सरगुजा

ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने प्रतिबंधों को सख्ती से लागू करें-कलेक्टर
20-Apr-2021 9:02 PM (27)
 ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने प्रतिबंधों को सख्ती से लागू करें-कलेक्टर

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

अम्बिकापुर, 20 अप्रैल।कलेक्टर संजीव कुमार झा ने मंगलवार को ऑनलाईन माध्यम से आयोजित समय सीमा की बैठक में विभागीय कार्यो तथा कोविड मॉनिटरिंग की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्र की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकना ज्यादा चुनौतीपूर्ण है लेकिन इस चुनौती का सामना करने के लिए प्रतिबंधों को सख्ती से लागू करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि जिस गॉंव में ज्यादा केस मिल रहे हैं उसे क्लस्टर में विभाजित कर कंटेंन्मेंट रखें।

कलेक्टर ने कहा कि वर्तमान में जिले में कोरोना के 100 पॉजिटिव केस में 29 केस गॉंव से निकल रहे है जो चिंता की बात है। कोरोना रिपोर्ट आने पर लक्षण के आधार पर तत्काल मरीज को होंम आईसोलेशन या अस्पताल में शिफ्ट कराएं। जिस गांव में ज्यादा मरीज मिले है उसे तत्काल कंटेन्मेंट कर बाहर निकलना प्रतिबंधित करें और होंम आईसोलेशन का कड़ाई से पालन कराएं। उन्होंने कहा कि कंटेन्मेंट क्लस्टर में मितानिनों की ड्यूटी लगाये जो होंम आईसोलेशन के मरीजो का ऑक्सीजन लेवल जांच करने के साथ ही घर के सभी सदस्यों को दवाई खिलाने के काम भी करें ।इसके साथ ही कंटेन्मेंट क्षेत्र के सभी लोगो को भी मितानिन दवाई खिलाएं। कलेक्टर ने कहा कि कंटेन्मेंट में निगरानी सख्त रखने के लिए कंम्यूनिटी सर्विलेंस, स्व सहायता समूह को जोड़ें। पंच एवं सरपंचों की भी मदद लें। ऐसा मोनिटरिंग सिस्टम विकसित करें ताकि कंटेन्मेंट से कोई बाहर निकले तो तुरंत पता चल जाए।

कलेक्टर ने कहा कि पॉजिटिव मरीज जो होम आईसोलेशन में है उनके घरों में पोस्टर लगाने के बजाय स्टेंसिल या पेंट से चिन्हांकित करें जिससे कि पोस्टर फाडऩे की शिकायत न रहे। उन्होंने ट्रेन से बाहर से आने वाले मरीजो की निगरानी के लिए श्रम विभाग के अधिकारी को निगरानी टीम की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अभी तीन ट्रेन अम्बिकापुर आ रही है। इन तीनो ट्रेन से आने वाले मजदूरों की ट्रेसिंग करें। मजदूर के संबंध में रजिस्टर में पूरा व्यौरा दर्ज करें तथा संबंधित जनपद सीईओ को मजदूरो की सूचना दें। उन्होंने कहा कि कोई भी मजदूर सीधे घर नही जाएगा बल्कि उसके गांव के पास बने क्वारान्टाईंन सेंटर में 14 दिन रहने के बाद ही अपने घर जा सकेंगे। जनपद सीईओ मजदूरो को नजदीकी क्वारान्टाईन सेंटर में ठहराने आवश्यक समन्वय करेंगे।

गांव में आइसोलेशन सेंटर भी बनेंगे-

कलेक्टर ने कहा कि क्वारान्टाईंन सेन्टर में यदि श्रमिक की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आता है और होंम आईसोलेशन के रुप में आइसोलेट करने की आवश्यकता है तो ऐसे मरीजों के लिए जहां क्वारान्टाईंन सेंटर बने है वही एक अन्य उपयुक्त भवन को आईसोलेशन सेंटर बनाये।आइसोलेशन के मरीज की पूरी निगरानी तथा समय पर दवाई उपलब्ध हो।

कलेक्टर ने कोरोना टीकाकरण की समीक्षा करते हुए कहा कि निर्धारित लक्ष्य प्राप्त करने तेजी से टीकाकरण करें।शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में लोगो को प्रोत्साहित करें।इसके लिए सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों के प्रभावशाली लोगों की भी मदद लें। इनकी अपील से लोग टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित होंगे। कलेक्टर ने इस दौरान गोधन न्याय योजना, जल जीवन मिशन, मनरेगा, पौधरोपण, एनएच के निर्मांण कार्य तथा मुआवजा भुगतान प्रकरणों की भी समीक्षा की।

बैठक में जिला पंचायत के सीईओ विनय कुमार लंगेह, अपर कलेक्टर एएल ध्रुव, सभी एडीएम, जनपद सीईओ एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी ऑनलाइन जुड़े हुए थे।

अन्य पोस्ट

Comments