छत्तीसगढ़ » रायपुर

09-Apr-2021 8:26 PM 13

पूर्व में प्रदाय की गई समस्त अनुमति निरस्त 

रेलवे स्टेशन, बस  स्टैंड व एयरपोर्ट की यात्रा टिकट ई-पास माना जावेगा

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 9 अप्रैल।
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रायपुर ने रायपुर जिले  के अन्तर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को 9 अप्रेल की शाम 6 बजे से 19 अप्रेल की सुबह 6 बजे तक कंटेनमेंट जोन घोषित किया है। इस आदेश की कुछ कंडिका में आंशिक संशोधन किया गया हैें।

उल्लेखनीय है कि विवाह इत्यादि प्रयोजन हेतु पूर्व में अधिकतम 50 व्यक्तियों के शामिल होने हेतु अनुमति प्रदान की गई थी। कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप के दृष्टिगत विवाह इत्यादि प्रयोजन हेतु पूर्व में प्रदाय की गई समस्त अनुमतियों को निरस्त किया गया है। विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधू के निवास-गृह में ही आयोजित करने की शर्त के साथ आयोजन में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 10 निर्धारित की गयी है। इसी प्रकार अंत्येष्टि, दशगात्र, इत्यादि मृत्यु संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 10 निर्धारित की गयी है।

आदेश के तहत यह भी स्पष्ट किया गया है कि इस अवधि में रेल, बस व हवाई यात्रा हेतु रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड व एयरपोर्ट पर आने-जाने वाले यात्रियों को ई-पास की आवश्यकता नहीं होगी। यात्रियों को निवास/स्टेशन तक आने-जाने हेतु उनके पास उपलब्ध यात्रा टिकट ही उनका ई-पास माना जावेगा।
 


09-Apr-2021 8:07 PM 9

कमिश्नर ने की सहयोग की अपील

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 9 अप्रेल।
रायपुर संभाग के आयुक्त ए कुलभूषण टोप्पो ने रायपुर जिले और रायपुर संभाग के सभी नागरिकों से कोरोना के नियंत्रण और रोकथाम के लिए सहयोग की अपील की है।

कमिश्नर ने कहा है कि बड़ी संख्या में नागरिक कोरोना से प्रभावित हुए है और हमने अपने कई परिजनों, साथियों, परिचितों को खोया है। यह स्थिति अभूतपूर्व है और ऐसे में हर व्यक्ति के लिए जरूरी हो गया है कि वे इस बीमारी के प्रति अपनी समझ बढ़ाए, कोरोना की रोकथाम के अनुरूप अपना व्यवहार अपनाएं जैसे मास्क लगाना, कम से कम 6 फीट की दूरी बना कर रखें और सेनेटाइजर का उपयोग करें। 

कोरोना महामारी के नियंत्रण एवं रोकथाम की दृष्टि से 9 अपे्रल की शाम से 19 अप्रेल की सुबह तक 10 दिवस के लिए रायपुर जिले के संपूर्ण क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। उन्होंने रायपुर जिले की शहरी एवं ग्रामीण सभी नागरिकों से आग्रह है कि वे कोरोना गाइडलाइन और लॉकडाउन के निर्देशों का पूरी तरह पालन करें। सभी नागरिक घर में रहें और अपने साथ अपने परिवार को सुरक्षित रखें। ऐसे प्रयासों से कोरोना के चेन को तोडऩे में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा है कि लक्षण आने पर कोरोना का टेस्ट अवश्य कराएं तथा 45 वर्ष की आयु से नागरिक कोरोना का टीका भी लगवाएं। लाकडाउन के दौरान भी शासकीय चिकित्सालयों में कोरोना टेस्ंिटग और वैक्सिनेशन की कार्य नि:शुल्क होता रहेगा। 

पात्र नागरिक अपना आई कार्ड और आधार कार्ड दिखाकर चिकित्सालय आ सकते है। रायपुर जिले में जहां होम आईसोलेशन की व्यवस्था की गई है वहीं 12 नए कोरोना केयर सेंटर बनाकर करीब दो हजार सात सौ बेड की व्यवस्था भी बढ़ायी जा रही है। जिले के सभी विकासखंडों में भी 100-100 बेड की व्यवस्था की जा रही है।

कमिश्नर ने कहा है कि कोरोना से बचाव के लिए यह जरूरी है कि हम शासन प्रशासन, और चिकित्सा स्टाफ को सही-सही जानकारी दें। सही जानकारी नही मिलने पर ना केवल ऐसे नागरिक अपने जीवन के प्रति संकट पैदा करेंगे बल्कि अपने घर-परिवार, मित्रों और परिचितों के लिए खतरा बनेंगे। इस लिए कोटेक्ट टे्रसिंग टीम और घर घर सर्वेक्षण करने आए सर्विलांस टीम को पूरी और सही जानकारी दें। 
 


09-Apr-2021 5:38 PM 53

रायपुर, 9 अप्रैल। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की श्रृंखला को तोडऩे के लिए यूनिसेफ युवा स्वयंसेवकों के साथ आज सीएम भूपेश बघेल ने रोको अउ टोको (रोके और शिक्षित करें) अभियान को हरी झंडी दिखा इसकी शुरूआत की।

राजधानी रायपुर के 70 वार्डों में 6 सौ से अधिक युवा स्वयं सेवक वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के सरकार के प्रयासों का समर्थन करेंगे। वे बस्तियों, बाजारों, होटलों, बस स्टैंडों, रेलवे स्टेशनों और चौराहों पर लोगों से मास्क पहनना, सामाजिक दूरी, साबुन से हाथ धोना और भीड़-भाड़ वाली जगह से बचना ये सभी नियमों का पालन करने अपील की जाएगी।

इस अभियान में जिला प्रशासन, समर्थ ट्रस्ट और खालसा एड जैसे संगठनों के साथ-साथ सामुदायिक और धार्मिक संगठनों का भी समर्थन  मिला है।

यूनिसेफ के प्रमुख जॉब जकरियाह ने बताया कि प्रदेश में कोरोना को नियंत्रित किया जाना इसके लिए सभी लोगों के समर्थन की जरूरत है।   इसी तरह समर्थ ट्रस्ट के मंजीत बाल ने कहा कि स्वयं सेवक घोषणाओं, पोस्टर,पत्रक, बैनर के माध्यम से समर्थन किया। उन्होंने बातया कि इस अभियान के दूसरे चरण में 6 शहर दुर्ग, राजनांदगांव, कोरबा, बिलासपुर, अंबिकापुर, जशपुर और जगदलपुर बढ़ाया जाएगा। इसमें एनएसएस, स्काउट्स एंड गाडड्स, नेहरू युवा केंद्र और युवोदय के युवा स्वयंसेवको का सहयोग रहेगा।


09-Apr-2021 5:29 PM 25

रायपुर, 9 अप्रैल। छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी द्वारा लॉकडाउन के दौरान उपभोक्ताओं की सेवा-सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा गया है।  उपभोक्तागण लॉकडाउन के दौरान घर बैठे भी मोर बिजली ऐप के माध्यम से बिजली बिल का भुगतान सहजता से कर सकेंगे। एद्घपि पॉवर डिस्टीब्यूशन कंपनी का सैप सिस्टम  अपगे्रडेशन  के लिए  शुक्रवार 9 अप्रैल की रात्रि 12 बजे के बाद से 16 अपै्रल शुक्रवार की सुबह 10 बजे शट डाउन रहेगा।। इससे उपभोक्ताओं को होने वाली असुविधा को ध्यान में रखते पावर कंपनी के ई आई टी सी (एनर्जी इन्फोटेक सेंटर) विभाग ने ऐसी व्यवस्था कर ली है कि उपभोक्तागण मोर बिजली एप के द्वारा बिजली बिल का भुगतान   कर सकेंगे विदित हो कि पूर्व में सैफ सिस्टम बंद होने के कारण यह सुविधा भी स्थगित करना पड़ रहा था किंतु इ आई टी सी की एक्सपर्ट टीम ने उपभोक्ताओं की परेशानियों को दूर करने के लिए आनलाइन, मोर बिजली ऐप के माध्यम से बिल पटाने की सुविधा को बनाए रखने का निर्णय लिया है ।

एनर्जी इंफोटेक सेन्टर के कार्यपालक निदेशक द्वारा इस संबध में आदेश जारी कर दिया गया है।


09-Apr-2021 5:28 PM 22

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 9 अप्रैल। कोरोना से बचाव का टीका लगवाने पहुंचे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को पंडित जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय में टीकाकरण व्यवस्था का जायजा लिया। उन्होंने टीकाकरण के लिए पहुंचे लोगों से चर्चा भी की। रायपुर के फाफाडीह से टीका लगवाने पहुंची 86 वर्षीया श्रीमती शारदा बेन ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे आज कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लगवाने आईं हैं।

श्री बघेल ने उनके साथ ही कोरोना से बचाव के टीके का दूसरा डोज लगवाने आईं श्रीमती कुसुम बाई नडंगे, श्रीमती भारती राठौर और श्रीमती उषा चावड़ा से चर्चा कर टीकाकरण का अनुभव जाना। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने उन्हें और वहां टीकाकरण के लिए पहुंचे अन्य लोगों को टीकाकरण के बाद भी कोविड एप्रोप्रिएट बिहैविअर अपनाते हुए मास्क के उपयोग, शारीरिक दूरी और हैंड-हाइजिन का विशेष ध्यान रखने कहा। इस दौरान छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा, महापौर एजाज ढेबर, रायपुर मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. विष्णु दत्त, डॉ. भीमराव अम्बेडकर अस्पताल के अधीक्षक डॉ. विनीत जैन और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल भी उपस्थित थीं।


09-Apr-2021 5:28 PM 47

तीन पूर्व पदाधिकारियों को अनियमितता पर पक्ष रखने नोटिस

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 9 अप्रैल। मार्डन मेडिकल इंस्टीट्यूट संस्थान में ट्रस्टियों के बीच विवाद सुलझने का नाम नहीं ले रहा है। इसी कड़ी में तीन पूर्व पदाधिकारियों को नोटिस जारी किया गया है। उन्हें 20 तारीख को अपना पक्ष संस्था के सचिव के समक्ष रखने के लिए कहा गया है। ऐसा नहीं होने पर पुलिस कार्रवाई के साथ-साथ संस्था से निष्कासन की चेतावनी दी गई है।

एमएमआई अस्पताल प्रबंध संस्थान के अध्यक्ष सुरेश गोयल की पहल पर लूनकरण श्रीश्रीमाल, महेन्द्र धाड़ीवाल और प्रदीप गुप्ता को विधिक नोटिस जारी किया गया है। श्रीश्रीमाल धड़ा पहले अस्पताल का संचालन कर रहा था, और फिर हाईकोर्ट के आदेश के बाद सुरेश गोयल द्वारा अपनी प्रबंध कार्यकारिणी के साथ समिति का संचालन किया जा रहा है। मौजूदा समिति द्वारा पूर्व में काबिज तीनों पदाधिकारियों पर अनियमितता के आरोप लगाए गए थे, और इसको लेकर नोटिस भी जारी किया गया। इसका जवाब नहीं देने पर समिति ने वकील के जरिए फिर से नोटिस जारी किया है।

यह भी बताया गया कि मौजूदा पदाधिकारियों ने जांच के लिए कमेटी बनाई थी। कमेटी ने अपने अंतरिम जांच प्रतिवेदन में कहा था कि तीनों पदाधिकारियों द्वारा 29 जुलाई 2020 से 4 जनवरी 2021 तक की अवधि में मार्डन मेडिकल इंस्टीट्यूट संस्था का कार्यभार संभालने के दौरान अनेक स्तर पर और अनेक प्रकार की गड़बडिय़ां, गबन की गई हैं, जिसे कमेटी द्वारा भी प्रमाणित पाया गया है।

इस पर जवाब देने के लिए 20 अप्रैल को पक्षकार संस्था के सचिव रामअवतार अग्रवाल के समक्ष कार्यालयीन समय 12 बजे से 4 बजे के मध्य तीनों पूर्व पदाधिकारियों को जांच कमेटी की अंतरिम रिपोर्ट दिए गए बिन्दुओं पर अपना स्पष्टीकरण मय दस्तावेज जरूरत रूप से प्रस्तुत करें साथ ही रिपोर्ट में उल्लेखित संस्था की नगद जमा राशि, हेराफेरी की गई राशि, लॉकर की चाबी, पासवर्ड, संस्था के रिकार्ड जैसे अन्य संसाधन सचिव राम अवतार अग्रवाल को प्रदान कर उसकी पावती प्राप्त कर लें, अन्यथा समिति द्वारा संस्था के हित को ध्यान में रखते हुए समुचित और कठोर कार्यवाही की जाएगी, जिसमें पुलिस शिकायत और संस्था से निष्कासन भी हो सकता है।

 


09-Apr-2021 5:27 PM 51

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 9 अप्रैल। कोरोना के मौत के बाद शव लेने के लिए परिजनों को 48 घंटे इंतजार करना पड़ रहा है। यह स्थिति न सिर्फ रायपुर बल्कि दुर्ग, भिलाई और राजनांदगांव में भी आ गई है। इससे परिजनों में भारी गुस्सा है।

रायपुर में मारवाड़ी और देवेन्द्र नगर शवदाह गृह का हाल यह है कि शेड के बाहर तक शव का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। गुरूवार को सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 72 लोगों की कोरोना से मौत हुई थी, लेकिन आंकड़ा कहीं अधिक बताया जा रहा है। अकेले रायपुर में गुरूवार को 45 शवों का अंतिम संस्कार किया गया था। यही नहीं, अंबेडकर अस्पताल का चीरघर शवों से अटा पड़ा है।

 रायपुर में शव लेने के लिए दो-दो दिन तक इंतजार करना पड़ रहा है। मंत्रियों तक के फोन जिला प्रशासन तक पहुंच रहे हैं। कुछ प्रशासनिक अधिकारियों की उदासीनता और संवेदनहीनता की शिकायतें भी सामने आई हैं। एक एसडीएम की शिकायत पर प्रभारी मंत्री रविन्द्र चौबे से भी की गई है।

दुर्ग-भिलाई में भी इसी तरह के मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि एसडीएम खेमलाल वर्मा ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि कोशिश हो रही है कि कोविड से मृत लोगों के शव परिजनों को उसी दिन सौंप दिया जाए, और जल्द ही अंतिम संस्कार हो जाए। लेकिन कई बार शाम को शव आ रहे हैं, इसके कारण अगले दिन अंतिम संस्कार हो पाते हैं। राजनांदगांव में भी कुछ इसी तरह की स्थिति बन रही है।

परिजन इसको लेकर काफी आक्रोशित हैं। रोजाना अलग-अलग स्तरों पर शिकायतें हो रही हैं। परन्तु अभी तक व्यवस्था को सुधारने की दिशा में कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो रही है। जानकारों का कहना है कि आने वाले दिनों में भी कोरोना संक्रमण की संख्या में कमी आने की संभावना नहीं है। मृतकों की संख्या में लगातार इजाफा हो सकता है। वजह यह है कि पीडि़तों की संख्या बढऩे के कारण इलाज में कमी आई है।


09-Apr-2021 5:25 PM 37

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 9 अप्रैल। नोडल अधिकारी एवं अपर कलेक्टर श्रीमती पद्मनी भोई ने कोरोना टेस्टिंग के समय सभी नागरिकों को अपना नाम, पता और मोबाइल नम्बर की सही जानकारी देने की अपील की है। पॉजिटिव आने की स्थिति में ऐसे नागरिकों को जहां होम आइसोलेशन, हास्पिटल में भर्ती होने जैसी अनेक सुविधाएं मिलती है वहीं उनके इलाज का कार्य तुरंत शुरू होने पर उनके स्वस्थ्य होने की संभावना काफी बढ़ जाती है साथ ही उनके घर-परिवार, परिजनों, मित्रों और संपर्क में आए नागरिकों को भी कोरोना से बचाया जा सकता है।

अपर कलेक्टर बताया कि कोरोना की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए कांटेक्ट ट्रेसिंग का कार्य काफी महत्तवपूर्ण है, इसके माध्यम से जहां कोरोना पाजिटिव आए लोगों के होम क्वारंटाइन और अस्पताल में भर्ती किए जाने जैसा कार्य होता है। कांटेक्ट टेऊसिंग के दौरान सही जानकारी देने से कोरोना के चेन को तोडऩे मे मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि ऐसा देखने में आया है कि कुछ लोग कोरोना टेस्ट के दौरान जानबूझकर अपना सही टेलिफोन नम्बर एवं पता नहीं देते या महत्तवपूर्ण जानकारी छिपाते है, ऐसे व्यक्ति अपने घर परिवार के साथ समाज के लिए भी खतरनाक हो जाते है।

 जिला प्रशासन द्वारा सभी नागरिकों से आग्रह किया गया है कि इस राष्ट्रीय आपदा की घड़ी में कोविड मरीज के संपर्क में आये अधिक से अधिक व्यक्तियों की जानकारी प्रदान करें और कोरोना महामारी के फैलाव एवं रोकथाम में सहयोग प्रदान करें। उन्होंने बताया कि कोरोना होने की जानकारी छिपाने या कांटेक्ट टेऊसिंग की जानकारी नहीं देने पर संबंधितों के विरूद्ध पुलिस में एफ.आई.आर कार्यवाही भी की जाएगी। कोरोना पाजिटिव आए नागरिकों से उनके संपर्क में आए कम से कम 20 लोंगो की कांटेक्ट हिस्टीऊ ली जा रही है। कान्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए सिविल लाईन के न्यू सर्किट हाउस में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कंट्रोल रूम में रात-दिन 24 घंटे अधिकारी-कर्मचारी कान्टेक्ट ट्रेसिंग का कार्य किया जा रहा है। कांटेक्ट ट्रेसिंग को यथाशीघ्र पूरा करने की दृष्टि से आज नालंदा परिसर स्थित कम्प्यूटर कक्ष में विभिन्न विभागों के 120 अधिकारियों-कर्मचारियों को आवश्यक मार्गदर्शन दिया गया।


09-Apr-2021 5:25 PM 17

रायपुर, 9 अप्रैल। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की बेकाबू रफ्तार थामने में बुरी तरह विफल साबित हो चुकी प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम को हर बात में मीन-मेख निकालकर केंद्र सरकार के खिलाफ नित-नया प्रलाप करने की बुरी लत लग गई है।

श्री साय ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जारी जंग में प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेतृत्व ने बड़ी-बड़ी डींगें हाँककर जिस तरह का गैर-जिम्मेदाराना आचरण किया है, उसकी कोई और मिसाल शायद ही मिले। राजनीतिक प्रतिशोध की भावना के वशीभूत होकर प्रदेश के जनस्वास्थ्य के साथ अक्षम्य खिलवाड़ करने के अपराध-बोध से ग्रस्त कांग्रेस और प्रदेश सरकार अब अपनी विफलता छुपाने राजनीतिक प्रलाप कर रही है।

श्री साय ने वैक्सीनेशन की उम्र 18 वर्ष करने की कांग्रेस अध्यक्ष मरकाम और मुख्यमंत्री बघेल की मांग को लेकर कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि तमाम कांग्रेस नेता दिल्ली के एक ही रिमोट से संचालित हो रहे हैं और एक ही सुर में बेसुरा राग आलाप रहे हैं। वैक्सीनेशन की उम्र 18 वर्ष करने की मांग महाराष्ट्र के कांग्रेस अध्यक्ष भी कर चुके हैं। श्री साय ने कहा कि दरअसल छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए ठोस और सर्वहितकारी काम करने के बजाय कांग्रेस नेताओं और प्रदेश सरकार ने सालभर सिवाय राजनीतिक प्रलाप करने और केंद्र सरकार पर अपनी विफलता का ठीकरा फोडऩे के निकृष्ट राजनीतिक चरित्र का प्रदर्शन करने के अलावा और कुछ नहीं किया।

श्री साय ने कहा कि कोरोना गाइडलाइंस की खुलेआम धज्जियां उड़ाकर, लॉकडाउन को गैर जरूरी बताकर, वैक्सीन को लेकर घटिया राजनीतिक सोच का परिचय देकर जिस कांग्रेस और प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ को आज महामारी की अंधी खाई में धकेलकर रख दिया है, वह पार्टी और सरकार आखिऱ किस मुंह से केंद्र सरकार को नसीहतें देने का दुस्साहस कर रही है?


09-Apr-2021 5:24 PM 21

रायपुर, 9 अप्रैल। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने शुक्रवार को अपनी धर्मपत्नी श्रीमती कमला साहू के साथ रायपुर मेडिकल कॉलेज पहुंचकर कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लिया। मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि शासन द्वारा फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 वर्ष से अधिक उम्र के नागरिकों को प्राथमिकता क्रम में नि:शुल्क टीके लगाए जा रहे हैं। गृह मंत्री ने लोगों से अपील की है कि वे पात्रता अनुसार टीका अवश्य लगवाएं।

मंत्री श्री साहू ने बताया कि टीका लगाने के बाद उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोरोना संक्रमण के दिशा-निर्देशों का सभी लोग कड़ाई से पालन करें। लॉक डाउन में अनावश्यक बाहर न निकलें, मास्क अनिवार्य रूप से पहने, साबुन और सैनिटाइजर से हाथ धोते रहें, भीड़ वाली जगहों पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें। कुछ भी लक्षण दिखाई देने पर स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें और अपना कोविड जाँच अवश्य कराये। उन्होंने कहा है कि सभी के सहयोग से ही हम कोरोना को हरा पाएंगे।


09-Apr-2021 5:22 PM 39
  • आयुष्मान कार्ड से भुगतान की व्यवस्था लागू करने की मांग
  • खाली बिस्तरों की अद्यतन स्थिति का प्रतिदिन समाचार पत्रों में प्रकाशन हो

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 9 अप्रैल। स्वास्थ्य विकास समिति छत्तीसगढ़ ने राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या पर चिन्ता व्यक्त करते हुए निजी अस्पतालों में इलाज के नाम पर हो रहे दोहन और शोषण पर राज्य सरकार के खामोशी को आम जनता के जीवन के साथ अन्याय निरूपित किया है और त्वरित कार्यवाही कर निजी अस्पतालों में कोरोना मरीज इलाज में निश्चित व्यय तय करने और आयुष्मान स्वास्थ्य योजना के तहत आयुष्मान कार्ड द्वारा भुगतान की व्यवस्था लागू करने तथा अस्पतालों में रिक्त खाली बिस्तरों की जानकारी रोज अखबारों प्रकाशित करने की मांग शासन से की है।

जारी विज्ञप्ति में स्वास्थ्य चेतना विकास समिति छत्तीसगढ़ एवं छत्तीसगढ़ राज्य संयुक्त पेन्शनर्स फेडरेशन के अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव ने मुख्यमंत्री कार्यालय के माध्यम से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को इसके लिये आज ट्यूट कर बताया है कि कोरोना महामारी में प्रतिदिन निजी एवं सरकारी अस्पतालों में खाली बिस्तर को लेकर संक्रमित मरीज और परिवार को भटकते देखना बहुत पीड़ा दायक है। उन्होंने खाली बिस्तर के अद्यतन स्थिति से आम जनता को अवगत कराने की समुचित व्यवस्था करने की मांग की है और सुझाव दिया है कि जिस तरह कोविड संक्रमित मरीजो की संख्या और मृतकों एवं ठीक हुए लोगों की संख्या से सोशल मीडिया तथा देनिक समाचार पत्रों के माध्यम से प्रतिदिन अवगत कराने की व्यवस्था की गई है।ठीक उसी तरह की व्यवस्था अस्पतालों में खाली बिस्तरों की अद्यतन स्थिति को लेकर करने की आवश्यकता है, ताकि प्रभावित परिवार और मरीजों को भरती होने के लिये भटकना न पड़े।

जारी विज्ञप्ति में उन्होंने निजी अस्पतालों में कोरोना वायरल से पीडि़त मरीजों के निजी चिकित्सालयों में हो रहे दोहन और शोषण की खबरों पर चिंता जाहिर किया है और मुख्यमंत्री भूपेश बधेल से आग्रह किया की आयुष्मान स्वास्थ्य योजना के कार्ड के माध्यम से भुगतान कराए जाने की तुरन्त सुव्यवस्थित योजना लांच करने की मांग किया है।


09-Apr-2021 5:20 PM 153

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 9 अप्रैल। छत्तीसगढ़ चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के पूर्व चेयरमैन योगेश अग्रवाल, पूर्व उपाध्यक्ष राजेश वासवानी, वासुदेव जोतवानी, पूर्व मंत्री प्रकाश लालवानी , सुदेश मन्ध्यान  ने आज जिलाधीश एस भारतीदासन से सौजन्य भेंट कर एक ज्ञापन दिया।

जिसमें 10 अप्रेल से 19 अप्रेल तक रायपुर में लॉकडाउन के समय बैंक, सब्जी व किराना के व्यवसाय को कुछ घंटे की छूट देने की मांग की। चैम्बर के पूर्व पदाधिकारियों ने कहा कि कोरोना की गाइड लाइन के अनुरूप व्यवस्था कर कुछ घंटे बैंक के लेनदेन संचालित किया जाय तो आम जनता को बहुत राहत मिलेगी तथा इमरजेंसी में रुपयों की आवश्यकता पडऩे पर परेशानी दूर होगी।

सब्जी व किराना व्यवसाय को कुछ घंटे मोहलत देकर आम जनता के रोजमर्रा की जरूरत पूरी हो सकेगी तथा गरीबों व निम्न आय वाले व्यक्तियों को बहुत लाभ होगा  तथा अभी जो लॉकडाउन के पूर्व के दिनों में अनियंत्रित भीड़ हुई जिससे कोरोना के बढऩे के पूरे आसार बने है, उसी को ध्यान में रखकर लॉकडाउन के पूर्ण होने के बाद उस भयावह स्थिति से बचने व कोरोना के नियंत्रण में बहुत बड़ी सहायता मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि आप मानवता की दृष्टि को ध्यान रखकर इस मांग पर पुनर्विचार करें, जिलाधीश ने आश्वासन दिया कि वे इस पर गंभीरता पूर्वक विचार करेंगे।


09-Apr-2021 2:32 PM 29

रायपुर, 9 अप्रैल। सत्यम विहार कॉलोनी रायपुरा निवासी श्रीमती पुनिया सैनिक पति स्व. अरुण सैनिक (70) का बुधवार 7 अप्रैल को निधन हो गया। जिनका अंतिम संस्कार गुरुवार को किया गया। वे राजेंद्र व राजेश्वर सैनिक की माता थीं।

 


09-Apr-2021 2:20 PM 31

रायपुर, 9  अप्रैल। शैलेंद्र नगर निवासी हेमराज पोकरणा (84)का निधन हो गया। उनकी अंतिम यात्रा आज डी 7 शैलेन्द्र नगर निवास स्थान से मारवाड़ी श्मशान घाट के लिए निकली। वे सोहनराज के बड़े भाई, रजत पोकरणा के दादाजी थे।


08-Apr-2021 8:30 PM 26

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर 8 अपे्रल।
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रायपुर डॉ एस.भारतीदासन ने जिले में कोरोना वायरस (कोविड-19) पॉजिटिव प्रकरणों की बढ़ती संख्या को दृष्टिगत रखते हुए अस्थाई आईसोलेशन - कोविड-19  केयर सेंटर बनाने के लिए 6 भवनों को अधिग्रहित किया है और यहां का व्यवस्थित एवं निर्बाध संचालन सुनिश्चित करने के लिए नोडल अधिकारियों नियुक्त करते हुए सहित अन्य अधिकारियों की ड्यूटी लगाई है।

इसके तहत प्रयास बालक छात्रावास, सड्डू रायपुर के आईसोलेशन-कोविड-19 केयर सेंटर हेतु सहायक संचालक, कृषि  आर.के. परगनिहा मो नं-9827104237 को नोडल अधिकारी बनाया है। इसी तरह पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयूष विश्वविद्यालय, नवा रायपुर अटल नगर तथा छत्तीसगढ़ एवं स्टेट इन्स्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, सेक्टर 40 उपरवारा, नवा रायपुर अटल नगर को अस्थाई आईसोलेशन-कोविड-19 केयर सेंटर के लिए डिप्टी कलेक्टर एवं प्रबंधक (प्रशासन) नवा रायपुर विकास का प्राधिकरण श्री विनय अग्रवाल फोन नं- 9424407243 को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है।

वर्किंग वूमेन हॉस्टल, व्हीआईपी रोड, फुण्डहर में बनाए गए अस्थाई आईसोलेशन/कोविड-19 केयर सेंटर के लिए  ए.एन.बंजारा, जिला शिक्षा अधिकारी, रायपुर मों नं- 9926177856 को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। शासकीय विज्ञान महाविद्यालय, नवीन भवन अटारी के अस्थाई आईसोलेशन/कोविड-19 केयर सेंटर के लिए डिप्टी कलेक्टर एवं सहायक संचालक, खेल विभाग हेमन्त मत्स्यपाल, मो नं- 9424220390 तथा प्रयास महिला छात्रावास, गुढिय़ारी के लिए सहायक आयुक्त, आदिवासी विकास विभाग तारकेश्वर देवांगन मो नं- 9406047400 को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। 

कलेक्टर ने अस्थाई आईसोलेशन/कोविड-19 केयर सेंटर में भोजन वितरण, साफ-सफाई, पेयजल, मेडिकल डिस्पोजल स्थल तक भोजन एवं उसकी परिवहन व्यवस्था, किसी मरीज के लक्षण युक्त होने पर वरिष्ठ चिकित्सालय में रेफर करने, सेन्टर में सम्पूर्ण चिकित्सीय व्यवस्था, भवन अधोसंरचना एवं सुधार कार्य, सुरक्षा व्यवस्था, विद्युत व्यवस्था आदि के लिए भी अधिकारियों की ड्युटी लगाई है।


 


08-Apr-2021 8:28 PM 16

रायपुर, 8 अप्रैल। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा  कोविड 19 के परिपेक्ष्य में सम्पत्ति कर भुगतान में विशेष छूट प्रदान की गई है। नगरीय निकाय अंतर्गत करदाताओं को सम्पत्ति कर एवं विवरणी जमा करने हेतु अंतिम तिथि 31 मार्च 2021 निर्धारित थी। 

विभाग द्वारा  महामारी (कोविड 19) की स्थिति को ध्यान रखकर अंतिम तिथि में 30 दिवस की विशेष छूट प्रदान करते हुए 30 अप्रैल 2021 निर्धारित की गई है। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया ने संपत्ति कर भुगतान की प्रक्रिया ऑनलाइन करने की अपील की है ताकि कोरोना की संभावना से बचा जा सकें। उन्होंने आमनागरिकों को कार्यालय आकर भुगतान करने के दौरान कार्यालय में फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करने और निकाय कर्मचारियों को भी सावधानी बरतने की अपील की है।
 


08-Apr-2021 8:27 PM 24

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 8 अपै्रल।
राजधानी रायपुर-आसपास कोरोना का खतरा बढऩे के साथ ही यहां के पुलिस कॉलोनी व पुलिस लाइन से 4, एसआरपी ऑफिस 3 लोग पॉजिटिव मिले हैं। शंकर नगर में 28 व चौबे कॉलोनी 24, सांई हॉस्पिटल में 9 नए पॉजिटिव पाए गए हैं। समता कॉलोनी में 19, चंगोराभाठा, देवेंद्र नगर में 15-15 कोरोना मरीज पाए गए हैं। इसके अलावा शहर की अलग-अलग और कई बस्तियों-कॉलोनियों में दर्जनों नए पॉजिटिव मिले हैं।

जिन जगहों से नए पॉजिटिव सामने आए हैं, उसमें मठपुरैना-4, खमतराई-5, अमलीडीह-20, सीजी नगर, पुलिस लाइन-4, डंगनिया, प्रोफेसर कॉलोनी-7, रामसागरपारा-6, बोरियाखुर्द-5, चंगोराभाठा-14, मोवा 9, खम्हारडीह, गुढिय़ारी 12, सुंदर नगर 2, पेंशनबाड़ा, अवधपुरी 3, बिरगांव, बैरनबाजार, शिवाजी नगर, लक्ष्मी नगर, भनपुरी, लाभांडी 2, मठपारा 4, संजय नगर, दलदल सिवनी, अवंति विहार 7, कुशालपुर 2, शिवानंद नगर 8, न्यू राजेंद्र नगर 5, मौदहापारा, रावतपुरा कॉलोनी, फाफाडीह 2, लालपुर, मंदिरहसौद 4, धनेली 3 नए पॉजिटिव पाए गए हैं। 

इसके अलावा तेलीबांधा-6, नयापारा, छोटापारा, मोहबाबाजार-3, डब्ल्यूआरएस कॉलोनी 3, समता कॉलोनी 19, कचना, डीडी नगर 20, बीरगांव 3, सड्डू, माना, शंकर नगर 28, तेलीबांधा 2, दुबे कॉलोनी, रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल, कबीर नगर 16, वीआईपी रोड, आमानाका कुकुरबेड़ा, डंगनिया, बैरन बाजार, पुलिस कॉलोनी,  टैगोर नगर, बाजाज कॉलोनी 2, एसआरपी ऑफिस 3, सरोरा 2, चौबे कॉलोनी 24, देवेंद्र नगर 15, टाटीबंध 5, प्रियदर्शनी नगर 6, कैपिटल सिटी-सड्डू 3, बैरनबाजार, रामकुंड-5, सदर बाजार, एम्स, सांई हॉस्पिटल-9, माना कैंप 2 लोग संक्रमित पाए गए हैं। 

 

 


 


08-Apr-2021 8:26 PM 20

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर 8 अपे्रल।
अपर कलेक्टर एवं कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग कार्य रायपुर की प्रभारी अधिकारी पदमिनी भोई ने कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग कार्य की ड्यूटी में अनुपस्थित 42 अधिकारियों कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। 

उन्होंने इन सभी को न्यू सर्किट हाउस स्थित कंट्रोल रूम में अनुपस्थिति के उचित कारण के साथ समक्ष में उपस्थिति होने को कहा है। आदेश की अवेहलना किए जाने पर उनके विरूद्व आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 तथा एपेडमिक डिसीसेस एक्ट 1857 के तहत अनुशासनात्मक एवं दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। 

इसके तहत प्रमिला होड़, श्वेता अमित सिरपुरकर, अमनाअजीत, कुमारी अनुपमा लकड़ा, दीप्ति समीकर, सुलोचना साहू, राम सुन्निसा, कुमारी पूजा जामकुडक़र, नमिता मसीहा , सोसन केरकेट्टा, जान्हवी यदु, प्रभा साहू ,रंजना कुशवाहा, अर्पिता अग्रवाल, मनीषा अग्रवाल,  शैल शर्मा, अफसाना परवीन, अंजना दुबे, विजय लक्ष्मी वर्मा,  गौरी नामदेव, लोकेश कुमार साहू , सरिता स्वर्णकार, गरिमा साकर, इफ्तेखारून्निशा कुरेशी, जीवन लाल शर्मा, कविता शर्मा, मंजू सुतवने, निशा शर्मा, नंदनी वर्मा, निधि महानंद, नम्रता भोसले, कामिनी जांगड़े,  राम दास बैरागी, वंदना तिवारी, जयंती श्रीवास, पार्वती वर्मा, भारती सिन्हा, ज्योति चंद्रवंशी, बसंती सोनापती, आशिमा अंजुम, देवकी सिंह एवं आशीष बंजारे को नोटिस जारी किया गया।
 


08-Apr-2021 8:25 PM 17

सिंहदेव ने उत्कृष्टता हासिल करने वाले सभी अस्पतालों के अफसर-कर्मियों को दी बधाई

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 8 अप्रैल।
उत्कृष्ट स्वास्थ्य सेवा और मरीजों को बेहतर इलाज उपलब्ध कराने वाले छत्तीसगढ़ के सात प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन मानक  प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया है। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की विशेषज्ञों की टीम द्वारा विगत फरवरी माह में इन अस्पतालों में मरीजों के लिए उपलब्ध सेवाओं की गुणवत्ता के परीक्षण के बाद राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन मानक प्रमाण-पत्र के लिए चयन किया गया है।

श्री सिंहदेव ने समर्पित स्वास्थ्य सेवाओं के लिए उत्कृष्टता प्रमाण-पत्र हासिल करने वाले सभी अस्पतालों के अधिकारियों-कर्मचारियों को बधाई दी है। उन्होंने भरोसा जताया है कि ये अस्पताल आगे भी अपनी उत्कृष्टता बरकरार रखते हुए मरीजों की सेवा करेंगे और प्रदेश के दूसरे अस्पतालों के लिए नए प्रतिमान स्थापित करेंगे। उन्होंने इस उपलब्धि के लिए स्वास्थ्य विभाग की अपर मुख्य सचिव रेणु जी. पिल्लै, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़ और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला सहित संबंधित जिलों के मैदानी अधिकारियों को भी बधाई दी है।

भारत सरकार के केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा सरगुजा जिले के रघुनाथपुर और लुंड्रा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, रायपुर के मंदिरहसौद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, जांजगीर-चांपा के राहोद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, महासमुंद के पटेवा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, कोरिया के खडग़वां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और बेमेतरा के देवरबीजा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया है। राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन प्रमाण-पत्र प्रदान करने के पूर्व विशेषज्ञों की टीम द्वारा अस्पतालों की ओपीडी, आईपीडी, लेबोरेट्री, प्रसव कक्ष, राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रमों के क्रियान्वयन और जनरल एडमिन व्यवस्था का मूल्यांकन किया गया। मूल्यांकन में खरा उतरने वाले अस्पतालों को ही केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा गुणवत्ता प्रमाण-पत्र जारी किए जाते हैं।

भारत सरकार के विशेषज्ञों द्वारा मरीजों के लिए अस्पताल में उपलब्ध सेवाओं की गुणवत्ता के परीक्षण में लुंड्रा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और मंदिरहसौद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को 94-94 प्रतिशत, रघुनाथपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को 91 प्रतिशत, राहोद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को 86 प्रतिशत, खडग़वां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को 85 प्रतिशत, पटेवा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को 82 प्रतिशत और देवरबीजा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को 75 प्रतिशत अंक मिले हैं। 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, छत्तीसगढ़ की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला के नेतृत्व में स्वास्थ्य सेवाओं को जन-जन तक पहुंचाया जा रहा है। कोरोना महामारी के संकट काल में भी इन सात सरकारी अस्पतालों द्वारा राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन प्रमाण-पत्र हासिल करने से प्रदेश के दूसरे अस्पताल भी लोगों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने को प्रेरित होंगे।
 


08-Apr-2021 5:30 PM 27

रायपुर, 8 अप्रैल। प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की पहचान के लिए पिछले एक सप्ताह (1 अप्रैल से 7 अप्रैल) में दो लाख 73 हजार 033 सैंपलों की जांच की गई है। स्वास्थ्य मंत्री  टीएस सिंहदेव के निर्देश पर प्रदेश में रोजाना अधिक से अधिक सैंपलों की जांच की जा रही है। बीते सप्ताह के दौरान 1 अप्रैल को 40 हजार 857 सैंपल, 2 अप्रैल को 37 हजार 075 सैंपल, 3 अप्रैल को 40 हजार 875 सैंपल, 4 अप्रैल को 26 हजार 911 सैंपल, 5 अप्रैल को 40 हजार 053 सैंपल, 6 अप्रैल को 47 हजार 973 सैंपल और 7 अप्रैल को 42 हजार 289 सैंपल की जांच की गई है। प्रदेश में एम्स रायपुर और छह अन्य शासकीय मेडिकल कॉलेजों बिलासपुर, जगदलपुर, रायगढ़, राजनांदगांव, अंबिकापुर तथा रायपुर की वायरोलॉजी लैब में सैंपलों की आरटीपीसीआर जांच की जा रही है। आरटीपीसीआर जांच की संख्या बढ़ाने महासमुंद, कोरबा, कांकेर और कोरिया में वायरोलॉजी लैब की स्थापना का काम प्रगति पर है। शीघ्र ही इन चारों नए लैब में भी आरटीपीसीआर जांच शुरू हो जाएगी। प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों तथा लगभग सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में रैपिड एंटीजन किट से कोविड-19 की जांच की जा रही है।