छत्तीसगढ़ » राजनांदगांव

03-Aug-2020 8:45 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजनांदगांव, 3 अगस्त। भाई-बहनों के लिए रक्षाबंधन का पर्व परंपरागत रूप से आपसी रिश्तों को मजबूती देने का एक बड़ा पर्व है। सोमवार को रक्षाबंधन पर्व के मौके पर कलाई सजाती बहनों को भाईयों से भरपूर स्नेह और तोहफे मिले। उपहार स्वरूप बहनों को उनकी पसंदीदा वस्तुएं भाईयों ने भेंट की। वहीं बहनों ने भाईयों से ताउम्र साथ निभाने का वादा लिया।

बीजेपी नेत्रियों ने जवानों को बांधी राखी

रक्षाबंधन पर्व में पुलिस महकमे के जवानों को भाजपा महिला नेत्रियों ने राखी बांधकर इस पर्व की महत्ता को जाहिर किया। नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष शोभा सोनी की अगुवाई में कोतवाली थाना परिसर में  थाना प्रभारी समेत दर्जनभर जवानों को महिला नेत्रियों ने राखी बांधी। कोरोना काल में पुलिस जवानों की मुस्तैदी और उनके समर्पण का सम्मान करते हुए महिला नेत्रियों ने पुलिस की सामाजिक भूमिका को अतुलनीय करार दिया। नेता प्रतिपक्ष श्रीमती सोनी का कहना है कि कोरोना काल में पुलिस जवानों ने पूरी निष्ठा के साथ अपने कर्तव्य का पालन किया है। ऐसे में हर साल महिला मोर्चा द्वारा जवानों को राखी बांधकर उनका सम्मान किया जाता है।

भाई-बहन के अटूट रिश्ते का पर्व रक्षाबंधन पर्व पर घरों में परपंरागत रूप से भाईयों की जहां कलाईयां सजी। वहीं बहनों को उनके ख्वाहिश के मुताबिक तोहफे और उपहार मिले। सालभर के इस त्यौहार के लिए बहनों को इंतजार रहता है। वहीं भाई भी बहनों के बीच समय व्यतीत करने के लिए इस पर्व का इंतजार करते हैं। भाई-बहन के प्यार को देखकर जहां घरों के बड़े-बुजुर्गों की आंखे भर आई। वहीं बचपन में बिताए वक्त को भी भाईयों ने बहनों के साथ याद किया। समूचे जिले में आज रक्षाबंधन के मौके पर घरों में खुशियां ही खुशियां नजर आई। भाईयों की कलाई सजाकर जहां बड़ी बहनों ने दुलार किया। वहीं बड़े भाईयों ने अपनी छोटी बहनों को आशीर्वाद स्वरूप साथ देने का वचन दिया।

सोमवार को शहर में रक्षाबंधन त्यौहार पारंपरिक रूप से मनाया गया। भाईयों की कलाई सजाते बहनों की जहां आंखे भर आई। वहीं उनका उत्साह दोगुना रहा। भाई-बहनों के बीच प्रगाढ़ संबंधों को देखकर मां-बाप एवं परिजनों की आंखे भी भर आई। राखी बांधने के बाद भाईयों ने मनचाहा उपहार देकर खुशियों की झड़ी लगा दी। बहनों को रक्षाबंधन पर साड़ी, जेवर के साथ अन्य तोहफे दिए गए। बहनों की मौजूदगी से घरों में दिनभर चहल-पहल रही। बहनों ने भाईयों को राखी बांधकर मुंह मीठा कराया। हालांकि उन घरों में थोड़ी मायूसी दिखी, जहां भाई तय समय पर बहनों के पास नहीं पहुंच सके।

कहीं-कहीं दिखी मायूसी

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते ग्रामीण इलाकों के पंचायतों में लोगों की आवाजाही को लेकर बंदिशें लागू रही। लिहाजा रक्षाबंधन के लिए कई घरों में बहनों की गैरमौजूदगी से भाईयों की कलाईयां सूनी रही। कोरोना काल में यातायात व्यवस्था भी ठप पड़ी हुई है। बसें और ट्रेनों के रोक के चलते लोग इस त्यौहार पर घरों में नहीं पहुंच पाए। बहनों के लिए भाईयों के हाथ में राखी बांधने की ख्वाहिश कोरोना काल के चलते सिमटकर रह गई। भाईयों को भी अपनी बहनों की कमी खली। रक्षाबंधन पर्व एकमात्र ऐसा त्यौहार है, जब भाई-बहन एक-दूसरे के प्रति अपने अटूट प्रेम का भाव प्रदर्शित करते हैं। परिवार के लोगों के लिए भी भाई-बहनों के मुलाकात का सालाना इंतजार रहता है, लेकिन इस साल कोरोना काल ने त्यौहारों की परंपराओं को रौंदकर रख दिया। ऐसे में रक्षाबंधन पर्व पर भी इससे अछूता नहीं रहा।


03-Aug-2020 4:27 PM

जेल में बंद कैदियों की कलाई सूनी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 3 अगस्त।
बहनों से मिलने की ख्वाहिश लिए जेल की चारदीवारों में बंद कैदियों के पाक इरादों पर कोरोना काल ने पानी फेर दिया है। सालभर के इस पर्व में उम्रकैद और दूसरे मामलों में कैद में रहने वाले बंदियों को बहनों से मुलाकात करने का मौका मिलता है। इस साल कोरोना संक्रमण की वजह से राजनांदगांव जेल प्रबंधन ने सालों से चली आ रही इस व्यवस्था को लागू नहीं किया। यही कारण है कि कैदियों के लिए आज का दिन मायूसी भरा रहा। सलाखों में बंद कैदियों की कलाईयां कोरोना के चलते सूनी रही। 

राजनांदगांव जिला जेल में हर साल जेल प्रबंधन द्वारा कैदियों को राखी बांधने के लिए बहनों से पूरे दिन मुलाकात करने का मौका दिया जाता है। पिछले कुछ बरसों से इस व्यवस्था ने एक परंपरागत रूप ले लिया। हर साल अलग-अलग अपराधिक मामलों में जेल में विचाराधीन तथा सजायाफ्ता कैदियों को उनकी बहनों द्वारा राखी बांधी जाती है। बहनों और भाईयों के बीच मजबूत रिश्ता कायम रखने के इरादे से जेल प्रबंधन विशेष व्यवस्था के तहत राखी पर्व के जरिये कैदियों को भावनात्मक रूप से मजबूत करने में कोई कसर नहीं छोड़ता है। इसी बीच सोमवार को राजनांदगांव जिला जेल परिसर में सन्नाटा पसरा रहा। जेल प्रबंधन ने 
कोरोना की बंदिशों के कारण कैदियों को राखी बांधने की व्यवस्था उपलब्ध कराने से इन्कार कर दिया। बाहर से संक्रमण के दाखिल होने की आशंका के कारण कैदियों को इस खास मौके में मिलने वाली खुशी से हाथ धोना पड़ा। 

बताया जाता है कि राजनांदगांव जिला जेल में वर्तमान में 202 कैदी अलग-अलग मामलों में बंद हैं। जिला जेल की क्षमता 156 कैदियों की है। बताया जाता है कि ज्यादातर अपराधिक और अन्य मामलों में कैदी सलाखों के पीछे हैं। नक्सल जिला होने के बावजूद एक भी कैदी नक्सल मामलों में बंद नहीं है।
 
इस संबंध में जिला जेल अधीक्षक एसएल नेताम ने बताया कि कोरोना काल के कारण कैदियों को राखी बांधने की सालाना व्यवस्था नहीं की गई है। इसके लिए पूर्व में सूचना दी गई थी। इस बीच रक्षाबंधन के दिन जहां जेल परिसर खचाखच भरा रहता था, आज वहां पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा। जेल परिसर के मुख्य द्वार में पहले से ही लोगों की आवाजाही सीमित रूप से हो रही है। मुलाकात के लिए भी फिलहाल जेल प्रबंधन ने लोगों को इजाजत नहीं दी है। ऐसे में जेल के भीतर  रहने वाले कैदी आज भाई-बहन के अटूट पर्व में एक-दूसरे को देख भी नहीं पाए। 


03-Aug-2020 2:08 PM

रक्षाबंधन पर भाई-बहन के प्रेम में छलकी आंखे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 3 अगस्त।
भाई-बहनों के लिए रक्षाबंधन का पर्व परंपरागत रूप से आपसी रिश्तों को मजबूती देने का एक बड़ा पर्व है। सोमवार को रक्षाबंधन पर्व के मौके पर कलाई सजाती बहनों को भाईयों से भरपूर स्नेह और तोहफे मिले। उपहार स्वरूप बहनों को उनकी पसंदीदा वस्तुएं भाईयों ने भेंट की। वहीं बहनों ने भाईयों से ताउम्र साथ निभाने का वादा लिया। 

रक्षाबंधन पर्व में पुलिस महकमे के जवानों को भाजपा महिला नेत्रियों ने राखी बांधकर इस पर्व की महत्ता को जाहिर किया। नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष शोभा सोनी की अगुवाई में कोतवाली थाना परिसर में  थाना प्रभारी समेत दर्जनभर जवानों को महिला नेत्रियों ने राखी बांधी। कोरोना काल में पुलिस जवानों की मुस्तैदी और उनके समर्पण का सम्मान करते हुए महिला नेत्रियों ने पुलिस की सामाजिक भूमिका को अतुलनीय करार दिया। नेता प्रतिपक्ष श्रीमती सोनी का कहना है कि कोरोना काल में पुलिस जवानों ने पूरी निष्ठा के साथ अपने कर्तव्य का पालन किया है। ऐसे में हर साल महिला मोर्चा द्वारा जवानों को राखी बांधकर उनका सम्मान किया जाता है। 

भाई-बहन के अटूट रिश्ते का पर्व रक्षाबंधन पर्व पर घरों में परपंरागत रूप से भाईयों की जहां कलाईयां सजी। वहीं बहनों को उनके ख्वाहिश के मुताबिक तोहफे और उपहार मिले। सालभर के इस त्यौहार के लिए बहनों को इंतजार रहता है। वहीं भाई भी बहनों के बीच समय व्यतीत करने के लिए इस पर्व का इंतजार करते हैं। भाई-बहन के प्यार को देखकर जहां घरों के बड़े-बुजुर्गों की आंखे भर आई। वहीं बचपन में बिताए वक्त को भी भाईयों ने बहनों के साथ याद किया। समूचे जिले में आज रक्षाबंधन के मौके पर घरों में खुशियां ही खुशियां नजर आई। भाईयों की कलाई सजाकर जहां बड़ी बहनों ने दुलार किया। वहीं बड़े भाईयों ने अपनी छोटी बहनों को आशीर्वाद स्वरूप साथ देने का वचन दिया।

सोमवार को शहर में रक्षाबंधन त्यौहार पारंपरिक रूप से मनाया गया। भाईयों की कलाई सजाते बहनों की जहां आंखे भर आई। वहीं उनका उत्साह दोगुना रहा। भाई-बहनों के बीच प्रगाढ़ संबंधों को देखकर मां-बाप एवं परिजनों की आंखे भी भर आई। राखी बांधने के बाद भाईयों ने मनचाहा उपहार देकर खुशियों की झड़ी लगा दी। बहनों को रक्षाबंधन पर साड़ी, जेवर के साथ अन्य तोहफे दिए गए। बहनों की मौजूदगी से घरों में दिनभर चहल-पहल रही। बहनों ने भाईयों को राखी बांधकर मुंह मीठा कराया। हालांकि उन घरों में थोड़ी मायूसी दिखी, जहां भाई तय समय पर बहनों के पास नहीं पहुंच सके।

कहीं-कहीं दिखी मायूसी
कोरोना वायरस संक्रमण के चलते ग्रामीण इलाकों के पंचायतों में लोगों की आवाजाही को लेकर बंदिशें लागू रही। लिहाजा रक्षाबंधन के लिए कई घरों में बहनों की गैरमौजूदगी से भाईयों की कलाईयां सूनी रही। कोरोना काल में यातायात व्यवस्था भी ठप पड़ी हुई है। बसें और ट्रेनों के रोक के चलते लोग इस त्यौहार पर घरों में नहीं पहुंच पाए। बहनों के लिए भाईयों के हाथ में राखी बांधने की ख्वाहिश कोरोना काल के चलते सिमटकर रह गई। भाईयों को भी अपनी बहनों की कमी खली। रक्षाबंधन पर्व एकमात्र ऐसा त्यौहार है, जब भाई-बहन एक-दूसरे के प्रति अपने अटूट प्रेम का भाव प्रदर्शित करते हैं। परिवार के लोगों के लिए भी भाई-बहनों के मुलाकात का सालाना इंतजार रहता है, लेकिन इस साल कोरोना काल ने त्यौहारों की परंपराओं को रौंदकर रख दिया। ऐसे में रक्षाबंधन पर्व पर भी इससे अछूता नहीं रहा। 


03-Aug-2020 2:04 PM

पुलिस की तगड़ी मोर्चाबंदी के चलते अंदरूनी इलाकों में ही सिमटे रहे नक्सली

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 3 अगस्त।
जिले में नक्सलियों का शहीद सप्ताह बेअसर रहा। पुलिस की तगड़ी मोर्चाबंदी के चलते अंदरूनी इलाकों में ही नक्सली सिमटे रहे। बीते साल जहां नक्सलियों को शहीद सप्ताह में अपने 7 साथियों की जान पुलिस के साथ मुठभेड़ में गंवानी पड़ी थी। वहीं इस साल भी नक्सलियों को घेरने के लिए राजनांदगांव पुलिस ने समूचे नक्सल इलाकों पर सख्त पहरा बिठाकर रखा। लिहाजा नक्सलियों को शहीद सप्ताह में हिंसक वारदात करने का मौका नहीं मिला। 
28 जुलाई से शुरू हुए शहीद सप्ताह का आज आखिरी दिन था। नक्सली हर साल अपने साथियों की याद में सप्ताहभर तक शोक मनाते हैं। इस दौरान लोगों से कामकाज बंद कर साथियों को याद करने की अपील करते हैं। शहीद सप्ताह के दौरान बसों की आवाजाही पूरी तरह से बंद रहती है। 

राजनांदगांव जिले के मानपुर, मोहला, औंधी के अलावा साल्हेवारा, बकरकट्टा, गातापार क्षेत्र में भी बसों के पहिये थमे रहते हैं। इस साल कोरोना काल के कारण बस सेवाएं बंद पड़ी हुई है। ऐसे में नक्सलियों के बंद का खास असर नजर नहीं आया। हालांकि जिले के उत्तरी इलाके गातापार क्षेत्र में नक्सलियों द्वारा पर्चा फेंकने की अपुष्ट खबर रही। वहीं नक्सलियों की उपस्थिति कमजोर नजर आई। 

शहीद सप्ताह में लगातार जवानों ने गश्त करते हुए नक्सलियों की आमदरफ्त को आगे बढऩे नहीं दिया। शहीद सप्ताह से पहले पुलिस ने औंधी इलाके में मुठभेड़ कर अपना इरादा जाहिर कर दिया था। बताया जा रहा है कि पुलिस ने नक्सलियों को चौतरफा घेरते हुए किसी भी तरह की अप्रिय घटना करने का मौका नहीं दिया। 


03-Aug-2020 1:26 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 3 अगस्त। मध्यप्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री पं. रविशंकर शुक्ल व पूर्व केंद्रीय मंत्री पं. विद्याचरण शुक्ल की जयंती पर शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कुलबीर सिंह छाबड़ा के नेतृत्व में 2 अगस्त को स्थानीय कांग्रेस भवन में संगोष्ठी सभा का आयोजन किया गया। संगोष्ठी सभा का संचालन शहर जिला कांग्रेस कमेटी के सचिव सूर्यकांत जैन ने किया।

संगोष्ठी सभा के पूर्व दोनोंं महान नेताओं के तैलचित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पाजंलि अर्पित कर संगोष्ठी सभा की शुरूआत की। इस दौरान अंत्याव्यवसायी सहकारी वित्त एवं विकास निगम बोर्ड के अध्यक्ष धनेश पाटिला, महापौर हेमा देशमुख, नगर निगम अध्यक्ष हरिनारायण धकेता, प्रदेश महामंत्री थानेश्वर पाटिला, राजगामी संपदा न्यास के अध्यक्ष विवेक वासनिक, रमेश राठौर, फिरोज अंसारी, मामराज अग्रवाल ने संगोष्ठी सभा को संबोधित किया।

इस दौरान धनेश पाटिला ने पं. रविशंकर एवं पं. विद्याचरण शुक्ल के योगदानों को बताया। विवेक वासनिक ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लिए शुक्ल का बड़ा योगदान रहा, जिस देश में एक सुई नहीं बनती थी, वह उद्योग के निर्माण की बात करता था, क्योंकि भारत के पैसों को भारत में बचाना चाहते थे। 

शहर अध्यक्ष कुलबीर सिंह छाबड़ा ने कांग्रेस के महान विभूतियोंं को नमन करते कहा कि कांग्रेस ने देश के आजादी के लिए अनेक कुर्बानियां दी और इतिहास गढ़ा है और भारत देश के विकास में अहम भूमिका निभाई और जनकल्याण के लिए कई काम किए। जिसका हम कांग्रेसीजन आज गौरव महसूस कर रहे हंै।

इस दौरान शशिकांत अवस्थी, रमेश डाकलिया, नरेश शर्मा, प्रमोद बागड़ी, मनीष साहू, मुस्तफा जोया, शुभम कसार, विकास गजभिए व अन्य कांग्रेसी मौजूद थे। संगोष्ठी सभा का आभार प्रदर्शन शहर जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष झम्मन देवांगन ने किया।
 


03-Aug-2020 1:24 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 3 अगस्त। ईद-उल-अजहा के मौके पर प्रदेश के मुस्लिम समुदाय को सौगात देते मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये छत्तीसगढ़ हज हाऊस का शिलान्यास किया है। इस दौरान हज कमेटी के अध्यक्ष असलम खान ने राजनांदगांव शहर जिला कांग्रेस कमेटी के संयुक्त महामंत्री अब्दुल कलाम खान को भी आमंत्रित किया था। 

श्री खान ने हज हाउस की सौगात के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रभारी मंत्री मो. अकबर व हज कमेटी के अध्यक्ष असलम खान का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के बेहतर विकास के लिए मुख्यमंत्री बघेल लगातार प्रदेश की जनता को सौगातें दे रहे हैं। हज हाउस का शिलान्यास भी ऐसे ही सौगातों का उदाहरण है। हज हाउस के निर्माण से मक्का-मदीना हज करने जाने वालों को काफी सुविधा मिलेगी। ईद-उल-अजहा के मौके पर हज हाउस का शिलान्यास समाज के लिए एक बड़ी सौगात है।

नवा रायपुर अटल नगर में हज हाऊस का निर्माण लगभग 26 करोड़ की लागत से तीन एकड़ भूमि में किया जाएगा। पांच मंजिला इस भवन में हज यात्रियों के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध होंगी। छत्तीसगढ़ के हज यात्रियों को पहले नागपुर जाना पड़ता था। हज हाउस के निर्माण के बाद यहीं उनके लिए सारी सुविधाएं उपलब्ध हो जाएगी। इस मौके पर संयुक्त महामंत्री अब्दुल कलाम खान, शहर जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष नासिर जिदरान, कमरु जम्मा, जैनुल्ला खान, पप्पू खान भी शामिल हुए। उक्त जानकारी संयुक्त महामंत्री अब्दुल कलाम खान ने दी। 
 


03-Aug-2020 1:22 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 3 अगस्त। भाजपा नेता अशोक चौधरी ने प्रभारी मंत्री मो. अकबर द्वारा कवर्धा में अपने स्वेच्छा निधि से ऑटो चालक एवं फुटकर व्यापारी को लाखों रुपए वितरण करने के मामले को लेकर साधुवाद दिया। 

श्री चौधरी ने जारी विज्ञप्ति में कहा कि मो. अकबर को याद रखना चाहिए कि वे राजनांदगांव के भी प्रभारी मंत्री हैं और राजनांदगांव के गरीबों के साथ यह भेदभाव क्यों किया जा रहा है? जब से कांग्रेस की सरकार बनी है, राजनांदगांव के साथ यह भेदभाव निरंतर किया जा रहा है। चाहे वह दिग्विजय स्टेडियम हो, चाहे सुरगी के किसानों को सिंचाई के लिए डॉ. रमन सिंह द्वारा प्रदत्त  पांच करोड़ रुपए की स्वीकृति को निरस्त करने का हो, ऐसे कई उदाहरण हैं और अब गरीबों के साथ यह भेदभाव प्रमाणित करता है कि आप अपने लिए गए संविधान की शपथ भूल गए हैं।
 


03-Aug-2020 12:48 PM

जल-दूध चढ़ाने शिवालयों में भक्तों का तांता

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 3 अगस्त।
सावन के आखिरी सोमवार को शिवालयों व मंदिरों में जलाभिषेक और दुग्धाभिषेक करने भक्तों का तांता लगा रहा। सुबह से ही मंदिरों में घंटियों और बोल-बम की गंूज सुनाई देती रही। वहीं भक्तगण मोहारा स्थित शिवनाथ नदी से जल लेकर शिवालयों में जल अर्पित की। सुबह से ही भक्तगण मंदिरों में पहुंचकर शिवलिंग में जलाभिषेक व दुग्धाभिषेक कर अन्य पूजन सामग्रियां अर्पित की। 

सावन के अंतिम सोमवार होने की वजह से युवतियों, महिलाओं एवं युवाओं में भी भगवान शिवशंकर की पूजा-अर्चना करने भीड़ मंदिरों में उमड़ती रही। इसके अलावा भक्तों ने बेलपत्र, धतुरा, फूल समेत अन्य पूजन सामग्री अर्पित कर अपनी मनोकामना के लिए प्रार्थना की। वहीं नदी से भक्त कांवर में जल लेकर मंदिरों में भगवान भोलेनाथ की शिवलिंग पर जलाभिषेक किया और अपने परिजनों की मंगल कामना के लिए प्रार्थना की। सुबह से ही मंदिरों में भगवान भोलेनाथ की जयकारे के साथ मंदिरों में घंटियां सुनाई दी।

बताया जाता है कि पूरे सोमवार को व्यापारिक, धार्मिक एवं अन्य कार्यों के लिए शुभ माना जा रहा है। धार्मिक मान्यता के अनुसार भक्तगण सोमवार को व्रत रखने के अलावा भगवान शिव की प्रासंगिकता को व्यवहारिक जीवन में उतारने का संकल्प लेते हैं। सावन माह में भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए युवतियों की खास रूचि होती है। युवकों की तुलना में युवतियां पूरे माह कठिन उपवास रखकर मनवांछित कामना करती है। यही कारण है कि शिवालयों में सभी वर्ग में युवतियों की तादाद अधिक होती है। इधर अंतिम सोमवार को सुबह से ही मंदिरों में जलाभिषेक करने के साथ ही भक्तों ने दूध से भी शिवलिंगों को स्नान कराया। इसके अलावा धतुरा, बेलपत्री समेत अन्य पूजा सामग्री को भी भक्तों ने भगवान शिव को अर्पित किया। शहर के मोहारा स्थित शिव मंदिर, पाताल भैरवी मंदिर, शीतला मंदिर समेत अन्य मंदिरों व देवालयों में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा।

मंदिरों के बाहर लगी रही दुकानें
सावन मास के अंतिम सोमवार को मंदिरों और शिवालयों के बाहर पूजन सामग्रियों की दुकानें सजी हुई थी। भक्तगण उक्त दुकानों से फूल, धतुरा, बेलपत्र, नारियल, अगरबत्ती समेत अन्य सामग्रियों की खरीदी करने पहुंचती रही। सुबह से ही भक्तों की भीड़ मंदिरों में पूजा-अर्चना के लिए उमड़ती रही।


02-Aug-2020 8:49 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

राजनांदगांव, 2 अगस्त। हलषष्ठी (कमरछठ) पर्व पर आगामी दिनों माताएं अपनी संतानों की लंबी आयु के लिए व्रत रखेंगी। शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में माताओं द्वारा कठिन उपवास रखकर पूजा-अर्चना की जाएगी। कोरोना काल में जहां सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने की बंदिशों के बीच माताएं अपनी संतानों के लिए कठिन व्रत रखकर मंगल कामना के लिए पूजा-अर्चना करेंगी। इधर हलषष्ठी पर्व के लिए व्रत रखने वाली माताओं द्वारा पूजन स्थल को लेकर भी तैयारियां शुरू कर दी है। वहीं पर्व को लेकर पूजन सामग्रियां का बाजार भी सज चुका है, जहां पसहर चावल के दाम भी आसमान पर है।

हलषष्ठी (कमरछठ) पर्व में व्रत रखने वाली महिलाओं द्वारा सेवन करने वाले बिना हल के जुते अनाज पसहर चावल बिक्री के लिए बाजार में पहुंच चुकी है। बाजार में इसकी कीमत अलग-अलग गिलास के हिसाब से अलग-अलग कीमत रखी गई है। वहीं दुकानों में उक्त चावल की कीमत 80 से 90 रुपए किलो तक बिक रही है। हलषष्ठी पर्व के लिए पूजन सामग्री बाजार में पहुंच चुकी है। इस पर्व में माताएं कठिन व्रत रखकर संतानों की लंबी आयु की कामना करेंगी। इस पर्व के लिए महिलाओं में उत्साह का माहौल दिखाई दे रहा है।

हलषष्ठी पर्व पर माताएं पूजा करने के स्थान पर सगरी खोदकर भगवान शंकर एवं गौरी, गणेश को पसहर चावल, भैंस का दूध, दही, घी, बेल पत्ती, कांशी, खमार, बांटी, भौरा सहित अन्य सामग्रियां अर्पित करेंगी। पूजन पश्चात माताएं घर पर बिना हल के जुते अनाज पसहर चावल, छह प्रकार की भाजी को पकाकर प्रसाद के रूप में वितरण कर अपना उपवास तोड़ेंगी।

लॉकडाउन: छूट पर बाजारों में उमड़ी भीड़

शहर में बढ़ते कोरोना के मामले में जिला प्रशासन ने गत 24 से 29 जुलाई तक पूर्ण लॉकडाउन लागू किया था। वहीं 30 जुलाई से 6 अगस्त तक लॉकडाउन में छूट दिए जाने से बाजार में खरीदी के लिए लोग सुबह 7 से दोपहर 12 बजे तक खरीदी करने पहुंच रहे हैं। ऐसे में आगामी दिनों हलषष्टी पर्व होने की वजह से माताएं पूजन सामग्रियों की खरीदी करने भी पहुंच रही हैं, जिसके चलते बाजार में पसहर चावल की मांग भी बनी हुई है।


02-Aug-2020 8:46 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

राजनांदगांव, 2 अगस्त। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते प्रदेशभर में स्कूल बंद है और बच्चे घर पर रहकर भी पढ़ाई कर रहे हैं। बच्चों तक घर बैठे सुचारू रूप से शिक्षा प्रदान करने के लिए छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग की महत्वाकांक्षी योजना पढ़ई तुंहर दुआार योजना संचालित है। जिसमें शिक्षक सीजी स्कूल डॉट इन पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं तथा बच्चे मोबाइल से जुड़कर पढ़ाई कर रहे हैं, लेकिन बहुत से पालकों के पास एंड्रॉयड मोबाइल नहीं होने के कारण ऐसे बच्चे जुड़ नहीं पाते थे।

इस स्थिति को देखते ऑफलाइन पढ़ाई शुरू करने के लिए मोहल्ला क्लास लाउडस्पीकर स्कूल की शुरुआत की गई, जहां शिक्षा सारथी के माध्यम से बच्चों की पढ़ाई चल रही है।

शिक्षक राजकुमार यादव ने बताया कि इसके तहत सोमाटोला में प्राथमिक शाला के बच्चों हेतु 3 केंद्र बनाया गया है। महेश कुमार, अफरोज खान, मनीषा और सेवंत कुमार बच्चों को नियमित रूप से सेवा दे रहे हैं। शिक्षक राजकुमार यादव जनसहयोग से लाउडस्पीकर की व्यवस्था की गई है।

सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी ने कहा कि मोहल्ला और लाउडस्पीकर स्कूल समय की मांग है तथा बच्चों की शिक्षा के लिए एक क्रांतिकारी कदम है।

बीईओ अंबादे ने समुदाय के साथ मिलकर काम करने की बात कही। लाउडस्पीकर स्कूल के उद्घाटन में विकासखंड शिक्षा अधिकारी, सहायक विकास खंड शिक्षा अधिकारी राजेंद्र देवांगन, विकासखंड स्रोत समन्वयक सीएसी मार्टिन मसीह, सरपंच लता नेताम, भूतपूर्व सरपंच दुरुग सिंह नेताम, मनीराम यादव, करीम बख्श, संतोष भारद्वाज, वली मोहम्मद, रामाराम भुआर्य, ढाल सिंह तथा ग्रामीणजन उपस्थित थे। मोहल्ला क्लास लाउडस्पीकर क्लास के प्रारंभ होने पर जिला शिक्षा अधिकारी हेतराम सोम, डीएमसी भूपेश साहू और एपीसी सतीश ब्यौहारे ने प्रसन्नता व्यक्त किया है।


02-Aug-2020 8:16 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 2 अगस्त।
कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने विश्व स्तनपान सप्ताह के अवसर पर शनिवार को स्तनपान सप्ताह पोस्टर का विमोचन किया। कलेक्टर श्री वर्मा ने यह अपील की है कि शिशु को शुरूआती 6 महीने सिर्फ  मां का दूध पर्याप्त है। जिससे उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और उनका स्वास्थ्य एवं पोषण अच्छा रहता है। उन्होंने शिशुवती माताओं से आग्रह किया है कि अपने शिशु के अच्छे स्वास्थ्य के लिए उनको स्तनपान अवश्य कराएं। उन्होंने कहा कि इसे सघन अभियान के रूप में चलाएं।

इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास रेणु प्रकाश एवं महिला बाल विकास की टीम उपस्थित थी। जागरूकता के लिए प्रकाशित यह पोस्टर घर-घर जाकर शिशुवती माताओं को वितरित किया जाएगा।

स्तनपान के संबंध में दी जानकारी
विश्व स्तनपान सप्ताह के अवसर पर ग्राम पंचायत खुज्जी के आंगनबाड़ी क्षेत्र राजीव नगर में पर्यवेक्षक सेक्टर डोंगरगांव एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा संयुक्त गृहभेंट किया गया। जिसमें 5 माह के बालक ओजल की माता अंजनी एवं पिता तिलेश्वर देवांगन से भेंट करके स्तनपान संबंधित टेकअवे एवं वीडियो प्रदर्शन के माध्यम से परामर्श दिया गया। परामर्श के दौरान ओजल के दादा-दादी भी उपस्थित थे। शिशु को 6 माह तक केवल स्तनपान कराने बताया गया एवं छह माह पूर्ण होने पर स्तनपान के साथ ऊपरी आहार की शुरूआत कैसे की जाए, उसकी जानकारी भी दी गई। हितग्राही के घर रेडी टू ईट के पैकेट का निरीक्षण किया गया, जो डबल लेयर पॉलिथिन पैकिंग पाया गया। हितग्राही ने बताया कि वे  रेडी टू ईट का उपयोग रोटी एवं चीला बनाकर करते हैं।
 


02-Aug-2020 8:15 PM

संगोष्ठी सभा आयोजित कर दी श्रद्धांजलि

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 2 अगस्त।
शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कुलबीर सिंह छाबड़ा के नेतृत्व में एक अगस्त को स्थानीय कांग्रेस भवन में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की पुण्यतिथि पर संगोष्ठी सभा आयोजित कर पुष्पाजंलि अर्पित की गई। संगोष्ठी सभा का संचालन शहर जिला कांग्रेस कमेटी के सचिव सूर्यकांत जैन ने किया।

संगोष्ठी सभा में बाल गंगाधर तिलक की तैल्यचित्र पर माल्यापर्ण कर संगोष्ठी सभा की शुरूआत हुई। संगोष्ठी सभा में महापौर हेमा देशमुख, निगम अध्यक्ष हरिनारायण धकेता, राजगामी संपदा न्याय अध्यक्ष विवेक वासनिक,  मामराज अग्रवाल, झम्मन देवांगन, प्रमोद बागड़ी, पार्षद महेश साहू, मनीष साहू, राजा गुप्ता, विनोद गुप्ता, मनीष गौतम, विकास गजभिए, अवधेश प्रजापति समेत अन्य ने संबोधित किया।

राजगामी संपदा न्यास के अध्यक्ष श्री वासनिक ने कहा कि बाल गंगाधर ऐसे राष्ट्र भक्त नेता थे, जिन्होंने एक नारा दिया था स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं उसको लेकर रहूंगा। शहर अध्यक्ष श्री छाबड़ा ने बाल गंगाधर तिलक को श्रद्धांसुमन अर्पित करते कहा आज हम जो खुले वातावरण आजादी की सांस ले रहे है वह इन महापुुरूषों के सिद्धांत व बलिदान के कारण ही है। संगोष्ठी सभा के बाद शहर अध्यक्ष श्री छाबड़ा के नेतृत्व में भरकापारा स्थित स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बाल गंगाधर तिलक की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की। संगोष्ठी सभा का आभार प्रदर्शन शहर जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष झम्मन देवांगन ने किया। उक्त जानकारी सूर्यकांत जैन ने दी।


02-Aug-2020 8:13 PM

बेहतर ड्यूटी करने दिए निर्देश

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 2 अगस्त।
पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला ने एक अगस्त को लालबाग थाना का निरीक्षण कर जवानों से उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली। एसपी श्री शुक्ला ने उपस्थित जवानों को बेहतर ड्यूटी किए जाने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। 

एसपी श्री शुक्ला ने शस्त्रागार, लॉकअप, थाने का रजिस्टर, दस्तावेज, कैशबुक एवं अन्य सामग्रियों की जांच की। साथ ही अपराधों की गहन समीक्षा की। उन्होंने लंबित पुराने मामले में महत्वपूर्ण निर्देश दिए। इसके अलावा उन्होंने गुम इंसान, लंबित शिकायतों का जल्द निपटारा किए जाने निर्देशित किया। इसके बाद एसपी श्री शुक्ला ने लालबाग थाना परिसर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जीएन बघेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुरेशा चौबे, नगर पुलिस अधीक्षक मणिशंकर चंद्रा एवं थाना प्रभारी व स्टॉफ के साथ वृक्षारोपण किया।
 


02-Aug-2020 8:10 PM

छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 2 अगस्त।
सांसद सरोज पांडेय द्वारा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर शराबबंदी कातोहफा मांगना राजनीति नहीं, बल्कि गंगाजल हाथ में लेकर बहनों से शराबबंदी करने के वायदे को निभाने की मांग भी थी। जिसका कांग्रेस ने राजनीतिकरण कर दिया। जिनके वे आदी हैं और कांग्रेस की संस्कृति का हिस्सा भी है। 

राखी के माध्यम से सरकार को उनकी जिम्मेदारियों का अहसास करने पर पत्र लिखने और उस पत्र पर महापौर हेमा देशमुख द्वारा आरोप-प्रत्यारोप लगाने की आलोचना करते पूर्व महापौर शोभा सोनी ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा स्थापित संस्थाएं ही आज छत्तीसगढ़ में कोरोना के उपचार के लिए सबसे बेहतर संस्थान साबित हुई है। 

पूर्व महापौर श्रीमती सोनी ने कहा कि सुषमा स्वराज की दूरदर्शी सोच ने एम्स जैसी संस्थाओं का पूरे भारत में जाल फैलाया। जिसने आज कोरोना के इलाज के लिए सबसे विश्वसनीय संस्थान के रूप में अपना काम किया है। इसी तरह राजनांदगांव में डॉ. रमन सिंह के प्रयासों से स्थापित की गई मेडिकल कॉलेज की बहु उपयोगिता जग जाहिर हो गई है। जबकि राज्य सरकार ने कोरोना से लडऩे के लिए क्या साधन छत्तीसगढ़ की जनता को उपलब्ध कराए है वही बता दें।

श्रीमती सोनी ने कहा कि चूंकि गंगाजल हाथ में लेकर कांग्रेस की सरकार के मुखिया ने कसम खाई थी कि शराबबंदी करेंगे, उनके किए वायदों के कारण ही सरोज पांडेय उन्हें पत्र लिखकर उनके कर्तव्यों के लिए स्मरण कराया था और शराबबंदी के लिए राखी त्योहार का पवित्र अवसर ही सबसे अच्छा समय था, क्योंकि शराब से सबसे ज्यादा प्रभावित महिलाएं ही होती हंै और इसलिए सरोज पांडेय ने महिलाओं के सम्मान के लिए पत्र लिखा था। जिस पर भी राजनीति करते भूपेश बघेल ने आश्वासन का झुनझुना दिखाकर छत्तीसगढ़ की करोड़ों महिलाओं के विश्वास को यह कह कर तोड़ दिया कि वे शराबबंदी करेंगे। आज जब सरकार को 2 साल होने को हो रहे है और शराबबंदी करने का दूर-दूर तक कोई भी नामोनिशान नहीं दिख रहा है ।

तो उनको याद दिलाना एक जिम्मेदार नागरिक और महिला का कर्तव्य है, जिसे सरोज पांडेय ने निभाया भी, किन्तु एक महिला होकर महापौर दूसरी महिला पर आरोप लगाकर साबित कर दिया कि महापौर केवल राजनीति ही कर सकती है। 
 


02-Aug-2020 2:18 PM

पेट्रोलिंग हेडकांस्टेबल की इलाज के दौरान

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 2 अगस्त।
राजनांदगांव पुलिस महकमे के एक प्रधान आरक्षक की वैश्विक महामारी  कोरोना के चलते उपचार के दौरान रायपुर में मौत  हो गई। राजनांदगांव पुलिस विभाग के किसी सिपाही की मौत का यह पहला मामला है। पिछले कुछ दिनों से  पैरामिलिट्री फोर्स आईटीबीपी और पुलिस जवानों के कोरोना से संक्रमित होने के मामले बढ़े हैं। 

बताया गया है कि पेट्रोलिंग दस्ते के हेडकांस्टेबल पूरन जगनीत   की तबियत खराब होने से परिजनों ने रायपुर स्थित रामकृष्ण केयर अस्पताल में दाखिल किया था। स्वास्थ्य जांच में वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए। हालांकि वह कुछ और रोगों से ग्रस्त थे। माना जा रहा है कि दीगर बीमारियों की वजह से वह कोरोना का मार सह नहीं पाए और उनकी मृत्यु हो गई।
 
इस संबंध में एसपी जितेन्द्र शुक्ला ने ‘छत्तीसगढ़’ को बताया कि हेडकांस्टेबल दूसरी बीमारियों से ग्रसित होने के साथ-साथ कोरोना पॉजिटिव पाए गए। जिससे उसकी मृत्यु हुई है। बताया जा रहा है कि 1992 में पुलिस महकमे में बतौर आरक्षक भर्ती हुए मृतक पूरन जगनीत राजनांदगांव से सटे जंगलपुर के रहने वाले हैं। 50 वर्षीय हेडकांस्टेबल के कोरोना से हुई मौत से महकमे में खलबली मच गई है। उनका 22 जुलाई से अस्वस्थ होने पर उपचार चल रहा था। बीते 29 जुलाई को परिजनों ने उन्हें बेहतर उपचार के लिए रायपुर में भर्ती कराया था। 


02-Aug-2020 2:16 PM

तेन्दूपत्ता समिति का मामला

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 2 अगस्त।
गोटाटोला तेन्दूपत्ता समिति में लाखों रुपए के गबन के मामले में पुलिस ने प्रबंधक, अध्यक्ष समेत चौकीदार से कड़ी पूछताछ शुरू कर दी है। मोहला पुलिस ने मामले में तीनों को आरोपी बनाया है। 22 लाख रुपए की हेराफेरी करने के आरोप में पुलिस ने प्रबंधक रम्हूराम, अध्यक्ष सोनउराम और चौकीदार मिलिंद गजभिये को हिरासत में लिया है।
 
बताया जाता है कि प्रबंधक और अध्यक्ष से मोहला पुलिस पूछताछ कर रही है। वहीं मिलिंद गजभिये से चिखली चौकी पुलिस सवाल-जवाब कर रही है। बताया जा रहा है कि पूरे मामले में तीनों को  पुलिस ने आरोपी बनाया है। लंबे समय से तीनों आरोपी तेन्दूपत्ता से मिले राजस्व की राशि का निजी तौर पर इस्तेमाल कर रहे थे। आरोपियों ने बकायदा अपने चिर-परिचितों के खाते में भी रकम जमा कराया था।  बाद में उसे आहरित कर खर्च कर दिया गया। सूत्रों के मुताबिक आरोपियों द्वारा कुछ और समितियों में भी कथित हेराफेरी किए जाने की जानकारी मिली है। 

बताया जा रहा है कि मोहला और चिखली पुलिस ने संयुक्त रूप से आरोपियों को हिरासत में लेकर घोटाले से जुड़े तथ्यों की अहम जानकारी जुटाई है। गबन की राशि को निजी व्यवसाय में भी आरोपियों द्वारा निवेश किया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक पूरे मामले की गहन जांच में कुछ और गबन होने का खुलासा हो सकता है। 

मोहला थाना प्रभारी वीरेन्द्र सिंह ने ‘छत्तीसगढ़’ को बताया कि हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जल्द ही ठोस कार्रवाई की जाएगी। बहरहाल 22 लाख रुपए के गबन का खुलासा होने के बाद वन महकमे में खलबली मची हुई है।


02-Aug-2020 12:48 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 2 अगस्त।
राजनांदगांव गृह निर्माण मंडल में हाल ही हुई प्रशासनिक नियुक्ति को लेकर विवाद गहरा गया है। बताया जाता है कि मौजूदा कार्यपालन अभियंता सीएस बेलचंदन की जगह पदस्थ हुई नीतू गणवीर की नियुक्ति में कई खामियां सामने आ रही है। 2015 से बतौर ईई पदस्थ बेलचंदन भारतीय इंजीनियरिंग सर्विस सेवा से छत्तीसगढ़ में प्रतिनियुक्ति पर है। 2012 में भारत सरकार ने राज्य सरकार को सेवाएं देने प्रतिनियुक्ति देने के लिए रिलीव कर दिया था। 

2002 बैच के आईईएस अफसर बेलचंदन को पिछले माह नांदगांव सर्किल गृह निर्माण मंडल के ईई पद से हटाते हुए सरकार ने संपदा अधिकारी के तौर पर पदस्थ किया। बताया जाता है कि उनकी पदस्थापना  में कई तकनीकी खामियां है। बेलचंदन की नई नियुक्ति उनके पद के समकक्ष नही हैं। उन्हें पद से हटाए जाने के लिए सरकार ने हाईकोर्ट के निर्देशों को भी दरकिनार किया है। बेलचंदन पिछली सरकार द्वारा प्रतिनियुक्ति समाप्त किए जाने के निर्णय को लेकर हाईकोर्ट में स्टे लेकर कानूनी लड़ाई लड़ रहे है। इस संबंध में गृह निर्माण मंडल के कमिश्नर अय्याज तंबोली ने ‘छत्तीसगढ़’ से कहा कि हाईकोर्ट के निर्देशों के तहत ही उनकी पदस्थापना हुई है। यदि उन्हें लगता है कि नियुक्ति में त्रुटि है तो वह हाईकोर्ट में अपील कर सकते है।
 
बताया जाता है कि हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को सेवाएं वापस लौटने के राज्य शासन के फैसले के विरूद्ध स्टे में साफ कहा है कि ईई को यथावत नांदगांव में उसी पद पर ही पदस्थ किया जाए। साथ ही हाईकोर्ट के निर्णय तक बेलचंदन  राज्य में ही अपने सेवाएं देगें। बताया जाता है कि ईई बेलचंदन ने हाऊसिंग बोर्ड में पदस्थ होने के बाद विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार और कर्मचारियों पर नकेल कसा। जिसके बाद विभाग में कुछ प्रमुख अधिकारियों के शह पर गुटबाजी बढ़ गई।

बताया जाता है कि बेलचंदन ने कई वित्तीय अनियमिताओं पर रोक लगाकर जांच बिठा दी थी। हाल ही दुर्ग के एक व्यक्ति ने 30 लाख रूपए की निर्माण कार्य के एवज में अतिरिक्त राशि आहरित किए जाने के मामले में हाऊसिंग बोर्ड को शिकायत की थी। इस कथित घपले की जांच बेलचंदन कर रह थे। माना जा रहा है कि घोटाले में लिप्त कुछ अफसरों ने मिलकर बेलचंदन को हटाने में अहम भूमिका अदा की। इधर 21 जुलाई को ईई गणवीर ने पदभार ग्रहण कर लिया है। बताया जाता है कि बेलचंदन ने प्रभार नही सौंपा है। नई पदस्थापना के बाद से दोनों ईई के बीच टकराव की स्थिति बन गई है।


01-Aug-2020 8:46 PM

सावन के आखिरी सोमवार को सजेगी भाईयों की कलाई

छत्तीसगढ़ संवाददाता

राजनांदगांव, 1 अगस्त। भाई-बहन के अटूट रिश्ते का पर्व रक्षाबंधन के लिए कोरोना वायरस संक्रमण और लॉकडाउन की बंदिशों की परवाह किए बगैर जमकर लोग खरीददारी कर रहे हैं। सोमवार को सावन के आखिरी दिन में भाईयों की कलाईयों में रंग-बिरंगी राखियों को सजाने के लिए बहनें बाजार में खरीददारी कर रही हैं।

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के चलते शहर में आगामी 6 अगस्त तक लॉकडाउन लागू है। लॉकडाउन के बीच शहर में दोपहर 12 बजे तक छूट मिलने और त्यौहारों का क्रम शुरू होने के चलते लोग खरीददारी करने बाजार में पहुंचने लगे हैं। इससे व्यापारिक मार्गों में लोगों के सैकड़ों की तादाद में पहुंचने से सडक़ों में लोगों की भीड़ नजर आ रही है। ऐसे में सडक़ों में जाम के हालात भी नजर आ रहे हैं। जिससे सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ती नजर आ रही है। सोमवार को राखी पर्व होने के चलते महिलाएं और युवतियां भाईयों की कलाई सजाने के लिए राखी दुकानों में पहुंचकर राखियों की जमकर खरीदी कर रही हैं। भाईयों के अन्य शहरों में रहने से बहनों द्वारा राखियां पोस्ट भी कर दी गई है।

जिलेभर में कोरोना के मरीज बढऩे के साथ ही जिला प्रशासन ने शहर में  24 से 29 जुलाई तक पूर्ण लॉकडाउन लागू किया था। वहीं वहीं प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने लोगों से घरों में रहने तथा घरों से बाहर निकलने के दौरान मास्क तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील भी की थी। इधर 30 जुलाई से 6 अगस्त तक लॉकडाउन के बीच सुबह 6 से दोपहर 12 बजे तक छूट दी गई है। जिससे लोग किराना, राखियां समेत अन्य आवश्यक सामानों की खरीदी करने बाजार पहुंचने लगे हैं। रक्षाबंधन को पारंपरिक रूप से मनाने के लिए घरों में तैयारी भी चल रही है।

सावन के अंतिम सोमवार को राखी त्यौहार होने के चलते महिलाएं एवं युवतियां तैयारियों में जुटी हुई है। सावन में व्रत धारण करने वाली महिलाएं सुबह से ही मंदिरों में पूजा-अर्चना कर परिवार की मंगल कामना करेंगी। इधर कांवरिये भी सुबह शिवनाथ नदी से जल लेकर भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक कर अपनी मनोकामना के लिए पूजा-अर्चना करेंगे।

 

 


01-Aug-2020 4:25 PM

कलेक्टर ने स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मानित

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 1 अगस्त। जिला प्रशासन के तीन अधिकारियों के सेवानिवृत्त होने पर शुक्रवार को कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। साथ ही अन्य अधिकारियों ने भी सेवानिवृत्त अधिकारियों को शुभकामनाएं दी।

अपर कलेक्टर ओंकार यदु, खनिज अधिकारी हेमंत नायडू एवं महेंद्रनाथ पाढ़ी सहायक खाद्य अधिकारी को शुक्रवार को सेवानिवृत होने पर कलेक्टोरेट सभाकक्ष में भावभीनी विदाई दी गई। इस अवसर पर कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने उन्हें स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। कलेक्टर श्री वर्मा ने अपर कलेक्टर श्री यदु, खनिज अधिकारी श्री नायडू एवं सहायक खाद्य अधिकारी श्री पाढ़ी के सुखद एवं स्वस्थ जीवन की कामना की। इस मौके पर अपर कलेक्टर हरिकृष्ण शर्मा, अपर कलेक्टर सीएल मार्कण्डेय, जिला पंचायत सीईओ तनुजा सलाम, एसडीएम मुकेश रावटे, जिला ई-प्रबंधक सौरभ मिश्रा एवं राजस्व, खनिज व खाद्य विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।


01-Aug-2020 4:23 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 1 अगस्त। छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी सहकारी वित्त एवं विकास निगम के नवनियुक्त अध्यक्ष धनेश पटिला एवं उपाध्यक्ष नीता लोधी ने रायपुर राजधानी में पदभार ग्रहण किया।

शिक्षामंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम के रायपुर निवास स्थित कार्यालय में सादगीपूर्ण एवं गरिमामय कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ शासन के वरिष्ठ मंत्रीगण रविन्द्र चाौबे, मोहम्मद अकबर, शिव कुमार डहरिया, पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा, विधायक डॉ. प्रीतम राम, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्रीगण चंद्रशेखर शुक्ला, पंकज शर्मा, डॉ. थानेश्वर पटिला, जिला कांग्रेस ग्रामीण राजनांदगांव अध्यक्ष पदम कोठारी, राजनांदगांव महापौर  हेमा देशमुख, कांग्रेसी नेता सुदेश देशमुख, विभाग के अधिकारी एवं गणमान्यजन की उपस्थिति में पदभार ग्रहण की प्रक्रिया विभागीय अधिकारियों द्वारा पूर्ण करवाई गई।

इस अवसर पर सभा में उपस्थित मंत्रीगणों ने नवनियुक्त अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष को बधाई देते कहा कि धनेश पटिला पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता रहे हैं और आपके अनुभव एवं दूरदर्शिता का लाभ अंत्यावसायी सहकारी वित्त एवं विकास निगम को अवश्य मिलेगा। इसके अलावा कंग्रेस नेत्री नीता लोधी को भी उपाध्यक्ष पद पर रहते आपसे बहुत कुछ सीखने का सुअवसर प्राप्त होगा। अंत्यावसायी निगम के अध्यक्ष धनेश पटिला ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं सभा में उपस्थित सभी शीर्ष नेताओं कांग्रेस के सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को स्मरण कर आभार प्रदर्शित करते अपने दायित्व का भली-भांति निर्वहन करते आपने प्रदेश के विकास के लिए एवं अपनी जनता के हित में बेहतर कार्य करने की प्रतिबद्धता प्रकट की।