गरियाबंद

नारियों को जगाने का समय है-रूखमणी
22-Oct-2021 9:38 PM (30)
  नारियों को जगाने का समय है-रूखमणी

हरिद्वार से पहुंचीं गायत्री परिवार की बहनें

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजिम, 22 अक्टूबर। अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा गायत्री शक्तिपीठ राजिम में दो दिवसीय नारी सशक्तिकरण कार्यशाला सह प्रशिक्षण का आयोजन किया गया।

शांतिकुंज हरिद्वार से आई गायत्री बोधले, लक्ष्मी साहू, रूखमणी बंछोर, श्रद्धा साहू एवं अतिथि के रूप में चंद्रलेखा गुप्ता जिला समन्वयक महिला प्रकोष्ठ एवं मुख्य प्रबंध ट्रस्टी, टीकम राम साहू जिला समन्वयक, रोमन चंद्राकर जिला संगठन प्रमुख, संतोष साहू जिला सह समन्वयक ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

वेद मंत्रोच्चारण कर देव पूजन पश्चात अतिथियों का स्वागत किया गया। टोली नायक रूखमणी बंछोर ने नारी जागरण कार्यशाला के उद्देश्य एवं रूपरेखा की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आज वर्तमान समय नारियों को जगाने का समय है। नारियों के भीतर असीम शक्ति है उसे जागृत कर, नारियों को संगठित होकर नारियों को आगे आने की आवश्यकता है।

गायत्री परिवार जिला गरियाबंद के जिला समन्वयक टीकमराम साहू ने बताया कि 3 सितंबर 2019 को गरियाबंद जिले में महिला प्रकोष्ठ का गठन किया गया है तथा ब्लॉक स्तर पर पदाधिकारियों का चयन किया जा चुका है। कोरोना काल के कारण से आगे कार्य प्रगति नहीं हो पाया।

संगठन प्रमुख रोमन चंद्राकर ने कार्यकर्ताओं को बताया कि 3 साल में गरियाबंद जिले में 1551 कुंडीय यज्ञ का लक्ष्य रखा गया है। उक्त कार्यशाला में मैनपुर, गरियाबंद, छुरा, राजिम, फिंगेश्वर ब्लॉक के लगभग 185 बहनें उपस्थित हुई। कार्यक्रम का संचालन कविता साहू एवं दुर्गावती सेन ने किया।

कार्यक्रम को सफल बनाने में गायत्री शक्तिपीठ राजिम महिला मंडल की बहने, सभी ट्रस्टीगण, ब्लॉक समन्वयक, युवा प्रकोष्ठ राजिम के भाई बहनों का विशेष योगदान रहा।

अन्य पोस्ट

Comments