सरगुजा

प्लास्टिक मुक्त ग्राम बनाने कैरी बैग, कागज के थैले बनाने का प्रशिक्षण
27-Jul-2021 7:25 PM (46)
प्लास्टिक मुक्त ग्राम बनाने कैरी बैग, कागज के थैले बनाने का प्रशिक्षण

   रैली निकाल शौचालय का उपयोग एवं स्वच्छता का संदेश   

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

अम्बिकापुर, 27 जुलाई। कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा प्रायोजित जन शिक्षण संस्थान सरगुजा एवं सरगुजा साइंस ग्रुप अंबिकापुर के संयुक्त तत्वावधान में 15 से 30 जुलाई तक चलाए जा रहे स्वच्छता पखवाड़े अंतर्गत छत्तीसगढ़ विद्या निकेतन-राता लुंड्रा, ग्राम पंचायत- जमड़ी, करदोनी तथा ग्राम पंचायत- दोरना में मासिक स्वच्छता प्रबंधन पर जागरूकता एवं सर्वे, शौचालय के उपयोग पर जागरूकता एवं रैली व प्लास्टिक के उपयोग में कमी करने हेतु कागज के कैरी बैग एवं ठोंगा बनाने का प्रशिक्षण दिया गया, साथ ही श्रमदान के माध्यम से स्कूल परिसर की सफाई कर स्वच्छता का संदेश दिया गया। इस दौरान महिलाओं ने रैली निकाल कर स्वच्छता का संदेश दिया, जिसमें ग्राम की सफाई, स्कूल की सफाई, शौचालय की सफाई, उपयोग को प्रोत्साहित किया गया।

कार्यक्रम को उप सरपंच गंगा गिरी,अंचल कुमार ओझा, एम सिद्दीकी निदेशक जन शिक्षण संस्थान सरगुजा, अजय सिंह, दीपा यादव ने संबोधित किया। कार्यक्रम में उद्बोधन के दौरान अंचल ओझा ने कहा कि हमारा देश, राज्य, जिला, ब्लॉक और गांव तभी खूबसुरत होगा,जब हम देश के हर छोर को साफ रखेंगे। स्वच्छता ही सेवा है, यह सीख हमें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने दी है और सेवा के माध्यम से उन्होंने स्वयं अपने घर के शौचालय की नियमित सफाई एवं सही प्रयोग की बात काफी पहले कर दी थी, हमें भी अपने घरों में शौचालय का उपयोग करना है। इस दौरान कोरोना से बचाव एवं जरूरी उपाय बताये गये। इस मौके पर सभी विद्यार्थियों, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं ने स्वच्छता के प्रति शपथ एवं संकल्प लिया।

 जन शिक्षण संस्थान के डायरेक्टर एम सिद्दीकी ने कहा कि स्वच्छता है एक बड़ा अभियान, आप सभी दे अपना योगदान, तभी हम स्वच्छ राष्ट्र, स्वस्थ राष्ट्र की कल्पना को साकार बना पाएंगे, उन्होंने विद्यार्थियों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु जन शिक्षण संस्थान द्वारा कौशल विकास योजना के प्रशिक्षण से जोडक़र विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षण लेने की जानकारी दी। अपने उद्बोधन में अजय सिंह ने बताया कि मासिक धर्म पर दूर करें अज्ञान एवं नारी शक्ति का करें सम्मान। साथ ही सैनिटरी पैड के फायदे से भी उन्हें अवगत भी कराया गया। शिक्षिका दिपा यादव ने कहा कि पॉलिथीन का बढ़ता हुआ उपयोग न केवल वर्तमान के लिये बल्कि भविष्य के लिये भी खतरनाक होता जा रहा है।

पॉलिथीन पूरे देश की गम्भीर समस्या है। प्लास्टिक और पॉलिथीन का प्रयोग पर्यावरण और मानव की सेहत दोनों के लिये खतरनाक है। महिलाओं को सैनिटरी पैड के उपयोग को प्रोत्साहन देने नि:शुल्क वितरण किया गया।

कार्यक्रम का संचालन रमेश कुमार ने किया। इस उपलक्ष्य पर पवित्रा प्रधान, विवेक सिंह,  रमेश यादव , आकाश मिश्रा,  राकेश रौशन, मंगरीता, सोनिया, सुशीला, किताबी, सतमेन, राजकुमारी, कमला, मुन्नी, सकुन्ती, सुखमनिया, कमला प्रधान, जमुना, भूमिता एवं विद्यालय के सभी सदस्य उपस्थित रहे। कार्यक्रम का समापन एम सिद्दीकी द्वारा किया गया।

अन्य पोस्ट

Comments