दन्तेवाड़ा

किसानों की आय वृद्धि के लिए एनएमडीसी बनवा रही फलदार पौधों के बगीचे
13-Sep-2021 7:52 PM (64)
किसानों की आय वृद्धि के लिए एनएमडीसी बनवा रही फलदार पौधों के बगीचे

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बचेली, 13 सितंबर। एनएमडीसी बचेली द्वारा छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में सीएसआर के तहत बगीचा निर्माण कार्यक्रम वर्ष 2020 से प्रारंभ किया है जिसका लक्ष्य पांच वर्षों में ढाई लाख पौधे प्रदाय  कर ऐसे किसानों के खेतों में बगीचों का निर्माण कराना है जिनके पास फेंसिंग और पानी की सुविधा उपलब्ध है।

बगीचा निर्माण का उद्देश्य बेनपाल, पाढ़ापुर, पिना बचेली, दुगेली, बडेकमेली, नेरली, भांसी, धुरली, गमावाडा आदि ग्रामों के जनजातीय समुदायों की आय में वृद्धिकर किसानों  के जीवन स्तर में सुधार  लाना है क्योंकि पारंपरिक रूप से यहाँ के किसान केवल धान की खेती करते हैं जो कि बहुत लाभदायक नहीं है उसके पीछे का कारण यह है कि इस क्षेत्र में धान की खेती पूरी तरह से वर्षा पर निर्भर रहती है  जिससे कई बार समय पर वर्षा न होने या कम वर्षा होने  पर फसल खऱाब भी हो जाती है।

 बगीचा निर्माण की प्रक्रिया प्रति  वर्ष नवम्बर से प्रारंभ की जाती है, जिसमें सर्वप्रथम ऐसे किसानों का चयन किया जाता है जिनके पास फेंसिंग व सिंचाई युक्त खेत हैं। तत्पश्चात उक्त किसानों को वैज्ञानिक पद्धति से राज्य शासन  के सहयोग से बगीचा निर्माण हेतु प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रशिक्षण में मृदा तथा जलवायु परिस्थिति, पौधों के बीच रखे जाने वाले फासले, गड्ढे बनाने, इनमें डाले जाने वाली ऑर्गेनिक खाद की गुणवत्ता/मात्रा , पौधों के देख-भाल में  बरती जाने वाली सावधानियाँ आदि के बारे में जानकारी दी जाती है। प्रशिक्षण के उपरांत एनएमडीसी बचेली सीएसआर टीम  यह सुनिश्चित करती है कि जिन किसानों  को प्रशिक्षण दिया गया है उन्होंने प्रशिक्षण के दौरान दी गयी जानकारी के अनुसार ही  अपने खेतों में गड्ढे तैयार कर लिए हैं। जो किसान गड्ढे खोदने में पीछे रह जाते हैं उन्हें फिर से प्रेरित किया जाता है।

उपरोक्त प्रक्रिया के उपरांत सभी किसानों को मांग अनुसार अमरूद, कटहल, आम,नीबू, लीची, मोरेंगा, पपीता, नारियल, काजू आदि के हाइब्रिड पौधे दिए जाते हैं  और यह भी सुनिश्चित किया जाता है कि जिन किसानों को पौधे दिए गए हैं वो समय रहते रोपित कर दिए जाएँ।   किसानों को प्रदाय किये जा रहे उक्त पौधे हाइब्रिड व् अच्छी  प्रजाति के हैं जिसमें से अधिकतम पौधे तीन से चार साल में अच्छी गुणवत्ता के फल देना  प्रारम्भ कर देंगे।

इस पांच वर्षीय योजना के तहत पिछले वर्ष लग-भग पचास हज़ार पौधे रोपित किये गए थे ।  पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी अभी तक लग-भग तीस हज़ार उन्नत किस्म के फलदार  पौधे  एनएमडीसी बचेली एवं जिला प्रशासन, डी.डब्लू. डी के द्वारा चिन्हित कृषकों को प्रदान किये गए हैं । प्रदाय किये गए फलदार पौधों का रोपण कार्य किसानों द्वारा पूर्ण कर लिया गया है। ये  पौधे अगले तीन से चार वर्षों में फल देने लगेंगे जिसे किसान स्थानीय बाजार और बाहर के बाज़ारों में बेच कर लाभ प्राप्त कर सकेंगे । पिछले वर्ष जो पौधे प्रदाय  किये गए थे उनमें से कुछ ने तो फल भी देना प्रारंभ कर दिया है।

 

 

अन्य पोस्ट

Comments