राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : भाजपा की यही जीत कि...
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : भाजपा की यही जीत कि...
Date : 07-Jan-2020

भाजपा की यही जीत कि...
रायपुर म्युनिसिपल के मेयर चुनाव में भाजपा को जीत की उम्मीद तो थी नहीं, पार्टी का कोई भी पार्षद नहीं छिटका, यही बड़ी उपलब्धि रही। चूंकि निर्दलियों को अपने पक्ष में करने की कवायद इतनी देर से हुई कि कोई भी निर्दलीय पार्षद भाजपा के साथ नहीं जुड़ सका। पार्टी के रणनीतिकारों के पास इस बात की पुख्ता जानकारी थी कि भाजपा के 4 से 5 पार्षद क्रॉस वोटिंग कर सकते हैं। चर्चा यह भी रही कि इन पार्षदों को एडवांस भी दिया जा चुका है। बाद में खुद बृजमोहन अग्रवाल ने कमान संभाली और सभी पार्षदों को एकजुट रखने में कामयाब रहे।

सुनते हैं कि भाजपा पार्षदों के पिकनिक से लौटने के बाद चुनाव के दिन सुबह परम्परा गार्डन में ठहराया गया था। बृजमोहन अग्रवाल और राजेश मूणत पार्षदों को मतदान के तौर तरीके सिखाते रहे। पार्षदों को यह भी संकेत दिया गया कि किसी ने कांग्रेस को वोट देने के लिए प्रॉमिस कर दिया है, तो भी उन्हें डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह पता लगाना संभव नहीं है कि किस पार्षद ने किसको वोट दिए हैं। 

खास बात यह है कि निर्दलीय पार्षद अमर बंसल भी वहां पहुंच गए उन्होंने भाजपा पार्षदों के साथ चाय-नाश्ता किया और भरोसा दिलाकर गए कि वे भाजपा को ही वोट करेंगे। बंसल को मिलाकर 30 वोट मिलने की उम्मीद थी, लेकिन मेयर प्रत्याशी मृत्युंजय दुबे को 29 मत ही हासिल हुए। अमर बंसल कसम खाते फिर रहे हैं कि उन्होंने भाजपा को ही वोट दिए हैं। मगर भाजपा के लोग उन पर भरोसा नहीं जता पा रहे हैं, क्योंकि वे शायद कुछ इसी तरह का आश्वासन कांग्रेस के नेताओं को भी दे चुके थे। 

मृत्युंजय और अनिल दुबे
बहुत कम समय होने के बावजूद भाजपा के मेयर प्रत्याशी मृत्युंजय दुबे ने निर्दलीय पार्षदों और कांग्रेस में सेंधमारी की भरपूर कोशिश की। निर्दलीय पार्षदों ने यह कहकर हाथ जोड़ लिए कि अब बहुत देर हो चुकी है। वे कांग्रेस के पक्ष में मतदान के लिए वचनबद्ध हैं। अलबत्ता, कांग्रेस का एक पार्षद जरूर पुराने संबंधों को देखते हुए भाजपा के साथ आने के लिए तैयार हो गया था।  

सुनते हैं कि मृत्युंजय के बड़े भाई अनिल दुबे ने भी कांग्रेस में कोशिश की। यह खबर उड़ी कि कांग्रेस के कई पार्षद एजाज की उम्मीदवारी से खुश नहीं हैं। इसके बाद मतदान के घंटेभर पहले भाजपा के पक्ष में लाबिंग तेज हो गई। अनिल दुबे को एक महिला पार्षद के पति ने भरोसा दिलाया था कि उनकी पत्नी मृत्युंजय दुबे के पक्ष में मतदान करेंगी। इसके लिए उन्होंने किसी तरह की डिमांड भी नहीं की थी। अलबत्ता, पार्षद पति को आशंका थी कि कांग्रेस के लोग उन पर शक कर सकते हैं। उन्होंने अपनी दुविधा अनिल दुबे को बताई, तो अनिल दुबे ने उन्हें अपने दल का साथ न छोडऩे की नसीहत देकर दुविधा से बचा लिया।

गुरूचरण होरा का योगदान
एजाज ढेबर की बड़ी जीत में यूनियन क्लब के अध्यक्ष गुरूचरण सिंह होरा की अहम भूमिका रही है। सात में से छह निर्दलीय पार्षदों को गुरूचरण ने अपने होटल में रख लिया था। ये पार्षद पूरे समय उनकी निगरानी में रहे। निर्दलीय पार्षद गुरूचरण के साधन-संसाधन और खातिरदारी से इतने खुश थे कि वे एजाज को छोड़कर किसी दूसरे के बारे में सोच भी नहीं सकते थे। वैसे तो गुरूचरण भाजपा के सक्रिय सदस्य हैं। पेशे से इंजीनियर गुरूचरण विधानसभा चुनाव के ठीक पहले नौकरी छोड़कर विधिवत भाजपा में शामिल हो गए थे। उन्होंने रायपुर उत्तर से टिकट की दावेदारी भी की थी। 

मगर मेयर चुनाव में गुरूचरण की सक्रियता से भाजपा नेता हक्का-बक्का हैं। वैसे तो खेल संघों की राजनीति गुरूचरण के इर्द-गिर्द घूमती है। राज्य बनने के बाद वे तत्कालीन सीएम अजीत जोगी के करीबी माने जाते थे। तब जोगी को ओलंपिक संघ का अध्यक्ष बनवाने में बशीर अहमद खान और गुरूचरण सिंह होरा की अहम भूमिका रही। इसके बाद वे सीएम रमन सिंह के करीबी हो गए। रमन सिंह की ओलंपिक संघ अध्यक्ष पद पर ताजपोशी भी गुरूचरण के होटल में हुई थी। बशीर और गुरूचरण की जोड़ी ने रमन सिंह को हाल ही में ओलंपिक संघ से बेदखल भी किया।

मिलनसार और अपार संपर्कों के धनी गुरूचरण हमेशा सीएम हाऊस के नजदीक रहे हैं। उन्हें अब भूपेश बघेल का नजदीकी माना जाने लगा है।

(rajpathjanpath@gmail.com)

 

Related Post

Comments