छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456789...3738Next
04-Dec-2020 10:38 PM 18

रायपुर, 4 दिसंबर।ईदगाहभाटा निवासी भीमनदास गंगवानी (उम्र 58 साल) का शुक्रवार को निधन हो गया. उनका अंतिम संस्कार राजधानी स्थित मारवाडी शमशानघाट में किया गया. वह मोतीलाल प्रभु, अशोक, प्रकाश और मुकेश गंगवानी के भाई थे और राहुल गंगवानी के पिता थे.


04-Dec-2020 7:18 PM 19

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। छत्तीसगढ़ के राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त आदिवासी विभूति हीरासिंह देव उर्फ कंगला मांझी की स्मृति में उनके गृहग्राम बघमार, तहसील डौंडीलोहारा जिला बालोद में 5 दिसंबर से 7 दिसंबर तक कंगला मांझी तीन दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

इस अवसर पर अगासदिया दुर्वाशालाल निषाद सम्मान 2020 शिक्षाविद्,समाजसेवी बद्रीप्रसाद पारकर को प्रदान किया जाएगा। इस अवसर पर कमला देवी नेताम को वर्ष 2020 का कंगला मांझी सम्मान प्रदान किया जाएगा।


04-Dec-2020 6:25 PM 36

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। छत्तीसगढ़ सरकार की हाफ बिजली बिल योजना से प्रदेश के लाखों घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के चेहरे पर खुशहाली देखी जा सकती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना के तहत अब तक 38 लाख 42 हजार 50 उपभोक्ताओं को छत्तीसगढ़ शासन द्वारा 1336 करोड़ की घरेलू सब्सिडी दी गई है, या यह कह सकते है कि सीधे-सीधे लोगों की जेब में 1336 करोड़ रूपए की बचत हुई है।

गौरतलब है कि देश के बिजली हब छत्तीसगढ़ में किसानों, गरीब परिवारों को रियायती दरों पर बिजली आपूर्ति की अनेक योजनाएं संचालित की जाती रही हैं, पहली बार हाफ बिजली बिल योजना में घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के 400 यूनिट तक के बिल में आधे बिल की राशि में छूट दी गयी है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की विशेष पहल पर छत्तीसगढ़ में 1 मार्च 2019 से प्रारंभ की गई  हाफ बिजली बिल योजना में घरेलू उपभोक्ताओं को प्रति माह 400 यूनिट तक की बिजली खपत पर प्रभावशील टैरिफ पर 50 प्रतिशत की छूट की पात्रता है। इस छूट के समतुल्य राशि राज्य शासन द्वारा विद्युत वितरण कंपनी को अनुदान के रूप में दी जाती है। माह सितंबर 2020 की स्थिति में कुल 38 लाख 42 हजार 50 उपभोक्ता इस योजना का लाभ ले चुके हैं। मार्च 2019 से अब तक छत्तीसगढ़ शासन द्वारा 1336 करोड़ की घरेलू सब्सिडी घरेलू उपभोक्ताओं को दी गई है

निम्न और मध्यम आय वर्ग के अनेक ऐसे परिवार घरेलू बिजली उपभोक्ताओं में शामिल हैं, जिनके लिए बिजली बिल पटाना महंगाई के दौर में काफी मुश्किल होता था। रियायती दरों पर बिजली आपूर्ति की सुविधा इस वर्ग के लिए दूर की कौड़ी जैसा था, इसके विपरीत कुछ वर्षों के अंतराल में बिजली शुल्क में वृद्धि के कारण इस वर्ग के लोगों को अपने घरों के बिजली का बढ़ा हुआ बिल पटाना पड़ता था। इस बढऩे वाले अति आर्थिक बोझ को पूरा करने के लिए उन्हें अपने अन्य जरुरी खर्चों में मजबूरन कटौती करनी पड़ती थी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में दिसंबर 2018 में गठित नई सरकार ने घरेलू उपभोक्ताओं के इस वर्ग की समस्याओं को पूरी संवेदनशीलता के साथ महसूस किया और ‘सबका साथ-सबका विकास’ की नीति पर अमल करते हुए राज्य के सभी घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के लिए 01 मार्च 2019 से ‘हाफ बिजली बिल योजना’ लागू की और अपना एक बड़ा वादा पूरा किया। ‘हाफ बिजली बिल योजना’ प्रदेश के लाखों घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के लिए अप्रत्याशित और सुखद बदलाव की योजना साबित हो रही है। प्रदेश के लाखों घरेलू बिजली उपभोक्ताओं ने कभी ऐसी योजना की कल्पना भी नहीं की थी। योजना ने इस वर्ग के लोगों को बड़ी राहत प्रदान की है। उनके घरों का हजार रुपए का बिजली बिल कुछ सैकड़ों में सिमट गया।

अब इन उपभोक्ताओं के लिए अपने घर का बिजली बिल पटाने में होने वाला खर्च आधा हो गया है, बचत राशि का उपयोग अब वे अन्य कार्यों में कर सकेंगे।

हाफ बिजली बिल योजना के अंतर्गत राज्य के सभी घरेलू उपभोक्ताओं को प्रतिमाह खपत की गई 400 यूनिट तक की बिजली पर प्रभावशील विद्युत की दरों के आधार पर आधे बिल की राशि की छूट दी जा रही है। इससे पहले उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट 4.50 रूपये देने पड़ते थे, वर्तमान में 400 यूनिट बिजली खपत पर प्रति यूनिट 2.30 रूपये देने होंगे। इस योजना का लाभ राज्य के सभी बी.पी.एल. और अन्य घरेलू श्रेणी के उपभोक्ताओं को मिल रहा है। हाफ बिजली बिल  योजना के प्रारंभ से माह सितम्बर 2020 तक राज्य के लगभग 38 लाख 42 हजार उपभोक्ताओं को 1336 करोड़ 19 लाख रुपए की रियायत दी गई है। इस योजना के लागू होने से प्रदेश के घरेलू विद्युत उपभोक्ताओं का विद्युत देयक आधा हो गया है, जिसके कारण निम्न एवं मध्यम वर्ग के उपभोक्ता बचत की राशि से अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति करने में सक्षम हुए हैं। सतत और गुणवत्तापूर्ण बिजली की आपूर्ति और बिजली अधोसंरचना के विकास के किए गए कार्यो से प्रदेश में बिजली उपभोक्ताओं और हाफ बिजली बिल योजना से लाभान्वित होने वाले हितग्राहियों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। मार्च 2019 में हाफ बिजली बिल योजना जब शुरू हुई थी, तब बिजली उपभोक्ताओं की संख्या 45 लाख 65 हजार थी। इनमें से 29 लाख 45 हजार उपभोक्ताओं को हाफ बिजली बिल योजना का लाभ मिला। माह सितम्बर 2020 में बिजली उपभोक्ताओं की संख्या बढक़र 47 लाख 9 हजार हो गई। जिनमें से 38 लाख 42 हजार उपभोक्ताओं को हाफ बिजली योजना का लाभ मिला।

 

 

 

 


04-Dec-2020 3:51 PM 17

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। राजधानी रायपुर के संतोषी नगर (टिकरापारा) स्थित पुरानी अंग्रेजी शराब दुकान पास दो युवक आज प्रतिबंधित नशीली सिरप रखकर उसकी अवैध बिक्री करते रहे। इस दौरान पुलिस ने उन्हें घेराबंदी कर हिरासत में ले लिया। पुलिस ने उनके कब्जे से 144 शीशी प्रतिबंधित नशीली सिरप जब्त की है, जांच जारी है।

 राजधानी पुलिस पिछले कुछ समय से नशे के कारोबार, जुआ-सट्टा के खिलाफ जांच अभियान चला रही है। इस दौरान उन्हें संतोषी नगर में प्रतिबंधित नशीली सिरप बेचने की जानकारी मिली। पुलिस मौके पर पहुंची, तो दोनों आरोपी पकड़े गए। गिरफ्तार आरोपियों में मोह. असीम उर्फ गुड्डन शफी (32)अनिरूद्ध कामड़े (25) दोनों रायपुर के मठपुरैना टिकरापारा निवासी शामिल हैं।

पुलिस का कहना है कि पकड़े जाने के बाद दोनों आरोपी पुलिस को गुमराह करने के प्रयास में लगे रहे, लेकिन तलाशी में उनके झोले से 144 शीशी प्रतिबंधित नशीली सिरप बरामद की गई। पुलिस, दोनों आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए उनसे जुड़े और भी लोगों की तलाश में लगी है। दूसरी तरफ यह पता लगा रही है कि ये आरोपी प्रतिबंधित नशीली सिरप कहां से लेकर आ रहे थे। उल्लेखनीय है कि इसके एक दिन पहले मौदहापारा क्षेत्र में प्रतिबंधित नशीली टेबलेट जब्त की गई थी। 


04-Dec-2020 3:50 PM 21

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। राजधानी रायपुर के रावाभांठा स्थित अभिलाषा रोलिंग मिल के सामने इंगार्ड लोहे से भरा ट्रक पार हो गया। ट्रक मालिक की शिकायत पर खमतराई पुलिस ट्रक की तलाश में लगी है, लेकिन दूसरे दिन भी उसका पता नहीं चल पाया है, जांच जारी है।

पुलिस के मुताबिक ट्रक चालक कैलाश नगर बिरगांव निवासी रंजन कुमार सिंह (30)मंगलवार को सिलतरा स्थित कैलाश कस्टिन कंपनी से 19 टन 830 ग्राम इंगार्ड लोहा लोड कर रावाभांठा स्थित बंजारी मंदिर के लिए निकला था। शाम को यह ट्रक माल लेकर अभिलाषा रोलिंग मिल के पास ट्रक खड़ा रहा। इस दौरान चालक अभिलाषा रोलिंग मिल से जानकारी मिली कि ट्रक आज खाली नहीं हो पाएगा। पूरा माल बुधवार सुबह खाली किया जाएगा।

बताया गया कि कंपनी वालों का जवाब सुनकर चालक कंपनी के सामने अपनी खड़ा कर घर चला गया। दूसरे दिन जब वह कंपनी के पास पहुंचा, तो ट्रक माल सहित गायब था। उसने ट्रक की आस-पास तलाश की, लेकिन उसका कहीं पता नहीं चल पाया। चोरी गए ट्रक और माल की कीमत 14 लाख रुपये आंकी गई है। खमतराई पुलिस अज्ञात चोर के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच में लगी है। फिलहाल आरोपी का पता नहीं चल पाया है।


04-Dec-2020 3:49 PM 24

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। दिल्ली किसान आंदोलन के समर्थन में राजधानी रायपुर समेत प्रदेश के सैकड़ों बीमा कर्मी भी सडक़ पर उतर गए हैं। उन्होंने कृषि कानूनों में बदलाव के विरोध में प्रदेशभर में प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने किसान विरोधी कानून वापस लेने की मांग की।

ऑल इंडिया इंश्योरेंस एम्पलॉइज एसोसियेशन के आव्हान पर मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के रायपुर, भोपाल, जबलपुर, इंदौर, सतना, शहडोल, ग्वालियर, बिलासपुर मंडल सहित समस्त कार्यालयों में दोपहर में यह प्रदर्शन किया गया। रायपुर में प्रदर्शन को संबोधित करते हुए सीजेड आईईए के महासचिव धर्मराज महापात्र ने कहा कि एआईआईईए के आव्हान पर छत्तीसगढ़ समेत पूरे देश के बीमा कर्मचारी किसान आंदोलन के समर्थन में हैं।

उन्होंने कहा कि अगर किसान ऐसा कानून चाहते ही नहीं है तो केंद्र सरकार को यह कानून वापस लेने चाहिए । इस कानून के जरिए किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य के अधिकार से ही वंचित किया गया है। मंडी व्यवस्था को समाप्त कर उन्हें पूरी तौर पर कार्पोरेट के हवाले कर दिया गया। याने खेती भी कार्पोरेट के हवाले की जा रही है। आंदोलन में शहीद हुए 3 किसानों को श्रद्धांजलि भी दी गई।

महासचिव महापात्र ने बताया कि किसान नए बिजली कानून का भी विरोध कर रहे हंै। ऐसे में सरकार को पूरे बिजली क्षेत्र को निजी क्षेत्र के हवाले सौंपने की बजाए यह कानून भी वापस लेना चाहिए। सभा की अध्यक्षता अलेक्जेंडर तिर्की ने की। सभा में सुरेन्द्र शर्मा, वीएस बघेल, अतुल देशमुख भी उपस्थित थे।


04-Dec-2020 3:45 PM 23

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। प्रदेश में कोरोना से कल 17 मौतें हुई हैं। इन सभी का अलग-अलग जगहों पर इलाज चल रहा था। इनके संपर्क में आने वालों की जांच-पहचान की जा रही है। दूसरी तरफ, इन मौतों को मिलाकर प्रदेश में कोरोना मौत के आंकड़े बढक़र 66 हो गए हैं।

बुलेटिन के मुताबिक जिन 17 मरीजों की मौत हुई है, इसमें रायपुर संभाग से रायपुर की 43 वर्षीय महिला, सिहावा नगरी धमतरी की 55 वर्षीय महिला, सेजबहार रायपुर का 43 वर्षीय पुरूष व दुर्ग संभाग का कसारीडीह दुर्ग का 73 वर्षीय पुरूष, जेवरा सिरसा दुर्ग का 55 वर्षीय पुरूष, खर्रा गुरूर बालोद की 76 वर्षीय महिला, बासिन गुरूर बालोद की 57 वर्षीय महिला शामिल हैं।

सरगुजा संभाग का मनेन्द्रगढ़ कोरिया की 52 वर्षीय महिला, सोनपुर सूरजपुर की   45 वर्षीय महिला एवं बिलासपुर संभाग का कृष्णा विहार अपार्टमेंट विद्या नगर बिलासपुर का 78 वर्षीय पुरूष, जांजगीर-चांपा का 41 वर्षीय पुरूष, देवरी सक्ती जांजगीर-चांपा का 76 वर्षीय पुरूष, लोहारकोट सक्ती जांजगीर-चांपा की 60 वर्षीय महिला, बिरकोनी अकलतरा जांजगीर-चांपा का 72 वर्षीय पुरूष, टीपी नगर कोरबा का 62 वर्षीय पुरूष, सारंगढ़ रायगढ़ का 62 वर्षीय पुरूष, पुलिस लाइन रायगढ़ का 51 वर्षीय पुरूष शामिल हैं।

इन सभी का एम्स, मेडिकल कॉलेज व अन्य जगहों पर इलाज चल रहा था। इसमे 1 की मौत कोरोना से एवं बाकी 16 की अन्य गंभीर बीमारियों के साथ कोरोना से मौत हुई हैं। स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण बना हुआ है और ठंड बढऩे पर इसका खतरा और बढ़ सकता है।


04-Dec-2020 3:44 PM 18

मौतें-667, एक्टिव-7114, डिस्चार्ज-39396

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना मरीज 47 हजार पार हो गए हैं। बुलेटिन के मुताबिक बीती रात मिले 229 नए पॉजिटिव के साथ इनकी संख्या बढक़र 47 हजार 177 हो गई है। दूसरी तरफ, इन सभी मरीजों में से 667 की मौत हो चुकी है। 7 हजार 114 एक्टिव हैं, जिनका अलग-अलग जगहों पर इलाज जारी है। 39 हजार 396 मरीज ठीक होकर अपने घर लौट गए हैं।

राजधानी रायपुर समेत जिले में कोरोना संक्रमण लगातार बना हुआ है और यहां बाकी जिलों की तुलना में नए पॉजिटिव ज्यादा सामने आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम शहर के अलग-अलग इलाकों में जाकर जांच में लगी है। इस दौरान यह प्रयास किया जा रहा है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच हो। डॉक्टरों का कहना है कि नियमों में लापरवाही से कोरोना का खतरा बना रहेगा। ऐसे में लोग मास्क लगाकर और सामाजिक दूरी बनाकर सतर्क रहें।

स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि सर्दी सीजन में कोरोना संक्रमण का खतरा ज्यादा है। हालांकि हेल्थ की टीम अलग-अलग जगहों पर जाकर जांच कर रही है और कहीं-कहीं से नए पॉजिटिव भी सामने आ रहे हैं। उनका कहना है कि कोरोना से बचाव के लिए सकर्तकता बहुत जरूरी है। थोड़ी सी भी लापरवाही से संक्रमण का खतरा बना रहेगा। ऐसे में बेवजह घरों से न निकलें और मास्क लगाकर सामाजिक दूरी बनाए रखें। इससे संक्रमण का खतरा कम होगा।


03-Dec-2020 4:44 PM 23

रायपुर, 3 दिसंबर। विधान सभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती पर विधानसभा परिसर स्थित सेंट्रल हॉल में प्रतिष्ठापित भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के तैलचित्र पर आज श्रद्धासुमन अर्पित कर उन्हें याद किया। 
इस अवसर पर विधान सभा के प्रमुख सचिव चन्द्र शेखर गंगराड़े एवं विधान सभा सचिवालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. प्रसाद के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर अपने संदेश में विधान सभा अध्यक्ष डॉ. महंत ने कहा कि डॉ. राजेन्द्र प्रसाद देश में प्रथम राष्ट्रपति एवं भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। वे सादा जीवन, उच्च विचार के पोषक तथा त्याग की प्रतिमूर्ति थे। 

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने असहयोग आंदोलन, नमक सत्याग्रह और भारत छोड़ों आंदोलन में भाग लिया। उन्होंने भारत के संविधान के निर्माण में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। स्वतंत्रता संग्राम एवं देश के प्रति योगदान के कारण डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को भारत के सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि-हम सब उनके बताए मार्ग का अनुसरण करें, यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 


03-Dec-2020 4:37 PM 18

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 3 दिसंबर।
छग व्यवसायिक परीक्षा मंडल से चयनित उपअभियंता (सिविल) अभ्यर्थियों के दस्तावेज परीक्षण के लिए निगम में एक समिति गठित की गई है। यह समिति 4 से 15 दिसंबर तक  दस्तावेजों का परीक्षण निगम मुख्यालय में करेगी। 

व्यवसायिक परीक्षा मंडल से चयनित उपअभियंता (सिविल) अभ्यर्थियों की प्राप्त सूची के आधार पर संबंधित अभ्यर्थी अपने मूल दस्तावेजों एवं वांछित अभिलेख सहित सत्यापन शासकीय अवकाश दिवसों को छोडक़र नवीन मुख्यालय भवन के द्वितीय तल स्थित कक्ष क्रमांक 307 में उपस्थित हो सकते हैं। सूची का प्रकाशन नगर निगम के मुख्य कार्यालय के सूचना पटल पर भी किया गया है। इसे निगम की वेबसाईट नगर निगम रायपुर डॉट एनआईसी डॉट कॉम में अपलोड किया गया है। तय तारीख के बाद प्रस्तुत दस्तावेजों पर विचार नहीं किया जाएगा। 

व्यापमं से उपअभियंता (सिविल) पद पर 21 अभ्यर्थियों का चयन किया गया है। सूची में शुभम तिवारी, सतीश पटेल, हिमांशु चंद्राकर, अंकुर मिश्रा, मयंक कुमार चतुर्वेदी, मेघा साहू, अंकिता गिरी, निलाम्बर चंद्रकांत किशोर, नीलम सिंह किंडो, मनीष कुमार सोम, विक्रम सिंह ठाकुर, सपन एक्सलेक्सो, रंजीत कुमार बारवा, गोपाल प्रधान, निर्मल कुमार तिग्गा, अनामिका पुरम, सत्यप्रकाश सिंह, हितेश्वरी भूमिजन, इंदु दीवान, उत्तम सिंह के नाम शामिल हैं। 
 


03-Dec-2020 4:34 PM 22

मुख्य सचिव ने वन विभाग के योजनाओं की ली जानकारी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 3 दिसम्बर।
मुख्य सचिव अमिताभ जैन ने आज वनविभाग अंतर्गत संचालित विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन की प्रगति की जानकारी ली। 
मंत्रालय महानदी भवन मे आयोजित इस बैठक में मुख्य रूप से राज्य शासन की महत्वकांक्षी और वन विभाग से संबंधित योजनाओं के क्रियान्वयन, उपलब्ध बजट, हितग्राहियों को मिल रहे लाभ और योजनाओं के क्रियान्वयन में आने वाली चुनौतियों के संबंध मे चर्चा की गई। प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री राकेश चतुर्वेदी ने वन विभाग के गतिविधियों की विस्तार से जानकारी दी। श्री जैन ने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया है कि राज्य के लघु वनोपज संग्राहकों की आय में बढ़ोतरी के लिए जरूरी कदम उठाये जाये। उन्होंने राज्य केे वनो में मिलने वाले लघु वनोंपज के गुणवत्तायुक्त प्रसंस्करण और विपणन के निर्देश दिये है। श्री जैन ने बाड़ी विकास के तहत उत्पादित हो रहे हरी सब्जियों की आपूर्ति स्थानीय स्तर पर संचालित हो रहे स्कूलों और आंगनबाड़ी केन्द्रों में गर्म भोजन के लिए कराये जाने के निर्देश दिये है।
बैठक मे नरवा विकास, आवर्ती चराई योजना (गौठान), जैविक खाद उत्पादन (घुरवा), बाड़ी विकास, गोधन न्याय योजना (गोबर खरीदी), नदी तट रोपण, एफ. आर. ए, जैव विविधता बोर्ड, वन्यप्राणी, लघु वनोपज संघ, वन विकास निगम, राज्य वन अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान, औषधीय पादप बोर्ड के विषय में समीक्षा की गई। बैठक में प्रमुख सचिव श्री मनोज पिंगुआ सहित वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
----


03-Dec-2020 4:23 PM 43

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 3 दिसंबर।
दिव्यांगता के बावजूद फौलादी हौसलों से स्वावलंबन की राह तलाशने वाली बबिता कन्नौजे मानती हैं कि संघर्ष हर किसी के जीवन का हिस्सा है इस नाते से दिव्यांगों  को  अपनी दिव्यांगता को कमजोरी नहीं बल्कि ताकत समझना चाहिए। 

 वर्तमान में संचालनालय कोष लेखा एवं पेंशन में सेवारत बबिता  के माता पिता मजदूरी कर जीवन यापन करते थे। डेढ़  साल की छोटी सी उम्र में दोनों पैरों के पोलियो ग्रस्त होने के  साथ साथ बबिता का जीवन की चुनौतियों से सामना हुआ। इस दौरान पिता के प्रोत्साहन ने उन्हें जीवन का हौसला दिया। 

समता कोलोनी स्थित विकलांग बालिका विकास गृह में उन्होंने पहली से आठवीं तक की तथा दानी स्कूल से 12 वीं तक की पढ़ाई की। बबिता कहती हैं पिता का मानना था कि पढ़ाई ही उसके जीवन के लिए  ढाल साबित होगा इसलिए आर्थिक दिक्कतों को उन्होंने मेरी पढ़ाई के आड़े नहीं आने दिया। उनके सहयोग और प्रोत्साहन के कारण मैंने पॉलिटेक्निक कॉलेज से ऑफिस मैनेजमेंट में डिप्लोमा किया। इसके साथ साथ प्राइवेटली एम कॉम किया । वर्ष 2011 में क्लर्क पद के लिए बतौर जनरल उम्मीदवार परीक्षा दी और इसमें सफलता हासिल की।  

बबिता ने बताया कि दोनों पैरों  से पोलियोग्रस्त होने के कारण वह चल फिर नहीं सकती थीं लेकिन उनके पिता ने कभी उनकी दिव्यांगता को उनके विकास के आड़े नहीं आने दिया। वह उसे साइकिल में बैठाकर स्कूल ले जाया करते थे। राजीव गांधी फांउडेशन से उन्हें सहयोग बतौर जब तीन पहिया  साइकिल मिली तब वह स्वतंत्र रुप से काम करने लगीं। वर्तमान में वह अपनी बेटी और पति के साथ खुशहाल जीवन व्यतीत कर रही हैं। 

उन्होंने बताया कि विकलांग परिचय सम्मेलन के जरिए उनकी शादी हुई। उनके दिव्यांग पति अमित वर्मा शिक्षक हैं लेकिन उनके खुशहाल जीवन में दिव्यांगता कहीं बाधक नहीं है। बबिता कहती हैं दिव्यांगता के बावजूद हमने इसलिए शादी की ताकि हम एक दूसरे को समझ सकें। दिव्यांगता के बावजूद पढ़ाई को ढाल बनाने का मेरे पिता का दिया गया मूलमंत्र मेरे जीवन का संबल बना।  मैं चाहती हूं कि हर दिव्यांग अपनी दिव्यांगता को कमजोरी नहीं अपनी ताकत बनाए।


03-Dec-2020 4:22 PM 18

रायपुर, 3 दिसंबर। छत्तीसगढ़ फुटबॉल एसोसिएशन के निर्देश पर रायपुर जिला फुटबॉल संघ द्वारा वर्ष 2020-2021 के लिए सभी आयु वर्ग के बालक-बालिकाओं के पंजीकरण का नवीनीकरण शुरु कर दिया गया है। रायपुर जिला फुटबॉल संघ अध्यक्ष मुश्ताक अली प्रधान ने बताया कि भारतीय फुटबॉल फेडरेशन के नियमानुसार सभी खिलाडिय़ों का सेंट्रल रजिस्ट्रेशन सिस्टम के तहत पंजीयन कराया जाएगा।

वर्ष 2020-21 के लिए भारतीय संघ ने पंजीयन शुल्क घटाकर 50 रु. कर दिया गया है। सब जूनियर वर्ग में 1 जनवरी 2006 से 31 दिसंबर 2007 के बीच जन्में खिलाड़ी पंजीयन करा सकते हैं। जूनियर वर्ग में 1 जनवरी 2004 से 31 दिसंबर 2005 के बीच जन्में खिलाड़ी पंजीयन करा सकते हैं। खिलाडिय़ों का पंजीयन फरवरी माह तक चलेगा। 
 


03-Dec-2020 4:21 PM 18

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 3 दिसंबर।
राज्यपाल अनुसुईया उइके से राजभवन में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद फाउंडेशन के प्रमुख तथा भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के प्रपौत्र अमित कुमार ने डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के जयंती के पूर्व संध्या पर मुलाकात की और डॉ. राजेन्द्र प्रसाद पर आधारित पुस्तक क्कद्गह्म्ह्यशठ्ठड्डद्य त्रद्यद्बद्वश्चह्यद्गह्य भेंट की। 

राज्यपाल ने उनका शाल और श्रीफल से सम्मान किया और कहा कि आपकी संस्था के द्वारा देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के प्रति जो कार्य किए जा रहे हैं, वह सराहनीय है। डॉ. राजेन्द्र प्रसाद का छत्तीसगढ़ से करीब का संबंध रहा है। संस्था द्वारा छत्तीसगढ़ में उनके यादों को संजोए जाने के संबंध में यदि कोई पहल की जाती है तो आवश्यक मदद दी जाएगी।

अमित कुमार ने बताया कि डॉ. राजेन्द्र प्रसाद 136वीं जयंती के अवसर पर रायपुर में एक आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने सुझाव दिया कि सरगुजा जिले में उनकी याद में एक भवन है। वहां पर उनके जीवन से संबंधित फोटोग्राफ्स और अन्य वस्तुओं पर आधारित एक संग्रहालय बनाया जा सकता है। उनके द्वारा डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की धर्मपत्नी और स्वतंत्र भारत की प्रथम महिला श्रीमती राजवंशी देवी पर आधारित एक पुस्तक का प्रकाशन भी जल्द किया जाएगा।
 


03-Dec-2020 4:20 PM 21

रायपुर, 3 दिसंबर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल 4 और 5 दिसम्बर को जशपुर और बिलासपुर जिले के दौरे पर रहेेंगे। श्री बघेल निर्धारित दौरा कार्यक्रम के अनुसार नई दिल्ली से 3 दिसम्बर को शाम 7 बजे विमान द्वारा रवाना होकर रात 9 बजे रायगढ़ पहुंचेंगे और वहां रात्रि विश्राम करेंगे। मुख्यमंत्री श्री बघेल अगले दिन 4 दिसम्बर को रायगढ़ से पूर्वान्ह 11 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर 11.45 बजे जशपुर पहुंचेंगे और वहां अंग्रेजी माध्यम स्कूल का निरीक्षण करेंगे। श्री बघेल इसके बाद रणजीता स्टेडियम जशपुर में आयोजित कार्यक्रम में विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे तथा आमसभा को सम्बोधित करेंगे। इस कार्यक्रम के बाद श्री बघेल जशपुर में पुरातात्विक संग्रहालय, गढक़लेवा और जंगल बाजार का निरीक्षण करेंगे। मुख्यमंत्री यहां से दोपहर 2.10 बजे कार द्वारा सरना एथनिक रिसोर्ट बालाछापर पहुंचेंगे और वहां समाज प्रमुखों, संगठन प्रमुखों से चर्चा करने के बाद रात्रि विश्राम करेंगे।

मुख्यमंत्री श्री बघेल 5 दिसम्बर को पूर्वान्ह 11.30 बजे सरना एथनिक रिसोर्ट चाय बागान में पौध रोपण कार्यक्रम में शामिल होने के बाद ग्राम गम्हरिया में धान खरीदी केंद्र और गौठान का निरीक्षण करेंगे। श्री बघेल वहां से कार द्वारा दोपहर 1.15 बजे सोगड़ा आश्रम पहुंचेंगे। मुख्यमंत्री अपरान्ह 3 बजे जशपुर पुलिस लाईन हेलीपेड से हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर 3.45 बजे बिलासपुर आएंगे और शाम 4 बजे लाल बहादुर शास्त्री स्कूल बिलासपुर में आयोजित 43वें राउत नाचा महोत्सव में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद बिलासपुर से कार द्वारा रवाना होकर रात 8 बजे रायपुर लौटेंगे।


03-Dec-2020 4:20 PM 23

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 3 दिसंबर।
निगम जोन-एक का तोडफ़ोड़ दस्ता आज दलबल के साथ खमतराई बाजार के पास पहुंचा। इस दौरान यहां सडक़ किनारे से कब्जा हटाया गया। 

जोन कमिश्नर नेतराम चंद्राकर के नेतृत्व निगम जोन-एक की टीम दलबल के साथ आज सुबह वीर शिवाजी वार्ड में खमतराई बाजार पास पहुंची। इस दौरान लोगों की शिकायत पर यहां सडक़ घेरकर करीब 6 सौ वर्गफीट में कब्जा थ्रीडी से हटाया गया। यहां दीवार खड़ी कर शेड डाल दिया गया था और कारोबार करने की तैयारी थी। 

निगम अफसरों का कहना है कि सडक़ पर कब्जा से यहां आने-जाने वाले लोगों की परेशानी हो रही थी और उनकी इस शिकायत पर यहां पूछताछ करते हुए कब्जा हटाया गया। उनका कहना है कि सरकारी जमीन, सडक़ आदि जगहों पर कब्जा की शिकायत पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी। 
 


03-Dec-2020 4:20 PM 22

रायपुर, 3 दिसम्बर। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू 4 दिसम्बर शुक्रवार को दुर्ग जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निकुम में सबेरे 11.30 बजे और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र उतई में दोपहर 2.30 बजे जीवन दीप समिति की बैठक लेंगे।

 गृह मंत्री रात्रि 8.30 बजे 17वीं बी.एन.बी.एस.एफ. नवा रायपुर में आयोजित बी.एस.एफ. डे कार्यक्रम में शामिल होंगे। श्री साहू निर्धारित दौरा कार्यक्रम के अनुसार सबेरे 10 बजे कार से रायपुर से निकुम जिला दुर्ग के लिए प्रस्थान करेंगे। वे जीवन दीप समितियों की बैठक लेने के बाद शाम 6.30 बजे रायपुर आएंगे। इसके बाद बी.एस.एफ. डे कार्यक्रम में शामिल होंगे।


03-Dec-2020 4:19 PM 20

पूरे छत्तीसगढ़ में किसान आंदोलन

रायपुर, 3 दिसंबर। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति सहित 500 से अधिक किसान संगठनों के देशव्यापी आह्वान पर छत्तीसगढ़ किसान आंदोलन से जुड़े घटक संगठनों ने आज पूरे प्रदेश में काले कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों के साथ एकजुटता का प्रदर्शन किया, गांव-गांव में प्रदर्शन करके रास्ते रोके और मोदी सरकार तथा किसान विरोधी कानूनों के पुतले जलाए। ‘कॉर्पोरेट भगाओ - खेती-किसानी बचाओ - देश बचाओ’ के केंद्रीय नारे पर इस आंदोलन को आयोजित किया गया है और काले कृषि कानून और बिजली कानून में संशोधन को वापस लेने की मांग की गई।

छत्तीसगढ़ किसान आंदोलन के संयोजक सुदेश टीकम और छत्तीसगढ़ किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते ने बताया कि मोदी सरकार के कृषि विरोधी कानूनों के खिलाफ प्रदेश में छत्तीसगढ़ किसान आंदोलन के बैनर तले 20 से ज्यादा संगठन एकजुट हुए हैं और कोरबा, राजनांदगांव, सूरजपुर, सरगुजा, रायगढ़, कांकेर, चांपा, मरवाही, बिलासपुर, जशपुर, बस्तर और  बलौदाबाजार  सहित 20 से ज्यादा जिलों में अनेकों स्थानों पर रास्ता रोक जाने के साथ भारी विरोध प्रदर्शन के कार्यक्रम आयोजित किये जाने और मोदी-अडानी-अंबानी के पुतले जलाए जाने की खबरें आ रही हैं। जिला किसान संघ द्वारा राजनांदगांव में अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है, जिसमें भारी संख्या में किसान जुटे। मरवाही-मनेन्द्रगढ़ हाईवे को किसानों के एक जत्थे ने रोका। इसी प्रकार सूरजपुर, सरगुजा और बलरामपुर जिलों में किसान जत्थे निकाले जा रहे हैं। पूरे प्रदेश में बीमा कर्मचारियों सहित कई स्थानों पर किसानों की मांगों के समर्थन में मजदूर संगठनों द्वारा भी एकजुटता कार्यवाही की गई हैं और इन कॉर्पोरेटपरस्त कानूनों को निरस्त करने की मांग की गई है। माकपा सहित प्रदेश की सभी वामपंथी पार्टियों के कार्यकर्ता भी इस आंदोलन के समर्थन में आज सडक़ों पर उतरे।

छत्तीसगढ़ किसान आंदोलन ने इस सफल आंदोलन के लिए किसान समुदाय और आम जनता का आभार व्यक्त किया है और कहा है कि देश और छत्तीसगढ़ की जनता ने आज इन कानूनों  के खिलाफ जो तीखा प्रतिवाद दर्ज किया है, उससे स्पष्ट है कि आम जनता की नजरों में इन कानूनों की कोई वैधता नहीं है और इन्हें निरस्त किया जाना चाहिए। 

किसान संघर्ष समन्वय समिति के कोर ग्रुप के सदस्य हन्नान मोल्ला ने भी प्रदेश में इस सफल रास्ता रोको आंदोलन के लिए किसानों को बधाई दी है और कहा है कि जब तक ये कानून वापस नहीं लिए जाते, दिल्ली की नाकेबंदी जारी रहेगी और किसान समुदाय हर प्रकार के दमन का जवाब देने के लिए तैयार है।

किसान नेताओं ने वार्ता की असफलता के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि देश संसदीय बहुमत की तानाशाही से नहीं, बल्कि राजनैतिक मुद्दों पर आम सहमति और संवाद से चलता है। देश की जनता की आम राय इन कानूनों की वापसी के पक्ष में है और इसके बाद ही संवाद संभव है। उन्होंने कहा कि संवाद की जगह किसानों से टकराव लेने वाली कोई सरकार टिक नहीं सकती। उन्होंने बताया कि 5 दिसम्बर को प्रदेश के हर गांव में मोदी-अडानी-अम्बानी के पुतले जलाए जाएंगे।
 


03-Dec-2020 4:19 PM 21

रायपुर, 3 दिसंबर। जय व्यापार पैनल की मिटिंग चुनाव कार्यालय  में शोक सभा आयोजित की गई,  छ.ग.  चेम्बर के चुनाव अधिकारी सीए संतोष गोलछा के निधन पर दुख प्रकट करते हुए मुख्य चुनाव संचालक नरेन्द्र दुग्गड़ ने व्यापारी जगत के लिये भी अपूर्णनीय क्षति बताया । स्व. संतोष गोलछा को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अध्यक्ष पद के प्रत्याशी अमर परवानी, उत्तम गोलछा,  जितेंद्र दोशी, अजय अग्रवाल, मगेलाल मालू, विक्रम सिंहदेव, ने कहा कि स्व. संतोष गोलछा के निधन पर व्यापारी जगत को आघात पहुंचा है। इस दुख की घड़ी में  शोकाकुल परिवार के साथ है। जय व्यापार पैनल के तमाम उपस्थित सदस्यों ने एकमत से  शोकसभा में यह निर्णय लिया कि चेम्बर चुनाव के संबंध में जय व्यापार पैनल का आगामी सभी कार्यक्रम मुख्य चुनाव संचालक के अगले आदेश तक रद्द किया जाता है।

जय व्यापार पैनल ने कहा कि व्यापारी हितों को लेकर हमारा अपना काम जारी रहेगा। व्यापारिक मुद्दों, मांग एवं सुझाव आदि को लेकर हमारे दरवाजे प्रत्येक व्यापारी के लिये हमेशा खुलें है, और खुलें रहेगें। स्व. संतोष गोलछा सफल व्यापारी के साथ ही उद्योगपति और सरल व्यक्तित्व के धनी थे। उन्होंने व्यापार के साथ-साथ सामाजिक, धार्मिक क्षेत्रों में भी बढ़ चढ कर योगदान दिया हैं।

जय व्यापार पैनल उनके कायों को नमन करता है। शोकसभा में दीपक बल्लेवार अजय तनवानी, वासु माखीजा, अमर गिदवानी, सुरेन्द्र सिंह, विजय कोठारी, राम मंधान, विजय शर्मा, कैलाश खेमानी, भरत जैन, सूरज उपाध्याय, दिनेश पटेल, मोतीलाल सचदेव, जनक वाधवानी, जयराम कुकरेजा, अजीत सिंह कैम्बों, राकेश अग्रवाल आदि अनेक सदस्यों की उपस्थिति में दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई।

 


03-Dec-2020 4:18 PM 19

रायपुर, 3 दिसम्बर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 2 दिसम्बर तक दो दिन में 2 लाख 29 हजार 675 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। राज्य के 70 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा।

राज्य के सीमावर्ती जिलों में अवैध धान परिवहन को रोकने के लिए निरंतर मॉनीटरिंग की जा रही है। कबीरधाम जिले में अवैध धान परिवहन की जांच के लिए 22 चेकपोस्ट बनाए गए हैं। इनमें से 12 चेकपोस्ट सीमावर्ती क्षेत्र में स्थापित किए गए हैं, जिसमें 11 चेकपोस्ट बोड़ला विकासखण्ड में और एक चेकपोस्ट पण्डरिया विकासखण्ड के सीमावर्ती क्षेत्र पोलमी में बनाया गया है। कबीरधाम जिले के कलेक्टर एवं एसपी ने चिल्फी पहुंचकर अंतर्राज्यीय बैरियर का आकस्मि निरीक्षण किया। बिलासपुर कलेक्टर ने बिल्हा विकासखण्ड के धान खरीदी केन्द्र सेन्द्री का आकस्मिक निरीक्षण किया। कलेक्टर ने खरीदी केन्द्र में समिति प्रबंधकों से मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देशों के अनुरूप किसानों को किसी प्रकार की असुविधा न हो इसका विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए।

खरीफ वर्ष 2020-21 में दो दिसम्बर को राज्य के महासमुंद जिले में 25 हजार 68 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बस्तर जिले में एक हजार 16 मीट्रिक टन, बीजापुर जिले में 183 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 54.64 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 6 हजार 54 मीट्रिक टन, कोण्डागांव जिले में 3 हजार 325 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 111 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 102 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 9 हजार 164 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही एक हजार 447 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 5 हजार 583 मीट्रिक टन।

इसी प्रकार कोरबा जिले में 207.36 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 5 हजार 334 मीट्रिक टन, रायगढ़ जिले में 8 हजार 954 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 18 हजार 301 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 16 हजार 936 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 14 हजार 471 मीट्रिक टन, कवर्धा में 17 हजार 60 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 22 हजार 993 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 18 हजार 573 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 13 हजार 861 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 11 हजार 440 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 21 हजार 246 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 333.56 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में एक हजार 626 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में एक हजार 2 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 2 हजार 825 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में 2 हजार 101.68 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।
 


Previous123456789...3738Next