छत्तीसगढ़ » रायपुर

Posted Date : 14-May-2019
  • पशुओं को लू से बचाएं
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 मई।
    कृषि विशेषज्ञों ने तापमान में वृद्वि को ध्यान में रखते हुए ग्रीष्मकालीन धान एवं सब्जियों वाली फसलों में सिंचाई की दर बढ़ाने, उचित अन्तराल पर सिंचाई करने और सिंचाई का प्रबंधन करने की सलाह किसानों को दी है। इसी तरह गर्मी को देखते हुए भूमि जनित रोगों के नियंत्रण के लिए खाली खेत की मिट्टी पलटने वाले हल से जुताई करने तथा खेतों की साफ-सफाई एवं मेड़ों की मरम्मत करने की भी सलाह दी गई है। फलदार वृक्ष लगाने हेतु अभी से गड्ढ़ा खोदकर छोड़ दें एवं बारिश के पश्चात् रोपाई करें।

    कृषि विशेषज्ञों ने कहा है कि रबी फसलों की कटाई उपरांत खेतों में बचे फसलों के अवशेषों को जलायें नहीं बल्कि खेतों की गहरी जुताई करके इसे भूमि में दबाये, इस कार्य से जहां कृषि भूमि में जीवांश और पौषक तत्वों की मात्रा बढ़ेगी वहीं वातावरण प्रदूषण भी नहीं होगा। 

    किसानों को सलाह दी गई है कि वर्तमान समय अपने खेतों की मिट्टी जॉच करा लें और खेतों का समतलीकरण करवा ले। अनाजों को धुप में अच्छी तरह से सुखाकर भंडारण करें। आगामी खरीफ फसल लगाने हेतु उन्नतशील प्रजातियों के बीज एवं उर्वरक की अग्रिम व्यवस्था करें। रोपा धान के खेते की मिट्टी की उर्वरा बढ़ाने के लिए किसानों को हरी खाद वाली फसले जैसे ढैंचा, सनई आदि की बुआई करने की सलाह दी गई है। जहां तक सम्भव हो ग्रीष्मकालीन मूंगफली, मूंग एव सब्जी फसलों में धान के पैरा बिछा कर मल्चिंग करने कि सलाह दी गई है। 

    कृषि विशेषज्ञों ने कहा है कि तापमान में बढ़ोत्तरी के कारण मवेशियों में लू लगने की आंशका बढ जाती है। किसान एवं पशुपालक अपने जानवरों को धुप में निकलने से बचाये, ज्यादा से ज्यादा पानी पिलाये तथा जानवरों को नियमित रूप से नहलाये। पशुओं एव मुर्गियों के निवास स्थल में बोरे लगा कर लू एवं गर्म हवा से बचाव आवश्यक है। यदि संभव हो तो पशु बाड़े में फौगर की व्यवस्था कर हर चार-पांच घंटे में फौगर चलाएं। पशुओं को लू लगने पर छायादार जगह ले जाकर गीले कपड़े से पूरे शरीर को बार-बार पोछे। पशु बाड़े को हवादार बनाये एवं गीले बारदाने लटकाकर ठंडा रखे।

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में जनजाति वर्ग के निवासियों के विरूद्ध दर्ज प्रकरणों पर चर्चा
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 मई।
    नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में अनुसूचित जनजाति वर्ग के रहवासियों के विरूद्ध दर्ज प्रकरणों की समीक्षा न्यायमूर्ति  ए.के.पटनायक (सेवानिवृत्त) उच्चतम न्यायालय, नई दिल्ली की अध्यक्षता में समिति द्वारा किया गया।

    समिति द्वारा बस्तर-रेंज के 07 जिलों तथा जिला राजनांदगांव को मिलाकर कुल 08 नक्सल प्रभावित जिलों में अनुसूचित जनजाति वर्ग के रहवासियों के विरूद्ध दर्ज प्रकरणों की समीक्षा की गई, साथ ही प्रकरणों में न्यायालयीन कार्यवाही की स्थिति संबंधी जानकारी का भी आवलोकन किया गया।

    समिति द्वारा प्रत्येक प्रकरणों की उसके गुणदोषों के आधार पर समीक्षा कर संबंधित अनुसूचित जनजाति वर्ग के हित में न्यायोचित कार्यवाही समयबद्ध कार्य योजना के तहत करने का निर्णय लिया गया, साथ ही नक्सल घटना से संबंधित प्रकरणों में कार्यवाही हेतु पुलिस उप महानिरीक्षक सुंदरराज पी. भारतीय दंड विधान की विभिन्न धाराओं एवं स्थानीय विशेष अधिनियम के तहत दर्ज प्रकरणों में कार्यवाही हेतु पुलिस उप महानिरीक्षक संजीव शुक्ला, आबकारी अधिनियम से संबंधित प्रकरणों में कार्यवाही हेतु सचिव-आयुक्त, आबकारी विभाग तथा आवश्यक समन्वय हेतु सचिव आदिम जाति एवं अनुसूचित जनजाति विभाग के माध्यम से आवश्यक कार्यवाही करने का निर्णय लिया गया। इस अवसर पर महाधिवक्ता छ.ग. कनक तिवारी, पुलिस महानिदेशक डी.एम. अवस्थी सहित पुलिस विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • अवैध रूप से आने वाले तेन्दूपत्ता पर कड़ी निगरानी रखने के निर्देश  

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 मई।
    प्रदेश के वनांचल क्षेत्रों में तेन्दूपत्ता संग्रहण कार्य तेजी से चल रहा है। चालू सीजन में 16 लाख 71 हजार मानक बोरा संग्रहण के लक्ष्य के विरूद्ध अब तक 7 लाख 42 हजार मानक बोरा तेन्दूपत्ते का संग्रहण किया जा चुका है। अपर मुख्य सचिव वन,  सी.के. खेतान ने संग्रहण कार्य की समीक्षा के दौरान वन अधिकारियों को संग्रहण कार्य की सतत् मॉनिटरिंग और पारिश्रमिक भुगतान समय पर करने के निर्देश दिए।         

    अपर मुख्य सचिव वन ने अधिकारियों से कहा कि पड़ोसी राज्यों से अवैध रूप से तेन्दूपत्ता आवक की संभावना को देखते हुए कड़ी निगरानी रखी जाए। बैठक में प्रधान मुख्य वन संरक्षक ने बताया कि तेन्दूपत्ता संग्रहण के चालू सीजन में संग्राहक परिवारों को कुल 700 करोड़ रूपए का पारिश्रमिक भुगतान किया जाना है। इसके लिए धनराशि की व्यवस्था कर ली गई है। 
    उन्होंने बताया कि तेन्दूपत्ता संग्राहक परिवारों को 375 करोड़ रूपए की राशि भुगतान के लिए जिला यूनियनों को भेजी गई है। यह राशि समितियों में भुगतान के लिए स्थानांतरित कर दी गई है। दंतेवाड़ा, दक्षिण कोण्डागांव, केशकाल एवं नारायणपुर जिला यूनियनों में शत-प्रतिशत संगहण लक्ष्य पूर्ण कर लिया गया है।

    इसके अलावा बस्तर में लक्ष्य का 75 प्रतिशत, गरियाबंद 78 प्रतिशत और बीजापुर जिले में 70 प्रतिशत संग्रहण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। संग्रहण कार्य आगामी 15 से 20 दिनों के भीतर पूर्ण कर लिया जाएगा।

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • हाईटेंशन तार गिरने से ट्रांसफार्मर में आग, लाण्ड्री दुकान राख

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 14 मई। पंडरी लोधीपारा चौक के पास राजीव नगर में हाईटेंशन तार गिरने से एक बिजली ट्रांसफार्मर में आज दोपहर अचानक आग लग गई। आग से पास की एक लाण्ड्री दुकान जलकर राख हो गई। वहां ग्राहकों के रखे गए कपड़े भी जल गए। घटना के बाद वहां अफरा-तफरी मच गई। बाद में फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पा लिया। लोगों का कहना है कि आगजनी के समय दुकान में कोई नहीं था, अन्यथा कोई बड़ा हादसा हो सकता था। 

    भीषण गर्मी के साथ शहर में आगजनी की छोटी-बड़ी घटनाएं भी सामने आने लगी है। कहीं झाडिय़ों पर आग लग रही है तो कहीं बिजली ट्रांसफार्मर जल रहे हैं। भिलाई में बिजली ट्रांसफार्मर में आग से प्रदेश का एक बड़ा हिस्सा रातभर अंधेरे में रहा। इसी तरह और कई जगहों पर ट्रांसफार्मर में आग लगने की खबर आती रही है। 

    बताया गया कि रायपुर के लोधीपारा चौक के पास आज कुछ लोग खड़े थे, कि वहां से धुंआ उठने लगा और देखते ही देखते पूरा ट्रांसफार्मर धूं-धूं कर जलने लगा। लोग उसे पानी डालकर बुझाने का प्रयास करते रहे और कुछ देर बाद आग पर काबू पा लिया गया। दूसरी ओर ट्रांसफार्मर में लगी आग ने समीप की एक लाण्ड्री दुकान को अपनी चपेट में ले लिया। लोगों की सतर्कता से फिर आग बुझा ली गई। 

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • फर्जी खनिज अफसर बनकर वाहन चालकों से वसूली

    4 हिरासत में 
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 मई।
    फर्जी खनिज अफसर बनकर वाहन चालकों से वसूली करने वाले चार युवक पकड़े गए। पुलिस ने वसूली के समय साथ रखे उनका वाहन भी जब्त कर लिया है, पूछताछ जारी है। 

    पुलिस के मुताबिक मंदिर हसौद के रिंग रोड नंबर 3 के समीप 13 व 14 मई की रात बहनाकाड़ी क्रेशर से गिट्टी लेकर कांकेर के लिए निकले हाइवा को सड़क पर चार युवकों ने रोक लिया। वे चारों अपने को खनिज अधिकारी बताकर वाहन का कागजात मांगने लगे। इतना ही नहीं हाइवा चालक को कार्रवाई का भय दिखाकर 5 सौ रुपये वसूल भी लिया। इसकी शिकायत वाहन चालक ने मंदिर हसौद पुलिस में की। 

    बताया गया कि शिकायत पर पुलिस की टीम वाहन चालक  के साथ मौके पर पहुंची, जहां वाहन चालकों से अपने को खनिज अधिकारी बताकर वसूली करने वाले चारों युवक पकड़ लिए गए। पकड़े गए युवकों में प्लावन मजूमदार, जितेंद्र कुमार पाल, रजत साहू और बलराम उर्फ बल्लू सोनवानी शामिल हैं। पुलिस का कहना है कि और भी शिकायत सामने आने पर पकड़े गए युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • द्रोणिका का प्रभाव, तापमान में थोड़ी गिरावट जारी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 मई।
    प्रदेश में भीषण गर्मी के साथ मैदानी इलाकों में लू के हालात बने हुए हैं और लोग बेहाल हैं। रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर, राजनांदगांव में तापमान 42 से 44 डिग्री के आसपास दर्ज किए जा रहे हैं। दूसरी ओर द्रोणिका के चलते शाम को हल्के बादल छाए रहे और उमसभरी गर्मी से लोग हलाकान रहे। मौसम विभाग का कहना है कि प्रदेश में द्रोणिका का असर देखा जा रहा है। शाम को गरज-चमक के साथ कहीं-कहीं हल्की बारिश की संभावना है। 

    प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से भारी गर्मी पड़ रही है। खासकर राजस्थान की ओर से आ रही झुलसनभरी गर्म हवा से दोपहर में सड़कों पर वीरानी सी छाने लगी है। घर-दफ्तर में एसी-कूलर के सामने लोग दुबके हैं, पर वहां भी उन्हें राहत नहीं मिल रही है। वे सभी भारी गर्मी से बेहाल हैं। दूसरी ओर लगातार गर्मी का असर लोगों की सेहत पर भी पड़ रहा है और सरकारी-निजी अस्पतालों में मरीजों की भीड़ बढऩे लगी है। खासकर सिरदर्द, बुखार, पेट दर्द, उल्टी-दस्त, कमजोरी के मरीज ज्यादा पहुंच रहे हैं। 

    मौसम विभाग के मुताबिक कल रायपुर का तापमान-42.7 डिग्री रहा। बिलासपुर-43.0, पेंड्रारोड-38.5, अंबिकापुर-38.6, जगदलपुर-38.3, दुर्ग-44.2 व राजनांदगांव-43.5 डिग्री दर्ज किया गया। आज दोपहर ढाई बजे तक यह तापमान करीब दो डिग्री तक कम रहा। मौसम विभाग का कहना है कि प्रदेश के मैदानी इलाकों में लू के हालात बने हुए हैं, लेकिन छत्तीसगढ़ से बिहार तक जो द्रोणिका बनी हुई है, उससे कुछ ठंडी हवा भी आ रही है। गर्मी और नमीयुक्त हवा का प्रभाव है कि यहां शाम को हल्के बादल छाए रहे। कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ हल्की बारिश की संभावना भी बनी रही। 

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • जून से सीएमडीसी की निगरानी में चलेंग

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 14 मई। सरकार रेत खदानों के संचालन के लिए ड्राफ्ट तैयार कर रही है। बताया गया कि चुनाव आचार संहिता खत्म होने के बाद पहली कैबिनेट में इसको मंजूरी मिल सकती है। रेत खदानों का संचालन वैसे तो सीएमडीसी करेगा, लेकिन सीएमडीसी भी आउटसोर्सिंग कर खदान चलाएगी।

    भूपेश सरकार ने अवैध खनन को रोकने के लिए रेत खदानों का संचालन राज्य खनिज निगम (सीएमडीसी) के जरिये करने का फैसला लिया है। अब तक पंचायतें ही रेत खदान चलाती रही है। पंचायतों ने भी एक तरह से ठेका दे दिया था। इसमें न सिर्फ अवैध खनन हो रहा था बल्कि रायल्टी की चोरी की जा रही थी। विधानसभा में कई बार यह मामला उठ चुका है। पिछले सरकार में धमतरी, रायपुर और कांकेर में अवैध उत्खनन को लेकर काफी शोर-शराबा हुआ था, लेकिन इस पर नकेल कसने की दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया। 

    सरकार बदलते ही इस दिशा में कदम उठाया है। सीएमडीसी को खदान संचालन का अधिकार देने का सैद्धांतिक फैसला लिया गया, अब इसको अमल में लाने की दिशा में काम चल रहा है। सबसे ज्यादा दिक्कत पर्यावरण स्वीकृति को लेकर है। 5 साल पहले रेत खदान चलाने के लिए पर्यावरण स्वीकृति की जरूरत नहीं होती थी, अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इसके लिए जरूरत होगी। सरकार ने यह तय किया है कि ग्राहकों को वाजिब दाम पर रेत उपलब्ध कराए जाएंगे। साथ ही पूरी प्रक्रिया को भी पारदर्शी रखा जाएगा। यानी अवैध खनन रोकने के लिए सभी खदानों पर सीसीटीवी लगाए जाएंगे। 

    बताया गया कि सीएमडीसी के पास मैनपॉवर तो है नहीं, इसलिए इन तमाम प्रक्रियाओं को ऑउटसोर्सिंग करने की भी तैयारी है। यानी निजी कंपनी-ठेकेदारों को खदान चलाने के लिए टेंडर दिए जाएंगे। सरकार ने यह भी फैसला किया है कि पंचायतों को मिलने वाली रॉयल्टी में भी बढ़ोत्तरी होगी। यानी तमाम प्रक्रियाओं का पालन करने की दिशा में कार्रवाई चल रही है और इसके लिए पॉलिसी तैयार करने का काम चल रहा है। कहा जा रहा है कि आचार संहिता खत्म होने के बाद कैबिनेट की पहली बैठक में पॉलिसी को मंजूरी मिल सकती है। माना जा रहा है कि जून के आखिरी तक सीएमडीसी के जरिए विधिवत खदानों का संचालन होगा। 

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • 13 करोड़ की मल्टी विटामिन खरीदी गड़बड़ी की जांच शुरू

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 14 मई। स्वास्थ्य विभाग में करीब साढ़े 13 करोड़ की मल्टी विटामिन सिरप खरीदी में गड़बड़ी की जांच शुरू हो गई है। एसीबी के साथ विभागीय स्तर पर भी जांच की जा रही है। एसीबी ने शिकायतकर्ता को 14 के बजाय अब 15 मई को बयान के लिए बुलाया है। स्वास्थ्य विभाग ने सिरप खरीदी संबंधी पूरी रिपोर्ट मंगाकर उसे शासन को भेज दी है। माना जा रहा है कि इस मामले में कुछ स्वास्थ्य अफसरों के साथ सप्लायर दवा कंपनी के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। 

    कांग्रेस कार्यकर्ता नितिन भंसाली ने स्वास्थ्य विभाग में मल्टी विटामिन सिरप खरीदी में भारी गड़बड़ी की शिकायत 104 पेज के दस्तावेजों के साथ मुुख्यमंत्री भूपेश बघेल से की थी। एंटी करप्शन ब्यूरो में उसकी यह शिकायत 17 अप्रैल को हुई थी। शिकायत के बाद एसीबी ने जल्द ही जांच शुरू कर दी।  एक नोटिस जारी कर शिकायतकर्ता को बयान के लिए भी बुलाया है। कल उसका बयान होना है। इसके बाद जांच में और तेजी आ सकती है। शिकायतकर्ता ने सिरप खरीदी में करोड़ों की गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है। 

    बताया गया कि छत्तीसगढ़ मेडिकल सर्विसेस कार्पोरेशन लिमिटेड(सीसीएमएससी)द्वारा मेडिकल सामग्री-दवा सप्लाई करने वाली धमतरी की नाहर मेडिकल एजेेंसी से मल्टी विटामिन सिरप की खरीदी की गई है और दोनों में मिलीभगत का आरोप है। एसीबी ने सिरप खरीदी में गड़बड़ी के मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है। दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग ने भी सीएस से शिकायत के बाद अपनी जांच शुरू कर दी है। खरीदी से संबंधित रिपोर्ट मंगाकर ली गई है। इतना ही नहीं, उसकी शासन स्तर पर जांच भी की जा रही है। 
    शिकायतकर्ता भंसाली का कहना है कि एसीबी से नोटिस मिला था और उसे आज बयान देने के लिए बुलाया गया था, लेकिन बयान देने की यह तारीख अब एक दिन आगे बढ़ाकर 15 मई कर दी गई है। अब उसका यह बयान कल ही होगा। 

    स्वास्थ्य आयुक्त भुवनेश्वर यादव का ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहना है कि मल्टी विटामिन सिरप खरीदी में गड़बड़ी हो सकती है। फिलहाल विभाग से इसकी पूरी रिपोर्ट मंगाकर उसे शासन को भेज दी गई है। अब शासन स्तर पर विचार किया जाएगा, कि आगे क्या होना है। 

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • आरोपियों का पता नहीं, पूछताछ जारी

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 14 मई। गुढिय़ारी के बसंत विहार कालोनी गोगांव स्थित लेखापाल के एक सूने मकान में बीती रात चोरी हो गई। अज्ञात चोर घर का ताला तोडक़र वहां रखे करीब दो लाख के जेवर, नगदी लेकर फरार हो गए। पुलिस आसपास के लोगों से पूछताछ के साथ सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है, पर आरोपियों का पता नहीं चल पाया है। 

    पुलिस के मुताबिक किसी निजी कंपनी में लेखापाल श्रीराम साहू 11 मई को परिवार समेत अपनी भांजी की शादी में मोवा(पंडरी)गया था। वहां वे सभी दो दिन रहकर 13 मई की शाम-रात अपने घर वापस आए। इस दौरान उसके घर का ताला टूटा हुआ था और भीतर आलमारी में रखे सारे सामान बिखरे पड़े थे। इतना ही नहीं, आलमारी में रखे 71 हजार रुपये नगद और सोने-चांदी के जेवरात चोरी चली गई थी। लेखापाल ने घटना की खबर तुरंत गुढिय़ारी पुलिस में दी। 

    बताया गया कि पुलिस की एक टीम घटना स्थल पहुंचकर जांच में लगी रही, पर देर रात तक आरोपियों का पता नहीं चल पाया। पुलिस की टीम अब आसपास के लोगों से पूछताछ करते हुए वहां से सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। पुलिस का कहना है कि अभी तक की पूछताछ में आरोपियों का पता नहीं चल पाया है। सीसीटीवी फुटेज से आरोपियों की पहचान का प्रयास किया जा रहा है। उम्मीद है आरोपी जल्द पकड़ लिए जाएंगे। फिलहाल पुलिस मामला दर्ज कर जांच-पूछताछ में लगी है। 

     

     

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • विधानसभावार डाक मतपत्रों की होगी गणना

    रायपुर, 14 मई। लोकसभा चुनाव के अंतर्गत आगामी 23 मई को होने वाली मतगणना के लिए आज कलेक्टोरेट के रेडक्रॉस सभाकक्ष में डाक मतपत्रों हेतु गणना अधिकारियों को प्रशिक्षण प्रदान किया गया। प्रशिक्षण में बताया गया कि डाक मतपत्रों की गिनती विधानसभावार होगी। रिटर्निंग अधिकारी एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारी की देखरेख में समस्त विधानसभा के डाक मतों की गणना एक पृथक हॉल में होगी जहां विधानसभावार टेबल लगाई जाएगी। डाक मतपत्रों की गणना सुबह 8 बजे से प्रारंभ होगी इसके ठीक आधे घण्टें बाद सुबह 8:30 बजे से ईव्हीएम में पड़े वोट की गिनती प्रारंभ हो जाएगी।  प्रशिक्षण में डाकमत पत्रों की गणना संबंधित प्रक्रिया एवं विधिक उपबंधों की जानकारी प्रशिक्षणार्थियों को दी गई। विधिक प्रावधानों एवं भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों का पालन करने के निर्देश दिए गए। 

    प्रशिक्षण में बताया गया कि मतगणना स्थल पर मोबाईल सहित अन्य इलेक्ट्रानिक गेजेट प्रतिबंधित है, मतगणना में संलग्न अधिकारी-कर्मचारी जारी प्रवेश पत्र और जांच के पश्चात् ही प्रवेश पा सकेंगे। सभी अधिकारी-कर्मचारी मतगणना के दिन सुबह 5 बजे मतगणना स्थल शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज परिसर सेजबहार में पहुंचेंगे। मतगणना के दिन प्रात: 5 बजे प्रेक्षक की उपस्थिति में तीसरे रेण्डमाईजेशन द्वारा टेबल का निर्धारण किया जाएगा। सभी मतगणना अधिकारियों को निर्धारित टेबल पर प्रात: 7 बजे के पूर्व बैठना होगा।

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • बढ़ रहा है तापमान, लू से बचें 

    रायपुर, 14 मई। तापमान में वृद्धि के साथ ही लू चलना भी शुरू हो गई है । दिन में तापमान 44 डिग्री से ऊपर चल रहा है और मौसम विभाग की मानें तो आगामी दिनों में प्रदेश के कुछ हिस्सों में पारा 48 डिग्री के ऊपर भी जा सकता है। ऐसे में लू लगने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है। लू से बचने के लिए जिला चिकित्सालयों ने कमर कस ली है। प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालय में लू के शिकार होने वाले रोगियों के लिए अलग से वार्ड में बेड की व्यवस्था की गई है। ओआरएसए ग्लूकोज के साथ ही प्राथमिक उपचार की सभी दवाइयां उपलब्ध है।

    जिला चिकित्सालय रायपुर के आरएमओ डॉ. पी.के गुप्ता ने बताया कि अस्पताल में एक वार्ड में 4 बेड को लू से प्रभावित मरीजों के लिए आरक्षित कर रखा है।आवश्यकता अनुसार बेड की संख्या में वृद्धि भी की जा सकती है, वहां कूलर की व्यवस्था भी है। अन्य जरूरी दवाइयां भी उपलब्ध है। हमारी सेवा 2437 काम कर रही हैं। अभी तक कोई भी लू का मरीज नहीं आया है। बीमारी से ज्यादा अच्छा है उसका बचाव। सुबह के काम 12 से 1 बजे तक कर लें  और शाम 5 के बाद ही अपना आवश्यक कार्य करें सुबह जल्दी अपने सारे जरूरी काम निपटा लें बाहर के खाने पाने से परहेज करें। खुले हुए फलों के रस का प्रयोग ना करें घर का बना ताजे फलों के रस का प्रयोग करें बाहर की चीजों को खाने से बचें।यदि लू लगती है तो तुरंत प्रारंभिक सलाह के लिए 104 आरोग्य सेवा केंद्र से निशुल्क परामर्श ले। इलाज से ज्यादा जरूरी है सावधानी।

    लू के लक्षण
    सिर में भारीपन और दर्द का अनुभव होनाएतेज बुखार के साथ मुंह का सूखनाएचक्कर और उल्टी आनाए कमजोरी के साथ शरीर में दर्द होनाए शरीर का तापमान अधिक होने के बावजूद पसीने का ना आनाए अधिक प्यास लगना और पेशाब कम आनाए भूख कम लगनाए बेहोश होना ।

    लू से बचाव के उपाय 
    लू लगने का प्रमुख कारण तेज धूप और गर्मी में ज्यादा देर तक रहने के कारण शरीर में पानी और खनिज मुख्यत: नमक की कमी हो जाना होती हैए अत: इससे बचाव के लिए निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए, बहुत अनिवार्य ना हो तो घर के बाहर ना जाएं, धूप में निकलने से पहले सर एवं कानों को कपड़े से अच्छी तरह से बांध ले, पानी अधिक मात्रा में पिएं, अधिक समय तक धूप में ना रहे, गर्मी के दौरान नरम, मुलायम सूती के कपड़े पहनने चाहिए ताकि हवा कपड़े और पसीने को सोखती रहे, अधिक पसीना आने की स्थिति में ओआरएस घोल पिएं, चक्कर आने, मितली आने पर छायादार स्थान पर आराम करें तथा शीतल जल अथवा उपलब्ध हो तो ताजे फलों का रस, लस्सी, मठा, का सेवन करें। उल्टी सर दर्द तेज़ बुखार की दशा में निकट के स्वास्थ्य केंद्र में जरूरी सलाह ले ।

    लू लगने पर किए जाने वाला प्रारंभिक उपचार
    बुखार पीडि़त व्यक्ति के सर पर ठंडे पानी की पट्टी लगाएं, अधिक पानी व पेय पदार्थ पिलाए जैसे कच्चे आम का पना, जलजीरा,पीडि़त व्यक्ति को पंखे के नीचे हवा में लेटा दें, शरीर पर ठंडे पानी का छिडक़ाव करते रहे, पीडि़त व्यक्ति को शीघ्र ही किसी नज़दीकी चिकित्सक या अस्पताल में इलाज के लिए जाएं मितानिन एएनएम से ओआरएस की पैकेट हेतु संपर्क करें।

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • गणना के लिए वनमंडलाधिकारी की अध्यक्षता में समिति गठित होगी

    रायपुर, 14 मई। वन विभाग द्वारा काले हिरण के अनुकूलन केन्द्रों में उनके रहवास और देखरेख के लिए पर्याप्त इंतजाम और स्वास्थ्य देखभाल की व्यवस्था की गई है। इन हिरणों की देख रेख और उपचार के लिए पशुचिकित्सक भी नियुक्त हैं। समय-समय पर इनकी नियमित स्वास्थ्य जांच की जाती है। बीमार होने पर तत्काल इलाज की सुविधा और उपचार किया जाता है। 

    वन अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में राजस्थान से कोई भी काला हिरण बारनवापारा अभ्यारण्य में नहीं लाया गया है, अपितु राष्ट्रीय प्राणी उद्यान नई दिल्ली से 50 और कानन पेण्डारी चिडिय़ाघर से 27 काला हिरण बारनवापारा अभ्यारण्य में लाया गया है। पशु चिकित्सक डॉक्टर जडिय़ा के द्वारा 25 अगस्त से 29 अगस्त 2018 तक बाड़े का निरीक्षण कर इन हिरणों की स्वास्थ्य जांच एवं उपचार किया गया। इस दौरान ग्यारह काले हिरणों की मृत्यु हुई। पोस्टमार्टम रिर्पोट में मृत्यु का कारण निमोनिया बताया गया है।

    वन अधिकारियों ने बताया कि काले हिरण का बाड़ा 4 हेक्टेयर में विस्तारित है, इसलिए इनकी वास्तविक गणना के लिए बाड़े में छोटे-छोटे एनीमल पार्टीशन बनाकर काले हिरण को इन पार्टीशन में ड्राईव कर सेग्रिगेट कर गणना किया जाना प्रस्तावित है। गणना के लिए वनमण्डलाधिकारी बलौदाबाजार की अध्यक्षता में पृथक से समिति गठित की जा रही है। इस समिति में पशु चिकित्सा अधिकारी और परिक्षेत्राधिकारियों के साथ गणना पूर्ण की जाएगी। काले हिरण की गणना के लिए पृथक से समिति गठन संबंधी आदेश जारी किए जा रहे हंै। गणना प्रक्रिया एक महीने के भीतर पूर्ण कर ली जाएगी। 

    वन अधिकारियों ने बताया कि पिछले वर्ष 23 अगस्त से 4 सितंबर 2018 के मध्य हुई अत्यधिक वर्षा से काले हिरणों के बचाव के लिए अनुकूलन केन्द्र में माउण्ट निर्माण, मुरूम बिछाने और पानी को बाहर निकालने के लिए ट्रेंच और झोपड़ी का निर्माण का किया गया। इन हिरणों के बाड़े के अंदर पानी का भराव होने पर पम्प के जरिए जल निकासी की भी व्यवस्था की गई। 

     

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • राज्य बीज निगम द्वारा किसानों के फेल धान बीजों को समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 14 मई। छत्तीसगढ़ राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम के प्रक्रिया केन्द्रों के माध्यम से किसानों द्वारा उत्पादित धान बीज का क्रय किया जाता है। इस प्रक्रिया के दौरान धान उत्पादन की दृष्टि से धान बीजों के योग्य नहीं पाए जाने पर उन्हें फेल भी  किया जाता है। इन फेल धान बीजों का उपयोग चावल बनाकर खाने के रूप में किया जा सकता है, लेकिन इनका उपयोग बीज के रूप में नहीं किया जा सकता। खाद्य नागरिक आपूर्ति निगम एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग मंत्रालय द्वारा बीज उत्पादक कृषकों के औसत अच्छे किस्म के फेल हुए धान बीजों, को समर्थन मूल्य पर समिति के माध्यम से खरीदे जाने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं।

    खाद्य नागरिक आपूर्ति निगम एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के निर्देशानुसार फेल धान बीज औसत अच्छी किस्म का होने पर ही खरीदी केन्द्र में क्रय किए जाएंगे। कृषक द्वारा उक्त धान को खरीदी केन्द्र पर लाए जाने पर प्रक्रिया केन्द्र प्रभारी का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर ही धान समर्थन मूल्य पर क्रय किया जाएगा। धान के भारत सरकार द्वारा निर्धारित औसत अच्छे किस्म का स्पेशीफिकेशन, समितियों में प्रदर्शित किया जाएगा। बीज निगम के प्रक्रिया केन्द्र प्रभारी के द्वारा कृषक को फेल धान बीज के संबंध में प्रमाण-पत्र जारी किया जाएगा। यह बीज 31 मई 2019 तक खरीदे जाएंगे।

    धान खरीदी हेतु पंजीकृत कृषक को अधिकतम 15 क्विंटल प्रति एकड़ धान विक्रय करने की पात्रता निर्धारित की गई है। अत: कृषक द्वारा फेल धान बीज विक्रय की पात्रता उसके द्वारा समर्थन मूल्य पर धान विक्रय की पात्रता की सीमा तक होगी। उदाहरण स्वरूप यदि किसी पंजीकृत कृषक के द्वारा धान बोवाई का रकबा 2 एकड़ है एवं उसके द्वारा 20 क्विंटल धान विक्रय समर्थन मूल्य पर किया जा चुका है तो वह फेल धान बीज 10 क्विंटल की सीमा तक ही विक्रय कर सकता है।

    किसानों से कहा गया है कि वे धान विक्रय करते समय अपने क्षेत्र की समिति में पंजीकृत कृषक कोड नंबर साथ में लावे। यह भी निर्देश दिए गए हैं कि किसानों को भुगतान, धान का परिवहन एवं निराकरण खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 हेतु निर्धारित नीति के अनुसार की जाए।

  •  

Posted Date : 14-May-2019
  • पुलिस ने ग्रामीणों को किया जागरूक

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

     तिल्दा नेवरा, 14 मई।  कल  तिल्दा नेवरा थाना प्रभारी शरद कुमार चंद्रा एवं पुलिस के द्वारा ग्राम सरोरा में  पुलिस जनमित्र योजना के तहत कार्यक्रम  का आयोजन किया गया, जिसमें  गांव के महिला समूह सहित ग्रामीण लोग काफी मात्रा में एकत्रित हुए।

     थाना प्रभारी शरद कुमार चंद्रा ने पुलिस जनमित्र योजना के बारे में बताया कि आप लोग के सुविधा के लिए पुलिस जनमित्र योजना का आयोजन किया गया है जिसमें आप लोग के छोटे छोटे बात को लेकर विवाद होते है उसको पुलिस जनमित्र योजना  में अवगत करा कर सुलझाया जा सकेगा। आगे बताया कि महिलाओं पर होने वाले अपराध , टोनही प्रताडऩा , घरेलू हिंसा,  अत्याचार से बचने संबंधी उपाय बताये किसी भी अनजान व्यक्ति को अपना एटीएम नंबर, ओटीपी नंबर, बैंक खाता नंबर नहीं बताना है , कम ब्याज दर पर कम समय में लोन देने वाले फायनेंस कंपनी के झांसा में नहीं आना है , वाहन से आते जाते समय हमेशा यातायात नियम का पालन करने, नाबालिक बच्चो को वाहन चलाने के लिये नही देने, बाल विवाह नही करने देना, महिलाओं पर होने वाले अत्याचार के लिए सखी सेंटर की उपलब्धता जैसे बातों पर ग्रामीण को जानकारी देकर सावधानियां बरतने के लिये जागृत किया गया। 
    कार्यक्रम में एएसआई राजभूषण सिंह सिपाही सदानंद ठाकुर एवम गांव के सरपंच पंच एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

     

  •  

Posted Date : 13-May-2019
  • एक परिवार के चार युवक हिरासत में, पूछताछ 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 13 मई। पुराने कांशीराम नगर में बीती देर रात पुरानी रंजिश को लेकर दो परिवारों के बीच जमकर विवाद हुआ। एक परिवार के चार युवकों ने फिर दूसरे परिवार के दो भाइयों को चाकू मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया। दोनों को अंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी हालत फिलहाल खतरे से बाहर बताई जा रही है, पूछताछ जारी है। 

    पुलिस के मुताबिक पुराने कांशीराम नगर निवासी नीलेश, विनोद, लक्ष्मण व राजा तांडेकर का वहीं के रहने वाले संकेत तांडी व उसके बड़े भाई भविष्य तांडी के साथ किसी बात को लेकर जमकर विवाद हुआ। दोनों पक्ष गाली-गलौज करते हुए मारपीट पर उतर आए। तभी नीलेश, विनोद, लक्ष्मण व राजा ने एक राय होकर संकेत और भविष्य के हाथ-पैर, पीठ व अन्य जगहों पर चाकू मारकर उन्हें गंभीर रूप से घायल कर दिया। लहूलुहान दोनों भाई वहीं गिरकर तड़पते रहे। बाद में पुलिस ने उन दोनों को अंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया। 

    दूसरी ओर आरोपी एक ही परिवार के चार युवक घटना के बाद वहां से फरार हो गए। पुलिस ने उन चारों को हिरासत में ले लिया है। तेलीबांधा पुलिस का कहना है कि आरोपी चारों युवक ऑटो चलाने के साथ कहीं-कहीं मजदूरी के लिए जाते हैं। घायल दोनों भाई भी मजदूरी करते हैं। उन दोनों के बीच किसी बात को लेकर पुराना विवाद चल रहा है, जो पूछताछ में स्पष्ट होगा। फिलहाल घटना का कारण पुरानी रंजिश बताई जा रही है। पुलिस हत्या का प्रयास मामला दर्ज कर चारों आरोपियों से पूछताछ कर रही है। पूछताछ के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

  •  

Posted Date : 13-May-2019
  • महाधिवक्ता कनक तिवारी के इस्तीफे की अफवाह

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 13 मई। महाधिवक्ता कनक तिवारी के पद से इस्तीफा देने की दिनभर चर्चा रही, लेकिन श्री तिवारी ने इन अफवाहों का खंडन किया है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने उन्हें आदिवासियों के खिलाफ दर्ज प्रकरण की वापसी के लिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड चीफ जस्टिस एके पटनायक की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय कमेटी में सदस्य के रूप में नियुक्त किया है। 

    श्री तिवारी ने 'छत्तीसगढ़' से चर्चा में बताया कि कमेटी की सोमवार को बैठक थी। जिसमें वे शामिल हुए। इस बैठक में प्रमुख सचिव (गृह) और डीजीपी समेत दर्जनभर अफसर मौजूद थे। इधर, दिनभर श्री तिवारी के इस्तीफे को लेकर अफवाहों का बाजार गरम रहा।   

    हालांकि विधि विधायी मंत्री मोहम्मद अकबर ने 'छत्तीसगढ़' से चर्चा में इस पूरे मामले में अनभिज्ञता जताई। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कनक तिवारी को महाधिवक्ता बनाया गया। तिवारी अविभाजित मध्यप्रदेश में कांग्रेस कमेटी के महामंत्री रहे हैं। इसके अलावा हाउसिंग बोर्ड और लघु उद्योग निगम के अध्यक्ष भी रहे हैं। कनक तिवारी जबलपुर हाईकोर्ट में वकालत करते रहे हैं।  

     

  •  

Posted Date : 13-May-2019
  • रायपुर के तालाब-प्रदूषण की जांच, भेल के विशेषज्ञ पहुंचे

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 13 मई। तेलीबांधा तालाब के बाद अब शहर के बूढ़ातालाब, नरैया समेत दर्जनभर तालाबों के पानी की जांच शुरू कर दी गई है। भारत हैवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड(भेल) की दिल्ली, हैदराबाद, हरिद्वार व नागपुर से आई दर्जनभर इंजीनियर-एक्सपर्ट की टीम ने सोमवार को रायपुर स्मार्ट सिटी के अफसरों के साथ इन तालाबों में पहुंचकर वहां से पानी का सैंपल लिया। पानी की जांच के बाद वहां सफाई अभियान चलाया जाएगा। 

    रायपुर स्मार्ट सिटी के मैनेजर इलेक्ट्रिकल प्रमोद भास्कर ने बताया कि शहर के तालाबों की हालत दिनों-दिन बिगड़ती जा रही है। वहां नाली-नालों का गंदा पानी लगातार गिर रहा है, जिससे तालाबों का पानी प्रदूषित होने लगा है। ऐसे में रायपुर स्मार्ट सिटी ने भेल के साथ अनुबंध कर तालाबों को सवारने और उसे प्रदूषित होने से बचाने का निर्णय लिया है। इसी क्रम में शुरूआत में वहां के पानी की जांच की जा रही है। इसके बाद तालाबों के समीप की खाली जगह पर शोधन संयत्र लगाकर वहां गिरने वाले नाली-नालों के पानी की सफाई कर उसे तालाबों में छोड़ा जाएगा। इससे तालाब प्रदूषित होने से बच जाएगा और वहां का पानी साफ रहेगा। भीषण गर्मी में भी तालाबों का जल स्तर लगभग पहले जैसा बना रहेगा। 

     

  •  

Posted Date : 13-May-2019
  • नान घोटाला, एक जज केस से अलग हुए, अब 18 जुलाई को बहस

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 13 मई। नागरिक आपूर्ति निगम घोटाले की जनहित याचिकाओं पर सुनवाई सोमवार को टल गई। जस्टिस मनिन्द्र मोहन श्रीवास्तव ने खुद को सुनवाई से अलग कर लिया। प्रकरण की सुनवाई के लिए नई बेंच बनाई जाएगी। अब 18 जुलाई को प्रकरण की सुनवाई होगी। 

    नान घोटाले की जांच के लिए दायर अलग-अलग जनहित याचिकाओं पर जस्टिस पीआर रामचंद्रन मेनन और जस्टिस मनिन्द्र मोहन श्रीवास्तव की पीठ में सुनवाई होनी थी। जस्टिस मनिन्द्र मोहन श्रीवास्तव ने प्रकरण की सुनवाई से खुद को अलग कर लिया। इसलिए प्रकरण पर आगे सुनवाई नहीं हो सकी। चीफ जस्टिस श्री मेनन जल्द ही नई बेंच का गठन करेंगे। प्रकरण पर सुनवाई के लिए 18 जुलाई की तिथि नियत की गई है। 

    बताया गया कि जस्टिस श्री श्रीवास्तव पहले भी नान प्रकरण की सुनवाई से मना कर चुके हैं। इस प्रकरण को लेकर जनहित याचिका अधिवक्ता सुदीप श्रीवास्तव, हमर संगवारी संस्था के राकेश चौबे, राज्य वित्त आयोग के पूर्व अध्यक्ष वीरेन्द्र पाण्डेय की तरफ से दायर की गई है। 

    याचिकाकर्ताओं ने प्रकरण की कोर्ट की निगरानी में एसआईटी अथवा सीबीआई जांच की मांग की है। सरकार ने प्रकरण की नए सिरे से जांच के लिए एसआईटी बनाई है। पिछली बार प्रकरण पर सुनवाई हुई थी और कोर्ट ने अब तक की जांच की स्थिति की समीक्षा की थी।  दूसरी तरफ, जिला अदालत में भी प्रकरण की सुनवाई चल रही है और 100 से अधिक लोगों की गवाही हो चुकी है। इनमें राईस मिलर्स के अलावा नान के कर्मचारी और अन्य लोग भी थे। 

     

  •  

Posted Date : 13-May-2019
  • भीमा मंडावी के परिजनों से मिलने 14 को बस्तर जाएंगे भाजपा विधायक

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

     

    रायपुर, 13 मई। प्रदेश भाजपा के सभी विधायक मंगलवार जगदलपुर रवाना हो रहे हैं। वे परसों दिवंगत विधायक भीमा मण्डावी के घर जाएंगे और उनके परिजनों से मेल-मुलाकात करेंगे। 

    दंतेवाड़ा विधायक भीमा मण्डावी की नक्सलियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। अंतिम संस्कार के बाद पार्टी का कोई नेता उनके परिजनों से मिलने नहीं जा पाया था। सभी चुनाव प्रचार में व्यस्त थे। चुनाव निपटने के बाद भाजपा विधायक दल स्व. मण्डावी के परिवार से मिलने दंतेवाड़ा जा रहा है। 

    बताया गया कि चुनाव प्रचार में व्यस्तता के चलते पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के दंतेवाड़ा जाने की संभावना कम है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक भी प्रदेश से बाहर हैं। फिर भी उनके लौटकर आने और विधायक दल के साथ जाने की संभावना जताई जा रही है। विधायक दल के साथ पूर्व मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय और बस्तर के पार्टी प्रभारी सुनील सोनी भी साथ रहेंगे। 

    सूत्रों के मुताबिक पूर्व कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के साथ अजय चंद्राकर, शिवरतन शर्मा, ननकीराम कंवर, रंजना साहू और अन्य विधायक  सडक़ मार्ग से जगदलपुर जाएंगे। जगदलपुर में रात्रि विश्राम के बाद अगले दिन दंतेवाड़ा जाएंगे और वहां दंतेश्वरी मंदिर के दर्शन करेंगे। दंतेश्वरी दर्शन के बाद विधायक श्री मंडावी के परिवार से मिलेंगे और उनका हालचाल जानने के लिए बुधवार को ही रायपुर के लिए रवाना हो जाएंगे। 

     

     

     

  •  

Posted Date : 13-May-2019
  • मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री से दूरभाष पर चर्चा कर मदद दिलाने का आग्रह किया

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    रायपुर, 13 मई। छत्तीसगढ़ का एक युवा पिछले सप्ताह फोनी चक्रवात से प्रभावित ओडि़शा के जगन्नाथ पुरी में फंसने कारण जेईई एडवान्स का ऑनलाइन आवेदन नहीं भर पाया। युवा ने पत्र लिखकर मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल से ओडि़शा के तूफानी फंसे युवाओं के लिए आवेदन की तारीख 9 मई को बढाकर 14 मई तक किए जाए के निर्णय से उसे भी फायदा दिलाने की गुहार लगाई। छत्तीसगढ़ के संवेदनशील मुख्यमंत्रीभूपेश बघेल तत्काल उसकी मदद के लिए केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से दूरभाष पर बातचीत की और युवा द्वारा दो साल की मेहनत और उसके फोनी चक्रवात में फंसे होने के कारण उसी भी ऑनलाइन आवेदन 14 मई 2019 तक किए जाने हेतु मदद दिलाने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस संबंध में केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री को अपना पत्र भी पे्रषित किया। केन्द्रीय मंत्री ने इस प्रकरण पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किये जाने का आश्वासन दिया।

    उल्लेखनीय है कि दुर्ग जिले के इस युवा ने कठिन मेहनत कर जेईई मेंन्स में 93.18 प्रतिशत प्राप्त किया है और इस कारण वह जेईई एड़वान्स परीक्षा में बैठने की योग्यता हासिल किया है। उसका सीबीएसई के 12वीं की परीक्षा में भी 83 प्रतिशत अंक आया है। इस युवा ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से गुहार लगाई की उसे आईआईटी, एनआईटी जैसे संस्थानों में प्रवेश हेतु परीक्षा में बैठने के लिए ऑनलाइन आवेदन भरने के लिए ओडि़शा के फोनी तूफान से पीडि़त युआवों की तरह ऑनलाइन आवेदन की तिथि में छुट दी जाए। 

     

  •