धो सकती है. समाजवादी पार्टी और तृणमूल कांग्रेस- ने बंगाल चुनावों में भी मैत्रीपूर्ण टिप्पणियों का आदान-प्रदान किया था, जब यादव ने कहा था कि उनकी पार्टी तृणमूल की ओर से प्रचार करेगी.

बंगाल में भाजपा को हराने के बाद से ममता बनर्जी, जोर-शोर से पार्टी का प्रसार करने में जुटी हैं. इस दौरान कई नेता कांग्रेस छोड़कर TMC में शामिल हो चुके हैं. उन्होंने इसी सप्ताह मुंबई में एनसीपी प्रमुख शरद पवार और महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे से भी मुलाकात की थी , जो मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे हैं.

इस दौरान बनर्जी ने कांग्रेस नीत गठबंधन यूपीए को लेकर बड़ा बयान दिया था. उन्होंने कहा, 'UPA क्या होता है? कोई यूपीए नहीं है." इससे भी बुरी बात यह रही कि पिछले महीने दिल्ली में  उन्होंने इस बात का उपहास उड़ाया कि हर बार कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से क्यों मिलना चाहिए? कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने यूपीए की "आत्मा" के रूप में पार्टी की स्थिति को रेखांकित करते हुए कहा कि बिना कांग्रेस विपक्ष की कल्पना मुश्किल है. बीजेपी के सत्ता में आने से पहले कांग्रेस दस साल तक केंद्र की सत्ता में थी. (ndtv.in)
 

मोदी सरकार के आने के बाद चीन के साथ संबंध गड़बड़ाए : NDTV से बातचीत में मनीष तिवारी
04-Dec-2021 1:18 PM (88)

नई दिल्‍ली : कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने कहा है कि 26/11 के मुंबई हमले के बाद भारत को एक्‍शन लेना चाहिए था. इससे पाकिस्‍तान को सबक मिलता . तिवारी ने अपनी पुस्‍तक "10 Flash Points; 20 Years - National Security Situations that Impacted India" और विभिन्‍न मुद्दों पर शुक्रवार को NDTV से बात की. इस दौरान उन्‍होंने कहा, 'भारत ने अतिक्रमण झेला था. मैंने पुस्‍तक में आतंकी हमलों का उल्‍लेख किया है.'उन्‍होंने कहा, ' 26/11 के बाद एक्‍शन लेना चाहिए था क्‍योंकि इससे पाकिस्‍तान को सबक मिलता. पाकिस्‍तान इसे हमारी कमजोरी समझता है. ऑपरेशन पराक्रम में भारत पर अंतरराष्‍ट्रीय दबाव बना था. मनमोहन सरकार पर टोकाटाकी नहीं की. आतंकवादियों के खिलाफ रणनीति कैसे बने, यही मेरा उद्देश्‍य है.'

उन्‍होंने कहा कि उरी हमले के बाद कार्रवाई होती तो पुलवामा  हमले से बचा जा सकता था.  पाकिस्‍तान का जिक्र करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस मुल्‍क में आज भी कोई तब्‍दीली नहीं आई. भारत, साउथ एशिया में फंसा हुआ है. चीन के साथ स्थिर संबंध थे लेकिन मोदी सरकार के आने के बाद यह स्थिति गड़बड़ा गई है. 2014 से 2021 के बीच स्थिति और खराब हुई है, सरकार के विशेषज्ञों को इस बारे में चिंतन करना चाहिए. चीन के साथ परिस्थितियां अनुकूल नहीं हैं

चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ (CDS) बनाने का फैसला कैसा था, इस सवाल पर उन्‍होंने कहा कि ये बाद में पता चलेगा. अपनी किताब के बारे में कहा,' यह सुर‍क्षा चुनौतियों पर है. भारत के पास क्‍या विकल्‍प थे, विकल्‍पों को लेकर अगली किताब लिखूंगा.' (ndtv.in)
 

हैदराबाद: ब्रिटेन से लौटी महिला पाई गई कोरोना संक्रमित, Omicron की जांच के लिए भेजा गया नमूना
03-Dec-2021 4:50 PM (157)

हैदराबाद : हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर ब्रिटेन से लौटी एक 35 वर्षीय महिला यात्री कोरोना से संक्रमित पाई गई है. तेलंगाना के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, निदेशक श्रीनिवास राव ने इस बात की जानकारी दी और बताया कि बुधवार को दो अंतरराष्ट्रीय उड़ानों से 325 यात्री हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरे थे. इन यात्रियों में से एक महिला कोरोना से संक्रमित पाई गई है. श्रीनिवास राव के अनुसार महिला के जांच के नमूनों को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा गया है. जांच के बाद ही ये पता चल सकेगा की महिला कोरोना के किस स्वरूप से संक्रमित है.

श्रीनिवास राव ने कहा कि संदेह है कि ये महिला कोरोना के डेल्टा वेरिएंट से संक्रमित हो सकती है. परिणाम आने में लगभग 2 या 3 दिन लगेंगे. कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई इस महिला को फिलहाल उपचार के लिए सरकारी तेलंगाना आयुर्विज्ञान संस्थान (टीम्स) में भर्ती करवाया गया है.

श्रीनिवास राव ने बताया कि हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर बुधवार को ब्रिटिश एयरवेज और सिंगापुर एयरलाइंस से 325 यात्री आए थे. हर यात्री का आरटी-पीसीआर टेस्ट किया गया था. निगेटिव पाए गए यात्रियों को होम क्वारंटाइन में रखा गया है. जिनका 8 दिन बाद दोबारा कोरोना टेस्ट लिया जाना है.

गौरतलब है कि अन्य राज्य की तरह ही तेलंगाना सरकार ने भी कोरोना के Omicron वेरिएंट के खतरे को देखते हुए अपने अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर जांच की व्यवस्था कड़ी कर रखी है. दूसरे देशों से आने वाले यात्री को कोरोना की जांच से गुजरना पड़ रहा है.

भारत में भी कोरोना के नए वेरिएंट Omicron ने दस्तक दे दी है और अभी तक दो मामले सामने आए हैं. जो कि कर्नाटक में दर्ज हुए हैं. (ndtv.in)

गुरुग्राम में नमाज पढ़ने को लेकर आज भी हुआ विरोध, पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लिया
03-Dec-2021 4:48 PM (172)

गुरुग्राम: गुरुग्राम में नमाज अदा करने को लेकर विरोध जारी है.  गुरुग्राम के सेक्टर 37 में नमाज वाली जगह पर मुस्लिम समुदाय के लोग जुटे थे. वहां लोग नमाज अदा करना चाहते थे. इसी बीच कुछ लोग वहां पहुंच गए और विरोध जताना शुरू कर दिए. बताया जा रहा है कि लोगों ने वहां पर जय श्रीराम के नारे भी लगाए. कुछ देर के लिए वहां पर अफरातफरी का माहौल रहा.

आसपास के गांवों के लोगों ने सेक्टर 37 पुलिस स्टेशन के बाहर नमाज अदा करने वाली जगह कब्जा कर लिया है. इस खुले जगह में ट्रक पार्क किए गए हैं. स्थानीय लोगों का दावा है कि उनके पास ट्रक को कहीं और पार्क करने के लिए जगह नहीं है. मौके पर भारी पुलिस बल मौजूद है. पुलिस ने विरोध करने आये कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है. पुलिस स्थित पर नजर बनाए हुई है. गौरतलब है कि पहले से ही हरियाणा के गुरुग्राम में खुले में होने वाली नमाज को लेकर हिंदू संगठन विरोध जताते आ रहे हैं. (ndtv.in)

 

रविवार दोपहर को ओडिशा में पुरी के तट से टकरा सकता है Cyclone Jawad, 10 बातें
03-Dec-2021 4:45 PM (160)

चक्रवात जवाद रविवार सुबह ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों से टकरा सकता है. इसके फलस्‍वरूप भारी बारिश और 100 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है.
भारत के मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार , बंगाल की खाड़ी पर दबाव का क्षेत्र शुक्रवार को बढ़कर चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा और यह उत्‍तर पश्चिम की ओर बढ़ेगा. 

मौसम विभाग के अनुसार, ' जवाद' पुरी के निकट ओडिशा के तट को रविवार दोपहर को छू सकता है.   

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को अफसरों की उच्‍चस्‍तरीय बैठक बुलाकर तैयारियों की समीक्षा की और उन्‍हें निर्देश दिए थे. 

इन निर्देशों में जरूरत के अनुसार प्रभावित क्षेत्र को खाली कराने, आवश्‍यक सेवाओं की बहाली और तबाही की नौबत आने पर तेजी से स्थित सामान्‍य बनाने के लिए तत्‍परता से कार्य करना शामिल है. 

सरकार की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि सभी मंत्रालय और संबंधित एजेंसियां, स्थिति का मुकाबला करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं .

ओडिशा की दक्षिणी तट पर 266 बचाव टीमें तैनात करने की योजना है इसमें एनडीआरएफ, राज्‍य फायर सर्विस और ओडिशा डिजास्‍टर रैपिड एक्‍शन फोर्स (ODRAF) की टीमें शामिल होंगी. 

नेशनल डिजास्‍टर रिस्‍पांस फोर्स (NDRF) की 60 से अधिक टीमों की तैनाती की गई है, इसमें से 29 टीमें बोट, पेड़ों को काटने वाले साजोसामान और टेलीकॉम उपकरणों से लैस होंगी जबकि शेष standby के तौर पर रहेंगी.

ऐहतियात के तौर पर ओडिशा ने समूचे तटीय क्षेत्र पर फिशिंग की गति‍विधियों को रोक दिया है.

आंध्र प्रदेश सरकार ने भी हाई अलर्ट जारी करते हुए तीन तटीय जिलों में सरकारी मशीनरी की तैनाती की है. 

ओडिशा सरकार ने राज्य के 13 जिलों के जिलाधिकारियों को लोगों को तटीय इलाकों से बाहर निकालने और राहत व बचाव कार्य के लिए तैयार रहने को कहा है.

  1. भारत के मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार , बंगाल की खाड़ी पर दबाव का क्षेत्र शुक्रवार को बढ़कर चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा और यह उत्‍तर पश्चिम की ओर बढ़ेगा. 

  2. मौसम विभाग के अनुसार, ' जवाद' पुरी के निकट ओडिशा के तट को रविवार दोपहर को छू सकता है.   

  3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को अफसरों की उच्‍चस्‍तरीय बैठक बुलाकर तैयारियों की समीक्षा की और उन्‍हें निर्देश दिए थे. 

  4. इन निर्देशों में जरूरत के अनुसार प्रभावित क्षेत्र को खाली कराने, आवश्‍यक सेवाओं की बहाली और तबाही की नौबत आने पर तेजी से स्थित सामान्‍य बनाने के लिए तत्‍परता से कार्य करना शामिल है. 

  5. सरकार की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि सभी मंत्रालय और संबंधित एजेंसियां, स्थिति का मुकाबला करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं .

  6. ओडिशा की दक्षिणी तट पर 266 बचाव टीमें तैनात करने की योजना है इसमें एनडीआरएफ, राज्‍य फायर सर्विस और ओडिशा डिजास्‍टर रैपिड एक्‍शन फोर्स (ODRAF) की टीमें शामिल होंगी. 

  7. नेशनल डिजास्‍टर रिस्‍पांस फोर्स (NDRF) की 60 से अधिक टीमों की तैनाती की गई है, इसमें से 29 टीमें बोट, पेड़ों को काटने वाले साजोसामान और टेलीकॉम उपकरणों से लैस होंगी जबकि शेष standby के तौर पर रहेंगी.

  8. ऐहतियात के तौर पर ओडिशा ने समूचे तटीय क्षेत्र पर फिशिंग की गति‍विधियों को रोक दिया है.

  9. आंध्र प्रदेश सरकार ने भी हाई अलर्ट जारी करते हुए तीन तटीय जिलों में सरकारी मशीनरी की तैनाती की है. 

  10. ओडिशा सरकार ने राज्य के 13 जिलों के जिलाधिकारियों को लोगों को तटीय इलाकों से बाहर निकालने और राहत व बचाव कार्य के लिए तैयार रहने को कहा है. (ndtv.in)

किसी भी तरह की 'पॉजिटिविटी' पर तुरंत ध्‍यान दें : ओमिक्रॉन को लेकर केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव की राज्‍यों को चिट्ठी
03-Dec-2021 4:44 PM (186)

नई दिल्‍ली :  कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन का पता लगाने को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने राज्‍यों को चिट्ठी लिखी है. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने इसमें लिखा है कि देश में कुछ स्थानों से संक्रमण के कुछ समूह सामने आए हैं, ऐसे क्लस्टर या हॉटस्पॉट का पता लगाने में सक्रिय निगरानी और टेस्ट महत्वपूर्ण है. इसके साथ ही  राज्यों को सलाह दी गई है कि वे सभी जिलों में मामलों की संख्या, टेस्‍ट की दर और जिलेवार पॉजिटिविटी का सक्रिय रूप से पालन करते रहें. पत्र में स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने कहा है कि मामलों में किसी भी तरह की पॉजिटिविटी का तुरंत संज्ञान लिया जाना चाहिए और सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों जैसे कि संपर्क ट्रेसिंग, संपर्कों को अलग करना, सकारात्मक पाए जाने वालों को अलग करना और उचित नियंत्रण सुनिश्चित करना चाहिए.

भारत में ओमिक्रॉन के 2 केस कर्नाटक में मिले हैं. ओमिक्रॉन 46 साल के भारतीय और 66 साल के दक्षिण अफ्रीकी नागरिक में पाया गया है. दोनों ही मरीजों को वैक्‍सीन की दोनों डोज लग चुकी थी. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने कर्नाटक में दो ओमिक्रॉन मामलों कीपुष्टि करते हुए बताया था कि कॉन्टैक्ट को आइडेंटिफाई कर लिया गया है. इन दोनों में मामूली लक्षण है.दुनिया में इस वेरिएंट के अब तक जितने मामले आए हैं, उसमें सीरियस लक्षण नहीं हैं. 

कोरोना वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर नीति आयोग के सदस्‍य वीके पॉल ने कहा है कि जिन टूल्स का इस्तेमाल हमने कोरोना महामारी में इस्तेमाल किया है, वही हमें करना होगा.हॉस्पिटल इंफ्रा को भी चिन्हित किया गया है. ये नई चुनौती है. हम मामले को पकड़ पाए यानी सिस्टम काम कर रहा है. मास्क यूनिवर्सल वैक्सीन की तरह है, इसे लेकर लापरवाही न बरतें. यह तमाम वेरिएंट को रोकता है. वैक्‍सीन के दोनों डोज में देर न करें. इसके साथ ही हवादार माहौल में रहें. उन्‍होंने कहा कि डरने की जरूरत नहीं है लेकिन जिम्‍मेदारी दिखाते हुए सजग रहना होगा. इस नई चुनौती का भी सामना करेंगे. (ndtv.in)

 

 

'बच्चों में ऑनलाइन गेम की बढ़ती लत चिंता का विषय' : नियंत्रण के लिए सुशील मोदी ने की कानून बनाने की मांग
03-Dec-2021 4:41 PM (162)

नयी दिल्ली : राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी के सदस्य एवं बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने युवाओं में ऑनलाइन गेम के बढ़ते प्रचलन विशेषकर लॉकडाउन लगने के बाद से इसमें बच्चों द्वारा अधिक समय लगाये जाने पर चिंता जताते हुए शुक्रवार को केंद्र सरकार से इस पर नियंत्रण के लिए कानून बनाने की मांग की. उच्च सदन में शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाते हुए उन्होंने कहा कि ऑनलाइन खेल बड़ी चिंता का विषय है, क्योंकि करोड़ों युवा इस लत की चपेट में आ रहे हैं.

उन्होंने कहा कि कोविड-19 से पहले मोबाइल गेम पर बच्चे औसतन 2.5 घंटे प्रत्येक सप्ताह समय बिताते थे, जो लॉकडाउन के समय बढ़कर पांच घंटे हो गया. उन्होंने कहा, ‘आज 43 करोड़ से अधिक उपयोगकर्ता ऑनलाइन गेम खेल रहे हैं. ऐसा अनुमान है कि 2025 तक यह आंकड़ा 65.7 करोड़ हो जाएगा.' मोदी ने कहा कि तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, केरल और तमिलनाडु जैसे राज्यों ने ऑनलाइन गेम पर प्रतिबंध लगाए थे लेकिन इन राज्यों के संबंधित उच्च न्यायालयों ने इसे खारिज कर दिया.

उन्होंने कहा, ‘ऑनलाइन खेलों पर नियंत्रण के लिए एक व्यापक फ्रेमवर्क तैयार करे सरकार... एक नियामक बनना चाहिए... नहीं तो इस देश के करोड़ों बच्चों को ऑनलाइन गेम की आदोंत से हम रोक नहीं पाएंगे. मोदी की इस मांग पर राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने भी गंभीरता से लिया और सदन में मौजूद संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव से कहा कि वह इस मामले का संज्ञान लें और कानून मंत्री से विमर्श करके आवश्यक कदम उठाएं.  (ndtv.in)
 

ओमिक्रॉन के खिलाफ प्रभावी है कोविड एंटीबॉडी दवा : स्टडी
03-Dec-2021 4:11 PM (171)

लंदन, 3 दिसम्बर | ब्रिटिश दवा निर्माता ग्लैक्सो स्मिथक्लाइन ने दावा किया है कि प्रारंभिक प्रयोगशाला परीक्षणों से पता चला है कि कोविड-19 के खिलाफ इसकी एंटीबॉडी दवा नए सुपर म्यूटेंट ओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी है। ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (जीएसके) ने सोट्रोविमैब को यूएस पार्टनर वीर (वीआईआर) बायोटेक्नोलॉजी के साथ विकसित किया, जो मानव द्वारा पहले से बनाए गए प्राकृतिक एंटीबॉडी पर आधारित एक मोनोक्लोनल एंटीबॉडी है। नैदानिक परीक्षणों में, सोट्रोविमैब को 24 घंटों में हल्के से मध्यम कोविड-19 के साथ उच्च जोखिम वाले वयस्क रोगियों में अस्पताल में भर्ती होने या मृत्यु के जोखिम को 79 प्रतिशत तक कम करने का दावा किया गया है।

कंपनी ने एक बयान में कहा, "ओमिक्रॉन वैरिएंट के अनुक्रम (सीक्वेंस) के आधार पर, हमारा मानना है कि सोट्रोविमैब की ओर से इस वैरिएंट के खिलाफ सक्रियता और प्रभावशाली बनाए रखने की संभावना है।"

यह अध्ययन प्रीप्रिंट सर्वर बायोरेक्सिव पर पोस्ट किया गया है। हालांकि अध्ययन में प्रारंभिक प्रयोगशाला परीक्षणों के आधार पर डेटा साझा किया गया है और अभी तक इसकी पूर्ण समीक्षा नहीं की गई है। कंपनी के अनुसार, अध्ययन ने प्रदर्शित किया कि सोट्रोविमैब नए ओमिक्रॉन सार्स-सीओवी-2 वैरिएंट (बी.1.1.529) के प्रमुख म्यूटेंट के खिलाफ सक्रियता या गतिविधि को बरकरार रखता है।

कंपनियां अब 2021 के अंत तक एक अपडेट प्रदान करने के इरादे से सभी ओमिक्रॉन म्यूटेशन के संयोजन के खिलाफ सोट्रोविमैब की निष्क्रिय गतिविधि की पुष्टि करने के लिए इन व्रिटो स्यूडो-वायरस टेस्टिंग पूरा कर रही हैं।

वीर बायोटेक्नोलॉजी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, पीएचडी, जॉर्ज स्कैनगोस ने एक बयान में कहा, "सोट्रोविमैब को जानबूझकर एक म्यूटेटिंग वायरस को ध्यान में रखकर बनाया गया है। स्पाइक प्रोटीन के अत्यधिक संरक्षित क्षेत्र को लक्षित करके, जिसके म्यूटेट होने की संभावना कम है, हमने वर्तमान सार्स-सीओवी-2 वायरस और भविष्य के वैरिएंट दोनों से निपटने की उम्मीद की है, जिसकी हमें उम्मीद थी कि यह अपरिहार्य होगा।"

उन्होंने कहा, "हमें पूरी उम्मीद है कि यह सकारात्मक प्रवृत्ति जारी रहेगी और ओमिक्रॉन के पूर्ण संयोजन अनुक्रम (फुल कोम्बिनेशन सीक्वेंस) के खिलाफ अपनी सक्रियता की पुष्टि करने के लिए तेजी से काम कर रहे हैं।"

बता दें कि जीएसके और वीर बायोटेक्नोलॉजी द्वारा विकसित सोट्रोविमैब एक खुराक वाली एंटीबॉडी है और यह दवा कोरोना वायरस के बाहरी आवरण पर स्पाइक प्रोटीन से जुड़कर काम करती है। इससे यह वायरस को मानव कोशिका में प्रवेश करने से रोक देती है।

जेवुडी के रूप में मार्केटिंग की जाने वाली दवा को कोविद-19 के लक्षणों की शुरुआत के पांच दिनों के भीतर दिए जाने की सिफारिश की गई है। इसने दिखाया है कि यह उन लोगों के लिए प्रभावी है, जिन्हें ऑक्सीजन सप्लीमेंट की आवश्यकता नहीं है और जिन्हें गंभीर कोविड संक्रमण के बढ़ने का खतरा है।

सोट्रोविमैब को यूके मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) द्वारा रोगसूचक वयस्कों और किशोरों (12 वर्ष और अधिक आयु) के तीव्र कोविड-19 संक्रमण के उपचार के लिए एक सशर्त मार्केटिंग प्राधिकरण भी दिया गया है। सशर्त मार्केटिंग प्राधिकरण में इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स शामिल हैं। (आईएएनएस)

टीएनपीसीबी के पूर्व अध्यक्ष वेंकटचलम चेन्नई में मृत पाए गए
03-Dec-2021 4:10 PM (101)

चेन्नई, 3 दिसम्बर | भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (टीएनपीसीबी) के पूर्व अध्यक्ष ए वी वेंकटचलम ने आत्महत्या कर ली है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी है। पुलिस ने कहा कि उन्होंने कोई सुसाइड नोट नहीं छोड़ा है। उसका शव वेलाचेरी के न्यू सचिवालय कॉलोनी गली में अपने आवास पर अपने बेडरूम में पाया गया है। सबसे पहले उनकी पत्नी ने उनके शव को बेडरूम में देखा था।

पूर्व आईएफएस अधिकारी टीएनपीसीबी के अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे थे, और सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक निदेशालय (डीवीएसी) ने 24 सितंबर को उनके घर पर औचक छापे मारे थे।

डीवीएसी के अधिकारियों को छापेमारी के दौरान उनके आवास से 13.5 लाख रूपये (बेहिसाब), 2.5 करोड़ रुपये मूल्य का 8 किलो सोना और संपत्ति के लेन-देन से जुड़े कुछ दस्तावेज मिले थे। छापेमारी के दौरान आवास से दस किलो चंदन की लकड़ी भी मिली थी।

वेंकटचलम 2018 में आईएफएस से सेवानिवृत्त हुए और 2019 में तत्कालीन एआईएडीएमके सरकार द्वारा उन्हें टीएनपीसीबी के अध्यक्ष नियुक्त किया गया था।

डीवीएसी ने उनके खिलाफ 14 अक्टूबर, 2013 से 29 जुलाई, 2014 के कार्यकाल के दौरान तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव के रूप में कार्य करते हुए मामले दर्ज किए थे।

वेलाचेरी पुलिस ने सीआरपीसी की धारा 174 के तहत अप्राकृतिक मौत का केस दर्ज किया है। सरकारी रोयापेट्टाह अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शुक्रवार को उसका शव परिजनों को सौंप दिया गया। (आईएएनएस)

गुरुग्राम में भीषण सड़क हादसा, पांच की मौत, एक घायल
03-Dec-2021 4:08 PM (98)

गुरुग्राम, 3 दिसम्बर | गुरुवार और शुक्रवार की दरमियानी रात यहां गढ़ी गांव के पास सधराना रोड पर एक कार सड़क किनारे दीवार से टकराकर पलट गई, जिसमें पांच लोगों की मौत हो गई।

पुलिस के मुताबिक मृतकों की पहचान सागर, जिबेक, नियाज खान, प्रिंस और जगबीर के रूप में हुई है।

घटना में हार्दिक तिवारी नाम का एक व्यक्ति घायल हो गया।

पीड़ित एक शादी में शामिल होने के बाद गांव सधरना से गुरुग्राम शहर लौट रहे थे।

गुरुग्राम पुलिस प्रवक्ता सुभाष बोकन ने कहा, "वे सभी सधरना गांव में एक शादी समारोह से आ रहे थे। यह दुर्घटना तेज गति और क्षतिग्रस्त सड़क का परिणाम थी। सभी पीड़ित शहर के एक निजी अस्पताल में काम करते थे। पुलिस आवश्यक कार्रवाई कर रही है।"

उन्होंने कहा, "घायल व्यक्ति को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आगे की जांच जारी है।" (आईएएनएस)

मेटा ने भारत में 'फेसबुक प्रोटेक्ट' सुरक्षा कार्यक्रम का विस्तार किया
03-Dec-2021 4:07 PM (103)

नई दिल्ली, 3 दिसम्बर | मेटा ने घोषणा की है कि वह 'फेसबुक प्रोटेक्ट' का विस्तार कर रहा है, जो कि दुर्भावनापूर्ण हैकर्स द्वारा लक्षित लोगों के लिए अपने सुरक्षा कार्यक्रम को भारत सहित अधिक देशों में मानवाधिकार रक्षकों, पत्रकारों और सरकारी अधिकारियों को कवर कर रहा है।

'फेसबुक प्रोटेक्ट' इन लोगों को दो-कारक प्रमाणीकरण और संभावित हैकिंग खतरों के लिए मॉनिटर जैसी मजबूत खाता सुरक्षा अपनाने में मदद करता है।

कंपनी ने पहली बार 2018 में 'फेसबुक प्रोटेक्ट' का टेस्ट किया और 2020 के अमेरिकी चुनावों से पहले इसका विस्तार किया।

मेटा में सुरक्षा नीति के प्रमुख नथानिएल ग्लीचर ने गुरुवार की देर रात एक बयान में कहा, "हमने इस साल सितंबर में अपना वैश्विक विस्तार शुरू किया। तब से 1.5 मिलियन से अधिक खातों ने फेसबुक प्रोटेक्ट को सक्षम किया है और उनमें से लगभग 9,50000 खातों को टू-फैक्टर ऑथिन्टिकेशन में नामांकित किया गया है।"

उन्होंने बताया, "हम संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत और पुर्तगाल सहित वर्ष के अंत तक 50 से अधिक देशों में कार्यक्रम का विस्तार करने के लिए ट्रैक पर हैं।"

जब तक आपको फेसबुक पर यह सूचना नहीं मिलती कि आप नामांकन के योग्य हैं, तब तक किसी कार्रवाई की आवश्यकता नहीं है।

कंपनी ने कहा, "फेसबुक प्रोटेक्ट के साथ, हमने बेहतर उपयोगकर्ता अनुभव और समर्थन प्रदान करके लोगों के इन समूहों के लिए नामांकन और टू-फैक्टर ऑथिन्टिकेशन के उपयोग को यथासंभव बनाने के लिए काम किया है।"

मेटा ने यह भी घोषणा की है कि दुनिया भर में 50 से अधिक गैर-सरकारी संगठन भागीदारों के साथ, यह इंटरनेट पर इंटिमेट इमेजिस (एनसीआईआई) के गैर-सहमति साझाकरण को रोकने में सहायता के लिए यूके रिवेंज पोर्न हेल्पलाइन के स्टॉपएनसीआईआई डॉट ओआरजी के लॉन्च का समर्थन कर रहा है।

स्टॉपएनसीआईआई डॉट ओआरजी ऐसी तकनीक का उपयोग करता है जो इमेजिस और वीडियो को सीधे किसी व्यक्ति के डिवाइस पर हैश करती है, इसलिए उन इमेजिस या वीडियो को कभी भी किसी व्यक्ति का अधिकार नहीं छोड़ना पड़ता है। (आईएएनएस)

मायावती का भाजपा, सपा, कांग्रेस पर निशाना, बोलीं, 'सत्ता में आने पर भूल जाते हैं वादे'
03-Dec-2021 3:55 PM (115)

लखनऊ, 3 दिसम्बर | बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मुखिया मायावती 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर काफी सक्रिय हैं। इसीलिए वह ट्वीटर के माध्यम से समय-समय पर सत्तारूढ़ दल भाजपा और विपक्षी दल सपा, कांग्रेस पर निशाना साधती रहती हैं। उन्होंने कहा कि यह दल जो वादा करते हैं सत्ता आने पर भूल जाते हैं। ऐसे में इनसे सर्तक रहने की जरूरत है।

 


उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने शुक्रवार को दो ट्वीट में भाजपा, सपा तथा कांग्रेस पर निशाना साधा है। मायावती ने कहा, "यूपी में खासकर भाजपा, सपा, कांग्रेस आदि के द्वारा प्रदेश की जनता को लुभाने व गुमराह करने के लिए आए दिन प्रलोभन भरे जो चुनावी वादों की झड़ी लगाई जा रही है, जिनको सत्ता में आने के बाद भुला दिया जाता है। अभी तक का इनका यही इतिहास रहा है। जनता इनसे सतर्क रहे।"

उन्होंने आगे कहा कि भाजपा व सपा जो वादे कर रहे हैं वे काम उन्होंने यहां अपनी सरकार के रहते हुए क्यों नहीं किए? कांग्रेस पार्टी भी महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट व स्कूटी आदि देने के जो वादे कर रही है वे काम इन्होंने उन राज्यों में क्यों नहीं किए जहां इनकी सरकारें हैं? यह भी सोचने की बात है।

इससे पहले उन्होंने कहा था कि यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य द्वारा दिया गया बयान कि अयोध्या व काशी में मन्दिर निर्माण जारी है अब मथुरा की तैयारी है, यह भाजपा के हार की आम धारणा को पुख्ता करता है। (आईएएनएस)

10 दक्षिण अफ्रीकी नागरिकों के लापता होने से कर्नाटक सरकार चिंतित
03-Dec-2021 3:53 PM (129)

बेंगलुरु, 3 दिसम्बर  | बेंगलुरु में ओमिक्रॉन वेरिएंट के देश के पहले दो मामलों का पता लगाने के बाद, कर्नाटक स्वास्थ्य विभाग अब 10 दक्षिण अफ्रीकी नागरिकों को लेकर चिंतित है, जो बेंगलुरु में लापता हो गए हैं। सूत्रों ने इसकी जानकारी दी। ये दक्षिण अफ्रीकी नागरिक 12 से 22 नवंबर के बीच बेंगलुरु पहुंचे थे।

 


सूत्रों ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ओमिक्रॉन मामलों का पता लगाने के बाद हाई अलर्ट पर है और इन व्यक्तियों का परीक्षण करवाना चाहता है, लेकिन वे लापता हो गए हैं।

अधिकारियों ने कहा कि हवाई अड्डे पर उनके द्वारा दिए गए पते पर दो लोग नहीं मिले और उनके मोबाइल फोन स्विच ऑफ हैं। उच्च जोखिम वाले देशों से 57 व्यक्ति यहां पहुंचे थे।

स्वास्थ्य विभाग पहले ही इन व्यक्तियों को ट्रैक और ट्रेस करने के लिए पुलिस विभाग से संपर्क कर चुका है। विभाग ओमिक्रॉन वायरस की उपस्थिति पर स्पष्टता प्राप्त करने के लिए सभी नमूनों को जीनोमिक अनुक्रमण परीक्षणों के लिए भेजने की योजना बना रहा है।

सूत्रों ने कहा कि 22 नवंबर से हवाई अड्डे पर कड़े कदम उठाए गए थे और ये दस व्यक्ति उससे पहले बेंगलुरु पहुंचे थे।

इस बारे में पूछे जाने पर मुख्य आयुक्त गौरव गुप्ता ने कहा कि उन्हें इस मामले में कोई सीधी जानकारी नहीं है। "मैं कह सकता हूं कि, संपर्क ट्रेसिंग एक सतत प्रक्रिया है और यदि वे नहीं मिलते हैं, तो स्थिति से निपटने के लिए मानक प्रोटोकॉल हैं। हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।"

गौरव गुप्ता ने मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक के बाद पाबंदियां शुरू करने के भी संकेत दिए। (आईएएनएस)

जावरा के लोकेश इंफाल में शहीद, मुख्यमंत्री ने शोक जताया
03-Dec-2021 3:52 PM (127)

रतलाम/भोपाल, 3 दिसंबर | मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के जावरा के मावता गांव के निवासी लोकेश कुमावत इंफाल में शहीद हो गए। लोकेश सेना की इंफाल यूनिट में पदस्थ थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्रद्धासुमन अर्पित किए हैं। बताया गया है कि लोकेश सेना की इंफाल यूनिट में पदस्थ थे और उनके परिजनों को सैन्य अधिकारियों ने संक्षिप्त सूचना दी है कि वे शहीद हो गए हैं। इस सूचना के बाद उनका परिवार गमगीन है।

मुख्यमंत्री चौहान ने अपने शोक संदेश में कहा है कि आर्मी की इंफाल यूनिट में पदस्थ रतलाम के ग्राम मावता के वीर सपूत लोकेश कुमावत ने मातृभूमि की सेवा एवं अखण्डता की रक्षा करते हुए प्राण न्योछावर कर दिए। मैं उनके चरणों में श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं।

राज्य के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने अपने शोक संदेश में कहा, मातृभूमि की सेवा करते हुए आर्मी की इंफाल यूनिट में पदस्थ मप्र के रतलाम निवासी वीर सपूत लोकेश कुमावत के वीरगति प्राप्त होने का समाचार मिला है। परमपिता परमेश्वर पुण्य आत्मा को शांति और परिजनों को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। (आईएएनएस)

जगदीश ठाकोर बने गुजरात कांग्रेस के नए अध्यक्ष
03-Dec-2021 3:50 PM (124)

दिल्ली, 3 दिसंबर | पूर्व लोकसभा सांसद जगदीश ठाकोर को कांग्रेस हाईकमान ने शुक्रवार को गुजरात प्रदेश का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया।

पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने जगदीश ठाकोर की गुजरात प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर नियुक्ति का ऐलान किया। दरअसल कांग्रेस ने गुजरात में अपने ओबीसी मत बैंक को साधने के लिए इस बार अध्यक्ष पद की कमान पूर्व सांसद जगदीश ठाकोर को सौंपी है। नियुक्ति से ठीक पहले गुरुवार शाम को जगदीश ठाकोर ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से रघु शर्मा के साथ जाकर मुलाकात की और आश्वस्त किया कि वह इस जिम्मेदारी को बेहतर तरीके से निभाएंगे।

गुजरात के कांग्रेस नेताओं ने प्रदेश प्रभारी रघु शर्मा के साथ अपने विचार-विमर्श में एक वरिष्ठ नेता को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त करने की वकालत की थी। वहीं केंद्रीय नेतृत्व की ओर से भी (हार्दिक पटेल) एक युवा नेता को पार्टी के रूप में नियुक्त करने के सुझाव को ठुकरा दिया गया।

सूत्रों के अनुसार राज्य के नेताओं के साथ विचार-विमर्श प्रक्रिया के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को ये फीडबैक दिया गया था कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जानने वाले नेता को शीर्ष पर नियुक्त किया जाना चाहिए। दरअसल राज्य के तमाम नेताओं ने हार्दिक पटेल को पदोन्नत करने का विरोध किया, जो पिछले कई साल से गुजरात के कार्यकारी अध्यक्ष थे।

पार्टी नेताओं के अनुसार जिन नामों पर विचार किया गया। उनमें पूर्व लोकसभा सदस्य जगदीश ठाकोर का नाम सबसे पहले था उसके बाद राज्यसभा सांसद शक्ति सिंह गोहिल, जो पार्टी के दिल्ली प्रभारी हैं, उनको भी नियुक्त करने के लिए सुझाव मिले हैं। कहा जाता है कि दोनों नेता मध्य वर्ग के हैं और भरत सिंह सोलंकी, सिद्धार्थ पटेल और अर्जुन मोढवाडिया जैसे वरिष्ठ नेताओं के साथ तालमेल बैठा सकते हैं।

गौरतलब है कि इसी साल फरवरी-मार्च में हुए पंचायत व पालिका चुनावों में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा व नेता विपक्ष परेश धनाणी ने इस्तीफा दे दिया था। इसके कुछ दिनों के बाद प्रदेश कांग्रेस प्रभारी राजीव सातव का निधन हो गया था। जिसके बाद गुजरात में संगठन में बदलाव का सिलसिला शुरू हुआ। करीब 1 माह पहले पार्टी हाईकमान ने गुजरात के नए प्रभारी रघु शर्मा को नियुक्त किया और जिसके बाद अब राज्य में जगदीश ठाकोर के तौर पर नए प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति की गई है। हालांकि यह भी माना जा रहा है कि पार्टी में 3 नए कार्यकारी अध्यक्ष भी नियुक्त किए जा सकते हैं। जिनमें हार्दिक पटेल के अलावा सौराष्ट्र, दक्षिण गुजरात के नेताओं को इसकी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी, ताकि पार्टी के पदाधिकारियों में शक्ति संतुलन के साथ जातिगत समीकरण भी साधे जा सकें। (आईएएनएस)

हिंदू विवाह अधिनियम के तहत समलैंगिक विवाह का विरोध करने वाली याचिका पर सुनवाई करेगा हाईकोर्ट
03-Dec-2021 3:49 PM (115)

नई दिल्ली, 3 दिसम्बर | दिल्ली उच्च न्यायालय अगले साल 3 फरवरी को हिंदू विवाह अधिनियम के तहत समान-विवाह के पंजीकरण का विरोध करने वाली याचिका पर सुनवाई करेगा और इसके पंजीकरण को धर्म-तटस्थ या धर्मनिरपेक्ष कानून के तहत करने पर फैसला करेगा।

मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि वह इसी तरह के मामलों के साथ याचिका पर सुनवाई करेगी और इसे 3 फरवरी के लिए सूचीबद्ध करेगी।

इससे पहले, पीठ लेस्बियन, गेय, बायसेक्शुयल, ट्रांसजेंडर और क्वीर (एलजीबीटीक्यू प्लस) समुदाय से संबंधित व्यक्तियों द्वारा दायर याचिकाओं के एक बैच पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें विशेष हिंदू और विदेशी विवाह कानूनों के तहत समान-विवाह को मान्यता देने की मांग की गई थी।

शुक्रवार को याचिकाकर्ता सेवा न्याय उत्थान फाउंडेशन द्वारा एडवोकेट शशांक शेखर के माध्यम से दायर हस्तक्षेप आवेदन में यह प्रस्तुत किया गया था कि ऐसी शादियों को या तो विशेष विवाह अधिनियम जैसे धर्मनिरपेक्ष कानून के तहत पंजीकृत किया जाना चाहिए या मुस्लिम विवाह कानून और सिखों का आनंद विवाह अधिनियम जैसे सभी धार्मिक कानूनों के तहत अनुमति दी जानी चाहिए।

याचिका में कहा गया है कि इसे धर्म-निरपेक्ष बनाया जाना चाहिए।

याचिकाकर्ता ने हिंदू विवाह अधिनियम के तहत ऐसे विवाहों के पंजीकरण पर आपत्ति दर्ज की है क्योंकि यह अधिनियम सीधे वेद और उपनिषद जैसे हिंदू धार्मिक ग्रंथों से लिया गया है, जहां एक विवाह को 'केवल एक जैविक पुरुष और जैविक महिला के बीच अनुमति' के रूप में परिभाषित किया गया है।

याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि अगर ऐसे विवाह हिंदू विवाह अधिनियम के अलावा अन्य अधिनियमों जैसे विशेष विवाह अधिनियम और विदेशी विवाह अधिनियम के तहत पंजीकृत हैं, तो कोई आपत्ति नहीं है। यदि इसे हिंदू विवाह अधिनियम के तहत पंजीकृत होना चाहिए, तो यह सभी धर्मों के लिए होना चाहिए।

इससे पहले कि अदालत हिंदुओं के लिए समान-विवाह के पक्ष में फैसला करे, उसे पहले उन प्रणालियों पर विचार करना चाहिए जहां विवाह केवल एक 'नागरिक अनुबंध' है जैसे निकाह। याचिकाकतार्ओं ने यह भी कहा कि 10,000 साल से अधिक के इतिहास वाले हिंदुओं के लिए समान-विवाह के पंजीकरण की अनुमति देने से पहले, इसे मुस्लिमों (1,400 वर्ष पुराने), ईसाई (2,000 वर्ष पुराने), पारसी (2,500 साल पुराना) जैसे नए धर्मों के साथ शुरू करना चाहिए।

30 नवंबर को, हाईकोर्ट ने एक याचिका पर देश में समलैंगिक विवाह की कार्यवाही की लाइव-स्ट्रीमिंग पर केंद्र की प्रतिक्रिया मांगी थी, जिसमें एक याचिकाकर्ता ने एलजीबीटी समुदाय की मान्यता को लगभग आठ प्रतिशत आबादी का गठन किया था।

इससे पहले, केंद्र ने उच्च न्यायालय को यह भी बताया था कि एक ही लिंग के दो व्यक्तियों के बीच विवाह की संस्था की स्वीकृति किसी भी असंहिताबद्ध व्यक्तिगत कानूनों या किसी संहिताबद्ध वैधानिक कानूनों में न तो मान्यता प्राप्त है और न ही स्वीकार की जाती है। (आईएएनएस)

महाराष्ट्र में ओमिक्रोन के संदिग्ध मरीजों की संख्या हुई 28, हाई रिस्क देशों से आए लोगों के सैंपल genome sequencing के लिए भेजे गए
03-Dec-2021 3:40 PM (89)

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के बेंगलुरु में दो नए नए मामले मिलने के बाद एक तरफ जहां राज्य के मुख्यमंत्री ने बैठक बुलाई है तो वहीं दूसरी तरफ देश के अन्य हिस्सों में भी इसके कई संदिग्ध मरीज मिले हैं. इन सभी का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि राज्य में ओमिक्रोन के संदिग्ध मरीजों की संख्या अब बढ़कर 28 हो चुकी है.

उन्होंने बताया कि हाई रिस्क देशों से भारत लौटे जिन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई और उनके संपर्क में आए लोगों की टेस्ट कर उनके सैंपल जीनोम सिक्वेसिंग के लिए भेजे गए हैं. मुंबई में 10-11-2021 से लेकर 2-12-2021 तक 2868 यात्री मुंबई पहुंचे थे. इनमें से 485 यात्रियों का कोरोना टेस्ट किया गया है जो अंतरराष्ट्रीय उदानों से मुंबई में आये थे. 485 में से 9 यात्रीयों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है.

10.11.2021 को 21 साल का लड़का लंदन से मुंबई में आया था.

25.11.2021 को 47 वर्ष का व्यक्ति मॉरिशस (mauritius) से मुंबई में आया था.

25.11.2021 को साउथ अफ्रीका से 39 वर्ष का व्यक्ति मुंबई पहुँचा था.

1.12.2021 को लंदन से 25 वर्ष का लड़का मुंबई पहुंचा था.

17.11.2021 को लंदन से 66 वर्ष का वरिष्ठ यात्री ने मुंबई में प्रवेश किया था.

25.11.2021 को 69 वर्ष के वरिष्ठ यात्री ने पोर्तुगल से मुंबई से पहुंचे थे.

13.11.2021 को 34 साल का व्यक्ति लंदन से मुंबई पहुंचा था.

02.12.2021 को 45 वर्ष का यात्री लंदन से मुंबई पहुंचा था.

02.12.2021 को जर्मनी से 38 वर्ष का यात्री मुंबई पहुंचा था.

फिल्हाल सभी यात्रियों को अस्पताल में भर्ती किया गया है वहीं इनके रिपोर्ट जीनोम सेक्वेन्सिंग परिक्षण के लिए भेज दिये गए है. इन सभी की जीनोम अनुक्रमण पर रिपोर्ट दो दिनों में आने की उम्मीद है और इस रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. (abplive)
 

ओमिक्रोन पॉजिटिव मरीज चला गया दुबई, 20 नवंबर को आया था भारत, जानिए पूरी ट्रैवल हिस्ट्री
03-Dec-2021 3:39 PM (90)

देश में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के दो मामले सामने आए हैं. हालांकि दोनों मामलों की जारी की गई ट्रैवल हिस्ट्री में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. बेंगलुरु महानगरपालिका की ट्रैवल हिस्ट्री के मुताबिक इन दोनों मरीजों में से एक शख्स यूएई चला गया. 20 नवंबर को भारत आने पर मरीज को कोविड पॉजिटिव पाया गया था, जिसके बाद उसे होटल में आइसोलेट रहने के लिए कहा गया. हालांकि अगले 7 दिन के बाद ही वो शख्स यूएई के लिए रवाना हो गया. बताया गया है कि ये मरीज कोविड 19 की वैक्सीन भी लगवा चुका है.

क्या है शख्स की ट्रैवल हिस्ट्री
इस शख्स की ट्रैवल हिस्ट्री के मुताबिक वो 20 नवंबर को दुबई से एक निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट लेकर आया. भारत आने पर बेंगलुरू एयरपोर्ट पर मरीज की स्क्रीनिंग की गई. जिसके बाद मरीज ने होटल में चेकइन किया. शख्स के पॉजिटिव पाए जाने के बाद डॉक्टर्स की टीम होटल पहुंची. मरीज में लक्षण नहीं दिखाई देने की स्थिति में उसे होटल में आइसोलेशन में रहने को कहा गया. कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खौफ के बीच 22 नवंबर को मरीज का सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए लिया गया.

इसलिए दुबई के लिए हो गया रवाना
23 नवंबर को मरीज ने एक प्राइवेट लैब में कोविड टेस्ट कराया, जिसमें उसकी रिपोर्ट निगेटिव मिली. उसके संपर्क में डायरेक्ट आए 24 लोगों की अब तक की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई थी. इसके बाद अन्य संबंधित 240 लोगों की जांच रिपोर्ट भी निगेटिव मिली. इसके बाद शख्स ने 27 नवंबर को एयरपोर्ट के लिए टैक्सी पकड़ी और दुबई चला गया. भारत में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के संक्रमण के दो मामले सामने आ गए हैं. कर्नाटक में मिले इन मामलों में से एक की उम्र 66 साल जबकि दूसरे की उम्र 46 साल है. (abplive)

अडानी ने की सीएम ममता बनर्जी से मुलाकात, बंगाल में निवेश समेत इन मुद्दों पर हुई बात
03-Dec-2021 3:37 PM (85)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बृहस्पतिवार को राज्य सचिवालय 'नबन्ना' में अडानी समूह के अध्यक्ष एवं संस्थापक गौतम अडानी के साथ बैठक कर बंगाल में निवेश के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की. इस बैठक के बाद अडानी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ माननीय मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलकर प्रसन्नता हुई. विभिन्न निवेश परिदृश्यों और पश्चिम बंगाल की जबर्दस्त संभावनाओं पर उनके साथ चर्चा की.

उन्होंने ट्वीट में आगे लिखा कि मैं अप्रैल 2022 में बंगाल वैश्विक कारोबार सम्मेलन (बीजीबीएस) में भाग लेने के लिए बेहद उत्सुक हूं.’’ सचिवालय के सूत्रों के मुताबिक यह बैठक करीब डेढ़ घंटे तक चली. तृणमूल कांग्रेस के महासचिव अभिषेक बनर्जी भी इस बैठक में मौजूद रहे.

अडानी ममता के भतीजे और टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी के साथ सचिवालय पहुंचे. मुख्यमंत्री से उनकी बैठक करीब डेढ़ घंटे तक चली. ममता गुरुवार को अपने दो दिवसीय मुंबई दौरे से लौटीं, जहां उन्होंने राजनीतिक नेताओं और मशहूर हस्तियों से मुलाकात की. मई में तीसरी बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद ममता बनर्जी ने कहा था कि उनका मुख्य लक्ष्य राज्य का औद्योगीकरण करना है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "मुख्यमंत्री ने आगामी बीजीबीएस के लिए अप्रैल, 2022 में अपना होमवर्क जल्दी शुरू कर दिया है. इसे ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री ने मुंबई जाकर अडानी समूह (अधिकारियों) से मुलाकात की थी." (abplive)
 

भारत में 58,000 मैला ढोने वाले, 97 प्रतिशत दलित
03-Dec-2021 3:18 PM (97)

भारत में इंसानों द्वारा मैला ढोने को 2013 में ही प्रतिबंधित कर दिया गया था लेकिन इसके बावजूद बड़ी संख्या में लोग इस काम में लगे हुए हैं. ताजा आंकड़ों के अनुसार इस प्रथा में लगे हुए लोगों में से करीब 97 प्रतिशत दलित हैं.

डॉयचे वैले पर चारु कार्तिकेय की रिपोर्ट-

ये आंकड़े केंद्र सरकार के सामाजिक न्याय मंत्रालय ने संसद में पूछे गए एक सवाल के जवाब में दिए हैं. आरजेडी के सांसद मनोज झा ने मंत्रालय से पूछा था कि सिर पर मैला ढोने के काम में शामिल व्यक्तियों की जाति-आधारित अलग अलग संख्या क्या है, उन्हें आर्थिक प्रणाली में शामिल करने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं और इस प्रथा को पूरी तरह से प्रतिबंधित करने के लिए सरकार ने क्या क्या प्रयास किए हैं.

सरकार ने सवाल के जवाब में बताया है कि हाथ से मैला उठाने की प्रथा को 2013 में लाए गए एक कानून (एमएस अधिनियम) के तहत प्रतिबंधित कर दिया गया था. इसके बावजूद मंत्रालय द्वारा कराए गए सर्वेक्षण में सामने आया है कि अभी भी देश में 58,098 लोग इस काम में लगे हुए हैं.

97 प्रतिशत मैनुअल स्कैवेंजर दलित
मंत्रालय ने यह भी बताया कि कानून के अनुसार मैनुअल स्कैवेंजर के रूप में पहचान के लिए जाति के संबंध में कोई प्रतिबंध नहीं होगा लेकिन फिर भी उनकी पहचान करने के लिए अधिनियम के प्रावधानों के तहत ही सर्वेक्षण कराए गए हैं.

जिन 58,098 व्यक्तियों की मैनुअल स्कैवेंजर के रूप में पहचान हुई है, उनमें से सिर्फ 43,797 व्यक्तियों के जाति से संबंधित आंकड़े उपलब्ध हैं. पाया गया कि इनमें से 42,594 यानी 97 प्रतिशत से भी ज्यादा मैनुअल स्कैवेंजर अनुसूचित जातियों से संबंध रखते हैं. इसके अलावा 421 अनुसूचित जनजातियों से, 431 अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) से और 351 अन्य वर्गों से हैं.

मैला ढोने की प्रथा के अंत के लिए काम कर रहे एक्टिविस्टों का लंबे समय से कहना रहा है कि यह काम दलितों से ही करवाया जाता है. ताजा सरकारी आंकड़े इन दावों की सच्चाई बयां कर रहे हैं.

सरकार ने अपने जवाब में यह भी बताया कि इस काम में लगे लोगों को दूसरे कामों में लगवाने के प्रयास किए जा रहे हैं. इसके लिए एक परिवार में एक पहचानशुदा मैनुअल स्कैवेंजर को 40,000 रुपयों की एकबारगी नकद सहायता दी जाती है. अभी तक इस योजना के तहत सभी 58,098 व्यक्तियों को यह नकद राशि दे दी गई है.

हजारों लोग आज भी ढोते हैं मैला
इसके अलावा मैनुअल स्कैवेंजरों और उनके आश्रितों को दो साल तक कौशल विकास प्रशिक्षण दिया जाता है. प्रशिक्षण के दौरान उन्हें हर महीने 3,000 रुपयों का वजीफा भी दिया जाता है. इस तरह का प्रशिक्षण अभी तक सिर्फ 18,199 लोगों को दिया गया है.

अगर कोई मैनुअल स्कैवेंजर स्वच्छता से संबंधित किसी परियोजना या किसी स्वरोजगार परियोजना के लिए कर्ज लेना चाहता है तो उसे पांच लाख रुपयों तक की पूंजीगत सब्सिडी दी जाती है. ऐसी सब्सिडी अभी तक सिर्फ 1,562 लोगों को दी गई है.

हालांकि अगस्त 2021 में इसी मंत्रालय ने लोक सभा में दिए गए एक सवाल के जवाब में कहा था कि 58,098 मैनुअल स्कैवेंजरों की संख्या 2013 से पहले की है और 2013 में एमएस अधिनियम के लागू होने के बाद इसे एक प्रतिबंधित गतिविधि घोषित कर दिया गया है. मंत्रालय ने कहा था कि अब देश में मैनुअल स्कैवेंजरों की गणना नहीं की जाती है.

लेकिन मैला ढोने की प्रथा के अंत के लिए काम करने वाली संस्था सफाई कर्मचारी आंदोलन का दावा है कि देश में अभी भी 26 लाख ड्राई लैट्रिन हैं जिनकी सफाई का जिम्मा किसी ना किसी व्यक्ति पर ही होता है. इसके अलावा 36,176 मैनुअल स्कैवेंजर देश के रेलवे स्टेशनों पर रेल की पटरियों पर गिरे शौच को साफ करते हैं.

संस्था का यह भी दावा है कि 7.7 लोगों को नालों और गटरों को साफ करने के लिए उनमें भेजा जाता है. उन्हें आवश्यक सुरक्षा उपकरण भी नहीं दिए जाते. नालों में जहरीली गैसें होती हैं जिन्हें सूंघने की वजह से अक्सर सफाई करने वालों की मौत हो जाती है. संस्था के मुताबिक अभी तक ऐसी 1,760 मौतें दर्ज की जा चुकी हैं. (dw.com)

बच्चों के दुर्व्यवहार से आहत बुजुर्ग ने सरकार को दी करोड़ों की संपत्ति
03-Dec-2021 3:05 PM (95)

90 साल के एक बुजुर्ग व्यवसायी गणेश शंकर पांडेय अपने बच्चों के व्यवहार से इस कदर खफा हैं कि अपनी पूरी संपत्ति उन्होंने सरकार को दान करने की ठान ली है.

  डॉयचे वैले पर समीरात्मज मिश्र की रिपोर्ट-

आगरा के पीपलमंडी में रहने वाले गणेश शंकर पांडेय की उम्र करीब नब्बे साल है. उनके दो बेटे और तीन बेटियां हैं. उनके मुताबिक, पिछले करीब 40 साल से दोनों बेटे उनसे न तो कोई मतलब रखते हैं और न ही उनका हाल-चाल लेते हैं. गणेश शंकर पांडेय अपने तीन अन्य भाइयों के साथ पीपलमंडी निरालाबाद में रहते हैं और मसालों का व्यवसाय करते थे.

डीडब्ल्यू से बातचीत में वह कहते हैं, "मतलब रखने की बात तो छोड़िए, मुझसे बहुत ही असभ्य तरीके से पेश आते थे. अशोभनीय बातें करते थे. मैं मानसिक रूप से बहुत परेशान रहा. तीन साल पहले ही मैंने वसीयत डीएम के नाम लिख दी लेकिन वो स्वीकृत नहीं हुई. अब जाकर मैजिस्ट्रेट ने उसे स्वीकार किया है."

कोई दबाव नहीं
गणेश शंकर ने अपनी वसीयत में लिखा है, "जब तक मैं जिंदा हूं, अपनी चल और अचल संपत्तियों का मालिक व स्वामी रहूंगा. मरने के बाद मेरे हिस्से की जमीन डीएम आगरा के नाम हो जाएगी. मैं पूरी तरह से फिलहाल स्वस्थ हूं. मानसिक रोग से पीड़ित नहीं हूं."

आगरा के सिटी मैजिस्ट्रेट प्रतिपाल चौहान ने गणेश शंकर पांडेय की वसीयत मिलने की पुष्टि की है. डीडब्ल्यू से बातचीत में उन्होंने कहा, "पिछले गुरुवार को जनता दर्शन में गणेश शंकर पांडेय जी आए थे. वो अपनी रजिस्टर्ड वसीयत लेकर आए थे जो कि डीएम आगरा के नाम पर रजिस्टर्ड कराई गई थी. 250 वर्ग गज के मकान की वसीयत उन्होंने कर रखी थी. वसीयत में उन्होंने यही वजह बताई है कि बच्चे उनका ध्यान नहीं दे रहे थे, इसी से खिन्न होकर उन्होंने यह कदम उठाया है."

सिटी मैजिस्ट्रेट प्रतिपाल चौहान के मुताबिक, सर्कल रेट के अनुसार यह संपत्ति करीब दो करोड़ रुपये है. हालांकि इसकी कीमत तीन करोड़ रुपये से भी ज्यादा की बताई जा रही है. प्रतिपाल चौहान कहते हैं, "जब वह आए थे तो उनके साथ उनके भाई थे. उनके बेटे या बेटियां साथ नहीं थे. जिला प्रशासन की इसमें कोई भूमिका नहीं है. कोई भी व्यक्ति इस बात के लिए स्वतंत्र है कि वह किसी के भी नाम अपनी संपत्ति की वसीयत कर सकता है. जिला प्रशासन ने न तो ऐसा करने को उनसे कहा है और न ही वसीयत वापस लेने के लिए कोई दबाव बनाया जाएगा."
भाइयों को आपत्ति नहीं
सिटी मैजिस्ट्रेट ने बताया कि गणेश शंकर पांडेय ने संपत्ति के जो कागजात दिए हैं उन्हें जमा कर लिया गया है और अब तक उनके परिजनों ने इस पर कोई आपत्ति नहीं जताई है.

आगरा में थाना छत्ता के पीपलमंडी निरालाबाद के रहने वाले निवासी गणेश शंकर पांडेय ने अपने तीन अन्य भाइयों के साथ मिलकर साल 1983 में करीब एक हजार वर्ग गज जमीन खरीदी थी. कुछ समय के बाद संपत्ति का बंटवारा हो गया और गणेश शंकर पांडेय के हिस्से में करीब 250 गज जमीन आई जिस पर उन्होंने मकान बनवाया है.

गणेश शंकर पांडेय ने अपनी इस संपत्ति को तीन साल पहले ही सरकार को देने का फैसला कर लिया था और जिलाधिकारी के नाम पर वसीयतनामा लिखा लिया था. उसके बाद उन्होंने उसे रजिस्टर्ड कराकर सिटी मैजिस्ट्रेट को सौंप दिया. बेहद आहत मन से वह कहते हैं, "मैं चाहता तो ये संपत्ति अपने भाइयों के नाम पर या फिर अपनी बेटियों के नाम पर या किसी और के नाम पर भी कर सकता था लेकिन यदि ऐसा करता तो उन लोगों को परेशानी होती. बेटे संपत्ति का विवाद खड़ा करते और जिसे भी मैं अपनी संपत्ति देता, उसे परेशान होना पड़ता. यही सोचकर मैंने उसे सरकार को देने का फैसला कर लिया. मुझे लगता है कि न सिर्फ मेरे बच्चों को बल्कि ऐसे अन्य बच्चों को भी सीख मिलेगी जो अपने बूढ़े मां-बाप का ध्यान नहीं रखते."

गणेश शंकर पांडेय कहते हैं कि अपने इस फैसले को अब वो किसी भी कीमत पर वापस नहीं लेंगे. उनके मुताबिक, उन्होंने पूरी तरह से सोच-समझकर ये फैसला लिया है और अब इसे पलटना संभव नहीं है. फिलहाल वह अपने भाइयों के साथ उसी मकान में रह रहे हैं. इस मामले में गणेश शंकर पांडेय के बेटों से बात नहीं हो सकी है लेकिन उनके भाइयों को उनके इस फैसले पर कोई आपत्ति नहीं है.

पहला नहीं है मामला
भारत में हालांकि ऐसे मामले कम ही सामने आते हैं जब कोई व्यक्ति वारिसों के बावजूद अपनी संपत्ति सरकार को दान कर दे लेकिन कानून के मुताबिक, ऐसा करने के लिए कोई भी व्यक्ति स्वतंत्र है. भारतीय कानून के मुताबिक, उप-रजिस्ट्रार से गिफ्ट डीड का पंजीकरण कराना अनिवार्य है. यदि ऐसा नहीं किया जाता है, तो हस्तांतरण अमान्य होगा. एक बार गिफ्ट डीड पंजीकृत होने के बाद ही संपत्ति के स्वामित्व के शीर्षक में परिवर्तन संभव है.

कानून के मुताबिक, दान भी रजिस्टर्ड होना चाहिए और इसमें दोनों पक्षों की सहमति भी होनी चाहिए, भले ही दूसरा पक्ष सरकार ही क्यों न हो? पिछले दिनों उड़ीसा के कटक जिले में एक 63 वर्षीय महिला मिनाती पटनायक ने अपने तीन मंजिला घर और जेवर समेत करोड़ों रुपये की संपत्ति एक रिक्शा चालक को दान कर दी थी. रिक्शा चालक बुद्ध सामल कई दशक से इस परिवार की सेवा कर रहे थे. बुजुर्ग महिला इस रिक्शा चालक की सेवा से इतनी ज्यादा प्रभावित हुईं कि उसने अपनी करोड़ों की संपत्ति उसे दान में दे दी. (dw.com)