छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous123456789...120121Next
17-Jun-2021 6:27 PM (18)

रायपुर, 17 जून। प्राणीशास्त्र विभाग तथा आईक्यूएसी समिति, शासकीय नागार्जुन स्नातकोत्तर विज्ञान महाविद्यालय, रायपुर  के तत्वाधान में एनिमल डाइवर्सिटी-लोकल टू ग्लोबल विषय पर एक अंतरराष्ट्रीय वेबीनार के दूसरे दिन ब्राज़ील से डॉ. सुएल ने सेरियम नैनोपार्टिकल्स, यूवी-प्रेरित फोटोडैमेज के खिलाफ लडऩे के लिए सेल रेडॉक्स प्रतिक्रिया को बढ़ाने के लिए एक संभावित सहयोगी पर अपने व्याख्यान में बताया अल्ट्रा वॉइलेट किरणे रेडॉक्स सेल सिस्टम में असंतुलन को उत्तेजित करते हैं जो प्रोटीन, लिपिड और डीएनए जैसे आवश्यक मैक्रोमोलेक्यूल्स में सेलुलर परिवर्तनों के लिए एक प्रारंभिक कुंजी हो सकती है, जिससे मनुष्यों में त्वचा की उम्र बढऩे और कैंसर की बीमारी होती है। अध्ययन से पता चलता है कि यूवी-प्रेरित फोटोडैमेज के  खिलाफ लडऩे के लिए सीएनपी एंटीऑक्सिडेंट रेडॉक्स क्षमता को बढ़ा सकता है। 

डॉ. उज्जवला देशमुख (महाराष्ट्र) ने प्रकृति में मकड़ी की विविधता और भूमिका पर बताया कि मकडिय़ां अपनी उल्लेखनीय आदतों और जटिल जीवन चक्र के साथ संरचनात्मक रूप से सुंदर हैं।  मकडिय़ों की लगभग 45,776 प्रजातियां हैं। जिनमें से कुछ कठोर पर्यावरण में पायी जाने वाली मकडिय़ों को छोडक़र बाकी महानगरीय हैं। मकडिय़ां हमरे पारिस्थितिक तंत्र में बायोलॉजिकल इंडिकेटर व एग्रीकलचरल पेस्ट्स के लिए बायोलॉजिकल कंट्रोल का काम करती हैं। 

डीएनए को फ्री-रेडिकल-मध्यस्थता विकिरण क्षति पर डॉ. अमिताभ अधिकारी (ओकलैंड विश्वविद्यालय, रोचेस्टर) ने अपने व्याख्यान में बताया कि डीएनए को सबसे अधिक नुकसान उत्परिवर्तन और आयनकारी विकिरणों से प्रेरित परिवर्तनों के कारन होता है। विकिरण से डीएनए का क्षतिग्रस्त होना और इसके अध्ययन में अपनाए जाने वाले तीन दृष्टिकोण मॉडल कंपाउंड पृथक किया गया डीएनए एवं कोष के डीएनए पर अपने विस्तृत विचार प्रस्तुत किए। कार्यक्रम का संचालन डॉ. शशी गुप्ता ने किया।
 


17-Jun-2021 6:21 PM (16)

रायपुर, 17 जून। छत्तीसगढ़ राज्य में शासकीय सेवा से रिटायर हुए अधिकारी कर्मचारी गण अपने मासिक पेंशन के भुगतान को लेकर चक्कर काट रहें हैं। इस कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव में लॉक डाउन में घर में कैद होना मजबूरी है परन्तु इस संकट के बेला में विभाग, ट्रेजरी और बैंक के झमेला में 4-5 माह से मासिक पेंशन से वंचित हैं। कारण क्या है,कोई बतानेवाला नहीं है, न तो इन जगहों में कोई सुनने वाला है और नहीं कोई गाइड करनेवाला है।

प्रदेश में हजारों पेन्शनर इससे पीडि़त होकर यहां-वहां चक्कर लगाकर परेशान हैं। स्थिति इतनी बदतर है कि मृतक रिटायर पेंशनरो के आश्रित पात्र फेमली पेन्शनर उम्र के अंतिम पड़ाव में फेमिली पेंशन के लिये भटक रहे हैं। सरकार के वरिष्ठ नागरिकों के लिये संवेदनशीलता और योजनायें दम तोड़ती नजर आ रहीं हैं। एक विडम्बना यह भी है शासन के आदेश के बावजूद 80 वर्ष के बुजुर्ग पेन्शनर नियमानुसार 20 फीसदी अधिक पेंशन पाने हक से वंचित हैं। उक्त आरोप छत्तीसगढ़ राज्य संयुक्त पेन्शनर फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव और पेन्शनर एसोसिएशन छत्तीसगढ़ के प्रांताध्यक्ष यशवन्त देवान ने जारी संयुक्त विज्ञप्ति में लगाया है।

जारी विज्ञप्ति में उन्होंने आगे बताया है कि प्रदेश के केवल धमतरी जिले से मिली छुटपुट जानकारी अनुसार बैंक आफ बडौदा मगरलोड से भैसमुड़ी के 4 फेमली पेन्शनर, जिले के स्टेटबैंक छाती से ग्राम सेमरा भखारा के 3 और स्टेटबैंक धमतरी से 1 फेमली पेन्शनर 2019-20 से अबतक पेंशन के इंतजार में दिन गिन रहे हैं। 

इसके अलावा धमतरी जिले से नये 2 रिटायर पेन्शनर पीपीओ जारी होने के बाद से सेन्ट्रल प्रोसेसिंग सेल गोविपुरा भोपाल में प्रकरण के लंबित रहने से फरवरी 21 से अबतक पेंशन से वंचित हैं। इसके अलावा स्टेट बैंक छाती के 4 पेंशनधारी 80 वर्ष अधिक उम्र के बुजुर्ग अपने पेंशन राशि मे 80 वर्ष के उम्र पूरा होने के 5-6 साल बाद भी जो नियम से शासन आदेशानुसार 20त्न प्रतिशत अधिक पेंशन पाने के हकदार हैं, उन्हें भी बैंक के लालफीताशाही के शिकार होकर आर्थिक हानि उठाना पड़ रहा है। 

यह तो सिर्फ एक जिले के 1-2 ब्लाक की जानकारी है। इस तरह के प्रकरणों की गाँव से लेकर जिलों तक हजारों की संख्या होने से इंकार नहीं किया जा सकता। पेंशनधारी हजारों लोगों को नियमों की जानकारी नहीं होने के कारण जो मिल रहा है, वह उसी में खुश हैं।  राज्य सरकार से कम से कम छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के बाद सभी लंबित पेन्शन प्रकरणों की समीक्षा करने और उनके निराकरण हेतु जिला स्तर पर शिविर लगाकर अभियान चलाने की मांग की है।


17-Jun-2021 6:20 PM (17)

रायपुर, 17 जून। छत्तीसगढ़ युवा विकास संगठन संचालित विप्र कला ,वाणिज्य एवं शारीरिक शिक्षा महाविद्यालय में रजत जयंती वर्ष के अवसर पर वेबिनार सप्ताह के अंतर्गत शिक्षा विभाग द्वारा तीन दिवसीय नेशनल वेबीनार का उद्घाटन समारोह  मुख्य अतिथि डॉ .अरुणा  पल्टा( कुलपति हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग) ,विशिष्ट अतिथि ज्ञानेश शर्मा (अध्यक्ष विप्र शिक्षण  समिति )एवं कार्यक्रम अध्यक्ष प्रोफेसर सी.डी. अगाशे (संचालक शिक्षा विभाग पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर) के सारगर्भित आशीष वचनों से संपन्न हुआ  ।

 मुख्य अतिथि प्रसिद्ध शिक्षाविद,हेमचंद यादव विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ अरुणा पलटा ने कहा च्कोरोना महामारी का प्रारंभ इतना अचानक  और भयानक था कि किसी की तैयारी नहीं थी। शिक्षा जगत भी इससे प्रभावित हुआ। ऑनलाइन परीक्षा और ऑनलाइन कक्षा के माध्यम से अध्ययन अध्यापन को प्रारंभ  किया गया । परंतु इससे शिक्षक और छात्र दोनों संतुष्ट नहीं हो सकते। ऑनलाइन कक्षा में उपस्थिति कम रहती हैं ।एकाग्रता का अभाव रहता है । अध्यापकों का निरीक्षण या अवलोकन नहीं हो पाता।  सिर्फ अध्ययन करने के लिए विद्यार्थी महाविद्यालय में प्रवेश नहीं लेते ,ऑन लाईन कक्षाओं से अन्य शैक्षणिक गतिविधियां  निरंक रहा। 

उन्होंने कहा  इसके बाद भी ऑनलाइन कक्षा की कुछ विशेषताएं हैं ,इस प्रकार की आपातकालीन स्थिति में अध्ययन अध्यापन जारी रखने का एकमात्र बेहतर उपाय ऑन लाईन कक्षा ही है । साथ ही विश्वविद्यालय में प्रसिद्ध विषय विशेषज्ञों का व्याख्यान आयोजित किया गया ,जो सामान्य स्थिति में विश्वविद्यालय में बुलाकर संभव नहीं था। इस प्रकार ऑनलाइन के माध्यम से एक छात्र दुनिया के किसी भी कोने का बेहतरीन शिक्षा प्राप्त कर सकता है ।समय की आवश्यकता के अनुसार इसे और अधिक बेहतर बनाने की आवश्यकता है।ज्इस अवसर पर  ज्ञानेश शर्मा ने कहा ऑनलाइन क्लास आज की आवश्यकता है । विप्र महाविद्यालय भी इसमें पीछे नहीं रहा ।जैसे ही करोना महामारी के बाद विद्यार्थियों का संपर्क महाविद्यालय से खत्म हुआ।

प्राध्यापकों ने ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से बेहतरीन शिक्षा विद्यार्थियों तक पहुंचाने का प्रयास प्रारंभ कर दिया।इससे विद्यार्थियों का रुझान महाविद्यालय की ओर बढ़ा ,और विगत वर्ष प्रवेश संख्या में वृद्धि हुई।

कार्यक्रम अध्यक्ष प्रोफेसर सी .डी . अगाशे  ने बताया कि ऑनलाइन कक्षा वर्तमान समय की मजबूरी है ।ऑनलाइन कक्षा में प्रत्यक्ष  निरीक्षण नहीं हो पाता। विद्यार्थियों और अध्यापकों में भावनात्मक जुड़ाव भी खत्म हो गया है । विद्यार्थी क्लासरूम में ज्यादा सक्रिय रहते हैं ,फिर भी ऑनलाइन कक्षा आज की आवश्यकता है ।इन कमियों को दूर करने का प्रयास वेबीनार में चर्चा के माध्यम से किया जाना चाहिए। इसके पूर्व अतिथियों का स्वागत करते हुए प्राचार्य डॉ . मेघेश तिवारी ने कहां पिछले कुछ दशकों में शिक्षा के क्षेत्र में तकनीकी रूप से काफी तेजी से परिवर्तन हुआ है। तथा वर्तमान स्थापित परिस्थितियों ने इसे और अधिक तीव्रता प्रदान की है। इसी कड़ी में ऑनलाइन शिक्षा की आवश्यकता एवं इससे संबंधित चुनौतियों को समझना आवश्यक प्रतीत होता है।उपरोक्त विषय पर संभावित विभिन्न पहलुओं का विस्तृत अवलोकन करने के लिए महाविद्यालय के रजत जयंती वर्ष के अवसर   पर 6 वें वेबिनार का आयोजन किया गया है। इसके बाद वेबीनार की रूपरेखा संयोजक डॉ. दिव्या शर्मा (विभागाध्यक्ष शिक्षा विभाग) ने प्रस्तुत किया। उद्घाटन समारोह के बाद विषय विशेषज्ञ मुख्य प्रवक्ता डॉ .मुकेश चंद्राकर (सहायक प्रोफेसर, केंद्रीय विश्वविद्यालय, बिलासपुर)ने ऑनलाइन एजुकेशन के लाभ पर चर्चा की, साथ ही ऑनलाइन लर्निंग के प्रकारों की व्याख्या की और इन्हें बेहतर बनाने के उपाय पर चर्चा की। इसके बाद भर्ती विषय विशेषज्ञ ,डॉ. सुभाष सरकार(प्रमुख आई./सी. शिक्षा विभाग, त्रिपुरा विश्वविद्यालय, त्रिपुरा) ने ऑनलाइन कक्षा को रुचि पूर्ण  और बच्चों के लिए मजेदार बनाने के उपायों पर चर्चा किए। साथ ही ऑनलाइन कक्षा के लिए अनुकूल वातावरण बनाने  के उपाय बताएंं । इसके बाद विषय विशेषज्ञ  सुशांत कुमार नायक( सहायक प्रोफेसर, शिक्षा विभाग, राजीव गांधीविश्वविद्यालय, एपी) ऑनलाइन कक्षा में तकनीकी का सही ढंग से उपयोग करते हुए विद्यार्थियों को ऑनलाइन क्लास में जोड़ कर रखना, उन्हें ऑनलाइन क्लास में सीखने के लिए प्रोत्साहित करना एवं ऑनलाइन क्लास के बेसिक नॉलेज पर व्यख्यान प्रस्तुत किया।कल दूसरे दिन विषय विशेषज्ञ डॉ. वी.पी . जोशी (सहायक प्रोफेसर  केरल केंद्रीय विश्वविद्यालय केरल) एवं श्री प्रभाकर पुसाद कर( सहायक प्राध्यापक सामाजिक कार्य विभाग एन ए सी एस कॉलेज वर्धा महाराष्ट्र )के व्याख्यान होंगे।
 


17-Jun-2021 6:18 PM (14)

रायपुर, 17 जून।  बैरन बाजार में जन शिक्षण संस्थान रायपुर द्वारा सर्विस टेक्निशयन - होम आप्लायंस का परीक्षण 3 महीने तक चला इसमें 10 युवतियों ने परीक्षण प्राप्त किया। कुल 20 प्रशिक्षणार्थी शामिल हुए।

सभापति प्रमोद दुबे ने कहा प्रशिक्षण प्रदान करने वाली अनेक संस्थान है किंतु जन शिक्षण संस्थान द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त करना सम्मान की बात है। उन्होनें आगे कहा प्रशिक्षण हमारे जीवन का अनिवार्य हिस्सा होना चाहिए चाहे वो किसी भी तरह का प्रशिक्षण हो इसका लाभ भविष्य में अवश्य मिलेगा, और संस्थान से आग्रह भी किया के शहर के सभी स्लम एरिया में आवश्यक रोजगारपरक प्रशिक्षण और जीवन विद्या से जुड़े विषय से लोगो को लाभान्वित करते रहे।

उक्त कार्यक्रम में शहर जिला कांग्रेस कमेटी रायपुर के उपाध्यक्ष बाकर अब्बास, अमित नायडू , संस्थान के अधिकारी, गणमान्य नागरिक संस्थान में शामिल प्रशिक्षणार्थी और भरी संख्या में वार्डवासी शामिल हुए। 
 


17-Jun-2021 6:17 PM (14)

ऑनलाइन क्लास से बच्चों को बाहर करने वाले विद्यालयों के खिलाफ कार्रवाई के लिए डीईओ ने दिए निर्देश

रायपुर, 17 जून।  निजी विद्यालयों के द्वारा ट्यूशन फीस के नाम पर वसूली जा रही अनाप-शनाप फीस के खिलाफ मध्यम वर्गीय नागरिक संगठन द्वारा लगातार आंदोलन किया जा रहा है । आज जिला शिक्षा अधिकारी में मिलकर विभिन्न स्कूलों के द्वारा ऑनलाइन क्लासेज से बाहर किए  गए बच्चों का विवरण दिया गया । डीईओ ने तत्काल कांगेर वेली स्कूल प्रबंधन को फोन कर ऑनलाइन क्लास से बाहर किए गए बच्चों को क्लास में शामिल करने निर्देशित किया । उन्होंने अधीनस्थ अधिकारियों को निर्देश दिया कि जिन विद्यालयों की ज्यादा शिकायत आ रही है तत्काल वहां अच्छे अधिकारियों को भेज कर जांच करवाएं एवं बिना किसी दबाव के उन विद्यालयों में छात्रों के हित को सुरक्षित करें । 

अभिभावकों ने जिला शिक्षा अधिकारी से स्पष्ट रूप से कहा कि शासन और प्रशासन के आदेशों के बावजूद विद्यालयों द्वारा ट्यूशन फीस के नाम पर सभी प्रकार की फीस ली जा रही है बल्कि कई स्कूलों में स्कूल फीस बढ़ा दी गई है साथ ही बहुत विद्यालयों में बच्चों को फीस के अभाव में ऑनलाइन क्लास से बाहर कर दिया गया है जिसमें प्रमुख रुप से कांगेर वैली अकैडमी ,केपीएस, स्कॉलर ,रेडिएंट वे ,जी डी गोयनका सहित अन्य विद्यालयों के पालकों ने अपनी शिकायतें लिखित में जिला शिक्षा अधिकारी को दी। जिला शिक्षा अधिकारी ने सभी शिकायतों के तत्काल निराकरण का आश्वासन दिया । उन्होंने तत्काल फोन लगाकर आदेशित किया ।

जिला शिक्षा अधिकारी से मिलने गए प्रतिनिधिमंडल में प्रमुख रूप से कन्हैया अग्रवाल ,डॉ शिव नारायण द्विवेदी, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष सुमित दास, पुष्पेंद्र परिहार, टोमन लाल साहू ,पार्षद रितेश त्रिपाठी, ममता राय ,तरुणेश परिहार, हरीश तिवारी,  ओम श्रीवास ,नीरज सांखला ,भूपेश केसरवानी ,राकेश ठाकुर सहित अभिभावक शामिल थे ।
 


17-Jun-2021 6:16 PM (13)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 17 जून।
गृह मंत्री  ताम्रध्वज साहू ने गुरूवार को अपने रायपुर सिविल लाईन स्थित निवास कार्यालय में नगर सेना के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर जिलों में बाढ़ आपदा प्रबंधन में उनके द्वारा की गई तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने बाढ़ संभावित जिलों में बचाव एवं राहत के लिए सभी आवश्यक तैयारियां सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है। 

मंत्री श्री साहू ने कहा कि पिछले अनुभवों के आधार पर व्यवस्था में आवश्यक सुधार करें। कलेक्टर द्वारा ली जाने वाली बैठक में आपदा प्रबंधन के लिए जरूरी बाते रखें। उन्होंने जिला सेनानियों को जलाशयों के भरने तथा ओवर फ्लो की स्थिति में पानी छोडऩे के पूर्व जानकारी के लिए कलेक्टर और जल संसाधन विभाग के अधिकारियों से सतत सम्पर्क में रहने के निर्देश दिए।

श्री साहू ने आवश्यकतानुसार बोट खरीदी के लिए प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने रेस्क्यू के दौरान बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित रूप से बाहर निकालने तथा आपदा के दौरान जान-माल की सुरक्षा के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले नगर सेना के जवानों को पुरस्कृत करने के भी निर्देश दिए।  

बैठक में अतिरिक्त महानिदेशक नगर सेना अरूण देव गौतम ने जिलों में बाढ़ आपदा प्रबंधन के लिए नगर सेना की भूमिका और रेस्क्यू अभियान की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बाढ़ बचाव के लिए इस समय 94 मोटरबोट उपलब्ध है। इनमें 46 रबर मोटर-फायबर बोट ओबीएम सहित, 31 फाईवर बोट और 17 एल्युमीनियम मोटरबोट ओबीएम सहित शामिल है। 

उन्होंने बताया कि बाढ़ में घिरे व्यक्तियों को बचाने के लिए पिछले एक वर्ष में 142 नगर सैनिकों को प्रशिक्षित किया गया है। इसके साथ ही बिलासपुर जिले के खूंटाघाट बांध, कोरिया जिले के गौरघाट में राज्यभर के राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) ईकाइयों के जवानों द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अण्डर वाटर सर्च एण्ड रेस्क्यू ऑपरेशन का मॉकड्रील आयोजित कराया गया। इसी तरह सीटीआई रायपुर में भी एसडीआरएफ एवं नगर सेना के जवानों को रोप रेस्क्यू का डेमों दिया गया।

संचालक नगर सेना श्री मयंक श्रीवास्तव ने बैठक में बताया कि प्रदेश के बाढ़ संभावित जिलों बस्तर, कोंटा, बीजापुर के भेरमगढ़, भोपालपट्टनम, राजनांदगांव, दुर्ग, बेमेतरा, बलौदाबाजार, जांजगीर, रायगढ़ में बाढ़ से बचाव के लिए तैयारियां कर ली गई हैं। 

राज्य स्तर पर नगर सेना एवं नागरिक सुरक्षा का बाढ़ बचाव कन्ट्रोल रूम, मुख्यालय नवा रायपुर में स्थापित किया गया है। प्रत्येक जिले में बाढ़ दल तैनात किया गया है जो 24 घंटे जिले में उपलब्ध रहेगा। राज्य में विभिन्न आपदाओं से निपटने के लिए एसडीआरएफ की 7 टीमों का गठन किया गया है, जिन्हें संभागीय मुख्यालयों में तैनात किया गया है। सभी जिलों में बाढ़ से बचाव के लिए कन्ट्रोल रूम स्थापित करने के साथ ही आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराए गए हैं।
 


17-Jun-2021 6:15 PM (15)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 17 जून। 
स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से पर्वतारोही नैना धाकड़ से संवाद किया। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग निवासी नैना धाकड़ ने पिछले दिनों विश्व के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई कर न केवल छत्तीसगढ़ बल्कि देश को भी ख्याति दिलाई है। 

श्री सिंहदेव से चर्चा के दौरान नैना धाकड़ ने बताया कि वह 10 वर्षों से पर्वतारोहण में जुटी हुई हैं, 20 वर्ष की आयु से पर्वतारोहण की ट्रेनिंग कर रही नैना ने तमाम चुनौतियों का सामना करते हुए कड़े परिश्रम और लगन के साथ 16-17 पर्वतों पर चढ़ाई की है। 

पर्वतारोहण के अनुभव पर स्वास्थ्य मंत्री के प्रश्न का उत्तर देते हुए उन्होंने बताया कि लगभग 450 पर्वतारोहियों के साथ माउंट एवरेस्ट पर चढऩे के दौरान उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और शिखर पर पहुँचकर राष्ट्रध्वज, स्वामी विवेकानंद जी, छत्तीसगढ़ शासन समेत 6 झंडे फहराये एवं सारे जहाँ से अच्छा गीत गाया। इस विषय पर श्री सिंहदेव ने कहा कि जिस प्रकार आपने अथक परिश्रम से यह उपलब्धि अर्जित की है, आप केवल राज्य और देश का गौरव नहीं बल्कि मानवता के लिए उदाहरण है। इसके साथ ही नैना धाकड़ ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड पर स्वास्थ्य मंत्री से सुझाव मांगे जिसका उन्होंने विस्तृत जवाब दिया। इस वर्चुअल संवाद में उन्होंने नैना धाकड़ के परिजनों को शुभकामनाएं दीं।
 


17-Jun-2021 6:14 PM (13)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 17 जून।
कोविड की संभावित तीसरी लहर से पहले छत्तीसगढ़ ने गांवों से लेकर शहरों तक सरकारी अस्पतालों को मजबूत बनाने और उन्हें समस्त सुविधाओं से युक्त करने के लिए कमर कस ली है । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि स्वास्थ्य अधोसरंचना को सशक्त बनाने और छत्तीसगढ़ के दूरदराज के इलाक़ों तक सर्वसुविधायुक्त उपचार व्यवस्था बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान हुए अनुभवों को देखते हुए छत्तीसगढ़ शासन ने गांवों से लेकर जिला मुख्यालयों तक सरकारी अस्पतालों में व्यवस्थाओं को मजबूत करने का काम शुरु कर दिया है। श्री बघेल ने प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों एवं विकासखण्ड स्तरीय अस्पतालों को सर्वसुविधायुक्त बनाने के लिए जिला कलेक्टरों को 15 दिनों में कार्य-योजना संपन्न बनाया तैयार कर प्रस्तुत करने को कहा है। श्री बघेल ने कहा है कि स्वास्थ्य अधोसंरचना को मजबूती देने का काम सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ किया जाना है, ताकि यदि तीसरी लहर की स्थिति बनती भी है तो उससे पूरी ताकत के साथ निपटा जा सके।   

मुख्यमंत्री ने कहा है कि पिछले 6 माह में कोरोना के इलाज की व्यवस्थाएं सुदृढ़ करने की दृष्टि से इन अस्पतालों में आक्सीजन संबंधी उपकरण आईसीयू बिस्तर, वेन्टिलेटर्स इत्यादि की संख्या में वृद्धि हुई है। इन स्वास्थ्य उपकरणों का बेहतर रखरखाव और लगातार उपयोग कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारी के लिए भी आवश्यक है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में डाक्टरों की संख्या में भी पिछले दिनों में काफी बढ़ोतरी हुई है, किन्तु स्वास्थ्य प्रबंधन और मजबूत किया जाना आवश्यक है।

श्री बघेल ने कहा है कि प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के विकास की एक योजना शीघ्र तैयार की जाए। इस योजना में उपरोक्त सभी अस्पतालों में सर्व सुविधा संपन्न ऑपरेशन रूम, लेबर रूम, लैबोरेटरी, आई.सी.यू. और वेन्टीलेटर की सुविधा, ब्लड बैंक, नि:शुल्क दवा आदि सुविधाएं उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाए।  
मुख्यमंत्री ने कहा कि इन सभी अस्पतालों में 24 घंटे इलाज की सुविधा हो। साथ ही सभी में शिशु रोग, स्त्री रोग, निश्चेतना, पैथॉलाजी, मेडिसीन एवं सर्जरी के पोस्ट ग्रेजुएट चिकित्सक उपलब्ध कराने का प्रयास किया जाये और जहां पोस्ट ग्रेजुएट उपलब्ध न हो सकें, वहां इन विषयों में प्रशिक्षण प्राप्त चिकित्सकों की व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों के माध्यम से उपरोक्तानुसार प्रस्ताव, आवश्यक बजट सहित 15 दिनों में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है।
 


17-Jun-2021 6:13 PM (17)

रायपुर, 17 जून।  महापौर एजाज ढेबर ने भाटागांव आवासीय परिसर का निरीक्षण किया। इस मौके पर उन्होंने वहां  आसपास के इलाके में अवैध प्लाटिंग पर कार्रवाई के निर्देश दिए। 
महापौर एजाज ढेबर ने नगर निगम जोन क्रमांक 5 के तहत आने वाले  भक्त माता कर्मा वार्ड क्रं. 67 में सम्बंधित वार्ड पार्षद उत्तम साहू एवं जोन 5 के जोन कमिश्नर चन्दन शर्मा सहित जोन 5 के सम्बंधित निगम अधिकारियों एवं बीएसयूपी भाटागांव आवासीय परिसर के रहवासियों की उपस्थिति में बीेएसयूपी आवासीय परिसर के सम्पूर्ण क्षेत्र का सघन भ्रमण किया।

निरीक्षण के दौरान महापौर श्री ढेबर ने  बीएसयूपी कॉलोनी आवासीय परिसर भाटागांव के रहवासियों से आवासीय परिसर के भीतर साफ सफाई,पेयजल प्रबंधन, प्रकाश व्यवस्था, सडक़ बत्ती व्यवस्था  की जनसुविधा के संचालन को लेकर जानकारी ली कि सही तरीके से संचालन हो रहा है अथवा नहीं। 

महापौर श्री ढेबर ने बीएसयूपी कॉलोनी आवासीय परिसर में व्यवस्थित रूप से सफाई, पेयजल व्यवस्था, सडक़ बत्ती व्यवस्था, प्रकाश व्यवस्था आदि  मूलभूत सुविधायें सतत निरंतर रूप से रहवासियों को उपलब्ध करवाना जनहित में जनसुविधा विस्तार हेतु प्राथमिकता से सुनिश्चित करवाने के स्थल पर जोन 5 के जोन कमिश्नर श्री शर्मा को निर्देश दिये। 
इस दौरान महापौर श्री ढेबर ने जोन कमिश्नर को जोन के स्तर पर सघन अभियान चलाकर अवैध प्लाटिंग के सभी प्रकरणों पर शीघ्र नियमानुसार कड़ी कार्यवाही करना सुनिश्चित करने के निर्देश जोन 5 के जोन कमिश्नर श्री शर्मा सहित सम्बंधित जोन 5 के जोन अधिकारियों को दिये। 
 


16-Jun-2021 6:33 PM (17)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 16 जून।
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी सौरभ कुमार ने भारत सरकार के गृह मंत्रालय के आदेश तथा उनके कार्यालय के दिनांक 11 जून 2021 आदेश की कंडिका 4 में जारी दिशा-निर्देश के अध्याधीन रायपुर जिले अंतर्गत सामाजिक कार्यक्रमों के दौरान धुमाल/ग्रास बैण्ड एवं बैंड पार्टी बजाने की सशर्त अनुमति प्रदान की है।

इसके तहत धुमाल/ब्रास बैण्ड एवं बैंड पार्टी बजाने वालों की कुल संख्या 10 लोगों से ज्यादा नहीं होगी। धुमाल/ब्रास बैण्ड एवं बैंड पार्टी में केवल बैण्ड के बजाने की अनुमति होगी। साउण्ड बॉक्स जिनका पी.एम.पी.ओ. 200 वॉट से अधिक न हो को ही बजाने की अनुमति होगी। धुमाल/ब्रास बैण्ड एवं बैंड पार्टी किसी भी सार्वजनिक रोड पर नहीं बजाया जायेगा। केवल कार्यक्रम के नियत स्थान पर बजाने की अनुमति अधिकतम समय रात्रि 10बजे तक के लिए मान्य होगा। जिस क्षेत्र में धुमाल/ब्रास बैंण्ड एवं बैंड पार्टी बजाया जाना है, उसके पूर्व उस क्षेत्र के थाना प्रभारी को पूर्व सूचना देना होगा। 

धुमाल/ब्रास बैण्ड एवं बैंड पार्टी बजाते समय उसमें सम्मिलित होने वाले समस्त व्यक्तियों को भारत सरकार/राज्य शासन द्वारा कोरोना वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु जारी समस्त निर्देशों का पालन किया जाना होगा। 

धुमाल/ब्रास बैण्ड एवं बैंड पार्टी के बजाने वालों में सम्मिलित होने वाले समस्त व्यक्तियों का थर्मल स्क्रीनिंग कराया जाना, मास्क पहनना, समय-समय पर हैण्ड सेनेटाइजर का उपयोग करना, फिजिकल डिस्टॅशिंग तथा सोशल डिस्टेंसिंग अर्थात व्यक्तियों के मध्य कम से कम दो मीटर/6 फीट दूरी रखना अनिवार्य होगा। 

धुमाल/ब्रास बैण्ड एवं बैंड पार्टी बजाते समय एन.जी.टी. एवं शासन के द्वारा ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण के लिए निर्धारित मानकों कोलाहाल अधिनियम, भारत सरकार एवं माननीय सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन किया जाना होगा।

यदि उपरोक्त शर्तो का उल्लघन करना पाया जाता है, तो सम्पूर्ण जिम्मेदारी धुमालध् बास बैण्ड एवं बैंड पार्टी के प्रबंधक की होगी तथा भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जायेगी।
 


16-Jun-2021 6:33 PM (16)

18 सहकारी समितियों को दिया नोटिस

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 16 जून।
उर्वरक निरीक्षण दल द्वारा रायपुर जिले के सभी विकासखंडों के सहकारी समिति एवं निजी विक्रेता दुकानों की गत दिनों पी ओ एस मशीन के माध्यम से उर्वरक विक्रय की आकस्मिक रूप से जांच की गई।  अनियमितता पाये जाने पर जिले के 18 सेवा सहकारी समितियों को नोटिस जारी किया गया है।

उल्लेखनीय हैं कि कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ एम. गीता एवं कलेक्टर रायपुर सौरभ कुमार के निर्देंश पर रायपुर जिले में बीज, उर्वरक एवं कीटनाशक औषधि के निर्माता, विक्रेता परिसर निरीक्षण हेतु दल का गठन किया गया है। निरीक्षण कर उर्वरक (अधिनियम) आदेश 1985 के तहत उल्लंघन पाये जाने पर नियमानुसार कार्यवाही किये जाने के निर्देंश दिए गए है।

उप संचालक कृषि श्री कश्यप ने बताया कि उर्वरक निरीक्षण दल द्वारा विकासखंड तिल्दा के 5 सेवा सहकारी समिति गनियारी, मांठ, खरोरा, बंगोली एवं अड़सेना, विकासखंड आरंग के 3 सेवा सहकारी समिति मंदिरहसौद, मुनरेठी एवं नगपुरा, विकासखंड अभनपुर के 5 सेवा सहकारी समिति रवेली, ढोढरा, परसदा, खोरपा एवं सारथी, विकासखंड धरसींवा के 5 सेवा सहकारी समिति कचना, नगरगांव, गिरौद, मांढर एवं बरबंदा का निरीक्षण किया गया।

इसी तरह गुण नियंत्रण हेतु निजी विक्रेता दुकानों का भ्रमण कर रसायनिक उर्वरक, कीटनाशक दवाई एवं बीज का नगूना लिया जा रहा है तथा डबललॉक केन्द्रों का भी निरीक्षण कर तत्काल एकनालेजमेंट प्रदाय करने के निर्देश दिये गये हैं। सभी विकासखंडों के कृषि विकास अधिकारियों को सहकारी एवं निजी निर्माता एवं विक्रेता के सतत् निरीक्षण के लिए निर्देशित किया गया है ताकि पी ओ एस मशीन से ही उर्वरक विक्रय किया जा सके। एवं मात्रा का वास्तविक मिलान हो सके। 
 


16-Jun-2021 6:33 PM (19)

18 सहकारी समितियों को दिया नोटिस

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 16 जून।
उर्वरक निरीक्षण दल द्वारा रायपुर जिले के सभी विकासखंडों के सहकारी समिति एवं निजी विक्रेता दुकानों की गत दिनों पी ओ एस मशीन के माध्यम से उर्वरक विक्रय की आकस्मिक रूप से जांच की गई।  अनियमितता पाये जाने पर जिले के 18 सेवा सहकारी समितियों को नोटिस जारी किया गया है।

उल्लेखनीय हैं कि कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ एम. गीता एवं कलेक्टर रायपुर सौरभ कुमार के निर्देंश पर रायपुर जिले में बीज, उर्वरक एवं कीटनाशक औषधि के निर्माता, विक्रेता परिसर निरीक्षण हेतु दल का गठन किया गया है। निरीक्षण कर उर्वरक (अधिनियम) आदेश 1985 के तहत उल्लंघन पाये जाने पर नियमानुसार कार्यवाही किये जाने के निर्देंश दिए गए है।

उप संचालक कृषि श्री कश्यप ने बताया कि उर्वरक निरीक्षण दल द्वारा विकासखंड तिल्दा के 5 सेवा सहकारी समिति गनियारी, मांठ, खरोरा, बंगोली एवं अड़सेना, विकासखंड आरंग के 3 सेवा सहकारी समिति मंदिरहसौद, मुनरेठी एवं नगपुरा, विकासखंड अभनपुर के 5 सेवा सहकारी समिति रवेली, ढोढरा, परसदा, खोरपा एवं सारथी, विकासखंड धरसींवा के 5 सेवा सहकारी समिति कचना, नगरगांव, गिरौद, मांढर एवं बरबंदा का निरीक्षण किया गया।

इसी तरह गुण नियंत्रण हेतु निजी विक्रेता दुकानों का भ्रमण कर रसायनिक उर्वरक, कीटनाशक दवाई एवं बीज का नगूना लिया जा रहा है तथा डबललॉक केन्द्रों का भी निरीक्षण कर तत्काल एकनालेजमेंट प्रदाय करने के निर्देश दिये गये हैं। सभी विकासखंडों के कृषि विकास अधिकारियों को सहकारी एवं निजी निर्माता एवं विक्रेता के सतत् निरीक्षण के लिए निर्देशित किया गया है ताकि पी ओ एस मशीन से ही उर्वरक विक्रय किया जा सके। एवं मात्रा का वास्तविक मिलान हो सके। 
 


16-Jun-2021 6:31 PM (17)

रायपुर, 16 जून।  प्रदेश सरकार की ढाई साल के कार्यकाल के विरोध में आंदोलन का आगाज मंगलवार को हुआ। आगामी 17 जून को छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के ढाई वर्ष पूरे हो रहे हैं। ढाई वर्षो में कांग्रेस सरकार ने जनता से विश्वासघात और अराजकता के रोज नए-नए कारनामे किए हैं। कांग्रेस सरकार की इन्हीं कारगुजारियों को जनता के सम्मुख लाने के लिए भाजपा रायपुर जिला का वादाखिलाफी अभियान रायपुर के 16 मंडलों के सभी वार्डों में प्रारंभ हुआ।

कांग्रेस के कुशासन और अन्याय के खिलाफ भाजपा द्वारा रायपुर दक्षिण के महामाई पारा व विपिनबिहारी सूर वार्ड में आयोजित कार्यक्रम में जनता के बीच पहुंचे बृजमोहन ने कहा कि राज्य सरकार जनता से किए वादे पूरा करने के बजाय अपनों के तगादों से त्रस्त है। राज्य बनने के बाद ढाई- ढाई साल के फार्मूले में फंसी कांग्रेस सरकार ढाई साल बीतने के बाद भी निगम-मंडलों के मलाईदार पदों के लिए अपने नेताओं की मांग में उलझी हुई है और जनहित के कार्यों से मुंह फेरे बैठी है। 

श्री अग्रवाल ने जनता से पूछा कि क्या आपके बच्चों को नौकरी मिली ,क्या आपके बच्चे को बेरोजगारी भत्ता मिला। उन्होंने महिला स्व सहायता समूह से उनके कर्ज माफी के संबंध में भी बातचीत की। उन्होंने भूपेश सरकार से मांग की कि जनता ने आपके वादों पर भरोसा करके आपको जिताया है आप केंद्र के माथे आरोप मढऩे के बजाय जनता से किए अपने वादे पूरे करें।
 


16-Jun-2021 6:29 PM (27)

रायपुर, 16 जून। अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के अध्यक्ष डॉ दिनेश मिश्र ने  बताया  उन्हें जानकारी मिली है राजनांदगांव  जिले के मोहला क्षेत्र के कुल्हारदोह गाँव में रहने वाली  महिला  को कुछ ग्रामीणों द्वारा   जादू टोने के सन्देह में प्रताडि़त किया जाता था।

जानकारी मिली है कि  ग्राम कुल्हारदोह निवासी संजीत कुमार सोरी की सडक़ हादसे में मौत हो गई थी। युवक की मौत होने के बाद मृतक के परिजन गांव में रहने वाली सुपोतिन बाई सोरी पर टोनही का संदेह करते थे तथा युवक की मृत्यु व वाहन दुर्घटना का कारण उक्त महिला के द्वारा किया कथित जादू टोना मानते थे। 10 जून को  जब सुपोतिन बाई एक उन्हें   रास्ते में मिली तब उन्होंने फिर अपने छोटे बेटे की मृत्यु का जिम्मेदार बताते हुए उसके साथ गाली गलौज की और  डंडे से उसकी बेदम पिटाई कर दी। पिटाई से सुपोतिन बाई के सिर,व अन्य अंगों में  गंभीर चोट आई थी।

बाद में उसे  को प्राथमिक उपचार हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र  मोहला में भर्ती किया गया।  तथा बाद में  उस  महिला को मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव में भेजा गया.जहॉं सुपोतिन बाई की मृत्यु हो गयी। मिश्र ने  टोनही के सन्देह में एक बुजुर्ग महिला की हत्या   की कड़ी निंदा करते हुए प्रशासन से इस मामले में कड़ी कार्यवाही की मांग की है।

21 वी सदी में ऐसी घटनाएं प्रगतिशील व सभ्य समाज के लिए अत्यंत शर्मनाक हैं। दुर्घटनाओं का कारण जादू टोना मानना अंधविश्वास है। मनुष्य एवं पशुओं की बीमारियों,व मृत्यु  के अलग अलग कारण होते हैं ,कोई भी प्राणी संक्रमण,कुपोषण अथवा दुर्घटना से बीमार होता है.संक्रमण बैक्टेरिया, वायरस, फंगस से होता है जिसका उसी के अनुसार उपचार किया जाता है कुपोषण, से मुक्ति के लिए सन्तुलित आहार, और दुर्घटनाओं से बचने के लिए वाहन चालन में सावधानी बरतना चाहिए। 

लापरवाही, अनियंत्रित स्पीड,नशे की हालत में वाहन चालन करने से दुर्घटनाओं की आशंका अधिक होती है जिनसे सावधानी से बचा जा सकता है .नजर लगने, जादू टोने जैसी मान्यताये भ्रामक व अंधविश्वास हैं ,जिन पर ग्रामीणों को विश्वास नहीं करना चाहिए. 

डॉ . दिनेश मिश्र ने कहा , जादू टोने का कोई अस्तित्व नहीं होता .तथा कोई नारी टोनही /डायन नहीं होती,यह सिर्फ मन का भ्रम,और सिर्फ अंधविश्वास  है, इस कारण   किसी भी निर्दोष  पर  डायन/ टोनही होने का सन्देह करना, उसे  प्रताडि़त करना  ,हत्या करना शर्मनाक  तथा गम्भीर अपराध है . 

डॉ मिश्र ने कहा हमारी प्रशासन  से मांग है कि इस मामले पूर्ण जाँच कर  उस महिला की प्रताडऩा में   शामिल  रहे सभी दोषियों  कड़ी  सजा मिले ,तथा निर्दोष प्रभावित   परिवार को उपचार न्याय,मुआवजा मिल  सके.
डॉ दिनेश मिश्र 

 


16-Jun-2021 6:28 PM (13)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 16 जून। 
राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके  यहां राजभवन में हेल्पएज इंडिया द्वारा विश्व बुजुर्ग दुर्व्यवहार जागरूकता दिवस के अवसर पर आयोजित वेबिनार में शामिल हुई। उन्होंने वृद्धजनों को नमन करते हुए वर्तमान परिस्थिति में बुजुर्गों के प्रति ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता बताई।

 उन्होंने कहा कि आज की परिस्थिति में लोगों की जीवन शैली में व्यापक बदलाव आए हैं। पहले लोग संयुक्त परिवार में रहते थे। संयुक्त परिवार में आनंद की अनुभूति होती है। वर्तमान परिस्थिति में नौकरी इत्यादि के लिए लोग संयुक्त परिवार को छोडक़र एकल परिवार में रहने लगते हैं। बुजुर्गों के संरक्षण में संयुक्त परिवार में यदि बच्चे पलते-बढ़ते हैं तो उनमें एक अलग संस्कार जागृत होता है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा प्रणाली में परिवार एवं माता-पिता के प्रति क्या कर्त्तव्य होना चाहिए, को आवश्यक रूप से जोडऩा चाहिए। उन्होंने सुझाव दिया कि बुजुर्गों के लिए हेल्पलाईन की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित हो, इससे बुजुर्गों में आत्मविश्वास जागृत होगा तथा फोन पर मदद लेने का प्रयास भी कर सकेंगे। 

कार्यक्रम के आयोजन के लिए उन्होंने हेल्पएज इंडिया के पदाधिकारियों एवं सभी वक्ताओं को बधाई दी।

राज्यपाल ने कहा कि पारिवारिक ढांचे में बुजुर्ग वट वृक्ष के समान होते हैं, जिनकी हर शाखा परिवार के सदस्यों के आश्रय और छाया के लिए होती है। अपना संपूर्ण जीवन परिवार और उसके सदस्यों के लालन-पालन और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने में मद्द करने वाले बुजुर्गों को समाज में महत्वपूर्ण स्थान मिलना ही चाहिए। हालांकि उनकी उपेक्षा की स्थिति में शासन की ओर से स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा उनके लिए वृद्ध आश्रम भी बनाये जाने लगे हैं। लेकिन बेहतर होगा कि वे अपने जीवन की संध्या अपने परिवार और बच्चों के साथ खुशी-खुशी गुजारें।

उन्होंने कहा कि युवाओं को बुजुर्गों को यह समझाने की जरूरत है कि वे उनके लिए महत्वपूर्ण हैं और उन्हें उनकी जरूरत है। इसके साथ ही उन्हें यह एहसास भी दिलाना होगा कि समाज के प्रति अभी उनकी जिम्मेदारी खत्म नहीं हुई है। हमें उन्हें मानसिक एवं शारीरिक रूप से मजबूत बनाना होगा और उनमें जीवन के प्रति उत्साह जागृत करना होगा। उन्हें यह महसूस होना चाहिए कि वे अपने अनुभवों की रोशनी से बच्चों के जीवन में प्रकाश ला सकते हैं।

राज्यपाल ने कहा कि पूरे विश्व सहित हमारे देश में बुजुर्गों की बड़ी संख्या है। हर व्यक्ति उम्र के इस पड़ाव में एक दिन जरूर पहुंचता है। उस समय उन्हें विशेष देखभाल की जरूरत पड़ती है मानसिक और शारीरिक दोनो रूप से। यदि बुजुर्गों को अनुभवों का समृद्ध खजाना कहा जाए तो यह कोई अतिश्योक्तिपूर्ण बात नहीं होगी। ऐसे अनुभवी खजाने का युवाओं द्वारा अपना जीवन संवारने और सीख लेने में उपयोग करना चाहिए। भारतीय समाज में सदैव से बड़े-बुजुर्गों का सम्मानजनक स्थान रहा है और उनकी आज्ञा और मार्गदर्शन में काम करना हमारी परम्परा रही है।
 


16-Jun-2021 6:27 PM (13)

तीन युवाओं को  7 कार्यों के लिए 42.45 लाख का कार्यादेश जारी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 16 जून।
बेरोजगार युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ सरकार ने निर्माण कार्यों में ठेका के लिए अभिनव पहल करते हुए ‘अ‘, ‘ब‘, ‘स‘, ‘द‘ श्रेणी के बाद ई-श्रेणी में पंजीयन शुरू किया है। इस व्यवस्था के तहत प्रदेश में अब तक ई-श्रेणी में पंजीयन के लिए प्राप्त 2501 आवेदनों के विरूद्ध 2013 ठेकेदारों का पंजीयन किया गया है।

श्री साहू की विशेष पहल पर बिलासपुर जिले में ई वर्ग के तीन युवा ठेकेदारों को मुख्यमंत्री सुगम सडक़ योजना के तहत पहुंच मार्गो के निर्माण के लिए कुल 42 लाख 45 हजार रूपए लागत के 7 कार्यों के लिए कार्यादेश जारी किया गया है। मंत्री श्री साहू ने कार्य शुरूआत के सभी युवा ठेकेदारों को शुभकामनाएं दी है।

कार्यपालन अभियंता लोक निर्माण विभाग संभाग क्रमांक 2 बिलासपुर द्वारा जारी कार्योदेश के तहत मेसर्स नर्वदेश्वर प्रसाद पटेल को शासकीय धान उपार्जन केन्द्र भवन बेलगहना में पहुंच मार्ग के लिए 6.47 लाख रूपए, शासकीय हाई स्कूल भवन केकराडीह में पहुंच मार्ग निर्माण के लिए 3.78 लाख रूपए, शासकीय प्रायमरी स्कूल भवन केन्दा में पहुंच मार्ग के लिए 3.78 लाख रूपए और प्रायमरी स्कूल भवन केन्दाडांड में पहुंच मार्ग के लिए 3.78 लाख रूपए का कार्यादेश जारी किया गया है।

इसी तरह बलदेव बर्मन को शासकीय प्रायमरी स्कूल भवन तुलुफ में पहुंच मार्ग के लिए 13.82 लाख रूपए और मेसर्स सुरेन्द्र कंस्ट्रक्शन एंड ट्रेडर्स को शासकीय हाई स्कूल भवन अमने में पहुंच मार्ग के लिए 7.04 लाख रूपए एवं शासकीय हायर सेकेण्डरी भवन सल्का नवागांव में पहुंच मार्ग के लिए 3.78 लाख रूपए का कार्यादेश जारी किया गया है।
 


16-Jun-2021 6:25 PM (19)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 16 जून।
कांग्रेस की महिला सांसदों ने महंगाई के मसले पर केन्द्र सरकार को आड़े हाथों लिया। महिला कांग्रेस की अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम, सांसद डॉ. ज्योत्सना महंत, और राज्यसभा सदस्य छाया वर्मा के साथ मीडिया से रूबरू हुई, और केन्द्र सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि घरेलू गैस के दाम में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है, और केन्द्र की उज्जवला योजना फेल हो चुकी है। 

उन्होंने कहा कि भारत में एक साल में खाद्य तेजों की कीमत 50 से 70 फीसदी बढ़ी है। नरेन्द्र मोदी बहुत हुई महंगाई की मार, अबकी बार मोदी सरकार के नारे के साथ सत्ता पर काबिज हुए थे, पर आज देश की हालात ऐसे हो गए हैं कि पूरा देश बस करो मोदी सरकार, रहम करो मोदी सरकार और शर्म करो मोदी सरकार जैसे नारे लगाने पर बाध्य हो गया है। 

कांग्रेस सांसदों ने देश में बढ़ती महंगाई हम महिलाओं की रसोई में घुस आई है। डेढ़ माह पूर्व 10 रूपए प्रति किलो मिलने वाला आलू अभी 20 रूपए में बिक रहा है। मूंग दाल, सफेद मटर 5 से 10 रूपए महंगा हुआ है। प्याज के दाम महज एक सप्ताह के भीतर 20 से 30 रूपए प्रति किलो हो गए हैं। अप्रैल माह के अंत से अभी तक साबून, डिटरजेंट, टूथ पेस्ट, विभिन्न तरह के तेल-क्रीम, ब्रांडेड फिनाइल समेत खाद्य सामग्री की कीमतों में वृद्धि हुई है। चायपत्ती के दाम 180 से 290 रूपए प्रति किलो हो गए हैं।

घर हम गृहणियां चलाती हैं। गरीबों की इस महंगाई की वजह से क्या हो गई है, यह कहना कठिन है जबकि मध्यम वर्ग के परिवार ही इस महंगाई की वजह से हांफ रहे हैं। कोरोना काल में जब उद्योग और कारोबार दोनों ठप्प हैं, रोटी रोटी के लाले पड़े हुए हैं, थाली में खाना कैसे आएगा समझ में नहीं आ रहा है। 

खाद्य तेज, फल, अंडा जैसे खाद्य पदार्थ के दाम बढऩे से खुदरा मुद्रास्फीति मई में बढक़र छह महीने के उच्चतम स्तर 6.3 प्रतिशत पहुंच गई है। 

देश के सबसे बड़े वायदा बाजार मस्टी कमोडिटी एक्सजेंज पर क्रूड पाम तेज का भाव बीते एक साल में 74 फीसदी बढ़ा है। ऑयल कॉप्लेक्स में सबसे सस्ता माना जाने वाला पाम तेज इस समय सोया तेल से भी महंगा हो गया है। 

 


16-Jun-2021 6:24 PM (16)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 16 जून।
खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने  मंत्रालय (महानदी भवन) में खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के काम-काज की समीक्षा की। उन्होंने उचित मूल्य की दुकानों में खाद्यान्न वितरण व्यवस्था दुरूस्त करने के निर्देश दिए। 

उन्होंने प्रदेश के शासकीय उचित मूल्य की दुकानों में खाद्यान्न भण्डारण और वितरण की जिलेवार समीक्षा की। भगत ने चावल, गुड़, शक्कर और चने के वितरण के लिए पर्याप्त मात्रा में भण्डारण सुनिश्चित करने कहा है। शासकीय उचित मूल्य दुकानों का व्यवस्थित संचालन करने, राशन दुकानों में पेयजल व्यवस्था, रंग-रोगन और रेट लिस्ट लगाने के साथ ही पीडीएस का निरंतर निरीक्षण करते रहने के निर्देश अधिकारियों को दिए है।

श्री भगत ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए है कि राज्य में पीडीएस के बारदानों की चावल के लिए अच्छी गुणवत्ता के गठानों का समुचित व्यवस्था करें। बरसात से पहले सभी पहुंच विहीन और दुर्गम क्षेत्रों के लिए पर्याप्त खाद-सामग्री का भंडारण की व्यवस्था करने के निर्देश दिए है।
 


15-Jun-2021 5:14 PM (25)

अधिकारियों -कर्मचारियों ने दो दिन का वेतन दिया मुख्यमंत्री सहायता कोष में

रायपुर,15 जून। कोरोना महामारी की दूसरी लहर में लॉक डाउन के कारण रायपुर विकास प्राधिकरण में किस्तों का भुगतान नहीं कर पाने वाले आवंटितियों को अब 31 जुलाई तक सरचार्ज राशि नहीं देना पड़ेगा। 
प्राधिकरण संचालक मंडल की बैठक में यह निर्णय लिया गया। इसके अनुसार जिन आवंटितियों ने 1 मार्च से 30 जून 2021 तक किस्तों की राशि जमा नहीं की है ऐसे सभी आवंटितियो को 31 जुलाई 2021 तक राशि भुगतान करने पर 15 प्रतिशत का सरचार्ज में छूट दी जाएगी। प्राधिकरण संचालक मंडल की आज हुई बैठक की अध्यक्षता प्राधिकरण के अध्यक्ष सुभाष धुप्पड़ ने की और मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. अय्याज तांबोली ने सदस्य सचिव के रुप में प्रस्ताव प्रस्तुत किए।

कोरोना महामारी के संकट के कारण आम लोगों को राज्य शासन द्वारा दी जाने वाली सहायता के लिए प्राधिकरण के अधिकारियों एवं कर्मचारियों व्दारा अपने वेतन से स्वेच्छा से योगदान देने की इच्छा व्यक्त की थी। फलस्वरुप वेतन से दी जाने वाली राशि सहित प्राधिकरण व्दारा अपनी ओर से मिला कर कुल 10 लाख रुपए की राशि मुख्यमंत्री राहत कोष में दी जाएगी। इस निर्णय को भी संचालक मंडल ने आज अपनी सहमति प्रदान की । संचालक मंडल के सदस्यों ने बैठक में रायपुर विकास प्राधिकरण के अधिकारियों और कर्मचारियों के चिकित्सा देयकों के भुगतान के संबंध में राज्य शासन के निर्देशों व नियमों के अनुसार निर्णय लिया।

इसके अंतर्गत 5 लाख तक के देयकों का भुगतान मुख्य कार्यपालन अधिकारी के स्तर पर तथा 5 लाख से ज्यादा के अधिक राशि का भुगतान संचालक मंडल के अनुमोदन के पश्चात किया जाएगा। साथ ही पूर्व में कर्मचारियों के लंबित 31.31 लाख रुपए के देयकों का भुगतान भी इसी प्रावधान के अनुसार किया जाएगा।  

प्राधिकरण व्दारा अपने कर्मचारियों की सुविधा के लिए पंजाब नैशनल बैंक में ऐसा सैलेरी सेविंग एकॉऊंट खुलवाया है, जिसमें 20 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा, दो माह के वेतन का ओव्हर ड्रॉफ्ट और जीरो बैंलेस की सुविधा बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के मिलेगी। इस सेविंग एकाऊंट में कर्मचारियों की स्थाई अपंगता अथवा निधन होने पर 20 लाख रुपए दुर्घटना बीमा की दिया जाएगा। साथ ही दो माह के वेतन के बराबर अथवा 3 लाख रुपए जो भी कम हो का ओव्हरड्रॉफ्ट तथा जीरो बैंलेस की सुविधा भी बैंक देगा। अधिकारियों और कर्मचारियों को प्राधिकरण अगले माह से इसी बैंक खाते के माध्यम से वेतन का  भुगतान करेगा।

प्राधिकरण संचालक मंडल की बैठक में आज अध्यक्ष श्री सुभाष धुप्पड़, मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. अय्याज तांबोली, अवर सचिव वित्त विभाग श्री सतीश पाण्डेय, उप सचिव आवास एवं पर्यावरण विभाग श्री सी. तिर्की, अपर संचालक नगर तथा ग्राम निवेश विभाग छत्तीसगढ़ श्री संदीप बागड़े, जिला वन संरक्षक रायपुर वृत्त श्री रमण सोमावार, एडीशनल कलेक्टर श्री बी.सी. साहू, अपर आयुक्त नगर पालिक निगम श्री लोकेश साहू, अधीक्षण अभियंता छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी श्री मनोज वर्मा, लोक निर्माण विभाग से सहायक अभियंता सुश्री सीमा दीवान सहित प्राधिकरण के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री नवीन कुमार ठाकुर उपस्थित थे। 


15-Jun-2021 5:13 PM (18)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 15 जून।
लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने राजधानी  के निर्माणाधीन गोगांव अंडर ब्रिज की प्रगति का जायजा लिया। उन्होंने निर्माण कार्य में देरी के लिए संबंधित ठेकेदार के प्रति नाराजगी व्यक्त करते हुए गुणवत्ता के साथ दिसम्बर माह तक कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए। 

श्री साहू ने विभागीय अधिकारियों को साईट निरीक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कार्यपालन अभियंता को प्रतिदिन, अधीक्षण अभियंता को प्रत्येक तीन दिन में और प्रमुख अभियंता को हर 15 दिन में साईट का निरीक्षण कर प्रगति प्रतिवेदन सौंपने के निर्देश दिए। उन्होंने ठेकेदार को चालू जून महीने से दिसम्बर महीने तक हर महीने की जाने वाले कार्यों का विवरण और उसकी पूर्णता की जानकारी विभागीय अधिकारियों को प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। 
श्री साहू ने आगामी दिसम्बर माह तक कार्य पूर्ण नहीं होने की स्थिति में संबंधित ठेकेदार और फर्म को ब्लैक लिस्ट करने के भी निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान प्रमुख अभियंता व्हीके भतपहरी सहित विभागीय अधिकारी और निर्माण एजेंसी के अधिकारी उपस्थित थे।
 


Previous123456789...120121Next